Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782
Advertisement

राजनीति

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने नगर परिषद पुनासा के नव-निर्वाचित सदस्यों को बधाई और शुभकामनाएँ दीं। उन्होंने शपथ ग्रहण समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि पुनासा कृषि उपज मण्डी में कृषक भवन के निर्माण के लिये एक करोड़ रूपये की राशि उपलब्ध कराई जायेगी। मंत्री पटेल ने कहा कि प्रदेश में खाद की कमी नहीं है। राज्य सरकार किसानों को गाँव में ही खाद उपलब्ध कराने जा रही है। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश में विकास की बयार बह रही है। उन्होंने कहा कि नगर परिषद पुनासा द्वारा विकास कार्य किये जाकर नया कीर्तिमान बनाया जायेगा। उन्होंने परिषद के नव-निर्वाचित सदस्यों को बधाई और शुभकामनाएँ दीं। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि कृषि उपज मण्डी पुनासा में किसानों के लिये सर्व-सुविधायुक्त कृषक भवन बनाया जायेगा। इसके लिये सरकार द्वारा एक करोड़ रूपये की राशि प्रदान की जायेगी। उन्होंने कहा कि किसान हितैषी सरकार किसानों के हित में सभी आवश्यक कदम उठा रही है। प्रदेश में खाद की कमी नहीं है। डिफाल्टर और अऋणी किसानों को भी सरकार नगद में खाद उपलब्ध करायेगी। किसानों की दिक्कत को दूर करने के लिये सरकार गाँव में ही खाद उपलब्ध कराने जा रही है।

Kolar News

Kolar News 25 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसानों की आर्थिक समृद्धि के लिए मध्यप्रदेश में अनेक महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं। गेहूँ उत्पादन में देश में अव्वल रहते हुए मध्यप्रदेश में किसानों को सभी तरह के उत्पादन का पूरा लाभ देने का कार्य किया। प्रदेश की कृषि विकास दर देश में सर्वाधिक है। इसके बावजूद अन्य प्रदेशों में किसानों के कल्याण के लिए किए जा रहे प्रयासों को ध्यान में रखते हुए मध्यप्रदेश में भी उन्हें लागू करने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। इस सिलसिले में केन्द्रीय मंत्री गडकरी की पहल पर विदर्भ में लोकप्रिय हुई बहुआयामी एग्रो विजन कृषि प्रदर्शनी और अन्य नवाचारों को अपनाने का कार्य भी किया जाएगा। मध्यप्रदेश में एग्रो विजन का कार्यक्रम किसानों के हित में किए जाने की आवश्यक पहल की जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान आज नागपुर में केन्द्रीय सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के संयोजन में हुए एग्रो विजन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। प्रदर्शनी के साथ ही कार्यशाला और परिसंवाद के कार्यक्रम 28 नवंबर तक चलेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने दीप जला कर एग्रो विजन का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कृषि क्षेत्र को समृद्ध बनाने के लिए 5 सूत्री रणनीति पर अमल किया गया है। इसमें उत्पादन वृद्धि, लागत कम करने, फसल का उचित दाम देने, क्षति पर आवश्यक भरपाई और तकनीक का इस्तेमाल शामिल है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में किसानों को प्राकृतिक आपदा और अन्य कारणों से फसलों की क्षति पर पर्याप्त राहत राशि देने की व्यवस्था की गई है। किसानों को फसल बीमा की राशि दिलवाने के लिए निरंतर समीक्षा की गई। परिणामस्वरूप किसानों को राहत मिली। इसी तरह कृषि कार्य में रिमोट सेंसिंग और तकनीक के भरपूर उपयोग से किसानों को लाभ देने का कार्य किया गया। मध्यप्रदेश में कृषि विविधीकरण पर भी ध्यान दिया जा रहा है। गेहूँ, धान, चना और दालों के अलावा फल और फूलों की खेती के नवाचार भी हो रहे हैं। प्रदेश में बाँस उत्पादन से किसानों को आय वृद्धि का लाभ मिला है। सबसे महत्वपूर्ण बात किसानों को जीरो प्रतिशत पर कर्ज देकर ब्याज से राहत दिलवाने की व्यवस्था की गई। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में सिंचाई प्रतिशत को कई गुना बढ़ा कर किसानों को अधिक उत्पादन की सुविधाएँ पहुँचाते हुए उनकी आमदनी बढ़ाने में सहयोग किया गया। किसान को शिक्षित कर आर्थिक लाभ दिलवाने, सभी तरह के अनाजों की खरीद की उचित व्यवस्था कर किसानों की जिंदगी बदलने का कार्य किया गया। मध्यप्रदेश में सोलर पंप का उपयोग बढ़ रहा है। इस पर केन्द्र और राज्य सरकार सब्सिडी दे रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बड़े पैमाने पर सौर ऊर्जा से चलित पम्पों का इस्तेमाल करेंगे। केन्द्रीय मंत्री गडकरी के मार्गदर्शन में इथेनाल के प्लांट भी लगाए जाएंगे। इथेनाल से निर्मित फ्यूल से पेट्रोल और डीजल के उपयोग से हो रही विदेशी मुद्रा का खर्च बचाने का प्रयास करते हुए पर्यावरण-संरक्षण का कार्य भी करेंगे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कृषि विकास दर में लगातार वृद्धि के विशेष प्रयास किये गये। प्रदेश की कृषि विकास दर को उच्चतम स्थिति में रखने का प्रयास रहा है। वर्तमान में यह 18 प्रतिशत है, जो अन्य प्रांतों से अधिक है। एग्रो विजन से किसानों को मार्गदर्शन देने का कार्य नितिन गडकरी कर रहे हैं। ऐसे कार्य मध्यप्रदेश सीखना चाहता है। अनुकरणीय और श्रेष्ठ कार्य सीखना ही चाहिए। मध्यप्रदेश में काफी कुछ किया गया है, लेकिन जिस ढंग से तकनीक का इस्तेमाल बढ़ाने की प्रेरणा देने का कार्य श्री गडकरी कर रहे हैं, वो सराहनीय है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की भी यही मंशा है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि सहित उनके अनेक नवाचार प्रेरणा का कार्य करते हैं। नितिन जी ने आज भी अनेक नवाचारों की जानकारी दी है। विदर्भ ही नहीं संपूर्ण भारत में एग्रो विजन किसानों को शिक्षित करने और मार्गदर्शन देने का कार्य कर रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एग्रो विजन के सुझावों को मध्यप्रदेश की धरती पर लागू करने का कार्य किया जाएगा।   केन्द्रीय मंत्री  नितिन गडकरी ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कृषि क्षेत्र के विकास पर विशेष ध्यान दिया है। मध्यप्रदेश की कृषि विकास दर निरंतर बढ़ी है। मध्यप्रदेश कृषि के क्षेत्र में और भी बेहतर परिणाम देगा। उन्होंने कहा किऊर्जा के वैकल्पिक स्त्रोतों की उपयोगिता और उनके लाभ के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि किसान अन्न प्रदाता होने के साथ ही ऊर्जा प्रदाता भी बन रहा है। अद्यतन तकनीकों का उपयोग किसानों की आय को बढ़ाने में मददगार बन रहा है। विदर्भ के किसानों को कृषि क्षेत्र की नई तकनीक और नए व्यवसाय से अवगत करवाने, उनकी आय में वृद्धि करवाने, खेती को अधिक लाभदायक बना कर किसान को सुखी, संपन्न और समृद्ध बनाने के उद्देश्य से हर साल नागपुर में एग्रो विजन किया जाता है। श्री गडकरी ने बताया कि एग्रो विजन का यह 13वां वर्ष है। इसमें किसान, कृषि विशेषज्ञ और कृषि प्रेमी बड़ी संख्या में शामिल होते हैं। चार दिन के इस आयोजन में विभिन्न विषय पर कार्यशाला, राष्ट्रीय कृषि प्रदर्शनी, सेमीनार एवं संगोष्ठियों के महत्वपूर्ण सत्र होंगे। खाद्य, चारा और ईंधन पर केन्द्रित भविष्य की कृषि पर विचार करते हुए इस क्षेत्र में अनुसंधान से एकीकृत प्रौद्योगिकी के विकास पर व्यापक चर्चा करना एग्रो विजन का मुख्य उद्देश्य है।     एग्रो विजन में प्रदर्शनियों के जरिये से किसानों को नवीनतम तकनीक की जानकारी दी जाती है। लगभग 400 कार्यशालाओं में करीब 700 विशेषज्ञों का मार्गदर्शन मिला है, जिसका लाभ 4 लाख से अधिक किसान बंधु ले चुके हैं। करीब 2500 कम्पनियों ने कृषि क्षेत्र के उत्कृष्ट कार्यों का प्रदर्शन किया। इनमें बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ भी शामिल हैं। कृषि विश्वविद्यालयों के विद्वानों ने भी किसानों का मार्गदर्शन करने का कार्य किया। प्रदर्शनियों का अवलोकन 50 लाख से अधिक किसान कर चुके हैं। विदर्भ क्षेत्र में जैविक कृषि, कपास उत्पादन, मत्स्य-पालन, बाँस उत्पादन, बागवानी के कार्यों से किसानों को जोड़ा गया है मुख्यमंत्री चौहान और केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने एग्रो विजन-2022 की डायरेक्ट्री का विमोचन किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कृषि प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में जन-प्रतिनिधि, किसान संगठनों के सदस्य और नागरिक उपस्थित थे। 

Kolar News

Kolar News 25 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि जनजातीय प्रकोष्ठ द्वारा पेसा एक्ट के पालन एवं प्रगति की सतत मॉनीटरिंग की जाए। जनजातीय क्षेत्र और लोगों के विकास के लिए बजट का समुचित उपयोग करना सुनिश्चित किया जाए। राज्यपाल पटेल ने जनजातीय प्रकोष्ठ की बैठक में पेसा एक्ट, सिकल सेल एनीमिया निर्मूलन अभियान, विशेष पिछड़ी जनजाति के लिए दुधारू पशु वितरण, टी.बी. मुक्त मध्यप्रदेश अभियान, क्षमादान, प्रकरण वापसी एवं सनसनीखेज़ अपराध, छात्रवृत्ति एवं छात्र आवास सहायता योजना और जनजाति कार्य विभाग के कार्यों की समीक्षा की। राज्यपाल पटेल ने कहा कि पेसा एक्ट प्रदेश के सभी 89 अनुसूचित जनजाति विकासखण्डों में लागू है। इसके प्रावधानों का पूरी तरह पालन कराना सुनिश्चित कराए। ग्राम सभा का समयावधि में गठन हो तथा ग्राम सभा नियमाधीन कार्यवाही करे, इसकी मॉनिटरिंग की जाए। साहूकार किसी भी स्थिति में जनजातियों का शोषण न कर पाएँ। प्रवासी मजदूरों का रिकॉर्ड संधारित किया जाये। केन्द्र सरकार की तरह राज्य सरकार भी प्रवासी मजदूरों की जानकारी रखने के लिए पोर्टल विकसित करे।राज्यपाल ने कहा कि झाबुआ एवं अलीराजपुर में सिकल सेल एनीमिया के सर्वे के आंकड़ों का क्रॉस वेरीफिकेशन करवा कर सभी पीड़ितों का प्राथमिकता से इलाज कराया जाए। सभी पीड़ितों को समय पर दवाइयाँ एवं ब्लड ट्रांसफ्यूजन की उचित व्यवस्था की जाये। सिकल सेल एनीमिया पीड़ित को दिव्यांग सर्टिफिकेट दिलाने के लिए उचित कार्यवाही की जाए। सिकल सेल एनीमिया का आयुर्वेद एवं होम्योपैथी से इलाज के लिए भी उचित कदम उठाए जाएँ।   राज्यपाल पटेल ने कहा कि विश्वविद्यालयों द्वारा गोद लिए गए ग्रामों में हर साल नये ग्राम जोड़े जाएँ। साथ ही प्राइवेट विश्वविद्यालयों को भी स्वेच्छा से ग्रामों को गोद लेने के लिए प्रेरित किया जाये। सभी योजनाओं के डेटा को पोर्टल पर समय पर अपलोड किया जाये, जिससे समय पर उचित कार्यवाही की जा सके। राज्यपाल पटेल ने कहा कि चयनित शिक्षकों की समय पर नियुक्ति कराई जाए। राज्यपाल पटेल ने कहा कि स्व-सहायता समूहों से अधिकाधिक जनजातीय महिलाओं को जोड़ा जाए। इसके लिए उन्हें प्रशिक्षण एवं उत्पादों के विपणन की उचित व्यवस्था की जाए। जनजाति युवाओं को उनके आस-पास के उद्योग परिसरों की आवश्यकता के आधार पर कौशल प्रशिक्षण दिलाया जाए, जिसमें उन्हें रोजगार एवं स्व-रोजगार के लिए अधिक दूर न जाना पड़े। अध्यक्ष जनजातीय प्रकोष्ठ दीपक खांडेकर ने प्रकोष्ठ की आगामी प्राथमिकताओं की जानकारी दी। 

Kolar News

Kolar News 25 November 2022

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने राहुल  गांधी पर निशाना साधते हुए कहा की। राहुल गांधी और उनके लोग लगातार हिंदुत्व का अपमान कर रहे हैं। शर्मा ने कहा जिस तरह से हिंदुत्व को एक कुरूप चेहरा बताया जा रहा है। और उसके खिलाफ राहुल गांधी अभियान चला रहे  हैं। इसका देश को जवाब देना पड़ेगा। उन्होंने कहा राहुल गांधी जी आपके सिपाहसालार और आपके द्वारा  हिंदुत्व का अपमान लगातार हो रहा है। आपने कहा कि हिंदुत्व एक कुरूप चेहरा है। उसके खिलाफ राहुल गांधी  अभियान चला रहे हैं। शर्मा ने कहा आपको इस देश को जवाब देना पड़ेगा। हिंदुत्व के बल पर,  अध्यात्म के बल पर दुनिया इस भारत को सर्वश्रेष्ठ भारत के तौर पर नमस्कार करती है। आज दुनिया इस हिंदुत्व के जीवन पद्धति के आधार पर ही भारत की संस्कृति और उसको मानने का प्रयास करती है। लेकिन आप लगातार हिंदुत्व पर प्रहार करते हैं। शर्मा ने कहा हिंदुत्व का आपने जिस प्रकार से अपमान किया है। यह देश की जनता आपसे पूछना चाहती है। आपको क्या अधिकार है। आपके बारे में जनता जानना भी चाहती है कि आप क्या हैं। आप केवल हिंदुत्व पर प्रहार करते हैं। भारत के अंदर तुष्टीकरण की राजनीति जो जीवन भर कांग्रेस ने की लगातार आप कर रहे हैं। इसे देश जानता है। किसी प्रकार से ये देश आपके साथ नहीं खड़ा हो सकता है।  

Kolar News

Kolar News 24 November 2022

किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा है कि हरदा की अजनाल नदी के रिवर फ्रंट को साबरमती रिवर फ्रंट की तरह ही विकसित किया जायेगा। उन्होंने प्रस्तावित रिवर फ्रंट के लिये हरदा गुप्तेश्वर मंदिर के पास नदी तट का स्थल निरीक्षण किया। कृषि मंत्री पटेल ने बताया कि अजनाल नदी के तट पर लगभग डेढ़ किलोमीटर लंबा रिवर फ्रंट विकसित किया जायेगा। नदी का गहरीकरण किया जाएगा। तट का सौंदर्यीकरण करेंगे। उन्होंने बताया कि नदी के गहरीकरण और रिवर फ्रंट विकसित करने के लिये सर्वे कार्य जारी है। मंत्री पटेल ने सर्वे दल के सदस्यों से कार्यों की जानकारी भी प्राप्त की। उन्होंने बताया कि अजनाल नदी के गहरीकरण से हरदा शहर वासियों को बाढ़ की समस्या से भी मुक्ति मिलेगी।     मंत्री  पटेल ने बुधवार को हरदा सर्किट हाउस में रेलवे अफसरों को पील्याखाल में रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) निर्माण के लिये आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होंने खिरकिया शहर, भिरंगी, कमताड़ा-मसनगाँव-सिराली और हरदा बायपास पर बनने वाले आरओबी के निर्माण कार्यों संबंधी बाधाओं को दूर कर शीघ्र कार्य आरंभ करने के निर्देश दिये। मंत्री पटेल ने खिरकिया में आरओबी निर्माण स्थल का निरीक्षण भी किया। कृषि मंत्री पटेल ने बताया कि हरदा में कथा वाचिका जया किशोरी जी के मुखारविंद से 7 से 13 दिसम्बर तक आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का लाभ क्षेत्र की जनता ले सकेगी। उन्होंने बताया कि कथा में 13 दिसम्बर को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल होंगे। इस दिन मुख्यमंत्री चौहान की उपस्थिति में मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में 500 जोड़ों का सामूहिक विवाह होगा।  

Kolar News

Kolar News 24 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में अनुसूचित क्षेत्रों में पेसा एक्ट लागू कर जनजातीय भाई-बहनों के सर्वांगीण विकास के लिए नया इतिहास रचा जा रहा है। पेसा एक्ट में प्रावधान है कि ग्राम विकास की कार्य-योजना ग्राम सभा बनाएगी। ग्राम सभा की अनुमति के बाद ही ग्राम पंचायत को मिलने वाली राशि खर्च होगी। ग्राम सभा विकास कार्यों की गुणवत्ता की निगरानी रखेगी। मस्टर रोल ग्राम सभा के सामने निरीक्षण के लिए रखा जाएगा। श्रमिकों को पूरा पारिश्रमिक समय पर मिले, इसका ध्यान भी ग्राम सभा रखेगी। गाँव में सरकार अब गाँव की चौपाल से चलेगी। मुख्यमंत्री चौहान खंडवा जिले के पंधाना में पेसा जागरूकता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने घोषणा की कि पंधाना-घाटाखेड़ी-कालका मार्ग को अब "अमर क्रांतिकारी टंट्या भील" मार्ग के नाम से जाना जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि काम के लिए गाँव से बाहर जाने वाले श्रमिकों को पहले ग्राम सभा को बताना होगा कि वह कहाँ काम करने जा रहे हैं, उन्हें उस स्थान का पता लिखाना होगा, जिससे कि श्रमिकों के हितों का ध्यान ग्राम सभा रख सकें। पेसा एक्ट के नियम में प्रावधान है कि शासन की योजना के किसी प्रोजेक्ट में किए जाने वाले सर्वे और भू-अर्जन के लिये ग्राम सभा की अनुमति आवश्यक होगी। विकास के सभी कार्य ग्राम सभा की अनुमति से ही होंगे। पेसा एक्ट जनजातीय भाई-बहनों को हर तरह से मजबूत बनाने के लिए है। यह कानून किसी भी व्यक्ति के खिलाफ नहीं है। सामान्य और पिछड़ा वर्ग के खिलाफ नहीं है। इसे 89 अनुसूचित जनजाति विकासखंड के ग्रामीण क्षेत्र में लागू किया गया है। पेसा एक्ट में अनुसूचित क्षेत्रों में जल, जंगल और जमीन से संबंधित अधिकार नागरिकों को ग्राम सभा के माध्यम से दिये गये हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट के नियमों के अनुसार अब पटवारी और वन विभाग के बीट गार्ड को गाँव की जमीन का नक्शा, खसरा, बी-1 नकल वर्ष में एक बार गाँव में लाकर ग्राम सभा में दिखाना होगा, जिससे जमीन के रिकार्ड में कोई भी गड़बड़ी न हो सके। यदि गड़बड़ी पाई जाती है तो ग्राम सभा को रिकार्ड को सुधारने का अधिकार होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि छल-कपट, धोखा और बहला-फुसला कर विवाह करने, धर्मांतरण करने और फिर जनजातीय समाज की जमीन हड़प लेने की कोशिश नहीं होने दी जायेगी। ग्राम सभा को अधिकार होगा कि ऐसे प्रयासों को नाकाम कर दोषी व्यक्ति के खिलाफ कार्यवाई करवा सके। हड़पी गई जमीन ग्राम सभा वापस दिलाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अनुसूचित क्षेत्रों में पेसा एक्ट में रेत, गिट्टी-पत्थर और गौण खनिज की खदान ठेके पर देना है या नहीं, इसका निर्णय ग्राम सभा करेगी। सरकार ग्राम सभा के कार्यों में सहयोग करेगी। खदान पर पहला अधिकार सोसायटी, फिर गाँव की बहन-बेटी और उसके बाद पुरूष का होगा।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि तालाब का प्रबंधन ग्राम सभा द्वारा किया जाएगा। ग्राम सभा तालाब में मछली पालन, सिंघाड़ा उत्पादन और सिंचाई संबंधी निर्णय लेगी। सौ एकड़ कृषि क्षेत्र में सिंचाई करने वाले तालाब का प्रबंधन का अधिकार ग्राम सभा को होगा। इस काम में भी सरकार ग्राम सभा की मंशानुसार सहयोग करेगी। तालाब से जो भी आमदनी होगी, वह ग्राम सभा को मिलेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँव की सीमा के जंगल में होने वाली वनोपज का संग्रहण अब राज्य सरकार नहीं करेगी। ग्राम सभा यह कार्य करेगी। पेसा एक्ट के अनुसार अब ग्राम सभा वनोपज के संग्रहण, विक्रय और उनके भाव का निर्धारण करेगी। ग्राम सभा की अनुशंसा पर राज्य सरकार सहयोग करेगी। कलेक्टर, कमिश्नर और वन विभाग के अधिकारी समझ लें कि वनोपज पर अब जनता का अधिकार है। इसी तरह तेंदूपत्ता को तोड़ने और बेचने का अधिकार ग्राम सभा को दिया गया है। तेंदूपत्ता तोड़ने के लिये ग्राम सभा को 15 दिसम्बर तक निर्णय लेना होगा। इस काम में सरकार सहयोग करेगी। तेंदूपत्ता की बिक्री का पैसा अब राज्य सरकार के खजाने में न जाकर, ग्राम सभा को मिलेगा। वन विभाग का अमला ग्राम सभा की अपेक्षा के अनुसार उसे पूरा सहयोग देगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्राम सभा की अनुमति के बाद ही शराब और भांग की नयी दुकान खोली जा सकेगी। स्कूल, अस्पताल और धर्मशाला के पास स्थित शराब दुकान को वहाँ से हटाने की अनुशंसा ग्राम सभा कर सकेगी। उसे अवैध रूप से संचालित शराब विक्रय के कारोबार के विरूद्ध कार्रवाई करवाने का अधिकार रहेगा।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में केवल लायसेंसधारी साहूकार ही निर्धारित ब्याज दर पर पैसा उधार दे सकेंगे। उन्हें इसकी जानकारी भी ग्राम सभा को देनी होगी। अधिक ब्याज लेने पर दोषी साहूकार पर कार्रवाई होगी। यदि साहूकार ने नियम विरूद्ध कर्ज दिया, तो राज्य सरकार कर्ज माफ कर देगी। पेसा एक्ट में शोषण को प्रभावी ढंग से रोकने का अधिकार ग्राम सभा को दिया गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट में ग्राम सभा को अधिकार दिया गया है कि वह गाँव में समरसता और सद्भाव का माहौल मजबूत बनाए। गाँव में शांति एवं विवाद निवारण समिति बनेगी। किसी भी समस्या, छोटे-मोटे झगड़ों का निराकरण समझा-बुझा कर किया जायेगा। अब छोटे-मोटे झगड़े थाने नहीं जायेंगे। अपराध के गंभीर मामलों की रिपोर्ट थाने में होने पर थाना को इसकी खबर ग्राम सभा को देनी होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट में आँगनवाड़ी, राशन दुकान, स्कूल, आश्रम, छात्रावास के निरीक्षण और उचित संचालन का इंतजाम करने का अधिकार ग्राम सभा को होगा। इसके लिये वह समिति गठित करेगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि माँ-बेटी का सम्मान हमारे लिये सर्वोच्च प्राथमिकता है। दुराचारियों के विरूद्ध राज्य सरकार सख्त कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार देने के लिये सरकार प्रतिबद्ध है। हर महीने लाखों युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ा जा रहा है। अगले एक वर्ष में एक लाख सरकारी पदों में भर्ती की जायेगी। गरीब परिवार के बच्चे भी उच्च शिक्षा प्राप्त कर सामाजिक और आर्थिक रूप से सक्षम बन सकें, इसके लिये प्रदेश में मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिन्दी में भी करने की शुरूआत की गई है। प्रदेश में गुणवत्ता युक्त शिक्षा का विस्तार किया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में सीएम राइज स्कूल खोले जा रहे हैं, जो प्रायवेट स्कूलों से भी बेहतर होंगे। मुख्यमंत्री  चौहान ने क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या भील की जन्मस्थली बड़ौदा अहीर से गौरव यात्रा को हरी झण्डी दिखा कर रवाना किया। यह यात्रा बड़ौदा अहीर से प्रारंभ होकर पंधाना, डूल्हार फाटा, बोरगांव बुजुर्ग, राजोरा, डोंगरगांव, कोहदड़, पिपलौद, भीलखेड़ी, गुड़ी से होते हुए क्रांतिसूर्य जननायक टंट्या मामा की कर्म-स्थली तक जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने जननायक टंट्या मामा की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर नमन किया और उनके परिजन से भेंट भी की। मुख्यमंत्री चौहान को जनजातीय वर्ग उत्थान एवं सशक्तिकरण के लिए पेसा एक्ट लागू करने पर पंधाना जनजाति समुदाय ने ‘‘धन्यवाद-पत्र‘‘ भेंट करते हुए आभार माना। जनजातीय लोकनृत्य की मनमोहक प्रस्तुति ने सबको अपनी ओर आकर्पित किया। मुख्यमंत्री चौहान और वन मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह भी लोक नृत्य में उत्साहपूर्वक शामिल हुए।  

Kolar News

Kolar News 24 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इंदौर को प्रदेश का टूरिज्म हब बनाया जाएगा। इंदौर के एक तरफ उज्जैन में महाकाल लोक बन चुका है, दूसरी और ओंकारेश्वर में अद्वैत संस्थान का निर्माण किया जाएगा। इंदौर क्षेत्र से लगा मांडू और महेश्वर भी है। इन सब को मिला कर इंदौर में एक अच्छा टूरिज्म हब विकसित किया जा सकता है। साथ ही इंदौर में सड़कों के बोझ को कम करने के लिए आकाश मार्ग का भी इस्तेमाल किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने मंगलवार को इंदौर विकास प्राधिकरण द्वारा 47 करोड़ 27 लाख रूपये की लागत वाले क्रांतिसूर्य जननायक टंटया मामा भील चौराहा (भंवरकुआ) के फ्लाय ओव्हर और 41 करोड़ 18 लाख रूपये की लागत के खजराना स्थित चौराहे पर बनने वाले फ्लाय ओव्हर का भूमि-पूजन किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में 1 लाख 13 हजार शासकीय पदों की भर्ती प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई है। इसमें पीएससी के पद भी शामिल है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की धरती पर अब मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी हिंदी में होगी। अंग्रेजी के बोझ को भविष्य में बाधा नहीं बनने दिया जाएगा। इसके लिये हिन्दी में पाठ्यक्रम भी प्रारंभ कर दिये गये हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राऊ में जल संसाधन के तालाब को नगर परिषद राऊ को दिया जाएगा। गांधीनगर और फूटी कोठी में फ्लाय ओव्हर और इंदौर में एमआर-3 भी बनाया जायेगा। इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा ने कहा कि इंदौर का आज विश्व में नाम है तो इसके पीछे मुख़्यमंत्री चौहान की कल्पना और उनकी दूरदृष्टि से ही सम्भव हो पाया है।

Kolar News

Kolar News 23 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि युवाओं को रोजगार आज की सबसे बड़ी जरूरत है। रोजगार सरकारी क्षेत्र में हो या निजी क्षेत्र में, योग्यतानुसार कार्य मिल जाए, यह बहुत आवश्यक है। सेवाओं में आने से युवाओं में स्वाभाविक रूप से उत्साह का संचार होता है। पर्याप्त अमले से संस्थानों और विभागों की कार्य-प्रणाली भी सहज और आसान होती है। मुख्यमंत्री चौहान आज मंत्रालय में विभिन्न सरकारी विभागों में एक लाख पदों को भरने संबंधी समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रति माह रोजगार दिवस के फलस्वरूप बड़ी संख्या में युवाओं को रोजगार प्राप्त हो रहा है। औद्योगिक संस्थानों में स्थानीय युवाओं की सेवाएँ लेने को महत्व दिया जा रहा है। राज्य सरकार सरकारी विभागों में रिक्त पदों को भरने दृढ़ संकल्पित है। इसी संकल्प की पूर्ति के लिए अभियान संचालित कर शासकीय विभागों में रिक्त पद भरे जा रहे हैं।अपर मुख्य सचिव सामान्य प्रशासन विनोद कुमार ने प्रेजेंटेशन दिया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शासकीय विभागों में अकेले गृह विभाग में ही 6 हजार आरक्षक पदों पर नियुक्ति देने की पहल हुई है। प्रयास यह है कि किसी एक दिन सभी को समारोह पूर्वक नियुक्ति-पत्र प्रदान किए जाएँ। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा विभागों के पदों को भरने की कार्रवाई के साथ ही राज्य के सार्वजनिक उपक्रमों में भी पदों की पूर्ति के लिए कार्यवाही की जा रही है। उपस्थित मंत्रीगण ने रोजगार और स्व-रोजगार क्षेत्र में हो रहे कार्य को महत्वपूर्ण बताया।       जानकारी दी गई कि 15 अगस्त से प्रारंभ हुए रिक्त पदों की पूर्ति के अभियान की कार्यवाही निरंतर 12 माह तक चलेगी। प्रदेश में 01 लाख 12 हजार 724 सरकारी रिक्त पदों को भरने के लिए प्रक्रिया प्रारंभ की गई है। नवंबर माह में तेजी से कार्य हुआ है। लगभग 60 हजार पदों को भरने के लिए आवश्यक प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है। सभी विभाग इस कार्य में सक्रिय हैं। प्रथम श्रेणी के 1,271, द्वितीय श्रेणी के 20 हजार 728, तृतीय श्रेणी के 82 हजार 879 और चतुर्थ श्रेणी के 9091 पद रिक्त हैं। इन पदों की पूर्ति के लिए वित्त विभाग से अनुमति के बाद आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। गत 15 अगस्त से 31 अक्टूबर तक 36 हजार 235 पद विज्ञापित किए गए हैं। नवम्बर माह में 3 हजार 926 पद विज्ञापित किए गए हैं। इस माह के अंत तक करीब 19 हजार पद विज्ञापित होंगे। आठ विभागों में 1595 नियुक्तियाँ गत तीन माह में कर दी गई हैं। बीती तिमाही में जनजातीय कार्य विभाग में 722 और स्वास्थ्य विभाग में 852 नियुक्तियाँ की गई हैं। स्कूल शिक्षा विभाग में 15 हजार 196 और जनजातीय कार्य विभाग में 15 हजार 618 पद विज्ञापित हुए हैं। सभी विभाग में लगातार नियुक्तियाँ हो रही हैं। प्रदेश में स्व-रोजगार के क्षेत्र में किए जा रहे प्रयासों की भी बैठक में चर्चा हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रतिमाह तीन लाख लोगों को रोजगार अवसरों से जोड़ने के प्रयासों में सफलता मिली है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतिमाह रोजगार दिवस का आयोजन हो रहा है। साथ ही नवीन निवेश के आने की रफ्तार भी बढ़ी है। यह पहली बार हुआ है कि मध्यप्रदेश में शासकीय और निजी क्षेत्र में इतने अधिक पद भरे जा रहे हैं। मध्यप्रदेश में कई बड़े उद्योग आ रहे हैं। उद्योगों की स्थापना के लिए निवेशक भी निरंतर आ रहे हैं।  

Kolar News

Kolar News 23 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के जनजातीय भाई-बहनों के हित में पेसा नियम लागू किए गए हैं। यह एक महत्वपूर्ण सामाजिक परिवर्तन है। सरकारी अधिकारी और अन्य सभी वर्ग मिल कर इसे सफल बनाएँ। सामाजिक समरसता के साथ पेसा एक्ट के प्रावधान जमीन पर उतारे जाएँ। मुख्यमंत्री चौहान आज आर.सी.वी.पी नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी, भोपाल में मध्यप्रदेश पंचायत उपबंध, (अनुसूचित क्षेत्रों पर विस्तार) नियम 2022 पर एक दिवसीय राज्य स्तरीय कार्यशाला का शुभारंभ कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट कोई कर्मकांड नहीं, इससे जनजातीय वर्ग का जीवन बदलेगा। जनजातीय वर्ग को पेसा एक्ट सरल भाषा में समझाया जाए। राज्य स्तरीय कार्यशाला के बाद प्रदेश के 89 विकासखंडों के ग्रामों में लागू पेसा एक्ट को समझाने के लिए मास्टर्स ट्रेनर्स भी जिलों में पहुँचेंगे। इसके लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम निर्धारित कर लिया गया है। कार्यशाला में प्रमुख रूप से 20 जिलों के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, वन मंडल अधिकारी और संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट से सामाजिक समरसता से सामाजिक क्रांति आएगी। उन्होंने एक्ट के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्धारित शेड्यूल के अनुसार 31 दिसंबर तक सभी कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि इसके लिए ग्राम सभाएँ जरूरी कार्यवाही पूरी करें। सभी विभाग संवेदनशील होकर जुट जाएँ। एक्ट के प्रभाव क्षेत्र के बीस जिलों के 89 विकासखंडों में सभी व्यवस्थाएँ की जाएँ। दिए गए अधिकारों से जनजातीय वर्ग के जीवन स्तर में होने वाले सुधार को सोशल मीडिया पर प्रचारित किया जाए। यह एक्ट लागू होने से जनजातीय वर्ग की जिन्दगी बदलने का कार्य शुरू हुआ है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 15 नवम्बर से प्रदेश में पेसा के नियम लागू कर दिए गए हैं। अब 89 विकासखंडों में ग्राम सभाओं के गठन का कार्य प्रारंभ हो रहा है। इसकी जानकारी प्रशिक्षण में दी जा रही है। जनजातीय वर्ग को जल, जंगल, जमीन से जुड़े अधिकारों के साथ ही महिला सशक्तिकरण के अधिकार दिलवाने के लिए सभी सक्रिय हों, इस उद्देश्य से कार्यशाला की गई है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जहाँ गौण खनिज से जुड़े अधिकार जनजातीय वर्ग को दिए जा रहे हैं, वहीं लघु वनोपज से जुड़े कार्य से उन्हें बेहतर ढंग से लाभांवित करने की पहल हुई है। खनिज पट्टों पर जनजातीय लोगों का पहला हक बनता है। सहकारी क्षेत्र और पानी के संरक्षण के अधिकार भी जनजातीय वर्ग को स्थानांतरित होंगे। मास्टर्स ट्रेनर बनाए जा रहे हैं। ये मास्टर्स ट्रेनर गाँव-गाँव में जाकर ट्रेनिंग देंगे। यह कार्यशाला इसलिए रखी गई ताकि कोई भ्रम न रहे। मैदानी स्तर पर जनजातीय भाई-बहनों को सशक्त करने के लिए बिना किसी विलंब के पेसा को लागू किया गया है। स्थानीय बोलियों में भी पेसा के नियम समझाए जाएंगे। गीतों, दीवार लेखन और नुक्कड़ नाटक के माध्यम से पेसा नियम के प्रावधानों की जानकारी दी जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों सहित अन्य अमले की मनोवृत्ति में संशोधन आवश्यक है। अक्सर होता यह है कि संपन्न वर्ग अलग दुनिया बना लेता है। पिछड़े लोग अधिक पिछड़ जाते हैं। यह स्थिति बदलनी चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उदाहरण के लिए भारिया जनजाति के लोग सस्ते दाम पर चिरौंजी बेचने को विवश होते हैं। उनका शोषण नहीं होना चाहिए। पेसा नियम से ग्राम पंचायतें सशक्त होंगी। वनोपज का मामला हो, राजस्व का काम हो या फिर श्रमिकों की समस्याएँ, सभी का समाधान होगा। इस वर्ग की बेटियाँ कठिनाइयों में न पड़ें, इसके लिए भी प्रशासन पूरी तरह सजग हो।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा नियम के संबंध में प्रशासनिक अमला सकारात्मक मानसिकता बना कर सभी संबंधित लोगों को इसके नियम समझाये। एक्ट के संबंध में कोई भ्रम नहीं रहना चाहिए। सिर्फ ग्रामीण क्षेत्र के जनजातीय बहुल ग्रामों की ग्रामसभा, जिनमें अन्य पिछड़ा वर्ग के सदस्य भी शामिल हैं, अधिकार संपन्न होकर कार्य करेंगी। यह एक्ट किसी के विरोध में नहीं हैं। इसकी आवश्यक जानकारी संबंधित विभागों और अमले को दी जा रही है। एक्ट के क्रियान्वयन में पंचायत एवं ग्रामीण विकास सहित राजस्व, वन, जल संसाधन, कृषि और आबकारी विभागों की महत्वपूर्ण भूमिका है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 4 दिसंबर को जननायक टंट्या मामा की स्मृति में नेहरू स्टेडियम इंदौर में कार्यक्रम की तैयारी की जा रही है, इसमें व्यापक भागीदारी रहेगी। राज्य शासन के मंतव्य के अनुसार पेसा नियम का संदेश और जानकारी लोगों तक पहुँचाये। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कमजोर वर्ग, गरीबी के आधार पर योजनाओं में लाभ लेने के लिये पात्र हैं। इनका हक हड़पने वालों को नेस्तनाबूद करें। दोषी लोगों को नौकरी से बाहर कर जेल भेजें। जिलों में अच्छा कार्य भी हो रहा, कोई गैप हो तो उसे समाप्त करें। कहीं लेन-देन की शिकायतें मिलें, उन्हें न छोड़ें। अवैध नशे के कारोबारियों को भी न छोड़ा जाये। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने कहा कि एक्ट की मूल भावना जनजातीय वर्ग का कल्याण है। पुलिस थाना स्तर पर छोटे-मोटे विवादों को बातचीत से सुलझाया जा सकता है। यदि कोई अपराध थाने में पंजीबद्ध होता है तो उसकी सूचना ग्राम सभा को देना होगी। विभागों द्वारा एक्ट के क्रियान्वयन से संबंधित आवश्यक मार्गदर्शन भी निरंतर दिया जाएगा। मास्टर्स ट्रेनर्स द्वारा मैदानी अमले को प्रशिक्षित किया जा रहा है। अपर मुख्य सचिव मलय श्रीवास्तव ने कार्यशाला में हुए विचार-विमर्श की जानकारी दी। बुरहानपुर कलेक्टर की पहल पर निर्मित पेसा एक्ट से संबंधित लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। मुख्यमंत्री चौहान को पेसा एक्ट पर केन्द्रित पुस्तिका भेंट की गई। कार्यशाला में विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों ने विभागीय कार्यों और पेसा एक्ट से जुड़े प्रावधानों की विस्तार से जानकारी दी। अमर पाल सिंह ने आभार व्यक्त किया।  

Kolar News

Kolar News 23 November 2022

राहुल गाँधी की भारत जोड़ो यात्रा ने कांग्रेस में जान फूंक दी हैं। कांग्रेस के नेता कार्यकर्त्ता झूम रहे हैं। ऐसे ही यात्रा के दौरान मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का डांस करते हुए एक वीडियों जम कर वाइरल हो रहा हैं। दिग्विजय अपनी मस्ती में यात्रियों के साथ डांस कर रहे हैं। तो उनके वायरल वीडियो पर बीजेपी ने भी चुटकी ली हैं।  23 नवंबर को मध्यप्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा प्रवेश कर रही है। राहुल गांधी के गुजरात जाने की वजह से यात्रा ठहरी हुई हैं। इस ब्रेक के दौरान पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह का एक अलग ही अंदाज सामने आया। दिग्विजय सिंह ने अपने साथियों के जम कर डांस किया। अब सोशल मीडिया पर उनका वीडियो ये वायरल हो रहा है। इतना ही नहीं डांस करने से पहले दिग्विजय सिंह अपने साथियों के साथ क्रिकेट खेलते भी नजर आए थे।  फिर भैंसा के साथ डांस करते दिखे। एमपी में 23 नवंबर से यात्रा फिर शुरू होगी। उससे पहले डांस फ्लोर पर दिग्विजय सिंह के 44 सेकंड के वायरल वीडियो में वह पहले केसरिया तेरा इश्क गाने पर डांस कर रहे हैं।  इसके बाद ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे गाने पर झूम रहे है। इस दौरान दिग्विजय सिंह पूरे मूड में दिख रहे हैं।  वह दूर खड़े कुछ साथियों को खींचकर ला भी रहे है। दिग्विजय सिंह के साथ भारत जोड़ो यात्रा के यात्री भी पूरे जोश में दिखे। ढलती उम्र में भी दिग्विजय सिंह का यह अंदाज सबको चकित भी कर रहा  हैं।  दिग्विजय सिंह के वायरल वीडियों पर बीजेपी कहा चुप रहती।  बीजेपी के नेता व् गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कस्ते हुए कहा कि उमंग भरा डांस और खुशी से दमकता चेहरा ,आपकी धार दार चाल ऐसे ही बनी रहे दिग्गी राजा।  बीजेपी के अन्य नेताओं ने भी इस वीडियों पर चुटकी ली है।   

Kolar News

Kolar News 22 November 2022

भारतीय किसान संघ मध्यप्रदेश के किसानों ने भोपाल में बड़ा प्रदर्शन किया। बिजली , खाद , पानी , बीमा सहित अन्य समस्याओं को लेकर किसानों ने यह प्रदर्शन किया है। किसानों का कहना है कि सरकार जो बिजली रात में दे रही है। उसे सुबह दिया जाय ताकि किसान खेतों की सिंचाई कर सकें। वहीं खाद बीज के लिए किसान घंटों में लाइन में लगने को मजबूर हैं। सरकारी तंत्र किसानों को खाद बीज के लिए परेशान करता है। कुछ किसानों का कहना है की उन्होंने रात में सिंचाई की और सुबह वे इस प्रदर्शन में शामिल होने पहुंचे हैं। ताकि सीएम शिवराज सरकार तक किसानों की आवाज पहुंच जाए। वहीं  भारतीय किसान संघ मध्यप्रदेश के अध्यक्ष कमल सिंह आंजना ने मांग की है की किसानों की चर्चा के लिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाए , किसानों को क्षति का सही मुआवजा दिया जाय किसानों की समस्या का निराकरण हो। नहीं तो किसान उग्र आंदोलन करने को मजबूर हो जाएगा।    वहीं किसानों के प्रदर्शन में पहुंचे मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह ने किसानों के हित में कई घोषणाएं की। उन्होंने कहा आज आपके बीच आया हूं। क्योंकि किसान आएं और मामा उनके बीच ना आए, ये हो ही नही सकता। किसान भाइयों और बहनों की समस्याओं को समझना हमारा कर्तव्य है। ऐसा थोड़ी है कि किसान यहां नारे लगाते रहे मैं और कहीं निकल जाऊं। इसलिए मैंने तय किया कि पहले मैं किसान भाइयों और बहनों के बीच जाऊंगा। आपके बीच में आया हूं तो आप के प्रति प्रेम और श्रद्धा मन में रख कर आया हूं। और इस भाव के साथ आया हूं  कि जो भी जायज समस्या किसान भाइयों की होगी उसको पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।  एक बात मैंने पहले ही कही है, एक सरकार बीच में 15 महीने के लिए, कई वादे करके आयी थी, जो पूरे नहीं हुए। इसलिए कई किसान डिफाल्टर हो गए। हमने फैसला किया है कि जो किसान डिफाल्टर हो गए थे कर्ज माफी की घोषणा के कारण उनके कर्जे का ब्याज हम माफ करेंगे।   मतलब हम भरेंगे ,ताकि किसान को दिक्कत ना हो। किसान की सहमति से ही उसकी जमीन अधिकृत होगी। बिना किसान की अनुमति के जमीन अधिकृत नहीं होगी। किसान पम्प योजना का अनुदान अगले बजट में आ जाएगा। गन्ना किसानों का बकाया मिल मालिकों से बात कर वापस कराएंगे। जले हुए ट्रांसफार्मर को जल्द से जल्द बदलवाएंगे। नहरों की मरम्मत कर टेल एंड तक व्यवस्थित पानी पहुंचाएंगे। ओवरलोड ट्रांसफार्मर के साथ अतिरिक्त ट्रांसफार्मर रखने की व्यवस्था करेंगे। पीएम किसान सम्मान निधि, और मुख्यमंत्री किसान कल्याण निधि योजना में बचे हुए किसानों के नाम जोड़ेंगे। राजस्व के और बिजली बिल निराकरण के शिविर लगाए जायेंगे। जमीन क्रय करने के बाद शीघ्र नामांतरण की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। खरीदी केंद्र पर तुलाई जल्दी पूरी करने के लिए बड़े तौल कांटे लगाए जायेंगे। रेवेन्यू की जमीन पर पुराने कब्जे है, वर्षो से खेती कर रहे है उन्हे पट्टे देने का काम करेंगे।   

Kolar News

Kolar News 22 November 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा कि हरदा को जल्द ही विभिन्न रेलवे ओवर ब्रिज (आरओबी) के साथ ही हरदा शहर को एक और अतिरिक्त आरओबी की सौगात मिलेगी। सोमवार को रेलवे संभाग के उप मुख्य अभियंता निगम और लोक निर्माण विभाग हरदा के अधिकारी को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। मंत्री पटेल ने बताया कि हरदा में विभिन्न स्थानों पर आरओबी निर्माण की स्वीकृतियाँ प्राप्त हो गई हैं। हरदा बायपास रोड, खिरकिया शहर, कमताड़ा-मसनगाँव-सिराली और भिरंगी रेलवे गेट पर रेलवे ओवर ब्रिज निर्माण की प्रक्रिया को शीघ्रता से पूरा करने के लिये डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) और टेण्डर प्रक्रिया को शीघ्र शुरू करने के निर्देश दिये गये। मंत्री पटेल ने कहा कि हरदा शहर में नागरिकों को सुगम यातायात की सुविधा उपलब्ध कराने के प्रयास जारी हैं। बायपास रोड पर बनने वाले आरओबी के अतिरिक्त हरदावासियों को बेहतर सुविधाएँ देने के लिये हरदा शहर के पास पील्याखाल में आरओबी निर्माण संबंधी आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये हैं। शीघ्र ही रेलवे के इंजीनियर आकर निरीक्षण करेंगे। इसके निर्मित हो जाने से शहरवासियों को यातायात की समस्या से निजात मिल सकेगी।  

Kolar News

Kolar News 22 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कुक्षी के मंडी प्रांगण में पेसा जागरूकता कार्यक्रम के दौरान आयोजित खाटला पंचायत में 4 जनपद के 40 ग्राम पंचायत के सरपंचो को सम्बोधित करते हुए पेसा एक्ट के प्रावधानों के बारे में सरपंचों से सीधी बात की। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल, जंगल और जमीन के अधिकारों के साथ ही अन्य कई अधिकार भी ग्राम सभाओं को दिए गए हैं। अब आप लोगों को गाँव को सशक्त बनाना है। आप सब अपनी पंचायतों में पेसा एक्ट के बारे में बताएं। फैसला अब ग्राम सभाओं में होना है। इसलिए गाँव के लोगों में इसके विभिन्न पहलू के बारे में आपको भी जागरूकता लानी है। खाटला पंचायत के दौरान बाग के सरपंच धर्मेंद्र बामनिया ने ग्राम सभाओं को व्यापक रूप से अधिकार संपन्न बनाने के लिये मुख्यमंत्री चौहान का धन्यवाद ज्ञापित किया। निसरपुर के सरपंच अंतिम पटेल ने भी धन्यवाद दिया। इस दौरान सांसद वीडी शर्मा और क्षेत्रीय सांसद छतरसिंह दरबार भी उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 21 November 2022

गुजरात प्रचार पर गए मध्यप्रदेश के किसान नेता और कृषि मंत्री कमल पटेल ने श्रीनारायणपुरम तीर्थ की पहली शिला रखी।  यह तीर्थ स्थल  गुजरात और  महाराष्ट्र की सीमा के पास है। जो की माँ नर्मदा और ताप्ती के संगम पर है। गुजरात और  महाराष्ट्र की सीमा के पास शहादा नमक स्थान पर श्री नारायणपुरम तीर्थ का उदय हो रहा है। इस तीर्थ की प्रथम शिला रखने का मौका गुजरात प्रचार पर गए मध्यप्रदेश सरकार के कृषि मंत्री एवं किसान नेता कमल पटेल को मिला। मंत्री पटेल ने  तीर्थ के प्रमुख संस्थापक  लोकेशानंद  महाराज,साध्वी मां कनकेश्वरी देवी के सानिध्य में वेदों मंत्रोचार के साथ मंदिर निर्माण की पहली शिला रखी।  इस दौरान कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि भगवान श्री नारायण के विषय में हमारे गुरुजन, ग्रंथ और वेद पुराण बताते हैं। ब्रह्मांड और आकाशगंगा  के समय से  हमारे आराध्य देव   भगवान विष्णु है। इस उदय तीर्थ की स्थापना का जो प्रकाश प्रज्वलित होगा। वह हमारे राष्ट्र और समाज के लिए एक अमृत साबित होगा।  इस उदय तीर्थ से जो धर्म का प्रकाश देश के नागरिकों तक पहुंचेगा उससे राष्ट्रभक्ति, धर्म शक्ति के साथ सशक्त भारत की परिकल्पना साकार होगी। वहीं तीर्थ की नीव रखने वाले श्री नारायण भक्ति पंत के प्रवर्तक आचार्य सद्गुरु लोकेशा नंद महाराज ने कहा कि कलयुग में जिस प्रकार धर्म आडंबर की आड़ में लोगों ने व्यक्ति पूजा को महत्व दिया है यह ठीक नहीं,धर्म में व्यक्ति नहीं सनातन श्री नारायण की पूजा होना चाहिए।   

Kolar News

Kolar News 21 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पेसा एक्ट जनजातीय भाई-बहनों की आर्थिक, सामाजिक उन्नति और उन्हें सशक्त एवं अधिकार सम्पन्न बनाने के लिये लागू किया गया है। यह एक्ट समाज के सभी नागरिकों के हित में है। किसी भी गैर-जनजातीय समाज के नागरिक के खिलाफ नहीं है। पेसा एक्ट अनुसूचित क्षेत्र में गाँव में लागू होगा, यह एक्ट शहर में लागू नहीं होगा। हमारे जो भी जनजातीय भाई-बहन विकास की दौड़ में पीछे रह गये हैं, पेसा एक्ट उन्हें मजबूत बनायेगा। मुख्यमंत्री चौहान धार जिले के कुक्षी में पेसा जागरूकता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। यहाँ उन्होंने 4 जनपद की 40 ग्राम पंचायत के सरपंचों से चारपाई पर बैठ कर पेसा एक्ट के नियमों के संबंध में संवाद किया। मुख्यमंत्री ने कुक्षी से क्रान्तिसूर्य जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा को पूजन के बाद रवाना किया और यात्रा में स्वयं शामिल भी हुए।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जल, जंगल और जमीन पर सबका अधिकार होना चाहिये। पेसा एक्ट के नियमों के अनुसार अब पटवारी और वन विभाग के बीट गार्ड को गाँव की जमीन का नक्शा, खसरा, बी-1 नकल वर्ष में एक बार गाँव में लाकर ग्राम सभा में दिखाना होगा, जिससे जमीन के रिकॉर्ड में कोई गड़बड़ी न कर सके। यदि कोई गड़बड़ी पाई जाती है, तो ग्राम सभा को रिकॉर्ड को सुधारने की अनुशंसा करने का अधिकार होगा। पटवारी को ग्राम सभा की बैठक में भूमि संबंधी डिटेल्स पढ़ कर सुनानी होगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट के नियम में प्रावधान है कि शासन की योजना के किसी भी प्रोजेक्ट में किये जाने वाले सर्वे और भू-अर्जन के लिये ग्राम सभा की अनुमति आवश्यक होगी। किसी भी जनजातीय नागरिक की भूमि छल-कपट और बलपूर्वक अब कोई हड़प नहीं सकेगा। यदि कोई ऐसा करता है, तो ग्राम सभा को उसे वापस करवाने का अधिकार रहेगा। उन्होंने कहा कि बहला-फुसला कर धर्मान्तरण कराने और फिर जनजातीय समाज की जमीन हड़प लेने की कोशिश नहीं होने दी जायेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि खनिज की खदान, जिसमें रेत, गिट्टी पत्थर की खदान शामिल है, के ठेके देना है या नहीं, इसका निर्णय ग्राम सभा द्वारा किया जायेगा। खदान पर पहला अधिकार सोसायटी, फिर गाँव की बहन-बेटी और उसके बाद पुरुष का होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने गाँव-गाँव में तालाब बनवाये हैं। इन तालाबों का पूरा प्रबंधन ग्राम सभा करेगी। ग्राम सभा तय करेगी कि तालाब में मछली पाले या नहीं। तालाब से जो आमदनी होगी, वह ग्राम सभा को मिलेगी। सौ एकड़ कृषि क्षेत्र में सिंचाई करने वाले तालाब का प्रबंधन अब सिंचाई विभाग नहीं ग्राम सभा करेगी।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँव की सीमा के जंगल में होने वाली वनोपज- महुआ, हर्रा, बहेरा आदि के संग्रहण और बेचने और भाव तय करने का अधिकार ग्राम सभा के पास होगा। तेन्दूपत्ता को तोड़ने और बेचने का अधिकार ग्राम सभा को दिया गया है। इसमें सरकार का किसी भी प्रकार का दखल नहीं रहेगा। सरकार यह काम तभी करेगी, जब ग्राम सभा चाहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि तेन्दूपत्ता यदि इस साल तोड़ना चाहते हैं, तो शीघ्र ही 15 दिसम्बर तक ग्राम सभा को प्रस्ताव पारित करना होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्राम सभा ही ग्राम विकास की कार्य-योजना बनायेगी। ग्राम सभा की अनुमति के बाद ही ग्राम पंचायत को मिलने वाली राशि खर्च की जा सकेगी। काम के लिये गाँव से बाहर जाने वाले श्रमिक को पहले ग्राम सभा में यह बताना होगा कि वह कहाँ काम करने जा रहा है, उस स्थान का पता लिखाना होगा, जिससे कि उस श्रमिक के हितों का ध्यान ग्राम सभा रख सके। यदि कोई बाहर का व्यक्ति गाँव में आता है, तो उसे भी ग्राम सभा को सूचित करना होगा। श्रमिकों को पूरा पारिश्रमिक मिले, इसका ध्यान भी ग्राम सभा रखेगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में केवल लायसेंसधारी साहूकार ही निर्धारित ब्याज दर पर पैसा उधार दे सकेंगे। इसकी जानकारी भी ग्राम सभा को देनी होगी। अधिक ब्याज लेने पर संबंधित साहूकार पर कार्यवाही होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्राम सभा की अनुमति के बिना शराब और भांग की नई दुकान नहीं खुल सकेगी। किसी शराब दुकान को हटाने की अनुशंसा ग्राम सभा कर सकेगी। यदि शराब की दुकान के पास स्कूल, अस्पताल और धर्मशाला है, तो ग्राम सभा उस शराब दुकान को वहाँ से हटाने की अनुशंसा सरकार को भेज सकेगी। ग्राम सभा को अवैध रूप से संचालित शराब की दुकानों पर कार्यवाही करवाने का अधिकार रहेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँव में शांति एवं विवाद निवारण समिति बनेगी और गाँव के छोटे-मोटे झगड़े थाने नहीं जायेंगे, उन्हें अब ग्राम सभा में ही सुलझाया जायेगा। गाँव के किसी व्यक्ति के विरुद्ध थाने में एफआईआर दर्ज करने के पहले पुलिस को ग्राम सभा को बताना होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट ने ग्राम सभा को अधिकार दिया है कि वह आँगनवाड़ी, स्कूल, आश्रम, छात्रावास का निरीक्षण करे और इनके काम ठीक से संचालित कराएँ। मुख्यमंत्री चौहान ने उपस्थित जन-समूह को प्रेम, शांति और सद्भाव के साथ पेसा एक्ट के अधिकार लागू करने का संकल्प दिलाया।  

Kolar News

Kolar News 21 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पेसा एक्ट जनजातीय भाई-बहनों की आर्थिक, सामाजिक उन्नति और उन्हें सशक्त एवं अधिकार सम्पन्न बनाने के लिये लागू किया गया है। यह एक्ट समाज के सभी नागरिकों के हित में है। किसी भी गैर-जनजातीय समाज के नागरिक के खिलाफ नहीं है। पेसा एक्ट अनुसूचित क्षेत्र में गाँव में लागू होगा, यह एक्ट शहर में लागू नहीं होगा। हमारे जो भी जनजातीय भाई-बहन विकास की दौड़ में पीछे रह गये हैं, पेसा एक्ट उन्हें मजबूत बनायेगा। मुख्यमंत्री चौहान धार जिले के कुक्षी में पेसा जागरूकता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। यहाँ उन्होंने 4 जनपद की 40 ग्राम पंचायत के सरपंचों से चारपाई पर बैठ कर पेसा एक्ट के नियमों के संबंध में संवाद किया। मुख्यमंत्री ने कुक्षी से क्रान्तिसूर्य जननायक टंट्या भील गौरव यात्रा को पूजन के बाद रवाना किया और यात्रा में स्वयं शामिल भी हुए।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जल, जंगल और जमीन पर सबका अधिकार होना चाहिये। पेसा एक्ट के नियमों के अनुसार अब पटवारी और वन विभाग के बीट गार्ड को गाँव की जमीन का नक्शा, खसरा, बी-1 नकल वर्ष में एक बार गाँव में लाकर ग्राम सभा में दिखाना होगा, जिससे जमीन के रिकॉर्ड में कोई गड़बड़ी न कर सके। यदि कोई गड़बड़ी पाई जाती है, तो ग्राम सभा को रिकॉर्ड को सुधारने की अनुशंसा करने का अधिकार होगा। पटवारी को ग्राम सभा की बैठक में भूमि संबंधी डिटेल्स पढ़ कर सुनानी होगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट के नियम में प्रावधान है कि शासन की योजना के किसी भी प्रोजेक्ट में किये जाने वाले सर्वे और भू-अर्जन के लिये ग्राम सभा की अनुमति आवश्यक होगी। किसी भी जनजातीय नागरिक की भूमि छल-कपट और बलपूर्वक अब कोई हड़प नहीं सकेगा। यदि कोई ऐसा करता है, तो ग्राम सभा को उसे वापस करवाने का अधिकार रहेगा। उन्होंने कहा कि बहला-फुसला कर धर्मान्तरण कराने और फिर जनजातीय समाज की जमीन हड़प लेने की कोशिश नहीं होने दी जायेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि खनिज की खदान, जिसमें रेत, गिट्टी पत्थर की खदान शामिल है, के ठेके देना है या नहीं, इसका निर्णय ग्राम सभा द्वारा किया जायेगा। खदान पर पहला अधिकार सोसायटी, फिर गाँव की बहन-बेटी और उसके बाद पुरुष का होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने गाँव-गाँव में तालाब बनवाये हैं। इन तालाबों का पूरा प्रबंधन ग्राम सभा करेगी। ग्राम सभा तय करेगी कि तालाब में मछली पाले या नहीं। तालाब से जो आमदनी होगी, वह ग्राम सभा को मिलेगी। सौ एकड़ कृषि क्षेत्र में सिंचाई करने वाले तालाब का प्रबंधन अब सिंचाई विभाग नहीं ग्राम सभा करेगी।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँव की सीमा के जंगल में होने वाली वनोपज- महुआ, हर्रा, बहेरा आदि के संग्रहण और बेचने और भाव तय करने का अधिकार ग्राम सभा के पास होगा। तेन्दूपत्ता को तोड़ने और बेचने का अधिकार ग्राम सभा को दिया गया है। इसमें सरकार का किसी भी प्रकार का दखल नहीं रहेगा। सरकार यह काम तभी करेगी, जब ग्राम सभा चाहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि तेन्दूपत्ता यदि इस साल तोड़ना चाहते हैं, तो शीघ्र ही 15 दिसम्बर तक ग्राम सभा को प्रस्ताव पारित करना होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्राम सभा ही ग्राम विकास की कार्य-योजना बनायेगी। ग्राम सभा की अनुमति के बाद ही ग्राम पंचायत को मिलने वाली राशि खर्च की जा सकेगी। काम के लिये गाँव से बाहर जाने वाले श्रमिक को पहले ग्राम सभा में यह बताना होगा कि वह कहाँ काम करने जा रहा है, उस स्थान का पता लिखाना होगा, जिससे कि उस श्रमिक के हितों का ध्यान ग्राम सभा रख सके। यदि कोई बाहर का व्यक्ति गाँव में आता है, तो उसे भी ग्राम सभा को सूचित करना होगा। श्रमिकों को पूरा पारिश्रमिक मिले, इसका ध्यान भी ग्राम सभा रखेगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों में केवल लायसेंसधारी साहूकार ही निर्धारित ब्याज दर पर पैसा उधार दे सकेंगे। इसकी जानकारी भी ग्राम सभा को देनी होगी। अधिक ब्याज लेने पर संबंधित साहूकार पर कार्यवाही होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्राम सभा की अनुमति के बिना शराब और भांग की नई दुकान नहीं खुल सकेगी। किसी शराब दुकान को हटाने की अनुशंसा ग्राम सभा कर सकेगी। यदि शराब की दुकान के पास स्कूल, अस्पताल और धर्मशाला है, तो ग्राम सभा उस शराब दुकान को वहाँ से हटाने की अनुशंसा सरकार को भेज सकेगी। ग्राम सभा को अवैध रूप से संचालित शराब की दुकानों पर कार्यवाही करवाने का अधिकार रहेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गाँव में शांति एवं विवाद निवारण समिति बनेगी और गाँव के छोटे-मोटे झगड़े थाने नहीं जायेंगे, उन्हें अब ग्राम सभा में ही सुलझाया जायेगा। गाँव के किसी व्यक्ति के विरुद्ध थाने में एफआईआर दर्ज करने के पहले पुलिस को ग्राम सभा को बताना होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट ने ग्राम सभा को अधिकार दिया है कि वह आँगनवाड़ी, स्कूल, आश्रम, छात्रावास का निरीक्षण करे और इनके काम ठीक से संचालित कराएँ। मुख्यमंत्री चौहान ने उपस्थित जन-समूह को प्रेम, शांति और सद्भाव के साथ पेसा एक्ट के अधिकार लागू करने का संकल्प दिलाया।    

Kolar News

Kolar News 21 November 2022

गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस विधायक को आड़े हाथों लेते हुए कहा की संजय शुक्ला जहाँ है वहीं रहे और प्रसन्न रहे। मिश्रा ने कहा यह वही कांग्रेस है।  जो किसानों पर खाद के लिए लाठी चलवाती थी। इस दौरान मिश्रा ने "ट्रिपल T" फॉर्मूले को सख्ती से लागू करने की भी बात कही।  मिश्रा ने कहा  सिहोरे में हुई किसान की मृत्यु पर कहा कि बताया जा रहा है सीहोर में कृषक की मृत्यु लाइन में नहीं हुई। उन्हें पर्ची पहले ही मिल चुकी थी। परिजनों से बातचीत के दौरान ये सामने आया है की जब वे खाद लेने जा रहे थे। तब रास्ते में उन्हें हार्ट अटैक आया। मिश्रा ने कहा जहां तक सवाल है, कांग्रेस का तो यह वही कांग्रेस है जो किसानों पर खाद के लिए लाठी चलवाती थी।    डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा केजरीवाल के पास कार्यवाही के दो पैमाने हैं। दिल्ली में आरोपी मंत्री की जेल में मसाज करवा रहे हैं। और पंजाब में एक ही दिन में इस्तीफा ले लिया। और राहुल गांधी की यात्रा को अब समर्थन मिल नहीं पा रहा। इसलिए यात्रा के दिन कम हो रहे हैं। मिश्रा ने कहा राहुल जी से आग्रह है कि वह किसी ऐसी जगह न जाए ,जहाँ फिर से आक्रोश की स्थितियां बने कुछ दिन पहले कमलनाथ के जाने से खालसा कॉलेज में आक्रोश उत्पन्न हुआ था। इसके साथ ही मिश्रा ने बताया  की ऑनलाइन  गेमिंग को प्रतिबंधित करने के लिए प्रस्ताव तैयार किया गया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निर्देशानुसार "ट्रिपल T"  ट्रेस , टारगेट और टर्मिनेट के फार्मूले को और सख्ती से लागू करने के लिए अगले माह अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। 

Kolar News

Kolar News 20 November 2022

मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल इन दिनों गुजरात के दौरे पर हैं। इस दौरान वे एक किसान के खेत में पहुंचे और खेती का मुआयना किया। वहीं पटेल ने किसान को प्राकृतिक खेती करने के लिए बधाई दी। और किसानों ने प्राकृतिक खेती करने का संकल्प भी लिया। कृषि मंत्री पटेल इन दिनों गुजरात में है। और पार्टी नेतृत्व के निर्देश पर कारपेट बॉम्बिंग मिशन के तहत गुजरात विधानसभा के चुनावो में चुनावी मोर्चा संभाल रहे हैं। चुनावी व्यस्तता के बीच उनके अंदर का किसान एक अनुभवी विशेषज्ञ के रूप में दिख ही जाता है। नर्मदा जिले के चुनाव प्रचार के दौरान मंत्री पटेल अचानक एक किसान के खेत में पहुंचे। जहां उन्होंने खेत में लगी सब्जी- भाजी की फसलों का जायजा लिया। उन्होंने अपने हाथों से बरबटी  को तोड़ा और बरबटी का स्वाद चखा। मंत्री पटेल ने किसान को प्राकृतिक फसल करने के लिए बधाई दी। वहीं किसान ने मंत्री पटेल से चर्चा करते हुए कहा कि मैंने चैनलों पर आप की खबरें देखी हैं। जिसमें आप मध्य प्रदेश में प्राकृतिक खेती को लेकर किसानों के बीच अभियान चलाए हुए है। किसान ने कहा आप मेरे खेत में आए मुझे अच्छा लगा किसान ने देश में प्राकृतिक खेती को लेकर प्रधानमंत्री मोदी के उठाए जा रहे कदमों की तारीफ करते हुए कहा कि मोदी चाहते हैं कि हमारे देश का किसान कृषि क्षेत्र में समृद्धशाली हो और खेती किसानी लाभ का धंधा बने।    

Kolar News

Kolar News 20 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि जीवन की सफलता सेवा भाव के साथ कर्त्तव्य पालन में हैं। दीक्षांत शपथ को 365 दिन याद रखें। चिकित्सक के रूप में प्रतिज्ञा के प्रत्येक शब्द के अनुरूप आचरण भावी जीवन की सफलता का पथ है। राज्यपाल  पटेल आज भाभा कॉलेज ऑफ डेंटल साइंसेज में उपाधि वितरण समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि मुख सम्बंधी स्वास्थ सम्पूर्ण स्वास्थ का महत्वपूर्ण और चुनौतीपूर्ण मुद्दा हैं। दाँत नहीं तो स्वाद नहीं की मान्यता पाचन क्रिया में दाँतों की महत्ता को बताती है। उन्होंने कहा कि चिकित्सक का सबसे प्रमुख कर्त्तव्य रोगी को शारीरिक और मानसिक रूप से तंदुरुस्त करना होता है। किसी भी चिकित्सक का कार्य मात्र शरीर की महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं की जानकारी हासिल करना ही नहीं है। रोग की उत्पत्ति शरीर के भीतर किस प्रकार से होती है, उसके कारणों को भी जानना और समझना आवश्यक है। रोगों के विकारों को दूर करने के कार्यों के साथ ही निरंतर अध्ययन, शोध और अनुसंधान जरूरी है। रोगियों को उपचार के साथ ही रोग निदान और रोग नियंत्रण के सम्बन्ध में उचित परामर्श देना चिकित्सक का दायित्व है।   राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि रोग उपचार से अधिक प्रभावी रोगों की रोकथाम के प्रयास होते है। जरूरत मुख स्वास्थ्य और स्वच्छता के सम्बंध में जागरूकता का प्रसार करना है। उन्होंने स्कूलों और ग्रामीण अंचल में जागरूकता शिविर लगाने और मुख स्वास्थ्य रोग निवारक और रोग आधारित उपचार की जरूरतों के लिए एक समग्र मॉडल का विकास करने की जरूरत बताई। विश्वविद्यालयों से कहा कि शिक्षा के प्रसार के साथ विद्यार्थियों में सामाजिक उत्तरदायित्व, कर्त्तव्यबोध, नैतिक मूल्य विकसित करने, उन्हें सामाजिक सरोकारों में सहभागिता के लिए प्रेरित किया जाये। चेयरमेन भाभा ग्रुप डॉ. सुनील कपूर ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा अभी तक 110 पेंटेंट पंजीकृत कराने में सफलता प्राप्त की है। एक ऐसे रोबोट का निर्माण किया है जो 18 प्रकार की जाँच कर, 5 मिनट में रिपोर्ट दे देता है। भाभा विश्वविद्यालय की कुलाधिपति डॉ. साधना कपूर ने विश्वविद्यालय के संबध में जानकारी दी। विद्यार्थियों को प्राचार्य भाभा कॉलेज ऑफ डेंटल साइंसेज मनोज मित्तल ने दीक्षांत शपथ ग्रहण कराई। सिद्धार्थ अवस्थी ने आभार माना। पी.जे कलाम विश्वविद्यालय की कुलाधिपति श्रुति कपूर, भाभा विश्वविद्यालय के प्रभारी कुलपति दिलीप कुमार डे सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएँ, पालक और शिक्षक मौजूद थे।     

Kolar News

Kolar News 20 November 2022

राहुल गाँधी को बम से उड़ाने और राहुल गांधी और कमलनाथ पर गोली चलाने की धमकी के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है और अब पुलिस प्रशासन राहुल की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहती। वहीं अब इसपर सिसायत भी गरमा गई है।  राहुल गांधी और कमलनाथ को मिली धमकी पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि यात्रा को और राहुल गांधी को सुरक्षा देना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। सुरक्षा के मामले को लेकर मैं मुख्यमंत्री से मिल चुका हूं। ये पुलिस को देखना है। पूरी सुरक्षा पुलिस प्रशासन के हाथ में है। कमलनाथ ने कहा इस यात्रा से बीजेपी बौखलाई हुई है और उन्हें  दिख रहा है कि यात्रा को कितनी सफलता मिल रही है। इसलिए बीजेपी हर तरह के हथकंडे अपना रही है। वहीं इस धमकी भरी चिट्ठी को लेकर प्रदेश के परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह ने बताया कि  मिठाई की दुकान पर यह पत्र मिला है, जो हाथ से लिखा गया है। यह किसी आम व्यक्ति का भी काम हो सकता है। या हो सकता है की खुद के प्रचार प्रसार के लिए यह कांग्रेसियों की साजिश हो। उन्होंने कहा राहुल गांधी मध्यप्रदेश के मेहमान हैं। उन्हें पूरी सिक्योरिटी मध्यप्रदेश सरकार दे रही है। और उनकी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है।    धमकी वाले पत्र पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि यह पूरी तरह एक पब्लिसिटी स्टंट है। मध्य प्रदेश पूरी तरह सुरक्षित है। मध्य प्रदेश शांति का टापू है ,और इस प्रकार की घटना कोई यहाँ नहीं कर सकता। मध्य प्रदेश सरकार सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। राहुल गांधी की सुरक्षा हो कमलनाथ की हो या किसी और की सुरक्षा, सभी सुरक्षित हैं। यह पत्र मुझे स्टंट दिखाई देता है। जिस प्रकार से लोग यात्रा को इग्नोर कर रहे हैं ,और यात्रा जिस प्रकार से असफलता की ओर जा रही है। इसलिए अब कांग्रेस को लगता है कि स्टंट कैसे बनाया जाए ,जिससे मीडिया के माध्यम से हम लोगों के बीच पहुँचे। शर्मा ने कहा पत्र के पीछे कोई साजिश नजर आती है। वहीं इसको लेकर गृहमंत्री का भी बयान सामने आया है। गृहमंत्री मिश्रा ने धमकी भरे चिट्ठी पर कहा कि राहुल गांधी की सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार की है। सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध है ,परिंदा भी पर नहीं मार सकता। उन्होंने कहा कि सुरक्षा में चूक की बात जो सामने आ रही है,ऐसी अतिथियाँ पैदा खुद कांग्रेस ने की है। इंदौर के जिस खालसा कॉलेज में राहुल गांधी का कार्यक्रम है। 10 दिन पहले स्तिथि बिगाड़ने के लिए वहां कौन गया था। क्यों कमलनाथ ने वहां जाकर लोगों के ज़ख्मों को हरा किया। सिख सत्संग में जाकर क्यों इस तरह का वातावरण निर्माण किया। छिंदवाड़ा में जाकर मंदिर और मूर्ति बनवायी और टुकड़े टुकड़े कर दिए। गजनवी और गौरी की तरह ऐसा क्यों कर रहे हो ,यह भी राहुल गांधी को सोचना चाहिए कि कमलनाथ ने ऐसा क्यों किया। मिश्रा ने कहा कमलनाथ हर जगह जाकर आवेश की स्थिति पैदा क्यों कर रहे हैं। उन्होंने कहा की कमलनाथ नहीं चाहते की मध्यप्रदेश में राहुल गांधी की यात्रा हो इसलिए बार बार सुरक्षा की बात कर रहे हैं।     

Kolar News

Kolar News 19 November 2022

राहुल गाँधी को बम से उड़ाने और राहुल गांधी और कमलनाथ पर गोली चलाने की धमकी के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया है और अब पुलिस प्रशासन राहुल की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहती। वहीं अब इसपर सिसायत भी गरमा गई है।  राहुल गांधी और कमलनाथ को मिली धमकी पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि यात्रा को और राहुल गांधी को सुरक्षा देना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। सुरक्षा के मामले को लेकर मैं मुख्यमंत्री से मिल चुका हूं। ये पुलिस को देखना है। पूरी सुरक्षा पुलिस प्रशासन के हाथ में है। कमलनाथ ने कहा इस यात्रा से बीजेपी बौखलाई हुई है और उन्हें  दिख रहा है कि यात्रा को कितनी सफलता मिल रही है। इसलिए बीजेपी हर तरह के हथकंडे अपना रही है। वहीं इस धमकी भरी चिट्ठी को लेकर प्रदेश के परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह ने बताया कि  मिठाई की दुकान पर यह पत्र मिला है, जो हाथ से लिखा गया है। यह किसी आम व्यक्ति का भी काम हो सकता है। या हो सकता है की खुद के प्रचार प्रसार के लिए यह कांग्रेसियों की साजिश हो। उन्होंने कहा राहुल गांधी मध्यप्रदेश के मेहमान हैं। उन्हें पूरी सिक्योरिटी मध्यप्रदेश सरकार दे रही है। और उनकी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है।    धमकी वाले पत्र पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि यह पूरी तरह एक पब्लिसिटी स्टंट है। मध्य प्रदेश पूरी तरह सुरक्षित है। मध्य प्रदेश शांति का टापू है ,और इस प्रकार की घटना कोई यहाँ नहीं कर सकता। मध्य प्रदेश सरकार सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। राहुल गांधी की सुरक्षा हो कमलनाथ की हो या किसी और की सुरक्षा, सभी सुरक्षित हैं। यह पत्र मुझे स्टंट दिखाई देता है। जिस प्रकार से लोग यात्रा को इग्नोर कर रहे हैं ,और यात्रा जिस प्रकार से असफलता की ओर जा रही है। इसलिए अब कांग्रेस को लगता है कि स्टंट कैसे बनाया जाए ,जिससे मीडिया के माध्यम से हम लोगों के बीच पहुँचे। शर्मा ने कहा पत्र के पीछे कोई साजिश नजर आती है। वहीं इसको लेकर गृहमंत्री का भी बयान सामने आया है। गृहमंत्री मिश्रा ने धमकी भरे चिट्ठी पर कहा कि राहुल गांधी की सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार की है। सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध है ,परिंदा भी पर नहीं मार सकता। उन्होंने कहा कि सुरक्षा में चूक की बात जो सामने आ रही है,ऐसी अतिथियाँ पैदा खुद कांग्रेस ने की है। इंदौर के जिस खालसा कॉलेज में राहुल गांधी का कार्यक्रम है। 10 दिन पहले स्तिथि बिगाड़ने के लिए वहां कौन गया था। क्यों कमलनाथ ने वहां जाकर लोगों के ज़ख्मों को हरा किया। सिख सत्संग में जाकर क्यों इस तरह का वातावरण निर्माण किया। छिंदवाड़ा में जाकर मंदिर और मूर्ति बनवायी और टुकड़े टुकड़े कर दिए। गजनवी और गौरी की तरह ऐसा क्यों कर रहे हो ,यह भी राहुल गांधी को सोचना चाहिए कि कमलनाथ ने ऐसा क्यों किया। मिश्रा ने कहा कमलनाथ हर जगह जाकर आवेश की स्थिति पैदा क्यों कर रहे हैं। उन्होंने कहा की कमलनाथ नहीं चाहते की मध्यप्रदेश में राहुल गांधी की यात्रा हो इसलिए बार बार सुरक्षा की बात कर रहे हैं।       

Kolar News

Kolar News 19 November 2022

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस विधायकों को लेकर कहा कि कमलनाथ जी को विधायकों की गिनती करते रहना चाहिए। पिछले महीने ही 17 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की थी। उन्होंने कहा अभी तक 38 विधायक विभिन्न कारणों से बागी हो चुके हैं। श्रद्धा मर्डर केस पर उन्होंने कहा कि आफताब ने एक एससी वर्ग की लड़की के 35 टुकड़े कर दिए। श्रद्धा के 35 टुकड़े कर जानवरों को दे दिया गया। लेकिन कांग्रेस और अन्य दलों का एक भी बयान नहीं आया।  बटला हाउस एनकाउंटर पर आतंकी के मारे जाने पर रोने वाली सोनिया गांधी ने कुछ नहीं कहा। राहुल गाँधी , दिग्विजय सिंह , कमलनाथ , और मैं लड़की हूँ लड़ सकती हूँ का नारा देने वाली प्रिंयका वाड्रा ने भी कुछ नहीं कहा। मिश्रा ने कहा अखलाक के मामले में सभी मुखर थे। आफताब के द्वारा  श्रद्धा मर्डर  में चुप्पी क्यों? यह तुष्टीकरण का ज्वलंत प्रमाण हैं ,एससी वर्ग की बिटिया के 35 टुकड़े कर दिए लेकिन किसी को भी पीड़ा नहीं हुई। मिश्रा ने  सलकनपुर मंदिर चोरी  मामले में बताया कि अपराधी गिरफ्तार हो गए हैं और चोरी गया माल भी पूरा बरामद हो गया है। उन्होंने कहा कट्टी की दो बोरियां बनाकर चोरों ने चोरी की थी। पूरा पैसा बरामद हो गया है। आगे की विवेचना जारी है। 

Kolar News

Kolar News 19 November 2022

राजनीति में आरोप प्रत्यारोप का दौर चलता रहता है। वहीं नेता प्रतिपक्ष गोविन्द सिंह ने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि नियमों की अनदेखी करते हुए वीडी शर्मा के ससुर को कुलपति बना दिया गया।  शिवराज सरकार अपनी कुर्सी बचाने के लिए बीजेपी के लोगों को यूनिवर्सिटी में  नियुक्ति दे रही है। वहीं प्रदेश का योग्य बेरोजगार युवा दर दर भटकने को मजबूर है। उन्होंने ये भी कहा कि बीजेपी ने राजनीती के चक्कर में लोकलज्जा को भी भुला दिया है। इस नियुक्ति के खिलाफ कांग्रेस कोर्ट जाएगी। डॉ. गोविंद सिंह ने कहा कि बीजेपी की सरकार यूनिवर्सिटी की शिक्षा व्यवस्था चौपट  कर  रही है। जबलपुर कृषि यूनिवर्सिटी में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के ससुर डॉ. प्रमोद कुमार मिश्रा को कुलपति बना दिया गया  है। वे इस पद के लिए योग्य नहीं है। उनकी उम्र के साथ योग्यता पर भी सिंह ने सवाल खड़े किये। गोविंद सिंह ने पीएम नरेंद्र मोदी से नियुक्ति की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है। साथ ही जांच नहीं होने पर हाई कोर्ट में याचिका लगाने की बात कही है। गोविंद सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि वे अपनी कुर्सी बचाने के लिए अपनी पार्टी के अध्यक्ष और पार्टी के अन्य पदाधिकारियों से मिल बांटकर कर सौदा कर रहे हैं।  सिंह ने कहा मध्य प्रदेश में बड़े  पैमाने पर बेरोजगारी है।  बेरोजगार युवा कहीं जहर खा रहा तो कहीं फांसी पर लटक रहा। और  शिवराज सिंह चौहान गलत आंकड़े प्रस्तुत कर रहे हैं। मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा बेरोजगार रोजी रोटी के लिए तरस रहे हैं। उन्होंने कहा  शिवराज सिंह की सिफारिश पर राज्यपाल महोदय ने नियुक्ति दी  है। उन्होंने ये भी कहा कि बीजेपी में अब लोकलज्जा नहीं बची है। इसलिए  सिर्फ अपने लोगों को नियुक्ति  दे रहे हैं।   

Kolar News

Kolar News 19 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कच्छ,मोरबी,कालियाबिड और भुजपुर में चुनावी सभाओं को संबोधित किया। और कहा कि ये कांग्रेस और आप देश से संतोष और चैन साफ कर देंगे। ये केवल झूठे वादे करने वाले लोग हैं। हालत यह है कि यहाँ भी अब कांग्रेस में बचा क्या है। यहां के रिजेक्टेड माल को लड़ा रहे हैं। उन्होंने कहा पुराने कांग्रेसी अंदर बैठे -बैठे कुसमुसा रहे हैं। कांग्रेस की हालत यह हो गई है,कि इस दिल के टुकड़े हजार हुए, कोई इधर गिरा कोई उधर गिरा। कांग्रेस शहीदों का अपमान करती है। कांग्रेस की सरकार रही तो हमें यही पढ़ाया गया देश को आजादी नेहरू जी ने दिलाई। और किसी को याद ही नहीं करते थे। सीएम ने अपने संबोधन में कहा कि नरेंद्र मोदी कल्पवृक्ष हैं जो जरूरत है वही मिलेगा। केजरीवाल बबूल का पेड़ है केवल कांटे ही मिलेंगे। और राहुल बाबा खरपतवार हैं, ये फसल ही खराब कर देंगे। राहुल गांधी ने स्वतंत्र वीर सावरकर का अपमान किया है। जिन्हें काला पानी की 2 जन्म की सजा मिली थी। जिन्होंने कालापानी की सजा काटी। देश के लिए सब कुछ लुटा दिया ऐसे स्वतंत्र वीर सावरकर का तुम अपमान करते हो। राहुल गांधी और कांग्रेसियों ये देश तुम्हें कभी माफ नहीं करेगा।

Kolar News

Kolar News 18 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जनजातीय वर्ग को महत्वपूर्ण अधिकार देने के उद्देश्य से प्रदेश में 15 नवम्बर से लागू पेसा नियम को जमीन पर उतारने के लिए कलेक्टर्स संबंधित विभिन्न विभागों के साथ सक्रिय भूमिका का निर्वहन करें। पेसा जागरूकता सम्मेलन से संबंधित वर्ग को नियमों की विस्तृत जानकारी दी जाए। आज नर्मदापुरम जिले के केसला में पेसा जागरूकता सम्मेलन का सफल आयोजन हुआ है। अन्य जिलों में भी ऐसे सम्मेलन किए जाएंगे। साथ ही 22 नवम्बर को राज्य स्तरीय पेसा कार्यशाला भोपाल में होगी। इसमें 7 संभाग – चम्बल, उज्जैन, इंदौर, नर्मदापुरम, जबलपुर, शहडोल और रीवा के कमिश्नर्स और आईजी, 20 जिले श्योपुर, रतलाम, धार, झाबुआ, अलीराजपुर, खरगौन, बड़वानी, खण्डवा, बुरहानपुर, बैतूल, नर्मदापुरम, छिंदवाड़ा, सिवनी, मण्डला, डिंडौरी, बालाघाट, शहडोल, अनुपपूर, उमरिया और सीधी के कलेक्टर्स, पुलिस अधीक्षक, डीएफओ और जिला पंचायत के सीईओ हिस्सा लेंगे। मुख्यमंत्री  चौहान ने आज निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा पेसा जागरूकता कार्यक्रम संबंधी निर्देश कलेक्टर्स को दिये। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश के जनजातीय भाई-बहनों के लिए पेसा के नियमों को पूरी ताकत के साथ लागू करने का पहली बार गंभीरता से प्रयास हुआ है। प्रदेश के 20 जिलों के 89 विकासखण्डों की 5 हजार 254 पंचायतों के 11 हजार 757 ग्रामों में यह नियम लागू हैं। इन ग्रामों की ग्राम सभाएँ 20 नवम्बर से 3 दिसम्बर के मध्य होंगी। इन विशेष ग्राम सभाओं में पेसा नियमों के बिन्दुओं पर चर्चा के साथ विस्तृत जानकारी दी जाएगी। इसी तरह ग्राम सभाएँ पेसा नियम लागू होने के लिए धन्यवाद प्रस्ताव पारित करेंगी और 4 दिसम्बर को टंट्या मामा बलिदान दिवस के कार्यक्रमों में भागीदारी पर भी चर्चा करेंगी। प्रभारी मंत्रियों के परामर्श से कलेक्टर्स ग्राम सभा की तारीख तय करेंगे।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एक नया इतिहास रचना है। सरकार भोपाल से नहीं चौपाल से चले, इसके लिए विकेंद्रीकरण की दृष्टि से कार्य किया जाए। पेसा नियमों के बारे में नुक्कड़ नाटक, दीवार लेखन और अन्य माध्यमों से आवश्यक प्रचार भी किया जाए। जन अभियान परिषद का पूरा सहयोग प्राप्त किया जाए। जनजातीय वर्ग के लोगों को मजबूत बनाने के लिए यह एक क्रांतिकारी निर्णय लिया गया है। जनजातीय परम्पराओं और संस्कृति के संरक्षण का कार्य भी पेसा नियम का प्रमुख भाग है। यही नहीं श्रमिकों के अधिकारों का भी विशेष ध्यान रखा गया है। पेसा नियमों के लिए वन विभाग के अलावा पंचायत एवं ग्रामीण विकास, जनजातीय कार्य, मछली पालन, राजस्व, गृह, खनिज, जल संसाधन और वाणिज्यिक कर विभाग का परस्पर समन्वय रहेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा नियमों के संबंध में विशेष प्रशिक्षण की रूपरेखा बनाई गई है। हर ग्राम सभा के लिए 27 नवम्बर तक मास्टर ट्रेनर्स का चिन्हांकन करते हुए उन्हें प्रशिक्षण देने के लिए 25 से 30 नवम्बर की अवधि निर्धारित की गई है। इसके बाद मास्टर्स ट्रेनर 5 दिसम्बर से आवंटित किए गए ग्रामों में जाएंगे और वहाँ दो से तीन दिन रूक कर सरल भाषा में ग्राम सभा में पेसा नियमों की बारीकियाँ समझाएंगे। यह बात भी महत्वपूर्ण है कि पेसा नियमों से अन्य पिछड़ा वर्ग या किसी अन्य वर्ग पर कोई विपरीत प्रभाव नहीं होगा। ग्राम सभाओं में भी जनजातीय वर्ग के अलावा अन्य वर्गों के सदस्य शामिल हैं। सामाजिक ताना-बाना यथावत रहेगा। 

Kolar News

Kolar News 18 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जल, जंगल, जमीन पर जनजातीय वर्ग का अधिकार है। राज्य सरकार उनके हक को दिला रही है। प्रदेश में जनजातीय वर्ग को सशक्त और अधिकार सम्पन्न बनाने के लिये पेसा एक्ट लागू किया गया है, जिससे उनके जीवन में खुशहाली आएगी। गाँव का पैसा गाँव के विकास में ही उपयोग होगा। छल और कपट से प्रदेश की धरती पर धर्मांतरण नहीं होने देंगे। मुख्यमंत्री चौहान गुरूवार को नर्मदापुरम जिले के जनजातीय ब्लॉक केसला में पेसा जागरूकता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने पेसा एक्ट से मिले अधिकारों के प्रति जनजातीय समुदाय को जागरूक किया।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट से जनजातीय वर्ग को मजबूती मिलेगी। नये नियमों के अनुसार अब पटवारी और बीट गार्ड को गाँव की जमीन का नक्शा, खसरा, बी वन नकल, गाँव में ही लाकर ग्राम सभा में दिखाने होंगे, जिससे जमीन के रिकॉर्ड में कोई गड़बड़ी न कर सके। यदि कोई गड़बड़ी करता है तो ग्राम सभा को उसे ठीक करने का अधिकार रहेगा। किसी प्रोजेक्ट के लिये जमीन लेने के लिये ग्राम सभा की सहमति जरूरी होगी। छल, कपट और बलपूर्वक अब कोई जमीन नहीं हड़प सकेगा। यदि कोई ऐसा करता है तो ग्राम सभा को हस्तक्षेप कर उसे वापस करवाने का अधिकार होगा। छल और कपट से प्रदेश की धरती पर धर्मांतरण किसी कीमत पर नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि खनिज के मामले जिनमें रेत खदान, गिट्टी-पत्थर के ठेके देना है या नहीं इसका निर्णय भी ग्राम सभा में ही लिया जाएगा।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्राम सभा अमृत सरोवर, तालाबों का प्रबंधन करेगी। तालाबों में सिंघाड़ा उगाने और मछली पालन एवं मत्स्याखेट की सहमति ग्राम सभा देगी। सौ एकड़ सिंचाई तालाबों का प्रबंधन, वनोपज का संग्रहण एवं न्यूनतम मूल्य निर्धारण भी ग्राम सभा में हो सकेगा। जनजातीय वर्ग के लोगों के द्वारा वनोपज संग्रहण करने के साथ उसे बेचने का भी हक होगा। तेंदूपत्ता की तुड़ाई और ब्रिकी का कार्य भी जनजातीय वर्ग करेंगे। वनोपज की दर ग्राम सभा तय करेंगी। यह सब प्रस्ताव एक माह के अंदर ही तय हो जाएंगे। ग्राम सभा तेंदूपत्ता संग्रहण एवं विक्रय का प्रस्ताव 15 दिसंबर तक पारित करे। गाँव का पैसा गाँव के विकास में ही उपयोग होगा।मुख्यमंत्री चौहान ने जिला प्रशासन एवं वन विभाग को पेसा एक्ट के संबंध में प्रशिक्षण करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं मनरेगा के माध्यम से कब और कौन सा कार्य कराया जाना है, इसकी कार्य-योजना का प्रस्ताव ग्राम सभा ही बनाएगी। मस्टर रोल भी ग्राम सभा देखेगी। यदि ग्राम से मजदूरों को बाहर ले जाना हो तो पहले ग्राम सभा को जानकारी देनी होगी। गाँव में बाहर से आने वाले व्यक्ति की जानकारी भी ग्राम सभा को देनी होगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातीय क्षेत्रों के उत्थान के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। जनजाति क्षेत्रों में केवल लायसेंसधारी साहूकार ही निर्धारित ब्याज दर पर पैसा उधार दे सकेंगे। इसकी जानकारी भी ग्राम सभा को देना होगी। साहूकार द्वारा अधिक ब्याज नहीं लिया जा सकेगा। अधिक ब्याज लेने पर संबंधित पर कार्यवाही होगी। शासन की जन-कल्याणकारी योजनाओं के हित लाभ के लिए भी ग्राम सभा को अधिकार रहेगा। किस वास्तविक हकदार को हक मिलना चाहिए यह ग्राम सभा ही तय करेगी। उन्होंने कहा कि बिना ग्राम सभा की अनुमति के कोई नई शराब की दुकान नहीं खुलेगी। किसी शराब दुकान को हटाने की अनुशंसा ग्राम सभा कर सकेगी। छोटे झगड़े सुलझाने का अधिकार भी ग्राम सभा के पास रहेगा। किसी थाना क्षेत्र में एफआईआर दर्ज होने पर इसकी सूचना ग्राम सभा को देना होगी। स्कूल, स्वास्थ्य केन्द्र, आँगनवाड़ी केन्द्र, आश्रम, छात्रावास आदि के व्यवस्थित संचालन के लिए मॉनिटरिंग का अधिकार भी ग्राम सभा को होगा। मेला एवं बाजार का प्रबंधन भी ग्राम सभा करेगी। नये नियमों को प्रभावी ठंग से लागू किये जाने के लिये पेसा कोऑर्डिनेटर बनाये जायेंगे। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश निरंतर विकास के पथ पर आगे बड़ रहा हैं। उन्होंने प्रेम, शांति और सद्भाव के साथ पेसा एक्ट के अधिकार लागू करने के लिए जन-समूह को संकल्प दिलाया। उन्होंने कहा कि स्व-सहायता समूह की बहनों के सशक्तिकरण के लिए भी राज्य सरकार कृत संकल्पित है। इस वर्ष भी लगभग 3 हजार करोड़ रुपए स्व-सहायता समहों के खातों में डाले जाएंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने सुखतवा कॉलेज का नामकरण भगवान बिरसा मुंडा के नाम से करने की घोषणा भी की। कार्यक्रम का शुभारंभ कन्या-पूजन एवं माँ सरस्वती के पूजन से किया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने भगवान बिरसा मुंडा, वीर रघुनाथ शाह, शंकर शाह, टंट्या मामा एवं रानी दुर्गावती की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर जनजातीय नायकों को नमन किया। जनजातीय समाज के सशक्तिकरण के लिए पेसा एक्ट लागू करने के लिए जनजाति समुदाय ने धन्यवाद-पत्र देकर मुख्यमंत्री चौहान का आभार माना। मुख्यमंत्री चौहान ने जनजाति नायकों के जयघोष और "जय सेवा" "जय जोहार" से संबोधन की शुरुआत की।       सांसद राव उदय प्रताप सिंह ने कहा कि आजादी के 70 वर्षों के इतिहास में सही मायनों में अब जनजाति वर्ग के जीवन को नई दिशा मिली हैं। अब जनजाति वर्ग की ताकत उनके हाथों में होंगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जनजाति वर्ग के सशक्तिकरण एवं उनके उत्थान के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं। पेसा एक्ट लागू कर उन्होंने जनजाति वर्ग को जल, जंगल एवं जमीन पर अधिकार दिला कर मुख्यमंत्री चौहान सामाजिक क्रांति लाये हैं। सांसद सिंह ने क्षेत्र की जनता की तरफ से मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया। सिवनी मालवा विधायक प्रेम शंकर वर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में प्रदेश के कृषि उत्पादन में रिकॉर्ड वृद्धि हुई है। हमारा प्रदेश 7 बार कृषि कर्मण अवार्ड जीत चुका है। मुख्यमंत्री चौहान प्रदेश को स्वर्णिम मध्यप्रदेश बनाने के लिए कृत-संकल्पित होकर कार्य कर रहे हैं। उन्होंने सिवनी मालवा क्षेत्र में पिछले दिनों विकास कार्य स्वीकृत करने पर मुख्यमंत्री चौहान का आभार माना। कार्यक्रम में एकलव्य आवासीय विद्यालय केसला, कन्या आवासीय परिसर सुखतवा, चुरना आवासीय विद्यालय, एमजीएम इटारसी एसटी छात्रावास के छात्र-छात्राओं ने जनजातीय संस्कृति पर केन्द्रित लोक नृत्य एवं गीतों की प्रस्तुति दी। गोंडी और कोरकू वेशभूषा में सजे बालक-बालिकाएँ प्रदेश की जनजातीय संस्कृति की परंपराओं को साकार करते दिखाई दिए। संचालन प्राचार्य राजेश जायसवाल ने किया। खनिज साधन एवं जिले के प्रभारी मंत्री ब्रजेंद्र प्रताप सिंह, नर्मदापुरम विधायक डॉ. सीतासरन शर्मा सहित विधायक और बड़ी संख्या में जनजाति वर्ग के नागरिक शामिल रहे।

Kolar News

Kolar News 18 November 2022

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के जन्मदिन पर मंदिर की तरह केक काटने पर सियासत गरमा गई है। भाजपा ने इसे हिंदू की आस्था से खिलवाड़ बताया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कमलनाथ हनुमान जी को केक पर बना रहे हैं  और केक को काट रहे हैं। यह हिंदू धर्म, सनातन परंपरा का अपमान है। जिसको यह समाज स्वीकार नहीं करेगा। वहीं इसको लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने  कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि कमलनाथ को मानसिकता बदलनी चाहिए। कमलनाथ और राहुल गांधी चुनावी हिन्दू है।  ये हिन्दुओं की आस्था पर कुठाराघात कर रहे हैं। कमलनाथ को भगवान के मंदिर को टुकड़े टुकड़े करने पर माफ़ी मांगनी चाहिए। इस मौके पर कृषि मंत्री कमल पटेल ने भी कमलनाथ पर जमकर निशाना साधा। छिंदवाड़ा के शिकारपुर में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को अपने जन्मदिन से पहले केक काटा केक मंदिर की तरह बनाया गया था। और उस पर हनुमानजी की तस्वीर और झंडा लगा था। मंदिर का केक काटने और जश्न मनाने को लेकर अब विवाद खड़ा हो गया है। कमलनाथ इसको लेकर अब बीजेपी निशाने पर आ गए हैं। सीएम शिवराज ने कहा कि कांग्रेसी बगुला भगत हैं। उन्हें भगवान की भक्ति से कोई लेना-देना नहीं है। ये वो पार्टी है जो कभी राम मंदिर का विरोध करती थी। कांग्रेस को लगा इसकी वजह से वोटों का नुकसान हो जाता है। तो वोटों के लिए उनको हनुमान जी  याद  आ गए। लेकिन मुँह में राम बगल  में छुरी। हनुमान जी को कमलनाथ केक पर बनाकर काट रहे हैं। ये हिन्दू धर्म और सनातन परम्परा का अपमान है। जिसको ये समाज स्वीकार नहीं करेगा  ...         गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने  पूर्व सीएम कमलनाथ पर हिंदू आस्था से खिलवाड़ करने का संगीन आरोप लगाया।  उन्होंने कहा कि पूर्व सीएम कमलनाथ ने भले ही हनुमान जी का मंदिर बनाया है। लेकिन उनकी मंदिर मैं जरा भी आस्था नहीं है। कमलनाथ और राहुल गांधी  हिंदू धर्म की आस्था से खिलवाड़ करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। मिश्रा ने कहा कमलनाथ और राहुल गांधी चुनावी हिन्दू हैं। राहुल गांधी कहीं भी मंदिर नहीं गए लेकिन मध्यप्रदेश आते ही वे मंदिर जाने लगते हैं। उन्होंने कहा कभी जूते पहनकर भजन गाया जाता है। तो कभी मंदिर के टुकड़े करने वाला केक काटा जाता है। मिश्रा ने निवेदन किया की हिन्दू की आस्थाओं से खिलवाड़ करना कमलनाथ बंद कर दें बार बार हिन्दू की भावनाओं को आहत किया जा रहा है। उन्होंने कहा कमलनाथ द्वारा केक का मंदिर बनाकर उसके टुकड़े-टुकड़े करना महमूद गजनवी और मोहम्मद गौरी की याद दिलाता है। श्री राम  हनुमान केक काटने के  विवाद के बीच  छिंदवाड़ा के प्रभारी एवं कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि कमलनाथ और  कांग्रेस के सभी बड़े नेता मौकापरस्त हिंदूवादी है। सारे के सारे नास्तिक हैं। जिस पार्टी के नेताओं ने भगवान श्री राम के अस्तित्व को ही ठुकरा दिया हो तो उनसे क्या आशा की जा सकती है। इतना जरूर कहा जा सकता है कि वोट बैंक की खातिर यह सब धार्मिक बन रहे हैं। लेकिन इनके धार्मिक बनने से हमारी पार्टी की जीत है। कमलनाथ को चाहिए था कि वे भारतीय संस्कृति के अनुसार भगवान की पूजा करते न कि पाश्चात्य संस्कृति में भगवान श्री राम और हनुमान का केक काटते। धार्मिक आस्थाओं से खिलवाड़ यह लोग करते ही रहते हैं। इनकी आदत है।   

Kolar News

Kolar News 17 November 2022

मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेसी नेता अभी तक सोए हुए थे।वे सभी चुनावी साल में अब जाग रहे हैं।  और हल्ला कर रहे हैं। खाद की कहीं कोई कमी नहीं है। इस दौरान उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा पर भी निशाना साधा। कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा चुनावी साल में सोए हुए कांग्रेसी नेता अब जाग रहे हैं। 4 साल से यह सभी प्रदेश में सो रहे थे। चुनाव का समय नज़दीक आ रहा है। जनता के बीच जाना है। तो अब  कांग्रेसी किस मुंह से जाएंगे। इसलिए वे सभी हल्ला कर रहे हैं कि प्रदेश में खाद का संकट है। लेकिन मैं दावे के साथ कह रहा हूं कि खाद का कोई संकट नहीं है। सभी जगह पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है। और रही बात विधायकों के चिट्ठी लिखने की। तो वो उनका अधिकार है। जिसके लिए सरकार की जवाबदेही है। पटेल ने कहा विधायक गण हमें बताएं कि खाद की सुचारू व्यवस्था कहा ठीक नहीं है वहां तुरंत व्यवस्था को शुरू कर दिया जाएगा।      कृषि मंत्री पटेल ने राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी रसातल की ओर बढ़ चुकी है। कांग्रेस अब अप्रासंगिक हो गई है। जनता के बीच कांग्रेस की विश्वसनीयता खत्म हो चुकी है। राहुल गांधी की यात्रा भारत जोड़ो यात्रा नहीं। कांग्रेस बचाओ यात्रा है। क्योंकि जो बचे- खुचे कांग्रेसी कार्यकर्ता है। वे कांग्रेस में बने रहे इसलिए कांग्रेस बचाओ यात्रा कर रहे हैं पटे.ल ने कहा कि कांग्रेस के कार्यकर्ता और विधायक भाजपा में आना चाहते हैं। तो उन सभी का स्वागत है। हमारी पार्टी राष्ट्र हित, राष्ट्र धर्म के लिए काम कर रही है। ऐसे में जो राष्ट्रवादी होंगे वह भाजपा में आएंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक डूबती नाव है। जो लोग अपने आप को कांग्रेस में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। वे सुरक्षित स्थान की तलाश में भाजपा में शामिल हो रहे हैं।   

Kolar News

Kolar News 17 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रवासी भारतीय दिवस का इंदौर में आयोजन प्रदेश के लिए असाधारण अवसर है। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आगमन होगा। हम सबको इस कार्यक्रम की बेहतर तैयारी करना चाहिए। कार्यक्रम रोचक बनाने की कोशिश करें। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम में मध्यप्रदेश की विशेषताओं पर केन्द्रित प्रस्तुतिकरण जरूर हो। मध्यप्रदेश को यह सुनहरा मौका मिला है। मुख्यमंत्री चौहान आज निवास पर 8 से 10, जनवरी 2023 को इंदौर में होने वाले प्रवासी भारतीय दिवस कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पहले दिन 8 जनवरी को यूथ प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाएगा। अगले दिन 9 जनवरी को 17वीं प्रवासी भारतीय दिवस कन्वेंशन-2023 का शुभारंभ होगा और 10 जनवरी को 17वीं प्रवासी भारतीय दिवस कन्वेंशन का समापन होगा। इसमें राष्ट्रपति की सहभागिता होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सांस्कृतिक कार्यक्रम, इवेंट मैनेजमेंट और डिजिटल एक्जीविशन सहित अन्य व्यवस्थाएँ अच्छे ढंग से पूरी की जाएँ। कार्यक्रम में आने वाले प्रतिनिधियों को बेहतर सुविधाएँ मिलें। प्रदेश की छवि पूरी दुनिया में बनाने के प्रयास हो।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कार्यक्रम में आने वाले प्रतिनिधि प्रदेश की प्रशंसा करते हुए वापस जाएँ। इसके लिए भरपूर प्रयास हों। इसमें किसी भी प्रकार की कोताही नहीं बरती जाए। कार्यक्रम के लिए स्थापित कॉल सेंटर पर बात करने के बाद मध्यप्रदेश आने के लिए लोग लालायित हों। केन्द्र सरकार के निर्देशों का पालन भी सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की विशेषताओं पर केन्द्रित सांस्कृतिक कार्यक्रमों से लोग आनंदित हों। उद्योग प्रदर्शनी बेहतर हो। प्रचार-प्रसार के लिए इंटर नेशनल एयरपोर्ट पर होर्डिंग लगाने और विज्ञापन द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार हो। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इंदौर की साफ-सफाई की चर्चा दुनिया भर में है। उसी के अनुरूप स्वच्छता का भी ध्यान रखा जाए। बताया गया कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 11-12 जनवरी 2023 को होगी। इसमें 9 सेक्टरों पर केन्द्रित 14 सेशन होंगे, जिसमें उद्योगपतियों से सीधा संवाद भी होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इसके लिए आमंत्रण भेजना शुरू कर दिए जाएँ। समिट में 17 देशों को आमंत्रित किया गया है। एमपीआईडीसी के एमडी मनीष सिंह ने तैयारियों की जानकारी दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एमपी स्टार्ट अप इकोस्टिम को तेजी से आगे बढ़ाया जाए। समापन कार्यक्रम में केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण और पीयूष गोयल शामिल होंगे। प्रदेश के उत्पादों की मार्केटिंग में कोई कमी नहीं रहे। कार्यक्रम के पहले वर्चुअल इन्वेटर रोड-शो भी किया जाये। मुख्यमंत्री चौहान 24 नवम्बर को बेंगलुरू में उद्योगपतियों से वन-टू-वन मीटिंग करेंगे। कार्यक्रम में इंटरेक्टिव सेशन होगा, जिसमें मध्यप्रदेश में पूँजी निवेश की संभावनाओं पर चर्चा होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कार्यक्रम की बेहतर तैयारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कहा कि वे अपनी क्षमताओं का पूरा उपयोग कर कार्यक्रम की तैयारियाँ सुनिश्चित करें।  

Kolar News

Kolar News 17 November 2022

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने कहा है कि मध्यप्रदेश में स्व-सहायता समूहों के माध्यम से महिलाओं को आत्म-निर्भर बनाने में अभूतपूर्व कार्य हुआ है। यहाँ लगभग 42 लाख महिलाएँ स्व-सहायता समूहों से जुड़ कर आर्थिक एवं सामाजिक रूप से सशक्त हुई है। इन महिलाओं को सरकार के माध्यम से कृषि एवं गैर कृषि कार्यों के लिए 4 हजार 157 करोड़ रूपये का बैंक ऋण दिलवाया गया है। प्रदेश में 'एक जिला-एक उत्पाद' योजना द्वारा इनके उत्पादों को बड़े बाजारों तक पहुँचाया गया है। आजीविका मार्ट पोर्टल से 535 करोड़ रूपये से अधिक मूल्य के उत्पादों की ब्रिकी हुई है। प्रदेश में लगभग 17 हजार महिलाएँ पंचायत प्रतिनिधि बनी हैं। यहाँ कुछ महिलाओं द्वारा अपनी सफलता के अनुभव सुनाए गये हैं, जो प्रेरणादायक हैं। मध्यप्रदेश में स्व-सहायता समूह ने जन-आंदोलन का रूप ले लिया है। सभी महिलाओं के प्रयास और सरकार के सहयोग से यह संभव हो पाया है। इसके लिये मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मध्यप्रदेश सरकार सहित महिलाएँ सभी बधाई के पात्र है। मैं आज यहाँ आकर अभिभूत और आश्चर्यचकित हूँ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ में वर्ष 2023 को मोटा अनाज वर्ष मनाने की घोषणा की है।   राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि आत्म-निर्भर और विकसित भारत के बनाने में महिला शक्ति की अधिक से अधिक भागीदारी जरूरी है। हमें ऐसा वातावरण तैयार करना है, जिससे सभी वर्ग की बेटियाँ निर्भीक एवं स्वतंत्र महसूस करें और अपनी प्रतिभा का भरपूर उपयोग कर सकें। महिलाओं के नेतृत्व में जहाँ-जहाँ कार्य किये जाते हैं वहाँ सफलता के साथ संवेदनशीलता भी देखने को मिलती है। सभी महिलाएँ एक दूसरे को प्रेरित करें। एकजुट होकर विकास के रास्ते पर आगे बढ़े। राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि देश के विकास में मध्यप्रदेश की महिलाओं का अमूल्य योगदान रहा है। वीरांगना दुर्गाबाई, अहिल्याबाई, अवंतीबाई और कमलाबाई की गौरव गाथा हमारी विरासत है। वर्तमान समय में सुमित्रा महाजन, जनजातीय चित्रकार भूरी बाई,  दुर्गाबाई व्याम और रतलाम की मदर टेरेसा कहीं जाने वाली डॉ. लीला जोशी महत्वपूर्ण नाम है। मुझे इन्हें पद्मश्री सम्मान देने का अवसर मिला। राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि भारत में महिलाओं की श्रेष्ठता को प्राचीन काल से माना जाता रहा है। हमारे यहाँ माता का स्थान पिता और आचार्य से पहले रखा गया है - मातृ देवो भव, पितृ देवो भव, आचार्य देवो भव। ईश्वर से पहले हम माता को देखते हैं। शिक्षा प्राप्त करने के लिये पहले माँ सरस्वती को नमन करते हैं। माता दुर्गा, माता लक्ष्मी और माता काली, सभी श्रेष्ठता की प्रतीक है। राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि आज आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक, वैज्ञानिक, अनुसंधान, कला, संस्कृति, साहित्य, खेल-कूद, सैन्य बल आदि हर क्षेत्र में महिलाएँ प्रमुख भूमिका निभा रही है। कम से कम संसाधनों का अधिक से अधिक उपयोग करना महिलाओं को आता है। जब एक महिला शिक्षित होती है तो पूरा परिवार, पूरा समाज शिक्षित होता है। महिलाओं का विकास ही देश का विकास है। महिलाओं के विकास से ही भारत निकट भविष्य में विकसित देश के रूप में उभरेगा और पुन: विश्व गुरू का स्थान प्राप्त करेगा।   राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी कहा करते थे कि देश मात्र एक मिट्टी का टुकड़ा नहीं बल्कि राष्ट्र पुरूष है। उसकी दो संताने हैं एक बेटा और एक बेटी। यदि एक दुर्बल रह जाएँ तो देश सशक्त नहीं हो सकता। देश की तरक्की के लिये दोनों का शिक्षित और आर्थिक रूप से आत्म-निर्भर होना आवश्यक है। दोनों का सम्मान भी जरूरी है। राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आप लोगों को मेरे जीवन की एक झलक बताई है। मेरे जीवन का यह अनुभव रहा है कि यदि मेहनत, लगन, सच्चाई और सफाई के साथ कार्य किया जाए तो आप निश्चित रूप से आगे बढ़ेंगे और सफल होंगे। मैंने अपने जीवन में यह अपनाया है। मैंने वार्ड मेम्बर के रूप में अपना कार्य शुरू किया तब यह नहीं सोचा था कि मैं राष्ट्रपति बनूंगी। मैने हमेशा अपने कार्य को महत्व दिया। कभी पद के बारे में नहीं सोचा। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि स्व-सहायता समूह के सदस्यों में बचत की आदत विकसित करने के साथ ही समूह के नेतृत्व को स्कूली शिक्षा के प्रसार, महिला बाल पोषण, परिवार-कल्याण और आरोग्य के संबंध में जनजागृति के प्रयासों में जोड़ा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों से संयुक्त राष्ट्र संघ ने वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मोटे अनाज वर्ष के रूप में मनाने की घोषणा की है। इस से प्रदेश के जनजातीय अंचलों में पोषण से भरे कोदो, कुटकी, ज्वार, बाजरा और रागी जैसे मोटे अनाजों के उत्पादन के लिए नई संभावनाएँ निर्मित हुई हैं। उन्होंने महिला स्व-सहायता समूहों से इन अवसर का लाभ उठाने के लिए कहा।   राज्यपाल पटेल ने कहा कि मध्यप्रदेश में सरकार के प्रयासों से महिलाएँ स्व-सहायता समूहों से जुड़ कर कृषि और गैर कृषि आधारित 100 से अधिक प्रकार की आजीविका गतिविधियाँ सफलतापूर्वक कर रही हैं। परिवार के सदस्यों को भी रोज़गार उपलब्ध करा रही हैं। प्रदेश में विगत 2 वर्षों में स्व-सहायता समूहों के अलावा उनके परिवार के एक लाख से अधिक युवाओं को रोजगार उपलब्ध हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सबके साथ, सबके विश्वास के साथ हो रहे विकास के प्रयासों के इस नए दौर में पंचायत भवन से लेकर राष्ट्रपति भवन तक नारी शक्ति का परचम लहरा रहा है। महिला सशक्तिकरण के इस नए युग में महिलाएँ प्रतिरक्षा से लेकर उद्योग, व्यवसाय सभी क्षेत्रों में सफलता से कार्य कर रही है।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु महिला सशक्तिकरण का प्रतीक हैं। उनका व्यक्तित्व गर से गहरा और हिमालय से ऊँचा है। उनका सहज, सरल स्वभाव धैर्य और व्यक्तित्व अनुकरणीय है। उनका जीवन हमें प्रेरणा देता है। वे किसी राजा के नेता के घर नहीं साधारण परिवार में जन्मी हैं। उनको विरासत में कुछ नहीं मिला। साधारण गरीब परिवार में जन्म लेकर वे अपनी मेहनत के बल पर आगे बढ़ी। पार्षद से मंत्री तक का सफर तय किया। मंत्री के रूप में उनके द्वारा महिलाओं और जनजातीय वर्ग के लिए किए गए कार्य सराहे गए। वे अब भारत के राष्ट्रपति के पद को सुशोभित कर रही हैं। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि मेरी यह इच्छा थी कि स्व-सहायता समूह की बहनों को राष्ट्रपति का मार्गदर्शन प्राप्त हो। आज हमें यह सुअवसर मिला । मेरी बहनों की जिंदगी बन जाए तो मेरा मुख्यमंत्री बनना सार्थक होगा। मुख्यमंत्री  ने कहा कि हमारी बहनें अबला नहीं सबला है और अनंत शक्तियों का भंडार हैं। इन्हें जो भी काम दिया गया, उसे उन्होंने पूरी मेहनत के साथ किया है। स्व-सहायता समूहों के साथ जुड़ कर हमारी दीदियों ने महिला सशक्तिकरण की मिसाल पेश की है, चमत्कार किया है। हाल ही में स्थानीय पंचायत एवं नगरीय निकायों के निर्वाचन में 17 हजार दीदियाँ चुनाव जीत कर आयी हैं। स्व-सहायता समूह से जुड़कर महिलाएँ आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त हो रही है। बड़ी संख्या में महिलाएँ लखपति क्लब में शामिल हो रही है, जिनकी आय एक लाख सालाना से अधिक हो गयी है।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में महिला सशक्तिकरण ने जन-आंदोलन का रूप ले लिया है। सरकार उनके सशक्तिकरण के हर संभव प्रयास कर रही है। मध्यप्रदेश में हमने सबसे पहले स्थानीय चुनावों में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण देकर उनका संबल बढ़ाया है। इसी प्रकार पुलिस भर्ती में भी हमने अपनी बेटियों के लिये 30 प्रतिशत और शिक्षक भर्ती में 50 प्रतिशत सीट आरक्षित की है। हमारी बहन-बेटियाँ पुलिस और शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा कार्य कर आत्म-निर्भर भी बनी हैं। बेटियों की सुरक्षा के लिये हमने प्रदेश में सख्त कानून भी बनाये हैं। बहन-बेटियों के साथ दुराचार करने वालों को फाँसी पर चढ़ाने वाला कानून सबसे पहले मध्यप्रदेश ने ही बनाया है। मध्यप्रदेश की लाड़ली लक्ष्मी योजना ने बेटियों के प्रति दृष्टिकोण बदला है। अब प्रदेश में बेटी बोझ नहीं वरदान बन गई है। योजना में हमने बेटी के जन्म से लेकर उसकी उच्च शिक्षा तक के प्रबंध किये हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने स्व-सहायता समूह की महिला दीदियों को बेटा-बेटी में भेदभाव न करने, नशामुक्त गॉव बनाने और अन्याय सहन न करने का संकल्प दिलाया।पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान महिला स्व-सहायता समूह के सशक्तिकरण के लिए विशेष रूप से संवेदनशील और समर्पित हैं। राज्य सरकार एक करोड़ महिलाओं को स्व-सहायता समूह से जोड़ने के लक्ष्य को लेकर कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री चौहान के आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के स्वप्न को पूर्ण करने के लिए स्व-सहायता समूहों की बहनें प्रतिबद्ध है।

Kolar News

Kolar News 16 November 2022

कृषि मंत्री कमल पटेल ने राहुल गांधी को आड़े हाथों लेते हुए कान पकड़कर माफ़ी मांगने को कहा। कमल पटेल ने कहा इन लोगो ने जनता से झूठे वादे किये हैं।  2018 के विधानसभा चुनाव में कसम खा- खा कर वचन दिया था। लेकिन राहुल और उनकी मंडली  ने अपने वचन नहीं निभाए इसलिए अब जनता इन्हे सबक सिखाएगी। राहुल गांधी और उनकी यात्रा पर निशाना साधते हुए कृषि मंत्री कमल पटेल ने अपनी जबलपुर यात्रा के दौरान कहा की राहुल गांधी अपनी इमेज मेकिंग के लिए यात्रा कर रहे हैं। लेकिन राहुल गांधी, उनकी कांग्रेस पार्टी और कमलनाथ मध्य प्रदेश में एक्सपोज हो चुके हैं। जनता उनके बहकावे में नहीं आने वाली। 2018 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने कसम खा- खा- कर वचन दिया था कि "रघुकुल रीत सदा चली आई प्राण जाई पर वचन न जाई" लेकिन इसके उलट राहुल गांधी और उनकी मंडली ने कोई वचन नहीं निभाए। उन्होंने प्रदेश के किसानों को धोखा दिया है। मंत्री पटेल ने एक से दस तक चुटकी बजाते हुए कहा कि दस हो गया बस। पटेल ने ये भी कहा कि राहुल गांधी ने कहा था कि 10 दिन में किसानों का कर्जा माफ नहीं हुआ तो  हम मुख्यमंत्री चेंज कर देंगे।  लेकिन न तो कर्जा माफ हुआ और न ही मुख्यमंत्री बदला गया। राहुल गांधी और उनकी पूरी पार्टी झूठे लोगों  की पार्टी है। और अपने इस झूठ के लिए राहुल गांधी कान पकड़कर माफी मांगे। और कहें कि हमने आप सब को धोखा दिया है। लेकिन जनता बड़ी समझदार है माफ नहीं करेगी। 

Kolar News

Kolar News 16 November 2022

केंद्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास, पर्यटन, संस्कृति मंत्री जी कृष्ण रेड्डी से मध्यप्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने नई दिल्ली में भेंट की। राज्य मंत्री कुशवाह ने केंद्रीय मंत्री रेड्डी को ग्वालियर जिला के बेहट और उसके आस-पास के क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने का प्रस्ताव दिया। राज्य मंत्री कुशवाह ने केंद्रीय मंत्री रेड्डी को बेहट जिला ग्वालियर में पर्यटन के अवसरों को बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय एजेंसियों की सहायता से बुनियादी ढाँचा विकास के लिए "एम.ओ.टी." को मध्यप्रदेश पर्यटन एवं संस्कृति विभाग द्वारा भेजे गए पत्र की प्रति भी सौंपी। राज्य मंत्री कुशवाह ने कहा कि बेहट संगीत सम्राट तानसेन की जन्म-स्थली है। इसके अतिरिक्त बेहट और आस-पास के क्षेत्र को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने की डी. पी.आर. में पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण प्राचीन और दर्शनीय भदावना, काशीबाबा एवं देवगढ़ के किले को भी शामिल किया गया है।  

Kolar News

Kolar News 16 November 2022

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि राहुल गांधी की लोकप्रियता अब कन्हैया कुमार तक आ गई है,यह बात एकदम सही है। वैसे भी राहुल गाँधी सबसे पहले जेएनयू  में टुकड़े टुकड़े गैंग के सरगना कन्हैया से ही मिलने गए थे। और यह यात्रा भी कन्हैया कुमार की ब्रांडिंग के लिए रखी गई है। और यात्रा का नाम रखा है भारत जोड़ो यात्रा। इस यात्रा का उद्देश्य फलीभूत होता दिख रहा है। उन्होंने दिल्ली में हुई युवती श्रद्धा की हत्या पर कहा कि हत्या की यह घटना बोहत पीड़ादायी है। लेकिन उस पर भी कांग्रेस के आला नेताओं के मुंह से एक शब्द नहीं फूटा। इतने  विचलित कर देने वाले  प्रसंग पर भी किसी ने कुछ नहीं बोला। यह कांग्रेसियों की मानसिकता का परिचायक हैं। उन्होंने यह भी कहा कि धार्मिक स्थानों को राजनीति का अखाड़ा नहीं बनाना चाहिए। कानून व्यवस्था को बिगाड़ने का काम कांग्रेसी खुद ही कर रहे हैं। गुजरात में चुनाव के विषय में उन्होंने कहा गुजरात में हमको बहुमत मिलने वाला है। राहुल गांधी यदि गुजरात जाते हैं। तो हमें दो तिहाई बहुमत मिलेगा।    गृहमंत्री मिश्रा ने दुष्कर्म के मामलों पर कहा कि मध्य प्रदेश में दुष्कर्मियों को फांसी देने का कानून बनाया है। अब तक 38 मामलों में सजा हो चुकी है। धर्मान्तरण मामले में उन्होंने कहा। रायसेन और दमोह दोनों ही जगहों के धर्मांतरण की शिकायत मिली है। दोनों मामलों की जांच की जा रही हैं।  मिश्रा ने कमलनाथ पर तंज कस्ते हुए कहा कि विधायकों से मिलने की शुरुआत कमलनाथ ने की थी।  जब जब कमलनाथ बोलते हैं ,तब तब कांग्रेस टूट जाती है। पेसा एक्ट पर नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविन्द सिंह के बिच्छू वाले बयान पर उन्होंने कहा कि ,वह उन लोगों के लिए कहा है जिनसे वे घिरे हुए हैं। मिश्रा ने  कहा हमने 6 हजार आरक्षकों की भर्ती कर ली है। जल्द ही 7 हजार 500 आरक्षक और भर्ती किए जाएंगे।  

Kolar News

Kolar News 15 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में किसी भी जिले में खाद की कोई समस्या नहीं है। प्रत्येक जिले में पर्याप्त आपूर्ति की गई है। किसानों को कहीं लाइन नहीं लगानी पड़ रही है। किसानों द्वारा सुचारू रूप से खाद वितरण के लिए सरकार के प्रति धन्यवाद भी व्यक्त किया जा रहा है। मुख्यमंत्री चौहान निवास कार्यालय में बैठक कर प्रदेश में खाद वितरण संबंधी जानकारी अधिकारियों से प्राप्त कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश में उर्वरक व्यवस्था की समीक्षा भी की। अपर मुख्य सचिव कृषि अशोक वर्णवाल ने बताया कि प्रदेश में पर्याप्त खाद और उर्वरक उपलब्ध है। आज की स्थिति में यूरिया 2.54 लाख मीट्रिक टन ट्रांजिट सहित, डीएपी 1.55 लाख मीट्रिक टन ट्रांजिट सहित और एनपीके 0.56 लाख मीट्रिक टन उपलब्ध है। यदि प्रतिशत के मान से देखें तो नवम्बर माह के कोटा में से डीएपी 77 प्रतिशत और यूरिया 57 प्रतिशत उपलब्ध है। केन्द्र सरकार से उर्वरकों का निरंतर आवंटन हुआ है। रेक निरंतर आ रही हैं। किसी भी स्थान पर समस्या नहीं है। विपणन संघ के 240 डबल लॉक केंद्रों से नगद वितरण हो रहा है। भीड़ वाले डबल लॉक केंद्रों पर 150 अतिरिक्त केंद्र मंजूर हुए हैं। निजी उर्वरक विक्रता भी डबल लॉक केंद्रों पर काउंटर स्थापित कर कार्य कर रहे हैं। प्रदेश में ऐसे 406 काउंटर हो गए हैं। वितरण केंद्रों पर किसानों के लिए टेंट और पेयजल संबंधी जरूरी व्यवस्थाएँ की गई हैं। बैठक में संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।किसानों को खाद प्राप्त करने के लिए लाइन न लगानी पड़े, यह सुनिश्चित करें। उपलब्धता है तो वितरण में कमियाँ नहीं होना चाहिए। संबंधित एजेंसियाँ सजग और सक्रिय रहें। अधिकारी निरंतर भ्रमण कर व्यवस्थाएँ देखें। किसानों को आवश्यक सहूलियतें मिलती रहें। गड़बड़ी करने वालों के विरूद्ध कलेक्टर्स सख्त कदम उठाएँ। यह सभी मुख्यमंत्री के प्रमुख निर्देश थे।   

Kolar News

Kolar News 15 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आज शाम निवास पर यूएस के कॉन्सुलेट जनरल (महा वाणिज्य दूत) मिचेल हेंकी ने सौजन्य भेंट की। मुख्यमंत्री चौहान ने हेंकी को जनवरी में हो रही ग्लोबल इंवेस्टर समिट के लिए भी आमंत्रित किया। हेंकी ने कहा कि भोपाल के कुदरती सौन्दर्य ने उन्हें प्रभावित किया है। मुख्यमंत्री चौहान ने हेंकी का प्रदेश की जनता की ओर से स्वागत करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश, देश का हृदय प्रदेश है। प्रधानमंत्री मोदी के आहवान पर स्वच्छता के क्षेत्र में मध्यप्रदेश देश में सबसे आगे है। नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में रीवा जिले में स्थापित "रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर पावर प्रोजेक्ट" एक प्रमुख परियोजना है जिसकी लागत 4 हजार 500 करोड़ रूपए और क्षमता 750 मेगावाट है। ओंकारेश्वर में सौर ऊर्जा से संचालित फ्लोटिंग संयंत्र की स्थापना की पहल की गई है। भविष्य में बरगी और गांधी सागर जलाशय पर भी ऐसे संयंत्र लगाने का विचार है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारत और यूएस के मध्य विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने की व्यापक संभावनाएँ हैं। द्विपक्षीय व्यापार और निवेश की प्राथमिकताओं पर कार्य के लिए यह बैठक महत्वपूर्ण है। गत तीन वर्ष में मध्यप्रदेश से यूएस में होने वाले निर्यात में वृद्धि हुई है। वर्ष 2019-20 में 1.05 बिलियन यूएस डालर का निर्यात हुआ, वहीं यह आंकड़ा वर्ष 2020-21 में बढ़ कर 1.28 और वर्ष 2021-22 में बढ़ कर 1.43 बिलियन यूएस डालर हो गया है। मुख्य रूप से जो उत्पाद मध्यप्रदेश से यूएस निर्यात होते हैं उनमें बासमती चावल, दवाइयाँ, सूती वस्त्र, खाद्य तेल आदि शामिल हैं।       मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि निवेश के रूप में मध्यप्रदेश की केंद्रीय और आदर्श भूमिका है। देश के करीब 60 प्रतिशत भू-भाग को मध्यप्रदेश से आसानी से कवर किया जा सकता है। राज्य सरकार द्वारा निवेशकों से नियमित संवाद होता है। यू.एस. एवं मध्यप्रदेश की उन्नत विनिर्माण, रिन्यूएबल एनर्जी, मशीनरी इक्विपमेंट्स, ऑटोमोबाइल, फार्मा और चिकित्सा उपकरण क्षेत्रों में साझेदारी है। इसे यू.एस. एवं मध्यप्रदेश की सरकारी संस्था एमपीआईडीसी और यूएसटीडीए के मध्य एमओयू कर और आगे ले जाया जा सकता है। प्रदेश में कृषि विकास, उद्यानिकी और खाद्य प्र-संस्करण के क्षेत्र में बहुत अच्छा आधार स्थापित है। मध्यप्रदेश, भारत में गेहूँ का सबसे बड़ा निर्यातक राज्य है। इस क्षेत्र में भी यूएस के साथ साझेदारी कर टेक्नोलॉजी ट्रांसफर कर निवेश की संभावनाएँ तलाशी जा रही हैं। कौशल विकास एवं प्रशिक्षण, नवाचार और अनुसंधान एवं विकास के क्षेत्र में सेंटर ऑफ एक्सीलेन्सेस, इन्क्यूबेशन सेंटर और कॉमन फेसिलिटी सेंटर को यूएस कंपनियों के साथ साझेदारी कर स्थापित करने के प्रयास हैं। प्रदेश में स्मार्ट सिटी विकास में साझेदारी एवं नवाचार के नवीन अवसर खोजने का कार्य भी प्राथमिकता में शामिल है। मध्यप्रदेश इन्फ्रा-स्ट्रक्चर (सड़क), वित्तीय और नवकरणीय क्षेत्रों में अधिक निवेश के लिए प्रयासरत है। प्रदेश में चयनित ओडीओपी उत्पादों को अमेरिका में विपणन के अवसर प्रदान करने की संभावनाएँ विद्यमान हैं। “स्टार्ट योर बिजनेस इन थर्टी डेज” की व्यवस्था का लाभ उद्यमियों को मिल रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कानून-व्यवस्था की मजबूत स्थिति से उद्योगों के अनुकूल वातावरण है। आपराधिक तत्वों को सिर उठाने नहीं दिया जाता। मानवता को क्षति पहुँचाने वाले तत्वों को क्रश कर देने का संकल्प है। महिला सशक्तिकरण के प्रयासों, कचरे से ऊर्जा उत्पादन का कार्य कर वेस्ट टू वेल्थ में मध्यप्रदेश आगे है। ग्रीन एनर्जी और फार्मा सेक्टर का निरंतर विकास हो रहा है। चर्चा के दौरान औद्योगिक नीति और निवेश प्रोत्साहन विभाग के प्रमुख सचिव मनीष सिंह भी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 15 November 2022

चेतन्य काश्यप फाउंडेशन द्वारा रविवार को बरबड़ स्थित विधायक सभागृह रतलाम में आयोजित प्रतिभा सम्मान समारोह में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने रिस्ट वाच एवं प्रतीक चिन्ह से बच्चों को सम्मानित किया। मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि दुनिया में सबसे तेज गति से कोई चीज चलती है, तो वह समय है। समय की महत्ता को सब समझें और खूब पढ़ें। चेतन्य काश्यप फाउंडेशन ने समय का महत्व बताने के लिए ही प्रतिभाओं को उपहार स्वरूप घड़ी दी है। यह प्रतिभाएँ देश का भविष्य हैं। इनके भविष्य को संवारने का काम कोई कर रहा है, तो वह देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और रतलाम में चेतन्य काश्यप।मंत्री सिंह ने कहा कि  चेतन्य काश्यप ने सेवा प्रकल्प के माध्यम से खेल, शिक्षा और कुपोषण सहित आवास के कई काम किए हैं।   फाउंडेशन अध्यक्ष और विधायक चेतन्य काश्यप ने कहा कि प्रतिभा सम्मान शब्द नगर की भूमिका बताता है। बच्चों के उत्साह वर्धन के लिए 2014 से यह आयोजन शुरू किया। पहले वर्ष 1700 बच्चे सम्मानित हुए थे, लेकिन इस वर्ष यह संख्या 2100 हो गई है। प्रतिवर्ष संख्या बढ़ना बताता है कि हमारे नगर में शिक्षा के प्रति जागरूकता आई है। सांसद गुमान सिंह डामोर ने इस मौके पर कहा कि चेतन्य काश्यप की दृष्टि अद्भूत है। इन्ही के प्रयासों से मेडिकल कॉलेज जल्द बना और कोरोना में उसने अपनी उपयोगिता सिद्ध की। कोविड में फाउंडेशन के माध्यम से ऑक्सीजन प्लांट की सौगात दी। सेवा के यह कार्य सिर्फ रतलाम ही नहीं बल्कि जिले सहित अन्य जिलों में भी किए गए है। ग्रामीण विधायक दिलीप मकवाना ने कहा कि  चेतन्य काश्यप रतलाम को हमेशा नंबर एक बनाने का प्रयास करते हैं।   महापौर प्रहलाद पटेल ने बच्चों से कहा कि आप रतलाम की प्रतिभा और रतलाम का भविष्य हैं। विधायक काश्यप रतलाम की प्रतिभाओं को प्रोत्साहन दे रहे हैं। इनके द्वारा कई सालों पूर्व अंहिसा ग्राम की स्थापना की गई थी। ऐसे गरीब लोग जिनके पास रहने की कोई व्यवस्था नहीं है, उनके लिए आवास की व्यवस्था की और वहीं पर रोजगार देने की योजना भी बनाई है। कार्यक्रम को निगम अध्यक्ष मनीषा शर्मा, पूर्व महापौर शैलेंद्र डागा ने भी संबोधित किया। सम्मान समारोह में दसवीं एवं बारहवीं बोर्ड परीक्षा में 75 प्रतिशत और उससे अधिक अंक लाने वाले दो हजार से अधिक मेधावी विद्यार्थियों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम के दौरान 93 प्रतिशत से अधिक अंक वाले 82 बच्चे मंचासीन रहे।  

Kolar News

Kolar News 14 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज शहडोल के लालपुर गाँव पहुँच कर राज्य-स्तरीय जनजातीय गौरव दिवस की तैयारियों का जायजा लिया और अधिकारियों के साथ समीक्षा की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि जनजातीय गौरव दिवस पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू मध्यप्रदेश आ रही है। राष्ट्रपति बनने के बाद उनकी यह पहली मध्यप्रदेश की यात्रा है। हम उनका शहडोल में भव्य स्वागत करें और कार्यक्रम को ऐतिहासिक, अभूतपूर्व एवं गरिमामयी स्वरूप प्रदान करें। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 15 नवम्बर भगवान बिरसा मुंडा के जन्म-दिवस पर जनजातीय परंपराओं एवं संस्कृति पर आधारित लोक नृत्यों एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम सुनिश्चित किये जायेंगे। राष्ट्रपति का जनजातीय परंपराओं के अनुसार भव्य और गरिमामय स्वागत की तैयारियाँ भी सुनिश्चित की जाये। कमिश्नर शहडोल संभाग राजीव शर्मा ने सभा स्थल की तैयारियों, बैठक, पार्किंग, पेयजल, परिवहन एवं भोजन व्यवस्था की तैयारियों की जानकारी दी। मुख्यमंत्री  चैहान ने कहा कि यह हर्ष का विषय है कि 15 नवम्बर को भगवान बिरसा मुंडा के जन्म-दिवस पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की उपस्थिति में मध्यप्रदेश में सामाजिक समरसता लाने के उददेश्य से पेसा एक्ट लागू होगा। मुख्यमंत्री चौहान शहडोल जिले के लालपुर में राज्य स्तरीय जनजातीय गौरव उत्सव की तैयारियों पर पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सभी मिलकर सामाजिक समरसता का परिचय देते हुए महामहिम राष्ट्रपति का ऐसा ऐतिहासिक और गौरवपूर्ण स्वागत करें, जो उन्हें हमेशा स्मरण रहें। मुख्यमंत्री ने मीडियाकर्मियों से भी इस कार्यक्रम में सहर्ष सहभागिता की अपील की।  

Kolar News

Kolar News 14 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि यह मध्यप्रदेश के लिये गौरव की बात है कि राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू के मुख्य आतिथ्य में शहडोल में 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस का राज्य स्तरीय कार्यक्रम होगा। इसी दिन मध्यप्रदेश में जनजातीय समुदाय के हित में पेसा एक्ट भी अधिकारिक रूप से लागू किया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सामाजिक समरसता के साथ प्रदेश का विकास सरकार की प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री चौहान आज शहडोल के लालपुर ग्राम में जनजातीय गौरव दिवस की तैयारियों की समीक्षा के बाद उमरिया जिले के गुरूवाही में पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने यहाँ मौजूद बच्चों से चर्चा भी की। गुरूवाही से बाँधवगढ़ जाते समय मुख्यमंत्री से कस्तूरबा गांधी छात्रावास की छात्राओं ने मुलाकात की और उनका आत्मीय स्वागत किया। मुख्यमंत्री ने अपनी भांजी छात्राओं को आशीर्वाद दिया और उनकी शिक्षा के संबंध में जानकारी ली।  

Kolar News

Kolar News 14 November 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हम सब मिल कर यह चुनौती स्वीकार करें कि आगामी एक साल में प्रदेश में कोई बच्चा कम वजन का नहीं रहेगा। प्रत्येक आँगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका अपने क्षेत्र के हर बच्चे और महिला को पर्याप्त पोषण उपलब्ध कराने को केवल शासकीय कार्य नहीं अपितु अपना व्यक्तिगत कर्त्तव्य मानें। महिला-बाल विकास मात्र विभाग नहीं, मेरा अपना परिवार है। महिलाओं - बच्चों के सर्वांगीण विकास और सामाजिक, आर्थिक, स्वास्थ्य एवं पोषण की स्थिति में सुधार तथा महिला सशक्तिकरण के लिए कार्य कर रहे इस विभाग के मैदानी अमले की मेहनत और विभागीय अधिकारी-कर्मचारियों की सजगता एवं जागरूकता की समाज और प्रदेश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका है। आज का यह कार्यक्रम, प्रदेश की जनता की ओर से विभाग की सेवाओं का सम्मान तथा प्रतिबद्ध कार्यकर्ताओं और कर्मचारियों को पुरस्कृत करने का कार्यक्रम है। राज्य शासन द्वारा प्रतिवर्ष आँगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका और पर्यवेक्षकों को सम्मानित किया जाएगा। साथ ही प्रतिवर्ष जिला स्तर पर भी श्रेष्ठ कार्य के लिए सम्मानित किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान महिला-बाल विकास के मैदानी अमले के मार्गदर्शन, प्रोत्साहन एवं उत्प्रेरणा कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।       मुख्यमंत्री ने कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में कार्यक्रम का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ किया। बाल भवन के बच्चों द्वारा मध्यप्रदेश गान की प्रस्तुति दी गई, जिसके सम्मान में सभी खड़े हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उत्कृष्ट कार्य करने वाली आँगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, पर्यवेक्षक और अधिकारियों को पुरस्कार वितरित किए। कार्यक्रम से प्रदेश के सभी जिला कार्यालय वर्चुअली जुड़े तथा विभागीय अधिकारी-कर्मचारियों ने भी वर्चुअल सहभागिता की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि माँ-बहन और बेटी को उनका अधिकार दिलाना मेरे जीवन का उद्देश्य है। प्रदेश में लिंगानुपात बराबर करने के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ। बेटे की चाह ने बेटियों के साथ बहुत अन्याय किया है। हमारी सरकार बेटियों को बोझ समझने के सब कारणों को समाप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है। वर्ष 2011 की जनगणना के समय प्रदेश का शिशु लिंगानुपात 919 था। एनएचएफएस-5 के अनुसार जन्म के समय लिंग अनुपात 927 से बढ़ कर 956 हो गया। महिला-बाल विकास योजनाओं के क्रियान्वयन में समाज का हरसंभव सहयोग लिया जाएगा। अडाप्ट एन आँगनवाड़ी में जन-सहभागिता को प्रोत्साहित किया जा रहा है। समाज भी आँगनवाड़ियों के लिए अधिक से अधिक सहयोग करने के लिए तत्पर है। भोपाल में आँगनवाड़ियों के लिए लोगों ने भरपूर सामग्री दी और इन्दौर से आर्थिक रूप से हरसंभव सहयोग मिला है।       मुख्यमंत्री चौहान ने लाड़ली लक्ष्मी योजना-2 के प्रावधानों की जानकारी देते हुए कहा कि इंजीनियरिंग, मेडिकल, क्लैट की पढ़ाई तथा अन्य उच्च शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश लेने वाली लाड़ली लक्ष्मी बेटियों की फीस राज्य शासन द्वारा भरवाई जाएगी। बेटियों को जीवन में आगे बढ़ने के लिए हरसंभव सहायता और अवसर उपलब्ध होंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश पहला राज्य है जहाँ नगरीय निकायों और पंचायत राज संस्थाओं में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया। इसी का परिणाम है कि अब, घर की दहलीज पार नहीं करने वाली महिलाओं के आधार पर परिवार के पुरूषों को पहचान मिल रही है। उन्हें सरपंच पति, पार्षद पति के रूप में जाना जा रहा है। महिला पुलिस के रूप में कानून-व्यवस्था संभालती बहन-बेटियों को देख कर मन प्रसन्नता से भर जाता है और लगता है कि महिला सशक्तिकरण का भाव वास्तविक स्वरूप में क्रियान्वित हो रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बहन-बेटियों को सुरक्षित वातावरण देने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। कई प्रकरणों में प्रदेश में बेटियों को गलत नजर से देखने वालों को फाँसी की सजा सुनाई गई है। दुराचारी किसी भी स्थिति में बख्शे नहीं जाएंगे।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोविड जैसी महामारी के दौरान प्रदेश में बच्चों की जिम्मेदारी राज्य सरकार ने ली। जिन बच्चों ने अपने माता-पिता को खोया उनके लिए मुख्यमंत्री कोविड सहायता योजना लागू करने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य था। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि महिला-बाल विकास बहुत संवेदनशील विभाग है। आँगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएँ, बहनों की प्रसव पूर्व जाँच कराने में मदद और उन्हें सभी टीके लगवाने के लिए प्रेरित कर जीवन सहजने का महत्वपूर्ण कार्य कर रही हैं। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य और पोषण के लिए 16 हजार रूपये की व्यवस्था की गई है। हमें विभागीय गतिविधियों में गड़बड़ियों की संभावनाओं को निर्मूल करने की ओर आगे बढ़ना है। यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी गतिविधियों की मॉनिटरिंग व्यवस्थित और सजग रूप से हो। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं से मिलने, उनसे बातचीत करने और उनसे सुझाव लेने के लिए हर 3-4 माह में कार्यक्रम किए जाएंगे। साथ ही विभागीय गतिविधियों के बारे में सुझाव आमंत्रित कर व्यवस्था में सुधार की दृष्टि से उनका क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाएगा। संचालक, महिला-बाल विकास डॉ. रामराव भोंसले ने बताया कि प्रदेश में 92 हजार 153 आँगनवाड़ी तथा 453 परियोजनाएँ संचालित हैं। विभाग में कार्यरत 1 लाख 90 हजार से अधिक अधिकारी-कर्मचारी इस कार्यक्रम से वेबकास्ट एवं अन्य वर्चुअल माध्यमों से जुड़े हैं।   

Kolar News

Kolar News 13 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भगवान बिरसा मुंडा देश के जनजातीय समाज के गौरव हैं। उन्होंने अपने अधिकारों के लिए संघर्ष और अपने जीवन में बदलाव लाने के लिए स्वयं प्रयास करने की प्रेरणा समाज बन्धुओं को दी। राज्य सरकार भगवान बिरसा मुंडा के दिखाए मार्ग पर चलते हुए जनजातीय समाज के विकास, कल्याण और युवाओं को आत्म-निर्भर बनाने के लिए शिक्षा, उद्यमिता सहित विभिन्न क्षेत्रों में गतिविधियाँ संचालित कर रही हैं। इसी के अंतर्गत प्रदेश में 15 नवम्बर से पेसा एक्ट का क्रियान्वयन आरंभ हो रहा है। मुख्यमंत्री चौहान 15 नवम्बर को भगवान बिरसा मुंडा की जयंती पर होने जा रहे जनजातीय गौरव दिवस मनाने के संबंध में मुख्यमंत्री निवास में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। जनजातीय बहुल विकासखंडों के साथ ही राज्य स्तरीय कार्यक्रम शहडोल में होने जा रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने आज प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए जन-प्रतिनिधि, स्वयंसेवी संगठनों के कार्यकर्ता, जनजातीय समुदायों के मुखिया, परम्परागत तड़वी, पटेल और अन्य प्रतिनिधियों से चर्चा की। मुख्यमंत्री चौहान ने आमंत्रित प्रतिनिधियों से जनजातीय गौरव दिवस संबंधी चर्चा करते हुए उन्हें विभिन्न शासकीय योजनाओं और कल्याणकारी कार्यक्रमों की जानकारी दी। 

Kolar News

Kolar News 13 November 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा है कि केन्द्र और राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ नागरिकों को मिल रहा है। उन्होंने बैतूल जिले के आमला में नव-निर्मित सामुदायिक चिकित्सा भवन और महाविद्यालय भवन के 6 कक्षों के लोकार्पण कार्यक्रम में यह बात कही। आमला में 9 करोड़ 13 लाख रूपये की लागत से सामुदायिक चिकित्सा भवन और महाविद्यालय के नवीन कक्षों का निर्माण किया गया है। सांसद डी.डी. उइके, विधायक डॉ. योगेश पंडाग्रे, जिला पंचायत अध्यक्ष राजा पंवार और अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि आमला को 5 करोड़ 60 लाख रूपये की लागत से नव-निर्मित 60 बिस्तरीय चिकित्सालय भवन की सुविधा मिली है। उन्होंने कहा कि सरकार सभी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराने के लिये कृत-संकल्पित है। मंत्री पटेल ने कहा कि आयुष्मान भारत निरामयम योजना से 5 लाख रूपये तक की नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा कार्डधारकों को दी जा रही है। उन्होंने पात्र नागरिकों के आयुष्मान कार्ड बनाने के निर्देश भी दिये। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि आमला में डॉ. भीमराव अम्बेडकर शासकीय महाविद्यालय भवन में 3 करोड़ 53 लाख रूपये की लागत से निर्मित किये गये 6 अतिरिक्त कक्षों का लाभ विद्यार्थियों को मिलेगा। सरकार की नई शिक्षा नीति से स्वाभिमानी, पुरूषार्थी, चरित्रवान और देशभक्त पीढ़ी को तैयार करने में सहायता मिलेगी। उन्होंने विद्यार्थियों से अपेक्षा की कि वे शिक्षित होकर गौरवशाली राष्ट्र के निर्माण में अपनी सार्थक भूमिका निभाएँ। महाविद्यालय भवन में अतिरिक्त कक्ष उपलब्ध होने से विद्यार्थियों को बेहतर वातावरण के साथ ही गुणवत्तापूर्ण अध्ययन की सुविधा मिलेगी।

Kolar News

Kolar News 13 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस के आयोजन की तैयारियों की जानकारी प्राप्त की। राज्य स्तरीय कार्यक्रम शहडोल में होगा। दोपहर दो बजे से कार्यक्रम होंगे। इसके पहले दोपहर एक से दो बजे तक 89 जनजातीय बहुल विकासखंडों के कार्यक्रम होंगे। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में भगवान बिरसा मुंडा के जन्म-दिवस पर जनजातीय गौरव दिवस के कार्यक्रम भव्य रूप में हो रहे हैं। गत वर्ष 15 नवम्बर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भोपाल आकर जम्बूरी मैदान पर जनजातीय गौरव दिवस को संबोधित किया था। इस वर्ष प्रदेश में उत्साह और गरिमामय कार्यक्रम से जनजातीय समाज के लोगों की उपस्थिति में कार्यक्रमों की रचना की गई है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जनजातीय गौरव दिवस का यह क्रांतिकारी कार्यक्रम होगा। यह कार्यक्रम आनंद के प्रकटीकरण का रहेगा। प्रदेश में जनजातीय वर्ग के लोगों को बताया जाएगा कि पेसा एक्ट क्या है, इसके क्या लाभ हैं। जनजातीय योजनाओं के लाभ बताते हुए प्रदेश में जनजातीय वर्ग के सशक्तिकरण के प्रयासों की विस्तृत जानकारी दी जाएगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शहडोल सहित अन्य स्थानों पर जनजातीय गौरव दिवस के कार्यक्रम के लिए आवश्यक व्यवस्थाएँ पूर्ण की जाएँ। गत वर्ष जनजातीय गौरव दिवस पर जनजातीय कल्याण के लिए की गई घोषणाओं में से अधिकांश पूर्ण हो गई हैं। प्रदेश में जनजातीय कल्याण और पेसा कानून के माध्यम से समरसता के साथ विकास के कार्यों को अमल में लाने का संकल्प राज्य सरकार का है। मुख्यमंत्री चौहान ने वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से कलेक्टर्स को संबोधित भी किया। मुख्यमंत्री चौहान ने राज्य के 89 विकासखंड के कार्यक्रम की व्यवस्थाएँ सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। जनजातीय कार्य मंत्री मीना सिंह, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस के साथ विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। शहडोल में आयोजित हो रहे राज्य स्तरीय कार्यक्रम के अनेक महत्वपूर्ण आयाम रहेंगे। जनजातीय विकास की गाथा बताने वाली प्रदर्शिनी लगाई जाएगी। अनेक जनजातीय लोक नृत्य होंगे। एकलव्य घंसौर के विद्यार्थी बैगा नृत्य प्रस्तुत करेंगे। पुलिस बैंड द्वारा संगीतमय प्रस्तुति दी जाएगी। संपूर्ण स्वास्थ्य कार्यक्रम के शुभारंभ और जेईई, नेट और क्लेट के सफल विद्यार्थियों का सम्मान भी होगा। भगवान बिरसा मुंडा स्व-रोजगार और टंट्या मामा आर्थिक कल्याण योजना के हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र दिए जाएंगे। केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते सहित अनेक जन-प्रतिनिधि कार्यक्रम में उपस्थित रहेंगे।  

Kolar News

Kolar News 12 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसानों को सहज ढंग से बिना परेशानी के खाद मिले, उन्हें लाइन न लगानी पड़े, यह सुनिश्चित करें। उर्वरक की उपलब्धता है, वितरण व्यवस्था की जहाँ कमी है, उसे दूर किया जाये। सभी कलेक्टर्स व्यवस्था करें कि किसानों को उर्वरक लेने के लिये लाइन न लगाना पड़े। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में खाद की कमी नहीं है। केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख एल मंडाविया से पूर्ण सहयोग मिला है। मुख्यमंत्री चौहान ने आज सुल्तानपुर से लौटने के बाद रात्रि में निवास से वीसी द्वारा उर्वरक वितरण समस्या वाले कुछ जिलों के कलेक्टर्स से चर्चा की। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने सतना, राजगढ़, सागर, और नीमच जिलों के कलेक्टर्स से खाद की उपलब्धता, वितरण केंद्र संख्या और वितरण व्यवस्था के संबंध में बातचीत कर निर्देश दिए। कटनी कलेक्टर ने बताया कि बैंकर्स सहयोग कर रहे। शाम 4 की जगह शाम 5:30 बजे तक वितरण का प्रबंध किया गया है। किसानों से प्राप्त राशि के संबंध में बैंक देर शाम तक वित्तीय व्यवहार कर रहे। मुख्यमंत्री ने यह व्यवस्था अन्य जिलों में भी करने के निर्देश दिए। अपर मुख्य सचिव सहकारिता के.सी. गुप्ता दमोह से वीसी में शामिल हुए। उन्होंने सागर, छतरपुर और दमोह जिलों में उर्वरक वितरण की व्यवस्थाएँ दौरा कर देखी हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश। कहीं भी ब्लैक न हो खाद। किसान को कहीं जबरन खाद न दें। कलेक्टर्स भ्रमण करते रहें। किसी भी जिले में किसानों को लाइन न लगानी पड़े। जिलों में खाद वितरण सुचारू रहे, जहाँ आवश्यक हो विकेंद्रीकरण किया जाए।    किसानों को अधिक दूरी से खाद लेने न आना पड़े। प्रदेश में उर्वरक की व्यवस्था केन्द्र सरकार द्वारा माह नवम्बर 2022 के लिए यूरिया का आवंटन 7 लाख मीट्रिक टन (285 लाख मेटन स्वदेशी एवं 4.15 लाख मीट्रिक टन आयातित) एवं डीएपी का आवंटन 1.94 लाख मीट्रिक टन (0.20 लाख मीट्रिक टन स्वदेशी एवं 1.74 लाख मेट आयातित) दिया गया है। माह नवम्बर, 2022 के लिए 4.15 लाख मीट्रिक टन आयातित यूरिया का आवंटन दिया गया है। 11 नवम्बर की स्थिति में यूरिया 1.89 लाख मीट्रिक टन ट्रांजिट सहित, डीएपी 1.33 लाख मीट्रिक टन ट्रांजिट सहित एवं एनपीके ट्रांजिट सहित 52 हजार मीट्रिक टन प्राप्त है। 11 नवम्बर की स्थिति में यूरिया का स्टॉक 2.25 लाख मीट्रिक टन है। डीएपी का स्टॉक 1.45 लाख मीट्रिक टन एवं एनपीके का स्टॉक 1.11 लाख मीट्रिक टन है। विगत वर्ष 1 अप्रैल, 2021 से 30 नवम्बर, 2021 तक विक्रय मात्रा के अनुसार 11 नवम्बर, 2022 तक यूरिया 13 जिलों (नर्मदापुरम कटनी, छतरपुर, रायसेन, सतना, जबलपुर, इंदोर, बेतूल, श्योपुर, रतलाम, नीमच, झाबुआ, अलिराजपुर) में, डीएपी 6 जिलों (बालाघाट, हरदा, टीकमगढ़, दमोह, निवाडी, अनुपपुर) में, एनपीके 17 जिलों (विदिशा, उज्जैन, नर्मदापुरम, सीहोर, सागर, भोपाल, खरगोन, नीमच, सिवनी, खण्डवा, शाजापुर, ग्वालियर दतिया देवास, आगरमालवा, बैतूल, इंदोर) में, डीएपी, एनपीके 04 जिलों (नर्मदापुरम, हरदा, शाजापुर, निवाडी) में भण्डारण कम है, जिनकी शीघ्र पूर्ति की जा रही है।   विपणन संघ द्वारा माह नवम्बर के लिए 175 यूरिया की रेक एवं 78 रेक डीएपी की मांग की गई है, जिसके विरूद्ध 1 नवम्बर से 11 नवम्बर तक 57 यूरिया की रेक एवं 36 डीएपी की रेक एवं एनपीके की 15 रेक ट्रांजिट सहित प्राप्त है।विपणन संघ के 240 डबललॉक केन्द्रों से नगद वितरण प्रारंभ है, भीड़ वाले डबललॉक केन्द्रों पर 150 अतिरिक्त केन्द्र स्वीकृत किये गये हैं, जिसमें से 144 केन्द्रों द्वारा विक्रय किया जा रहा है। जिलों को डबललॉक केन्द्रों पर निजी उर्वरक विक्रेताओं के काउंटर स्थापित करने के निर्देश 3 नवम्बर, 2022 को जारी किये गये। 4 नवम्बर को 23 काउंटर प्रारंभ किये गये थे, जो बढ़ कर 10 नवम्बर को 406 काउंटर हो गये हैं।  

Kolar News

Kolar News 12 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के किसानों की आय को दोगुना करने के संकल्प की सिद्धि के लिए उत्पादन भी बढ़ाना होगा और लागत को कम करना होगा। इस दिशा में मध्यप्रदेश सरकार जहाँ एक ओर सिंचाई का रकबा लगातार बढ़ा रही है, वहीं किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। किसानों के लिये आज का कृषि मेला भाग्यविधाता साबित होगा। मुख्यमंत्री चौहान मुरैना जिले में तीन दिवसीय ‘कृषि मेला एवं प्रदर्शनी’ के शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि छोटे किसानों को आर्थिक मदद के लिये जहाँ एक ओर प्रधानमंत्री मोदी एक साल में तीन किस्तों में 6 हजार रूपये देते हैं, वहीं मध्यप्रदेश सरकार भी अपनी ओर से इन किसानों को साल में 2 किस्तों में 4 हजार रूपये दे रही है। इस प्रकार किसान को एक साल में 10 हजार रूपये की सहायता मिल रही है। प्रदेश के किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में भी अब तक 2 लाख 12 हजार करोड़ रूपये मिल चुके है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में फसल बीमा योजना में किसानों के खातों में 7618 करोड़ रूपये डाले गये हैं। इतनी बड़ी राशि किसी राज्य के किसानों को नहीं मिली। प्रधानमंत्री ने इस बार गेहूँ का समर्थन मूल्य भी 2125 रूपये प्रति क्विंटल कर किसानों को संबल दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की आय को बढ़ाने के लिये देश और मध्यप्रदेश में अनेक नवाचार के साथ नई कृषि तकनीक भी अपनाई जा रही है। परम्परागत खेती से हट कर प्राकृतिक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है।     मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार किसानों द्वारा नरवई को जलाने की प्रथा को खत्म करने के लिये एक नई योजना लेकर आ रही है। इस योजना में मशीन द्वारा नरवई से भूसा तैयार किया जाएगा। मशीन खरीदने के लिये छोटे किसानों को 50 प्रतिशत और बड़े किसानों को 40 प्रतिशत का अनुदान दिया जायेगा। नरवई से तैयार भूसा गो-माता के काम आयेगा और नौजवानों को रोजगार भी मिलेगा। हर 10 से 20 गाँव के बीच केन्द्र बनाये जायेंगे। साथ ही कस्टम हायरिंग सेंटर का भी निर्माण होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में नौजवानों को स्व-रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से उन्हें खाद्यान्न सामग्री वितरण व्यवस्था से भी जोड़ा जा रहा है। सामग्री प्रदाय केन्द्रों से अब ठेकेदारों के स्थान पर नौजवान अपनी गाड़ियों से खाद्यान्न सामग्री का वितरण करेंगे। उन्हें गाड़ी खरीदने के लिये बैंक से राज्य सरकार की गारंटी पर लोन दिलाया जायेगा। नौजवानों को 1 लाख 20 हजार रूपये किराया भी दिया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अब महिलाओं को घर-घर टोटी लगा कर जल उपलब्ध करवाया जा रहा है। जल जीवन मिशन से गाँव -गाँव में पाइप लाइन बिछा कर नल कनेक्शन दिये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुरैना जिले में अमृत सरोवर का अच्छा कार्य हुआ है। इससे जल-संग्रहण के साथ भू-जल स्तर बढ़ेगा और सिंचाई एवं पशुओं को पेयजल की उपलब्धता होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुरैना के स्टेडियम का 10 करोड़ रूपये की लागत से उन्नयन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में सिंचाई क्षमता में वृद्धि के लिए अनेक योजनाएँ शुरू की जा रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सरकार के समय नहरों से पानी टेल एंड तक नहीं पहुँचता था। हमने नहरों को पक्का बना कर टेल एंड तक पानी पहुँचाया है। पहले मात्र साढ़े 7 लाख हेक्टेयर में सिंचाई का रकबा था, उसे बढ़ा कर हमने 45 लाख हेक्टेयर कर दिया है। अब हमारा लक्ष्य इसे 65 लाख हेक्टेयर करने का है।   मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में अब मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिन्दी में होगी, जिससे ग्रामीण क्षेत्र के युवा भी आसानी से डॉक्टर और इंजीनियर बन सकेंगे। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी गाँव के विकास और खेती को लाभकारी बनाने के लिये अनेक नवाचार कर रहे हैं। फसल बीमा सुरक्षा के साथ किसान सम्मान निधि से किसानों को लाभ दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री की मान्यता है कि किसान की माली हालत सुधरेगी तो देश की माली हालत भी बेहतर होगी। इस अवधारणा को साकार करने के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी और मुख्यमंत्री चौहान पूरी शिद्दत से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश कभी बीमारू राज्य कहा जाता था। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश के हर गाँव और हर शहर का विकास हो रहा है। प्रदेश की कृषि विकास दर में बढ़ोत्तरी हुई है। किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। सिंचाई का क्षेत्र लगातार बढ़ने का लाभ भी सीधे किसानों को मिल रहा है।   तोमर ने कहा कि किसानों के लिये यह सिर्फ सम्मेलन नहीं है। यहाँ लगातार तीन दिन किसानों को उन्नत खेती का प्रशिक्षण, नई तकनीक और बायो-फर्टिलाइजर का उपयोग, कम पानी में धान की उपज, दलहन, तिलहन और बागवानी क्षेत्र को बढ़ावा देने संबंधी 40 सत्र होंगे। किसानों की प्रशिक्षण क्लास भी लगेगी और कृषि वैज्ञानिकों द्वारा उनके प्रश्नों का समाधान भी किया जायेगा। कृषि मेले में मुख्यमंत्री चौहान एवं केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तोमर ने 101 अमृत सरोवर का लोकार्पण, मुख्यमंत्री संजीवनी क्लीनिक और स्पोर्टस कॉम्पलेक्स का शिलान्यास किया। साथ ही जिला चिकित्सालय मुरैना का नामकरण कुँअर जाहर सिंह शर्मा की शिला पट्टिका का अनावरण किया। किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में "मेरी पॉलिसी मेरे हाथ" वितरित की गई। आजीविका मिशन के तहत दो महिला स्व-सहायता समूहों को ढ़ाई करोड़ रूपये के चेक भेंट किये। कृषि मेले में किसानों और खेती से संबंधित छोटे-बड़े उपकरणों की प्रदर्शनी भी लगाई गई है।  प्रदेश के उद्यानिकी प्र-संस्करण एवं जिले के प्रभारी मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में प्रदेश कृषि उत्पादन के क्षेत्र में अग्रणी राज्य बना है। प्रदेश लगातार पिछले 6 वर्षों से केन्द्र सरकार की ओर से कृषि के क्षेत्र में दिये जाने वाला सर्वश्रेष्ठ सम्मान कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त कर रहा है। प्रदेश सरकार कृषि के क्षेत्र में लगातार नये-नये आयाम एवं नवाचार कर रही है। उन्होंने किसानों से कहा कि रबी एवं खरीफ फसलों के साथ उद्यानिकी फसलें भी लें, जिससे खेती के साथ अतिरिक्त आमदनी भी प्राप्त हो सके। केन्द्रीय कृषि सचिव मनोज आहूजा ने बताया कि कृषि मेला में किसानों के मार्गदर्शन के लिये प्रतिदिन कृषि से संबंधित महत्वपूर्ण विषयों पर 12-12 अलग-अलग तथा 4-4 सामूहिक सत्र होंगे, जिनमें देश के कृषि विशेषज्ञ जानकारी एवं प्रेजेन्टेशन देंगे। किसानों को अद्यतन जानकारी देने के लिये प्रदर्शनी के 132 स्टॉल लगाये गये हैं। इनमें अनेक कृषि उन्नत उपकरण और पेस्टिसाइड्स प्रदर्शित किये गये हैं।   

Kolar News

Kolar News 12 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के किसानों की आय को दोगुना करने के संकल्प की सिद्धि के लिए उत्पादन भी बढ़ाना होगा और लागत को कम करना होगा। इस दिशा में मध्यप्रदेश सरकार जहाँ एक ओर सिंचाई का रकबा लगातार बढ़ा रही है, वहीं किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। किसानों के लिये आज का कृषि मेला भाग्यविधाता साबित होगा। मुख्यमंत्री चौहान मुरैना जिले में तीन दिवसीय ‘कृषि मेला एवं प्रदर्शनी’ के शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि छोटे किसानों को आर्थिक मदद के लिये जहाँ एक ओर प्रधानमंत्री मोदी एक साल में तीन किस्तों में 6 हजार रूपये देते हैं, वहीं मध्यप्रदेश सरकार भी अपनी ओर से इन किसानों को साल में 2 किस्तों में 4 हजार रूपये दे रही है। इस प्रकार किसान को एक साल में 10 हजार रूपये की सहायता मिल रही है। प्रदेश के किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में भी अब तक 2 लाख 12 हजार करोड़ रूपये मिल चुके है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में फसल बीमा योजना में किसानों के खातों में 7618 करोड़ रूपये डाले गये हैं। इतनी बड़ी राशि किसी राज्य के किसानों को नहीं मिली। प्रधानमंत्री ने इस बार गेहूँ का समर्थन मूल्य भी 2125 रूपये प्रति क्विंटल कर किसानों को संबल दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की आय को बढ़ाने के लिये देश और मध्यप्रदेश में अनेक नवाचार के साथ नई कृषि तकनीक भी अपनाई जा रही है। परम्परागत खेती से हट कर प्राकृतिक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है।     मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार किसानों द्वारा नरवई को जलाने की प्रथा को खत्म करने के लिये एक नई योजना लेकर आ रही है। इस योजना में मशीन द्वारा नरवई से भूसा तैयार किया जाएगा। मशीन खरीदने के लिये छोटे किसानों को 50 प्रतिशत और बड़े किसानों को 40 प्रतिशत का अनुदान दिया जायेगा। नरवई से तैयार भूसा गो-माता के काम आयेगा और नौजवानों को रोजगार भी मिलेगा। हर 10 से 20 गाँव के बीच केन्द्र बनाये जायेंगे। साथ ही कस्टम हायरिंग सेंटर का भी निर्माण होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में नौजवानों को स्व-रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से उन्हें खाद्यान्न सामग्री वितरण व्यवस्था से भी जोड़ा जा रहा है। सामग्री प्रदाय केन्द्रों से अब ठेकेदारों के स्थान पर नौजवान अपनी गाड़ियों से खाद्यान्न सामग्री का वितरण करेंगे। उन्हें गाड़ी खरीदने के लिये बैंक से राज्य सरकार की गारंटी पर लोन दिलाया जायेगा। नौजवानों को 1 लाख 20 हजार रूपये किराया भी दिया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अब महिलाओं को घर-घर टोटी लगा कर जल उपलब्ध करवाया जा रहा है। जल जीवन मिशन से गाँव -गाँव में पाइप लाइन बिछा कर नल कनेक्शन दिये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुरैना जिले में अमृत सरोवर का अच्छा कार्य हुआ है। इससे जल-संग्रहण के साथ भू-जल स्तर बढ़ेगा और सिंचाई एवं पशुओं को पेयजल की उपलब्धता होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुरैना के स्टेडियम का 10 करोड़ रूपये की लागत से उन्नयन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में सिंचाई क्षमता में वृद्धि के लिए अनेक योजनाएँ शुरू की जा रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सरकार के समय नहरों से पानी टेल एंड तक नहीं पहुँचता था। हमने नहरों को पक्का बना कर टेल एंड तक पानी पहुँचाया है। पहले मात्र साढ़े 7 लाख हेक्टेयर में सिंचाई का रकबा था, उसे बढ़ा कर हमने 45 लाख हेक्टेयर कर दिया है। अब हमारा लक्ष्य इसे 65 लाख हेक्टेयर करने का है।   मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में अब मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिन्दी में होगी, जिससे ग्रामीण क्षेत्र के युवा भी आसानी से डॉक्टर और इंजीनियर बन सकेंगे। कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी गाँव के विकास और खेती को लाभकारी बनाने के लिये अनेक नवाचार कर रहे हैं। फसल बीमा सुरक्षा के साथ किसान सम्मान निधि से किसानों को लाभ दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री की मान्यता है कि किसान की माली हालत सुधरेगी तो देश की माली हालत भी बेहतर होगी। इस अवधारणा को साकार करने के लिए प्रधानमंत्री श्री मोदी और मुख्यमंत्री चौहान पूरी शिद्दत से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश कभी बीमारू राज्य कहा जाता था। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश के हर गाँव और हर शहर का विकास हो रहा है। प्रदेश की कृषि विकास दर में बढ़ोत्तरी हुई है। किसानों को जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। सिंचाई का क्षेत्र लगातार बढ़ने का लाभ भी सीधे किसानों को मिल रहा है।   तोमर ने कहा कि किसानों के लिये यह सिर्फ सम्मेलन नहीं है। यहाँ लगातार तीन दिन किसानों को उन्नत खेती का प्रशिक्षण, नई तकनीक और बायो-फर्टिलाइजर का उपयोग, कम पानी में धान की उपज, दलहन, तिलहन और बागवानी क्षेत्र को बढ़ावा देने संबंधी 40 सत्र होंगे। किसानों की प्रशिक्षण क्लास भी लगेगी और कृषि वैज्ञानिकों द्वारा उनके प्रश्नों का समाधान भी किया जायेगा। कृषि मेले में मुख्यमंत्री चौहान एवं केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री तोमर ने 101 अमृत सरोवर का लोकार्पण, मुख्यमंत्री संजीवनी क्लीनिक और स्पोर्टस कॉम्पलेक्स का शिलान्यास किया। साथ ही जिला चिकित्सालय मुरैना का नामकरण कुँअर जाहर सिंह शर्मा की शिला पट्टिका का अनावरण किया। किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में "मेरी पॉलिसी मेरे हाथ" वितरित की गई। आजीविका मिशन के तहत दो महिला स्व-सहायता समूहों को ढ़ाई करोड़ रूपये के चेक भेंट किये। कृषि मेले में किसानों और खेती से संबंधित छोटे-बड़े उपकरणों की प्रदर्शनी भी लगाई गई है।  प्रदेश के उद्यानिकी प्र-संस्करण एवं जिले के प्रभारी मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में प्रदेश कृषि उत्पादन के क्षेत्र में अग्रणी राज्य बना है। प्रदेश लगातार पिछले 6 वर्षों से केन्द्र सरकार की ओर से कृषि के क्षेत्र में दिये जाने वाला सर्वश्रेष्ठ सम्मान कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त कर रहा है। प्रदेश सरकार कृषि के क्षेत्र में लगातार नये-नये आयाम एवं नवाचार कर रही है। उन्होंने किसानों से कहा कि रबी एवं खरीफ फसलों के साथ उद्यानिकी फसलें भी लें, जिससे खेती के साथ अतिरिक्त आमदनी भी प्राप्त हो सके। केन्द्रीय कृषि सचिव मनोज आहूजा ने बताया कि कृषि मेला में किसानों के मार्गदर्शन के लिये प्रतिदिन कृषि से संबंधित महत्वपूर्ण विषयों पर 12-12 अलग-अलग तथा 4-4 सामूहिक सत्र होंगे, जिनमें देश के कृषि विशेषज्ञ जानकारी एवं प्रेजेन्टेशन देंगे। किसानों को अद्यतन जानकारी देने के लिये प्रदर्शनी के 132 स्टॉल लगाये गये हैं। इनमें अनेक कृषि उन्नत उपकरण और पेस्टिसाइड्स प्रदर्शित किये गये हैं।   

Kolar News

Kolar News 12 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसानों को आसानी से खाद मिले। वितरण केंद्र के पास टेंट, बैठक व्यवस्था और पेयजल का प्रबंध रहे। उपलब्धता के बावजूद‍वितरण व्यवस्था की किसी कमी के कारण किसान को परेशानी नहीं आना चाहिए। किसान को लाइन न लगाना पड़े, उसका समय और ऊर्जा जाया न हो, इसके लिए कलेक्टर्स पूरी व्यवस्था पर निगरानी रखें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि प्रदेश में खाद की कमी नहीं है, न ही आने वाले समय में कमी रहेगी। वे नियमित रूप से केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री श्री मनसुख मंडाविया से सम्पर्क में हैं। उन्होंने मध्यप्रदेश को सदैव आवश्यकता के अनुसार खाद उपलब्ध करवाने का कार्य किया है। मुख्यमंत्री चौहान आज निवास से वीसी द्वारा खाद वितरण समस्या वाले कुछ जिलों के कलेक्टर्स से चर्चा कर रहे थे। कृषि मंत्री कमल पटेल, राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव किसान कल्याण तथा कृषि विकास अशोक वर्णवाल, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी और प्रमुख सचिव जनसम्पर्क राघवेंद्र कुमार सिंह उपस्थित थे।       बैठक में हरदा जिला में प्रशासन द्वारा खाद वितरण की बेहतर व्यवस्था पर चर्चा हुई। कलेक्टर हरदा ने बताया कि जिले में एक्स्ट्रा काउंटर व्यवस्था, विभिन्न एजेंसियों के मध्य समन्वय, वितरण केंद्रों में आवश्यक सुविधाओं को सुनिश्चित करने के साथ ही डिफाल्टर किसान सहित सभी के लिए खाद के प्रबंध आवश्यतानुसार किए गए हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अन्य जिलों में ऐसे ही व्यवस्थित उपाय कर किसानों की शिकायत शून्य करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने सतना, दमोह, सागर, छतरपुर, नीमच नर्मदापुरम, देवास और इंदौर जिलों के कलेक्टर्स से खाद की उपलब्धता, वितरण केंद्र संख्या, वितरण व्यवस्था और इस माह की संभावित मांग के अनुरूप आपूर्ति के प्रबंध के संबंध में बातचीत कर निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान 11 नवम्बर को पुन: समीक्षा करेंगे। मुख्यमंत्री के कलेक्टर्स को प्रमुख निर्देश किसी भी जिले में किसानों को लाइन न लगानी पड़े। जिलों में खाद वितरण सुचारू रहे, जहाँ आवश्यक हो विकेंद्रीकरण किया जाए। किसानों को अधिक दूरी से खाद लेने न आना पड़े। आवश्यक हो तो अतिरिक्त अमला इस कार्य में लगाएँ। वितरण केंद्रों पर पीने के पानी का प्रबंध भी रहे। आवश्यक हो तो वितरण के लिए अतिरिक्त केंद्र शुरू करें।  

Kolar News

Kolar News 10 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश को 17वें प्रवासी भारतीय दिवस और सम्मेलन के आयोजन की जिम्मेदारी मिली है। विदेश मंत्रालय द्वारा मध्यप्रदेश सरकार के सहयोग से इंदौर में हो रहे इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए विभिन्न देशों के प्रवासी भारतीयों, फ्रेंडस ऑफ एमपी के सदस्यों और उद्योग व्यापार से जुड़े भारतीय मित्रों के सहयोग की जरूरत है। मुख्यमंत्री चौहान ने फ्रेंडस ऑफ एमपी के सदस्यों को प्रवासी भारतीय दिवस और सम्मेलन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया। अनेक देशों में रह रहे भारतवंशियों ने मुख्यमंत्री चौहान से वीडियो कॉफ्रेंस से चर्चा करते हुए कहा कि वे सम्मेलन को सफल बनाने में पूरा सहयोग देंगे।   मध्यप्रदेश सरकार सम्मेलन के अवसर पर विभिन्न राष्ट्रों से द्विपक्षीय सहयोग पर भी वार्ता करेगी। प्रवासी भारतीय सम्मेलन के मुख्यअतिथि गोयाना के राष्ट्रपति डॉ. मोहम्मद इरफान अली होंगे। यह सम्मेलन आठ से दस जनवरी तक इंदौर में होने जा रहा है। इसके बाद ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट भी होगी। राष्ट्रपति  द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इंदौर आने के लिए स्वीकृति दे चुके हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रवासी भारतीय दिवस और सम्मेलन में अनेक बिजनेस लीडर आएंगे। नोबल पुरस्कार से पुरस्कृत व्यक्तित्व, प्रख्यात डॉक्टर, लेखक सहित विभिन्न हस्तियाँ भी आएंगी। मनभावन सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। सम्मेलन में मालवा की विशिष्ट कला-संस्कृति का प्रदर्शन होगा। साथ ही चुनिंदा रीयल एस्टेट प्रोजेक्ट भी दिखाए जाएंगे। आमंत्रित प्रतिनिधि उज्जैन में लोकार्पित श्री महाकाल लोक के दर्शन भी करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने आज वीसी बैठक द्वारा प्रवासी भारतीय दिवस और सम्मेलन के संबंध में विभिन्न देशों में फ्रेंड्स ऑफ एमपी के चैप्टर्स लीडर्स और सक्रिय सदस्यों से चर्चा कर रहे थे। इस दौरान विभिन्न राष्ट्रों से चैप्टर्स लीडर्स ने अधिक से अधिक सदस्यों के साथ इंदौर आने के प्रति जिज्ञासा प्रकट की।   मुख्यमंत्री चौहान ने यूएसए, यूके, यूएई सहित विभिन्न देशों से जुड़े हुए फ्रेंडस ऑफ एमपी के सदस्यों को दीपावली की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि वे इस संवाद से अभिभूत महसूस कर रहे हैं। आप लोगों का जो प्रेम इस देश और मध्यप्रदेश की माटी के लिए है, वो अद्भुत है। आपकी देश के प्रति भक्ति और सेवा की भावना की जितनी प्रशंसा की जाए वो कम है। जब-जब देश या मध्यप्रदेश को आपकी जरूरत हुई है आप दोनों बाहें फैला कर मदद के लिए आगे आए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रवासी भारतीय मित्रों ने कोविड के कठिन समय में ऑक्सीजन, फूड, दवा भेजने के लिए भी पूरा सहयोग दिया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अपना मध्यप्रदेश अद्भुत है। यह वन संपदा, खनिज संपदा, जन संपदा, जल संपदा, वन संपदा से परिपूर्ण है। मध्यप्रदेश पहले से टाइगर स्टेट रहा है, इसके बाद लेपर्ड स्टेट बना और अब चीता स्टेट भी है। देश में आज मध्यप्रदेश का अलग स्थान है। मध्यप्रदेश तेजी से विकास कर रहा है। इंदौर लगातार 6वीं बार स्वच्छता में नंबर वन है। स्वच्छता में मध्यप्रदेश पहले स्थान पर है। प्रवासी भारतीय दिवस पर हमारे यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, हमारी देश की गौरव राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू हम सबको मार्गदर्शन देंगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रवासी भारतीय दिवस के आयोजन के संबंध में फ्रेंडसऑफ एमपी के सदस्यों के सुझावों पर अमल किया जाएगा। मध्यप्रदेश के लिए यह ऐतिहासिक अवसर है। जनवरी माह में तीन दिवसीय प्रवासी भारतीय दिवस और सम्मेलन के बाद वहीं 11-12 जनवरी 2023 को ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट इंदौर में होना है, जिसमें आए प्रतिनिधि अन्य निवेशकों के साथ भेंट और बैठक कर सकेंगे। इस तरह सुविधानुसार अनेक प्रतिनिधि 5 दिन का प्रवास कर दोनों कार्यक्रमों को यादगार बनाने की भूमिका निभाएंगे। राज्य सरकार का प्रयास है कि आमंत्रित प्रतिनिधियों को अनुकूल एयर कनेक्टविटी उपलब्ध करवाई जाए। साथ ही एनआरआई निवेशकों को जमीन आवंटन जैसी सुविधा प्राथमिकता से उपलब्ध करवाई जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रवासी भारतीय दिवस और सम्मेलन के विभिन्न आयामों के बारे में संपूर्ण जानकारी सोशल मीडिया एवं वेबसाइट पर निरंतर दी जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रवासी भारतीय विभाग ने गत 13 अक्टूबर को प्रवासी भारतीय दिवस और सम्मेलन की वेबसाइट लॉन्च की है। यह सिंगल विंडो की तरह है। इसमें रजिस्ट्रेशन, आवास, पर्यटन स्थल आदि की जानकारी होगी। इस वेबसाइट के माध्यम से अब तक 36 ग्रुप और उसमें शामिल 720 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। इस वेबसाइट पर प्रारंभ किए गए स्टार्टअप और एक्सपोर्टर्स की जानकारी भी दी जाएगी।       लंदन के डिप्टी मेयर राजेश अग्रवाल ने कहा कि मध्यप्रदेश उनकी जन्म भूमि है। बीस वर्ष में यह अवसर आया है जब मध्यप्रदेश में प्रवासी भारतीय सम्मेलन हो रहा है, इसे सभी मिल कर सफल बनाएंगे। जितेंद्र वैद्य, आबुधाबी ने बताया कि वे आबुधाबी में 25 सालों से निवास कर रहे हैं। प्रवासी भारतीय सम्मेलन इंदौर में होना गौरव की बात है। पिछली बार ग्लोबल इन्वेस्टर समिट में इंदौर आने का काफी अच्छा अनुभव है। परमीत माकोड़े बोस्टन ने कहा कि यह महत्वपूर्ण मंच सिद्ध होगा। कर्म भूमि से जन्म-भूमि की यात्रा होगी। इंदौर स्वच्छतम शहर है। इंदौर के स्टेडियम में प्रधानमंत्री जी का विशेष पोट्रेट चित्र तैयार कर भेंट करने की योजना है। जितेंद्र मुछाल न्यूयार्क ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान द्वारा फरवरी 2015 में न्यूयार्क में जो पौधा रोपा था वह आज वृक्ष बन गया है। इस कार्यक्रम को लेकर काफी उत्साह का वातावरण है।  महाकाल लोक देखने की भी सभी में जिज्ञासा है। पर्यटन और उद्योग क्षेत्र में प्राथमिकता से कार्य के लिए अनेक निवशक तैयार होंगे। डॉ. शिरीष जौहरी, सिंगापुर ने कहा कि वे महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज इंदौर से पढ़े हुए हैं। इस लगाव की वजह से वे सम्मेलन की तारीखों की बेसब्री से प्रतिक्षा कर रहे हैं।  रवि कुमार तिवारी टोरंटो ने कहा कि इंडो-केनेडा चेम्बर्स ऑफ कामर्स का गठन किया गया है। कनाडा से करीब 100 प्रतिनिधियों के आने का अनुमान है।  रक्षित मेहता स्विटजरलैंड अलंकार मालवीय जोहान्सबर्ग और श्रीमती लीना वैद्य आबुधाबी ने भी अपने विचार व्यक्त किए।  

Kolar News

Kolar News 10 November 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में मंत्रि-परिषद की बैठक हुई। मंत्रि-परिषद द्वारा जनजातीय कार्य विभाग की 23 सी.एम. राईज योजना के उच्चतर माध्यमिक शाला भवन निर्माण की 678 करोड़ 82 लाख 25 हजार रुपये की प्रशासकीय स्वीकृति देने का निर्णय लिया गया। निर्णय के अनुसार सी.एम. राईज योजना में 23 स्कूल भवन निर्माण कार्यों में से 11 कार्यो की निर्माण एजेन्सी परियोजना क्रियान्वयन इकाई, लोक निर्माण विभाग, 06 कार्यों की निर्माण एजेन्सी भवन विकास निगम तथा 06 कार्यों की निर्माण एजेन्सी मध्यप्रदेश पुलिस हाऊसिंग एवं अधो-संरचना विकास निगम को बनाया गया है। साथ ही जनजातीय कार्य को वित्तीय वर्ष के पूँजीगत मद में प्रावधानित बजट से सी.एम. राईज योजना में निर्माण कार्यों को स्वीकृत किये जाने के लिए सूचकांक से मुक्त रखे जाने की अनुमति दी गई। मंत्रि-परिषद ने रूसा परियोजना में दमोह, राजगढ़, बड़वानी, छतरपुर, गुना, खंडवा, सिंगरौली और विदिशा में एक-एक नवीन आदर्श स्नातक महाविद्यालय की स्थापना के लिए प्रस्तावित 336 शैक्षणिक एवं 200 अशैक्षणिक, कुल 536 नवीन पद निर्माण, आवर्ती एवं अनावर्ती व्यय के लिए 12 हजार 658 लाख रूपये की स्वीकृति दी।       मंत्रि-परिषद ने उचित मूल्य की दुकानों का खाद्यान्न पर कमीशन, परिवहन व्यय और पीओएस मशीन की अतिरिक्त कमीशन की राशि को बढ़ाने का निर्णय लिया। इसमें नगरीय क्षेत्र की उचित मूल्य दुकानों को खाद्यान्न वितरण पर कमीशन 70 से बढ़ा कर 90 रूपये प्रति क्विंटल, ग्रामीण क्षेत्र की उचित मूल्य दुकानों को 200 से अधिक राशनकार्ड होने एवं पूर्णकालिक विक्रेता होने पर 10 हजार 500 रूपये प्रतिमाह दिया जायेगा। इसी तरह ग्रामीण क्षेत्र की उचित मूल्य दुकानों को 200 से कम राशनकार्ड होने एवं पूर्णकालिक विक्रेता होने पर 6 हजार रूपये प्रतिमाह और ग्रामीण क्षेत्र की उचित मूल्य दुकान पर अंशकालिक विक्रेता होने पर 3 हजार रूपये प्रतिमाह दिया जायेगा। इसी प्रकार दुकानविहीन एक हजार 514 पंचायतों में नवीन दुकान खोलने पर खाद्यान्न में कमीशन 6 हजार रूपये प्रतिमाह दिया जाएगा। खाद्यान्न के परिवहन, हेण्डलिंग मद में प्रति क्विंटल राशि 65 से बढ़ा कर 70 रूपये प्रति क्विंटल किया गया है। साथ ही उचित मूल्य दुकानों के पीओएस के लिए अतिरिक्त मार्जिन राशि 17 रूपये प्रति क्विंटल से बढ़ा कर 21 रूपये प्रति क्विंटल की गई है। इन सभी पर राज्य सरकार द्वारा नियमित 50 प्रतिशत राशि के अतिरिक्त 52 करोड़ 20 लाख रूपये का प्रतिमाह व्यय किया जाएगा।       मंत्रि-परिषद ने प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली एवं अन्य कल्याणकारी योजनाओं में "मुख्यमंत्री युवा अन्नदूत" योजना लागू करने की अनुमति दी। इसमें उद्यम क्रांति योजना के प्रथम चरण में 888 बेरोजगार युवाओं को बैंक ऋण से वाहन उपलब्ध कराया जायेगा। इससे लक्षित सार्वजनिक वितरण प्रणाली एवं अन्य कल्याणकारी योजनाओं में आवंटित राशन सामग्री को प्रदाय केन्द्र से उचित मूल्य दुकानों तक परिवहन कराया जायेगा। मंत्रि-परिषद ने नरवाई जलाने की प्रथा को हत्सोहित करने, कृषि यंत्रीकरण को बढ़ाने और भूमि में नमी का संरक्षण करने के लिए "फसल अवशेष प्रबंधन" योजना को संचालित करने का निर्णय लिया। योजना में उपयोगी शक्ति चलित कृषि यंत्रों को चिन्हित कर कृषकों द्वारा इन्हें क्रय करने पर अनुदान उपलब्ध कराया जायेगा। लघु, सीमान्त, महिला, एस.सी. और एस.टी. कृषकों को 50 प्रतिशत एवं अन्य कृषकों को 40 प्रतिशत अनुदान दिया जायेगा। योजना का क्रियान्वयन कृषि अभियांत्रिकी संचालनालय करेगा।       मंत्रि-परिषद ने ग्रामीण युवाओं को बैंक ऋण आधार पर कस्टम प्रोसेंसिंग केन्द्र स्थापना के लिए अनुदान सहायता उपलब्ध कराने के लिये नवीन योजना "प्राथमिक प्र-संस्करण को प्रोत्साहन" को संचालित करने का निर्णय लिया। योजना का क्रियान्वयन कृषि अभियांत्रिकी संचालनालय करेगा। मंत्रि-परिषद द्वारा मध्यप्रदेश भवन विकास निगम के सुचारू संचालन के लिए 211 पदों के सेटअप को अनुमोदन दिया गया। इसमें पूर्व में स्वीकृत 198 पद की कार्योत्तर स्वीकृति एवं 13 नवीन पदों की स्वीकृति दी गई। निगम में पदस्थ अधिकारी-कर्मचारियों के वेतन-भत्ते एवं स्थापना व्यय के लिए प्रतिवर्ष 15 करोड़ रूपये का बजटीय अनुदान प्रथम 5 वर्षों के लिए दिये जाने की स्वीकृति दी गई। मंत्रि-परिषद ने "मुख्यमंत्री मत्स्य-विकास योजना" को आगामी 2 वर्षों (2022-23 एवं 2023-24) के लिए लागू करने का निर्णय लिया। योजना 2 वर्षों में प्रदेश में मत्स्य-पालन को बढ़ावा देने और मत्स्य-उत्पादन वृद्धि के लिए 100 करोड़ रूपये व्यय किया जायेगा।       मंत्रि-परिषद ने चिकित्सा महाविद्यालयों के निर्माण और अनुरक्षण कार्य के लिए सिविल विंग के निर्माण का निर्णय लिया। सिविल विंग का मुख्यालय कार्यालय आयुक्त, चिकित्सा शिक्षा में तथा 5 उप संभाग कार्यालय भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और रीवा में स्थापित किये जायेंगे। इसके संचालन के लिए कुल 121 नवीन पदों के सृजन की स्वीकृति दी है। इस विंग द्वारा 10 करोड रूपये तक की लागत के नवीन निर्माण और भवनों के संधारण का कार्य किया जायेगा | मंत्रि-परिषद ने "रीवा हवाई पट्टी पर ATR-72 टाईप विमानों के परिचालन के लिए Visual Flight Rules (VFR) तथा InstrumentFlight Rules (IFR) विकसित करने, वर्तमान हवाई पट्टी के विस्तार, विकास के लिए तहसील हुजूर में ग्राम उमरी की 1.948 हेक्टेयर, ग्राम चोरहटा की 7.199 हेक्टेयर, ग्राम चौरहटी की 5.391 हेक्टेयर और ग्राम अगडाल की 10.735 हेक्टेयर कुल 25.273 हेक्टेयर अर्थात 61.945 एकड़ भूमि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को निःशुल्क आवंटित करने का निर्णय लिया। मंत्रि-परिषद ने राज्य शासन द्वारा उद्योग संवर्धन नीति 2010/2014 अंतर्गत वृहद श्रेणी के उद्योगों के लिए उद्योग निवेश संवर्धन सहायता/ वेट सीएसटी प्रतिपूर्ति सहायता का प्रावधान किया है। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए जारी शासनादेश 22 जून 2018 में उल्लेखित गणना सूत्र में "विक्रय गणक" की गणना में विक्रय की गई वस्तु के मूल्य के आधार पर वास्तविक सहायता राशि का निर्धारण किया जाये, को स्पष्ट किए जाने का निर्णय लिया गया।       मंत्रि-परिषद ने इंदौर-उज्जैन मार्ग (लम्बाई 48.9 कि.मी.) पर म.प्र. सडक विकास निगम द्वारा चयनित एजेंसी के माध्यम से 26 सितम्बर 2034 तक उपभोक्ता शुल्क (टोल) संग्रहण किये जाने की कार्योत्तर स्वीकृति प्रदान की। रियायत अनुबंध निरस्तीकरण के बाद सड़क विकास निगम द्वारा टोल लगाने की कार्योत्तर स्वीकृति दी गई। इंदौर-उज्जैन मार्ग (लम्बाई 48.9 कि.मी.) पर दूरी आधारित मूल टोल दरें प्रभावी किये जाने की स्वीकृति गई। इंदौर-उज्जैन मार्ग पर निम्नानुसार वाहनों की श्रेणी को टोल से छूट जाने की स्वीकृति प्रदाय की गई,  (1) भारत सरकार तथा मध्यप्रदेश सरकार के समस्त यान सरकारी कर्त्तव्य (ड्यूटी) पर हो। (2) संसद के सदस्यों तथा विधानसभा के सदस्यों के यान। (3) भारतीय सेना के समस्त यान जब ड्यूटी पर हों। (4) एम्बुलेंस।  (5) फायर बिग्रेड।  (6) भारतीय डाक तथा तार विभाग के यान।  (7) कृषि प्रयोजन के लिए उपयोग की जाने वाली ट्रैक्टर-ट्राली तथा बैलगाड़ियाँ।  (8) आटो रिक्शा, दुपहिया वाहन।  (9) स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवं अधिमान्यता प्राप्त पत्रकार।  (10) भूतपूर्व सांसदों एवं विधायकों के एक यान।       मंत्रि-परिषद ने जिला नर्मदापुरम स्थित राजस्व विभाग की ट्रैक्टर स्कीम ओल्ड इटारसी वार्ड नं. 1, तहसील इटारसी की परिसम्पत्ति, जिसका खसरा क्रमांक 449/1 एवं 447/2/1 कुल क्षेत्रफल 8 हजार वर्गमीटर के निर्वर्तन हेतु एच-1 निविदाकार की उच्चतम निविदा राशि 11 करोड़ 91 लाख 11 हजार 121 रूपये की संस्तुति करते हुए उसे विक्रय करने एवं H-1 निविदाकार द्वारा निविदा राशि का 100 प्रतिशत जमा करने के बाद अनुबंध / रजिस्ट्री की कार्यवाही जिला कलेक्टर द्वारा किये जाने का निर्णय लिया गया। मंत्रि-परिषद ने जिला ग्वालियर स्थित राजस्व विभाग की वार्ड क्र. 65, ग्राम वीरपुर के शीट क्र 630/2. भूमि परिसम्पत्ति कुल क्षेत्रफल 297.90 वर्गमीटर के निर्वर्तन के लिए एच-1 निविदाकार की उन्नतम निविदा राशि 77 लाख 93 हजार रूपये की संस्तुति करते हुए उसे विक्रय करने एवं एच-1 निविदाकार द्वारा निविदा राशि का 100 प्रतिशत जमा करने के बाद अनुबंध / रजिस्ट्री की कार्यवाही जिला कलेक्टर द्वारा किये जाने का निर्णय लिया। मंत्रि-परिषद द्वारा जिला इन्दौर स्थित राजस्व विभाग की वार्ड नं 50, पिपल्याहाना, भू खण्ड पार्ट 01 सर्वे क्रमांक 471 क्षेत्रफल 1380 वर्गमीटर एवं पार्ट 02 सर्वे क्रमांक 472 क्षेत्रफल 3700 वर्गमीटर, पार्सलों के निर्वर्तन के लिए एच-1 निविदाकार को पार्ट-1 की उच्चतम निविदा राशि 10 करोड़ 59 लाख 48 हजार रूपये और पार्ट-2 की उच्चतम निविदा राशि 28 करोड़ 16 लाख 44 हजार रुपये की संस्तुति करते हुए उसे विक्रय करने एवं एच-1 निविदाकार द्वारा निविदा राशि का 100 प्रतिशत जमा करने के बाद अनुबंध / रजिस्ट्री की कार्यवाही किये जाने का निर्णय लिया गया।

Kolar News

Kolar News 10 November 2022

गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा हमारे यहाँ झड़ी की आवश्यकता नहीं है। और हमने किसी को आमंत्रित भी नहीं किया है। जिस दिन से भारत जोड़ो यात्रा शुरू हुई है। उसी दिन से कांग्रेस छोड़ने वालों की झड़ी लगी हुई है। इस दौरान उन्होंने फिल्म से दृश्य हटाने के लिए मनोज मुंतशिर और उनकी टीम का भी धन्यवाद किया। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा मनोज मुंतशिर और उनकी टीम का धन्यवाद लेकिन फिल्म निर्माताओं से आग्रह है कि ऐसे दृश्यों का फिल्मांकन ना करें जिन्हें बाद में हटाना पड़े। उन्होंने कीर्तनकार मनप्रीत सिंह कानपुरी से अनुरोध  किया है कि कुछ  लोगों की गलतियों का खामियाजा सबको न भुगतना पड़े।  वे अपने निर्णय पर फिर से विचार जरूर करें। आपकी वाणी का इंदौर और मध्य प्रदेश वासियों को लाभ जरूर मिलना चाहिए।  वहीं कांग्रेस के प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाने पर मिश्रा ने कहा नेता प्रतिपक्ष को पूरी सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराई गई है। दो शराब माफियाओं के आपसी झगड़े की जानकारी मिली है। कांग्रेसी अपनी यात्रा का उद्देश्य पूरा करें।    मिश्रा ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा केवल राठवा को न गिने जो 10 बार विधायक रह चुके है। जिस दिन से भारत जोड़ो यात्रा शुरू है।  उस दिन से कांग्रेस छोड़ने वालों को झड़ी लगी हुई है। मैने तब भी कहा था की यात्रा समाप्त होने तक कांग्रेस पूरी ही न निपट जाए। यात्रा शुरू होते ही गुलाम नबी आज़ाद कांग्रेस से आज़ाद हुए थे। उसके बाद जितेंद्र प्रसाद ,कपिल सम्बल और ऐसे ही कई सारे नाम है। कांग्रेस टुकड़े टुकड़े हुई पड़ी है। और 10 बार के विधायक गुजरात से गए। इस बात से आप अन्दाज़ा लगा सकते हैं की गुजरात में क्या हाल होने वाला है। राहुल गाँधी  कितने भी कोड़े खुदपर बरसा लें। लेकिन उसका कोई लाभ नहीं है। कांग्रेस का सूरज अब अस्ताचल की ओर है।              

Kolar News

Kolar News 9 November 2022

भिंड से ग्वालियर आ रही भारत जोड़ो यात्रा में नेता प्रतिपक्ष डॉ.गोविन्द सिंह की मौजूदगी में पार्षद के बेटे पर फायरिंग की घटना से कांग्रेसी सरकार से खासे नाराज हैं। कांग्रेस के नेताओं का कहना है ये सब सोची समझी साजिश के तहत किया जा रहा है। कांग्रेस नेताओं का कहना है। मध्यप्रदेश में राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में बदफे पैमाने पर गड़बड़ी की जा सकती है। नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह, पूर्व मंत्री अजय सिंह राहुल भैया, अरुण यादव, जयवर्धन सिंह, युवक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष विक्रांत भूरिया और प्रदेश मीडिया विभाग के अध्यक्ष केके मिश्रा ने बयान जारी करते हुए सरकार से भारत जोड़ो यात्रा और राहुल गांधी की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से सत्ताधारी भाजपा बुरी तरह बौखला गई है।    20 नवंबर को राहुल गांधी की यात्रा मध्यप्रदेश में प्रवेश कर रही है। लेकिन इस यात्रा से पहले ही यात्रा से संबंधित डॉक्टर गोविंद सिंह की यात्रा में जिस तरह से एक व्यक्ति कट्टा लेकर प्रवेश कर गया और गोली चलाई, उससे स्पष्ट होता है कि भाजपा सरकार जानबूझकर यात्रा को समुचित सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध नहीं करा रही। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि यह घटना ठीक उसी दिन हुई है जिस दिन प्रदेश काग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने इंदौर में आधिकारिक रूप से राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया और पूरे कार्यक्रम को सार्वजनिक किया। इसे सिर्फ संयोग नहीं माना जा सकता। कांग्रेस नेताओं ने आशंका जताई कि राहुल गांधी की यात्रा जब मध्यप्रदेश में प्रवेश करेगी तो भारतीय जनता पार्टी असामाजिक तत्वों के माध्यम से यात्रा में व्यवधान उत्पन्न कर सकती है।     नेता प्रतिपक्ष डॉ गोविन्द सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार की जिम्मेदारी है कि वह प्रदेश में कानून व्यवस्था स्थापित करे और किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम में असामाजिक तत्वों का प्रवेश ना होने दे। लेकिन जिस तरह के बयान भाजपा सरकार के मंत्री दे रहे हैं उससे ऐसा लगता है कि वह कानून व्यवस्था बनाने के बजाय कानून व्यवस्था बिगाड़ने का इरादा रखते हैं। नेताओं ने कहा कि राहुल गांधी भारत के इतिहास की सबसे लंबी पदयात्रा निकाल रहे हैं और इससे पूरे देश में एक नया जोश है। मध्यप्रदेश में भी यात्रा 350 किलोमीटर से अधिक का सफर तय करेगी। इस दौरान राहुल गांधी बाबा महाकाल के दर्शन करेंगे।  राहुल गांधी संविधान निर्माता बाबासाहेब आंबेडकर और आदिवासी समाज के महानायक टंट्या भील की जन्मस्थली पर भी जाएंगे। वे ओमकारेश्वर में भी दर्शन करेंगे। राहुल गांधी के इस तरह के सार्वजनिक कार्यक्रमों को देखते हुए मध्यप्रदेश सरकार को तुरंत एक बयान जारी करके यह स्पष्ट करना चाहिए कि राहुल गांधी की यात्रा को पर्याप्त सुरक्षा उपलब्ध कराई जाएगी। कांग्रेस नेताओं ने  कहा कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को पूरी तरह से सजग रहना चाहिए और अपनी तरफ से इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि भाजपा राहुल गांधी की यात्रा के दौरान कोई षड्यंत्र या शरारत ना कर सके। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मांग की कि वे अपने पद के दायित्व का ईमानदारी से निर्वहन करें और यात्रा के लिए पर्याप्त सुरक्षा इंतजाम करें। 

Kolar News

Kolar News 9 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है‍ कि उद्योगपतियों और निवेशकों के लिए जनवरी 2023 में इंदौर में होने वाली इन्वेस्टर्स समिट परिणाममूलक हो, इस उद्देश्य से प्रदेश की आवश्यकताओं, निवेश के अवसरों और संभावनाओं की निवेशकों और उद्योगपतियों को विस्तार से जानकारी दी जाए। प्रदेश में कृषि उपकरणों के निर्माण और फार्मा तथा मेडिकल डिवाइस निर्माण से संबंधित उद्योगों की संभावनाओं से इस क्षेत्र में कार्यरत उद्योगपतियों को विशेष रूप से अवगत कराया जाए। मुख्यमंत्री चौहान आज निवास कार्यालय में मुम्बई में उद्योगपतियों के साथ 10 नवम्बर को मुलाकात एवं रोड-शो के संबंध में बैठक को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान जनवरी 2023 में इंदौर में प्रस्तावित इन्वेस्टर्स समिट के लिए उद्योगपतियों और निवेशकों को आमंत्रित भी करेंगे। प्रमुख सचिव संजय शुक्ला, प्रमुख सचिव मनीष सिंह तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान 10 नवम्बर को मुम्बई में महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा के एम.डी. तथा सीईओ डॉ. अनीश शाह, हिन्दुस्तान यूनिलिवर के सीईओ  संजीव मेहता तथा रिलायंस इण्डस्ट्रीज के डायरेक्टर श्री अनंत अंबानी व श्री धनराज नाथवानी, सिएट टायर्स के एम.डी. अनंत गोयनका, यू.एस. फार्मा के सीएमडी तपन संघवी, केमेरिक्स लाईफ साइंसेज के डायरेक्टर ए.के. मिश्रा, एनक्यूब ऐथिकल फार्मा के एम.डी. मेहुल शाह, ग्यूफिक बायोसाइंसेज के सीएमडी जयश चौकसी और पीरामल ग्रुप के वाईस चेयरपर्सन डॉ. स्वाति पीरामल से भेंट करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान इन्फोबीन्स लिमिटेड के उद्घाटन कार्यक्रम और मध्यप्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर आयोजित सत्र में भी शामिल होंगे। मुख्यमंत्री चौहान फार्मा और मेडिकल उपकरणों के निर्माण से संबंधित इकाइयों की स्थापना की संभावनाओं पर इस क्षेत्र में कार्यरत उद्योगपतियों से विशेष रूप से चर्चा करेंगे। इसके अंतर्गत गोदरेज, एलेम्बिक फार्मा, आदित्य बिरला ग्रुप, हीरानंदानी ग्रुप, सन फार्मास्युटिकल्स, टाटा संस, प्रोक्टर एंड गेम्बल इंडिया, लार्सेन एंड ट्यूबरो, परस्सिटेंट सिस्टम्स और पंचशील रियल्टी रिजर्व के प्रमुखों और पदाधिकारियों से चर्चा करेंगे।  

Kolar News

Kolar News 9 November 2022

केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि मध्यप्रदेश में कृषि क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य हुआ है। मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश को निरंतर कृषि कर्मण पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है। अब मध्यप्रदेश कृषि उत्पादों का निर्यात भी करने लगा है। किसान अन्नदाता के साथ अब ऊर्जादाता भी बनेगा। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री गडकरी ने मंडला में मंडला और डिंडोरी जिले के लिए 1261 करोड़ रूपये लागत की 5 सड़क परियोजना का शिलान्यास किया। केन्द्रीय मंत्री  गडकरी ने कहा कि मंडला में प्रकृति का निवास है, यह रानी दुर्गावती की भूमि है तथा यहाँ कान्हा जैसा विश्व प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यान है। जनजातीय कार्यों के विकास के लिए सड़कें अत्यंत जरूरी हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान, केंद्रीय राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते सहित स्थानीय जन-प्रतिनिधियों द्वारा दिए गए सड़क विकास के प्रस्तावों पर विस्तृत अध्ययन कर योजनाओं को स्वीकृति दी जाएगी।   केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री गडकरी ने देशभर में ऊर्जा के क्षेत्र में परिवहन मंत्रालय द्वारा प्रारंभ की गई नई परियोजनाओं की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने मध्यप्रदेश में परिवहन के क्षेत्र में इलेक्ट्रिक बसों के संचालन की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि मंडला, डिंडौरी एवं अन्य जनजातीय क्षेत्रों में बाँस के उत्पादन को बढ़ावा दिया जा सकता है। बाँस से भविष्य में इथेनॉल का निर्माण होगा, जिससे परिवहन एवं अन्य क्षेत्रों के लिए ऊर्जा पैदा की जा सकेगी। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कान्हा-बालाघाट क्षेत्र में सड़क विकास के लिए नए प्रोजेक्ट को 'गति शक्ति योजना’ में शामिल करने की बात कही। केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री गडकरी ने मंडला-जबलपुर हाई-वे के बारे में चर्चा की। उन्होंने हाई-वे निर्माण में गुणवत्ता से असंतुष्टि जाहिर की और मंडला एवं आसपास के क्षेत्र की जनता को सड़क से हुई परेशानी के लिए मंच से माफी मांगी। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि राष्ट्रीय राजमार्ग के पुराने कार्य को रिपेयर करें तथा सड़क के खराब हिस्से के निर्माण के लिए जल्द नया टेंडर जारी करें। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने आगामी वर्षों में अलग-अलग परियोजनाओं से सड़क एवं पुलों के विकास के बारे में चर्चा की।     केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा देश के सभी धार्मिक स्थानों तक पहुँचने के लिए लगातार बारह-मासी सड़कों का निर्माण जारी है। उन्होंने अमरकंटक से लेकर धार-झाबुआ तक नर्मदा एक्सप्रेस-वे के निर्माण के संबंध में कहा कि इस मार्ग के निर्माण के लिए मंत्रालय द्वारा अध्ययन जारी है। इस मार्ग के विकास से नर्मदा प्रदक्षिणा करने वाले श्रद्धालुओं को निश्चित रूप से लाभ होगा। केन्द्रीय मंत्री  गडकरी ने मध्यप्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई हिंदी भाषा में भी प्रारंभ करने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सभी विद्यार्थियों की ओर से शुभकामनाएँ दी। उन्होंने कहा कि गरीब एवं वंचित वर्गों तक विकास को पहुँचाना हमारा संकल्प है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार चारों तरफ सड़कों के जाल बिछाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। उन्होंने मंडला और डिंडोरी जिले के लिए केंद्र सरकार द्वारा दी गई नई 5 सड़क परियोजना की स्वीकृति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केंद्रीय मंत्री  गडकरी को धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि वर्ष 2003 के बाद प्रदेश सरकार द्वारा अब तक 3 लाख किलोमीटर से अधिक लंबाई की सड़कें बनाई जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि नर्मदा उद्गम से लेकर धार-झाबुआ तक ’नर्मदा एक्सप्रेस-वे’ बनाने का प्रस्ताव है। 'नर्मदा एक्सप्रेस-वे’ के दोनों ओर औद्योगिक क्षेत्र के विकास का प्रयास किया जाएगा, जहाँ स्थानीय उत्पादों पर आधारित उद्योग लगाए जाएंगे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सरकार विकास के कार्यों में कमी नहीं होने देगी। उन्होंने मंडला-डिंडौरी क्षेत्र में घर-घर पानी पहुँचाने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकार के कार्यों की जानकारी दी। उन्होंने सीएम जनसेवा अभियान में मंडला जिले में प्राप्त तथा स्वीकृत आवेदनों की जानकारी देते हुए बताया कि जिले में कुल एक लाख 84 हजार 753 आवेदन में से एक लाख 56 हजार 944 को स्वीकृत किया जा चुका है। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री गडकरी से कान्हा क्षेत्र को मुख्य सड़क मार्गों से जोड़ने तथा नर्मदा सौन्दर्यीकरण और विकास के लिए नए प्रस्तावों को स्वीकृति प्रदान करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने मंडला जिले में नए सीएम राईज स्कूलों के संचालन, विशेष कोचिंग के माध्यम से नीट परीक्षा में जनजाति बहुल जिलों के विद्यार्थियों की सफलता तथा मध्यप्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई हिंदी माध्यम में शुरू किए जाने की जानकारी दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 15 नवंबर को प्रदेश में जनजातीय गौरव दिवस मनाया जाएगा। इसमें प्रदेश में पंचायत से लेकर जिला स्तर तक समारोहपूर्वक अनेक कार्यक्रम होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 नवंबर से ही संपूर्ण प्रदेश में सामाजिक समरसता के साथ ’पेसा एक्ट’ भी लागू किया जाएगा। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के भूमि-पूजन के लिए जल्द मंडला आने की बात भी कही।       केंद्रीय इस्पात एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री  फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि पाँच सड़क परियोजना का शिलान्यास महाकौशल क्षेत्र के लिए अत्यंत गौरव का पल है। उन्होंने सड़क परियोजनाओं की स्वीकृति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं सड़क परिवहन मंत्री गडकरी का मंडला एवं डिंडोरी की जनता तथा स्थानीय जन-प्रतिनिधियों की ओर से अभिनंदन किया। कुलस्ते ने जबलपुर-नैनपुर बाईपास, कान्हा क्षेत्र को प्रमुख मार्गों से जोड़ने, नैनपुर-सिवनी हाई-वे, मंडला-लखनादौन के लिए नई परियोजनाओं की स्वीकृति का आग्रह किया। प्रदेश के लोक निर्माण कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री गोपाल भार्गव ने केंद्रीय मंत्री गडकरी को नई सड़क परियोजनाओं की स्वीकृति के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने वर्ष 2014 के बाद से मध्यप्रदेश में सड़क एवं अन्य बड़ी परियोजनाओं के विकास कार्यों की जानकारी दी। मंत्री भार्गव ने सड़क, पुलिया एवं फ्लाईओवर निर्माण के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य करने वाले केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री गडकरी को विजनरी, दृष्टिवान एवं नवाचार का धनी बताया। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन से हुआ। केन्द्रीय मंत्री  गडकरी तथा मुख्यमंत्री  चौहान का स्थानीय जन-प्रतिनिधियों ने कलगी-साफा पहना कर स्वागत किया। कार्यक्रम में 5 सड़क परियोजना पर आधारित लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया। अतिथियों ने सड़क परियोजनाओं पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।     

Kolar News

Kolar News 8 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि सार्वजनिक सम्मान और पुरस्कार व्यक्ति को समाज में बेहतर योगदान के लिए प्रेरित करता है। उनका उत्साहवर्धन करता है। उन्होंने सभी सम्मानितों को बधाई देते हुए आशा व्यक्त की कि वे आगे भी वंचितों और पिछड़ों की मदद के लिए बेहतर कार्य करते रहेंगे। राज्यपाल पटेल ने कहा कि वे प्रदेश के 40 जिलों के दूरस्थ अंचलों का भ्रमण कर चुके हैं। भ्रमण के दौरान वे वंचित और पिछड़े वर्ग के साथ सीधा संवाद करते हैं। सरकार की योजनाओं से मिलने वाली हितग्राहियों की खुशी की अभिव्यक्ति को देख कर उन्हें गर्व और हर्ष का अनुभव होता है कि वे उस प्रदेश के राज्यपाल हैं, जिसकी सरकार पूरी ताकत से लोगों के कल्याण के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने सरकार द्वारा जन-कल्याण के लिए किए जा रहे कार्यों के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी टीम को बधाई दी है। आशा व्यक्त की कि भविष्य में भी सरकार इसी गति से कार्य करती रहेगी। राज्यपाल पटेल ने कहा कि सरकार की जन-कल्याण की योजनाएँ अंतिम कड़ी के व्यक्ति तक पहुँचाने में अधिकारियों, जन-प्रतिनिधियों और समाज की भूमिका महत्वपूर्ण है। राज्यपाल  पटेल ने राज्य के स्थापना दिवस पर होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों की सराहना करते हुए कहा कि आयोजनों ने प्रदेश में उल्लास और उमंग का वातावरण बनाया है। राष्ट्र निर्माण के प्रयासों में योगदान के लिए सम्मान और पुरस्कार की पहल प्रेरणादायी है। राज्यपाल श्री पटेल आज मुख्य अतिथि के रूप में पुरस्कार वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को समृद्ध बनाने के लिए सभी मिल कर कदम बढ़ाएँ, हम प्रदेश की बेहतरी का संकल्प लें और आम इंसान को राहत देते हुए विकास के नए प्रतिमान स्थापित करें। विकास और शांति में खलल डालने वालों को छोड़ेंगे नहीं, नेस्तनाबूत करेंगे। वहीं अच्छा कार्य करने वाले निरंतर प्रोत्साहित होंगे। मुख्यमंत्री चौहान आज शाम रवीन्द्र भवन के हंस ध्वनि सभागार में गरिमामय पुरस्कार वितरण कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने संबोधन में मध्यप्रदेश की विशेषताओं का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रदेश अनेक क्षेत्र में देश में अव्वल है। यह क्रम आगे भी बना रहेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने सभी पुरस्कृत संस्थाओं और व्यक्तियों को बधाई दी। राज्यपाल पटेल और मुख्यमंत्री चौहान ने विभिन्न श्रेणी में पुरस्कार प्रदान किए।     अतिथियों द्वारा मध्यप्रदेश स्थापना दिवस समारोह अंतर्गत भोपाल में सप्ताह भर चली विभिन्न गतिविधियों के प्रतिभागियों को भी प्रशस्ति-पत्र और ट्राफी प्रदान की गई। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा की आज जबलपुर में 5 हजार करोड़ से अधिक राशि से सड़कों का जाल बिछाने के कार्यों का शुभारंभ हुआ है। मुख्यमंत्री  चौहान ने सिंचाई के रकबे में वृद्धि, प्रति व्यक्ति आय बढ़ने और प्रदेश की अन्य प्रमुख उपलब्धियाँ गिनाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार और अन्य पुरस्कार देने का विचार काफी समय से मन में था जिसे आकर दिया गया है। यह सम्मान कार्य करने वालों के प्रति सामाजिक स्वीकृति है। यह सिर्फ प्रमाण पत्र नहीं बल्कि उनके परिश्रम का सम्मान है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उत्कृष्टता और नवाचारों को सदैव प्रोत्साहित किया जाएगा। विभिन्न श्रेणियों में पुरस्कार प्रदान करने का उद्देश्य यही है कि अच्छा कार्य करने वाले और नहीं करने वाले एक समान न समझे जाएँ। उत्कृष्टता का सम्मान हो। पर्यावरण के क्षेत्र में, बच्चों के पोषण और स्वास्थ्य के क्षेत्र में और अन्य क्षेत्र में सराहनीय कार्य करने वाले आज पुरस्कृत हुए हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने आहवान किया कि आज बिजली बचाने, पानी बचाने, नशा मुक्ति, पर्यावरण के संरक्षण, बेटियों की सुरक्षा और सम्मान बढ़ाने के लिए सभी मिल कर कार्य करें। मध्यप्रदेश को समृद्ध और गौरवशाली बनाते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्म-निर्भर और शक्तिशाली भारत के संकल्प को भी पूर्ण करें। मध्य प्रदेश प्रत्येक क्षेत्र में नंबर वन रहे, इसके लिए सभी सहयोग प्रदान करें। मुख्य सचिव इक़बाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजोरा, पुलिस महानिदेशक सुधीर कुमार सक्सेना सहित अनेक वरिष्ठ अधिकारी, विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारी, जन प्रतिनिधि, आम नागरिक काफी संख्या में उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश स्थापना दिवस उत्सव समारोह के समापन के अवसर पर प्रदेश में लगभग आठ हजार लोगों को अलग-अलग क्षेत्रों में, जिनमें सामाजिक संगठन, बेहतर काम करने वाले कर्मचारी-अधिकारी, खिलाड़ी को आज सम्मानित और पुरस्कृत किया गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश अद्भुत है। वन-सम्पदा, जल-सम्पदा, जन सम्पदा ,कल-कल बहने वाली गंगा मैया की तरह नदियाँ, महाकाल महालोक, ओंकारेश्वर, ओरछा में रामलला, मैहर में शारदा मैया, सलकनपुर वाली मैया, तीन-तीन वर्ल्ड हेरीटेज, चित्रकूट, साँची, मण्डलेश्वर, भीमबैठका प्रदेश की धरोहर हैं। मध्यप्रदेश टाइगर स्टेट, लेपर्ड स्टेट, चीता स्टेट और गिद्द स्टेट है। दुनिया भर के प्रवासी पक्षी यहाँ आते हैं। यहाँ की वाइल्ड लाइफ अद्भुत और अभूतपूर्व है। अनेक विशेषताओं से भरा हुआ हमारा मध्यप्रदेश है। सचमुच में इस मध्यप्रदेश पर हमको गर्व है। प्रदेश अब तेजी से प्रगति और विकास के पथ पर अग्रसर है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उत्कृष्ट कार्य करने वालों को मिला यह सम्मान अन्य लोगों को और अच्छा करने की प्रेरणा देगा। उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में अच्छे कार्य के लिए पूरे 52 जिलों को बधाई दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के अंतर्गत प्रधानमंत्री जी द्वारा प्रारंभ की गई योजनाओं और राज्य सरकार की योजनाओं के लिए पात्र हितग्राहियों के नाम जोड़कर उन्हें लाभान्वित करने का महत्वपूर्ण कार्य हुआ है। प्रदेश में 88 लाख नाम योजनाओं के लिए सामने आए हैं। पंचायतों से लेकर वार्डों तक शिविर लगे। इस महत्वपूर्ण उपलब्धि के लिए मंत्रिगण, अन्य जन-प्रतिनिधि, प्रशासनिक अधिकारी और कर्मचारी भी बधाई के पात्र हैं। इन्हें एक दिन स्वीकृति पत्र प्रदान करने का कार्य किया जाएगा। इसकी तिथि शीघ्र तय की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी दो तीन महीनों में अनेक महत्वपूर्ण कार्यक्रम प्रदेश में हो रहे हैं। इनमें खेलो इंडिया,प्रवासी भारतीय दिवस और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट शामिल हैं।       मुख्यमंत्री चौहान के निर्देश पर एक नवम्बर से आरंभ मध्यप्रदेश स्थापना दिवस कार्यक्रम श्रंखला अंतर्गत आयोजित राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरण समारोह में भारत सरकार से वर्ष 2022 में राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कारों के प्राप्तकर्ताओं को प्रशस्ति-पत्र प्रदान किए गए। साथ ही शासकीय योजनाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन और नवाचार के लिए मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार तथा विभिन्न श्रेणियों में उल्लेखनीय कार्य के लिए संस्थाओं को मध्यप्रदेश गौरव सम्मान प्रदान किए गए। मुख्यमंत्री  चौहान ने भारत सरकार से वर्ष 2022 के राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं को सम्मानित किया। स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अंतर्गत वर्ष 2021-22 में संपूर्ण राज्य में स्वच्छता के लिए ओडीएफ स्थायित्व और ओडीएफ प्लस के विभिन्न घटकों के उत्कृष्ट क्रियान्वयन के लिए पश्चिमी क्षेत्र के राज्यों के वर्ग में स्वच्छता सर्वेक्षण ग्रामीण 2022 में मध्यप्रदेश को प्रथम पुरस्कार मिलने पर प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव को प्रशस्ति-पत्र मिला। इसी क्रम में जिला स्तर पर भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया तथा मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत भोपाल को भी भोपाल जिले के प्रथम स्थान प्राप्त करने पर प्रशस्ति-पत्र दिया गया। बुरहानपुर जिले को देश में प्रथम हर घर जल जिला प्रमाणीकरण की उपलब्धि पर भारत सरकार से जल जीवन अवार्ड 2022 प्राप्त हुआ है। इस उपलब्धि के लिए अपर मुख्य सचिव मलय श्रीवास्तव तथा कलेक्टर बुरहानपुर प्रवीण सिंह को प्रशस्ति-पत्र दिया गया।   मुख्यमंत्री चौहान ने खनिजों की खोज, नीलामी और खदानों के संचालन में पहल के लिए राष्ट्रीय खनिज विकास पुरस्कार की श्रेणी-2 का प्रथम पुरस्कार प्राप्त करने पर प्रमुख सचिव खनिज साधन श्री सुखवीर सिंह को प्रशस्ति पत्र दिया। इसी प्रकार स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में देश के बड़े राज्यों में मध्यप्रदेश द्वारा नंबर वन स्वच्छ राज्य का सम्मान अर्जित करने पर प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास श्री मनीष सिंह तथा स्वच्छता सर्वेक्षण 2022 में देश के नंबर वन स्वच्छ शहर का सम्मान प्राप्त करने पर कलेक्टर इंदौर  मनीष सिंह और आयुक्त नगर निगम इंदौर को प्रशस्ति पत्र दिया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में 150 दिवस चैलेंज पुरस्कार 2021 के क्रियान्वयन के लिए राज्यों के श्रेणी में मध्यप्रदेश को सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्य का द्वितीय पुरस्कार प्राप्त हुआ । इस उपलब्धि के लिए प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास मनीष सिंह को प्रशस्ति पत्र दिया गया। लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार वर्ष 2021 दतिया कलेक्टर संजय कुमार और जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी दतिया को प्राप्त हुआ है। पोषण अभियान में जनभागीदारी को प्रोत्साहित करने के लिए प्राप्त इस पुरस्कार के लिए उपरोक्त अधिकारियों को प्रशस्ति पत्र दिए गए।       मुख्यमंत्री चौहान ने शासकीय योजनाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण में छतरपुर जिले के जिला पंचायत अध्यक्ष, कलेक्टर और मुख्य कार्यपालन अधिकारी, प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी में बड़वानी जिले के नगरीय निकाय के अध्यक्ष, कलेक्टर बड़वानी तथा नगरीय निकाय के अधिकारी, म.प्र. राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन में झाबुआ जिले के जिला पंचायत अध्यक्ष, कलेक्टर और मुख्य कार्यपालन अधिकारी को मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार दिया। इसी क्रम में प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिधि योजना(पीएम स्वनिधि) में निवाड़ी जिले के नगरीय निकाय के अध्यक्ष, कलेक्टर तथा कलेक्टर द्वारा नामित नगरीय निकाय के अधिकारी और सीएम हेल्पलाइन एवं लोक सेवा गारंटी अधिनियम अंतर्गत बुरहानपुर जिले के कलेक्टर तथा जिला प्रबंधक, लोक सेवा प्रबंधन को पुरस्कार प्रदान किया गया। नवाचार के लिए छह श्रेणियों में पुरस्कार दिए गए। स्वास्थ्य एवं पोषण श्रेणी में योग से निरोग कार्यक्रम के लिए प्रमुख सचिव, आयुष श्री प्रतीक हजेला और उप संचालक आयुष डॉ. राजीव मिश्रा तथा उमंग हेल्पलाइन के लिए अतिरिक्त संचालक लोक शिक्षण सुश्री कामना आचार्य को पुरस्कार दिया गया। कार्यक्रम में रोजगार एवं आर्थिक विकास श्रेणी के लिए स्व-सहायता समूह द्वारा पोषण आहार संयंत्र संचालन के लिए प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव और मुख्य कार्यपालन अधिकारी मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन ललित बेलवाल तथा आवास सामग्री एप फ्लाय एश और सेट्रिंग के लिए प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव तथा संचालक प्रधानमंत्री आवास को नवाचार में पुरस्कार प्रदान किए गए।     मुख्यमंत्री चौहान ने पर्यावरण एवं जल संरक्षण श्रेणी में नर्मदा समग्र भोपाल, वीरता पूर्ण कार्य के लिए हॉक फोर्स, सामाजिक सुधार श्रेणी में मध्यप्रदेश गायत्री परिवार, महिला एवं बच्चों का विकास श्रेणी में सेवा भारती मध्य भारत को मध्यप्रदेश गौरव सम्मान प्रदान किए। जनभागीदारी और सामुदायिक प्रबंधन श्रेणी में व्यक्तिगत श्रेणी के अंतर्गत विजय मनोहर तिवारी और संस्थागत श्रेणी में 56 दुकान व्यापारी एसोसिएशन इंदौर, शिक्षा एवं खेलकूद के क्षेत्र में व्यक्तिगत श्रेणी में सुश्री रूबीना फ्रांसिस और संस्थागत श्रेणी में सरस्वती शिक्षा परिषद, स्वास्थ्य एवं पोषण क्षेत्र में व्यक्तिगत श्रेणी में विनायक लोहानी और संस्थागत श्रेणी में आइनॉक्स एयर प्रोडक्ट्स प्रायवेट लिमिटेड तथा जन सेवा के क्षेत्र में आरूषी भोपाल संस्था को मध्यप्रदेश गौरव सम्मान प्रदान किया गया। सुश्री रूबीना फ्रांसिस की ओर से उनके प्रतिनिधि ने सम्मान ग्रहण किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में संस्कृति विभाग के सौजन्य से आकर्षक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए। बुंदेलखंड अंचल के प्रसिद्ध बधाई लोक नृत्य की प्रस्तुति प्रतिभाशाली युवक युवतियों के दल द्वारा दी गई। इस प्रस्तुति का अतिथियों सहित सभी उपस्थित लोगों ने आनंद प्राप्त किया।  

Kolar News

Kolar News 8 November 2022

केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने कहा है कि मध्यप्रदेश में 6 लाख करोड़ रूपये से अधिक लागत की सड़कें बनाई जायेंगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के भागीरथ प्रयासों से मध्यप्रदेश बीमारू राज्य से विकसित राज्य बन गया है। उन्होंने मुख्यमंत्री के आग्रह पर जबलपुर में लॉजिस्टिक पार्क स्वीकृत करने की घोषणा की। केन्द्रीय मंत्री गड़करी और मुख्यमंत्री चौहान ने जबलपुर में 4054 करोड़ रूपये लागत से 214 किलोमीटर लंबाई की 8 सड़क परियोजना का शिलान्यास और लोकार्पण किया। उन्होंने विकास कार्यों के लिये आधा दर्जन मार्गों को मंजूरी देते हुए सौगात दी। जिसका लाभ दमोह, सागर, सिवनी, बालाघाट, कटनी, डिण्डौरी सहित पूरे मध्य भारत को मिलेगा। केन्द्रीय मंत्री गड़करी ने कहा कि जबलपुर में विकास की अपार संभावनाओं को मूर्त रूप देने के लिये केन्द्र सरकार से हमेशा सहयोग मिलेगा। यहाँ शिक्षा, चिकित्सा, उद्योग, रोजगार सहित अन्य सभी सेक्टर्स में विकास को गति मिलेगी। जबलपुर नगर में एम्पायर टॉकीज से कटंगा, साउथ एवेन्यू मॉल से ग्वारी घाट-गुरूद्वारा तक रोप-वे को मंजूरी दी जा रही है। साथ ही सिविक सेंटर से मालवीय लार्डगंज, बड़ा फुहारा, बल्देव बाग तक फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार होते ही फ्लाई ओवर निर्माण की स्वीकृति दी जायेगी।   केन्द्रीय मंत्री गड़करी ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान प्रदेश में जहाँ कहीं भी लॉजिस्टिक पार्क की स्थापना का प्रस्ताव देंगे उन सबको मंजूरी दे दी जायेगी। उन्होंने कहा कि शहपुरा-भिटोनी मार्ग को उन्नत करने और उमरिया-डुंगरिया मार्ग को रिंग रोड से जोड़ने के कार्य को स्वीकृति दी जायेगी। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल द्वारा शहपुरा-नरसिंहपुर और दमोह की सभी सड़क परियोजनाओं को जल्द ही मूर्त रूप दिया जायेगा। जबलपुर में रिंग रोड पर तैयार होने वाले आईकॉनिक ब्रिज को पर्यटन के लिये विकसित करने के लिये केन्द्र सरकार द्वारा सभी संभव मदद दी जायेगी। केन्द्रीय मंत्री गड़करी ने कहा कि जबलपुर से दमोह तक 800 करोड़ रूपये की लागत से 100 किलोमीटर 2 लेन सड़क निर्माण की मंजूरी दी गई है। इस मार्ग के लिये डीपीआर का कार्य पूरा हो गया है। शीघ्र ही निर्माण कार्य शुरू होगा। जबलपुर के आईएसबीटी से पाटन तक 2 लेन सड़क, नरसिंहपुर से सिंहपुर तक 10 किलोमीटर लंबी 4 लेन सड़क को मंजूरी दी गई है। नरसिंहपुर से श्योपुर मार्ग का डीपीआर बहुत जल्द तैयार हो जायेगा। सिवनी से बालाघाट तक 88 किलोमीटर लंबा मार्ग नया एनएच होगा। बालाघाट से राजेगाँव तक 4 लेन मार्ग के लिये टेंडर प्रक्रिया वर्ष 2023 तक पूर्ण हो जायेगी। राजेगाँव से रायपुर तक 3 हजार 500 करोड़ रूपये लागत से नया सड़क मार्ग तैयार किया जायेगा।   केन्द्रीय मंत्री गड़करी ने कहा कि जबलपुर में बनने वाले रिंग रोड के आसपास की जमीन राज्य सरकार अधिग्रहित करे। डेव्हलपमेंट अथॉरिटी बनाये। इस जमीन पर लॉजिस्टिक पार्क, इण्डस्ट्रियल क्लस्टर और स्मार्ट सिटी का निर्माण किया जा सकता है1 उन्होंने कहा कि भेड़ाघाट में म्यूजिकल फाउंटेन बनाने में केन्द्र सरकार मदद करेगी। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि जबलपुर और नागपुर के मध्य मेट्रो ट्रेन जल्दी ही शुरू की जायेगी। इसमें 8 बोगी होंगी। दो बोगी फल-सब्जियों के लिये रहेंगी। शेष छह बोगी में एक बिजनेस क्लास बोगी होगी, जिसमें हवाई जहाज की तरह सुविधाएँ होंगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सड़क परियोजनाओं-रिंग रोड का निर्माण जबलपुर के सर्वांगीण विकास की गारंटी है। यह केवल रिंग रोड ही नहीं है, बल्कि युवाओं के रोजगार, उद्योग, व्यापार, शिक्षा और स्वास्थ्य सहित विकास के लिये अनेक द्वार खोलने वाली परियोजना है। इससे महाकौशल क्षेत्र में पर्यटन की संभावनाएँ बढ़ेंगी। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में जबलपुर प्रदेश के सर्वाधिक विकसित शहरों में होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि देश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सक्षम नेतृत्तव में तेजी से आगे बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री गड़करी ने देश में विकास की नई परंपरा शुरू की है। उनकी कल्पनाशीलता का लाभ सभी को मिल रहा है। उन्होंने असंभव को भी संभव बनाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अमृत फेज-दो में जबलपुर के लिये 720 करोड़ रूपये के कार्य स्वीकृत किये जा रहे हैं। डुमना एयरपोर्ट 421 करोड़ रूपये की लागत से बन रहा है। उन्होंने आईकॉनिक ब्रिज बनाने और मॉस रेपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम को आधुनिकतम बनाने का भी आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि जन-प्रतिनिधियों के विकास एवं जन-कल्याण संबंधी कार्यों के प्रस्ताव स्वीकृति के लिये भेजे जायेंगे।       केन्द्रीय जल शक्ति एवं खाद्य प्र-संस्करण एवं उद्योग राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा है कि हर क्षेत्र में विकास कार्य हो रहे हैं, जिसका लाभ सभी को मिल रहा है। दमोह जिले में भी जल्द राष्ट्रीय राजमार्ग रफ्तार भरेगा। विकास की जो नींव आज रखी जा रही है, उसका लाभ आने वाले 50 वर्ष तक मिलेगा। प्रदेश के लोक निर्माण और जबलपुर जिले के प्रभारी मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि देश ने वर्ष 2014 के बाद विकास की रफ्तार पकड़ी है। सड़कों के बिना विकास की कल्पना ही नहीं की जा सकती। उच्च गुणवत्ता की सड़कें क्षेत्र को और लोगों को समृद्ध बनाती हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्री गड़करी कामधेनु और कल्पवृक्ष की तरह विकास और जन-कल्याण की सभी माँगों को पूरी करते हैं। सांसद राकेश सिंह ने कहा कि महाकौशल अंचल को आज मिली 13 सड़क परियोजनाओं की सौगात से इस क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ेंगी, संपन्नता आयेगी और युवाओं के लिये रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। उन्होंने इन परियोजनाओं की सौगात देने के लिये केन्द्रीय मंत्री गड़करी का आभार माना।

Kolar News

Kolar News 8 November 2022

कांग्रेस अपने संगठनात्मक आधार को मजबूत करने में लगी हुई है। पार्टी ने मध्यप्रदेश में 2 अक्टूबर से अब तक 7000 गांधी चौपाल आयोजित की हैं। ये चौपालें छोटे-छोटे मजरे टोला से लेकर पहाड़ी क्षेत्रों और  शहर के वार्डों तक में आयोजित की गई हैं। इन चौपालों के माध्यम से प्रदेश की वास्तविक स्थितिसामने आ रही है। कांग्रेस का कहना है। 18 साल के कुशासन में किस तरह से जनता दमन , शोषण  और गरीबी का शिकार हुई है। यह भुलाया नहीं जा सकता। प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष और गांधी चौपाल के प्रदेश प्रभारी भूपेंद्र गुप्ता ने बताया कि आगामी 15 नवंबर को छिंदवाड़ा के शिकारपुर में गांधी चौपाल आयोजित की जाएगी। जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ शामिल रहेंगे।  गुप्ता ने यह भी बताया कि छिंदवाड़ा जिले में एक ही दिन में एक साथ अलग-अलग समन्वयकों ने एक ही दिन में 54 गांधी चौपाल लगाने का रिकॉर्ड कायम किया है। प्रदेश में ग्वालियर,इंदौर, रीवा,सहित कई जिलों में  सर्वाधिक चौपालें आयोजित हुई हैं। उन्होंने बताया कि चौपालों के माध्यम से जो जानकारियां सामने आ रही हैं, वे चौंकाने वालीं हैं। कई जिलों में टापुओं पर नागरिक बसाहटें हैं। गांव जाने के लिए नाव से जाना पड़ता है। और नाव से उतरने के बाद भी  2-2 किलोमीटर ऊपर पहाड़ चढ़ना पड़ता है।    भूपेंद्र गुप्ता ने कहा कि प्रदेश के ज्यादातर सीमावर्ती इलाके पलायन की समस्या से ग्रसित हैं। कई गांव में बुजुर्ग महिलाओं के अलावा कोई भी नहीं मिलता। सारे पुरुष गुजरात ,उत्तर प्रदेश, दिल्ली और मुंबई काम की तलाश में पलायन कर गए हैं। प्रदेश में मनरेगा या अन्य कोई योजना उन्हें संतोषजनक काम देने में असफल हुई है। कई गांव में बिजली नहीं है। पीने के पानी के लिए मीलों दूर जाना पड़ता है। डॉक्टरों की उपलब्धता ग्रामीण क्षेत्रों में कभी-कभी भगवान के वरदान की तरह मिल पाती है।  गुप्ता ने कहा हैरान करने वाली बात है कि पीने का पानी, बिजली और अधिकृत राशन तो नहीं पहुंचा। लेकिन नशा गांवों-गांव तक पहुंच गया है। बेरोजगार नशे के चपेट में हैं। महंगाई विस्फोटक है। गुप्ता ने कहा कि चौपालों के माध्यम से आने वाली समस्याओं की जानकारी प्रदेश की जनता को 2023 में प्रमाण सहित दी जाएगी। लगभग 3000 चौपाल समन्वयक निरंतर गांव से जनसंपर्क को सतत बनाए हुए हैं।   

Kolar News

Kolar News 7 November 2022

मध्यप्रदेश  के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह  को लेकर कहा कि दिग्विजय सिंह का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने का सपना अधूरा रह गया। दिग्विजय बुजुर्ग नेता है। वो किसी के साथ भी डांस कर सकते हैं। अब फिटनेस का दौर है तो दिग्विजय को भी फिटनेस तो दिखानी पड़ेगी।  इस मौके पर उन्होंने कमलनाथ और राहुल गाँधी  की भारत जोड़ो यात्रा पर भी तंज कसा। गृह मंत्री  मिश्रा ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि कमलनाथ को किसान और बेरोजगार से झूठ बोलने के लिए  खेद पत्र जारी करना चाहिए की उन्होंने उस समय के कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष से झूठ बुलवा लिया। राहुल गाँधी ने ही कमलनाथ से किसानों का कर्ज और बेरोजगारों का रोजगार वादा किया था। राहुल मध्यप्रदेश में आने से पहले किसान और नौजवान से माफ़ी मांगे।     गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा राहुल की यात्रा का ध्येय पहले दिन से ही नहीं था। बदलने का सवाल ही नहीं खड़ा होता है। वहीं उन्होंने दिग्विजय सिंह के डांस पर कहा कि दिग्विजय सिंह किसी के साथ भी डांस कर सकते हैं। उनकी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने की मंशा तो पूरी हुई नहीं। अब राहुल की फिटनेस की बात पर वे डांस कर रहे हैं। अच्छा है बुजुर्गों को ऐसा करते रहना चाहिए।  मिश्रा ने कहा विधानसभा सत्र सार्थक चर्चा के लिए होती  हैं। हल्ला करने के लिए नहीं विपक्षी मुख्यमंत्री का भाषण भी सत्र में नहीं सुनते हैं। मिश्रा ने शिवपुरी मर्डर के मामले में कहा  मुख्य आरोपी और लड़की के पिता सुरेश जाटव को  गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने कहा टीटी नगर के अपराधियों का वीडियो संज्ञान में आया है। अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा रासुका की कार्रवाई की जाएगी।इन अपराधियों के जमानत दरों के विरुद्ध भी कार्यवाही होगी। 

Kolar News

Kolar News 7 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि बैकुंठ सुदर्शन धाम का प्रकल्प आने वाली पीढ़ियों के लिए भारत की एकता और अखंडता की प्रेरणा का केंद्र बनेगा। यह धाम राष्ट्र-प्रेम और राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक होकर आध्यात्मिकता को मजबूत बनाएगा। देश के उत्थान के लिए उत्तम मानव निर्माण के संकल्प की पूर्ति में सहायक होगा और शिक्षा, आरोग्य, स्वास्थ्य तथा पर्यावरण-संरक्षण की दिशा में भी यह धाम महती भूमिका निभाएगा।राज्यपाल पटेल आज नर्मदापुरम जिले की तहसील इटारसी के ग्राम धोखेड़ा में बैकुंठ सुदर्शन धाम श्री वेंकटेश्वर मंदिर के भूमि-पूजन एवं शिलान्यास कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। राज्यपाल  पटेल ने कहा कि ईश्वर की सभी रचनाओं में मानव ही सबसे उत्तम, शक्तिशाली और बुद्धिमान है। ईश्वर द्वारा केवल मानव को ही बोलने की शक्ति प्रदान की गई है।  मानव को धन अर्जन और स्वयं के विकास तक ही सीमित न होकर समाज और देश के विकास के लिए भी अग्रसर होना चाहिये। उन्होंने कहा कि भारतीय परंपरा में सभी के कल्याण के लिए कार्य करने को सर्वाधिक महत्व दिया गया है। राज्यपाल ने सनातन धर्म और संस्कृति के गौरव उत्थान की ऐतिहासिक पहल के लिए अखिल भारतीय स्वामी सीतारामचार्य भागवत संगोष्ठी न्यास को बधाई दी।   राज्यपाल पटेल ने कहा कि आप सभी ने जिस निष्ठा के साथ मंदिर के निर्माण का संकल्प लिया है, उसी भावना के साथ समाज के वंचित वर्गों को विकास की मुख्यधारा में शामिल करने और समतामूलक, समावेशी समाज बनाने के राष्ट्रीय प्रयासों में सहयोगी बने। राज्यपाल ने कहा कि सुधार के लिए हमारे बीच से ही नागरिक आगे आते हैं। युग साक्षी है कि जब भी समाज में बुराई के तत्व बढ़ने लगते हैं, तब कोई महापुरुष आकर उन बुराइयों को दूर करता है। गीता में भी भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है कि "जब भी समाज में अधर्म बढ़ेगा, मैं जन्म लेकर सभी का कल्याण करूँगा"। राज्यपाल पटेल ने कहा कि हम अपनी असली जड़ों से जुड़े, जिससे अपनी वास्तविक शक्ति से परिचित हो सकें। हम आध्यात्मिकता और सांस्कृतिक एकता की विरासत के संरक्षण और संवर्धन में सहभागी होकर भावी पीढ़ी को भारतीय जीवन मूल्य से संस्कारित करें। उन्होंने इस पवित्र प्रसंग का साक्षी होने का अवसर देने के लिए गुजरात के श्रीकांत और चांडक का आभार माना। श्री वेंकटेश्वर मंदिर का भूमि-पूजन शास्त्रों में निहित परंपरा के अनुरूप विधिवत किया गया। संस्थापक युवराज स्वामी राम कृष्णा आचार्य जी ने मंदिर परियोजना की जानकारी दी। 

Kolar News

Kolar News 7 November 2022

गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दतिया में शनिवार को एक करोड़ 99 लाख रूपये की लागत से बनने वाली सड़कों का भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा है कि दतिया को प्रदेश का नंबर वन जिला बनाना है। दीर्घकालीन पचास वर्षीय योजना तैयार कर विकास कार्य किये जा रहे हैं। मंत्री डॉ. मिश्रा ने सेवड़ा चुंगी से गुलजार मार्ग और ग्वालियर-झांसी मार्ग से राजगढ़ तिराहा, हनुमान गली वाया होली क्रॉस स्कूल की सड़क का भूमि-पूजन किया। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि दतिया को प्रदेश का जिला नंबर वन बनाने के लिये सभी आवश्यक कार्य किये जायेंगे। उन्होंने सड़कों का निर्माण कार्य 7 दिन में प्रारंभ कर आगामी 4 माह में पूर्ण करने के निर्देश दिये। मंत्री डॉ. मिश्रा ने निर्माण एजेंसियों को निर्देशित किया कि कार्य की गुणवत्ता में किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जायेगा। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि दतिया में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने तीर्थ स्थलों का सौदर्यीकरण और बावड़ियों का जीर्णोद्धार कार्य कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि जल्द ही ऑडिटोरियम का निर्माण भी किया जायेगा।

Kolar News

Kolar News 6 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि खाद वितरण की ऐसी व्यवस्था करें कि कहीं भी खाद प्राप्त करने के लिए किसानों को लाइन न लगाना पड़े। उपलब्धता के बाद यह सुनिश्चित करें कि वितरण की व्यवस्था भी सही रहे। केन्द्र सरकार से निरंतर आवंटन प्राप्त हो रहा है। खाद की कोई कमी नहीं है। वितरण का असंतुलन नहीं होना चाहिए। यह जानकारी भी किसान तक पहुँचे। खाद वितरण के सुचारू प्रबंध मैदान में दिखना चाहिए। कंट्रोल रूम से निगाह रखते हुए प्रतिदिन की जानकारी सामने लाई जाए। व्यवस्था में दोषी लोगों को जेल भेजने की कार्यवाही हो। प्रदेश में खाद वितरण के 262 अतिरिक्त काउंटर प्रारंभ किए गए हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पूरे प्रदेश में सुचारू रूप से खाद और उर्वरक का वितरण सुनिश्चित करें। उन्होंने निर्देश दिए कि गड़बड़ी करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि तकनीक का इस्तेमाल करते हुए व्यवस्थाओं को प्रभावी बनाएँ। समय पर वितरण के साथ ही सोशल मीडिया से किसानों को आँकड़ों सहित वास्तविक स्थिति की जानकारी जिला स्तर पर दी जाए। इसके लिए कलेक्टर्स आवश्यक व्यवस्थाएँ करें। मुख्यमंत्री चौहान ने बोवनी कार्य की जानकारी भी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि किसानों को उनके परिश्रम की पूरी कीमत मिलना चाहिए। विशेष रूप से मंडियों में आने वाले सब्जी उत्पादकों को बिचौलियों और व्यापारियों द्वारा अनुचित लाभ लेने से बचाने पर भी ध्यान दिया जाए।       बैठक में बताया गया कि केन्द्र सरकार द्वारा माह नवम्बर-2022 के लिए यूरिया का आवंटन सात लाख मी. टन (2.85 लाख मी. टन स्वदेशी एवं 4.15 लाख मी. टन आयातित) एवं डीएपी का आवंटन 1.94 लाख मी. टन (0.20 लाख मी. टन स्वदेशी एवं 1.74 लाख मी. टन आयातित) दिया गया है। माह नवम्बर 2022 के लिए 4.15 लाख मी. टन आयातित यूरिया का आवंटन दिया गया है, जिसके विरूद्ध केन्द्र सरकार द्वारा 60 हजार मी. टन का आवंटन दिया गया है। दिनांक 5 नवम्बर 2022 की स्थिति में यूरिया 1.20 लाख मी. टन ट्रांजिट सहित, डीएपी 0.83 लाख मी. टन ट्रांजिट सहित‍ एवं एनपीके ट्रांजिट सहित 0.34 लाख मी. टन प्राप्त है। दिनांक 4 नवम्बर 2022 की स्थिति में यूरिया का स्टॉक 2. 23 लाख मी. टन, डीएपी का स्टॉक 1.52 लाख मी. टन एवं एनपीके का स्टॉक 1.14 लाख मी. टन है।   बताया गया कि गत वर्ष 30 नवम्बर, 2021 तक विक्रय मात्रा के अनुसार अनुमान के आधार पर दिनांक 4 नवम्बर 2022 तक यूरिया 32 जिलों में, डीएपी 41 जिलों में, एनपीके 34 जिलों में और डीपएपी +एनपीके का 42 जिलों में भण्डारण कर लिया गया है। विपणन संघ ने माह नवम्बर के लिए 175 यूरिया के रेक और 78 रेक डीएपी की माँग की है, जिसके विरूद्ध एक नवम्बर से 4 नवम्बर 2022 तक 23 यूरिया की रेक और 15 डीएपी की रेक ट्रांजिट सहित मिल चुकी है। विपणन संघ के 240 डबल लॉक केंद्र से नगद वितरण प्रारंभ हो चुका है। भीड़ वाले डबल केंद्रों पर अतिरिक्त केंद्र स्वीकृत किए गए हैं। कुल 90 केंद्रों से विक्रय प्रारंभ है, शेष विक्रय केंद्र अगले दो दिन में 7 नवम्बर तक प्रारंभ हो जाएंगे।   बताया गया कि प्रदेश में मार्केटिंग समितियों के 105 विक्रय केंद्र प्रारंभ हैं। विपणन संघ के डबल लॉक केंद्रों से एक अक्टूबर से अभी तक 68 हजार मी. टन यूरिया और 61 हजार मी. टन डीएपी को बेचा जा चुका है। माह अक्टूबर-2022 का यूरिया का आवंटन 6 लाख मी. टन है, जिसके विरूद्ध 3.64 लाख मी. टन यूरिया ट्रांजिट सहित प्राप्त हुआ है और 2.36 लाख मी. टन शीघ्र प्राप्त होगा। डीएपी का अक्टूबर 2022 के लिए आवंटन 4 लाख लाख मी. टन है, जिसके विरूद्ध 2.65 लाख मी. टन ट्रांजिट सहित प्राप्त हुआ है। अक्टूबर, 2022 के कोटे की शेष यूरिया की मात्रा 2.36 लाख मी. टन और डीएपी की शेष मात्रा 1.35 लाख मी. टन मिलाकर माह नवम्बर 2022 के लिए यूरिया का आवंटन 9.36 लाख मी. टन, डीएपी 3.29 लाख मी. टन का संशोधित आवंटन आदेश माह नवम्बर 2022 के लिए जारी करने की कार्यवाही की जा रही है। साथ ही एडवांस प्लानिंग में माह दिसम्बर के लिए यूरिया की माँग 5 लाख मी. टन, डीएपी 1.25 लाख मी. टन, एनपीके 0.30 लाख मी. टन का अनुमान लगाया गया है। इसकी व्यवस्था के लिए भी प्रयास अभी से किए जा रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 6 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में अपराधों पर पुख्ता नियंत्रण के उद्देश्य से वर्ष 2008 से चिन्हित अपराध पर कार्रवाई की नियमित समीक्षा का कार्य शुरू हुआ है, जिसके अंतर्गत चिन्हित अपराधों की श्रेणी में शामिल अपराध में उल्लेखनीय कमी लाने के साथ ही इन अपराधों को अंजाम देने वाले अपराधियों को कठोरतम दंड देने का कार्य हो रहा है। चिन्हित अपराधों की श्रेणी इसलिए बनाई गई है, जिससे अपराधियों पर तुरंत कार्रवाई हो सके और उनमें भय का वातावरण व्याप्त हो।   मुख्यमंत्री चौहान ने चिन्हित अपराध योजना के संबंध में आज निवास सभा कक्ष में गृह विभाग का प्रेजेंटेशन देखा और समीक्षा के दौरान यह बात कही। मुख्यमंत्री चौहान को बैठक में चिन्हित अपराध योजना के अब तक के परिणाम, वर्तमान स्थिति, महत्वपूर्ण उपलब्धियों, विभिन्न जिलों की स्थिति और भविष्य की कार्य-योजना के संबंध में प्रेजेंटेशन से जानकारी प्रदान की गई।प्रेजेंटेशन में बताया गया कि चिन्हित अपराधों की समीक्षा के लिए जिला, संभाग और राज्य स्तर पर समितियों का गठन किया गया है, जिसकी प्रत्येक माह समय-समय पर समीक्षा की जाती है। जिला स्तर पर कलेक्टर्स, पुलिस अधीक्षक, जिला अभियोजन अधिकारी/शासकीय अधिवक्ता, संभाग स्तर पर संभाग आयुक्त, पुलिस महानिरीक्षक और राज्य स्तर पर अपर मुख्य सचिव, गृह की अध्यक्षता में पुलिस महानिदेशक/अति. पुलिस महानिदेशक-अपराध अंवेषण और विवेचना एवं प्रमुख सचिव, अपर मुख्य सचिव/ विधि एवं विधायी कार्य विभाग और संचालक लोक अभियोजन की सदस्यता वाली समिति की बैठक की जाती है।   मुख्यमंत्री चौहान को प्रेजेंटेशन के माध्यम से चिन्हित प्रकरणों और दोष सिद्ध प्रकरणों से भी अवगत कराया गया। बैठक में प्रेजेंटेशन से मुख्यमंत्री चौहान को वर्ष 2008 से वर्ष 2022 (30 सितंबर) तक प्रदेश में चिन्हित अपराधों के मामले में बेहतर प्रदर्शन करने वाले और सुधार की आवश्यकता वाले जिलों की स्थिति के बारे में भी अवगत कराया गया। बताया गया कि वर्ष 2020-22 में महिला संबंधित चिन्हित अपराधों में 2 मृत्यु दंड, 187 आजीवन कारावास, 137 अन्य कठोर कारावास से अपराधी दंडित किए गए है। चिन्हित पर कार्यवाही की दृष्टि से खरगोन, बालाघाट, खण्डवा, मण्डला और झाबुआ जिले अच्छे प्रदर्शन की श्रेणी में शामिल हैं।हत्या के वीभत्स प्रकरण, सामूहिक हत्याकांड, हत्या के साथ डकैती, सामूहिक बलात्कार, आतंकवादी कृत्य, अपहरण के साथ हत्या, पुरातत्व महत्व की और धार्मिक मूर्तियों की चोरी, जिनसे जन-सामान्य की भावनाएँ जुड़ी हैं, बारह वर्ष से कम उम्र की बालिकाओं के साथ बलात्कार आदि की घटनाओं को चिन्हित अपराधों की श्रेणी में शामिल कर कठोरतम दंड देने की व्यवस्था की गई है। 

Kolar News

Kolar News 6 November 2022

अब से दीदी माँ कहलाएंगी मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती। हम आपको बता दें की उमा भारती ने 1992 में अमरकंटक में सन्यास लिया था। जिसे 17 नवंबर को पूरे 30 साल हो जायेंगे। और 17 तारीख से वे अपने परिवार से मोह और अर्थ के बंधनो को त्याग देंगी। अब उमा भारती ने ऐलान किया है कि वे अबसे दीदी माँ कहलाएंगी। उमा भारती के सन्यास को 17 नवम्बर को 30 साल पूरे हो जायेंगे। जिसे लेकर उन्होंने अपने तट्वीटर पर एक एक कर 17 ट्वीट किये हैं। और परिवारजनों को सभी बंधनों से मुक्त करने और खुद के भी पारिवारिक बंधनों के मुँह और अर्थ से मुक्त होने की बात कही है। उन्होंने ट्वीट करते हुए बताया की कैसे उन्होंने अपने गुरु के किये गए 3 प्रश्नों के उत्तर देकर। और खुद तीन प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर दिक्षा ग्रहण की। उमा ने यह भी बताया की उनके गुरु ने उनके राजनैतिक जीवन को लेकर कहा की देश के लिए राजनीति करनी पड़ेगी। राजनीति में मैं किसी भी पद पर रहूं, मुझे और मेरी जानकारी में सहयोगियों को रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार से दूर रहना होगा। उमा ने ट्वीट में लिखा की उनके गुरु देव ने परिवार के सम्बन्ध कहा कि मैं परिवार से सम्बन्ध रख सकती हूं। लेकिन करुणा , दया ,मोह  या अर्थ नहीं रख सकती। उमा भारती ने अपने ट्वीट में लिखा कि "मैं जिस जाति, कुल व परिवार में पैदा हुई, उस पर मुझे गर्व है। मेरे निजी जीवन व राजनीति में वह मेरा आधार व सहयोगी बने रहे। हम 4 भाई, 2 बहन थे, जिसमें से 3 का स्वर्गारोहण हुआ है। पिता गुलाब सिंह लोधी खुशहाल किसान थे। मां, बेटीबाई कृष्ण भक्त सात्विक जीवन जीने वाली थीं। मैं घर में सबसे छोटी हूं। यद्यपि पिता के अधिकतर मित्र कम्युनिस्ट थे, किंतु मुझसे ठीक बड़े भाई अमृत सिंह लोधी, हर्बल सिंह जी लोधी, स्वामी प्रसाद जी लोधी और कन्हैया लाल जी लोधी सभी जनसंघ व भाजपा से मेरे राजनीति में आने से पहले ही जुड़ गए थे। इसके साथ उन्होंने अपने ट्वीट में  बचपन से लेकर संन्यास लेने, राजनीतिक और पारिवारिक पृष्ठभूमि के बारे में कई अहम बातें लिखी हैं। 

Kolar News

Kolar News 5 November 2022

मध्यप्रदेश सरकार के लगातार कर्ज लेने पर कांग्रेस भाजपा सरकार को घेर रही है। जिसपर वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी बौखलाई हुई है। उन्होंने झूठ बोलकर अपनी सरकार बनाई थी। जो 15 महीने में ही चली गई और इन 15 महीनों में कांग्रेस ने एक भी विकास की ईट नहीं लगाई।  देवड़ा  ने कहा कि कांग्रेस ने अपनी सरकार झूठ बोलकर बनायीं थी। उन्होंने अपने 15 महीनों में कुछ नहीं किया। जिसका परिणाम यह रहा कि उन्ही की पार्टी के वरिष्ठ नेता इस्तीफा देकर भोजपा में शामिल हो गए। कांग्रेस विचार करके बताये कि उन्होंने अपनी सरकार के दौरान कितना कर्ज़ा लिया था और उससे कितने विकास के काम किये। उन्होंने कहा कर्ज़ा लेना कोई बुराई नहीं है हर सरकार कर्ज़ा लेती है। एक नियम और प्रक्रिया से कर्ज़ा लिया जाता है। और उसे चुकाया भी जाता है।    वित्तमंत्री देवड़ा ने कहा मुख्यमंत्री शिवराज के मार्गदर्शन में प्रदेश की सरकार अच्छी चल रही है। कर्ज़ा लिया है तो सड़कें बना रहे हैं। तालाब बना रहे हैं ,स्कूल खोल रहे हैं , विकास के काम हो रहे हैं। हमारी सरकार गरीबों के लिए योजनाएं बना रही है। जनकल्याणकारी योजनाएं बनायी जा रही हैं। भारत जोड़ो यात्रा को लेकर  देवड़ा ने कहा कि कोंग्रेसी दो दिन रहे या दस दिन रहे पार्टी तो वही कांग्रेस पार्टी रहेगी जिसने  जनता के लिए कुछ नहीं किया। इसलिए क्या फर्क पड़ता है की वो 10 दिन रुके या 15 दिन कांग्रेस को मध्यप्रदेश की जनता भी जानती है। और पूरे देश की जनता भी जानती है। लोगों का कांग्रेस पार्टी से विश्वास उठ चुका है। जनता को पता है कि जब जब भाजपा की सरकार बनी है चाहे वो राज्य में हो या देश में हो तब तब विकास के कार्य हुए है। इसलिए जनता का भाजपा पर अटूट विश्वास है।            

Kolar News

Kolar News 5 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पीथमपुर मध्यप्रदेश की औद्योगिक एवं रोजगार देने वाली राजधानी बन गया है। यहाँ बड़े पैमाने पर उद्योग स्थापित हुए हैं और उद्योगों के लिये निवेश आने का क्रम जारी है। यहाँ बेटियों के लिये अलग से महिला उद्यमी पार्क बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री चौहान पीथमपुर में रोजगार दिवस और "एक जिला-एक उत्पाद'' कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने 1371 करोड़ रूपये के विकास कार्यों की सौगात दी और 3 लाख 19 हजार युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ने के लिये 2577 करोड़ रूपये की ऋण राशि का वितरण किया। साथ ही महाराणा प्रताप और शिवाजी महाराज की प्रतिमा का अनावरण किया। मुख्यमंत्री ने महिला उद्यमी पार्क का भूमि-पूजन कर 21 महिला उद्यमियों को भूमि आवंटन-पत्र भी सौंपे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में सांस्कृतिक मूल्यों की स्थापना के लिये सांस्कृतिक पुनरुत्थान के कार्य शुरू हो गये हैं। वाग्देवी की प्रतिमा, जो इस समय इंगलैंड में है, को पुन: मध्यप्रदेश लाने के प्रयास किये जा रहे हैं। कानूनी प्रक्रिया पूरी की जा रही है। उज्जैन में महाकाल लोक बनाया गया है। ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य की प्रतिमा स्थापना का कार्य चल रहा है।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार युवाओं को रोजगार और स्व-रोजगार देने के लिये रात-दिन एक कर रही है। अगले एक वर्ष में एक लाख रिक्त सरकारी पदों पर भर्ती की जायेगी। नवम्बर माह में 40 हजार रिक्त पदों में भर्ती के लिये विज्ञापन जारी हो जायेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पीथमपुर में 1100 एमएसएमई इकाइयों में 12 हजार 777 करोड़ रूपये का निवेश है और 38 हजार 770 लोगों को रोजगार मिला है। यहाँ 95 बड़ी औद्योगिक इकाइयाँ स्थापित हैं, जिसमें 26 हजार 320 करोड़ रूपये का निवेश है और 53 हजार 493 लोगों को रोजगार मिला है। इस तरह से कुल एक लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिला हुआ है। पीथमपुर के फार्मा सेक्टर ने दुनियाभर को कोविड में दवाएँ पहुँचा कर अद्भुत काम किया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि किसान भाइयों से जमीन लेकर 12 हजार 500 हेक्टेयर में नया निवेश क्षेत्र स्थापित किया जायेगा, जिसमें एक लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। पीथमपुर अद्भुत औद्योगिक क्षेत्र है। यहाँ औद्योगिक इकाइयाँ लगातार निवेश करती जा रही हैं। यहाँ के औद्योगिक उत्पादों का 11 हजार करोड़ रूपये का निर्यात विभिन्न देशों में किया जाता है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पीथमपुर में सड़कों के निर्माण के लिये 15 करोड़ रूपये दिये जायेंगे। यहाँ राजस्व अनुभाग बना कर स्थाई रूप से एसडीएम कार्यालय स्थापित किया जायेगा। पीथमपुर अस्पताल का सिविल अस्पताल में उन्नयन किया जायेगा। स्थानीय जन-प्रतिनिधियों द्वारा की गई क्षेत्रीय विकास की गई माँगों को भी पूरा किया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की धरती पर कोई भी गरीब परिवार बिना आवास के नहीं रहेगा। ऐसे सभी परिवारों को मुख्यमंत्री भू-आवासीय योजना में जमीन देकर उसका मालिक बनाया जायेगा। सभी पात्र लोगों के आवास भी बनाये जायेंगे। अकेले धार जिले में ही एक लाख गरीबों के मकान बन चुके हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पूर्व सरकार ने संबल और मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना जैसी हमारी अनेक कल्याणकारी योजनाएँ बंद कर दी थी। ऐसी सभी बंद योजनाओं को हमने पुन: शुरू कर जनता को उसका लाभ देना शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब परिवार के मेधावी विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा की फीस राज्य सरकार भरेगी। पढ़ाई के साथ रोजगार की व्यवस्था के लिये भी सरकार निरंतर अभियान चला रही है। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में शासन की विभिन्न जन-कल्याणकारी योजनाओं के हितलाभ भी वितरित किये। मुख्यमंत्री ने धार जिले के बाग प्रिंट के 'लोगो' का अनावरण किया एवं कारीगरों को जीआई सर्टिफिकेट वितरित किये। मुख्यमंत्री की मौजूदगी में एमपीआईडीसी और फियो के बीच एमओयू हुआ। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सेल्फ हेल्प ग्रुप की महिलाओं का टर्न ओवर 20 हजार करोड़ तक पहुँच गया है। मेरा उद्देश्य है कि मेरी बहनें प्रतिमाह कम से कम 10 हजार रूपये की आय अर्जित करें।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि सरकार का समग्र रूप से एक ही लक्ष्य है कि जनता की ख़ुशहाली। युवा उद्यमियों को प्रोत्साहन के लिए विभिन्न योजनाएँ चल रही हैं। युवाओं को एक लाख से लेकर 50 लाख रुपये तक का लोन बैंक द्वारा दिया जा रहा है। लोन वापसी की गारंटी राज्य सरकार दे रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान की जानकारी कलेक्टर से ली। बताया गया कि अभी तक ज़िले में 3 लाख 19 हज़ार आवेदन प्राप्त हुए हैं, जिसमें से 2 लाख 90 हज़ार आवेदन स्वीकृत भी किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने आयुष्‍मान योजना, गरीबों के मकान की योजना, भू-आवास अधिकार योजना, गरीबों के राशन की योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया। लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा कि मध्यप्रदेश को एक नई दिशा देने के लिये अंत्योदय के साथ आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश को गढ़ने के लिये आज महत्वपूर्ण कदम उठाये जा रहे हैं। हमारी सरकार मध्यम एवं वंचित वर्ग के हर बच्चे का सपना पूरा करेगी। प्रदेश में 2 हजार से ज्यादा युवाओं ने स्टार्ट-अप प्रारंभ किये हैं। साथ ही फर्नीचर एवं टॉय क्लस्टर के लिये विशेष प्रयास किये जा रहे हैं।   औद्योगिक निवेश एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आत्म-निर्भर भारत से प्रोत्साहित होकर मुख्यमंत्री चौहान द्वारा आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिये कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं, जिसमें 52 जिलों के 38 उत्पादों को "एक जिला-एक उत्पाद'' के रूप में चयनित किया गया है। इनकी मार्केटिंग के लिये अमेजान, फ्लिपकार्ट जैसी ऑनलाइन मार्केटिंग साइट से समझौता किया गया है। राज्य सरकार द्वारा गरीब एवं वंचित वर्ग के लोगों की जन्म से लेकर सम्पूर्ण जीवन की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं। युवा वर्ग के रोजगार एवं उच्च शिक्षा के लिये भी कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं, ताकि युवा अपने स्वप्न पूरे करते हुए प्रदेश एवं देश के विकास में सहयोगी बनें। मुख्यमंत्री चौहान का कार्यक्रम स्थल पहुँचने पर अलग अंदाज़ में स्वागत किया गया। यहाँ उनसे मिलने आये भांजे-भांजी भी पहुँचे, जो मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं और जिनकी फ़ीस राज्य सरकार द्वारा भरी गई है। मंच पर 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाने वाले और सरकार से लैपटाप प्राप्त करने वाले मेधावी बच्चों ने भी मुख्यमंत्री का स्वागत किया। राज्य सरकार के सहयोग से राष्ट्रीय स्तर पर खेलने वाले धार ज़िले के जनजाति युवाओं ने भी मुख्यमंत्री चौहान का आभार जताया। घर-घर अनाज पहुँचाने वाले वाहन चालक और लाड़ली लक्ष्मी योजना के लाभार्थियों ने भी उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री चौहान ने इंदौर और उज्जैन संभाग के विभिन्न ज़िलों द्वारा 'एक जिला-एक उत्‍पाद' के तहत लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।  

Kolar News

Kolar News 5 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 15 नवम्बर से प्रदेश में पेसा एक्ट लागू कर दिया जायेगा, जिससे हमारे जनजातीय भाई-बहनों को कई सुविधाएँ मिलेंगी। सामाजिक समरसता के साथ सामाजिक न्याय भी मिलेगा। तेंदूपत्ता संग्राहक के बच्चों की पढ़ाई का खर्च भी सरकार देगी। अब तेंदूपत्ता के कुल लाभांश की 75 प्रतिशत राशि तेंदूपत्ता संग्राहकों में वितरित की जायेगी। खालवा में अगले शिक्षण-सत्र से महाविद्यालय खोला जायेगा। मुख्यमंत्री  चौहान आज खालवा जिला खण्डवा में लघु वनोपज सहकारी समितियों की क्षमता वृद्धि हेतु प्रशिक्षण सह जागरूकता एवं तेन्दूपत्ता लाभांश वितरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने 786 करोड़ रूपये लागत के 43 कार्यों का भूमि-पूजन एवं 79 करोड़ 59 लाख रूपये लागत के 9 कार्यों का लोकार्पण किया। साथ ही खण्डवा, नर्मदापुरम, बैतूल एवं उज्जैन वृत्त के कुल 10 वन मण्डल की 102 लघु वनोपज समितियों के 1 लाख 68 हजार 601 संग्राहकों के बैंक खाते में 41 करोड़ 63 लाख 29 हजार 75 रूपये हस्तांतरित किये।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि क्षेत्र के विकास में हर संभव प्रयास किए जायेंगे। उन्होंने तेंदूपत्ता संग्राहकों को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी। उन्होंने नागरिकों से अपील की कि अपने क्षेत्र को नशा मुक्त बनाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कार्यक्रम स्थल पर लगी विकास प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया। मुख्यमंत्री चौहान ने देवास के  चंदर पिता सहादर, कश्मिर पिता हजारी जिला खण्डवा, दयाराम पिता गुलाब बड़वाह, प्रेमदास पिता हरिराम नर्मदापुरम, राधेलाल यादव बैतूल को तेंदूपत्ता संग्रहण बोनस राशि के चेक देकर सम्मानित किया। साथ ही उद्यम कृषि योजना, "एक जिला-एक उत्पाद", आजीविका स्व-सहायता समूह, राष्ट्रीय पशुधन मिशन, वन अधिकार पट्टा आदि योजनाओं में हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया। मुख्यमंत्री  चौहान ने गांधी मेडिकल कॉलेज के द्वितीय वर्ष के छात्र सुनील पिता शोभाराम इस्के एवं जबलपुर मेडिकल कॉलेज की प्रथम वर्ष की छात्रा जानकी पिता कैलाश वास्कले को 50-50 हजार रूपये के चेक भेंट किया। वन मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह ने विभिन्न शासकीय योजनाओं से लाभान्वित हितग्राहियों को मुख्यमंत्री चौहान से रू-ब-रू कराया। उन्होंने कहा कि सभी पात्र व्यक्ति योजना से लाभान्वित हो रहे है। उन्होंने बताया कि 731 करोड़ रूपये की एनव्हीडीए खालवा उद्वहन सिंचाई योजना से जिले के 76 गाँवों के निवासियों की जमीन सिंचित होगी। इसमें इंदिरा सागर जलाशय हरसूद तहसील के ग्राम नंदगाँव से जल उद्वहन कर खालवा तहसील लाया जायेगा।  

Kolar News

Kolar News 4 November 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सरकार ऐसे उद्योग को तमाम सुविधाएँ और सहूलियत देगी जो प्रदेश के स्थानीय निवासियों को रोजगार देगी। मुख्यमंत्री चौहान गुरूवार को रायसेन जिले की गौहरगंज तहसील के तामोट में सागर टेक्सटाईल मैन्यूफेक्चरिंग प्राइवेट लिमिटेड की 1070 करोड़ रूपये लागत की नई निवेश परियोजना के अनावरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आज टेक्सटाईल इंडस्ट्री में मध्यप्रदेश देश के 10 अग्रणी राज्यों में शुमार है। उनकी कोशिश है कि प्रदेश अव्वल स्थान पर पहुँचे। वर्तमान में मध्यप्रदेश के टेक्सटाईल उत्पाद दुनिया के विभिन्न देशों में निर्यात हो रहे हैं और अपनी अलग पहचान भी बनाई है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आज तामोट में प्रारंभ उद्योग से प्रदेश के 3 हजार से अधिक बेटे-बेटियों को सीधे रोजगार और बड़ी संख्या में नागरिकों को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। इस परियोजना के आने से क्षेत्र का चौतरफा विकास होगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उनका पूरा ध्यान बेटा-बेटियों और भांजे- भांजियों को रोजगार देने पर है। अगले एक वर्ष में एक लाख सरकारी नौकरियाँ और हर माह करीब 2 लाख युवाओं को स्व-रोजगार से जोड़ने की मुहिम चल रही है। मुख्यमंत्री ने सागर ग्रुप में 60 फीसदी कामगार महिलाएँ होने और परिसर को नशा मुक्त बनाने पर संस्थान की तारीफ भी की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रातापानी डेम बनने से इस क्षेत्र का लगातार विकास हो रहा है। स्थानीय जन-प्रतिनिधियों द्वारा क्षेत्र के विकास के लिए रखी गई माँगों को शीघ्र पूरा किया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश कृषि के क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। कई उत्पाद जैसे गेहूँ, दलहन-तिलहन में प्रदेश देश में प्रथम स्थान पर है। कृषि में भी रोजगार के अवसरों में वृद्धि हुई है। बढ़ती जनसंख्या को देखते हुए रोजगार बढ़ाने के लिये निवेश एवं अन्य क्षेत्रों में प्रयास करना आवश्यक है। प्रदेश के सभी अंचलों में निवेश बढ़ाया जा रहा है। इसी क्रम में जनवरी 2023 में ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट और प्रवासी भारतीय सम्मेलन इंदौर में किया जा रहा है। इसमें अनेक देशों के साथ बड़े उद्योगपति शामिल होंगे। बड़े-बड़े उद्योगों में युवाओं को रोजगार प्राप्त करने के लिये प्रदेश में आईटीआई स्थापित किये गये हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि तामोट क्षेत्र से मेरे बचपन की यादें जुड़ी हैं। यह क्षेत्र मेरा ननिहाल रहा है, यहाँ मैं महीनों रहा हूँ। उन्होंने कहा कि प्रदेश के युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर प्रदान करना सरकार की प्राथमिकता है। निवेश के माध्यम से रोजगार बढ़ाने के लिये प्रदेश सरकार दृढ़ संकल्पित है। प्रदेश में लगातार नये निवेश लाये जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि कल बुधवार को मैं पन्ना में था, आज तामोट में हूँ और कल धार के औद्योगिक क्षेत्र पीथमपुर में नये निवेश का शुभारंभ करूंगा। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि नशे के खिलाफ अभियान चला कर युवाओं को रोजगार से जोड़ कर सुखी और समृद्ध जीवन की और जोड़ना है। नशा नाश की जड़ है। इसके खिलाफ अभियान चलाया गया है, जिसमें बड़े स्तर पर कार्रवाई कर हुक्का लाउंज भी ध्वस्त किये गये हैं। अभियान अभी जारी है। औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने कहा कि नवीन टेक्सटाईल परियोजना प्रारंभ होने से कई युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा। साथ ही क्षेत्र का चौतरफा विकास होगा। उद्योग के लिए रातापानी डेम से पानी की आपूर्ति एवं भूमि की कीमत कम करने की माँग पर जल्द ही निर्णय लिया जायेगा। परियोजना में विश्व स्तरीय तकनीक एवं कुशल स्टाफ नियुक्त किया गया है।   विधायक सुरेन्द्र पटवा ने तामोट के पास स्थित प्लास्टिक पार्क को सबके लिए खोलने की माँग की। यह टेक्सटाईल इंडस्ट्री भी प्रदेश के विकास में सहयोगी बनेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने नवनिर्मित टेक्सटाईल इकाई का अवलोकन भी किया। इसमें  निर्मित फेब्रिक का 20 से ज़्यादा देशों में निर्यात किया जाएगा। प्रारंभ में मुख्यमंत्री ने कन्या- पूजन कर पारिजात का पौधा रोपा। सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंध और रायसेन जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. अरविन्द भदौरिया, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, विदिशा सासंद श्री रमाकांत भार्गव, सिलवानी विधायक रामपाल सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष यशवंत मीना सहित जन-प्रतिनिधि, एमपीआईडीसी के एमडी जॉन किंगस्ले एवं सागर ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज के एमडी सहित अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 4 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के विकास में करदाताओं का महत्वपूर्ण योगदान है। प्रदेश की आर्थिक प्रगति को नए आयाम मिल रहे हैं। उद्योग और व्यापार क्षेत्र के सहयोग के साथ नागरिकों की भागीदारी से हम वैभवशाली, समृद्ध और विकसित मध्यप्रदेश के निर्माण में लगे हैं। मुख्यमंत्री चौहान आज रविंद्र भवन के हंसध्वनि सभागार में भामाशाह सम्मान समारोह में सर्वाधिक कर जमा करने वाले संस्थानों के उद्योग और व्यवसाय क्षेत्र के प्रतिनिधियों को सम्मानित कर रहे थे। समारोह में वर्ष 2020-21 और 2021-22 के लिए 5-5 श्रेणियों के कुल 10 पुरस्कार प्रदान किए गए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आगामी वर्ष से छोटे करदाताओं को भी पृथक श्रेणी में पुरस्कृत किया जाएगा। मुख्यमत्री चौहान ने पुरस्कृत औद्योगिक और व्यापारिक संस्थानों को बधाई देते हुए समस्त करदाताओं के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की और उनका अभिनन्दन किया।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ईमानदारी से धन अर्जित करने और ईमानदारी से टैक्स जमा करने का कार्य महत्वपूर्ण सेवा है। मध्यप्रदेश की विकास दर 19.76 प्रतिशत है। मध्यप्रदेश में प्रति व्यक्ति आय जो वर्ष 2003 में 13 हजार थी, अब एक लाख 47 हजार रूपये हो गई है। भारत की अर्थ-व्यवस्था में मध्यप्रदेश का योगदान 3.6 प्रतिशत से बढ़कर 4.6 प्रतिशत हो गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य के खजाने को भरने में उद्योग और व्यापार जगत का महत्वपूर्ण योगदान है। जनता के कल्याण और बुनियादी सुविधाओं के विकास का कार्य टैक्स से प्राप्त आय से आसान होता है। अर्थ का अभाव और प्रभाव दोनों अनुचित हैं। लेकिन ईमानदारी के साथ अर्थ कमाना महत्वपूर्ण है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी विभाग आय वृद्धि के लिए प्रयास करें। करों से प्राप्त आय समाज को ताकत प्रदान करती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्योग, व्यापार जगत से प्राप्त सुझावों पर क्रियान्वयन किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आगामी जनवरी माह में इंदौर में हो रही ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट और प्रवासी भारतीय सम्मेलन के महत्व की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि लघु और मध्यम उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न क्लस्टर्स बनाए जा रहे हैं।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि महाकाल लोक के प्रथम चरण के उद्घाटन के बाद उज्जैन में होटलों की संख्या बढ़ रही है। सामान्य वर्ग यहाँ आगमन के बाद रहने की समस्या से परेशान न हो, इसके लिए आवश्यक व्यवस्थाएँ की जाएंगी। श्री महाकाल लोक के लोकार्पण के बाद उज्जैन और निकटवर्ती अंचल की आर्थिक गतिविधियों में तेजी आई है। प्रारंभ में मुख्यमंत्री चौहान का स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री ने विभिन्न श्रेणियों के करदाताओं को पुरस्कार और सम्मान किए। वित्त और वाणिज्यिक कर मंत्री जगदीश देवड़ा ने कहा कि करों का भुगतान समय पर ईमानदारी से कर प्रदेश के विकास में सहयोग देने वाले उद्योगपतियों और व्यापारियों ने मुख्यमंत्री चौहान के मध्यप्रदेश को अग्रणी प्रांत बनाने के संकल्प में भी सहयोग दिया है। प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर दीपाली रस्तोगी ने मुख्यमंत्री चौहान का स्वागत‍ किया। मध्यप्रदेश गान के साथ कार्यक्रम प्रारंभ हुआ। प्रदेश में कुशल कर प्रशासन, कर अपवंचन रोकने में सूचना प्रौद्योगिकी के प्रयोग और सरल हिंदी के माध्यम से करदाताओं को ऑनलाइन सुविधा प्रदान करने के प्रयासों की जानकारी दी गई। मुख्यमंत्री चौहान ने "मेघा वैलकम किट" पुस्तिका का विमोचन किया। साथ ही वास्ट्सएप आधारित हिन्दी चैट बॉट का लोकार्पण किया गया। समारोह में विभाग द्वारा निर्मित लघु फिल्म प्रदर्शित की गई।     वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए भामाशाह पुरस्कार भी पाँच श्रेणियों में दिए गए। डेढ़ करोड़ रूपए से कम टर्न ओवर की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार एक लाख रूपए का टीएचडीसी इंडिया लि बैढन, सिंगरौली, 50 हजार रूपए का द्वितीय पुरस्कार उमरिया की चोंगले एंड कंपनी प्राइवेट लि. को दिया गया। इसी तरह डेढ़ करोड़ से 50 करोड़ रूपए तक के टर्न ओवर का पाँच लाख का प्रथम पुरस्कार छिंदवाड़ा की अक्षित ऑटो एजेंसीज और तीन लाख का दूसरा पुरस्कार पीथमपुर की एसईजी आटोमोटिव इंडिया प्राइवेट लि. को दिया गया। इसी तरह 50 करोड़ से 500 करोड़ रूपए तक टर्न ओवर में 7 लाख रूपए का पहला पुरस्कार सीएट लि. इंदौर और पांच लाख रूपए का दूसरा पुरस्कार इंदौर के जेके सीमेंट कंपनी को दिया गया। इसी प्रकार 5 सौ करोड़ से अधिक टर्न ओवर पर 10 लाख रूपए का प्रथम पुरस्कार लार्सन एंड टुब्रो लि. इन्फ्रास्ट्रक्चर वर्टिकल भोपाल को और 7 लाख रूपए का दूसरा पुरस्कार जावद नीमच के अल्ट्राटेक सीमेंट लि. को प्रदान किया गया। शासकीय विभाग और सार्वजनिक उपक्रमों की श्रेणी का 3 लाख रूपए का प्रथम पुरस्कार इंडियन आइल कार्पोरेशन लि. भोपाल को और 2 लाख रूपए का द्वितीय पुरस्कार जबलपुर के इंडियन रेलवे फायनेंस कॉरपोरेशन लि. को मिला।       आयुक्त वाणिज्यिक कर लोकेश जाटव ने बताया कि प्रदेश में पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष जीएसटी से 26 प्रतिशत अधिक राजस्व प्राप्त हुआ है। वर्ष 2017-18 में जीएसटी से 9 हजार 800 करोड़ रूपए का राजस्व मिला था, जो वर्ष 2021-22 में बढ़ कर 22 हजार करोड़ रूपए से अधिक हो गया है। जीएसटी के अंतर्गत वर्ष 2017-18 में 3 लाख 84 हजार करदाता थे जो बढ़ कर 5 लाख से अधिक हो गए हैं। मुख्यमंत्री चौहान के आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के संकल्प की पूर्ति के लिए राजस्व संग्रहण वृद्धि में सफलता मिली है। मध्यप्रदेश में राज्य स्थापना के समय 5 करोड़ रूपए राजस्व संग्रहण था। वर्तमान में यह 49 हजार करोड़ रूपए है। वाणिज्यिक कर विभाग के 86 वृत प्रदेश में कार्य कर रहे हैं। विभाग द्वारा हेल्प डेस्क भी प्रारंभ की गई है। कार्यों में मानवीय हस्तक्षेप कम से कम है। जीएसटी संग्रहण में मध्यप्रदेश देश में अग्रणी है। अक्टूबर माह में सर्वाधिक मासिक संग्रहण भी हुआ है। मुख्यमंत्री चौहान से कार्यक्रम के बाद अनेक उद्योगपतियों ने भेंट और चर्चा भी की।  

Kolar News

Kolar News 4 November 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सभी जिलों में किसानों के लिए पर्याप्त खाद की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। इस बारे में पहले भी निर्देश दिए गए हैं। फिर भी कहीं कहीं से प्राप्त हो रही शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए व्यवस्था में तत्काल सुधार किया जाए। आज पन्ना भ्रमण में भी मुख्यमंत्री चौहान को कुछ वितरण केंद्रों के संबंध में शिकायत प्राप्त हुई, जिसे लेकर उन्होंने अप्रसन्न्ता व्यक्त की और संबंधित अधिकारियों को आवश्यक प्रबंध और समाधान की कार्यवाही करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने आज पन्ना जिले के दौरे से लौटने के बाद मुख्यमंत्री निवास में सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया के साथ प्रमुख सचिव सहकारिता, आयुक्त सहकारिता और प्रबंध संचालक मार्कफेड के साथ प्रदेश में खाद व्यवस्था के बारे में चर्चा कर व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरस्त रखने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने खाद की उपलब्धता के साथ सुचारू वितरण व्यवस्था के निर्देश दिए।  

Kolar News

Kolar News 3 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के विकास के लिए उद्योग आवश्यक है। कृषि क्षेत्र में प्रदेश लगातार आगे बढ़ रहा है। गेहूँ के उत्पादन में भी प्रदेश देश में नंबर वन हो गया है। उन्होंने कहा कि सरकार कृषि क्षेत्र में हर सुविधाएँ उपलब्ध करा रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि युवाओं को रोजगार देने के लिए खेती के साथ उद्योग आवश्यक है। खेती के साथ प्रदेश में अलग-अलग सेक्टर के उद्योग लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री चौहान आज पन्ना जिले के हरदुआ केन में 2800 करोड़ रूपये की लागत के जे.के. सीमेंट प्लांट का लोकार्पण कर रहे थे। प्लांट से 1000 को सीधे और 10 हजार को लोगों अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में होने वाली इन्वेस्टर मीट में विश्व के अनेक देश से उद्योगपतियों को निवेश के लिए आमंत्रित किया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार प्रदेश के विकास के लिए हरसंभव प्रयास और लगातार काम कर रही है। पन्ना जिले में उद्योग की अनंत संभावनाएँ हैं। जो भी सहयोग आवश्यक होगा, सरकार देने के लिए कृत-संकल्पित है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के साथ ही यहाँ की जनता भी उद्योगपतियों को उद्योग लगाने में सहयोग करे। उद्योग आने से क्षेत्र में समृद्धि आती है और हजारों लोगों को रोजगार भी मिलेंगे। उद्योग आने से आने वाले समय में क्षेत्र की आर्थिक दशा बदल जाएगी। अब पन्ना जिले में नए युग की शुरुआत होगी और स्थानीय लोगों को रोजगार में प्राथमिकता दी जायेगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पन्ना जिले में अगले शिक्षा सत्र से कृषि महाविद्यालय शुरू किया जाएगा। सिंघानिया ग्रुप द्वारा आईटीआई प्रारंभ की जा रही है, इसमें स्थानीय युवाओं को काम सिखाए जाएंगे और रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। इसके लिए उन्होंने सिंघानिया ग्रुप को धन्यवाद दिया। उद्योग नीति एवं निवेश संवर्धन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव ने सिंघानिया परिवार को बधाई देते हुए कहा कि रिकॉर्ड अवधि में सीमेंट प्लांट तैयार कर उत्पादन प्रारंभ किया गया है। पन्ना में यह सिर्फ शुरूआत है, आगाज है, अभी तो अंजाम बाकी है। खनिज साधन एवं श्रम मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा आज का दिन पन्ना जिले के लिए ऐतिहासिक है। आज क्षेत्र को एक बड़े उद्योग की सौगात मिली है, जो मुख्यमंत्री की सफल आर्थिक नीति का परिणाम है। उन्होंने कहा कि अब पन्ना उद्योग विहीन नहीं रहा। कोविड काल के बावजूद भी मात्र 18 माह में प्लांट तैयार कर उत्पादन शुरू करने के लिए सिंघानिया ग्रुप को बधाई दी। इस उद्योग से स्थानीय लोगों को रोजगार के अवसर भी मिलेंगे।   खजुराहो सांसद वी.डी. शर्मा ने पन्ना जिले को उद्योग की श्रेणी में खड़ा करने के लिए सिंघानिया परिवार को धन्यवाद ज्ञापित किया। कम्पनी ने शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यावरण, जल-संरक्षण के क्षेत्र में भी कार्य किया है। रोजगार के अवसर के अलावा हर तरफ क्षेत्र का विकास होगा। पूरे प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में पन्ना अव्वल रहा, सबसे ज्यादा पर्यटक पन्ना टाइगर रिजर्व में आए। मुख्यमंत्री चौहान ने पन्ना में कम्पनी प्रबन्धन द्वारा वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर, आई.टी.आई. का शिलान्यास और जे.के. सीमेंट प्लांट का लोकार्पण किया। साथ ही प्लांट के पहले उत्पादन 500 बोरी सीमेंट की खेप को हरी झंडी दिखाकर पवई की प्रसिद्ध कंकाली माता मंदिर के लिये रवाना किया। साथ ही कम्पनी द्वारा अमानगंज अस्पताल के लिए भेंट की गई एम्बुलेंस को हरी झंडी दिखाई। सीईओ माधव सिंघानिया ने मुख्यमंत्री और सरकार से मिल रहे सहयोग के लिए आभार जताया।   

Kolar News

Kolar News 3 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश की बेटियों को शिक्षा में सहयोग के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में विकास और सामाजिक नेतृत्व के लिए सक्षम बनाया जाएगा। लाड़ली लक्ष्मी योजना 2.0 का क्रियान्वयन इसी उद्देश्य से ही प्रारंभ किया गया है। मुख्यमंत्री चौहान आज रविन्द्र भवन भोपाल में योजना के अंतर्गत 1477 लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को उच्च शिक्षा के लिए 1 करोड़ 85 लाख रूपये की राशि अंतरित कर संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है। खुशी का अंदाजा नहीं लगा सकते। रोम-रोम पुलकित है। आज वो बेटियाँ कॉलेज की पढ़ाई शुरू कर रही हैं, जिन्हें गोद में खिलाया था। उन नन्हीं बेटियों को अपने हाथों से प्रमाण-पत्र दिए थे। आज उन्हीं बेटियों को उच्च शिक्षा के लिए सहायता राशि देने का सौभाग्य मिला है। मुख्यमंत्री चौहान ने सभी बेटियों को नमन करते हुए कहा कि यह दिन मध्यप्रदेश के इतिहास में याद किया जाएगा। बेटियों के विकास के लिए सभी बधाएँ दूर हो गई हैं। बेटियाँ पढ़ें और आगे बढ़ें, वे ऊँचे आसमान तक जाकर लम्बी उड़ान भरें। ये बेटियाँ अपने साथ प्रदेश और देश के भविष्य को बनाने का कार्य भी करेंगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बेटियों को शैक्षणिक और आर्थिक सशक्तिकरण मिले, इसके लिए अनेक कदम उठाए गए हैं। शिक्षकों की भर्ती में 50 प्रतिशत, पुलिस की भर्ती 30 प्रतिशत और पंचायतों सहित स्थानीय निकायों में आरक्षण के प्रावधान से बेटी और बहनों को आगे बढ़ने का अवसर मिला है। मध्यप्रदेश सरकार यह प्रयास निरंतर जारी रखेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने लाड़ली लक्ष्मियों से आहवान किया कि वे अपने लिए ही जीवन न जिएँ बल्कि देश और समाज के लिए भी जिएँ। इसी में जीवन की सार्थकता है। लाड़ली लक्ष्मियाँ ग्रामों में नारी जागरण और नशा मुक्ति अभियान के लिए कार्य करें। इसके अलावा बेटियों को आगे चल कर बड़े-बड़े कार्य करना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कामना की कि ये बेटियाँ प्रदेश भी चलाएंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वामी विवेकानंद के उस कथन का स्मरण दिलाया, जिसमें उन्होंने कहा था, दुनिया में ऐसा कोई कार्य नहीं है, जो नहीं किया जा सकता। आप उठें, जागृत हों और तब तक कार्य करें, जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार बेटियों के साथ है, उन्हें शिक्षा सहित विभिन्न क्षेत्रों में कार्य के लिए पूरा प्रोत्साहन दिया जाएगा। मुख्यमत्री चौहान ने कहा कि लाड़ली लक्ष्मी बेटियाँ, स्वयं को कमजोर न समझें। बेटियों में ऐसी क्षमता है कि वे समाज को दिशा देने का कार्य करेंगी। बेटियाँ नया इतिहास रचेंगी। वे अपने जीवन के साथ ही मध्यप्रदेश और देश का भविष्य और भाग्य को सुनहरा बनायेंगी। मुख्यमंत्री ने सभी लाड़ली लक्ष्मी बेटियों को आशीर्वाद के साथ शुभकामनाएँ दी।     मुख्यमंत्री चौहान ने लाड़ली लक्ष्मी योजना प्रारंभ होने की पृष्ठभूमि की जानकारी देते हुए बताया कि वे जब सार्वजनिक जीवन में आए तो ग्राम स्तर पर होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों में जाते थे। समाज में बेटियों के प्रति तिरस्कार का भाव देखने को मिलता था। भारतीय समाज में अनेक इलाकों में बेटियों की उपेक्षा देखने को मिलती है। बेटियों को अभिशाप मान लिया गया था। ग्रामों में यह माना जाता था कि शिक्षा का अधिकार सिर्फ बेटों को ही है, बेटियों को नहीं। बेटियाँ तो सिर्फ घर के कामकाज की जिम्मेदारी लेने के लिए हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि अक्सर पति-पत्नी के आपसी झगड़ों में पति द्वारा अत्याचार को भी खुद स्त्रियाँ ही जायज मानती थी। यह देख कर आत्मा को कष्ट होता था। बेटे को कुल दीपक और बुढ़ापे की लाठी भी माना जाता था। लेकिन बहुत से मामलों में बेटों की बेरूखी और बेटियों की आत्मीयता, माता-पिता के लिए दिखाई देती थी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सामाजिक प्रवृत्ति के कारण बेटियों की संख्या में कमी भी आई थी।   मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि वे अपने भाषणों में अक्सर “बेटी है तो कल है” जैसे नारे भी लगाते थे। एक बूढ़ी अम्मा ने यह नारा सुन कर उन्हें टोका भी था कि क्या बेटियों की विवाह की जिम्मेदारी आप लेंगे। यह प्रश्न उद्वेलित करने वाला था। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि जब वे वर्ष 1990 में विधायक बने तो सबसे पहले बेटियों के विवाह के लिए सहायता देने का कार्य प्रारंभ किया। वर्ष 1991 में सांसद बनने के बाद उन्होंने भत्ते की राशि से अभावग्रस्त परिवारों की बेटियों के लिए आर्थिक सहायता की शुरुआत की। वर्ष 2005 में मुख्यमंत्री बनने के बाद लखपति बेटी पैदा हो, इस विचार से लाड़ली लक्ष्मी योजना तैयार करवाई। वर्ष 2007 से प्रारंभ की गई यह योजना इतनी लोकप्रिय हुई कि आज 43 लाख से अधिक लाड़ली लक्ष्मियाँ प्रदेश में हैं, जो आज इस कार्यक्रम से परिवार के सदस्यों के साथ जुड़ी हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि लाड़ली लक्ष्मी योजना को शिक्षा से जोड़ा गया। विभिन्न कक्षाओं में उत्तीर्ण होने पर बेटी के लिए प्रोत्साहन राशि का भुगतान करने की व्यवस्था की गई। लाड़ली लक्ष्मियों को महाविद्यालय में प्रवेश के लिए सहायता देने के लिए लाड़ली लक्ष्मी योजना 2.0 प्रारंभ की गई है। अब महाविद्यालय की फीस की व्यवस्था राज्य सरकार करेगी।   अपर मुख्य सचिव, महिला-बाल विकास अशोक शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने लाड़ली लक्ष्मी योजना से मध्यप्रदेश में सामाजिक क्रांति का सूत्रपात किया है। कक्षा 12वीं उत्तीर्ण करने के बाद महाविद्यालय जाने पर बेटी को 25 हजार रूपये की आर्थिक सहायता उन्हें शिक्षित कर केरियर का चयन करने में मददगार होगी। समारोह का प्रारंभ मध्यप्रदेश गान और लाड़ली लक्ष्मी गान के साथ हुआ। सभी जिलों में मंत्रीगण, सांसद, विधायक, लाड़ली लक्ष्मी और उनके परिवार के सदस्य, ग्राम पंचायतों और नगरीय निकायों के पदाधिकारी भी समारोह से वर्चुअल जुड़े। कु. भूमि राय, तामिया, जिला छिंदवाड़ा ने कहा कि उन्हें शिक्षा ग्रहण करने में लाड़ली लक्ष्मी योजना से प्रत्यक्ष सहायता मिली है। इसका श्रेय मुख्यमंत्री चौहान को जाता है। बायोलॉजी में 85 प्रतिशत अंक मिले हैं। वे प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहती हैं। छात्रवृत्ति मिलने से शिक्षा आसान हुई। बाघा बार्डर के शैक्षणिक भ्रमण से उन्हें पाठ्यक्रम की शिक्षा के साथ ही राष्ट्र और समाज के संबंध में काफी जानने को मिला। कु. भूमि ने कहा कि वे कड़े परिश्रम से शिक्षा ग्रहण कर मुख्यमंत्री चौहान द्वारा प्रारंभ इस योजना को सफल बनाते हुए सभी की अपेक्षाओं को पूर्ण करने का प्रयास करेंगी। सीधी जिले की छात्रा कु. अर्पिता सिंह ने कहा कि उनके माता-पिता उसकी पढ़ाई और विवाह की चिंता करते थे। उसे कक्षा 10वीं में 90 प्रतिशत और कक्षा 11वीं में 91 प्रतिशत अंक मिले हैं। वह डाक्टर बनना चाहती हैं।     मुख्यमंत्री चौहान ने कन्या-पूजन और दीप जला कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री चौहान ने लाड़ली लक्ष्मी बेटियों के चरण स्पर्श किए और उनका अभिनंदन भी किया। बेटियों ने म.प्र. गान और लाड़ली लक्ष्मी गान की प्रस्तुति दी। मुख्यमंत्री चौहान ने सामूहिक गान में शामिल लाडली लक्ष्मियों को आशीर्वाद दिया। उन्हें अच्छे गायन के लिए बधाई दी। मुख्यमंत्री चौहान ने दो बालिकाओं का तुलसी का पौधा भेंट कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री चौहान ने महिला-बाल विकास द्वारा प्रकाशित लाड़ली लक्ष्मी योजना पुस्तिका का विमोचन किया। पुस्तिका में योजना प्रारंभ होने से लेकर अब तक की विकास यात्रा का विस्तार से उल्लेख है। मुख्यमंत्री चौहान ने योजना में महाविद्यालय में प्रवेश लेने वाली बेटियों को प्रतीक स्वरूप राशि के चेक भी सौंपे। उन्होंने सीहोर जिले की कु. मुस्कान रायकवार, मंडला जिले की कु. अंकिता, खरगोन जिले की कु. कृतिका, उमरिया जिले की कु. गायत्री सिंह और बैतूल जिले की कु. नीलिमा को लाड़ली लक्ष्मी योजना 2.0 के अंतर्गत प्रोत्साहन राशि के चेक प्रदान किए। 

Kolar News

Kolar News 3 November 2022

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने मध्यप्रदेश स्थापना दिवस की शुभकमाए देते हुए कहा ये सब लोगों के लिए गौरव का क्षण है। स्वर्णिम मध्यप्रदेश बनाने के लिए प्रगति के पायदान में प्रदेश आगे बढ़ रहा है। गेहूं उत्पादन में मध्य प्रदेश भारत के अंदर एक नंबर राज्य बनकर उभरा है। इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री की कई योजनाओं के बारे में भी चर्चा की। प्रदेश अध्यक्ष शर्मा  ने कहा  2003 से आज का एमपी इन्फ्रास्ट्रक्चर को लेकर कई पायदान में 1 नंबर पर है। चाहे छोटे नगर हो या बड़े महानगर हों मध्यप्रदेश हर पैमाने पर आगे बढ़ रहा है...आज मध्यप्रदेश अन्न उत्पादन में सबसे आगे है। ये वैज्ञानिकों के रिसर्च ,किसानो और हमारी सरकार के प्रयासों का परिणाम है। प्रदेश आज गेहूं उत्पादन में मध्य प्रदेश भारत के अंदर एक नंबर राज्य बनकर उभरा है। खाद्यान्न में भी मध्यप्रदेश आगे बढ़ रहा है। बिजली सड़क और पानी में भी मध्यप्रदेश आगे है। वहीं उन्होंने सड़कों की जर्जर हालत को लेकर कहा की ये हमारे नेतृत्व की सजगता है कि हमारे मुख्यमंत्री ने भी इसके बारे में कहा लेकिन एक शहर को दुसरे शहर जोड़ने वाली जो सड़क है वे बोहतअच्छी है। गांव तक सड़कों को जोड़ा गया है। लेकिन मोहल्ले की जो सड़कें है गांव की जो सड़कें है उसकी हालतें ख़राब है जिसके बारे में भी मुख्यमंत्री बात कर रहे है।    उन्होंने कहा भाजपा के नेतृत्व में विकास का पैमाना बदल गया है। अब विकास का पैमाना ये है मध्यप्रदेश में सीएम राइज स्कूलों की शुरुआत की जा रही है।     कमलनाथ के इवेंट वाले बयान पर वीडी शर्मा ने कहा कि इवेंट वाली बात कमलनाथ जी न करे। भारतीय जनता पार्टी इवेंट करती है या गरीबों के जीवन को बदलती है। इस बात का सर्टिफिकेट कमलनाथ नहीं दे सकते। मध्य प्रदेश की जनता सर्टिफिकेट देती है। जब विधानसभा चुनाव हुए थे और कमलनाथ की सरकार चली गयी तब जनता ने बताया था कि कौन काम करता है। इवेंट तो कमलनाथ कर रहे थे। उन्होंने इंदौर के अंदर आईफा अवार्ड कर रहे थे। और एक लाख चौंतीस हज़ार प्रधानमंत्री आवास वापस करके कमलनाथ ने गरीबों का हक़ छीना था। इसलिए कौन  इवेंट करता है और कौन जनता के बीच जाकर काम करता है ये जनता को पता है और जनता लगातार कमलनाथ को इस का जवाब देती है। शर्मा ने कहा 43 लाख बेटियां आज लाडली लक्ष्मी बनकर खड़ी है।लाडली लक्ष्मी योजना बेटी बचाओ अभियान के तहत देश में सामाजिक परिवर्तन हो रहा है। उन्होंने कहा कि मेडिकल से लेकर टेक्निकल तक की पढ़ाई मातृभाषा में होगी।          

Kolar News

Kolar News 2 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा आज ये हिंदुस्तान में क्या, शायद पूरी दुनिया में पहली बार हो रहा होगा। की लाडली लक्ष्मी बेटियों के नाम से वाटिका बनी है।  मेरी बेटियों ने कई जगह पेड़ लगाए है। उन्होंने कहा बेटियों के सम्मान से बढ़कर कोई और दूसरा सम्मान नहीं है। और बेटियों का सम्मान नहीं होगा तो देश और प्रदेश कभी भी सुखी नहीं रह सकता उन्होंने कहा अब हर एक जिले में एक रोड का नाम लाड़ली लक्ष्मी पथ रखा जायेगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में लाड़ली लक्ष्मी पथ का लोकार्पण किया इस दौरान उन्होंने कहा कि एक पार्क लाडली लक्ष्मी बेटियों के नाम हो लाडली लक्ष्मी वाटिका। यह सभी 52 जिलों में हुआ है।  बाद में इस वाटिका को जिलों के नीचे भी ले जाएंगे।  शिवराज सिंह चौहान ने कहा आज ये हिंदुस्तान में क्या, शायद पूरी दुनिया में पहली बार हो रहा होगा की लाडली लक्ष्मी बेटियों के नाम से वाटिका बनी है। मेरी बेटियों ने कई जगह पेड़ लगाए है।    शिवराज सिंह  ने कहा  बड़े लोगों के नाम से, महापुरुषों के नाम से रोड का नाम रखने की परंपरा तो थी।  मैंने कहा मेरी लाड़ली लक्ष्मी बेटियां तो बड़ी होकर प्रदेश का भविष्य बनाएंगी। देश का भविष्य गढ़ेंगी। ये बहुत आगे बढ़ेंगी। इसलिए एक रोड का नाम "लाडली लक्ष्मी रोड" रख दिया जाए। उन्होंने कहा भारत माता चौराहे से लेकर पॉलीटेक्निक चौराहे को लाड़ली लक्ष्मी रोड कहा जायेगा।  जिसमें यह स्मार्ट पार्क भी आता है। जहां मैं रोज पेड़ लगाता हूं।  यह स्मार्ट रोड था। मैंने कहा "यह स्मार्ट रोड नहीं होगा यह लाड़ली लक्ष्मी रोड कहा जायेगा।" आज मेरी बेटियों के नाम पर पथ का नाम ये शायद दुनिया में पहली बार हो रहा होगा। बेटियों के नाम पर रोड का नाम होगा दोनो तरफ लाड़ली लक्ष्मी योजना का प्रचार - प्रसार होगा।  बेटियों के सशक्तिकरण की योजनाओं का भी प्रचार - प्रसार होगा। शिवराज ने कहा यह लाड़ली लक्ष्मी पथ इसलिए क्यूंकि  मुझे लाडली लक्ष्मी बेटियों के सम्मान में रोड का नाम रखना था। क्योंकि बेटियों के सम्मान से बढ़कर कोई और दूसरा सम्मान नहीं है।   

Kolar News

Kolar News 2 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश स्थापना दिवस से मध्यप्रदेश के गान के समय सभी नागरिकों से खड़े को कर सम्मान देने का संकल्प दिलाया। उन्होंने कहा की पहले मध्यप्रदेश गान के समय खड़े होकर सम्मान देने की परम्परा नहीं थी। आज से यह परम्परा प्रारंभ कर रहे हैं। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि आज स्थापना दिवस समारोह में प्रस्तुत मैत्रेयी जी के दल की प्रस्तुतियाँ अद्भुत एवं अलौकिक हैं। प्रदेश के अन्य स्थानों पर भी यह प्रस्तुति करवाई जाएंगी। मध्यप्रदेश के स्थापना दिवस पर मुख्य कार्यक्रम में लाल परेड ग्राउंड, भोपाल में आज मुख्यमंत्री चौहान सहित जन-प्रतिनिधि, अधिकारी-कर्मचारी और बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित रहे। सुप्रसिद्ध तीन संगीतकारों शंकर, एहसान और लॉय समूह द्वारा बैंड प्रस्तुति और जानीमानी कोरियोग्राफर मैत्रेयी पहाड़ी का साथी कलाकारों के साथ नृत्य नाटिका “शिव महात्म्य” का लाइव कार्यक्रम देखने का अवसर राजधानी के नागरिकों को मिला। सभी प्रदेशवासियों ने विभिन्न संचार माध्यमों से कार्यक्रम को देखा। इन प्रस्तुतियों के लिए संस्कृति विभाग द्वारा समन्वय किया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने आमंत्रित कलाकारों का स्वागत करते हुए प्रदेश की जनता की ओर से उनका अभिनन्दन किया।   संस्कृति, पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि आज का दिन सपनों, संकल्पों और अपनी निष्ठाओं के सर्वस्व समर्पण का दिन है। हम सब सौभाग्यशाली है कि प्रदेश को मुख्यमंत्री चौहान का सरल, सहज और सक्रिय नेतृत्व मिला है। मुख्यमंत्री चौहान के मार्गदर्शन में देश का हृदय प्रदेश "मध्यप्रदेश" विभिन्न विधाओं में देश के राज्यों में अग्रिम पंक्ति पर है। सभी को मुख्यमंत्री चौहान के साथ यह संकल्प लेना चाहिए कि हम प्रदेश को विकास के क्षेत्र में देश और दुनिया की सबसे अग्रिम पंक्ति में ले जाएंगे। मंत्री ठाकुर ने कवि कृष्ण सरल की पंक्तियाँ सुना कर युवा शक्ति का आहवान किया।प्रमुख सचिव संस्कृति और पर्यटन शिव शेखर शुक्ला ने स्थापना दिवस समारोह के कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि प्रदेश का 67वाँ स्थापना दिवस समारोह शैव भक्ति एवं ज्ञान आधारित रहा है। शून्य से शिव, शिव से कालातीत महाकाल की कथा नृत्य, संगीत और 3डी तकनीकी संयोजन के साथ प्रस्तुत की गई। साथ ही सुविख्यात शंकर-एहसान-लॉय बैंड की गीत-संगीत की सुरमई प्रस्तुति संयोजित की गई। संचालक संस्कृति अदिती कुमार त्रिपाठी ने आभार माना।  

Kolar News

Kolar News 2 November 2022

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सरकार के कर्ज लेने पर कमलनाथ के सवाल उठाने पर कहा की भाजपा की सरकार सिर्फ और सिर्फ विकास के लिए लोन ले रही है। किसानों के लिए कमलनाथ की 15 महीने की सरकार में 15 हजार करोड़ का लोन लेकर सलमान खान और जैकलीन पर खर्च करने की तैयारी में थे। इन्हे कर्ज पर सवाल खड़े करने का अधिकार नहीं है। इन्होने बेरोजगारों को धोखा दिया है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कर्ज के सवाल पर कहा कि भाजपा की सरकार  विकास के लिए लोन ले रही है। कर्ज किसानों के लिए ले रही है। उन्होंने कहा  इस तरह के सवाल कमलनाथ को उठाना शोभा नहीं देता। कमलनाथ 15 हजार करोड़ का लोन लेकर सलमान खान और जैकलीन पर खर्च करने की तैयारी में थे। नरोत्तम मिश्रा ने कहा दिग्विजय सिंह की पीड़ा अजीब है। कमलनाथ ने उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं बनने दिया दूल्हा बनकर तैयार खड़े हुए थे। कमलनाथ घोड़ी खोल कर ले गए।  बड़े भाई और छोटे भाई की भूमिका यूं ही चलती रहेगी  दोनों एक दूसरे के खिलाफ और एक दूसरे के साथ खड़े हैं।    कांग्रेस की आरक्षण बचाओ यात्रा पर मिश्रा ने कहा चुनाव आते ही कांग्रेस को आरक्षण, एससी/एसटी के मतदाताओं की याद आ जाती है। चुनाव के समय ही उनके लिए यात्रा निकालने का आयोजन कांग्रेस करती है। चुनाव खत्म होते ही वह इन सब मुद्दों को भूल जाते हैं।  मतदाता समझदार हो गया है। अब कांग्रेस को वोट नहीं मिलने वाला। कांग्रेस के प्रकोष्ठ पर उन्होंने कहा जिस तरीके से कांग्रेस के 40 प्रकोष्ठ का हश्र हुआ है उसी तरीके से इस प्रकोष्ठ का भी हश्र होने वाला है। नरोत्तम मिश्रा ने खंडवा में दुष्कर्म की घटना पर कहा यह बहुत दुखद घटना है। बच्ची को इलाज के लिए तत्काल अस्पताल भेजा गया। अभी  इंदौर के बॉम्बे हॉस्पिटल में उसका इलाज चल रहा है। मिश्रा ने कहा समाज के अंदर विकृत मानसिकता है।  समाज को जागरूक होना पड़ेगा सरकार ने फांसी का कानून बनाया है। सुप्रीम कोर्ट के टू फिंगर टेस्ट पर उन्होंने कहा- सुप्रीम कोर्ट ने दुष्कर्म के मामलों में टू फिंगर टेस्ट को लेकर गाइडलाइन जारी की है। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। 

Kolar News

Kolar News 1 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश के 67वें स्थापना दिवस पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएँ और बधाई दी है। उन्होंने कहा कि कभी बीमारू कहा जाने वाला मध्यप्रदेश आज तेज गति से आगे बढ़ रहा है। इस वर्ष मध्यप्रदेश की आर्थिक विकास दर 19.76 प्रतिशत रही। बीमारू से सुचारू और अब आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश बनाने की दिशा में हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। मध्यप्रदेश हर क्षेत्र में विकास के नए आयाम स्थापित कर रहा है। राज्य के स्थापना दिवस पर प्रदेशवासियों से यही प्रार्थना है कि प्रदेश की प्रगति और विकास में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें। आइये समृद्ध विकसित और आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए हम तेजी से आगे बढ़ें।    राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने प्रदेशवासियों को मध्यप्रदेश के स्थापना दिवस की हार्दिक बधाई और राज्य की खुशहाली और उन्नति की कामना की है। राज्यपाल ने आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश निर्माण संकल्प को पूरा करने में सहयोग के लिए नागरिकों का आह्वान किया है। राज्यपाल  मंगुभाई पटेल ने प्रदेशवासियों से कहा है कि स्वर्णिम मध्यप्रदेश निर्माण के लिए सर्वस्व अर्पण की भावना के साथ एकजुट होकर विकास के लिए कार्य करना होगा। हमें प्रदेश के लिए जीना है, काम करना है, इस भावना के साथ किये गये छोटे-छोटे प्रयास भी बड़े नतीजे ला सकते हैं। उन्होंने कहा है कि निष्ठा और ईमानदारी के साथ रोज के कामकाज करते हुए भी प्रत्येक व्यक्ति राज्य की उन्नति में योगदान दे सकता है।  

Kolar News

Kolar News 1 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने राष्ट्रीय एकता दिवस पर प्रदेशवासियों का आहवान किया कि देश की उपलब्धियों से प्रेरणा लेकर आगे बढ़ें, हमारी एकता, श्रेष्ठता को नई ऊँचाई देने के लिए संकल्पित हों। देश की अखंडता और एकता के लिए अपने नागरिक कर्त्तव्यों को पूरा करते हुए, हमारा हर प्रयास सरदार पटेल के लिए सच्ची श्रद्धांजलि है। राज्यपाल पटेल आज कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में भारत के पूर्व गृह मंत्री स्व. सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। राज्यपाल पटेल ने राष्ट्रीय एकता दिवस कार्यक्रम की सराहना करते हुए राज्य सरकार को बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज़ाद भारत के निर्माण में सबका प्रयास जितना प्रासंगिक था, आज आज़ादी के इस अमृतकाल में उससे कहीं अधिक जरूरी है। आज़ादी का यह अमृतकाल, विकास की अभूतपूर्व गति का, कठिन लक्ष्यों को हासिल करने का और सपनों के भारत के नवनिर्माण का है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, सरदार वल्लभभाई पटेल के देशहित को सर्वोपरि रखने के आदर्शों से प्रेरणा लेकर सशक्त, समावेशी, संवेदनशील, सतर्क, विनम्र और विकसित राष्ट्र निर्माण का कार्य कर रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में आज भारत, बाहरी और आंतरिक चुनौतियों से निपटने में पूरी तरह से सक्षम हो रहा है। पिछले 8 वर्षों में देश ने दशकों पुराने अवांछित कानूनों से मुक्ति पाई है। राष्ट्रीय एकता को संजोने वाले आदर्शों को नई ऊँचाई दी है। एक भारत-श्रेष्ठ भारत की इसी भावना को मजबूत करते हुए, देश में सामाजिक, आर्थिक और संवैधानिक एकीकरण का महायज्ञ चल रहा है। देश आत्म-निर्भरता के नए मिशन पर चल रहा है। राष्ट्रीय हितों की सुरक्षा के लिए जल, थल, नभ, अंतरिक्ष और हर मोर्चे पर भारत का सामर्थ्य और संकल्प अभूतपूर्व है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने भारत माता की अतुलनीय सेवा की। वे भारत के ऐसे गृह मंत्री थे, जिन्होंने दृढ़संकल्प से अंग्रेजों की भारत को बाँटने की कुटिल चाल को असफल किया। सरदार पटेल ने संघर्ष का इतिहास बनाया। परतंत्रता की बेड़ियों से देश को आजाद कराने में भी योगदान दिया। चाहे खेड़ा आंदोलन हो या बारडोली सत्याग्रह या फिर भारत छोड़ो आंदोलन। सरदार पटेल ने सभी में योगदान दिया। उनका सबसे महत्वपूर्ण योगदान 563 भारतीय रियासतों का भारतीय संघ में सफलतापूर्वक विलय करवाना है। उन्होंने रियासतों के नवाबों और राजाओं को बुलाया और उन्हें भारतीय संघ में विलय के लिए तैयार किया। जो सहज भाव से राष्ट्र की एकता के लिए इस पर सहमत नहीं थे, तो उन्होंने कठोरता का भी उपयोग किया। इस तरह उन्होंने अंग्रेजों के षड़यंत्र को साहस के साथ नाकाम कर भारत को एक करने का कार्य किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार पटेल की स्मृति को बनाए रखने के लिए गुजरात के केवड़िया में "स्टैच्यु ऑफ यूनिटी" का निर्माण करवाया, जिसे आज हम आजाद कश्मीर के नाम से जानते हैं, उसके बिना भारत अधूरा रहेगा। अगर यह मामला सरदार पटेल के हाथ में होता तो एक-एक इंच जमीन भारत के पास होती। वे सचमुच में लौह पुरूष थे। अत्याचार और अन्याय के खिलाफ कभी रुके नहीं बल्कि डटे रहे। अंग्रेजों के समय की ब्यूरोक्रेसी को लोक सेवा के रूप में परिवर्तित किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में ऐसे नायकों के स्मरण की भी जरूरत बताई जो भुला दिए गए। मध्यप्रदेश की धरती अनेक स्वतंत्रता प्रेमियों और स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करने वाले व्यक्तित्वों के लिए जानी जाती है। मध्यप्रदेश के स्कूली विद्यार्थी गुजरात में जाकर सरदार वल्लभ भाई पटेल की भव्य प्रतिमा देखने जाएँ। यह यात्रा उन्हें राष्ट्र भक्ति के लिए प्रेरित करेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने आशा व्यक्त की कि उज्जैन के श्री महाकाल लोक के भ्रमण से भी विद्यार्थी ज्ञान और प्रेरणा प्राप्त करेंगे।   उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि सरदार वल्लभभाई पटेल के आदर्शों से प्रेरणा लेकर राज्य सरकार निरंतर राष्ट्र सेवा और संस्कृति-संरक्षण के कार्य कर रही है। सरदार पटेल द्वारा आज़ादी के बाद सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के पथ का अनुसरण करते हुए, मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में महाकाल कॉरिडोर और शंकराचार्य स्मारक निर्माण आदि के कार्य किए जा रहे हैं। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने रियासतों के विलय का कार्य चतुराई से किया। जूनागढ़, हैदराबाद और जम्मू-कश्मीर का विलय उनके मिशन का ही परिणाम था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नेतृत्व भी ऐसा है, जिस तरह सरदार वल्लभ भाई पटेल दृढ़ता से नेतृत्व करते थे। मध्यप्रदेश के शासकीय विद्यालयों के विद्यार्थी गुजरात में सरदार पटेल की प्रतिमा और स्मारक का दर्शन कर उनके कार्यों से प्रेरणा लेकर आए हैं। ये विद्यार्थी वहाँ की सुरभि को देश के कोने-कोने में पहुँचाएंगे। सरदार पटेल ने सहकारी क्षेत्र को भी समृद्ध किया था। प्रारंभ में राज्यपाल पटेल एवं मुख्यमंत्री चौहान ने मिंटो हाल सभागृह के निकट अन्य कक्ष में सरदार वल्लभभाई पटेल के व्यक्तित्व और कृतित्व पर केंद्रित चित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। प्रदर्शनी के लिए चित्र संयोजन स्वराज संस्थान ने किया। कार्यक्रम का शुभारंभ सरदार वल्लभ भाई पटेल के चित्र पर माल्यार्पण से हुआ। राज्यपाल पटेल और मुख्यमंत्री चौहान को प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी ने सरदार वल्लभभाई पटेल की गुजरात में निर्मित विशाल प्रतिमा की प्रतिकृति स्मृति स्वरूप भेंट की। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय की छात्रा रागेश्वरी ने सरदार पटेल के जीवन और उनके योगदान पर प्रकाश डाला। जयंती समारोह में राष्ट्रभक्ति के भाव से भरा प्रेरक गीत “हम सब भारतीय हैं ….” प्रस्तुत किया गया। केवड़िया के सरदार वल्लभ भाई पटेल प्रतिमा स्थल पर केन्द्रित लघु फिल्म भी प्रदर्शित की गई। महापौर मालती राय सहित जन-प्रतिनिधि, बड़ी संख्या में विद्यार्थी, शिक्षक, प्रबुद्धजन और नागरिक मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 1 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भगवत गीता हमें जीवन से भागने नहीं अपितु सात्विक कार्यकर्ता के रूप में निरंतर कर्मरत रहने का संदेश देती है। आवश्यक यह है कि कर्म ऐसे हों, जो स्वयं के साथ-साथ दूसरों का भी भला करें। श्री रामचंद्र मिशन के पूज्य कमलेश दाजी हार्टफुलनेस अभियान के माध्यम से हमें ज्ञान का प्रकाश और सदबुद्धि प्रदान करते हुए सन्मार्ग पर बने रहने की प्रेरणा दे रहे हैं। उनके दिखाए मार्ग पर चल कर हम अपने पारिवारिक और व्यावसायिक दायित्व निभाते हुए आध्यात्मिक प्रगति के पथ पर निरंतर अग्रसर हो सकते हैं। उनके द्वारा प्रतिपादित आध्यात्मिक मार्ग पर चलने की पद्धति अपने आप में संपूर्ण है। मुख्यमंत्री चौहान हैदराबाद में हार्टफुलनेस संस्थान के कान्हा शांति वनम में आयोजित ध्यान सत्र के बाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में श्री रामचंद्र मिशन के पूज्य कमलेश दाजी, साधना सिंह विशेष रूप से उपस्थित थीं। मुख्यमंत्री चौहान ने योग व ध्यान के माध्यम से नशे की लत को छुड़ाने की विधियों पर केन्द्रित पुस्तक “यस यू केन डू ईट” के हिंदी अनुवाद “जी, हाँ आप कर सकते हैं” का विमोचन किया। पुस्तक हार्टफुलनेस संस्थान द्वारा प्रकाशित की गई है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि केवल भौतिक प्रगति व्यक्ति को सुख और आनंद नहीं दे सकती। व्यक्ति अधिकतम आयु और सुख, शांति और आनंद से परिपूर्ण जीवन चाहता है। सभी विचार धाराएँ और पद्धतियाँ, सुख और आनंद की खोज की ओर जाती हैं। पूज्य दाजी द्वारा दिखाया गया मार्ग वर्तमान जीवन की व्यस्तताओं के बीच आध्यात्मिक उन्नति के उच्चतम सोपान तक पहुँचने और व्यक्ति की सुख, शांति और आनंद का मार्ग प्रशस्त करता है। हार्टफुलनेस कार्यक्रम प्रेम, करूणा और दया से परिपूर्ण है। मुख्यमंत्री चौहान ने रामचंद्र मिशन द्वारा कृषि, पर्यावरण-संरक्षण, योग, ध्यान प्राणायाम के प्रसार के लिए संचालित गतिविधियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि मिशन ने प्रदेश में जावरा जिला रतलाम में पर्यावरण-संरक्षण के लिए अभियान चलाया है। मिशन के सहयोग से मध्यप्रदेश में शिक्षा, कृषि, पर्यावरण, जीवन निर्माण और नशामुक्ति के लिए गतिविधियाँ संचालित करने की योजना है। पूज्य श्री कमलेश दाजी ने मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री चौहान द्वारा पर्यावरण-संरक्षण, शिक्षा, कृषि आदि के क्षेत्र में संचालित गतिविधियों की प्रशंसा करते हुए कहा कि देश के हृदय क्षेत्र मध्यप्रदेश को हार्टफुल स्टेट के रूप में विकसित किया जाएगा। पूज्य दाजी ने कहा कि यदि व्यक्ति अशांत और चिंतित होगा तो वह सुखी रह ही नहीं सकता। सुख के लिए शांति आवश्यक है। शांति मनन से संभव है। मनन एकाग्र मस्तिष्क से संभव है, जो ध्यान से प्राप्त किया जा सकता है। अत: ध्यान से सुख का गहरा संबंध है।

Kolar News

Kolar News 31 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अम्मा को मध्यप्रदेश आने का आमंत्रण दिया। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों की ओर से अम्मा का अभिनन्दन किया। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि अम्मा मध्यप्रदेश में आकर प्रेम, करूणा का संदेश और आशीर्वाद दें। मध्यप्रदेश में नर्मदा जी बहती हैं, जो सबको जल देती है। अम्मा मध्यप्रदेश आएँ और प्रेम, करूणा का जल और दया का सागर बहाएँ। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अम्मा पीड़ित मानवता की सेवा कर रही हैं। उन्होंने ऐसी बहनों की सेवा की है जिन्होंने अपने परिवार को खो दिया है। यह विचारणीय है कि सरकारें काफी बड़े बजट से अनेक योजनाएँ संचालित करती हैं। इन योजनाओं में प्रेम और करूणा का भाव भी सदैव शामिल रहे तो दुनिया में स्वर्ग उतर आएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इस आश्रम में आकर हम धन्य हैं। वहीँ उन्होंने ट्वीट कर आभार भी जताया और ख़ुशी ज़ाहिर करते हुए कहा पूज्य अम्मा जी की चरण रज से धन्य उनकी दिव्य और अलौकिक जन्मस्थली अमृतापुरी का अवलोकन कर अभिभूत हूं। मुख्यमंत्री चौहान और अम्मा के बीच हुई चर्चा के दौरान तय किया गया कि जो प्रकल्प अम्मा द्वारा मध्यप्रदेश में चलाए जा रहे हैं उन्हें और बढ़ाया जाएगा । गरीब बेटियों के लिए स्कूल खोलने की योजना, अम्मा द्वारा चलाए जा रहे स्व सहायता समूहों को और बढ़ाने की योजना, अन्न वितरण जैसे कार्यक्रमो को प्रदेश में विस्तार दिया जायेगा। इसके लिए जल्द ही मां अमृतानंद मयी मठ की एक टीम मध्यप्रदेश आकर पूरी कार्ययोजना तैयार करेगी ।  

Kolar News

Kolar News 31 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश सरकार बेटियों और बहनों के कल्याण के लिए संकल्पबद्ध है। जहाँ स्व-सहायता समूहों के माध्यम से बहनों को आर्थिक उन्नयन के अवसर दिए गए हैं, वहीं लाड़ली लक्ष्मी जैसी योजनाएँ बेटियों के लिए वरदान बनी हैं। मुख्यमंत्री चौहान आज कोल्लम में अमृतपुरी आश्रम के 17वें वार्षिक समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान की धर्मपत्नी साधना सिंह भी उपस्थित थी। मुख्यमंत्री चौहान ने अमृतपुरी आश्रम में माता अमृतानंदमयी (अम्मा) से आशीर्वाद भी प्राप्त किया।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कन्या जन्म को प्रोत्साहित किया गया है। प्रदेश में 43 लाख लाड़ली लक्ष्मी बेटियाँ हैं। इन्हें उच्च शिक्षा के लिए भी सहायता दी जा रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने लाड़ली लक्ष्मी योजना के प्रावधानों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार आमजन की सेवा के लिए सक्रिय है। राग, द्वेष भूल कर सभी वर्गों के विकास के लिए कार्य हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी धर्मों और शास्त्रों का एक ही सार है। प्रत्येक व्यक्ति में परमात्मा के दर्शन किए जा सकते हैं। सृष्टि के कण-कण में परमात्मा विराजमान हैं। गोस्वामी तुलसीदास जी ने कहा था- सिया राम में सब जग जानी। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहाकि अम्मा प्रेम, करूणा और दया की मूर्ति हैं। वे दीन-दुखियों की सेवा करती हैं। कहा भी गया है कि आप दीन-दुखियों की आँखों में देखें तो साक्षात ईश्वर के दर्शन होंगे। सचमुच अम्मा भी अमृत हैं। वे कई लोगों को नया जीवन दे रही हैं।

Kolar News

Kolar News 31 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मौनिया महोत्सव बुंदेलखण्ड की संस्कृति को प्रदर्शित करता है। यह महोत्सव हमें आनंद और उल्लास के साथ जीवन जीने का संदेश देता है। मौनिया महोत्सव को शासकीय कैलेण्डर में शामिल कर धूमधाम से मनाया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान छतरपुर जिले की तहसील बिजावर के जानकी निवास मंदिर परिसर में मौनिया नृत्य समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने बिजावर में विकास कार्यों के लिए 18 करोड़ की राशि स्वीकृत करने और सटई को तहसील बनाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बिजावर में पुनः सिविल अस्पताल शुरू करने, आईटीआई की स्थापना और बस स्टैण्ड एवं स्टेडियम के निर्माण और सटई के अस्पताल का उन्नयन करने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि महाविद्यालय में इसी साल से बी.कॉम और बीएससी की कक्षाएँ शुरू होगी। बिजावर में एकलव्य विद्यालय शुरू करने के लिए केन्द्र सरकार से अनुरोध किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बुंदेलखण्ड क्षेत्र में अनेक-तीर्थ स्थल हैं। मध्यप्रदेश का केदारनाथ कहे जाने वाले जटाशंकर धाम को पर्यटन स्थल घोषित कर रूके हुए विकास कार्य को शीघ्र पूर्ण किया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश पर आए गो-वंश के संकट का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार अधिक से अधिक गो-शाला बनाने के प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने समाज से गो-संरक्षण में सहयोग की अपील की। उन्होंने मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में शिविरों में प्राप्त सभी आवेदनों का निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश की धरती पर कोई भी गरीब बिना राशन के नहीं रहेगा। अतिवृष्टि से क्षतिग्रस्त फसलों का सर्वे करा कर राहत राशि और फसल बीमा का लाभ दिलाया जायेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने केन-बेतवा लिंक परियोजना के लिए प्रधानमंत्री मोदी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि जिन किसानों की जमीन भू-अर्जन में आएगी उन सभी को उचित मुआवजा राशि दी जाएगी। गाँव-गाँव के प्रत्येक घर में पाइप लाइन बिछा कर नल से पानी देने की योजना पर लगातार काम चल रहा है।   मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि मेडिकल, इंजीनियरिंग और लॉ कॉलेज में पढ़ाई अब हिंदी में भी होगी। उन्होंने नागरिकों को दोनों हाथ ऊपर उठवा बेटियों की सुरक्षा के लिये संकल्प दिलाये। बेटी को आने दें क्योंकि बेटी है तो कल है, मासूम बेटियों के साथ दुराचार करने वाले को फाँसी की सजा दिलाई जाएगी। बिजली और पानी की बचत करने और नशे की प्रवृत्ति से दूर रह कर अपने गाँव को नशामुक्त बनाने के संकल्प दिलाये।   विधायक राजेश शुक्ला ने सिविल अस्पताल, बस स्टेण्ड, स्टेडियम, आईटीआई, जटाशंकर धाम, कॉलेज में बीकॉम और बीएससी की कक्षाएँ शुरू करने और सटई में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र संबंधी क्षेत्रीय मांगों से अवगत कराया। मुख्यमंत्री को स्मृति-चिन्ह, शॉल-श्रीफल भेंट कर उन्हें मोर मुकुट पहनाया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने मौनिया नृतक दलों के साथ ताल से ताल मिला कर नृत्य किया। समारोह में 200 से ज्यादा नृतक दल शामिल हुए। पूर्व राज्य मंत्री ललिता यादव ने आभार माना। मुख्यमंत्री चौहान बिजावर मौनिया महोत्सव में शामिल होने के बाद बिजावर विधायक राजेश शुक्ला के रतनगंज स्थित आवास पहुँचे और परिवारजन से भेंट की। परिवार के सदस्यों द्वारा आत्मीय स्वागत किया गया।

Kolar News

Kolar News 30 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आज भौतिकता की अग्नि में दग्ध विश्व मानवता को शाश्वत शांति के पथ का दिग्दर्शन अपने अद्वैत दर्शन के माध्यम से भारत ही कराएगा। आज विश्व जिन विवादों में घिरा है, उनका हल भारत के पास है। हमारा दर्शन विश्व शांति और विश्व-कल्याण का है। हमारी विचारधारा "वसुधैव कुटुंबकम" एवं "सर्वे भवंतु सुखिन:" की है। मुख्यमंत्री चौहान आज डेली कॉलेज इंदौर में प्रज्ञा प्रवाह के संयोजन में आयोजित यंग थिंकर्स कॉन्क्लेव में शामिल हुए। कॉन्क्लेव में भारतीय चिंतन के विषय में युवा चिंतकों ने अपने विचार रखे। मुख्य वक्ता प्रज्ञा प्रवाह के संयोजक जे. नंदकुमारम, जस्टिस सुबोध अभ्यंकर, राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सुनील कुमार गुप्ता, देवी अहिल्या विश्व विद्यालय की कुलपति प्रोफेसर रेणु जैन, पाणिनी वैदिक विद्यापीठ के कुलपति प्रोफेसर विजय कुमार मेनन, डॉ. अखिलेश कुमार पांडे और महापौर श्री पुष्यमित्र भार्गव उपस्थित थे। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती के पूजन से हुआ। मुख्यमंत्री चौहान का स्वागत डेली कॉलेज के अध्यक्ष विक्रम पवार ने किया। कॉन्क्लेव में समूचे भारत के 500 युवा शिरकत कर रहे हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारा अद्वैत दर्शन कहता है कि प्रत्येक जड़ और चेतन में एक ही चेतना है, हर आत्मा में परमात्मा है। अहम् ब्रह्मास्मि। मैं और तुम एक है। सभी एक हैं। यह जानने के बाद और कुछ जानने के लिए शेष नहीं रह जाता। हम प्रकृति की पूजा करते हैं, नदियाँ हमारे लिए माता हैं।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारत के दर्शन की गहराइयों में जाएँ तो विश्व के सारे विवादों का हल भारत के पास है। जिस प्रकार हमारे शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा होते हैं, उसी प्रकार समाज के भी शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा होते हैं। पूरी धरती और और उस पर रहने वाले शरीर है, सामूहिक संकल्प (मेरा देश, देश भक्ति) मन है, संविधान बुद्धि है और सबका कल्याण आत्मा है। सबके कल्याण में ही सारे विवादों का हल है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विश्व की सारी विचारधाराएँ इसी चिंतन से निकली है कि सुखी कैसे रहा जाए। पश्चिम दर्शन कहता है कि शरीर की आवश्यकता है पूरी हो जाए तो मनुष्य सुखी हो जाएगा। हमारा दर्शन कहता है कि शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा के समुच्चय का सुख ही पूरा सुख है। शरीर, मन, बुद्धि और आत्मा का सुख चार पुरुषार्थ अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष से प्राप्त होता है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मैंने बचपन में स्वामी विवेकानंद का विचार पढ़ा और वही मेरे जीवन का दर्शन बन गया। मनुष्य ईश्वर का अंश है, अमृत का पुत्र है, अनंत शक्तियों का भंडार है। ऐसा कोई कार्य नहीं जो वह नहीं कर सकता। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भारत में विमर्श की प्रक्रिया अनंत काल से चली आ रही है। गाँव-गाँव में सत्यनारायण की कथा में हम धर्म की जय हो, अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भावना हो, विश्व का कल्याण हो, यह संकल्प लेते हैं। भारत ने विश्व की सभी विचारधाराओं का सम्मान किया है। सत्य एक है, उसे विभिन्न प्रकार से कहा जाता है। हमारे लिए सारी दुनिया एक परिवार है। वेद, उपनिषद, गीता में हमारा दर्शन है। शंकराचार्य और विवेकानंद जैसे विद्वानों ने हमारा दिग्दर्शन किया है।   मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय दर्शन में जीवन यापन के जो भी तौर-तरीके बताये एवं अपनाए गये हैं, वास्तव में यदि समय रहते मानव ने अपने आपको विकासरूपी भ्रम जाल से बाहर निकालकर विश्व में शांति एवं समस्याओं के समाधान हेतु अंगीकार नहीं किया तो विश्व कल्याण की कल्पना व्यर्थ है। उन्होंने युवाओं का आहवान किया कि एक बार पुन: विश्व में भारतीय जीवन दर्शन का डंका बजाने के लिये शंखनाद किया जाए। यंग थिंकर फोरम के आशुतोष ठाकुर की मांग पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि धार की वाग्देवी की प्रतिमा को इंग्लैण्ड से वापस लाने के लिए राज्य सरकार सभी संभव प्रयास करेगी।  

Kolar News

Kolar News 30 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में सीएम राइज योजना एक नई सामाजिक क्रांति है। इस योजना से शासकीय स्कूलों को सर्वसुविधा तथा संसाधनयुक्त बनाया जा रहा है। नये भवन बनाये जा रहे हैं। योग्य एवं कुशल, कर्मठ तथा लगनशील शिक्षकों की व्यवस्था कर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने की व्यवस्था शुरू की गई है। सीएम राइज स्कूलों में स्मार्ट क्लास,लायब्रेरी, प्रयोगशाला, खेल मैदान सहित अन्‍य सभी जरूरी सुविधाएँ उपलब्ध करायी जायेंगी। सरकारी स्कूलों को प्रायवेट स्कूलों से बेहतर बनाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी स्कूलों के अध्यापकों एवं बच्चों में योग्यता और प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। उन्हें सिर्फ अवसर और सुविधाएँ देने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में शिक्षाकर्मी कल्चर को समाप्त किया गया है। शिक्षकों को बेहतर सम्मान और सुविधाएँ प्रदान की जा रही हैं। मुख्यमंत्री चौहान आज इंदौर में राज्य स्तरीय समारोह में प्रदेश में शिक्षण सुविधाओं को सुदृढ़ बनाने, विस्तारित करने और गुणवत्तापूर्ण शिक्षण की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये सीएम राइज योजना में 2519 करोड़ रूपये की लागत से प्रदेश में बनने वाले  69  सीएम राइज स्कूलों के नवीन भवन का भूमि-पूजन कर रहे थे।     कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान एक अलग रूप में नजर आये। यह रूप था मोटिवेशनल स्पीकर का इस रूप में उन्होंने विद्यार्थियों से सहज शैली में संवाद कर प्रेरक दृष्टांतों के माध्यम से जीवन में आगे बढ़ने के लिये प्रेरित किया। मुख्यमंत्री ने बच्चों से संवाद करते हुए स्वयं की प्रारंभिक शिक्षा एक छोटे से गाँव के सरकारी स्कूल में होने, एक हाथ में टाट पट्टी और दूसरे हाथ में बस्ता लेकर विद्यालय जाने जैसी बातें साझा की। उन्होंने बताया कि जब वे सांसद बने तब सरकारी स्कूलों में जाते थे और सोचते थे कि इन स्कूलों में यदि बच्चों को पढ़ाई के लिए सारी सुविधाएँ मिल जाए तो वे भी चमत्कार कर सकते हैं। यही वजह रही कि मुख्यमंत्री बनने के बाद ऐसे विद्यालय खोलने का संकल्प लिया जहाँ हर वर्ग के विद्यार्थी को पढ़ाई, खेलकूद, कला एवं कौशल विकास के पूरे अवसर मिल सकें। मुख्यमंत्री चौहान ने विद्यार्थियों से कहा कि वे स्वामी विवेकानंद के आदर्श वाक्य "उठो, जागो और अपने लक्ष्य को प्राप्त करके ही चैन की साँस लो" का अनुसरण करें। खूब पढ़े और खूब खेलें। उन्होंने विद्यार्थियों से "खेलेंगे-कूदेंगे, आसमान को छू लेंगे, पढ़ेंगे-लिखेंगे, आसमान को छू लेंगे का उद्धघोष भी कराया। मुख्यमंत्री ने बच्चों से कहा कि यदि उनमें प्रतिभा है, तो उन्हें आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकेगा। उन्हें सारी सुविधाएँ सरकार देगी। मेधावी विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा की फीस भी शिवराज मामा भरेगा। तुम मेहनत करो तो डॉक्टर, इंजीनियर, वकील, मुख्यमंत्री जो चाहे बन सकते हो। मनुष्य जैसा सोचता है वैसा कर सकता है।   मुख्यमंत्री चौहान ने बच्चों से संवाद कर उन्हें पढ़ने, खेलने एवं आगे बढ़ने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि पढ़ाई के साथ खेल भी जरूरी है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सीएम राइज स्कूलों में चित्रकला, गीत-संगीत और खेलकूद के क्षेत्र में भी आगे बढ़ने की सुविधाएँ प्रदान की जाएंगी। मुख्यमंत्री चौहान ने बच्चों को पढ़ने, खेलने और आगे बढ़ कर आसमान छू लेने का संकल्प भी दिलवाया। उन्होंने बच्चों से कहा कि अच्छा सोचो, अच्छा करो एवं अच्छा नागरिक बनो। उन्होंने कहा कि जीवन में नई उँचाइयों को हासिल करने के लिये सीएम राइज योजना मील का पत्थर साबित होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सीएम राइज स्कूल की परिकल्पना को साकार करने के लिए देश-विदेश के शिक्षाविदों एवं विद्वानों के साथ चर्चा एवं परामर्श कर योजना बनाई गई। निर्णय लिया गया कि स्कूल की बिल्डिंग सर्व सुविधा युक्त तो होगी ही साथ ही अच्छा फर्नीचर, प्रयोगशाला, पुस्तकालय, स्मार्ट क्लास, खेल मैदान, खेल का सामान आदि सभी आवश्यक सुविधाएँ भी होंगी। स्मार्ट क्लास से विद्यार्थी देश-विदेश के योग्य शिक्षकों से ज्ञान प्राप्त कर सकेंगे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इन स्कूलों में योग्य, कर्मठ, समर्पित शिक्षक होंगे। उन्होंने शिक्षकों से अपील की कि वे विद्यार्थियों का भविष्य बनाने में कोई कमी न छोड़ें। यह केवल नौकरी नहीं है अपितु साधना है, तपस्या है, राष्ट्र के नव-निर्माण का महायज्ञ है। उन्होंने बच्चों के माता-पिता से भी कहा कि बच्चों के साथ मित्रवत व्यवहार करें। मुख्यमंत्री चौहान ने सीएम राइज स्कूल की परिकल्पना को मूर्तरूप देने के लिए स्कूल शिक्षा मंत्री और विभागीय अमले को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश में एक और क्रांति हुई है। प्रदेश में अब मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिन्दी में भी प्रारंभ की गई है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि सभी भाषाएँ सीखो परंतु शिक्षा अपनी मातृभाषा में ही प्राप्त करो। अच्छे गुण धारण करो, अच्छे नागरिक बनो, माता-पिता एवं गुरूजनों का सम्मान करो और नशे से दूर रहो।   मुख्यमंत्री चौहान ने पोलोग्राउंड में विकसित किये जा रहे सीएम राइज स्कूल शासकीय अहिल्या आश्रम उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक-एक के प्रागंण में स्थापित प्रात: स्मरणीय अहिल्या माता की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धा-सुमन अर्पित किये। मुख्यमंत्री ने उपस्थित बालिकाओं पर पुष्प-वर्षा कर स्वागत-सत्कार किया और सीएम राइज स्कूल पर आधारित चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किया। सीएम राइज योजना पर आधारित लघु फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि सीएम राइज योजना से शासकीय स्कूलों की दशा एवं दिशाएँ बदली जा रही हैं। प्रदेश में 12वीं तक की शिक्षा एक ही कैंपस में देने की व्यवस्था की जा रही है। मातृभाषा में शिक्षा को बढ़ावा दिया जा रहा है। अन्य भाषाओं को भी बढ़ावा दिया जाएगा। प्रारंभ में प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि अरुण शमी ने स्वागत भाषणमें प्रदेश में निर्मित होने वाले सीएम राइज स्कूलों की जानकारी दी।कार्यक्रम में जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट तथा पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर, सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव, अनुसूचित जाति वित्त विकास निगम अध्यक्ष सावन सोनकर, जिला पंचायत अध्यक्ष रीना मालवीय, इंदौर विकास प्राधिकरण अध्यक्ष जयपाल सिंह चावड़ा, विधायक  रमेश मेंदोला, मालिनी गौड़ तथा महेंद्र हार्डिया, पूर्व विधायक सर्वश्री सुदर्शन गुप्ता,  राजेश सोनकर,  मनोज पटेल,  आईडीए के पूर्व अध्यक्ष मधु वर्मा,  गौरव रणदिवे, पूर्व महापौर कृष्ण मुरारी मोघे  आयुक्त लोक शिक्षण अभय वर्मा, संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा तथा कलेक्टर मनीष सिंह भी मौजूद थे।     सीएम राइज स्कूल में के.जी. से लेकर कक्षा 12वीं तक शिक्षा दी जाएगी। प्रदेश में 2 चरण में 9हजार 95 सीएम राइज स्कूल खोले जायेंगे। इस चरण में वर्ष 2021-24 में प्रत्येक जिला एवं विकासखण्ड स्तर पर 360 स्कूल खोले जायेंगे। दूसरे चरण में वर्ष 2024 से 2031 तक प्रत्येक 10 से 15 किलोमीटर में एक सीएम राइज स्कूल शुरू होगा और कुल 8 हजार 735 स्कूल खोले जायेंगे।सीएम राइज स्कूल की 10 प्रमुख विशेषता निर्धारित की गई हैं। इन स्कूलों में विश्व-स्तरीय अधो-संरचना, परिवहन सुविधा, नर्सरी एवं पूर्व प्राथमिक कक्षाएँ, स्मार्ट क्लॉस एवं डिजिटल लर्निंग, शत-प्रतिशत स्टॉफ एवं सहायक स्टॉफ, स्टॉफ की क्षमता वृद्धि, सुसज्जित प्रयोगशालाएँ, वाचनालय, पाठ्येत्तर सुविधाएँ, 21वीं सदी की आवश्यकता के अनुरूप कौशल कार्यक्रम, व्यावसायिक शिक्षा और पालकों की सहभागिता रहेगी। सीएम राइज स्कूल का उद्देश्य ऐसे स्कूल समुदाय का निर्माण करना है, जो सभी विद्यार्थियों में कठिनाइयों से निपटने की क्षमता और उनके संपूर्ण विकास को बढ़ावा देगा। उन्हें समाज में योगदान देने और संवैधानिक मूल्यों को बरकरार रखने के लिए सशक्त बनायेगा। इन स्कूलों की स्थापना में राज्य सरकार का मिशन, विकास में सहायक, समावेशी और आनंदमय स्कूल समुदाय का निर्माण करना है। कौशल तथा एकीकृत समग्र शिक्षा को प्रोत्साहित करके विद्यार्थियों को जिज्ञासु एवं रचनात्मक कार्यों में सक्षम और आत्म-निर्भर बनने के लिए प्रेरित करना है। सीएम राइज स्कूल में विद्यार्थियों को शिक्षा से उनके द्वारा चुने गए पथ पर आगे बढ़ने, अपनी पूरी क्षमता का उपयोग करने में समर्थ बनाने और परिपूर्ण जीवन जीने के लिए अवसर एवं सहायता मिलेगी।    

Kolar News

Kolar News 30 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों से कहा है कि सलकनपुर में विजयासन माता की कृपा से जो काम चल रहे है, उन्हें जारी रखते हुए महाकाल लोक की तर्ज पर माता के शास्त्र सम्मत सभी स्वरूपों के श्रद्धालु दर्शन कर सकें ऐसा नया प्रस्ताव भी प्रस्तुत करें। मुख्यमंत्री चौहान ने शुक्रवार को सलकनपुर मंदिर परिसर का अवलोकन करने के बाद मंदिर के निर्माण और विकास कार्यों की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को यह निर्देश दिए। सांसद रमाकांत भार्गव, सलकनपुर ट्रस्ट के अध्यक्ष महेश उपाध्याय और सदस्य उपस्थित थे। मुख्यमंत्री के समक्ष वर्तमान निर्माणाधीन कार्यों का प्रजेंटेशन भी किया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विद्वान, पंडित और शास्त्रियों से चर्चा की जाए, जिससे सभी कार्य धर्म और विधि सम्मत हो।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उनका विचार है कि माता के देश भर में स्थापित 52 शक्ति पीठों के चित्र रूप में दर्शन और कथा दीवारों पर उकेरी जाए।इसी तरह माता विजयासन की सभी 6 बहिन और माता के नौ रूप भीत्ति चित्र या अन्य कलात्मक रूप से चित्रित किये जाएँ। मुख्यमंत्री ने कहा कि परिसर में दुर्गा सप्तशती महात्म की कथा भी उकेरी जा सकती है। उन्होंने इस बात का विशेष ध्यान रखने के लिए कहा कि पूजा पूर्व अनुसार ही विजयासेन माता की ही हो।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि माता के मंदिर तक श्रद्धालुओं के आवागमन के लिए पृथक-पृथक मार्ग बनाने के साथ ही रोप-वे से यात्रियों की संख्या और फेरे बढ़ाने के प्रयास किए जाएँ। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि पूरे परिसर में होने वाले निर्माण के कुल क्षेत्र की जानकारी संकलित कर दो-तीन सप्ताह में नया प्लान प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि नवंबर के अंतिम सप्ताह में फिर बैठक होगी। सलकनपुर तक के पहुँच मार्ग आदि के लिए भी निर्देश दिए गए। बैठक में वन, संस्कृति, लोक निर्माण विभाग के प्रमुख सचिव एवं सचिव, संभागायुक्त, आईजी सहित अधिकारी मौजूद थे।

Kolar News

Kolar News 29 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सीहोर जिले के ग्राम नीमटोन में मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान शिविर में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य हर एक पात्र व्यक्ति को लाभान्वित करना है। ऐसे व्यक्ति जिन्हें शासन की योजना का अभी तक लाभ नहीं मिला है, वह आवेदन दें और लाभ लें। मुख्यमंत्री चौहान ने शिविर में अभी तक प्राप्त आवेदन-पत्रों की योजना एवं पंचायतवार समीक्षा भी की। अधिकारियों को निर्देश दिए कि ऐसे लोगों को खोज कर शासन की योजना का लाभ दिया जाए जिन्हें अभी तक लाभ नहीं मिल पाया है। शिविर में नीमटोन सहित डुंगरिया, ग्वारिया, जवाहर नगर के ग्रामीण भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सभी बहनों की आमदनी 10 हजार रूपए प्रति महीना हो, इसके लिए मैं प्रयास कर रहा हूँ। समूह के माध्यम से प्रदेश में अनेक गतिविधियाँ संचालित की जा रही है। उन्होंने कहा कि निर्धन परिवारों के सभी मेधावी बच्चों की मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई की फीस भी सरकार देगी। बेटियों के साथ दुराचार करने वालों को फाँसी की सजा देने का कानून बनाया है और अभी तक 74 लोगों को फांसी की सजा दी गई है। मुख्यमंत्री चौहान ने नर्मदा नदी से पाइप लाइन डाल कर किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध कराने के लिए स्वीकृत योजना की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जल्दी ही इस योजना का शिलान्यास भी किया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि तथा मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजनाओं के क्रियान्वयन की स्थिति जानी। उन्होंने कहा कि जो भी आवेदन प्राप्त होते हैं उन पर शीघ्र कार्यवाही की जाए। किसानों ने बताया कि पंचायत के 175 किसानों की धान की फसल बीमारी से खराब हो गई है। इस पर मुख्यमंत्री चौहान ने कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर को सर्वे कर आरबीसी 6(4) में प्रकरण तैयार कर मुआवजा देने तथा फसल बीमा की राशि भी दिलाने के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्यमंत्री बाल आशीर्वाद योजना का लाभ पात्र बच्चों को देने के निर्देश दिये।मुख्यमंत्री चौहान ने शिविर में आई मीना राजपूत के पैर का एम्स में इलाज कराने और 50 हजार रूपए की आर्थिक सहायता स्वीकृत करने के निर्देश दिये। मुख्यमंत्री ने बालक वंश विश्वकर्मा की चित्रकला प्रतिभा की सराहना कर 25 हजार रूपए देने की घोषणा की। उन्होंने डुंगरिया पंचायत की क्रिकेट टीम को किट खरीदने के लिए 25 हजार रूपए की सहायता देने, 20 लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन, नाली निर्माण के लिए साढ़े सात लाख रूपए, डुंगरिया में नाली निर्माण के लिए 10 लाख रूपए तथा आँगनवाड़ी भवन की स्वीकृति की घोषणा की। साथ ही चबूतरे, तालाब सौंदर्यीकरण और आँगनबाड़ी भवन के लिए भी राशि स्वीकृत की।   मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि एवं मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना सहित अनेक योजनाओं के आवेदनों का निराकरण कर पात्र हितग्राहियों को योजनाओं का लाभ देने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने जानकारी दी कि डुंगरिया से प्रधानमंत्री आवास के कुल 34 आवेदन प्राप्त हुए, जिसमें 10 आवास प्लस के हितग्राही है और शेष हितग्राहियों के नाम मुख्यमंत्री जन आवास में जोड़े गए है। नक्शा शुद्धिकरण के लिए डुंगरिया से पूर्व में 232 आवेदन प्राप्त हुए थे, जिनका सुधार किया जा चुका है।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नामांतरण, बटवारा का कोई भी प्रकरण शेष न रहे, यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित करें कि मुख्यमंत्री जन-सेवा शिविर के बाद हितग्राहियों को किसी प्रकार की कोई शिकायत न रहे। मुख्यमंत्री चौहान ने ग्रामवासियों को 2 नवंबर को होने वाले लाड़ली लक्ष्मी उत्सव कार्यक्रम से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि लाड़ली बेटियों की इंजीनियर तथा मेडिकल की पढ़ाई का खर्च भी सरकार देगी।

Kolar News

Kolar News 29 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के सभी गरीबों के घर बन जाए तो मेरा मुख्यमंत्री पद पर रहना सार्थक हो जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान शुक्रवार को सीहोर जिले के खैरी सिलगैना में मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान शिविर में 5 पंचायतों के ग्रामीणों के आवेदनों का मौके पर ही निराकरण कर संवाद कर रहे थे। सांसद रमाकांत भार्गव और अध्यक्ष अनसूचित जनजातीय वित्त निगम निर्मला बारेला भी उपस्थित थी। मुख्यमंत्री चौहान ने खैरी सिलगेना पंचायत के ग्रामीणों को बधाई देते हुए कहा कि उनके आहवान पर पंचायत निर्विरोध निर्वाचित हुई है। मुख्यमंत्री ने पंचायत को समरस पंचायत भी घोषित किया। उन्होंने ग्रामीणों को संकल्प दिलाया कि वे छोटे-छोटे विवादों में थाना, कोर्ट-कचहरी जाने के बजाए गाँव में ही आपसी सहमति से विवाद सुलझाएँ। मुख्यमंत्री ने गाँव के विद्यालय को आदर्श बनाने की अपील भी की। उन्होंने गाँव में सफाई का बेहतर प्रबंध करने के लिए अंदरूनी नालियों के निर्माण के निर्देश दिए।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जन-सेवा अभियान का आशय ग्रामीणों को कार्यालय के चक्कर न लगाना पड़े और उन्हें शिविर में ही लाभ मिल जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि कोई भी पात्र किसान, प्रधानमंत्री किसान कल्याण और मुख्यमंत्री सम्मान निधि से वंचित नहीं रहे। मुख्यमंत्री ने मंच  से ही अनेक आवेदकों से उनके काम होने की तस्दीक भी की। ऐसे ही एक प्रकरण में मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राही श्री पवन से पूछताछ की। पवन ने बताया कि उनके खाते में दो किस्तों में एक लाख 38 हजार रूपए आ गए है। उनका घर अच्छा बन रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने पवन की पत्नी की मृत्यु सर्पदंश से हो जाने पर  संबल योजना में चार लाख रूपये का चैक भी सौंपा। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर को निर्देश दिए कि सभी किसानों और पशुपालकों के किसान क्रेडिट कार्ड बनाये जाये।   मुख्यमंत्री चौहान ने किसानों की उपज तुलाई में गड़बड़ी और भुगतान नहीं होने पर सख्त रूख अपनाते हुए संभाग आयुक्त भोपाल को निर्देश दिए कि वे दोषी अधिकारियों को टर्मिनेट और वेयर हाउस संचालक के विरूद्ध  कार्यवाही करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार की भ्रष्टाचार को लेकर जीरों टोलरेंस की नीति है, जो भी भ्रष्टाचार करेगा उसे बख्शा नहीं जायेगा। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर सहित वेयर हाउसिंग और सहकारिता के अधिकारियों के प्रति नाराजगी जताते हुए पूछा कि यह कैसे हुआ और अब तक कार्यवाही क्यों नही हुई। उन्होंने स्पष्ट कहा कि दोषियों की जाँच कर जेल भेजें। वेयर हाउस को तुरंत ब्लैक लिस्ट करें। मुख्यमंत्री चौहान ने सभी पंचायतों में स्व-सहायता समूह की गतिविधियों की जानकारी ली और निर्देश दिए कि  महिलाओं की आमदनी 10 हजार रूपए मासिक करने के लिए समूह को सशक्त बनाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि खेती-किसानी के साथ युवाओं को स्व-रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए रोजगार दिवस पर युवाओं को वित्तीय सहायता दिलवाई जाये।मुख्यमंत्री चौहान ने 21 करोड़ 90 लाख रूपये की लागत की 4 सड़क का भूमि-पूजन भी किया। उन्होंने खैरी सिरगेना में नया खेल मैदान विकसित करने, खैरी सिलगेना से मछवाइ मार्ग निर्माण कराने और जागेश्वर धाम मंदिर का गेट बनाने की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री ने शिविर में बोरना, जोनतला, नंदमेर और आमोन ग्राम पंचायत के ग्रामीणों की अनेक समस्याओं का समाधान किया। मुख्यमंत्री चौहान  खैरी सलगना में जोगेश्वर धाम में पूजा-अर्चना कर देश एवं प्रदेश के नागरिकों की सुख-समृद्धि की कामना की। मुख्यमंत्री ने ग्रामवासियों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ भी दी।

Kolar News

Kolar News 29 October 2022

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने उपनगर ग्वालियर में 2 करोड़ 36 लाख से नवीन विद्युत सब स्टेशन एवं विभिन्न क्षेत्रों में विद्युत सुधार कार्य का भूमि-पूजन किया। विकास की श्रंखला निरंतर जारी है। ग्वालियर बदल रहा है, बदलते ग्वालियर में आपका सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि विकास की इबारत लिखने का कार्य दिन प्रतिदिन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 33/11 केव्ही लाइन नं. 1 बिरला नगर में नवीन विद्युत सब स्टेशन बनने से क्षेत्र में विद्युत कटोती एवं ट्रिपिंग की समस्या से निजात मिलेगी। ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि 2 करोड़ 3 लाख की लागत से बनाये जा रहे विद्युत सब स्टेशन से 11 केव्ही लाइन के तीन फीडर निकाले जाएंगे। इससे कांचमिल रोड, नवीन पार्क, श्याम मंदिर, हजीरा, गदाईपुरा के क्षेत्र के लगभग 3 हजार उपभोक्ताओं को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि फूलबाग पर 132 केव्ही का सब स्टेशन फूलबाग पर बनाया जा रहा है। इससे विद्युत की ट्रिपिंग एवं लो वोल्टेज की समस्या से मुक्ति मिलेगी।   ऊर्जा मंत्री ने कहा कि उपनगर ग्वालियर में 5 करोड़ की लागत से में 65 जगहों पर घरों के ऊपर से निकली 11 केव्ही लाइन या घरों पर आ गये खम्बों को बदलने का कार्य तेजी से किया जा रहा है। बिरला नगर प्रसूति गृह के नये भवन का कार्य प्रगति पर है। इसमें बच्चों के लिये एसएनसीयू बनाया जाएगा। संजीवनी क्लीनिक से प्राथमिक उपचार एवं कई प्रकार की जाँचें नि:शुल्क की जा रही हैं। एलीवेटेड रोड का कार्य प्रगति पर है। अंतर्राज्यीय बस स्टेंड भी उपनगर में बनाया जा रहा है। जेसीमिल की चिहिन्त लाइनों में निवासरत लोगों को शीघ्र ही पट्टे वितरण किया जाएगा। उन्होंने आमजन से स्वच्छता के कार्य में सहयोग देने की भी अपील की और कहा कि कचरा सिर्फ कचरा वाहन में डालें।     ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने वार्ड 15 वैष्णोपुरम, पीताम्बरा धर्मकांटा पर एसएसटीडी योजना में 11 लाख 73 हजार की लागत से 33 केव्ही विद्युत लाईन के सुधार कार्य का भूमि-पूजन किया। इससे क्षेत्र के लगभग 46 परिवारों को लाभ मिलेगा। साथ ही वार्ड 16 में श्याम हवेली वाली गली में 3 लाख 34 हजार की लागत से विद्युत लाईन का सुधार कार्य, रेशम मिल स्कूल के पास में 5 लाख 31 हजार की लागत से विद्युत सुधार कार्य, वार्ड 17 में चौहान क्रेन तानसेन रोड में 2 लाख 23 हजार की लागत से विद्युत सुधार कार्य और त्यागी बाबा आश्रम से कोरी समाज कार्यालय तक 8 लाख 73 हजार की लागत से विद्युत सुधार कार्य किया जाएगा। विद्युत सुधार कार्य में घरों के ऊपर से निकली लाइनें एवं घरों के बगल से लगे हुए विद्युत खम्बों को हटाकर अन्यत्र लगाया जाएगा।  

Kolar News

Kolar News 28 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि स्व-सहायता समूह की बहनों ने अपनी कार्य-क्षमता, परिश्रम और लगन से इतिहास रचा है। घूँघट में रहने और चूल्हे-चौके तक सीमित बहने आज स्व-सहायता समूह से आत्म-निर्भर हुई हैं और स्वयं दुकानों से लेकर वाहन तक चला रही हैं। उनके जीवन में आया सकारात्मक बदलाव और उनकी प्रगति हम सबके लिए प्रसन्नता का विषय है। समूहों की बहनों की यह पहल अनुकरणीय है। बहनों के सुख, प्रसन्नता और प्रगति में ही मेरे जीवन की सार्थकता है। मुख्यमंत्री चौहान भाईदूज पर प्रदेश की महिला स्व-सहायता समूह की बहनों से निवास कार्यालय से वर्चुअली संवाद कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने बहनों को दीपावली की शुभकामनाएँ दी और जाना कि धनतेरस का त्यौहार कैसा रहा और बहनों ने क्या-क्या खरीदा। संवाद कार्यक्रम से सभी जिला मुख्यालयों से समूह की बहने जुड़ी। मुख्यमंत्री चौहान ने राजगढ़, मण्डला, शहडोल, रीवा और देवास की बहनों से बातचीत की। निवास कार्यालय पर प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव भी उपस्थित थे।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि समूह से प्रगति की राह पर अग्रसर बहने निरंतर गतिविधियों का विस्तार करें, इस उद्देश्य से राज्य शासन सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ कर रहा है। समूहों को स्कूलों के गणवेश बनाने का दायित्व सौंपा गया है। इस कार्य में समूह की बहने कपड़ा खरीदने तथा अन्य प्रक्रियाओं के संबंध में किसी के बहकावे में न आएँ। समूह की गतिविधियों के संबंध में बहनों द्वारा स्वयं निर्णय लिया जाए। समूह का लोन चुकाने के बाद अधिक लोन लेने के लिए बैंक में आवेदन करें और अपनी गतिविधियों का निरंतर विस्तार करें। मुख्यमंत्री चौहान ने सभी समूहों को पोषण वाटिका विकसित करने के लिए प्रेरित किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अधिक से अधिक शासकीय खरीदी स्व-सहायता समूहों से कराने के लिए प्रयास जारी हैं। समूहों को अपने उत्पादों की गुणवत्ता की ओर विशेष ध्यान देना चाहिए। इससे समूह की गतिविधियाँ और आय बढ़ेंगी। हमें यह प्रयास करना है कि समूह के उत्पादों की माँग देश के साथ दुनिया में भी हो। मुख्यमंत्री चौहान ने बहनों से आजीविका मिशन के 13 सूत्र और 30 बिन्दुओं का निरंतर अनुसरण करने का आहवान किया।     मुख्यमंत्री चौहान से वर्चुअल संवाद में राजगढ़ जिले की राधास्वामी स्व-सहायता समूह की श्रीमती राधा पाल ने बताया कि उन्होंने धनतेरस पर बोलेरो जीप खरीद कर अपने ड्राइवर पति को गाड़ी मालिक बना दिया है। अब प्रतिमाह लगभग 20 हजार रूपए आय हो गई है। पाल ने बताया कि समूह की अन्य सदस्यों ने भी धनतेरस पर स्कूटी और आभूषण आदि क्रय किए हैं। मण्डला के सुंदरिया महिला आजीविका स्व-सहायता समूह की ललिता यादव ने बताया कि उन्होंने धनतेरस पर 8 लाख की लागत से टाटा तूफान वाहन खरीदा है। वे अब तक समूह से लोन लेकर कपड़े की दुकान चलाती थी। वाहन से अब वे बच्चों को स्कूल लाने ले जाने का कार्य करती हैं। वैन संचालन से उनकी मासिक आय में वृद्धि हुई है। शहडोल के दुर्गा स्व-सहायता समूह की माया पटेल ने अपने बेटे को इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए धनतेरस पर लेपटॉप खरीद कर दिया है। श्रीमती माया गर्व से बताती हैं कि उनका बेटा ऑटोकेड का प्रशिक्षण लेना चाहता है। वे स्व-सहायता समूह के माध्यम से सेन्ट्रिंग का कार्य करती हैं। इससे बढ़ी आय से ही बेटे की आगे की पढ़ाई संभाव हो पायी।     रीवा के इमाम अहमद रजा स्व-सहायता समूह की रेशमा बानो बर्तन और जूते-चप्पल की दुकान संचालित कर रही हैं। उन्होंने बताया कि दीपावली पर 5 दिन में उन्होंने एक लाख 15 हजार रूपए का व्यवसाय किया, जिसमें बर्तन की दुकान पर धनतेरस के दिन 55 हजार रूपए की बिक्री हुई।देवास के राधा कृष्णा स्व-सहायता समूह की श्रीमती रमा चावले ने धनतेरस पर पुराना वाहन बेच कर साढ़े सात लाख रूपए में नया पिकअप वाहन खरीदा है। रमा के पति पहले मजदूरी करते थे, पिकअप वाहन खरीदने से अब वे स्वयं वाहन चलाने लगे हैं। अब उनकी मासिक आय 25 से 30 हजार रूपए हो गई है। पति के मजदूर से गाड़ी मालिक बनने के इस सफर से परिवार का आत्म-विश्वास भी बढ़ा है।

Kolar News

Kolar News 28 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि "मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान" जनता की जिंदगी बदलने का अभियान है और मेरा मकसद है कि नागरिकों को सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाना पड़े। पंचायत स्तर पर लगने वाले शिविर में ही उनको शासन की योजनाओं का शत-प्रतिशत लाभ मिले। मुख्यमंत्री चौहान गुरुवार को सीहोर जिले के जैत ग्राम में मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान के शिविर में ग्रामीणों से अनौपचारिक संवाद कर रहे थे। सांसद रमाकांत भार्गव और जैत सहित सरदार नगर, मछवाई, डोबी, नारायणपुर और बोरना पंचायत के ग्रामीण भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री चौहान ने शिविर में प्राप्त सभी आवेदनों में संबंधित आवेदक को मंच पर बुला कर उनकी समस्याओं का निराकरण किया और पात्र व्यक्तियों को योजनाओं में शामिल कर लाभान्वित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अधिकारियों के साथ जन-प्रतिनिधि मिल कर जनता की जिंदगी बदलने का काम करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास के काम के साथ हितग्राही मूलक योजनाओं के लाभ के लिए सभी मिल कर काम करें और लोगो की जिंदगी में बदलाव लाएँ।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सभी पंचायत अपने गौरव दिवस की तारीख तय कर कार्यक्रम करें। उन्होंने जैत के गौरव दिवस पर लिए गए संकल्पों की पूर्ति की जानकारी ली। कलेक्टर ने बताया कि नर्मदा नदी पर 4 करोड़ 88 लाख रूपये की लागत से घाट बनाने का काम शुरू हो गया है। जैत के बायपास के लिए निजी भूमि का अधिग्रहण हो चुका है। ग्राम के 80 प्रतिशत लोगों के आयुष्मान कार्ड बनने के साथ आवास प्लस में पात्रों के नाम जोड़े गए है। जैत में 15 स्व-सहायता समूह बनाए गए है और समूहों को 70 लाख बैंक लिंकेज तथा प्रशिक्षण देकर रोजगार से भी जोड़ा है। ग्राम में स्वच्छता पर भी काफी काम हुआ है। शत-प्रतिशत घरों में शौचालय बनाए गए है। कचरा कलेक्शन के लिए नया वाहन भी दिया गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने उद्यम क्रांति सहित रोजगार योजनाओं में भी युवाओं को लाभान्वित करने, किसानों को उपार्जित धान का भुगतान करने, बिजली की उपलब्धता का सर्वेक्षण कर खंबे लगवाने, संबल सहित अन्य सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ देने के निर्देश दिए। उन्होंने ग्रामीणों को बताया कि 24 गाँव में सिंचाई के लिए 102 करोड़ रूपये की सिंचाई योजना स्वीकृत की गई है।       मुख्यमंत्री चौहान ने बच्चों के आवेदन पर विशेष ध्यान देते हुए कलेक्टर को निर्देश दिए कि गाँव में खेल मैदान विकसित किया जाये और नवंबर और दिसंबर में खेल प्रतियोगिताएँ भी करवाई जाएँ। उन्होंने संभागायुक्त को कुमारी नीतू साहू को अनुकम्पा नियुक्ति देने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने नशामुक्ति अभियान का जिक्र करते हुए कहा कि क्षेत्र में सख्ती से नशे के कारोबार को रोकें। उन्होंने अपराध पर नियंत्रण के पुलिस को भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने शिविर में ग्रामीणों से चर्चा कर योजनाओं के क्रियान्वयन की मैदानी स्थिति भी जानी। उन्होंने एक आवेदक से नामांतरण एवं बंटवारे की जानकारी ली। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरी कसम खाओ कि इस काम के लिये कोई पैसा नहीं देना पड़ा। उन्होंने कहा कि नागरिकों को सुशासन देने के लिये ही मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में गाँव-गाँव शिविर लगाये जा रहे हैं। हमारा मकसद है कि ग्रामीणों को सरकारी काम के लिए दफ्तरों के चक्कर न लगाना पड़े। मुख्यमंत्री चौहान से ग्राम जैतवासियों ने मोबाइल टॉवर लगाने की मांग रखी। शासकीय भूमि उपलब्ध न होने पर गाँव की मुन्नी बाई ने मोबाइल टॉवर लगाने के लिये अपनी निजी भूमि देने की बात कही। मुन्नीबाई की इस सहृदयता से मुख्यमंत्री चौहान सहित सभी ग्रामीण अभिभूत हो उठे।       मुख्यमंत्री  चौहान गृह ग्राम जैत में तब काफी संतुष्ट हो गए जब वे स्व-सहायता समूह की दीदीयों को कस्टम हायरिंग सेंटर और सिलाई केंद्र सहित अन्य व्यवसाय करते हुए रु-ब-रू देखा। मुख्यमंत्री ने जन-सेवा मंच से ही इन महिलाओं की सफलता की कहानी सुनी। मुख्यमंत्री ने गंगा स्व-सहायता समूह द्वारा चलाए जा रहे कस्टम हायरिंग सेंटर को ट्रैक्टर प्रदान किया। उन्होंने सेंटर की गतिविधियों की जानकारी भी ली। मुख्यमंत्री चौहान ने महिला स्व-सहायता समूह के एकता सिलाई केंद्र का अवलोकन कर दीदीयों द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने समूह की दीदीयों द्वारा बनाया गया जैकेट भी खरीदा। कस्टम हायरिंग तथा एकता सिलाई केंद्र की विधि, रानू और प्रियंका जाट ने समूह के माध्यम से 10 हजार रूपए महीने से अधिक आमदनी होने तथा परिवार की आर्थिक स्थिति बेहतर होने के संबंध में अपने अनुभव साझा किए। मुख्यमंत्री चौहान ने समूह की बहनों की प्रगति का उदाहरण देते हुए सभी महिलाओं को समूह से जुड़ कर छोटी-छोटी आर्थिक गतिविधियाँ संचालित करने के लिए कहा।  

Kolar News

Kolar News 28 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेशवासियों को सुरक्षा और सुशासन देना हमारा दायित्व है। प्रदेश के भ्रमण पर आए विदेशी नागरिक के साथ हुई लूट की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। इस प्रकार की घटनाएँ प्रदेश की छवि को प्रभावित करती हैं। ऐसे प्रकरणों को गंभीरता से लेते हुए भविष्य में पूर्ण सतर्कता बरती जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने भोपाल में विदेशी नागरिक से हुई लूट की घटना, मुरैना में डकैत गुड्डा की गतिविधियों और सतना में प्रधानमंत्री आवास योजना में हितग्राहियों को आवास उपलब्ध न होने संबंधी प्रकरणों में सुबह निवास कार्यालय से वर्चुअली बैठक कर अधिकारियों से अब तक की गई कार्यवाही की जानकारी प्राप्त की। भोपाल में गत दिवस पुर्तगाली नागरिक नुनो रॉड्रिक्स के साथ हुई लूटपाट की घटना के संबंध में पुलिस आयुक्त मकरंद देऊस्कर ने बताया कि तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। चिकित्सा दल को होटल भेज कर घटना में घायल हुए नुनो का इलाज कराया गया। कलेक्टर अविनाश लवानिया और पुलिस अधिकारी उनकी कुशलक्षेम पूछने होटल पहुँचे। बताया गया कि सतना जिले के रहिकवार गाँव में प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को आवास नहीं मिलने और राशि में गड़बड़ी के मामले में तीन कर्मचारियों को विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराई गई है, प्रकरण में अभी छानबीन जारी है।    मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में स्वीकृत सभी आवासों का हितग्राहीवार परीक्षण कराया जाए, दोषियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जाए। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि यह सुनिश्चित करें कि छानबीन में कोई गरीब परेशान न हो। मुख्यमंत्री  चौहान ने मुरैना जिले के चांचौल गाँव में डकैत गुड्डा गुर्जर द्वारा की जा रही धमकाने की गतिविधियों पर कड़ा रूख अपनाते हुए तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश मुरैना पुलिस अधीक्षक को दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोई भी डाकू गिरोह सक्रिय नहीं है। किसी का भी आतंक और मनमानी नहीं चलने दी जाएगी। प्रदेशवासियों को सुरक्षा और सुशासन देना हमारा दायित्व है।  

Kolar News

Kolar News 27 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भोपाल की सड़कों को तुरंत दुरूस्त किया जाए। सड़कों के रख-रखाव के लिए नगर निगम और पीडब्ल्यूडी परस्पर समन्वय कर कार्य करें। सीवरेज और पानी की पाईप लाईन के लिए खोदी गई सड़कों का रेस्टोरेशन जिन ठेकेदारों ने नहीं किया है, उन पर कार्यवाही की जाए। एक पखवाड़े के बाद मैं पुन: सड़कों का निरीक्षण करूँगा।मुख्यमंत्री चौहान प्रात:कालीन बैठक में भोपाल की सड़कों की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। नगर निगम आयुक्त  वी.एस.कोलसानी उपस्थित थे। प्रमुख सचिव लोक निर्माण नीरज मंडलोई तथा प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास मनीष सिंह वुर्चअली शामिल हुए। बताया गया कि तुलनात्मक रूप से अधिक वर्षा के कारण सड़कें प्रभावित हुई हैं।     मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसी बैठक में कहा कि प्रकृति के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने के उद्देश्य से आयोजित गोवर्धन पूजा के माध्यम से हमें जन-जन को वृक्षारोपण, गो-वंश के संरक्षण और प्राकृतिक खेती के लिए प्रेरित करना है। गोवर्धन पूजा सही अर्थों में पर्यावरण और प्रकृति की पूजा है, इसका आरंभ भगवान श्रीकृष्ण ने किया था। उन्होंने बृजवासियों से कहा था कि गोवर्धन पर्वत जंगल, घास और फल-फूल के माध्यम से लोगों और पशुओं को जीवन देता है। गोवर्धन पूजा का अर्थ पर्यावरण की रक्षा करना है और जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग के संकट और प्रभावों को देखते हुए गोवर्धन पूजा अधिक प्रासंगिक हो गई है। आज आयोजित गोवर्धन पूजा से अधिक से अधिक किसान, पर्यावरण प्रेमी और जन-सामान्य को जोड़ा जाएँ।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गो-वंश की व्यवस्था के लिए गो-शालाओं को आत्म-निर्भर बनाने के लिए भी गतिविधियाँ संचालित की जाएंगी। सड़कों पर रह रहे गो-वंश की सुरक्षा के लिए गो-वंश को गो-शाला तक लाने के कार्य को सामाजिक दायित्व के रूप में निभाने के लिए हर व्यक्ति को प्रेरित करें। वर्तमान में 1663 गो-शालाएँ संचालित हैं। साथ ही अन्य गो-शालाओं को भी सक्रिय किया जाएगा। पर्यावरण और लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन देना आवश्यक है। वृक्षा-रोपण, जलवायु परिवर्तन के प्रभावों से भावी पीढ़ी को बचाने का उपयुक्त माध्यम है। गोवर्धन पूजा से वृक्षा-रोपण, प्राकृतिक खेती और गो-वंश के संरक्षण की गतिविधियों में अधिक से अधिक लोगों और गो-संरक्षण के लिए सक्रिय संस्थाओं को भी जोड़ा जाएगा।  

Kolar News

Kolar News 27 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इन्दौर में 29 अक्टूबर को होने जा रहे प्रदेश के 73 सीएम राइज स्कूलों के भूमि-पूजन कार्यक्रम का आयोजन बेहतर रूप में हो। मुख्यमंत्री चौहान निवास पर आयोजन की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी सहित अधिकारी मौजूद थे।     मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि इन्दौर में 2660 करोड़ रूपये की लागत के 73 सीएम राइज स्कूलों का भूमि-पूजन होगा, जो प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि होगी। उन्होंने कार्यक्रम की बेहतर व्यवस्थाओं के साथ व्यापक प्रचार-प्रसार के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश भामाशाह पुरस्कार कार्यक्रम 3 नवम्बर को भोपाल में होगा। इसमें 5 श्रेणियों में पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे। कार्यक्रम में करदाताओं की सुविधा के लिए एक किट का विमोचन भी किया जाएगा। कार्यक्रम के बेहतर प्रचार-प्रसार और व्यापक पैमाने पर लोगों के कार्यक्रम को देख सकने की व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसा स्थान तय कर लिया जाए, जिसमें अधिक से अधिक व्यापारी आ सकें।  

Kolar News

Kolar News 27 October 2022

मिश्रा ने किया मुक्तिधाम के जीर्णोद्धार कार्य का भूमिपूजन तो पटेल ने की बाज़ार से खरीदारी    दिवाली के अवसर पर गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दतिया में सेवढ़ा चुंगी मुक्तिधाम के जीर्णोद्धार कार्य का सोमवार को भूमि-पूजन किया। उन्होंने बताया कि मुक्तिधाम के जीर्णोद्धार संबंधी समस्त कार्यों पर होने वाले व्यय को समाज-सेवक श्री विष्णु मोदी वहन करेंगे। मुक्तिधाम आने वाली अंतिम यात्रा में शामिल लोगों के लिये बैठक की समुचित व्यवस्था की जायेगी। मुक्तिधाम में पेड़-पौधे लगा कर बगीचा विकसित किया जायेगा।   वहीं किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने दीपावली के दिन हरदा बाजार में खरीददारी की। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वोकल फॉर लोकल के मूल मंत्र को अंगीकार करते हुए स्थानीय व्यापारियों से झाड़ू और दीये खरीदे। कृषि मंत्री पटेल ने बाजार में व्यापारियों से मेल-मुलाकात की। वे बाजार में बच्चों से मिले और उन्हें दुलार किया। बुजुर्गों के चरण-स्पर्श कर आशीर्वाद प्राप्त किया। मंत्री पटेल ने कहा कि दीपावली उमंग, उत्साह और उल्लास का पर्व है। सभी के साथ मिल कर दीपावली मनाने से खुशियाँ दोगुनी होती हैं। मंत्री पटेल ने सभी को दीपावली की बधाई और शुभकामनाएँ दी।  

Kolar News

Kolar News 26 October 2022

गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दीपावली पर्व पर दतिया पुलिस लाइन पहुँच कर पुलिस परिवार को बधाई और शुभकामनाएँ दी। उन्होंने बच्चों को मिठाई बाँटी और उनके साथ आतिशबाजी भी की। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि पुलिस के जवान 24X7 ड्यूटी पर तैनात रहते हैं। सभी त्यौहारों में वे आम जनता की सेवा और सुरक्षा के लिये सदैव कर्त्तव्यरत रहते हैं। कर्त्तव्य के प्रति उनकी समर्पण भावना को दृष्टिगत रखते हुए मैं उनके परिवारों के साथ दीपावली मनाने आया हूँ। पुलिस परिवार के सदस्यों ने दीपावली पर गृह मंत्री को अपने बीच पाकर खुशी जाहिर की और उनका आत्मीय स्वागत किया।    

Kolar News

Kolar News 26 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि दीपावली पर्व प्रदेशवासियों के जीवन में सुख-समृद्धि, रिद्धि-सिद्धि लाए। मध्यप्रदेश प्रगति, विकास और जन-कल्याण के क्षेत्र में नया इतिहास रचे, यही कामना है। हम सबको "टीम मध्यप्रदेश" की भावना से काम करना होगा। मुख्यमंत्री चौहान दीप पर्व पर निवास कार्यालय से सभी मंत्रीगण, राज्य और जिला स्तरीय अधिकारियों को वर्चुअली संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने दीपावली की शुभकामनाएँ देते हुए प्रदेश के विकास के संकल्प और योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन तथा प्रदेश को विभिन्न क्षेत्रों में अग्रणी बनाने के लिए टीम मध्यप्रदेश को प्रेरित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि दीपावली के संकल्पों को सिद्ध कर, टीम मध्यप्रदेश राम राज्य की अवधारणा को साकार करेगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में विकास गतिविधियाँ और जन-कल्याणकारी योजनाओं का क्रियान्वयन बेहतर स्वरूप में हो रहा है। हमें प्रदेशवासियों के जीवन-स्तर में बदलाव लाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना है। प्रदेश ने 19.76 प्रतिशत की विकास दर दर्ज कराई है। सकल घरेलू उत्पाद 200 प्रतिशत बढ़ा है। प्रदेश की अर्थ-व्यवस्था 11 लाख 50 हजार करोड़ की है और केपिटल एक्सपेंडिचर 48 हजार करोड़ से अधिक का है। प्रदेश में विकास गतिविधियों का क्रियान्वयन तेजी से हो रहा है। मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में ऐसे पात्र 68 लाख पात्र हितग्राहियों को जोड़ा जा चुका है, जिन्हें अब तक इन योजनाओं का लाभ नहीं मिला।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि हमें यह सुनिश्चित करना है कि जनता को अपने कार्यों के लिए शासकीय दफ्तरों के चक्कर नहीं लगाने पड़ें, सरकार स्वयं उनके द्वार पर पहुँच कर आवश्यक सेवाएँ उपलब्ध कराएँ। राज्य शासन द्वारा भ्रष्टाचार को समाप्त करने के हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। हमें ऐसा मॉनिटरिंग सिस्टम स्थापित करना होगा जिससे व्यवस्था में भ्रष्टाचार की गुंजाइश ही न बचे। दीपावली पर्व पर समस्त मंत्रीगण तथा अधिकार-कर्मचारियों की टीम मध्यप्रदेश जन-सामान्य को बिना परेशानी के शासकीय सेवाओं, योजनाओं का लाभ उपलब्ध कराने का संकल्प लें। शासकीय कार्य में गड़बड़ करने वालों और भ्रष्टाचार करने वालों को छोड़ा नहीं जाएगा। प्रदेश में सुशासन हमारा संकल्प है।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह आवश्यक है कि विकास के कार्य समय पर और गुणवत्तापूर्ण हों। जिला कलेक्टर योजनाओं की निरंतर समीक्षा की निश्चित व्यवस्था विकसित करें। प्रमुख कार्यक्रमों और योजनाओं की समीक्षा के लिए सप्ताह के दिन निर्धारित किए जाएँ। जिला, संभाग और राज्य स्तर पर विस्तृत और सजग मॉनीटरिंग व्यवस्था स्थापित की जाए। दीपावली के बाद जिलों की समीक्षा पुन: आरंभ की जाएगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आगामी दिवस में प्रदेश में महत्वपूर्ण कार्यक्रम प्रस्तावित है। गौ-वर्धन पूजा का कार्यक्रम 26 अक्टूबर को सार्वजनिक रूप से किया जाएगा। पर्यावरण-संरक्षण के लिए इस कार्यक्रम में अंकुर अभियान और पर्यावरण के लिए कार्य करने वाले व्यक्ति और संस्थाएँ विशेष रूप से शामिल होंगे। सभी जिलों में प्रभारी मंत्री कार्यक्रम में शामिल होंगे। भोपाल का कार्यक्रम मुख्यमंत्री की उपस्थिति में होगा। इसके बाद एक नवम्बर को मध्यप्रदेश स्थापना दिवस का आयोजन प्रदेशवासियों को गर्व-गौरव और सम्मान से परिपूर्ण करने के उद्देश्य से किया जाएगा। लाड़ली लक्ष्मी उत्सव 2 नवम्बर को होगा, जिसमें 43 लाख परिवार शामिल होंगे। गाँव और पंचायत स्तर पर भी कार्यक्रम किए जाएंगे। स्थापना दिवस पर सात दिवसीय आयोजन होंगे। प्रदेश में खेल संस्कृति का विस्तार करने ग्राम स्तर तक खेल प्रतियोगिताएँ की जाएंगी। साथ ही स्वच्छता, ऊर्जा बचत, जल-संरक्षण पर केंद्रित कार्यक्रम भी होंगे। मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना के विद्यार्थियों से संवाद भी किया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इंदौर में जनवरी 2023 में प्रवासी भारतीय सम्मेलन होगा, जिसमें राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित 100 देशों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। इन्वेस्टर्स समिट, खेलो इंडिया यूथ गेम्स और जी 20 देशों की बैठकें भी प्रदेश में होंगी। अंतर्राष्ट्रीय स्तर के इन आयोजनों का उपयोग वैश्विक स्तर पर प्रदेश की स्वच्छता, प्राकृतिक, ऐतिहासिक संपन्नता, प्रसार और ब्रांडिंग में किया जाएँ।मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राशन वितरण में गड़बड़ी करने वालों को जेल भेजा जाएँ। मुख्यमंत्री भू-आवासीय अधिकार योजना में हर परिवार को रहने के लिए जमीन का टुकड़ा उपलब्ध कराना हमारा संकल्प है। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश में आयुष्मान भारत और प्रधानमंत्री आवास योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए बधाई दी। साथ ही नशे के विरूद्ध प्रभावी अभियान के लिए पुलिस की भी सराहना की। मुख्यमंत्री चौहान ने सीएम राइज़ स्कूल, एक जिला- एक उत्पाद, रोजगार दिवस पर रोजगार मेला, सड़कों के रख-रखाव, कृषकों को उर्वरक वितरण, महिला स्व-सहायता समूहों की गतिविधियों, आँगड़वाड़ियों के संचालन, पोषण आहार वितरण, टीकाकरण, जल जीवन मिशन, विद्युत आपूर्ति व्यवस्था, जनता से बेहतर संवाद, प्राकृतिक खेती संबंधी गतिविधियों के प्रभावी संचालन के बारे में भी चर्चा की।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह सौभाग्य का विषय है कि लोगों का जीवन बदलने में सक्षम योजनाओं के क्रियान्वयन का दायित्व जन-प्रतिनिधियों और अधिकारियों पर है। हम अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देकर अपना जीवन सार्थक करें और नए उत्साह एवं नई उमंग के साथ कार्य करते हुए दीपावली के पर्व को भी पूर्ण सार्थकता प्रदान करें। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों को दीपावली की बधाई और शुभकामनाएँ दी। राज्य मंत्रि-परिषद के सदस्य संभागायुक्त, आईजी, कलेक्टर्स, पुलिस अधीक्षक, जिला पंचायत के सीईओ तथा सभी जिला अधिकारी वर्चुअली सम्मिलित हुए।  

Kolar News

Kolar News 26 October 2022

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने आज धनतेरस के पावन पर्व पर भोपाल के गाँधी मेडिकल कॉलेज में स्वास्थ्य के देवता भगवान धन्वंतरि की विधिवत पूजा-अर्चना कर प्रदेशवासियों के उत्तम स्वास्थ्य की कामना की। मंत्री विश्वास कैलाश सारंग के आहवान पर मध्यप्रदेश में पहली बार चिकित्सा महाविद्यालयों में धनतेरस पर भगवान धन्वंतरि की पूजन की जा रही है। मंत्री सारंग ने कहा कि समुद्र मंथन के दौरान धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि अमृत कलश और जड़ी-बूटियाँ लेकर प्रकट हुए थे। शास्त्रों के अनुसार उनके आशीर्वाद से ही निरोगी काया और स्वास्थ्य का वरदान मिलता है। हमारे चिकित्सा महाविद्यालय भी वह प्रकल्प है जहाँ हम चिकित्सकों का निर्माण कर जनता को निरोगी काया और स्वास्थ्य लाभ देते हैं। इसी मंतव्य के साथ धनतेरस पर प्रदेश के सभी चिकित्सा महाविद्यालयों में स्वस्थ मध्यप्रदेश के निर्माण के लिये भगवान धन्वंतरि की पूजा- अर्चना की गयी है।     मंत्री सारंग ने बताया कि धनतेरस के अवसर पर संपूर्ण मध्यप्रदेश के चिकित्सा महाविद्यालयों में धन्वंतरि देव पूजा की गयी। इसका एक मात्र उद्देश्य यह है कि चिकित्सक जो पीड़ित मानवता की सेवा के संकल्प के साथ जीते हैं, उन्हें भगवान धन्वंतरि जी का आशीर्वाद प्राप्त हो एवं चिकित्सा महाविद्यालयों से संबद्ध अस्पतालों में स्वास्थ्य लाभ ले रहे मरीजों को निरोगी काया का वरदान मिले।मंत्री सारंग ने कहा कि चिकित्सा शिक्षा विभाग की यह पहल अनवरत जारी रहेगी। अब हर वर्ष धनतेरस पर प्रदेश के समस्त चिकित्सा महाविद्यालयों में स्वास्थ्य के देवता भगवान धन्वंतरि का विधिवत पूजन किया जायेगा। आज धनतेरस के शुभ अवसर पर प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में चिकित्सकों, विद्यार्थियों एवं रोगियों के परिजनों ने धन्वंतरि पूजन में शामिल होकर सभी के अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना की। भोपाल में हुए कार्यक्रम में डॉ. अशोक कुमार वार्ष्णेय, राष्ट्रीय संगठन सचिव आरोग्य भारती, डीन गांधी चिकित्सा महाविद्यालय डॉ. अरविंद राय, हमीदिया अस्पताल अधीक्षक डॉ. आशीष गोहिया सहित चिकित्सक एवं विद्यार्थी उपस्थित रहे।  

Kolar News

Kolar News 23 October 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा है कि सभी मिल-जुल कर प्रयास करें और हरदा को नम्बर वन जिला बनाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएँ। जिले के प्रभारी और जल-संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि हरदा के विकास कार्य प्राथमिकता से कराये जाना सुनिश्चित करें। मंत्रीद्वय शनिवार को हरदा जिला पंचायत सभाकक्ष में अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। मंत्रीद्वय ने सतना में आयोजित राज्य स्तरीय प्रधानमंत्री आवास योजना गृह-प्रवेश कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल होकर हरदा जिले के 495 हितग्राही को आवासों की सौगात दी। कृषि मंत्री पटेल ने कहा कि हरदा गेहूँ, चना और मूंग उत्पादन में अग्रणी जिला है। किसान खेतों की मेड़ पर प्रदेश सरकार द्वारा चलाये गये अंकुर अभियान में पौध-रोपण करें। मंत्री पटेल ने कहा कि हरदा जिले को प्राकृतिक खेती में भी अव्वल बनाना है। उन्होंने किसानों की आय को दोगुना करने और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लक्ष्य को पूरा करने के लिये सभी को सतत सम्मिलित प्रयास करने के निर्देश दिये।   प्रभारी मंत्री सिलावट ने शासन की जन-कल्याणकारी योजनाओं का समुचित लाभ पात्रताधारियों को दिलाने अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में सभी पात्रताधारियों को योजनाओं में लाभान्वित करने कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जाये। मंत्री सिलावट ने गरीब परिवारों को पात्रता पर्ची वितरित करने के निर्देश दिये। जल-संसाधन विभाग के अधिकारियों को नहरों के दोनों छोर पर किसानों के सहयोग से पौध-रोपण करने को कहा। मंत्री श्री सिलावट ने ड्रग माफिया, भू-माफिया और रेत माफिया के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये। धनतेरस के अवसर पर हरदा जिले के जनपद पंचायत खिरकिया के 185, जनपद पंचायत टिमरनी के 170 और जनपद पंचायत हरदा के 140 हितग्राही प्रधानमंत्री आवास योजना से शनिवार को लाभान्वित हुए। अब सभी हितग्राही परिवार अपने नये घरों में दीपावली मनायेंगे। कृषि मंत्री पटेल और प्रभारी मंत्री सिलावट ने सभी परिवारों को बधाई और शुभकामनाएँ दी।  

Kolar News

Kolar News 23 October 2022

धनतेरस पर सभी कुछ ने कुछ खरीद कर अपने घर लाते है। लोग अपने घरों में सोना ,चांदी ,या बर्तन खरीद कर लाते हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी धनतेरस पर बर्तन ख़रीदे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने धर्मपत्नी साधना सिंह, पुत्र कुणाल एवं कार्तिकेय चौहान के साथ रोशनपुरा चौराहा पहुँचकर धनतेरस के अवसर पर खरीददारी की। उन्होंने शगुन स्वरूप एक चाँदी का सिक्का, पूजा की थाली और बर्तन खरीदा। मुख्यमंत्री चौहान ने जाएका पान भंडार की दुकान पर पान भी खाया। मुख्यमंत्री चौहान ने बाजार में धनतेरस की खरीदारी के लिए आये सभी नागरिकों से भेंट कर धनतेरस की शुभकामनाएँ भी दी। नागरिकों ने मुख्यमंत्री चौहान के साथ सेल्फी भी ली।मुख्यमंत्री चौहान ने मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा करते हुए प्रदेशवासियों से अपील की कि गरीब और जरूरतमंदों के साथ दीपावली की खुशियाँ बाँटे। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के कारण जो बच्चे अपने माता-पिता को खो चुके हैं, उनके साथ मैं दीपावली का पर्व मना कर खुशियाँ बाटूंगा।

Kolar News

Kolar News 23 October 2022

भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह  ठाकुर ने कहा राहुल गांधी में भी राम हैं।  बयानों से सुर्खियों में रहने वाली भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा राहुल गांधी में भी राम बसते हैं। उन्होंने यहां तो देश के कण कण में भगवान राम हैं। ये अलग बात है कि कांग्रेस राम के अस्तित्व को ही नकारती रही है। प्रज्ञा ठाकुर ने कहा मैंने लोकसभा का चुनाव पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह को हराया है। जिसपर कांग्रेस ने धर्म के नाम पर चुनाव जीतने की याचिका लगाई प्रज्ञा ठाकुर ने पूर्व सीएम उमा भारती के शराब बंदी का भी समर्थन किया। ठाकुर ने कहा प्रदेश पूरी तरह से नशा मुक्त होना चाहिए। मैं पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेत्री उमा भारती के शराबबंदी अभियान का समर्थन करती हूं। उन्होंने बहुत सोच-समझकर समाज हित में निर्णय लिया है, हमारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी नशाबंदी के समर्थन में हैं। पार्टी में कोई विरोधाभास नहीं है।  उन्होंने 2019 में कांग्रेस के द्वारा लगाई गई याचिका पर कहा की  लोकसभा चुनाव में 3 लाख 64 हजार 822 मतों से जीती हूं..कांग्रेस को यह हजम नहीं हो रहा था। मेरे सामने जो प्रत्याशी खड़े थे वो पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके हैं। और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे कांग्रेस ने मेरे चुनाव को चुनौती  8 जुलाई 2019 में हाई कोर्ट में दी थी। कि मैंने धर्म के नाम पर चुनाव जीता मामला कोर्ट में पेंडिंग चल रहा है इसी लिए मैं कुछ ज्यादा नहीं कहूंगी। उन्होंने कहा प्रधानमंत्री गृहमंत्री मुख्यमंत्री का नाम लेकर कांग्रेस लोगों को भ्रमित कर रही है।   

Kolar News

Kolar News 22 October 2022

राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा है कि राज्य सरकार हर नागरिक की समस्याओं के निराकरण और पात्र लोगों को शासन की योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए हर ग्राम पंचायत में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान में शिविर लगा रही है। अब नागरिकों को योजनाओं का लाभ लेने के लिये सरकारी दफतरों के चक्कर नहीं लगाना पड़ेंगे। उन्होंने नागरिकों से आहवान किया कि वे जागरूक होकर शासन की योजनाओं का लाभ लें और अपना जीवन सफल बनायें। राजस्व मंत्री राजपूत आज सागर जिले की ग्राम पंचायत झिला, पचमा तथा खेजरामाफी में जन-सेवा शिविर को संबोधित कर रहे थे।   शिविर में ग्रामीणों से रू-ब-रू होते हुए राजस्व मंत्री ने समस्याएँ सुनी और उनके निराकरण के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये। इस दौरान उन्होंने ग्राम पंचायत झिला तथा खेजरा माफी में 4 करोड़ की लागत से बनने वाले अस्पताल का भूमि-पूजन भी किया। राजस्व मंत्री ने कहा कि इन अस्पतालों में अत्याधुनिक चिकित्सा उपकरण उपलब्ध के साथ प्रसव की सुविधा भी होगी, जिससे ग्रामीण क्षेत्र की माता-बहनों को दूर अस्पताल में नहीं जाना पड़ेगा। राजस्व मंत्री ने ग्राम पंचायतों में मंगल भवन, कचरा गाड़ी सहित सड़क का भूमि-पूजन कर विकास कार्यों की सौगात ग्रामवासियों को दी। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन में चल रहे नल जल योजनाओं के कार्यों की निगरानी क्षेत्र के लोग भी करें। शिविर में जन-प्रतिनिधि, अधिकारी और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे।  

Kolar News

Kolar News 22 October 2022

आयुष राज्य मंत्री एवं उमरिया जिले के प्रभारी मंत्री रामकिशोर कावरे ने आज उमरिया जिले के ग्राम सुंदर दादर में खुले मंच से नागरिकों से संवाद किया। राज्य मंत्री कावरे ने कहा कि जिला अधिकारियों का यह प्रयास होना चाहिए कि सरकारी योजनाओं का लाभ जरूरतमंद तक बगैर देर किये पहुँचे।राज्य मंत्री कावरे ने राजस्व विभाग के अमले को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ शत-प्रतिशत पात्र किसानों तक पहुँचाने के भी निर्देश दिये। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि वे एक जुट होकर अपने गाँव को आदर्श गाँव के रूप में विकसित करें। इसके लिये उन्हें हर संभव मदद दी जायेगी। मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में प्राप्त आवेदनों की समीक्षा कर संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये गये।  

Kolar News

Kolar News 22 October 2022

नगरीय निकाय चुनाव मे मिली ऐतिहासिक सफलता पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा  ने कहा 46 में से 31 नगर पालिका नगर परिषद में भाजपा ने जीत का इतिहास बनाया है। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की मेहनत, नेतृत्व के प्रति जनता को विश्वास और गरीब कल्याण योजना का इतना व्यापक समर्थन जनजाति क्षेत्र में मिला है। उन्होंने कहा जनजातीय क्षेत्र ने जो समर्थन दिया है।  यह वास्तव में  प्रधानमंत्री के प्रति और मुख्यमंत्री के प्रति उनका  विश्वास  है। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा  ने कहा  46 नगर निकाय के चुनाव हुए थे।  जिसमें 17 नगर पालिका और उन्नतीस नगर परिषद के चुनाव थे। और पूरे चुनाव जनजाति क्षेत्रों के थे।    उन्होंने कहा आज मुझे बताने में इस बात का गर्व है कि बीजेपी ने 46 में से 31 नगर पालिका नगर परिषद में  जीत का इतिहास बनाया है। मैं भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को  शुभकामनाएं एवं बधाई देता हूं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ जी के  क्षेत्र  छिंदवाड़ा  में 6  में से 4 पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत हासिल की है। सोन्सर उनकी लोकल विधानसभा है। वहां 15 में से 14 पार्षद भारतीय जनता पार्टी के जीते हैं जनजातीय क्षेत्र झाबुआ में बीजेपी ने जीत का इतिहास बनाया है। अनूपपुर में सभी स्थानों पर भाजपा जीती है। ऐसे जनजातीय क्षेत्र में भाजपा ने इन नगर निकाय के चुनाव में जो जीत कर इतिहास बनाया है। यह उन भ्रमों को तोड़ता है जो लोग जनजातीय क्षेत्र के बारे में भारतीय जनता पार्टी के प्रति कई प्रकार की बातें करने का प्रयास करते थे। उन्होंने कहा मैं हमारे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह  को भारतीय जनता पार्टी के सभी नेतृत्व को और कार्यकर्ताओं को बधाई देता हूं।   

Kolar News

Kolar News 21 October 2022

शिवराज के मंत्री बिसाहूलाल सिंह अपने कामों से कम और विवादित बयानों से अक्सर सुर्खियों में रहते हैं।  शिवराज सरकार के मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने एक बार फिर राजपूत समाज पर विवादित बयान दे डाला। बिसाहूलाल ने रतलाम के पिपलौदा में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान कार्यक्रम में अपने नाम के पीछे लगे सिंह के बारे में बताया। इस दौरान उन्होंने कहा रीवा राज  में  शेर का शिकार हम करते थे  राजा केवल फोटो खिंचवाते थे।  वे शिकार तो कर नहीं पाते थे राजा शराब पीकर पड़े रहते थे।  बिसाहूलाल के इस बयान पर काँग्रेस ने बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि मंत्री बिसाहूलाल सिंह लगातार विवादास्पद व उल जलूल बयान देने के आदी हो गए हैं। ऐसा लग रहा है खुद भाजपा ने अपने नेताओं व मंत्रियों को विभिन्न समाजों के अपमान करने की जवाबदारी दे रखी है। शिवराज सरकार के मंत्री बिसाहूलाल का विवादित बयानों से गहरा नाता है। कभी वो सवर्ण समाज की महिलाओं को बाहर निकालने का विवादित बयान देते हैं। तो कभी सवर्णों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करते हैं। अब एक बार फिर मंत्री बिसाहूलाल ने राजपूत समाज के खिलाफ विवादित बयान दिया है।     बिसाहूलाल ने रतलाम के पिपलौदा में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान कार्यक्रम में अपने नाम के पीछे लगे सिंह के बारे में बताते हुए कहा कि रीवा संभाग में जहां से नर्मदा नदी निकलती है, वहां एक जमाने में बहुत शेर हुआ करते थे। रीवा राज के राजा शेर का शिकार तो कर नहीं पाते थे। शराब पीकर पड़े  रहते  थे।   हम लोगों के समाज के लोगों को जंगल में हाका करवाते थे। और मंच बनवा के बंदूक थमा देते थे। जब हम लोग शेर मार देते थे तो राजा बोलते थे कि  मैंने शेर मारा है। हमारे लोगों से शिकार कराने के कारण हमारे नाम के पीछे सिंह लिखा हुआ है। मंत्री बिसाहूलाल उटपटांग बयान देने के बजाय अगर काम करके दिखाते तो शायद इससे अच्छी सुर्खियां बटोर सकते थे।  बिसाहूलाल को पिछले बयान पर बीजेपी शीर्ष नेताओं ने समझाइश दी थी। लेकिन अब उसका असर ख़त्म हो गया है। जिसके बाद उन्होंने फिर राजपूत समाज पर विवादित टिप्पणी कर डाली।   बिसाहूलाल के बयान को लेकर  कांग्रेस ने उनको मंत्री पद से हटाने की मांग की है। मध्यप्रदेश कांग्रेस  मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि प्रदेश के मंत्री बिसाहूलाल सिंह का वर्तमान बयान बेहद आपत्तिजनक है। और उनके अभी तक के सारे आपत्तिजनक बयानों को देखते हुए तत्काल भाजपा को उन पर कड़ी कार्रवाई करना चाहिए। उन्हें प्रदेश मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखाना चाहिए। 

Kolar News

Kolar News 21 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश निवेश के लिए आइडियल स्टेट है, जिसमें उद्योग स्थापित करने सकारात्मक वातावरण उपलब्ध है। मुख्यमंत्री चौहान ने दिल्ली में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2023 के कर्टेन रेजर और राजदूत गोलमेज के दौरान यह बात कही। मुख्यमंत्री चौहान ने सहभागी राष्ट्रों को उनके राजदूत और दूतावास के अधिकारियों के माध्यम से 7 से 9 जनवरी 2023 तक इंदौर में होने वाले प्रवासी भारतीय सम्मेलन और 11-12 जनवरी 2023 को इंदौर में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2023 में सहभागिता और प्रदेश में निवेश के लिए भी आमंत्रित किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान ने एक इन्वेस्ट मध्यप्रदेश पोर्टल का अनावरण भी किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वसुधैव कुटुंबकम की अवधारणा के साथ 5 हजार साल के ज्ञात इतिहास में भारत ने सारी दुनिया को एक परिवार माना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में विश्व कल्याण में भारत अपना योगदान दे रहा है।   मुख्यमंत्री चौहान ने उपस्थित राजनयिकों को प्रदेश के औद्योगिक परिदृश्य संबंधी जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में शरबती गेहूँ और बासमती चावल जैसा गुणवत्तापूर्ण कृषि उत्पादन होता है। मध्यप्रदेश सर्वाधिक जैविक खेती वाला प्रदेश है, जो अब प्राकृतिक खेती की तरफ बढ़ रहा है। प्रदेश में खाद्य प्र-संस्करण की अपार संभावनाएँ हैं। उन्होंने बताया कि कोविड महामारी के दौरान मध्यप्रदेश में निर्मित दवाइयाँ कई देशों में भेजी गई थी। प्रदेश में वस्त्र और रेडीमेड गारमेंट, माइनिंग, आईटी और पर्यटन क्षेत्र में काफी संभावनाएँ हैं और प्रत्येक सेक्टर के लिए मध्यप्रदेश ने एक अलग नीति बनाई है। प्रदेश में 1 लाख 22 हज़ार एकड़ का लैंड बैंक उपलब्ध है, जिसका त्वरित आवंटन किया जाता है। मध्यप्रदेश में परिवहन और ऊर्जा अधो-संरचना का उत्तम विकास हुआ है। मध्यप्रदेश में श्रम कानून में सुधार लाया गया है। निवेश प्रक्रिया के सरलीकरण के लिए एकल खिड़की व्यवस्था स्थापित की गई है।  

Kolar News

Kolar News 21 October 2022

गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने खड़गे को कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने पर कहा खड़गे जी को बधाई देता हूं। बकरा ईद पर तो बच गया है मोहर्रम में कितना नाच पाते हैं देखते हैं। इस दौरान उन्होंने मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पर भी निशाना साधा। गृह मंत्री  मिश्रा ने कमलनाथ को आड़े हाथों लेते हुए कहा। कमलनाथ पहले यह बताए कांग्रेस छोड़कर जाने वाले विधायक आपके थे तो छोड़कर चले क्यों गए। कमलनाथ के नेतृत्व पर ही उंगली उठती है।  उन्होंने मध्यप्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा की तैयारियों के लिए कांग्रेस की बैठक पर कहा कि अच्छी बात है। राहुल गांधी के बहाने कांग्रेस के नेता एक साथ तो बैठ रहे हैं। वरना इनको एक साथ करना ही मुश्किल है।  मिश्रा ने पीएफआई मामले पर कहा कि 12 पहले से थे, प्रोटेक्शन वारंट पर नाशिर नदमी को औरंगाबाद से लाया गया है। महाराष्ट्र और गोवा के साथ दूसरे राज्यों से संपर्क में है। और लगातार पूछताछ की जा रही है।      गृह मंत्री मिश्रा ने गुजरात विधानसभा चुनाव की जिम्मेदारी मिलने पर कहा कि अपना सौभाग्य मानता हूं। मुझ जैसे छोटे से कार्यकर्ता को गुजरात के बनासकांठा की जिम्मेदारी सौंपी है। निश्चित रूप से हम अपने आप को सौभाग्यशाली समझते हैं। गुजरात का वैभव पूरे देश में चमक रहा है। और चुनाव में भी बीजेपी की ही जीत होगी।  गुजरात से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। मुनव्वर कौसर की फिल्म पर उन्होंने कहा कि कोरोना काल में कोई कांग्रेस का नेता दिखाई नहीं दिया देश की जनता सब समझती है। ऐसी फिल्मों से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला उन्होंने वैशाली ठक्कर मामले में बताते हुए कहा कि आरोपी की गिरफ्तारी कल हो गई है। मोबाइल डिवाइस को जब्त कर लिया है। डाटा को रिकवर किया जा रहा है। कार्रवाई में तेजी आएगी मिश्रा ने लिवइन रिलेशन पर कहा की लिवइन को लेकर जो बयान आया है उसे मैंने भी पढ़ा है। और इन मामलों में अधिकतर यह देखा गया है, कि लोग बाद में बयान बदल देते हैं।  इसलिए मामला दर्ज करने से पहले अब पुलिस गंभीरता से पूरे मामले की तह में जाएगी उसके बाद ही निर्णय लिया जाएगा। वहीं उन्होंने फर्जी आधार कार्ड मामले पर कहा कि विषय संज्ञान में आया है। यह पूरा मामला ऐशबाग थाना क्षेत्र का है,जांच के लिए बोला गया है।   

Kolar News

Kolar News 20 October 2022

पूर्व जिला पंचायत सदस्य और भाजपा  नेता राजकुमार सिंह धनौरा को  भाजपा से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है। भाजपा से निष्कासित होने पर वे फुट फुट कर रोने लगे। इस दौरान उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सुरखी में बिना कमीशन के कोई काम नहीं होता। कांग्रेस से आए लोगों को तवज्जो दी जा रही है। पुराने कार्यकर्ताओं पर मुकदमे दर्ज कराए जा रहे हैं। उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें इसलिए निष्कासित कर दिया गया क्योंकि वह सुरखी विधानसभा से स्थानीय प्रत्याशी की मांग कर रहे थे।  उन्होंने कहा बीजेपी में सबकुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा है। भाजपा के पूर्व जिला पंचायत सदस्य राजकुमार धनोरा को बीजेपी से निष्कासित कर दिया गया है धनौरा  ने बताया कि सुरखी विधानसभा क्षेत्र की जनता स्थानीय प्रत्याशी की मांग कर रही थी। और मैंने जनता की मांग का समर्थन करते हुए इसकी मांग की जिसे लेकर पार्टी नाराज हो गई। जिसके बाद मैं स्वयं, प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा से जाकर मिला और माफी भी मांगी। लेकिन मुझे 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया गया।      वहीं धनौरा ने  परिवहन मंत्री पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा सुरखी में मंत्री गोविंद सिंह के साथ दहेज में आए कांग्रेसी नेताओं को उपकृत किया जा रहा है। भाजपा के जमीनी कार्यकर्ताओं पर प्रकरण दर्ज कराए जा रहे हैं।  जिस पार्टी के लिए 30 साल मेहनत की मेरे ऊपर एक रुपए का कलंक नहीं लगा, उस पार्टी ने एक मिनट में मुझे कीड़े-मकोड़े की तरह निकालकर बाहर फेंक दिया। मेरे साथ अत्याचार किया गया है। उन्होंने कहा- मैं वर्ष 1994 से भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता रहा हूं।  मेरा पूरा परिवार जनसंघ के समय से जुड़ा है। सुरखी क्षेत्र में पुराने भाजपा कार्यकर्ताओं की उपेक्षा की जा रही है।  यहां भ्रष्टाचार चरम पर है। पार्टी में रहता तो मंत्री मेरे ऊपर दबाव नहीं बना पाते।  इससे उनके द्वारा झूठे तथ्य पेश कर मुझ पर निष्कासन की कार्रवाई कराई गई।  सुरखी विधानसभा में पुराने भाजपा कार्यकर्ताओं पर झूठे प्रकरण दर्ज कराए जा रहे हैं। इसके कई उदाहरण मेरे पास हैं।     

Kolar News

Kolar News 20 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में निर्माण कार्य पूरी गुणवत्ता से निश्चित समय-सीमा में पूर्ण हों। युद्ध स्तर पर सीएम राइज़ स्कूल के भवनों का चयन कर उनका निर्माण तेजी से पूरा  किया जाए, जिससे अगले वर्ष तक उन्हें शुरू कराया जा सके। मुख्यमंत्री चौहान मंत्रालय में मध्यप्रदेश भवन विकास निगम के संचालक मण्डल की प्रथम बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव वित्त मनोज गोविल, प्रमुख सचिव लोक निर्माण नीरज मंडलोई सहित अधिकारी उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हर संभाग में एक-एक सीएम राइज़ स्कूल भवन का निर्माण युद्ध स्तर पर किया जाए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश भवन विकास निगम में स्थाई भर्तियाँ की जाएँ। निगम की अच्छी छवि बने, जिससे उसकी चर्चा पूरे देश में हो। मुख्यमंत्री चौहान ने निगम की वेबसाइट एवं वर्क मैनेजमेंट सिस्टम का लोकार्पण किया। लोक निर्माण मंत्रीगोपाल भार्गव ने निगम द्वारा उठाए जा रहे कदम को निर्माण विभागों के लिए अनुकरणीय पहल बताया। बैठक में बताया गया कि अब संबंधित विभाग भवन विकास निगम को सौंपे गए कार्यों की भौतिक एवं वित्तीय प्रगति की रीयल टाइम मॉनिटरिंग कर सकेंगे। साथ ही  कार्यों से संबंधित सभी जानकारी वर्क्स मैनेजमेंट सिस्टम सॉफ्टवेयर से डाउनलोड कर सकेंगे। कार्यों के प्राक्कलन एवं तकनीकी स्वीकृति का कार्य ऑनलाइन किया जाएगा। विभागों, ठेकेदारों एवं कंसलटेंट से पत्राचार पेपरलेस होगा।   बैठक में बताया गया कि निगम को विभिन्न विभागों ने लगभग 6 हजार 525 करोड़ रूपये के कार्य आवंटित किए हैं। निगम में 1 हजार 974 करोड़ रूपये के कार्यों को प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त है। इनमें से 1 हजार 472 करोड़ रूपए के कार्यों की निविदाएँ जारी हैं तथा 10 कार्यों की निविदाएँ स्वीकृत की गई हैं। कार्य शीघ्र प्रारंभ कराए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सड़कों के निर्माण कार्य प्राथमिकता से पूरे किए जाएँ। सीहोर-ईछावर-कोसमी मार्ग के कार्य 92 प्रतिशत पूर्ण कार्य को शीघ्रता से पूरा किया जाए। नसरुल्लागंज-कोसमी मार्ग का 32 प्रतिशत कार्य पूरा हुआ है, जिसे शीघ्रता से पूर्ण करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि लेबड़-जावरा मार्ग बीओटी परियोजना अनुबंधानुसार रियायत शुल्क निर्धारण का कार्य प्राथमिकता से करें। बैठक में निगम में संविदा पर पदस्थ विधि सलाहकार का मानदेय बढ़ाए जाने, मुख्य अभियंता की संविदा अवधि बढ़ाए जाने, प्रबंधन सहायक एवं रोड डाटा-सिस्टम इंजीनियर की संविदा अवधि बढ़ाए जाने सहित विभिन्न बिन्दु पर चर्चा की गई।

Kolar News

Kolar News 20 October 2022

एमपी के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजयसिंह को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह कभी राष्ट्र के गौरव की बात नहीं करते। आप उनके पिछले तीन चार सालों के ट्वीट देख लीजिये। जब भी राष्ट्र के सम्मान की बात आयी है। उन्हें हमेशा तकलीफ हुई है। मिश्रा ने कहा अभी कोई चुनाव नहीं है,  जब चुनाव था तब कहीं कमलनाथ गए नहीं अकेले छिंदवाड़ा में रहे और वहां भी कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया।   नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कांग्रेसी चापलूसी के मामले में अपने आप को बदलने के लिए राजी नहीं है। लक्ष्मण से अधिक राम को कौन जानेगा। परसादी लाल मीणा और नाना पटोले राहुल को "राम" बता रहे हैं। और लक्ष्मण सिंह जी उन्हें आईना दिखा रहे हैं। एक बार देवकांत बरुआ ने कहा था कि इंदिरा इस इंडिया एंड इंडिया इस इंदिरा। यानि इंदिरा से ही भारत है और भारत से ही इंदिरा है। लेकिन अब तो इंदिरा जी नहीं है,पर फिर भी भारत है। कांग्रेस में ऐसे ही चापलूसों की फौज है। और खुदको राम से तुलना करने पर राहुल गाँधी ने भी कुछ नहीं कहा। जो चुनाव के वक्त कोर्ट के ऊपर जनेऊ पहन कर पंडित बन जाते है। राहुल गाँधी पहले इंसान ही बन जाए वही बोहत है।           उन्होंने कहा कोंग्रेसी अंतरात्मा की आवाज पर यदि वोट डालते तो जरूर जीत जाते थरूर। गृहमंत्री मिश्रा ने वैशाली ठक्कर सुसाइड मामले में कहा कि 2 लोगों के विरुद्ध लुक आउट सर्कुलर जारी किया है। दोनों आरोपियों पर 5 हजार का इनाम भी घोषित किया गया है। उनके मंगेतर बताये जाने वाले व्यक्ति से भी संपर्क करने की कोशिश की जा रही है। मिश्रा ने टीम इंडिया को एशिया कप के लिए पाकिस्तान न भेजने वाले फैसले पर कहा BCCI के सचिव जय शाह जी का आभार कि उन्होंने स्पष्ट कहा कि जब तक पाकिस्तान से आतंकवाद जारी है, तब तक भारतीय टीम पाकिस्तान नहीं जाएगी। क्युकी पाकिस्तान की इन गतिविधियों के चलते हमारे खिलाडी पाकिस्तान में असुरक्षित महसूस करेंगे। मिश्रा ने फसलों के समर्थन मूल्य में वृद्धि पर कांग्रेस की आलोचना पर कहा। समर्थन मूल्य में 110 रुपए की वृद्धि पर कांग्रेस की आलोचना किसानों के हितों पर कुठाराघात है। उन्होंने कहा पता नहीं कांग्रेस कमलनाथ से क्यों झूठ बुलवाती है। और कमलनाथ किस मुँह से किसान की बात करते  हैं। जिन कमलनाथ ने अपने राष्ट्र अध्यक्ष से मध्यप्रदेश में झूठ बुलवाया कि 10 दिनों में किसानो का 2 लाख का कर्ज़ा माफ़ करेंगे नहीं तो मुख्यमंत्री बदल देंगे। उस किसान की बात कर रहे है। जिस कांग्रेस ने मध्य प्रदेश का किसान डिफाल्टर कर दिया। वो कांग्रेस किसान की बात किस मुँह से कर रही है?  जिस कांग्रेस ने मध्यप्रदेश के मजदूर और गरीबों के 1 लाख 31 हज़ार आवास का पैसा जमा न करके वापस लौटा दिया। वो कांग्रेस किस मुँह से किसानो की बात कर रही है ? यह वही कांग्रेस है ,जिसने किसानों में भ्रम फैलाया था की मोदी सरकार एमएसपी बंद कर रही है। और किसानों को सड़क पर बैठाया था। लेकिन कमलनाथ एक भी दिन नहीं गए थे। मोदीजी ने इतनी बड़ी राशि की घोषणा की है। कांग्रेस कभी तो किसी बात की तारीफ करना सीखे।   

Kolar News

Kolar News 19 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महाकाल लोक की रचना अद्भुत एवं अद्वितीय है। इसकी ख्याति देश-विदेश में है। यह ईश्वर की अनुपम कृति है। श्री महाकाल लोक का और अधिक प्रचार-प्रसार करने और इसे देश-विदेश में आमजन तक पहुँचाने के लिये अब उज्जैन में शिवरात्रि से गुड़ी पड़वा तक कार्यक्रम किये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि महाकाल लोक के विषय में लोग अधिक से अधिक जानें, इसके लिये वे स्वयं देश के प्रमुख लोगों को इसके दर्शन के लिये पत्र और महाकाल का प्रसाद भी भेजेंगे। मुख्यमंत्री चौहान मंगलवार को कालिदास अकादमी में महाकाल लोक की आयोजन समिति के सदस्यों एवं साधु-सन्तों के आभार प्रदर्शन कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री  चौहान ने सभी साधु-सन्तों एवं समिति सदस्यों का आभार प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि आप सबके प्रयासों से  महाकाल लोक का लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथो सम्पन्न हुआ है। मुख्यमंत्री ने आभार स्वरूप साधु-सन्तों एवं आयोजन समिति के सदस्यों पर पुष्प-वर्षा की।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि महाकाल लोक श्रद्धा, आस्था, पवित्रता एवं प्रेरणा का स्थान है। महाकाल लोक पिकनिक स्पॉट नहीं है। हम सब ऐसा प्रयास करें कि महाकाल के दर्शन करने वाले अपने मन में श्रद्धा एवं भक्ति का भाव लेकर महाकाल लोक के दर्शन भी करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान भोले शंकर मेरे आदर्श हैं। उन्होंने सृष्टि को बचाने के लिये अपने को दाँव पर लगाते हुए हलाहल विष का पान किया।  महाकाल लोक में शिव महिमा एवं हमारी धार्मिक आस्थाओं का पत्थर पर चित्रण है। भित्ति चित्रों से महाकाल लोक में आने वाली हमारी पीढ़ी हमारी धार्मिक परम्परा एवं आस्था से परिचित हो सकेगी। श्री महाकाल लोक में सृष्टि की उत्पत्ति, शिप्रा का उद्भव एवं शिव महिमा को बहुत ही सुन्दर तरीके से उकेरा गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब श्री महाकाल लोक के संचालन के लिये विस्तृत कार्य-योजना बनाई जायेगी। उन्होंने आयोजन समिति से सुझाव भी आमंत्रित किये।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भगवान महाकाल सर्वोपरि हैं। हम सब उनके सेवक हैं। उन्होंने कहा कि दीपावली के दिन श्री महाकाल लोक दीपों से जगमगाये। सभी लोग महाकाल लोक के नाम पर एक दीया जरूर जलायें। सब पवित्रता एवं श्रद्धा का भाव बनाये रखें और अपने मन में कभी भी नकारात्मकता का भाव न लायें।मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि श्री महाकाल लोक की पवित्रता बनी रहे, परिसर स्वच्छ एवं व्यवस्थित रहे। साथ ही हमारी जो धार्मिक परम्परा है, वह न टूटे। उन्होंने कहा कि महाकाल लोक प्रेरणा लेने का एक पवित्र स्थल है। आने वाले दिनों में गाँवों से भी लोगों को यहाँ का भ्रमण कराया जायेगा। गाँव से आने वाले श्रद्धालु अपने गाँव से जल लाकर रूद्र सागर में प्रवाहित कर पवित्र जल से श्री महाकाल का अभिषेक करेंगे। इसके लिये विस्तृत कार्य-योजना भी बनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि महाकाल लोक का लोकार्पण व्यवस्थित एवं सम्पूर्ण कार्यक्रम था। आज तक ऐसा कार्यक्रम देश में नहीं हुआ है। यह हमारे लिये पूर्ण विराम नहीं है। अब हम श्री महाकाल लोक के दूसरे चरण का कार्य भी शुरू करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले समय में श्री महाकाल लोक के समीप एक हजार कमरों की धर्मशाला भी बनाई जायेगी। धर्मशाला बनने से निम्न और मध्यम वर्ग के लोगों को कम कीमत पर ठहरने की सुविधा मिलेगी।   उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि आज मुख्यमंत्री  चौहान सौगातों का पिटारा लेकर आये हैं। पहली बार उज्जैन जिले में दशहरे की सवारी शाही अंदाज में निकाली गई। सांसद अनिल फिरोजिया ने कहा कि मुख्यमंत्री  चौहान का उज्जैन को विश्व में धार्मिक एवं पर्यटन की नगरी बनाने का सपना आज पूरा हो गया है। आयोजन समिति के सदस्यों ने मुख्यमंत्री को श्री महाकाल लोक के रख-रखाव एवं सुचारू संचालन संबंधी सुझाव दिये। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सभी सुझावों पर विचार किया जायेगा।  श्री महाकाल लोक की आयोजन समिति के विचार-विमर्श एवं आभार प्रदर्शन कार्यक्रम में आचार्य  शेखर महाराज, महन्त श्री रामेश्वरदास, श्री विनीत गिरि महाराज, सरस्वती महाराज, उमेशनाथजी महाराज,  सुरेंद्र अरोरा, विधायक पारस जैन, महापौर मुकेश टटवाल, नगर निगम सभापति कलावती यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष कमला कुंवर, उपाध्यक्ष शिवानी कुंवर सहित जन-प्रतिनिधि, आयोजन समिति सदस्य एवं मीडिया प्रतिनिधि उपस्थित थे।     मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को जेके सीमेंट कंपनी द्वारा बनाये गये अतिथि गृह का लोकार्पण किया। अतिथि गृह श्रद्धालुओं के लिये बनाया गया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान को श्री महाकालेश्वर का मोमेंटो भेंट किया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने महाकाल लोक परियोजना के दूसरे चरण में मेघदूत वन का भूमि-पूजन किया। मेघदूत वन के बनने के बाद यहाँ प्रवचन के कार्यक्रम, भजन संध्या एवं धार्मिक कार्यक्रम किये जायेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उज्जैन में श्री महाकाल लोक के निर्माण में अलग-अलग कार्यों के लिये लगे शिल्पकार एवं अन्य कार्य करने वाले कारीगरों का आत्मीय सम्मान किया। मुख्यमंत्री ने प्रतीक स्वरूप त्रिवेणी संग्रहालय के ऑडिटोरियम में श्रम एवं रचनात्मकता के श्रेष्ठ कार्य करने वाले कारीगरों में से 25-30 कारीगरों का माला पहना कर स्वागत कर सम्मान किया। उन्होंने कहा कि पसीना बहाने वाले कारीगरों का नाम सदैव याद किया जायेगा। श्री महाकाल भगवान की कृपा और कारीगरों के पसीने से अलौकिक रूप से निर्मित महाकाल लोक को देश-दुनिया में प्रशंसा मिल रही है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कारीगरों से कहा कि उन्होंने दिन-रात कड़ी मेहनत कर प्रथम चरण के निर्माण कार्यों को पूर्ण किया, उनका आत्मीय स्वागत और अभिनन्दन है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरे द्वारा किया गया सम्मान मेरे अकेले का नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश की जनता द्वारा कारीगरों का किया गया सम्मान है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि श्री महाकाल लोक के दूसरे चरण के कार्य अब प्रारम्भ होंगे। महाकाल की नगरी में निरन्तर काम चलते रहेंगे। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने कहा कि इतिहास में पहली बार श्रमिकों, कारीगरों का मुख्यमंत्री  चौहान द्वारा सम्मान किया जा रहा है, यह हमारे लिये गौरव की बात है।मुख्यमंत्री  चौहान ने मंगलवार को अपने उज्जैन प्रवास के दौरान भगवान महाकालेश्वर के मन्दिर में दर्शन कर पूजा-अर्चना की। पूजा पं.प्रदीप पुजारी एवं यश पुजारी ने कराई। मुख्यमंत्री चौहान ने भगवान महाकालेश्वर से प्रदेशवासियों की मंगल-कामना की।       मुख्यमंत्री चौहान ने नव-निर्मित महाकाल लोक का भ्रमण किया। सांसद अनिल फिरोजिया द्वारा चलित इलेक्ट्रॉनिक वाहन में बैठ कर मुख्यमंत्री चौहान ने  महाकाल लोक में निर्मित कलाकृतियों का अवलोकन किया। इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने महाकाल लोक के अनुपम सौन्दर्य का अवलोकन करने विभिन्न स्थानों से आये श्रद्धालुओं से चर्चा की और श्री महाकाल लोक के अदभुत सौन्दर्य एवं पत्थरों पर उकेरी गई कलाकृतियों की जानकारी देकर उनसे फीडबेक भी लिया। श्रद्धालुओं ने श्री महाकाल लोक की प्रशंसा करते हुए बताया कि महाकाल लोक अद्वितीय एवं अनुपम है। यहाँ से जाने के बाद वे अपने परिचित एवं स्वजनों को श्री महाकाल लोक की अनुभव यात्रा के बारे में बता कर उन्हें यहाँ एक बार अवश्य आने के लिये प्रेरित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री महाकाल लोक का अनुभव मन में श्रद्धा का भाव लाकर करें। इससे श्री महाकाल लोक की अनुभूति दोगुनी हो जायेगी।     मुख्यमंत्री चौहान ने श्री महाकाल लोक के विस्तारीकरण के दूसरे चरण के निर्माणाधीन कार्यों का अवलोकन किया। कलेक्टर आशीष सिंह और स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के इंजीनियर ने मुख्यमंत्री को निर्माणाधीन कार्यों की विस्तार से जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने दूसरे चरण में बनने वाले शिखर दर्शन, ध्यान कक्ष, छोटे रूद्र सागर के जीर्णोद्धार, महाराजवाड़ा हेरिटेज धर्मशाला का निरीक्षण किया और निर्माणाधीन कार्यों पर संतोष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि भगवान महाकालेश्वर की कृपा से प्रथम चरण का कार्य पूर्ण हो चुका है। दूसरे चरण में निर्माणाधीन कार्य भी शीघ्र ही पूर्ण होंगे। ‘श्री महाकाल लोक’ शीघ्र ही ‘महालोक’ के रूप में परिवर्तित होगा और 47 हेक्टेयर का विशाल परिसर दिव्य और अलौकिक ऊर्जा का केन्द्र भी बनेगा।

Kolar News

Kolar News 19 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में जनवरी माह में होने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्स की तैयारी बेहतर हो। विभिन्न खेलों के लिए शहरों का चयन कर लिया जाए। मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों में उत्साह पैदा करने के लिए खेलमय वातावरण बनाया जाए। स्वास्थ्य की दृष्टि से भी खेल जरूरी है। मुख्यमंत्री  चौहान मंत्रालय में खेल एवं युवा कल्याण विभाग की समीक्षा कर रहे थे। खेल एवं युवा कल्‍याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव वित्त मनोज गोविल और प्रमुख सचिव खेल दीप्ति गौड़ मुखर्जी उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ी सभी स्पर्धाओं में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी उत्साह और खेल भावना को बनाये रखने की जरुरत है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हर गाँव में बच्चों के लिए खेल मैदान बनाए जाएँ। ग्रामीण विकास विभाग इसमें सहयोग करे। खेल मैदानों का रख-रखाव और उपयोग बेहतर हो। आनंद के लिए भी खेल जरूरी है। इसलिए आनंद विभाग के साथ विभिन्न खेल गतिविधियाँ की जाएँ। खेल अधो-संरचनाओं का पीपीपी मॉडल पर विकास हों। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को शासकीय सेवाओं में प्राथमिकता मिलनी चाहिए। नवीन मल्टीपर्पज इंडोर स्पोर्टस कॉम्पलेक्स एंव इंडोर हॉल के अधूरे कार्यों को प्राथमिकता से पूरा करें। प्रदेश में खेलमय वातावरण बनाये रखने के लिए खेलों से संबंधित कार्यक्रम निरंतर किए जाएँ।  

Kolar News

Kolar News 19 October 2022

गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने उज्जैन महाकाल मंदिर में एक युवती द्वारा डांस वीडियो बनाने पर कलेक्टर एसपी को जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा धार्मिक आस्थाओं के साथ  किसी प्रकार का खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पार्टी और आम आदमी पार्टी पर भी जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि छिंदवाड़ा नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष धमकाते रहते हैं। जब जीत जाते हैं तो अपने आप को लोकप्रिय बताते हैं। और हारने पर दूसरों का एजेंट कांग्रेस ऊहापोह की स्थिति में है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव में 26 लोगों ने वोट नहीं डाला राष्ट्रपति के चुनाव में कांग्रेस के 19 सदस्यों ने क्रॉस वोटिंग की।      गृहमंत्री मिश्रा ने आम  आदमी पार्टी को निशाने में  लेते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी का जब कोई नेता फंसता है। तो उन्हें महापुरुष याद आते हैं।  गांधी जयंती पर राजघाट नहीं जाने वाले मनीष सिसोदिया शराब कांड में फंसने पर महात्मा गांधी की समाधि पर गए। उज्जैन महाकाल मंदिर में वीडियो बनाने को लेकर उन्होंने कहा की महाकाल मंदिर में वीडियो बनाने संबंधी मामला संज्ञान में आया है।इस मामले में  कलेक्टर एसपी को जांच के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा  धार्मिक आस्थाओं के साथ खिलवाड़ किसी प्रकार से बर्दाश्त नहीं किया जाएगा  हुक्का-लाउंज को लेकर उन्होंने कहा इसके लिए कानून ला रहे हैं।  3 साल की सजा और एक लाख के जुर्माने का प्रावधान किया जा रहा है। मिश्रा ने कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर कहा कि कोरोना के नए वेरिएंट की आधिकारिक और वैज्ञानिक तौर पर अभी पुष्टि नहीं हुई है। जांच की जा रही है।   

Kolar News

Kolar News 18 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में विद्युत की बचत का विचार जन-जन तक पहुँचाने के लिए जागरूकता अभियान का संचालन जरूरी है। जिलों में अभियान की गतिविधियाँ प्रारंभ की जाएँ। ऊर्जा संरक्षण आज की आवश्यकता है। राज्य सरकार ने जनता को पर्याप्त बिजली सुविधा के लिए 24 हजार करोड़ रूपये की सब्सिडी देने का कार्य किया है। यदि सौ रूपये की बिजली नागरिक को उपलब्ध होती है तो सरकार के करीब एक हजार रूपये खर्च होते हैं। जिला स्तर पर कलेक्टर्स और संभाग स्तर पर कमिश्नर्स विद्युत प्रदाय से जुड़ी शिकायतों को दूर करवाएँ। रबी फसलों की बोवनी के समय भी किसानों को बिना बाधा के जरूरी विद्युत की आपूर्ति होती रहे। अवैध कनेक्शन के मामलों में सख्त कार्यवाही हो। बेहतर बिजली प्रदाय के लिए सभी संधारण कार्य और विद्युत देयकों की वसूली का कार्य किया जाए। गड़बड़ियों को सुधारा जाए। व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करने में ग्रामवासियों का सहयोग भी लिया जाए।   मुख्यमंत्री चौहान आज सुबह वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा दमोह जिले में संचालित योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने जन-कल्याणकारी योजनाओं की विस्तार से समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए। वीडियो कॉन्फ्रेंस में राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और विधायक पी.एल तंतुवाय और धर्मेन्द्र सिंह लोधी भी जुड़े। बताया गया कि मुख्यमंत्री चौहान की मंशा के अनुरूप लापरवाह और भ्रष्ट आचरण के दोषी अधिकारियों-कर्मचारियों के विरूद्ध निलंबन की कार्यवाही की गई है। कमिश्नर सागर मुकेश शुक्ला ने बताया कि अनियमितताओं के लिए मुख्य कार्यपालन अधिकारी, टीकमगढ़ सुदेश मालवीय को हटाने की कार्यवाही की गई है। कलेक्टर दमोह  एस. कृष्ण चैतन्य ने बताया कि गड़बड़ियों संबंधी शिकायतों पर कार्यवाही कर 8 ग्रामीण रोजगार सहायकों की सेवा समाप्त की है और 5 पंचायत सचिवों को निलंबित किया गया है।मुख्यमंत्री  चौहान ने अनियमितता के दोषी सीईओ श्री मालवीय को निलंबित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि श्रेष्ठ कार्य करने वाले पुरस्कृत किए जाएंगे। जिलों में पदस्थ अधिकारी-कर्मचारी टीम भावना के साथ कार्य करें। अच्छा कार्य करने वाले अभिनंदनीय हैं। गड़बड़ी करने वालों के विरूद्ध सख्त कदम भी उठाए जाएंगे। अवैध कार्यों में लिप्त व्यक्तियों पर प्रहार आवश्यक है।       मुख्यमंत्री चौहान ने जिले में जल जीवन मिशन के कार्यों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने निर्देश दिए कि योजना के क्रियान्वयन के समय सड़कों की स्थिति भी सही बनी रहे। जहाँ पाइप लाइन बिछाने से सड़कों की मरम्मत अब तक नहीं हो पाई है, उन कार्यों को प्राथमिकता से पूर्ण किया जाए। जल कर वसूली, नल-जल योजनाओं के संधारण के कार्य समय पर किए जाएँ। आम जनता को पीने के पानी की उपलब्धता हमारी प्राथमिकता है। पूर्ण हुई एकल जल योजनाओं और अन्य योजनाओं का समारोह पूर्वक शुभारंभ किया जाए। जानकारी दी गयी कि 45 ग्रामों में विलेज वॉटर एंड सेनिटेशन कमेटी कार्य कर रही हैं। साप्ताहिक बैठक कर मिशन के कार्यों की समीक्षा की जाती है। जिले में 160 ग्रामों में जल- प्रदाय सुचारू है। शेष कार्य मार्च 2023 तक पूर्ण करने का लक्ष्य है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना से संबंधित शिकायतों पर सख्त कार्यवाही की जाए। यदि कहीं से भ्रष्टाचार की शिकायत प्राप्त हो तो जाँच कर दोषी के विरूद्ध कदम उठाए जाएँ। बताया गया कि जिले में कुल 1 लाख 5 हजार आवास गृह का लक्ष्य है। प्रति माह 1000 से 1800 तक आवास गृह बन रहे हैं। आवास प्लस में 20 हजार आवास का लक्ष्य मिला है। इनमें से 19 हजार 362 प्रकरण स्वीकृत हो गए हैं।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आम जनता को केन्द्र और राज्य सरकार की फ्लेगशिप योजनाओं सहित अन्य कल्याणकारी कार्यक्रमों का पूरा लाभ दिलवाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के जन्म-दिवस 17 सितम्बर से 31 अक्टूबर तक राज्यव्यापी मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान संचालित किया जा रहा है। प्राप्त प्रत्येक आवेदन का परीक्षण कर पात्र हितग्राही को योजना का लाभ दिलवाने पर ध्यान दिया जाए। शिविरों के संचालन और नागरिकों को योजनाओं का लाभ दिलवाने का दायित्व गंभीरता से निभाया जाए। बताया गया प्राप्त 81 हजार 482 आवेदन पत्र में से 54 हजार 868 का निराकरण किया जा चुका है। सर्वाधिक आवेदन आयुष्मान कार्ड निर्माण के मिल रहे हैं। आगामी 26 अक्टूबर से अभियान के दूसरे चरण की कार्यवाही प्रारंभ होगी।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि नशे के अवैध कारोबार को ध्वस्त किया जाए। बच्चों में नशे की लत लगाने वालों के विरुद्ध से सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए। बताया गया कि नशे के विरूद्ध जन-जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। ऑपरेशन मुस्कान सहित अपराध नियंत्रण के कार्य गंभीरता से किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सड़कों पर पाई जाने वाली गौ-माता को गौ-शालाओं में पहुँचाने का कार्य निरंतर किया जाए। गौ-वंश की देखभाल के लिए सामाजिक संगठनों के सहयोग से संचालित गौशालाओं में भेजना जरूरी है। कलेक्टर ने बताया कि 37 में से 21 गौशालाएँ प्रारंभ हो गई हैं और गौ-वंश संरक्षण पर ध्यान दिया जा रहा है।  वीडियो कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री  चौहान ने सीएम हेल्प लाइन में दर्ज प्रकरणों के निराकरण, स्व-सहायता समूहों के संचालन, लाड़ली लक्ष्मी योजना, एक जिला-एक उत्पाद योजना, सीएम राइज विद्यालय, शिक्षा व्यवस्थाओं में सुधार, सड़कों की स्थिति, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना, राशन वितरण, मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना, वन नेशन-वन राशन कार्ड व्यवस्था, पोषण आहार और आँगनवाड़ी केन्द्र संचालन, कुपोषण समाप्ति, एडाप्ट एन आँगनवाड़ी अभियान, शासकीय भवनों की स्थिति, अमृत सरोवर निर्माण, मत्स्य-पालन और सिंघाड़ा उत्पादन आदि के क्रियान्वयन की जानकारी ली और आवश्यक निर्देश दिए।  

Kolar News

Kolar News 18 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है प्रधानमंत्री आवास योजना में प्रदेश के 4 लाख 50 हजार हितग्राहियों को दीपावली पर अपना घरौंदा मिल रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हितग्राहियों को वर्चुअल गृह प्रवेश करवाएंगे। गृह प्रवेशम का मुख्य कार्यक्रम सतना स्थित बीटीआई मैदान में होगा, जहाँ मुख्यमंत्री चौहान उपस्थित रहेंगे। ग्राम स्तर तक लोगों को कार्यक्रम से जोड़ने के लिए तैयारियाँ की जा रही हैं। जन-प्रतिनिधियों और ग्रामीणों की उपस्थिति में जिला, जनपद और ग्राम पंचायत में हितग्राहियों को गृह प्रवेश कराया जायेगा। इसका प्रसारण भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पहले प्रदेश में हर महीने 20 से 25 हजार आवास गृह बन कर तैयार होते थे और अब हर महीने लगभग एक लाख आवास गृह बन रहे हैं। योजना के लिए 10 हजार करोड़ रूपए की वित्त व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री चौहान ने आज 22 अक्टूबर को हो रहे गृह प्रवेशम कार्यक्रम की तैयारियों की मंत्रालय में एक बैठक लेकर जानकारी ली। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सभी कलेक्टर्स भी बैठक से जुड़े। बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव और प्रमुख सचिव जनसम्पर्क राघवेंद्र कुमार सिंह उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गृह प्रवेशम दीप पर्व पर हो रहा है। गृह प्रवेश को यादगार बनाया जाए। लाभान्वित हितग्राही घरों में रंगोली बनाएँ, दीप जलाएँ। जिला, जनपद,ग्राम स्तर सभी जगह हितग्राही कार्यक्रम आयोजित हों। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी कुछ हितग्राहियों से चर्चा भी कर सकते हैं। कार्यक्रम से अधिक से अधिक ग्रामवासियों को जोड़ने का प्रयास किया जाए। ग्रामों में डोंडी पिटवा कर ग्रामीण भाई- बहनों को कार्यक्रम का प्रसारण देखने के लिए आमंत्रित किया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कार्यक्रम से अधिक से अधिक नागरिकों को जोड़ने के लिए उत्साह का वातावरण बनाये। जिलों के प्रभारी मंत्री सोशल मीडिया द्वारा कार्यक्रम के विभिन्न आयाम का प्रचार भी सुनिश्चित करें। दीनदयाल समिति के सदस्य, सामाजिक कार्यकर्ता और जन-प्रतिनिधियों से कार्यक्रम से जुड़ने का आग्रह किया जाए।   प्रधानमंत्री आवास योजना 1 अप्रैल 2016 से प्रारंभ हुई है। केन्द्र सरकार द्वारा योजना में मध्यप्रदेश को 38 लाख 38 हजार आवास गृह बनाने के लक्ष्य के निर्धारित था, जिसमें से 38 लाख आवास गृह स्वीकृत किए जा चुके हैं, जो लक्ष्य का 99 प्रतिशत है। प्रदेश में पूर्ण आवासों की संख्या 29 लाख है जो 76.4 प्रतिशत है। वित्त वर्ष 2022-23 में योजना पर 9039 करोड़ की राशि व्यय की जा चुकी है। योजना में नवाचार करते हुए 51 हजार राजमिस्त्री प्रशिक्षित किए गए। इनमें 9 हजार महिला राजमिस्त्री भी शामिल हैं। इसके अलावा प्रदेश के 9 जिलों के 37 स्व-सहायता समूहों के 324 सदस्यों ने फ्लाय ऐश ब्रिक्स का निर्माण भी किया है। समूहों के सदस्यों को बैंक ऋण से सेंटरिंग संबंधी सहयोग मिला है। हितग्राहियों को मकान बनाने के लिए रेत, लोहा, ईंट, गिट्टी, लकड़ी आदि किफायती दरों पर दिलवाने के लिए आवास सामग्री एप बनाया गया। योजना में 20 लाख से अधिक हितग्राहियों को मनरेगा और अन्य योजनाओं से कन्वर्जेन्स कर लाभान्वित किया गया।     मुख्यमंत्री चौहान ने वीडियो कॉफ्रेंस से प्रदेश के सभी कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि प्रधानमंत्री मोदी के जन्म-दिवस 17 सितम्बर से प्रारंभ हुए मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान की गतिविधियों को जारी रखें। अब तक करीब 52 लाख लाभार्थी अभियान से जुड़ चुके हैं। आगामी 31 अक्टूबर तक अभियान के कार्यों को निरंतर रखा जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विभिन्न योजनाओं का लाभ लोगों को मिले, इस दृष्टि से अभियान में प्रत्येक स्तर के अधिकारी –कर्मचारी सक्रिय भूमिका का निर्वहन करें। मुख्यमंत्री चौहान ने कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि अवैध रूप से संचालित नशीले पदार्थों के उपयोग और व्यापार की सूचना मिलते ही ऐसे तत्वों पर प्रहार करने की कार्यवाही की जाए।  

Kolar News

Kolar News 18 October 2022

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा है कि स्वभाषा के विकास एवं उपयोग से भारत अनुसंधान के क्षेत्र में विश्व में बहुत आगे जायेगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वैश्विक मंचों पर हिन्दी में बोलते हैं। शिक्षा नीति में प्राथमिक, तकनीकी और मेडिकल एजुकेशन में हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं को प्राथमिकता दी जा रही है। गृह मंत्री श्री शाह ने कहा कि मध्यप्रदेश में आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेडिकल की पढ़ाई हिंदी में प्रारंभ कर प्रधानमंत्री मोदी के इस संकल्प को पूरा किया है। इस कार्य के लिये मुख्यमंत्री चौहान, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग सहित पूरी टीम और प्रदेश की जनता बधाई के पात्र हैं। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज लाल परेड ग्राउंड पर रिमोट का बटन दबा कर हिन्दी भाषा में एबीबीएस प्रथम वर्ष की पुस्तकों एवं हिंदी की प्रतिस्थापना के नवीन प्रकल्प का शुभारंभ किया। उन्होंने मेडिकल बायोकेमेस्ट्री, मेडिकल फिजियोलॉजी तथा एनाटॉमी की हिन्दी पुस्तकों का विमोचन किया। उन्होंने दीप प्रज्ज्वलन कर भगवान धनवंतरी और माँ सरस्वती के चित्रों पर माल्यार्पण किया। मुख्यमंत्री चौहान ने अंग वस्त्र पहना कर केन्द्रीय गृह मंत्री शाह का स्वागत किया और उन्हें स्मृति-चिन्ह के रूप में माँ सरस्वती की प्रतिमा भेंट की।   केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि आज का दिन शिक्षा के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों से लिखा जायेगा। हिंदी भाषा में मेडिकल शिक्षा का शुभारंभ, शिक्षा के क्षेत्र में पुनर्निर्माण का दिन है। इसके लिये प्रधानमंत्री  मोदी एवं मुख्यमंत्री चौहान बधाई के पात्र हैं। मध्यप्रदेश में 6 माह बाद इंजीनियरिंग एवं पॉलिटेक्निक की शिक्षा भी हिंदी में प्रारंभ की जायेगी। साथ ही हिन्दी भाषा में अनुसंधान की व्यवस्था भी की जायेगी। केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि बच्चे की सोचने की प्रक्रिया उसकी मातृभाषा में होती है। मातृभाषा की बात दिल तक जाती है जबकि अन्य भाषा की बात दिमाग तक। सोचने के साथ ही संशोधन, अनुसंधान, तर्क, विश्लेषण एवं निर्णय पर पहुँचने की प्रक्रिया मातृभाषा में होती है। बच्चों की पढ़ाई-लिखाई एवं अनुसंधान मातृभाषा में होने से भारत के विद्यार्थियों का डंका पूरे विश्व में बजेगा।   केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि अंग्रेजों ने 19वीं शताब्दी में वेल्थ ड्रेन किया, 21वीं शताब्दी में वे ब्रेन ड्रेन थ्योरी लेकर आए। प्रधानमंत्री श्री मोदी अब इस थ्योरी को ब्रेन गेन की थ्योरी में बदल रहे हैं। मातृ भाषा में अध्ययन, विद्यार्थियों के चिंतन, तर्क एवं अनुसंधान की क्षमता को बढ़ाएगा। अपनी भाषा में पढ़ेंगे तभी विद्यार्थी देश की सच्ची सेवा कर पायेंगे।केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि आज भारत में जेईई, एईईटी, यूजीसी की परीक्षाएँ 12 भाषाओं में देने की व्यवस्था की गई है। सीयूईटी की परीक्षा 13 भाषाओं में और 10 राज्यों में इंजीनियरिंग की परीक्षा भारतीय भाषाओं में देने के लिये कार्य प्रारंभ कर दिया है। सांकेतिक भाषा का मानकीकरण किया जा रहा है। हिंदी में पढ़ाई से विद्यार्थियों की बौद्धिक क्षमता बढ़ेगी और भाषाई लघु ग्रंथि (इन्फीरियरिटी कॉम्पलेक्स) से मुक्त होंगे। उन्होंने कहा कि भाषा और बौद्धिक क्षमता का संबंध नहीं है। भाषा अभिव्यक्ति का साधन है। मातृभाषा में शिक्षा से बौद्धिक क्षमता निखरती है।   केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि वर्ष 2013-14 में भारत में मेडिकल कॉलेज की संख्या 387 थी, जो आज बढ़ कर 596 हो गई है। वही मेडिकल सीट्स की संख्या 51 हजार से बढ़ कर 89 हजार हो गई है। आईटीआई 16 हजार से बढ़ कर 23 हजार, आईआईएम 13 हजार से बढ़ कर 20 हजार, ट्रिपल आईआईटी सीट 9 हजार से बढ़ कर 25 हजार और कुल विश्वविद्यालय 723 से बढ़ कर 1043 हो गये हैं। केन्द्रीय मंत्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश को तकनीकी और मेडिकल की शिक्षा मातृभाषा में उपलब्ध कराने का संकल्प लेकर बड़ा कार्य किया है। देश में 8 भाषाओं में इन विषयों की पुस्तकों का अनुवाद आरंभ हो चुका है। शिक्षा के साथ-साथ मेडिकल और इंजीनियरिंग क्षेत्र में मातृभाषा में शोध और विकास को भी प्रोत्साहित किया जाएगा। मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में त्रिभाषा व्यवस्था का सफल क्रियान्वयन हुआ है। मातृभाषा में शिक्षा की व्यवस्था देश में समता की क्रांति का पथ प्रशस्त करेगी।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह एक नया सवेरा लेकर आये हैं। मेडिकल, इंजीनियरिंग आदि विषयों की पढ़ाई हिंदी में होना शिक्षा जगत में नया प्रकाश होगा। यह अंग्रेजी की गुलामी से मुक्ति का दिन है। यह कार्य आजादी के बाद ही हो जाना था, जो अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हो रहा है। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि हमारे बहुत से विद्यार्थी पढ़ाई करने मेडिकल एवं इंजीनियरिंग कॉलेज में पहुँच तो जाते थे, पर अंग्रेजी भाषा के कारण वे ढंग से पढ़ाई नहीं कर पाते थे। कुछ लोग तो पढ़ाई बीच में ही छोड़ देते थे। हमारे बहुत से पिछड़े, दलित, गरीब विद्यार्थी भाषा को लेकर हीन भावना से ग्रस्त हो जाते थे। अब वे हिंदी भाषा में पढ़ाई कर अपनी क्षमता का पूरा विकास कर सकेंगे।     मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के मानस को बदल दिया है। अंग्रेजी भाषा की गुलामी से मुक्ति मिली है। अब विद्यार्थी हिंदी और मातृ भाषाओं में शिक्षा ले सकेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में मेडिकल की पुस्तकों का अंग्रेजी में अनुवाद करते समय इस बात का पूरा ध्यान रखा गया है कि भाषा कठिन न हो जाए। तकनीकी शब्दों को अंग्रेजी में ही रखा गया है। भाषा को व्यवहारिक बनाया गया है। जो बच्चे हिंदी में पढ़ाई करेंगे, उनकी मेरिट लिस्ट भी अलग बनाई जायेगी।       मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब डॉक्टर हिन्दी में पर्चे लिख सकेंगे। वे पर्चे पर आरएक्स के स्थान पर श्रीहरि लिख सकते हैं। यह एक नये युग की शुरूआत है। आज का दिन प्रदेश के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जायेगा। प्रदेश में आगामी 6 माह में इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक की पढ़ाई भी हिंदी में प्रारंभ होगी। आईआईटी और आईआईएम की पढ़ाई भी हिंदी में करवाएँगे। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है, जिसने हिंदी में मेडिकल की पढ़ाई प्रारंभ की है। आजादी के बाद के 75 वर्षों में भारत में जो नहीं हुआ वह प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में हो रहा है। लॉर्ड मेकाले ने अपनी शिक्षा नीति में जिस मानसिक गुलामी की नीति अपनाई थी, उसका अब अंत हो रहा है। नई शिक्षा नीति से भारतीय भाषाओं में सभी विषयों की पढ़ाई की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिये प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री चौहान बधाई के पात्र हैं। राज्य स्तरीय इस कार्यक्रम में प्रदेश के सभी जिले, सभी चिकित्सा महाविद्यालय तथा शिक्षण संस्थाएँ वर्चुअली सम्मिलित हुईं। मेडिकल में हिन्दी पाठ्यक्रम के विकासक्रम पर लघु फिल्म का प्रदर्शन किया गया।  

Kolar News

Kolar News 17 October 2022

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मध्यप्रदेश में चिकित्सा शिक्षा में निरंतर नवाचार और स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार पर आधारित प्रदर्शनी का लाला परेड ग्राउण्ड में अवलोकन किया। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग, गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा और सांसद वी.डी. शर्मा मौजूद थे। केन्द्रीय गृह मंत्री शाह का मंत्रि-परिषद के सदस्यों तथा अन्य जन-प्रतिनिधियों ने स्वागत एवं अभिनंदन किया।   प्रदर्शनी में हिन्दी में मेडिकल की पढ़ाई प्रारंभ करने के निर्णय, कार्य-योजना एवं टास्क फोर्स के गठन, पाठ्यक्रम तैयार करने की गाथा, मूल्य आधारित शिक्षा से व्यक्तित्व निर्माण, भारतीय पुरातन पद्धति का आधुनिक चिकित्सा में समावेश, ज्ञान-विज्ञान और संस्कारों का सम्मिश्रण, गर्भ संस्कार का समावेश, IVF सेंटर की स्थापना, ईज ऑफ हेल्थ सर्विसेज, मरीज मित्र योजना, इमरजेंसी मेडिसिन, आत्म-हत्या रोकथाम नीति, मरीज कॉरिडोर, नि:शुल्क चिकित्सा शिविर, मेडिकल कॉलेज शेयरिंग मिशन, मेडिकल इन्क्यूबेशन सेंटर, चिकित्सा संवाद, चिकित्सा छात्र बीमा योजना, नवीनतम तकनीकों का उपयोग, ए.आई. आधारित तकनीक का उपयोग, मशीन लर्निंग एवं डेटा एनालिटिक्स के आयाम और मेडिकल रोबोटिक्स पर केन्द्रित जानकारी प्रदर्शित की गई। साथ ही एक बड़े LED टीवी के जरिये चिकित्सा क्षेत्र में किये गए नवाचारों और योजनाओं को बताया गया। प्रदर्शनी स्थल पर चिकित्सा शिक्षा में निरंतर नवाचार और स्वास्थ्य सुविधाओं का हो रहा विस्तार पर केन्द्रित पुस्तकों का वितरण भी किया गया।

Kolar News

Kolar News 17 October 2022

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने राजमाता विजयाराजे सिंधिया हवाई अड्डा ग्वालियर के नए टर्मिनल एवं हवाई अड्डे के विस्तार कार्य की आधारशिला रखी। हवाई अड्डे के नए टर्मिनल का निर्माण लगभग 500 करोड़ रूपए की लागत से किया जाना है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री  नरेन्द्र सिंह तोमर, केन्द्रीय नागर विमानन एवं इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया उपस्थित थे। केन्द्रीय गृह मंत्री शाह एवं मुख्यमंत्री चौहान सहित केन्द्रीय मंत्रीगण ने विधि-विधान से पूजन कर नए टर्मिनल और हवाई अड्डे के विस्तार कार्य का शिलान्यास किया। शाह ने नए टर्मिनल के निर्माण संबंधी मॉडल का भी अवलोकन किया। मॉडल के माध्यम से अत्याधुनिक नए टर्मिनल की जानकारी प्रदर्शित की गई। प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, खजुराहो सांसद  वी.डी. शर्मा, क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, संभागीय आयुक्त दीपक सिंह, एडीजी डी. श्रीनिवास वर्मा, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित सांघी भी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 17 October 2022

मध्यप्रदेश में हर दिन डेंगू पीड़ित मरीजों की रफ्तार हर दिन बढ़ती जा रही है।  डेंगू के कारण भोपाल में भी एक नर्स की मौत हो गई है। सरकार के प्रवक्ता डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा  डेंगू के प्रकोप को देखते हुए सरकार ने प्रदेश के सभी जिलों को एहतियात बरतने और समुचित उपचार उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। गृह मंत्री मिश्रा ने कहा कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में स्थानीय लोगों की भागीदारी ना के बराबर है।  कांग्रेसी बाहर के लोगों को बुलाकर यात्रा को बड़ी करते हैं। हमारी पार्टी चुनाव को ध्यान में रखकर कोई कार्य नहीं करती। बल्कि हमारी पार्टी सिर्फ विकास को दृष्टिगत रखते हैं कार्य करती है। जब भी राष्ट्र के गौरव की बात आएगी कांग्रेस उसमें मीन मेख निकालेगी।  उन्होंने कहा केंद्रीय शीर्ष नेतृत्व में हमारा देश नई ऊंचाइयां प्राप्त कर रहा है। और मध्यप्रदेश भी उसमें अग्रणी भूमिका निभा रहा है।  केंद्रीय नेतृत्व का मध्य प्रदेश को लगातार सौगातों की झड़ी लगाने के लिए आभार प्रधानमंत्री जी केंद्रीय गृह मंत्री जी लगातार मध्य प्रदेश को सौगात दे रहे हैं।   

Kolar News

Kolar News 16 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग के नेतृत्व में डॉक्टर्स और विशेषज्ञों की टीम ने मेडिकल की किताबों का अध्ययन कर उन्हें हिंदी में रूपान्तरित किया है। असंभव लगने वाले इस कार्य को चिकित्सा महाविद्यालय की टीम ने समय-सीमा में पूरा कर दिखाया है। मैं आज इस टीम से मिलने और बधाई देने विशेष रूप से आया हूँ। अभी प्रथम वर्ष की पुस्तकें तैयार हुई हैं। द्वितीय वर्ष की किताबों को भी बनाने का कार्य किया जा रहा है। यह कार्य पीजी कक्षाओं के लिए भी जारी रहेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने गांधी चिकित्सा महाविद्यालय भोपाल में मेडिकल की पुस्तकें हिंदी में विकसित करने के लिए स्थापित चिकित्सा शिक्षा विभाग के हिंदी प्रकोष्ठ वॉर रूम मंदार पहुँच कर विषय-विशेषज्ञों से चर्चा में यह बात कही। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग भी उपस्थित थे।   बताया गया कि पुस्तकों के हिन्दी रूपांतरण का कार्य शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय के संबंधित विषयों के प्राध्यापक तथा सह-प्राध्यापक द्वारा किया गया है। हिन्दी में पाठ्यक्रम तैयार करने के लिए विषय निर्धारण समिति और सत्यापन कार्य के लिए विषय सत्यापन समितियों का गठन किया गया था। पाठ्यक्रम निर्माण में चिकित्सा छात्रों और अनुभवी चिकित्सकों के सुझाव शामिल किए गए हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने हिन्दी में पाठ्यक्रम तैयार करने वाली टीम के राज्य प्रमुख डॉ. लोकेन्द्र दवे से भेंट की। मुख्यमंत्री ने एनॉटामी, फिजियोलॉजी और बायोक्रेमेस्ट्री की पुस्तकें विकसित करने वाली टीम के डॉ. यशवीर, डॉ. देवेन्द्र चौधरी, डॉ. आशीष गोलिया, डॉ. अभिजीत यादव, डॉ. तृप्ति सक्सेना, डॉ. सुबोध पाण्डेय तथा डॉ. सोनिया बावेजा से भी मुलाकात की। मुख्यमंत्री चौहान ने समय-सीमा में यह कार्य पूर्ण करने के लिए टीम को बधाई और शुभकामनाएँ दी और हिन्दी में पुस्तकें विकसित करने की प्रक्रिया संबंधी जानकारी प्राप्त की।  

Kolar News

Kolar News 16 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में 16 अक्टूबर से देश में पहली बार एमबीबीएस की पढ़ाई हिन्दी में होगी। यह एक सामाजिक क्रांति है। अब गरीब, मध्यम वर्गीय और किसान के बेटा-बेटी भी हिन्दी में पढा़ई कर सकेंगे। मध्यप्रदेश इस दिन एक नया इतिहास रचने जा रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प को पूरा करने की दिशा में मध्यप्रदेश आगे बढ़ रहा है। मध्यप्रदेश मेडिकल की पढ़ाई हिन्दी भाषा में कराने वाला देश का पहला राज्य बनेगा। मुख्यमंत्री चौहान रोशनपुरा चौराहे पर “एक दीपक हिन्दी के नाम” कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने दीप प्रज्ज्वलित कर हिन्दी को समर्पित किया। संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, विधायक कृष्णा गौर और रामेश्वर शर्मा, महापौर मालती राय, पूर्व महापौर आलोक शर्मा, सामाजिक कार्यकर्ता सुमित पचौरी सहित नागरिक उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी का संकल्प है कि मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढा़ई मातृ-भाषा में होनी चाहिए। उनके इस संकल्प को पूरा करने के लिए मैंने प्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई हिन्दी में कराने का निर्णय़ लिया, जो 16 अक्टूबर को साकार होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि जहाँ चाह होती है, वहाँ राह निकल ही आती है। लाखों विद्यार्थी अंग्रेजी नहीं जानने से कुंठित हो जाते थे। अब उन्हें पढ़ाई में कोई बाधा नहीं आएगी और हिन्दी में आसानी से पढा़ई कर सकेंगे। अंग्रेजी के बिना भी हिन्दी में सब कुछ हो सकता है। केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह रविवार को भोपाल में मेडिकल की पढ़ाई के लिए हिन्दी की पुस्तकों का शुभारंभ करेंगे। मुख्यमंत्री ने भोपाल की जनता और अभिभावकों से कार्यक्रम में शामिल होने का आग्रह किया।  

Kolar News

Kolar News 16 October 2022

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा छतरपुर पहुंचे। जहां उन्होने बीजेपी कार्यकर्ताओ को आगामी त्यौहारों की बधाई देते हुये। अगले साल होने वाले विधानसभा और फिर लोकसभा चुवाव की तैयारी मे लगने को कहा। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर  निशाना साधते हुए कहा। कांग्रेस छल कपट की राजनीति करती है।  इसलिए उसकी यह दशा हुई है। उन्होंने कहा की कांग्रेस में क्या बुराई है यह तो उनको ही खोजना पड़ेगा। लेकिन कांग्रेस के खून में जो जीन्स है वो  फूट  डालो राज करो के जीन्स है। किन किन बातों पर लोगों को भड़काया जा सकता है। यह कांग्रेस के खून में है। और इसी आधार पर वे राजनीति करते हैं।  वही बीजेपी के पूर्व विधायक आरडी प्रजापति के ओबीसी महासभा में लगातार उनके खिलाफ बयानबाजी करने पर उन्होंने कहा कि ये हमारी नैतिक ज़िम्मेदारी है की इस तरह की विद्वेष फैलाने वाली बातें न हों। यह सब एक योजनाबद्ध तरीके से किया जाता है। और राजनीति चमकाने के लिए लोग ऐसा करते है। यह भी  फूट डालो राज करो वाली नीति का ही एक हिस्सा है।  जबकि भारतीय जनता पार्टी सबका साथ सबका विकास के आधार पर कार्य करती है।      

Kolar News

Kolar News 15 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश के 67 स्थापना दिवस जन उत्सव के रूप में मनाया जाएगा। प्रदेशवासियों के साथ मिल कर हम सब आगामी स्थापना दिवस तक के लक्ष्य तय कर उन्हें प्राप्त करने का संकल्प लेंगे। प्रदेश में विकास के क्षेत्र में कई उपलब्धियाँ अर्जित की हैं। साथ ही हमारी परंपरा, जीवन मूल्यों और संस्कारों पर केंद्रित कई कार्यक्रम भी आयोजित हुए हैं। नर्मदा सेवा यात्रा, एकात्म यात्राएँ, अमर क्रांतिकारी शहीदों के स्मारकों का निर्माण इनमें प्रमुख हैं। इसी क्रम में महाकाल लोक के रूप में अद्भुत रचना हुई है। प्रदेश के 67वें स्थापना दिवस पर एक से सात नवम्बर तक रचनात्मक गतिविधियाँ संचालित की जाएंगी। यह गतिविधियाँ पुण्य-सलिला नर्मदा जी और महाकाल महालोक पर केन्द्रित होंगी। मध्यप्रदेश स्थापना दिवस समारोह पर गठित मंत्री समूह के सुझावों को शामिल करते हुए गतिविधियाँ निर्धारित की गईं हैं।   मुख्यमंत्री चौहान निवास कार्यालय पर मध्यप्रदेश स्थापना दिवस समारोह के संबंध में बैठक को संबोधित कर रहे थे। संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह वर्चुअली शामिल हुए। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि स्थापना दिवस पर जन सेवा अभियान में चिन्हित पात्र हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र तथा अन्य लाभ वितरण के लिए सभी जिलों में कार्यक्रम किए जाएंगे। प्रदेश के 52 जिलों में लगभग 50 लाख पात्र हितग्राही कार्यक्रम से जुड़ेंगे। साथ ही उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को पुरस्कृत और सम्मानित किया जाएगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि स्थापना दिवस पर कार्यक्रमों की श्रंखला एक नवम्बर को सभी जिलों में जन अभियान परिषद के सहयोग से प्रभात फेरी निकाली जायेंगी। दोपहर एक बजे सभी जिलों में जन सेवा अभियान स्वीकृति-पत्र और अन्य लाभों के वितरण का कार्यक्रम होगा। शाम को भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में पार्श्व गायक जुबीन नौटियाल की प्रस्तुति होगी। इस क्रम में दो नवम्बर को सभी जिलों में लाड़ली लक्ष्मी योजना की लाड़लियों और उनके माता-पिता के सम्मेलन किए जाएंगे। तीन नवम्बर को सभी जिलों में स्वच्छता गतिविधियाँ और महत्वपूर्ण स्थलों पर 67 दीप प्रज्ज्वलित किए जाएंगे। तीन नवम्बर से ही ग्रामीण खेल प्रतियोगिताओं और व्यंजन प्रतियोगिताओं का भी आयोजन होगा। चार नवम्बर को "एक जिला-एक उत्पाद" पर प्रदेश के सभी जिलों में गतिविधियाँ संचालित होंगी। पाँच नवम्बर को प्रदेश के गौरव पर केंद्रित नाटक, लोक नृत्य और जननायकों पर केन्द्रित प्रतियोगिताएँ होगी। छह नवम्बर को सभी जिलों में पौध-रोपण, जल-संरक्षण, ऊर्जा की बचत और पर्यावरण पर केंद्रित गतिविधियाँ की जाएंगी।   कार्यक्रमों की श्रंखला में 7 नवम्बर को सभी जिला मुख्यालय और राज्य स्तर पर पुरस्कार वितरण कार्यक्रम होंगे। इसमें स्थापना दिवस के संदर्भ में हुई प्रतियोगिताओं और खेल गतिविधियों के विजेताओं को पुरस्कृत किया जाएगा। जन सेवा अभियान में बेहतर कार्य करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों का सम्मान और पुरस्कार वितरण भी सभी जिला मुख्यालय पर होगा। साथ ही सांस्कृतिक गतिविधियाँ भी होंगी, जिनमें स्थानीय परिवेश की सांस्कृतिक गतिविधियों को विशेष रूप से शामिल किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह सभी कार्यक्रम आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश की भावना को अभिव्यक्त करते हुए उत्सव और आनंद के वातावरण में होंगे।  

Kolar News

Kolar News 15 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हिन्दी में मेडिकल की पढ़ाई शुरू कर मध्यप्रदेश एक नया इतिहास रचने जा रहा है। हिन्दी में मेडिकल की पढ़ाई शुरू कर हम अंग्रेजी के बिना काम नहीं चल सकता की मानसिकता को बदलने की ओर अग्रसर हो रहे हैं। केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह 16 अक्टूबर को हिन्दी में मेडिकल की पढा़ई का शुभारंभ करेंगे। इस मौके पर एमबीबीएस प्रथम वर्ष की हिन्दी पुस्तकों का विमोचन भी किया जाएगा। यह गुलाम मानसिकता से मुक्ति का पर्व होगा, जो एक सामाजिक क्रांति है। मुख्यमंत्री चौहान, केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह के मुख्य आतिथ्य में 16 अक्टूबर को लाल परेड ग्राउंड पर होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। निवास कार्यालय पर बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, सामाजिक कार्यकर्ता हितानंद शर्मा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति में प्रारंभिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक भारतीय भाषाओं को पढ़ाई का माध्यम बनाने का ऐतिहासिक कार्य किया है। विश्व पटल पर हमारी प्रतिभाएँ अपनी मातृ भाषा से स्थापित हो सकें, इसी उद्देश्य से मध्यप्रदेश में चिकित्सा एवं अभियांत्रिकी की शिक्षा हिन्दी माध्यम से देने की पहल की गई है। इससे हिन्दी माध्यम से अध्ययन कर रहे विद्यार्थियों के लिए नई संभावनाओं के द्वार खुलेंगे। उनकी नैसर्गिंक प्रतिभा का प्रकटीकरण होगा। मध्यप्रदेश से हो रही यह शुरूआत हमारे लिए गौरव का विषय है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि 16 अक्टूबर को होने वाले ऐतिहासिक कार्यक्रम के लिए वातावरण निर्माण की गतिविधियाँ 15 अक्टूबर से आरंभ की जाएँ। सभी जिलों में 15 अक्टूबर को हिन्दी प्रेमी सम्मेलन हों, सभी स्कूल, कॉलेजों में हिन्दी में ज्ञान के प्रकाश कार्यक्रम में संगोष्ठियाँ तथा अन्य गतिविधियाँ की जाए। विद्यार्थियों को यह जानकारी दी जाए कि हिन्दी में भी मेडिकल की पढ़ाई संभव है। साथ ही 15 अक्टूबर की शाम को भोपाल सहित सभी जिलों के प्रमुख स्थानों पर हिन्दी में ज्ञान के प्रकाश कार्यक्रम में दीपक प्रज्ज्वलित किया जाए। इन गतिविधियों में उच्च शिक्षा, स्कूल शिक्षा और जनजातीय कार्य विभाग के विद्यालय, श्रमोदय विद्यालय, कृषि महाविद्यालय, तकनीकी शिक्षा, आयुष एवं चिकित्सा शिक्षा से संबंधित महाविद्यालय, संगीत एवं नाट्य विद्यालय और सभी निजी विश्वविद्यालयों को जोड़ा जाए। सभी शिक्षण संस्थाओं में 16 अक्टूबर के मुख्य कार्यक्रम का सीधा प्रसारण सुनिश्चित किया जाए और अधिक से अधिक विद्यार्थियों को वर्चुअल जोड़ा जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम की तैयारियों के संबंध में आवश्यक निर्देश भी दिए।  

Kolar News

Kolar News 15 October 2022