Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782
Advertisement

राजनीति

उत्तर प्रदेश  में योगी आदित्यनाथ सरकार के दूसरे कार्यकाल के 100 दिन सोमवार को पूरे हो गए हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने 100 दिन के काम पर बुकलेट जारी कर सरकार की उपलब्धियों को सबके सामने पेश किया। इन 100 दिनों में योगी सरकार की ओर से लिए महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। इन 100 दिनों में योगी सरकार ने पहली कैबिनेट में फ्री राशन के फैसले के बाद राज्य में निवेश लाने के लिए पहली ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का आयोजन किया। बता दें कि सरकार बनने के बाद सीएम योगी ने एक और बड़ा कदम उठाया था।  सीएम योगी ने अपने मंत्रियों और विभागों के लिए 100 दिन की कार्ययोजना तैयार की थी। सरकार गठन के बाद 100 दिनों, 6 माह, 1 वर्ष, 2 वर्ष और 5 वर्ष की कार्ययोजना तय की गई हैं।योगी सरकार के महत्वपूर्ण फैसले1- सरकार बनते ही 100 दिन, 6 महीने और पांच वर्ष का लक्ष्य तय किया गया. वहीं सरकार ने गन्ना।2- किसानों का एक लाख 74 हज़ार करोड़ रुपए गन्ना मूल्य भुगतान किया।3- ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी 3 का आयोजन, 80 हज़ार से ज्यादा का निवेश हुआ।4- युवाओं को रोजगार देने के लिए प्रदेश भर में लोन मेलों का आयोजन।5- 100 दिन के अंदर 10 हज़ार पुलिस भर्ती के निर्धारित लक्ष्य को पूरा किया।6- योगी सरकार ने 100 दिन के अंदर अपराधियों और माफियाओं से 844 करोड़ की अवैध संपत्तियां जब्त की।7- धार्मिक स्थलों से 74,700 लाउडस्पीकर हटाए गए, जिनमे से 17,816 स्कूल में दिए गए।8- योगी सरकार ने 68,784 अतिक्रमण स्थलों और 76,196 अवैध पार्किंग स्थलों को मुक्त कराया।9- महिलाओं को मुफ्त गैस सिलेंडर और मुफ्त बस यात्रा की दी सौगात।10- युवा शक्ति को किया मजबूत, स्मार्टफोन और टैबलेट का हुआ वितरण।11- 100 दिन के अंदर 05 नए हवाई अड्डों के संचालन।योगी ने कहा कि 2017 के बाद से अब तक 844 करोड़ रुपये की अवैध संपत्तियों को बुलडोजर से गिराया गया है।  पॉस्‍को एक्‍ट के तहत 2273 अपराधियों पर कार्रवाई की गई है। 68,784 अनधिकृत कब्‍जे और 76,196 अनधिकृत पार्किंग को मुक्‍त कराया गया है। 74,385 लाउडस्पीकर को धार्मिक स्‍थलों से हटाया गया है। वहीं, प्रदेश स्तर पर 50 माफिया और जिला स्‍तर पर 12 माफिया पर कठोर कार्रवाई की गई है। 

Kolar News

Kolar News 5 July 2022

नगरीय निकाय चुनाव के पहले चरण का प्रचार सोमवार शाम को थम गया। जीत के लिए दोनों प्रमुख दलों भाजपा और कांग्रेस ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है। राजनीति के सूरमा मैदान में डटे हैं तो दोनों पार्टियों के साइबर सियासी योद्धा दफ्तरों से चुनाव प्रचार की कमान संभाले हुए हैं। वोट के लिए बूथ तक सियासी जंग जारी है।प्रदेश के कोने-कोने तक सोशल मीडिया के जरिए अपनी पकड़ मजबूत करने में जुटे दोनों दलों ने बेस कैंप भोपाल में बनाए हैं। ये टीमें प्रदेशभर पर नजर रखती हैं। जिलों की टीम से समन्वय बनाती हैं। सोशल मीडिया टीमों में ग्राफिक्स डिजाइनर, वीडियो एडिटर, कॉपी एडिटर से लेकर वॉइस आर्टिस्ट तक शामिल हैं। इसके अलावा बड़े नेताओं की खुद भी सोशल मीडिया टीमें हैं, जो पोस्टर, वीडियो आदि ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम पर पोस्ट करती हैं।इधर, 49 जिलों के 133 निकायों में प्रचार थमने के बाद अब पूरा जोर बूथ मैनेजमेंट का है। भाजपा ने इन निकायों में बूथ कमेटियों को एक्टिव कर दिया है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा ने चुनाव प्रभारियों को वोटिंग के हिसाब से कदम उठाने और डोर-टू-डोर संपर्क पर फोकस करने के निर्देश दिए हैं। उधर, कांग्रेस में पूरी कमान कमलनाथ स्वयं संभाले हुए हैं। नेताओं को अपने-अपने क्षेत्र में कांग्रेस उम्मीदवार को जिताने की जिम्मेदारी दी गई है। विधानसभा चुनाव 2023 और लोकसभा चुनाव 2024 के पहले स्थानीय सरकार के चुनाव भाजपा की बूथ विस्तार योजना की अग्निपरीक्षा हैं। प्रदेश भाजपा ने इस योजना में देश के बड़े राज्यों में डिजिटल बूथ नेटवर्क वाला पहला राज्य बनने का तमगा हासिल किया है, लेकिन अब यही नेटवर्क कसौटी पर है। भाजपा ने नगर सरकार के चुनाव में इस बूथ नेटवर्क पर भरोसा करके 80% से ज्यादा टिकट नए चेहरों को दिए हैं।प्रदेश भाजपा ने पहली बार बूथ विस्तार के तहत इस प्रकार का नेटवर्क तैयार किया है। एक लाख से ज्यादा कार्यकर्ताओं के साथ कभी भी एक साथ वर्चुअल संवाद की क्षमता हासिल की गई है। अब पार्टी का सबसे ज्यादा फोकस उन बूथों पर हैं, जहां पिछली बार पार्टी को वोट कम मिले थे। इसलिए इन बूथों की टीम को ज्यादा अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। हर बूथ की रिपोर्ट लेने के लिए टीमें तैनात की गई हैं। 65 हजार बूथ पर नेटवर्क बनाया। 10 युवा हर बूथ पर नए जोड़े। 64 हजार बूथ डिजिटल किए। 10 दिन 10-10 घंटे यानी 10 घंटे हर नेता ने बूथ पर दिए। 12.75 लाख कार्यकर्ता संगठन ऐप से जुड़े। निकायों में कब्जा करने के लिए कांग्रेस ने रणनीति के साथ काम किया है। इसके तहत पार्टी ने राज्य में बूथ स्तर पर फोकस किया है। एक बूथ पर पांच-पांच यूथ यानी युवा तैनात किए हैं। मतदाता सूची के एक-एक पन्ना के हिसाब से कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं। पार्टी का प्रयास यही है कि मतदाताओं को हर हाल में बूथ तक लाया जा सके। वरिष्ठ नेताओं को उन्हीं के क्षेत्र की जिम्मेदारी सौंपी है।

Kolar News

Kolar News 5 July 2022

  देश में हम आजादी के 75 वर्ष मना रहे हैं और इस अमृत महोत्सव में एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के चयन से पूरे देश में खुशी का माहौल है। मध्यप्रदेश ही नहीं,  जनजाति समाज ही नहीं अपितु पुरे देश को आज गर्व की अनुभूति हो रही है। देश के इतिहास में यह पहली बार होगा जब कोई पूर्व पार्षद राष्ट्रपति बनने के बेहद करीब पहुंच गया है। राष्ट्रपति प्रत्याशी के रूप में द्रौपदी मुर्मू के चयन ने भले ही उन लोगों को चौंका दिया हो, जो राष्ट्रपति पद को एक विशेष दायरे में सीमित करके देखते हैं। लेकिन भाजपा संसदीय दल का यह निर्णय वास्तव में जनजातियों और महिलाओं के सशक्तीकरण की दिशा में भाजपा की नीतियों का ही प्रतिबिंब है।  ओडिशा में जन्मी द्रौपदी मुर्मू ने भुवनेश्वर स्थित रमादेवी महिला कॉलेज से स्नातक की डिग्री (बीए) हासिल की। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर शिक्षक के रूप में की,  फिर वह राजनीति में आ गईं। साल 1997 में पार्षद के रूप में मुर्मू ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की। इसके 3 साल बाद 2000 में पहली बार विधायक बनीं और फिर भाजपा-बीजेडी सरकार में दो बार मंत्री भी रहीं। बाद में मुर्मू झारखंड की राज्यपाल बनीं और इस प्रदेश की पहली महिला राज्यपाल भी बनीं। यही नहीं वह देश के किसी भी प्रदेश की राज्यपाल बनने वाली देश की पहली आदिवासी महिला नेता भी हैं। ओडिशा के मयूरभंज जिले से ताल्लुक रखने वाली द्रौपदी मुर्मू झारखंड की पहली महिला आदिवासी राज्यपाल बनीं और सबसे लंबे समय तक इस पद पर रहीं। झारखंड की राज्यपाल रहते हुए पक्ष और विपक्ष दोनों ही उनकी कार्यशैली के मुरीद रहे। उन्होंने ओडिशा के सर्वोत्तम विधायक को दिया जाने वाला नीलकंठ पुरस्कार भी हासिल किया है। इस पद से रिटायर होने के बाद ओडिशा के मयूरभंज जिले के रायरंगपुर में रह रही हैं। द्रौपदी मुर्मू अपनी साफ छवि और बेबाक फैसलों के लिए जानी जाती हैं। इनकी निजी जिंदगी भले ही त्रासदियों से भरी रही हो, लेकिन देश के इस सबसे बड़े पद पर उनका नामांकन होना ये साबित करता है कि वह मुश्किल हालातों से निपटना बखूबी जानती हैं। भारतीय जनता पार्टी ने सदैव सबका साथ सबका विकास और सबके प्रयासों के साथ समाज के वंचित पीड़ित शोषित वर्गों को प्रतिनिधित्व दिलवाने के लिए अनेकों काम किए हैं और योजनाएं चलाई हैं। चाहे विधायिका और मंत्रिमंडलों में महिलाओं, पिछड़ों और आदिवासियों की संख्या की बात हो, या फिर 26 जनवरी की परेड हो, भाजपा की नीतियां सरकार के निर्णयों से छलकती रही हैं। बीते वर्षों में आदिवासियों और महिलाओं के हितों में भाजपा की केंद्र और राज्य सरकारों ने जो निर्णय लिए हैं, जो काम किए हैं, वो अभूतपूर्व हैं। पार्टी के इन निर्णयों और कामों में मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार की अग्रणी भूमिका रही है। लाड़ली लक्ष्मी योजना से लेकर भगवान बिरसा मुंडा के जन्मदिवस को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाने के निर्णय तक पूरे देश के लिए अनुकरणीय रहे हैं।  मध्यप्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य है, जहां निकाय व स्थानीय पंचायत के चुनाव में महिलाओं की भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिए 50% का आरक्षण दिया और आज जब हम चुनावी मैदान में है तो यह देखने को मिलता है कि महिलाएं लगभग 80% के आसपास आज चुनावी रण में है। यह समाज और प्रदेश के लिए अत्यंत सौभाग्य का विषय है की ग्रहणी से लेकर फाइटर जेट तक मध्य प्रदेश की बेटियां लगातार अपने पंख फैला रही हैं। मध्यप्रदेश से पिछले दिनों राज्यसभा की दोनों सीटों पर दो महिला प्रत्याशियों को निर्विरोध चयन कर सर्वोच्च सदन राज्यसभा में भेजा गया है। जिसमें सुमित्रा वाल्मिकी देश की पहली वाल्मिकी समाज से आने वाली सांसद बनी,  वहीं पिछड़ा वर्ग से कविता पाटीदार को राज्यसभा भेजा गया। यह मध्यप्रदेश में महिला सशक्तीकरण के लिए किए जा रहे प्रयासों का ही नतीजा है कि आज 42 लाख लाडली लक्ष्मी मध्यप्रदेश में हैं और बेटी और बेटों का अनुपात जो पहले 1000 बेटों पर 912 था अब 970 हो गया है।  चाहे महिला सशक्तीकरण हो या जनजातीय अस्मिता के गौरव को पुनर्स्थापित करना हो इस दिशा में जितने कार्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में पिछले 8 सालों में हुए हैं वो पहले कभी नहीं हुए। द्रौपदी मुर्मू जी को राष्ट्रपति प्रत्याशी नामांकित किए जाने का ये निर्णय मोदी जी के महिला व जनजातीय कल्याण के उसी अटूट संकल्प का प्रतिबिंब है। द्रौपदी मुर्मू ने अभी तक अपने सभी दायित्वों को बहुत अच्छे से निभाया है चाहे वह शिक्षक का हो,  संगठन का हो, जनप्रतिनिधि का या फिर राज्यपाल का। आशा की जानी चाहिए कि देश के सर्वोच्च पद पर पदस्थ होकर वे इस भूमिका में भी नए कीर्तिमान बनाएंगी।  -लेखक भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता हैं - नेहा बग्गा    

Kolar News

Kolar News 4 July 2022

मध्यप्रदेश के लोकल चुनाव में अब उदयपुर में हुए हत्याकांड की एंट्री हो चुकी है। जहाँ  प्रचार के दौरान इस घटना को मुद्दा बना रहे है वहीं दूसरी ओर कांग्रेस का कहाँ है की बीजेपी ऐसा करके समाज को बाँट रही है। बीजेपी नेता इस हत्या का ज़िम्मेदार कांग्रेस को बता रही तो कांग्रेस नेता भी इन सभी मुहतोड़ जवाब देते हुए नज़र आरही है।  सीएम शिवराज ने  जबलपुर में चुनावी प्रचार के दौरान कहा कि कांग्रेस की वजह से आतंकवाद पैदा हो रहा है। कांग्रेस के तुष्टीकरण के कारण राजस्थान में ऐसी घटना हुई है। अब तो पता चला कि महाराष्ट्र में उनकी सरकार रहते हुए वहां भी हत्या कर दी गई थीं। उन्होंने कहा बीजेपी सभी वर्ग और धर्म को मानती है, सम्मान करती है, आदर करती है। मध्यप्रदेश की धरती पर आतंकवाद किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हम आतंकवाद और आतंकवादी दोनों को कुचल देंगे। जनता को सताने वाले गुंडे, बदमाश, माफिया की संपत्ति पर बुलडोजर चला दिया जायेगा। वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा खंडवा में हो रहे एक कार्यकर्ता सम्मेलन के दौरान कहा कि देश विरोधी ताकतें देश को अस्थिर करना चाहती हैं। अब ये लोग  उदयपुर जैसी घटनाएं मोहल्ले-मोहल्ले में करने का प्रयास करेंगे। अगर  हम जैसे लोगों ने तत्पर और तैयार होकर ऐसी ताकतों को राजनीतिक तौर पर जवाब नहीं दिया तो यही कांग्रेस के लोग इनको ताकत देने का काम करेंगे। महाराष्ट्र के अंदर सरकार चली जाती है तो वहां इस तरह की घटना उजागर हो जाती है। दिग्विजय सिंह और कमलनाथ जैसे लोग आज भी इस देश को प्रभावित करना चाहते हैं। उदयपुर की घटना को लेकर बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि उदयपुर की घटना दर्दनाक है। कांग्रेस उसे एक सामान्य कत्ल मान रही है। वह सामान्य कत्ल नहीं, बल्कि समाज में आतंक फैलाने का स्वरूप है। समाज में हत्या होती रहती है, लेकिन कोई प्लानिंग से हत्या करे, वीडियो बनाए, दिखाए, इसका मतलब वह समाज में आतंक फैलना चाहता है। उनके तार कहां से जुड़े हैं, आपको पता होगा। ये ताकतें दुनिया में देश को बदनाम करना चाहती हैं। उन्हें राजनीतिक संरक्षण नहीं मिलना चाहिए। अगर कहीं, यह घटना उप्र में होती तो क्या होता। उन्होंने यह भी कहा कि मदरसे में पढ़ा हुआ शख्स डॉक्टर, इंजीनियर नहीं बन पाता। हम चाहते हैं कि मदरसे में पढ़ा व्यक्ति डॉक्टर, इंजीनियर भी बने। कुरान के अलावा दूसरी शिक्षा भी मदसरों में दी जाए। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री  इन सभी बयानों पर पलटवार करते हुए कहा की शिवराज जी किस बात पर वोट मांगते हैं। उन्होंने दिया क्या? उन्होंने बेरोजगारी, महंगाई, भ्रष्टाचार और घर-घर में दारू दी। इन्होंने 20 हजार घोषणाएं कीं। यह तस्वीर सबके सामने है। ये बस आपका ध्यान मोड़ेंगे? यहां कैसे लोगों को भेजेंगे ताकि समाज बंट जाए और बीजेपी की मदद हो जाए।कमलनाथ ने कहा कि फैसला आपको करना है कि हम कौनसी संस्कृति पर चलेंगे। हमारे देश की संस्कृति देश को जोड़ने की संस्कृति है। हम दिल, संबंध, रिश्ता जोड़ते हैं। समाज को जोड़कर रखते हैं। कमलनाथ ने कहा कि मैं गर्व से कहता हूं कि मैं हिंदू हैं, लेकिन बेवकूफ नहीं हूं। यह बात हमें याद रखनी हैं। संविधान गलत हाथों में चला जाए तो देश का क्या होगा? वहीँ दिग्विजय सिंह ने भोपाल में कांग्रेसी प्रत्याशियों के समर्थन में चुनावी सभा की। और उन्होंने बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि देश में दो तरह की विचारधारा है। एक विचार है, जो गरीबों और हिंदू मुस्लिम एकता के लिए काम करती है। दूसरी विचारधारा है, जो अरबपति-खरबपतियों की है, जो समाज मे विघटन पैदा करते हैं, तोड़ते हैं। धर्म, जात के नाम पर तोड़ते हैं। देश में दंगे करवाकर राजनीतिक रोटियां सेंकते हैं। हम भारतीय संविधान को मानते हुए बीजेपी-आरएसएस के लोगों के मंसूबों को पूरा नहीं होने देंगे। 

Kolar News

Kolar News 4 July 2022

 राम के नाम पर वोट मांगकर सत्ता में आई बीजेपी के पेट में दर्द क्यों ?    राम के नाम पर वोट मांगकर सत्ता में आई बीजेपी को इन दिनों रामभक्त हनुमान से क्यों परहेज हो रहा है ?     मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव और नगरीय निकाय चुनावों के लेकर जारी राजनीतिक सरगर्मी के बीच छिंदवाडा में वायरल हो रहे एक पोस्टर में हनुमान जी के साथ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और राज्य के पूर्व सीएम कमलनाथ की तस्वीर को देख बीजेपी के नेता भड़क गए और इसकी शिकायत चुनाव आयोग से कर दी है।      बताया जा रहा है कि नगर निगम चुनाव के बीच छिन्दवारा में एक पोस्टर तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें  हनुमान जी की एक बड़ी तस्वीर नजर आ रही है। इस वायरल पोस्टर में हनुमान चालीसा की एक चौपाई भी लिखी हुई है। इस पोस्टर में पूर्व मुख्यमंत्री एवं हनुमान मंदिर के निर्माण कर्ता कमलनाथ के साथ उनके सांसद पुत्र नकुलनाथ और जिले से पार्टी के मेयर प्रत्याशी विक्रम अहाके की तस्वीर भी नजर आ रही है।        मध्यप्रदेश की राजनीति में आने के वर्षों पूर्व कमलनाथ ने छिंदवाडा के सिमरिया में एक विशाल हनुमान मंदिर का निर्माण कराया है जिसमें हनुमान जी की 101 फीट ऊंची विशाल मूर्ति बनवाई गई थी। वायरल पोस्टर में दिख रही तस्वीर उसी मूर्ति की है। भाजपा को कांग्रेस का यह पोस्टर ज्यादा रास नहीं आया है। भाजपा का कहना है कि कांग्रेस निकाय चुनाव में हनुमान जी के नाम पर वोट मांग रही है।  भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह से कार्रवाई करने की अपील की है। राज्य निर्वाचन आयोग में शिकायत करते हुए पार्टी ने कहा है कि कांग्रेस द्वारा लगातार आचार संहिता का उल्लंघन किया जा रहा है। भाजपा ने कांग्रेस नेताओं के चुनाव प्रचार करने पर तत्काल प्रतिबंध लगाने की भी मांग की है।

Kolar News

Kolar News 4 July 2022

महाराष्ट्र में काफी दिनों से चल रहा सियासी घमासान  अब जाकर थमा है। महाराष्ट्र विधानसभा सोमवार को फ्लोर टेस्ट के दौरान शिंदे सरकार को काफी समर्थन मिला। शिंदे सरकार को 164 विधायकों का समर्थन मिला वहीं 99 लोगों ने विरोध में वोटिंग की। वोटिंग के दौरान कांग्रेस के 5 विधायक सहित 11 गैरहाज़िर रहे। वोटिंग के दौरान  266 विधायक सदन में उपस्थित थे लेकिन तीन विधायकों ने वोटिंगफ नहीं की। जहाँ एक ओर महाराष्ट्र में  बीजेपी सरकार बनने की ख़ुशी है ,वहीँ दूसरी ओर उद्धव को झटके पर झटके लग रहे है। स्पीकर राहुल नार्वेकर के फैसले के खिलाफ शिवसेना ने याचिका दाखिल की थी। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत सुनवाई से इंकार कर दिया है। आपको बता दे की रविवार को स्पीकर की ओर से विधानसभा में शिवसेना के नेता और चीफ व्हिप की मान्यता को खत्म कर दिया था। इन सभी के बीच एनसीपी चीफ शरद पवार का बड़ा बयान सामने आया है। मुंबई में NCP विधायकों की मीटिंग के दौरान  पवार ने कहा कि एकनाथ शिंदे की सरकार ज्यादा दिनों तक नहीं चलेगी ,6 महीने में ही गिर जाएगी। सभी लोग मिड टर्म इलेक्शन की तैयारी कर लें।   

Kolar News

Kolar News 4 July 2022

नगर निगम चुनाव तनावपूर्ण होता जा रहा है। अनूप मिश्रा की नाराजगी के बाद भारतीय जनता पार्टी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में हंगामा हो गया। कुछ सवालों को लेकर पत्रकारों और भाजपा नेताओं के बीच तनातनी इतनी बढ़ गई कि दोनों पक्ष के लोग कुर्सियों से खड़े हो गए। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।  कमलनाथ की ग्वालियर यात्रा के दौरान जब एक महिला पत्रकार आकांक्षा ठाकुर ने पूछा कि आप सिंधिया के गढ़ में हैं, कमलनाथ ने बात को काटते हुए कहा कि आज के जमाने में कोई किसी का गढ़ नहीं है। अगर मैं 42 साल छिंदवाड़ा से चुना गया हूं तो छिंदवाड़ा मेरा गढ़ नहीं है। हालांकि अपने बयान के दौरान उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम नहीं लिया, लेकिन उनके बयान का तात्पर्य था कि ग्वालियर ज्योतिरादित्य सिंधिया का गढ़ नहीं है।  ग्वालियर में भारतीय जनता पार्टी के समर्थन में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मोर्चा संभाल लिया है। श्री सिंधिया सुबह से कार्यकर्ताओं एवं प्रबुद्ध नागरिकों से मिल रहे हैं। एक के बाद एक लगातार कई कार्यक्रम निर्धारित हुए हैं। उल्लेखनीय है कि महापौर पद पर भाजपा की प्रत्याशी, ज्योतिरादित्य सिंधिया की पसंद नहीं है लेकिन यदि ग्वालियर से भारतीय जनता पार्टी को नुकसान होता है तो इसके लिए सिंधिया को जिम्मेदार बताया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 3 July 2022

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान नगरीय निकाय चुनाव में इतने सक्रिय हो गए हैं कि महज 15 दिन के भीतर जबलपुर में उनका तीसरा दौरा आज रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज एक बार पुनः जबलपुर पहुंचे जहां उन्होंने पहली सभा कैंट विधानसभा के रांझी में की जहां उन्होंने भाजपा महापौर प्रत्याशी और पार्षदों के लिए वोट मांगे, तो वहीं दूसरी सभा उनकी पूर्व मंत्री तरुण भनोट के गढ़ पश्चिम विधानसभा में हुई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी सभा के दौरान सरकार के द्वारा किए गए कार्य और योजनाओं को गिनवाया। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में विकास की जितने भी काम भारतीय जनता पार्टी ने की है वह कभी कांग्रेस ने नहीं किए, शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इतना ही नहीं 15 माह की जब कमलनाथ सरकार आई थी उस समय भी विकास के काम और योजनाओं को उन्होंने बंद कर दिया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जबलपुर में कमलनाथ पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि 15 माह की जब उनकी सरकार थी और तब हम विकास के कामों के लिए पैसा मांगते थे तो कमलनाथ रोने लगते थे वह कहते थे कि हमारे पास पैसा नहीं है। पर मैं आप लोगों से कहता हूं कि जबलपुर के विकास के लिए कहीं से भी पैसे की कमी नहीं आने दूंगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि जब उनकी सरकार थी तब कमलनाथ ने ऐलान किया था कि कन्यादान योजना में 51000 रु दिए जाएंगे, पर कन्या का विवाह हो गया, अपने ससुराल चली गई, साल भर हो गए, भांजे-भांजी भी गोद में आ गए पर कमलनाथ जी आप के कन्यादान के पैसे नहीं आए। जबलपुर में आईटी पार्क फेज वन पूरा हो गया है। इस आईटी पार्क में जबलपुर के बच्चों को ही काम मिल रहा है। आईटी पार्क फेज टू का काम पूरा होने वाला है, इस के बाद फेज थ्री भी बनेगा। आजादी के अमृत काल में 11 अगस्त से 15 अगस्त तक इस बार प्यारा तिरंगा घर-घर पर लहरायेगा।

Kolar News

Kolar News 3 July 2022

प्रदेश की राजधानी सहित लगभग पूरे प्रदेश में मानसून का आगमन हो चुका है। ऐसे में इस मानसून ने आते ही चुनाव मैदान में उतरे प्रत्याशियों की धड़कनें बढ़ानी शुरु कर दी हैं। कारण साफ है कि अब समस्याओं का आगमन होगा और जहां भी समस्याएं उठी, वहां से प्रत्याशियों के वोट कम होना तय माना जा रहा हैं।ये स्थिति प्रदेश सहित राजधानी भोपाल में भी बनी हुई है। और मानसून के दौरान तेज बारिश चुनाव मैदान में उतरे प्रत्याशियों की चिंता की वजह बनी हुई है। एक ओर जहां कांग्रेस को इंतजार है कि तेज बारिश का, ताकि भाजपा के विकास कार्यों की पोल खुले। वहीं भाजपा प्रत्याशियों में भय बना हुआ है कि पिछले दो कार्यकाल में सीवेज नेटवर्क का काम नहीं हुआ है, यदि शहर डूबा तो उन्हें वोट कौन देगा? ऐसे में माना जा रहा है कि यदि 6 जुलाई से पहले दि तेज बारिश हुई तो पुराने पार्षदों का वोट बैंक बुरी तरह से प्रभावित हो सकता है। इसका कारण ये है कि लोग हर साल बारिश के मौसम में जलभराव वाले इलाकों में व्यवस्था को कोसते नजर आते हैं, लेकिन अब तक उनकी समस्याओं का निराकरण ही नहीं किया गया है। ऐसे माहौल में यदि वोटिंग होती है तो निश्चित रूप से भाजपा का वोट बैंक प्रभावित होगा और इसका सीधा फायदा कांग्रेस एवं निर्दलीयों को मिलेगा। राजधानी भोपाल में होशंगाबाद रोड से प्रमुख रूप से 6 वार्ड जुड़े हैं। इनमें वार्ड-52, 53, 54, 55, 56 और 85 शामिल हैं। यहां के कुल 1 लाख 37 हजार 688 वोटर पार्षद और महापौर को चुनेंगे। यदि आबादी की बात करें तो यह चार गुना ज्यादा है, यानी 6 लाख से अधिक है। एम्स, बीयू, एम्प्री जैसे संस्थान भी इससे जुड़े हैं। इन इलाकों में पानी भरने की समस्या पुरानी है। कटारा हिल्स इलाके की कालोनियों डाउन स्ट्रीम में है। होशंगाबाद रोड, बागमुगलिया, बागसेवनिया जैसे इलाकों का पूरा ड्रेन वॉटर कटारा हिल्स की कॉलोनियों में भर जाता है क्योंकि यहां कोई नाला मौजूद नहीं है। सबसे ऊंचाई पर स्थित मोतिया तालाब जब ईदगाह हिल्स से आने वाले बहाव से ओवर फ्लो होता है तो इसका पानी निचले इलाके में स्थित नवाब सिद्दकी हसन तालाब को भरता है, जब दोनों तालाब ओवर फ्लो होते हैं तब पीरगेट के पास स्थित बागमुंशी तालाब में बाढ़ का पानी आकर नियंत्रित होता है। अत्याधिक बारिश के बाद जब तीनों तालाब ओवर फ्लो होने की कगार पर पहुंच जाते हैं तब सेफिया कॉलेज नाले के जरिए बाढ़ का पानी शहर में भरना शुरू हो जाता है। इस दौरान शहरवासियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ये पानी गुर्जरपुरा, मंगलवारा, पात्रा नाला होकर अशोका गार्डन और नरेला के निचले इलाकों को जलमग्न कर देता है। दो साल से बगैर महापौर और पार्षदों के चल रहे नगर निगम का बाढ़ कंट्रोल जलप्लावन के दौरान तमाशबीन की भूमिका में आ जाता है। अफसरों के दबाव में वीआइपी शिकायतों पर अमल होता है जबकि निचले इलाकों की गरीब बस्तियों के लोग बारिश झेलते रहते हैं।

Kolar News

Kolar News 3 July 2022

देश में वर्ष 2024 में होने जा रहे आम चुनाव को देखते हुए बीजेपी  दक्षिण भारत के राज्यों में अपना बेस बढ़ाने की कोशिश कर रही है। कर्नाटक के बाद अब उसकी नजर तेलंगाना  पर लगी हुई है। अपने इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए बीजेपी ने अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हैदराबाद में रखी है। इस बैठक के बहाने वाले वह तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) के चंद्रशेखर राव और AIMIM के असदुद्दीन ओवैसी को भी घेरने का काम करेगी। बाय बाय केसीआर. इस ध्येय वाक्य के साथ 18 साल बाद हैदराबाद में हो रही बीजेपी की बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी और यूपी के फायरब्रांड सीएम योगी आदित्यनाथ भी भाग लेंगे। पार्टी इस कार्यकारिणी बैठक के जरिए ये भी संदेश देगी कि अलग तेलंगाना राज्य बनाने में बीजेपी का योगदान कोई भुला नहीं सकता।  इसके लिए अलग तेलंगाना राज्य आंदोलन के दौरान बीजेपी अपने समर्थन और संसद में सुषमा स्वराज के ऐतिहासिक भाषण का भी जिक्र करेगी। तेलंगाना  में अगले साल विधानसभा चुनाव है। हाल के महीनों में पार्टी नेताओं की भाग दौड़ और सियासी जय से पार्टी नेता काफी उत्साहित भी हैं। इसीलिए बीजेपीअध्यक्ष जे पी नड्डा के अध्यक्षीय कार्यकाल में पहली बार राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक दिल्ली से बाहर कराने का जब फैसला हुआ तो उसके लिए तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद  का चुनाव हुआ। कार्यकारिणी बैठक  के आज के दिन से ही बीजेपी ने मुख्यमंत्री केसीआर के कार्यकाल के काउंटडाउन शुरू कर दिया है | पार्टी ने घोषणा की है कि आज से 522 दिन तक केसीआर राज्य के मुख्यमंत्री हैं। उसके बाद सत्ता परिवर्तन होगा और बीजेपी अपने दम पर राज्य में बहुमत की सरकार बनाएगी। इसके लिए बीजेपी ने तैयारी भी शुरू कर दी है। कार्यकारिणी  की शुरुआत होने से पहले ही बीजेपी ने कार्यकारिणी के 119 वरिष्ठ और कनिष्ठ नेताओं को तेलंगाना के 119 विधानसभाओं में 48 घंटे की ड्यूटी लगाई। इसमे कई केंद्रीय मंत्री भी शामिल थे | यही नहीं कार्यकारिणी (BJP National Executive Meeting) का समापन होने के बाद 3 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शाम 4 बजे प्रसिद्ध परेड ग्राउंड में बड़ी रैली होगी। इस रैली में पार्टी शासित राज्यों के सभी सीएम भी मौजूद रहेंगे। रैली को सफल बनाने के लिए 33000 बूथ संयोजक को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। यही नहीं पीएम की रैली के अलावा तेलंगाना फतह करने के लिए बीजेपी हैदराबाद पर अलग से फोकस किए हुए है। कार्यकारिणी के सदस्य और कई केंद्रीय मंत्रियों को पार्टी ने अलग अलग समाज से सीधा संवाद करने की जिम्मेदारी भी सौंपी है। 

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का शुक्रवार को इंदौर में एक अलग ही अंदाज देखने को मिला। सिंधिया ने इंदौर में समाज सेवा के क्षेत्र में काम करने वाली महिलाओं के कार्यक्रम ‘मातृ शक्ति संवाद’ को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि घर में हर व्यक्ति अपनी पत्नी के आगे नतमस्तक ही रहता है। आज जब मैं महिलाओं के सामने आया हूं तो यहां पर सभी पुरुष अल्पसंख्यक हैं। उनके इस अंदाज पर वहां मौजूद महिलाओं ने जमकर ठहाके भी लगाए। उन्होंने कहा कि टाइम मैनेजमेंट के मामले में महिलाएं पुरुषों से भी आगे नजर आती हैं। महिलाएं न सिर्फ समाजसेवा की जिम्मेदारी संभालती हैं, बल्कि परिवार का बेहतर प्रबंधन करती हैं। कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बीजेपी के महापौर प्रत्याशी पुष्यमित्र भार्गव भी मौजूद थे।  सिंधिया ने उनके लिए कहा कि पुष्यमित्र भार्गव वकालत के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं। वकालत 24 घंटे का पेशा है। बहुत टेंशन रहती है. आजकल जब युवाओं के बाल कम उम्र में ही सफेद हो जाते हैं ऐसे में उनके बाल सफेद नहीं हुए हैं। आखिरकार पुष्यमित्र भार्गव और मैं कौन सी डाई अपने बालों में लगाते हैं जो हमारे बाल काले हैं।  ये राज की बात है. सिंधिया ने राजनीति के बदलते दौर पर भी अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि मैं बहुत स्पष्ट वादी हूं. इस मौके पर उन्होंने अपने पिता स्वर्गीय माधवराव सिंधिया को भी याद किया। उन्होंने कहा कि पिताजी कहा करते थे कि राजनीति सिर्फ जनसेवा का ही जरिया होना चाहिए | बता दें, इंदौर में बीजेपी ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी का दृष्टि पत्र जारी करते हुए कहा कि मां अहिल्या की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक नगरी इंदौर में जब-जब आने का मौका होता है अपने आप को सौभाग्यशाली समझते हैं। ये वीरों की नगरी है. पराक्रम के योद्धाओं की नगरी है। संस्कार की नगरी है, धर्म की नगरी है। आज हम नगर निगम के चुनाव के विजन डॉक्यूमेंट का लोकार्पण कर रहे हैं।  इस विजन डॉक्यूमेंट में कल के इंदौर की परिकल्पना की गई है |

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पंचायत चुनाव को लेकर बड़ा बयान दिया है। गृह मंत्री ने कहा है कि निर्वाचन में पुनर्मतदान के जिम्मेदार लोगों से वसूली संबंधी कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। समाज में भय और आतंक का वातावरण पैदा करने वाले लोगों के खिलाफ समाज का आगे आना निसंदेह स्वागत योग्य है।बता दे कि लहार में पहले चरण में हिंसा और बूथ कैप्चरिंग के बाद प्रशासन ने रीपोलिंग के लिए जिम्मेदार आरोपियों से पूरा खर्च जमा करने का नोटिस जारी किया था। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस में दो ही जवान हैं एक कमलनाथ जी और दूसरे दिग्विजय सिंह जी, और उनके जवान हैं नकुल नाथ जी और जयवर्धन जी। बाकी के कांग्रेस के जवान कार्यालय के बाहर धरने पर बैठने के लिए हैं। ये राज सुख भोगने के लिए, वो फर्श बिछाने के लिए।कमलनाथ जी अगर बारिश में गाड़ी में बैठे-बैठे छाता लगाकर लोगों से मिलने-जुलने को ही जनसंपर्क समझते हैं, तो ऐसा जनसंपर्क उन्हीं को मुबारक। गृह मंत्री ने कहा कि पंचायत चुनाव के नतीजों को लेकर कांग्रेस भ्रम फैला रही है। उपचुनाव को लेकर भी कांग्रेस ने इसी तरह के दावे किए थे। जो हश्र वहां हुआ था, वहीं हश्र यहां होने वाला है।बीजेपी पर जनता का विश्वास है, इसलिए चुनाव में हमारी जीत होती है। कांग्रेस का दृष्टिकोण धृतराष्ट्र वाला है, इसलिए उसे यह बात दिखाई नहीं देती।दृष्टि का इलाज किया जा सकता है, दृष्टिकोण का नहीं। उदयपुर की घटना पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि तालिबानी संस्कृति के खिलाफ समाज अब एकजुट होकर आगे आ रहा है। कन्हैयालाल जी के हत्यारों का केस नहीं लड़ने का उदयपुर बार एसोसिएशन का फैसला स्वागत योग्य कदम है। आगे कहा कि दिल्ली के सीएम केजरीवाल जी का मध्य प्रदेश में स्वागत हैं लेकिन यहां तीसरे दल की कोई गुंजाइश नहीं है। आम आदमी पार्टी को कोई भ्रम है तो यह जल्द ही टूट जाएगा।कोरोना केस की जानकारी देते हुए गृह मंत्री मिश्रा ने कहा कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में Corona के 07 नए केस आए हैं जबकि 62 लोग ठीक हुए हैं। प्रदेश में वर्तमान में संक्रमण दर 1.52 % है और रिकवरी रेट 98.70 % है। वर्तमान में प्रदेश में कुल 636 एक्टिव केस है। साथ ही कहा कि आज हैदराबाद में बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी के उद्घाटन सत्र में मुख्यमंत्री जी व प्रदेश अध्यक्ष जी के साथ भाग लूंगा।

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

मध्यप्रदेश में लंबे इंतजार के बाद आखिरकार पंचायत चुनाव का आयोजन किया जा रहा है। पहले चरण के शांतिपूर्ण मतदान के बाद से पंचायत चुनाव के दूसरे चरण का भी मतदान पूरा हो गया है। दरअसल दूसरे चरण में प्रदेश भर में 74 फीसद मतदान हुए हैं। छिटपुट जगह को छोड़कर बाकी जगह पर शांतिपूर्ण मतदान का आयोजन किया गया है। हालांकि इस बार भी पुरुषों के मुकाबले महिलाओं के मतदान का प्रतिशत अधिक रिकॉर्ड किया गया है। बता दें कि मध्य प्रदेश के 47 जिलों में दूसरे चरण का मतदान का आयोजन किया गया था। सुबह 7:00 बजे से मतदान की प्रक्रिया शुरू की गई थी जो दोपहर 3:00 बजे तक चली। दोपहर 3:00 बजे मतगणना की शुरुआत की गई थी। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दूसरे चरण में 47 जिले के 106 जनपद पंचायत के 7655 ग्राम पंचायत में मतदान का आयोजन किया गया था। जिसमें एक करोड़ 31 लाख 44 हजार 27 मतदाता शामिल थे। जिनके लिए 23967 मतदान केंद्र तैयार किए गए थे। भिंड को छोड़कर हर जगह शांतिपूर्ण मतदान देखने को मिला है। वही संवेदनशील मतदान केंद्रों पर मोबाइल पार्टियों के साथ-साथ वीडियोग्राफी की भी सुविधा दी गई थी। 47 जिलों में 49000 से ज्यादा पुलिसकर्मी सुरक्षा में शामिल थे। पंचायत चुनाव के दूसरे चरण में भिंड जिले में सबसे कम मतदान प्रतिशत रिकॉर्ड किया गया। वहीं सबसे अधिक मतदान प्रतिशत वाला जिला नीमच रिकॉर्ड किया गया। बता दें कि भिंड जिले में मतदान 54.80 फीसद रिकॉर्ड किया गया। वहीं कटनी में 59% वोटिंग देखने को मिली है। कटनी में जहां 63.30 फीसद, वही अलीराजपुर में 69.40% महिलाओं द्वारा ही मतदान में हिस्सा लिया गया। दरअसल राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा भिंड जनपद पंचायत के 2 मतदान केंद्र पर पुनर्मतदान का आयोजन किया जाएगा। इस मामले में जानकारी देते हुए राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव राकेश सिंह ने कहा कि इन दोनों पोलिंग बूथ पर मतपत्र फाड़ने और छीनने की कोशिश की गई है। जिसके बाद मतदान प्रभावित हुए हैं। ऐसे में दोबारा मतदान कराए जाएंगे और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए रिपोर्ट की मांग की गई है। बता दें कि पंचायत चुनाव के दूसरे चरण में नीमच में सबसे अधिक 87.70 फीसद मतदान रिकॉर्ड किया गया है। वहीं शाजापुर में 85.60, आगर मालवा में 85 फीसद, देवास में 84.10 फीसद, नर्मदा पुरम 79.20 फीसद, जबलपुर 75.50 फीसद, सागर 73.80 फीसद मतदान रिकॉर्ड किया गया है। वही इस दूसरे चरण के चुनाव में भी महिलाओं में पुरुषों के मुकाबले वोटिंग के लिए ज्यादा उत्साह देखने को मिला है। नीमच जिले में महिलाएं पहले पायदान पर रही है। नीमच जिले में 87.80 फीसद महिलाओं द्वारा मतदान किया गया जबकि शाजापुर में 85.80, आगर मालवा में 84.90 महिलाओं द्वारा अपने मत का प्रयोग किया गया है।

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

बात अब वादों पर अमल की है, जिसे लेकर अब तक किसी भी राजनीतिक पार्टी का परफार्मेंस सौ फीसदी नहीं रहा। दोनों पार्टियां खुद को पूरे नंबर देती है, लेकिन जनता के हाथ खाली हैं।शहरी सरकार के चुनाव के लिए मध्यप्रदेश भाजपा ने शुक्रवार को संकल्प पत्र के नाम से अपना घोषणा-पत्र जारी कर दिया। विकास के संकल्प के साथ इसमें 50 हजार करोड़ शहरी विकास पर खर्च करने, अस्थाई पट्टे देने, अवैध कॉलोनी वैध करने, सस्ती बस सेवा, फ्री वाई-फाई लाइब्रेरी सहित अनेक लुभावने वादे हैं, लेकिन बात इससे आगे की है। बात वादों पर अमल की है, जिसे लेकर अब तक किसी भी राजनीतिक पार्टी का परफार्मेंस सौ फीसदी नहीं रहा। वहीं कांग्रेस ने पहले ही निगम स्तर के घोषणा-पत्र जारी कर दिए हैं। इसमें आधा बिजली बिल और आधा प्रॉपर्टी टैक्स माफ करने जैसे वादे हैं, लेकिन यदि बात भाजपा-कांग्रेस में तुलना की करें, तो मामला पंद्रह साल वर्सेस पंद्रह महीने पर आ टिकता है। इसे लेकर दोनों पार्टियों के अपने-अपने दावे हैं। दोनों पार्टियां खुद को पूरे नंबर देती है, लेकिन जनता के हाथ खाली हैं। जनता के हिस्से पहले भी सिर्फ समस्याएं थी और अब भी सिर्फ समस्याएं ही हैं। पंद्रह साल की भाजपाई सत्ता हो या फिर पंद्रह महीने का कांग्रेसी कल्चर भोपाल से लेकर दूर कस्बों तक मानसून की शुरूआती फुहारों से सडक़ों की खुलती पोल हकीकत बयां कर रही है। अब भाजपा के कई नेता तो यही दुआ करेंगे कि अभी बारिश न हो, क्योंकि जितनी बारिश हुई उतनी समस्याएं बढ़ेंगी। जितनी समस्याएं बढ़ेंगी, उतना ही विकास चुभन देगा। अब ये चुभन वोट में उतरी, तो भाजपा को दिक्कत हो सकती है। अभी भाजपा के पास सभी 16 नगर निगमों के महापौर पद हैं, लेकिन आगे क्या होगा ये तय नहीं है। मैदान में टक्कर तगड़ी है, उस पर बारिश की बेरहमी आ गई तो भाजपा की राह और कांटों भरी हो जाएगी। इसलिए फिलहाल तो वोटिंग तक बारिश की बेरुखी भाजपा के लिए अच्छी और प्रदेश के लिए बुरी है। वैसे, जनता का भला तो बारिश की करेगी। इसी बहाने शायद राजनीतिक दलों को दर्द हो और स्थाई इंतजाम की ओर कोई कदम बढ़ा सके। वरना तो, जैसे मुख्य चुनाव के समय के वादे हो या फिर उपचुनाव के समय के वादे जनता तो इंतजार में ही समय गुजार देती है। भाजपा ने 28 विधानसभा सीटों के उपचुनाव के समय विधानसभा स्तर पर खूब वादे किए, थे लेकिन उन्हें अब पार्टी याद भी नहीं करना चाहती। वही मुख्य चुनाव यानी 2018 के विधानसभा के वादों का बोझ तो सत्ता परिवर्तन की भेंट चढ़ गया। कांग्रेस अब सत्ता में है नहीं, इसलिए उस समय के वादों से मुक्त। और, भाजपा ने अपने वादों के बल सत्ता में आई नहीं, इसलिए वह कांग्रेस के वादों को मानने के लिए बाध्य नहीं है। बस, ऐसे में वादों से दूर दावों की राह ही बची है। दावे विकास के, दावे अपनी अच्छाई और दूसरे के भ्रष्टाचार के। दोनों दल इसी पर चल रहे हैं। इसलिए फैसला जनता को करना है कि इन वादों और दावों का अब चुनाव में कोई अर्थ भी बचा है या नहीं। और, यदि बचा है तो वह कितना असरदार है?विशेष टिप्पणी : जितेन्द्र चौरसिया

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

वर्तमान और पूर्व सांसदों की मुफ्त ट्रेन यात्रा में पिछले पांच साल में सरकारी खजाने से 62 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। इस बात का खुलासा एक आरटीआई से हुआ है। इस खर्च में कोरोना महामारी प्रभावित 2020-21 में खर्च हुए लगभग 2.5 करोड़ रुपए भी शामिल हैं। बता दें मौजूदा सांसद रेलवे के प्रथम श्रेणी वातानुकूलित या एग्जीक्यूटिव क्लास में मुफ्त यात्रा कर सकते हैं। उनके साथ पति अथवा पत्नी भी कुछ शर्तों के तहत इसका लाभ ले सकती है। वहीं पूर्व सांसद भी किसी एक साथी के साथ एसी-टू टियर में या अकेले होने पर एसी-1 में किसी भी ट्रेन में यात्रा कर सकते हैं। चंद्रशेखर गौड़ ने आरटीआई के तहत यह जानकारी मांगी थी। इसमें लोकसभा सचिवालय ने जवाब दिया कि 2017-18 से 2021-22 तक मौजूदा सांसदों की यात्रा के लिए रेलवे से 35.21 करोड़ और पूर्व सांसदों के लिए 26.82 करोड़ रुपए का बिल मिला है। इन सांसदों ने कोरोना महामारी के दौरान यानी साल 2020-21 में भी रेलवे के मुफ्त पास का उपयोग किया। इसका बिल 2.47 करोड़ रुपए आया। एक ओर जहां सांसदों की मुफ्त यात्रा पर करोड़ों रुपए खर्च हो रहे हैं। वहीं दूसरी ओर रेलवे ने वरिष्ठ नागरिकों सहित कुछ श्रेणियों के यात्रियों को दी जाने वाली रियायतों पर रोक लगा दी है। इसी क्रम में 20 मार्च 2020 से 31 मार्च 2022 के बीच रेलवे ने 7.31 करोड़ वरिष्ठ नागरिक यात्रियों के रियायत पर रोक लगा दी है। मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान के चार्टर्ड प्लेन में छिंदवाड़ा में खराबी आ जाने से सतना में उनका रोड शो तीन घंटे देरी से शुरू हुआ। ज्यादा देरी होने के कारण सिंगरौली का दौरा रद्द कर दिया गया। सीएम का सतना में महापौर और पार्षद प्रत्याशियों के समर्थन में तीन बजे से रोड शो था। उन्हें 2 बजे छिंदवाड़ा से प्लेन से सतना पहुंचना था। प्लेन में खराबी आ जाने के कारण वे जबलपुर तक सड़क मार्ग से पहुंचे। वहां से हेलीकॉप्टर से 6.50 बजे सतना पहुंचे।

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

नगरीय निकाय के पहले मध्यप्रदेश की राजनीती दिन ब दिन रोचक होती जा रही है । गुरुवार को कांग्रेस के मेयर प्रत्याशी संजय शुक्ला के अपना वचन पत्र जारी करने के बाद घोषणा की की यदि वे मेयर बनते है तो वे 5 पुल बनवाएंगे। इस बयान के बाद शुक्रवार को भाजपा ने उन पर तंज कस्ते हुए उन्हें सबसे बड़ा गपोड़ी कहा है । इसके साथ ही यह भी कहा कि उनकी ये घोषणा उनका मानसिक दिवालियापन है। भाजपा के नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने शुक्रवार को मेयर प्रत्याशी संजय शुक्ला पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि शुक्ला ने जनता से बोरिंग कराने की बात कही। मगर अब जनता शुक्ला को पानी के लिए और उनके झूठ के लिए उन्हें ढूंढ रही है। शुक्ला ने 5 पुल बनवाने की बात कही, ये कितना बड़ा मानसिक दिवालियापन है। शुक्ला का मानसिक संतुलन हिल गया है। उन्होंने कहा ये तो अच्छा है कि संजय शुक्ला ये नहीं बोल रहे है कि मेरे पास जो जमीन है उस पर नया इंदौर ही बना दूंगा। हो सकता है कि आगे ऐसा कहने लगे। गप मारने की कोई सीमा होती है। लोगों ने पानी के लिए शुक्ला पर विश्वास किया, लेकिन शुक्ला ने जल तो नहीं दिया छल किया। उनसे पूछें कि पुल के लिए क्या-क्या करना पड़ता है। क्या प्लानिंग होती है। उन्हें रुपयों का घमंड है, पैसों का अभिमान है।  

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

-भूपेन्द्र गुप्ता 'अगम' महाराष्ट्र के महामंथन के बाद जो अमृत और जहर निकल कर सामने आये हैं, उसने भारत की आर्थिक राजनीति पर नियंत्रण करने की भाजपा की कशमकश को उजागर कर दिया है। इतना ही नहीं सैकड़ों वर्ष पुरानी हिंदू पदपाद शाही और पेशवाई के द्वंद भी सामने ला दिए हैं । इस महाभारत में  अमृत मंथन के जो परिणाम सामने आए हैं वे ना केवल चौंकाने वाले हैं बल्कि राजनैतिक विवशता की पराकाष्ठा को व्यक्त करते हैं। सभी जानते हैं कि देवेन्द्र फडनवीस 5 साल तक मुख्यमंत्री रह चुके हैं और वे स्वयं ही शिवसेना के विद्रोही नेता एकनाथ शिंदे को उप-मुख्यमंत्री बनाने के ऑफर दे रहे थे। अचानक उन्ही फड़नवीस को विद्रोही एकनाथ शिंदे का उप-मुख्यमंत्री  बनाकर भाजपा ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अब वह कैडर आधारित पार्टी नहीं रही है, बल्कि पूर्णरूपेण राजनीतिक पार्टी बन गई है।सत्ता के लिए उसे किसी भी तरह के समझौते करने से कोई गुरेज नहीं है। आवश्यकता पड़ने पर वह आतंकवाद की पोषक  बताई जाने वाली पार्टी पीडीपी के साथ भी  सत्ता में भागीदार बनने  तैयार हैं। अपने ही एक सीनियर पूर्व मुख्यमंत्री को अल्पमत के विद्रोहियों के नीचे उप मुख्यमंत्री बनाने भी तैयार है। यह एक संदेश है कि कार्यकर्ता केवल कार्यकर्ता ही है और सत्ता प्राप्ति के लक्ष्य मार्ग में अगर उसकी गर्दन कटती है तो पार्टी दुश्मन को भी अपना बनाने तैयार है। सभी जानते हैं कि महाराष्ट्र में अन्य पिछड़ा वर्ग बहुत शक्तिशाली है छोटी-छोटी अन्य पिछड़ा वर्ग की जातियां ना केवल लड़ाकू है बल्कि सैन्य संरचना और साहस को समझती हैं और  शिवसेना प्रतीक रूप में उनकी पहचान बन चुकी है ।छत्रपति शिवाजी ने जिन पिछड़ी जातियों को जोड़कर अपनी राज्य व्यवस्था कायम की थी लगभग वही जाति संतुलन शिवसेना के गठन में परिलक्षित होता है ।अगड़ी जातियों द्वारा आर्थिक राजधानी पर कब्जा करने की नीयत से दिल्ली की सहायता से मुंबई पर जो हमला किया है उसे यह पिछड़ी जातियां किस सीमा तक सहन करेंगीं यह समय के गर्भ में है। किंतु यह तो साफ ही है कि भविष्य में अगड़ी और पिछड़ी का संघर्ष आर्थिक राजधानी से ही शुरू होगा । बहुत संभव है कि शिवसेना इसे मराठी मानुस और गुजराती अर्थ सत्ता के संघर्ष में बदल दे। अगर ऐसा हुआ तो भारत के सामने एक नया अर्थ संकट खड़ा होने जा रहा है। शिवसेना सरकार के पतन और एकनाथ की ताजपोशी को अर्थ जगत ने कैसे लिया है इसका प्रमाण है कि दो दिन में ही सेंसेक्स लगभग एक हजार प्वाइंट नीचे आ गया और जून का महीना खुदरा निवेशकों के लिये लुटने का जून हो गया है।   विद्रोही एकनाथ शिंदे ने बहुत ही सफाई से इस गठबंधन को हिंदुत्व का पैरोकार बता कर  दलबदल की अनैतिकता पर पर्दा डालने की कोशिश की है। यह मुंबई में सभी जानते हैं कि भाजपा के साथ पिछली पंचवर्षीय सरकार में जब शिवसेना शामिल थी तब एकनाथ शिंदे ने ही सार्वजनिक कार्यक्रम में अपना इस्तीफा देकर शिवसेना पर भाजपा गठबंधन से निकलने का दबाव बनाया था। उनका कहना था कि भा ज पा शिवसेना को खाने की चेष्टा कर रही है और उद्धव ठाकरे को भाजपा से गठबंधन तोड़ लेना चाहिए ।आखिर कब तक शिवसैनिक भाजपा की प्रताड़ना और भेदभाव पूर्ण व्यवहार को सहन करें ।आज वही एकनाथ शिंदे उसी भाजपा से कथित हिंदुत्व के नाम पर समझौता कर रहे हैं,बल्कि महाविकास अघाड़ी  की नैतिकता पर प्रश्नचिन्ह लगा रहे हैं। देश के लगभग सभी दल जिन्होंने समय-समय पर भाजपा के साथ गठबंधन किया था यह मानते हैं कि भाजपा हमेशा सबसे पहले अपने ही गठबंधन के सहयोगियों को  खाने की कोशिश करती है। पूर्व में चाहे बसपा रही हो, चाहे अकाली दल या नीतीश कुमार की पार्टी हो सभी पार्टियां लगभग समाप्त हो रहीं हैं,उनकी लीडरशिप का बड़ा हिस्सा भाजपा में जुड़ चुका है।  ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस और बी जे डी जरूर ऐसी पार्टियां हैं जो  हाथ छुड़ाकर ना भागीं होतीं तो वे भी  शिवसेना की तरह विभाजन की पीड़ा से गुजर रहीं होतीं।उन्होंने मगरमच्छ के मुंह से बाहर निकल कर जान तो बचा ली है मगर भाजपा अपना अपमान और लक्ष्य नहीं भूली होगी यह भी तय है।  तात्कालिक सत्ता के लिये  अल्पमत के नीचे बहुमत होते हुए भी भाजपा काम करने तैयार  है। याद कीजिए यही समझौता बिहार में हुआ था जहां अल्पमत के नीतीश कुमार तो मुख्यमंत्री हैं और बहुमत की भाजपा का उपमुख्यमंत्री। सत्ता के लिये महाराष्ट्र का ताजा सौदा भले ही भाजपा के लिये आर्थिक राजधानी के खजाने के दरवाजे खोल दे मगर आने वाले समय में उसके कार्यकर्ताओं का खजाना भी लुट सकता है,यह भी संभावना है। महाराष्ट्र का यह महाभारत अभी तक राजनीति के गलियारों में था आगे चलकर इस महाभारत के समाज में उतरने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता और उसी अग्निपथ पर आर्थिक राजधानी का भविष्य निर्भर होगा।फिलहाल तो राजनीति बारूद के ढेर पर बैठकर अगरबत्ती सुलगा  रही है।   (लेखक कांग्रेस नेता एवं स्वतंत्र पत्रकार हैं)  

Kolar News

Kolar News 1 July 2022

निगम की ओर से विजयी पार्षदों व महापौर के स्वागत को लेकर कई बदलाव किए हैं। जिसमें नगर निगम हेड ऑफिस स्थित सभागार को सजाया जा रहा है। ताकि आने वाले समय में महापौर व पार्षदों को शहर की सरकार चलाने में सुविधा रहे। सभागार में साउंड सिस्टम में सुधार सहित पक्ष-विपक्ष के पार्षदों के बैठने के लिए व्यवस्था में बदलाव किए गए हैं। मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव को लेकर चुनाव प्रचार परवान पर है। राजधानी में शहर की सरकार बनाने को लेकर पार्षद व मेयर कैंडिडेट पूरे जोश के साथ मतदाताओं के घरों में दस्तक देकर अपने लिए वोट मांग रहे हैं। हालांकि पहले चरण का मतदान अगले माह की 6 जुलाई और और दूसरे चरण का मतदान 13 जुलाई को होना है। मगर राजधानी में मेयर की नई चेयर सजाने का काम जोरों पर है। इस बार निगम की ओर से विजयी पार्षदों व महापौर के स्वागत को लेकर कई बदलाव किए हैं। जिसमें नगर निगम हेड ऑफिस स्थित सभागार को सजाया जा रहा है। ताकि आने वाले समय में महापौर व पार्षदों को शहर की सरकार चलाने में सुविधा रहे। सभागार में साउंड सिस्टम में सुधार सहित पक्ष-विपक्ष के पार्षदों के बैठने के लिए व्यवस्था में बदलाव किए गए हैं। वहीं सीसीटीवी कैमरे भी नए तरीके से लगाए गए हैं। इन सब व्यवस्थाओं में सुधार पर निगम की ओर से करीब 30 लाख रुपए खर्च किए गए हैं।  निगम के अधिकारियों ने बताया कि नए पार्षदों व महापौर के पदभार ग्रहण करने से पूर्व ही व्यवस्थाओं में सुधार का काम पूर्ण हो जाएगा। सभागार में दो माह में एक बार निगम की साधारण सभा की बैठक होती है। आपको बता दें राजधानी में नगर निगम कार्यालय में मेयर के अलावा पार्षदों, एमआईसी मेंबर्स, परिषद प्रेसिडेंट व पार्षद टीमों सहित सीनियर अधिकारियों के कमरों की साफ-सफाई भी शुरू हो गई है। अधिकारियों ने बताया कि इस बार पार्षदों के बैठने के स्थान को भी तय किया गया है। वहीं मेयर व अधिकारियों को आइएसबीटी में कमरों का आवंटन किया जाना संभावित है। राजधानी भोपाल में कांग्रेस की महापौर उम्मीदवार विभा पटेल ने सोमवार को मेनिफेस्टो जारी किया है। 28 बिंदुओं वाले मेनिफेस्टो में शहर की जनता को गृहकर, बिजली व पानी के बिलों को आधा करने सहित कई वादे किए गए हैं। इस मौके पर पीसीसी चीफ कमलनाथ मौजूद रहे। कांग्रेस के मेनिफेस्टो में नागरिकों की सुविधाओं में इजाफा करने का वादा भी किया गया है।

Kolar News

Kolar News 1 July 2022

मध्य प्रदेश में हो रहे नगरीय निकाय और पंचायत चुनावों के बीच कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए मांग की है कि बीते 18 साल में कितनी सरकारी नौकरियां दी गई और फीस की वसूली हुई इस पर श्वेत पत्र जारी किया जाए। कांग्रेस के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष अजय सिंह यादव ने संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा, मध्यप्रदेश में एक लाख नौकरियां देने का झूठा झुनझुना चुनाव में नौजवानों की आंखों में धूल झोंकने के लिए पकड़ाया है। भाजपा सरकार श्वेत पत्र लाए कि 18 सालों में कितनी शासकीय नौकरियों में भर्ती की गई है एवं परीक्षा शुल्क के रूप में कितना पैसा वसूला है।  जितनी नई भर्तियों में वेतन भी नहीं बांटा उससे ज्यादा तो परीक्षा शुल्क कमा लिया सरकार ने। अजय यादव ने आरोप लगाते हुए कहा, प्रदेश में व्यापम ने पिछले 10 सालों में परीक्षा फीस के नाम पर 1046 करोड़ रुपये वसूल किए हैं। जनवरी 2022 में कॉन्स्टेबल के चार हजार पदों के लिए 12 लाख नौजवानों ने आवेदन किए।  उन्होंने भर्ती प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए कहा, मध्य प्रदेश शिक्षक चयन परीक्षा 2018 में प्रक्रिया शुरू की गई थी, पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को अभी तक नियुक्ति नहीं दी गई।  प्रदेश में ढाई लाख से ज्यादा शासकीय पद खाली पड़े हुए हैं, उसके बाद भी युवाओं से नौकरी के नाम पर झांसा देकर भारी परीक्षा शुल्क वसूला जाता है और नौकरी नहीं दी जाती है। इतना ही नहीं, प्रदेश के रोजगार कार्यालयों में लगभग 35 लाख शिक्षित बेरोजगारों का पंजीयन है और वे नौकरी की इंतजार में बैठे हैं। 

Kolar News

Kolar News 1 July 2022

- पूर्व सीएम के बयान पर भाजपा प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश केसवानी ने किया जोरदार कटाक्ष    ग्वालियर । मप्र के पूर्व सीएम और मप्र कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के बयान पर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश केसवानी ने जोरदार कटाक्ष किया है। डॉ. केसवानी ने नाथ को विजन के बजाय विनाश करने वाला नेता बताया है। डॉ. केसवानी ने कहा है कि आपके कार्यकाल में प्रदेश की और आम लोगों की उपेक्षा के कारण मप्र विनाश की ओर जा रहा था। युवा बर्बाद हाे रहे थे। नशे का कारोबार चरम पर था और और सरकार के नुमाइंदे पैसे कमाने में व्यस्त थे। वहीं भाजपा प्रवक्ता ने कहा है कि इसके विपरीत सीएम शिवराज सिंह चौहान प्रदेश वासी के हर सुख दुख में सदैव उनके साथ खड़े रहते हैं।    गांजे की खेती आईफा अवार्ड में व्यस्त थी आपकी सरकार :  डॉ. केसवानी ने कहा कि नाथ सरकार युवाओं को 4 हजार बेरोजगारी भत्ता देने का वादा कर मुकर गई। इस दौरान सरकार का ध्यान नशे के काराेबार को बढ़ाने पर रहा। गांजे की खेती को मुख्य कारोबार बनाने पर सरकार का ध्यान था। कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे जीतू पटवारी खुलेआम कहते थे कि सरकार ने आपके लिए देसी और विदेशी का इंतजाम किया है। आपकी सरकार ने जनकल्याणकारी योजनाओं पर प्रतिबंध लगाकर आईफा अवार्ड पर ध्यान लगाया और अधिकारियों के तबादलों को एक उद्योग का रूप दे दिया गया। सरकार के नुमाइंदे हमेशा इसी काम में व्यस्त रहते थे।    बंद कर दी गईं कल्याणकारी योजनाएं :  केसवानी ने इस दौरान आरोप लगाया कि एक ओर कांग्रेस सरकार के समय जनता के पैसे का दुरुपयोग किया गया। वहीं दूसरी ओर शिवराज सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को एक एक कर बंद कर दिया गया, जिससे कहीं न कहीं मप्र के आम लाेगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। 75 प्रतिशत से ज्यादा अंक लाने वाले छात्रों को मिलने वाले लैपटॉप, स्मार्टफोन और साइकिल पर कमलनाथ सरकार ने रोक लगा दी। इसके अलावा 60 फीसदी से ज्यादा अंक लाने वाली छात्राओं को सालाना मिलने वाले 5000 की छात्रवृत्ति को भी रोक दिया गया था। इसके अलावा मीसाबंदी पेंशन योजना, संबल योजना, दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना और तीर्थ दर्शन जैसी कई योजनाएं शामिल हैं। नाथ हमेशा ही पैसे का रोना रोते रहे, जबकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विकास की राह में कभी भी पैसे की कमी की कोई बात नहीं कही।

Kolar News

Kolar News 30 June 2022

महाराष्ट्र में चल रहे सियासी संग्राम में सीएम ठाकरे के इस्तीफे पर तंज कसते हुए नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि उद्धव सरकार हनुमान चालीसा के असर से गिर गई। बुधवार की रात को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री और विधान परिषद सदस्य के पद से इस्तीफा दे दिया था। मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने उद्धव के इस्तीफे पर तंज कसते हुए कहा कि यह हनुमान चालीसा  का असर ही है कि 40 दिन में सरकार के 40 विधायक चले गए। मिश्रा ने कहा कि देश में पहली बार है कि हिंदुत्व के नाम पर कोई सरकार गिरी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के साथ जो गया साफ हो जाता। महाराष्ट्र के सियासी संकट में राज्यपाल ने उद्धव सरकार को फ्लोर पर अपना बहुमत साबित करने का पत्र दिया था। सरकार राज्यपाल के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट चली गई। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार देर शाम कहा कि इस तरह के फैसले सदन में ही होने चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद उद्धव ठाकरे ने सोशल मीडिया पर लाइव आकर मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र का ऐलान कर दिया और रात 12 बजे राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया। मुख्यमंत्री ठाकरे के इस्तीफा देने के बाद अब फ्लोर टेस्ट नहीं होगा। महा विकास अघाड़ी सरकार के खिलाफ विश्वास मत के लिए ही आज विशेष विधानसभा सत्र बुलाया गया था। महाराष्ट्र विधानसभा ने सर्कुलर जारी करते हुए बताया कि अब फ्लोर टेस्ट की कोई जरूरत नहीं है, इसलिए विशेष सत्र आहूत नहीं किया जाएगा। महाराष्ट्र में अब सबसे बड़े दल के रुप में बीजेपी को माना जा है। बताया जा रहा है कि विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस जल्द ही सरकार बनाने का प्रस्ताव राज्यपाल को पेश करेंगे। देश में लाउडस्पीकर विवाद चल रहा था इसी बीच 22 अप्रैल 2022 को निर्दलीय सांसद नवनीत राणा और उनके पति रवि राणा ने उद्धव ठाकरे के निवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा पढ़ने की घोषणा की थी। इसके बाद शिवसैनिक भी उग्र हो गए। शिवसैनिकों ने राणा दंपति की शिकायत पुलिस में दर्ज करवाई। इस मामले में अमरावती की सांसद नवनीत राणा को गिरफ्तार किया गया और बॉम्बे हाईकोर्ट से भी उनको राहत नहीं मिली थी।

Kolar News

Kolar News 30 June 2022

शहर के नौ मुस्लिम वार्डों में मजेदार मुकाबले हो रहे हैं। इसमें से अधिकतर वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। इनमें बीवी चुनाव लड़ रही है लेकिन जनसंपर्क मियां अर्थात उनके पति कर रहे हैं। इसके अलावा इन वार्डों में बड़ी संख्या में प्रत्याशी हैं, जो समीकरण बिगाडऩे में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है। इस वजह से मुकाबला दिन-ब-दिन रोचक होते जा रहा है। इंदौर नगर निगम के 85 वार्डों में नौ ऐसे हैं, जो मुस्लिम बाहुल्य हैं। उसमें भी छह वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। इन वार्डों में पिछली बार सात कांग्रेस जीती थी तो एक पर भाजपा और एक निर्दलीय विजयी रहा था। इस बार भी मुकाबला रोचक है। महिला वार्डों में नेताओं की पत्नियां चुनाव लड़ रही हैं। प्रचार-प्रसार जोरों पर चल रहा है लेकिन कई जगहों पर महिला प्रत्याशियों के होर्डिंग पर फोटो तक नहीं हैं। एक और चौंकाने वाली बात ये है कि बीवी चुनाव लड़ रही है और शौहर अपनी टीम के साथ में प्रचार रहे हैं। कुछ महिलाएं जरूर निकल रहीं लेकिन हिजाब में नजर आ रही हैं। यहां तक कि कार्यालय के उद्घाटन तक में कुछ प्रत्याशी नजर नहीं आईं। दो-तीन वार्डों में ये जरूर है कि प्रत्याशी हिजाब में महिलाओं की टोली लेकर बिना शोर-शराबे के घरघर जा रही हैं, जो सिर्फ महिलाओं से मुलाकात करके वोट देने की बात कर रही हैं। गौरतलब है कि भाजपा ने तो इन वार्डों से हिंदू प्रत्याशी खड़े किए हैं। अब मुकाबला कांग्रेस व अन्य पार्टी प्रत्याशी व निर्दलियों के बीच है, जिनमें कड़ी टक्कर हो रही है।

Kolar News

Kolar News 30 June 2022

एमपी निकाय चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी की एंट्री हो गई है। भोपाल में चुनावी सभा के दौरान ओवैसी ने बीजेपी और कांग्रेस पर जमकर प्रहार किया है। ओवैसी बीजेपी से ज्यादा इस बार कांग्रेस पर बरसे हैं। उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या पर क्या बोले असदुद्दीन ओवैसी? नूपुर शर्मा पर की कार्रवाई की मांग।  एमपी निकाय चुनाव में एआईएमआईएम पार्टी की एंट्री ने प्रदेश में सियासी तापमान बढ़ा दिया है। जबलपुर के बाद पार्टी प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने भोपाल में सभा की है। ओवैसी की पार्टी ने प्रदेश के सात नगर निगमों में अपने उम्मीदवार उतारे हैं। इन उम्मीदवारों के समर्थन में प्रचार करने भी ओवैसी मध्यप्रदेश पहुंच गए हैं। राज्य की सियासत में अब तक सीधा मुकाबला बीजेपी और कांग्रेस के बीच रहा है, बीच-बीच में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और आदिवासी वर्ग से जुड़े दलों ने मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने का काम किया है। इस बार ओवैसी और केजरीवाल ने दोनों दलों के लिए चुनाव को जंग बना दिया है।भोपाल में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए ओवैसी ने कमलनाथ और शिवराज सिंह चौहान को खूब ललकारा है। उन्होंने पूर्व सीएम कमलनाथ का वीडियो का जिक्र करते हुए कहा कि वह मुसलमानों को खामोश रहने कहते हैं। मुसलमान खामोश क्यों रहेगा। वहीं, बीजेपी आवाज उठाने पर मुसलमानों का घर तोड़ देती है। उन्होंने अपने लोगों से दोनों के खिलाफ जाकर वोट करने की अपील की है। ओवैसी ने कहा कि कांग्रेस मुसलमानों का साथ नहीं दे सकती है। एमपी और पूरे देश में बीजेपी-कांग्रेस में कोई फर्क नहीं है। कांग्रेस-बीजेपी, राम और श्याम की जोड़ी, दोनों एक ही सिक्के पहलू हैं। वहीं, ओवैसी पर आरोप लगता है कि वह बीजेपी के बी टीम हैं। इस पर ओवैसी ने कमलनाथ से सवाल किया है कि जब आप मुख्यमंत्री थे तो 20 विधायक बीजेपी में चले गए। बताओ क्या वह असदुद्दीन ओवैसी के हाथ से गुलाबजामुन खाकर मामा को मुख्यमंत्री बनाएं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में इतनी हिम्मत नहीं कि वह पीएम और गृह मंत्री पर उंगली उठाएं। वे लोग ओवैसी को जिम्मेदार ठहराते। उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधते हुए सवाल किया है कि आपने मुसलमानों की शिक्षा के लिए क्या किया है। इस पर जवाब आएगा कि हमने इनके लिए स्कूल नहीं खोला लेकिन बुलडोजर से घर तोड़ दिया। एमपी में स्कूली शिक्षा हासिल करने वाले छात्रों में महज 4.5 फीसदी बच्चे ही मुस्लिम है। असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि यहां आने बीजेपी नेताओं के पेट में दर्द हो रहा है। ओवैसी ने कहा कि मेरे भोपाल आने से एमपी के बड़े कांग्रेसियों की नींद उड़ी हुई है। तुमने हमारे बुजुर्गों को बहुत रात जगाया है। अब तुम चैन से नहीं सोओगे। असदुद्दीन ओवैसी तुम्हारी रातों की नींद को खत्म कर देगा, सुन लो कांग्रेसियों। उन्होंने कहा कि तुम जागोगे और मैं सोऊंगा। उन्होंने अपने लोगों से अपील की है कि छह जुलाई को इनके खिलाफ वोट कीजिए। दोनों दल चाहते हैं कि एमपी में कोई तीसरा विकल्प नहीं आए। एआईएमआईएम चीफ ने बीजेपी पर वार करते हुए कहा कि मासूम का घर तोड़कर आपको रात में नींद कैसे आती है। उन्होंने एमपी के होम मिनिस्टर से सवाल किया है कि बिना हाथ वाला व्यक्ति कैसे पत्थर फेंक सकता है। ओवैसी ने कहा कि कमलनाथ और शिवराज बाहर में अलग-अलग दिखते हैं। दोनों अंदर में एक-दूसरे से मिले हैं। दोनों एक-दूसरे को मामा-मामा कहते हैं। ओवैसी ने कहा कि मेरे जाने के बाद कांग्रेसियों को नींद नहीं आएगी। वे अब तुम्हारे घर आ रहे होंगे। ओवैसी ने कहा कि आप कांग्रेसियों की लालच में नहीं आएंगे। वह अगर आपको दौलत देते हैं तो वो रख लीजिए। समझना खुदा और ओवैसी ने भेजा है।

Kolar News

Kolar News 29 June 2022

मध्य प्रदेश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। मंगलवार को प्रदेश में 7208 जांच में 93 पॉजिटिव मिले हैं। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। उन्होंने खुद ट्वीट कर यह जानकारी दी। मध्य प्रदेश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। मंगलवार को प्रदेश में 7208 जांच में 93 पॉजिटिव मिले हैं। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। उन्होंने खुद ट्वीट कर यह जानकारी दी। प्रदेश के अलग-अलग अस्पताल में संदिग्ध/संक्रमित 28 मरीज भर्ती हैं। इनमें से 6 ऑक्सीजन सपोर्ट पर है। प्रदेश में अब तक 10 लाख 44 हजार 243 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 10 लाख 33 हजार 12 ठीक हो चुके हैं। कोरोना के कारण 10 हजार 741 की जान जा चुकी है। मंगलवार को प्रदेश में 57 मरीज ठीक हुए। अभी 490 एक्टिव केस है।  बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने ट्वीट कर अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी। उनकी तबीयत ठीक है और घर पर क्वारंटाइन है। उन्होंने अपने संपर्क में आने वाले लोगों से जांच कराने का अनुरोध किया है। प्रदेश के 15 जिलों में नए मरीज मिले है। इनमें सबसे ज्यादा इंदौर में 46 और भोपाल में 17 मरीज मिले है। इसके अलावा बालाघाट में 1, भिंड में 1, दतिया में 1, डिंडौरी में 1, ग्वालियर में 5, जबलपुर में 7, खंडवा में 1, नरसिंहपुर में 3, रायसेन में 3, रतलाम में 1, सागर में 4, सीहोर में 1, उज्जैन में 1 संक्रमित मिला है।

Kolar News

Kolar News 29 June 2022

पूर्व सीएम के सरकार बनाने के दावे पर भाजपा प्रवक्ता का जवाबी हमला मप्र के पूर्व सीएम कमलनाथ के सरकार बनाने के दावे के बाद भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश केसवानी ने जाेरदार जवाबी हमला किया है। डॉ. केसवानी ने कहा कि कमलनाथ अपनी सरकार को तो संभाल नहीं पाए। अब मुंगेरीलाल के हसीन सपने देखते हुए सरकार बनाने की बात कर रहे हैं। सरकार बनाने के लिए विधायकों की भी सुनना पड़ती है। कमलनाथ के सीएम बनने के बाद उनका अहंकार सांतवे आसमान पर था। इसी कारण उनकी सरकार गिर गई। उनका दोबारा सीएम बन पाना उतना ही मुश्किल है, जैसे काठ की हांडी में दूसरी बार खाना पकाना। गौरतलब है कि पूर्व सीएम कमलनाथ ने अधिकारियों को नसीहत दी है कि चुनाव को निष्पक्ष तरीके से कराएं, क्योंकि कांग्रेस 15 महीने बाद फिर से सरकार बनाने जा रही है। डॉ. केसवानी ने नाथ के इसी दावे पर पलटवार किया है।  कई बार फेल हो चुका दावा : डॉ. केसवानी ने कहा कि कमलनाथ इससे पहले भी कई बार सरकार बनाने की बात कह चुके हैं। उनके यह सारे दावे केवल कार्यकर्ताओं को बांधने के लिए हैं। लेकिन हर बार कार्यकर्ताओं को निराशा ही हाथ लगी है। क्योंकि सरकार गिरने के बाद 28 जगह होने वाले उपचुनाव के दौरान उन्होंने कहा था कि कांग्रेस जीत दर्ज कर फिर से सरकार बनाएगी और इसके बाद उन्होंने कहा था कि 15 अगस्त 2020 को वे फिर से सीएम बनने वाले हैं लेकिन दोनों बार उनका दावा फेल साबित हुआ।

Kolar News

Kolar News 29 June 2022

नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव के बीच राजनीतिक पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप तेज हो गए है। बुधवार को कांग्रेस ने सरकार पर किसानों को धोखा देने का गंभीर आरोप लगा कृषि मंत्री कमल पटेल का इस्तीफा मांगा है। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग में कमीशनखोरी के कारण बजट तक लैप्स हो गया ऐसे असफल मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए। नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव के बीच राजनीतिक पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप तेज हो गए है। बुधवार को कांग्रेस ने सरकार पर किसानों को धोखा देने का गंभीर आरोप लगा कृषि मंत्री कमल पटेल का इस्तीफा मांगा है। उन्होंने कहा कि कृषि विभाग में कमीशनखोरी के कारण बजट तक लैप्स हो गया ऐसे असफल मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए। कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने कांग्रेस मुख्यालय में बुधवार को कहा कि भाजपा किसान विरोधी है। मध्य प्रदेश में साल दर साल मंगू का रकबा बढ़ता जा रहा है। इस साल 5 लाख टन से अधिक ग्रीष्मकालीन मंगू का उत्पादन हुआ है। उन्होंने कहा कि सरकार ने मूंग की खरीदी समर्थन मूल्य पर प्रारंभ नहीं की गई, जिससे किसानों को भारी नुकसान हो रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि गेहूं खरीदी का भुगतान जो दो से तीन दिन में होना चाहिए 1 महीने से भी ज्यादा देरी से किया गया है। जिस वजह से किसानों को कृषि ऋण पर मिलने वाले जीरो  प्रतिशत ब्याज योजना का लाभ नहीं मिल पाया। चौधरी ने कहा कि मध्य प्रदेश में बोनी का समय आ गया है, लेकिन अभी तक प्राथमिक सहकारी समितियों के माध्यम से सोयाबीन, धान, मक्के एवं अन्य पैदावार का बीज नहीं दिया जा रहा है। जहां किसान को सोयाबीन के बाजार में दाम जहां 6 हजार प्रति क्विंटल तक थे अब सोयाबीन के बीज 15 से 16 हजार रुपए प्रति क्विंटल तक बिक रहे हैं। सरकार के बीज उपलब्ध नहीं करवाने से किसानों को भारी क्षति हो रही है। उन्होंने कहा कि किसानों को खरीफ की बोनी के लिए खाद और बीज नहीं मिल रहा है। डीएपी सहकारी सोसाइटियां गायब है। उन्होंने कहा कि गेहूं खरीदी में सरकार द्वारा बोनस नहीं दिया गया, जिस वजह से इस वर्ष 54 प्रतिशत तक गेहूं खरीदी घट गई। साथ ही गेहूं खरीदी के दौरान भी 20 प्रतिशत प्रति क्विंटल छनवाई के लिए गए 500 क्विंटल तक गेहूं डालने वाले किसान को 10 हजार अकेले छनवाई देना पड़ गई। चौधरी ने कहा कि पशुओं के लिए बारिश के दिनों में वैक्सीनेशन किया जाता है, लेकिन अभी तक कोई भी टीकाकरण शुरू नहीं किया गया है। उन्होंने मांग कि कि तत्काली पशुओं को वैक्सीनेशन प्रारंभ किया जाए। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार में गौशालाएं खोली गई थी, चारे की राशि बढ़ाई थी। भाजपा गौशाला बंद करके चारा का अनुदान कम करके स्लॉटर हाउस खोलना चाहती है।

Kolar News

Kolar News 29 June 2022

मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव में दोनों पार्टियों को भितरघात सता रहा है। सत्ताधारी बीजेपी का डैमेज कंट्रोल करने के लिए प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा को बागियों से बात करनी पड़ रही है।  पार्टी को डर है की टिकट कटने से नाराज नेताओं ने अपना नामांकन वापस ले लिया है, लेकिन अंदर ही अंदर वे प्रत्याशी का विरोध कर रहे हैं। यह डर बीजेपी को जमकर सता रहा है। अब बीजेपी संगठन रोज रिपोर्ट ले रहा है कि कौन बागी , अधिकृत प्रत्याशी के साथ प्रचार में है और कौन घर पर बैठा है।  बीजेपी के अधिकृत प्रत्याशियों के खिलाफ जो बागी मैदान में हैं उनको लेकर तमाम तरह की धमकियां भी पार्टी की तरफ से मिल रही हैं, लेकिन डैमेज कंट्रोल करने के लिए बीजेपी संगठन ने जिला अध्यक्ष को जिम्मेदारी सौंपी है।  पार्टी की तरफ से संगठन के 57 जिलों में जिला अध्यक्षों से कहा गया है कि वह हर हाल में बागियों से निपटें।  हालांकि, अभी तक बीजेपी ने बागियों पर निष्कासन की कार्रवाई नहीं की है मौखिक जरूर कह दिया गया है, लेकिन पार्टी के मुताबिक अब जल्दी ऐसे बागियों पर निष्कासन की कार्रवाई होगी।  उधर, कांग्रेस में भी बागियों को लेकर चिंता है। यहां बागियों से निपटने की जिम्मेदारी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और सुरेश पचौरी को दी गई है। नाराज कांग्रेस नेताओं और पूर्व पार्षदों ने कांग्रेस दफ्तर जाकर सामूहिक इस्तीफा दिया है। जहां दिग्विजय सिंह बागियों को समझाइश दे रहे हैं, तो वहीं सुरेश पचौरी भी बागियों से बात कर उन्हें शांत करने में जुटे हुए हैं। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव गैर राजनीतिक आधार पर हुए, लेकिन अब बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही समर्थित प्रत्याशियों की जीत का दावा कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक भोपाल जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव में कांग्रेस समर्थकों का दबदबा रहा है। 10 सदस्यों के लिए हुए चुनाव में 7 पर कांग्रेस समर्थक उम्मीदवार जीते, वहीं दो वार्डों में भाजपा समर्थक जीता और 1 वार्ड में दोनों ही अपना कब्जा बता रहे हैं। लेकिन, ग्राम पंचायतों में बीजेपी समर्थित प्रत्याशियों का दबदबा देखने को मिला। 

Kolar News

Kolar News 28 June 2022

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर उनके बयान को लेकर निशाना साधा है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा मैं इसे दिग्विजय सिंह का विवादित बयान मानता हूं, इनको सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाना है अप्रत्यक्ष रूप से और अगर बात की जाए मध्यप्रदेश की तो यहाँ कांग्रेस सिर्फ दो लोग ही चला रहे हैं, काटू और छाटू। गौरतलब है कि कांग्रेस में भी नगरीय निकाय चुनाव में टिकट वितरण को लेकर नाराजगी जमकर सामने आई। कांग्रेस के  प्रदेश कार्यालय में शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान दिग्विजय सिंह ने नाराज नेताओं को साधने के लिए बड़ा बयान दिया था उन्होंने कहा कि ये मानकर चलिए कि जिनका टिकट कटा, वो दिग्विजय सिंह ने काटा और जिन्हें टिकट मिला, उन्हें कमलनाथ ने दिया। दिग्विजय सिंह के इसी बयान पर गृह मंत्री ने तंज कसा है। वही प्रदेश में सांसद असदुद्दीन ओवैसी के नगरीय निकाय चुनाव में प्रचार पर गृह मंत्री ने कहा कि प्रदेश में ओवैसी जी का स्वागत है, मध्यप्रदेश की जनता जानती है, ओवैसी किस तरीके से विभाजन की राजनीति करते हैं, प्रदेश की जनता ने बीजेपी को जिताने का मन बना लिया है, वहीं कांग्रेस के आरोप पर बोले कि, कांग्रेस का वोट मध्यप्रदेश में बचा नहीं है और हमें किसी बी टीम की जरूरत नहीं है।

Kolar News

Kolar News 27 June 2022

लोकसभा-विधानसभा उपचुनाव परिणाम 2022 के लिए वोटों की गिनती  शुरू कर दी गई है। तीन लोकसभा सीटों – रामपुर, आजमगढ़ और संगरूर के लिए वोटों की गिनती कड़ी सुरक्षा के बीच जारी है। उत्तर प्रदेश में उपचुनाव समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव और पार्टी नेता आजम खान के जमगढ़ और रामपुर सीटों से इस्तीफे के कारण हुए थे। दरअसल आजमगढ़, रामपुर, संगरूर सीटों के लोकसभा उपचुनाव परिणामों के अलावा 7 विधानसभा सीटों पर भी उपचुनाव हुए थे। जिसके लिए वोटों की गिनती जारी है। दरअसल जिन सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए थे उन्हें दिल्ली में राजेंद्र नगर झारखंड में मंदार के अलावा आंध्र प्रदेश में आत्मकुर को त्रिपुरा में अगरतला, टाउन बोरदोवली, सुरमा और जबराजनगर में वोटों की गिनती की जा रही है। 23 जून को जिन तीन लोकसभा सीटों पर मतदान हुआ, उनमें उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ और रामपुर और पंजाब के संगरूर शामिल हैं। जहां तक ​​विधानसभा सीटों का सवाल है, कुल सात सीटों पर उपचुनाव हुए थे- दिल्ली में राजिंदर नगर, झारखंड में मंदार, आंध्र प्रदेश में आत्मकुर और त्रिपुरा में अगरतला, टाउन बोरदोवाली, सूरमा और जबराजनगर। पहले दौर की मतगणना में शिरोमणि अकाली दल प्रत्याशी सिमरनजीत सिंह मान आगे चल रहे हैं जबकि आप के गुरमेल सिंह दूसरे स्थान पर हैं। संगरूर में, इस साल के शुरू में राज्य विधानसभा चुनावों में विधायक के रूप में चुने जाने के बाद मुख्यमंत्री भगवंत मान के लोकसभा से इस्तीफे के बाद उपचुनाव की आवश्यकता थी। मान ने 2014 और 2019 के संसदीय चुनावों में संगरूर सीट जीती थी। उत्तर प्रदेश की रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना जारी है। दो निर्वाचन क्षेत्रों में 23 जून को मतदान हुआ, जिसमें आजमगढ़ में 49.43 प्रतिशत और रामपुर में 41.39 प्रतिशत मतदान हुआ। समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव और पार्टी नेता आजम खान के क्रमश: आजमगढ़ और रामपुर सीटों से इस्तीफे के कारण उपचुनाव कराना पड़ा। रामपुर में, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने घनश्याम सिंह लोधी को मैदान में उतारा था, जो हाल ही में पार्टी में शामिल हुए थे। आसिम राजा, जिन्हें आजम खान ने चुना है, सपा के उम्मीदवार हैं। मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) रामपुर से चुनाव नहीं लड़ रही है। आजमगढ़ सीट पर बीजेपी के दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’, भोजपुरी अभिनेता-गायक, सपा के धर्मेंद्र यादव और बसपा के शाह आलम के बीच त्रिकोणीय मुकाबला देखा गया। रामपुर से भाजपा ने घनश्याम सिंह लोधी को मैदान में उतारा है, जो हाल ही में पार्टी में शामिल हुए हैं। आजम खान द्वारा चुने गए असीम राजा सपा के उम्मीदवार हैं। मायावती के नेतृत्व वाली बसपा रामपुर से चुनाव नहीं लड़ रही है। दिल्ली में राजिंदर नगर विधानसभा उपचुनाव के दौरान हुए मतदान की मतगणना रविवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुरू हो गई। महत्वपूर्ण विधानसभा सीट पर उपचुनाव 23 जून को 43.75 प्रतिशत के कम मतदान के साथ हुआ था, जिससे वोटिंग मशीनों में 14 उम्मीदवारों के चुनावी भाग्य को सील कर दिया गया था।अधिकारियों ने बताया कि मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हुई। स्ट्रांग रूम पूरी तरह से तीन स्तरीय सुरक्षा कवर के साथ सुरक्षित है। आईटीआई पूसा में मतगणना केंद्र स्थापित किया गया है। डाक मतपत्रों की गिनती पहले की जाएगी, और केवल उन मतपत्रों को गिना जाएगा जो सेवा मतदाताओं से 26 जून को सुबह आठ बजे तक प्राप्त मतों पर मतगणना के लिए विचार किया जाएगा। उसके बाद ईवीएम मतों की गिनती की जाएगी।” वीवीपैट (वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) पर्चियों की गिनती के लिए अलग से स्पेशल बॉक्स होगा।आजमगढ़ सीट पर बीजेपी के दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’, भोजपुरी अभिनेता-गायक, सपा के धर्मेंद्र यादव और बसपा के शाह आलम, जिन्हें गुड्डू जमाली के नाम से भी जाना जाता है, के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होगा। इधर पंजाब में, सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) विधानसभा चुनावों में अपनी प्रचंड जीत के बाद अपनी लोकप्रियता की पहली परीक्षा का सामना कर रही है। उपचुनाव ऐसे समय में हुए हैं जब आप को राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति और गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या को लेकर विपक्ष की आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। आप ने पार्टी के संगरूर जिला प्रभारी गुरमेल सिंह को मैदान में उतारा है। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के पूर्व धूरी विधायक दलवीर सिंह गोल्डी, जबकि भाजपा उम्मीदवार बरनाला के पूर्व विधायक केवल ढिल्लों हैं, जो 4 जून को पार्टी में शामिल हुए थे।बता दें कि पंजाब के संगरूर में जहां 45.3 फीसदी मतदान हुआ था, वहीं रामपुर और आजमगढ़ में क्रमश: 41.3 फीसदी और 49.43 फीसदी मतदान हुआ. मतदान के घंटों के अंत तक, राजिंदर नगर विधानसभा क्षेत्र में 43.75 प्रतिशत मतदान हुआ। इधर त्रिपुरा की चार विधानसभा सीटों पर कुल 78.58 प्रतिशत मतदान हुआ। आंध्र प्रदेश के आत्मकुर विधानसभा उपचुनाव में करीब 67 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। झारखंड में रांची जिले के मंदार विधानसभा उपचुनाव में 56.03 प्रतिशत मतदान हुआ जबकि त्रिपुरा में सबसे ज्यादा चार सीटें हैं- अगरतला, जुबराज नगर, सूरमा और टाउन बारदोवाली है।

Kolar News

Kolar News 26 June 2022

मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष गिरीश गौतम के पुत्र राहुल गौतम रीवा से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव हार गए हैं। उनके चचेरे भाई पद्मेश गौतम ने उन को परास्त किया है। गौतम के पुत्र की हार पर कांग्रेस पर कटाक्ष रही है। मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष गिरीश गौतम के बेटे राहुल गौतम रीवा में जिला पंचायत का चुनाव हार गए हैं। वे जिला पंचायत के वार्ड क्रमांक 27 से चुनाव लड़ रहे थे। हैरत की बात यह है कि उन्हें चुनाव में पराजित करने वाला कोई और नहीं उन्हीं का चचेरा भाई और विधानसभा अध्यक्ष जी का भतीजा पद्मेश गौतम है। पद्मेश ने राहुल को सीधे मुकाबले में 1400 वोटों से पराजित किया है। स्थानीय लोगों ने इस हार के पीछे विधानसभा अध्यक्ष की लगातार गिरती साख और जनाधार को बताया है। उनका कहना है कि कुछ दिन पहले ही एक वीडियो में विधानसभा अध्यक्ष जी कहते नजर आ रहे थे कि गांव पंचायत में आप मतदान नहीं करना और आप अगर मतदान नहीं करोगे तो क्या हम चुनाव नहीं जीत पाएंगे। ऐसे अहम का यही परिणाम होता है।वही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विवेक तंखा ने ट्वीट करके लिखा है कि “गौतम जी, माननीय स्पीकर एमपी विधानसभा कभी भाजपा विचारधारा के थे ही नहीं। केवल पार्टी के मेंबर हैं। एमपी में शिवराज जी और भाजपा के विरुद्ध लहर है। 2023 की गिनती मेरे मत में शुरू हो चुकी है।”

Kolar News

Kolar News 26 June 2022

मध्यप्रदेश में पहले चरण के पंचायत चुनाव शनिवार को हो रहे हैं। सुबह सात बजे से 115 जनपदों की कुल 8,702 ग्राम पंचायतों में वोटिंग शुरू हो गई है। वोटिंग दोपहर तीन बजे तक चलेगी। इसके बाद काउंटिंग शुरू हो जाएगी। मतदाता पंच, सरपंच, जनपद और जिला पंचायत सदस्यों के भाग्य का फैसला करेंगे। बता दें कि मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव तीन चरण में हो रहे हैं। पहला चरण 25 जून यानी आज है। दूसरे चरण के लिए मतदान एक जुलाई और तीसरे चरण के लिए आठ जुलाई को होगा। पहले चरण के लिए 27 हजार 49 बूथ पर मतदान होगा। इनमें 22 हजार 915 सामान्य और 3 हजार 989 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं। मतदान केंद्रों पर 52 हजार से अधिक पुलिस बल तैनात किए गए हैं। पहले चरण में भोपाल, इंदौर समेत कई जिलों में चुनाव संपन्न हो जाएंगे। 27 हजार 49 मतदान केंद्रों पर 1 करोड़ 49 लाख वोटर मतदान करेंगे।  वहीं छिंदवाड़ा के अमरवाड़ा जनपद के पौनार में पंच प्रत्याशी संतोष ठाकुर का बैलेट पेपर में चुनाव चिह्न बदलने का मामला सामने आया है। चुनाव आयोग से संतोष ठाकुर को चुनाव चिह्न हल आवंटित हुआ था लेकिन बैलेट पेपर पर बाल्टी छप गया। इसकी शिकायत एडीएम से की गई है। भोपाल में मतदान केंद्र पर वोटिंग के लिए सुबह से ही मतदाता पहुंचने लगे। मतदान केंद्र पर महिलाओं से सहित पुरुषों की लंबी लाइनें नजर आ रही हैं। भोपाल में तीन घंटे में 30 फीसदी मतदान हुआ। शाजापुर में भी वोटिंग को लेकर उत्साह देखा गया। सुबह से ही मतदाता मतदान केंद्र पर पहुंचने लगे।  कलेक्टर अविनाश लवानिया और जिला पंचायत सीईओ ऋतुराज  पंचायत चुनाव मतदान का निरीक्षण करने के लिए (नीलबड़)  कलखेड़ा ग्राम पंचायत पहुंचे।

Kolar News

Kolar News 25 June 2022

मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव के तहत शनिवार सुबह से ही मतदान शुरू हो गया है, पहले चरण के तहत शुरू हुए मतदान को लेकर महिला, पुरुष और युवाओं सभी में उत्साह देखा जा रहा है, मतदान केंद्रों पर सुबह से ही मतदाताओं की कतारें नजर आ रही हैं। आइये जानते हैं, पंचायत चुनाव में कहां क्या स्थिति है। आप भी मतदान करने से पहले समय का जरूर ध्यान रखें, ताकि आप अपना अमूल्य वोट डाल सकें, अगर आप गलती से दोपहर 3 बजे बाद मतदान करने जाएंगे, तो आप वोट नहीं डाल पाएंगे, शुक्रवार को चुनाव आयोग ने चुनाव संबंधी पूरा कार्यक्रम जारी कर दिया है, जिसके तहत 25 जून, 1 जुलाई और 8 जुलाई को सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक मतदान होंगे। मध्यप्रदेश में शनिवार को मतदान शुरू होने से पहले एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई है. भिंड जिले के आलमपुर क्षेत्र के रूरई गांव की घटना है, बिल्लू चौहान नामक युवक की हत्या पुरानी रंजिश के चलते की गई है। -रीवा पंचायत चुनाव के पहले चरण की वोटिंग शुरू। नईगढ़ी जनपद पंचायत के बंधवा भाईबांट गांव में लगी कतार...। -दतिया मतदान प्रक्रिया शुरू, त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन को लेकर मतदान की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ग्राम निचरौली में बनाए गए केंद्र पर मत डालने के लिए सुबह से ही लगी मतदाताओं की भीड़। शांति पूर्ण ढंग से चल रहा मतदान. कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच चल रहा शांतिपूर्ण मतदान। कलेक्टर संजय कुमार एवं पुलिस अधीक्षक अमन सिंह ने किया राजापुर मतदान केंद्र का निरीक्षण। मतदान संबंधी व्यवस्थाओं का जायजा लिया.त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन के प्रथम चरण में सिवनी एवं बरघाट जनपद क्षेत्र में मतदान का आगाज.-स्थानीय नागरिक मतदान के प्रति जागरूकता दिखाते हुए प्रातः काल से ही बड़ी संख्या में केंद्रों में पहुँच रहें हैं। -घटना स्थल पर भारी पुलिस फोर्स तैनात। -भिण्ड के आलमपुर के रूरई गांव की घटना। -अनूपपुर. पुष्पराजगढ़ विकासखंड में त्रिस्तरीय ग्राम पंचायत चुनाव के तहत प्रथम चरण में 321 मतदान केंद्रों पर मतदान कराए जा रहे हैं ,जिसमें सुबह हल्की रिमझिम बारिश आरंभ हुई बावजूद 7 बजे मतदान केंद्रों पर वोटिंग के लिए मतदाता पहुंचे। एसडीएम एवं स्थानीय रिटर्निंग अधिकारी अभिषेक चौधरी ने बताया कि मतदान अपने निर्धारित समय पर आरंभ हुआ ।अभी तक कहीं विलंबता की सूचना नहीं है कुछ मतदान केंद्रों पर 50 से 60 मत भी डाले जा चुके हैं। -दतिया. मतदान को लेकर पुरुषों के साथ महिलाओं में भी उत्साह। ग्राम अगोरा के मतदान केंद्र पर पुरुषों के साथ महिलाएं भी लगी कतार में। शांतिपूर्ण ढंग से चल रहा मतदान. -कटनी. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में आज प्रथम चरण के लिए मतदान हो रहा है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में ग्राम पंचायत प्रधान, पंच, जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्य चुनने के लिए मतदान हो रहा है। मतदान को लेकर मतदाताओं में अपार उत्साह देखने को मिल रहा है। ढीमरखेड़ा, उमरिया पान क्षेत्र के मतदान केंद्रों में सुबह से ही वोट डालने के लिए बड़ी संख्या में लोग पोलिंग बूथ पर पहुंचे हैं। कतार बंद होकर अपनी बारी आने पर मतदान कर रहे हैं। महिला, पुरुष, वृद्ध सभी तबके के लोग सुबह-सुबह ही मतदान करने के लिए पहुंचे हैं। चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान प्रक्रिया चल रही है। मतदान केंद्रों में किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति ना बने इसको लेकर के पुलिस बल तैनात है। साथ ही मोबाइल पुलिसिंग भी हो रही है। हर 10 पोलिंग बूथ के अंतराल में सेक्टर मजिस्ट्रेट व पोलिंग पार्टियां निरीक्षण कर रही हैं।-शहडोल. जनपद पंचायत सोहागपुर में पहले चरण के मतदान में ग्राम पंचायत गोरतरा के चार पोलिंग बूथ में सुबह से ही मतदाताओं का रुझान देखने मिला। पहले दो घंटे में 200 से ज्यादा लोगो ने मतदान किया। वही सुबह से कतार लगाकर मतदाता अपने नंबर का इंतजार करते नजर आए।

Kolar News

Kolar News 25 June 2022

इस बार निकाय चुनाव में शहर की बदहाल सड़कें बड़ा मुद्दा बनकर सामने आईं हैं। जगह-जगह धंसती और उखड़ी सड़कें महापौर और पार्षद प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार में मुश्किल साबित हो रही हैं। लोग वोट मांगने के लिए आने वाले प्रत्याशियों से सीधा सवाल कर रहे हैं कि आखिर शहर की सड़कों की दुर्दशा का जिम्मेदार कौन है। वोटर पूछ रहे हैं, नेताजी! वोट तो दे देंगे, पहले ये बताओ कॉलोनी की सड़क कब सुधरेगी। पुराने शहर से लेकर अवधपुरी, करोंद, कोलार, गुलमोहर, शाहपुरा और संबंधित क्षेत्रों में सड़के खराब हैंं। कई कॉलोनियों में तो लोगों ने गेट के बाहर बैनर-पोस्टर टांग दिए हैं कि सड़क नहीं तो वोट नहीं। सीवेज-पानी की लाइन बिछाने के बाद सीमेंट कांक्रीट व डामर से रोड का कमजोर रेस्टोरेशन बारिश के पहले ही धंसने लगा है। कोलार की राजहर्ष कॉलोनी में सीवेज लाइन के लिए किया रेस्टोरेशन भारी वाहन के दबाव से फिर धंस गया। रोहित नगर में फोर लेन रोड पर लाइन बिछाने के बाद किया रेस्टोरेशन पांच दिन पहले धंस गया। कुछ हिस्सों पर मोटी गिट्टी भर कर डामर की परत चढ़ा दी गई है। लेकिन ये भी कितनी चलेगी इसकी कोई गारंटी नहीं है।

Kolar News

Kolar News 25 June 2022

हमेशा अपने ट्वीट को लेकर चर्चा से ज्यादा विवादों में रहने वाले राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह फिर एक बार अपने ट्वीट को लेकर निशाने पर आ गए है, इस बार उन्होंने विनायक दामोदर सावरकर को लेकर एक विवादित वीडियो शेयर किया है, वीडियो में विनायक दामोदर सावरकर पर एक ब्रिटिश महिला के साथ दुष्कर्म करने की कोशिश का आरोप है, वही सावरकर पर ब्रिटिश से 60 रुपये प्रति माह पेंशन लेने के भी आरोप लगाए गए है, इस वीडियो पर बीजेपी ने दिग्विजय सिंह पर पलटवार किया है। मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि इससे दुर्भाग्यपुर्ण कुछ नहीं होगा, वो क्रांतिकारी जिन्होंने देश की आजादी के लिये अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया, वो सावरकर जी के लिये इस तरह की बातें करना शर्मनाक और दुर्भाग्यपुर्ण है, दिग्विजय सिंह सुर्खियों में बने रहने के लिये इस तरह की बातें करते हैं, वीर सावरकर ने जो कुछ इस देश की आजादी के लिये किया, दिग्विजय सिंह जैसे लोगों के सर्टिफिकेट की उन्हें जरूरत नहीं है इस तरह के बयान से दिग्विजय 10 जनपथ पर अपने नंबर बढ़ा लें, लेकिन देश की जनता इस तरह के बयानों में नहीं आने वाली, वीर सावरकर का जीवन उत्कृष्ट रहा है, वीर सावरकर के क्रांतिकारी विचारों का अनुसरण देश का युवा करता है।

Kolar News

Kolar News 24 June 2022

राजधानी में महापौर प्रत्याशी के लिए भाजपा ने खोला चुनाव कार्यालय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नगर निगम चुनाव में जिन लोगों को पार्षद का टिकट मिल गया है, वह जी-जान लगाकर चुनाव प्रचार करें। हमारी सरकार ने पिछले सालों में जो योजनाएं लागू की हैं यदि पार्षद प्रत्याशी इनका ठीक तरीके से प्रचार कर देते हैं तो उनका आधा काम तो ऐसे ही हो जाएगा। जिन प्रत्याशियों को टिकट दिया गया है, वह पार्टी के लिए महत्वपूर्ण हैं लेकिन जिन लोगों का टिकट कट गया है और जिन लोगों ने नामांकन वापस लेकर चुनाव में साथ देने का भरोसा दिया है, वे लोग भी मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि सभी 85 वार्ड के प्रत्याशी एवं संगठन के कार्यकर्ता एक साथ मिलकर इस चुनाव को लड़ेंगे तो कांग्रेस के हाथ एक भी सीट नहीं आ पाएगी। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा, सांसद प्रज्ञा ठाकुर सहित भाजपा के विधायकों मौजूद कार्यकर्ताओं से भाजपा प्रत्याशियों को जिताने की अपील की।कार्यकर्ताओं की बूथ समिति को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आप लोग जनता से सीधे तौर पर जुड़े हुए हैं, उनकी क्या समस्याएं हैं और क्यों उनका निराकरण नहीं हो रहा है इसका फीडबैक देने का सबसे महत्वपूर्ण काम आपके पास है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बूथ समिति का अध्यक्ष सरकार को सीधे तौर पर फीडबैक दे सकता है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को महापौर प्रत्याशी मालती राय के समर्थन में पत्रकार भवन के सामने मालवीय नगर में चुनाव कार्यालय का उद्घाटन किया। इससे पहले मुख्यमंत्री सात नंबर पर आयोजित डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी बलिदान दिवस पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में शामिल हुए। यहां भी उन्होंने पार्टी नेताओं से चुनाव में मतभेद भूलकर पार्टी को जिताने की अपील की। जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री को बताया कि शहर के सभी मतदान केंद्रों पर बूथ समितियों का गठन किया जा चुका है। भारतीय जनता पार्टी एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बूथ जीतो चुनाव जीतो का नारा दिया है जिसके तहत कार्यकर्ता हर बूथ स्तर पर सक्रिय हो गए हैं। पचौरी ने कहा कि चुनाव प्रचार की टीम मालती राय के साथ सक्रिय है। नगर निगम चुनाव में टिकट वितरण और इससे उपजा असंतोष महापौर चुनाव कार्यालय के उद्घाटन के दौरान भी देखने को मिला। आयोजन के दौरान पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता पीछे की सीट पर जाकर बैठ गए। मंत्री विश्वास सारंग एवं विधायक कृष्णा गौर उन्हें आगे आने के लिए मनाते रहे, लेकिन गुप्ता अपनी कुर्सी से नहीं उठे।

Kolar News

Kolar News 24 June 2022

भाजपा का पूरा कार्यालय गुरुवार को जनजातीय रंग में रंगा रहा। यहां सीएम शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा कि जैसा कभी सपने में भी नहीं सोचा था, वैसा सम्मान भाजपा ने आदिवासी समाज को दिया है। दरअसल राष्ट्रपति पद के लिए द्रौपदी मुर्मू का नाम चयनित होने पर भाजपा की ओर से यहां गुरुवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में आभार कार्यक्रम हुआ। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का आभार व्यक्त किया गया। सीएम ने कहा, आजादी के बाद इतने सालों तक कांग्रेस वोट के लिए जनजातीय समाज का सिर्फ शोषण करती रही, कभी उनकी भलाई के लिए नहीं सोचा।ज्ञात हो कि जबलपुर में राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू संगमरमर वादियों में नौका विहार कर चुकी हैं। नाव में बैठने से पहले उन्होंने चप्पल उतार दी थीं। प्रोटोकॉल में तैनात प्रशासनिक अधिकारियों से कहा था कि मैया नर्मदा की गोद में ऐसे ही जाऊंगी। धुआंधार देखकर वे बोली थीं, अप्रतिम। यहां शांति का अनुभव हो रहा है। भेड़ाघाट में उन्होंने लगभग 45 मिनट का समय बिताया था। 30 अप्रेल 2017 को वे एक कार्यक्रम में शामिल होने जबलपुर आई थीं। तब वे झारखंड की राज्यपाल थीं। वहीं दूसरी ओर राजग की राष्ट्रपति प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू गुरुवार को भुवनेश्वर से दिल्ली पहुंचीं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। वह शुक्रवार को नामांकन दाखिल कर सकती हैं। उनका मुकाबला विपक्ष के साझा प्रत्याशी पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा से होगा। सिन्हा 27 जून को नामांकन दाखिल करेंगे। दिल्ली में वह प्रधानमंत्री से मिलने उनके निवास पहुंचीं। मुलाकात के बाद मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘एनडीए की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात की। राष्ट्रपति पद के लिए उनके चयन को समाज के सभी वर्गों ने सराहा है। जमीनी समस्याओं और भारत के विकास के लिए उनकी समझ उत्कृष्ट है।’ मीडिया से चर्चा में द्रौपदी मुर्मू की बेटी इतिश्री ने कहा कि मां राष्ट्रपति बनने जा रही हैं। यह अब भी अविश्वसनीय लग रहा है। ओडिशा के एक बैंक में कार्यरत इतिश्री ने कहा कि हमने कभी सोचा नहीं था कि ऐसा भी हो सकता है। मां को भी यह भरोसा नहीं था। द्रौपदी मुर्मू के सामने यशवंत सिन्हा का पलड़ा कमजोर दिखाई दे रहा है। साझा विपक्ष प्रत्याशी होने के बाद भी उनके पास अभी 3,70,709 वोट हैं। राजग के पास 5,26,420 मत हैं। मुर्मू को जीतने के लिए 5,39,420 मतों की जरूरत है। ओडिशा से आने के कारण मुर्मू को बीजू जनता दल (31,000 मत) का समर्थन मिल रहा है। अगर वाइएसआर कांग्रेस भी साथ आती है तो उसके 43,000 मत उनके साथ होंगे। झारखंड मुक्ति मोर्चा का समर्थन मिला तो मुर्मू को करीब 20,000 वोट और मिल जाएंगे।

Kolar News

Kolar News 24 June 2022

भोपाल। महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे के कदम से संकट में आई उद्धव सरकार को बचाने की जिम्मेदारी पूर्व सीएम कमलनाथ को जैसे ही मिली। भाजपा ने मामले पर चुटकी लेते हुए कहा कि को अपने विधायकों की नहीं सुन पाए। वे शिवसेना के विधायकों की क्या सुन पाएंगे। वो भी तब जब सभी विधायक बाला साहेब के सच्चे सिपाही हों। मामले में मीडिया से रूबरू होते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश केसवानी ने कहा कि कमलनाथ अपने विधायकों को तो बचा नहीं पाए। उद्धव सरकार को क्या खाक बचा पाएंगे। इस दौरान केसवानी ने नाथ को सबसे विफल नेताओं में से एक बताया।   नाथ के नेतृत्व में हारे सभी चुनाव : डॉ. केसवानी ने नाथ को सबसे विफल नेताओं में से एक बताते हुए कहा कि उनके कार्यकाल में भी कांग्रेस का प्रदर्शन फिसड्डी रहा है। लोकसभा चुनाव, उप चुनाव सहित अन्य चुनावों में पार्टी कुछ खास नहीं कर पाई। कांग्रेस के लोग हमेशा आरोप लगाते आए हैं कि हमारे पास न नेता है, न नीति है और न ही नियत है। कांग्रेस नेता ने इसे बखूबी चरितार्थ किया है। साथ ही उद्धव सरकार को बचाने जैसे ही कमलनाथ के नाम की घोषणा हुई। ये बात एक बार फिर साबित हो गई है। कमलनाथ जी 28 उपचुनाव, लोकसभा चुनाव ने कोई जादू नहीं दिखा पाए। कांग्रेस के घर घर चले अभियान को घर घर बैठो अभियान बना दिया। मप्र के लोगों को दिए 973 वचनों में से एक भी वचन कमलनाथ पूरा न कर पाए। उनके हिस्से में केवल और केवल असफलताएं हैं। जब वे एक बार महाराष्ट्र जा रहे हैं तो फिर असफल साबित होंगे।

Kolar News

Kolar News 21 June 2022

नगर निगम महापौर टिकट के लिए मुंबई से भोपाल इमरजेंसी लैंडिंग करने वाले केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया अब पार्टी की पंक्ति में खड़े दिखाई दे रहे हैं। सोमवार को उन्होंने अपने समर्थकों को टीम में बने रहना सिखाया। स्पष्ट रूप से मैसेज दिया कि पार्टी ने जिस भी व्यक्ति को प्रत्याशी घोषित किया है उसे जिताने के लिए काम करना है।  केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर नगर निगम महापौर पद पर सुमन शर्मा का विरोध कर रहे थे। वयोवृद्ध माया सिंह को टिकट दिलाने के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जमीन से लेकर आसमान तक एक कर दिए थे। भोपाल में शुरू हुई कोर ग्रुप की बैठक खत्म होने से पहले स्पेशल फ्लाइट पकड़कर मुंबई से भोपाल लैंड हो गए थे। ऐसा लग रहा था जैसे सर्जिकल स्ट्राइक कर डाली है। महाराज नाराज भी हुए लेकिन कांग्रेस की तरह भारतीय जनता पार्टी में भी उनकी नाराजगी का कोई खास असर दिखाई नहीं दिया। टिकट वितरण पार्टी के अपने नियम कायदों से हुआ। सोमवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने समर्थकों को समझाया कि पार्टी ने सुमन शर्मा को टिकट दिया है इसलिए उन्हें जिताने के लिए काम करना है। पार्टी के सूत्रों का कहना है कि चुनाव प्रचार में जहां भी ज्योतिरादित्य सिंधिया की आवश्यकता होगी उन्हें आमंत्रित किया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 21 June 2022

भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने हत्या के थ्रेट कॉल करने वाले अंडरवर्ड को चुनौती दे दी है। आपको बता दें कि, हालही में इंटेलिजेंस की मदद से पता चला है कि, सांसद ठाकुर को जान से मारने की धमकी देने वाला कॉल अंडरवर्ड से आया था। ये वही नंबर था जिससे बीते दिनों उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव की बहु को भी धमकी मिली थी। आपको बता दें कि, सांसद प्रज्ञा ठाकुर की ओर से भी थ्रेट कॉल करने वाले अंडरवर्ड की धमकी पर चैलेंज देते हुए ट्वीट किया। सांसद ने लिखा कि, हां, मैं भोपाल में हूं। हिंदुओं के हत्यारे भगोड़े दाऊद और इकबाल कासकर के छर्रों द्वारा मेरी हत्या की धमकी- अब उनके स्लीपर सेल सक्रिय 18 को धमकी और 20 को हत्या! अरे धमकी देने वाले तुम्हारा दम भारत आने की नहीं और मुझे मारोगे? हाँ मैं भोपाल में ही हूँ और मुझे ठोकना भी आता है। आपको बता दें कि, प्रज्ञा ठाकुर को 18 जून की रात करीब डेढ़ बजे जान से मारने की धमकी भरा फोन आया था। मामले के ठीक दो दिन बाद सोमवार को सांसद ने सोशल मीडिया पर इसे लेकर बयान जारी किया। सांसद ने बताया कि, 18 जून को रात जब वो भाजपा कार्यालय से घर लौटीं। इसी दौरान उन्हें अनजान नंबर से कॉल आया। आरोपी ने खुद को इकबाल कासकर का गुर्गा बताते हुए जान से मारने की धमकी दी। साममे से संदिग्ध आरोपी धमकाते हुए बोला- तुम्हारी हत्या होने वाली है। सूचना देना थी, तो दे दी। वो इसकी जानकारी एडवांस में दे रहा है। साध्वी ने हत्या का कारण पूछा तो आरोपी ने कहा- ये भी जल्दी पता चल जाएगा। सांसद से हुई इस पूरी चर्चा की रिकॉर्डिंग भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

Kolar News

Kolar News 21 June 2022

प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में इन दिनों नगर निगम चुनाव की हलचल तेज है। जहां इसी के मद्देनजर कांग्रेस भी अब निगम चुनाव के मैदान में जुटी हुई नजर आ रही है। इसी के साथ कांग्रेस ने पार्षद प्रत्याशियों के लिए अंतिम सूची जारी करते हुए 6 वार्डों के पार्षद प्रत्याशियों का एलान किया है। जिसमें वार्ड क्रमांक 2 से यास्मीन मंसूरी, वार्ड क्रमांक 8 से रुखसाना असलम, वार्ड क्रमांक 74 से शिखा भंडारी, वार्ड क्रमांक 76 से सीमा सोलंकी, वार्ड क्रमांक 80 से तन्मय चोहान और वार्ड क्रमांक 81 नितिन जैन को पार्षद प्रत्याशी बनाया है। कांग्रेस ने इससे पहले लगभग सभी वार्डों के पार्षद प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया था। लेकिन 6 वार्डों के पार्षद प्रत्याशियों का ऐलान नामांकन वापसी के 2 दिन पहले किया गया। कुल मिलाकर देखा जाए तो वह लंबे मंथन के बाद कांग्रेस ने इन 6 वार्डों के पार्षद प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की है।  जहां अब देखने वाली बात होगी कि कांग्रेस इन 6 वार्डों में अपना किस तरह का प्रदर्शन दिखा पाती है।  कांग्रेस के पार्षद प्रत्याशी भी इन दिनों लगातार अपने वार्डों में जनसंपर्क करते नजर आ रहे हैं। जहां कांग्रेस इस बार नगर निगम चुनाव जीतने के लिए अपना पूरा दम लगाती दिखाई दे रही है। उधर, कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी संजय शुक्ला भी लगातार जनसंपर्क करते नजर आ रहे हैं। अलग-अलग वार्डों में संजय शुक्ला का जनसंपर्क जारी है। इंदौर नगर निगम चुनाव के विभिन्न वार्डों में कांग्रेस संगठन की ओर से तय किए गए, प्रत्याशियों के चयन के बाद नाराज हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं से समन्वय बिठाने, और उनकी नाराज़गी दूर करने के उद्देश्य से इंदौर शहर कांग्रेस कमेटी ने डेमेज कंट्रोल एवं समन्वय समिति का गठन किया है। विधानसभा वार बनाई गई इस समन्वय समिति में तमाम वरिष्ठ नेताओं को जगह दी गई है।   

Kolar News

Kolar News 21 June 2022

मध्यप्रदेश में मंगलवार को बीजेपी का दामन पकड़ने वाले बसपा, सपा और निर्दलीय विधायकों पर पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने तंज कसा है। उन्होंने कहा कि बसपा विधायक संजीव कुशवाहा, सपा विधायक राजेश शुक्ला निर्दलीय विधायक विक्रम राणा बीजेपी में शामिल हुए है । इस समय BJP घबराई हुई है कांग्रेस में 16 नगर निगमो के 15 महापौर के उम्मीदवार चार दिन पहले तय हो चुके है। सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि बीजेपी इतने दिन में भी एक भी महापौर उम्मीदवार तय नही कर पाई, BJP की बैठक में ज्योतिरादित्य सिंधिया आते है तो जयभान सिंह पवैया भाग जाते है और नरेंद्र सिंह तोमर आते है तो सिंधिया भाग जाते है, भाजपा की बैठक पूरी नही हो पा रही, CM शिवराज को दिल्ली भागना पड़ रहा है, कुछ विधायकों को लाकर माहौल बनाया जा रहा, ताकि यह बताया जा सकें कि BJP की अच्छी स्थिति है, विधायक अपनी पार्टी छोड़ कर आ रहे है और यह तीनो विधायक 2023 के विधानसभा चुनाव में बहुत सारे वोट से हार रहे है।

Kolar News

Kolar News 21 June 2022

मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित राज्य सेवा एवं वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा- 2021 में कश्मीर को लेकर पूछे गए विवादित प्रश्न पर मचे बवाल के बाद मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बड़ा बयान सामने आया है। गृह मंत्री के निर्देश के बाद आयोग ने पेपर बनाने वाले दो लोगों पर कड़ी कार्रवाई की है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि MPPSC की राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 में उम्मीदवारों से इस तरह का सवाल पूछना गलत है, ये आपत्तिजनक है, यह प्रश्न पत्र जिन 2 लोगो ने बनाया है, उन्हें आयोग ने नोटिस दिया गया है। दोनों को देशभर में निषेद कर दिया गया है और इसकी सूचना सभी जगह दे दी गई है।अब इनसे देशभर में कोई काम नहीं लिया जाएगा। वही उच्च शिक्षा विभाग और मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग को कार्रवाई करने को कहा गया है। दरअसल, MPPSC की प्रारंभिक परीक्षा के दूसरे पेपर में कश्मीर को लेकर विवादस्पद प्रश्न पूछा गया था कि क्या भारत को कश्मीर को पाकिस्तान को दे देने का निर्णय कर लेना चाहिए ?सवाल के जवाब में दो तर्क दिए गए थे। पहला हां, इससे भारत का बहुत सा धन बचेगा। दूसरा नहीं, ऐसे निर्णय से इसी तरह की और भी मांगे बढ़ जाएंगी।छात्रों को प्रश्नों के उत्तर देने के लिए तर्क भी दिए गए थे, जिसके आधार पर उन्हें अपने उत्तर विकल्पों का चयन करना था। हालांकि ज्यादातर अभ्यर्थियों ने डी ऑप्शन पर टिक किया, जिसमें ए और बी दोनों को ही गैर बाजिव बताया गया था।   प्रश्न संख्या 48 में पूछा गया कि क्या भारत को कश्मीर पाकिस्तान को देने का फैसला करना चाहिए? और छात्रों को प्रश्न के साथ चुनने के लिए दो तर्क भी दिए।   तर्क 1. हां, इससे भारत का धन बचेगा। तर्क 2. नहीं, इस तरह के निर्णय से समान मांगों में और वृद्धि होगी। उत्तर- ए- “तर्क 1” मजबूत है। बी- तर्क 2 मजबूत होता है। सी- तर्क 1 और तर्क 2 दोनों मजबूत हैं। डी- तर्क 1 और 2 दोनों ही मजबूत नहीं हैं।

Kolar News

Kolar News 21 June 2022

केंद्र की अग्निपथ योजना को लेकर भाजपा शासित मध्य प्रदेश सहित देश के कई हिस्सों में विरोध के बीच कांग्रेस के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने शनिवार को आरोप लगाया कि यह योजना रक्षा सेवाओं के युवा उम्मीदवारों के सपनों को खत्म कर देगी। उन्होंने कहा, संसद में बहस करें, पूर्व जनरलों से बात करें और विशेषज्ञों से सलाह लें कि यह नीति देश के लिए अच्छी है या नहीं। तन्खा ने आरोप लगाया कि एक मंत्रालय में तैयार की गई नीति इसे अच्छा नहीं बनाती है, यदि हितधारक और देश इसे मंजूरी नहीं देते हैं, यह एक दोषपूर्ण नीति है। उन्होंने कहा, ऐसा ही कृषि कानूनों के साथ हुआ। उन्होंने उम्मीदवारों से हिंसा का सहारा लेने के बजाय शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने और सार्वजनिक संपत्तियों में तोड़फोड़ ना करने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि संपत्ति देश की है। ग्वालियर और इंदौर में युवकों ने हिंसक प्रदर्शन किया। उन्होंने गुरुवार और शुक्रवार को मध्य प्रदेश में ग्वालियर, इंदौर और कुछ अन्य स्थानों पर रेलवे संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया, वाहनों को आग लगा दी, सार्वजनिक स्थानों पर हंगामा किया। मध्य प्रदेश में, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के बावजूद विरोध प्रदर्शन किया गया था कि राज्य पुलिस सेवाओं में अग्निवीर (जिन्हें भारतीय बलों द्वारा चुना और प्रशिक्षित किया जाएगा) को वरीयता दी जाएगी। राज्य पुलिस के अनुसार, ग्वालियर और इंदौर में हिंसा के मामले में मध्य प्रदेश में अब तक लगभग 70 युवकों को गिरफ्तार किया गया है। घटना में एक एसआई और दो कांस्टेबल समेत तीन पुलिसकर्मी भी घायल हो गए। इससे पहले शनिवार को, अग्निपथ योजना पर बढ़ते तनाव के मद्देनजर, केंद्र ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) को जारी आंदोलन से निपटने के लिए एक चेतावनी नोट भेजा है।

Kolar News

Kolar News 20 June 2022

पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव के बाद मध्य प्रदेश विधानसभा के मॉनसून सत्र (MP Legislative Assembly) का ऐलान हो सकता है। संभावना जताई जा रही है कि 18 जुलाई को निकाय के चुनावी नतीजे आने के एक हफ्ते बाद 25 जुलाई से मानसून सत्र शुरू हो सकता है। हाल ही में वरिष्ठ कांग्रेस नेता और नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने मध्य प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर जल्द सत्र बुलाने की मांग की थी। जानकारी के अनुसार,  यह सत्र पांच दिन चलेगा। इसमें सरकार वित्तीय वर्ष 2022-23 का प्रथम अनुपूरक अनुमान (बजट), मध्य प्रदेश नगर पालिक विधि संशोधन और भू-राजस्व संहिता संशोधन विधेयक आदि कई विधेयक प्रस्तुत किए जाएंगे। संभावना है कि जून अंत तक इसकी अधिसूचना जारी हो जाएगी। इससे विधायकों को प्रश्न, ध्यानाकर्षण, याचिका और शून्यकाल की सूचना देने के लिए  समय मिल सकेगा। मानसून सत्र के दौरान वित्त विभाग वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए प्रथम अनुपूरक अनुमान प्रस्तुत करेगा। इसके 5 हजार करोड़ रुपये से अधिक रहने की संभावना है।मध्य प्रदेश राजस्व मंडल में खंडपीठ गठित करने की व्यवस्था के लिए भू-राजस्व संहिता में अध्यादेश के माध्यम से किए गए संशोधन के स्थान पर विधेयक प्रस्तुत किया जाएगा।इसके अलावा महापौर का चुनाव सीधे जनता के माध्यम से कराने के लिए मध्य प्रदेश नगर पालिक विधि अधिनियम में अध्यादेश के माध्यम से किए गए संशोधन के स्थान पर संशोधन विधेयक भी प्रस्तुत किया जा सकता है।

Kolar News

Kolar News 20 June 2022

प्रदेश भाजपा ने इंदौर में कुख्यात गैंगस्टर युवराज उस्ताद की पत्नी स्वाति काशिद को वार्ड 56 से पार्षद पद का टिकट रद्द कर दिया है। यह हुआ है पत्रिका में 18 जून को खबर प्रकाशित होने के बाद। बात दिल्ली तक पहुंची। वहां से फटकार लगी तो प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने शनिवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि भाजपा इस मामले में जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम कर रही है, इसलिए टिकट वापस लिया जाता है। दरअसल, संभागीय चयन समिति ने शुक्रवार को उम्मीदवार घोषित किए थे। नंदाबाई गावड़े का नाम हटाकर स्वाति युवराज काशिद को टिकट दे दिया। इससे बवाल मच गया। पार्टी में असंतोष था, लेकिन कोई खुलकर नहीं बोल रहा था। युवराज पर दो हत्या के मामले दर्ज हुए थे। चर्चित जीतू ठाकुर हत्याकांड में बरी होने के फैसले के खिलाफ शासन ने गुरुवार को ही हाई कोर्ट में अपील भी की थी। भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, विधायक रमेश मेंदोला की शह पर चयन समिति ने युवराज की पत्नी को टिकट दिया था। खबर प्रकाशित होने के बाद सत्ता-संगठन में खलबली मच गई। सीएम शिवराज सिंह, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा तक स्वाति के पति की आपराधिक पृष्ठभूमि का रिकॉर्ड पहुंच गया। टिकट रद्द करने का निर्णय लिया जाए। इसकी घोषणा वीडी ने की। अब नंदाबाई गावडे के बेटे गजानंद पार्षद पद का चुनाव लड़ेंगे। गैंगस्टर की पत्नी को टिकट दिलाने के पीछे का गठजोड़ सामने आया तो बात दिल्ली तक भी पहुंची। स्थानीय नेताओं पर सीएम, वीडी और हितानंद नाराज हुए। फटकार लगी। सभी अनजान बनते रहे और दूसरे क्रम के नेताओं पर जिम्मेदारी डाल दी। आपराधिक पृष्ठभूमि से जुड़े पार्षद प्रत्याशी का टिकट वापस लेकर भाजपा ने अपनी गलती पर सराहनीय सुधार किया है। सभी दलों को राजनीति को 'उजला' रखने के लिए कटिबद्ध रहना चाहिए। पता रखना चाहिए कि समाज कंटकों को पार्टियों के नजदीक कौन ला रहा है? जो यह कृत्य कर रहा है, वही सबसे बड़ा दोषी है। वसूली, गुंडागर्दी और माफिया को आश्रय देने वाले नेता कभी भी लोकतंत्र के लिए फायदेमंद नहीं होते। वे जनता के होते ही नहीं हैं। गैंगस्टरों को पाल-पोसकर दबंग छवि से राजनीतिक दलों को ब्लैकमेल करते रहते हैं। बेहतर होगा, भाजपा-कांग्रेस दोनों ही दल इन विष-बेलों को जड़ों से उखाड़ फेंकें।

Kolar News

Kolar News 19 June 2022

इसे कहते हैं किस्मत, अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली में अपने पार्टी मुख्यालय में मध्य प्रदेश का नक्शा तक नहीं लगाया और मध्यप्रदेश में उसे जबरदस्त फायदा हो रहा है। भारतीय जनता पार्टी से असंतुष्ट, आम आदमी पार्टी में जा रहे हैं। सिलसिला शुरू हो चुका है और बढ़ता ही जाएगा। ताजा खबर आई है कि मध्य प्रदेश के दिग्गज विधायक केजरीवाल से मिलने दिल्ली तक जा चुके हैं। ग्वालियर में महिला कांग्रेस की जिला अध्यक्ष ने पार्टी से इस्तीफा देकर आम आदमी पार्टी जॉइन कर ली। आप ने उन्हें महापौर पद का प्रत्याशी घोषित किया है। जमीनी स्तर के कई नेता जो पार्षद पद का टिकट चाहते थे, आम आदमी पार्टी के संपर्क में है। भारतीय जनता पार्टी में ऐसे असंतुष्ट नेताओं की संख्या ज्यादा है। इसलिए अनुमान लगाया जा सकता है कि सन 2022-23 में सबसे ज्यादा नुकसान भाजपा को होगा।  इतिहास गवाह है। मध्यप्रदेश में जातिवाद के आधार पर राजनीति करने आई किसी भी पार्टी को कोई तवज्जो नहीं मिली। भारतीय जनता पार्टी के जमीनी कार्यकर्ता अपनी विचारधारा से बंधे होते हैं। यदि बड़े नेताओं के कारण उनके साथ अन्याय भी हो जाए, तब भी वह विचारधारा नहीं त्याग पाते। इसलिए कांग्रेस पार्टी में कभी नहीं जाते, सपा और बसपा में भी नहीं जाते लेकिन उन्हें लगता है कि आम आदमी पार्टी एक अच्छा विकल्प है। अपनी विचारधारा जैसी ही तो है।

Kolar News

Kolar News 18 June 2022

भारतीय जनता पार्टी में कुछ वार्डों में पार्षदों को टिकट मिलने के सोशल मीडिया पर वायरल हुए मैसेज के बाद लोग विरोध में उतर आए। अपने समर्थको के साथ दावेदारों ने नेताओं के घर पहुंचकर अपना विरोध जताया। वहीं जिन लोगों को टिकट देने के नाम सामने आए, उनकी पार्टी विरोधी गतिविधियों की जानकारी वरिष्ठ नेताओं को दी गई। स्थिति यह रही कि टिकट वितरण में बढ़ती नाराजगी के चलते भोपाल से पूर्व संगठन मंत्री जितेंद्र लिटोरिया शहर पहुंचे और सामंजस्य बनाने में जुट गए। बावजूद इसके शाम तक नाराज दावेदार विरोध करते रहे। भाजपा की ओर से पार्षदों के नामों को दो दिनों से अंतिम रूप दिया जा रहा है लेकिन नामों की घोषणा नहीं हो पाई। वहीं गुरुवार को सोशल मीडिया पर करीब 20 सीटों पर प्रत्याशियों के नाम तय होने की सूची वायरल हो गई । इसी के बाद अलग-अलग वार्डों से अन्य दावेदार विरोध में उतर आए। इनका कहना था जिन्होंने बागी चुनाव लड़ा, पार्टी के विरोध में कार्य किया उन्हें टिकट दिए जा रहे हैं। यहां तक वरिष्ठ नेता वाजिब उम्मीदवार की जगह अपने पठ्ठों का टिकट दिला रहे हैं। इसी के चलते गुस्साए दावेदार अपने समर्थकों के साथ विधायक पारस जैन, सांसद फिरोजिया सहित अन्य नेताओं के पास पहुंचकर विरोध जताया और जिताउ उम्मीदवार को टिकट दिए जाने की मांग की गई। वहीं पार्टी स्तर पर भी टिकट वितरण में बढ़ते विरोध के चलते भोपाल से पूर्व संगठन महामंत्री जितेंद्र लिटोरिया को शहर भेजा गया। बताया जा रहा है कि उन्होंने वार्ड 29 व 23 सहित अन्य वार्डों में टिकट वितरण को लेकर चर्चा भी करने की बात हालांकि शाम तक कुछ वार्डों पर टिकट को लेकर फैसला नहीं हो पाया। टिकट को लेकर इन वार्डों में विरोध● वार्ड क्रमांक 29 से रामेश्वर दुबे को टिकट दिए जाने की बात सामने आई। इस पर जमकर विरोध हुआ। वार्ड के अन्य उम्मीदवार अपने समर्थकों के साथ पारस जैन और अनिल जैन कालूखेड़ा के पास पहुंचे। उनका कहना था पिछले चुनाव में रामेश्वर दुबे निर्दलीय चुनाव लड़ा था। इन्होंने मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखाए थे, ऐसे व्यक्ति को टिकट क्यों दिया जा रहा है।● वार्ड क्रमांक 23 से कपिल कटारिया को टिकट दिए जाने का विरोध होना भी सामने आया है। कटारिया सांसद समर्थक होना बताया जा रहा है। वहीं इस सीट पर रजत मेहता भी दावेदार हैं। मेहता विधायक जैन समर्थक है।● वार्ड क्रमांक 8 में टिकट गजेंद्र हिरवे को टिकट दिए जाने की बात सामने आई। यहां से अजा मोर्चा के महामंत्री अनिल सिंगल को टिकट दिए जाने की मांग की जा रही है। इसको लेकर उनके समर्थक पारस जैन के घर पहुंच गए थे।

Kolar News

Kolar News 18 June 2022

छिंदवाड़ा नगर निगम चुनाव में टिकट वितरण का असंतोष अभी भी जारी है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों में टिकट न मिलने से नाराज कार्यकर्ता खुलेआम निर्दलीय चुनाव लड़ने का दावा कर बगावत पर उतर आए हैं। कांग्रेस में जहां महापौर प्रत्याशी को लेकर आदिवासी विकास परिषद का गठन कर कांग्रेस के कुछ आदिवासी नेता हर वार्ड में निर्दलीय प्रत्याशी उतारने का दावा कर रहे हैं, वही महापौर के लिए भी अलग से नामांकन दाखिल करने की चेतावनी दी जा रही है। कुछ ऐसा ही हाल भाजपा में भी है। यहां भी महापौर प्रत्याशी को लेकर कुछ नेता बगावत पर उतारू होकर चुनाव में पार्टी लाइन के बाहर काम करने की चेतावनी दे रहे हैं। सबसे ज्यादा असंतोष वार्ड पार्षद की टिकट के बाद उभरकर सामने आ रहा है। बागियों के रुख देखकर दोनों ही प्रमुख दलों के वरिष्ठ नेताओं के चेहरे पर शिकन आ गई है, जो चुनाव परिणामों को लेकर असमंजस में पड़ गए हैं। दरअसल, महापौर पद के चुनावों के लिए भाजपा ने अनंत धुर्वे और कांग्रेस ने विक्रम अहाके को चुना है।  भाजपा के हाल भी बहुत अच्छे नहीं है। भाजपा में भी ऐन वक्त पर जितेंद्र शाह की टिकट फाइनल होने के बाद अनंत धुर्वे को महापौर प्रत्याशी बना दिया। इसे लेकर भाजपा के कुछ नेताओं में नाराजगी बनी हुई है। पार्षद उम्मीदवार न बनाए जाने से नाराज कार्यकर्ता अधिक है, जो निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में भविष्य आजमाना चाहते हैं। सवाल यह उठ रहा है कि क्या यह बागी समीकरण को बदल कर रख देंगे।  हर्रई राजमहल परिवार की बेटी और पूर्व महिला कांग्रेस अध्यक्ष कामिनी शाह कांग्रेस के प्रत्याशी विक्रम अहाके को चुनौती दे रही हैं। उन्होंने आदिवासी विकास परिषद के बैनर तले कांग्रेस नेताओं को जोड़ा और बगावत का बिगुल फूंक दिया। उन्होंने बालाराम परतेती को निर्दलीय महापौर प्रत्याशी लड़ाने की घोषणा कर दी है। उनके साथ राघवेंद्र शाह और अन्य कांग्रेस नेता भी बगावत कर सकते हैं। कांग्रेस के बागी हर वार्ड निर्दलीय चुनाव लड़ने की तैयारी में है। उन्होंने नामांकन दाखिल करने की चुनौती तक दे दी है।

Kolar News

Kolar News 17 June 2022

मध्य प्रदेश के भिंड-मुरैना सहित आधा दर्जन कलेक्टरों ने पंचायतों में मतगणना कराने से हाथ खड़े कर दिए हैं। इन जिलों के कलेक्टरों ने मप्र राज्य निर्वाचन आयोग से पंचायतों में मतगणना के दौरान कानून-व्यवस्था में दिक्कतें आने की आशंका जाहिर की है। कलेक्टरों ने मतगणना ब्लाक स्तर पर कराने के संबंध में आयोग से अनुमति मांगी है। मप्र राज्य निर्वाचन आयोग ने इन कलेक्टरों से मतगणना के संबंध में प्रस्ताव बुलाया है, जिसमें उन्हें मतदान केन्द्रों और ब्लाक की दूरी, मतपेटियों को रखने की जानकारी देनी होगी। पहली बार ऐसा हो रहा है जब कलेक्टरों ने पंचायतों में मतगणना कराने से पीछे हट रहे हैं। इससे भिंड, मुरैना, टीकमगढ़, सीधी, शिवपुरी और दतिया जिले के सरपंच पदों की मतगणना वोटिंग के दिन नहीं होगी। इन जिलों में पंच-सरपंच पदों की मतगणना जनपद पंचायत सदस्यों के साथ की जाएगी। भारी सुरक्षा-व्यवस्था के साथ पंचायतों से मतपेटियां ब्लाक में ले जाई जाएंगी, वहां इन्हें स्ट्रांग रूम में सुरक्षित रखा जाएगा। स्ट्रांग रूम में सुरक्षा व्यवस्था के साथ सीसीटीवी कैमरे में लगाए जाएंगे। आयोग की अधिसूचना के अनुसार सरपंचों पदों की मतगणना और मतदान एक ही दिन तय किया गया है। इसी के चलते मतदान की प्रक्रिया सिर्फ तीन बजे तक तय की गई है। इसके बाद पंच और सरपंच पदों की मतगणना का काम शुरू हो जाता है और परिणाम भी घोषित हो जाते है, लेकिन उन्हें प्रमाण पत्र ब्लाक स्तर पर आरओ के जरिए दिया जाता है। भिंड और मुरैना जिले के कलेक्टरों ने मतदान के दौरान अतिरिक्त सुरक्षा बल की मांग की है। इन जिलों के कलेक्टरों ने कानून-व्यवस्था के लिहाज से आयोग को पत्र लिखकर केन्द्रीय पुलिस बल की भी मांग की है। इन जिलों में सबसे ज्यादा संवेदनशील और अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र हैं। बताया जाता है कि इन जिलों में कुछ क्षेत्रों में स्थानीय पुलिस के अलावा अतिरिक्त पुलिस बल अभी से तैनात कर दिए गए हैं, जो मतगणना तक रहेंगे।

Kolar News

Kolar News 17 June 2022

- दिग्विजय सिंह पर कसा तंज, कहा- हम तो कहीं के भी नहीं रहे सनम  - पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के वायरल ऑडियो पर भाजपा प्रवक्ता ने दी प्रतिक्रिया भोपाल। कांग्रेस एक ऐसी विचारधारा वाली पार्टी है, जिसकी जड़ाें में भ्रष्टाचार कूट कूट कर भरा है। यह पार्टी न कभी माताओं का सम्मान करती आई है और न ही कभी बहनों को इज्जत कांग्रेस पार्टी से मिली है। जितनी अभद्रता, गंदी बातचीत और अश्लीलता सज्जन सिंह वर्मा ने अपने शब्दों के जरिए उस कार्यकर्ता से की है। यह उनके असली चरित्र को उजागर करता है। यह कहना है भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश केसवानी का। डॉ. केसवानी ने पूरे मामले पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि सज्जन सिंह वर्मा को तो दुर्जन सिंह वर्मा कहा जाना चाहिए। इसके पहले सज्जन सिंह जिन्ना का भी महिमा मंडन कर चुके हैं।  दरअसल केसवानी उस वायरल ऑडियो पर प्रतिक्रया दे रहे थे। जिसमें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा अपने एक राजपूत कार्यकर्ता से बातचीत करते हुए गंदे शब्दों और माताओं बहनों की इज्जत तारतार करने वाली गालियों का जोरदार प्रयोग कर रहे थे। इस दौरान सज्जन सिंह वर्मा को कार्यकर्ता से कहते सुना जा सकता है कि टिकट तेरे बाप दिग्विजय सिंह ने दिलाई है। इसके बाद वे ताबड़तोड़ गालियां बकना शुरू कर देते हैं। ऑडियो में वर्मा की जुबान लड़खड़ा भी रही है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि बातचीत के दौरान उन्होंने जमकर शराब भी पी रखी होगी।     कहीं के भी नहीं रहे दिग्विजय : डॉ. केसवानी ने कहा कि इससे पहले भी सज्जन सिंह वर्मा दिग्विजय सिंह को अपशब्द कह चुके हैं। वहीं उमंग सिंघार भी उन्हें ब्लैक मेलर कह चुके हैं। ऐसे में एक बार फिर उनको बाप कहकर संबोधित किया जाना बता रहा है कि वे कहीं के भी नहीं रहे हैं। दिग्विजय के लिए यह कहावत बिल्कुल फिट बैठती है कि मुझे तो अपनो ने लूटा गैरों में कहां दम था, मेरी किस्ती भी वहां डूबी जहां पानी कम था।    इतनी गंदी बातचीत कभी भी नहीं सुनी :  पूरे मामले पर नाराजगी जताते हुए भाजपा प्रवक्ता डॉ. केसवानी ने कहा कि मैंने आज तक किसी भी जनप्रतिनिधि से इतने गंदे शब्द न सुने और न ही कभी किसी को अपने सामने कहते देखा। यदि पूर्व मंत्री खुलेआम इतनी गंदी बयानबाजी कर रहे हैं, तो अकेले में वे क्या क्या गुल खिलाते होंगे। वो उनकी बातचीत से ही जगजाहिर हो रहा है। वहीं अपनी बातचीत से समझ आ रहा है कि सज्जन सिंह वर्मा ने इस दौरान जमकर शराब पी रखी होगी। असल में कांग्रेस की असलियत यही है, शराब, कबाब और शबाब। इससे ज्यादा न कांग्रेस कभी सोच पाई है और न ही कभी सोच पाएगी।    यह है मामला :  कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा अपनी विधानसभा सोनकच्छ के एक कार्यकर्ता से बातचीत करने के दौरान अपना आपा खो बैठे और कार्यकर्ता की घर की महिलाओं माताओं और बहनों को टारगेट करते हुए गंदी गंदी गालियां बकने लगे। इस दौरान कार्यकर्ता से भी अश्लील बातचीत करने हुए देखे जा सकते हैं। बताया जा रहा है कि कांग्रेस का यह राजपूत कार्यकर्ता देवास महापौर पद के लिए ब्राह्मण प्रत्याशी को दावेदार बनाए जाने पर बातचीत कर रहा था और बोल रहा था कि क्या ब्राह्मण वोट बैंक से ही कांग्रेस यह सीट जीत लेगी। इस दौरान सज्जन सिंह वर्मा बार बार एक बड़े अखबार का नाम लेते हुए उससे जानकारी लेने की बात कहते दिखे और थोड़ी देर बाद खुद को थका हुआ बोलकर अपना आपा खो बैठे और अनर्गल बयानबाजी करने लगे। इस दौरान उन्होंने कार्यकता से कहा कि वे अखबार पढें क्योंकि टिकट तेरे बाप दिग्विजय सिंह ने दिलवाई है।

Kolar News

Kolar News 16 June 2022

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केंद्र सरकार की अग्निवीर योजना पर सवाल उठाए है उन्होंने कहा की देश की सुरक्षा शासन का पहला दायित्व है और इसमें सेना की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण और अग्रणी है। देश की सेवा और सुरक्षा के लिए भारत की सेना में भर्ती की पिछले 70 साल की व्यवस्था है।  सैनिक रिटायरमेंट तक या 14 साल तक देश की सेवा और सुरक्षा करे, भरपूर वेतन और सम्मानजनक रोजगार पाए, फिर सुरक्षित भविष्य के साथ घर जाए। लेकिन सरकार ने सिर्फ रोजगार बढ़ाने के दिखावे के लिए सेना भर्ती की नई व्यवस्था की है। केवल 4 साल अल्प वेतन देने वाली “शॉर्ट टर्म” सैनिक भर्ती व्यवस्था और फिर घर जाइए। यह बेरोजगार युवाओं से धोखा है, देश के गौरव हमारे सैनिकों, जो प्रशिक्षित, सुसज्जित और योग्यता से परिपूर्ण होते हैं,जो देश सेवा और जज्बे का ऐसा कम मूल्यांकन और उससे भी महत्वपूर्ण, हमारे देश की रक्षा के लिए ” शॉर्ट टर्म ” सोच और योजना, अब क्या ऐसी “टेंपरेरी अप्रोच” से भारत भूमि की रक्षा होगी और ऐसे भारत माता के सम्मान की सुरक्षा होगी। असली राष्ट्रभक्ति सामने आ रही है, यह अग्निपथ है या अग्निकुंड है। इंडियन आर्मी, नेवी और एयरफोर्स में सैनिकों की 4 साल के लिए भर्ती होगी। आर्मी में सैनिक (जवान), नेवी में नाविक और एयरफोर्स में एयरमैन की जो भर्ती है, वो भर्तियां अब इस योजना के तहत होंगी। जो सैनिक भर्ती होंगे, उन्हें अग्निवीर नाम दिया जाएगा। 4 साल के बाद 75 फीसदी सैनिकों को घर भेज दिया जाएगा। शेष 25 फीसदी अग्निवीरों को स्थायी जवान नियुक्त किया जाएगा। इसकी प्रक्रिया तय की जाएगी जिसमें ‘अग्निवीर‘ स्थायी होने के लिए आवेदन देंगे। अग्निपथ योजना सिर्फ जवानों के लिए है। यह योजना अफसरों पर लागू नहीं होगी। सेवा अधिकारी रैंक से नीचे के कर्मियों के लिए यह योजना होगी। नई योजना मौजूदा जवानों की खुली भर्ती की जगह ही लाई गई है। अभी जनरल ड्यूटी के अलावा, क्लर्क, स्टोर कीपर, ट्रेडमैन, नर्सिंग असिस्टेंट जैसे पदों के लिए खुली भर्ती होती है। आर्मी, नेवी और एयरफोर्स में वर्तमान में जवानों की जो भर्ती प्रक्रिया है, वो नहीं बदलेगी। यानी अग्निवीरों का चयन मौजूदा चयन प्रक्रिया से ही होगा। सेनाओं में अभी शॉर्ट सर्विस कमीशन के जरिए 10 साल के लिए अफसरों की नियुक्ति होती है जिसे 14 साल तक बढ़ाया जाता है। इस व्यवस्था में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

Kolar News

Kolar News 16 June 2022

मध्य प्रदेश के पंचायत चुनाव में कई रंग देखने को मिल रहे हैं। कई जगहों पर जहां समरस पंचायत की तस्वीर देखने को मिल रही है, वहीं कई जगह जंग अपनों के ही बीच है। ताजा मामला भिंड का है। यहां की ग्राम पंचायत कल्याणपुरा में देवरानी, जेठानी और बहू एक साथ चुनावी मैदान में हैं। भिंड जिले की मेहगांव विधानसभा के अंतर्गत आने वाली कल्याणपुर में सरपंच की सीट पर एक ही परिवार की तीन महिलाओं के उतरने से मुकाबला रोचक हो गया है। जानकारी के मुताबिक, इस सीट से राधेश्याम नरवरिया वर्तमान सरपंच हैं। इस बार उनके बड़े भाई विक्रम सिंह चुनाव लड़ने की तैयारी में थे। वहीं जब सीट महिलाओं के लिए आरक्षित हो गई तो विक्रम ने अपनी पत्नी कमला देवी को चुनावी मैदान में उतार दिया। वहीं राधेश्याम ने अपनी पत्नी शीला को भी इस चुनाव में उतार दिया। चुनाव में जहां देवरानी-जेठानी गांव के मतदाताओं को साधने की जुगत भिड़ा रही हैं, वहीं उनके भतीजे की पत्नी रचना भी चुनावी मैदान में हैं। रचना खुद को युवा और पढ़ा लिखा प्रत्याशी बताते हुए वोट मांग रही हैं। रचना ने राजनीति शास्त्र से एमए करने के बाद बीएड किया है। आपको बता दें कि मध्यप्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन में नाम वापसी के बाद जिला पंचायत का एक, जनपद पंचायत के 157 सदस्य और 636 पंचायतों में सरपंच निर्विरोध निर्वाचित हो चुके हैं। जिला पंचायत सदस्य के 875, जनपद पंचायत सदस्य के 6771 और सरपंच के 22921 पद तथा पंच के लिए 3 लाख 63 हजार 726 पदों पर निर्वाचन हो रहा है।

Kolar News

Kolar News 16 June 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डॉक्टर निशांत खरे और मधु वर्मा के नाम पर विचार करने का सुझाव दिया था। जबकि पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने विधायक रमेश मेंदोला का नाम आगे कर दिया था। मध्य प्रदेश में निकाय चुनाव के लिए बचे तीन में से दो और महापौर उम्मीदवारों की घोषणा बीजेपी ने बुधवार को कर दी। पार्टी ने इंदौर से पुष्यमित्र भार्गव और रतलाम से प्रहलाद पटेल के नामों पर मुहर लगा दी है। अब केवल ग्वालियर के महापौर प्रत्याशी की घोषणा बाकी है। वहां से पार्टी की चर्चित नेता माया सिंह और सुमन वर्मा के नामों पर मंथन चल रहा है। कांग्रेस भी 15 नगर निगमों में महापौर प्रत्याशियों की घोषणा कर चुकी है, लेकिन रतलाम सीट अभी भी बाकी है। बीजेपी ने अब तक घोषित 15 में से 7 महिलाओं को टिकट दिया है। देवास से गीता अग्रवाल, सागर से संगीता तिवारी, खंडवा से अमृता यादव, मुरैना से मीना जाटव, कटनी से ज्योति दीक्षित, बुरहानपुर से माधुरी पटेल और भोपाल से मालती राय को उम्मीदवार बनाया गया है।  इस बीच, इंदौर से बीजेपी के महापौर प्रत्याशी के रूप में सुबह नाम फाइनल होने के बाद पुष्यमित्र भार्गव ने हाई कोर्ट के अतिरिक्त महाधिवक्ता पद से इस्तीफा दे दिया। पुष्यमित्र मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के सबसे युवा अतिरिक्त महाधिवक्ता चुने गए थे। इंदौर से कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी विधायक संजय शुक्ला हैं, जिनके नामांकन में आज पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस नेता कमलनाथ भी शामिल हुए। 41 वर्षीय पुष्यमित्र भार्गव ने छात्र जीवन से राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। वे एबीवीपी से जुड़े रहे हैं। रतलाम से उम्मीदवार चुने गए प्रहलाद पटेल पार्षद रहे चुके हैं। मंथन के दौरान रतलाम जिले से पूर्व नगर निगम अध्यक्ष अशोक पोरवाल और पिछड़े वर्ग के नेता दिनेश राठौर के नामों पर भी विचार किया गया, लेकिन अंतत: प्रहलाद पटेल के नाम पर मुहर लगी। बीजेपी ने 16 में सें 13 उम्मीदवारों की घोषणा मंगलवार को कर दी थी। इंदौर, रतलाम और ग्वालियर के नाम फाइनल होने रह गए थे। इंदौर में कई दावेदार और कांग्रेस से विधायक संजय शुक्ला के प्रत्याशी होने की वजह से कल शाम तक किसी के नाम पर औपचारिक मुहर नहीं लग पाई थी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डॉक्टर निशांत खरे और मधु वर्मा के नाम पर विचार करने का सुझाव दिया था। दूसरी तरफ पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने विधायक रमेश मेंदोला का नाम आगे कर दिया था। बताया जा रहा है कि पुष्यमित्र भार्गव का नाम प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने प्रस्तावित किया। किसी एक के नाम पर सहमति न बन पाने से पार्टी ने 16 में से 13 प्रत्याशियों की घोषणा कल कर दी। इसके बाद इंदौर के विधायकों को भोपाल बुलाया गया और आपसी सहमति बनाने का प्रयास किया गया। उसके बाद पुष्यमित्र भार्गव के नाम पर अंतिम मुहर लग पाई।

Kolar News

Kolar News 15 June 2022

मध्य प्रदेश में साल 2023 में विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन राजनैतिक दलों में अभी से घमासान शुरू हो गया है। मंगलवार को बीजेपी के सियासी दांव के चलते प्रदेश की 230 सदस्यीय विधानसभा में सपा का कोई विधायक नहीं बचा है। सपा विधायक रहे राजेश शुक्ला ने भाजपा का दामन थाम लिया और उसके बाद सपा की मध्य प्रदेश इकाई के अध्यक्ष रामायण पटेल ने बीजेपी और प्रदेश सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि प्रदेश की सत्तारूढ़ भाजपा अपनी धनबल का उपयोग कर विपक्षी दलों के विधायकों को तोड़ रही है। प्रदेश में खुलेआम लोकतंत्र की हत्या हो रही है। विधायक राजेश शुक्ला को सपा पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलिप्त होने और भाजपा में शामिल होने पर सपा की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया है। पटेल ने दावा किया है कि हम पूरी तैयारी के साथ विधानसभा चुनाव 2023 लड़ेंगे और मध्य प्रदेश में अगली सरकार सपा के समर्थन के बिना नहीं बनेगी। राजेश शुक्ला ने दल बदल पर कहा कि क्षेत्र विकास के लिए अधिकारियों और मंत्रियों के चक्कर लगाते रहे, निर्वाचन क्षेत्रों में की अनदेखी नहीं कर सकते, अपने क्षेत्रों में विकास के लिए यह कदम उठाया है। मैं समाजवादी पार्टी का विधायक और गठबंधन सहयोगी होने के नाते अपनी समस्याओं के बारे में बात करता रहा हूं, लेकिन कांग्रेस विधायक भी उसी स्थिति का सामना कर रहे हैं। प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के एक-एक और एक निर्दलीय विधायक सहित तीन विधायकों ने मंगलवार को बीजेपी जॉइन कर ली। मध्य प्रदेश के बीजेपी अध्यक्ष वी.डी. शर्मा ने सपा विधायक राजेश कुमार शुक्ला, बसपा विधायक संजीव सिंह कुशवाह और निर्दलीय विधायक विक्रम सिंह राणा को बीजेपी की सदस्यता दिलाई।

Kolar News

Kolar News 15 June 2022

मध्य प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में महिला सशक्तिकरण की ताकत है। इस बार के पंचायत चुनावों में पुरुषों पर महिलाएं भारी हैं। मध्य प्रदेश की 112 पंचायतों में निर्विरोध सरपंच निर्वाचित हुए हैं। इन 112 में से 75 ग्राम पंचायतों में महिलाएं निर्विरोध सरपंच चुनी गई हैं। केवल 37 ग्राम पंचायतों में ही पुरुष सरपंच निर्विरोध चुने गए हैं। इस हिसाब से पूरे प्रदेश में 67 महिलाएं निर्विरोध चुनी गईं। निर्विरोध चुनी जाने वाली ग्राम पंचायतों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सम्मानित भी करेंगे। बता दें कि प्रदेश में 22961 पंचायतें हैं। इसमें से अभी केवल 112 की ही सूची आई है। इसलिए महिला सरपंचों की संख्या में कुछ इजाफा हो सकता है। जिला पंचायत सदस्य, जनपद सदस्य, सरपंच और पंच पदों पर नाम वापसी की अंतिम तिथि 10 जून बीतने के बाद यह तस्वीर सामने आई है। सरपंच पद के लिए पुरुषों से 9,527 और पंच से 24,745 ज्यादा महिला दावेदार मैदान में है। इसके पीछे प्रमुख वजह राज्य सरकार की वह घोषणा है, जिसमें कहा गया है कि जिस भी पंचायत में महिलाएं निर्विरोध चुनी जाएगी, उन्हें 15 लाख की राशि दी जाएगी। महिला प्रत्याशियों की सर्वाधिक दावेदारी चंबल और ग्वालियर संभाग में है। नीमच में जिला पंचायत सदस्य में महिलाओं की संख्या पुरुषों से दुगनी है। हालांकि ज्यादा सरपंच पुरुष बनेंगे। मध्य प्रदेश में समरस ग्राम पंचायतों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सम्मानित करेंगे। इन पंचायतों को 5 लाख से लेकर 15 लाख तक की पुरस्कार राशि दी जाएगी। ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं, उन पंचायतों को पुरस्कार राशि में 5 लाख और सरपंच पद के लिए वर्तमान निर्वाचन और पिछले चुनाव में लगातार निर्विरोध जीतने पर सात लाख की पुरुस्कार राशि दी जाएगी। ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच और पंच निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं, उन पंचायतों को 7 लाख पुरस्कार राशि दी जाएगी। साथ ही ऐसी ग्राम पंचायत जिसके सरपंच और पंच महिलाएं निर्वाचित हुई हैं, उन सभी को 12 लाख रुपये की पुरस्कार राशि दी जाएगी। जिस पंचायत में सरपंच एवं पंच के सभी पदों पर महिलाओं का निर्विरोध निर्वाचन हुआ है, उसे सबसे अधिक 15 लाख रुपए की पुरुस्कार राशि दी जाएगी। सरपंच पद के नामांकन में सीएम के गृह जिले सीहोर में मामला कुछ और है। यहां पुरुष दावेदार महिलाओं से ज्यादा है यहां 1498 पुरुष और 1478 महिलाओं ने नामांकन भरे हैं। उज्जैन में पुरुष 1606 और महिलाएं 1579, मंदसौर में पुरुष 1450 को महिलाएं 1440 वहीं नीमच में पुरुष दावेदार 718 तो महिलाओं की संख्या 697 हैं।  

Kolar News

Kolar News 14 June 2022

मध्य प्रदेश में भाजपा महापौर प्रत्याशियों के नाम पर दो दिन के मंथन के बाद भी पेंच फंसा हुआ है। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात करने दिल्ली पहुंच गए है। ऐसे में चर्चा है कि बीजेपी देर रात तक महापौर प्रत्याशियों की सूची जारी कर सकती है। मध्य प्रदेश बीजेपी के महापौर प्रत्याशियों को लेकर शनिवार देर रात कोर ग्रुप और चुनाव समिति की बैठक हुई। जिसमें पांच सिंगल नामों पर सहमति बनी, लेकिन महानगरों के नामों पर निर्णय नहीं हो सका। इसके बाद रविवार भी अलग-अलग बैठक हुई, लेकिन भोपाल, इंदौर, ग्वालियर में नाम पर एक राय नहीं बन पाई। जिसके बाद मुख्यमंत्री सोमवार सुबह पार्टी कार्यालय में बैठक के बाद दोपहर में दिल्ली पहुंचे। यहां पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह समेत अन्य मंत्रियों से चर्चा करेंगे। पार्टी सूत्रों के अनुसार इंदौर में रमेश मेंदोला ने महापौर का चुनाव लड़ने से इंकार कर दिया है। इसके बाद मालिनी गौड़ का नाम सबसे आगे है। हालांकि, अभी गौरव रणदिवे, पुष्यमित्र भार्गव और डॉ. निशांत खरे के नाम भी हैं।  ग्वालियर में माया सिंह का नाम प्रमुख है। दरअसल, माया सिंह के नाम पर कोई आपत्ति नहीं है। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने समीक्षा गुप्ता का नाम आगे बढ़ाया है। जिस पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आपत्ति जताई है। सिंधिया ने अपनी तरफ से किसी का नाम नहीं दिया है। गुप्ता के नाम पर अनूप मिश्रा और नारायण कुशवाहा को भी आपत्ति है। गुप्ता ने 2018 में नारायण कुशवाहा के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ा था। इसके अलावा सुमन शर्मा का भी नाम है। वहीं, डॉ. वीरा लोहिया का नाम माया सिंह के बाद दूसरे नंबर पर बताया जा रहा है। इसके अलावा जबलपुर में डॉ. जितेंद्र जामदार का नाम तय बताया जा रहा है। हालांकि, पार्टी ने विकल्प के लिए अभिलाष पांडे का नाम भी रखा है। जितेंद्र जामदार मध्य प्रदेश जन अभियान परिषद के उपाध्यक्ष होने के साथ ही राज्यमंत्री दर्जा प्राप्त हैं। उन्हें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और संघ का खास माना जाता है। बता दें बीजेपी ने शनिवार को उज्जैन से मुकेश टटवाल, रतलाम से अशोक पोरवाल, सतना से योगेश ताम्रकार, छिंदवाड़ा से जितेंद्र शाह और बुरहानपुर से माधुरी पटेल का नाम तय किया है। हालांकि अभी बीजेपी की तरफ से आधिकारिक रूप से लिस्ट जारी होने के बाद इन नामों पर मुहर लग सकेंगी।

Kolar News

Kolar News 13 June 2022

रामनवमी पर हिंसा के बाद शिवराज सरकार ने आरोपियों के घरों पर बुलडोजर चलवा दिया था। कोर्ट ने कहा है कि यह मूलभूत अधिकारों का हनन है। दरअसल, इस कार्रवाई को लेकर हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। मध्यप्रदेश के खरगोन में रामनवमी पर हुए दंगों के बाद स्थानीय जिला प्रशासन द्वारा तोड़े गए मकानों के मामले में हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने कहा है कि यह मूलभूत अधिकारों का हनन है। दरअसल, इस कार्रवाई को लेकर हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। जस्टिस प्रणय वर्मा की खंडपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई। खरगोन में रामनवमी पर हुई हिंसा के बाद जिला प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए कई आरोपियों के मकानों पर बुलडोजर चला दिया था। हिंसा में शामिल होने का आरोप लगा कर मकानों के साथ कई दुकानों को भी जमींदोज किया गया था। जिला प्रशासन की इस कार्यवाही को गलत बताते हुए याचिकाकर्ता जाहिद अली ने एक याचिका इंदौर हाई कोर्ट में लगाई थी। इस याचिका पर जस्टिस प्रणय वर्मा की खंडपीठ के समक्ष मामले की सुनवाई हुई।सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि प्रशासन ने बिना नोटिस और बिना वक्त दिए ही सीधे मकान तोड़ दिए। पीड़ितों को पक्ष रखने का अवसर ही नहीं दिया गया। याचिकाकर्ता जाहिद अली ने यह भी कहा कि प्रशासन ने मालिकाना हक, रजिस्ट्री वाली संपत्ति तोड़ दी है। इसका मुआवजा दिलाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा निगम, प्रशासन को सभी तरह के टैक्स चुकाए गए थे। शासन की ओर से इस मामले में जवाब पेश करने के लिए दो सप्ताह का मांगा गया है। हम आपको बता दे की खरगोन हिंसा के बाद मध्य प्रदेश के गृहमंत्री ने एक बयान दिया था जिसमें उन्होंने पत्थरबाजो के घरों को पत्थर के ढेर में बदलने की बात कही थी। जिसके बाद जिला प्रशासन ने दंगे के आरोपियों के घर और दुकानें जमींदोज कर दी थी।

Kolar News

Kolar News 13 June 2022

एक बार फिर नजर आ रहा है कि कमलनाथ फ्रंट लाइन पर फाइट नहीं कर सकते। राहुल गांधी के समर्थन में दिग्विजय सिंह दिल्ली में धरने पर बैठे, गिरफ्तारी देने को तैयार है लेकिन स्वयंभू सीएम कैंडिडेट कमलनाथ न केवल अनुपस्थित हैं बल्कि निष्क्रिय भी हैं। दिल्ली में दिग्विजय सिंह की सक्रियता दिखाई दे रही है और कमलनाथ की निष्क्रियता नोट की जा रही है। वे ना तो किसी प्रदर्शन में दिखाई दिए और ना ही गिरफ्तारी में। इतना ही नहीं उनके ट्विटर हैंडल पर राहुल गांधी के समर्थन में दो शब्द तक नहीं हैं। सवाल तो बनता है कि क्या कमलनाथ, राहुल गांधी का समर्थन नहीं करते। क्या कमलनाथ, प्रवर्तन निदेशालय की कार्यवाही को सही मानते हैं और कांग्रेस पार्टी के प्रदर्शन को गलत।  कमलनाथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं। सन 2018 से पहले 40 सालों में कमलनाथ पर किसी ने सवाल नहीं उठाए, क्योंकि कमलनाथ की प्रोफाइल हमेशा गांधी परिवार से अटैच रही है। उनकी अपनी कोई इंडिविजुअल आइडेंटिटी नहीं थी।  वह किसी आंदोलन से नहीं जन्मे और ना ही भारत के लिए किसी महान अभियान का हिस्सा थे। अलबत्ता उन्होंने गांधी परिवार की कई समस्याओं का समाधान किया है। यही उनकी पहचान भी है। अब वह मध्य प्रदेश को लीड करना चाहते हैं, लेकिन मध्य प्रदेश की जनता के लिए धरना प्रदर्शन करना नहीं चाहते। कोई पद यात्रा करना नहीं चाहते। वे दावा करते हैं कि मैं शिवराज सिंह से किसी मामले में कम नहीं हूं लेकिन शिवराज सिंह के बराबर तो दूर की बात उनकी तुलना में 20% सक्रियता भी नहीं दिखा पाते। राउंड टेबल मीटिंग और हॉल में कॉन्फ्रेंस, निश्चित रूप से सिस्टम के लिए अनिवार्य हैं परंतु केवल इतने भर से पूरा प्रदेश तो दूर की बात पूरी पार्टी भी नहीं चला सकती। भारत की राजनीति में नेता का नजर आना बहुत जरूरी है, और कमलनाथ के तो जनता को साप्ताहिक दर्शन भी नहीं हो पाते।1:30 बजे कमलनाथ ट्विटर पर सक्रिय हुए उन्होंने कहा श्री राहुल गांधी को प्रवर्तन निदेशालय में पूछताछ के लिए बुलाकर नरेंद्र मोदी सरकार सिर्फ और सिर्फ राजनीतिक हमले का कार्य कर रही है। एक वह समय था जब अटल बिहारी बाजपेई अस्वस्थ होते थे तो श्री राजीव गांधी उनके लिए सम्मानजनक व्यवस्था करके विदेश में उपचार का प्रबंध करते थे। एक यह समय है जब सरकार विपक्ष के प्रमुख नेता को झूठे मामलों में फंसा कर प्रताड़ित करने की कोशिश कर रही है। लेकिन यह सार्वभौमिक सत्य है कि समय बदलता है और संघर्ष की आंच में तप कर सत्य और निखर जाता है। पूरा देश राहुल जी के साथ है।

Kolar News

Kolar News 13 June 2022

मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव के शोर के बीच कांग्रेस ने बड़ा दांव खेला है। पार्टी इन चुनावों में अब स्थानीय चेहरों को ही मौका देगी। दरअसल, हाल ही में भोपाल में बाहरी उम्मीदवार की दावेदारी को लेकर कांग्रेस के दो गुटों के बीच जोरदार मारपीट हुई थी। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने बड़ा फैसला लिया।  पार्टी ने रविवार को सभी जिलों को सर्कुलर जारी कर कहा है कि जो व्यक्ति जिस वार्ड में निवास करता है या उसी वार्ड का मतदाता है उस चेहरे को ही वहां उम्मीदवार बनाया जाएगा। किसी भी उम्मीदवार का वार्ड परिवर्तित नहीं होगा। हालांकि, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा है कि यह सर्कुलर सिर्फ उन वार्ड पर लागू होगा, जहां पार्टी के पास जिताऊ उम्मीदवार है।  यदि आरक्षित सीट होने के कारण कोई बाहरी व्यक्ति चुनाव लड़ने और जीतने में सक्षम होगा तो, पार्टी उसे उम्मीदवार बनाएगी। लेकिन पहली प्राथमिकता उसी वार्ड के मतदाता की होगी। दरअसल, कांग्रेस पार्टी  नगरीय  निकाय चुनाव में जीत के लिए नए-नए फार्मूले ईजाद कर रही है। पहले पार्टी ने टिकट न मिलने पर निर्दलीय चुनाव नहीं लड़ने का शपथ पत्र भरवाया और अब स्थानी चेहरों को निकाय चुनाव में मौका देने का सर्कुलर जारी किया है। प्रदेश में होने वाले  नगरीय  निकाय चुनाव को लेकर कांग्रेस अपना राज्य स्तरीय वचन-पत्र जारी करने की तैयारी में है। कांग्रेस पार्टी ने वचन पत्र तैयार कर लिया है। पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का वचन पत्र बनकर तैयार हो चुका है, जिसे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की हरी झंडी के बाद जनता के सामने रखा जाएगा. वर्मा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी निकाय चुनाव को लेकर तैयार वचन पत्र में इस बात का वचन देगी कि किसी भी तरीके का नया टैक्स जनता पर नहीं डाला जाएगा। वहीं, कांग्रेस की नई पहल पर बीजेपी ने निशाना साधा है। बीजेपी प्रवक्ता नेहा बग्गा ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी ने पहले भी कार्यकर्ताओं से शपथ पत्र भरवाया था। कांग्रेस को अपने कार्यकर्ताओं पर भरोसा नहीं है। पार्टी को तरह-तरह का डर सता रहा है। यही कारण है कि इस तरीके के सर्कुलर जारी कर कार्यकर्ताओं के बीच के अंतर्कलह को दबाने की कोशिश की जा रही है। निकाय चुनाव में उसका यह फार्मूला बेअसर साबित होगा। 

Kolar News

Kolar News 13 June 2022

ठाकुर और महाराज के बीच तनाव शुरू, जैसी की उम्मीद थी, ग्वालियर में केंद्रीय मंत्रियों के बीच टकराव की स्थिति बनती जा रही है। नगर निगम चुनाव में महापौर के टिकट के लिए नरेंद्र सिंह तोमर और ज्योतिरादित्य सिंधिया आमने सामने हैं। इसके चलते बीजेपी कोर ग्रुप की मीटिंग में कोई डिसीजन नहीं हो पाया। कहा जा रहा है कि महापौर का टिकट यह स्पष्ट कर देगा कि ग्वालियर में किस का सिक्का चलेगा।ग्वालियर में डॉ. वीरा लोहिया, सुमन शर्मा, माया सिंह और समीक्षा गुप्ता के नाम प्रस्तावित किए गए हैं। राह में किसी तरह का रोड़ा ना आए इसलिए ज्योतिरादित्य सिंधिया कोर ग्रुप की बैठक के पहले ही ग्वालियर पहुंच गए थे। सूत्रों का कहना है कि सिंधिया चाहते थे कि वाले से केवल एक नाम जाए परंतु ऐसा नहीं हो सका। भोपाल में कोर ग्रुप की बैठक में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर स्वयं उपस्थित थे। मीटिंग में ग्वालियर के टिकट को लेकर क्या-क्या हुआ होगा, ग्वालियर चंबल के लोग अच्छी तरह से जानते हैं। जब शनिवार को कोर ग्रुप की मीटिंग में ग्वालियर का डिसीजन नहीं हो पाया तो ज्योतिरादित्य सिंधिया मुंबई से लौटकर भोपाल आए आ गए। आज सुबह सीएम शिवराज सिंह चौहान से मिलने पहुंच गए। दोनों के बीच सुबह की चाय पर चर्चा हुई है। संगठन के सूत्रों का कहना है कि सभी लोग ज्योतिरादित्य सिंधिया और नरेंद्र सिंह तोमर के बीच सहमति बनाने का प्रयास कर रहे हैं।शनिवार शाम 7 बजे से रात 11 बजे तक बीजेपी कोर ग्रुप की बैठक चली। इस बैठक में केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया वर्चुअल जुडे़ थे लेकिन ग्वालियर में महापौर के प्रत्याशी को लेकर सहमति नहीं बन पाई। मीटिंग खत्म नहीं हो पाई इससे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया मुंबई से फ्लाईट से रात करीब 10:38 पर सिंधिया बीजेपी ऑफिस पहुंचे। यहां उनके पहुंचने के करीब चार-पांच मिनट में ही बैठक से केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर निकलकर रवाना हो गए।

Kolar News

Kolar News 12 June 2022

पंचायतों में महिलाओं का दबदबा, 67 फीसदी निर्विरोध चुनी गईं सरपंच मध्य प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में महिला सशक्तिकरण की तस्वीर नजर आ रही है. इस बार के पंचायत चुनावों में पुरुषों पर महिलाएं भारी हैं. प्रदेश की 112 पंचायतों में निर्विरोध सरपंच निर्वाचित हुए हैं. 112 में से 75 ग्राम पंचायतों में महिलाएं निर्विरोध सरपंच चुनी गई हैं. केवल 37 ग्राम पंचायतों में ही पुरुष सरपंच निर्विरोध चुने गए हैं. इस हिसाब से 67%महिलाएं निर्विरोध चुनी गईं. निर्विरोध चुनी जाने वाली ग्राम पंचायतों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सम्मानित करेंगे. प्रदेश में 22961 पंचायतें हैं. इसमें से अभी केवल 112 की ही सूची आई है. इसलिए इसलिए महिला सरपंचों की संख्या में इजाफा हो सकता है.जानकारी के मुताबिक, बुधनी जनपद की 9 ग्राम पंचायतों में सरपंच निर्विरोध चुने गए. उनमें ग्राम पंचायत मढ़ावन, ग्राम पंचायत चिकली, ग्राम पंचायत जैत, ग्राम पंचायत वनेटा, ग्राम पंचायत खेरी सिलगेंना, ग्राम पंचायत कुसुमखेड़ा, ग्राम पंचायत पीलीकरार, ग्राम पंचायत ऊंचाखेड़ा तथा ग्राम पंचायत तालपुरा शामिल हैं. इसी तरह नसरुल्लागंज जनपद की 17 ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधि निर्विरोध चुने गए. इन ग्राम पंचायतों में ग्राम पंचायत पिपलानी, इटावाकला, चौरसाखेडी, बडनगर, रिछाडिया कदीम, गिल्लौर, छापरी, हाथीघाट, खात्याखेडी, आंबाजदीद, तिलाडिया, सीलकंठ, ससली, कोसमी, मोगराखेड़ा लावापानी तथा बोरखेडी शामिल हैं.

Kolar News

Kolar News 12 June 2022

भाजपा महापौर प्रत्याशियों के पांच नाम तय  मध्य प्रदेश में महापौर प्रत्याशियों के नाम तय करने के मुद्दे पर भाजपा कांग्रेस से पिछड़ गई है। भाजपा की चुनाव समिति और कोर ग्रुप की शनिवार देर रात तक चली बैठक में पांच शहरों के लिए महापौर प्रत्याशियों के नाम लगभग तय कर दिए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन के पदाधिकारी रविवार को अन्य 11 शहरों के लिए भी नामों की सूची को अंतिम रूप देंगे।भाजपा मुख्यालय में 5 घंटे चली बैठक में महापौर प्रत्याशी के लिए उज्जैन से मुकेश टटवाल, सतना से योगेश ताम्रकार, छिंदवाड़ा से जितेंद्र शाह, बुरहानपुर से माधुरी पटेल और रतलाम से अशोक पोरवाल के सिंगल नाम तय कर दिए गए हैं। पार्टी सूत्रों के अनुसार महापौर के नाम को लेकर भोपाल, इंदौर और ग्वालियर में नाम पर एक राय नहीं बन पा रही है। ग्वालियर में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और नरेंद्र सिंह तोमर के चलते नाम अटका हुआ है। पार्टी और संगठन के पदाधिकारी दोनों के बीच सहमति बनाने में लगे हैं। ग्वालियर से डॉ. वीरा लोहिया, सुमन शर्मा, माया सिंह और समीक्षा गुप्ता के नाम सामने आए हैं।  पार्टी की तरफ से तय किया गया है कि परिवार और विधायकों को अलग रखा जाए। भोपाल में पार्टी को विधायक कृष्णा गौर के अलावा कोई नाम मिल नहीं रहा है। ऐसे में यदि पार्टी कृष्णा गौर को टिकट देती है तो इंदौर में विधायक रमेश मेंदोला की राह भी आसान हो जाएगी। इंदौर से डॉ. निशांत खरे, पुष्यमित्र भार्गव और नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे के नाम दावेदारों में है। जबलपुर से डॉ. जितेंद्र जामदार, कमलेश अग्रवाल और अभिलाष पांडे के नामों के पैनल पर चर्चा चल रही है।बीजेपी की तरफ से शनिवार को बैठक खत्म करने के बाद रविवार को महापौर प्रत्याशियों की सूची जारी करने की बात कहीं थी। पार्टी सूत्रों का कहना है कि अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन पदाधिकारी रविवार को फिर बैठक कर नामों पर चर्चा करेंगे। उसके बाद प्रत्याशियों के नामों की सूची जारी की जाएगी।

Kolar News

Kolar News 12 June 2022

बीजेपी ने मध्य प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव को जीतने का संकल्प ले लिया है। पार्टी ने चुनाव में विजय के लिए बूथ भूत विजय संकल्प अभियान की शुरुआत कर दी है। अभियान की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हमारा प्रत्याशी ही कमल का फूल है।  हमने अभी तक उम्मीदवार घोषित नहीं किए हैं। लेकिन प्रचार का आगाज कर दिया है। विजय संकल्प अभियान में सभी ने संकल्प लिया है कि हमारे बूथ पर बीजेपी के पार्षद और महापौर का जो भी उम्मीदवार होगा, उसे जीत दिलवाएंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि हम विचार के लिए काम करने वाले, जनता के विकास के लिए काम करने वाली पार्टी हैं। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में  देश आगे बढ़ रहा है। केंद्र और  मध्य प्रदेश की सरकार ने विकास और जनता के कल्याण में कोई कसर नहीं छोड़ी है। यह डबल इंजन की सरकार है। प्रधानमंत्री की केंद्र सरकार और प्रदेश में हमारी सरकार वार्ड का विकास भी करेगी और नगर का विकास भी करेगी। 

Kolar News

Kolar News 11 June 2022

मध्यप्रदेश में महापौर और पार्षद पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने की शुरूआत हो चुकी है। 11 जून से 18 जून दोपहर 3 बजे तक उम्मीदवार नामांकन फार्म दाखिल कर सकेंगे। इसके बाद अगर किसी उम्मीदवार को अपना नाम वापस लेना है, तो वह पांच दिन के बाद 22 जून दोपहर 3 बजे तक अपना नाम वापस ले सकता है।  इसी दिन उम्मीदवारों  को चुनाव चिन्ह आवंटित कर दिए जाएंगे। आपको बतादें कि प्रदेश में नगरीय निकायों के चुनावों का आगाज हो गया है। चुनाव तारीखों की घोषणा के साथ ही भाजपा-कांग्रेस सहित अन्य दलों से चुनाव लडऩे के लिए दावेदार सामने आने लगे, हालात यह हो गए कि दोनों प्रमुख पार्टियों में एक एक वार्ड से कई पार्षद खड़े होकर जीत दर्ज कराने का दावा करने लगे, ऐेसे में पार्टियों को उम्मीदवार तय करने में भी काफी मंथन करना पड़ा, अब जैसे-जैसे पार्टियां उम्मीदवारों को हरी झंडी देगी, वे अपना नामांकन पत्र दाखिल करने पहुंचेंगे।नगरीय निर्वाचन को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां ऐसे उम्मीदवारों को मैदान में उतारने के लिए जुटी है, जो जीत सकें, इसलिए दोनों दलों के कार्यकर्ता से लेकर वरिष्ठ नेता तक सभी इस जोड़-तोड़ में लगे हैं कि किस वार्ड से कौन पार्षद और कौन महापौर के लिए सही रहेगा, बताया जा रहा है कि करीब 14 या 15 जून तक दोनों दल अपने अपने तय किए हुए उम्मीद्वारों की सूची जारी कर देगी। निर्वाचन 347 नगरीय निकायों में होगा। इनमें नगरपालिक निगम 16, नगर परिषद 76 और 255 नगर परिषद् हैं। आयोग द्वारा 347 नगरीय निकायों के पार्षद और 16 नगरपालिक निगमों के महापौर का निर्वाचन प्रत्यक्ष प्रणाली से कराया जा रहा है। नामांकन फार्म के साथ प्रत्याशी को निक्षेप राशि भी जमा करनी होगी। महापौर के लिए 20 हजार, नगरपालिक निगम के पार्षद के लिए 5 हजार, नगरपालिका परिषद् के लिए 3 हजार और नगर परिषद के पार्षद के लिए एक हजार रूपये की निक्षेप राशि निर्धारित है। अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछडा़ वर्ग एवं महिला अभ्यर्थी के मामले में निर्धारित निक्षेप राशि की आधी राशि जमा करनी होगी।

Kolar News

Kolar News 11 June 2022

भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर अपने बयान से एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार प्रज्ञा ठाकुर ने बीजेपी से निलंबित नुपुर शर्मा के समर्थन में बयान दिया है। सांसद ने कहा कि सच कहना बगावत है तो समझो हम भी बागी हैं। सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने गुरुवार रात ट्वीट किया कि सच कहना बगावत है तो समझो हम भी बागी हैं। जय सनातन, जय हिंदुत्व। इस ट्वीट के बाद सांसद ने कहा कि मैं सत्य बोलने के लिए बदनाम हूं। उन्होंने ज्ञानवापी का नाम लिए बिना कहा कि यह एक सत्य है कि वहां शिव मंदिर था,है और रहेगा। उसे फव्वारा कहना गलत है। यह हमारे हिंदू देवी-देवता और सनातन धर्म पर कुठाराघात है, इसलिए हम असलियत बताएंगे। हमारी असलियत तुम बता दो हमें स्वीकार है, लेकिन तुम्हारी असलियत बता रहे हैं तो क्यों तकलीफ है। इसका मतलब है कि कहीं न कहीं इतिहास गंदा है। सांसद ने कहा कि कोई कुछ कहेगा तो उसे धमकी दी जाएगी, हमेशा विधर्मियों ने ऐसा किया है। हमारे देवी-देवताओं पर फिल्म बनाते हैं। डायरेक्ट करते हैं, प्रोड्यूस करते हैं और गालियां देते हैं। इनका आज से नहीं पूरा कम्युनिस्ट इतिहास है। ये विधर्मी अपनी मानसिकता को प्रस्तुत करते हैं। सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि यह भारत हिंदुओं का हैं। यहां सनातन जिंदा रहेगा और जिंदा रखना हम लोगों की जिम्मेदारी है और हम इसे रखेंगे भी। यह विधर्मी अपनी मानसिकता को हर जगह स्थापित करना चाहते हैं। सनातन धर्म अपने धर्म को स्थापित करता है। जो मानवीय हित के लिए है। बता दें बीजेपी से निलंबित नुपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी की थी। जिसकी मुस्लिम देशों ने भी निंदा की थी। इसके बाद बीजेपी ने उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया है। बीजेपी के इस फैसले का कड़ा विरोध हो रहा है।

Kolar News

Kolar News 10 June 2022

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के बंगले पर गुरुवार को पार्टी नेताओं व प्रभारियों की बैठक हुई। इसमें टिकट सहित अन्य चुनावी रणनीति पर चर्चा हुई। इसी दौरान एक मौका ऐसा भी आया जब कमलनाथ ने कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद को फटकार लगा दी। उन्होंने आरिफ को हिदायत देते हुए कहा, यहां माइनॉरिटी की बात मत करो। हुआ यूं कि विधायक आरिफ अकील बैठक में मंच के नीचे बैठे हुए थे। इस पर मसूद ने आपत्ति दर्ज कराई और अकील को ऊपर बैठाने की बात कही। इसी को लेकर कमलनाथ ने मसूद को फटकार लगा दी। इसके अलावा वर्तमान में दोनों पार्टियों के अंदर टिकटों के लिए खींचतान जारी है। ऐसे में हर कार्यकर्ता खुद के लिए टिकट चाहता है। जिसके चलते ग्वालियर सहित प्रदेश के कई जिलों में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से मनमुटाव का भी सामना करना पड़ा है। इसी को लेकर गुरुवार को मीडिया से बातचीत में टिकटों पर खींचतान को लेकर कमलनाथ ने कहा, मैं 45 साल से राजनीति कर रहा हूं। सब लोग अच्छा काम करते हैं और टिकट चाहते हैं। ऐसे में कभी-कभी तनाव हो जाता है। टिकट सभी मांगते हैं, पर किसी एक को ही मिल पाता है। हम इसमें किसी व्यक्ति नहीं संगठन को मजबूत करने वाला फैसला कर रहे हैं। साथ ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि एक-दो दिन में नगरीय निकाय चुनाव के सभी प्रत्याशी फाइनल कर देंगे।

Kolar News

Kolar News 10 June 2022

मध्यप्रदेश का चुनावी पारा दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। इसके साथ ही राजनीतिक दल अपनी तैयारियों को पूर्ण करने में जुट गए हैं। इसी के तहत जहां भाजपा अपने बूथ विजय संकल्प अभियान को आज शुक्रवार, 10 जून से प्रारंभ कर रही है तो वहीं कांग्रेस विभिन्न क्षेत्रों में जाकर मतदाताओं से संपर्क कर रही है। दरअसल भारतीय जनता पार्टी दस जून से बूथ विजय संकल्प अभियान शुरू कर रही है। सीएम शिवराज सिंह चौहान अभियान की शुरुआत करेंगे। जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी ने कहा कि शुक्रवार, 10 जून को पार्टी के कार्यकर्ता प्रत्येक बूथ पर बूथ विजय का संकल्प लेंगे। इसके तहत लोगों को बताया जाएगा कि जनता के कल्याण, भोपाल नगर के विकास के लिए केवल भाजपा ने ही कार्य किया है। भाजपा कार्यकर्ता जीतेगा बूथ, जीतेगी भाजपा के मंत्र के साथ बूथ विजय का संकल्प लेंगे। बूथ विजय संकल्प-अभियान के अंतर्गत पार्टी के नेता बूथों पर पहुंचेंगे।सीएम शिवराज सिंह चौहान एवं जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी पंचशील मंडल के बूथ क्र. 1260, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा टैगोर मंडल के बूथ क्र. 69, रघुनंदन शर्मा शाहपुरा मंडल के बूथ क्रमांक 205, प्रदेश उपाध्यक्ष आलोक शर्मा बूथ क्र. 571, सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर बूथ क्र. 85 पहुंचेंगी। इधर, कांग्रेस: चाय पर चर्चा के साथ ही मतदाताओं से क्षेत्र की समस्याओं का फीडबैक ले रही है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस जिला अध्यक्ष कैलाश मिश्रा ने गुरुवार को रोशनपुरा स्थित जिला कार्यालय में बैठकर संभावित उम्मीदवारों से बायोडाटा प्राप्त किए। मिश्रा ने कहा कि योग्य उम्मीदवारों की जमीनी रिपोर्ट और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के फैसले के आधार पर टिकट वितरण किया जाएगा। नगर निगम चुनाव के लिए पार्टी की लहर पैदा करने कांग्रेस पदाधिकारी अब विधानसभा क्षेत्रों के इलाकों में जाकर संभावित उम्मीदवारों के समर्थकों एवं मतदाताओं से संपर्क कर रहे हैं। पीसीसी सचिव मनोज शुक्ला ने गुरुवार को नरेला विधानसभा क्षेत्र के अन्ना नगर, अशोका गार्डन क्षेत्र में जाकर मतदाताओं से संपर्क किया। चाय पर चर्चा कार्यक्रम के दौरान क्षेत्र की समस्याओं पर मतदाताओं का फीडबैक लिया गया। मौजूदा पार्षद के क्रियाकलापों एवं लोगों की समस्याओं को लेकर कांग्रेसी नेताओं ने लोगों से विचार साझा किए।

Kolar News

Kolar News 10 June 2022

मध्य प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने राज्य पर बढ़ते कर्ज का आरोप लगाते हुए कहा कि हालात देखकर लगता है कि कहीं MP श्रीलंका बनने की राह पर तो नहीं बढ़ रहा। मध्य प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और प्रदेश के पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने शिवराज सरकार की व्यवस्था पर बड़ा आरोप लगाया है। गुरुवार को पटवारी ने राज्य पर बढ़ते कर्ज का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसे हालात देखकर लगता है कि कहीं प्रदेश श्रीलंका बनने की राह पर तो आगे नहीं बढ़ रहा। पटवारी ने आरोप लगाया कि राज्य कर्ज में डूबता जा रहा है। उन्होंने आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि राज्य में प्रति व्यक्ति लगभग 45 हजार रुपये का कर्ज है। सरकार हर महीने कर्ज लेती है। उन्होंने कहा कि राज्य में ब्याज देने, इवेंट आयोजित करने और विज्ञापन देने के लिए कर्ज लिया जा रहा है। यहां तक कि नया कर्ज लेने की योजना बनाने के लिए भी कर्ज लिया जा रहा है। कांग्रेस को डर है कि कहीं मध्यप्रदेश श्रीलंका बनने की राह पर तो नहीं आगे बढ़ रहा। पटवारी ने कहा कि सरकार फिर से चार हजार करोड़ रुपये का कर्ज लेने जा रही है। ये कर्ज प्रदेश की आने वाली पीढ़ी को चुकाना होगा। इस दौरान उन्होंने सरकार पर पूरी तरह भ्रष्टाचार में डूबे होने का भी आरोप लगाया।

Kolar News

Kolar News 9 June 2022

मध्यप्रदेश में विधानसभा के नवनियुक्त नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह ने एक बयान देते हुए बताया है कि टीकमगढ़ में आदिवासी प्रत्याशी को बंधक बना लिया गया है । पुलिस का दुरुपयोग किया गया है। लोकतंत्र खतरे में है। आश्चर्यजनक बात यह है कि इतना सब होने के बावजूद नेता प्रतिपक्ष अपने सरकारी बंगले में आराम कर रहे हैं। अब तक धरने पर नहीं बैठे। मध्यप्रदेश में कांग्रेस की बड़ी अजीब स्थिति है। कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता चाहते हैं कि जनता आंदोलन करें और सरकार उनकी बन जाए। कमलनाथ चाहते हैं कि पत्रकार लोकतंत्र की रक्षा करें, सरकार की पोल खोलें और मुख्यमंत्री वह खुद बन जाए। डॉक्टर गोविंद सिंह को पद मिलने के बाद उम्मीद थी कि मध्यप्रदेश में विपक्ष दिखाई देगा परंतु लगता है, डॉक्टर गोविंद सिंह की उम्र हो गई है। गंभीर से गंभीर मामलों में चिट्ठी लिखते हैं और बयान जारी करते हैं।  डॉक्टर गोविंद सिंह का आरोप है कि भाजपा नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के विधायक भतीजे राहुल सिंह लोधी ने थाने की पुलिस को अपने साथ ले जाकर पंचायत चुनाव में एक आदिवासी प्रत्याशी को बंधक बना लिया। क्योंकि उनकी पत्नी ने जिला पंचायत के लिए नामांकन भरा है और निर्विरोध जीतना चाहती हैं। डॉ सिंह ने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है। थाने की पुलिस भाजपा के लिए काम कर रही है। यदि यही सब कुछ कमलनाथ की सरकार के समय हो रहा होता है तो शिवराज सिंह चौहान अब तक पुलिस हेडक्वार्टर के अंदर आचार संहिता का पालन करते हुए धरने पर बैठ गए होते। पूरे प्रदेश में भाजपा के नेता सड़कों पर आ गए होते। डॉक्टर गोविंद सिंह लग्जरी सरकारी आवास से 1.18 मिनट का वीडियो जारी कर रहे हैं। अब तक धूप में निकल कर ना तो राज्य निर्वाचन आयोग को शिकायत की है और ना ही पुलिस वालों की शिकायत करने डीजीपी से मिले हैं। शायद तापमान कम होने का इंतजार कर रहे हैं। यह जोर लगाकर ध्यान दिलाना जरूरी है कि राज्य और देश में लोकतंत्र की रक्षा का दायित्व विपक्षी दल का होता है। इसी काम के लिए उन्हें सरकारी सुविधाएं और सरकारी आवास दिए जाते हैं। बयान तो अपने गांव से भी जारी कर सकते थे।

Kolar News

Kolar News 9 June 2022

मध्य प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव को लेकर कांग्रेस ने अपनी तैयारी  तेज कर दी है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 16 नगर निगमों में महापौर पद के उम्मीदवारों के नाम फाइनल करने के लिए गुरुवार को बड़ी बैठक बुलाई है। बताया जा रहा है कि पार्टी ने 8 सीटों पर महापौर पद के उम्मीदवार फाइनल कर लिए हैं।  उन पर अंतिम मुहर लगना बाकी है।  जिन निकायों में उम्मीदवार तय होने हैं उन्हें लेकर आज की बैठक में मंथन होगा।  लेकिन, कांग्रेस के संभावित उम्मीदवारों को लेकर विवाद भी सामने आने लगे हैं। पहला विवाद ग्वालियर से सामने आया है। जहाँ कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार की पत्नी शोभा सिकरवार का नाम महापौर प्रत्याशी के लिए तय माना जा रहा है। लेकिन, शोभा सिकरवार के नाम के विरोध में जिला अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा सामने आ गए हैं।  देवेंद्र ने अपनी पत्नी रीमा का नाम आगे बढ़ाया है। अब इस पर फैसला आज की बैठक में होगा। उम्मीद जताई जा रही है कि आज शाम को बुलाई गई प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ की बैठक में गैर विवादित वाले क्षेत्रों में उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया जाएगा।  कांग्रेस ने भले ही महापौर पद के लिए अपने अधिकृत उम्मीदवार घोषित न किए हों, लेकिन कमलनाथ की हरी झंडी मिलने के बाद कांग्रेस के संभावित उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है। भोपाल से महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष विभा पटेल, इंदौर से संजय शुक्ला, जबलपुर से जगत बहादुर सिंह, सागर से सुनील जैन की पत्नी निधि जैन ने अपना प्रचार शुरू कर दिया है. निधि जैन ने बीते दिनों भोपाल में कमलनाथ से मुलाकात की और उसके बाद सागर में अपना चुनाव प्रचार शुरू कर दिया। जिन सीटों पर कांग्रेस ने उम्मीदवार तय किए हैं उनमें भोपाल से विभा पटेल, इंदौर से संजय शुक्ला, जबलपुर से जगत बहादुर सिंह, बुरहानपुर से गौरी दिनेश शर्मा, उज्जैन से महेश परमार, सागर से निधि जैन, रीवा से अजय मिश्रा, छिंदवाड़ा से सुनील उईके के नाम शामिल बताए जा रहे हैं। विवादित सीटों पर भी कमलनाथ आज कोई फैसला कर सकते हैं। यदि सब कुछ ठीक रहा तो कांग्रेस पार्टी आज देर रात तक अपनी पहली सूची जारी कर देगी। 

Kolar News

Kolar News 9 June 2022

मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी के सीएम कैंडिडेट एवं प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि देश में महँगाई का कारण, मांग की अधिकता होना नहीं है, बल्कि सरकार की तरफ से लादे गए टैक्स हैं। बेहतर होता कि सरकार टैक्स को कम कर आम जनता को महँगाई से राहत देती और बैंक रिण को सस्ता ही रखती। पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि रिजर्व बैंक ने महंगाई को कारण बताकर फिर से रेपो रेट बढ़ा दिया। अब रेपो रेट 4.90% हो गया है। इसका सीधा असर बैंकों द्वारा देय ब्याज पर पड़ेगा और अंततः बैंक सारा बोझ आम आदमी के ऊपर डालेंगे,  खासकर लोन की ईएमआई का बोझ बढ़ जाएगा।  इससे पहले 21 मई को कमलनाथ ने कहा था कि केंद्र सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम करने का निर्णय लिया है लेकिन केन्द्र सरकार की अपील पर प्रदेश की शिवराज सरकार ने अभी तक पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले भारी भरकम वैट में कोई कटौती नही की है। शिवराज सरकार भी जनता को राहत प्रदान करने के लिये तत्काल पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले करो में कमी करे।

Kolar News

Kolar News 8 June 2022

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा का इस्तीफा आखिरकार मंजूर हो गया। जब से पीसीसी के मीडिया विभाग में बदलाव हुआ है तब से ही सलूजा नाखुश थे और उन्होंने तलख भाषा में अपने नेता को इस्तीफा भेज दिया था। तब से वे पीसीसी मुख्यालय में भी नजर नहीं आ रहे थे। कांग्रेस भले ही सत्ता में नहीं है लेकिन उसके संगठन में पद को लेकर मारामारी मची है। पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने पिछले कुछ दिनों में काफी बदलाव किए हैं जिसमें अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति विभागों से लेकर मीडिया विभाग में परिवर्तन किए हैं। मीडिया विभाग की जिम्मेदारी संभालने वाले पीसीसी के कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व मंत्री विधायक जीतू पटवारी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया और कुछ घंटे में ही कमलनाथ ने उसे स्वीकार कर लिया । यही नहीं इस विभाग में तेजी के साथ बदलाव किए गए। अध्यक्ष की भूमिका में इंदौर के ही केके मिश्रा की नियुक्ति की गई तथा उपाध्यक्ष व 32 प्रवक्ता बना दिए गए। बताया जाता है कि नरेंद्र सलूजा कमलनाथ के पीसीसी अध्यक्ष बनने के बाद से ही उनके मीडिया समन्वयक के रूप में कार्य कर रहे थे। इसके पहले भी वे कमलनाथ के मध्य प्रदेश की मीडिया एक्टिविटी को लेकर सक्रिय रहते थे। पीसीसी अध्यक्ष बनने के बाद कमलनाथ ने जब मीडिया विभाग में बदलाव किए तो शोभा ओझा को मानक अग्रवाल की जगह लाया गया और सलूजा को पीसीसी अध्यक्ष का मीडिया समन्वयक बनाया गया था। सीएम बनने के बाद भी सलूजा कमलनाथ के मीडिया समन्वयक बने रहे। मगर हाल में मीडिया विभाग के बदलाव को लेकर सलूजा अपने पद को यथावत रखे जाने से नाखुश नजर आए और उन्होंने कमलनाथ को सीधे पत्र लिखकर इस्तीफा भेज दिया। साथ ही पीसीसी मुख्यालय आना बंद कर दिया। अब कमलनाथ ने सलूजा के इस्तीफे को स्वीकार कर सभी अटकलबाजियों पर विराम लगा दिया है।

Kolar News

Kolar News 8 June 2022

पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने भोपाल के नर्मदापुरम रोड पर खुली नई शराब दुकान के विरोध में मंगलवार रात मौके पर पहुंचकर चौपाल लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। पूर्व मुख्यमंत्री सुरक्षा दस्ते के साथ मौके पर पहुंची महिलाओं के लिए असुरक्षित माहौल का हवाला देकर धरने पर बैठ गईं। उनके धरने पर बैठने की खबर लगते ही मिसरोद एवं आसपास के थाना क्षेत्र के अधिकारी मौके पर पहुंच गए । पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती कुछ समय के अंतराल के बाद फिर सक्रिय हो गई हैं। वे कुछ समय से शराब दुकानों के विरोध में अपनी ही सरकार के खिलाफ मुखर हैं। शराब दुकान के बाहर मिसरोद थाना प्रभारी आरबी शर्मा से उमा भारती ने कहा कि मुझे पता है कि आप शराब नहीं पीते हैं लेकिन लोगों को नशे की प्रवृत्ति से बचाने की जिम्मेदारी भी आप लोगों की है। नशे के खिलाफ जन आक्रोश पनप रहा है। नशेले व्यक्तियों की वजह से महिलाओं की सुरक्षा खतरे में पड़ रही है। सड़क पर एक्सीडेंट हो रहे हैं, लोगों का स्वास्थ्य खराब हो रहा है। इस स्थिति से निपटने के लिए उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। उमा ने कहा कि वे तीन दिन बाद दोबारा मौके पर आएंगी। उनके आदमी मौके का स्टिंग करेंगे। उमा भारती ने कहा कि अब पत्थर नहीं मारेंगे पत्थर मारना अपराध की श्रेणी में आता है अब कुछ और मारेंगे। मिसरोद इलाके में निजी कार्यक्रम में शामिल होने आई उमा भारती थोड़ी देर के लिए चौपाल लगाकर धरना प्रदर्शन करने के बाद मौके से रवाना हो गई।

Kolar News

Kolar News 8 June 2022

मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने भाजपा सरकार को लॉ एंड ऑर्डर से घेरा है। कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि मप्र में दलित उत्पीड़न के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। हर दिन 46 बच्चों के साथ हत्या, रेप और अपहरण जैसे गंभीर अपराध हो रहे हैं। हर दिन 6 मासूम बेटियां रेप का शिकार हो रहीं हैं। प्रदेश में बच्चों के खिलाफ होने वाले अपराध की दर 59.1 प्रतिशत पहुंच गई है। कांग्रेस ने इन आरोपों को लेकर NCRB रिपोर्ट का हवाला दिया है। कांग्रेस ने नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की रिपोर्ट का हवाला देकर प्रदेश में तेजी से क्राइम रेट बढ़ने का दावा किया है। कांग्रेस ने रिपोर्ट के अनुसार देश में अपराध के मामले में मध्यप्रदेश को नंबर वन बताया है। कांग्रेस ने एनसीआरबी की 2020 की रिपोर्ट का हवाला देकर शिवराज सरकार को घेरा है। प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के अध्यक्ष केके मिश्रा ने कहा कि 2020 में प्रदेश में 9664 उत्पीड़न के मामले दर्ज हुए थे, जो 2021 में बढ़कर 10081 हो गए।  PHQ की अजाक शाखा के प्रदेश में चिन्हित 906 हॉटस्पॉट पर दलित उत्पीड़न सबसे ज्यादा होते हैं।  2021 में लापता हुए 10648 महिलाएं और बच्चों में अधिकांश बच्चे 10 से 12 साल की उम्र के हैं. इनमें से 8876 लड़कियां और 1772 लड़के हैं। कांग्रेस का कहना है कि चाइल्ड राइट्स एंड यू संस्था की रिपोर्ट के अनुसार 2021 में एमपी में औसतन 29 बच्चे, 24 लड़कियां, 5 लड़के हर दिन लापता हो रहे हैं। एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार एमपी बाल अपराध और मासूम से रेप के मामले में देश में अव्वल है। एमपी में हर दिन 46 बच्चे की हत्या रेप और अपहरण जैसे गंभीर अपराध हो रहे हैं। हर दिन 6 मासूम बेटियां रेप का शिकार हो रही हैं। प्रदेश में बच्चों खिलाफ होने वाले अपराध की दर 59.1 प्रतिशत है। केके मिश्रा ने यह भी कहा कि एनसीआरबी की 2020 की रिपोर्ट के अनुसार आईपीसी और एसएसएल के कुल 4 लाख 28 हजार 46 क्राइम हुए। धारा 302 और 304 ए के तहत 14,465 हत्याएं हुईं। अनुसूचित जनजाति वर्ग के खिलाफ प्रदेश में अपराध लगातार बढ़ रहे हैं। केके मिश्रा ने गृह मंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि गृहमंत्री सनी लियोनी, श्वेता तिवारी, नेटफिलक्स में व्यस्त रहते हैं। कांग्रेस के आरोपों का भाजपा ने भी जवाब दिया है। बीजेपी ने कांग्रेस पर सरकार को बदनाम करने की साजिश करने का आरोप लगाया है। बीजेपी प्रवक्ता आशीष अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस के पास ज्ञान की कमी है और सिर्फ साजिश करना आता है। कांग्रेस के पास कुछ काम बचा नहीं है। उन्हें यह नहीं पता कि जनसंख्या के हिसाब से भी अपराध का प्रतिशत देखा जाता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सिर्फ बदनाम करने का काम कर सकती है। जबकि शिवराज सरकार में अपराधियों पर कार्रवाई की जा रही है। उन पर बुलडोजर चलाया जा रहा है। देश में प्रदेश की कानून व्यवस्था सबसे मजबूत है। 

Kolar News

Kolar News 7 June 2022

मध्यप्रदेश में होने जा रहे पंचायत चुनाव के लिए राज्य में पंच, सरपंच, जनपद सदस्य और जिला पंचायत सदस्य पद के लिए कुल 2 लाख 939 नामांकन पत्र जमा हो चुके हैं। सोमवार को आखिरी तारीख होने के चलते 8 घंटे के भीतर राज्य में 1.19 लाख से ज्यादा नामांकन जमा हुए। शुक्रवार तक इन सभी पदों के लिए 81,500 नामांकन-पत्र जमा हुए थे। जिला पंचायत सदस्यों के सबसे ज्यादा 331 नामांकन सतना और सबसे कम 10 नामांकन हरदा जिले में हुए हैं। भोपाल में इस पद के लिए 91 नामांकन जमा हुए। यहां सबसे ज्यादा उठापटक वार्ड 8 में दिखाई दे रही है, क्योंकि यहां से 16 नामांकन दाखिल हुए है। वार्ड 9 से 14 प्रत्याशियों ने फॉर्म भरा है। सबसे कम 4 नामांकन वार्ड 2 से आए हैं। प्रदेश में चुनाव लडऩे में महिलाओं ने खासी रुचि दिखाई है। कुल 55,098 महिलाओं ने पर्चा दाखिल किया है। जिला पंचायत, जनपद पंचायत और सरपंच पद के नामांकन भरने में महिलाएं पुरुषों से आगे हैं। पंच पदों में महिलाएं, पुरुषों से सिर्फ एक कदम पीछे हैं। नामांकन जमा करने की समय सीमा 6 जून को दोपहर 3 बजे तक तय थी, लेकिन भीड़ बढऩे से टोकन दिया गया। प्रत्येक जिले में 2 से 3 ब्लॉक ऐसे थे, जहां शाम 6 बजे के बाद भी लोगों ने नामांकन पत्र जमा किया है। नामांकन फॉर्मों की जांच (स्क्रूटनी) 7 जून को होगी। नाम वापस लेने की अंतिम तारीख 10 जून है। इसी दिन चुनाव चिह्न आवंटित होंगे। नामांकन पत्र 30 मई से जमा होना शुरू हुए थे। अब पहले चरण के लिए मतदान 25 जून को, दूसरे चरण के लिए 1 जुलाई व तीसरे चरण के लिए वोटिंग 8 जुलाई को होगी।

Kolar News

Kolar News 7 June 2022

भारत की राजनीति में तस्वीर भी सियासत का एक जरिया होती है। कई बार फोटो देखकर ही राजनेता एक दूसरे पर तंज कसना शुरू कर देते हैं। ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश की राजनीति से सामने आया है।जहाँ पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को नाश्ता सर्व करते हुए ज्योतिराज सिंधिया का फोटो वायरल होने पर नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने बड़ा बयान दिया है। नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने कहा कि जब ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस में थे तो, वो श्रीमंत थे, लेकिन वहां पहुंचकर उन्हें केटरिंग  का काम मिला है। उन्होंने कहा कि राजा-महाराजा से सीधे कार्यकर्ताओं की तरह परोसने पर मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं। दरअसल बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का 1 जून को मध्य प्रदेश आगमन हुआ था। इसी दौरान वे मध्यप्रदेश के जबलपुर में भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति के कार्यकर्ता के घर उनसे मिलने पहुंचे थे। जहां पर उनके साथ केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इसके अलावा तमाम बीजेपी के वरिष्ठ कार्यकर्ता उपस्थित थे। उसी दौरान केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के नाश्ता सर्व किया था। जिसका फोटो दो दिन बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसी फ़ोटो को लेकर नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने ग्वालियर में मीडिया से चर्चा के दौरान 'सिंधिया' पर तंज कसते हुए कहा कि हमारे यहां बहुत श्रीमन थे, वहां पहुंचकर उन्हें कैटरिंग का काम मिला है। गोविंद सिंह के इस बयान के बाद अब मध्य प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक और भाजपा कार्यकर्ताओं ने नेता प्रतिपक्ष पर हमला शुरू कर दिया है।

Kolar News

Kolar News 6 June 2022

मध्यप्रदेश में कांग्रेस के पास बची एकमात्र सीट से राज्यसभा में भेजे गए सांसद विवेक तंखा ने कहा , कि शिवराज जी, वीडी शर्मा और भूपेंद्र सिंह के खिलाफ क्रिमिनल केस दायर हुआ है । इनको जब सजा होगी तब आपको पता चलेगा कि सच कौन बोल रहा है और झूठा  कौन। सांसद विवेक तन्खा भोपाल के एक पत्रकार से बात करते हुए कहा कि कोई विश्वास नहीं करेगा कि विवेक तन्खा ने ओबीसी वर्ग का कोई अहित किया है। मैं तो कोर्ट में ओबीसी वर्ग का वकील हूं। कोर्ट से जो राहत मिली है वह भी मेरी ही पैरवी से मिली है। उन्होंने कहा कि मैंने बीजेपी नेताओं पर 10 करोड़ का मानहानि का दावा भी लगाया है। शिवराज जी जीवन भर लीडर नहीं रहेंगे, कभी तो सामान्य नागरिक बनेंगे। जब कोर्ट में उनका ट्रायल होगा तब पता चलेगा कि विवेक तन्खा झूठ बोल रहे हैं या नहीं। उल्लेखनीय है कि ओबीसी आरक्षण मामले में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने कांग्रेस पार्टी के सांसद एवं वकील विवेक तन्खा को जिम्मेदार ठहराया था। इस प्रक्रिया में सीएम शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा और कैबिनेट मंत्री भूपेंद्र सिंह ने भी बयान दिए थे। विवेक तन्खा ने तीनों नेताओं के खिलाफ सिविल और क्रिमिनल केस फाइल किए हैं।

Kolar News

Kolar News 5 June 2022

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया बहुत तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। फिजिक्स के नियम कहते हैं कि गति में संतुलन की आवश्यकता होती है। यदि संतुलन बिगड़ा तो दुर्घटना और सत्यानाश होना तय है। श्रीमंत ने आज एक फोटो वायरल कर दी है। अब इस फोटो के कई मायने निकाले जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में इन दिनों सबसे चर्चित युवा मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जन्मदिन के अवसर पर एक फोटो अपलोड करते हुए उन्हें शुभकामनाएं दी हैं। फोटो बोलता है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया, योगी आदित्यनाथ को लीड कर रहे हैं। जैसे कोई सीनियर, अपने जूनियर को करता है। किसी भी फोटो में बॉडी लैंग्वेज बहुत इंपॉर्टेंट होती है।उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले ऐसा ही एक फोटो वायरल हुआ था। इस फोटो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक अनुभवी प्रोफेसर की तरह समझा रहे हैं और सीएम योगी आदित्यनाथ किसी पीएचडी स्कॉलर  बच्चे की  तरह ध्यान पूर्वक उनकी बात सुन रहे हैं। सवाल यह उठा रहा  है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया इस फोटो को वायरल करके क्या संदेश देना चाहते है। क्या भारतीय जनता पार्टी में सिंधिया का कद योगी से बड़ा हो गया है। क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी में मोदी के समकक्ष लोकप्रिय हो गए हैं। ग्वालियर चंबल के लोगों को इस फोटो में महाराज वाली फीलिंग नजर आ रही है।

Kolar News

Kolar News 5 June 2022

एमपी में निकाय चुनावों में मेयर पद के लिए कांग्रेस के संभावित प्रत्याशियों के नाम सामने आ रहे  हैं। अब तक जिन छह नगर निगमों के लिए संभावित उम्मीदवारों के नाम सामने आ रहे हैं, उनमें से अधिकतर या तो मौजूदा विधायक हैं या फिर किसी बड़े नेता के रिश्तेदार। ये नाम हाल में उदयपुर चिंतन शिविर में टिकट के लिए तय मापदंडों पर भी खरे नहीं उतरते। मध्य प्रदेश में निकाय चुनावों के ऐलान के साथ नगर निगमों में मेयर पद के लिए दावेदारों की चर्चा शुरू हो गई है। पार्षद पद के लिए उम्मीदवारों के चयन में कांग्रेस फिलहाल बीजेपी से आगे दिख रही है।अभी औपचारिक ऐलान नहीं हुआ, लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पार्टी ने छह शहरों के लिए मेयर पद के उम्मीदवार तय कर लिए हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने नौ जून को बैठक बुलाई है, जिसमें इन नामों पर मुहर लगने की उम्मीद है। हालांकि, जो नाम अब तक सामने आया हैं, उन्हें देखकर यही लगता है कि कांग्रेस न तो नए चेहरों की तलाश कर पा रही है और न ही बड़े नेताओं के रिश्तेदारों को टिकट देने का मोह छोड़ पा रही है। छह में से दो नाम ऐसे हैं जो बड़े नेताओं के रिश्तेदार हैं जबकि बाकी तीन पहले से विधायक या पार्टी में पदाधिकारी हैं। हालांकि, इनमें से ऐसा है जो बीजेपी के लिए गुगली साबित हो सकती है। इंदौर में मेयर पद के लिए संजय शुक्ला का नाम एकदम तय है। शुक्ला फिलहाल विधायक हैं। खुद कमलनाथ और दिग्विजय सिंह उनके नाम का ऐलान कर चुके हैं। इसी तरह, उज्जैन से महेश परमार के नाम पर मुहर लगने की उम्मीद है। परमार फिलहाल तराना के विधायक हैं। जबलपुर से जगत बहादुर सिंह का नाम चर्चा में है जो शहर कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। ग्वालियर नगर निगम के लिए शोभा सिकरवार को कांग्रेस मेयर पद के लिए उतार सकती है। शोभा स्थानीय विधायक सतीश सिकरवार की पत्नी हैं। वहीं, सागर से निधि जैन उम्मीदवार हो सकती हैं। जो स्थानीय बीजेपी विधायक शैलेंद्र जैन के छोटे भाई की पत्नी हैं। रीवा से जिस अजय मिश्रा का नाम चर्चा में है, वे पार्षद के साथ नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष रह चुके हैं।

Kolar News

Kolar News 4 June 2022

मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में जिला पंचायत चुनाव में सभी पदों पर चुनाव लड़ने के इच्छुक आवेदक नो ड्यूज को लेकर परेशान है। इसी को लेकर अब विवाद भी शुरू हो गया है। उज्जैन के मक्सी रोड स्थित विद्युत मंडल के कार्यालय में अनापत्ति प्रमाण पत्र लेने आये आवेदकों ने हंगामा किया और अधिकारी को खूब   सुनाई जिसके बाद वंहा भीड़ लग गई। 6 जून को नामांकन दाखिल करने का अंतिम दिन है। नामांकन के दो दिन बचे है ऐसे में कई आवेदक ऐसे है जो अभी भी जिला पंचायत ,जनपद पंचायत , बैंक और बिजली विभाग के चक्कर काट रहे है। दरअसल सभी आवेदकों को नियम के तहत नामांकन भरते समय नो ड्यूज लगाना होगा। जिसके बाद ही आवेदक का नामांकन मान्य होगा। अब समय काम होने के चलते बिजली विभाग में भी आवेदक दौड़ रहे है। और कार्यालय में आवेदकों की भीड़ लगी हुई है। नो ड्यूज जल्द से जल्द लेने के लिए आवेदक अधिकारियों से विवाद कर रहे है। केसर सिंह पटेल ने आरोप लगाते हुए कहा की हम दो बजे से खड़े है 4:30 बजे गए। जिला पंचायत के सदस्य , सरपंच और जनपद के उम्मीदवार यहां नो ड्यूज लेने आ रहे है। लोगो ने बिल जमा किया हुआ है। इसके बाद भी उन्हें चुनाव लड़ने और निर्वाचन में शामिल होने रोक दिया जायेगा। सरकार को बदनाम करने की साजिश यहां के अधिकारी रच रहे है। हंगामे को लेकर मक्सी रोड विद्युत विभाग के सहायक यंत्री प्रशांत कुमार खटीक ने कहा की बिजली विभाग के लोगों के कनेक्शन को लेकर लाइन मेन से रिपोर्ट लेकर बकाया राशि नहीं होती है तो प्रमाण पत्र दे देते है। सुबह से कई लोगों को प्रमाण पत्र दिए है। हंगामा कर रहे लोग झूठा आरोप लगा रहे है। हंगामा बढ़ जाने के कारण आवेदक और अधिकारी में झड़प हो रही है। जब घटना मुख्यमंत्री के पास पहुंची तो शिवराज सिंह ने सभी उम्मीदवारो  से निवेदन किया की शांतिपूर्वक नो ड्यूज करे।  मुख्यमंत्री ने सभी उम्मीदवारो को चेतावनी देते हुए कहा की अधिकारियो से बदसलूकी बर्दाश नहीं की जाएगी। 

Kolar News

Kolar News 4 June 2022

मध्यप्रदेश से जिन प्रत्याशियों द्वारा राज्यसभा सदस्य के लिए नामांकन फार्म दाखिल किए गए थे। वे तीनों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। इसमें कांग्रेस से विवेक तन्खा, भाजपा से कविता पाटीदार और सुमित्रा वाल्मीकि का नाम शामिल हैं। इन तीनों ने ही दोनों पार्टियों से फार्म भरे थे।  इनके विरोध में कोई खड़ा नहीं हुआ था। इस कारण इन्हें निर्विरोध निर्वाचित कर दिया गया है। इस खबर के आते ही दोनों दलों में उत्साह की लहर देखने को मिल रही है।राज्यसभा से खाली हुई तीनों सीटों के चुनाव आने वाली 10 तारीख को होने थे।  लेकिन उससे पहले ही जिन उम्मीदवारों ने नामांकन फार्म भरे हैं। उनकी निर्विरोध जीत तय हो गई। क्योंकि खाली हुई तीनों सीटों पर एक पर कांग्रेस और दो पर भाजपा के उम्मीदवारों ने फार्म भरा था। चूंकि नामांकन फार्म भरने की अंतिम तिथि 31 मई थी।  लेकिन तब तक किसी अन्य ने फार्म नहीं भरा , जिससे इनकी जीत निर्विरोध हो गई। एमपी में राज्यसभा की खाली हुई तीनों सीटों पर एक एक उम्मीदवार ने ही फार्म भरा था, जिसमें कांग्रेस से विवेक तन्खा और बीजेपी से कविता पाटीदार और सुमित्रा वाल्मीकि ने नामांकन पत्र दाखिल किया था। नामांकन की अंतिम तारीख तक किसी अन्य ने फार्म नहीं भरा था, इससे इन तीनों प्रत्याशियों को ही फायनल माना जा रहा था। शुक्रवार को इन्हीं तीनों प्रत्याशियों को निर्विरोध निर्वाचित कर दिया है।

Kolar News

Kolar News 3 June 2022

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के बयान पर नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने पलटवार किया है। उन्होंने परिवारवाद पर कहा कि पहले बीजेपी अपने गिरेबान में झांक कर देख लें। बीजेपी पहले अपनी पार्टी का चेहरा देखें। परिवारवाद का बीजेपी में इतिहास रहा है।  वहीं उन्होंने बीजेपी में परिवारवाद पर ब्रेक लगाने के बयान पर कहा कि बीजेपी की कथनी और करनी में फर्क है। अपनी पार्टी का खुद इतिहास देख लें। कांग्रेस बीजेपी के नीति पर नहीं चलती है। कमलनाथ सरकार पर दिए बयान पर गोविंद सिंह ने कहा कि ‘जेपी नड्डा बिना तथ्य के आरोप लगाते हैं। व्यापम में घोटाला हुआ ,डंपर घोटाला हुआ ,ई टेंडर घोटाला हुआ ,कुंभ में घोटाला हुआ , वृक्षारोपण में घोटाला हुआ यह सब दूध के धुले हैं, हरिश्चंद्र के घर में पैदा हुए हैं’।वहीं नेशनल हेराल्ड पर दिए बयान पर उन्होंने कहा ‘ नेशनल हेराल्ड के बारे में बीजेपी को राहुल गांधी, सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी का फोबिया हो गया है।  इनको सपने में यही लोग देखते हैं। मध्य प्रदेश में दिग्विजय सिंह और केंद्र में राहुल गांधी सोनिया गांधी प्रियंका गांधी दीखते हैं। इसलिए अब बीजेपी के नेताओं को उनकी माला जपना चाहिये।कैलाश विजयवर्गीय के कार्यकर्ताओं में ऊर्जा भरने के बयान पर उन्होंने कहा कि ‘बीजेपी के नेता और कार्यकर्ताओं में वैसे ही ऊर्जा भरी है। उनकी ऊर्जा की वजह से मध्य प्रदेश में अपराध हो रहे हैं। और यह सभी अपराधों में लिप्त पाए जाना हैं.’ उन्होंने कहा कि मेरा सौभाग्य है कि मुझे गुरुद्वारे में आने का मौका मिला। अंग्रेजों के खिलाफ सिखों ने लड़ाई लड़ी ,अन्याय के खिलाफ मुंहतोड़ जवाब दिया ,मुझे यहां प्रेरणा और ताकत मिलती है ,बीजेपी नेता, कार्यकर्ता सिख भाइयों के ऋणी रहे हैं। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने जो सिख समुदाय के लिए किया, वो किसी पार्टी ने आज तक नहीं किया. गुरुद्वारे के लंगर पर लगने वाला टैक्स बीजेपी सरकार देती है। सिख दंगे में  SIT बनाई गई। आज आरोपी सलाखों के पीछे हैं। नांकन्हा साहब के लिए कॉरिडोर बनाया, जो नहीं जा सकते उनके लिए दूरबीन लगवाई. मैं यहां से आशीर्वाद लेकर जा रहा हूं.  हम समाज की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। 

Kolar News

Kolar News 3 June 2022

मध्यप्रदेश में कमलनाथ कांग्रेस के वाइस चेयरमैन, पूर्व मंत्री एवं विधायक सज्जन सिंह वर्मा का कहना है। कि सन 1947 में भारत का विभाजन करना बुद्धिमानी का काम था। यह उल्लेख करना अनिवार्य होगा कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी की ओर से स्वयंभू सीएम कैंडिडेट कमलनाथ, संजय गांधी की विचारधारा का पुरजोर समर्थन करते हैं। जिन्हें आपातकाल में नागरिकों पर अत्याचार के लिए जाना जाता है। कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं स्वयंभू सीएम कैंडिडेट कमलनाथ की उम्र और स्वास्थ्य उन्हें पूरे मध्यप्रदेश का दौरा करने की अनुमति नहीं देते इसलिए उन्होंने अपनी जगह सज्जन सिंह वर्मा को मध्य प्रदेश का दौरा करने के लिए भेजा है। आगर मालवा में पत्रकारों से बात करते हुए सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि यह लोग अखंड भारत की बात करते हैं। जरा सोचिए यदि बांग्लादेश, पाकिस्तान और इंडोनेशिया के लोग अखंड भारत में शामिल हो जाएंगे तो इनको खड़े रहने के लिए कहां जगह मिलेगी। कमलनाथ की कृपा से कांग्रेस पार्टी में शिखर की तरफ बढ़ रहे सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि सन 1947 में मोहम्मद अली जिन्ना और पंडित जवाहरलाल नेहरू ने बुद्धिमानी का काम किया और भारत का विभाजन कर दिया। इसके कारण कुछ लोग उधर चले गए और अपने लोग इधर आ गए। यह एक अक्ल का काम था और यह लोग जिन्ना और नेहरू को दोष दे रहे हैं। वैसे सज्जन सिंह वर्मा का बयान एक प्रकार से हिंदू राष्ट्र का समर्थन करता है। बीजेपी वालो का कहना है कि कांग्रेस के इस बयान से उनके इरादे ठीक नहीं हैं। ऐसी पार्टी को सत्ता देना देश के हित में नहीं होगा।  

Kolar News

Kolar News 2 June 2022

मध्यप्रदेश में जैसे ही नगर निगम चुनाव की तारीख तय हुई। सभी पार्टियों में हलचल मची हुई है। कांग्रेस ने महापौर चुनाव के लिए 6 शहरों से उम्मीदवार तय कर दिए हैं। इंदौर नगर निगम के लिए विधायक संजय शुक्ला, उज्जैन से महेश परमार का नाम फाइनल है। परमार अभी तराना विधायक हैं।ग्वालियर नगर निगम से महापौर पद के लिए विधायक सतीश सिकरवार की पत्नी शोभा सिकरवार, तो सागर नगर निगम से सुनील निधि जैन को मैदान में उतारा जा रहा है। सुनील सागर से ही विधायक शैलेंद्र जैन के भाई हैं। जबलपुर में शहर कांग्रेस अध्यक्ष जगत बहादुर सिंह का नाम फाइनल है। रीवा नगर निगम के लिए अजय मिश्रा का नाम है। नगरीय निकाय चुनाव में खासतौर से भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर समेत 16 नगर निगमों पर सबकी नजरें टिकी हैं। वर्तमान में ज्यादातर पर BJP का कब्जा है। ऐसे में पार्टी ऐसे चेहरों पर दांव लगाएगी, जो जीत सकते हो। पुराने के साथ नए चेहरों को भी आजमाया जाएगा, क्योंकि रिजर्वेशन के साथ महापौर के दावेदारों के चेहरे भी बदल चुके हैं। कुछ निगम में नए चेहरे उतारने पड़ेंगे।

Kolar News

Kolar News 2 June 2022

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा, 'मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का वो हर चीज में मुकाबला कर सकते हैं। पर झूठ बोलने में नहीं।' कमलनाथ ने आगे कहा कि, 'शिवराज रोज नए-नए इवेंट, झूठी घोषणाएं करने और कलाकारी में माहिर हैं। इनसे महंगाई, बेरोजगारी पर बात करो तो ये इन सबसे ध्यान मोड़ने के लिए हाथ ठेला लेकर निकले पड़ते हैं। शिवराज अब जनता आपसे ठेला ही चलवाएगी।' आपको बता दें कि, मंगलवार को कमलनाथ प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में केश शिल्पी प्रकोष्ठ के राजनीतिक संवाद कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इस दौरान उन्होंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पर हमला बोला है। बता दें कि, सेन समाज को उचित प्रतिनिधित्व दिलाने प्रकोष्ठ बनाया है। इस मौके पर वार्ड 31 की ममता सेन समेत अन्य ने कमलनाथ को बायोडाटा सौंपा।  कमलनाथ ने शिवराज द्वारा मोदी को महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस और सरदार वल्लभ भाई पटेल का संगम बताने पर  कहा कि, 'आगे चलकर शिवराज को मोदी में अमिताभ बच्चन भी दिखेंगे।' कमलनाथ द्वारा किए गए हमले पर पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, 'हम एक्शन करते हैं, कमलनाथ हमेशा रिएक्शन करते हैं। उनके पास बस यही काम बचा है।'

Kolar News

Kolar News 1 June 2022

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बुधवार को तीन दिवसीय दौरे पर मध्य प्रदेश पहुंचे हैं। बता दें कि, सबसे पहले करीब 7 घंटे वो राजधानी भोपाल में रहेंगे। यहां से वे जबलपुर के लिए रवाना होंगे। सुबह 10 बजे एयरपोर्ट पहुंचे नड्डा का स्टेट हैंगर पर प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत प्रदेश और जिले के कई नेताओं ने स्वागत किया। इस दौरान ढोल नगाड़े बजाकर उनका जमकर स्वागत किया गया। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का प्रदेश में स्वागत करने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया से बातचीत के दौरान नड्डा के इस दौरे को 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव के शंखनाद के साथ साथ नगरीय और पंचायत चुनाव की रणनीति तैयार करने की तैयारी के तौर पर आने के संकेत दिए हैं। सीएम ने कहा कि, 'ढोल बज गए हैं। शंख फूंक दिया गया है। नड्डा जी को विश्वास दिलाओ कि स्थानीय चुनाव हों , चाहे नगरीय निकाय चुनाव हों या पंचायत, इनमें भारतीय जनता पार्टी शानदार सफलता प्राप्त करेगी। मध्य प्रदेश में जेपी नड्डा का दौरा ऐसे समय पर हो रहा है, जब यहां तीन चरणों के पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव की तैयारी जोर शोर से शुरु हो चुकी है। यही कारण है कि, उनका प्रदेश दौरा सियासी तौर पर काफी अहम है। मध्य प्रदेश पूरी तरह से चुनावी मोड में आ चुका है। ऐसे में आने वाले विधानसभा और लोकसभा चुनाव के रोडमैप पर पार्टी के पदाधिकारियों से चर्चा करेंगे। यहां नड्डा पार्टी को जमीनी स्तर पर मजबूती देने का मंत्र देंगे। दरअसल, 'बूथ जीता तो चुनाव जीता', माइक्रो मैनेजमेंट फॉर्मूले के तहत बीजेपी चुनावी स्ट्रैटेजी अपना रही है। इसलिए प्रदेश के बूथ की कमजोरी को दूर करने की प्लानिंग तैयार कर इम्प्लीमेंट करने पर फोकस रहेगा।भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष यहां शिवराज सरकार के मंत्रिमंडल की बैठक में भी शामिल होंगे। इस दौरान वे मंत्रियों से भी प्रदेशभर में पार्टी की मौजूदा स्थितियों को लेकर फीडबैक लेंगे। इसके साथ ही, दोपहर में वे मोतीलाल नेहरू स्टेडियम पहुंचकर वह प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में हिस्सा लेंगे। इस बैठक में प्रदेश पदाधिकारी, प्रदेश कार्य समिति, प्रदेश के मोर्चा अध्यक्ष, पदाधिकारी, जिलाध्यक्ष समेत पार्टी से जुड़े अन्य पदाधिकारी मौजूद रहेंगे। यहां से शाम 5 बजे वो जबलपुर के लिए रवाना होंगे।जेपी नड्डा के आज के कार्यक्रमदोपहर 1 बजे बीजेपी दफ्तर पहुंचे जेपी नड्डा। यहां पत्रकार वार्ता को संबोधित करेंगे।-दोपहर 1.45 बजे मध्य प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल की परिचय बैठक में शामिल होंगे।-दोपहर 2.30 बजे मुख्यमंत्री निवास पहुंचेंगे।-दोपहर 3.25 बजे मोतीलाल नेहरू स्टेडियम पहुंचकर वृहद प्रदेश कार्य समिति की बैठक में शामिल होंगे।-बैठक के बाद शाम 5 बजे राजा भोज विमानतल से जबलपुर के लिए रवाना होंगे।-1 जून को शाम 6.15 बजे जबलपुर पहुंचेंगे। यहां पार्टी नेता उनकी अगवानी करेंगे।-शाम 6.30 बजे विमानतल से संभागीय भाजपा कार्यालय पहुंचेंगे।-रात 9.15 बजे सांसद राकेश सिंह के निवास पर पहुंचेंगे।-रात 10.15 बजे जयश्री बनर्जी के निवास पचपेड़ी पहुंचेंगे।

Kolar News

Kolar News 1 June 2022

मध्य प्रदेश के कर्मचारी नेता एवं पंचायत सचिव संगठन के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश शर्मा के 4 ठिकानों पर मध्य प्रदेश आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ की टीम द्वारा छापामार कार्रवाई की गई है। शुरुआती जांच में लगभग तीन करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी मिली है। बताया जा रहा है कि EOW ने दिनेश शर्मा के 4 ठिकानों पर एक साथ छापामार कार्रवाई की है। मंदसौर में 2 ठिकानों पर, इंदौर एवं भोपाल में दिनेश शर्मा की आय के स्त्रोत एवं संपत्ति की जानकारी जुटाई जा रही है। सूत्रों का कहना है कि EOW को एक शिकायत मिली थी जिसमें दिनेश शर्मा की पूरी प्रॉपर्टी का विवरण था। मध्य प्रदेश आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ की टीम यह पता लगा रही है कि दिनेश शर्मा की संपत्ति उनकी लीगल इनकम से मैच करती है या नहीं। यदि ऐसा नहीं हुआ तो उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया जाएगा। शिकायतकर्ता का दावा है कि दिनेश शर्मा के यहां से EOW को महत्वपूर्ण दस्तावेज प्राप्त होंगे।

Kolar News

Kolar News 31 May 2022

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान का महात्मा गांधी और पीएम नरेंद्र मोदी को लेकर बड़ा बयान सामने आया है । उन्होंने कहा कि गांधी जी की मोदी से तुलना नहीं की जा सकती। मोदी जी में मुझे गांधी जी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और वल्लभभाई पटेल दिखते हैं। गांधीजी ने जनता को आंदोलनों से जोड़ दिया, तो वहीं मोदी जी ने स्वच्छ आंदोलन से जनता को जोड़ा है।मुख्यमंत्री ने  कहा कि नेता जी सुभाषचंद्र बोस ने ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा’ का नारा दिया था। मोदी जी ने सर्जिकल स्ट्राइक करके पाकिस्तान के अंदर घुसकर दुश्मनों को मारा। मैं साल 2014 के पहले मुख्यमंत्री था, उस वक़्त देश के प्रधानमंत्री दूसरी पार्टी के थे। दूसरे देशों में भारत को इज्जत की नजरों से नहीं देखा जाता था। साल 2014 के बाद  दुनिया में भारत को अब सब जानते है और पहचानते हैं। ये सब मोदी का करिश्मा है। मोदी ने देश की साख बढ़ाई है। वहीं जबलपुर में गरीब कल्याण सम्मेलन में लोकसभा सांसद राकेश सिंह केंद्र सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि मोदी सरकार के 8 साल पूरे हो गए हैं। सरकार के ये 8 साल बीते 80 सालों पर है भारी हैं। पीएम मोदी ने लोगों का सपना साकार करने का काम किया है। किसानों के बारे में आज से पहले किसी ने विस्तार से नहीं सोचा था। गांव से लेकर शहर तक गरीब महिलाओं के सिर पर पक्की छत देने का काम केंद्र की मोदी सरकार ने किया है।इस बयान पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलमाथ ने बीजेपी पर पलटवार करते हुए कहा की प्रदेश के मुख्यमंत्री रष्ट्रपिता का अपमान कर रहे है। और जो हमारे शहीद पूर्वज जिन्होंने आज़ादी के लिए अपनी जान दी है। क्या अब राजनीती करने के लिए, आज़दी के योद्धा बचे हैं। कमलमाथ ने कहा की शिवराज के पास कोई मुद्दा ही नहीं है , बस इनका अपमान  करो। धर्म बाटो और एक दूसरे धर्मो को लड़ाओ।

Kolar News

Kolar News 31 May 2022

मध्यप्रदेश में ग्राम पंचायत और नगर निकाय चुनाव होने जा रहे हैं। बीते दिनों मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव की घोषणा होते ही आचार संहिता सभी 52 जिलों के चुनावी क्षेत्रों में लागू हो चुकी है। चुनाव आयोग की घोषणा के बाद सभी जिला कलेक्टरों ने जिलों के संबंधित इलाकों के आधार पर धारा 144 भी करने का निर्देश दिया जा चुका है। हालांकि, देशभर में अभी शादियों का सीजन भी चल रहा है। लेकिन, आचार संहिता के नियम शादी-बारातों पर भी पूरी तरह असर दिखेगा । इस संबंध में कलेक्टर अविनाश लवानिया का कहना है कि, शहरी इलाकों में आचार संहिता के प्रभावी नियम लागू नहीं होंगे।  लेकिन जैसे ही बारात ग्रामीण इलाकों में पहुंचेगी तो उस पर आचार संहिता के प्रभावी नियम लागू हो जाएंगे। शादी समारोह की धूम पर भी चुनावी क्षेत्रों में आचार संहिता के नियम पूरी तरह लागू रहेंगे। नियम के अनुसार, शादी समारोह या बारात के दौरान जो भी उल्लंघन करेगा उसे थाने बुला लिया जाएगा। साथ ही, उल्लंघन करने वालों के खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। साथ ही, जब तक न्यायालय से जमानत नहीं मिलेगी, तब तक विदाई नहीं हो सकेगी। साथ हे ग्राम में कोई संगठन जुलूस या खुले में धार दर हथियार लेकर नहीं चल सकता। और साथ ही फरमान जारी हुआ की कोई भी समुदाय  विशेष रूप से किसी समुदाय को डराए  नहीं। शादियों में आतिशबाज़ी पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। चुनाव के प्रत्याशी और परिवारजन शादी समारोह में आ सकते हैं। लेकिन बैनर पोस्टर से प्रचार नहीं कर सकते। चुनाव आयोग के अनुसार अगर दूसरे राज्य से कोई वाहन आ रहा है तो इसकी सूचना भी जिले को देनी होगी। 50 हजार से अधिक नकद लेनदेन नहीं किया जा सकता। चुनाव आयोग ने सभी प्रदेशवासियों से निवेदन किया की चुनाव करने में हमारा सहयोग करे। और मतदान अवश्य करे। क्योंकि आपके एक वोट से सही गलत प्रतिनिधि का चुनाव होता है। वोटर लोकतंत्र की नींव है। 

Kolar News

Kolar News 30 May 2022

30  मई से  मध्यप्रदेश में स्थानीय निकाय चुनावों की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी। इसी बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सत्तारूढ़ दल के पक्ष में माहौल बनाने को कहा। चौहान ने इंदौर के भाजपा कार्यालय में इन चुनावों की तैयारियों से जुड़ी बैठक में शामिल होने के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा‘‘विकास के लिए भाजपा जरूरी और देश की लिए मोदी है।भाजपा के सत्ता में आने से इंदौर और अन्य स्थानों के शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में आज विकास का जो स्वरूप दिखाई देता है।  वह भाजपा ही कर सकता हैं। साथ ही उन्होंने कांग्रेस पर व्यंग करते हुए कहा की जब कांग्रेस सत्ता में थी। सिर्फ गुंडों का विकास होता था। और गुंडे के लिए कांग्रेस काम करती थी। मगर जब से बीजेपी सत्ता आयी है। विकास ही विकास हो रहा हैं। चौहान ने यह भी कहा, ‘‘मेरा दावा है कि आने वाले 10 सालों में इंदौर (विकास के मामले में) बेंगलुरु और हैदराबाद को पीछे छोड़ देगा।’’ भाजपा के एक अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने शहर के भाजपा कार्यालय में "आईटी वॉर रूम" का उद्घाटन भी किया जिसके जरिये आगामी स्थानीय निकाय चुनावों में पार्टी का सोशल मीडिया पर प्रचार-प्रसार किया जाएगा। भाजपा की चुनावी बैठक में शामिल होने के बाद मुख्यमंत्री अपनी पत्नी साधना सिंह और पार्टी के स्थानीय नेताओं के साथ शहर की मशहूर चाट-चौपाटी 56 दुकान पहुंचे और व्यंजनों का लुत्फ लिया

Kolar News

Kolar News 30 May 2022

मध्य प्रदेश में चुनाव का बिगुल फूंका जा चुका है। मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने प्रदेश महामंत्री कविता पाटीदार को राज्यसभा भेजा जा रहा है।  नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव के पहले इस कदम से पार्टी ने ओबीसी वर्ग को बड़ा संदेश दिया  है। कविता ओबीसी वर्ग से आती हैं। वहीं, महिला को आगे करके पचास प्रतिशत आबादी को भी संदेश दिया है। मध्य प्रदेश से राज्यसभा के तीन स्थान जून में रिक्त हो रहे हैं। इसके लिए दस जून को चुनाव होना है। सर्वे के अनुसार दो सीट भाजपा और एक कांग्रेस को मिलना तय है। कांग्रेस ने मौजूदा राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा को फिर से उम्मीदवार बनाया है।  वहीं भाजपा ने रविवार को कविता पाटीदार को उम्मीदवार घोषित किया है। इसके माध्यम से पार्टी ने कई समीकरण साधने का काम किया है। ओबीसी आरक्षण को लेकर कांग्रेस द्वारा उठाए जा रहे सवाल का यह जवाब भी है। और सबसे बड़े वर्ग के लिए संदेश भी है कि पार्टी ही ओबीसी चाहने वाले  है। वहीं, पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को मालवा-निमाड़ क्षेत्र में नुकसान हुआ था। पाटीदार अब इस क्षेत्र के लिए बड़ा चेहरा होंगी। पार्टी प्रवक्ता का कहना है कि दूसरी सीट के लिए भी उम्मीदवार के नाम का एलान जल्द कर दिया जाएगा।राज्यसभा चुनाव के लिए नामांकन पत्र मंगलवार तक स्वीकार किए जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील विवेक तन्खा को कांग्रेस फिर राज्यसभा में भेज रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने शनिवार को मीडिया के साथ बात करते हुए ,कहा कि तन्खा का नाम राज्यसभा चुनाव के लिए तय कर दिया गया है। राज्यसभा चुनाव 2016 में बहुमत न होते हुए भी तन्खा चुनाव लड़कर राज्यसभा में पहुंचे थे। वहीं, दूसरी सीट राष्ट्रीय नेतृत्व के कोटे से भरी जाएगी। पार्टी ने अपने प्रदेश कोर ग्रुप में भी जगह देकर उनका कद बढ़ाने की कोशिश की है। वहीं, ग्वालियर-चंबल से भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाल सिंह आर्य का नाम भी दावेदारों में शामिल है। 31 मई तक नामांकन पत्र जमा करने की आखिरी तारीख है। मध्य प्रदेश से भाजपा से एमजे अकबर और सम्पतिया उइके का कार्यकाल अगले महीने खत्म हो रहा है। उपचुनाव के जरिये राज्यसभा में भेजा गया था। तब केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे के निधन से राज्यसभा की सीट रिक्त हुई थी।

Kolar News

Kolar News 30 May 2022

मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव की तारीखों के ऐलान हो चुका है। इसके साथ ही राजनीतिक बात विवाद तेज हो गए हैं। कमलनाथ ने बीजेपी पर ओबीसी वर्ग को आरक्षण में धोखा देने का आरोप लगाया है । साथ ही कहा कि मैं गर्व से कह रहा हूं कि मैं हिंदू हूं, लेकिन मैं बेवकूफ नहीं हूं। हर जगह विवाद हो रहा है। अब भाषा विवाद तमिलनाडु में शुरू हो गया, है,हमारे देश की राजनीति में परिवर्तन आ गया है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि ग्राम पंचायत चुनाव में मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने अन्य पिछड़ा वर्ग के साथ जुल्म किया है। अब तक जो स्थिति सामने आई है, उसमें पिछड़ा वर्ग को मुश्किल से 9 से 10 प्रतिशत आरक्षण मिल रहा है । जबकि 1993 के पंचायत चुनाव अधिनियम में स्पष्ट प्रावधान है कि यदि किसी जगह पर अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की कुल आबादी 50% से कम है तो वहां भी ओबीसी को 25% आरक्षण दिया जाये।  कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान सरकार का ओबीसी विरोधी रहा है। उन्होंने कहा कि ओबीसी आरक्षण का जो प्रस्ताव विधानसभा में पास हुआ था।  वह कांग्रेस पार्टी के दबाव में पास किया गया था और शिवराज सरकार का उस प्रस्ताव को पास करने का मन नहीं था। कमलनाथ ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस पार्टी ने इन्साफ की  मांग की थी कि विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाए और उसमें पंचायत चुनाव में ओबीसी के आरक्षण के लिए संविधान संशोधन का प्रस्ताव पास किया जाए। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आड़ लेना गलत है क्योंकि न्यायालय कानून के अनुसार काम करता है और जब आवश्यकता संविधान और कानून में बदलाव की होती है तो उसे विधायिका ही कर सकती है।वहीं, नगर निगम और नगर पालिका चुनाव में विधायकों को भी प्रत्याशी बनाने के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि विधायक या अन्य किसी भी व्यक्ति को इस आधार पर टिकट दिया जाएगा कि वह सर्वश्रेष्ठ प्रत्याशी है और चुनाव जीत सकता है। नेता प्रतिपक्ष गोविंद सिंह ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उनकी सुरक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने की मांग करने के प्रश्न पर कमलनाथ ने कहा कि कानून के मुताबिक जो सुरक्षा नेता प्रतिपक्ष को मिलनी चाहिए वह सुरक्षा गोविंद सिंह को दी जाए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा बच्चों के लिए की गई कुछ घोषणाओं के सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान घोषणा करने में माहिर हैं। मगर  शिवराज की घोषणा पेपर पर रह जाती है। जनता तक पहुँचती नहीं हैं। और उनकी घोषणाओं पर तंज़ कस्ते हुए कमलनाथ ने कहा कि जहां नदी नहीं है शिवराज सिंह चौहान वहां भी पुल बनाने की घोषणा कर सकते हैं।

Kolar News

Kolar News 29 May 2022

मध्य प्रदेश में निकाय चुनाव का ऐलान हो गया है।  कुछ दिनों में अधिसूचना जारी हो सकती है। इसी बीच बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा मध्यप्रदेश दौरे पर आ रहे है। उनका ये दौरा अहम माना जा रहा है। जेपी नड्डा 1 जून को भोपाल आ रहे है। जेपी नड्डा  के   कार्यक्रम अनुसार 1 जून को बीजेपी सम्मेलन होने वाला है। जिसमें करीब 5000 बीजेपी कार्यकर्ता शामिल होंगे। इस कार्यक्रम में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के साथ कई पदाधिकारी शामिल होंगे। जेपी नड्डा कार्यकर्ता सम्मेलन के बाद  नेताओं एवं सरकार के मंत्रियों के साथ वन टू वन चर्चा करेंगे। साथ ही प्रदेश के विकास कार्यों का निरीक्षण करेंगे। जेपी नड्डा मध्य प्रदेश सरकार के कामकाज का जायजा लेंगे। और 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर मंत्रियों के साथ रणनीति तय करेंगे। जेपी नड्डा भोपाल में कार्यक्रम को सम्बोधित करेंगे व उसके बाद कार्य समिति की बैठक में जायेंगे।  जबलपुर में भाजपा युथ कनेक्ट का बड़ा अभियान शुरू करेंगे। भाजपा की कोशिश है की इसमें ज्यादा से ज्यादा युवा जुड़ सके। जिनके सहारे 2023 के विधानसभा चुनाव में पार्टी जीत हासिल कर सके। निकाय चुनाव से पहले पंचायत चुनाव के दौरान बीजेपी राष्टीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का मध्यप्रदेस दौरा काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इस लिहाज से राजनितिक गलियारों में नड्डा के दौरे का बड़े बेसबरी से इंतजारहो रहा है की उनके आने के बाद पार्टी और सरकार में किस तरह के बदलाव आते है। माना जा रहा है नड्डा के दौरे का असर निकाय और पंचायत चुनाव पर भी हो सकता है। 

Kolar News

Kolar News 29 May 2022

मध्य प्रदेश में पंचायत चुनावों की तारीखों के ऐलान के बाद ,अब नगरीय निकाय चुनाव की तारीखों पर भाजपा और कांग्रेस की नजरें हैं। नगरीय विकास व आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने संकेत दिए हैं।उन्होंने मीडिया से चर्चा में आज यह बयान दिया कि पंचायत चुनाव खत्म होने के बाद अगस्त में नगरीय निकाय चुनाव हो सकते हैं। सिंह ने कहा कि पंचायत चुनाव जुलाई में खत्म हो जाएंगे और इसके बाद नगरीय निकाय चुनाव होने की संभावना है। ऐसे में अगस्त के पहले सप्ताह में निकाय चुनाव होने की संभावना बनती है। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने भी नगरीय निकाय चुनाव के बारिश के दौरान होने की संभावना जताई थी। उन्होंने कहा कि नगरीय निकाय शहरी क्षेत्र में होते हैं और वहां बारिश का विशेष प्रभाव नहीं होता। मतदान दल को पहुंचने में भी दिक्कत नहीं होती है, इसलिए राज्य निर्वाचन आयुक्त ने पंचायत चुनाव बारिश के पहले कराकर बाद में नगरीय निकाय चुनाव कराने की बात कही थी। नगरीय विकास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कमलनाथ के पंचायत चुनाव में ओबीसी के साथ रिजर्वेशन में धोखे के आरोपों पर कहा कि भाजपा सरकार ओबीसी आरक्षण के साथ चुनाव करा रही है। कांग्रेस के कारण तो अदालत में ओबीसी आरक्षण शून्य हो गया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के प्रयासों से ओबीसी को रिजर्वेशन मिल सका है। सिंह ने कहा कि मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य है जहां चुनाव में ओबीसी को रिजर्वेशन मिला है। मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कांग्रेस पर तंज़ कस्ते हुए कहा की कांग्रेस कभी जनता की भलाई नहीं चाहती है। अगर वो जनता की भलाई चाहती तो ओबीसी रिजर्वेशन में हमारा साथ देती न की हमें रोकती। कमलनाथ सिर्फ बोल बच्चन करते है कुछ काम तो करते नहीं उनकी बाते खोखली है।   

Kolar News

Kolar News 28 May 2022

मध्यप्रदेश राज्यसभा की तीन सीट पर चुनाव होंगे। सर्वे के अनुसार राज्यसभा की दो सीट बीजेपी को और एक सीट कांग्रेस को मिलेगी। लेकिन अभी किसी भी पार्टी ने उम्मीदवारों की सूची जारी नहीं की है। दोनों ही पार्टियों में असमंजस बना हुआ की कौन पहले सूचि जारी करेगा। हम आपको बता दे की कांग्रेस ने कल शाम उमीदवार की घोषणा कर दी है।सांसद विवेक तन्खा का कार्याकाल ख़त्म हो रहा हैं। कांग्रेस ने तय किया है कि  विवेक तन्खा फिर से राज्यसभा जायेंगे। दरअसल ये कहा जा रहा है कि,विवेक तन्खा के नाम पर सभी ने सहमति दे दी है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ दिग्विजय और प्रतिपक्ष नेता गोविन्द सिंह ने भी विवेक तन्खा के नाम के लिए सहमति जताई हैं। लेकिन अभी भी लोग असमंजस में क्योंकी कई ,और लोग है जो राज्यसभा के दावेदार है। मगर फ़िलहाल प्रदेश पार्टी विवेक तन्खा को तव्वजो दे रही ,क्यों की विवेक तन्खा कांग्रेस के सीनियर लीडर हैं।

Kolar News

Kolar News 28 May 2022

कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। पूर्व मंत्री ने मोहम्मद अली जिन्ना को जिन्ना साहब कहा और बोले "देश की आज़ादी में जिन्ना साहब का भी योगदान था"। सज्जन सिंह वर्मा ने यह बात मंदसौर में महंगाई और अघोषित बिजली कटौती के लिए चले रहे धरना प्रदर्शन में कार्यकर्ता को सम्बोधित करते हुए कहा। साथ में सज्जन सिंह वर्मा ने प्रधानमंत्री मोदी को लेकर विवादित बयान दिया। जिसपर बीजेपी सांसद सुधीर गुप्ता ने पलटवार किया है। सज्जन सिंह वर्मा  ने मंदसौर के गाँधी चौराहे पर चल रहे, धरना में कार्यकर्ता को सम्बोधित करते हुए कहा, हमारी कांग्रेस पार्टी का आज़ादी में सबसे ज्यादा योगदान था। हमारी पार्टी के नेताओ ने क़ुरबानी दी है। वर्मा ने कहा गाँधी ,नेहरू,सरदार वल्लभ भाई पटेल , और जिन्ना साहब का आज़ादी की लड़ाई में योगदान रहा है। वर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विवादित बयान देता हुआ कहा  ये उल्लू आज़ादी की 75 वी वर्ष गठ मना रहा है।  क्या इसके बाप दादा कभी आज़ादी की लड़ाई में गए है। बीजेपी सांसद सुधीर गुप्ता ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए बोले की जिन्ना को साहब बोलने वाले सिर्फ कांग्रेस के लोग हो सकते है। सुधीर गुप्ता ने कहा जिन्ना को साहब बोल रहे है, तो क्या बटवारा पहले बैठ कर ही  कर लिया था।गुप्ता ने कांग्रेस पर तंज़ कस्ते हुआ कहा कांग्रेस के जो लोग राष्ट्र समझते थे , वो तो चले गए। कुछ और निकलने की तयारी में। 

Kolar News

Kolar News 28 May 2022

मध्यप्रदेश के राज्य निर्वाचन आयोग ने पंचायत चुनाव का ऐलान कर दिया है। मध्य प्रदेश में चुनाव कार्यक्रम घोषित कर दिए गए  है । इसके साथ ही प्रदेश में आचार संहिता लागू हो चुकी है। मध्यप्रदेश में चुनाव आयोग ने चुनाव की सारी तैयारियां कर ली है। जानकारी के अनुसार आज राज्य निर्वाचन आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई , जिसमें निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताब सिंह ने बताया वैसे तो पंचायत चुनाव जून में  किये जाने थे, लेकिन गर्मी को देखते हुए जून के अंतिम में  करने का निर्णय हुआ है।   एक नज़र पंचायत  चुनाव  के कार्यक्रम पे डालते है- नामांकन भरने की  समय 30  मई से प्रारंभ होगा- नामांकन निर्देश पत्र प्राप्त करने की अंतिम तारीख 6 जून से होगी  -  नामांकन वापिस लेने की  लास्ट डेट 10 जून है  - चुनाव चिन्ह 10 जून को बंटेगा- मतदान का प्रथम चरण 25 जून- मतदान का दूसरा चरण  1 जुलाई- मतदान का तीसरा चरण 8 जुलाई- मतगणना का  प्रथम चरण 28  जून- मतगणना  का दूसरा चरण 4 जुलाई- मतगणना  का तीसरा चरण  11 जुलाई-  ग्राम पंचायत निर्वाचन एवं जनपद पंचायत  निर्वाचन का परिणाम 14 जुलाई को होगा- जिला पंचायत सदस्यों का परिणाम 15 जुलाई को घोषित  होगा   और चुनाव परिणाम खत्म होने के साथ आचार संहिता भी खत्म हो जाएगी 

Kolar News

Kolar News 27 May 2022

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार एक्शन में नज़र आ रहे है। मुख्यमंत्री ने आज टीकमगढ़ की समीक्षा की, लेकिन वो विकास कार्यो में उपयोग हो रहे घटिया सामान को देख कर गुस्सा हो उठे | उन्होंने एमडी सहित अफसरों को की क्लास लगा डाली | साथ ही जिले में हो रहे विकास कार्यो की  रिपोर्ट मांगी | मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विकास कार्यो में घटिया सामान के इस्तेमाल पर नाराज़गी जताई | उन्होंने एमडी जल निगम से कहा टीमकामगढ जिले में जो सामान उपयोग हो रहा है, उसकी जांच करे | मुख्यमंत्री ने कहा हमें जानकारी मिली है की विकास कार्यो में घटिया सामानो का इस्तेमाल हो रहा है | कंपनियों की पेमेंट तभी हो जब विकास कार्य पूरा हो जाये | जो कार्य लेट चल रहा है उसे जल्द से जल्द पूरा करे | यदि कोई माफिया गुंडा विकास कार्यों मे दादागिरी करता है तो उस पर तुरंत कार्यवाही कि जाये | ऊर्जा साक्षरता मिशन , बिजली आपूर्ति और बिली बिल माफ़ी योजन पर शिवराज सिंह ने कहा हम ऊर्जा साक्षरता मिशन भी चलएंगे,और 22,500 करोड़ रूपए बिजली सब्सिडी पर खर्च कर रहे है।  यदि उपकरण का उपयोग न हो तो उसे न चलए | आपके इस कदम से 4000 करोड़ रूपए बचेंगे , जिसे  हम दूसरे विकास कार्यो में उपयोग करेंगे | मुख्यमंत्री  ने कहा मैं कलेक्टर को निर्देश देता हूँ की ,बिजली बिल माफ़ी कैंप में जनप्रतिनिधियों को शामिल करे।  आगे से जितने भी  बिजली बिल राहत के कैंप लगें  लोगो को उसमें आमंत्रित करे | मुख्यमंत्री ने कहा हमारा कर्तव्य है की हम जनता की सेवा करे | मै किसी भी कार्य में लापरवाही नहीं चाहता हूँ। सभी अधिकारियो को निर्देश है की जनता की सेवा करे और उनके साथ कदम से कदम मिला कर चले

Kolar News

Kolar News 26 May 2022

ज्ञानवापी मस्जिद के बाद अब भोपाल के जामा मस्जिद पर पर बवाल शुरू हो गया है। भोपाल की सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा हिन्दुओ ने कभी किसी धार्मिक जगह को नहीं तोड़ा | हाँ मगर मंदिरों को तोड़ कर मस्जिद जरुर बनाई गई है | साध्वी प्रज्ञा ने कहा हर हिन्दू को आगे आना चाहिए। साध्वी ने यह भी कहा,अगर संस्कृति बचाओ मंच के दावे में जरा सी भी सत्यता है,तो इसकी जांच  होनी चाहिए | बता दे की भोपाल चौक बाजार में स्थित जामा मस्जिद को लेकर संस्कृति बचाओ मंच ने  पुरातत्व सर्वेक्षण से मांग की है की जामा मस्जिद का सर्वे किया जाये। संस्कृति बचाओ मंच का कहना है पहले यहाँ हनुमान मंदिर था जिसे तोड़कर मस्जिद बनाई गयी है | संस्कृति बचाओ मंच ने प्रदेश के ग्रहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को ज्ञापन दिया की मस्जिद का सर्वे हो | ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा है की, जिस तरह ज्ञानवापी मस्जिद का सत्य सामने आ रहा है, प्रत्येक हिन्दू को सामने आना चाहिए और अपने पवित्र स्थल को आक्रांताओं से वापिस लेना चाहिए | और पुनः अपने मंदिरो को बनान चाहिए।     

Kolar News

Kolar News 26 May 2022

मध्यप्रदेश के सीहोर के कथावाचक प्रदीप मिश्रा को लेकर,अब मध्यप्रदेश की राजनीति में बवाल शुरू हो गया | मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने प्रदीप मिश्रा के कथा पर सवाल उठाया | दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा, माननीय मशहूर कथा वाचक प्रदीप मिश्रा से बड़ी विनम्रता से पूछना चाहता हूं ,कि मोदी प्रसंग हमारे किस धार्मिक ग्रंथ का अंग है? ‘ दरअसल प्रदीप मिश्रा अपने प्रवचन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी बात करते रहेत है | जिसे लेकर दिग्विजय सिंह ने प्रदीप मिश्रा से सवाल किया है। इसपर बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा कि अच्छा तो कांग्रेस तय करेगी की कथावाचक क्या बोलेंगे? श्री राम मंदिर बनवाने वाले, काशी को संवारने वाले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हम हिन्दुओं के लिए किसी अवतार से कम नहीं हैं.| बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा ने कहा, दिग्विजय को क्या बोलना चाहिए ये उन्हें पता नहीं है | दिग्विजय सिंह संतो का अनादर करते है | जो उनका गुरुर और घमंड है. यही घमंड उन्हें चकनाचूर करता है | वही प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय पर तंज़ कस्ते हुए कहा,की ये वही दिग्विजय है, जो जाकिर नायक को शांतिदूत कहते है | दिग्विजय सिंह का काम है हिन्दू लोगो का अपमान करना, राम जन्मभूमि पूजन पर  सवाल उठाना | दिग्विजय सिंह को तो केवल मुग़ल पसंद है |

Kolar News

Kolar News 26 May 2022

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का आंगनवाड़ी के बच्चों के लिए ,खिलौना इकट्ठा करने का अभियान जोर शोर से चल रहा है।  भोपाल के अशोका गार्डन इलाके से इस अभियान की शुरूआत हुई। मुख्यमंत्री अपने मंत्रीयो के साथ हाथ ठेला लेकर निकले। जनता में जबरजस्त उत्साह देखने को मिला, और लोगो ने खुल कर दान किया | देखते ही देखते 10 ट्रक सामान एकत्रित हो गया | मुख्यमंत्री ने करीब 800 मीटर का रास्ता तय किया, जिसमें उनके साथ जनता भी चल रही थी| मुख्यमंत्री ने अपने अभियान की शुरुआत कन्या पूजन से की, मुख्यमंत्री जहाँ से हाथ ठेला लेकर गुजरे, उस रस्ते पर काफी भीड़ उमड़ी , जनता ने मुख्यमंत्री को अपने बीच  देखर कर उन्हें घेर लिया | चारो तरफ से खिलौने और बैग की बारिश होने लगी | जो लोग मुख्यमंत्री तक नहीं पहुंच पाए उन्होंने अपने घर की  छत से खिलौने बरसाए | सीएम शिवराज ने कहा खिलौने लेते-लेते मेरा हाथ दर्दे करने लगा था | सीएम शिवराज ने कहा कुपोषण दूर करके बच्चो को सुपोषित किया जायेगा | मुख्यमंत्री के साथ इलाके के विधायक और मंत्री विश्वास सारंग,मंत्री भूपेंद्र सिंह और विधायक कृष्णा गौर भी मौजूद थे।  जनता का उत्साह देख कर सभी लोग खुश थे | साथ ही अभिनेता अक्षय कुमार ने आंगनवाड़ी के बच्चों के लिए एक करोड़ का दान किया और 50 आंगनवाड़ी को गोद लेने की बात कही | मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनता से निवेदन किया की आप अपने जन्मदिन पर आंगनवाड़ी में दूध का दान करे | जिसे कुपोषण को ख़त्म करने में मदद  मिलेगी | आंगनवाड़ी केंद्र को शिक्षा और संसकर का केंद्र बनाया जायेगा। सभी आंगनवाड़ियों को बिजली रहित किया जायेगा , मध्यप्रदेश में कुल 97 हज़ार आंगनवाड़ी है। 

Kolar News

Kolar News 25 May 2022

मध्यप्रदेश की सियासत एक बार फिर से  गर्म हो गयी है। मध्यप्रदेश के सियासत में गाय की एंट्री हो चुकी है | बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों के नेताओं  ने गाय पर राजनीति शुरू कर दी है | गाय हर चुनाव में एहम मुद्दा बनती है | दरअसल 2023 के विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी और कांग्रेस अपनी पार्टियां  मजबूत करने में लगे है। अभी से चुनाव के लिए धार्मिक सियासत शुरू हो गयी है | 2018 के विधानसभा चुनाव  में गाय का मुद्दा बहुत जमकर चला था | वही इस बार गाय का मुद्दा कांग्रेस की तरफ से शुरू किया गया है | विधायक व पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा की "गाय को राष्ट्रीय पशु बनाया जाये" | पीसी शर्मा ने कहा की कमलनाथ की सरकार में हमने गौशाला बनवाया है। हम गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने की शिफारिस करते, उससे पहले हमरी सरकार चली  गई | पीसी शर्मा का कहना है बीजेपी गाय के नाम पर राजनीती तो खूब करती है,यदि गाय के सच्चे हितैषी है तो हमारे साथ आये और को गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करवाए |पीसी शर्मा  ने बीजेपी पे निशाना साधते हुआ कहा की गाय सड़क पर मर रही है | मगर शिवराज सरकार कुछ नहीं कर रही है | कमलनाथ सरकार में हमने गाय के लिए संधारण का पैसा बढ़या था। जैसे ही हमारी सरक़ार गिरी वैसे हे पैसे घटा दिए गए | बीजेपी के प्रदेश मंत्री रजनीश अग्रवाल ने पलटवार करते हुए कहा, शिवराज सरकार ने गौ पालको के लिए लाभ का धंधा बनाया था , जिस पर कांग्रेस को आपत्ति थी | रजनीश अग्रवाल ने कहा  "ये वही कांग्रेस है जब साधु संत गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने की मांग की थी", तब उन्होंने संधू संतो पर गोलिया चलवाई थी | बीजेपी नेता ने कहा कांग्रेस जनता को गुमराह करना बंद करे | दरअसल राजनितिक जानकारों की माने तो 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अपना कोई नुकसान नहीं चहती है। इसलिए कांग्रेस ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करवाकर बड़ा दाव चलना चाहती है। यही कारण है की बीजेपी भी इस में शामिल हो चुकी है |

Kolar News

Kolar News 25 May 2022

मध्यप्रदेश की तीन राज्यसभा सीट 29 जून को खाली हो रही है | जिसके लिए 10 जून को चुनाव कराया जायेगा | चुनाव की अधिसूचना मंगलवार को रिटर्निंग आफिसर विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह जारी करेंगे। इसके साथ ही नामांकन पत्र जमा करने का काम शुरू हो जाएगा। नामांकन पत्रों की जांच एक जून को होगी और तीन जून तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। विधान सभा के प्रमुख ने बताय निर्वाचन आयोग द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार 31 मई तक नामांकन पत्र जमा किये जाएंगे। निर्वाचन आयोग का कहना है की यदि जरुरत पड़ी तो 10 जून को सुबह 9 बजे से 4 बजे तक मतदान कराया जायेगा | और 10 जून को ही मतगड़ना  की  जाएगी | चुनाव का सारा कार्य विधानसभा में ही  होगी |  

Kolar News

Kolar News 24 May 2022

भारत की राजनीती पुरे दुनिया से अलग है। बात मध्यप्रदेश पॉलिटिक्स की है, जहाँ पक्ष- विपक्ष  खिलौने को लेकर एक दूसरे पर बयानबाज़ी कर रहे है | दरअसल आज मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ,भोपाल के अशोका गार्डन से आंगनवाड़ी के बच्चो के लिए खिलौने जुटाने का अभियान शुरू करेंगे | इस प्रोग्राम का नाम 'एडॉप्ट एन आंगनवाड़ी'  दिया गया है। मुख्यमंत्री  का प्रोग्राम शुरू करने से पहले ही ,कांग्रेस के नेता व पूर्व मंत्री पी.सी शर्मा ने `बिट्‌टन मार्केट में हाथ ठेला लेकर यात्रा निकली , और  खिलौने जुटा कर बच्चो में बाट दिए | इस पर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कस्ते हुए कहा , "की वो आंगनवाड़ी के बच्चो के लिए खिलौना इकट्ठा कर रहे, या राहुल गाँधी के लिए "| चिकित्सा शिक्षामंत्री विश्वास सारंग ने कहा ,की आज अशोका गार्डन इलाके में 5:30 बजे ,विवेकानंद चौराहे से मनसा देवी मंदिर तक यात्रा निकली जाएगी।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने प्रदेशवासियों से निवेदन किया है, की आप सभी इस अभियान में सहयोग करे और आंगनवाड़ी के बच्चो के लिए अपना योगदान दे |मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की इस योजना को लेकर अभिनेता अक्षय कुमार ने भी ट्वीट करते हुए कहा की ,"सर मुझे बोहत ख़ुशी होगी अगर में किसी तरह आंगनवाड़ी के बच्चों के लिए कुछ कर सकूँ"।   

Kolar News

Kolar News 24 May 2022

भाजपा सांसद केपी यादव ने सिंधिया समर्थक पंचायत मंत्री को मुर्ख कहा है। केपी यादव ने कहा की जब कोई बड़ा गलती करता है तो उसे बताना ज़रूरी होता है और उन्हें टोकना ज़रूरी हो जाता है। केपी यादव ने मंत्री द्वारा लोकसभा चुनाव में सिंधिया की हार को लेकर लगातार माफी मांगने पर यह बात कही।उन्होंने कहा की सिसोदिया एक सीनियर मंत्री है उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए। पिछले लोकसभा चुनाव में गुना में ज्योतिरादित्य सिंधिया को हार गए थे। और उन्हें हराने वाले कोई और नहीं भाजपा सांसद केपी यादव है। जिसे लेकर पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया कई बार माफी मांग चुके हैं। वे कई मौकों पर कहते नजर आए हैं,कि लोकसभा चुनाव में जनता से गलती हुई है। इस गलती को माफ करें।म्याना में ट्रेन स्टॉपेज कार्यक्रम, गुना में जज्जी बस स्टैंड के कार्यक्रम में भी महेंद्र सिंह सिसोदिया माफ़ी मांगते नज़र आये थे। दो दिन पहले सिसोदिया ने मिसाल देते हुए कहा था की "अकबर के दरबार में नवरत्न थे","प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिंधिया के रूप में गुना जिले को हीरा दिया है"। इस बया से भी केपि यादव कफी खफा दिखे और कहा की "पीएम मोदी की तुलना एक आततायी (अकबर) से करना गलत है"।उन्होंने कहा मैंने पंचायत मंत्री के और भी स्टेटमेंट सुने हैं। कभी वो देश के प्रधानमंत्री की तुलना किसी ऐसे आततायी से करते हैं, जिससे हिंदुस्तान नफरत करता है। उन्होंने यह तक कह डाला की सिसोदिया को भाजपा में शामिल करके शायद पार्टी ने गलती कर दी । जिन्हें भाजपा की रीति-नीति के बारे में जानकारी नहीं है। ऐसे लोगों को भाजपा में लेना, शायद हमारी गलती थी। इसपर महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा है कि केपी यादव को सार्वजनिक बयानबाजी से पार्टी की छवि खराब नहीं करना चाहिए। यादव छोटे भाई जैसे हैं। ये पार्टी फोरम का मामला है। पार्टी नेतृत्व स्पष्टीकरण मांगेगा तो बात रखेंगे।

Kolar News

Kolar News 23 May 2022

obc पर फैसला आने के बाद मध्यप्रदेश में चुनावी माहौल गरम हो चुकी है। होने वाले निकाय चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस दोनों अपनी वोट बैंक बना रहे है | वही कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ आज आदिवासियों विधायकों की बैठक बुलाई है। जिसमें होने वाले निकाय चुनाव का एजेंडा तय होगा | आज की बैठक में कमलनाथ आदिवासियों के वोट पर बात  करेंगे और विधायकों के साथ वन-टू-वन चर्चा करेंगे | अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियां तैयारी कर रही है। हम आप को बता दे की राज्य में 43 आदिवासियों के समहू है | जिस की आबादी कुल 2 करोड़ से ज्यादा है | यदि आदिवासियों के वोट पर नज़र डालें तो 230 सीट में से 84 सीटों पर उनका प्रभाव है | मध्यप्रदेश में 2018 के विधान सभा चुनाव में आदिवासियों के वजह से कांग्रेस सत्ता में आयी थी |  इसी वजह से कोंग्रस का अपनी वोट बैंक बचाने के लिए आदिवासियों पर ज्यादा ध्यान दे रही है |कांग्रेस विधायक दल की  बैठक में आज चुनावी रणनीति पर मंथन होगा, साथ ही obc वर्ग को 27 प्रतिशत प्रत्यासी उतारे जाने पर भी फैसला होगा | 

Kolar News

Kolar News 23 May 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को सुबह  6 :30  बजे बड़े अधिकारीयों के साथ मीटिंग की। और उन्हें निर्देश दिया की आप भ्रष्ट अधिकारीयों  की सूचि बनाइए और जल्द ही मुझे दे | दरअसल मुख्यमंत्री ने बैठक से पहले सारा फीडबैक लिया था। भ्रष्ट अधिकारीयों को लेकर ,मुख्यामंत्री ने कुछ दिन पहले खंडवा के जिला अधिकारी के साथ बैठक की और उन्होंने सभी भ्रष्ट अधिकारीयों की सूचि खंडवा  जिला अधिकारी को दी जिसे सुनकर अधिकारीयों में हड़कंप मचा हुआ है। मुख्यमंत्री ने एक खुफ़िआ टीम बनायीं हुई है ,जो भ्रष्ट अधिकारीयों का फीडबैक जुटाती है और मुख्यमंत्री को रिपोर्ट देती है | प्रधानमंत्री आवास योजना में गड़बड़ी को लेकर मुख्यमंत्री को शिकायतें मिल रही है। इस पर मुख्यमंत्री ने साफ कहा कि प्रधानमंत्री आवास में कोई पैसा न खाने पाए। इसमें गड़बड़ी बर्दाश्त नहीं करूंगा।भ्रष्ट अधिकारीयों के खिलाफ जल्द से जल्द कार्रवाई करें।मुख्यमंत्री  ने आज लगातार तीसरे दिन जिलों में चल रहे विकास कार्यों और कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर समीक्षा की।उन्होंने कहा की भ्रष्टाचार जरा सा भी नहीं सहूंगा  "न ही भ्रष्टाचार का खाता हु और न किसी को खाने दूंगा" | सरकार की प्राथमिकता है जो भी योजना सरकार बनाती है वो जनता को मिले | मुख्यमंत्री  ने खंडवा कलेक्टर अनूप कुमार सिंह से कहा यदि भ्रष्टाचार को लेकर आपके पास कोई शिकायत आती है तो आप तुरंत कार्यवाही करे | हम सभी को मिलकर भ्रष्टाचार की कमर तोड़नी होगी और  भ्रष्ट अधिकारीयों को चैन से सोने नहीं देना है। माफिया और अपराधियों से मुक्त कराई भूमि पर गरीबो के लिए उनका आशियाना बनाया जाए | इस दौरान वन मंत्री विजय शाह ने 16 गांवों को सिंचाई व्यवस्था से जोड़ने की जरूरत बताई। 

Kolar News

Kolar News 22 May 2022

आने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियां अपनी ताकत लगाएंगी फ़िलहाल अभी नगर निगम चुनाव को लेकर पुरे प्रदेश मे हलचल मची हुई है। नगर निगम चुनाव  में सभी पार्टियों का ध्यान लगा हुआ  हैं | इसे देखते हुए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को बीजेपी की ताकत से रूबरू करवाते हुए कहा, की हमे बीजेपी की तरह मिल कर काम करना होगा और जनता के बीच जाना होगा | साथ ही कमलनाथ ने  कांग्रेस को लेकर भविष्यवाणी करते हुए पार्टी की कमियां भी गिनाईं। पार्टी  के कई दिग्गज नेताओ ने कांग्रेस का नाम ख़राब किया हैं। उन्हाेंने कहा कि SDM को धारा 40 के अधिकार देना सबसे बड़ी गलती थी।गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस पंचायती राज संस्था प्रकोष्ठ का सम्मेलन आयोजित किया गया था। जिसमें कमलनाथ ने कहा कि पंचायत और नगरीय  निकाय के चुनाव हैं।यह मत भूलिए कि आपको कोई बताने नहीं आएगा कि क्या करना है और क्या नहीं। यही कांग्रेस में कमी है। हमारा  मुकाबला बीजेपी से नहीं संगठन से है, यदि हम प्रदेश में हारते हैं तो ये हमारी हार नहीं होगी यह प्रदेश की हार होगी |भारतीय जनता पार्टी के लोग जमीं से जुड़े हुए है। हमें  भी हर हाल में जनता के पास जाना है और उनके साथ खड़ा होना है। यदि हमे विधान सभा चुनाव जीतने है तो सभी को अपना फ़र्ज़ निभाना होगा | कमलनाथ ने कहा की कांग्रेस को कोई हरा नहीं सकता मगर हमारे नेताओ को अंहकार हो गया था यदि हम अभी से जनता के बीच जाना शुरू करे तो कांग्रेस को जीतने से कोई माहि रोक सकता। बीजेपी ने ट्वीट करते हुए कहा की यह  डर अच्छा है 

Kolar News

Kolar News 21 May 2022

केंद्रीय मंत्री और महाराज ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जब खुदके बूढ़े होने की बात कही। तब इस पर दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा की मै और कमलनाथ जी तो 75 साल में भी खुदको बूढ़ा महसूस नहीं करते। आप तो 52 साल में ही खुदको बूढ़ा बताने लगे। दरअसल सिंधिया अशोकनगर के तुलसी पार्क परिसर में 42.23 करोड़ के विकास कार्यों के शिलान्यास व लोकार्पण समारोह में पहुंचे थे। जहाँ उन्होंने अपनी उम्र को लेकर कहा की "मै थोड़ा जवान दीखता हूँ..पर अब  वो 20 साल पहले जैसी बात नहीं रही। फिर भी मै देश के विकास के लिए हर समय तैयार हूँ। मै अपनी क्षमता के मुताबिक परिश्रम करने से कभी पीछे नहीं हटता। 

Kolar News

Kolar News 21 May 2022

   31 साल पहले भारत रत्न श्री राजीव गांधी इस दुनिया से चले गए।  इस दिन हमने न केवल एक विद्वान राजनेता बल्कि एक अद्भुत इंसान भी खो दिया।  आज, हम अपने देश में बदलाव लाने के प्रति उनके समर्पण, प्रतिबद्धता और करुणा को याद करते हैं और उन्हें संजोते हैं।  इस दिन और उम्र में भी हम देख सकते हैं कि कैसे उन्होंने कई फैसले लिए, जिसने भारत को सही दिशा में मोड़ दिया।  उन्होंने वैज्ञानिक विकास का समर्थन किया और भारत को विकसित करने और 21वीं सदी के लिए तैयार होने के लिए एक उपकरण के रूप में प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल किया।  वह एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने सूचना प्रौद्योगिकी के महत्व पर जोर दिया और इसलिए कई मिशन शुरू किए, जिनसे सभी को लाभ हुआ, जैसे टीकाकरण, पेयजल, शुष्क भूमि की खेती और कई अन्य।  उनकी जैसी अलग मानसिकता के साथ, भारत ने सरकार की ओर से कई ऐसी पहल देखीं, जिनकी देश ने पहले कल्पना भी नहीं की थी।  पेश किया गया बजट एक ऐसी ही पहल थी जिसने अर्थव्यवस्था के कायाकल्प को बढ़ावा दिया और अर्थव्यवस्था की बहाली और 1991 के अभूतपूर्व सुधारों का मार्ग प्रशस्त किया। आज के युवा उन्हें सलाम करते हैं और मतदान की उम्र कम करके देश के युवाओं को सशक्त बनाने के लिए धन्यवाद देते हैं।  जिसे भारत के युवा दिमाग अपना नेता चुन सके।  आज हम 'भारत की सूचना प्रौद्योगिकी और दूरसंचार क्रांति के जनक' को नमन करते हैं और याद करते हैं कि कैसे उन्होंने आधुनिक भारत की नींव रखी, कैसे उन्होंने अत्याधुनिक दूरसंचार तकनीक विकसित की, और ऐसा करने की प्रक्रिया में सही नाम मिला।  डिजिटल इंडिया के वास्तुकार के रूप में।  उन्होंने अपना ध्यान समाज के कमजोर वर्गों के उत्थान की ओर केंद्रित किया।  उनका मानना ​​​​था कि समाज के कमजोर वर्ग, जैसे शोषित, पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, शिक्षा के लिए उचित जोखिम दिए जाने पर फल-फूल सकते हैं।  उन्होंने इस मुद्दे को कई बार उठाया और स्वीकार किया कि शिक्षा अभी तक समाज के कमजोर वर्ग तक नहीं पहुंची है और शिक्षा प्रदान करने से निश्चित रूप से देश के कमजोर वर्गों का कल्याण होगा।  यहां तक ​​कि हमारे देश के लोकतंत्र में भी पूर्व प्रधानमंत्री द्वारा उठाया गया एक सराहनीय कदम देखा गया।  राजीव गांधी के सत्ता में आते ही उन्होंने भारतीय राजनीति में शौच की समस्या को संबोधित किया, जो भारतीय संविधान में 42वें संशोधन के साथ इस प्रथा को प्रतिबंधित करके लोकतंत्र के नैतिक आधार पर एक विनाशकारी प्रथा और बेहद अनैतिक थी।  राजीव गांधी इस बात से अच्छी तरह वाकिफ थे कि महिलाएं किसी भी सामाजिक व्यवस्था की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।  "हर समुदाय की सफलता और समृद्धि का अंदाजा दूसरे आधे लोगों के विकास से लगाया जा सकता है," उनका मानना ​​​​था।  आध्यात्मिक महत्वाकांक्षाओं और राजनीतिक विचारों सहित सभी क्षेत्रों में महिलाएं पुरुषों के बराबर हैं।  जब बलिदान और बहादुरी की बात आती है, तो कभी भी असहमति नहीं रही है।  हमारी आजादी की लड़ाई यही दर्शाती है।  उन्होंने यह भी कहा कि महिलाओं का योगदान, चाहे घर पर हो या काम पर, पुरुषों की तुलना में कभी भी कमजोर या कम नहीं रहा है, लेकिन महिलाओं को अभी भी पर्याप्त शैक्षिक और नौकरी के अवसरों से वंचित रखा गया है। इसके अलावा राजीव गांधी ने सामाजिक न्याय को सभी समूहों और क्षेत्रों के विकास के रूप में परिभाषित किया।  समाज की।  वह चाहते थे कि हर कोई, जाति, जन्म, धर्म या त्वचा के रंग की परवाह किए बिना, विकास का अनुभव करे।  23 जनवरी, 1984 को, उन्होंने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर एक बहस के दौरान कहा, "कांग्रेस विभिन्न विचारधाराओं की प्रतिनिधि है, सामाजिक न्याय के लिए संघर्ष, आत्मनिर्भरता के लिए संघर्ष, धन के केंद्रीकरण के खिलाफ, सभ्य सार्वजनिक उपक्रमों का मतलब है  लोगों के कल्याण, धर्मनिरपेक्षता और गुटनिरपेक्षता और शांति की नीतियों के लिए।"  17 दिसंबर 1985 को, उन्होंने 7वीं योजना पर चर्चा के दौरान राज्यसभा में घोषणा की, "हमने 7वीं योजना में अपने विकल्पों को संशोधित नहीं किया है।"  राजनीतिक विरोधी उनके विरोधी नहीं थे, बल्कि राजनीतिक व्यवस्था में एक स्थान चाहने वाले साथी नागरिक थे। उनके मैत्रीपूर्ण व्यवहार और सुखद मुस्कराहट ने उन्हें राजनीतिक बाधाओं को तोड़ने में सहायता की। वह आसानी से गलियारे में कदम रख सकते थे क्योंकि वे अपनी पार्टी को पार कर सकते थे।  संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत, श्री अटल बिहारी वाजपेयी को भेजें। राजनीतिक पूर्वाग्रहों ने उन्हें परेशान नहीं किया, न ही अपशब्दों या आक्षेपों ने, क्योंकि उन्हें भारत में शासन में एक आदर्श बदलाव लाने की अपनी क्षमता पर भरोसा था। हम, भारत के लोग  इतने युवा और भयानक रूप से दूरदर्शी, स्पष्ट-प्रधान और गतिशील नेता को खो देने के लिए बेहद बदकिस्मत थे। अगर राजीव गांधी रहते, तो आज हम एक अलग प्रकार की राजनीतिक और सामाजिक व्यवस्था देखते। उनकी मानवीय और समकालीन विचार-प्रक्रिया  उन्होंने राजनीति को स्वार्थ के अंधेरे काल कोठरी से मुक्त करने में मदद की और इसे केवल लोगों के लाभ के लिए काम करने की अनुमति दी। भारत के समाजवादी और धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र के प्रति उनकी निष्ठा सेवा करती है  सांप्रदायिक और फासीवादी प्रभावों के खिलाफ हमारी लड़ाई में एक सबक और मार्गदर्शक प्रकाश के रूप में।  हम भारत के एक प्रगतिशील, प्रभावशाली और दयालु प्रधान मंत्री को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं जिन्होंने भारत को एकजुट करने की मांग की और अपने आदर्शों और मूल्यों का पालन करके और उन्हें आज की दुनिया में भी लागू करके 21 वीं सदी में इसे आगे बढ़ाने में मदद की।   लेखक  राहुल राव  चेयरमैन मीडिया विभाग  भारतीय युवा कॉंग्रेस

Kolar News

Kolar News 20 May 2022

मध्यप्रदेश में पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव में OBC आरक्षण के मामले शिवराज सरकार को बड़ी सफलता मिली | इस मामले पर आज सुनवाई में  सुप्रीम कोर्ट ने OBC वर्ग के साथ चुनाव करने के प्रस्ताव को मन लिया है | मध्यप्रदेश के पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव में OBC वर्ग को आरक्षण मिलेगा |  वही कोर्ट ने यह भी कहा की आरक्षण किसी स्तिथि में 50 प्रतिसत से (obc,sc/st ) को मिलाकर  ज्यादा नहीं होगा | कोर्ट ने कहा एक सप्ताह के अंदर आरक्षण की सूचि जारी कि जाये जिसके बाद अगले एक सप्ताह में चुनाव  करने का आदेशदिए है | वही OBC  आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा obc आरक्षण पर आज सत्य की जीत हुई | मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृतव में प्रदेश सरकार ने अपनी बात को माननीय न्यायालय में रखा।  उन्होंने न्यायालय का भी धन्यवाद जताया और प्रशंसा करे हुए कहा की ,अब सरकार obc आरक्षण के साथ चुनाव में जाएगी।  

Kolar News

Kolar News 18 May 2022

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने नाराज़गी के चलते इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने नाराज़गी जताते हुए कहा की जो हाल राजस्थान में सचिन पायलट का हुआ,वैसा ही कुछ गुजरात में दोहराने की कोशिश की जा रही है। हार्दिक ने कहा की राहुल ने मुझे मैसेज कर नाराज़गी की वजह पूछी लेकिन उसके बाद उनका कोई रिप्लाई नहीं आया। मुझे उम्मीद थी की चिंतन शिविर के बाद सब ठीक हो जाएगा पर ऐसा कुछ नहीं हुआ।आपको बता दे की 13-15 मई तक उदयपुर में कांग्रेस ने चिंतन शिविर आयोजित किया था। जिसके लिए हार्दिक को भी न्योता मिला था, लेकिन हार्दिक चिंतन शिविर में शामिल नहीं हुए।हार्दिक पटेल ने अपने ट्विटर ,टेलीग्राम और इंस्टाग्राम के बायो से भी कांग्रेस का नाम हटा दिया है। कहा जा रहा है की हार्दिक पटेल बीजेपी में जा सकते  है।कुछ दिनों पहले हे उन्होंने राम मंदिर निर्माण और धारा 370 की भी तारीफ की थी। उन्होंने कहा था ,बीजेपी दुश्मन है पर उनकी तारीफ़ के बिना राजनीती कैसे चलेगी । गुजरात में 6 महीने बाद विधानसभा चुनाव होने वाले है। सूत्रों के मुताबिक वे अगले महीने भारतीय जनता पार्टी का हाथ थाम सकते हैं।   

Kolar News

Kolar News 18 May 2022

जल्द ही नगरीय निकाय चुनाव होने वाले है। सभी पार्टियां सक्रिय हो रही हैं। चुनावी माहौल को देखते हुए कांग्रेस ने बैरागढ़ में पानी , बिजली  और गन्दगी को अपना मुद्दा बनाया है  कांग्रेस ने आज बैरागढ़ में पानी की समस्या को लेकर आज प्रदर्शन किया | कल गन्दगी को लेकर कांग्रेस और  प्रदर्शन करेंगे। वहीँ आम आदमी पार्टी ने संविधान सम्मान यात्रा निकालकर शासन से नगरीय निकाय चुनाव समय पर कराने की मांग की है। कांग्रेस कमेटी जल्द ही नगर निगम भोपाल ऑफिस के सामने पानी की समस्या को लेकर  प्रदर्शन करेगी।वहां के स्थानीय निवासियों ने भी कांग्रेस का साथ दिया| ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अशोक मारण एवं भरत आसवानी का कहना है कि कांग्रेस बिजली, पानी, सड़क और गंदगी के मुद्दे पर जनता के बीच जाएगी |  अशोक मारण ने कहा कि संत हिरदाराम नगर में जगह-जगह गंदगी पसरी नजर आती है। कुत्तों और सुअरों की संख्या देखकर कोई नहीं कह सकता की ये राजधानी का उपनगर है | सड़को पर दिन भर कुत्ते और आवारा पशु  घूमते रहते हैं। इस वजह से नागरिको का सड़क पर चलना मुश्किल हो गया हैं |कांग्रेस जल्द ही बिजली संकट को लेकर बिजली कंपनी के कार्यालय के सामने  प्रदर्शन करेगी।इधर आम आदमी पार्टी ने संविधान सम्मान यात्रा निकालकर नगर निगम चुनाव समय पर कराने की मांग की है।पार्टी की जिला अध्यक्ष रीना सक्सेना का कहना है की बीजेपी चुनाव टाल भी सकती है क्योंकी जनता उनसे नाराज़ हैं | उन्होने कहा की बीजेपी को संविधान का सम्मान करना चाहिए और शांति पूर्वक संवैधानिक ढंग से चुनाव प्रक्रिया पूरी कराई जाये | रीना सक्सेना  ने कहा की हम जनता के साथ हैं ,उनकी समस्या हमारी समस्या है। हम जनता के हक़ में आवाज उठाते  रहेंगे और नगर निगम चुनाव में पार्टी पूरी ताकत के साथ प्रचार अभियान करेगी और जनता हमे जिताएगी भी। 

Kolar News

Kolar News 17 May 2022

स्थानीय निकाय चुनाव में आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी  की चुनावी तैयारी जोरशोर से चल रही हैं। राजनीतिक  स्तर पर सभी पार्टियों  ने अपनी-अपनी  तैयारी शुरू कर दिया हैं | बता दें कि नगरीय निकाय चुनाव के लिए बीजेपी नए सिरे से सर्वे कराएगी और सर्वे के आधार पर चुनाव में जीत की संभावना वाले उम्मीदवारों को ही टिकट दिया जाएगा | भोपाल में सोमवार को  बीजेपी की तीन बैठकें की गयीं।  इसमें बीजेपी के प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, सह प्रभारी पंकजा मुंडे, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद आये हुए थे |रविवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और प्रदेश संगठन महामंत्री महानंद ने पार्टी विधायकों और संगठन पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इस बैठक में निकाय चुनाव और पंचायत चुनाव की जिम्मेदारी विधायकों को सौंपी गई है |पार्टी ने घोषणा पत्र और टिकट वितरण चर्चा शुरू कर दिया हैं | घोषणा पत्र के लिए पार्टी अलग अलग वर्ग के लोगों से  सुझाव लेगी |बीजेपी  ने इस बार ओबीसी वर्ग को स्थानीय निकाय चुनाव 27 फीसदी टिकट देने का वादा किया है | स्थानीय निकाय चुनाव के लिए  सभी पार्टियां ओबीसी वर्ग को रिझाने में लगे हैं। 

Kolar News

Kolar News 16 May 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पौधे लगाने का कार्य अद्भुत है। यह सिर्फ पौधा लगाने और उसे सींचने का काम नहीं बल्कि जीवन को सींचने का काम है। वृक्ष हैं तो हम हैं। सामाजिक संगठन इस कार्य में पूरा सहयोग दें। यह बात मुख्यमंत्री चौहान ने रविवार को भोपाल के श्मायला हिल्स स्थित स्मार्ट उद्यान में सामाजिक संस्था भारत गृह निर्माण सहकारी संस्था, जे.के. रोड के पदाधिकारियों के साथ पौध-रोपण करते हुए कही। आज पीपल और नीम के पौधे लगाए गए।   मुख्यमंत्री चौहान ने आयुक्त नगर निगम भोपाल से रहवासी संघों की गतिविधियों और स्वच्छता अभियान के कार्यों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने इन कार्यों के सुचारू संचालन और देख-रेख के निर्देश भी दिए।   मुख्यमंत्री चौहान को संस्था की दिव्या अत्री, अल्पना झा, पल्लवी शर्मा, कविता सोहाने, सुषमा चौकसे ने संस्था की गतिविधियों की जानकारी दी। करीब 300 रहवासी परिवारों की इस सोसाइटी ने स्वच्छता और पर्यावरण के क्षेत्र में कार्य किया है। नगर निगम भोपाल ने गत वर्ष संस्था को पुरस्कृत भी किया। क्षेत्र के उद्यानों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर संस्था द्वारा पौध-रोपण किया जाता है।   मुख्यमंत्री चौहान और संस्था द्वारा आज लगाए गए पौधों में पीपल एक छायादार वृक्ष है। यह पर्यावरण शुद्ध करता है। इसका धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व है। नीम का पेड़ एंटीबायोटिक तत्वों से भरपूर और सर्वोच्च औषधि के रूप में जाना जाता है।

Kolar News

Kolar News 15 May 2022

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा के तीन दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण वर्ग में तीसरे दिन अपनी संगठन स्तर की मुख्य बातें रखने भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं मध्य प्रदेश के प्रभारी पी . मुरलीधर राव भोपाल पहुंचे, जहां कार्यकर्ताओं विशेषकर महिला कार्यकर्ताओं ने 'संगठन गढ़े चलो सुपंथ पर बढ़े चलो' गीत के बीच आत्मीय स्वागत किया ।   यहां अपने पदाधिकारियों के नगर आगमन पर समवेत स्वर में भाजपा की महिला संगठन पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता एक स्वर में यही गीत गा रही थीं कि 'संगठन गढ़े चलो, सुपंथ पर बढ़े चलो। भला हो जिसमें देश का, वो काम सब किए चलो॥ युग के साथ मिल के सब, कदम बढ़ाना सीख लो। एकता के स्वर में गीत, गुनगुनाना सीख लो। भूलकर भी मुख में, जाति-पंथ की न बात हो। भाषा, प्रांत के लिए, कभी न रक्तपात हो॥ फूट का भरा घड़ा है, फोड़कर बढ़े चलो ॥संगठन गढ़े चलो।' https://www.youtube.com/watch?v=dpekxnujn9c इनके पहले सुबह अपनी बात रखने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भोपाल आई हैं। रविवार सुबह एयर एंडिया की नियमित उड़ान से राजा भोज एयरपोर्ट पर पहुंचते ही भाजपा नेताओं एवं महिला मोर्चा से जुड़ी महिलाओं ने उनकी आत्मीय अगवानी की थी। एयरपोर्ट पर स्वागत करने तमाम भाजपा महिला कार्यकर्ता, पदाधिकारियों में प्रदेश प्रवक्ता नेहा बग्गा, गुंजन मिश्रा, सुधा सिंह, पूर्व पार्षद सरोज जैन, नसरीन बानो समेत कई महिला पदाधिकारी मौजूद थीं। वहीं, पुरुष नेताओं में भाजपा के जिला अध्यक्ष सुमित पचौरी, महामंत्री जगदीश यादव, मंडल अध्यक्ष योगेश वासवानी, भाजयुमो मंडल अध्यक्ष आकाश राजपूत एवं भोपाल नगर निगम के पूर्व महापौर आलोक शर्मा भी अपने संगठन पदाधिकारियों की अगवानी में लगे हुए दिखाई दे रहे हैं ।     उल्लेखनीय है कि आज यानी कि रविवार को भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा राष्ट्रीय प्रशिक्षण वर्ग में भाजपा के राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं मध्य प्रदेश के प्रभारी पी. मुरलीधर राव एवं सामाजिक कार्यकर्ता व छात्र नेता ममता यादव के मुख्य उद्बोधन सत्र हैं।

Kolar News

Kolar News 15 May 2022

    सीहोर। वर्तमान समय में आज जब सब कुछ बदल रहा है तो यह जरूरी है कि महिलाएं भी सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से आगे बढ़ें। महिलाओं के सशक्तिकरण की दिशा में भारतीय जनता पार्टी के संगठन और केंद्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व वाली सरकार ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं और कई ऐतिहासिक फैसले लिए हैं। इसी दिशा में महिला मोर्चा संगठन ने तय किया है कि अगले 3 महीनों में हम मोर्चा के एक लाख कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण करेंगे। प्रशिक्षण प्राप्त करके ये कार्यकर्ता समाज के बीच जाकर सरकार की योजनाओं और पार्टी की नीतियों को जन-जन तक पहुंचाने का काम करेंगी। यह बात भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वानती श्रीनिवासन ने सीहोर में शुक्रवार से प्रारंभ हुए महिला मोर्चा के तीन दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण वर्ग में अध्यक्षीय आंसदी से कही। प्रशिक्षण वर्ग के उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णु दत्त शर्मा, पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री एवं महिला मोर्चा के राष्ट्रीय प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम, महिला मोर्चा की राष्ट्रीय महामंत्री सुखप्रीत कौर, पार्टी की प्रदेश महामंत्री कविता पाटीदार, महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष माया नारोलिया, प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर, सीहोर जिलाध्यक्ष रवि मालवीय, भोपाल जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी, मोर्चा की प्रदेश महामंत्री अश्विनी परांजपे, माया पटेल मंचासीन अतिथियों के रूप में उपस्थित थे।   महिला सशक्तिकरण की योजनाओं को समाज के बीच ले जाना हमारा कर्तव्य प्रशिक्षण वर्ग को संबोधित करते हुए वानती श्रीनिवासन ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी अन्य राजनीतिक दलों से बहुत अलग राजनीतिक दल है। भारतीय जनता पार्टी का हमेशा से ही प्रयास रहा है कि महिलाओं को कैसे सशक्त और सक्षम बनाया जाए। हमारा उद्देश्य है कि प्रशिक्षण के माध्यम से महिला मोर्चा कार्यकर्ता भारत का सशक्त नेतृत्व कर सके। समाज में महिलाओं की अधिक से अधिक भागीदारी बढ़े इसके लिए भी भारतीय जनता पार्टी लगातार प्रयास करती रहती है। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण हमारी कार्य पद्धति का हिस्सा है। प्रशिक्षण के कारण ही हम अन्य राजनीतिक दलों से अलग दिखाई देते हैं। प्रशिक्षण ही हमें नेतृत्व करने की भूमिका में लाते हैं। उन्होंने कहा कि आज देश में देखेंगे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व और उनकी नीतियों के कारण समाज और सरकार में महिलाओं की भागीदारी बढ़ रही है। केंद्र सरकार के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के माध्यम से महिला सशक्तिकरण के परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं। आज तक के राजनीतिक इतिहास में केंद्र सरकार में इतनी महिला मंत्री नहीं रहीं, जितनी कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की सरकार में हैं। वित्त विभाग भी पहली बार एक महिला निर्मला सीतारमण जी को दिया गया है। उन्होंने कहा कि यह हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी शक्ति को बढ़ाकर महिलाओं के हितों में संचालित योजनाओं को समाज के बीच ले जाएं। परिवार भाव ही हमारी सबसे बड़ी ताकत: विष्णुदत्त शर्मा कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि हमारी विशेषता है कि हम एक परिवार भाव से काम करते हैं। यही हमारी सबसे बड़ी ताकत है। श्रद्धेय राजमाता सिंधिया जी, स्वर्गीय सुषमा स्वराज जी, पदमश्री सुमित्रा महाजन जी जैसी अनेक महिला प्रतिभाओं ने न केवल मध्यप्रदेश में बल्कि देश में भारतीय जनता पार्टी के संगठन को सींचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि सर्वस्पर्शी और सर्वव्यापी हमारा भाव रहा है और इसलिए हम प्रयास करते हैं कि हमारे मोर्चा और प्रकोष्ठों के गठन में महिलाओं की पर्याप्त भागीदारी सुनिश्चित हो।

Kolar News

Kolar News 13 May 2022

भोपाल। यूएनडीपी का एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को प्रदेश के पर्यावरण मंत्री हरदीप सिंह डंग से मिला। इस दौरान मंत्री डंग को यूएनडीपी के प्रतिनिधि श्रीनिवास ने बताया कि यूएनडीपी (संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम) ने मध्यप्रदेश सहित भारत के 10 राज्य में सौर ऊर्जा और पर्यावरण-संरक्षण के कार्य करने का निर्णय लिया है। मध्यप्रदेश में संस्था 75 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को सौर ऊर्जाकृत करने के साथ डिजीटलाइज़ मॉनिटरिंग सिस्टम भी लगाएगी।   उन्होंने बताया कि यूएनडीपी प्रदेश में 15 इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन भी स्थापित करेगी, जिसमें से अधिकांश इंदौर में होंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में 15 सोलर कोल्ड स्टोरेज और 50 सूक्ष्म एवं लघु उद्योग इकाई में एनर्जी ऑडिट करेगी।   मंत्री डंग ने यूएनडीपी द्वारा ग्रीन ऊर्जा के क्षेत्र में मध्यप्रदेश में किये जाने वाले कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि वे अन्य ऐसी परियोजनाएँ भी मध्यप्रदेश में लाएँ, जो ग्लोबल वॉर्मिंग और जलवायु संतुलन की दिशा में काफी कारगर हों। श्रीनिवास ने बताया कि भारत के लिये निर्धारित लक्ष्य में से करीब 12 करोड़ रुपये मध्यप्रदेश के कार्यों के लिये निर्धारित किये गये हैं। इलेक्ट्रॉनिक व्हीकल प्रशिक्षण में 500 से 1000 तक युवा लाभान्वित होंगे।

Kolar News

Kolar News 13 May 2022

गुना। प्रदेश सरकार राज्य में भरपूर बिजली देने का दावा कर रही है। ऊर्जा मंत्री कह चुके हैं कि 23 प्रतिशत बिजली ज्यादा दे रहे हैं। लेकिन स्थितियां इसके बिल्कुल उलट नजर आती हैं। बीती रात गुना के हिलगना गांव में हुए ऊर्जा मंत्री के रात्रि विश्राम कार्यक्रम में ही पूरे समय बिजली जनरेटर से दी गयी। ग्रामीणों ने ऊर्जा मंत्री से ही कहा कि रात में 4-4 घंटे बिजली काटी जा रही है। मंत्री के जन चौपाल कार्यक्रम में अधिकतर समस्याएं बिजली को लेकर ही सामने आईं।     प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर तय कार्यक्रम के अनुसार गुरुवार को गुना पहुंचे। यहां उन्होंने सर्किट हाउस में पार्टी कार्यकर्ताओं से बैठक की। इसके बाद शहर से 7 किमी दूर हिलगना गांव में जन चौपाल लगाई। रात्रि विश्राम भी उन्होंने गांव के पंचायत भवन में ही किया। सरपंच कक्षा में उनके लिए कूलर, पलंग लगाकर सोने की व्यवस्था की गई थी।     जनरेटर से मिली बिजली   ऊर्जा मंत्री के कार्यक्रम में बिजली विभाग सीधे लाइन से विद्युत उपलब्ध नहीं करा सके। जबकि शहर के अन्य इलाकों में दिन भर में कई बार बिजली काटी गई। ऐसे में यह आशंका थी कि मंत्री के कार्यक्रम के लिए बिजली रिजर्व की जा रही है। हालांकि मौके पर हालात इसके बिल्कुल उलट नजर आए। कार्यक्रम स्थल शासकीय स्कूल में लगे पंडाल और आस-पास की सभी जगह जनरेटर से बिजली उपलब्ध कराई गई। ऊर्जा मंत्री के दौरे के दौरान ही बिजली सप्लाई की पोल खुलती दिखी।     ग्रामीण बोले- रात में काटी जाती है बिजली   मंत्री के सामने ही गांव के नागरिकों ने विद्युत व्यवस्था के बारे में अपनी पीड़ा सुनाई। उन्होंने कहा कि दिन तो छोड़िए, रात में 4-4 घंटे बिजली काटी जाती है। ऐसे में सोना तक मुहाल हो जाता है। ग्रामीणों ने कहा कि दिन की तो हम बात ही नहीं कर रहे। दिन में काटते हैं तो हम आपत्ति नहीं उठाते, लेकिन रात में बिजली काटने का क्या औचित्य है। मंत्री ने अधिकारियों को इसे सुधारने के निर्देश दिए।

Kolar News

Kolar News 13 May 2022

भोपाल। मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मप्र विधानसभा का एक दिवसीस विशेष सत्र बुलाये जाने हेतु पत्र लिखा है। गोविंद सिंह ने पत्र में हवाला दिया है कि बीते 10 मई को माननीय सर्वाेच्च उच्चतम न्यायालय ने मध्यप्रदेश में अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के बिना ही निकाय चुनाव कराने का आदेश दिया है। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अन्य पिछडा वर्ग को न्याय मिले, इस हेतु अपनी प्रतिबद्धता विधानसभा में जाहिर की है, इसी आशय को लेकर 23 दिसंबर 2021 को विधानसभा में सरकार की ओर से संकल्प लाया गया था, जिसमें "प्रदेश में बगैर अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों के आरक्षण के त्रिस्तरीय पंचायत के चुनाव न कराये जाये यह संकल्प सदन में सर्वसम्मति से पारित किया गया था।’’ नेता प्रतिपक्ष सिंह ने कहा कि संकल्प पारित किये जाने के दौरान मुख्यमंत्री ने सदन में कहा था कि माननीय सर्वाेच्च न्यायालय में अपने पक्ष को पूरी ताकत के साथ रखेंगे, इसके साथ ही ओबीसी को पंचायत चुनाव में आरक्षण मिले उसके लिये हर संभव उपाय करेंगे। उसके बावजूद सरकार की ओर से माननीय सर्वाेच्च न्यायालय में अन्य पिछड़ा वर्ग के संबंध ठोस तथ्य प्रस्तुत न किये जाने के कारण पिछड़ा वर्ग के पक्ष में माननीय उच्चतम न्यायालय का निर्णय नहीं आया है। श्री सिंह ने कहा कि जब पक्ष तथा विपक्ष दोनों प्रदेश के अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को आरक्षण देने के पक्षधर है, ऐसी स्थिति में यह आवश्यक है कि मध्यप्रदेश विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाया जाकर इस सत्र में एक प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया जाये। जिनमें केन्द्र सरकार से अनुरोध किया जाये कि प्रदेश के अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को 27 प्रतिशत आरक्षण सुनिश्चित करने के लिये संविधान में संशोधन किया जाये। गोविंद सिंह ने उपरोक्त स्थिति को दृष्टिगत रखते हुये प्रदेश के अन्य पिछड़ा वर्ग के हित में एक दिवसीय विधानसभा का विशेष सत्र आहुत किये जाने का अनुरोध मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से किया है।

Kolar News

Kolar News 12 May 2022

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस पर नर्सिंग क्षेत्र के सभी कर्मियों को शुभकामनाएं दी हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से जारी संदेश में कहा है कि - "समर्पित भाव से कर्त्तव्य का पालन करते हुए मानव सेवा के लिए सदैव तत्पर रहने वाले नर्सिंग क्षेत्र के सभी कर्मचारियों का समाज ऋणी है।"     मुख्यमंत्री चौहान ने कोरोना काल की कठिन और चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में नर्सिंग स्टाफ द्वारा स्वयं को जोखिम में डालते हुए की गई सेवा का स्मरण भी किया।

Kolar News

Kolar News 12 May 2022

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश केसवानी ने कांग्रेस चीफ कमलनाथ के वचन पत्र वाले बयान का कड़ा विरोध जताया  है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा है कि कांग्रेस चीफ को अब वचन शब्द का इस्तेमाल करने से पहले नैतिकता के नाते सोचना चाहिए। क्योंकि कांग्रेस चुनाव से पहले वचन पत्र नहीं असत्य पत्र का निर्माण करती है। लोगों के सामने इन्हें रखकर लोगों की आंखों में सदैव से धूल झोंकती आई है। लोगों को अंधेरे में रखने का काम कांग्रेस आज से नहीं आजादी के बात से ही करती आई है। हिंदू विरोधी कांग्रेस के लिए तो आम लोग और वचनों का कोई महत्व नहीं है। कांग्रेस नेता केवल और केवल निजी हितों के लिए ही सत्ता चाहते हैं। भाजपा प्रवक्ता ने कांग्रेस पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि कांग्रेस रीत सदा चली आई, वचन जाई पर सत्ता न जाई। चिंतन शिविरों में लजीज व्यंजनों का स्वाद चखते हैं कांग्रेस नेता : कांग्रेस पार्टी के चिंतन शिविरों को भाजपा प्रवक्ता ने लक्जरी होटलों में होने वाली रेव पार्टियां करार देते हुए कहा कि चिंतन शिविरों में 5 स्टार होटलों के एसी हॉल में बैठकर केवल लजीज व्यंजन चखने का काम करते हैं। इस दौरान कांग्रेस नेता एक जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका भूल कर केवल भौतिक सुखों का लाभ उठाते हुए लजीज व्यंजनों के साथ पार्टियां करते हैं। जनसरोकार के मुद्दे पूरी तरह से दरकिनार कर दिए जाते हैं। इन शिविरों में कोई भी कांग्रेस नेता न तो अपनी कोई बात रख पाता है, यदि कोई जनसरोकार के बात रख भी देता है तो उसे सुनने वाला कोई नहीं होता। कांग्रेस ने वचन पत्र नहीं असत्य पत्र बनाया : डॉ. केसवानी ने कहा कि पहले के 973 कोरे झूठों के साथ नए झूठों को जोड़कर कांग्रेस एक नया असत्य पत्र आम लोगों के सामने पेश करेगी। इसे साल भर लोगों के सामने खूब प्रचारित और प्रसारित करेगी। अंत में फिर वही रेव पार्टियां और 5 स्टार पार्टियां ही बचेंगी। कांग्रेस पहले भी मध्य प्रदेश वासियों से 973 वचनों का वादा कर उन्हें ठग चुकी है। कोई मुझे बताए यदि उनमें से यदि एक भी वचन पूरा हुआ हो। 2018 में संवैधानिक रूप से लोगों ने कांग्रेस को चुना, इसके बाद कांग्रेस के मध्य प्रदेश चीफ कमलनाथ आइफा अवार्ड के नाम पर जैकलीन की कमर में हाथ डालते नजर आए। मध्य प्रदेश में गांजे की खेती को बढ़ावा देते नजर आए। वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया गया। वहीं जनहित के कार्य लेकर पहुंचने वाले विधायकों को चलो चलो बहुत हुआ कहकर भगाया गया। वहीं नेता नंबर 2 दिग्विजय सिंह अपनी आकांक्षाओं को पूरा न होते देख सरकार को ही गिराते नजर आए। लोगों के भरोसे को कांग्रेस हमेशा से ही तोड़ने का काम करती आई है। सत्ता मिलते ही कांग्रेस का एक मात्रकाम केवल और केवल रुपए जोड़ना होता है। लोगों को हंसाने का काम करते हैं राहुल :  डॉ. केसवानी ने कहा कि कांग्रेस के चरित्र को देश की पुरानी पीढ़ी के साथ नई पीढ़ी भी अच्छे से समझती है। वहीं राहुल गांधी को लेकर उन्होंने कहा कि राहुल को देखकर भाजपा न कभी चिंतित हुई है और न कभी होगी। राहुल केवल आम लोगों को हंसाने का काम करते आए हैं। इसलिए उनसे किसी तरह की परेशानी नहीं है। महंगाई और बेरोजगारी वाले मुद्दे पर भाजपा प्रवक्ता ने कहा है कि आज आम आदमी समझ रहा है कि भारत विकसित देश बनने की ओर अग्रसर है। इसलिए हमने प्रधानमंत्री मोदी को प्रथम जन सेवक चुना है। वहीं बेरोजगारी वाले मुद्दे पर उन्होंने कमलनाथ पर ही निशाना साधते हुए कहा है कि पहले नाथ बताएं उन्होंने अपनी सरकार में बेरोजगारी को लेकर क्या काम किया। यहां तक कि कमलनाथ ने बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया था, उन्होंने अपनी सरकार में कितने लोगों को बेरोजगारी भत्ता दिया।

Kolar News

Kolar News 12 May 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत बुधवार को राहतगढ़ में आयोजित सामूहिक विवाह सम्मेलन में परिवहन एवं राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने अपनी धर्मपत्नी सविता सिंह राजपूत के साथ नव-दम्पत्तियों को आशीर्वाद दिया। मंत्री राजपूत ने कहा कि हम स्वयं को सौभाग्यशाली मानते हैं कि हमें एक साथ 169 बेटियों के कन्यादान का सौभाग्य प्राप्त हुआ।   उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बेटियों के लिये जन्म से लेकर शिक्षा और शादी तक का व्यय उठा रही है। उन्होंने कहा कि एक समय था जब बेटी के विवाह के लिये अभिभावक परेशान होते थे और बेटी का विवाह पिता के लिये किसी कड़ी परीक्षा से कम नहीं होता था।   बाबुल के रूप में मंत्री ने गाये मंगल गीत परिवहन मंत्री राजपूत ने इस मंगल कार्यक्रम में बुंदेली भाषा में गाये जाने वाले बन्ना गीत "बड़ी-बड़ी मूंछों के आये'' गाकर नव-दम्पत्तियों का स्वागत करते हुए दूधों नहाओ, पूतों फलो का आशीर्वाद दिया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में प्रति कन्या 55 हजार रुपये व्यय किये जा रहे हैं। इसमें कन्या को घरेलू सामान के साथ 11 हजार रुपये का चेक और आयोजन व्यय शामिल है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में आयोजित इस सामूहिक विवाह सम्मेलन में प्रत्येक बेटी के लिए राजस्व एवं परिवहन मंत्री राजपूत ने उपहार स्वरूप साड़ियाँ भेंट की। दिव्यांग जोड़े के लिए दिए 51-51 हजार रुपये मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना अंतर्गत सामूहिक विवाह सम्मेलन में राजस्व एवं परिवहन मंत्री राजपूत ने सम्मेलन में आये ग्राम मुहासा के दिव्यांग गोवर्धन बंसल तथा राखी बंसल के लिए 51-51 हजार रुपये की राशि अपनी तरफ से सप्रेम भेंट की और शुभकामनाएँ दी।

Kolar News

Kolar News 11 May 2022

भोपाल। प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने भोपाल के विभिन्न संजीवनी क्लीनिकों का बुधवार को निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने संजीवनी क्लीनिक रोशनपुरा, गिन्नौरी, बरखेड़ी एवं नया बसेरा में उपलब्ध सेवाओं की जानकारी ली गई।   संजीवनी क्लीनिक के माध्यम से मूलभूत स्वास्थ्य सेवाओं के साथ-साथ टीकाकरण, मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य एवं संचारी रोगों की सेवाओं को उपलब्ध करवाया जा रहा है। भ्रमण के दौरान मंत्री डॉ. चौधरी द्वारा संजीवनी क्लीनिक में उपलब्ध दवाइयों एवं पैथोलॉजी जांच की जानकारी ली गई और उपलब्ध सेवाओं के संबंध में संतोष व्यक्त किया गया। इस दौरान मरीजों से चर्चा कर संजीवनी क्लीनिक की सेवाओं के संबंध में फीडबैक लिया गया एवं स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता में बढ़ोतरी हेतु मरीजों से सुझाव लिए गए।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि शहरी आबादी, विशेष रुप से गरीब एवं अन्य वंचित वर्गों को स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के उद्देश्य से संजीवनी क्लीनिक का संचालन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 15वें वित्त आयोग द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं के सुदृढ़ीकरण हेतु स्वास्थ्य अनुदान प्रदान किए जाने का निर्णय लिया गया है। इस संबंध में यूनिवर्सल हेल्थ केयर के महत्व और स्वास्थ्य सेवाओं की प्रदायगी सुनिश्चित करने के लिए शहरी स्थानीय निकाय की भूमिका को महत्वपूर्ण माना गया है। स्वास्थ्य अनुदान अंतर्गत शहरी स्वास्थ्य सेवाओं के सुदृढ़ीकरण हेतु शहरी स्वास्थ्य सेवाओं का निरंतर विस्तार किया जा रहा है।   उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश शासन द्वारा 20 से 25 हज़ार की जनसंख्या पर मुख्यमंत्री संजीवनी क्लीनिक की स्थापना किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

Kolar News

Kolar News 11 May 2022

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जगत और जीवों के कल्याण के लिए अपना जीवन समर्पित कर देने वाले श्रद्धेय संत सिंगाजी महाराज के प्रकटोत्सव पर हार्दिक बधाई दी है।   मुख्यमंत्री चौहान ने संत सिंगाजी महाराज के पवित्र, प्रखर और ओजस्वी विचारों को प्रासंगिक मानते हुए मंगलवार को कहा कि सिंगाजी महाराज एक कवि और विलक्षण संत थे। लगभग 500 वर्ष पहले उन्होंने अवतरित होकर मानवता के लिए जीवन समर्पित किया।   संत जी के सम्मान में जलाशय और परियोजनाओं का नामकरण मुख्यमंत्री ने कहा कि नर्मदा जल विद्युत विकास निगम की करीब 900 वर्गमीटर में फैली संत सिंगाजी जलाशय परियोजना भारत के सबसे बड़े और एशिया के दूसरे सबसे बड़े जलाशय के निकट स्थित है। यहाँ पीपल्या ग्राम में संत सिंगाजी की पावन समाधि है। परियोजना के डूब क्षेत्र में आने से संत सिंगाजी के मंदिर को विशेष निर्माण से सुरक्षित किया गया है। परियोजना के जलाशय का नामकरण संत सिंगाजी के सम्मान में उनके नाम पर किया गया है। थर्मल पावर प्लांट और ताप विद्युत परियोजना, मुंडी का नामकरण भी संत सिंगाजी के नाम पर किया गया है।   नर्मदा घाटी के संत जी का संक्षिप्त परिचय   संत सिंगाजी खजूरी ग्राम में जन्में थे, जो वर्तमान में बड़वानी जिले में है। सिंगाजी खंडवा के निकट स्थित ग्राम का नाम भी है। निमाड़ अंचल में संत सिंगाजी के प्रति लोगों की गहरी आस्था है। वे संत कबीर के समकालीन थे और उन्होंने जीवनकाल में गृहस्थ होकर भी निर्गुण होकर उपासना की। उनकी वाणी अलौकिक मानी गई। वे एक पशु रक्षक देव के रूप में भी स्वीकार किए गए हैं। उन्हें नर्मदा घाटी के संत के नाम से ख्याति मिली। कई स्थानों पर संत सिंगाजी के डेरे और समाधियाँ निर्मित हैं, जहाँ पारम्परिक मेले लगते हैं। शरद पूर्णिमा पर उनकी समाधि स्थल पर पहुँचकर श्रद्धालु नमन करते हैं। मध्यप्रदेश के साथ ही महाराष्ट्र के श्रद्धालु भी इनमें शामिल होते हैं। कवि संत सिंगाजी के आध्यात्मिक गीत पिछली पाँच सदियों से लोगों के जुबाँ पर बने हुए हैं।

Kolar News

Kolar News 10 May 2022

भोपाल। जल-संसाधन, मछुआ कल्याण और मत्स्य विकास मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि प्रदेश में मछली पालन के साथ झींगा पालन को भी बढ़ावा देने का प्रयास करें। झींगा पालन से रोजगार के साथ लोगों की आय में भी वृद्धि होगी। झींगा पकड़ने के लिए 35 रुपये प्रति किलो मिलने वाली मजदूरी को बढ़ाकर अब 50 रुपये किया जाएगा। इससे झींगा व्यवसाय से जुड़े मजदूरों को लाभ पहुँचेगा।   मंत्री सिलावट मंगलवार को मंत्रालय में मध्यप्रदेश मत्स्य महासंघ बोर्ड की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने झींगा पालन को बढ़ावा देने के साथ झींगा पालन की योजना में स्थानीय लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने और योजना का लाभ देने के निर्देश दिए।   सिलावट ने कहा कि मछुआ समाज के लिये चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं का लाभ समाज के प्रत्येक व्यक्ति तक पहुँचे, इसके लिये सभी अधिकारी मछुआ समितियों के सदस्यों से संवाद करें और निष्क्रिय समितियों की मान्यता समाप्त की जाए। उन्होंने कहा कि निष्क्रिय समितियों को भंग कर पुनः नई समिति का गठन करें, जिससे मत्स्य उत्पादन से जुड़े लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके।   प्रमुख सचिव कल्पना श्रीवास्तव ने बताया कि समितियों के बेहतर संचालन के लिए संचालक मंडल को जिम्मेदारी सौंपी गई है। उनको निष्क्रिय समितियों की जाँच कर भंग करने और नई समिति के गठन के लिए निर्देशित किया गया है। जल्द ही पूरे प्रदेश में निष्क्रिय समितियों की जगह नयी समितियों का गठन कर लिया जाएगा।   प्रदेश मत्स्य महासंघ के प्रबंध संचालक पुरुषोत्तम धीमान, मत्स्योद्योग संचालक भरत सिंह सहित संचालक मंडल के सदस्य एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 10 May 2022

  भोपाल। शहरों में स्थित ऊँची इमारतों, होटल, शैक्षणिक भवनों आदि में उपयुक्त फायर सिस्टम लगवायें और इसे चालू हालत में रखें। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने इस संबंध में जरूरी कार्यवाही करने के निर्देश नगरीय विकास एवं आवास विभाग के अधिकारियों को दिये हैं। यह जानकारी मंगलवार को जनसंपर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने दी।   उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय भवन संहिता (NBC) 2016 के भाग-4 अनुसार आवासीय उपयोग के 15 मीटर या अधिक ऊँचाई के भवन, जिसमें दो या अधिक बेसमेंट है अथवा एक बेसमेंट का क्षेत्रफल 500 वर्गमीटर से अधिक है होटल, शैक्षणिक संस्था, व्यवसायिक, औद्योगिक आदि एवं मिश्रित उपयोग के भवन (किसी एक तल या अधिक तल का फ्लोर एरिया 500 वर्ग मीटर से अधिक) शैक्षणिक भवन जिसकी ऊँचाई 9 मीटर या अधिक है और सभा भवन, आकस्मिक सभा उपयोग के भवन आदि के लिए फॉयर एनओसी ली जाना एवं उपयुक्त फॉयर सिस्टम स्थापित किया जाना आवश्यक है। फॉयर एनओसी प्राप्त करने के लिए शासन द्वारा अग्निशमन प्राधिकारी घोषित किये गए हैं।   मंत्री सिंह ने कहा है कि इन भवनों में अग्नि सुरक्षा से संबंधित अपेक्षाओं का पालन किया जाना अनिवार्य है। प्रदेश के कई ऊँची इमारतों एवं अन्य उल्लेखित भवन जो राष्ट्रीय भवन संहिता के भाग 4 की श्रेणी में आते हैं, के द्वारा फॉयर एनओसी प्राप्त नहीं की जाना एवं भवनों में उपयुक्त तथा क्रियाशील फॉयर सिस्टम स्थापित नहीं होने की जानकारी प्राप्त हुई है। ग्रीष्म ऋतु में आगजनी की घटना को दृष्टिगत रखते हुए इस श्रेणी के भवनों में फॉयर सिस्टम स्थापित होना एवं चालू हालत में रखा जाना अनिवार्य है।   मंत्री सिंह ने नियमों में वर्णित प्रावधान एवं आमजन की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए निर्देशत किया है कि भूमि विकास नियम की धारा 87 के अन्तर्गत शहर में स्थित ऊँची इमारतें और राष्ट्रीय भवन संहिता के भाग- 4 में उल्लेखित भवनों के सर्वे के लिए अभियान चलाया जाकर निकायों द्वारा सूची तैयार की जाए। इन भवनों में उपयुक्त फॉयर सिस्टम स्थापित होने एवं क्रियाशील होने के संबंध में स्थल निरीक्षण कराया जाकर जानकारी प्राप्त की जाये।   जिन भवनों में फॉयर सिस्टम स्थापित है वहाँ फॉयर सिस्टम चालू हालत में रखना सुनिश्चित कराया जाये। यदि इन भवनों में फॉयर सिस्टम स्थापित नहीं है तो आगामी 15 दिवस के अन्दर अनिवार्यतः फॉयर सिस्टम स्थापित कराया जाये। संबंधित भवन स्वामी को सक्षम प्राधिकारी/अग्निशमन प्राधिकारी से विधिवत् फॉयर एनओसी प्राप्त करने के लिए अवगत कराया जाये। निकायों के आयुक्त/मुख्य नगर पालिका अधिकारी द्वारा इन निर्देशों के पालन में कार्यवाही करते हुए पालन प्रतिवेदन 30 मई 2022 तक संचालनालय नगरीय प्रशासन एवं विकास में प्रस्तुत किया जाये। साथ ही सॉफ्टकॉपी में जानकारी ईमेल आई.डी. bpiministeroffice@gmail.com पर भेजी जाये। संभागीय संयुक्त संचालक अपने संभाग में स्थित निकायों में स्थित उल्लेखित भवनों में स्थापित होने वाले फॉयर सिस्टम का सतत निरीक्षण कर नियमानुसार कार्यवाही की जाए। निर्देशों का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिये गए हैं।

Kolar News

Kolar News 10 May 2022

भोपाल। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के नव नियुक्त प्रदेशाध्यक्ष आशुतोष चौकसे ने कहा है कि प्रदेश के सभी लगभग 1500 सौ शासकीय, अशासकीय एवं अशासकीय अनुदान प्राप्त कॉलेजो में कमेटियों का गठन शीघ्र ही किया जाएगा एवं शिक्षा के निजीकरण और शिक्षा माफियाओं के खिलॉफ पूरे प्रदेश में हल्लाबोल कार्यक्रम चलाया जाएगा। मध्यप्रदेश में लगातार व्यापमं में हो रही अनियमितताओं को उजागर कर दोषियों पर कार्यवाही करने, संविदा वर्ग -3,की भर्ती प्रक्रिया मे की गई गड़बड़ी को लेकर पूरे प्रदेश में भाजपा सरकार एवं व्यापमं के खिलाफ पूरे प्रदेश में आंदोलन किया जाएगा। आशुतोष चौकसे ने सोमवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन, मध्यप्रदेश द्वारा छात्रों की समस्याओं को लेकर सदैव सडक़ से लेकर विधानसभा एवं न्यायालय तक संर्घष करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में व्याप्त बेरोजगारी के खिलाफ एक जन-जागरण के लिऐ एक प्रदेश व्यापी कार्यक्रम की जल्दी ही शुरूआत करेगें। मध्यप्रदेश के सभी जिलों के कॉलेजों में शैक्षणिक गतिविधियों के साथ -साथ छात्र छात्राओं के मानसिक एवं शारीरिक विकास के लिए खेल की गतिविधियॉ जो बंद होती जा रही है, उसको पुन: प्रारंभ करने के लिए योजना बनाकर कार्य करेगें। चौकसे ने बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी शैक्षणिक सत्र प्रारंभ होने के पहले एन.एस.यू.आई के द्वारा कक्षा 12वीं में उत्तीर्ण हुए छात्र छात्राओं की सहायत हेतु कॉलेजों में हेल्प डेस्क लगाई जाएगी ताकि नवीन प्रवेश लेने वाले छात्र छात्राओं को किसी भी प्रकार की समस्याओं का सामना ना करना पढ़े। आगे उन्होंने कहा कि एन.एस.यू.आई समय -समय पर सामाजिक आयोजन करता रहा है इस वर्ष भी रक्तदान शिविर, पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूकता अभियान के साथ साथ महापुरूषो की जयंती मनायी जाएगी।

Kolar News

Kolar News 9 May 2022

भोपाल। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा है कि सिकल सेल एनीमिया प्रोजेक्ट कार्य में तेजी लायें। यह निर्देश स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने सोमवार को मंत्रालय में सिकल सेल एनीमिया प्रोजेक्ट के कार्य की समीक्षा करते हुए दिये।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि प्रोजेक्ट में अब तक एक लाख 93 हजार 547 की स्क्रीनिंग का कार्य किया गया है, यह संतोषजनक नहीं है। स्क्रीनिंग कार्य में और तेजी लाने की जरूरत है। प्रोजेक्ट से जुड़ी सभी एजेंसियों को इस संबंध में निर्देशित किया जाये। सिकल सेल एनीमिया प्रोजेक्ट अनुसूचित जनजाति बहुल अलीराजपुर और झाबुआ जिले में संचालित है। प्रोजेक्ट में समस्त गर्भवती महिलाओं और 6 माह से 18 वर्ष आयु के बच्चों की स्क्रीनिंग कर जाँच की जाना है। समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य आयुक्त-सह-सचिव डॉ. सुदाम खाड़े, एमडी एनएचएम श्रीमती प्रियंका दास, नोडल ऑफिसर डॉ. रूबी खान और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 9 May 2022

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप और स्वतंत्रता सेनानी गोपाल कृष्ण गोखले की जयंती पर उन्हें नमन किया। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने निवास कार्यालय में उनके चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की।     मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि "वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप जी और स्वतंत्रता सेनानी श्री गोपाल कृष्ण गोखले जी को जयंती पर शत्-शत् नमन। महाराणा प्रताप राष्ट्रभक्ति और राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीक हैं, तो वहीं संपन्न, शिक्षित, जागृत भारत के निर्माण में गोखले जी का समर्पण वंदनीय है। आपके चरणों में प्रणाम करता हूं।"

Kolar News

Kolar News 9 May 2022

उज्जैन। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने रविवार को दोपहर में उज्जैन दक्षिण विधानसभा क्षेत्र के तीन ग्रामों में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के अन्तर्गत अमृत सरोवर तालाब निर्माण कार्यों का अवलोकन किया। इस दौरान उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि तालाबों का निर्माण कार्य बारिश के पूर्व अनिवार्य रूप से पूर्ण किये जाए। उन्होंने कहा कि अमृत सरोवर तालाबों के निर्माण से जल का स्तर बढ़ेगा और सबको जल मिलेगा। तालाबों के निर्माण कार्य से जल का संग्रहण होगा। इससे तालाबों के आसपास के खेतों में जल स्तर बढ़ेगा। पशुओं को पीने के लिये पानी उपलब्ध होगा। जलाभिषेक अभियान के अन्तर्गत तालाबों के निर्माण कार्य से आसपास सूखा न रहेगा एवं जल की वृद्धि होगी। तीन ग्रामों में बन रहे अमृत सरोवर तालाबों की लागत 33 लाख 59 हजार 551 रुपये है।   उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने रविवार को दोपहर में सर्वप्रथम ग्राम मगरिया के पास बन रहे तालाब निर्माण कार्य का अवलोकन कर सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। तालाब के निर्माण कार्य पूर्ण होने से बरसात का पानी आसपास के नालों का पानी तालाब में आयेगा। मगरिया ग्राम के समीप बनने वाले तालाब की लागत 11 लाख 40 हजार 551 रुपये है। इसी तरह उन्होंने ग्राम पंचायत पिपल्याराघौ के ग्राम छायन में निर्मित हो रहे तालाब निर्माण कार्य का अवलोकन किया। ग्राम छायन में निर्मित हो रहे तालाब की लागत 12 लाख 14 हजार रुपये है।   उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने इसके बाद ग्राम गंगेड़ी के पास बनने वाले मनरेगा के अन्तर्गत तालाब निर्माण कार्य का अवलोकन कर जनपद पंचायत के उपयंत्री को बारिश के पूर्व तालाब का निर्माण कार्य अनिवार्य रूप से पूर्ण किया जाये, ताकि बरसात के पानी का संग्रहण तालाब में हो सके। इस तालाब के निर्माण कार्य की लागत नौ लाख 97 हजार रुपये है।   जलाभिषेक अभियान में वर्षा के जल को संरक्षित करना आवश्यक है, जिससे भविष्य के लिये अधिक से अधिक वर्षा का जल संग्रहित किया जा सके। इसमें हम सबकी जिम्मेदारी है। जिन गांवों में अमृत सरोवर बनाये जा रहे हैं, उनका निर्माण कार्य ठीक हो। उनमें किसी भी प्रकार की कमी न रहे। तालाबों के आसपास वृक्षारोपण का कार्य भी करने के निर्देश दिये।   तीनों तालाबों के निर्माण कार्य पूर्ण होने से 10-10 हजार घनमीटर पानी का संग्रहण हो सकेगा। इस अवसर पर उज्जैन ग्रामीण राजस्व अनुविभागीय अधिकारी गोविन्द दुबे, उपयंत्री समीर सोनाने, उपयंत्री यास्मिन मंसूरी, रविशंकर वर्मा, शोभाराम मालवीय, ग्राम पंचायत पिपल्याराघौ के सरपंच पति भुवानसिंह मालवीय, ग्राम पंचायत सचिव राजेश पाटीदार आदि उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 8 May 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को राजधानी भोपाल के स्मार्ट सिटी पार्क में अवधपुरी गृह निर्माण सहकारी समिति की अनीता अहिरवार, अशोक कुमार, आर.के. शर्मा और डी.के. झारिया के साथ करंज और हरसिंगार के पौधे लगाए।   बता दें कि अवधपुरी गृह निर्माण सहकारी समिति द्वारा कॉलोनी में पौध-रोपण किया गया है। पेड़-पौधों के रखरखाव के लिए कॉलोनी में ही कंपोस्ट पिट का निर्माण कर गीले कचरे से खाद बनाई जाती है। समिति कॉलोनी रहवासियों को स्वच्छता बनाए रखने और पौधों के पालन-पोषण की जिम्मेदारी लेने के लिए निरंतर प्रेरित करती है। आगामी मानसून में बड़े स्तर पर पौधा-रोपण का कार्यक्रम है।   गौरतलब है कि हरसिंगार (पारिजात) का पौधा उत्तम औषधि है। चिकित्सा शास्त्रियों के अनुसार इसका उपयोग कई बीमारियों को ठीक करने में होता है। करंज का पौधा आयुर्वेदिक चिकित्सा में महत्वपूर्ण माना गया है। करंज के पौधे का उपयोग धार्मिक कार्यों में भी किया जाता है।

Kolar News

Kolar News 8 May 2022

  भोपाल। प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल खेड़ीघाट मोरटक्का जिला खंडवा में रविवार को माँ राज राजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी मंदिर के पुन: जीर्णोद्धार महोत्सव कार्यक्रम में शामिल हुए। इस अवसर पर कृषि मंत्री कमल पटेल ने माँ राजराजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी से कोरोना से मुक्ति के साथ ही देश- प्रदेश की प्रगति, उन्नति के साथ चारों ओर खुशहाली और विश्व का कल्याण की प्रार्थना की।   गौरतलब है कि 1930 में नर्मदा किनारे बने इस मंदिर के जीर्ण-शीर्ण होने के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक सुरेश सोनी के मार्गदर्शन में पूरे मंदिर का राजस्थान के लाल पत्थरों से पुन: जीर्णोद्धार किया गया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के द्वितीय सरसंघचालक माधव सदाशिव गोलवलकर गुरुजी साधना के लिए 1971 में यहां आए थे।

Kolar News

Kolar News 8 May 2022

भोपाल। प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने शनिवार को सुबह चित्रकूट में विभिन्न सामाजिक संगठनों के साथ पुण्य-सलिला मंदाकिनी की सफाई की। नदी से लगभग 10 गाड़ी कचरा निकाला गया।   ऊर्जा मंत्री तोमर ने इस अवसर पर सभी तीर्थ-यात्रियों से आग्रह किया है कि पॉलिथीन, पानी की बोटल और अन्य कोई भी सामग्री नदी और सड़क पर नहीं फेंके। इनको निर्धारित कचरा संग्रहण स्थानों पर ही डालें।

Kolar News

Kolar News 7 May 2022

इंदौर। आज मुझे संघर्ष के वह दिन याद आ गए, जब मैं खुद अपने माता-पिता के साथ सब्जी बेचा करता था। मूसाखेड़ी की सड़कों पर सब्जी बेचने वाली बेटी अंकिता नागर के हाथों में अब न्याय की तराजू है। मध्यप्रदेश की अन्य बेटियां भी अब अंकिता से प्रेरणा लेकर अपनी मुश्किलों को पीछे छोड़ सफलता के पथ पर अग्रसर होंगी।   शनिवार को यह बात प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने हाल ही में जज की परीक्षा पास करने वाली अंकिता नागर से मुलाकात के दौरान व्यक्त किए। दरअसल, अंकिता शहर के मुसाखेड़ी चौराहे पर सब्जी बेचने वाले की बेटी है और वह स्वयं भी अपने माता-पिता के साथ चौराहे पर सब्जी बेचती है। जज की परीक्षा पास करने पर शनिवार को मंत्री सिलावट ने अंकिता को सम्मानित किया।   इस मौके पर उन्होंने कहा कि आज मैं बेहद भावुक हूं। मैं भी अपने माता-पिता की सहायता के लिए सब्जी बेचा करता था। तेज बारिश हो या कितनी भी ठंड पड़े, सुबह जल्दी उठकर मंडी से सब्जी लाना फिर उसे दुकान पर सजाना... यही मेरी और मेरे परिवार की दिनचर्या थी। छावनी में आईके कॉलेज के गेट के समीप हमारी दुकान हुआ करती थी।   उन्होंने सब्जी की दुकान से ही वक्त निकालकर मैं पढ़ाई किया करता था। जब मुझे बेटी अंकिता नागर के बारे में पता चला तो आंखों के सामने 40-50 साल पहले के वह दृश्य दोबारा किसी चलचित्र की भांति घूम गए। इसलिए मैं बेटी अंकिता से मिलने खुद उनके घर आया और तमाम मुश्किलों के बीच अपनी बेटी को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करने वाले उनके पिता अशोक नागर और मां लक्ष्मी नागर का भी सम्मान किया।   मंत्री सिलावट ने इस दौरान अपनी बेटी को आगे बढ़ाने वाले उनके माता-पिता का अभिवादन किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी बेटी अंकिता की सफलता पर ख़ुशी व्यक्त की। बेटी अंकिता की सफलता इस बात का प्रमाण है कि मेहनत के दम पर उच्च शिखर को छुआ जा सकता है। एक सब्जी बेचने वाला प्रदेश का कैबिनेट मंत्री बन सकता है, एक बेटी जज बन सकती है तो मेहनत और लगन से अन्य बच्चे भी ऊंचाइयों को छू सकते हैं। प्रदेश सरकार की प्राथमिकता है कि सभी लाडली बेटियां आगे बढ़े, बेहतर शिक्षा हासिल करें और करियर की नई ऊंचाइयों को छूएं।   अपने सम्मान से अभिभूत अंकिता नागर ने कहा कि मैं बेहद खुश हूं कि मंत्री मेरे घर आए और हमारा सम्मान किया। यह जानकर मुझे खुशी हुई कि वह भी हमारी ही तरह सब्जी बेचा करते थे। मंत्री सिलावट के प्रेरणादाई शब्दों से मेरा हौसला और भी बढ़ा है। इस अवसर पर देवकीनंदन सिलावट, चंकी कुमावत, अशोक यादव, दिलीप चौधरी, ओम गणावा, प्रेम प्रजापति आदि भी मौजूद थे।

Kolar News

Kolar News 7 May 2022

उज्जैन। मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल शनिवार को उज्जैन पहुंचे। यहां उन्होंने बाबा महाकाल का अभिषेक- दर्शन कर प्रदेश की प्रगति, खुशहाली के साथ देश और प्रदेश के किसानो के कल्याण के लिए प्रार्थना की। इस दौरान उन्होंने बाबा महाकाल के दर्शन करने के उपरांत काशी विश्वनाथ मंदिर बनारस कॉरिडोर की तर्ज पर यहाँ बन रहे महाकाल मंदिर न्यू कॉरिडोर का निरीक्षण किया।   गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जून में मध्यप्रदेश के दौरे पर आ रहे हैं। वो उज्जैन आएंगे और महाकाल के दर्शन के बाद मंदिर विस्तारीकरण के तहत हुए नये निर्माण कार्यों का लोकार्पण करेंगे। पीएम मोदी की यहा बड़ी सभा भी होगी जिसमें एक लाख लोगों के आने की संभावना है। पीएम के दौरे के लिए जोरदार तैयारी चल रही है।     महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनीत गिरी महाराज से भेंट की   कृषि मंत्री कमल पटेल शनिवार को महाकालेश्वर मंदिर प्रांगण स्थित महानिर्वाणी अखाड़े के गादीपति महंत विनीत गिरी महाराज के पास पहुंचे और आशीर्वाद प्राप्त किया। महंत विनीत गिरी महाराज ने मंत्री पटेल को भगवान महाकाल की जडि़त तस्वीर भेंट की। इस अवसर पर उज्जैन के वरिष्ठ समाजसेवी शक्ति सिंह और नर्मदापुरम संभाग के समाजसेवी यशवंत पटेल भी मौजूद थे।

Kolar News

Kolar News 7 May 2022

भोपाल। पशुपालन एवं डेयरी मंत्री प्रेम सिंह पटेल की अध्यक्षता में शुक्रवार को मध्यप्रदेश राज्य पशु कल्याण सलाहकार मण्डल की पहली बैठक हुई। संचालनालय पशुपालन के सभाकक्ष में हुई बैठक में पशु कल्याण से जुड़े विभिन्न बिन्दुओं पर गहन विचार-विमर्श किया गया।   इस बैठक में गौ-पालन एवं पशुधन संवर्धन बोर्ड की कार्य परिषद के अध्यक्ष स्वामी अखिलेश्वरानंद गिरि, उपाध्यक्ष राज्य पशु कल्याण सलाहकार मण्डल एवं अपर मुख्य सचिव जे.एन. कंसोटिया, विधायक उमाकांत शर्मा, संचालक डॉ. आर.के. मेहिया और अन्य नामांकित सदस्य बैठक में शामिल हुये।   मंत्री पटेल ने गौ-सेवा, उनका उचित भरण-पोषण, गौ-शालाओं की व्यवस्था और अन्य पशुओं के कल्याण की रणनीति तैयार करने के संबंध में दिशा-निर्देश दिये। कंसोटिया ने वर्तमान में गौ-संरक्षण के लिये किये जा रहे प्रयास और पशु कल्याण के लिये वृहद कार्य-योजना की जानकारी दी। सदस्यों ने पशु कल्याण के क्षेत्र में मैदानी स्तर पर होने वाली समस्या और सुझाव रखे।

Kolar News

Kolar News 6 May 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहडोल पुलिस द्वारा अंतरराज्यीय चोर हसन को गिरफ्तार करने पर पुलिस विभाग को बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने शुक्रवार को कहा कि ऐसे कर्त्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारी और कर्मचारी ही मध्यप्रदेश की शान हैं। पुलिसकर्मियों एसआई वर्षा बैगा, आर. धन्नालाल एवं परिमल को 10-10 हजार रुपये की राशि से पुरस्कृत किया है।   उल्लेखनीय है कि इन पुलिसकर्मियों ने अन्य राज्यों में करोड़ों की चोरी के आरोपित हसन को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की। पुलिसकर्मियों ने शातिर चोर हसन को गिरफ्तार कर यूनियन बैंक में करोड़ों रुपये की चोरी होने से बचाया।

Kolar News

Kolar News 6 May 2022

भोपाल। आत्म-निर्भर भारत एवं आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के उद्देश्यों की पूर्ति के दृष्टिगत मध्यप्रदेश में एमपी स्टार्ट-अप नीति एवं कार्यान्वयन योजना-2022 लागू की गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 13 मई को इस पॉलिसी का वर्चुअल शुभारंभ करेंगे। मुख्य समारोह इंदौर में होगा।     सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने शुक्रवार को बताया कि एमपी स्टार्ट-अप नीति से मध्यप्रदेश आत्म-निर्भर बनेगा। नवाचार एवं स्टार्ट-अप की गतिशीलता, वैश्विक आर्थिक वातावरण में हो रहे बदलाव तथा विनियामक संशोधन के साथ ही देश की नई शिक्षा नीति के दृष्टिगत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सोच अनुरूप नई स्टार्ट-अप पॉलिसी को समग्र समेकित एवं प्रभावी बनाया गया है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश क्षेत्रफल की दृष्टि से देश का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है और आर्थिक विकास में अग्रणी राज्यों की श्रेणी में भी है। राज्य शासन की निवेश मित्र नीतियों, उद्योग एवं व्यापारिक क्षेत्र में सरलीकरण की प्रक्रिया, आर्थिक एवं सामाजिक अधो-संरचना में विशेष प्रयासों से प्रदेश में निवेश वातावरण में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।     मंत्री सखलेचा ने बताया कि राज्य शासन का प्रयास रहा है कि नवाचार एवं उद्यमिता के माध्यम से प्रदेश के स्थानीय युवाओं के लिए अधिकाधिक संख्या में रोजगार सृजन किया जा सके। इसी श्रृंखला में स्टार्ट-अप नीति लागू की गई है। राज्य शासन ने नवीन नीति में स्कूल, महाविद्यालयीन स्तर से छात्रों में नवाचार एवं स्टार्ट-अप की भावना जागृत करने के लिए विशेष प्रयास किए हैं। नीति को व्यापक रूप से लागू करने और शासन के विभिन्न प्रावधानों को प्रभावी रूप से अंगीकृत करने के लिए व्यवस्था की गई है।     मंत्री सखलेचा ने बताया कि नीति को मात्र वित्तीय सहायता तक सीमित न रख कर स्टार्ट-अप को संस्थागत, ईज ऑफ डूईंग बिजनेस, बुनियादी अधो-संरचना, राज्य की उपार्जन नीति, विपणन तथा अन्य प्रोत्साहन सहयोग प्रदान करना उददेश्य है। नीति का उल्लेखनीय पहलू यह भी है कि इसमें उत्पाद आधारित स्टार्ट-अप को प्रोत्साहित करने के लिए विशेष वित्तीय एवं गैर-वित्तीय सुविधाओं का समावेश किया गया है।     सकारात्मक हस्तक्षेप और अन्य उत्प्रेरक कार्यक्रमों के माध्यम से स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी- तंत्र का विकास नीति में समावेशित है। स्टार्ट-अप इण्डिया में भारत सरकार में पंजीकृत एवं मान्यता प्राप्त स्टार्ट-अप में 100 प्रतिशत विकास दर प्राप्त करने के साथ ही कृषि और खाद्य क्षेत्र में स्टार्ट-अप इण्डिया, भारत सरकार में पंजीकृत एवं मान्यता प्राप्त स्टार्ट-अप में 200 प्रतिशत विकास दर प्राप्त करना प्रमुखता से शामिल है। इसी तरह उत्पाद आधारित स्टार्ट-अप की संख्या में वृद्धि नीति का उद्देश्य है।     मंत्री सखलेचा ने कहा कि नीति का उद्देश्य भारत सरकार की स्टार्ट-अप रैंकिंग में राज्य को उच्च स्थान दिलाना है। उन्होंने कहा कि उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए नीति पाँच स्तंभों के अनुसरण पर केंद्रित है। ईज ऑफ डुईंग बिजनेस सहित संस्थागत सहयोग, उत्पाद आधारित स्टार्ट-अप को प्रोत्साहन, नवाचार और उद्यमशीलता को बढ़ावा देना, विपणन सहयोग और वित्तीय एवं गैर वित्तीय सहायता उपलब्ध कराना नीति में प्रमुखता से शामिल है।

Kolar News

Kolar News 6 May 2022

भोपाल। पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक कमलेश्वर पटेल ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर ओबीसी आरक्षण को रोकने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव को लेकर उच्चतम न्यायालय ने मध्य प्रदेश सरकार को फटकार लगाई। ऐसा प्रतीत होता है कि ओबीसी आरक्षण को लेकर मध्य प्रदेश सरकार सुप्रीम कोर्ट में सही स्थिति व्यक्त नहीं कर रही है। सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि अगर सरकार ओबीसी जनसंख्या के बारे में रिपोर्ट उपलब्ध नहीं करा सकती तो बिना ओबीसी आरक्षण के ही पंचायत चुनाव कराए जाएं। पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल ने आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि मध्यप्रदेश सरकार संवैधानिक प्रावधानों में लापरवाही बरत कर पंचायत चुनाव में ओबीसी आरक्षण समाप्त कराने का षड्यंत्र रच रही है। सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद जिस तरह से मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री भूपेंद्र सिंह ने पिछड़ा वर्ग कल्याण आयोग की रिपोर्ट सार्वजनिक की है, उससे पता चलता है कि सरकार इस बारे में बिल्कुल गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट में कहा गया है कि मतदाता सूचियों के आधार पर मध्यप्रदेश में ओबीसी की आबादी 48प्रतिशत है। क्या माननीय मंत्री बताएंगे कि किसी वर्ग की जनसंख्या की हिस्सेदारी जनगणना के आंकड़ों से गिनी जाती है या मतदाता सूचियों के आधार पर। जाति आधारित जनगणना के आंकड़ों का उपयोग किए बिना यह कैसे बताया जा सकता है कि मध्य प्रदेश में ओबीसी की आबादी कितनी है, मतदाता सूची में किसी वर्ग विशेष का उल्लेख अलग से होता है या नहीं। कमलेश्वर पटेल ने पूछा कि जब यह सर्वज्ञात तथ्य है कि मध्य प्रदेश में अन्य पिछड़ा वर्ग की संख्या 52प्रतिशत से अधिक है तो किस षड्यंत्र के तहत भाजपा की सरकार ओबीसी की आबादी को घटाकर 48प्रतिशत बता रही है। पूर्व मंत्री ने कहा कि सरकार की वर्तमान नियत से फिर यह स्पष्ट होता है कि प्रदेश के पंचायत चुनाव में अन्य पिछड़ा वर्ग का आरक्षण लागू ना हो सके इसके लिए सरकार गैर जिम्मेदार आंकड़े न्यायालय के सामने पेश करके मामले को कमजोर कर रही है और ओबीसी आरक्षण समाप्त करने का षड्यंत्र रच रही है। श्री पटेल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी सरकार से मांग करती है कि वह अपनी नियत साफ करे, प्रदेश में पिछड़ा वर्ग का आरक्षण खत्म करने का षड्यंत्र छोड़ दे, पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ माननीय न्यायालय में सभी आंकड़े उपलब्ध कराए और ओबीसी आरक्षण के साथ पंचायत चुनाव कराने का मार्ग प्रशस्त करे।

Kolar News

Kolar News 6 May 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने विद्युत कंपनियों द्वारा जबलपुर में आयोजित मेगा मंथन को एक शाही तमाशा करार दिया है। उन्होंने कहा कि जब मध्य प्रदेश की जनता अभूतपूर्व बिजली संकट से गुजर रही है, आठ-आठ घंटे का पावर कट हो रहा है। 44 डिग्री तापक्रम की भट्टी में उसे पंखा झलना पड़ रहा है। तब बिजली की परिस्थितियों में सुधार करने की बजाए इस तमाशे पर करोड़ों रुपया फूकना नीरो के बंसी बजाने जैसा है। भूपेन्द्र गुप्ता ने कहा कि बिजली कंपनियों के यह निर्णायक अधिकारी बिजली सरेंडर कर प्रदेश की जनता को गर्मी की भट्टी में झोंक रहे हैं। एनटीपीसी जैसी सरकारी कंपनियों की बिजली सरेंडर की जा रही है और बाबूलाल अग्रवाल जैसी दिल से लगी हुई कंपनियों से चार गुनी दर पर प्राप्त बिजली सरेंडर नहीं की जा रही है। फिक्स चार्ज के नाम पर हजारों करोड़ लूटने वाले अधिकारी 16 साल से चोरी और लाइन लॉस घटाने के नाम पर हजारों करोड़ का कर्जा लेकर उसे नाली में बहा चुके हैं। जिसकी कीमत मध्य प्रदेश के ईमानदार उपभोक्ता चुका रहे हैं।   कोयला खदानों के मुहाने पर लगे हुए बिजली कारखानों को बंद कर सरकार खुद कोयले की हाहाकार मचा रही है। गुप्ता ने कहा कि जनता के खून पसीने की कमाई पर पंचतारा होटलों में मजे करने की बजाय बिजली अधिकारी बिजली की अराजकता रोकने के लिए मैदान में काम करें। वरना जनता इन लुटेरी वृत्तियों को मजा चखाएगी।

Kolar News

Kolar News 5 May 2022

भोपाल। झाबुआ कोतवाली में सांसद गुमान सिंह डामोर के निजी सचिव सागरसिंह रावत की शिकायत पर प्रदेश युवक कांग्रेस अध्यक्ष डॉ.विक्रांत भूरिया के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। पुलिस ने आइपीसी की धारा 505, 1, बी, 120 बी, 499 व 500 के तहत मामला दर्ज किया है। अपने खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर पर प्रतिक्रिया देते हुए विक्रांत भूरिया ने गुरूवार को कहा, आज भारतीय जनता पार्टी के इशारे पर आईपीसी की धारा 505 और अन्य धाराओं के तहत मुझ पर एफआईआर दर्ज करवाई गई है और यह एफआईआर इसलिए दर्ज हुई है क्योंकि भाजपा के सांसद गुमान सिंह डामोर का जो वीडियो पूरे प्रदेश में वायरल हो रहा था जिसमें वह आरक्षण को समाप्त करने की बात कह रहे थे, उस विषय में हम ने सवाल उठाया था। भूरिया ने आरोप लगाते हुए कहा, वंचित वर्गों को दिए जाने वाले आरक्षण में आदिवासियों के प्रतिशत को घटाना भाजपा का लक्ष्य है और भाजपा उस ओर तेजी से कार्य कर रही है। भाजपा और सांसद डामोर एक एफआईआर के दम पर मुझे झुका नहीं सकते, सच्चाई और समाज के अधिकारों के लिए यदि जेल भी जाना पड़े तो वह पीछे हटने वाले नहीं हैं और भाजपा और उसके नेताओं की आरक्षण विरोधी सोच को जनता के सामने उजागर कर पर्दाफाश करते रहेंगे। वहीं, युवक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा है कि पुलिस प्रशासन आज पूरे मध्यप्रदेश में जबरदस्त दबाव में कार्य कर रहा है जिस प्रकार से उन पर बिना किसी प्रारंभिक जांच और बिना साक्ष्य के उन पर सीधे एफआईआर कर दी गई, यह बात पुलिस के पक्षपातपूर्ण रवैये को साफ-साफ उजागर कर रही है। यदि भाजपा सच में आदिवासी हितेषी है तो आज हमारा मध्य प्रदेश आदिवासी अत्याचारों में प्रथम स्थान पर क्यों है? हाल ही में मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में हुई आदिवासियों पर मॉब लिंचिंग की घटना का हवाला देते हुए भूरिया ने कहा कि सिवनी की घटना पर सांसद डामोर ने चुप्पी साध रखी है, क्यों नहीं वहां पर इसी तत्परता के साथ कार्यवाही हुई? वहां पर दोषियों के मकानों पर बुलडोजर क्यों नहीं चलाया गया? भूरिया ने सिवनी जिले की घटना की सीबीआई जांच की मांग करते हुए कहा है कि जिस प्रकार से पुलिस प्रशासन मध्यप्रदेश में भारी दबाव में कार्य कर रहा है सिवनी जिले की घटना की जांच सीबीआई से कराना ही उचित होगा और मृतक आदिवासी भाइयों और उनके परिवारों को को न्याय मिल पाएगा।

Kolar News

Kolar News 5 May 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरूवार को रायसेन जिले के उमरावगंज थाना क्षेत्र के टेडिया पुल के पास सड़क दुर्घटना में 14 वर्ष की बिटिया सहित पांच लोगों के निधन पर दु:ख व्यक्त किया है। वहीं, घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।   मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि "रायसेन के उमरावगंज थाना क्षेत्र के टेडिया पुल के पास सड़क दुर्घटना में कई अमूल्य जिंदगियों के असमय निधन व घायल होने का दुखद समाचार प्राप्त हुआ। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति व परिजनों को यह दुःख सहन करने की शक्ति देने व घायलों के स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।"

Kolar News

Kolar News 5 May 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को वरिष्ठ समाजसेवी बृजेश लुणावत की स्मृति में उनके परिजन तथा मित्रों के साथ स्मार्ट सिटी उद्यान में मौलश्री और करंज का पौधा लगाया। मुख्यमंत्री चौहान के साथ साकेत विकास जन-कल्याण समिति के कार्यकर्ताओं रतन भट्टाचार्य, प्रकाश श्रीवास्तव, अशोक वर्मा और अनिल वाणी ने भी गुलमोहर का पौधा रोपा।   मुख्यमंत्री चौहान ने स्व. बृजेश लुणावत का स्मरण करते हुए कहा कि उनके सद्कार्य और स्मृतियां हम सबके मन मस्तिष्क में चिंरजीवी रहेगी। उल्लेखनीय है कि बृजेश लुणावत का गत वर्ष कोरोना संक्रमण के कारण अवसान हो गया था। पौध-रोपण के मौके पर उनकी पत्नी श्रीमती स्मिता लुणावत, पुत्री कुमारी मुस्कान लुणावत, भ्राता डॉक्टर शैलेश लुणावत, भतीजे डॉक्टर सार्थक लुणावत सहित मित्रगण सम्मिलित हुए।

Kolar News

Kolar News 4 May 2022

भोपाल। अक्षय तृतीया व भगवान परशुराम जन्मोत्सव के अवसर पर अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के संरक्षक एवं मध्य प्रदेश शासन के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा का अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज ने अभिनन्दन किया। गृह मंत्री दतिया प्रवास पर जाने से पहले समाज बंधुओं के आह्वान पर कुछ समय के लिए रानी कमलापति रेलवे स्टेशन पर भाजपा प्रवक्ता डॉ. दुर्गेश केसवानी के साथ पहुंचे। अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के प्रदेश अध्यक्ष पुष्पेंद्र मिश्रा एवं अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के पदाधिकारियों ने पुष्प एवं फरसा देकर गृह मंत्री डॉ. मिश्रा का अभिनन्दन किया।  इस मौके पर गृहमंत्री ने समाज बंधुओं के सम्मान को स्वीकार करते हुए सभी को त्योहार की शुभकामनाएं दीं और कहा कि भगवान परशुराम जी की शिक्षाओं को आत्मसात कर सदैव ही समाज में समानता व न्याय के लिए कार्य करते रहें। समाज में जहां जहां अन्याय व लोगों के साथ असमानता हो। यही भगवान परशुराम जी की सच्ची आराधना है। दतिया प्रवास पर जाने से पहले उन्होंने अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज को राष्ट्र व समाज के उत्थान के लिए नित नए कार्य करने की शुभकामनाएं भी दीं।  

Kolar News

Kolar News 3 May 2022

सिवनी। जिले के आदिवासी विकासखंड कुरई थाना अंतर्गत ग्राम सिमरिया में सोमवार-मंगलवार की देर रात्रि लगभग 3 बजे दो आदिवासी युवकों के मारपीट की गई, जिससे उपचार के बाद उनकी मौत हो गई। घटना में घायल ब्रजेश बट्टी की रिपोर्ट पर पुलिस ने छह ज्ञात आरोपितों और अन्य 10 से 12 अज्ञात लोगों के विरूद्ध भादवि की धारा 147, 148, 149, 302, 323 व अनुसूचित जाति व अनुसूचित जन जाति (नृशंसता निवारण) अधिनियम 1989(संशोधन 2015) की धारा 3 (2), (वी) के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामले में पुलिस ने 03 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है, वहीं 04 संदेहियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। इधर, इस घटना के विरोध में बरघाट से कांग्रेस विधायक अर्जुन सिंह काकोड़िया के नेतृत्व में लोगों ने सुबह जबलपुर-नागपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर चक्काजाम कर दिया, जो शाम तक जारी रहा। इससे यातायात बाधित है। चकाजाम के दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष आलोक दुबे, कांग्रेस जिलाध्यक्ष राजकुमार खुराना, भाजपा नेता नरेश बरकडे, कांग्रेस नेता मोहन चंदेल, कलेक्टर डॉ. राहुल हरिदास फांटिग, पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक, एसडीएम, तहसीलदार सहित लगभग 700 लोग व पुलिस बल उपस्थित है। कुरई थाना में घायल ब्रजेश बट्टी ने दर्ज कराई प्राथमिकी रिपोर्ट के अनुसार ग्राम सिमरिया में सोमवार-मंगलवार दरम्यिानी रात्रि लगभग 3 बजे गोकशी से जुड़े होने की बात को लेकर दो युवकों धानसा इनवाती निवासी ग्राम सिमरिया व संपत बट्टी के साथ कुछ लोगों द्वारा मारपीट की जा रही थी, जिसे ब्रजेश बट्टी ने देखा। वह मौके पर पहुंचा तो मारपीट कर रहे शेरसिंह राठौर ने ब्रजेश को दाहिनी हाथ पर लाठी मार दी, जिससे वह घायल हो गया। इस दौरान ब्रजेश ने देखा कि शेरसिंह राठौर, अजय साहू, वेंदात चौहान, दीपक अवधिया, बसंत रघुवंशी, रघुनंदन रघुवंशी और उनके 10 से 12 साथियों द्वारा धानसा इनवाती और संपत बट्टी को लाठी से मारपीट की जा रही है। शोर सुनकर अन्य ग्रामीण संपत मर्सकोले, सावन उइके, इंदरलाल और सुनील वहां पहुंचे और तब शेरसिंह राठौर ने पुलिस को फोन कर दिया, जिस पर बादलपार चौकी प्रभारी टीम सहित घटना स्थल पर पहुंचे। जहां पर पुलिस ने पाया कि संपत और धानसा बेहोशी की हालत है और पास में ही एक बोरी मांस की बरामद की। अग्रिम कार्यवाही करते हुए पुलिस ने घायलों को उपचार के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कुरई में भर्ती कराया, जहां मंगलवार सुबह 6 बजे के करीब गंभीर रूप से घायल संपत और धानसा की मौत हो गई।   इस घटना को लेकर मंगलवार सुबह बरघाट विधानसभा के कांग्रेस विधायक अर्जुन सिंह काकोड़िया ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ जबलपुर-नागपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर थाना क्षेत्र कुरई में चकाजाम कर दिया, जो शाम तक जारी है। उनकी मांग है कि हत्या के आरोपितों को गिरफ्तार कर उनके आवास खरगौन जिले में की गई कार्यवाही के तरह तोड़े जाएं। वहीं आदिवासियों की प्रमुख मांग है कि मृतक परिवार को तत्काल सहायता राशि एक करोड रुपये दिये जाये, परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जाये।

Kolar News

Kolar News 3 May 2022

खरगोन। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह मंगलवार को शहर के सदर बाजार स्थित ईदगाह पहुंचे। उन्होंने शहर काजी इशरत अली से गले मिलकर उन्हें ईद की मुबारकबाद दी। इस दौरान उन्होंने सिर पर सफेद गमछा बांधा और अन्य मुस्लिम भाइयों को भी मुबारकबाद दी। ईदगाह पर मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि यह त्यौहार भाईचारे, सौहार्द, प्रेम-सद्भाव, मेल मिलाप का है। सभी को मिलकर मनाना चाहिए। खरगोन दंगे में कर्फ्यू को लेकर कहा कि यह शासन-प्रशासन की अकर्मण्यता व असफलता है। दो हफ्ते के बाद भी वहां कर्फ्यू लगा हुआ है। उन्होंने कहा, लोगों में प्रेम सद्भभाव का माहौल होना चाहिए, उसे सुधार नहीं पा रहे हैं। कोई भी हो हिन्दू या मुसलमान जिसने माहौल बिगाड़ा, जिसने पत्थर फेंके जिसने गोली चलाई, आग लगाई, कोई भी हो उसके खिलाफ सख्ती से कार्रवाई होनी चाहिए।

Kolar News

Kolar News 3 May 2022

भोपाल। पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर महाकाल मंदिर कॉरिडोर निर्माण का झूठा श्रेय लेने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि उज्जैन के महाकाल मंदिर कॉरिडोर के निर्माण का खाका कमलनाथ सरकार में तैयार हुआ था और कमलनाथ सरकार ने ही कॉरिडोर निर्माण के लिए 350 करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया था। श्रेय लेने की होड़ में शिवराज सिंह चौहान सरकार इतने नीचे चली गई है कि भगवान के नाम पर भी झूठ बोलने से पीछे नहीं हट रही। पीसी शर्मा ने सोमवार को एक बयान जारी कर कहा कि महाकाल मंदिर के विस्तार की योजना व घोषणा सर्वप्रथम पूर्व सीएम कमलनाथ ने 27 सितम्बर 2019 विश्व पर्यटन दिवस के दिन इसकी घोषणा की थी। बाबा महाकाल के मंदिर के कॉरिडोर के भवन निर्माण के लिए 350 करोड़ रूपये का बजट आवंटित किया गया। पूर्व मंत्री ने याद दिलाया कि कमलनाथ सरकार में ही धार्मिक स्थलों के विकास के लिये पूर्व मंत्रीगण सज्जन सिंह वर्मा, जयवर्धन सिंह और मेरी सदस्यता में मंत्री स्तरीय समिति का गठन किया गया था।   पीसी शर्मा ने कहा कि ओम सर्किट बनाने की घोषणा भी इसी दिन की गई। नर्मदा नदी के दोनों ओर घाटों के विस्तार की योजना भी कमलनाथ जी की सरकार ने ही तैयार की थी। ओंकारेश्वर, इंदौर और उज्जैन को पर्यटन की दृष्टि से जोडऩे का विजन कमलनाथ सरकार की देन है। मोरटक्का से ओंकारेश्वर 12 किमी रोड फोरलेन किया जाना प्रस्तावित था। पूर्व मंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी को सत्ता के लालच में भगवान के नाम पर भी झूठ बोलने लगे। लेकिन भगवान की सच्ची सेवा कमलनाथ जी जैसा हनुमान भक्त मुख्यमंत्री ही कर सकता है। उन्होंने कहा कि भगवान महाकाल के मंदिर में जो काम कमलनाथ जी ने कराए थे उनका श्रेय लेने के लिए झूठ बोलकर शिवराज सरकार धर्म को भी झूठ से नहीं बख्श रही है।

Kolar News

Kolar News 2 May 2022

ग्वालियर। प्रदेश की पर्यटन, संस्कृति एवं अध्यात्म मंत्री उषा ठाकुर ने सोमवार को गुरु हरगोबिंद साहिबजी के तपस्वी स्थल गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ किला ग्वालियर पहुंचकर श्रद्धा के साथ मत्था टेका और दर्शन किए। इस मौके पर उन्होंने कहा कि गुरुद्वारे में दर्शन करने से गुरु ग्रंथ साहिब जी के बाणी से तो हर चिंता का समाधान होता है । यह हमारा सौभाग्य है कि कुछ समय पहले ही 400 वा शताब्दी वर्ष दाता बंदी छोड़ दिवस मनाया गया था और अब गुरु हरगोबिंद साहिब के बेटे साहिब गुरु तेगबहादुर जी का 400 वा प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है।   उषा ठाकुर ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पहुंचकर गुरु ग्रंथ साहिब को नमन करते हुए अरदास करवाई कि आज वर्तमान में गुरु तेग बहादुर जी हिंद की चादर द्वारा धर्म रक्षा के लिए दिए गए बलिदान को हर हिंदुस्तानी याद करे और गुरु जी द्वारा दिए गए आदर्शों पर चले और विश्व में शांति बनी रहे, क्योंकि गुरु तेग बहादुर जी ने 17वीं शताब्दी में ही धर्म की आजादी के लिए शहादत देकर प्रत्येक देशवासी के दिल-दिमाग में निडरता से आजाद जीवन जीने का बीज बो दिया था। सहनशीलता, कोमलता और सौम्यता की मिसाल के साथ साथ गुरु तेग बहादुर जी ने हमेशा यही संदेश दिया कि किसी भी इंसान को न तो डराना चाहिए और न ही डरना चाहिए। धर्म रक्षा में प्राण बलिदान वाले गुरु तेगबहादुर जी का जीवन वीरता और साहस की ऐसी मिसाल है, जो आने वाली कई पीढ़ियों को प्रेरित करती रहेगी।              नर्मदा को बचाने के लिए मांगा संतों का आशीर्वाद मानयोग बाबा लक्खा सिंह से मुलाकात के दौरान मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि मां नर्मदा है तो मध्यप्रदेश है। उषा ठाकुर ने मां नर्मदा को बचाने बाबा सेवासिंह के आशीर्वाद के माध्यम से सिख समाज से नर्मदा के क्षेत्र में अधिक से अधिक वृक्षारोपण करने की विनती की। इस अवसर पर संस्कृति विभाग पंजाबी साहित्य अकादमी की निदेशक नीरू सिंह ज्ञानी, सरदर रणदीप सिंह, सरदार निर्मल सिंह, सनी संधू सरबजीत सिंह ज्ञानी, गुरचरण सिंह, सुखा सिंह, रूपिंदर कौर, दिनेश चाकणकर, उदय अग्रवाल, व्यंजना मिश्रा आदि संगत उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 2 May 2022

भोपाल । लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा है कि जन्म के समय बालक-बालिकाओं के लिंगानुपात में बालिकाओं की संख्या कम होना चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के साथ समाज को भी आगे आना होगा। बेटा-बेटी एक समान के संदेश को जन-जन तक पहुंचाना जरूरी है। यह बात स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने सोमवार को मंत्रालय में पीसी एण्ड पीएनडीटी अधिनियम के राज्य सुपरवाइजरी बोर्ड की बैठक को संबोधित करते हुए कही।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि प्रदेश में अभी भी कुछ जिले ऐसे हैं जहाँ जन्म के समय बालक और बालिका के लिंगानुपात में अधिक अंतर है। उन्होंने कहा कि दतिया, सतना, ग्वालियर, रायसेन, सीधी, बुरहानपुर, सीहोर, गुना, देवास, सिंगरौली, पन्ना, हरदा और बड़वानी में लिंगानुपात में अधिक अंतर है। उन्होंने कहा कि इन जिलों में लिंगानुपात में असमानता की खाई को पाटने के लिये प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि स्थानीय जन-प्रतिनिधियों और स्थानीय संगठनों के प्रतिनिधियों के माध्यम से बेटा-बेटी एक समान का संदेश जन-जन तक पहुँचायें। ऐसे जिले, जहां बालिकाओं का लिंगानुपात कम है। इसके लिये स्थानीय प्रतिभाशाली बालिकाओं को ब्रॉण्ड एम्बेसडर बनाकर उनके माध्यम से जागरूकता बढ़ायें।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि पीसी एण्ड पीएनडीटी एक्ट में पंजीयन में किये गये प्रावधान में सोनोग्राफी जाँच केन्द्र के पंजीयन से ली जाने वाली राशि का उपयोग बालिकाओं के लिंगानुपात को बढ़ाने में करें। गर्भधारण पूर्व और प्रसव पूर्व निदान तकनीक का दुरूपयोग करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाये।   विधायक एवं सदस्य रक्षा संतराम सरोनिया, प्रमुख सचिव सामाजिक न्याय प्रतीक हजेला, स्वास्थ्य आयुक्त सह सचिव डॉ. सुदाम खाड़े, एमडी एनएचएम श्रीमती प्रियंका दास, संचालक स्वास्थ्य रवीन्द्र चौधरी, दिनेश श्रीवास्तव और बैठक में वर्चअली जुड़े सदस्य डॉ. ज्योति बिंदल, अमूल्य निधि, माधवी झावर, डॉ. नीरजा पुराणिक, डॉ. मुकेश बिड़ला, डॉ. आलोक लाहोटी, उप संचालक डॉ. प्रज्ञा तिवारी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 2 May 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रमुख क्रांतिकारी प्रफुल्लचंद चाकी के बलिदान दिवस पर उन्हें नमन किया। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने निवास कार्यालय स्थित सभागार में उनके चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की।   मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि "मां भारती की परतंत्रता की बेड़ियों को तोड़ने और क्रांतिकारियों के अपमान का बदला लेने के लिए मजिस्ट्रेट किंग्सफोर्ड पर प्राणघातक हमला करने वाले वीर सपूत प्रफुल्ल चंद्र चाकी जी के बलिदान दिवस पर विनम्र श्रद्धांजलि। यह माटी अपने लाल के बलिदान को कभी विस्मृत न कर सकेगी।"   उल्लेखनीय है कि प्रफुल्लचंद चाकी ने विद्यार्थी जीवन से ही क्रांतिकारी गतिविधियों में भाग लेना शुरू कर दिया था। क्रांतिकारियों के अपमान का बदला लेने के लिए मजिस्ट्रेट किंग्सफोर्ड पर हमला करने वाले वीर सपूत प्रफुल्लचंद चाकी ने अंग्रेजों के हाथों पकड़े जाने से बचने के लिए एक मई 1908 को स्वयं ही अपने को गोली मार कर प्राणों की आहूति दे दी।

Kolar News

Kolar News 1 May 2022

सतना। सांसद सतना गणेश सिंह ने रविवार को सीएमएचओ कार्यालय प्रांगण में प्रदेश सरकार से प्राप्त 22 एंबुलेंस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इन एंबुलेंसों की तैनाती मैहर सिविल अस्पताल के साथ-साथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में की गई हैं।   सांसद सिंह ने कहा कि 108 एंबुलेंसों को आधुनिक सुविधाएं एवं नई तकनीकी के साथ सुसज्जित करके चलाई जा रही है। जिले को मिलने वाली इस सौगात के लिये सांसद सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने कहा कि अभी तक सभी को प्राइवेट एंबुलेंस पर निर्भर रहना पड़ता था। संजीवनी-108 एंबुलेंस पात्रता के आधार पर सभी के लिए होंगी।   सांसद सिंह ने कहा कि एकीकृत रेफरल ट्रांसपोर्ट प्रणाली से संचालित जननी एवं 108 एंबुलेंस एप के माध्यम से घर में बुलाई जा सकती हैं। यह उन लोगों के लिए वरदान साबित होंगी जो सड़क दुर्घटना में घायल हो जाते हैं साथ ही ऐसे मरीज जिन्हें जिला या स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर रेफर किया जाता है। पूर्व में जो गाड़ियां थीं वे पुरानी हो गईं थी। अब यह नई गाड़ियां मरीजों के लिए वरदान होंगी। इनमें से कुछ गाड़ियों में आधुनिक चिकित्सा प्रणाली के उपकरण लगाए गए हैं जिनमें तत्काल मरीज को मदद मिल सकेगी।   मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अशोक अवधिया ने बताया कि यह एम्बुलेंस रोड एक्सीडेंट, जननी प्रसव, रोड एक्सीडेंट, आयुष्मान के कार्डधारी जो गंभीर रूप से बीमार है, 108 नंबर पर फोन करके बुला सकते हैं। इन 22 एंबुलेंस में लाइफ सपोर्ट सिस्टम की व्यवस्था है। बाकी गाड़ियों में ऑक्सीजन सपोर्ट की उपलब्धता दी गई है। यदि किसी पेशेंट को जिले के बाहर किसी अस्पताल में ले जाना है, तो 108 नंबर में फोन करने के बाद नॉमिनल किराया ऑनलाइन जमा करके इनकी सुविधाएं ली जा सकती है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गत दिनों 2053 एंबुलेंस गाड़ियों को प्रदेश के विभिन्न जिलों के लिए रवाना किया था।

Kolar News

Kolar News 1 May 2022

भूपेन्द्र गुप्ता   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार पेट्रोल डीजल की कीमतों के बढ़ने से पांव पसार रही महंगाई पर चिंता जाहिर की है। भले ही इसके लिए उन्होंने राज्यों को जिन्होंने वेट टेक्स नहीं घटाया जिम्मेदार बताकर अपनी इतिश्री कर ली हो लेकिन इतना तय है कि तेल की धार और गरीबों पर मार बदस्तूर जारी है।  अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में क्रूड तेल की कीमतें घट रही हैं,रूस 35 डालर प्रति बेरेल का डिस्काउंट देने तैयार है।रूस से सस्ता क्रूड खरीदने पर अमरीका को आपत्ति भी नहीं है।ब्रेंट क्रूड के दामों में भी लगभग 8 डालर की कमी आई है मगर इसका असर भारतीय बाजार पर नहीं दिख रहा है। हालांकि यह बार-बार  कहा जा रहा है कि पेट्रोल की कीमतें बाजार की कीमतों से जुड़ी हुई है।  नवंबर 21 में चीन द्वारा खरीदी रोक देने के कारण क्रूड ऑयल की कीमतों में 10% क्रेस हुई थी जिसके कारण सरकार ने एक्साइज ड्यूटी कम करने के नाम पर कीमतें घटा दी थीं जबकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतें घटने का ही यह असर था।  भारत अपनी जरूरतों का लगभग 23% क्रूड खुद ही पैदा करता है। उसमें भी नीति यह है कि 50% खनिज तेल बेचकर अर्जित मुनाफे से कीमतों को संतुलित किया जावे। इस नीति के बावजूद यह समझ से परे है कि हमारी तेल कंपनियां निरंतर राष्ट्रीय उत्पादन को क्यों घटाती चली जा रही हैं ।देश की तेल जरूरतें पूरी करने के लिए भारतीय स्रोतों से 2013 में लगभग 38 मिलियन मीट्रिक टन का उत्पादन होता था जो 2020 में घटकर 30 मिलियन मीट्रिक टन हो गया है ।जो लगभग नियमित उत्पादन से 22फीसद कम है।  भारत की पंच रत्न कंपनी ओएनजीसी विश्व में अपना अहम स्थान रखती है ।वह भारत के स्थानीय स्रोतों के अलावा  15 अन्य देशों में "ओएनजीसी विदेश" के माध्यम से खनिज तेल का उत्पादन करती है। एमआरपीएल और एचपीसीएल जैसी कंपनियां उसके स्वामित्व में हैं।ओएनजीसी फोर्ब्स की रैंकिंग में विश्व की 500 फार्च्यून कंपनियों में चौथे स्थान पर रखी जाती है जबकि प्लैट्स की रैंक में दुनिया की ढाई सौ ऊर्जा कंपनियों में वह 11 वें में स्थान पर आती है। भारत में स्ट्रैटेजिक पैट्रोलियम रिसोर्स (एसपीआर ) का खनन ही हमारी कीमतों को नियंत्रित करता है। ओएनजीसी की कमाई में रिफाइनरी का बड़ा हिस्सा है।वहअपनी स्थापित क्षमता का 91%  रिफायनिंग ओएनजीसी और उसके संयुक्त उपक्रम कंपनियां करती हैं। जबकि जामनगर स्थित रिलायंस की रिफाइनरी अपनी स्थापित क्षमता का 83% रिफाइन कर पाती है। भारत को अपनी जरूरतों के लिए लगभग 239 मिलियन टन खनिज तेल आयात करना पड़ता है जिसकी कीमत तकरीबन 77 बिलियन डालर होती है। हम अपनी जरूरतों का 14% अमेरिका से 12% सऊदी अरेबिया से और 23% इराक से आयात करते हैं।  जब वैश्विक बाजार में खनिज तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव का दौर चल रहा है तब भारत में अपने घरेलू उत्पादन को लगभग 22% तक घटा दिया गया है। यह प्रश्न उत्तर मांगता है कि क्या यह ओएनजीसी जो विश्व में चौथा स्थान रखने वाली कंपनी है ,को बीएसएनएल बनाने के रास्ते ले जाने की कबायद है या उसे किसी निजी हाथों को सौंपने का पूर्वाभ्यास है। रूस ने भारत को 35 डालर डिस्काउंट पर क्रूड आयल देने की पेशकश की है। युराल (रूसी क्रूड) की खरीदी पर शिपिंग एवं मार्ग के बीमा का खर्च भी रूस उठाने तैयार है। आज की स्थिति में भारत पैट्रोलियम(बीपीसीएल) रूस से 2 मिलियन बैरल क्रूड आयात करता है ।कोची रिफायनरी लगभग 3लाख बैरल, बैंगलोर रिफायनरी 10 लाख बैरल तथा निजी रिफाइनरी नायरा 18लाख बैरल ट्रैफिगुरा ट्रेडर के माध्यम से रूस से 89 डॉलर प्रति बैरल में क्रूड आयल खरीद रहे हैं जबकि अमरीका और ओपेक बाजारों में यह लगभग 108 डालर प्रति बैरल है। भारत के लिए यह समझने योग्य बात है कि ऐसी अवस्था में हमारा क्रूड आयात जो 158 मिलियन मीट्रिक टन था वह बढ़कर 227 मिलियन मीट्रिक टन क्यों हो गया है? संभव है इसमें घरेलू खपत भी बढ़ी हो।किंतु उसी समय हमारा घरेलू उत्पादन जो लगभग 38 मिलियन टन था वह घटकर 30 मिलियन टन क्यों पहुंचा दिया गया है। हमारा खपत डेफिसिट 3.4 मिलियन बैरल प्रति दिन है जबकि आयात 4.25 मिलियन बैरेल प्रति दिन हो रहा है।ओएनजीसी जो भारत का 70% क्रूड उत्पादित करती है की नेट बर्थ 2 ट्रिलियन रुपये है जबकि उसके सितंबर तिमाही का मुनाफा ही 18 हजार 347 करोड़ रुपये है।साल में 70-75हजार करोड़ मुनाफा कमाने वाली कंपनी को विनिवेश की राह पर ले जाने के लिये क्या उसका उत्पादन घट रहा है और आयात बढ़ रहा है या कोई अन्य तकनीकि कारण हैं जो आम भारतीय जाऩा चाहता है? फिलहाल तो तेल की धार की चौतरफा मार से पूरा बाजार और गरीब थर थर कांप रहा है।   (लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं)

Kolar News

Kolar News 1 May 2022

हरदा/भोपाल। प्रदेश के कृषि मंत्री एवं किसान नेता कमल पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कारण हरदा जैसे छोटे जिले को स्वास्थ्य विभाग द्वारा 14 संजीवनी एंबुलेंस मिली है। इसके लिए मैं प्रधानमंत्री मोदी व मुख्यमंत्री शिवराज के साथ स्वास्थ्य मंत्री का हृदय से धन्यवाद देता हूँ। हरदा मुख्यालय से शनिवार को एंबुलेंस को जिले में रवाना करते हुए मंत्री कमल पटेल ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश बदल रहा है और हर क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में बढ़ रहे हैं। इसी कड़ी में मध्य प्रदेश को सैकड़ों की संख्या में एंबुलेंस मिली है। हरदा जैसा सबसे छोटे जिले को 14 एंबुलेंस मिलने से स्वास्थ्य के क्षेत्र में आयुष्मान कार्ड के धारक और जरूरतमंद मरीजों को इलाज में कोई दिक्कत नहीं आएगी। मरीज अब जिला मुख्यालय के साथ भोपाल और इंदौर में अपना उपचार करवा सकेंगे।

Kolar News

Kolar News 30 April 2022

भोपाल। नरेला विधानसभा क्षेत्र में एक और फ्लाई ओवर (ग्रेड सेपरेटर) बनने जा रहा है। प्रभात चौराहे पर लगभग 35 करोड़ रुपये की लागत से ग्रेड सेपरेटर का निर्माण किया जाएगा। शनिवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने जिला प्रशासन एवं पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के साथ प्रस्तावित फ्लाई ओवर के लिए प्रभात चौराहे का निरीक्षण किया।     मंत्री सारंग ने बताया कि नरेला विधानसभा में प्रभात चौराहे पर ग्रेड सेपरेटर का निर्माण होगा, जो इस क्षेत्र का छठवां फ्लाई ओवर होगा। इसके पूर्व नरेला क्षेत्र में 4 फ्लाई ओवर स्वीकृत हो चुके हैं और चेतक ब्रिज को चौड़ा किया जा चुका है। सुभाष आरओबी पर यातायात शुरू हो चुका है। निशातपुरा आरओबी पर निर्माण कार्य प्रगति पर है तथा ऐशबाग और द्वारका नगर आरओबी का निर्माण शीघ्र शुरू होगा। प्रभात चौराहे पर बनने वाले ग्रेड सेपरेटर के निर्माण से ट्रैफिक का दबाव कम होगा।     प्रभात चौराहे से रायसेन रोड पर ट्रैफिक का कम होगा दबाव   मंत्री सारंग ने कहा कि प्रभात चौराहे पर ग्रेड सेपरेटर का निर्माण महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट है। इससे पूर्व सुभाष नगर रेलवे क्रॉसिंग पर आरओबी का निर्माण कराया है, जो सुचारू रूप से चल रहा है। आरओबी से प्रतिदिन 5 से 7 लाख लोगों को लाभ मिल रहा है। प्रभात चौराहे और रायसेन रोड पर ट्रैफिक का दबाव कम करने के उद्देश्य से रायसेन रोड और स्टेशन के मध्य जो सड़क है, उस पर लगभग 35 करोड़ की लागत से 750 मीटर लंबे और 15 मीटर चौड़े ग्रेड सेपरेटर का निर्माण कराया जा रहा है।     ग्रेड सेपरेटर के निर्माण से 6 से 8 लाख नागरिकों को मिलेगा लाभ   मंत्री सारंग ने कहा कि किसी भी शहर में स्टेशन तक पहुँचने का जो भी मार्ग हो, उसमें यातायात की सुगमता होनी चाहिए। यह एक आदर्श शहर के विकास की अवधारणा को सुनिश्चित करता है। प्रभात चौराहे के ग्रेड सेपरेटर के निर्माण से नये और पुराने भोपाल सहित बीएचईएल के लगभग 6 से 8 लाख नागरिकों को स्टेशन पहुँचने की दूरी तय करने में आधा समय लगेगा और ट्रैफिक जाम से मुक्ति मिलेगी।     मंत्री सारंग ने बताया कि आगामी पंद्रह दिनों में ग्रेड सेपरेटर के निर्माण के लिये टेंडर हो जाएगा और एक से डेढ़ माह में निर्माण कार्य प्रारंभ हो होकर लगभग डेढ़ वर्ष में इसका निर्माण पूर्ण हो जायेगा।

Kolar News

Kolar News 30 April 2022

इंदौर। कांग्रेस सेवादल ने बढ़ती महंगाई के विरोध में शनिवार को इनामी मैराथन दौड़ करवाई। सुबह से ही शहर के बड़ा गणपति चौराहे पर कांग्रेस सेवादल के पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं के साथ ही कांग्रेस के पदाधिकारियों का जमावड़ा लग गया था। मैराथन दौड़ में हिस्सा लेने वाले भी पूरी तैयारी के साथ यहां पहुंचे। कांग्रेस सेवादल की यह मैराथन दौड़ बड़ा गणपति चौराहे से लेकर राजमोहल्ला चौराहे तक करीब एक किमी लंबी रही। बालिका वर्ग और पुरुष वर्ग ने इसमें हिस्सा लिया। इंदौर शहर कांग्रेस सेवादल अध्यक्ष मुकेश यादव ने मैराथन दौड़ की शुरूआत की। दौड़ के लिए दोनों वर्गों में कुल 700 रजिस्ट्रेशन हुए थे। कांग्रेस सेवादल पदाधिकारियों, कांग्रेस नेताओं ने बढ़ती महंगाई के खिलाफ बयानबाजी की। बड़ा गणपति चौराहे पर दौड़ शुरू होने के पहले महंगाई डायन खाए जात है गीत भी बजाया गया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। इस मैराथन दौड़ में बालिका और पुरुष वर्ग के विजेताओं को अलग-अलग 10 लीटर पेट्रोल, 5 किलो सोयाबीन तेल और 1 किलो नींबू का इनाम में दिया गया। इंदौर शहर कांग्रेस सेवादल अध्यक्ष मुकेश यादव ने कहा कि लगातार बढ़ती महंगाई के कारण आम जनता परेशान है। पेट्रोल-डीजल, सिलेंडर सहित खाद्य पदार्थ के भाव आसमान छू रहे हैं। बढ़ती महंगाई के खिलाफ केंद्र और राज्य सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए यह मैराथन दौड़ कराई गई थी।

Kolar News

Kolar News 30 April 2022

ग्वालियर। आम जन की समस्याओं के त्वरित समाधान के लिए प्रदेश सरकार कटिबद्ध है। आम जन को छोटी-मोटी समस्याओं के निराकरण के लिए दफ्तरों के चक्कर न काटने पड़ें, इस उद्देश्य से सरकार द्वारा दूरस्थ क्षेत्रों तक जन समस्या समाधान सह सुशासन शिविर लगाए जा रहे हैं। आप सब इन शिविरों का लाभ उठाकर अपनी समस्याओं का मौके पर ही निराकरण कराएँ।   यह बात प्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह ने कही। राज्य मंत्री कुशवाह शुक्रवार को जनपद पंचायत मुरार के ग्राम सिरसौद में आयोजित जिला स्तरीय जन समस्या निवारण सह सुशासन शिविर में पहुँचे थे। उन्होंने सिरसौद के हाईस्कूल परिसर में आयोजित सुशासन शिविर में जन सामान्य से प्राप्त हुए 75 आवेदनों में से 46 आवेदनों का निराकरण संबंधित विभागों के अधिकारियों के माध्यम से मौके पर ही कराया, साथ ही तीन पात्र हितग्राहियों के मध्यप्रदेश भवन एवं संनिर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के कार्ड, तीन खेतीहर श्रमिकों के ई-श्रमकार्ड, पाँच परिवारों को खाद्यान्न के लिये पात्रता पर्ची और पाँच हितग्राहियों के आयुष्मान कार्ड मौके पर ही तैयार कराकर वितरित किए।   मंत्री कुशवाह ने शिविर में मौजूद अधिकारियों को निर्देश दिए कि निराकरण से शेष रहे आवेदनों को समयबद्ध कार्यक्रम के तहत निराकृत करें। साथ ही निराकरण की सूचना संबंधित हितग्राही और मेरे स्थानीय कार्यालय में अनिवार्यत: पहुँचाई जाए। उन्होंने कहा कि आवेदनों का निराकरण लोगों की संतुष्टि के साथ किया जाए। कुशवाह ने ग्रीष्मकाल के दौरान हैण्डपम्पों के संधारण की पुख्ता व्यवस्था करने पर भी बल दिया। साथ ही निर्देश दिए कि पेयजल व्यवस्था में कोई ढ़िलाई न हो।   सुशासन शिविर में बड़ी संख्या में मौजूद ग्रामीणजनों को विभिन्न विभागों की योजनाओं की जानकारी भी विभागीय अधिकारियों द्वारा इस अवसर पर दी गई। शिविर में अनुविभागीय दण्डाधिकारी मुरार पुष्पा पुषाम एवं जनपद पंचायत मुरार के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राजीव मिश्रा सहित विभिन्न विभागों के जिला एवं खण्ड स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।

Kolar News

Kolar News 29 April 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश के ऊर्जा क्षेत्र को आधुनिक तकनीक से सुसज्जित कर उन्नत बनाने के लिए ऊर्जा विभाग ने केएफडब्ल्यू डेवलपमेंट बैंक जर्मनी के साथ ऋण एवं अनुदान के लिए अनुबंध हस्ताक्षरित किया। भोपाल में पावर मैनेजमेंट कंपनी के क्षेत्रीय कार्यालय में ऊर्जा सचिव एवं एमपी पावर मैनेजमेंट कंपनी के प्रबंध संचालक विवेक पोरवाल, एमपी पॉवर मैनेजमेंट कंपनी की ओर से डायरेक्टर कॉमर्शियल राजीव केसकर एवं बैंक के प्रतिनिधि के तौर पर हेमंत भटनागर ने अनुबंध-पत्रों पर हस्ताक्षर किये। प्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों में प्रस्तावित विभिन्न विकास कार्यो के लिए 1400 करोड़ रुपये के वित्त पोषण के लिए पृथक ऋण अनुबंध, पृथक अनुदान अनुबंध एवं प्रोजेक्ट अनुबंध हस्ताक्षरित किए गए।   ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने शुक्रवार को उक्त जानकारी देते हुए बताया कि इस वृहद योजना में 1120 करोड़ रुपये का ऋण केएफडब्ल्यू डेव्लपमेंट बैंक देगा। शासन इस योजना में शेष 280 करोड़ रुपये की राशि ऊर्जा विभाग को उपलब्ध कराएगा। विद्युत सुधार के इन प्रयासों से मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी, मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी तथा पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनियों के कार्य क्षेत्र में स्मार्ट मीटरिंग, फीडर सेपरेशन जैसे कार्य किए जा सकेंगे।   उल्लेखनीय है कि भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने 23 दिसम्बर 2021 को केएफडब्ल्यू डेव्लपमेंट बैंक जर्मनी के साथ ऋण अनुबंध एवं अनुदान अनुबंध हस्ताक्षरित किया था। मध्यप्रदेश शासन इसी अनुबंध के आधार पर प्रदेश के विद्युत क्षेत्र को सुदढ़ बनाने के लिए प्रयासरत है।

Kolar News

Kolar News 29 April 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को राजधानी भोपाल के स्मार्ट सिटी उद्यान में पीपल और सप्तपर्णी के पौधे रोपे। इस मौके पर वर्धमान ग्रीन पार्क कॉलोनी जन-कल्याण विकास समिति के सदस्य रघुनंदन शर्मा, हीरालाल ठाकुर, लालचंद भारके, हेमेंद्र मालवीय और ए. खान ने भी पौध-रोपण किया।   बता दें कि समिति द्वारा कॉलोनी के नाम “ग्रीन पार्क” के अनुरूप रख-रखाव के साथ 100 पौधे लगाए गए है, जो हरे भरे है। कॉलोनी में वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था भी है। कॉलोनी परिसर में निरंतर स्वच्छता अभियान चलाया जाता है। समय-समय पर जागरूकता शिविर लगाकर शासन-प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे जनहित के कार्यक्रमों की जानकारी दी जाती है।   उल्लेखनीय है कि पीपल छायादार वृक्ष है। इसे अक्षय वृक्ष भी कहा जाता है। यह पर्यावरण शुद्ध करता है। इसका धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व है। पीपल का वृक्ष दिन-रात ऑक्सीजन छोड़ता है, जो पर्यावरण के लिए महत्वपूर्ण है। सप्तपर्णी, सदाबहार औषधीय वृक्ष है, जिसका आयुर्वेद में बहुत महत्व है। इसका उपयोग विभिन्न औषधियों के निर्माण में किया जाता है।

Kolar News

Kolar News 29 April 2022

भोपाल। आजादी के अमृत महोत्सव में जनोपयोगी स्वास्थ्य शिविर शनिवार को साँवेर में आयोजित किया गया। शिविर का लाभ आस-पास के गाँवों से आये लोगों ने लिया। मेले में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और मंत्री तुलसीराम सिलावट भी सम्मिलित हुए। स्वास्थ्य शिविर में सभी तरह के रोगों के परीक्षण और उपचार की व्यवस्था की गई और सरकारी क्षेत्र के साथ इंदौर के बड़े अस्पतालों के डॉक्टर और उनका स्टॉफ़ भी मौजूद रहा।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश में 30 अप्रैल तक स्वास्थ्य मेलों का आयोजन आज़ादी का अमृत महोत्सव की श्रृंखला के तहत हो रहा है। साँवेर में आज इस स्वरूप में स्वास्थ्य मेले को देखकर उन्हें हार्दिक प्रसन्नता है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में दो दिवसीय स्वास्थ्य मेलों का भी आयोजन किया जाएगा।   मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि मंत्री तुलसीराम सिलावट की अगुवाई में सांवेर क्षेत्र में तेजी से विकास हो रहा है। यहाँ सड़कों के निर्माण के साथ सिंचाई की सुविधाएँ भी निरंतर बढ़ रही है। मंत्री सिलावट हमेशा सांवेर क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार के लिए सजग रहते हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में सांवेर स्वास्थ्य सुविधाओं को प्राप्त करने में कभी भी पीछे नहीं रहेगा। मंत्री डा. चौधरी ने विगत कुछ महीनों में साँवेर क्षेत्र में स्वीकृत किए गए कार्यों का उल्लेख भी किया।   जल-संसाधन मंत्री सिलावट ने कहा कि सांवेर अब तरक़्क़ी की दिशा में निरंतर आगे बढ़ रहा है। यहाँ सिंचाई, स्वास्थ्य और शिक्षा के साथ स्वच्छता के क्षेत्र में भी काम हो रहा है। उन्होंने शिविर में मौजूद डॉक्टरों से कहा कि वे स्वास्थ्य मेले में आए प्रत्येक मरीज़ का पूरी संवेदना के साथ उपचार करें, यदि किसी को फ़ॉलोअप में उपचार की ज़रूरत होती है, तो उसका कार्ड बनाकर दें। आवश्यकतानुसार उनका उपचार अरविंदो हॉस्पिटल में नि:शुल्क कराया जाएगा।   इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि साँवेर के स्वास्थ्य मेले के लिए सभी जन-प्रतिनिधियों ने मंत्री सिलावट की अगुवाई में मेहनत की है। आस-पास के गाँवों से मरीज़ यहाँ पर उपचार के लिए आए हैं। उन्होंने बताया कि आने वाले दिनों में प्रत्येक नागरिक का एक आभा कार्ड बनाकर दिया जाएगा। सभी प्राइवेट और सरकारी अस्पताल एक पोर्टल के माध्यम से जुड़ेंगे। हर एक नागरिक का हेल्थ पहचान-पत्र बनेगा, जो समय पर उपचार में एक महत्वपूर्ण दस्तावेज़ बनकर काम आएगा।   स्वास्थ्य मेले का हजारों नागरिकों ने लिया लाभ साँवेर में आयोजित स्वास्थ्य मेले में साँवेर तथा आस-पास के लगभग 4 हजार ग्रामीणों ने अपना पंजीयन कराया। इन ग्रामीणों का विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया गया और दवाइयाँ उपलब्ध कराकर उपचार किया गया। स्वास्थ्य मेले में सर्जिकल, मेडिकल, स्त्री-शिशु रोग, नेत्र रोग, दंत रोग, क्षय रोग, चर्म रोग, हड्डी रोग, कुष्ठ रोग एवं मानसिक रोग के विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा मरीजों की निःशुल्क जाँच की जाकर आवश्यक दवाइयों का निःशुल्क वितरण किया गया। पोषण आहार, स्वच्छता, परिवार कल्याण, बिना चीरा- बिना टांका नसबंदी एवं एड्स आदि बीमारियों की जानकारी एवं परामर्श दिया गया। मेले में हेल्थ आईडी और आयुष्मान भारत कार्ड के पंजीयन की सुविधा भी उपलब्ध करायी गयी। स्वास्थ्य मेले में अरविन्दो हॉस्पिटल, राजश्री अपोलो हॉस्पिटल, बाम्बे हॉस्पिटल, महाराजा यशवंतराव हॉस्पिटल के 50 से अधिक डॉक्टरों एवं उनकी सहयोगी टीमों द्वारा सभी प्रकार की बीमारियों का इलाज किया गया। इसके लिए पृथक-पृथक काउंटर की व्यवस्था की गई। मेले में आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी चिकित्सा परीक्षण भी किया गया।

Kolar News

Kolar News 23 April 2022

भोपाल। प्रदेश के किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री और जिले के प्रभारी कमल पटेल ने शनिवार को खरगोन प्रशासन को 5 लाख रुपये की राशि स्वैच्छानुदान मद से अंतरित कर दी है। उन्होंने कहा है कि शेष 5 लाख रुपये की राशि भी शीघ्र ही अंतरित की जायेगी। मंत्री पटेल के निर्देश पर दंगा प्रभावित परिवारों के खाते में राहत राशि अंतरित की जा रही हैं।   खरगोन जिला प्रशासन ने मंत्री पटेल के स्वैच्छानुदान मद से प्राप्त 5 लाख रुपये की राशि में से 19 दंगा प्रभावितों के खाते में 20-20 हजार रुपये कुल राशि 3 लाख 80 हजार रुपये अंतरित कर दी है। इसमें लक्ष्मी पवार, जिसकी किताबें जला दी गई थीं और लक्ष्मी मुछाल, जिनका विवाह होना था, भी शामिल हैं।   स्वैच्छानुदान मद से वल्लभ-विठ्ठल महाजन, मनीष-रत्नाकर सोनी, सुधर्म-रत्नाकर सोनी, हर्षल-द्वारकादास महाजन, चंचला-प्रवीण पंडित, हिमांशु-कैलाशचंद्र बंसोड़, नाना-बिशन कहार, कान्हा-संतोष धनगर, विरेन्द्र-शंकर लाल भावसार, जगदीश-श्रीराम तिवारी, राजकुमार-भैयालाल भावसार, भैयालाल-ओंकारलाल भावसार, सचिन-बसंत तिवारी, मोहनलाल-बाबूलाल भावसार, रितेश-राधाकृष्ण सुतार और नितिन-कृष्ण कुमार कलार के खातों में भी 20-20 हजार रुपये की राशि अंतरित की गई है।

Kolar News

Kolar News 23 April 2022

भोपाल। वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा के निर्देशानुसार वित्त विभाग द्वारा पचमढ़ी में दो दिवसीय चिंतन 2022 शुक्रवार से शुरू हुआ। वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा शनिवार को चिंतन 2022 का समापन करेंगे।   चिंतन 2022 में अपर मुख्य सचिव, वित्त डॉ. मनोज गोविल ने बताया कि पूर्व में चिंतन 2018 के अंतर्गत वर्तमान नवीन आवश्यकताओं के अनुसार नवीन कोषालय संहिता 2020 का निर्माण हुआ। इस चिंतन में भी यह प्रयास रहेगा कि सभी दल अपने विचारों के नीतिगत कार्यान्वयन के लिए चिंतन एवं उसके बाद भी सतत रूप से प्रयासरत रहे।   विशिष्ट अतिथि डॉ. पिनाकी चक्रवर्ती, पूर्व संचालक राष्ट्रीय लोक वित्त एवं नीति संस्थान , नई दिल्ली द्वारा मध्यप्रदेश की वित्तीय स्थिति की सम्पूर्ण देश के साथ तुलना करते हुए "Fiscal Situation of state: Challenges and Opportunities" प्रस्तुत किया गया। विशिष्ट अतिथि प्रो. सचिन चतुर्वेदी, उपाध्यक्ष, म.प्र. राज्य नीति एवं योजना आयोग ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से "How can Madhya Pradesh contribute towards making India $ 5 trillion economy" पर प्रस्तुतिकरण दिया। प्रो. चतुर्वेदी ने उन्होंने "Trade led growth with minimal state intervention" की आवश्यकता पर बल दिया।   संचालक पेंशन जेके शर्मा ने वर्तमान डिजिटल युग में पुराने नियमों को सरल बनाते हुए प्रक्रियाओ को पेपरलेस एवं न्यूनतम मानवीय हस्तक्षेप करने की दिशा में अपने दल के विचार व्यक्त किये। डॉ. राजीव सक्सेना, संचालक कोष एवं लेखा ने वर्तमान में प्रयुक्त IFMIS परियोजना की उपयोगिता एवं उसके अंतर्गत आ रहे चैलेंजेज की जानकारी दी। उन्होंने वर्तमान IFMIS के अंतर्गत आ रही समस्यायों के निराकरण में वर्तमान की cutting edge technology के साथ वित्तीय प्रणाली को फेसलेस, पेपरलेस, कान्टेक्टलेस करने हेतु आगामी IFMIS-Next Genका परिचय दिया।   पूरी कार्यशाला में अपर मुख्य सचिव, वित्त सचिव, आयुक्त कोष एवं लेखा, संचालक बजट, कलेक्टर होशंगाबाद एवं अन्य अधिकरियों ने निरंतर प्रतिभागियों से संवाद स्थापित कर कार्यशाला को समृद्ध बनाया।

Kolar News

Kolar News 22 April 2022

भोपाल। केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह के शुक्रवार को भोपाल आगमन पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पुष्प-गुच्छ भेंट कर स्वागत किया।   स्टेट हेंगर पर विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम, प्रदेश के मंत्रीगण डॉ. नरोत्तम मिश्रा, तुलसी सिलावट, जगदीश देवड़ा, बिसाहूलाल सिंह, भूपेन्द्र सिंह, मीना सिंह, कमल पटेल, बृजेन्द्र प्रताप सिंह, विश्वास सारंग, डॉ. प्रभुराम चौधरी, महेन्द्र सिंह सिसौदिया, ओमप्रकाश सखलेचा, उषा ठाकुर, प्रेमसिंह पटेल, अरविंद सिंह भदौरिया, डॉ. मोहन यादव, राजवर्धन सिंह, भारत सिंह कुशवाह, रामखेलावन पटेल, सांसद एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने भी केन्द्रीय मंत्री शाह का पुष्प-गुच्छ भेंट कर स्वागत किया।   इस मौके पर पुलिस महानिदेशक सुधीर सक्सेना, संभागायुक्त गुलशन बामरा, भोपाल पुलिस कमिश्नर मकरंद देउस्कर, कलेक्टर अविनाश लवानिया एवं भोपाल संभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 22 April 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने गृहमंत्री अमित शाह के भोपाल प्रवास के दौरान आदिवासी विकास को लेकर उनसे सवाल पूछे हैं। उन्होंने एक बयान में अमित शाह से पूछा कि क्या आप जानते हैं कि नीति आयोग रिपोर्ट में मध्यप्रदेश की ढाई करोड़ की आबादी गरीबी रेखा के नीचे जीवन पर मजबूर है। इसमें सबसे अधिक आदिवासी ही हैं। अमित शाह जी ऐसे सवालों पर चुप्पी क्यों साध लेते हैं? जीतू पटवारी ने गृह मंत्री से पूछा कि सिर्फ रैलियों से नहीं होगा आदिवासी भाइयों का उद्धार क्या आप जानते हैं? केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक मध्यप्रदेश के आदिवासी क्षेत्रों में 2067 उपस्वास्थ्य केंद्र, 467 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और 101 सामुदायिक केंद्रों की कमी है। फोटो बनाने के लिए मंत्री से पूछा कि क्या आप जानते हैं कि जबलपुर में शंकर शाह व रघुनाथ शाह का बलिदान दिवस, भोपाल में बिरसा मुंडा की जयंती और टंट्या मामा बलिदान दिवस में भाजपा ने केवल आदिवासी गौरव का बखान किया। लेकिन, उनके लिए या कुछ भी नहीं।   पूर्व मंत्री ने पूछा कि एनसीआरबी की रिपोर्ट भाजपा के 17 वर्षों के कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड है। आदिवासियों, दलितों, महिलाओं और वंचितों पर अत्याचार बढ़े हैं। अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। कानून का डर खत्म हो गया है। एनसीआरबी के आंकड़े के मुताबिक 2020 में मध्यप्रदेश में आदिवासियों के खिलाफ हुए अत्याचार के कुल 2401 मामले दर्ज किए गए। जो कि 2019 के आंकड़ों की तुलना में 25 फीसदी ज्यादा रहे। सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक देश में आदिवासियों पर सबसे अधिक अत्याचार मध्यप्रदेश में होता है। जबकि आदिवासियों को सुविधा देने के मामले में भी मध्यप्रदेश सबसे फिसड्डी राज्य है।   जीतू पटवारी ने कहा कि आदिवासी कल्याण के सारे काम कांग्रेस की सरकार में हुए हैं। कमलनाथ सरकार में आदिवासियों को विशेष सुविधाएं दी गई और योजनाएं शुरू की थी। शिवराज सिंह चौहान सरकार ने उन योजनाओं को बंद करने का ही काम किया है। भाजपा आदिवासी विकास के नाम पर से छलावा कर सकती है कोई कल्याण नहीं कर सकती।

Kolar News

Kolar News 22 April 2022

भोपाल। पशुपालन एवं डेयरी मंत्री प्रेमसिंह पटेल ने गुरुवार को बताया कि केन्द्र शासन द्वारा प्रदेश में 4 करोड़ 6 लाख पशुधन के मान से 406 चलित पशु चिकित्सा इकाई स्वीकृत की गई हैं। केन्द्रीय पशु चिकित्सालयों एवं औषधालयों की स्थापना एवं सुदृढ़ीकरण एवं योजना में वर्ष 2021-22 में भारत सरकार द्वारा चलित पशु चिकित्सा इकाई का नवीन घटक शामिल किया गया है। योजना में प्रति एक लाख पशुधन पर एक चलित पशु चिकित्सा इकाई संचालित की जाएगी।   मंत्री पटेल ने बताया कि चलित पशु चिकित्सा इकाई का वाहन पूर्णत: आधुनिक उपकरणों और स्टाफ से सुसज्जित रहेगा। वाहन में एक पशु चिकित्सक, एक पैरावेट और एक वाहन चालक सह-सहायक रहेगा। इसके अलावा वाहन में पशु चिकित्सा, लघु शल्य चिकित्सा, कृत्रिम गर्भाधान, रोग अन्वेषण से संबंधित आवश्यक उपकरण स्थापित रहेंगे। प्रचार-प्रसार के लिये प्रोजेक्टर, स्पीकर आदि भी लगाया जाएगा।   वाहन में उपलब्घ आवश्यक मानव संसाधन, औषधि, वाहन के लिये पीओएल एवं रख-रखाव आदि के लिये प्रति वर्ष 18 लाख 72 हजार रूपये प्रति चलित पशु चिकित्सा इकाई का प्रावधान किया गया है। इसमें 60 प्रतिशत केन्द्रांश एवं 40 प्रतिशत राज्यांश रहेगा। वाहन, वाहन की साज-सज्जा, पशु चिकित्सा के लिये आवश्यक उपकरण, प्रचार-प्रसार उपकरण और फेब्रीकेशन के लिये भी 16 लाख रूपये का प्रावधान किया गया है। यह राशि 100 प्रतिशत केन्द्रांश आधारित है।   चलित पशु चिकित्सा इकाई के लिये कॉल सेंटर की भी स्थापना की जायेगी। कॉल सेंटर में कॉल ऑपरेटर एवं पशु चिकित्सक की नियुक्ति की जायेगी। सेंटर के लिये भी 60 प्रतिशत केन्द्रांश एवं 40 प्रतिशत राज्यांश राशि का प्रावधान किया गया है।

Kolar News

Kolar News 21 April 2022

भोपाल। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह 22 अप्रैल को एक दिवसीय भोपाल प्रवास पर रहेंगे। इस दौरान शाह एक घंटे से अधिक समय भाजपा प्रदेश कार्यालय में उपस्थित रहेंगे और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं, पदाधिकारियों और प्रदेश सरकार के मंत्रीगणों से अनौपचारिक भेंट करेंगे। उनके आगमन को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं में अपार जोश है।   पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने गुरुवार को बताया कि भारत के गृह मंत्री अमित शाह के आगमन को लेकर कार्यकर्ताओं में उत्साह और उमंग है। व्यापक स्तर पर पार्टी ने स्वागत की तैयारियां की है। उन्होंने कहा कि राजाभोज की नगरी भोपाल में केन्द्रीय गृह मंत्री का कार्यकर्ताओं द्वारा ऐतिहासिक और भव्य स्वागत होगा।   हवाई अड्डे पर कार्यकर्ता करेंगे अगवानी विष्णुदत्त शर्मा ने बताया कि निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह गुरुवार को प्रातः 10.30 बजे भोपाल हवाई अड्डा पहुंचेंगे, जहां पार्टी कार्यकर्ता उनकी अगवानी करेंगे। प्रातः 11.10 बजे सीएपीटी भोपाल पहुंचकर वृक्षारोपण कर 48 वीं अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस के कार्यक्रम में शामिल होंगे। शाह दोपहर 1.30 बजे मुख्यमंत्री आवास पहुंचेंगे। दोपहर 2.15 बजे लाल परेड ग्राउंड से हेलीकॉप्टर द्वारा जंबूरी मैदान पहुंचेंगे। दोपहर 2.35 बजे जंबूरी मैदान में वन समितियों के सम्मेलन को संबोधित करने के पश्चात शाह शाम 4.27 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा लाल परेड ग्राउंड पहुंचेंगे।   5 नं. स्थित श्रीकृष्ण प्रणामी मंदिर से प्रदेश कार्यालय तक कार्यकर्ता करेंगे ऐतिहासिक स्वागत शर्मा ने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के स्वागत को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने व्यापक तैयारियां की है। प्रदेश कार्यालय सजधज कर तैयार है। कार्यालय परिसर को आकर्षक रूप से सुसज्जित किया गया है। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय गृह मंत्री शाह जंबूरी मैदान के कार्यक्रम के पश्चात लाल परेड ग्राउंड होते हुए भाजपा कार्यालय रवाना होंगे। 5 नं. स्थित श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर से प्रदेश कार्यालय तक उनका कतारबद्ध होकर पार्टी कार्यकर्ता, विभिन्न सामाजिक संगठन और नागरिक गर्मजोशी के साथ स्वागत करेंगे।   उन्होंने बताया कि अमित शाह शाम 5.05 बजे भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय, पं. दीनदयाल परिसर पहुंचकर महापुरूषों की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे। माल्यार्पण के पश्चात श्री शाह जी प्रदेश पदाधिकारियों, वरिष्ठ नेताओं और प्रदेश सरकार के मंत्रीगणों से अनौपचारिक भेंट करेंगे। कार्यालय से केन्द्रीय गृह मंत्री सायं 6.15 बजे पुनः सड़क मार्ग द्वारा लाल परेड ग्राउंड पहुंचेंगे। सायं 6.35 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा लाल परेड ग्राउंड से स्टेट हैंगर पहुंचकर रात्रि 8.05 बजे विमान द्वारा दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे।

Kolar News

Kolar News 21 April 2022

भोपाल। प्रदेश के कई राजनीतिक दलों की गुरुवार को सीपीआई (एम) कार्यालय भोपाल में एक संयुक्त बैठक हुई, जिसमें उन्होंने प्रदेश की भाजपा सरकार पर राज्य की शांति और भाईचारे पर ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया।   वामपंथी राजनीतिक दलों ने कहा कि प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान पर अमन शांति पैदा करने की बजाय संविधान विरोधी काम कर रही है। वह न केवल साम्प्रदायिक तत्वों को संरक्षण दे रही है, बल्कि आगे बढ़कर हिंदुत्ववादी एजेंडे को लागू कर रही है, जिसका हिन्दू धर्म से कोई संबंध नहीं है। रामनवमी के अवसर पर खरगोन और सेंधवा में इसी इरादे से साम्प्रदायिक दंगा करवाया गया। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयान असंविधानिक, आपराधिक, उकसावे वाले तथा साम्प्रदायिक विभाजन को बढ़ाने और साम्प्रदायिक तत्वों को शह देने वाले होते हैं।   बैठक के बाद जारी संयुक्त वक्तव्य में इन दलों ने कहा कि पत्थर फेंकने वालों के घरों को पत्थरों का ढेर बना देने के गृहमंत्री के बयान के बाद तो सिर्फ अल्पसंख्यकों के मकानो और दुकानों को निशाना बनाया गया। यहां तक कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने मकान भी तोड़ दिए गए। जिसके दोनो हाथ कटे हुए हैं, उसकी गुमटी भी पत्थर तोडऩे के आरोप में तोड़ दी गई। जो किसी व्यक्तिगत झगड़े के कारण जेल में है, उसे भी आरोपी बनाकर उसका मकान भी तोड़ दिया गया।   उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार की यह हरकत फासीवादी प्रवृत्ति का परिचायक है, जहां दोषी होने का निर्णय अदालत नहीं बल्कि सत्ताधारी पार्टी के नेताओं के कहने पर पुलिस कर रही है। भाजपा और संघ परिवार की यह मुहिम किसी भी समुदाय के हित में नहीं है। दंगाग्रस्त क्षेत्रों में महावीर जयंती, गुड फ्राइडे, बैसाखी, अंबेडकर जयंती, हनुमान जयंती जैसे सभी समुदायों के त्योहार प्रभावित हुए हैं।   वामदलों का कहना था कि भाजपा यह सब अपनी सरकार की असफलताओं को छिपाने और धार्मिक उन्माद पैदा कर सत्ता को बचाने के लिए ही कर रही है। जब प्रदेश में दलित उत्पीड़न का शिकार हो रहे हैं। दलित दूल्हों को घोड़े पर नहीं बैठने दिया जा रहा है। उनके मंदिर प्रवेश पर रोक लगाई जा रही है। तब भाजपा एक शब्द भी नहीं बोलती।   बैठक में शामिल दलों ने प्रदेश के साम्प्रदायिक सद्भाव की रक्षा के लिए सभी धर्मनिरपेक्ष ताकतों और व्यक्तियों को एकजुट होने का आह्वान किया। उन्होंने मुख्यमंत्री, गृह मंत्री तथा अन्य मंत्रियों के आपत्तिजनक बयानों की निंदा करते हुए भविष्य में इस प्रकार के बयानो पर रोक लगाने की मांग की है। बैठक ने बुलडोजर संस्कृति पर तत्काल रोक लगाने की मांग करते हुए खरगोन सहित प्रदेश भर में घटी इस तरह की घटाने के परीक्षण के लिए एक सर्वदलीय समिति के गठन की मांग की है और इस दंगे में जिनका भी नुकसान हुआ है या मकान गिराए गए हैं, उन्हें पूरा मुआवजा दिए जाने की मांग दोहराई है।   बैठक में जसविंदर सिंह (सीपीएम), शैलेन्द्र कुमार शैली (सीपीआई,), स्वरूप नायक (राजद), राजू भटनागर (एनसीपी), यश भारतीय (समाजवादी पार्टी), प्रदीप कुशवाहा (राष्ट्रीय समानता दल ) अजय श्रीवास्तव (लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी) तथा देवेंद्र सिंह चौहान सीपीआई (एमएल) लिबरेशन की ओर से उपस्थित थे। इनके अलावा बादल सरोज, प्रमोद प्रधान, पी वी रामचंद्रन, एस एस मौर्या, प्रहलाद दास बैरागी, सत्यम पाण्डेय, दिनेश सेन, कुलदीप गुर्जर, मोहन सिंह नागर भी बैठक में शामिल हुए।

Kolar News

Kolar News 21 April 2022

भोपाल। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा राजस्व संग्रहण एजेंट योजना के लिए अब पंजीयन राशि 5 हजार से घटाकर एक हजार रुपये कर दी गई है। इससे एक ओर जहाँ व्यक्ति/एजेंसी/संस्था को रोजगार मिलेगा, वहीं दूसरी ओर बिजली कंपनी को राजस्व वसूली में सहूलियत होगी।   ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने युवाओं से योजना का लाभ लेने का आहवान किया है। उन्होंने कहा कि उपभोक्ताओं से अच्छा व्यवहार और संवाद रखें तथा अपने आसपास के ग्रामों, मोहल्लों में घर-घर जाकर कार्य करेंगे तो योजना के बेहतर परिणाम प्राप्त हो सकेंगे।   योजना एक नजर में कंपनी में पंजीकृत व्यक्ति/एजेंसी/संस्था को कंपनी के निष्ठा पोर्टल/निष्ठा मोबाइल एप पर एजेंट के रूप में बिजली बिलों का भुगतान कराना होगा। कंपनी द्वारा 1 हजार रुपये तक के बिल भुगतान पर 5 रुपये प्रति बिल कमीशन दिया जाएगा। राशि पाँच हजार रूपये से अधिक के बिल भुगतान पर 10 रुपये प्रति बिल कमीशन दिया जाएगा। कंपनी द्वारा संबंधित व्यक्ति/एजेंसी/संस्था को कमीशन के अतिरिक्त जीएसटी का भुगतान भी किया जाएगा। बिल भुगतान कराने के लिए संख्या का कोई बंधन नहीं। पंजीयन की पात्रता आवेदक का भारतीय नागरिक होना, इच्छुक व्यक्ति/एजेंसी/संस्था का GSTIN अथवा PAN नंबर और राष्ट्रीयकृत अथवा निजी बैंक में खाता अनिवार्य है। इंटरनेट सुविधा युक्त एंड्रायड स्मार्ट फोन अथवा कम्प्यूटर के साथ रसीद प्रिंट करने के लिए प्रिंटर जरूरी है। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी में अथवा कंपनी की अनुबंधित बाह्य स्त्रोत एजेंसी में कार्यरत व्यक्ति/कर्मचारी योजना के लिए पात्र नहीं होंगे।   पंजीयन की प्रक्रिया इच्छुक व्यक्ति/एजेंसी/संस्था को कंपनी के पोर्टल portal.mpcz.in पर जाकर अपना पंजीयन कराना होगा। वापसी योग्य पंजीयन शुल्क एक हजार रूपये कंपनी में ऑनलाइन जमा करना होगा। पंजीयन उपरांत कंपनी द्वारा संबंधित व्यक्ति/एजेंसी/संस्था को ईमेल पर यूजर आईडी एवं पासवर्ड उपलब्ध कराया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 20 April 2022

भोपाल। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा कि नये हमीदिया अस्पताल की व्यवस्थाएँ सुव्यवस्थित और सुसज्जित हो। मरीज मित्र योजना के जरिए व्यवस्थाएँ ऐसी हो कि मरीजों को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो और मरीजों का विशेष ख्याल रखा जाए। मंत्री सारंग बुधवार को गांधी मेडिकल कॉलेज की साधारण सभा और निर्माण संबंधी बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।   नये निर्माण के पहले सर्वे जरूर करें उन्होंने कहा कि परिसर में छात्रों के लिए रिक्रियेशन सेंटर के साथ प्ले ग्राउण्ड भी तैयार किया जाये। भविष्य को ध्यान में रखते हुये छात्रावास और मल्टीलेवल पार्किंग की व्यवस्था तैयार की जाये। उन्होंने कहा कि परिसर में नये निर्माण कार्य के पहले सर्वे जरूर करवाये, जिससे किसी भी प्रकार की परेशानी भविष्य में न आएँ।   स्वशासी मद की आय बढ़ाने का हो प्रयास मंत्री सारंग ने कहा कि एक कमेटी बनाकर स्वशासी मद को बढ़ाने का प्रयास किया जाये। उन्होंने स्पष्ट किया कि मरीजों पर किसी भी प्रकार का अतिरिक्त भार न देते हुये बाउंड्रीवाल से लगी हुई व्यवसायिक दुकान निर्माण पर विचार किया जा सकता है। आडिटोरियम में गतिविधियों के लिये भवन शुल्क लेकर भी स्वशासी मद को बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि नॉलेज शेयरिंग मिशन के लिये अलग से मद बनाकर राशि आवंटित की जाए। साथ ही रिक्रियेशन सेंटर के लिये भी अलग से राशि का प्रावधान हो।   स्वच्छता के लिए हो रैंकिंग चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने कहा कि नवनिर्मित हमीदिया अस्पताल भी स्वास्थ्य सेवाओं में अग्रणी रहे। पूरे देश में नामी अस्पतालों में हमीदिया की पहचान बने, इसी सोच से काम करना होगा। उन्होंने स्वच्छता अभियान अगले सोमवार से शुरू करने और प्रति सप्ताह उसका आंकलन करने के निर्देश दिये। हर सोमवार रैंकिंग के आधार पर उसमें सहयोग करने वाले स्वास्थ्य कर्मी का सम्मान किया जायेगा। अभियान में विभागाध्यक्ष से लेकर वार्ड बॉय सभी शामिल हो।   मंत्री सारंग ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का आभार व्यक्त करते हुये कहा कि आयुष्मान योजना और मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से जरूरतमंद मरीजों के इलाज में सहायक सिद्ध हो रही है।

Kolar News

Kolar News 20 April 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को राजधानी भोपाल के स्मार्ट सिटी उद्यान में गिव भारत वेलफेयर फाउंडेशन के साथ सप्तपर्णी और बादाम के पौधे लगाए। इस दौरान सदस्यों आदित्य शर्मा, अंकित तिवारी, कौस्तुभ भिड़े और पारस वाजपेयी ने भी पौध-रोपण किया।   बता दें कि गिव भारत वेलफेयर फाउंडेशन एक समाजसेवी संस्थान है, जो बीते कोरोना काल से लेकर अभी तक कई रूपों में समाज की सेवा कर रहा है। साथ ही आवश्यकता के अनुरूप बेसहारा लोगों, गरीबों एवं बुजुर्गों को दवा और भोजन पहुँचाने का कार्य भी किया जाता है। ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली बालिकाओं की शिक्षा संबंधी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए आर्थिक तौर पर भी सहायता की जाती है। मुख्यमंत्री चौहान ने संस्थान के उल्लेखनीय कार्यों के लिए सभी सदस्यों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी है।   पौधों का महत्व उल्लेखनीय है कि पौधों में सप्तपर्णी का पौधा सदाबहार औषधीय वृक्ष है, जिसका आयुर्वेद में बहुत महत्व है। इसका उपयोग विभिन्न औषधियों के निर्माण में किया जाता है। बादाम का सेवन उच्च रक्तचाप, कब्ज और हृदय रोग में उपयोगी माना गया है। यह पोटेशियम, मैग्नीशियम, केल्शियम और विटामिन-ई से भरपूर है।

Kolar News

Kolar News 20 April 2022

  भोपाल। मप्र के श्रवण कुमार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हरी झंडी दिखाकर मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना की पहली ट्रेन को भोपाल के रानी कमलनापति स्टेशन से मंगलवार को रवाना किया। प्रदेश के तीर्थ-यात्रियों के लिए मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना एक बार पुनः प्रारंभ हुई। संस्कृति पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर स्वयं तीर्थ-यात्रियों की सेवा के लिए ट्रेन में यात्रा कर रही हैं। यात्रियों का पहला दिन प्रभु भक्ति में मग्न होकर बीता   शाम 6 बजे करीब तीर्थ-यात्रियों की ट्रेन सागर रेलवे स्टेशन पहुँची। मंत्री ऊषा ठाकुर ने सागर, टीकमगढ़ और दमोह जिले के तीर्थ-यात्रियों का फूल माला से स्वागत किया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक प्रदीप लारिया भी मौजूद रहे। रेलवे स्टेशन सागर से दमोह, सागर और टीकमगढ़ के यात्री काशी विश्वनाथ की तीर्थ-यात्रा में शामिल हुए।     सुंदरकांड और संध्या वंदन का हुआ आयोजन   मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना ट्रेन में सवार होकर तीर्थ-यात्रियों के साथ जा रही मंत्री उषा ठाकुर ने तीर्थ-यात्रियों के साथ सुंदरकांड का पाठ और संध्या वंदन किया। प्रभु भक्ति में मग्न होकर मंत्री उषा ठाकुर ने भी यात्रियों के साथ यात्रा को पूर्णता दी।     भगवान भोलेनाथ का भजन कीर्तन करते नजर आए तीर्थ-यात्री   मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में काशी विश्वनाथ का दर्शन करने जा रहे तीर्थ-यात्रियों के खुशी का ठिकाना नहीं रहा। ट्रेन के डिब्बे में सवार तीर्थ-यात्री भगवान काशी विश्वनाथ का भजन गाते और झूमते नजर आए। ट्रेन का मुख्य आकर्षण भजन मंडलियों ने प्रभु भजन गाकर ट्रेन में भक्तिमय माहौल बना दिया। सभी यात्रियों ने भी छोटे-छोटे समूह में भगवान के भजन गाए।     यात्रा के दौरान सभी तीर्थ-यात्रियों को दोपहर का भोजन, चाय नाश्ता और रात का खाना दिया गया। तीर्थ-यात्रियों को कोई परेशानी न हो इसके लिए बकायदा ट्रेन में डॉक्टर की भी व्यवस्था की गई है।     काशी विश्वनाथ का दर्शन करने जा रही भोपाल निवासी 65 वर्षीय केसर बाई का कहना है कि उनका बेटा ऑटो चलाता है। उसे इतनी आय नहीं हो पाती कि वह तीर्थ-यात्रा पर जा सके। मुख्यमंत्री चौहान को उन्होंने धन्यवाद दिया है और कहा है कि इसी तरह से यह ट्रेन चलती रहे और प्रदेश के हर बूढ़े बुजुर्ग का आशीर्वाद शासन को मिलता रहे।

Kolar News

Kolar News 19 April 2022

भोपाल। नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग ने कहा है कि मध्यप्रदेश ने शानदार उपलब्धि हासिल करते हुए पिछले 12 सालों में ग्रीन ऊर्जा उत्पादन में 32 गुना प्रगति की है। लोकहित को सर्वोपरि मानते हुए प्रदेश में नवीन ऊर्जा के सुनियोजित विकास के लिये वर्ष 2010 में नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा विभाग का गठन किया गया था।   उक्त जानकारी देते हुए जनसंपर्क अधिकारी सुनीता दुबे ने मंगलवार को बताया कि वर्ष 2010 में 160 मेगावॉट उत्पादित क्षमता से अब तक हम 5 हजार 152 मेगावॉट से अधिक नवकरणीय ऊर्जा प्रदेश में स्थापित कर चुके हैं। इसमें 2 हजार 444 मेगावॉट पवन ऊर्जा, 2 हजार 490 मेगावॉट सौर ऊर्जा, 119 मेगावॉट बायोमास ऊर्जा और 99 मेगावॉट लघु जल विद्युत परियोजना का योगदान शामिल है।   देश की वृहदतम 750 मेगावॉट क्षमता की रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर परियोजना से दिल्ली की मेट्रो ट्रेन को गति मिल रही है। मध्यप्रदेश के लिये यह योजना मील का पत्थर साबित हुई है। इस योजना के निर्माण से राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय निवेशकों का मध्यप्रदेश के प्रति भरोसा बढ़ा है।   मंत्री डंग ने कहा है कि परंपरागत ऊर्जा उत्पादन से कार्बन उत्सर्जन, जलवायु परिवर्तन, ग्लोबल वॉर्मिंग की चुनौतियों के साथ कोयला भंडारों के समाप्त होने का भी खतरा मंडरा रहा है। सूर्य एवं पवन ऊर्जा ऐसे भंडार हैं, जिनका कितना भी दोहन किया जाए, कभी खत्म नहीं होंगे और इनसे मिलने वाली ऊर्जा स्वच्छ है।

Kolar News

Kolar News 19 April 2022

भोपाल। प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि एनसीडी बूथ (असंचारी रोग केन्द्र) के जेपी अस्पताल में शुरू होने से उच्च रक्तचाप, मधुमेह आदि का त्वरित उपचार हो सकेगा। मधुमेह और रक्तचाप से ह्रदय, फेफड़ा और गुर्दा में उत्पन्न होने वाली जटिलताओं के तुरंत उपचार से मरीजों को लाभ मिलेगा।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी मंगलवार को राजधानी भोपाल के जेपी हॉस्पिटल में एनसीडी बूथ का लोकार्पण कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि एनसीडी बूथ के बारे में आम नागरिकों को जानकारी दी जाये। उन्होंने बूथ का निरीक्षण भी किया। इस अवसर पर एनएचएम एमडी प्रियंका दास, सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी, सिविल सर्जन डॉ. राकेश कुमार श्रीवास्तव उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 19 April 2022

भोपाल। किसान नेता और मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने अपने ट्वीट के माध्यम से कमलनाथ पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ बुढ़ापे में मुंगेरीलाल के हसीन सपने देख रहे है। पांच राज्यों में उनकी पार्टी मुंह की खा चुकी है। वे कांग्रेस कार्यालय के एक धड़वे मे मंत्रमुग्ध होकर मुंगेरीलाल बन गए हैं और प्रदेश में सत्ता वापसी के सपने देखते हुए प्रदेश के अधिकारियों को धमका रहे हैं। पटेल ने कहा कि कमलनाथ जी आपके 15 माह के शासनकाल को प्रदेश की जनता और किसान भूले नहीं है सभी वर्गों को आपने धोखा दिया। उन्होंने कहा कि आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जो स्थिति पांच राज्यों में बनी थी। उससे कहीं बदतर स्थिति मध्यप्रदेश में बनने वाली है। कमलनाथ जी सपने देखना बंद कर दो।

Kolar News

Kolar News 18 April 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को राजधानी भोपाल के स्मार्ट सिटी उद्यान में केंद्रीय राज्य मंत्री विदेश मामले तथा संस्कृति मीनाक्षी लेखी, पुरातत्वविद पद्मश्री केके मुहम्मद तथा बीएसएस कॉलेज के एनसीसी कैडेट्स के साथ पौध-रोपण किया। मुख्यमंत्री चौहान ने पीपल, पारिजात और करंज के पौधे लगाए। इस दौरान एनसीसी कैडेट्स आरूषि राय, अनुज अग्रवाल, जार्ज मूसा, दिव्यंका कुलहरे, वैभव परदेशी और प्रेरणा अम्माना ने भी पौध-रोपण किया।   मुख्यमंत्री ने कहा कि भोपाल के स्मार्ट पार्क में आज पीपल, पारिजात और करंज का पौधा रोपा। पीपल का वृक्ष 24 घंटे ऑक्सीजन देने के अलावा घाव, सूजन, दर्द से मुक्ति प्रदान करने जैसे अनेक गुणों के कारण अत्यंत उपयोगी है। हम सब पौधरोपण कर धरती को समृद्ध बनायें।"   पौधों का महत्व पीपल एक छायादार वृक्ष है। यह पर्यावरण शुद्ध करता है। इसका धार्मिक और आयुर्वेदिक महत्व है। प्रकृति विज्ञान के अनुसार पीपल का वृक्ष दिन-रात ऑक्सीजन छोड़ता है, जो पर्यावरण के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अलावा पीपल के पेड़ को अक्षय वृक्ष भी कहा जाता है। पारिजात के पौधे को हरसिंगार भी कहा जाता है, जो उत्तम औषधि भी है। करंज के पौधे का इस्तेमाल धार्मिक कार्यों में भी किया जाता है।

Kolar News

Kolar News 18 April 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने आरोप लगाते हुए कहा कि झूठ बोलने में माहिर भाजपा और उसके नेता अब मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना को लेकर भी झूठ परोस रहे हैं। कांग्रेस कमेटी के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि मंत्री विश्वास सारंग व भाजपा के बड़बोले विधायक रामेश्वर शर्मा कह रहे हैं कि कांग्रेस सरकार में तीर्थ दर्शन योजना बंद कर दी गई थी, जबकि सच्चाई यह है कि कमलनाथ सरकार के मात्र 15 महीने के कार्यकाल में शिवराज सरकार के 5 वर्ष के कार्यकाल से ज्यादा ट्रेनें विभिन्न धार्मिक स्थलों के लिए रवाना की गई थीं।   सलूजा ने कहा कि चाहे तिरुपति बालाजी हो, वैष्णो देवी, काशी बोध गया, रामेश्वरम या सिख समाज के धार्मिक स्थल अमृतसर, पटना साहिब, आनंदपुर साहिब, पोंटा साहिब या अजमेर शरीफ हो, सभी धार्मिक स्थलों के लिए बड़ी संख्या में ट्रेनें प्रदेश के विभिन्न शहरों से रवाना की गई थी, इसके प्रमाण भी मौजूद हैं। कांग्रेस, झूठे भाजपा नेताओं के आरोपों के बाद आज इसके प्रमाण भी जारी कर रही है।   कांग्रेस नेता ने तंज कसते हुए कहा कि विश्वास सारंग और रामेश्वर शर्मा की प्रतिद्वंद्विता जगजाहिर है और दोनों झूठ बोलने में एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा करते हैं। बढ़ती गर्मी का असर भी इन दोनों पर नजर भी आ रहा है, बेहतर हो झूठ परोसने की बजाय यह दोनों किसी अच्छे अस्पताल जाकर अपना इलाज कराये। सलूजा ने बताया कि कमलनाथ सरकार में मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना कभी बंद नहीं हुई, उल्टा ज्यादा से ज्यादा धार्मिक स्थलों को इस योजना से जोड़ा गया और प्रदेश के हजारों नागरिकों को तीर्थ स्थलों पर भेजा गया। जबकि यह योजना तो कोरोना की आड़ लेकर शिवराज सरकार में बंद पड़ी थी और वही कोरोना काल भाजपा के तमाम आयोजन, रैलियां, सभाएं, चुनाव तक चलते रहे परंतु यह योजना कोरोना की आड़ लेकर बंद कर दी गयी थी।   सलूजा ने कहा कि इन दोनों भाजपा नेताओं को तो अपनी शिवराज सरकार से इस विषय में सवाल पूछना चाहिए। साथ ही इन्हें अपनी सरकार से कमलनाथ सरकार की ‘‘जय जवान किसान ऋण माफी योजना, इंदिरा ग्रह ज्योति योजना" जैसी कई जन हितैषी योजनाओं को लेकर भी सवाल उठाना चाहिए, जिन्हें शिवराज सरकार में बंद किया गया है।

Kolar News

Kolar News 18 April 2022

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा एवं प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद की सहमति से रविवार को सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक मदनलाल राठौर ने और सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक प्रदीप नायर ने प्रकोष्ठ के प्रदेश सह संयोजक एवं पदाधिकारियों की घोषणा की है।   सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश सह संयोजकों में गजेन्द्र सकलेचा उज्जैन, अनन्त पंवार इंदौर, उमाकांत दीक्षित भोपाल, अशोक सिंघई जबलपुर, देवीदीन दुबे सागर, भरतसिंह राजपूत नर्मदापुरम, अजय सिंह बघेल शहडोल, रमापति जायसवाल रीवा, ब्रजकिशोर डंडोतिया चम्बल एवं अशोक पटसारिया ग्वालियर शामिल है। अमित उदय शाजापुर को प्रदेश सोशल मीडिया प्रभारी, सत्यजीत चतुर्वेदी भोपाल को प्रदेश कार्यालय मंत्री एवं विनोद गुर्जर मंदसौर को सह कार्यालय मंत्री घोषित किया है।   सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के प्रदेश सह संयोजकों में मनोज अनंत चंबल, विनय जैन ग्वालियर, अर्पित पाण्डेय सागर, वशिष्ठ पाण्डेय रीवा, जितेन्द्र भट्ट शहडोल, कमलेश यादव जबलपुर, दिनेश तिवारी नर्मदापुरम, संजय मिश्रा भोपाल, प्रीति वसुनिया इंदौर, प्रितेश चावला उज्जैन शामिल है। मयूरेश पिंगले इंदौर को प्रदेश कार्यालय मंत्री, नीरज यादव भोपाल को सह कार्यालय मंत्री एवं सुमित तिवारी भोपाल को सोशल मीडिया प्रभारी घोषित किया है।

Kolar News

Kolar News 17 April 2022

भोपाल। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आगामी 22 अप्रैल को भोपाल के प्रवास पर रहेंगे। इस दौरान केन्द्रीय गृह मंत्री वनोपज समिति तेंदूपत्ता संग्राहक सम्मेलन के कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्य कार्यक्रम भोपाल के जंबूरी मैदान में आयोजित होगा।   भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने उक्त जानकारी देते हुए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण करें। पीडब्ल्यूडी बैरिकेडिंग के लिए आवश्यक कार्रवाई करे। गर्मी के मौसम को देखते हुए जगह-जगह पानी के पाउच कार्यक्रम स्थल पर रखे जाए। इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग अपनी एक दर्जन से अधिक टीमें कार्यक्रम स्थल के आसपास लगाए. जिससे आपात स्थिति से निपटने के लिए सुविधा हो। इसके साथ-साथ नगर निगम साफ-सफाई, टॉयलेट और बैरिकेडिंग की व्यवस्थाएं भी सुनिश्चित करें।   उन्होंने कहा कि कार्यक्रम स्थल की सुरक्षा व्यवस्था, ट्राफिक रूट प्लान करने के लिए पुलिस विभाग व्यवस्थाएं संभालेगा। वन समितियों तेंदूपत्ता संग्राहक लोगों का महासम्मेलन में अन्य व्यवस्थाओं के लिए अपर कलेक्टर माया अवस्थी को नोडल और समन्वय के रूप में कार्य करने के लिए अधिकृत किया गया है।

Kolar News

Kolar News 17 April 2022

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भारत के पूर्व राष्ट्रपति, प्रख्यात शिक्षाविद और दार्शनिक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की पुण्य-तिथि पर रविवार को उन्हें नमन किया। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने निवास कार्यालय स्थित सभागार में उनके चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की।   मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट के माध्यम से डॉ. राधाकृष्णन के विचार को दोहराते हुए कहा कि "यदि शिक्षा सही प्रकार से दी जाये तो समाज से अनेक बुराइयों को मिटाया जा सकता है।" उन्होंने आगे कहा कि "भारत के पूर्व राष्ट्रपति, डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी की पुण्यतिथि पर विनम्र श्रद्धांजलि। आपके ओजस्वी विचार सदैव युवाओं को शिक्षित, सशक्त भारत के निर्माण के लिए प्रेरित करते रहेंगे।"     उल्लेखनीय है कि डॉ. राधाकृष्णन का जन्मदिन 5 सितंबर को भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने अपने जीवन के 40 वर्ष शिक्षक के रूप में बिताए। शिक्षा और राजनीति में उत्कृष्ट योगदान देने के लिए डॉ. राधाकृष्णन को देश का सर्वोच्च अलंकरण “भारत रत्न” प्रदान किया गया। वे सामाजिक बुराइयों को खत्म करने के लिए शिक्षा को ही कारगर मानते थे। डॉ. राधाकृष्णन ने अपने लेख और भाषणों के माध्यम से विश्व को भारतीय दर्शन शास्त्र से परिचित कराया। वे स्वतंत्र भारत के पहले उप राष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति रहे। सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने लंबी बीमारी के बाद 17 अप्रैल, 1975 को अपनी देह त्याग दी।

Kolar News

Kolar News 17 April 2022

भोपाल। भाजपा राजनैतिक दल होने के साथ ही समाज के उन मुद्दों और विषयों पर भी काम करता है, जो व्यक्ति के सामाजिक दायित्व से जुडे होते हैं। लाडली लक्ष्मी योजना, बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना, जलाभिषेक अभियान जैसे अन्य अभियान समाज से जुड़े होते हैं। इसलिए भाजपा की कार्यपद्धति से समाज का हर वर्ग प्रभावित होता है। आज समाज का हर वर्ग हमसें जुडना चाहता है। विशेष संपर्क अभियान के के माध्यम से हम समाज के प्रभावी लोगों तक सरकार के काम और पार्टी की विचारधारा पहुंचाने का काम करेंगे।   यह बात पार्टी के प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने शनिवार को भोपाल स्थित पार्टी में विशेष संपर्क अभियान की बैठक को संबोधित करते हुए कही। बैठक को पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद ने भी संबोधित किया। बैठक में पार्टी के प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी भी मंचासीन थे।   विशेष संपर्क अभियान पार्टी का सबसे महत्वपूर्ण कार्य मुरलीधर राव ने कहा कि भाजपा की देश और प्रदेश में सरकार जनसेवा का कार्य कर रही है। आने वाले 25 वर्षों तक सेवा का यह क्रम निरंतर चलता रहे, इसके लिए हमें जनता के मिल रहे समर्थन को और बढाना है। हमारे आसपास और कार्यक्षेत्र में अनेक विशेष काम करने वाले लोग हैं, जो हमारी पार्टी की कार्यशैली से प्रभावित है। ऐसे उन्नतशील किसान, महिलाएं, ख्याति प्राप्त खिलाडियों और अलग अलग क्षेत्रों में अपनी पहचान बनाने वाले लोगों की सूची तैयार कर उनसे संपर्क करें।   उन्होंने कहा कि समय समय पर जब जिलों में प्रादेशिक नेता का प्रवास होता है तब इन प्रभावी लोगों के साथ आयोजन करें। विशेष संपर्क अभियान पार्टी का सबसे महत्वपूर्ण कार्य है। इस दृष्टि से आप स्वस्फूर्त होकर इस कार्य में जुटें। प्रदेश के सभी संगठनात्मक जिलों को मिलाकर पूरे प्रदेश से लगभग 3 हजार से अधिक ऐसे प्रबुद्धजनों को चिन्हित करें, जो समाज में प्रभावी भूमिका रखते हो।   संगठन का साहित्य और सरकार की उपलब्धियां भेंट करें : हितानंद पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद ने कहा कि विशेष संपर्क अभियान पार्टी का महत्वपूर्ण और प्रभावी कार्यक्रम है, इसके लिए व्यापक तैयारियां करें। श्रेणीवार सूची तैयार करें और प्रत्येक 10 नामों पर एक कार्यकर्ता की जिम्मेदारी तय करें। उन्होंने कहा कि विधानसभावार सूची तैयार हो और जब प्रबुद्धजनों से संपर्क के लिए जाएं तो पार्टी के वरिष्ठजनों द्वारा उन्हें संगठन का साहित्य और सरकार की उपलब्धियों के पत्रक भी भेंट करें।

Kolar News

Kolar News 16 April 2022

भोपाल। प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने शनिवार को हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र के रहवासियों को जिला अस्पताल की सुविधाएँ उपलब्ध करवाने टेलीमेडिसिन व्यवस्था का जायजा लिया। उन्होंने रायसेन जिला के बनगंवा "आरोग्यम उप स्वास्थ्य केन्द्र (हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर) पहुँचकर आमजन की तरह स्वयं की जाँच करवाई। उन्होंने इलाज करवाने आए ग्रामीणों से चर्चा की और व्यवस्थाओं का जायजा लिया।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि प्रदेश के सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर, ई-संजीवनी में टेली कंसल्टेशन के माध्यम से मरीजों को उनके घर के समीप, गाँव में जिला अस्पताल के उपचार की व्यवस्थाएँ देने की अभिनव पहल की गई है। उन्होंने कहा कि सेंटर पर शुगर, ब्लड प्रेशर, हिमोग्लोबिन आदि जाँचे और 97 प्रकार की औषधियाँ निःशुल्क उपलब्ध है। ई-संजीवनी हेल्थ एंड वेलनेस सेन्टर में नियुक्त सीएचओ उपचार के लिए आए मरीज से उसकी तकलीफ के बारे में पूछते हैं। बीमारी के अन्य लक्षण की जानकारी लेकर हब सेन्टर जिला अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सक को फोन पर बताया जाता है। विशेषज्ञ चिकित्सक आवश्यक होने पर मरीज से भी जरूरी जानकारी लेकर उपचार देते हैं।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी को केन्द्र पर इलाज के लिए आए मरीजों ने बताया कि उनकी बात फोन पर जिला अस्पताल के चिकित्सक से हुई और विशेषज्ञ चिकित्सक ने दवाइयाँ बताई, जिसे केंद्र पर उपस्थित सीएचओ ने उन्हें प्रदान किया।   मध्य