Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782
Advertisement

समाज

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे है। सोमवार को प्रदेश में 5215 जांच में 98 नए मरीज मिले है। वहीं, भोपाल में एक मरीज की मौत रिपोर्ट हुई है। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे है। सोमवार को प्रदेश में 5215 जांच में 98 नए मरीज मिले है। वहीं, भोपाल में एक मरीज की मौत रिपोर्ट हुई है। प्रदेश के अगल-अलग अस्पताल में संदिग्ध/ संक्रमित 34 मरीज भर्ती है। इनमें से 4 ऑक्सीजन सपोर्ट पर है। प्रदेश में अब तक 10 लाख 44 हजार 917 लोग संक्रमित हो चुके है। इनमें से 10 लाख 33 हजार 429 ठीक हो चुके है। कोरोना के कारण अब तक सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार 10 हजार 744 लोगों की जान जा चुकी है। सोमवार को 81 मरीज ठीक हुए। अभी प्रदेश में 744 एक्टिव केस है। प्रदेश में 14 जिलों में सोमवार को मरीज मिले है। इसमें इंदौर में सबसे ज्यादा 56 मरीज मिले है। इसके अलावा बैतूल में 1, भोपाल में 6, बुरहानपुर में 1, धार में 1, डिंडौरी में 1, ग्वालियर में 1, हरदा में 2, होशंगाबाद में 3, जबलपुर में 9, खरगोन में 3, नरसिंहपुर में 5, रायसेन में 6, सीहोर में 3 संक्रमित मिले है।

Kolar News

Kolar News 5 July 2022

जिले के बैकुंठपुर निवासी बुद्धसेन विश्वकर्मा 15 वर्षों की उम्र से लकड़ी में कलाकारी करके तराशने का काम कर रहे हैं। आज वे 56 वर्षों के हो चुके हैं। कारीगर ऐसे कि लकड़ी की सुई से लेकर मोटरसाइकिल जैसी डिजाइनिंग बनाने की कलाकारी रखते हैं। बॉलीवुड शहंशाह अमिताभ बच्चन से लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक इस कलाकार को जानते हैं। पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह से लेकर मौजूदा सीएम शिवराज सिंह भी उनकी कला के फैन हैं। अपनी कलाकारी से कई लोगों को फैन बनाने वाले बुद्धसेन विश्वकर्मा का जीवन बेहद गरीबी में गुजर रहा है। उनके पास रहने के लिए अपना घर तक नहीं है। 11 दिसंबर वर्ष 2016 को बुद्धसेन विश्वकर्मा ने दिल्ली जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बीएमडब्ल्यू डिजाइनिंग की तरह दिखने वाली मोटरसाइकिल गिफ्ट की थी। इसे उन्होंने वेस्ट लकड़ी का इस्तेमाल कर बनाया था। 3 फीट ऊंची मोटरसाइकिल बनाने में उन्हें चार महीने का समय लगा था। उपहार मिलने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब बुद्धसेन विश्वकर्मा से पूछा कि उनसे क्या चाहते हो? बुद्धसेन विश्वकर्मा ने जवाब दिया- कुछ नहीं चाहिए। वह सिर्फ उन्हें बाइक देकर अपनी 12 वर्ष की बेटी की इच्छा पूरी करना चाहते हैं। बेटी आपकी बहुत बड़ी फैन है। ये जवाब उस बुद्धसेन विश्वकर्मा का था, जिसके पास न रहने को खुद का मकान है और न बैंक बैलेंस। दिन 2 वक्त की रोटी जुटाने में गुजर जाता है। रात का कुछ हिस्सा कुछ न कुछ नया बनाने में। प्रधानमंत्री को मिले 100 तोहफों की नीलामी हुई तो बुद्धसेन विश्वकर्मा की मोटरसाइकिल सबसे महंगी बिकी थी। नीलामी की रकम गंगा सफाई अभियान के फंड में दी गई। बुद्धसेन विश्वकर्मा 15 वर्षों से ही लकड़ी के खिलौने बनाने का कार्य कर रहे हैं जिनका यह प्रोफेशनल शौक है। वे देश के जानी-मानी दिग्गज हस्तियों को अपनी कारीगरी का गिफ्ट दे चुके हैं। जब उन्होंने बॉलीवुड शहंशाह अमिताभ बच्चन को भी एक अनोखा उपहार दिया तो वह भी उनके फैन हो गए। सेलिब्रिटीज से मिलते-मिलते काम में निखार आता गया। आज बुद्धसेन विश्वकर्मा लकड़ी के खूबसूरत मंदिर बनाने के लिए मशहूर हैं। बुद्धसेन  विश्वकर्मा ने वनइंडिया हिंदी से बातचीत में बताया कि हम एक भाई और एक बहन ही थे। मेरी 5 संताने है। 4 बेटे और 1 बेटी है। दूसरे नंबर का बेटा उनके जैसे ही लकड़ी की कलाकारी का कार्य करता है। बड़ा बेटा और 2 छोटे बेरोजगार हैं। सरकार की तरफ से मदद का आश्वासन मिलता रहा है। पर मिला आज तक कुछ नहीं। मेरी कलाकारी देखकर 1 भले आदमी ने घर देकर रखा है, उसी में रहकर जीवन यापन कर रहा हूं।

Kolar News

Kolar News 5 July 2022

भेल के कर्मचारियों और उनके परिवारों को इलाज देने वाला कस्तूरबा अस्पताल खुद बीमार है। यहां मरीजों की संख्या के आधार पर करीब 100 डॉक्टर होना चाहिए लेकिन काम सिर्फ 40 ही कर रहे हैं। यह हालात तब है जब अस्पताल की सेहत सुधारने के लिए रोडमैप तैयार किया जा रहा है। यहां दस साल पहले 150 से ज्यादा डॉक्टर थे जो घटकर 40 हो गए हैं। वहीं इसके अलावा भी प्रदेश के जिला अस्पतालों सहित अनेक सरकारी अस्पताल भी इन दिनों खुद बीमार बने हुए हैं, लेकिन अब तक सरकार की ओर से उन्हें सुधारने के लिए क्या कुछ प्लान किया गया है, इस संबंध में कोई जानकारी सामने नहीं आई है। ऐसे में अभी ये अस्पताल तक अपना नंबर आने का इंतजार कर रहे हैं। कोविड के बाद अन्य अस्पताल जहां ऑक्सीजन व्यवस्था को दुरुस्त कर रहे हैं, वहीं कस्तूरबा में आधे बेड पर ऑक्सीजन सप्लाई ही नहीं है। यहां 300 में से सिर्फ 150 बिस्तरों पर ही ऑक्सीजन की व्यवस्था है। इसमें से भी 20 आईसीयू के बिस्तर हैं। अगर कोरोना जैसे हालात एक बार फिर बनते हैं तो यहां मरीजों को भर्ती करना मुश्किल हो जाएगा। वहीं दूसरी ओर प्रदेश के कई जिलों में अव्यवस्था और अन्य समस्याओं से जुझ रहे सरकारी अस्पतालों को सुधारने का कोई सरकारी रोडमैप तैयार किया भी जा रहा है कि नहीं इस संबंध में किसी प्रकार की सूचना मौजूद नहीं है। सरकारी अस्पतालों में अव्यवस्थाओं की बानगी पिछले दिनों ही राजगढ़ ब्यावरा के सरकारी अस्पताल व गुना के जिला अस्पताल में देखने को मिली थी, ये स्थितियां कब मरीजों पर मौत बनकर टूटेंगी इसका कोई भरोसा नहीं, लेकिन इसके बावजूद सरकार अब तक उस पर मौन साधे दिख रही है। जानकारी के मुताबिक करीब दस साल पहले अस्पताल में ओपीडी में सिर्फ 500 मरीज ही पहुंचते थे। उनके इलाज के लिए अस्पताल में 150 चिकित्सक थे। अब ओपीडी में मरीजों की संख्या बढ़कर 800 से ज्यादा हो गई लेकिन डॉक्टर कम हो गए।

Kolar News

Kolar News 5 July 2022

कोरोना एक बार फिर अपने पैर पसार रहा है। अप्रैल और मई में कोरोना से मौतों का सिलसिला थमा हुआ था । वहीँ अब मध्यप्रदेश में चल रहे चुनाव के बीच कोरोना से बढ़ती मौत की खबरें सामने आरही है। आपको बता दें की मई के मुकाबले जून में कोरोना से होने वाली मौतें 86% तक बढ़ गई हैं। जून में करीब 1878 लोग कोरोना संक्रमित हुए थे। और  55 मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था । जिनमे से सात लोगों की जान चली गयी थी। चिंता का विषय यह है की अब उम्रदराज लोगों के लिए संक्रमण से जान का खतरा बढ़ रहा है। जिन सात मरीजों की मौतें हुई, उनमें से 4 की उम्र 70 के आसपास   थी। एक्सपर्ट की माने तो कोरोना ने रफ़्तार इसलिए पकड़ी है क्युकी थर्ड वेव के बाद केस कम होने पर सरकार द्वारा कोविड के प्रतिबंध खत्म कर दिए गए थे। ऐसे में जिन्होंने वैक्सीनेशन करा चूका है वह लोग घर से बाहर निकलते वक्त मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान नहीं रख रहे। इससे अब घर के नौजवान के ज़रिये संक्रमण घर के बुजुर्गों तक पहुंच रहा हैं। और संक्रमण के कारण उम्रदराज और दूसरी गंभीर बीमारियों से ग्रस्त मरीजों की हालत बिगड़ रही है। स्वास्थ्य विभाग की जानकारी के अनुसार पिछले एक महीने में संक्रमित मिले मरीजों में 186 मरीज ऐसे हैं, जिन्होंने वैक्सीन का एक भी डोज नहीं लगवाया था। 44 पॉजिटिव ऐसे हैं, जिन्हें सिर्फ एक डोज ही लगा था। अब तेजी से मरीज बढ़ रहे हैं। और ऐसे में नॉन वैक्सीनेटेड ग्रुप को गंभीर खतरा भी बढ़ रहा है। 

Kolar News

Kolar News 4 July 2022

मध्यप्रदेश में तीन सिस्टम एक्टिव होने की वजह से मूसलाधार बारिश हो रही है। भोपाल ,इंदौर ,सागर में टूटकर बादल बरस रहे है। भारी बारिश की वजह से कई नदी नाले उफान पर है। और कई निचले हिस्सों में पानी भरने किन खबर भी आई है। मौसम विभाग की माने तो ओडिशा में कम दबाव का क्षेत्र बना है। दक्षिणी झारखंड में भी हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात है। अरब सागर से भी नमी मिल रही है।इन्ही वजहों से अगले चार से पांच दिन भोपाल, इंदौर समेत दूसरे शहरों में अगले चार दिन बारिश होने के आसार है। मध्यप्रदेश में रविवार रात से ही रुक रुक कर बारिश का सिलसिला जारी है। भोपाल ऊपर इंदौर मियाउ भी लगातार बारिश हो रही है। खंडवा, अशोकनगर, सागर, छिंदवाड़ा, खंडवा, रायसेन और ग्वालियर में भी काफी बारिश हो रही है। भारी बारिश के साथ साथ कई जगह बिजली गिरने से मौत की भी खबरे आयी है। बिजली गिरने से तीन लोगों के मौत की खबर आयी है,जिनमे से एक भिंड एक दमोह और एक टीकमगढ़ के लोग बताये जा रहे है। सागर के कुछ घरों में तीन फिट तक पानी भर गया है और कुछ कच्चे मकानों की दीवारें भी गिर गयी हैं। बुरहानपुर के निंबोला में रविवार को 1 घंटे तक लगातार बारिश होने की वजह से उतावली नदी में बाढ़ आगयी। जिस वजह से निंबोला-खामला रोड की पुलिया डूब गई और पुलिया के दोनों तरफ 100 से ज्यादा लोग फंसे रहे। जब दो घंटे बाद पानी उतरा उसके  बाद लोग यहां से निकल सके।  मौसम विभाग ने भोपाल, नर्मदापुरम समेत 20 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। अलीराजपुर, बड़वानी, बुरहानपुर, खंडवा और खरगोन में तेज बारिश के आसार है। उमरिया, अनूपपुर, डिंडोरी और शहडोल में भारी बारिश हो सकती  हैं। प्रदेश के बाकी शहरों में हल्की से तेज बारिश होगी । मौसम विभाग द्वारा सोमवार को प्रदेश के कई शहरों में बारिश का यलो अलर्ट जारी कर दिया गया है। साथ ही बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी मंडला, जबलपुर, छिंदवाड़ा, कटनी, डिंडोरी, शहडोल, अनूपपुर और उमरिया में अधिक भरी वर्षा की चेतावनी दी गयी है। 

Kolar News

Kolar News 4 July 2022

भोपाल के लिंक रोड नंबर-3 स्थित फॉरेस्ट कॉलोनी में उस समय बाढ़ जैसे हालात बन गए। जब वहां से गुज़री कोलार लाइन फूट गई। पाइपलाइन फूटने से  कई फीट ऊपर तक पानी का फव्वारा फूट पड़ा। और कई घरों में पानी भर गया जिसके कारण घरों में रखा सामान तक बह गया। इसके चलते लोगों का गुस्सा भी फूट पड़ा। पानी से रहवासियों को काफी नुकसान हो गया है। नगर निगम अधिकारियों पर उनकी नाराजगी देखने को मिली। करीब एक घंटे तक तेज प्रेशर से पानी बहता रहा। लोगों ने सड़क पर उतरकर नाराजगी जताई। पाइप लाइन फूटने से कई इलाकों में आज शाम को पानी की सप्लाई नहीं हो सकेगी। बस्ती के रहवासियों ने बताया, फारेस्ट कॉलोनी के पास डेढ़ से दो महीने से पाइप लाइन में लीकेज है। फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसका नतीजा यह रहा कि आज पाइप लाइन में अचानक बड़ा विस्फोट हुआ और तेज प्रेशर से पानी बहने लगा। इसके चलते कॉलोनी के कई घरों में पानी भर गया। छोटे बच्चों को घरों से जैसे-तैसे पकड़कर निकाला। यदि हम नहीं होते तो बच्चे बह भी सकते थे। लोगों ने यह भी अमित ने बताया, पाइप लाइन में लीकेज होने के बारे में करीब 10 बार सीएम हेल्पलाइन में शिकायत कर चुके हैं, लेकिन कोई निराकरण नहीं हुआ। करीब एक घंटे तक लाइन में से प्रेशर से पानी निकलता रहा और कॉलोनी के घरों में पानी भर गया। जिससे सामान खराब हो गया। लोगों का लाखों रुपए का नुकसान हो गया। इससे गुस्साएं लोग सड़क पर निकल गए और नाराजगी जताई। उनका कहना ही कि यदि समय रहते पाइप लाइन में सुधार हो जाता तो आज यह हालात नहीं बनते।

Kolar News

Kolar News 3 July 2022

वर्तमान में अलग अलग स्थानों पर 5 वेदर सिस्टम एक्टिव है और सोमवार 4 जुलाई को ओडिशा तट पर एक कम दबाव का क्षेत्र विकसित होने की संभावना है, जिसके बाद 5 जुलाई से प्रदेशभर में झमाझम बारिश के आसार है। एमपी मौसम विभाग ने आज रविवार 3 जुलाई 2022 को 30 जिलों में भारी से अति भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। वही सभी 6 संभागों और 3 जिलों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर भी चेतावनी जारी की गई है।   एमपी मौसम विभाग के अनुसार, आज रविवार 3 जुलाई 2022 को भोपाल संभाग के साथ अनूपपुर, उमरिया, शहडोल, जबलपुर, सिवनी, छिंदवाड़ा, बालाघाट, मंडला,कटनी, बैतूल, नर्मदापुर, सागर, दमोह, खंडवा, खरगोन, शाजापुर, आगर, इंदौर, धार, उज्जैन, रतलाम, देवास, अलीराजपुर,गुना और मंदसौर में भारी बारिश को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है। वही भोपाल, नर्मदापुरम, इंदौर, उज्जैन, जबलपुर और शहडोल संभाग के साथ दमोह, सागर और गुना में गरज चमक के साथ बिजली गिरने और चमकने का अलर्ट जारी किया गया है। एमपी मौसम विभाग के अनुसार, मानसून पूरे देश में सक्रिय हो चुका है, लेकिन बंगाल की खाड़ी में प्रभावी सिस्टम बनने के बाद ही झमाझम बारिश का दौर शुरू हो जाएगा। 4 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र विकसित होगा, इसके बाद 5 जुलाई से फिर मानसून मेहरबान होगा और ग्वालियर-चंबल संभाग में अच्छी बारिश के आसार बनेंगे। इंदौर में जुलाई और अगस्त माह में वर्षा का स्तर सामान्य के आसपास रहेगा। वही पूर्वी मप्र में वर्षा की गतिविधि ज्यादा होगी। कई वेदर सिस्टम एक्टिव होने के कारण प्रदेश में कहीं कहीं गरज चमक के साथ वर्षा हो रही है। एमपी मौसम विभाग के अनुसार, वर्तमान में 5 वेदर सिस्टम एक्टिव है। वर्तमान में राजस्थान के ऊपर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात मौजूद है और इस चक्रवात से लेकर पश्चिम-मध्य अरब सागर तक ट्रफ लाइन बनी हुई है। वही मानसून ट्रफ बीकानेर-अलवर से लेकर हरदोई, डाल्टनगंज और शांति निकेतन से होते हुए पूर्वोत्तर बंगाल की खाड़ी तक विस्तृत है, जबकि दक्षिण गुजरात से उत्तरी महाराष्ट्र तट के समानांतर एक अपतटीय ट्रफ बना हुआ है। वही बांग्लादेश पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है जिसके प्रभाव में सोमवार को ओडिशा तट पर एक कम दबाव का क्षेत्र विकसित होने की संभावना है।

Kolar News

Kolar News 3 July 2022

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना वायरस के चलते पहली मौत की खबर है। यहां एक सोमवार को निजी अस्पताल में भर्ती 52 वर्षीय शख्स की मौत हो गई। इसके मिलाकर अब तक राज्य में कोरोना वायरस के चलते 15 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं राज्य में कोरोना वायरस पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 216 हो चुकी है। राजधानी भोपाल की बात करें तो यहां पिछले 24 घंटों में 23 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं, जिसमें से 12 लोग तबलीगी जमात के सदस्य हैं।  राज्य सरकार से प्राप्त जानकारी के अनुसार भोपाल के इब्राहिम गंज निवासी एक शख्स 2 अप्रैल को भोपाल के निजी अस्पताल में भर्ती हुआ था। हालत बिगड़ने पर उसे वेंटिलेटर पर रखा गया। लेकिन सोमवार सुबह इस शख्स ने दम तोड़ दिया। यह कोरोना वायरस के चलते भोपाल में हुई पहली मौत है। अब तक राज्य के इंदौर, उज्जैन, बड़वानी और खरगोन शहर में कोरोना के चलते मौत के मामले सामने आए थे। दूसरी ओर जिन डॉक्टरों ने उसे वेंटिलेटर लगाया था, उसका कल कोरोना टेस्ट किया जाएगा। भोपाल में कोरोना संक्रमण के 23 नए मामले सामने आए हैं। जिसमें से 12 जमात के सदस्य शामिल हैं। इसके साथ ही राजधानी में कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 40 हो गई है। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक कोरोना वायरस के 215 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं भोपाल में एक और मौत के साथ मध्य प्रदेश में मरने वालों का आंकड़ा 15 पर पहुंच चुका है। राज्य का प्रमुख व्यावसायिक शहर इंदौर सबसे ज्यादा प्रभावित है, यहां 135 मामले आ चुके हैं।

Kolar News

Kolar News 3 July 2022

महंगाई के दौर में जहां हर एक चीज के दाम आसमान छू रहे हैं। ऐसे समय में भी कुछ लोग ऐसे हैं जो निस्वार्थ भाव से समाज की सेवा में लगे हुए हैं। जबलपुर के एक डॉक्टर महज 20 रुपये की फीस में लोगों का इलाज कर रहे हैं | डॉ एमसी डावर उम्र 76 साल और पेशा लोगों की सेवा करना डॉ. डावर जबलपुर की एक ऐसी शख्सियत हैं जिन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में एक ऐसी लकीर खींच दी है, जिसे पार करना किसी और डॉक्टर के वश में नहीं होगा। डॉ एम सी डावर महंगाई के इस दौर में भी महज ₹20 लेकर लोगों का इलाज कर रहे हैं। ठीक उतने ही पैसे जितने में जबलपुर में एक लीटर पानी मिल रहा है | डॉ एम सी डावर की कहानी बड़ी दिलचस्प है। वो पूर्व फौजी हैं सेना से रिटायर हुए हैं। डॉक्टर ने जबलपुर से ही एमबीबीएस की डिग्री हासिल की थी। फिर कड़ी मेहनत और लगन से सेना में भर्ती हुए और 1971 में भारत-पाकिस्तान जंग के दौरान सैकड़ों सैनिकों का इलाज किया। जंग खत्म होने के बाद एक बीमारी की वजह से डॉक्टर डाबर को सेना से रिटायरमेंट लेना पड़ा।  लेकिन अपने गुरु से मिले ज्ञान को उन्होंने अपने जीवन में उतारा और लोगों का इलाज शुरू कर दिया |डॉक्टर बताते हैं कि 1986 में उन्होंने मात्र 2 रुपए फीस में लोगों का इलाज शुरू किया था। उसे बाद में 3 रुपये और फिर 1997 में 5 रुपये कर दिया। बाद में महंगाई बढ़ी तो फिर 15 साल बाद 2012 में डॉक्टर साहब ने अपनी फीस बढ़ाकर 10 रुपए की और अब वो महज 20 रुपए में सबका इलाज कर रहे हैं. उम्र के इस पड़ाव में भी डॉक्टर साहब नियमित रूप से लोगों की सेवा कर रहे हैं। उनका समर्पण ऐसा है कि लोगों को जब जरूरत होती है तब वो मरीज देख लेते हैं। कभी क्लीनिक तो कभी घर पर ही मरीजों को देखने के लिए तैयार हो जाते हैं। आइये जानते है क्या कहते हैं डॉ डावर ?महंगाई के इस दौर में जब अस्पताल मरीजों से लाखों रुपए की फीस वसूलते हैं इस सवाल पर डॉ डाबर का कहना है जब उन्होंने एमबीबीएस किया था तब महज ₹10 फीस हुआ करती थी। आज युवाओं को डॉक्टर बनने के लिए लाखों रुपए खर्च करने पड़ते हैं तो स्वाभाविक है कि वह उसकी भरपाई भी जनता से करेंगे। लेकिन फिर भी डॉक्टरों को सोचना चाहिए जिससे जरूरत ना हो उससे कभी पैसे न लें। जनसेवा की सीख आज चिकित्सा का बाजारीकरण हो चुका है।  डोनेशन कॉलेज खुल चुके हैं।  लोगों ने इसे जनसेवा नहीं बल्कि व्यापार का एक जरिया बना लिया है।  अस्पतालों और डॉक्टरों की लाखों रुपये की फीस से आम जनता त्रस्त है। ऐसे लोगों के लिए डॉक्टर डाबर सीख देते हैं कि अगर जनसेवा की भावना हो तो आप जन सेवा कर सकते हैं। 

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

स्कूली बस्ते के बोझ से नौनिहालों का बचपन दबता जा रहा है। मासूम कंधों पर 30 किलो वजन से बच्चे और अभिभावक दोनों परेशान हैं। इसका खुलासा हुआ है बाल आयोग के प्रदेश के अलग-अलग स्कूलों में किए गए निरीक्षण से। इस दौरान बच्चों के बस्तों का वजन 20-30 किलो तक पाया गया, जबकि सरकार ने कक्षा और वजन के हिसाब से बैग को लेकर नियम तय कर दिए हैं। लेकिन स्कूलों में इसका पालन नहीं हो पा रहा है। बाल आयोग के सदस्य बृजेश सिंह चौहान का कहना है कि प्रदेशभर के जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि केंद्रीय शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल बैग के वजन को लेकर जारी दिसंबर-2020 की पॉलिसी का जिले के सभी स्कूलों में पालन करवाएं। ज्यादा भारी बैग उठाने से बच्चे पीठ और गर्दन दर्द से पीड़ित हो रहे हैं। 5 से 15 साल तक के कई बच्चों में ऐसी शिकायत पाई गई है। चिंतित अभिभावकों का कहना है कि एक तो बच्चा पहले से ही कमजोर है, ऊपर से भारी बैग और मुश्किल खड़ी कर रहा है। मेरा बच्चा पहली कक्षा में पढ़ता है। अभी उसे हर रोज 6-7 किताबें और इतनी ही कॉपियां रोज स्कूल ले जानी होती है। टिफिन और लंच बॉक्स को मिलाकर बैग का वजन 5 किलो से भी ज्यादा हो जाता है। इसलिए बच्चा स्कूल से आने के बाद बिल्कुल थक जाता हैकम उम्र में बच्चों पर बस्ते का बोझ लादने के गलत प्रभाव देखने को मिलते हैं। भारी बैग उठाने वाले बच्चे भविष्य में पोस्टुरल स्कोलियोसिस से ग्रस्त हो जाते हैं। यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें रीढ़ की हड्डी एक तरफ घूम जाती है।

Kolar News

Kolar News 2 July 2022

बुजुर्ग, विकलांग को मिलने वाली 600 रुपए प्रतिमाह की पेंशन सत्यापन के फेर में उलझी हुई है। करीब तीन माह से चार हजार लोगों को यह पेंशन नहीं मिल पाई। विभाग ने हितग्राहियों से नए सिरे से आवेदन कराए थे। जिनका भौतिक सत्यापन नहीं हो पाया। सर्वे के बाद इन्हें ऑनलाइन दर्ज किया जाना था।  राजधानी में पेंशन पाने वाले हितग्राहियों से नगर निगम ने वार्ड स्तर पर आवेदन जमा कराए थे। यहां से उनका सर्वे होना है। जिसमें सत्यापन की रिपोर्ट प्रस्तुत की जानी थी। इस रिपोर्ट के को ही पेंशन और आर्थिक मदद का आधार बनाया गया है। लेकिन न तो कई मामलों में रिर्पोट बनी और न ही पेंशन शुरू हो पाई। बताया गया कि आवेदन को तीन से चार महीने बीत चुके हैं। सर्वे नहीं हुआ। वहीं अधिकारियों ने बताया कि सर्वे हो चुका है। लोग घरों पर नहीं मिले। इसी के चलते पेंशन के मामले बंद हो गए। सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण संचालनालय में लोगों ने इस संबंध में आवेदन दिया है। ऐशबाग में रहने वाली मीना चौरसिया ने बताया कि जनवरी- 22 से उनकी पेंशन बंद है। उन्होंने सत्यापन के लिए अपने सभी दस्तावेज जमा करा दिए हैं। वे पेंशन के लिए पात्र हैं, लेकिन पेंशन शुरू नहीं हो रही है। मनोज तिवारी, संयुक्त संचालक, सामाजिक एवं कल्याण विभाग का कहना है कि जो लोग पात्र हैं उनको पेंशन का भुगतान करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। हितग्राही को पात्रता दर्शाना जरूरी है। धी नगर निवासी आमिर की पेंशन जून-2021 से खाते में आना बंद हो गई। वार्ड कार्यालय के कई चक्कर लगाए फिर भी पेंशन चालू नहीं हुई। नगर निगम मुख्यालय भी जाना हुआ लेकिन समाधान नहीं मिल पाया। प्रतिमाह पेंशन मिलती थी।

Kolar News

Kolar News 1 July 2022

राजधानी में पिछले कुछ दिनों से लगातार आसमान पर बादल बने हुए हैं, लेकिन बरस नहीं रहे हैं। जिसके चलते जहां शुक्रवार को उमस का अहसास हुआ वहीं गुरुवार को इससे मौसम की फिजा बदली रही। पिछले कुछ दिनों से शहर में सुबह से ही बादलों का डेरा डाल रखा है, साथ ही हवा के झोके भी मौसम को सुहाना बना रहे थे। कभी आसमान में काले घने बादल घिर रहे थे तो कभी बादल छटते जा रहे थे। घने बादलों को देखकर गुरुवार के दिन लोग भी बार-बार कयास लगा रहे थे कि तेज बारिश होगी, लेकिन दिन भर बादलों की आवाजाही के बीच शहर के कुछ हिस्सों में हल्की बूंदाबांदी ही हुई। मौसम के इस मिजाज के कारण शहर के अधिकतम तापमान में तेजी से गिरावट आ गई और तापमान 28.5 डिग्री तक पहुंच गया। शहर में तकरीबन 4 माह के अंतराल के बाद तापमान 30 डिग्री से नीचे पहुंचा है। शुक्रवार को भी शहर में सुबह से ही मौसम का अलग नजारा दिखाई दिया। दिन भर शहर बादलों की आगोश में रहा। जबकि इसके पहले गुरुवार को चली हल्की हवा के कारण शहर के तापमान में एक दिन में ही पांच डिग्री से अधिक की गिरावट आ गई। गुरुवार को जहां शहर का अधिकतम तापमान 28.3 डिग्री और न्यूनतम तापमान 26.4 डिग्री दर्ज किया गया, वहीं बुधवार को अधिकतम तापमान 33.3 और न्यूनतम 25.6 डिग्री दर्ज किया गया था। इस तरह बुधवार से गुरुवार को बीच तापमान में एक दिन में पांच डिग्री से अधिक की गिरावट आई है। वहीं ये भी जान लें कि पिछले चार महीने बाद अधिकतम तापमान 30 डिग्री से नीचे पहुंचा है। इसके पहले एक मार्च को अधिकतम तापमान 29.8 डिग्री दर्ज किया गया था। मौसम विभाग के अनुसार मानसून सिस्टम सक्रिय हो जाने के चलते शुक्रवार व गुरुवार को भी प्रदेश में अनेक स्थानों पर बारिश होने की संभावना है। इस दौरान जहां भोपाल में भी बादल छाए रह सकते हैं, वहीं इस दौरान हल्की और मध्यम बौछारें भी पड़ सकती हैं।

Kolar News

Kolar News 1 July 2022

मध्यप्रदेश में 77 हजार डॉक्टर की जरूरत है, लेकिन हकीकत यह है कि यहां सिर्फ 22 हजार डॉक्टर ही काम कर रहे हैं। प्रदेश में 3400 लोगों पर एक डॉक्टर ही मौजूद है। इससे भी चिंताजनक बात यह है कि प्रदेश में जिस रफ्तार से डॉक्टर तैयार हो रहे हैं, उससे अधिक रफ्तार से बेहतर की तलाश में बाहर जा रहे हैं। ऐसे में डब्लूएचओ के स्टैंडर्ड को पाने में राज्य को पांच से दस साल से अधिक का इंतजार करना पड़ेगा मध्य प्रदेश में 11 निजी और 13 सरकारी मेडिकल कॉलेज सहित 24 मेडिकल कॉलेज हैं। मालूम हो कि डब्ल्यूएचओ के मानक के अनुसार प्रति एक हजार व्यक्ति पर कम से कम एक चिकित्सक जरूरत होना चाहिए। एमपी मेडिकल काउंसिल ने प्रदेश में डॉक्टरों की सही संख्या जानने के लिए डॉक्टरों के रजिस्ट्रेशन के निर्देश जारी किए थे। अंतिम तिथि में कई बार बदलाव करने के बावजूद महज 22000 डॉक्टरों ने ही री रजिस्ट्रेशन कराया। मालूम हो कि काउंसिल के दस्तावेज में प्रदेश में डॉक्टरों की संख्या 59 हजार दर्ज है। अस्पतालों में डॉक्टरों की कमी को आंके तो स्थिति हद से ज्यादा चिंताजनक है। स्वास्थ्य विभाग विशेषज्ञों के 3278 पदों में से सिर्फ 1029 पर कार्यरत हैं. इनमें से भी इस साल 91 विशेषज्ञ रिटायर हो जाएंगे।  वहीं चिकित्सा अधिकारियों के 1677 पद खाली हैं। दूसरी ओर चिकित्सा शिक्षा विभाग में 2890 पदों में से 863 पद खाली हैं। मेडिकल कॉलेजों में डीन के 13 और अधीक्षक के 14 पद खाली हैं।  मध्य प्रदेश में 19 सरकारी मेडिकल कॉलेजों के साथ 51 जिला अस्पताल, 66 सिविल अस्पताल, 335 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, 1170 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, 9192 स्वास्थ्य उप केंद्र और 49864 ग्राम आरोग्य केंद्र हैं। डॉक्टरों का प्रदेश छोडना ही सबसे बड़ी समस्या है। प्रदेश में हर साल तीन हजार के आसपास डॉक्टर हैं, लेकिन इनमें से हर साल 800 से ज्यादा प्रदेश छोड़ देते हैं। एमपी में सिर्फ 13 सरकारी और 11 निजी मेडिकल कॉलेज ही हैं। बीते दस सालों में सिर्फ आठ नए मेडिकल कॉलेज ही शुरू हो सके. वहीं महाराष्ट्र और तमिलनाडु सहित अन्य राज्यों में 50 से ज्यादा मेडिकल कॉलेज हैं। एमबीबीएस के अलावा पीजी की सीटें भी अन्य राज्यों की तुलना में खांसी कम हैं। प्रदेश में कुल 756 सीटें पीजी सीटें हैं, जिनमें 384 एमडी, एमएस की 233, एमसीएच की आठ, डीएम की नौ और डिप्लोमा की 122 सीटें है।  वहीं दूसरे राज्यों में ३५०० से ज्यादा पीजी सीटें हैं। 

Kolar News

Kolar News 1 July 2022

मध्यप्रदेश के पुलिस कर्मियों को राज्य सरकार ने बड़ी सौगात दी है। दरअसल, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मध्यप्रदेश के नक्सल विरोधी अभियान के लिए तैनात हॉक फोर्स को 6वें वेतनमान का 70% भत्ता देने का ऐलान किया है। मिली जानकारी के अनुसार हॉक फोर्स में कमा करने वाले पुलिसकर्मियों का भत्ता 36 हजार तक बढ़ाया जाएगा। इसके साथ ही नक्सल विरोधी अभियान में जुड़ी इंटेलिजेंस शाखा के पुलिसकर्मियों को भी हॉक फोर्स की तरह 13 से बढ़ाकर 36 हजार रुपए विशेष भत्ता दिया जाएगा। बता दें इस निर्णय को जल्दी ही कैबिनेट में लाया जाएगा। इसके अलावा छतरपुर में 4 साल के दीपेंद्र यावद को बोरवेल से निकालने पर टीआई अनूप यादव, एसआई दीपक यादव को पुरस्कृत किया जाएगा। इसके साथ ही गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि अब जो होमगार्ड के जवान जो 2016 से पहले भर्ती थे, उनको तीन साल में दो माह का कालऑफ दिया जाता है। बता दें 2016 के बाद भर्ती में एक साल में दो माह का कॉल ऑफ किया गया था। इस मामले में गृहमंत्री मिश्रा ने बताया कि इस विसंगति को दूर किया जा रहा है। अब सबके लिए एक नियम रहेगा। इसके अनुसार तीन साल में दो माह काल ऑफ दिया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 30 June 2022

मध्यप्रदेश में कोरोना की चौथी लहर का अंदेशा तेजी से बढ़ रहा है। प्रदेश के सभी बडे़ शहरों में मरीजों की संख्या लगातार और तेजी से बढ़ती जा रही है। बुरी बात यह है कि अब कोरोना दोबारा जानलेवा होने लगा है। इस माह में ही कोरोना से 6 मौतें हो चुकी हैं जबकि पिछले दो महीनो में इससे सिर्फ एक-एक संक्रमितों की ही मौत हुई थी। दरअसल अब लोगों ने सावधानी बरतना छोड़ दिया है. ऐसे में बुजुर्गों और गंभीर रूप से बीमार लोगों के लिए सबसे ज्यादा खतरा बढ़ गया है। घर हो या बाहर, अब लोग बिना मास्क ही घूम रहे हैं। इसका असर मरीजों की संख्या के रूप में साफ नजर आने लगा है. प्रदेश में कोरोना के नए 126 पॉजिटिव मरीज मिले हैं जोकि 3 महीने में सबसे ज्यादा हैं। टेस्ट कम होने के बावजूद इंदौर, भोपाल जैसे शहरों में कोरोना के मरीजों और इससे मौतों के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। परिजनों का ये आरोप है कि उन्हें ब्रेन हेमरेज के कारण अस्पताल में एडमिट किया था लेकिन यहां कोविड संक्रमण हो गया- भोपाल में खजूरी कला निवासी 80 वर्षीय बुजुर्ग की अस्पताल में 18 दिन भर्ती रहने के बाद मौत हो गई। उनकी कोविड टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। परिजनों का ये भी आरोप है कि उन्हें ब्रेन हेमरेज के कारण अस्पताल में एडमिट किया था लेकिन यहां कोविड संक्रमण हो गया। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल में कोविड प्रोटोकॉल का बिल्कुल पालन नहीं किया गया। राजधानी में पिछले 18 दिनों में कोरोना से यह दूसरी मौत हुई है। इससे पहले प्रदेश में 3 जून को जबलपुर में 58 साल के व्यक्ति की मौत हुई। 9 जून को इंदौर की एक महिला और भोपाल के एक बुजुर्ग की मौत हुई। 16 जून को जबलपुर की एक महिला की जबलपुर मेडिकल कॉलेज में डेथ हुई। 25 जून को जबलपुर में 100 साल के बुजुर्ग की कोरोना से मौत हुई।

Kolar News

Kolar News 30 June 2022

महज 5 साल का बच्चा बोरवेल में गिरते ही गांव में हड़कंप मच गया, ग्रामीणों ने आनन फानन में पुलिस और प्रशासन को फोन कर सूचना दी, ताकि समय से रेस्क्यू कर बच्चे को बाहर निकाला जा सके, वहीं बच्चे के माता-पिता को जानकारी लगने पर उनका रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है, वे अपने बच्चे को याद कर उसे निकलवाने के लिए लोगों से गुहार लगा रहे हैं। यह घटना दोपहर करीब ढाई बजे की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि मासूम दीपेन्द्र यादव 40 फीट की गहराई पर फंसा है। इधर मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई है। पुलिस की टीम भी यहां पहुंची है। बच्चे को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया है, लेकिन बारिश आने से इसमें परेशानी आ रही है। जानकारी के अनुसार ओरछा थाना क्षेत्र स्थित ग्राम नारायणपुरा और पठापुर के बीच एक बच्चा अचानक खेलते-खेलते बोर में गिर गया, अचानक बच्चे के गिरते ही ग्रामीण परेशान हो गए, बताया जा रहा है कि ये बोर महज 8 इंच का है, जिसमें पांच साल का बच्चा गिर गया, ये बच्चा नारायणपुरा निवासी अखिलेश यादव का पुत्र दीपेंद्र यादव है। जो खेलते-कूदते हुए खुले बोर में जा गिरा, सूचना मिलते ही प्रशासन की टीम मौके पर पहुंचने लगी है। खुले बोर के हालात देखकर नजर आ रहा है कि ये बोर हालही में खुदा होगा, अगर इस बोर को समय रहते ढक्कन लगाकर बंद कर दिया जाता तो ऐसी घटना नहीं होती, आपको बतादें कि हालही छत्तीसगढ़ में हुई घटना के बाद से खुले बोर को बंद करवाने के दिशा निर्देश जारी किए गए थे, लेकिन इसके बावजूद भी किसी की लापरवाही का खामियाजा मासूम को भुगतना पड़ रहा है। चाहे आप घर में बोर करवा रहे हैं या फिर खेत में, लेकिन बोर कराने के बाद तुरंत उसका मुहं बंद कर देना चाहिए, ताकि बोर में कोई बच्चा नहीं गिर सके, इसके लिए आप चाहे तो बोर के ऊपर कोई फर्सी रखकर भी उसके आसपास सीमेंट लगाकर बंद कर सकते हैं, आप फिर जब मोटर लगावाएं तब फिर से उसे खोल लें, ऐसा करने से इस प्रकार की घटना से बचा जा सकता है, अगर बोर होते समय पाइप डाल दिया गया है तो आप तुरंत उसे ढक्कन से बंद करवा दें।

Kolar News

Kolar News 30 June 2022

नगर निगम की डिप्टी कमिश्नर अंजू सिंह ठाकुर को भोपाल से संचालनालय में अटैच कर दिया गया है। आनन-फानन में उनका तबादला आदेश जारी हुआ और तत्काल रिलीव कर दिया गया। बताया जा रहा है कि भाजपा नेता की शिकायत पर यह कार्रवाई की गई है। कमिश्नर ने अंजू ठाकुर के कामों का प्रभार अंकिता जैन को दे दिया है। भाजपा के पूर्व जिला संयोजक व्यापार प्रकोष्ठ व सदस्य नगर विक्रय समिति शशिकांत सोनी ने प्रमुख सचिव मध्यप्रदेश शासन को सात जून 2022 को उपायुक्त अंजू सिंह के खिलाफ शिकायत भेजी थी। इसमें आरोप लगाए गए थे कि उपायुक्त अंजू सिंह जबलपुर निगम में पिछले 13 वर्षों से पदस्थ है। जबकि नियमानुसार तीन वर्ष में तबादला किए जाना चाहिए। इसके अलावा उपायुक्त, पर स्व सहायता समूहों को लाभ पहुंचाने, योजनाओं में गफलत करने के भी आरोप लगाए गए थे। वहीं उपायुक्त ने भी इन आरोपों खारिज करते हुए उल्टा उन पर दबाव बनाकर काम करने का आरोप लगाया था। उपायुक्त का कहना था कि नगर निगम के पोर्टल का काम इन्हीं के दौरान कराया जा रहा है। योजनाओं से जुड़े हितग्राहियों का डेटा इन्होंने पोर्टल से उड़ा दिया। इसकी शिकायत शासन से की गई है।

Kolar News

Kolar News 29 June 2022

मानसून एक बार फिर एक्टिव हो गया है। वर्तमान में 6 वेदर सिस्टम एक्टिव है, ऐसे में आज से फिर बारिश का दौर शुरू होने के आसार है। एमपी मौसम विभाग ने आज मंगलवार 28 जून 2022 को सभी संभागों में हल्की से मध्यम बारिश और 6 संभागों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर भी येलो अलर्ट जारी किया है।वही 24 घंटे के अंदर ग्वालियर में मानसून की दस्तक हो सकती है। जुलाई में भोपाल, इंदौर और जबलपुर समेत सभी जिलों में अच्छी बारिश होने के आसार है।  एमपी मौसम विभाग  के अनुसार, आज मंगलवार 28 जून 2022 को  रीवा, शहडोल ,ग्वालियर और चंबल संभाग में कुछ स्थानों और सागर, जबलपुर, भोपाल, नर्मदापुरम, इंदौर और उज्जैन में कहीं कहीं बारिश के आसार है। वही रीवा, शहडोल, इंदौर, ग्वालियर, चंबल और उज्जैन संभाग में बिजली चमकने-गिरने और 20 किमी/घंटे की रफ्तार से हवा चलने को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है। आज 28 और बुधवार 29 जून से पूरे मध्य प्रदेश में आंधी, बारिश, गरज-चमक की गतिविधियों में वृद्धि के साथ मानसून के आगे बढ़ने की संभावना है। 30 जून और 1 जुलाई को मध्य प्रदेश के केंद्रीय और उत्तरी हिस्से यानी भोपाल, उज्जैन, ग्वालियर, सागर और रीवा संभाग में भारी बारिश हो सकती है।एमपी मौसम विभाग  के अनुसार, वर्तमान में 6 वेदर सिस्टम एक्टिव है। वर्तमान में एक अपतटीय द्रोणिका दक्षिण–गुजरात से केरल तक बनी हुई है और दक्षिण–पश्चिम राजस्थान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर बंगाल की खाड़ी तक एक द्रोणिका बनी हुई है और मध्य प्रदेश के मध्य में भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर अरब सागर तक एक द्रोणिका बनी हुई है। अरब सागर में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, इसके चलते वातावरण में नमी आ रही है और मप्र में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बारिश हो रही है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Update ) के अनुसार, ग्वालियर अंचल में आज शाम तक मानसून के पहुंचने के आसार है और फिर जुलाई के पहले सप्ताह में बारिश में तेजी आएगी ।28 से 29 जून के बीच मानसून की हल्की से मध्यम बारिश और फिर 30 जून व 1 जुलाई को भारी बारिश की संभावना है। 2 से 5 जुलाई के बीच हल्की से मध्यम बारिश का दौर जारी रहेगा।वही जबलपुर में 28 जून के बाद झमाझम बारिश होने की संभावना जताई गई है।अलग अलग जगह पर बने वेदर सिस्टम के चलते 3 से 5 जुलाई तक हल्की से मध्यम बारिश और फिर 6 से 8 जुलाई तक मध्य प्रदेश में बारिश की गतिविधियों में तेजी आएगी

Kolar News

Kolar News 28 June 2022

हादसा उस वक्त हुआ था जब मशहूर गायक अनुराधा पौडवाल एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए इससे जा रही थीं। इस हादसे में पौडवाल-जख्मी भी हो गई थीं। इसके बाद से चॉपर यूं ही खड़ा था और सरकार को नुकसान भी हुआ | मध्य प्रदेश सरकार को आखिरकार एक हेलीकॉप्टर को बेचने में कामयाबी मिल गई है। राज्य सरकार ने इस हेलीकॉप्टर को नीलाम करने के लिए 7 बार कोशिश की थी लेकिन सभी प्रयास नाकाम हुए थे। अब सरकार ने 33 करोड़ में खरीदे गये इस हेलीकॉप्टर को एक कबाड़ कारोबारी को 2.57 करोड़ में नीलाम कर दिया है। साल 1998 में सरकार ने Bel 430 VT MPS हेलीकॉप्टर खरीदा था। राज्य विमानन विभाग पिछले 10 सालों से इस हेलीकॉप्टर के लिए कोई खरीदार ढूंढ रहा था। विभाग के निदेशक भरत यादव ने कहा कि 31 मई को इस हेलिकॉप्टर के लिए नीलामी खुली थी। इसके बाद एफए इंटरप्राइजेज नाम की एक कंपनी ने 2.57 करोड़ की बोली लगाकर इस हेलीकॉप्टर को खरीद लिया। कंपनी के मालिक नईम रजा एक स्क्रैप डीलर हैं और एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर भी हैं। साल 2003 में यह हेलिकॉप्टर एक हादसे का शिकार भी हो चुका है। हादसा उस वक्त हुआ था जब मशहूर गायक अनुराधा पौडवाल एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए इससे जा रही थीं। इस हादसे में पौडवाल और उस वक्त के मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के निजी सहायक राजेंद्र सिंह रघुवंशी घायल भी हुए थे।  दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद राज्य सरकार ने इसका क्लेम करने की कोशिश की, लेकिन इसमें सफलता नहीं मिली। जिसके बाद इसे रिपेयर कराया गया, लेकिन साल 2013 के बाद से इसकी उड़ान लगभग बंद है, क्योंकि इसकी निर्माता कंपनी रॉयल्स रायस ने इसके पुर्जों का निर्माण ही बंद कर दिया है। विभाग के अधिकारी ने कहा कि हम खरीदार की पढ़ाई-लिखाई नहीं देखते। दो खरीदारों ने बोली लगाई थी और एफए इंटरप्राइजेज ने इसे जीत लिया। अगर हम इस बार भी फेल हो जाते तो बड़ा नुकसान होता। इधर इस हेलीकॉप्टर को खरीदने वाले नईम रजा ने कहा कि इसकी मरम्मती की जाएगी और इसे फिर से उड़ने के काबिल बनाया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 28 June 2022

मध्य प्रदेश में वैसे तो पहले चरण का मतदान शनिवार यानी 25 जून को हो गया है। लेकिन मतदान के दौरान कई जिलों में हंगामा हुआ, जिसके चलते कहीं गोलियां चली, तो कहीं मतपेटियां लूटी, तो कहीं मतदान करा रहे कर्मचारियों के साथ भी अभद्रता की गई। इस कारण उन स्थानों पर फिर से मतदान कराया जा रहा है, सोमवार को सुबह से मतदान शुरू हो गया है। पहले चरण के मतदान के दौरान हुए हंगामे के बाद राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा प्रदेश में करीब 10 जिलों के 11 मतदान केंद्रों पर मतदान शून्य घोषित कर दिया था, उन 11 स्थानों पर सोमवार सुबह से मतदान शुरू हुआ, जो दोपहर 3 बजे तक चलेगा। इस प्रकार आज ग्वालियर जिले की जनपद पंचायत घाटीगांव मतदान केंद्र 138, राजगढ़ जिले की ग्राम पंचायत बावड़ी पुरा मतदान केंद्र 22 रामपुरिया में सभी पदों (पंच, सरपंच, जनपद एवं जिला पंचायत सदस्य), भिंड जिले की जनपद पंचायत रौन मतदान केंद्र 52 में सरपंच एवं जिला पंचायत सदस्य, निवाड़ी जनपद पंचायत के मतदान केंद्र 80 विनवारा में सभी पदों और सीधी जिले की जनपद पंचायत सिहावल के मतदान केंद्र 330 एवं 257 में जिला पंचायत सदस्य के लिए मतदान हो रहा है। दतिया जिले के ग्राम बरोदी और हतलई में शांतिपूर्ण ढंग से मतदान चल रहा है। दोनों ही गांवों में शनिवार को मतदान के दौरान मतपेटी लूटने तथा ग्राम बरोदी में गोली चलने की घटना हुई थी, इसके बाद यहां फिर से मतदान हो रहा है।

Kolar News

Kolar News 27 June 2022

नगर पालिका बिजुरी अंतर्गत वार्ड क्रमांक 7 में जर्जर हो चुकी सडक़ अब नगरवासियों के लिए मुसीबत साबित हो रही है। सडक़ पर बने गडढ़े और जमा बारिश का पानी किसी मौत की डगर से कम नहीं दिख रही है। बावजूद नगरपालिका इसके निर्माण में बेसुध बनी हुई है। जबकि सडक़ के निर्माण के लिए नगर पालिका से निविदा जारी होने के बाद वर्क आर्डर तक जारी हो चुका है। बावजूद अब तक सडक़ निर्माण का कार्य प्रारंभ नहीं हो पाया है। बताया जाता है कि 2 करोड रुपए की लागत से 2 किलोमीटर सडक़ निर्माण का कार्य नगरपालिका की ओर से कराया जा रहा है। जिसमें नगर पालिका की ओर से निविदा जारी किए जाने के बाद ठेकेदार को वर्क आर्डर भी जारी किया जा चुका है। लेकिन ठेकेदार अब तक काम नहीं कर सका है, इस मामले में नगरपालिका भी स्पष्ट जवाब नहीं दे रही है। कोयला परिवहन के लिए गुजरने वाले भारी वाहनों की वजह से यह सडक़ काफी समय से जर्जर हालत में हैं। यह सडक़ आवागमन का मुख्य मार्ग है। इसी मार्ग से होकर राहगीरों को प्रतिदिन आवागमन करना पड़ता है। जिससे सडक़ पर स्थित गड्ढे में गिरकर राहगीर घायल हो रहे हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि सडक़ निर्माण कार्य में लेटलतीफी से प्रतिदिन जहां परेशानी बनी है वही नगर पालिका इस मामले पर लेटलतीफी करते हुए लापरवाही बरत रहा है। जिसके कारण निर्माण कार्य में देरी होने से यह समस्या और भी बड़ी होती जा रही है। पूर्व में इस सडक़ के निर्माण को लेकर स्थानीय लोगों ने चका जाम विरोध प्रदर्शन भी किया है। जिस पर नपा ने जल्द सडक़ को पूरा करने का आश्वासन दिया था। बारिश का मौसम शुरू होते ही यह सडक़ फिर से बदहाल हो गई है ।

Kolar News

Kolar News 26 June 2022

महू से लंबी दूरी की चलने ट्रेनों में यात्रियों की सुविधा का खास ख्याल रखने के लिए रेलवे, कोच मित्र रखने जा रहा है। ये कोच मित्र ट्रेनों के वातानुकूलित कोच में लीनन से लेकर कोच की सफाई तक का खास ख्याल रखेंगे। यात्रा के दौरान यात्रियों को किसी प्रकार परेशानी ना हो इसके लिए रेलवे साढ़ेे आठ करोड़ से अधिक की राशि खर्च कर रहा है। इसके लिए रेलवे ने टेंडर जारी किए हैं। पश्चिम रेलवे के रतलाम मंडल ने हाल ही में टेंडर जारी किया है। जिसके अनुसार चार साल के लिए डॉक्टर आम्बेडकर नगर स्टेशन (डीएएनडी) से चलने वाली लंबी दूरी की ट्रेनों के एसी कोच की साफ -सफाई से लेकर यात्रियों को लीनन देने तक की सेवा के लिए आउटसोर्स को जिम्मेदारी दी जाएगी। कोच में कर्मचारी तैनात रहेंगे जो सफर भर में यात्रियों की सुविधा का ख्याल रखेंगे। इसके किए रेलवे जो टेंडर जारी किया उसके अनुसार 8 करोड़ 48 लाख 68 हजार 632 रुपए की राशि खर्च की जाएगी। चार साल तक के लिए रहेगा। टेंडर लेने वाली कंपनी को चार साल तक ट्रेन के एसी कोच का मेंटेन करना होगा। कोच में रहने वाले कर्मचारियों को कोच मित्र बोला जाएगा। ये कोच मित्र ओबीएचएस कोच में रहेंगे। महू से अधिक दूरी की ट्रेनों में मालवा एक्सप्रेस, कामाख्या एक्सप्रेस, नागपुर एक्सप्रेस सहित अन्य ट्रेनें हैं। बता दें कि चलती ट्रेनों में खासकर एसी कोच में यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे आउटसोर्स के सुविधा मुहैया कराता है। वैसे तो ट्रेन के शुरुआती स्टेशनों से साफ -सफाई होकर ही शुरू होती है। फिर भी रेलवे यात्रियों को सफर के दौरान किसी भी प्रकार की दिक्कत या असुविधा न हो इसके लिए चलती ट्रेन में कोच मित्र रखे जाते है। ये कोच मित्र यात्रियों को सफर के दौरान लीनन यानी चादर, कंबल, तकिए आदि देने के साथ टॉयलेट में शॉप, पेपर शॉप आदि का ध्यान रखेंगे।

Kolar News

Kolar News 26 June 2022

एम्स (AIIMS) भोपाल हो या पीजीआई दोनों संस्थान देश की सर्वोच्च चिकित्सा संस्थाएं हैं। दोनों में ज्यादा अंतर नहीं है। मैंने भोपाल के बारे में काफी कुछ सुना है। मैं सिर्फ यही चाहता हूं कि एम्स भोपाल को लोग एक ऐसे मेडिकल सेंटर के रूप में जानें, जहां सामान्य उपचार से लेकर उच्च स्तरीय सुपर स्पेशलिटी ट्रीटमेंट भी सुलभता से मिले। यह कहना है एम्स के नवनियुक्त निदेशक डॉ. अजय सिंह का। गौरतलब है कि शुक्रवार को राजधानी भोपाल के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भोपाल में डेपुटेशन के आधार पर डॉ. अजय सिंह को नियुक्त किया गया। वे फिलहाल नोएडा के पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट आफ चाइल्ड हेल्थ में डायरेक्टर हैं। डॉ. सिंह लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी में ही पीडियाट्रिक ऑर्थोपेडिक डिपार्टमेंट के एचओडी रह चुके हैं। उन्होंने कहा कि चाहे पीजीआई हो या एम्स सभी संस्थान के चार स्तंभ होते है । पेशेंट केयर, टीचिंग, शोध और सामाजिक बेहतरी के लिए कार्य। मैं यहां हूं तो इन्हीं चार स्तंभों के आसपास काम करता हूं, वहां भी मेरा फोकस यही होगा।  एम्स में सर्दी जुकाम बुखार जैसे मरीजों की भीड़ पर उन्होंने कहा कि यह सही है कि एम्स सुपर स्पेशियलिटी संस्थान है, लेकिन किसी मरीज को मना नहीं किया जा सकता। इसके लिए फैमिली मेडिसिन डिपार्टमेंट होता है, जिसे मजबूत बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि पेरीफेरी में बेहतर ट्रीटमेंट मिले तो एम्स पर बोझ कम हो जाएगा। एम्स भोपाल के डायरेक्टर से डॉ. सरमन सिंह का कार्यकाल खत्म होने के बाद एम्स रायपुर के डायरेक्टर डॉ.नितिन नागरकर को भोपाल एम्स का भी प्रभार दिया गया था। अब केन्द्र सरकार ने करीब सात महीने बाद डॉ. अजय सिंह को डेप्युटेशन पर 30 जून 2028 तक के लिए नियुक्त किया है।

Kolar News

Kolar News 26 June 2022

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के पहले चरण में आज ग्वालियर जिले के चारों विकास खण्डों की सभी 263 ग्राम पंचायतों में शांतिपूर्वक मतदान सम्पन्न हुआ। मतदान समाप्ति के समय दोपहर 3 बजे तक जिले में मतदान का प्रतिशत लगभग 66 प्रतिशत रहा। खास बात ये रही मतदान करने में महिलाओं का प्रतिशत पुरुषों से ज्यादा रहा। जिला निर्वाचन कार्यालय (स्थानीय निर्वाचन) से प्राप्त जानकारी के अनुसार दोपहर 3 बजे तक ग्वालियर जिले में हुए मतदान के जो आंकड़े सामने आये उसके मुताबिक जिले के विकासखण्ड घाटीगांव में 54.1 प्रतिशत, विकासखण्ड डबरा में 67.4 प्रतिशत, विकासखण्ड भितरवार में 70.2 प्रतिशत और विकासखण्ड मुरार में 69.7 प्रतिशत मतदान हुआ। आज हुए पहले चरण के मतदान में जिले के चारों विकासखण्डों में वोट डालने में महिलाएं पुरुषों से आगे रहीं। दोपहर 3 बजे तक प्राप्त मतदान के आंकड़ों के अनुसार विकासखंड घाटीगांव में महिला मतदाताओं के मतदान का प्रतिशत पुरुषों की तुलना में 7.9, विकासखण्ड डबरा में 6.4, भितरवार में 8.3 एवं विकासखण्ड मुरार में 9.4 प्रतिशत ज्यादा रहा। दोपहर 3 बजे तक विकासखण्ड घाटीगांव में महिला मतदाताओं का मतदान प्रतिशत 58.4 प्रतिशत और पुरुषों का मतदान प्रतिशत 50.5 प्रतिशत,,विकासखण्ड डबरा में महिला मतदाताओं का मतदान प्रतिशत 70.8 प्रतिशत, पुरुषों का 64.4 प्रतिशत, विकासखण्ड भितरवार में महिला मतदाताओं का मतदान प्रतिशत 74.7 प्रतिशत, पुरुषों का मतदान प्रतिशत 66.4 प्रतिशत और विकासखण्ड मुरार में महिला मतदाताओं का मतदान प्रतिशत 74.9 प्रतिशत, पुरुषों का मतदान प्रतिशत 65.5 प्रतिशत रहा। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित सांघी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी आशीष तिवारी एवं अपर जिला दण्डाधिकारी इच्छित गढ़पाले व एच बी शर्मा विभिन्न मतदान केन्द्रों का जायजा लेने पहुँचे। साथ ही सभी रिटर्निंग व सहायक रिटर्निंग अधिकारी तथा सेक्टर मजिस्ट्रेट सहित पुलिस व प्रशासन की मोबाइल टीम दिनभर मतदान केन्द्रों तक पहुँचीं और स्वतंत्र व निष्पक्ष ढंग से मतदान सम्पन्न कराया। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (स्थानीय निर्वाचन) कौशलेन्द्र विक्रम सिंह एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण मतदान के लिये मतदाताओं, सभी अभ्यर्थियों एवं मतदान दलों के प्रति आभार जताया है। उन्होंने मतदान प्रक्रिया से जुड़े सभी शासकीय अधिकारियों, कर्मचारियों तथा सुरक्षा प्रबंध में लगे पुलिस अफसरों एवं मीडिया प्रतिनिधियों के प्रति भी आभार व्यक्त किया है। कलेक्टर ने कहा कि सभी के प्रयासों और सहयोग से जिले की परम्परानुसार शांतिपूर्ण, निर्विघ्न एवं निष्पक्ष मतदान सम्पन्न हुआ।

Kolar News

Kolar News 26 June 2022

मतदान के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता कार्यक्रम किया गया। डमी मतपत्र की मदद से ठप्पा लगाने का सही तरीका बताया गया। इसमें मतपत्र को सही तरीके से मोड़ने का महत्व बताया।  इसके साथ ही नोटा की जानकारी भी दी। ग्राम सरकार बनाने के लिए गांवों में जागरूकता कार्यक्रम, वोट का महत्व बताया मतदान के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता कार्यक्रम किया गया। डमी मतपत्र की मदद से ठप्पा लगाने का सही तरीका बताया गया। इसमें मतपत्र को सही तरीके से मोड़ने का महत्व बताया।  इसके साथ ही नोटा की जानकारी भी दी। ग्रामीणों को मतदान कि लिए जागरूक करने और वोट की अहमियत बताने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग की ब्रांड एम्बेसडर सारिका घारू ने ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण किया। ग्रामीणों को मतदान कि लिए जागरूक करने और वोट की अहमियत बताने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग की ब्रांड एम्बेसडर सारिका घारू ने ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण किया। - मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए कल मतदान होना है। ग्रामीणों को मतदान के लिए जागरूक करने और वोट की अहमियत बताने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग की ब्रांड एम्बेसडर सारिका घारू ने ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण किया। हम आपको बता दे कि ग्राम सरकार बनाने के लिए आज  (25 जून ) पहले चरण का मतदान होना है। सारिका ने ग्रामीणों को बताया कि आपके कीमती वोट देने की घड़ी आ गई है। इन चुनावों में किसी पद के लिए मतदाताओं की संख्या कम होने से जीत-हार में एक-एक सही वोट का महत्व होता है। इसलिये चलो रे चलो वोट देने भैया का आव्हान ग्रामीण क्षेत्रों में किया गया। सारिका ने बताया कि राज्य निर्वाचन आयुक्त बी पी सिंह एवं सचिव राकेश सिंह के मार्गदर्शन में जागरूकता कार्यक्रम कर रही हैं। ग्राम के मोहल्ले में रैली के रूप में चलते हुए गीत के माध्यम से बापू, अम्मा, भौजाई से कहा कि अब सोच समझ कर वोट देने की बारी आई है। सभी को अपना अधिकार जानकर बिना किसी दबाव के सही प्रत्याशी को चुनना चाहिए। डमी मतपत्र की मदद से ठप्पा लगाने का सही तरीका बताया गया। इसमें मतपत्र को सही तरीके से मोड़ने का महत्व बताया।  इसके साथ ही नोटा की जानकारी भी दी। कार्यक्रम में बताया कि चार रंग के मतपत्र से मतदान सुबह सात बजे आरंभ होकर दोपहर 3 बजे समाप्त हो जाएगा। इसलिये घर के काम बाद में करने और मतदान पहले करने की सलाह दी।

Kolar News

Kolar News 25 June 2022

ओडिया सिनेमा के जाने-माने अभिनेता रायमोहन परिदा  शुक्रवार को निधन हो गया है।  इस खबर के चलते उनके परिजन और प्रशंसकों के बीच शोक की लहर है। रायमोहन परिदा का शव उनके घर पर पाया गया। उनकी मौत की जानकारी सामने सुबह आई है। आपको बता दें कि रायमोहन ने आत्महत्या की है। हालांकि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि उनकी मौत किन वजहों से हुई है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि शुरुआती जांच में यह आत्महत्या का मामला लगता है लेकिन अभी इसकी जांच जारी है। गौरतलब है कि अभिनेता ने 100 से ज्यादा फिल्मों में काम किया था, जिनमें से 40 बंगाली सिनेमा  की फिल्में थीं और बाकी सब उड़िया भाषा कीं, अभिनेता ने अपने करियर की शुरुआत उड़िया फिल्म ‘सागर’ से की थी, साथ ही उन्होंने कई टीवी सीरियल में भी काम किया था।  और वे जात्रा जगत के फेमस राइटर भी थे। ओडिशा जात्रा की दुनिया में वह मशहूर विलेन थे। उनका डायलॉग ‘हेई अनानी’ काफी लोकप्रिय हुआ था। रायमोहन ने उड़िया के अलावा बंगाली भाषा में 15 से ज्यादा फिल्मों में काम किया है। सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें ओडिशा राज्य फिल्म अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।

Kolar News

Kolar News 25 June 2022

लगातार बढ़ते बिजली बिलों के बीच राहत की खबर है। बिजली बिल में खासी छूट मिलने लगी है. उपभोक्ताओं को आनलाइन भुगतान करने पर यह सुविधा दी जा रही है। बिजली के बिल आनलाइन जमा करने पर विभिन्न तरह की छूट दी जा रही है. इसमें उपभोक्ताओं को सालाना 240 रुपए तक की छूट दी जा रही है। इसके कारण डिजिटल पेमेंट का चलन भी बढ गया है।बिजली कंपनी द्वारा बिजली के आनलाइन बिल जमा करने पर 5 रुपए से लेकर 20 रुपए तक की छूट दी जा रही है। यानि आम उपभोक्ता केवल बिल जमा करने का तरीका चेंज करके ही हर साल 60 रुपए से लेकर 240 रुपए की बचत कर सकता है. ऐसे बिजली उपभोक्ताओं को यह लाभ दिया जा रहा है जो अपने बिजली के बिल विभिन्न मोबाइल एप्स के जरिए जमा कर रहे हैं। क्रेडिट कार्ड, यूपीआई, डेबिट कार्ड आदि से भुगतान करने पर उन्हें बिजली बिलों में छूट दी जा रही है। विभिन्न तरह की इन छूटों की वजह से उपभोक्ताओं में डिजिटल पेमेंट का चलन भी बढ़ गया है। कैशलेस बिजली बिल भुगतान को लेकर बिजली उपभोक्ताओं में इन छूटों के कारण खासी जागरुकता बढ़ी है। सिटी सर्किल में वर्तमान में करीब 60 उपभोक्ता अपना बिजली का बिल आनलाइन जमा कर रहे हैं। सालभर पहले तक इनकी संख्या सिर्फ 7 से 8 हजार ही थी। पिछले 5 महीनों में ही करीब 15 हजार उपभोक्ताओं ने बिजली का बिल जमा करने के लिए कैशलेस मोड अपनाया है। बिजली कंपनी कैशलेस बिल जमा करने पर उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए न केवल प्रति बिल न्यूनतम 5 रुपए तक की छूट दे रही है बल्कि इसके साथ बिल राशि का अधिकतम आधा प्रतिशत कैशलेस छूट भी देती है । घरेलू एलटी बिजली बिल भुगतान पर यह छूट दी जा रही है। हालांकि इस सुविधा के लिए उपभोक्ता के बैंक अकाउंट में जमा की जाने वाली राशि से अधिक रकम होना आवश्यक है।

Kolar News

Kolar News 21 June 2022

छतरपुर कलेक्टर संदीप जी आर के निर्देशन एवं मार्गदर्शन में शहर को अतिक्रमण मुक्त, स्वच्छ एवं सुंदर बनाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। रविवार को आवागमन बेहतर बनाने के लिए शहर के छत्रसाल चौराहे से अदालत रोड बिजावर नाके को अतिक्रमण मुक्त बनाया गया। यहां रखी अवैध गुमटियों को जेसीबी के माध्यम से हटाया गया। कलेक्टर का मानना है कि शहर के रहवासियों के सहयोग से ही शहर को स्वच्छ एवं सुंदर बनाया जा सकता है। जिला प्रशासन ने सभी से शहर को स्वच्छ बनाने में सहयोग की अपील की है। अपने आसपास स्वच्छता बनाए रखें और लोगों को भी स्वच्छता बनाए रखने को कहें। स्वच्छता से खूबसूरती तो आएगी ही साथ ही वातावरण भी अच्छा रहेगा और सभी स्वस्थ भी रहेंगे।

Kolar News

Kolar News 20 June 2022

मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने कर्मचारी भविष्य निधि संगठन को आदेशित किया है कि 2014 से पहले रिटायर हुए कर्मचारी, हायर पेंशन का अधिकार रखते हैं। उनकी रुकी हुई पेंशन को फिर से शुरू किया जाए। मध्य प्रदेश के उच्च न्यायालय में जस्टिस विवेक अग्रवाल की सिंगल बेंच ने कर्मचारी भविष्य निधि हायर पेंशन विवाद से संबंधित याचिकाओं की सुनवाई की और सभी पक्षों को सुनने के बाद फैसला सुनाया। उन्होंने स्पष्ट किया कि सन 2014 से पहले रिटायर हुए अधिकारी एवं कर्मचारियों को हायर पेंशन की पात्रता है अतः उनकी रोकी गई पेंशन फिर से शुरू की जाए। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन, क्षेत्रीय कार्यालय, जबलपुर की ओर से एक खास पहल की गई है। संस्थान में कार्यरत एवं सेवानिवृत्त हो चुके अधिकारियों-कर्मचारियों के त्वरित उपचार की दिशा में यह प्रयास हुआ है। संस्थान ने इस संबंध में शहर के सर्व सुविधायुक्त अस्पतालों से चिकित्सा-अनुबंध किया है। क्षेत्रीय आयुक्त क्रमांक-1 राकेश सहरावत ने बताया कि संगठन की सेवाओं से निवृत्त हुए लोगों एवं उनके आश्रितों को बेहतर एवं सरल चिकित्सा सुविधा प्रदान किए जाने के लिए एक सकारात्मक पहल की गई है। इस पहल के अंतर्गत जबलपुर शहर में स्थित पांच बड़े एवं सर्वसुविधा युक्त अस्पतालों से शुक्रवार को कैशलेस अनुबंध किया गया। उन्होंने बताया कि अब तक कार्यालय में कार्यरत कर्मचारियों एवं पेंशनरों को सीजीएचएस से मान्यता प्राप्त निजी अस्पतालों में इलाज कराए जाने की अनुमति थी। इसके अनुसार सीएसएमए के प्रावधानों के तहत कर्मचारियों एवं पेंशनरों को चिकित्सा सुविधा बिल का भुगतान स्वयं करना होता था एवं बाद में कार्यालय में बिल जमा किए जाने पर खर्च की गई राशि का भुगतान कर्मचारी एवं पेंशनर को कार्यालय द्वारा किया जाता था। ताजा अनुबंधों के अनुसार शहर के नेशनल हॉस्पिटल, जबलपुर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर, मेट्रो हॉस्पिटल एंड कैंसर रिसर्च सेंटर, जामदार हॉस्पिटल प्राइवेट लिमिटेड एवं स्वास्तिक मल्टी स्पेशिलिटी हास्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में अब संस्थान के अधिकारी-कर्मचारी अपना व परिजनों का उपचार करा सकेंगे। करार के वक्त क्षेत्रीय भविष्य निधि आयुक्त वर्ग-2 शुभम अग्रवाल, सहायक भविष्य निधि आयुक्त पीके प्रधान भी उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 20 June 2022

मध्य प्रदेश की क्रिकेट टीम 23 साल बाद रणजी ट्रॉफी के फाइनल में पहुंच गई है। सेमीफाइनल में बंगाल को 174 रनों से हराकर टीम ने यह उपलब्धि हासिल की। शनिवार दोपहर मैच का नतीजा आने के बाद से बधाइयों का सिलसिला जारी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शानदार प्रदर्शन के लिए टीम के खिलाड़ियों को बधाई दी है और उम्मीद जताई है कि मध्य प्रदेश पहली बार रणजी ट्रॉफी चैंपियन बनने में कामयाब होगा। सीएम शिवराज ने ट्वीट कर कहा कि मध्य प्रदेश की टीम को रणजी ट्रॉफी 2022 के सेमीफाइनल में पश्चिम बंगाल पर 174 रनों की शानदार जीत के लिए हार्दिक बधाई। शानदार खेल और जीत का यह सिलसिला जारी रहे, फाइनल में भी आप अपने उत्कृष्ट खेल से सबका दिल जीतें, यही शुभकामनाएं! कमलनाथ ने अपने बधाई संदेश में कहा कि मध्य प्रदेश की क्रिकेट टीम को रणजी ट्रॉफी के फाइनल में पहुंचने की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। प्रदेश के खिलाड़ियों ने 23 साल बाद यह कारनामा करके दिखाया है। आशा करता हूं कि हमारी टीम इस बार फाइनल में जीतकर नया इतिहास लिखेगी। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लिखा कि रणजी ट्रॉफी में उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए 23 वर्ष बाद मध्य प्रदेश क्रिकेट टीम ने फाइनल में जगह बनाई है। कोच चंद्रकांत पंडित और पूरी टीम को हार्दिक बधाई। अपना प्रदर्शन यूं ही जारी रखें और चैम्पियन बने, ऐसी मेरी शुभकामनाएं हैं। मध्य प्रदेश की टीम इससे पहले 1998-99 में रणजी ट्रॉफी के फाइनल में पहुंची थी। तब चंद्रकांत पंडित टीम के कप्तान थे। 23 साल बाद जब टीम ने अपना कारनामा दोहराया है, तब वे इसके कोच हैं। सेमीफाइनल मुकाबले में एमपी की जीत में हिमांशु मंत्री, रजत पाटीदार, आदित्य श्रीवास्तव और कुमार कार्तिकेय की अहम भूमिका रही। हिमांशु मंत्री ने पहली पारी में ओपनिंग करते हुए 165 रन बनाए और टीम का स्कोर 341 रन तक पहुंचाया। रजत पाटीदार और आदित्य श्रीवास्तव ने दूसरी पारी में अर्धशतकीय पारियां खेलकर टीम को विजयी स्कोर तक पहुंचाया। 349 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी बंगाल की टीम को बाएं हाथ के स्पिनर कुमार कार्तिकेय ने चौथी पारी में अपनी फिरकी के जाल में ऐसा उलझाया कि पूरी टीम 174 रन पर ही ढेर हो गई।

Kolar News

Kolar News 19 June 2022

स्कूली छात्रों के लिए राहत भरी खबर है। हिमाचल प्रदेश के ग्रीष्मकालीन अवकाश वाले स्कूलों में मानसून की छुट्टियां घोषित कर दी गई है।इसके तहत 21 जून से 28 जुलाई तक ये स्कूल बंद रहेंगे। इस संबंध में उच्च शिक्षा निदेशालय छुट्टियों के शेड्यूल में बदलाव कर दिया है। बरसात की छुट्टियों को 26 जून से दो अगस्त तक देने का पुराना फैसला भी बदल दिया गया है। दरअसल, हिमाचल प्रदेश के शिक्षा विभाग ने समर वेकेशन वाले स्कूलों के लिए नया शेड्यूल जारी किया है। इसके तहत कुल्लू और लाहौल स्पीति को छोड़कर उच्च शिक्षा निदेशालय की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक, 21 जून से लेकर 28 जुलाई तक स्कूल बंद रहेंगे यानी कुल 38 दिनों की छुट्टियों का शेड्यूल जारी हुआ है। इसके अलावा छात्रों को 4 दिन का फेस्टिवल ब्रेक दिया गया है।इसमें दिवाली और लोहड़ी पर मिलने वाली छुट्टियों का भी शेड्यूल जारी हुआ है, जिसमें दिवाली शुरू होने से दो दिन पहले और दो दिन बाद अवकाश होगा। लोहड़ी पर छह दिन का अवकाश रहेगा। इस संबंध में उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत कुमार शर्मा की ओर से सभी उप शिक्षा निदेशकों, स्कूल प्रिंसिपल व मुख्याध्यापकों को आदेश जारी किए गए हैं।

Kolar News

Kolar News 19 June 2022

दक्षिण-पश्चिम मानसून खंडवा के आसपास बना हुआ है। वर्तमान में 6 वेदर सिस्टम एक्टिव है, जिसके चलते सभी जिलों में रुक रुक कर बारिश हो रही है। एमपी मौसम विभाग  ने आज शनिवार 18 जून 2022 को 10 संभागों में बारिश और 12 जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी की है, वही 9 संभागों में बिजली गिरने और चमकने को लेकर येलो अलर्ट जारी किया है। एमपी मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में सबसे अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस नरसिंहपुर में दर्ज किया गया।वही भोपाल, नर्मदापुरम, सागर, जबलपुर, ग्वालियर और चंबल, इंदौर, उज्जैन और शहडोल संभागों में कहीं कहीं बारिश दर्ज की गई। आज शनिवार 18 जून 2022 को सभी संभागों में हल्की और गरज चमक के साथ 12 जिलों में भारी बारिश की संभावना है। वही गरज चमक के साथ 10 संभागों में बिजली चमकने गिरने और 20 किमी/घंटे की रफ्तार से हवा चलने को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है। एमपी मौसम विभाग  के अनुसार, दक्षिण-पश्चिम मानसून खंडवा के आसपास बना हुआ है। इसके आज आगे बढने की संभावना है। 19 जून रविवार को भोपाल, जबलपुर और इंदौर में मानसून की दस्तक हो सकती है। इंदौर में सप्ताह अंत के पांच दिनों में अच्छी वर्षा होगी और फिर जुलाई व अगस्त माह में औसत वर्षा का कोटा पूरा हो जाएगा। 22 से 24 जून के बीच ग्वालियर-चंबल संभाग में मानसून दस्तक हो सकती है। एमपी मौसम विभाग (MP Weather Update ) के अनुसार, वर्तमान में एक साथ 6 वेदर सिस्टम एक्टिव है। एक पश्चिमी विक्षोभ उत्तर पाकिस्तान और उससे लगे उत्तर भारत पर सक्रिय है। पूर्व-पश्चिम ट्रफ लाइन बिहार से होते हुए मणिपुर तक बनी हुई है। दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर अरब सागर तक एक ट्रफ लाइन बनी हुई है। उत्‍तर-दक्षिण ट्रफ लाइन पूर्वी बिहार से ओडिशा तक बनी हुई है। हरियाणा पर भी हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है। इन छह मौसम प्रणालियों के कारण वातावरण में लगातार नमी आ रही है और प्रदेशभर में बारिश का सिलसिला बना हुआ है।

Kolar News

Kolar News 18 June 2022

झारखंड के सरकारी कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है। राज्य में जल्द पुरानी पेंशन योजना लागू की जा सकती है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर इस बात के संकेत दिए हैं। संभावना जताई जा रही है कि 21 जून को होने वाली कैबिनेट बैठक में पुरानी पेंशन योजना को मंजूरी दी जा सकती है और  एक अगस्त 2022 से यह प्रभावी हो सकती है। इससे राज्य के लगभग एक लाख सरकारी कर्मचारियों को लाभ मिलेगा। राज्य सरकार के कर्मचारी संगठन के एक प्रतिनिधिमंडल ने हाल ही में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात कर एक जनवरी 2004 के बाद नियुक्त राज्य कर्मचारियों को भी पुरानी पेंशन का लाभ देने की मांग की थी।जिसके बाद झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर कहा है कि पुरानी पेंशन योजना की बहाली के लिए सरकारी कर्मचारियों ने लंबा संघर्ष किया है। उन्होंने भी पुरानी पेंशन योजना को बहाल करने का वादा किया था। अब यह वादा निभाने का समय आ गया है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद वित्त विभाग ने पुरानी पेंशन योजना बहाल करने का प्रस्ताव तैयार कर लिया है और इसे इसी हफ्ते कैबिनेट बैठक में पेश किया जा सकता है। सरकार पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने के बाद अपने निर्णय से केंद्र सरकार को अवगत कराएगी। इन कर्मियों के वेतन से कटौती की गयी राशि लगभग 17 हजार करोड़ रुपये की मांग भी केंद्र से की जायेगी।सरकार इसमें छत्तीसगढ़ के मॉडल को अपना सकती है। बता दे कि बजट सत्र में मुख्यमंत्री सोरेन ने पुरानी पेंशन योजना पर विचार करने की बात कही थी।वही सत्तारूढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा के चुनावी एजेंडे में भी पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने का वादा किया गया है, जिसे अब राज्य सरकार पूरा करने जा रही है। माना जा रहा है कि जुलाई तक कर्मचारियों को इसका लाभ मिल सकता है।

Kolar News

Kolar News 18 June 2022

पुस्तकें न सिर्फ ज्ञान का भंडार हैं, बल्कि शिक्षा प्रणाली की बुनियाद भी हैं। महंगाई के इस दौर में शिक्षा भी महंगी होती जा रही है। स्कूलों के कोर्स की किताबों पर भी महंगाई हावी है। ऐसे में लोगों को नि:शुल्क किताबें उपलब्ध कराने के लिए पुस्तक बैंक की शुरुआत की गई है। पुस्तकें न सिर्फ ज्ञान का भंडार हैं, बल्कि शिक्षा प्रणाली की बुनियाद भी हैं। महंगाई के इस दौर में शिक्षा भी महंगी होती जा रही है। स्कूलों के कोर्स की किताबों पर भी महंगाई हावी है। ऐसे में चित्रगुप्त कायस्थ समाज लोगों को नि:शुल्क किताबें उपलब्ध कराने के लिए पुस्तक बैंक संचालित कर रहा है। इस पुस्तक बैंक से कई विद्यार्थियों को कोर्स की किताब निशुल्क उपलब्ध कराई जाती हैं। इसके लिए विद्यार्थी अपनी पुरानी कक्षा की किताब जमा कराकर नई क्लास की किताब ले सकते हैं। इसी प्रकार आम लोग भी यहां से धार्मिक, सामाजिक सहित अन्य किताबें ले सकते हैं। चित्रगुप्त समाज और शरद वेलफेयर सोसायटी की ओर से इस पुस्तक बैंक का संचालन किया जा रहा है। यहां से चार साल में तकरीबन 5 हजार किताबों का नि:शुल्क वितरण किया जा चुका है। इसके साथ ही कई लोग यहां आकर किताबें भेंट करते हैं, ताकि वह किताबे दूसरों के काम आए।संस्था की ओर से अगले माह से यहां प्रतियोगी परीक्षा आइएएस, आइपीएस, पुलिस, प्रशासनिक, विभागीय परीक्षाओं की तैयारी के लिए नवीन किताबें उपलब्ध कराई जाएंगी। यहां प्रतियोगी परीक्षा वाले विद्यार्थी बैठकर अपनी तैयारी कर सकेंगे। इसके लिए कुछ दानदाताओं ने किताबें उपलब्ध कराने का बीड़ा उठाया है। जुलाई माह में इसकी शुरुआत की जाएगी।  शहर में कायस्थ समाज की आबादी 4 लाख से अधिक है। शहर में कायस्थ समाज की 6 से अधिक संस्थाएं सक्रिय हैं। इन संस्थाओं द्वारा विभिन्न सेवा कार्य भी किए जाते हैं। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा समाज की राष्ट्रीय स्तर की संस्था है। वर्तमान में समाज की ओर से गरीब और जरूरतमंदों के लिए नेकी की दीवार, गरीब बच्चों को शिक्षा में मदद, महिलाओं को स्वरोजगार के लिए लोन आदि कार्य किए जा रहे हैं। चित्रगुप्त समाज के राजेश नारायण श्रीवास्तव ने बताया कि इसे शुरू करने के पीछे उद्देश्य यही है कि स्कूल के कोर्स की किताबें काफी महंगी होती जा रही हैं। कई लोग बच्चों की किताबें कक्षा से उत्तीर्ण होने के बाद रद्दी आदि में बेच देते हैं, या घर पर ही रखी रहती हैं। वह किसी के काम नहीं आती। इसलिए  बच्चा  जिस क्लास को उत्तीर्ण कर चुका है, उस क्लास की किताबें उससे ले लेते हैं और जिस क्लास में वह गया है, उस क्लास की किताबें उसे उपलब्ध कराते हैं। वर्तमान में 6वीं से 12वीं क्लास तक के कोर्स की कई किताबें इसी तरह से विद्यार्थियों को उपलब्ध कराई जा रही हैं।

Kolar News

Kolar News 17 June 2022

Maruti Brezza और Hyundai Creta  स्पोर्ट यूटिलिटी व्हीकल (SUV) सेगमेंट देश में तेजी से मशहूर हो रहा है, ख़ासकर कॉम्पैक्ट स्पोर्टी गाड़ियों की डिमांड सबसे ज्यादा है। ज्यादातर लोग अब हैचबैक और सेडान के बजाय एसयूवी वाहनों का चुनाव कर रहे हैं। लंबे समय से इस सेग्मेंट में मारुत विटारा ब्रेजा और क्रेटा की मांग रही है, लेकिन टाटा मोटर्स की किफायती एसयूवी Tata Nexon ने बिक्री के मामले में सबको पछाड़ दिया है और देश की बेस्ट सेलिंग एसयूवी बन गई है। ये एसयूवी न केवल लुक और फीचर में शानदार है, बल्कि कंपनी इसमें जबरदस्त सेफ़्टी का भी दावा करती है, शायद यही कारण है कि ग्लोबल NCAP क्रैश टेस्ट में इस एसयूवी को 5-स्टार रेटिंग मिली है। बिक्री के आंकड़ों पर नज़र डालें तो बीते मई महीने में टाटा मोटर्स ने अपने Nexon एसयूवी के कुल 14,614 यूनिट्स की बिक्री की है जो कि पिछले साल के मई महीने में बेचे गए महज 6,439 यूनिट़्स के मुकाबले पूरे 127% ज्यादा है। वहीं इस दौरान Hyundai Creta के कुल 10,973 यूनिट्स ही बेचे गए हैं और ये देश की दूसरी सबसे ज्यादा बेची जाने वाली एसयूवी बनी है। हुंडई ने पिछले साल के मई महीने में इस एसयूवी के कुल 7,527 यूनिट्स की बिक्री की थी, इस इस साल के मुकाबले तकरीबन 46% कम थी।सेग्मेंट की लीडर रही Maruti Brezza बिक्री के मामले में मई महीने में खिसक कर तीसरे पायदान पर आ पहुंची है। इस महीने में कंपनी ने इस एसयूवी के कुल 10,312 यूनिट्स की बिक्री की है जो कि पिछले साल के मई महीने में बेचे गए 2,648 यूनिट्स के मुकाबले तकरीबन 289% ज्यादा है। इसके अलावा 10,241 यूनिट्स के साथ चौथे पोजिशन पर Tata Punch और कुल 8,767 यूनिट्स के साथ Mahindra Bolero ने पांचवे पोजिशन पर कब्जा जमाया है। जल्द ही बाजार में ब्रेजा और बोलेरो के नए अवतार को पेश किए जाने की तैयारी भी हो रही है।कंपनी ने इसमें 1.2 लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन का इस्तेमाल किया है जो कि 120 PS की पावर और 170 Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। वहीं डीजल वेरिएंट में 1.5-लीटर टर्बो डीजल इंजन मिलता है जो कि 110PS की पावर और 260 Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। इसकी कीमत 7.55 लाख रुपये से लेकर 13.90 लाख रुपये के बीच है। सामान्य तौर पर इस एसयूवी का पेट्रोल वेरिएंट 17 किलोमीटर और डीजल वेरिएंट 21 किलोमीटर तक का माइलेज देता है। टाटा ने इस सब-कॉम्पैक्ट एसयूवी को रेन-सेंसिंग वाइपर, एंड्रॉइड ऑटो और ऐपल कारप्ले के साथ 7-इंच टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, रियर एसी वेंट के साथ ऑटो एसी, क्रूज़ कंट्रोल और एक डिजिटल इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर से लैस किया है। इसके टॉप-स्पेस वैरिएंट में वेंटिलेटेड फ्रंट सीटें, एक एयर प्यूरीफायर और एक ऑटो-डिमिंग IRVM भी मिलता है। वहीं सेफ्टी फीचर्स में ड्यूल फ्रंट एयरबैग्स, रियर पार्किंग सेंसर, EBD के साथ ABS, इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी प्रोग्राम (ESP) और ISOFIX चाइल्ड सीट एंकरेज शामिल हैं।

Kolar News

Kolar News 17 June 2022

चेतावनी देने के बाद भी लापरवाह कमर्चारियों को कमिश्नर ने निलंबित कर दिया है।  ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर ने दो कर्मचारियों को निलंबित कर दिया और दो कर्मचारियों की सेवा समाप्ति के आदेश दिए इसके अलावा एक अन्य कर्मचारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में रैंकिंग सुधारने के लिए ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर अधिकारियों के साथ नियमित सड़क पर उतर रहे हैं। उन्होंने कमर्चारियों को हिदायत दी है कि स्वच्छता के काम में लापरवाही बरदाश्त नहीं की जाएगी, बावजूद इसके कुछ कर्मचारी सफाई  लापरवाही कर रहे हैं। स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के तहत नगर निगम क्षेत्र में अभी गार्बेज फ्री सिटी एवं वाटर प्लस के लिए सर्वेक्षण किया जा रहा है , नगर निगम कमिश्नर किशोर कन्याल  ने सभी कर्मचारियों से मुस्तैद रहकर इस काम में जुटने के निर्देश दिए हैं लेकिन कमिश्नर को जब लापरवाही की जानकारी मिली तो उन्होंने वार्ड क्रमांक 7 के नियमित सफाई संरक्षक एवं प्रभारी डब्ल्यूएचओ रूप किशोर को निलंबित कर दिया इसी तरह वार्ड क्रमांक 59 के प्रभारी डब्ल्यूएचओ प्रशांत देवीदास और प्रभारी एसआई क्षेत्र क्रमांक 13 को भी निलंबित कर दिया। कमिश्नर ने वार्ड क्रमांक 7 के सफाई संरक्षक अजय करोसिया और विनोद की सेवा समाप्ति के आदेश दिए साथ ही वार्ड क्रमांक 37 प्रभारी डब्ल्यूएचओ अजय धौलकर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

Kolar News

Kolar News 16 June 2022

मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले में एक ऐसा गांव भी है जहां पिछले 39 साल से थाने में कोई केस दर्ज दर्द नहीं हुआ। गांव के लोग बड़े बुजुर्गों की पंचायत पर बना लेते हैं और आपसी सहमति से मामले सुलझा लेते हैं। लोगों को थाने जाने की नौबत ही नहीं आती. धार्मिक और पर्यटक नगरी ओरछा के पास बसा हाथीवर खिरक एक ऐसा गांव है जहां पिछले 39 साल से यानी साल 1983 से गांव के लोगों को पुलिस थाने की जरूरत ही नहीं पड़ी. थाने में एक भी मुकदमा दर्ज नहीं हुआ।  39 सालों में अब तक एक भी अपराध दर्ज नहीं हुआ। गांव के लोग भी थाने और कोर्ट कचहरी से कोसों दूर रहते हैं। जब इस गांव में पृथ्वीपुर एसडीओपी संतोष पटेल पहुंचे तो उन्होंने देखा कि गांव के लोग पुलिस को ही नहीं जानते। 100 साल की बुजुर्ग महिला प्यारी बाई पाल का कहना है कि उन्होंने कभी नहीं देखा कि गांव में कोई विवाद हुआ है। गांव में पुलिस आई हो। पुलिस कैसी होती है वह नहीं जानती। गांव के कई बुजुर्ग और युवाओं का कहना है कि उन्होंने जब से होश संभाला है तब से गांव में कोई विवाद नहीं हुआ। कभी  हल्के-फुल्के विवाद हो ही जाते हैं तो गांव के बुजुर्गों द्वारा पंचायत स्तर पर आपसी सहमति से बैठल कर उसे सुलझा लिए जाते हैं। पृथ्वीपुर एसडीओपी संतोष पटेल ने बताया जब मुझे पता लगा कि इस गांव में 39 साल से कोई अपराध थाने में दर्ज नहीं हुआ है तो सबसे पहले खुद गांव को देखा गया। वहां के लोगों से बात की और उसके बाद उन्होंने विलेज क्राइम नोटबुक चेक कराई तो पता चला कि यहां साल 1983 से कोई अपराध दर्ज नहीं किया गया है। इस अमन पसंद गांव में एक शख्स असामाजिक किस्म का था लेकिन वह अब गांव में नहीं रहता है. हाथीवर खिरक गांव में 225 लोगों रहते हैं।  इस कम आबादी वाले गांव में अमन चैन और शांति और खुशनुमा वातावरण के साथ प्राकृतिक समावेश है। गांव में पाल और अहिरवार बा ब्राह्मण समाज के लोग रहते हैं। सभी समाज के लोग आपसी भाईचारे और घुल मिलकर रहते हैं. एक दूसरे के सुख दुख में मैं हमेशा साथ देते हैं. अग कोई मनमुटाव और विवाद जैसी स्थिति भी होती है तो वह बड़े बुजुर्ग एक दूसरे को समझा-बुझाकर शांत करा देते हैं। हाथीवर खैरा गांव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती है जिसके साथ साथ बकरी और गाय जैसे जानवरों का पालन करते हैं। बकरी पालन से उन्हें रोजगार मिलता है जिससे उन्हें आर्थिक आमदनी भी होती है। गाय पालन से गांव के लोगों को दूध की कमी नहीं होती है। गांव के लोग घी, दूध का भी व्यवसाय करते हैं। खेती करके अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। 

Kolar News

Kolar News 16 June 2022

प्रदेश के पन्ना जिले में हीरे की खान है इस बात से तो सभी अवगत हैं। ऐसे में हीरा निकलने की खबरे भी यहां से आती रहती हैं। लेकिन इस बार हीरे की खोज एक गरीब ने की है। ऐसा किस्मत वालों के साथ ही होता है और इस बार एक मजदूर गरीब अपनी किस्मत की वजह से लखपति बन गया। जिले के ग्राम जारूआपुर से एक खेतिहर मजदूर सुनील कुमार को चमचमाता हुआ उज्जवल किस्म का 6.29 कैरेट का हीरा मिला है। जिस वजह से वह रातों-रात लखपति बन गया। जानकारी के लिए बतादें कि मजदूर के घर की आर्थिक हालत ठीक नंही रहती थी और बंद पड़े काम के कारण सुनील ने अपने 5 अन्य साथियों के साथ मिलकर हीरा कार्यालय से 10 वाई 10 का हीरा खदान खोदने के लिए पट्टे पर लिया था। और आज उसकी यह मेहनत सफल हो गई। फिलहाल प्राप्त हुए इस उज्जवल हीरे को पन्ना के हीरा कार्यालय में जमा करा दिया गया है। हीरा मिलने से सुनील और उसके साथ काम करने वाले 5 साथियों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं है। प्राप्त जानकारी से पता चला कि इस हीरे से मिलने वाले लाभ में 6 लोगों का हिस्सा लगेगा। सुनील ने बताया कि ‘हम 6 लोग इस हीरे में साझेदार हैं सभी के घर की आर्थिक स्थिति खराब है। जिसके बाद उन्होंने खदान लगाई और भगवान ने उनकी सुन ली। हीरा विशेषज्ञ ने बताया कि सुनील को मिला हीरा 6.29 कैरेट का है इस हीरे को आगे आने वाली हीरों की नीलामी में रखा जाएगा और 12 प्रतिशत रॉयल्टी काटकर शेष हीरे की राशि मजदूर को वापिस कर दी जाएगी।

Kolar News

Kolar News 15 June 2022

मुंबई में ऑटो चलाकर जीवन यापन करने वाले 50 वर्षीय कमलेश  का जीवन मंगलवार को उस वक्त संकट में आ गया जब वह प्रयागराज से मुंबई जाने वाली तुलसी एक्सप्रेस के नीचे आने से बाल-बाल बच गए। यात्री कमलेश  भोपाल रेलवे स्टेशन पर पीने का पानी भरने के लिए उतरे थे। तभी ट्रेन प्लेटफार्म से चलने लगी। हड़बड़ी में कमलेश अपने एस-5 डिब्बे में चढऩे का प्रयास करने लगे इस दौरान उनका पैर फिसल गया और वह प्लेटफार्म एवं डिब्बे के नीचे आने लगे। मौके पर पेट्रोलिंग कर रहे आरपीएफ के जवान रविंद्र की नजर इस घटना पर पड़ी और उसने दौड़कर कमलेश  का हाथ पकड़ लिया। ट्रेन के नीचे 50 सेकंड तक कमलेश सिंह  जीवन और मौत के बीच झूलते रहे। आरपीएफ के जवान रविंद्र ने जैसे-तैसे उन्हें खींचकर बाहर निकाना। यात्री कमलेश ने बताया कि वह पानी लेने उतरे थे, ट्रेन में चढऩे में देरी कर दी थी। जब ट्रेन चलने लगी तो बोतल लेकर चढऩे की कोशिश की थी। कोच के हैंडल पकड़ लिए थे लेकिन पैर फिसल गया। संभलने का मौका ही नहीं मिला, क्योंकि गेट पर खड़े यात्री अंदर जाने का रास्ता नहीं दे रहे थे। यात्री का कहना है कि ट्रेन में बहुत भीड़ थी, इसके कारण वह पानी भरने के लिए उतरने में भी लेट हो गए थे। रानी कमलापति, स्टेशन पर कमलेश की जान निकलते निकलते बची , रेलवे पुलिस ने रविंद्र को सम्मानित करने का निर्णय लिया है। 

Kolar News

Kolar News 15 June 2022

मध्यप्रदेश के सभी प्राइवेट स्कूलों में एडमिशन प्रारंभ हो गए हैं। चूंकि इन स्कूलों में 25 प्रतिशत सीटों पर उन बच्चों को नि:शुल्क प्रवेश दिया जाता है, जो बच्चे गरीब व कमजोर वर्ग के होते हैं। इसलिए अगर आप भी इस योजना के तहत पात्र हैं, तो अपने बच्चे का एडमिशन कराने में देर नहीं करें, क्योंकि समय रहते फार्म भरने से आपको पसंद का स्कूल मिल जाएगा। हालांकि बच्चों का चयन लॉटरी सिस्टम से किया जाएगा। शिक्षा का अधिकार कानून में सत्र 2022-23 में प्राइवेट स्कूलों की प्रथम कक्षा में निःशुल्क प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन 15 जून से किए जा सकेंगे। ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 30 जून है। अगर आप भी अपने बच्चे का ऑनलाइन प्रवेश कराना चाहते हैं तो ऑनलाइन आवेदन-पत्र का प्रारूप देखकर फार्म भर सकते हैं। पात्रतानुसार प्राइवेट स्कूल में निशुल्क प्रवेश के लिए आवेदकों का चयन ऑनलाइन लॉटरी से 5 जुलाई को किया जाएगा। इस वर्ष कोविड-19 से माता-पिता/ अभिभावक की मृत्यु से अनाथ बच्चों को मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना में ऑनलाइन लॉटरी में प्राथमिकता दी जाएगी। संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र धनराजू एस. ने समय-सारिणी जारी करते हुए सभी जिला कलेक्टर व अन्य अधिकारियों को विस्तृत निर्देश दिए हैं, जो आरटीई पोर्टल पर उपलब्ध हैं। ऑनलाइन आवेदन करने में कोई समस्या या कठिनाई होने की स्थिति में संबंधित विकासखंड के बीआरसी कार्यालय में भी संपर्क किया जा सकता है। लॉटरी प्रक्रिया के बाद आवंटित सीट की जानकारी आवेदक को उसके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एसएमएस के माध्यम से प्रदान की जाएगी। ऑनलाइन लॉटरी की सूची आरटीई पोर्टल पर भी उपलब्ध रहेगी। साथ ही स्कूल आवंटन की जानकारी बीआरसी कार्यालय के सूचना पटल पर भी उपलब्ध रहेगी। ऑनलाइन प्रक्रिया से फार्म के साथ पात्रता संबंधित कोई भी एक दस्तावेज अपलोड करना होगा। दस्तावेजों का सत्यापन संबंधित संकुल केन्द्र वाले स्कूल में सत्यापनकर्ता अधिकारी से एक जुलाई 22 तक करना होगा। आवेदक ने जिस कैटेगरी/निवास क्षेत्र से प्रवेश चाहा है, उसमें व निवास प्रमाण का सत्यापन मूल प्रमाण-पत्र से किया जाएगा। लॉटरी के पूर्व सत्यापन हो जाने के बाद दस्तावेजों की त्रुटि पर एडमिशन निरस्त नहीं होगा। किसी आवेदक को आवेदन प्रारूप प्राप्त करने अथवा जमा करने में कोई दिक्कत हो या उन स्कूलों की जानकारी चाहिए हो, जहां सीटें खाली हैं, तो आरटीई पोर्टल, जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय, सर्व शिक्षा अभियान के जिला परियोजना कार्यालय अथवा विकासखण्ड स्रोत केन्द्र से सम्पर्क कर सकते हैं।

Kolar News

Kolar News 15 June 2022

कौन कहता है आसमां में सुराख हो नहीं सकता एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है शहड़ोल प्रेरणा फाऊंडेशन के उन बच्चों जो अब शहड़ोल से पढ़ाई कर देश के अलग अलग हिस्से में पढ़ लिख कर काबिल बन गए है। ये नेत्रहीन बच्चे सामान्य बच्चो की तरह न केवल मोबाइल आपरेट करते है बल्कि मैसेज भी पढ़कर मोबाइल में बात चीत करते है । ऐसे 21 बच्चों ने आज शहड़ोल में आयोजित एक कार्यक्रम में सम्मिलित होकर गीत, संगीत के साथ साथ योग कर चेस गेम का जबरदस्त प्रदर्शन किया। जो बच्चे आंखों से देख नहीं सकते, उनके इन कारनामो को देखकर लोग दंग रह गए । उनकी इस काबलियत के पीछे प्रेरणा फाउंडेशन की संचालिका मधुश्री राय का हाथ है। जो खुद भी दिव्यांग होते हुए जिले में नेत्रहीन बच्चों को ढूंढकर उन्हें निःशुल्क शिक्षा देकर उस मुकाम तक पहुचाने का काम कर रही है।शहड़ोल जिले में इनदिनों नेत्रहीन बच्चे प्राथमिक शिक्षा ग्रहण कर देश के अलग अलग हिस्से में उच्च शिक्षा ग्रहण कर अलख जगा रहे है। नेत्रहीन होने के बावजूद बच्चों मोबाइल, कम्यूटर, गीत संगीत, योग, चेस जैसे गेम खेल रहे है । इतना ही नही सामान्य बच्चो की तरह बर्ताव कर रहे है । यह बात थोड़ी अटपटी लग सकती है, लेकिन यह बात बिल्कुल सच है। दरअसल शहड़ोल की रहने वाली मधु श्री राय ने एक एक्सीडेंट में अपना एक पैर खो दिया ,जिसके बाद से उन्होंने प्रेरणा फाउंडेशन के माध्यम से जिले के नेत्रहीन बच्चो को ढूंढ कर उन्हें अपने पास रखकर निःशुल्क 1 से 8 तक की शिक्षा ग्रहण कराया, जिसके बाद उनके ऐसे कई बच्चे ऐसे है जो देश के अन्य राज्य में उच्च शिक्षा ग्रहण करने के साथ साथ नौकरी कर रहे है । अपना एक मुकाम हासिल कर दुसरो के लिए प्रेरणा शाबित हो रहे है। प्रेरणा फाउंडेशन द्वारा जिले में एक कार्यक्रम आयोजित किया , जिसमे उनके द्वारा पढ़ाए हुए 21 नेत्रहीन उन बच्चो ने भाग लिया जो अब देश के अन्य हिस्से में उच्च शिक्षा ग्रहण कर रहे है,तो कुछ नौकरी कर रहे है । ये बच्चे बड़ी ही बेबाकी के साथ मोबाइल, कम्यूटर, गीत संगीत, योग, चेस जैसे गेम प्रदर्शन किया। 

Kolar News

Kolar News 14 June 2022

बारिश में आम दिनों के मुकाबले ड्राइविंग पैटर्न पूरी तरह से बदल जाता है। वैज्ञानिक शोध एवं रिसर्च के आधार पर यह बात सामने आई है कि बरसात के मौसम में अनुमान आधारित ड्राइविंग ज्यादा होती है जिससे दुर्घटनाओं का खतरा बढ़ जाता है। इस मौसम में अक्सर कार चलाते वक्त लोग कुछ छोटी-बड़ी गलतियां कर बैठते हैं। कई बार खराब मौसम में लोग दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं। रिसर्च में यह बात भी सामने आई है कि पुरुष ड्राइवर के मुकाबले महिलाएं गाड़ी चलाते वक्त बरसात में ज्यादा सतर्क रहती हैं। बरसात के मौसम में गाड़ियों की अतिरिक्त देखभाल की जरूरत भी पड़ती है। ऐसे वाहन मालिकों को अपनी गाड़ियों और ड्राइविंग के तौर तरीके को लेकर अधिक सचेत रहने की जरूरत है।बारिश के मौसम में वाहन चालक को अपने स्पीड पर काबू रखना चाहिए, क्योंकि बारिश के कारण रोड पर फिसलन बढ़ जाती है। बारिश के मौसम में कार को अपने कंट्रोल में रखें। कार को कम गति पर चलाए ताकि ब्रेक लगाने पर आप किसी भी दुर्घटना का शिकार न हों। इसके अलावा जितना हो सके उतना आप बारिश में इमरजेंसी में ब्रेक लगाने से बचें।बरसात के मौसम में सड़को पर पानी की वजह से ब्रेक लगाने में समस्या आती है। इसलिए हमेशा बारिश में वाहन को बहुत आराम से चलाना चाहिये। क्योंकि बारिश में कार हो या मोटरसाइकिल एक्सीडेंट होने का खतरा बना रहता है।आम दिनों की तुलना में बारिश के मौसम में वाहन में ज्यादा खराबी आती है। मानसून में ड्राइविंग से पहले अपनी कार की सर्विस जरूर कराएं। इससे भारी बारिश के दौरान ड्राइविंग करने पर भी आपको कार के खराब होने का डर नहीं सताएगा। दीप दीक्षित, एडिशनल डीसीपी, ट्रैफिक का कहना है कि बारिश के मौसम में संभावित दुर्घटनाओं से बचने के लिए स्पीड पर कंट्रोल सबसे ज्यादा जरूरी है। वाहन की रोशनी का बेहतर प्रबंधन एवं ब्रेक सिस्टम सहित गाड़ी के अन्य पुर्जों का मेंटेनेंस जरूरी रहता है। इन सभी बातों पर ध्यान रखकर दुर्घटनाओं को टाला जा सकता है।

Kolar News

Kolar News 14 June 2022

देश में 70 साल बाद एक बार फिर चीतों की दहाड़ गूजेंगी। 15 अगस्त को मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले में स्थित कूनो नेशनल पार्क में 16 अफ्रीकन चीतों को छोड़ा जाएगा। 1952 में चीतों को देश में लुप्त घोषित किया गया था। इस साल स्वतंत्रता दिवस मध्य प्रदेश के लिए खास सौगात लेकर आने वाला है। जिसके बाद केंद्र ने अफ्रीकन चीतों को बसाने की योजना बनाई थी। बीते 27 सालों से एमपी के कूनो पालपुर नेशनल पार्क में अफ्रीकन चीतों को लाने की योजना पर काम किया जा रहा था। कुनो नेशनल पार्क में चीतों की बसाहट को केंद्र सरकार 'आजादी का अमृत महोत्सव' अभियान के हिस्से के रूप में पेश करना चाहती  है। मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य होगा जहां चीतों को दोबारा बसाने की कोशिश की जा रही है।जानकारी के अनुसार 1 डिप्टी फील्ड डायरेक्टर, 1 रेंजर और 1 डॉक्टर समेत  3 अधिकारियों की एक टीम टेक्निकल ट्रेनिंग के लिए दक्षिण अफ्रीका/नामीबिया के लिए रवाना हो चुकी है। वन विभाग के अनुसार अफ्रीकी चीते दक्षिण अफ्रीका एवं नामीबिया से पहले ग्वालियर लाए जाएंगे। फिर यहां से सड़क मार्ग के जरिए इन्हें  कुनो राष्ट्रीय उद्यान पहुंचाया जाएगा। फिलहाल 16 अफ्रीकी चीतों में 6 मादा चीता और 10 नर चीता होंगे। इनमे से 8 चीते नामीबिया और 8 साउथ अफ्रीका से लाए जा रहे हैं।  अफ्रीकन चीतों का पहला जत्था है जो भारत के कुनो पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में लाया जा रहा है। सभी 16 चीतों को पहले साल ट्रायल अवधि में रखा जाएगा। अगर परिणाम सकारात्मक रहे तो 2023 में 16, 2024 में 16 और 2025 में भी 16 चीतों को जोड़ा जाएगा। इस तरह कुछ 64 चीतों को मध्य प्रदेश में बसाने की तैयारी है। मध्य प्रदेश के कुनो पालपुर राष्ट्रीय उद्यान (KNP) को चीतों के लिए चुनने के पीछे की मुख्य वजह चीतों को रखने के लिए आवश्यक स्तर की सुरक्षा, शिकार और आवास। हर चीते के रहने के लिए 10 से 20 वर्ग किमी का एरिया और  उनके प्रसार के लिए पर्याप्त जगह होना जरूरी है। यह सभी चीजें कूनो पालपुर राष्ट्रीय उद्यान में मौजूद हैं। कूनो 750 वर्ग किमी में फैला है जो कि 6,800 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैले बड़े श्योपुर-शिवपुरी खुले जंगल का हिस्सा है। समतल जमीन वाले इस अभ्यारण में इंसानों की किसी भी तरह की बसाहट भी नहीं है । इसके अतिरिक्त, एशियाई शेरों को मध्य प्रदेश के कुनो में लाने के असफल प्रोजेक्ट के तहत इस साइट पर पहले से ही बहुत सारी तैयारियां और निवेश किए जा चुके हैं जो कि चीतों के लिए एकदम उपयुक्त है।

Kolar News

Kolar News 14 June 2022

पिछले दो सालों में प्रदेश के 1200 प्राइवेट स्कूल बंद हो गए हैं। अगर आपका बच्चा भी इनमें से किसी स्कूल में पढ़ता था, तो आपको तुरंत बच्चे को प्रवेश को लेकर एक्शन लेना होगा, अन्यथा आपका बच्चा दूसरे बच्चों से पीछे रह जाएगा। इसलिए आप उसकी उम्र और वर्तमान कक्षा के अनुरूप अन्य स्कूल में प्रवेश दिलाएं, ताकि वह भी अन्य बच्चों की तरह बराबर की कक्षा में पढ़े। आपको बता दें कि प्रदेश में कोरोना काल में करीब 1200 स्कूल बंद हो गए हैं। ये स्कूल सत्र 2019-20 और 2020-21 में बंद हुए हैं। इस कारण इन स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों की शिक्षा पर सीधा असर पड़ रहा है। इन स्कूलों में नर्सरी से लेकर कक्षा 1 तक में करीब 11 हजार से अधिक बच्चे दर्ज थे। सरकार द्वारा इन बंद स्कूलों के बच्चों को अनमैप्ड करवाया जा रहा है, ताकि वे सत्र 2022-23 की प्रक्रिया में शामिल हो सकें। इस विशेष प्रावधान के बाद भी ऐसे बच्चों को खास राहत नहीं मिलेगी। क्योंकि उन्हें पहली कक्षा से आगे की कक्षा में दाखिला नहीं मिलेगा। अगर आपका बच्चा भी इनमें से किसी एक स्कूल में पढ़ता था, तो आप या तो अपने बच्चे को आरटीई के तहत पढ़ाना चाहते हैं, तो कक्षा पहली में फिर से प्रवेश दिलाना होगा। अन्यथा आप किसी अन्य स्कूल में अपने बच्चे को जिस कक्षा में पढ़ाना चाहते हैं, उसी कक्षा में प्रवेश दिला सकते हैं।शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के तहत सत्र 2022-23 में प्रवेश के लिए दो माह देरी से 15 जून से प्रक्रिया शुरू होगी। 27 हजार निजी स्कूलों में नर्सरी, केजी-1, केजी-2 और पहली की दो लाख से अधिक खाली सीटों पर नौनिहालों का दाखिला होगा। इस बार कोरोना काल में प्रदेश में बंद हुए 1200 निजी स्कूलों में आरटीई से पढ़ रहे 11 हजार बच्चों को भी मौका मिलेगा। लेकिन वे अधिकतम पहली कक्षा में ही प्रवेश ले पाएंगे। यानी, बंद हुए स्कूलों में सत्र 2019-20 में केजी-1 या केजी-2 में पढ़ने वाले छात्रों को इस साल क्रमश: दूसरी व तीसरी कक्षा में जाना था, लेकिन वे आरटीई के तहत पहली कक्षा में ही प्रवेश ले सकेंगे। दस्तावेजों के सत्यापन के बाद जुलाई के पहले सप्ताह में लॉटरी निकाली जाएगी। बताते हैं, उक्त स्कूलों में दो लाख से अधिक सीटें हैं। इनमें डेढ़ लाख सीटें ही अभिभावकों के पसंद की हैं। बाकी 60 हजार सीटें ऐसे स्कूलों की हैं, जो प्राथमिकता में नहीं रहतीं।

Kolar News

Kolar News 13 June 2022

प्रदेश में बढ़ रहा है कोरोना का कहर  मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले फिर बढ़ने लगे हैं। शनिवार को 6611 जांच में प्रदेश में 59 नए संक्रमित मिले हैं। इसमें सबसे ज्यादा इंदौर में 19 पॉजिटिव मरीज मिले हैं।  मध्य प्रदेश के अलग-अलग अस्पतालों में 13 मरीज भर्ती हैं। इनमें से 2 ऑक्सीजन सपोर्ट पर है। प्रदेश में अब तक 10 लाख 43 हजार 116 मरीज कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। इनमें से 10 लाख 32 हजार 49 ठीक हो गए है। कोरोना के कारण अब तक 10 हजार 738 की जान जा चुकी है। शनिवार को 35 मरीज ठीक हुए। प्रदेश में अभी 329 एक्टिव केस है।प्रदेश के 16 जिलों में मिले संक्रमित प्रदेश में 16 जिलों में संक्रमित मिले है। इनमें बालाघाट में 2, बैतूल में 1, भोपाल में 11, गुना में 1, ग्वालियर में 4, हरदा में 3, होशंगाबाद में 3, इंदौर में 19, जबलपुर में 4, कटनी में 1, मंडला में 2, निवाड़ी में 1, रायसेन में 3, सागर में 1, सीहोर में 2, टीकमगढ़ में 1 संक्रमित मरीज मिला है।

Kolar News

Kolar News 12 June 2022

मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग, MPPSC ने राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021-22 का एडमिट कार्ड जारी कर दिया है।  जिसके बाद परीक्षा में शामिल होने जा रहे उम्मीदवार आधिकारिक MPPSC की साइट पर जाकर इसे डाउनलोड कर सकते हैं। गौरतलब है कि एमपीपीएससी राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा परीक्षा का आयोजन 19 जून 2022 को प्रदेश के 54 केंद्रों में किया जाएगा । परीक्षा में 2 पेपर होंगे, जिसमें पहला पेपर जनरल स्टडीज का सुबह 10 बजे से दोपहर 12 तक आयोजित किया जाएगा। वहीं दूसरा पेपर जनरल एप्टीट्यूड टेस्ट का होगा। जो कि दोपहर 2:15 बजे से शाम 4:15 बजे तक चलेगा। एमपीपीएससी प्रीलिम्स की परीक्षा में प्रत्येक पेपर 200 अंकों का होगा। जिसके लिए उम्मीदवारों को 2 घंटे का समय दिया जाएगा। पेपर 1 से जनरल साइंस, इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, पॉलिटी जैसे विषयों से प्रश्न पूछे जाएंगे. वहीं पेपर-2 में कंप्रीहेंशन, इंटरपर्सनल स्किल, लॉजिकल रीजनिंग जैसे विषयों से प्रश्न आएंगे। 

Kolar News

Kolar News 11 June 2022

रेलयात्री के लिए एक बार फिर जरूरी खबर है कि रेलवे ने बड़ी संख्या में आज से चलने वाली ट्रेन को रद्द कर दिया है। अगर आप 11 जून को ट्रेन से यात्रा करने जा रहै है तो ये खबर आप के लिए लिए है। आपको सलाह दी जाती है कि घर से निकलने से पहले अपनी ट्रेन का स्टेटस देख लें। भारतीय रेल ने 11 जून शनिवार से चलने वाली 170 ट्रेनों को रद्द कर दिया है। इन ट्रेनों में पैसेंजर, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी शामिल हैं। रेलवे ने यात्रियों के लिए एडवाइजरी जारी करते हुए कहा है कि यात्री घर से स्टेशन के लिए निकलने से पहले अपनी ट्रेन का स्टेटस रेलवे हेल्प लाइन पर जरूर चेक कर लें। हालांकि जिन यात्रियों की ट्रेन इस सूची में दर्ज है वह चिंता न करें उनके किराए को वापस किया जाएगा। वही यदि आपने IRCTC की वेबसाइट या रेलवे काउंटर से टिकट खरीदा है तो आपके किराये को रिफंड किया जाएगा। बताया जा रहा है कि भारतीय रेल के देशभर में अलग अलग रेलवे जोनों में मेंटेनेंस और दूसरी अन्य वजहों से इन ट्रेनों को रद्द किया गया है। इन ट्रेनों को कैंसिल करने से देशभर में बड़ी संख्या में रेल यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। भारतीय रेल ने नेशनल ट्रेन एन्क्वायरी सिस्टम की वेबसाइट पर रद्द की गई ट्रेनों की सूची जारी की है। रेलवे द्वारा जारी की गई सूची में अगर आपकी भी ट्रेन शामिल है, तो चिंता करने की जरूरत नहीं है। आपके द्वारा टिकट के लिए दिया गया पैसा आपको वापस जरूर मिलेगा। भारतीय रेलवे द्वारा रद्द की गई ट्रेनों की जानकारी स्टेशनों पर अनाउंसमेंट और एसएमएस के जरिए भी यात्रियों को दी जा रही है। आप भी रेलवे के नेशनल ट्रेन इन्क्वायरी सिस्टम नंबर 139 के जरिये भी ट्रेनों की स्थिति जान सकते हैं। जिन यात्रियों की ट्रेन रद्द हुई है, उनको रेलवे की ओर से पूरा रिफंड दिया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 11 June 2022

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे है। गुरुवार को प्रदेश में 6887 जांच में 50 नए पॉजिटिव मिले है। इसमें भोपाल में सबसे ज्यादा 16 और इंदौर में 10 नए मरीज है। प्रदेश के अलग-अलग अस्पताल में 12 मरीज भर्ती है। इनमें से 2 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर है। प्रदेश में अब तक 10 लाख 42 हजार 978 लोग संक्रमित हो चुके है। इनमें से 10 लाख 31 हजार 957 ठीक हो चुके है। कोरोना के कारण अब तक 10 हजार 738 मरीजों की मौत हो चुकी है। गुरुवार को 42 मरीज ठीक हुए। प्रदेश में अभी 283 एक्टिव केस है।14 जिलों में मिले नए संक्रमित प्रदेश में 14 जिलों में नए संक्रमित मिले है। इनमें  भोपाल में 16, दतिया में 1, गुना में 1, होशंगाबाद में 5, इंदौर में 10, जबलपुर में 3, कटनी में 1, मंडला में 2, मुरैना में 1, नरसिंहपुर में 1, रायसेन में 5, रतलाम में 2, सागर में 1 और उज्जैन में 1 मरीज मिला है।

Kolar News

Kolar News 10 June 2022

मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने स्टेट ओपन स्कूल एजुकेशन बोर्ड और पंडित लज्जा शंकर झा शासकीय मॉडल स्कूल के प्राचार्य को नोटिस जारी करके जवाब मांगा है। पूछा है कि जब एक स्टूडेंट ने प्रवेश परीक्षा पास कर ली है तो फिर उसे सीट आवंटित क्यों नहीं की गई। सुनवाई की तारीख 5 जुलाई 2022 निर्धारित की गई है। याचिकाकर्ता छात्र ने नौवीं में प्रवेश के लिए जिला स्तरीय उत्कृष्ट विद्यालय व मॉडल स्कूल के लिए प्रवेश परीक्षा वर्ष 2022-23 पास की व उसे पंडित लज्जा शंकर झा शासकीय  मॉडल   उच्चतर माध्यमिक उत्कृष्ट विद्यालय आवंटित भी किया गया। याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता एनएस रूपराह बताया कि जब वह प्रवेश लेने मॉडल स्कूल गया तो उसे बताया गया की भले ही उसने प्रवेश परीक्षा पास कर ली है, परन्तु उसके आठवीं में डी ग्रेड है, अतः उसे प्रवेश नहीं दिया जा सकता। अधिवक्ता एनएस रूपराह ने दलील दी कि नियम है कि आठवीं की परीक्षा 33 प्रतिशत के अंकों से पास करनी चाहिए और डी ग्रेड का मतलब है की उसने 33-39 प्रतिशत अंक लिए हैं। बहस सुनने के बाद कोर्ट ने कहा कि अगर यह बात है तो याचिकाकर्ता पंडित लज्जा शंकर झा शासकीय मॉडल उच्चतर माध्यमिक उत्कृष्ट विद्यालय जबलपुर शाला में प्रवेश पाने के लिए पात्र है।इस मामले में सबसे बड़ा सवाल यह है कि यदि विद्यार्थी की आठवीं में डी-ग्रेड है और डी-ग्रेड वालों को एडमिशन देने का प्रावधान नहीं है तो फिर प्रवेश परीक्षा में शामिल करने का प्रावधान क्यों बनाया। उसे प्रवेश परीक्षा में ही अयोग्य घोषित कर दिया जाना चाहिए था। नियम बनाने वाले और प्रवेश परीक्षा आयोजित करने वाले, सब अधिकारी मिलाकर मध्यप्रदेश शासन ही होता है ना। कहीं ऐसा तो नहीं कि इस प्रकार के नियम इसलिए बनाए जाते हैं ताकि विद्यार्थियों को परेशान किया जा सके और सीट आवंटित करने के बदले रिश्वत ली जा सके।

Kolar News

Kolar News 10 June 2022

मध्यप्रदेश की रुबीना फ्रांसिस ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। रूबीना ने पैरा शूटिंग वर्ल्ड कप में गोल्ड मेडल जीत लिया है। फ्रांस के चेटियारो में आयोजित पैरा निशानेबाजी विश्व कप में उन्होंने भारत के लिए यह स्वर्ण पदक जीता। जबलपुर की रुबीना फ्रांसिस ने अपने शानदार प्रदर्शन का सिलसिला जारी रखते हुए स्वर्णिम निशाना साधा। देश के लिए वर्ल्ड कप में यह उनका तीसरा गोल्ड मेडल है। एमपी की अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज रुबीना फ्रांसिस ने पैरा निशानेबाजी विश्व कप में शुरु से ही जबर्दस्त प्रदर्शन किया। शुरु से अंत तक सटीक निशाने लगाते हुए उन्होंने आखिरकार भारत के लिए स्वर्ण पदक जीत लिया। 23 वर्षीय रुबीना ने यह उपलब्धि एयर पिस्टल मिश्रित टीम इवेंट में हासिल की। उन्होंने हरियाणा के मनीष नरवाल के साथ गोल्ड मेडल जीता। रुबीना का विश्व कप में यह तीसरा स्वर्ण पदक है। भारतीय टीम ने फाइनल राउंड में चीन को हराया।  रुबीना और मनीष ने चीन की टीम को 17-11 अंकों के अंतर से शिकस्त दी। इससे पहले क्वालीफायिंग राउंड में रुबीना व मनीष ने जबर्दस्त प्रदर्शन किया। यह जोड़ी विश्वरिकार्ड प्रदर्शन के साथ निर्णायक दौर में पहुंची। क्वालीफायिंग राउंड में भारतीय टीम ने 565 अंक प्राप्त कर फाइनल राउंड में जगह बनाई थी। वर्ल्ड कप में तीसरा गोल्ड मेडल जीतने वाले रुबीना ने अथक संघर्ष किया है। उन्होंने 2014-15 में जबलपुर में गन फार ग्लोरी शूटिंग अकादमी में प्रवेश लिया था। इसके बाद रुबीना ने लगातार मेहनत की और नेशनल स्तर पर अच्छा प्रदर्शन किया। हालांकि इसके बाद उन्होंने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। स्थानीय अकादमी से अपने निशानेबाजी करियर की शुरुआत करने वाली रुबीना अब वर्ल्ड लेबल पर धूम मचा रहीं हैं। वे वर्तमान में भोपाल स्थित खेल विभाग की राज्य निशानेबाजी अकादमी में अभ्यास करती हैं।

Kolar News

Kolar News 9 June 2022

तापमान वाला मीटर बता रहा है कि नौतपा चल रहा है,अब खत्म होने वाला है। इंदौर में उम्मीद की बूंदे गिरी है। नर्मदापुरम में आशाओं की हवा चली है।  यदि वायु देव का आशीर्वाद बना रहा तो 10 जून को भोपाल, जबलपुर और सागर में प्री मानसून की बारिश शुरू हो जाएगी। पिछले 3 सालों में प्रकृति के कई दंड भोग चुके आम नागरिक भयभीत थे। मौसम वैज्ञानिकों की तमाम भविष्यवाणियां गलत साबित हो रही थी। पंडित जी ने बताया कि नौतपा खत्म हो गए लेकिन उसी दिन से तापमान बढ़ने लगा, जैसे शुरू हुए हो। कोई कह नहीं पा रहा था लेकिन दिल में सूखे का डर सता रहा था। हर कोई भीतर ही भीतर प्रार्थना कर रहा था। गुड न्यूज़ यह है कि प्रार्थना स्वीकार हो गई है। 8 जून को इंदौर में 2 मिलीमीटर बारिश हुई है। यह प्री मानसून एक्टिविटी है। यानी कि पीछे-पीछे मानसून वाले बादल भी आने वाले हैं। मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश का कहना है कि प्रदेशभर में प्री-मानसून आगामी 20 जून तक सक्रिय रहने वाला है। इसके बाद प्रदेशभर में मानसून सेट हो जाएगा। यानी, 20 जून के बाद कभी भी प्रदेश में मानसून की एंट्री हो सकती है। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो अबकी बार मानसून खूब बरसेगा। जून-जुलाई में अच्छी बारिश के आसार हैं।

Kolar News

Kolar News 9 June 2022

रेलवे ने अपने यात्रियों के सफर को आसान करने के लिए बड़ा फैसला लिया है। भोपाल रेल मंडल से गुजरने वालीं 78 ट्रेनों के टाइम-टेबल में 1 जुलाई से परिवर्तन होने जा रहा है। ट्रेनों की अधिकतम रफ्तार 110 से 130 हो जाने से यह ट्रेनें 3 से लेकर 35 मिनट तक पहले पहुंचने लगेंगी। इन ट्रेनों में शताब्दी, कामायनी, संपर्क क्रांति, गोवा एक्सप्रेस, तमिलनाडु समेत 11 जोड़ी मुख्य ट्रेनें शामिल हैं। 11 जोड़ी मुख्य ट्रेनों के टाइम टेबल में बदलाव किया जाएगा। रेल अधिकारियों का कहना है कि टाइम-टेबल में कुछ इस तरह परिवर्तन किए जा रहे हैं, जिसका फायदा सीधे तौर पर यात्रियों को मिल सके। तिरुअनंतपुरम में पश्चिम क्षेत्र की मीटिंग होगी, जिसमें एक जुलाई से होने वाले परिवर्तन पर मुहर लग जाएगी। शताब्दी 18 से 25 मिनिट, कामायनी 22 से 35 मिनिट, कर्नाटक 15 से 20 मिनिट, तमिलनाडु 12 से 18 मिनिट, केरल 11 से 15 मिनिट, जीटी 9 से 14 मिनिट, जयपुर-चेन्नई 11 से 15 मिनिट, गोवा 12 से 18 मिनिट, यशवंतपुर संपर्कक्रांति 10 से 12 मिनिट, ग्वालियर इंटरसिटी 17 से 23 मिनिट व इंदौर-उज्जैन 15 से 20 मिनिट पहले पहुंचने लगेंगी। अब चलती ट्रेन में भी वेटिंग टिकट वाले यात्रियों के टिकट कंफर्म हो सकेंगे। मंडल के सभी टीटीई को हैंड होल्डिंग डिवाइस के जरिए रियल टाइम में आरक्षित सीट के खाली होने की सूचना अपटेड करनी होगी। इसकी मदद से खुद-ब खुद वेटिंग टिकट वाले यात्री की सीट कंफर्म हो जाएगी। इसका मेसेज भी यात्री के मोबाइल पर आ जाएगा। मौजूदा व्यवस्था में गाड़ी छूटने से करीब आधे घंटे पहले चार्ट बन जाता है। इसके बाद चलती ट्रेन पर अगर सीट खाली रहती है तब टीटीई मैनुअल तरीके से इसे पहले आरएसी और उसके बाद वेटिंग यात्रियों को जगह देता है लेकिन, मैनुअल होने की वजह से अधिकांश मामलों में टीटीई की मनमर्जी चलती है।

Kolar News

Kolar News 9 June 2022

मध्यप्रदेश  पब्लिक सर्विस  कमीशन  द्वारा आयोजित राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 दिनांक 19 जून 2022 का पेपर लीक हो सकता है। यह खतरा इसलिए संभावित है क्योंकि शहडोल कलेक्टर कार्यालय से गोपनीय जानकारी सार्वजनिक हो गई है। कार्यालय कलेक्टर जिला शहडोल का आदेश क्रमांक 3665 दिनांक 7 जून 2022 वायरल हो रहा है। इसमें स्पष्ट रूप से बताया गया है कि शहडोल से कौन से अधिकारी एवं कर्मचारी एमपीपीएससी का पेपर लेने के लिए कितनी तारीख को रवाना होंगे और किस प्रकार से मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग इंदौर के ऑफिस से शहडोल तक पेपर लाए जाएंगे। आदेश में स्पष्ट रूप से लिखा है कि नियुक्त किया गया अधिकारियों एवं कर्मचारियों का दल गोपनीय सामग्री लेकर आएगा लेकिन इस आदेश को गोपनीय नहीं रखा गया है।  इसके कारण न केवल पेपर की गोपनीयता बल्कि नियुक्त किए गए अधिकारी एवं कर्मचारियों की सुरक्षा भी खतरे में पड़ गई है। हम वायरल हो रहे आदेश की सत्यता प्रमाणित नहीं करते परंतु यदि आदेश सही है तो संभावित खतरे के बारे में सूचित करना पत्रकारिता धर्म है। यह समाचार इसलिए है ताकि समय रहते व्यवस्था को बदला जा सके।

Kolar News

Kolar News 8 June 2022

उत्तराखंड बस हादसे के बाद एमपी सरकार रोड सेफ्टी के नये उपायों पर नये सिरे से विचार कर रही है। सड़क हादसे रोकने के लिए सरकार नया रोड सेफ्टी प्लान बना रही है। इसमें भारी वाहनों के ऑपरेटर और ड्राइवर के लिए कुछ नए नियम बनाए जाएंगे। नए रोड सेफ्टी प्लान के तहत प्रदेश में ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक खोलने की तैयारी है। भारी वाहनों के ड्राइवरों को उस पर ट्रेनिंग दी जाएगी।  उसमें पास होने के बाद ही ड्राइवर को हेवी ड्राइविंग लाइसेंस दिया जाएगा। सरकार के नये प्लान में दो महीने के भीतर संभाग मुख्यालय पर ऑटोमेटिक फिटनेस सेंटर खोले जाएंगे। लंबी दूरी वाले बस ऑपरेटर्स को एक से ज्यादा और कम से कम दो ड्राइवर रखना होगा। दो ड्राइवर होने का प्रमाण पत्र बस मालिकों को देना होगा। सड़क हादसे रोकने के लिए सरकार ने एक कैबिनेट कमेटी भी बनाई है। 3 सदस्य वाली इस कैबिनेट कमेटी में पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव, परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया को शामिल किया गया है. यह समिति सड़क हादसे कम करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर एक रिपोर्ट सरकार को देगी. फिर सरकार के स्तर पर उस पर अमल किया जाएगा। उत्तराखंड बस हादसे के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सड़क हादसों को लेकर चिंता जाहिर कर चुके हैं। उस हादसे में पन्ना के 26 तीर्थयात्रियों की मौत हुई थी। मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में भी उन्होंने सड़क हादसों पर चिंता जाहिर की थी। सीएम ने कहा था सड़क हादसे रोकने के लिए समग्र तौर पर प्रयास करना जरूरी है। इसके लिए सरकार के स्तर के साथ-साथ आम जनता को भी जागरूक होना पड़ेगा. सीएम की इसी लाइन पर अब विभाग आगे बढ़ रहा है। 

Kolar News

Kolar News 8 June 2022

उत्तराखंड बस हादसे के बाद एमपी सरकार रोड सेफ्टी के नये उपायों पर नये सिरे से विचार कर रही है। सड़क हादसे रोकने के लिए सरकार नया रोड सेफ्टी प्लान बना रही है। इसमें भारी वाहनों के ऑपरेटर्स और ड्राइवर्स के लिए कुछ नए नियम बनाए जाएंगे। नए रोड सेफ्टी प्लान के तहत प्रदेश में ड्राइविंग टेस्टिंग ट्रैक खोलने की तैयारी है। भारी वाहनों के ड्राइवरों को उस पर ट्रेनिंग दी जाएगी।  उसमें पास होने के बाद ही ड्राइवर को हेवी ड्राइविंग लाइसेंस दिया जाएगा। सरकार के नये प्लान में दो महीने के भीतर संभाग मुख्यालय पर ऑटोमेटिक फिटनेस सेंटर खोले जाएंगे। लंबी दूरी वाले बस ऑपरेटर्स को एक से ज्यादा और कम से कम दो ड्राइवर रखना होगा। दो ड्राइवर होने का प्रमाण पत्र बस मालिकों को देना होगा।  सड़क हादसे रोकने के लिए सरकार ने एक कैबिनेट कमेटी भी बनाई है। 3 सदस्य वाली इस कैबिनेट कमेटी में पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव, परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदोरिया को शामिल किया गया है. यह समिति सड़क हादसे कम करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर एक रिपोर्ट सरकार को देगी. फिर सरकार के स्तर पर उस पर अमल करवाया जाएगा। उत्तराखंड बस हादसे के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सड़क हादसों को लेकर चिंता जाहिर कर चुके हैं। उस हादसे में पन्ना के 26 तीर्थयात्रियों की मौत हुई थी। मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में भी उन्होंने सड़क हादसों पर चिंता जाहिर की थी। सीएम ने कहा था सड़क हादसे रोकने के लिए समग्र तौर पर प्रयास करना जरूरी है। इसके लिए सरकार के स्तर के साथ-साथ आम जनता को भी जागरूक होना पड़ेगा. सीएम की इसी लाइन पर अब विभाग आगे बढ़ रहा है। 

Kolar News

Kolar News 8 June 2022

मध्य प्रदेश में  भोपाल शहर के वन विहार नेशनल पार्क में मंगलवार को एक आदमखोर बाघ रेस्क्यू सेंटर से लापता हो गया। जिसके बाद पर्यटकों को वहां से सुरक्षित बाहर निकाला गया। अधिकारी ने बताया कि शौर्य नामक छह-साल का बाघ लगभग छह घंटे तक अपने बाड़े से बाहर रहा बाद में उसे बेहोश करके वापस बाड़े में छोड़ा गया। जानकारी के मुताबिक, नेशनल पार्क में सुबह के वक्त बड़ी संख्या में लोग मॉर्निंग वॉक के लिए आते हैं, ऐसे में अगर समय रहते वन विहार की टीम ऐक्शन में ना आई होती तो बड़ा हादसा हो सकता था। वन विहार के निर्देशक एच. सी. गुप्ता ने एक बयान में कहा कि बाघ के बाड़े से गायब होने के सूचना मिलने पर पर्यटकों को वन विहार परिसर से सुबह करीब दस बजे सुरक्षित निकाल लिया गया। बाघ को उद्यान से बाहर जाने से रोकने के लिए विभिन्न स्थानों पर टीम को तैनात किया गया। गुप्ता ने कहा कि वन विहार के दोनों प्रवेश द्वारों को बंद करने के बाद तलाशी अभियान शुरू किया गया और बाद में एक टीम ने हिरण के बाड़े में एक पेड़ के नीचे बाघ को सोते हुए पाया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय उद्यान के पशु चिकित्सक डॉ अतुल गुप्ता और एक दल ने बाघ को बेहोश किया और उसे वापस उसके बाड़े में भेज दिया। गुप्ता ने बताया कि पहली नजर में ऐसा लगता है कि बाघ अपने बाड़े से इसलिए बाहर निकल सका क्योंकि चौकीदार ने दरवाजा खुला छोड़ दिया होगा। उन्होंने बताया कि शौर्य को हरदा जिले से पिछले साल 13 जनवरी को घायल अवस्था में बचाया गया था। इसके बाद वन विहार बचाव केंद्र में उसका इलाज करने के बाद मार्च माह में उसे सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में छोड़ा गया लेकिन पिछले साल जून में ही उसे फिर यहां लाया गया। अधिकारियों के मुताबिक बाघ करीब छह घंटे तक अपने बाड़े से बाहर रहा। वह कथित तौर पर सुबह करीब आठ बजे लापता हो गया था लेकिन सुबह दस बजे यह मामला सामने आया।

Kolar News

Kolar News 8 June 2022

मंगलवार को मंत्रालय में शिवराज कैबिनेट  की बड़ी बैठक हुई है। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण है कि अपराधियों से छीनी गई भूमि पर स्कूल का निर्माण होगा। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कैबिनेट की बैठक के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि दबंगों से छीनी गई भूमि को आंगनबाड़ी और स्कूलों को प्रदान करने का निर्णय लिया गया है। इसके साथ ही मंत्री ने कहा कि प्रदेश में संचालित प्राइवेट बसें, जो कोरोना के दौरान लॉकडाउन में बंद थीं, उनके बस मालिकों को देय मासिक वाहन कर में 130 करोड़ रुपये की छूट देने का निर्णय लिया गया है। साथ ही शिवराज कैबिनेट स्वस्थ भारत मिशन द्वितीय के अनुसमर्थन को मंजूरी दी है। मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा प्रसूति सहायता योजना में संशोधन किया गया है। इसमें पहली जांच के बाद रजिस्ट्रेशन हो जाएगा, अब विभाग बाकी की जांच को मॉनिटर कर गर्भवती महिला को बुला सकता है। चार जांचें मातृ-शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए अति आवश्यक है। गृह मंत्री ने कहा कि दतिया जिले में 330 मेगावाट सौर ऊर्जा लगाने की अनुमति दी गई है। ये एक बहुत बड़ा प्रोजेक्ट है। इसके साथ ही मंत्री ने कहा कि सीएम चौहान ने सड़क सुरक्षा पर तीन सदस्यीय समिति गठन करने के निर्देश दिए हैं। समिति में लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव, परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया सदस्य होंगे। दरअसल, एमपी में हाल के दिनों में माफियाओं के ठिकानों पर बुलडोजर चलाकर सरकारी जमीनों को अतिक्रमण मुक्त कराया गया है। इन्हीं जमीनों पर स्कूल और गरीबों के लिए घर का निर्माण कराया जाएगा। राज्य कैबिनेट ने इसे मंजूरी दे दी है।

Kolar News

Kolar News 7 June 2022

राजधानी से स्लम खत्म करने के नाम पर बीते 12 साल में 4000 करोड़ रुपए से अधिक राशि के खर्च पर सवाल उठ रहे हैं। कम होने की बजाय इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्लम वासियों को पक्के मकान देने का काम किया जा रहा है। लेकिन स्लम है कि खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा। यही स्थिति शहर में 50 हजार से अधिक गुमठियों की है। इनके लिए भी दिखावे का ही काम हुआ। भोपाल मास्टर प्लान तैयार करने के लिए किए गए सर्वे में चौंकाने वाला तथ्य सामने आया। शहर की 23 लाख आबादी में से सात लाख स्लम और अवैध कॉलोनियों में निवास करती है। स्लम निवासियों की बात करें तो इनकी संख्या तीन लाख से अधिक है। सात लाख की ये आबादी प्रदेश के किसी भी छोटे शहर की कुल आबादी के बराबर है। शहर में अतिक्रमण अमला रोजाना अलग-अलग क्षेत्रों में 40 से अधिक गुमठियां हटाता है, बावजूद इसके शहरभर में 50 हजार निगम में दर्ज गुमठियां हैं। इनकी संख्या इससे अधिक हो सकती है। हर दिन ये कम होने की जगह बढ़ रही है, जबकि गुमठी विस्थापन के लिए बीते सालों में हॉकर्स कॉर्नर व अन्य कामों पर करोड़ों रुपए खर्च हुए हैं। सरकारी आवास परिवार के प्रमुख सदस्य के नाम आवंटित कराने के बावजूद परिवार के कुछ सदस्य वह झुग्गी नहीं छोड़ते हैं। यदि निगम आवास आवंटन के बाद झुग्गी तोड़ भी देता है तो उसी क्षेत्र में अन्य किसी सरकारी जगह पर झुग्गी तान ली जाती है। सरकारी आवास 350 वर्गफीट का होता है, जबकि झुग्गी में 1000 से 1500 वर्गफीट की जमीन घेरी हुई होती है। बड़े मकान को छोड़कर पक्के आवास में जाना पसंद नहीं किया जाता। स्थानीय जनप्रतिनिधि वोट बैंक की राजनीति के तहत झुग्गी विस्थापन का विरोध करते हैं। ऐसे में पक्का आवंटित आवास किराए पर चलवा दिया जाता है और परिवार वहीं स्लम में रहता है।

Kolar News

Kolar News 7 June 2022

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कुशाभाऊ ठाकरे सभागार भोपाल में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि पूरी दुनिया चिंता प्रकट कर रही है। धरती के अस्तित्व पर संकट है। ओजोन लेयर का लगातार क्षरण हो रहा है। ग्रीन हाउस गैसों का,आने वाले समय में यह जीवन के अस्तित्व पर ही प्रश्न चिन्ह लगा देगा, अपनी सुख सुविधा के लिए धरती को रहने लायक ही न रहने दें। सीएम ने कहा कि जितने भी विकसित देश हैं वे कार्बन उत्सर्जन को कम नहीं कर रहे हैं। तात्कालिक स्वार्थ ने हमारी आंखों पर पट्टी बांध दी। हम सभी जानते हैं, अगर ये तापमान बढ़ा, ग्लेशियर पिघलने, समुद्र का जलस्तर बढ़ेगा। बहुत वैज्ञानिक अध्ययन मत करो, सतही तौर पर देखो, पहले गर्मी कैसे पड़ती थी अब कैसे पड़ती है।पर्यावरण दिवस पर नर्मदा के संरक्षण के लिए सीएम शिवराज ने कहा कि नर्मदा जी मध्य प्रदेश की जीवन रेखा हैं,पहले नर्मदा के दोनों किनारों पर पेड़ और घास होते थे। अच्छी बारिश होती थी, नर्मदा जी के दोनों किनारों पर छोटे-छोटे झरने बहते थे, अब एक तरफ उद्योगों की मार, हमने पेड़ काट डाले, जंगल के जंगल समाप्त हो गए।हरित आवरण लगातार कम होता चला जा रहा है। ये गति अगर जारी रही तो कल धरती का क्या होगा। ये धरती ऐसी है जिसने कहा कि एक ही चेतना सभी में है।सीएम ने कहा कि एक वयस्क पेड़ पर हजारों नहीं, लाखों​जीव-जंतुओं को आश्रय मिलता है। कार्बन डाइऑक्साइड कौन सोखेगा। हजारों साल पहले से हमने पेड़ों की पूजा की। हम प्रकृति पूजक हैं, उनके बिना हमारा जीवन संभव नहीं है। पर्यावरण संरक्षण को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि हमारा कर्तव्य है कि इंसान स्वार्थी ना हों, पेड़ बचाना, पर्यावरण बचाने का बहुत बढ़िया साधन है। आप पर्यावरण मित्र हैं और आप धरती को बचाने का महत्वपूर्ण काम कर रहे हैं। हम 4 करोड़ पेड़ लगाने वाले हैं। ये अद्भुत अभियान है। इस काम में जो लोग लगे हैं उनके अभिनंदन का कार्यक्रम अलग भोपाल में करेंगे। आज प्रदेशभर में पेड़ लगाने का संकल्प लोग ले रहे हैं। मेरा दिन भी पेड़ लगाने के बाद भी पूरा होता है। पर्यावरण दिवस पर आप सभी का हार्दिक अभिनंदन।

Kolar News

Kolar News 6 June 2022

मध्य प्रदेश में भीषण गर्मी चल रही है। दिन तप रहे हैं, वहीं रातें भी बेचैन कर रही हैं। बीते 24 घंटे में नौगांव में तीव्र लू तथा सतना, मलाजखंड, खजुराहो, दमोह, राजगढ़, ग्वालियर, दतिया में लू का प्रभाव रहा। प्रदेश में सबसे गर्म नौगांव रहा। वहीं दमोह की रात का तापमान सबसे ज्यादा दर्ज किया गया। अगले 24 घंटों में 10 से ज्यादा जिलों में लू चलने का अलर्ट जारी किया गया है। अगले दो-तीन तक राहत की उम्मीद भी नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक हवाओं के साथ नमी नहीं आने के कारण मप्र में तापमान में बढ़ोतरी हो रही है। इस तरह की स्थिति अभी कुछ दिन और रहेगी, ऐसा अनुमान है। मौसम पूरी तरह शुष्क होने के कारण मानसून पूर्व की गतिविधियां भी इस साल नहीं हुई हैं। इस कारणों की वजह से पूरे प्रदेश में तापमान अधिक बना हुआ है। वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ अफगानिस्तान के आसपास मौजूद है। दक्षिण-पूर्वी उत्तर प्रदेश पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर नागालैंड तक एक ट्रफ लाइन भी बनी हुई है, लेकिन मौसम प्रणालियां कमजोर होने के कारण वातावरण में नमी नहीं आ रही है। मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों ने कहा है कि राज्य में तीन दिन बाद मौसम बदल सकता है और पश्चिम विक्षोभ का असर हो सकता है। मौसम केंद्र की रिपोर्ट कहती है कि पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के सभी जिलों में मौसम शुष्क रहा। नौगांव में तीव्र लू तथा सतना, मलाजखंड, खजुराहो, दमोह, राजगढ़, ग्वालियर, दतिया में लू का प्रभाव रहा। नर्मदापुरम, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर संभागों के  जिलों में सामान्य से काफी अधिक रहे। प्रदेश में सबसे अधिक तापमान नौगांव (47 डिग्री) रहा।मौसम विभाग का पूर्वानुमान कहता है कि सागर, ग्वालियर, चंबल संभागों के जिलों में तथा राजगढ़, रायसेन, रीवा, सतना, सीधी, बालाघाट, उमरिया जिलों में लू चलने की संभावना है। यहां यलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग के आंकड़े बता रहे हैं कि पचमढ़ी को छोड़ दें तो पूरे प्रदेश में तापमान 40 डिग्री के ऊपर ही बना हुआ है। प्रदेश में सबसे गर्म नौगांव रहा। नौगांव में 47, खजुराहो में 46, दतिया में 45.6, दमोह में 45.5, ग्वालियर में 45.4, राजगढ़-सतना में 45.2, उमरिया में 44.8, जबलपुर में 44.6, सागर में 44.5, रीवा-सीधी में 44, भोपाल में 43.8, रायसेन-टीकमगढ़ में 43.6, गुना-खंडवा-खरगोन-छिंदवाड़ा में 43.5, सिवनी में 43.4, रतलाम में 43.2, होशंगाबाद-नरसिंहपुर में 43 डिग्री तापमान रहा। वहीं रात के पारे की बात करें तो प्रदेश में सबसे गर्म रात दमोह में रही। दमोह में 30, भोपाल में 29.6, जबलपुर में 29.5, टीकमगढ़ में 29.4, राजगढ़ में 28.6, सतना में 28.2, सीधी-रतलाम-गुना-खंडवा में 28, खरगोन में 27.8, सागर में 27.4, बैतूल-छिंदवाड़ा में 27.2,होशंगाबाद-उज्जैन-खजुराहो में 27 डिग्री तापमान दर्ज किया गया।

Kolar News

Kolar News 6 June 2022

माध्यमिक शिक्षा मण्डल, मध्यप्रदेश द्वारा संचालित हाईस्कूल/हायर सेकंडरी/ हायर सेकेंडरी व्यावसायिक पाठ्यक्रम (द्वितीय अवसर) की पूरक परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड कर दिए गए हैं।  परीक्षार्थी अपना प्रवेश पत्र ऑनलाइन  डाउनलोड कर उसका प्रिंट निकाल सकते हैं। हायर सेकंडरी की पूरक परीक्षाएं 20 जून, तथा हाईस्कूल 21 से 30 जून तक तथा हायर सेकंडरी व्यावसायिक द्वितीय अवसर पूरक परीक्षा 21 से 27 जून तक होंगी। परीक्षा के आवेदन पत्र निर्धारित शुल्क जमा कर परीक्षा प्रारंभ के एक दिन पहले तक भरे जा सकते हैं। इसके अलावा एक अन्य मामले में मध्यप्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा-2018 के अभ्यर्थियों का कहना है कि स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से उच्च व माध्यमिक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया 4 साल से धीमी गति से चल रही है। पात्रता परीक्षा में पास होने के बावजूद अभ्यर्थियों को नियुक्ति प्रक्रिया के लिए धरना-प्रदर्शन करना पड़ रहा है। उधर, उत्तीर्ण अभ्यर्थियों की द्वितीय काउंसलिंग पद वृद्धि के साथ बिना देरी शुरू करने की मांग के समर्थन में विधायक पीसी शर्मा ने सीएम शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में शिक्षकों के 87,630 पद रिक्त हैं, इसके बाद भी नाममात्र की नियुक्तियां अभी तक की गई हैं। यूपीएससी की परीक्षा में नॉम्स के विपरीत जाकर नीलबढ़ के मिलेनियम कॉलेज सेंटर पर परीक्षा देने आए परीक्षार्थियों से उनके नाम और मोबाइल नंबर रजिस्टर में लिखवाए गए। सुबह की पाली में नौ बजे से पहले ही लाइन लगवाकर उनके नाम लिखवाए गए। कुछ छात्रों ने इसका विरोध किया तो वहीं कुछ परिजनों ने भी उनसे कहा कि यूपीएससी इस तरह की जानकारी नहीं लेता है तो वे क्यों उनके नाम और मोबाइल नंबर ले रहे हैं। लेकिन कर्मचारी नंबर लेता रहा।

Kolar News

Kolar News 6 June 2022

आज पूरा देश विश्व पर्यावरण दिवस मना रहा है। लोग इस दिन पेड़-पौधे लगाने के साथ ही पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने के उपाय भी करते हैं। लेकिन पर्यावरण के प्रति ये प्रेम महज 1 दिन में कोई फायदा नहीं पहुंचाता है। अगर आप भी पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाना चाहते हैं, तो हर दिन कुछ ऐसा करें, जिससे निश्चित ही किसी न किसी रूप में हमारी प्रकृति और पर्यावरण का विकास हो सके। शहर में ऐसे सैकड़ों लोग हैं, जो हर दिन सुबह से शाम तक सेवा का भाव मन में लेकर पर्यावरण सरंक्षण के लिए काम कर रहे हैं। समाजसेवी जितेंद्र परमार पिछले 15 सालों से गरीब व झुग्गी - झोपड़ी में रह रहे लोगों के लिए सेवा का कार्य कर रहे हैं। उनका मुख्य उद्देश्य गरीब लोगों के लिए स्वच्छ पानी की व्यवस्था करना है। ये काम उन्होंने तब शुरू किया जब उन्होंने देखा कि लोग पानी के लिए घंटों तक परेशान होते हैं। फिर भी उन्हें पीने के लिए शुद्ध जल नहीं मिल पाता है। उनका कहना है कि लोगों को जल संरक्षण को लेकर रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम पर काम करना चाहिए। ताकि घर बनाने या पेड़-पौधों में पानी देने के लिए उसका प्रयोग कर सकें। नंदन नरोला बीते 4 साल से सस्टेनेबल जीवन यापन कर रहे हैं। अपनी दिनचर्या में रात में साइकिलिंग, रनिंग, रात में समय से खाना खाना, टाइम से सोने जैसी आदतों को अपनी लाइफ में शामिल कर रहे हैं। साथ ही वह इस काम के लिए अन्य लोगों को भी प्रेरित करते हैं। वह बाजारों की सब्जियों को न खाकर घर में उगाई हुई सब्जियों को खाना पसंद करते हैं। इसके साथ साथ वह उन चीजों का बिल्कुल प्रयोग नहीं करते जो रिसाइकिल नहीं होती है। इस पर्यावरण दिवस पर वह लोगों को संदेश देना चाहते हैं कि पर्यावरण सुरक्षा में जितना हो सके अपना योगदान दें। इसके अलावा अपने आस पास गंदगी बिल्कुल न होने दें। मीता वाधवा अपने मां-बाप की प्रेरणा से बचपन से ही प्लांटेशन का काम करती आ रही है। उन्होंने बताया कि बचपन में हम सिर्फ फलों वाले पेड़ पौधों को लगाते थे। ताकि बच्चों को ताजा फल खाने को मिल सकें, लेकिन फिर मैं एक संस्था से जुड़ी और पर्यावरण को लेकर प्लांटेशन का काम किया। वह अबतक अन गिनत संख्या में पेड़-पौधे लगा चुकी हैं और इसके लिए उन्हें पर्यावरण दिवस की जरूरत नहीं पड़ती, वो कहती हैं कि उनके लिए हर दिन खास होता है। उन्होंने बताया कि ड्रीम भोपाल और ग्रीन भोपाल के तहत सोमवार से 100 दिन के अंदर 3 हजार पेड़ लगाए जाएंगे। इस मौके पर मीता वाधवा लोगों को संदेश देना चाहती हैं कि हम सभी को एक दिन नहीं बल्कि पूरे साल प्लांटेशन करना चाहिए।

Kolar News

Kolar News 5 June 2022

देश में महंगाई आसमान छू रही है। आम इंसान को खरीदारी करने में अपनी आधी से ज्यादा कमाई लगानी पड़ रही  है। ये सिर्फ  मध्यप्रदेश की बात नहीं है। देश के सभी राज्यों में महंगाई बढ़ी हुई है। जनता सरकार से पूछती है की देश में महंगाई कब तक रहेगी। मध्यप्रदेश में जिस तरह महंगाई बढ़ रही है। भोपाल की करोंद अनाज मंडी में शुक्रवार को करीब 200 क्विंटल मूंग की आवक हुई, जबकि भाव 5 हजार से 5500 रुपए प्रति क्विंटल तक रहे। दूसरी ओर गेहूं के रेट बढ़े है। मंडी व्यापारी संजीव कुमार का कहना है सभी सामान और महंगे होंगे और लोगों को परेशानी होगी। मंडी में पांच दिन से हरे मूंग की आवक हो रही है। हर रोज 200 से 250 क्विंटल तक नया मूंग बिकने आ रहा है। जिसके भाव 5 हजार रुपए क्विंटल से अधिक चल रहे हैं। गेहूं के रेट में भी थोड़ी बढ़ोतरी हुई है। मिल क्वॉलिटी का गेहूं दो हजार के पार है, जबकि अन्नपूर्णा गेहूं 2250 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक रहा है। शरबती के भाव 3500 रुपए क्विंटल तक चल रहे हैं। आवक तीन हजार क्विंटल रही। सरकारी अनुदान के अनुसार सिर्फ मध्यप्रदेश में नहीं सभी राज्य में सभी चीज़ो के दाम बढ़ेंगे और आम इंसान के जेब खर्च पे असर पड़ेगा।  इस महीने नींबू ने दांत किए खट्टे तो अब टमाटर हुआ लाल। सभी चीज़ो के दाम बढने से आम जनता परेशान है। महंगाई बढ़ने से विपक्ष को मौका मिला रहा है मौजूदा सरकार पर सवाल उठाने का । जनता का कहना है की यदि इसी तरह महंगाई बढ़ती रही तो , आने वाले राज्यसभा चुनाव पर असर पड़ेगा।सरकार चुनाव हार भी सकती हैं। 

Kolar News

Kolar News 4 June 2022

मध्यप्रदेश में हर 2 मिनट में औसत 8 बच्चे जन्म ले रहे हैं। इस अवधि में उत्तर प्रदेश में 22 बच्चे जन्म ले रहे हैं। सैंपल रजिस्ट्रेशन सिस्टम (एसआरएस) के आधार पर तैयार की एक रिपोर्ट में ये तथ्य सामने आए हैं। इधर, स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, मध्य प्रदेश का टोटल फर्टिलिटी रेट 2.3 प्रतिशत है। जबकि राष्ट्रीय स्तर पर टीएफआर 2.2 फीसदी है। आदर्श फर्टिलिटी दर 2.1 प्रतिशत मानी जाती है।मध्यप्रदेश में जनसंख्या वृद्धि की ये स्थिति तब है, जब यहां सरकार ने पिछले पांच वर्ष में परिवार नियोजन कार्यक्रम पर करीब 1200 करोड़ रुपए आवंटित किए और 967 करोड़ रुपए खर्च भी किए जा चुके हैं।देश में कहां-कितने बच्चे ले रहे हैं जन्म (हर दो मिनट में जन्म लेने वाले औसत बच्चों की संख्या)उत्तरप्रदेश : 22बिहार : 12मध्यप्रदेश : 08राजस्थान : 07महाराष्ट्र : 07गुजरात : 05प.बंगाल : 05जबकि साल 2011 में जनगणना 2011 के अंतरिम आंकड़ों के अनुसार मध्य प्रदेश की जनसंख्या बढ़कर सात करोड़ 25 लाख 97 हजार 565 हो गई थी। यह बढ़ोतरी राज्य में इससे पिछले दशक की जनगणना वृद्धि दर से चार प्रतिशत कम थी। मध्यप्रदेश के संदर्भ में तत्कालीन जनगणना निदेशक सचिन सिन्हा ने जनगणना 2011 के अंतरिम आंकड़े जारी करते हुए कहा था कि प्रदेश के दस संभागों के तहत 50 जिलों में 476 शहरों एवं 342 तहसीलों के 54903 ग्रामों में संकलित जनगणना आंकड़ों के आधार पर राज्य की कुल जनसंख्या सात करोड़ 25 लाख 97 हजार 565 है, जिसमें 3,76,12,920 पुरुष एवं 3,49,84,645 महिलाएं हैं। वहीं उस समय राज्य में सर्वाधिक जनसंख्या इंदौर जिले की 3272335 थी एवं सबसे कम जनसंख्या हरदा जिले की 570302 थी। जनगणना 1991-2001 के बीच प्रदेश की जनसंख्या वृद्धि दर 24.3 थी, जो 2001-2011 के दशक में घटकर 20.3 हो गई थी, यानी पिछले दशक की तुलना में वर्तमान दशकीय जनसंख्या वृद्धि दर में चार प्रतिशत की कमी दर्ज की गई थी। वहीं साल 2011 में राज्य में सर्वोच्च स्त्री-पुरुष अनुपात बालाघाट जिले में रहा, जहां उस समय प्रति हजार पुरुषों पर 1021 महिलाएं थी, जबकि न्यूनतम भिंड जिले में थी, जहां प्रति हजार पुरुषों पर 838 महिलाएं थी।

Kolar News

Kolar News 3 June 2022

सरकारी तेल कंपनियों ने सुबह 6 बजे पेट्रोल-डीजल (Petrol-Diesel) की नई कीमत जारी कर दी है। हालांकि शुक्रवार 3 जून को फ्यूल के दाम में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 21 मई को केंद्र की मोदी सरकार ने वाहन ईंधन (पेट्रोल-डीजल) (Petrol Diesel Price) की कीमत कम कर आम आदमी की राहत दी थी। सरकार द्वारा पेट्रोल पर 8 रुपये और डीजल पर 6 रुपये एक्साइज ड्यूटी कम कर दी गई। इसके बाद पेट्रोल 9.50 रुपये और डीजल 7 रुपये प्रति लीटर सस्ता हो गया है। वहीं अब ओपेक, रूस समेत अन्य सहयोगी देशों के बीच कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ाकर प्रतिदिन 6.48 लाख बैरल करने पर सहमति बनी है। इस फैसले से दुनियाभर में पेट्रोल और डीजल की कीमतें नीचे आने की उम्मीद बढ़ी है।मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पेट्रोल की कीमत 108.45 रुपये प्रति लीटर है। और डीजल के दाम 93.72 रुपये प्रति लीटर हो गए हैं। इंदौर में आज पेट्रोल के रेट 108.95 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत 94.21 रुपये प्रति लीटर है। ग्वालियर में पेट्रोल के रेट 108.54 रुपये प्रति लीटर और डीजल 93.80 रुपये प्रति लीटर मिलेंगे।पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव रोजाना सुबह 6 बजे होता है। सुबह 6 बजे से ही नई दरें लागू हो जाती हैं। पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है। विदेशी मुद्रा दरों के साथ अंतर्राष्ट्रीय बाजार में क्रूड-र्व की क्या हैं। इस आधार पर रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। 

Kolar News

Kolar News 3 June 2022

मध्यप्रदेश राजधानी भोपाल के पास बिशन खेड़ी में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय (एमसीयू) का नया भवन आकार ले रहा है। 50 एकड़ वाला यह कैंपस देश के किसी भी पत्रकारिता विश्वविद्यालय का पहला ऐसा परिसर है, जो इतने बड़े क्षेत्र में होगा। नए कैंपस का काम लगभग पूरा हो गया है।अब उम्मीद जताई जा रही है कि नए शैक्षणिक सत्र से विद्यार्थियों को इसी कैंपस में पढ़ाई कराई जाएगी। करीब 160 करोड़ रुपए की लागत से बन रहे इस कैंपस में पढ़ाई-लिखाई और खेलकूद के साथ बैंकिंग तक की सुविधा होगी। यहां प्रदेश का सबसे बड़ा सभागार होगा। सबसे बड़ी लाइब्रेरी होगी। इसे नालंदा पुस्तकालय नाम दिया है। यहां मध्य भारत का सबसे बड़ा फिल्म अध्ययन विभाग भी होगा। पत्रकार कैफे की सुविधा भी रहेगी।विश्वविद्यालय के नए कैंपस में नेशनल म्यूजियम, इंटीग्रेटड क्लॉस रूम सहित विश्वस्तरीय ऑनलाइन क्लास की सुविधा होगी। यहां इंडोर बैंकिंग भी विद्यार्थियों को मिलेगी। बता दें, विश्वविद्यालय द्वारा पत्रकारिता, मास कम्युनिकेशन, पब्लिक रिलेशन, लाइब्रेरी एवं इंफॉर्मेशन साइंस और फोटोग्राफी से लेकर उच्च स्तरीय इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, रेडियो, टेलीविजन, वीडियोग्राफी, प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी आदि के कोर्स संचालित किए जाते हैं। विश्वविद्यालय के कुलपति केजी सुरेश ने बताया, दो दिन पहले नए कैंपस का निरीक्षण किया है। हाउसिंग बोर्ड को जल्द से जल्द काम पूरा करने के निर्देश दिए हैं। ये तय है कि हम नए सत्र में नए कैंपस में जरूर प्रवेश करेंगे। काम पूरा होते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उद्घाटन के लिए समय लिया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 2 June 2022

बढ़ती महंगाई के बीच एक आम इंसान का घर बनाने का सपना काफी चुनौतीपूर्ण हो गया था। वजह थी आसमान छूते सरिये के दाम। लेकिन हालही में मध्य प्रदेश समेत देशभर में उन लोगों के लिए बहुत हद तक राहत की खबर है, जो इन दिनों अपना मकान बना रहे हैं या बनाने की तैयारी कर रहे हैं। उनके लिए इसी बीच आम इंसान के लिए राहत की खबर हैं। अभी कुछ ही समय पहले तक सरिये के भाव आसमान छू रहे थे। पिछले कुछ दिनों से सरिये के भाव में लगातार कमी आ रही है। कुछ समय पहले तक मध्य प्रदेश में 80 हजार रुपए क़्वींटल से ज्यादा तक बिकने वाले सरिये के दाम अब घटते घटते करीब 60 हजार रुपए क्विंटल के पास आ चुके हैं। यानी आमजन को करीब 20 हजार रुपए क़्वींटल तक की राहत मिली है।सरिये के दामों में लगातार गिरावट इसलिए आ रही है। क्योंकि सरकार द्वारा स्टील पर हाल ही में एक्सपोर्ट ड्यूटी बढ़ाई गई है। ऐसे में भारतीय स्टील की बिक्री विदेशों में घटने से देश में इसकी आपूर्ति बढ़ी है। और घरेलू बाजार में स्टील उत्पादों के दामों में भी गिरावट आ रही है। मध्य प्रदेश के एक्सपर्ट्स का मानना है कि, जैसे जैसे सरिये की आपूर्ति होती जाएगी, इसके दामों में गिरावट आगे और भी बढ़ती जाएगी। जानकारों के अनुसार सरिये के दामों में करीब पांच हजार रुपए की और कमी हो सकती हैं।  सरिये के दामों में आने वाली गिरावट का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि, अप्रैल में एक समय सरिया का खुदरा भाव 82 हजार रुपये प्रति टन तक पहुंच गया था, जो अभी घटते घटते 62-63 हजार रुपए प्रति टन पर आ पहुंचा है। ब्रांडेड सरिये का भाव भी पिछले कुछ महीने में 5-6 हजार रुपये क्विंटल कम हो चुके हैं। अभी ब्रांडेड सरिये का भाव भी कम होकर 92-93 हजार रुपए प्रति टन पर आ पहुंचा है। वहीं, एक माह पहले ही इसका भाव 98 हजार रुपए प्रति टन पर था।सरकार ने आसमान छूती महंगाई को कम करने के लिए डीजल और पेट्रोल पर टैक्स घटाया है। साथ ही, एक्सपोर्ट ड्यूटी में बढ़ोतरी की है, ताकि घरेलू बाजार में स्टील की कीमतें नियंत्रित की जा सकें। दामों में कमी आने का ये तो सरकारी फैक्टर हैं। इसके साथ ही, बारिश का मौसम शुरू होते ही निर्माण कार्यों में कमी आने लगती है, जिससे बिल्डिंग मटीरियल्स की डिमांड खुद ब खुद घटने लगती है। मार्केट में जैसे ही डिमांड गायब होती है, सरिया समेत अन्य बिल्डिंग मटेरियल के दाम खुद ब खुद गिर जाते हैं।

Kolar News

Kolar News 2 June 2022

महीने का पहला दिन आम लोगों के लिए बड़ी राहत लेकर आया है। देश की प्रमुख गैस कंपनी ने बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर (LPG Cylinder Price Today) पर 135 रुपये की की भारी कटौती की है। 19 किलो वाला सिलेंडर 130.50 रुपये से 135 रुपये तक सस्ता हो गया है। और इसी तरह 47.5 किलो वाले सिलेंडर की भी कीमत 327.00 रुपये घटा दी गई है। इसकी नई दरें एक जून से प्रभावी हो गई हैं। बता दें कि पेट्रोलियम कंपनी इंडियन ऑयल ने कमर्शियल सिलेंडर के रेट में यह कटौती की है, जबकि घरेलू एलपीजी सिलेंडर उपभोक्ताओं को कोई राहत नहीं मिली है। 14.2 किलो वाले घरेलू सिलेंडर न सस्ता हुआ है और न ही महंगा। यह अब भी 19 मई वाले रेट से ही मिल रहा है।अब 2362 रुपये का मिलने वाला व्यवसायिक गैस सिलेंडर 2322 की जगह 2227 रुपये का बुधवार से मिलने लगा है। इससे आगामी दिनों में लोगों को महंगाई से थोड़ी राहत मिलेगी, हालांकि सिलेंडर के दाम कम होने पर व्यवसायिक सिलेंडर का इस्तेमाल करके रेस्टोरेंट, होटल व खाद्य पदार्थों के ठेले वाले दाम कम करेंगे या नहीं ,यह मुश्किल है। बता दें मई में घरेलू एलपीजी सिलेंडर के उपभोक्ताओं को दो बार झटका लगा था। घरेलू सिलेंडर के रेट महीने में पहली बार 7 मई को 50 रुपये बढ़ाए गए थे और 19 मई को भी घरेलू एलपीजी गैस सिलेंडर के दाम में वृद्धि की गई। सात मई को एलपीजी के रेट में बदलाव की वजह से घरेलू सिलेंडर जहां 50 रुपये महंगा हुआ तो वहीं, 19 किलो वाला कमर्शियल सिलेंडर करीब 10 रुपये सस्ता हुआ। 19 मई को इसके रेट में 8 रुपये की वृद्धि की गई । 19 किलो वाले सिलेंडर पर आज यानी 1 जून को सीधे 135 रुपये तक की राहत मिली है। अब 19 किलो वाला सिलेंडर दिल्ली में 2354 की जगह 2219, कोलकाता में 2454 की जगह 2322, मुंबई में 2306 की जगह 2171.50 और चेन्नई में 2507 की जगह 2373 रुपये बिकेगा। एक मई को इसमें करीब 100 रुपये का इजाफा हुआ था। वहीं, मार्च को 19 किलो वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमत दिल्ली में केवल 2012 रुपये थी। 1 अप्रैल को यह 2253 और 1 मई को बढ़कर 2355 रुपये पर पहुंच गया।

Kolar News

Kolar News 1 June 2022

मिट्टी की उर्वरकता बढ़ाने, पराली और केमिकल आधारित कीटनाशकों के विकल्प तैयार करने के लिए प्रदेश में साझा प्रयास हो रहे हैं। पहला लक्ष्य केमिकल आधारित खतरनाक फर्टिलाइजर, इंसेक्टिसाइड, पेस्टीसाइड की जगह सूक्ष्म जीवों के माध्यम से मिट्टी की उर्वरकता बढ़ाना है। वैज्ञानिक इसके लिए नवंबर 2021 से प्रदेश के 11 एग्रो क्लाइमेटिक जोन की जैव विविधता का आकलन कर रहे हैं। दूसरा किसानों को पराली ना जलाना पड़े, इसके लिए सूक्ष्म जीवों के जरिए डी-कंपोजर तैयार किया जा रहा है। इसके छिड़काव से पराली खाद में बदलकर मिट्टी में मिल जाएगी, जो फसल की उत्पादकता बढ़ाएगी। शोध में देखा जा रहा है कि प्रदेश में किस एग्रो क्लाइमेटिक जोन की मिट्टी में किस तरह के सूक्ष्म जीव हैं। इसके आधार पर पता चलेगा कि वहां की मिट्टी की उत्पादन क्षमता कितनी है और कौन की फसलें पर वहां ली जा सकती हैं। इनपुट कॉस्ट यानी रासायनिक उर्वरक-कीटनाशकों और सिंचाई पर होने वाले खर्च पर लगाम लगेगी। किसान को लागत घटने पर फायदा ज्यादा होगा। संबंधित क्षेत्र की जैव विविधता बढ़ेगी। अंतर्वर्ती फसलें व फसलों का चक्रीकरण बढ़ जाएगा। भू-जल स्तर गिरने से रोका जा सकेगा। जलवायु परिवर्तन पर कुछ हद तक रोक लगेगी।शोध में देखा जा रहा है कि प्रदेश में किस एग्रो क्लाइमेटिक जोन की मिट्टी में किस तरह के सूक्ष्म जीव हैं। इसके आधार पर पता चलेगा कि वहां की मिट्टी की उत्पादन क्षमता कितनी है और कौन -सी  फसलें पर वहां ली जा सकती हैं। इनपुट कॉस्ट यानी रासायनिक उर्वरक-कीटनाशकों और सिंचाई पर होने वाले खर्च पर लगाम लगेगी। किसान को लागत घटने पर फायदा ज्यादा होगा। संबंधित क्षेत्र की जैव विविधता बढ़ेगी। अंतर्वर्ती फसलें व फसलों का चक्रीकरण बढ़ जाएगा। भू-जल स्तर गिरने से रोका जा सकेगा। जलवायु परिवर्तन पर कुछ हद तक रोक लगेगी।

Kolar News

Kolar News 1 June 2022

तंबाकू उत्पादों पर सबसे टैक्स होने के बावजूद इनकी खपत लगातार बढ़ती जा रही है। बदलते दौर के साथ अब सिगरेट का चलन ज्यादा बढ़ रहा है। इसके बाद गुटखा, पान मसाला, बीड़ी, खैनी आदि का नंबर आता है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भोपाल में रोजाना 2 करोड़ रुपए से अधिक के तंबाकू उत्पाद बिक जाते हैं। मप्र में ये आंकड़ा 12 करोड़ से अधिक हुआ है। स्वास्थ्य एवं टैक्स से जुड़े लोगों से जानना चाहते है ,की आखिर तंबाकू एवं इससे जुड़े उत्पादों की क्या स्थिति है। सर्वाधिक टैक्स होने के बावजूद इन उत्पादों की खपत में कमी आई या नहीं। खपत के आंकड़े बताते हैं कि तंबाकू एवं इससे बनने वाले उत्पादों की खपत में कमी नहीं आई है, बल्कि तेजी आई है। लोग बड़े चाव से तम्बाकू खा रहे है। और युवा को शराब को ज्यादा चाह है जिसकी वजह से देश में शराब बहुत ज्यादा बिक रही है। बाजार में नए-नए फ्लेवर के तंबाकू युक्त गुटखों की खपत तेजी से बढ़ी है। सिगरेट की मांग सबसे ज्यादा बढ़ी है। व्यापारियो  का कहना है कि ग्रामीण स्तर पर पहले जहां तंबाकू , बीड़ी का चलन ज्यादा हुआ करता था, वहां अब महंगी सिगरेट के साथ तंबाकू युक्त पाउच ज्यादा उपयोग होने लगे है।  तंबाकू, सिगरेट आदि पर 28 प्रतिशत टैक्स लगता है, जो अन्य सामानों से सबसे ज्यादा है। सरकार एक तरफ तो हर साल तंबाकू निषेध दिवस (31 मई) को बनाती है। वहीं दूसरी तरफ सरकार को सबसे ज्यादा टैक्स इन्हीं उत्पादों से मिलता है। सिगरेट पर लंबाई के हिसाब से टैक्स निर्धारित है। सीए मृदुल आर्य कहते हैं कि तंबाकू-सिगरेट आदि के रेट लगातार बढ़ रहे हैं। इससे सरकार के खजाने में भी इजाफा हो रहा है। टैक्स एक्सपर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश सरकार को सालाना एक से डेढ़ हजार करोड़ रुपए का टैक्स उत्पादों पर मिलता है।

Kolar News

Kolar News 31 May 2022

यूपीएससी ने सिविल सेवा परीक्षा के फाइनल के नतीजे सोमवार को घोषित हुआ  । इसमें राजधानी से 22 वर्षीय सोनाली परमार को एआईआर-187वीं हासिल हुई है। उन्होंने पहले अटेम्प्ट में ही एग्जाम क्लियर कर लिया। उन्होंने 12वीं साइंस स्ट्रीम से की, लेकिन सिविल सर्विस में जाने के लिए इस सब्जेक्ट को छोड़ दिया और जबलपुर विवि से एग्रीकल्चर से ग्रेजुएशन किया।सोनाली ने बताया कि मैंने 12वीं बायोलॉजी सब्जेक्ट से की, लेकिन मेरा विजन बिल्कुल क्लीयर था, इसलिए नीट देने की बजाए बीएससी एग्रीकल्चर में एडमिशन लिया। मेरे पापा राजेन्द्र और मम्मी अर्चना दोनों एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट में ही असिस्टेंट डायरेक्टर हैं। उन्होंने मुझे मोटिवेट किया कि जीवन में करियर की जो भी राह चुननी है चुनों, लेकिन उस काम को पूरी ईमानदारी से करो। मैंने इसे ही मूलमंत्र बनाया। हर दिन 10 से 12 घंटे पढ़ाई करती थी। मैंने सब्जेक्ट और एनसीईआरटी बुक्स दोनों से पढ़ाई की। मैंने किसी भी सब्जेक्ट को कॉलेज एग्जाम स्कोरिंग के हिसाब से ही नहीं परखा, हर चैप्टर की डीप स्टडी करती थी, हर घटना के पीछे के कारण जानने की कोशिश करती, इससे मेरा विजन बेहतर होता चला गया। मॉक टेस्ट देंगे तो आपको तैयारी का स्तर पता चलता रहेगा, इसलिए लगातार मॉक टेस्ट देती थी। मेंस में आपको बहुत लिखना होता है, निबंध लेखन में अच्छी मार्किंग लाई जा सकती है। इसलिए मैं रोज लिख-लिखकर ही तैयारी करती थी। इंटरव्यू की तैयारी के लिए दिल्ली चली गई थी, यहां बेहतर एक्सपोजर मिला। मुझे फिल्में देखना बहुत पसंद है तो मुझसे पूछा गया कि आपने लास्ट फिल्म कौन से देखी थी और इससे समाज को क्या मैसेज मिला। मैं सीहोर से हूं तो पूछा गया कि सीहोर किस तरह से अर्बन बन रहा है। अर्बन और एग्रीकल्चर के बीच डीएम बनने के बाद किस तरह से बैलेंस बनाएंगे।

Kolar News

Kolar News 31 May 2022

मध्यप्रदेश  की आर्थिक स्थिती कोरोना काल मे  जिस तरह  गिरी थी। बेरोज़गारी बढ़ी लोगो की नौकरी गयी ।  लेकिन जब कोरोना धीरे धीरे ख़त्म हो रहा है।अब मध्यप्रदेश निवेश की राह पर बढ़ने की तैयारी में है। जनवरी 2023 में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट से पहले निवेश का नया प्लान तैयार कर लिया है। मध्य प्रदेश सरकार ने 50 से ज्यादा मल्टीनेशनल कंपनियां निवेश के लिए आतुर हैं। इनमें से कुछ से प्रारंभिक सहमति बन गई है तो कुछ जगह को लेकर परेशानी में हैं। आने वाले दिनों में आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस (एआइ) और ड्रोन उद्योग से लेकर टैक्सटाइल-वेयरहाउसिंग जैसे परंपरागत उद्योगों तक में नए क्लस्टर इंडस्ट्रीज , इस इन्वेस्टमेंट में सबसे बड़ा योग्दान विराज इंडस्ट्रीज का होगा। हम आपको बता दें कि ,कोरोना संक्रमण के कारण विदेशी निवेश लगभग देश और प्रदेश से चला ही गया था । ऐसे में बंदिशों के कारण मध्यप्रदेश विदेशी निवेश को लेकर खास काम नहीं कर रहा था। अब स्थिति बदलने से वापस विदेशी निवेश पर फोकस किया जा रहा है। सीएम शिवराज सिंह चौहान अगस्त में विदेश दौरा करेंगे। इस बीच विभागीय स्तर पर विदेशी कंपनियों से निवेश को लेकर बातचीत जारी है। और विदेशी कंपनियां को मध्यप्रदेश सरकार युवा के लिए कुछ करने में जुटी है।   सीएम शिवराज सिंह ने कहा, की प्रदेश में यार्न और फैब्रिक निर्माण उद्योग के विकास के लिए सरकार पूरा सहयोग देगी। नई इकाइयों की स्थापना से रोजगार भी आने वाले हैं । उद्योगपतियों ने कहा कि वे दो 500 करोड़ रुपए निवेश करने के इच्छुक हैं।इससे करीब तीन हजार लोगों को रोजगार मिल सकेगा। दरअसल, सीएम हाउस पर सोमवार को मराल ओवरसीज लिमिटेड के चेयरमैन शेखर अग्रवाल, एचईजी के कार्यकारी निदेशक मनीष गुलाटी और असिस्टेंट वाइस प्रेसिडेंट मनोज ठक्कर ने सीएम से मुलाकात की। उद्योगपतियों ने निवेश की जानकारी दी। उन्होंने बताया, खरगोन के खाल बुजुर्ग में टैक्सटाइल इकाई में काटॅन मिलांज यार्न उत्पादन प्रस्तावित है। विधान सभा  चुनाव होने से पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान युवा को बड़ी सौगात देने जा रहे हैं।  इस इन्वेस्टमेंट प्रोग्राम को विधान सभा चुनाव से जोड़ा जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्रीं कामनाथ ने शिवराज पर तंज़ कस्ते हुए कहा की , 17 सालो से आप की सरकार थी तब आप ने कुछ नहीं किया।  अब जब जनता आप से नाराज़ है तब आप को जनता की पड़ी हैं। अब आप कुछ भी कर लीजिये जनता को अब बदलाव चाहिए।   

Kolar News

Kolar News 31 May 2022

भोपाल. मध्य प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर का प्रभाव खत्म होने के बाद जहां एक तरफ लोगों ने अभी  राहत की सांस ली थी। कि, एक बार फिर प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी आने लगी है। यहां लगातार कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोतरी होने लगी है। रविवार को प्रदेशभर में 7443 संदिग्धों की जांच की गई, जिनमें से 45 नए मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। चिंता की बात ये है कि, इनमें सबसे अधिक मामले राजधानी भोपाल में सामने आए हैं। यहां बीते 24 घंटों के दौरान 11 संक्रमित पाए गए हैं। प्रदेश के मौजूदा हालातों पर गौर करें तो यहां के अलग-अलग अस्पतालों में अभी 10 मरीज भर्ती हैं। इनमें से 2 ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। प्रदेश में पिछली दोनों लहरों से लेकर अब तक 10 लाख 42 हजार 563 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। इनमें से 10 लाख 31 हजार 509 लोग ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं। जबकि, कोरोना के कारण अब तक 10 हजार 536 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। वहीं, रविवार तक 32 मरीज ठीक भी हुए हैं। प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या 318 हो गई है।24 घंटे में कहां कितने संक्रमितों की पुष्टिमौजूदा समय में मध्य प्रदेश के 17 जिलों में कोरोना के एक्टिव केस हैं। इनमें आगर मालवा में 1 भोपाल में 11, छतरपुर में 1, दतिया में 2,होशंगाबाद में 4 डिंडौरी में 1, 2 बैतू, ग्वालियर में 2,  इंदौर में 4, जबलपुर में 2, खरगोन में 1,हरदा में 1, निवाड़ी में 1, 6 रायसेन में  सीहोर में 1, , टीकमगढ़ में 3 और उज्जैन में 2 पॉजिटिव मिले हैं।

Kolar News

Kolar News 30 May 2022

कोरोना काल में हिंदू लोग धर्मस्थलों पर नहीं जा सके थे। कोरोना संक्रमण में आई कमी के चलते रेलवे की ओर से लगातार यात्रियों को सुविधाएं प्रदान करने के लिए कई तरह के कदम उठाए जा रहे हैं। जहां एक ओर इस महामारी के दौरान ट्रेनों में जनरल टिकट पर लगी रोक को हटाने के साथ ही ट्रेनों में अतिरिक्त कोच की व्यवस्था की जा रही है तो वहीं अब रानी कमलापति रेलवे स्टेशन से कामाख्या के बीच विशेष ट्रेन चलाई जाएगी।यह ट्रेन साप्ताहिक होगी। इसकी शुरुआत दो जून से होगी। यह दो जुलाई तक चलेगी। ट्रेन होशंगाबाद, इटारसी, पिपरिया, गाडरवारा, नरसिंहपुर, जबलपुर, कटनी, मैहर, सतना, मानिकपुर, छिवकी, मिर्जापुर, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन, बक्सर, आरा, दानापुर, पाटलियत्र, हाजीपुर, बरौनी, बेगूसराय, खगड़िया, नवगछिया, कटिहार, किशनगंज, न्यू जलपाईगुड़ी, न्यू कूच बिहार, न्यू बोंगाईगांव एवं रंगिया स्टेशनों पर ठहराव लेगी। ट्रेन संख्या 01663 रानी कमलापति-कामाख्या साप्ताहिक स्पेशल दो से 30 जून तक प्रति गुरुवार को रानी कमलापति स्टेशन से दोपहर 3.30 बजे चलकर, शाम 4.28 बजे होशंगाबाद, शाम 5.05 बजे इटारसी और तीसरे दिन सुबह 4.30 बजे कामाख्या स्टेशन पहुंचेगी। इस खबर से श्रद्धालु  काफी खुश हैं की अब वे माँ कामाख्या के दरबार में आसानी से जा सकेंगे। प्रदेशवासियों ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव  का धन्यवाद किया है।

Kolar News

Kolar News 30 May 2022

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने युवाओं की रोजगार को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए, प्रत्येक माह में रोजगार मेले का आयोजन करने का निर्णय लिया था। इसी तारतम्य में मध्यप्रदेश के राजधानी भोपाल के गोविंदपुरा आईटीआई कॉलेज में रोजगार मेले का आयोजन किया गया है। रोजगार मेले में करीब 500 से 600 विद्यार्थी आये और उनमें से करीब 250 विद्यार्थियों का चयन हुआ है। जिन्हें रोजगार मिला है। रोजगार मेले में ₹10हजार से लेकर ₹20हजार तक के नौकरी देने के लिए कंपनी पहुंची थी। इसमें करीब 25 कंपनी पहुंची थी और राजधानी भोपाल में करीब 600 बेरोजगार युवा रोजगार लेने के लिए पहुंचे थे।रोजगार मेले में पहुंचे आवेदकों ने बताया कि उन्हें रोजगार मिला है और वह आवेदन लेकर पहुंचे हैं। उन्हें रोजगार मेले में ₹15000 तक का रोजगार दिया गया है। इस रोजगार मेले में इंदौर से कंपनी भी पहुंची थी। जिसमें लुपिन,एंबुलेंस 108 और अन्य कंपनियां शामिल है। आवेदक ने बताया कि कम से कम 15 हजार की नौकरी जरूरी है। जिससे आज घर परिवार का खर्चा चलाया जा सकता है। इससे कम वेतन की नौकरी में घर परिवार चलाना भी मुश्किल है।रोजगार मेले के ऑर्गेनाइजर गिरीश पाल ने बताया कि रोजगार मेले में किसी भी तरह का शुल्क नहीं लिया जाता है। यदि रोजगार मेले में  कोई किसी तरह का शुल्क लेता है, तो ऑर्गेनाइजेशन जिसने रोजगार मेले का इवेंट ऑर्गेनाइज किया है। वे सीधे उनसे संपर्क कर, उस कंपनी के विषय में शिकायत कर सकते हैं। जिस पर जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। रोजगार मेले का आयोजन पूरी तरह से  सरकार की ओर से किया जाता है। रोजगार विभाग इसका आयोजन करता है और इस रोजगार मेले में कई बेरोजगार नौजवानों को रोजगार भी मिलता है। रोजगार मेले में रोज़गार पर लोग बहुत खुश है। युवा लोगो ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का धन्यवाद किया।  जिसको रोज़गार मिला उनके माता पिता भी आज काफी खुश दिख रहे थे। युवा लोगो ने शिवराज सिंह को आशीर्वाद देते हुए कहा की आप हमेशा मुख्यमंत्री बने। 

Kolar News

Kolar News 29 May 2022

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा की अब हम हर अस्पताल में आयुर्वेदिक इलाज  का इंतेज़ाम करेंगे। और आयुष्मान भारत योजना के तहत जिला अस्पातलो को आयुष विंग बनाये जायेंगे। आयुष मंत्रालय  में रोगी कल्याण समिति का गठन किया जायेगा। जिससे सभी प्रदेशवासियों को आयुर्वेदिक इलाज में मदद मिल सके। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उज्जैन में आयोजित अखिल आयुर्वेदिक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा ,की आयुर्वेद हमारा पुराना गौरव है। हमारे पूर्वज कितने रोगों को आयुर्वेद से ठीक करते थे। लेकिन हम आज अंग्रेजी दवाई को चुनते है। अंग्रेजी दवाई हमें अंदर से कमज़ोर बना देती है। जबकि आयुर्वेदिक दवाई हमारी पूरी बीमारी को जड़ा से खत्म कर देती। अपितु हमें अंदर से मजबूत बनती है। वही भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी ने डॉक्टरों  के साथ होने वाली गठन को लेकर, कहा डॉक्टर्स हमारी जान बचाते है। कुछ डॉक्टर से गलती हो जाती है , मगर आप उनको मारते हो। डॉक्टर्स हमारे लिए भगवान है। उनका आदर करे और मानव की तरह से डॉक्टर के साथ पेश आये।मुख्यमंत्री ने कहा की हमारे सरकार का उद्देश्य  जनता तक आयुर्वेदिक इलाज पहुंचना और लोगो को स्वस्थ बनाना है। लोगो तक स्वस्थ योजना पहुंचाना हमारा परम कर्तव्य है। 

Kolar News

Kolar News 29 May 2022

मध्य प्रदेश  के सिंगरौली में जिले की 14 वीं वर्षगांठ पर महोत्सव मनाया जा रहा है। एनसीएल ग्राउंड बिलौजी में सिंगरौली महोत्सव सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया।  बॉलीवुड  गायक कैलाश खेर इसमें लोगों के आकर्षण का केंद्र रहे। कैलाश खेर के गानों ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। शुक्रवार रात जैसे ही कैलाश खेर मंच पर पहुंचे, दर्शकों ने तालियों से उनका स्वागत किया। कैलाश खेर ने ‘हो गई मैं तेरी दीवानी, जय जयकारा जय जयकारा स्वामी देना साथ हमारा, यारा तेरी याद, तू जाने ना, मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया,आदि  गीतों से लोगों का मन मोह लिया और दर्शक जमकर झूमे।  कार्यक्रम में गाने के बीच में कैलाश खेर ने सिंगरौली जिला और यहां के लोगों की खूब सराहना की। उन्होंने कहा कि उनका सिंगरौली से विशेष लगाव रहा है। यहां के लोगों का प्यार उन्हें बार बार खींच लाया है।  कैलाश खेर ने बेबाक अंदाज से तराने छेड़े। उन्होंने ‘क्या कभी अंबर से सूर्य बिछड़ता है, गाना गाया, जिसे सुनते ही पंडाल में बैठे लोगों ने तालियां बजानी शुरू कर दीं।  युवाओं ने उनके गानों पर जमकर सीटियां बजाईं।  कैलाश ने ‘देव’ फिल्म के गाने गाकर लोगों की खूब वाहवाही बटोरी।  उन्होंने ‘पिया के रंग रंग दीनी ओढ़नी’ समेत ‘तेरे बिन नहीं लगदा दिल मेरा ढोलना’ गाना गाकर लोगों का दिल जीत लिया।  कैलाश खेर ने कहा, ”मैं जुहू में रहता हूं, साथ ही फिल्मों में गायकी और काम करता हूं लेकिन कभी फिल्में नहीं देखता न ही मेरे घर पर टीवी है। उन्होंने कहा कि युवाओं को अपना लक्ष्य बनाकर मेहनत के साथ अपना कार्य करना चाहिए तभी तरक्की की उड़ान भर पाएंगे। उन्होंने जाते-जाते कहा की सिंगरौली के लोगों का प्यार मुझे यहां बार-बार खींच लाता है।

Kolar News

Kolar News 28 May 2022

इस समय मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक्शन मोड में दिख रहे है।  मुख्यमंत्री रोजाना सुबह अलग-अलग जिलों की समीक्षा बैठक कर रहे है। शुक्रवार  सुबह मुख्यमंत्री ने शाजापुर जिला की समीक्षा की। जिसमें स्कूल शिक्षा मंत्री ने भैसा चोरी की शिकयत की। जिस पर मुख्यमंत्री भड़क उठे और बैठक  ख़त्म होते ही, शाजापुर  एसपी पंकज श्रीवास्तव का तुरंत ट्रांसफर हो गया। और जगदीश डाबर को शाजापुर की कमान दी गयी।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुबह समीक्षा बैठक कर रहे। जिसमें उन्होंने पेयजल, बिजली,सड़क, सहित कई मुद्दों पर बात की , कानून को लेकर बात आई तो स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बैठक में भैसा चोरी का मामला उठा दिया। उन्होंने कहा की पहले से जिलावासी बाइक चोरी से परेशान  है। अब भैस चोरी सिरदर्द बन गया है। मंत्री की बात सुनते ही मुख्यमंत्री नाराज़ हो गए।  उन्होंने शाजापुर  एसपी को फ़ोन लगा कर कहा "एसपी साहब ये ठीक नहीं है", पुलिस का अपराधियों में इतना डर होना चाहिए की अपराधी जिला छोडकर भाग जाये। इतना ही नहीं उन्होंने तुरंत आइजी उज्जैन और डीजीपी को बैठक से जुड़ने का आदेश दिया। मुख्यमंत्री ने अपनी नारजगी उनके सामने जाहिर की। आइजी और डीजीपी से बात करने बाद उन्होंने तुरंत एसपी पंकज श्रीवास्तव का ट्रांसफर कर दिया गया। और उनकी जगह जगदीश डाबर को नियुक्त किया गया है। पंकज श्रीवास्तव का ट्रांसफर गुना में हुआ है। 

Kolar News

Kolar News 27 May 2022

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने बड़ा एलान किया है। उन्होंने कहा पुजारियों को हर माह मानदेय दिया जायेगा । सीएम के घोषणा के तहत  जिन पुजारिओं के पास मंदिर की जमीं नहीं है। उन्हें मध्य प्रदेश की सरकार 2.5 हजार रुपए प्रतिमाह देगी। और जिन पुजारियों के पास खुद की जमीन नहीं है सरकार उन्हें 5000 रूपए प्रतिमाह देगी। हम आपको बतादे की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने शुक्रवार को कई घोषणाएं की है । साथ ही होने वाले पंचायत चुनाव में पंचायत को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।  मुख्यमंत्री ने परशुराम जयंती के दिन पुजारियों को मानदेय देने की घोषणा की थी |  मध्यप्रदेश सरकार ने धार्मिक विभाग को आदेश देते हुए कहा  जिन मंदिरो के पास कृषि भूमि नहीं है , उन मंदिर के पुजारियों को 5 हज़ार रूपए प्रति माह दिया जायेगा। वही जिन मंदिरो के पास 5 एकड़ से कम भूमि है , उन्हें 2.5 हज़ार रूपए प्रति माह मिलेगा | इसी तरह जिस मंदिर के पास 10 एकड़ से ज्यादा भूमि है उन्हें कोई मानदेय नहीं दिया जायेगा । सरकार की  इस पहल से सभी लोग बहुत खुश नज़र आ रहे है । साथ ही रामनारयण गोस्वामी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का धन्यवाद किया

Kolar News

Kolar News 27 May 2022

मुरैना में आउटसोर्स कर्मचारी की मौत पर गुस्साई भीड़ ने विधुत टीम को दौड़ा कर खूब पीटा | बिजली विभाग खुश नसीब थे की जब गाँव वाले विधुत वालो को दौड़ा रहे थे ,तब पुलिस मौजूद थी | लेकिन पुलिस टीम बिजली विभाग वालो को पीटने से न बचा पायी | दरअसल गढ़ी गाँव में पिछले 8 दिनों से लाइट नहीं थी| गाँव के लोगो ने बिजली  विभाग से शिकायत की थी | जिसके बाद उसे ठीक करने आये आउटसोर्स कर्मचारी जयचंद सिंह जैसे ही इलेक्ट्रिक पोल पे चढ़ा , आचानक उससे  करंट लगा और उसकी तुरंत मौत हो गयी | जयचंद की मौत का पता जैसे ही ग्रामवासियों  को चला  ग्रामीण आक्रोश में आ गए | और लोगो ने बिजली विभाग के बड़े अधिकारियो को बुलाने को कहा | आक्रोशित ग्रामवासियो ने मुरैना तीराहे  पर चक्का जाम कर दिया। दोनों तरफ से आने जाने वाले   वाहनों को रोक दिया | जैसे ही ये बात पुलिस को पता चली मौके पर पुलिस तुरंत पहुंच गयी , और ग्रामवासियो को समझने लगी  मगर ग्रामीण बिजली विभाग के अधिकारियो को मौके पर बुलाने की  बात पर आड़े रहे |  घटना के ३ घंटे के बाद  विधुत विभाग के अधिकारी आये | विधुत विभाग के अधिकारियो को देखकर ग्रामीण का गुस्सा फुट पड़ा | गाँव के लोगों ने बिजली विभाग वालो को दौड़ा दौड़ा कर मारा | जैसे ही हंगामे की  बात विधायक रविंद्र सिंह को मिली तो वे तुरंत मौक पर पहुंचे और उन्होंने ग्रामीणों से बात की।  विधायक ने उन लोगो को आश्वासन  दिया और कहा की हम जयचंद के परिवार को विधुत विभाग में नौकरी दिलवाएंगे | और साथ ही 9,00,000 की आर्थिक सहायता देने की बात  कही | तब जा कर ग्रामवासियो का गुस्सा शांत हुआ | और मृतक  के शव को इलेक्ट्रिक पोल से नीचे उतार कर उसकं अंतिम संस्कार किया गया।   

Kolar News

Kolar News 26 May 2022

आज 25 मई को मध्यप्रदेश के पेट्रोल पंप शाम 7 बजे से 9 बजे तक बंद रहेंगे। आज शाम को दो घंटों के लिए पेट्रोल डीज़ल की बिक्री बंद रहेगी।मध्यप्रदेश में लगभग 4900 पेट्रोल पंप है। पेट्रोल पंप बंद रखने की वजह डीलर्स की कमीशन बढ़ाने की मांग है। डीलर्स का कहना है की यदि इसके बाद भी हमारी मांगे नहीं मानी जाती है, तो यह दो घंटे की हड़ताल अनिश्चित काल के लिए भी के लिए कर दी जाएगी।  इसे लेकर डीलर्स ने पेट्रोलियम कंपनियों को चेतावनी भी दे दी है।भोपाल में 152 पेट्रोल पंप है। जहां हर रोज साढ़े 9 लाख लीटर पेट्रोल और 12 लाख लीटर डीजल बेचा जाता  है। शाम के समय पेट्रोल पंपों पर ज्यादा भीड़ रहती है। इसी दौरान गाड़ी मालिकों को परेशानी उठाना पड़ सकती है। दो घंटे पंप बंद होने से वे गाड़ी में ईंधन नहीं भरवा सकेंगे। डीलर्स की मांग है की एडवांस जमा एक्साइज ड्यूटी की राशि रिफंड की जाए। इन् दिनों हर एक डीलर को लगभग 12 से 15 लाख रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है।कमीशन बिक्री मूल्य 5% तय हो। नई दरें वर्ष 2017 से लागू हो।तो आम लोगों पर फिर बढ़ सकता है बोझ। केंद्र सरकार ने हाल ही में एक्साइज ड्यूटी घटाई है। ऐसे में मध्यप्रदेश में पेट्रोल साढ़े 9 रुपए और डीजल 7 रुपए प्रति लीटर तक सस्ता हुआ है। ऐसे में आम जनता को काफी राहत मिली है।वहीँ   पेट्रोल पंप डीलर्स ने कमीशन बढ़ाने की मांग रख दी है। अगर  पेट्रोलियम कंपनियां  कमीशन बढ़ाती है तो पेट्रोल डीज़ल  के रेट भी बढ़ सकते हैं। ऐसे में लोगों फिर से बढ़ते पेट्रोल और डीज़ल का बोझ उठाना पद सकता है। 

Kolar News

Kolar News 25 May 2022

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में अब रोबोट सर्जरी करेंगे | भोपाल के लिए बहुत ख़ुशी की बात है, की अब लंग्स ट्रांसप्लांट करने की सुबिधा भोपल में मिलेगी  |  भोपाल के ईदगाह हिल्स पर टीबी हॉस्पिटल की जमीन पर राष्ट्रपति रामनाथन कोविंद रीजनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ रेस्पिरेटरी डिसीजेज, और सेंटर ऑफ़ एक्सेलेंस इन ऑर्थोपेडिक्स का भूमि पूजन करेंगे | पहले इस भीम पूजन को मख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान करने वाले थे। लेकिन 28 -29  मई को उज्जैन में महाकाल कॉरिडोर का उद्घाटन राष्ट्रपति करेंगे।  इसी वजह से संस्थानों  की भूमि पूजन राष्ट्रपति के हाथो होना तय हुआ  है | चिकित्सा विभाग के अधिकारियो की माने तो संस्थान 42.94 एकड़ बनाया जा रहा है | ऑर्थोपेडिक्स  डिपार्टमेंट के पूर्व  HOD डॉ. संजीव गौर  ने बताया की मध्यभारत में हड्डी की बीमारी के इलाज का बेटर इलाज  होगा | डॉ. संजीव गौर का कहना है, कोरोना संकट काल के दौरान वायरस के असर से ख़राब हुए , फेफड़े ट्रांसप्लांट के लिए हमें  बैंगलोर और चेन्नई जाना पड़ता है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा अब इसका इलाज मध्यप्रदेश में होगा | और मध्यभारत के लोगो को अब दूर नहीं जाना पड़ेगा | 

Kolar News

Kolar News 24 May 2022

(प्रवीण कक्कड़) हम जीवन में संतोष और खुशियां चाहते हैं लेकिन वास्तविक खुशियों की तलाश में आभासी खुशी के बीच खोकर रह जाते हैं। आज मोबाइल, कम्प्यूटर, इंटरनेट और अन्य गेजेट्स से मिलने वाली वर्चुअल खुशी के बीच हम वास्तविक खुशियों को कहीं खो बैठे हैं। आज मोबाइल हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है, इससे ज्ञान, विज्ञान, संचार और लोगों से संपर्क तो आसान हो गया है लेकिन अब मोबाइल की लत हमारे जीवन को प्रभावित करने लगी है।  पिछले दो सालों से आनलाइन क्लास के कारण बच्चों में भी मोबाइल की लत विकसित हो गइ है। अब बच्चे अधिकांश समय इसी पर बिताते हैं लेकिन कई शोध में पता चला है कि स्वास्थ्य पर इसका बुरा प्रभाव पड़ रहा है। हमारे स्वास्थ्य पर मोबाइल फ़ोन के लत का बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। इसके अधिक उपयोग से व्यक्ति में चिड़चीड़ापन का होना, हमेशा सिर दर्द की समस्या, नेत्र संबंधित समस्या, अनिंद्रा व मोबाइल के हानिकार रेडिएशन से हृदय संबंधित रोग भी हो सकते हैं। मोबाइल की लत ने हमारे जीवन को बहुत अधिक प्रभावित किया है, अतः हमें इस लत को दूर करने के प्रयास करने चाहिए।  आज हम सभी के हाथ में एक टूल है, जिसे मोबाइल कहते हैं। मोबाइल की लत से आशय मोबाइल के न होने पर असहज (discomfort) महसूस करने से है। वर्तमान में हम बहुत अधिक हद तक मोबाइल पर निर्भर है। इसके ऑफ हो जाने पर या गिर जाने पर ऐसा लगता है जैसे सीने पर चोट लगी है। प्रतीत होता है जैसे डिजीटल इंडिया का मार्ग मोबाइल से होकर ही गुज़रता है। मोबाइल का साइज़ उसे यात्रा अनुकूल (Travel Friendly) बनाता है, इस वजह से लोगों को और अधिक मोबाइल की लत (बुरी आदत) होती जा रही है। यह हर लहजे से हमारे आने वाले जीवन के लिए बुरा है। मोबाइल की लत में हम स्वयं को अपने मोबाइल से दूर नहीं रख पाते हैं। कोई विषेश काम न होने पर भी हम मोबाइल को स्क्रोल करते रहते हैं। आज के समय में हमें मोबाइल की इतनी बुरी लत है, इसका अनुमान आप इस वाक्य से लगा सकते हैं- ‘मोबाइल की लत को दूर करने के उपाय हम घंटों लगाकर मोबाइल पर ही ढूँढते हैं’। यह आदत हमारे जीवन को बहुत अधिक प्रभावित करती है। हमारे स्वास्थ्य पर मोबाइल फ़ोन की लत का बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है।  कुछ साल पहले तक मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल कर पाना सबके बस में नहीं था, पर समय बीतने के साथ आज आम तौर पर यह सभी के पास देखा जा सकता हैं। मोबाइल की लत ने हमारे जीवन को बहुत अधिक प्रभावित किया है, अतः हमें इस लत को दूर करने के प्रयास करने चाहिए।  ये कुछ उपाय हैं जिससे बच्‍चों को मोबाइल से दूर रखा जा सकता है-  •आउटडोर गेम्स को बढ़ावा दें •मोबाइल कम दें •बच्‍चे से बात करें  •पासवर्ड लगाएं  •प्रकृति से जोड़ें  •बच्‍चे के करीब रहने की कोशिश करें

Kolar News

Kolar News 22 May 2022

केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीज़ल के दामों को लेकर फैसला किया है। अब पेट्रोल और डीज़ल पर एक्साइज ड्यूटी घटा दी गयी  है। जिससे पेट्रोल 8 और डीज़ल 6 रूपए सस्ता हुआ है। पेट्रोल पंप संचालकों का कहना है कि ऐसा जरूरी नहीं कि केंद्र सरकार द्वारा कम की गई एक्साइज ड्यूटी के बराबर ही दाम कम होंगे। प्रदेश के हिसाब से इसमें कम या ज्यादा भी हो सकते हैं।भोपाल में पेट्रोल 118.14 और डीजल 101.16 रुपए लीटर था। अब यह घटकर 108.63 रुपये और 93.88 रुपए लीटर हो गया है। नए दाम आज (रविवार) से लागू हो गए हैं। और भोपाल में इसका असर भी देखने को मिल रहा हैं।केंद्र सरकार के इस फैसले को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी आभार व्यक्त किया है।उन्होंने ट्वीट कर कहा  "माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमन जी ने पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 8 रुपए और डीजल पर 6 रुपए प्रति लीटर कम करने की घोषणा की। इस जनहितकारी निर्णय के लिए प्रधानमंत्री जी और वित्त मंत्री जी का प्रदेशवासियों की ओर से अभिनंदन करता हूं।" उन्होंने अपने अगले ट्वीट में कहा "पेट्रोल व डीजल पर केंद्रीय उत्पाद शुल्क कम करने के निर्णय से देशवासियों को अब पेट्रोल पर 9.5 रुपए और डीजल पर 7 रुपए प्रति लीटर की राहत मिलेगी। इस क्रांतिकारी निर्णय के लिए मा. प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी और वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमन जी का हृदय से आभार।" इसके बाद बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने भी कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को बड़ी सौगात दी है। पेट्रोल और डीज़ल के दाम काम होने से लोगों में उत्साह है। 

Kolar News

Kolar News 22 May 2022

मध्य प्रदेश के सबसे बड़े चिकित्सा संस्थान अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भोपाल में अभी भी किडनी ट्रांसप्लांट शुरू नहीं हुआ है। और ऐसा केवल अफसरों के इंट्रेस्ट न लेने के कारन हो रहा है। आपको बता दें की जोधपुर एम्स हॉस्पिटल भी भोपाल एम्स के साथ ही बना हुआ है। लेकिन जोधपुर में किडनी ट्रांसप्लांट 3 साल पहले ही शुरू हो चुका हैं। और भोपाल में भी 6 महीने पहले ही  किडनी ट्रांसप्लांट टीम और ऑपरेशन थिएटर का सिलेक्शन हो चुका है। यही नहीं नेशनल ऑर्गन एंड टिश्यू ट्रांसप्लांट ऑर्गेनाइजेशन की मंजूरी और एथिकल कमेटी भी सहमति भी मिल गई थी। लेकिन फिर भी किडनी ट्रांसप्लांट शुरू नहीं किया गया। ऐसे में मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना कर पड़ रहा है।   इस चीज़ से उन लोगों को ज़्यादा समस्या है जो लोग प्राइवेट अस्पतालों में किडनी के इलाज का पैसा वहां नहीं कर पाते। प्राइवेट अस्पतालों में किडनी ट्रांसप्लांट का खर्चा लगभग 8 से 10 लाख है। ऐसे में गरीब व्यक्ति तो प्राइवेट अस्पतालों में इलाज का सोच भी नहीं सकता। सरकारी अस्पतालों में आयुष्मान योजना से फ्री किडनी ट्रांसप्लांट की सुविधा मिल जाती है।आयुष्मान योजना से इलाज के लिए पांच लाख तक का पैकेज फिक्स किया गया है। उससे लोगों को काफी सुविधा मिल जाती है। फिलहाल सरकारी अस्पतालों में से हमीदिया में यह सुविधा मिल रही है उन्होंने ने भी यह सुविधा पिछले वर्ष चालु की थी।एम्स भोपाल के डायरेक्टर  का कहना है कि हमारी तैयारियां चल रहीं हैं। स्टाफ का सिलेक्शन हो चुका है ओटी भी तैयार है कुछ परमिशन आनी बाकी हैं। जल्द ही एम्स में किडनी ट्रांसप्लांट शुरू करेंगे। 

Kolar News

Kolar News 21 May 2022

मध्य प्रदेश के सबसे बड़े चिकित्सा संस्थान अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भोपाल में अभी भी किडनी ट्रांसप्लांट शुरू नहीं हुआ है। और ऐसा केवल अफसरों के इंट्रेस्ट न लेने के कारन हो रहा है। आपको बता दें की जोधपुर एम्स हॉस्पिटल भी भोपाल एम्स के साथ ही बना हुआ है। लेकिन जोधपुर में किडनी ट्रांसप्लांट 3 साल पहले ही शुरू हो चुका हैं। और भोपाल में भी 6 महीने पहले ही  किडनी ट्रांसप्लांट टीम और ऑपरेशन थिएटर का सिलेक्शन हो चुका है। यही नहीं नेशनल ऑर्गन एंड टिश्यू ट्रांसप्लांट ऑर्गेनाइजेशन की मंजूरी और एथिकल कमेटी भी सहमति भी मिल गई थी। लेकिन फिर भी किडनी ट्रांसप्लांट शुरू नहीं किया गया। ऐसे में मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना कर पड़ रहा है।   इस चीज़ से उन लोगों को ज़्यादा समस्या है जो लोग प्राइवेट अस्पतालों में किडनी के इलाज का पैसा वहां नहीं कर पाते। प्राइवेट अस्पतालों में किडनी ट्रांसप्लांट का खर्चा लगभग 8 से 10 लाख है। ऐसे में गरीब व्यक्ति तो प्राइवेट अस्पतालों में इलाज का सोच भी नहीं सकता। सरकारी अस्पतालों में आयुष्मान योजना से फ्री किडनी ट्रांसप्लांट की सुविधा मिल जाती है।आयुष्मान योजना से इलाज के लिए पांच लाख तक का पैकेज फिक्स किया गया है। उससे लोगों को काफी सुविधा मिल जाती है। फिलहाल सरकारी अस्पतालों में से हमीदिया में यह सुविधा मिल रही है उन्होंने ने भी यह सुविधा पिछले वर्ष चालु की थी।एम्स भोपाल के डायरेक्टर का कहना है कि हमारी तैयारियां चल रहीं हैं। स्टाफ का सिलेक्शन हो चुका है ओटी भी तैयार है कुछ परमिशन आनी बाकी हैं। जल्द ही एम्स में किडनी ट्रांसप्लांट शुरू करेंगे। 

Kolar News

Kolar News 21 May 2022

 भोपाल नगर निगम ने वाटर सप्लाई को लेकर नया प्लान बनाया है। शहर की जिन जगहों पर एक दिन छोड़ कर पानी सप्लाई हो रहा है ,वहां रोज़ सप्लाई शुरू होगी। हालाँकि फिलहाल लोगों को साफ़ पानी दे दिया जाये वही काफी है। पांचवे दिन भी गंदे पानी को लेकर लगों की शिकायतें कम नहीं हुई है। दरअसल शहर के आधे से ज़ादा हिस्सों में कोलर पाइपलाइन बिछी हुई है। जिसे बदलने के लिए भोपाल नगर निगम ने 60 घंटो ने लिए शट डाउन किया था। पर उसे बदलने में ज़्यादा समय लग गया जिससे लोगों को पानी की भारी किल्लत झेलनी पड़ी। इन चार दिनों में लोग पानी की बूँद को भी तरस गए। काम पूरा होने के बाद जब पानी की सप्लाई शुरू हुई तब पानी इतना गन्दा आया की वह पिने तो क्या घरेलु उपयोग के लायक भी नहीं था। कई इलाकों में तो अभी भी मैला पानी आ रहा है। जिसे लेकर निगम कमिश्नर ने कहा है की एक-दो  दिनों में साफ़ पानी आने लगेगा।  निगम का नया प्लान उन  इलाकों के लिए है जहाँ पानी की सप्लाई एक दिन छोड़ कर होती है। नीलबड़, गौरेगांव, सूरजनगर और शबरीनगर में इस प्लान की शुरुवात कर दी गयी है। कुछ इलाकों जैसे गेहूंखेड़ा, पुलिस हाउसिंग सोसायटी समेत मिसरोद-बैरागढ़ की कई कॉलोनियों में वाटर नेटवर्क नहीं है। जिसके कारण  वहां के लोग ट्यूबवेल या प्राइवेट टैंकरों पर ही आश्रित है उन्हें पाइप लाइन से जोड़ा जायेगा।जिन इलाकों में नर्मदा लाइन से पानी की सप्लाई होती है, उन्हें कोलार लाइन से भी जोड़ेंगे। जिससे नर्मदा का प्रेशर कम होने से कोलार लाइन से टंकियां भरी जा सके।नए प्लान में अंतिम छोर के इलाकों में पानी की रोज सप्लाई करने और कॉलोनियों को पाइप लाइन से जोड़ना शामिल है।  नई कोलार लाइन जोड़ने के बाद सप्लाई में सुधार हो रहा है। प्रेशर की समस्या भी दूर हुई है। 

Kolar News

Kolar News 21 May 2022

बालाघाट में एक ज्वेलर्स ने अपनी सारी संपत्ति दान कर संन्यास ले लिया है। ज्वेलर्स ने अपनी 11 करोड़ की संपत्ति दान कर अपने परिवार सहित ग्रहस्त जीवन त्याग दिया। सराफा व्यपारी ने आज से 7 साल पहले ही सन्यास लेने का मन बना चूका था। वही उनकी पत्नी बचपन से ही आध्यात्म की ओर चलने वाली थी और उनके बेटे ने भी 4 साल की उम्र में ही इस पथ पर जाने का मन बना लिया था। लेकिन बेटे की उम्र काम होने की वजह से उन्हें 7 साल तक इंतज़ार नकारना पड़ा। आपको बता दें की राकेश सुराना (40) , उनकी पत्नी लीना सुराना (36) और बेटे अमय सुराना(11) 22 मई को जयपुर में दीक्षा लेंगे। राकेश सुराना ने बताया की उन्हें धर्म, आध्यात्म और आत्म स्वरूप को पहचानने की प्रेरणा गुरु महेंद्र सागर महाराज और मनीष सागर महाराज के प्रवचनों और उनके सानिध्य में रहते प्राप्त हुई। दीक्षा लेने से पहले शहर के लोगों ने शोभायात्रा निकालकर राकेश सुराना उनकी पत्नी लीना सुराना और  बेटे अमय सुराना को विदाई दी।राकेश सुराना ने एक छोटी सी सुनार की दुकान से शुरुआत की थी। उन्होंने अपने बड़े भाई से प्रेरणा लेकर और अपनी कड़ी मेहनत से एक उच्च मुकाम हासिल किया था। राकेश आर्थिक और पारिवारिक संपन्न व्यक्ति थे। उनकी ज़िन्दगी में वे साडी सुख सुविधएं थी ,जो ऐश-ओ-आराम से भरी एक अच्छी ज़िन्दगी दे सके। लेकिन उन्होंने भौतिक सुखों को छोड़ कर आध्यात्म को चुना और संयम के रास्ते पर चलने का फैसला लिया। उन्होंने अभी तक कमाई हुई सारी संपत्ति गोशाला और धार्मिक संस्थानों में दान कर दी ,और सन्यासी जीवन की ओर चल पड़े। 

Kolar News

Kolar News 18 May 2022

शक सम्वत 1944विक्रम सम्वत 2079 श्री नलदिन काल 18:28:मास   वैशाखतिथि   चतुर्दशी - 12:47:23 तकनक्षत्र     स्वाति - 15:35:16 तककरण     वणिज - 12:47:23 तक, विष्टि - 23:18:52 तकपक्ष    शुक्लयोग    व्यतिपात - 09:48:30 तकवार    रविवारसूर्योदय   05:30:37सूर्यास्त    19:04:33चन्द्र राशि    तुलाऋतु     ग्रीष्मशुभ समय==अभिजित 11:58:18 से 12:50:31 तकदिशा शूल पश्चिमराहु काल 17:16:17 से 18:55:30 तकसुझाव- पान खाकर तथा अपने बड़ों को प्रणाम कर घर से निकलें।----------------दिन का चौघड़िया=======परम्परागत रूप से चौघड़िया का उपयोग यात्रा के मुहूर्त के लिए किया जाता हैउद्वेग -अशुभ  05:26 ए एम से 07:09 ए एमचर -सामान्य  07:09 ए एम से 08:52 ए एमलाभ -उन्नति  08:52 ए एम से 10:35 ए एमअमृत -सर्वोत्तम  10:35 ए एम से 12:18 पी एमकाल -हानि  12:18 पी एम से 02:01 पी एमशुभ -उत्तम  02:01 पी एम से 03:44 पी एमरोग -अमंगल  03:44 पी एम से 05:27 पी एमउद्वेग -अशुभ  05:27 पी एम से 07:10 पी एमटिप्पणी -१२ घण्टे की घड़ी दिल्ली के स्थानीय समय के साथ और सभी चौघड़िया मुहूर्त!==============================राशिफल-===========मेष आज का दिन आपके लिए प्रसन्नता दिलाने वाला रहेगा। आज आपको शासन द्वारा भी सम्मानित किए जाने की संभावना बनती दिख रही है,लेकिन आप जीवनसाथी का सहयोग पाकर आप अपनी संतान से संबंधित कुछ समस्याओं को आसानी से हल कर पाएंगे। यदि आपके ऊपर कुछ पुराने कर्ज हैं,तो आप उनको भी उतारने में सफल रहेंगे,इसलिए आपको किसी से भी धन उधार लेने से बचना होगा। आपके कुछ मित्र आपको गुमराह करने की कोशिश करेंगे,जिनसे आपको अपनी बुद्धि का प्रयोग करके बचने की कोशिश करनी होगी।वृष आज का दिन आपके लिए भागदौड़ भरा रहेगा,इसलिए आपको सावधान रहना होगा। व्यस्तता के कारण आप अपने परिवार के सदस्यों के लिए समय निकालने में नाकामयाब रहेंगे जिसके कारण आपकी माताजी आपसे नाराज रहेंगी। यदि किसी काम में विनिमय करना पड़े,तो दिल खोलकर करें,क्योंकि वह आपके लिए लाभदायक रहेगा। सायंकाल के समय आपको किसी मामले में सम्मिलित होने का मौका मिलेगा। मिथुन आज आपको फिजूलखर्ची करने से बचना होगा,नहीं तो आप अपने संचय धन को भी समाप्त कर सकते हैं। यदि आपको कोई शारीरिक कष्ट है,तो उसमें भी आज वृद्धि हो सकती है,जिसके कारण आप परेशान रहेंगे,लेकिन संतान पक्ष की ओर से आपको कोई हर्षवर्धन समाचार सुनने को मिल सकता है। सामाजिक क्रियाकलापों में कुछ व्यवधान रहेंगे,जो आपकी परेशानी का कारण बनेंगे। आपके ऊपर परिवार की जिम्मेदारियां और बढ़ सकती हैं,लेकिन आपको धैर्य बनाकर उन्हें पूरा करना होगा तभी आप सफलता हासिल कर सकेंगे। कर्क आज का दिन आपके लिए उत्तम रूप से फलदायक रहेगा। आपकी शान शौकत देखकर आपके शत्रु भी हैरान व परेशान रहेंगे। संतान के प्रति आपका विश्वास मजबूत और गहरा होगा,क्योंकि यदि आप संतान को किसी कार्य को सौंपेंगे,तो वह उसे समय से पूरा करके देंगे,जो लोग रोजगार के लिए इधर-उधर भटक रहे हैं,उन्हें अभी कुछ समय और रुकना होगा,तभी उन्हें राहत मिलती दिख रही है। आपको पिताजी से किसी कार्य के लिए डांट खानी पड़ सकती है,सिंहआज का दिन आपके लिए मध्यम रूप से फलदायक रहेगा। यदि आपको कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या चल रही थी,तो उसमें आज सुधार होता दिख रहा है। यदि ससुराल पक्ष का कोई व्यक्ति आपसे नाराज है,तो आपको उन्हे मनाने की पूरी कोशिश करनी होगी। किसी से बातचीत करते समय आपको अपनी वाणी की मधुरता को नहीं खोना है। कन्याआज का दिन व्यापार कर रहे लोगों के लिए मन मुताबिक लाभ दिलाने वाला रहेगा,लेकिन उन्हें अपने आसपास छुटपुट लाभ के अफसरों को पहचान कर उन पर अमल करना होगा तभी वह लाभ कमा पाएंगे। यदि कार्यक्षेत्र में आप किसी से धन उधार भी लेंगे,तो वह भी आपको आसानी से मिल जाएगा। आप यदि किसी कार्य को करेंतुला आज का दिन आपके लिए शुभ परिणाम लेकर आएगा। आप दिल से दूसरों का भला करने की सोचेंगे व उनकी सेवा करेंगे,लेकिन लोग इसे गलत तरह से समझेंगे, इसलिए आपको सावधान रहना होगा। जो लोग सट्टेबाजी में धन का निवेश करते हैं,वह दिल खोलकर कर सकते हैं,क्योंकि वह इसका भरपूर लाभ कमाने में कामयाब रहेंगे। वृश्चिकआज आपका मन अशांत व परेशान रहेगा,जिसके कारण आपका किसी कार्य में मन नहीं लगेगा,लेकिन फिर भी आपको अपने कामों की ओर ध्यान देना होगा। यदि कोई वाद विवाद राज्य में लंबित है,तो आपको उसमें सफलता मिलने की पूरी संभावना है। आप अपनी किसी मन की इच्छा की पूर्ति के कारण प्रसन्न रहेंगे,लेकिन आपके शत्रुओं को वह रास नहीं आएगी,इसलिए आपको उनसे सतर्क रहना होगा। धनु दिन आपका परोपकार के कार्य में व्यतीत होगा। आप अपने धन का कुछ हिस्सा दान पुण्य कार्य में भी लगाएंगे। आर्थिक स्थिति सुदृढ़ रहेगी,लेकिन भाग्य का साथ मिलने से संतान को किसी नई नौकरी की प्राप्ति हो सकती है। आप कुछ धार्मिक अनुष्ठानों का भी हिस्सा बनेंगे,जहां आपकी कुछ नए मित्रों से मुलाकात होगी। आपको किसी अनजान व्यक्ति पर भरोसा करने से बचना होगा,नहीं तो वह आपको कोई धोखा दे सकता है। मकर आज का दिन आपके लिए बहुमूल्य वस्तुओं के प्राप्ति का दिन रहेगा,लेकिन आपके सामने कुछ ऐसे अनावश्यक खर्च आएंगे जिनको आपको मजबूरी में ना चाहते हुए भी करना पड़ेगा। ससुराल पक्ष से आपको सावधान रहने की आवश्यकता है क्योंकि यदि किसी व्यक्ति से आपका वाद विवाद हुआ,तो जीवनसाथी आपसे नाराज हो सकती हैं। यदि आप किसी नए कार्य में इन्वेस्टमेंट करेंगे,तो भविष्य में वह आपको मन मुताबिक लाभ देगा,इसलिए आप दिल खोलकर कर सकते हैं।कुंभ आज आप कुछ नई-नई खोज करने में दिन व्यतीत करेंगे और आपको पारिवारिक जनों का भरपूर सुख मिलेगा। आप नौकर चाकरों का भी पूरा सुख लेंगे,लेकिन सायंकाल के समय आप अपने परिवार के सदस्यों के साथ छोटी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं,जो आपके लिए लाभदायक रहेगी। आप सीमित आय में भी अपने सभी खर्च आसानी से निकाल पाएंगे। माताजी को आज कोई स्वास्थ्य संबंधित समस्या हो सकती है,मीन आज का दिन आपके लिए उत्तम रूप से फलदायक रहेगा। यदि आपकी संतान के विवाह में कोई बाधा आ रही थी,तो वह सुलझेगी,जिसके कारण परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। सामाजिक सम्मान मिलने से आपका मनोबल और बढ़ेगा,लेकिन आपको घमंड नहीं करना है। =====================आचार्य आशु जी 9899606198

Kolar News

Kolar News 15 May 2022

   (प्रवीण कक्कड़)  प्रदेश के गुना में शिकारियों से मुठभेड़ में 3 पुलिसकर्मियों के शहीद होने की घटना दुखद और चिंताजनक है। खाकी वर्दी में पुलिस की नौकरी ऊपर से जितनी शानदार दिखती है, अंदर से उतनी ही चुनौतियां पुलिसकर्मियों के सामने होती हैं। इसका ज्वलंत उदाहरण गुना की घटना है, जहां फर्ज निभाते हुए इन जांबाजों ने अपने प्राणों की आहूति दे दी। यह घटना केवल शिकारी और पुलिसकर्मियों की मुठभेड़ की नहीं है, बल्कि वेकअप कॉल है जो जाहिर कर रहा है कि अपराधियों में पुलिस का भय खत्म होता जा रहा है। आज समय है जब समाज, प्रशासन और राजनेताओं को पुलिसकर्मियों के हितों के बारे में विचार करना चाहिए। समाज की सुरक्षा करने वालों की सुरक्षा को भी जरूरी समझा जाना चाहिए।  इस घटना पर नज़र डालें तो शिकारी न सिर्फ खुलेआम शिकार करने का दुस्साहस कर रहे हैं, बल्कि उनके मन में पुलिस का किसी तरह का भय भी नहीं है। सामान्य परिस्थितियों में पुलिस के ललकारने पर अपराधी मुठभेड़ करने के बजाए माल छोड़ कर भाग जाते हैं। लेकिन जब अपराधी इस तरह से मुकाबले की कार्रवाई करते हैं तो उसका मतलब होता है कि उस इलाके में पुलिस और प्रशासन का वकार कमजोर हो गया है। अपराधी अपराध करने को अपना अधिकार समझने लगे हैं और उनके मन में शासन का भय नहीं रह गया है। यह सिर्फ कानून व्यवस्था का मामला नहीं है, बल्कि यह सोचने का विषय भी है कि पुलिस को इस तरह के संसाधनों के अनुसार सुसज्जित किया जाए और अपराधियों को मिलने वाले इस तरह के संरक्षण को समाप्त किया जाए। इस घटना का यह महत्वपूर्ण पहलू है कि क्या शिकारियों और तस्करों से रात में मुठभेड़ करने के लिए पुलिस के पास पर्याप्त सुरक्षा के उपाय हैं या नहीं। जिन जगहों पर पुलिस कर्मियों को सीधे गोलियों के निशाने पर आने का खतरा है। क्या कम से कम उन जगहों पर तैनात पुलिसकर्मियों को बुलेट प्रूफ जैकेट और नाइट विजन कैमरा जैसे उपकरण मुहैया नहीं कराए जाने चाहिए। क्या पुलिस वालों की इस बात की ट्रेनिंग दी गई है कि अगर शिकारी या अपराधी बड़ी संख्या में हो और उनके पास हथियार हो तो उनसे किस तरह से मुकाबला किया जाए। क्योंकि बिना पर्याप्त सुरक्षा इंतजामों के और बिना अत्याधुनिक हथियारों के इस तरह की मुठभेड़ आखिर पुलिस वालों के लिए किस हद तक सुरक्षित है। मध्य प्रदेश जैसे राज्य में इस विषय पर बहुत ही गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है क्योंकि आज भी मध्य प्रदेश देश के सबसे ज्यादा वन क्षेत्रफल वाले राज्यों में शामिल है। प्रदेश में बड़ी संख्या में अभयारण्य और नेशनल पार्क हैं। जिसमें दुर्लभ प्रजाति के वन्य जीव पाए जाते हैं।  सेना में भर्ती होने वाले लोगों के लिए चाहे वे सैनिक हों या उच्चाधिकारी बहुत सारी मानवीय सुविधाएं होती हैं। ऑफिसर्स के लिए अलग मैस होगा। सैनिकों का अपना मैस होता है। उनके बच्चों की पढ़ाई के लिए अलग से सैनिक स्कूल होते हैं। खेल कूद और व्यायाम के लिए शानदार पार्क और होते हैं। जवान खुद को चुस्त-दुरुस्त रख सकें इसके लिए बड़े पैमाने पर शारीरिक व्यायाम की सुविधा होती है। सेना के अपने अस्पताल होते हैं। जहां विशेषज्ञ डॉक्टर तैनात रहते हैं। इसके अलावा खेलों में सेना के जवानों का विशेष प्रतिनिधित्व हो सके इसके लिए पर्याप्त इंतजाम किए जाते हैं। निश्चित तौर पर सेना की जिम्मेदारी बड़ी है और उसे सरहदों पर देश की रक्षा करनी होती है लेकिन पुलिस की जिम्मेदारी भी कम नहीं है, उसे तो रात दिन बिना अवकाश के समाज की कानून व्यवस्था को बना कर चलना होता है। राज्य सरकारों को पुलिस के लिए नए आवासों के निर्माण के बारे में ध्यान से सोचना चाहिए। पुलिस कर्मियों के बच्चे अच्छे स्कूलों में शिक्षा ले सकें, इसलिए शहर के किसी भी कन्वेंट या सैनिक स्कूल के मुकाबले के स्कूल पुलिस कर्मियों के बच्चों के लिए खोले जाने चाहिए। मौजूदा दौर में सबसे जरूरी है कि पुलिस के पक्ष में सोचा जाए। कभी पुलिसकर्मियों को राजनीतिक हस्तक्षेप से तो जांबाजी से एनकाउंटर करने के बाद भी आयोगों की जांच में परेशान होना पड़ता है। एक पूर्व पुलिस अधिकारी होने के नाते मैं पुलिस सेवा के दौरान सामने आने वाली चुनौतियों को बखूबी समझ सकता हूं। आज पुलिस की सुरक्षा और संसाधनों के प्रति बढ़ाने हमें विचार करने की जरूरत है। इसके साथ ही परिदृश्य पर गौर करें तो राज्य पुलिस बलों में 24% रिक्तियां हैं,लगभग 5.5 लाख रिक्तियां। यानी जहां 100 पुलिस वाले हमारे पास होने चाहिए वहां 76 पुलिस वाले ही उपलब्ध हैं। इसी तरह हर एक लाख व्यक्ति पर पुलिसकर्मियों की स्वीकृत संख्या 181 थी, उनकी वास्तविक संख्या 137 थी। उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र के मानक के अनुसार एक लाख व्यक्तियों पर 222 पुलिसकर्मी होने चाहिए। इस तरह गौर करें तो राष्ट्रीय मानक से तो हम पीछे हैं ही अंतर्राष्ट्रीय मानक से तो बहुत पीछे हैं। गुना में हुई घटनाओं जैसे वेकअप कॉल में सभी का जागना जरूरी है, भले ही वे किसी भी पार्टी से जुड़े राजनेता हों, आला पुलिस अधिकारी हों या हमारा सिस्टम। ऐसी घटनाओं से सबक लेते हुए हमें पुलिस के लिए संसाधनों को बढाना होगा। सभी को मिलकर देशभक्ति और जनसेवा का जज्बा लिए पुलिसकर्मियों के लिए बेहतर प्रयास करने चाहिए। पुलिस पर हमला करने वालों को सख्त सजा मिले, शहीद हुए पुलिसकर्मियों के परिवार को मुआवजा मिले। इसके साथ ही ऐसी घटनाएं दोबारा न हों, इसके लिए भी पुख्ता सिस्टम तैयार हो। यही इन शहीद पुलिस जवानों को सच्ची श्रध्दांजलि होगी।

Kolar News

Kolar News 15 May 2022

  भारतीयता का मूल हैं हमारे परिवार -प्रो.संजय द्विवेदी       भारत में ऐसा क्या है जो उसे खास बनाता है? वह कौन सी बात है जिसने सदियों से उसे दुनिया की नजरों में आदर का पात्र बनाया और मूल्यों को सहेजकर रखने के लिए उसे सराहा। निश्चय ही हमारी परिवार व्यवस्था वह मूल तत्व है, जिसने भारत को भारत बनाया। हमारे सारे नायक परिवार की इसी शक्ति को पहचानते हैं। रिश्तों में हमारे प्राण बसते हैं, उनसे ही हम पूर्ण होते हैं। आज कोरोना की महामारी ने जब हमारे सामने गहरे संकट खड़े किए हैं तो हमें सामाजिक और मनोवैज्ञानिक संबल हमारे परिवार ही दे रहे हैं। व्यक्ति कितना भी बड़ा हो जाए उसका गांव, घर, गली, मोहल्ला, रिश्ते-नाते और दोस्त उसकी स्मृतियां का स्थायी संसार बनाते हैं। कहा जाता है जिस समाज स्मृति जितनी सघन होती है, जितनी लंबी होती है, वह उतना ही श्रेष्ठ समाज होता है।     परिवार नाम की संस्था दुनिया के हर समाज में मौजूद हैं। किंतु परिवार जब मूल्यों की स्थापना, बीजारोपण का केंद्र बनता है, तो वह संस्कारशाला हो जाता है। खास हो जाता है। अपने मूल्यों, परंपराओं को निभाकर समूचे समाज को साझेदार मानकर ही भारतीय परिवारों ने अपनी विरासत बनाई है। पारिवारिक मूल्यों को आदर देकर ही श्री राम इस देश के सबसे लाड़ले पुत्र बन जाते हैं। उन्हें यह आदर शायद इसलिए मिल पाया, क्योंकि उन्होंने हर रिश्ते को मान दिया, धैर्य से संबंध निभाए। वे रावण की तरह प्रकांड विद्वान और विविध कलाओं के ज्ञाता होने का दावा नहीं करते, किंतु मूल्याधारित जीवन के नाते वे सबके पूज्य बन जाते हैं, एक परंपरा बनाते हैं। अगर हम अपनी परिवार परंपरा को निभा पाते तो आज के भारत में वृद्धाश्रम न बन रहे होते। पहले बच्चे अनाथ होते थे आज के दौर में माता-पिता भी अनाथ होने लगे हैं। यह बिखरती भारतीयता है, बिखरता मूल्यबोध है। जिसने हमारी आंखों से प्रेम, संवेदना, रिश्तों की महक कम कर भौतिकतावादी मूल्यों को आगे किया है। न बढ़ाएं फासले, रहिए कनेक्टः     आज के भारत की चुनौतियां बहुत अलग हैं। अब भारत के संयुक्त परिवार आर्थिक, सामाजिक कारणों से एकल परिवारों में बदल रहे हैं। एकल परिवार अपने आप में कई संकट लेकर आते हैं। जैसा कि हम देख रहे हैं कि इन दिनों कई दंपती कोरोना से ग्रस्त हैं, तो उनके बच्चे एकांत भोगने के साथ गहरी असुरक्षा के शिकार हैं। इनमें माता या पिता, या दोनों की मृत्यु होने पर अलग तरह के सामाजिक संकट खड़े हो रहे हैं। संयुक्त परिवार हमें इस तरह के संकटों से सुरक्षा देता था और ऐसे संकटों को आसानी से झेल जाता था। बावजूद इसके समय के चक्र को पीछे नहीं घुमाया जा सकता। ऐसे में यह जरूरी है कि हम अपने परिजनों से निरंतर संपर्क में रहें। उनसे आभासी माध्यमों, फोन आदि से संवाद करते रहें, क्योंकि सही मायने में परिवार ही हमारा सुरक्षा कवच है।    आमतौर सोशल मीडिया के आने के बाद हम और ‘अनसोशल’ हो गए हैं। संवाद के बजाए कुछ ट्वीट करके ही बधाई दे देते हैं। होना यह चाहिए कि हम फोन उठाएं और कानोंकान बात करें। उससे जो खुशी और स्पंदन होगा, उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। परिजन और मित्र इससे बहुत प्रसन्न अनुभव करेगें और सारा दिन आपको भी सकारात्मकता का अनुभव होगा। संपर्क बनाए रखना और एक-दूसरे के काम आना हमें अतिरिक्त उर्जा से भर देता है। संचार के आधुनिक साधनों ने संपर्क, संवाद बहुत आसान कर दिया है। हम पूरे परिवार की आनलाईन मीटिंग कर सकते हैं, जिसमें दुनिया के किसी भी हिस्से से परिजन हिस्सा ले सकते हैं। दिल में चाह हो तो राहें निकल ही आती हैं। प्राथमिकताए तय करें तो व्यस्तता के बहाने भी कम होते नजर आते हैं। जरूरी है एकजुटता और सकारात्मकताः     सबसे जरूरी है कि हम सकारात्मक रहें और एकजुट रहें। एक-दूसरे के बारे में भ्रम पैदा न होने दें। गलतफहमियां पैदा होने से पहले उनका आमने-सामने बैठकर या फोन पर ही निदान कर लें। क्योंकि दूरियां धीरे-धीरे बढ़ती हैं और एक दिन सब खत्म हो जाता है। खून के रिश्तों का इस तरह बिखरना खतरनाक है क्योंकि रिश्ते टूटने के बाद जुड़ते जरूर हैं, लेकिन उनमें गांठ पड़ जाती है। सामान्य दिनों में तो सारा कुछ ठीक लगता है। आप जीवन की दौड़ में आगे बढ़ते जाते हैं, आर्थिक समृद्धि हासिल करते जाते हैं। लेकिन अपने पीछे छूटते जाते हैं। किसी दिन आप अस्पताल में होते हैं, तो आसपास देखते हैं कि कोई अपना आपकी चिंता करने वाला नहीं है। यह छोटा सा उदाहरण बताता है कि हम कितने कमजोर और अकेले हैं। देखा जाए तो यह एकांत हमने खुद रचा है और इसके जिम्मेदार हम ही हैं। संयुक्त परिवारों की परिपाटी लौटाई नहीं जा सकती, किंतु रिश्ते बचाए और बनाए रखने से हमें पीछे नहीं हटना चाहिए। इसके साथ ही सकारात्मक सोच बहुत जरूरी है। जरा-जरा सी बातों पर धीरज खोना ठीक नहीं है। हमें क्षमा करना  और भूल जाना आना ही चाहिए। तुरंत प्रतिक्रिया कई बार घातक होती है। इसलिए आवश्यक है कि हम धीरज रखें। देश का सबसे बड़ा सांस्कृतिक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ऐसे ही पारिवारिक मूल्यों की जागृति के कुटुंब प्रबोधन के कार्यक्रम चलाता है। पूर्व आईएएस अधिकारी विवेक अत्रे भी लोगों को पारिवारिक मूल्यों से जुड़े रहने प्रेरित कर रहे हैं। वे साफ कहते हैं ‘भारत में परिवार ही समाज को संभालता है।’ जुड़ने के खोजिए बहानेः   हमें संवाद और एकजुटता के अवसर बनाते रहने चाहिए। बात से बात निकलती है और रिश्तों में जमी बर्फ पिधल जाती है। परिवार के मायने सिर्फ परिवार ही नहीं हैं, रिश्तेदार ही नहीं हैं। वे सब हैं जो हमारी जिंदगी में शामिल हैं। उसमें हमें सुबह अखबार पहुंचाने वाले हाकर से लेकर, दूध लाकर हमें देने वाले, हमारे कपड़े प्रेस करने वाले, हमारे घरों और सोसायटी की सुरक्षा, सफाई करने वाले और हमारी जिंदगी में मदद देने वाला हर व्यक्ति शामिल है। अपने सुख-दुख में इस महापरिवार को शामिल करना जरूरी है। इससे हमारा भावनात्मक आधार मजूबूत होता है और हम कभी भी अपने आपको अकेला महसूस नहीं करते। कोरोना के संकट ने हमें सोचने के लिए आधार दिया है, एक मौका दिया है। हम सबने खुद के जीवन और परिवार में न सही, किंतु पूरे समाज में मृत्यु को निकट से देखा है। आदमी की लाचारगी और बेबसी के ऐसे दिन शायद भी कभी देखे गए हों। इससे सबक लेकर हमें न सिर्फ सकारात्मकता के साथ जीना सीखना है बल्कि लोगों की मदद के लिए हाथ बढ़ाना है। बड़ों का आदर और अपने से छोटों का सम्मान करते हुए सबको भावनात्मक रिश्तों की डोर में बांधना है।  एक दूसरे को प्रोत्साहित करना, घर के कामों में हाथ बांटना, गुस्सा कम करना जरूरी आदतें हैं, जो डालनी होंगीं। एक बेहतर दुनिया रिश्तों में ताजगी, गर्माहट,दिनायतदारी और भावनात्मक संस्पर्श से ही बनती है। क्या हम और आप इसके लिए तैयार हैं?

Kolar News

Kolar News 15 May 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। यहां के अधिकांश शहरों में अधिकतम तापमान 46 डिग्री के आसपास पहुंच गया है। प्रदेश में शनिवार को आठ जिलों राजगढ़, गुना, सागर, दमोह, सतना, ग्वालियर, सीधी व रीवा में लू चली। इस दौरान भिंड जिले के गोहद में अधिकतम तापमान 48.7 डिग्री दर्ज किया गया। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि अगले 24 से 48 घंटों में गर्म हवाएं इसी तरह चलती रहेंगी और तापमान इसी स्तर के आसपास बना रहेगा। यानी फिलहाल गर्मी से राहत मिलने के कोई आसार नहीं है।   मौसम विभाग की वरिष्ठ विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि विभिन्न प्रदेशों में ये हवाएं अलग-अलग तरह से प्रभाव डाल रही हैं। प्रदेश के पश्चिमी भागों में टीकमगढ़, सागर, पन्ना से लेकर होशंगाबाद, छिंदवाड़ा, बैतूल, भोपाल, विदिशा, गुना, ग्वालियर जिलों में सभी जगहों और नीमच, रतलाम, उज्जैन, इंदौर, धार, देवास, खरगोन के सभी भागों में भीषण गर्मी पड़ रही है।   भिंड के गोहद का तापमान शुक्रवार की तरह ही शनिवार को भी 48.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, भोपाल में अधिकतम तापमान 44.4 और न्यूनतम तापमान 30.4 डिग्री रहा। इसी तरह इंदौर में 41.6 और 26.2, जबलपुर में 44.2 और 29 तथा ग्वालियर में अधिकतम तापमान 46.1 और न्यूनतम तापमान 26.7 दर्ज किया गया।   इसके अलावा नौगांव में अधिकतम 47.6 तथा न्यूनतम 26.5, खजुराहो में 47.6 और 26.5, सतना में 46.2 और 27.9, सागर में 46.1 और 26, गुना में 45.8 और 27.8 और राजगढ़ में अधिकतम तापमान 45.5 तथा न्यूनतम तापमान 29.8 डिग्री दर्ज हुआ है।

Kolar News

Kolar News 15 May 2022

  भोपाल। राज्य शासन ने भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के चार अधिकारियों का तबादला करते हुए उनकी नवीन पदस्थापना की है। इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा शनिवार देर शाम आदेश जारी किए गए। जिन अधिकारियों का तबादला हुआ, उनमें तीन जिलों के कलेक्टरों को इधर से उधर किया गया है।     मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस द्वारा जारी आदेश के अनुसार, खरगोन कलेक्टर अनुग्रह पी को नई दिल्ली स्थित मध्य प्रदेश भवन में विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी नियुक्त किया गया है, जबकि उनकी जगह रतलाम कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम को खरगोन कलेक्टर का दायित्व सौंपा गया है। इसी तरह निवाड़ी कलेक्टर नरेन्द्र कुमार सूर्यवंशी को रतलाम जिला कलेक्टर पदस्थ किया गया है और उनकी जगह जबलपुर संभाग के अपर आयुक्त (राजस्व) तरुण भटनागर को निवाड़ी कलेक्टर बनाया गया है।

Kolar News

Kolar News 15 May 2022

भोपाल। माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा इस साल बोर्ड की तर्ज पर आयोजित कक्षा पांचवीं और आठवीं की परीक्षाओं का परिणाम शुक्रवार को जारी किया गया। स्कूल शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी ने राज्य शिक्षा केंद्र सभागृह में सिंगल क्लिक से कक्षा 5वीं और 8वीं का परीक्षा परिणाम घोषित किया। उन्होंने परीक्षा में उत्तीर्ण सभी विद्यार्थियों, उनके शिक्षकों और अभिभावकों को बधाई और भविष्य के लिए शुभकामनाएँ दी हैं। कक्षा 5वीं का परीक्षा परिणाम 90.01 प्रतिशत और कक्षा 8वीं का परीक्षा परिणाम 82.35 प्रतिशत रहा है। बारह वर्ष बाद बोर्ड पैटर्न में घोषित दोनों कक्षाओं की उत्तीर्ण सूची में इस वर्ष छात्राएँ, छात्रों की तुलना में आगे रही हैं।   कक्षा 5वीं का परीक्षा परिणाम कक्षा 5वीं की परीक्षा में कुल 8 लाख 26 हजार 824 परीक्षार्थी शामिल थे, जिसमें 7लाख 44 हजार 247 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। कक्षा 5वीं की परीक्षा में 4 लाख 4 हजार 92 छात्र शामिल थे, जिनमें 3लाख 60 हजार 784 छात्र उत्तीर्ण हुए हैं। कक्षा 5वीं में उत्तीर्ण छात्रों का प्रतिशत 89.28 प्रतिशत रहा। कक्षा 5वीं की परीक्षा में कुल 4 लाख 22 हजार 732 छात्राएँ शामिल थीं, जिनमें 3 लाख 83 हजार 463 छात्राएँ उत्तीर्ण हुई हैं। कक्षा 5वीं में उत्तीर्ण छात्राओं का प्रतिशत 90.71 प्रतिशत रहा। कक्षा 5वीं की परीक्षा में शहडोल संभाग का उत्तीर्ण प्रतिशत सर्वाधिक रहा, यहाँ 94.11 प्रतिशत परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए।   कक्षा 8वीं का परीक्षा परिणाम कक्षा 8वीं की परीक्षा में कुल 7 लाख 56 हजार 967 परीक्षार्थी शामिल थे, जिसमें 6 लाख 23 हजार 370 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। कक्षा 8वीं की परीक्षा में 3 लाख 66 हजार 572 छात्र शामिल थे, जिनमें 2 लाख 94 हजार 160 छात्र उत्तीर्ण हुए हैं। कक्षा 8वीं में उत्तीर्ण छात्रों का प्रतिशत 80.25 प्रतिशत रहा। कक्षा 8वीं की परीक्षा में कुल 3 लाख 90 हजार 395 छात्राएँ शामिल थीं, जिनमें 3लाख 29 हजार 210 छात्राएँ उत्तीर्ण हुई हैं। कक्षा 8वीं में उत्तीर्ण छात्राओं का प्रतिशत 84.33 प्रतिशत रहा। कक्षा 8वीं की परीक्षा में इंदौर संभाग का उत्तीर्ण प्रतिशत सर्वाधिक रहा, यहाँ 88.77 प्रतिशत परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए।   स्कूल शिक्षा विभाग ने प्राथमिक एवं माध्यमिक परीक्षाओं कक्षा 5वीं एवं कक्षा 8वीं का परीक्षाफल बोर्ड पैटर्न पर जारी किया लेकिन दोनों ही परीक्षाओं के राज्य एवं जिले स्तर की मेरिट लिस्ट जारी नही की गई हैं। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमति रश्मि अरुण शमी ने बताया कि प्राथमिक एवं माध्यमिक कक्षाओं के बच्चों में होशियार एवं कमजोर होने को लेकर किसी तरह की हीन भावना प्रवेश न कर सके, इस उद्देश्य को निहित करते हुए सिर्फ रिजल्ट जारी किए गए हैं, मेरिट लिस्ट जारी नहीं की गई हैं।   फेल विषय भर की होगी परीक्षा राज्य शिक्षा केंद्र संचालक धनराजू एस ने बताया कि कक्षा 5वीं एवं कक्षा 8वीं की परीक्षाओं में परीक्षार्थी जिस विषय में फेल हुआ है, उसकी उसी विषय भर की परीक्षा करवाई जायेगी। अपर मिशन संचालक लोकेश जांगिड़ सहित स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 13 May 2022

गुना। मई माह में गर्मी के तेवर तीखे हैं, जहां शुक्रवार को अधिकतम तापमान 46 डिग्री के साथ सबसे गर्म दिन रहा। तापमान में बढ़ोतरी का सिलसिला पिछले तीन दिनों से जारी है। इधर, शुक्रवार को कहीं मेंटनेंस, तो कहीं डीपी में आग लगने से करीब चार घंटे लोगों को गर्मी और उमस से जूझना प?ा। दरअसल, मई महीने में गर्मी अपने पूरे शबाब पर है। माह के शुरुआती दिन 45 डिग्री पर पारा पहुंच चुका था। हालांकि, उसके बाद तापमान में गिरावट आकर 42 से 44 डिग्री के बीच झूलता रहा था। लेकिन शुक्रवार को अचानक तापमान 46 डिग्री पर पहुंच गया, जिससे लोगों को काफी परेशान होना पड़ा। क्योंकि, एक ओर कूलर-पंखे साथ नहीं दे रहे थे। वहीं दोपहर एक बजे से हुई बिजली कटौती से बलवंत नगर, विकास नगर, विंध्याचल कालोनी सहित शहर के बड़े हिस्से में चार घंटे तक बेहाल लोग गर्मी से जूझते रहे। कंपनी के अधिकारियों ने इसकी वजह मेंटनेंस कार्य बताया। वहीं दूसरी ओर हेड पोस्ट आफिस रोड की डीपी में आग लगने से कर्नलगंज सहित कई हिस्सों में लोगों को गर्मी से जूझते हुए देखा गया। इस तरह गर्मी के बीच बिजली कटौती लोगों पर भारी पड़ने लगी है।   मई के शुरुआती दिन था 45 डिग्री पारा   अप्रैल माह की तपिश के बाद जैसे ही मई माह की शुरूआत हुई, तो पहले ही दिन पारा 45 डिग्री पर पहुंच गया, जो महीने का सबसे गर्म दिन रहा था। हालांकि, इसके बाद बादलों के छाने और हवाओं के चलते तापमान में गिरावट आई और पारा 42 से 44 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहा। लेकिन तीन दिनों से तापमान में ब?ोतरी का सिलसिला बना हुआ है। बुधवार को अधिकतम 44 और न्यूनतम 27 डिग्री पारा रिकार्ड किया गया। इसी तरह गुरुवार को अधिकतम 44.5 डिग्री और न्यूनतम 27 डिग्री रहा। लेकिन शुक्रवार को अधिकतम तापमान 46 डिग्री पर पहुंच गया और न्यूनतम पारा गिरकर 26.7 डिग्री रिकार्ड किया गया।

Kolar News

Kolar News 13 May 2022

उज्जैन। साल का पहला चंद्रग्रहण 16 मई को प्रातः काल 07 बजकर 02 मिनट से दोपहर 12 बजकर 20 मिनट तक रहेगा। 16 मई 2022 को खग्रास चंद्रग्रहण होगा, जो भारत में नहीं दिखाई देगा।   यह जानकारी श्री कल्लाजी वैदिक विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभागाध्यक्ष डॉ मृत्युञ्जय तिवारी ने बताया कि दृश्य नहीं होने के कारण इसका कोई धार्मिक महत्व नहीं होगा, लेकिन वृश्चिक राशि में लगने के कारण यह विभिन्न राशियों पर प्रभाव डालेगा। इस ग्रहण से वृश्चिक राशि में कई परिवर्तन आएंगे। इस ग्रहण का सूतक काल भी मान्य नहीं होगा। जहां यह ग्रहण देखा जा सकेगा वहां पर लाल दिखेगा इसलिए इस दिन के चंद्रमा को ब्लड मून भी कहा जाएगा। वैशाख पूर्णिमा के पूजा पाठ आदि किसी भी समय मुहूर्त अनुसार किए जा सकते हैं। ग्रहण के समय चंद्रमा वृश्चिक राशि में होगा, इसलिए इस ग्रहण के कारण इस राशि के लोगों के जीवन में कई परिवर्तन महीनों तक प्रभावित करेंगे। ग्रहण का भले ही सूतक काल न हो, लेकिन हमें ग्रहण से जुड़ दान पुण्य आदि कर लेना चाहिए।   वृश्चिक राशि के लोगों को नौकरी से लेकर व्यापार और निजी जीवन में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। विद्यार्थियों के लिए समय बिल्कुल भी अनुकूल नहीं है। इसलिए किसी भी तरह के फैसले सोच समझकर लें। जल्दबाजी में कोई काम न करें।   बता दें कि इस सल कुल चार ग्रहण लग रहे हैं, दो चंद्रग्रहण और दो सूर्य ग्रहण। 16 मई के बाद अब 25 अक्टूबर 2022 को स्वाति नक्षत्र और तुला राशि पर सूर्य ग्रहण शाम 4:23 बजे शुरू होगा। यह ग्रहण शाम 6:25 बजे समाप्त होगा। इस ग्रहण के देश के विभिन्न स्थानों में दिखाई देने से प्रभाव पड़ेगा। 8 नवंबर 2022 को खण्डग्रास चंद्र ग्रहण भरणी नक्षत्र और मेष राशि पर होगा। यह भी भारत में दिखाई देगा। दो ग्रहण दिखाई देंगे और दो ग्रहण दिखाई नहीं देंगे।

Kolar News

Kolar News 13 May 2022

भोपाल । प्रदेश के शासकीय विद्यालयों की कक्षा 5वीं एवं 8वीं के विद्यार्थियों के वार्षिक मूल्यांकन का परिणाम 13 मई को दोपहर 3 बजे घोषित किया जायेगा। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि अरूण शमी, राज्य शिक्षा केन्द्र के सभाकक्ष क्रमांक-2 में पेार्टल पर क्लिक कर परिणाम घोषित करेंगी। कार्यक्रम का सजीव प्रसारण राज्य शिक्षा केन्द्र के यू-ट्यूब चैनल https://youtu.be/8i_zHGEpP9s पर दोपहर 2:55 बजे से किया जायेगा।   राज्य शिक्षा केन्द्र के संचालक धनराजू एस ने गुरुवार को बताया कि कक्षा 5वीं की परीक्षा में लगभग 8 लाख 26 हजार और कक्षा 8वीं परीक्षा में लगभग 7 लाख 56 हजार विद्यार्थी सम्मिलित हुए हैं। ये सभी विद्यार्थी अपना परिणाम राज्य शिक्षा केन्द्र पोर्टल की पब्लिक लिंक https://www.rskmp.in/BoardExam/Result/StudentResult.aspx पर अपना समग्र आई.डी. डालकर देख सकेंगे। साथ ही शिक्षक अपनी कक्षा का विद्यार्थीवार एवं प्रभारी शिक्षक/हेडमास्टर अपने स्कूलों का विद्यार्थी और कक्षावार परिणाम भी राज्य शिक्षा केन्द्र के पोर्टल www.rskmp.in पर लॉग इन कर देख सकेंगे।   उल्लेखनीय है कि लगभग 12 वर्षों बाद प्रदेश में कक्षा 5वीं और 8वीं का वार्षिक मूल्यांकन, बोर्ड परीक्षाओं के अनुरूप किया गया है। इसमें राज्य स्तर से परीक्षा प्रश्न पत्रों का निर्माण, नजदीकी स्कूलों में परीक्षा केन्द्रों का निर्धारण, दूसरे स्कूलों और दूसरे जिलों में कॉपियों का मूल्यांकन तथा केन्द्रीकृत तथा ऑनलाइन परिणाम जैसी प्रक्रियाएं अपनाई गई हैं। साथ ही शिक्षा का अधिकार कानून में किए गए संशेाधन के आधार पर इस वर्ष से वार्षिक मूल्यांकन के आधार पर अगली कक्षा में कक्षोन्नति, पूरक परीक्षा और अनुत्तीर्ण होने पर उसी कक्षा में रोके जाने के प्रावधान भी किए गए हैं।

Kolar News

Kolar News 12 May 2022

भोपाल। पश्चिम बंगाल में बने चक्रवात की वजह से 16 मई से मध्यप्रदेश में प्री-मानसून दस्तक दे सकता है। प्रदेश में तीन दिन बाद बादल डेरा डालना शुरू कर सकते हैं। दिन में धूप रहेगी लेकिन शाम को हल्की बूंदाबांदी राहत दे सकती है। मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो प्रदेश में 14 मई के बाद लू चलने का दौर खत्म हो जाएगा। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि 15 मई तक मौसम इसी तरह बना रहेगा। बादलों के बीच धूप का तीखापन कम हो सकता है, लेकिन गर्मी बनी रहेगी। चक्रवात के कारण हल्के बादल आ रहे हैं। 16 मई से मौसम बदलेगा और बादल छाना शुरू हो जाएंगे। तीसरे सप्ताह में गर्मी तो रहेगी लेकिन ज्यादा नहीं बढ़ पाएगी। राज्य में अधिकतम तापमान 40 डिग्री के आसपास रहेगा। मई के अंतिम सप्ताह में एक बार फिर तापमान ऊपर चढ़ेगा और यह 44 डिग्री तक जा सकता है। इसके बाद गर्मी के तेवर ज्यादा तीखे नहीं रहेंगे। 14 मई से हीट वेव का दौर खत्म हो जाएगा। मौसम वैज्ञानिक साहा ने बताया कि चक्रवात का सीधा असर मध्यप्रदेश पर नहीं होगा है। वर्तमान में जबलपुर और सिंगरौली में 15 मई तक कहीं-कहीं हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। इसके अतिरिक्त प्रदेश में कहीं और बारिश की संभावना नहीं है। पाकिस्तान से हवाओं का दौर 13 मई से आएगा। इसका असर 15-16 मई तक खत्म हो जाएगा। इसके बाद 16 मई से हल्के बादल प्रदेश में आने लगेंगे। इससे प्री-मानसून की शुरुआत हो जा सकती है। दिन में बादल और देर शाम तक हल्की बूंदाबांदी होगी। मानसून की गतिविधियां प्रदेशभर में होंगी।

Kolar News

Kolar News 12 May 2022

मुहूर्त=राहुकाल=राशिफल===चौघड़िया==गुरुवार  12 मई, 2022   =========================================== शक सम्वत 1944 विक्रम सम्वत 2079 श्री नल मास   वैशाख तिथि    एकादशी - 18:53:34 तक नक्षत्र     उत्तरा फाल्गुनी - 19:31:03 तक करण    वणिज - 07:19:12 तक, विष्टि - 18:53:34 तक पक्ष     शुक्ल योग    हर्शण - 17:50:54 तक वार     गुरूवार सूर्योदय     05:32:31 सूर्यास्त     19:02:44 चन्द्र राशि    कन्या ऋतु    ग्रीष्म शुभ समय=अभिजित 11:44:24 से 12:30:46 तक दिशा शूल दक्षिण राहु काल    14:00:10 से 15:42:37 तक सुझाव- हाथ में राई लेकर तथा अपने ईष्टदेव को प्रणाम कर घर से निकलें। ---------------- दिन का चौघड़िया ======= परम्परागत रूप से चौघड़िया का उपयोग यात्रा के मुहूर्त के लिए किया जाता है शुभ -उत्तम  05:28 ए एम से 07:10 ए एम रोग -अमंगल  07:10 ए एम से 08:53 ए एम उद्वेग -अशुभ   08:53 ए एम से 10:35 ए एम चर -सामान्य   10:35 ए एम से 12:18 पी एम लाभ -उन्नति  12:18 पी एम से 02:00 पी एम अमृत -सर्वोत्तम  02:00 पी एम से 03:43 पी एमRahu Kalam काल -हानि  03:43 पी एम से 05:25 पी एमकाल वेला शुभ -उत्तम 05:25 पी एम से 07:08 पी एम टिप्पणी -१२ घण्टे की घड़ी दिल्ली के स्थानीय समय के साथ और सभी चौघड़िया मुहूर्त! ============================== राशिफल- ========= मेष  आज का दिन आपके चारों ओर का वातावरण सुखमय रहेगा। आपको घर व बाहर दोनों ही जगह से एक के बाद एक शुभ सूचना सुनने को मिलती रहेगी, जिससे आप प्रसन्न रहेंगे। जीवनसाथी से आपका कोई वाद विवाद हो सकता है, आपको बात संभालनी होगी ना कि उसे बढ़ाना है। यदि आप किसी नए व्यवसाय को शुरू करेंगे, तो उसमें आप सफलता हासिल करेंगे। आपको यदि किसी व्यक्ति की मदद करने का मौका मिले, तो अवश्य करें। वृष आज का दिन आपके सुख भोग के साधनों में वृद्धि का दिन रहेगा। आपको कोई उत्तम संपत्ति प्राप्त हो सकती है। यदि आपका कोई बंटवारा होने वाला था, तो वह आज हो सकता है। आपकी मान व प्रतिष्ठा में भी आज वृद्धि होगी। जो लोग राजनीति की दिशा में कार्यरत हैं, उन्हें अभी कुछ समय और परेशानी का सामना करना पड़ेगा, तभी वह किसी मुकाम पर पहुंच पाएंगे।  मिथुन  आज आप किसी विशेष काम को पूरा करने के लिए भागदौड़ में लगे रहेंगे, जिसके कारण आप अपने परिवार की ओर भी ध्यान नहीं देंगे, लेकिन आप उसे पूरा करने में सफल रहेंगे। आज आपके घर अतिथि आगमन हो सकता हैं, जिसके कारण आपका खर्च भी बढ़ सकता है। परिवार के सदस्य भी उनके आवभगत में लगे नजर आएंगे। परिवार में छोटे बच्चे आपसे कुछ फरमाइश कर सकते हैं, जिन्हें आप पूरी अवश्य करेंगे।  कर्क  आज का दिन आपके लिए विशेष रूप से फलदायक रहने वाला है। आपको अपनी संतान की संगति की ओर विशेष ध्यान रखना देना होगा। आज आपके खर्चा बढ़े हुए रहेंगे, जिन्हें लेकर आप चिंतित रहेंगे, लेकिन आपको उन पर लगाम लगानी होगी, नहीं तो आप अपने संचय धन को भी समाप्त कर देंगे, जिसके कारण बाद में आपको परेशानी होगी।  सिंह  आज का दिन आपके लिए भागदौड़ भरा रहेगा। आप अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए जिन प्रयासों को करेंगे, उनमें आपको सफलता अवश्य प्राप्त होगी व आपकी आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी और आय के कुछ नए साधन ही प्राप्त होंगे, लेकिन आपको अपनी वाणी की सौम्यता को बनाए रखना होगा, तभी वह आपको मान सम्मान दिलवाएगी।  कन्या  आज का दिन आपके लिए कुछ परेशानी भरा रहेगा। आपको कार्य क्षेत्र में अपने अनुभव का लाभ मिलेगा व आपके दिए गए सुझावों का स्वागत होगा। यदि किसी अधिकारी से कोई बहस बाजी हो, तो आपको उसमें चुप रहना ही बेहतर रहेगा। यदि आपने किसी से अपने मन की बातों को साझा किया, तो वह बाद में उनका मजाक बना सकते हैं।  तुला  आज का दिन आपके लिए सुख समृद्धि वाला रहेगा। आप अपने लिए कुछ चीजें खरीदने पर भी कुछ धन व्यय करेंगे, जिसे देखकर आपके शत्रु आपसे ईर्ष्या करेंगे। यदि ससुराल पक्ष के किसी व्यक्ति को धन उधार दिया तो,  वह बाद में आपके रिश्तो में दरार पैदा करवा सकता है। अविवाहित जातकों के जीवन में आज किसी नए मेहमान की दस्तक हो सकती है। वृश्चिक  आज का दिन आपके लिए मध्यम रुप से फलदायक रहेगा। आपको अपनी धीमी गति से चल रहे व्यवसाय के लिए यदि किसी विशेषज्ञ से सलाह लेनी पड़े, तो अवश्य ले, वह आपके लिए लाभदायक रहेगी। आप अपने साथियों के साथ मौज मस्ती करने जा सकते हैं।  प्रेम जीवन जी रहे लोग अपने प्रिय की बातों में खुश नजर आएंगे व उसी कार्य को करेंगे,e धनु  आज का दिन आप की आर्थिक स्थिति को मजबूती दिलाने वाला रहेगा, क्योंकि आपको अकस्मात बड़ी मात्रा में धन हाथ लग सकता है, जिसकी आपने उम्मीद भी नहीं की थी। विद्यार्थियों को  कुछ नया सीखने का मौका मिलेगा, जिसके कारण आप प्रसन्न रहेंगे।  नौकरी से जुड़े जातकों को कार्यक्षेत्र में कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।   मकर  आज का दिन आपके लिए व्यस्तता भरा रहेगा। आपको अपने व्यवसाय के रुके हुए कार्यों की ओर ध्यान देना होगा व उनको प्राथमिकता देनी होगी, तभी आप अपने व्यापार में मुताबिक लाभ कमा पाएंगे।  सरकारी नौकरी से जुड़ी महिलाओं से बातचीत करते समय वाणी की मधुरता को बनाए रखना होगा। ससुराल पक्ष से आपको धन लाभ मिलता दिख रहा है। कुंभ  आज का दिन आपकी यश व कीर्ति में वृद्धि का दिन रहेगा। आपको अपने विरोधियों से सावधान रहना होगा, क्योंकि वह आपकी तरक्की देखकर आपसे नफरत करेंगे और आपको नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर सकते हैं। यदि आप किसी कार्य को भाग्य के भरोसे छोड़ेंगे तो बाद में यह आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है, इसलिए सावधान रहें।  मीन  आज का दिन आपकी मनोकामनाओं की पूर्ति का दिन रहेगा। आपकी यदि कोई संपत्ति या वाहन खरीदने की इच्छा लंबे समय से थी, तो वह आज पूरी होगी। घरेलू स्तर पर भी आप किसी मांगलिक आयोजन को कर सकते हैं, जिसमें परिजनों का आना जाना रहेगा। रात्रि का समय आप अपने परिवार के सदस्यों के साथ बिताएंगे, जिससे आप दोनों के बीच की दूरियां कम होंगी।  ==================== आचार्य आशु जी

Kolar News

Kolar News 12 May 2022

भोपाल। राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं मध्यप्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार जिला न्यायालय भोपाल में प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश और जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की अध्यक्ष गिरिबाला सिंह के नेतृत्व में शनिवार, 14 मई को नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया जाएगा, जिसके लिए 68 खण्डपीठों का गठन किया गया है। प्रधान जिला एवं सत्र न्यायधीश गिरिबाला सिंह ने बुधवार को आयोजित प्रेसवार्ता में बताया कि इस बार लोक अदालत में प्रि-लिटिगेशन रेफर्ड के 53 हजार 993 प्रकरण रखे जाएंगे। चेक बाउंस से संबंधित मोटर दुर्घटना दावा, आपराधिक राजीनामा, पारिवारिक प्रकरण श्रम, विधि, संबंधी प्रकरण, बैंक रिकवरी प्रकरण व्यवहार वाद प्रकरण,विद्युत अधिनियम प्रकरण, राजस्व जिला न्यायालय में रखे प्रकरण को लोक अदालत में रखा जाएगा।। प्रधान न्यायाधीश ने बताया कि मोटर वाहन कानून के नए नियम से भी बहुत सारे प्रकरण इस बार लोक अदालत में रखे जाएंगे, जिससे कोर्ट की पेंडेंसी काम होगी। इस बार लोक अदालत के दिन रक्त दान शिविर भी लगाया जायेगा, जिससे लोग अपने सामाजिक दायित्व को भीं पूरा कर सके।

Kolar News

Kolar News 11 May 2022

ग्वालियर। मौसम में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। बुधवार को राजस्थान की ओर से आईं उत्तर-पश्चिमी गर्म हवाओं के चलते एक बार फिर अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच गया। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले दो दिन गुरुवार और शुक्रवार को ग्वालियर-चम्बल अंचल में लू की स्थिति निर्मित हो सकती है। पिछले दिनों की तरह बुधवार को भी मौसम साफ रहा और काफी तेज धूप निकली। इसके साथ ही लगभग चार किलोमीटर प्रति घंटे की गति से उत्तर-पश्चिमी गर्म हवाएं भी चलती रहीं। इस वजह से दोपहर में मौसम अत्यधिक गर्म रहा। हवाओं में नमी बढ़ जाने से उमस भी परेशान करती रही। स्थानीय मौसम विज्ञानी सी.के. उपाध्याय ने बताया कि अगले दो दिन तक मौसम गर्म रहेगा। इस दौरान ग्वालियर-चम्बल में विशेषकर भिण्ड, मुरैना, श्योपुर जिलों में लू की स्थिति निर्मित हो सकती है लेकिन 14 मई से तापमान में गिरावट होगी क्योंकि अगले 24 घंटे में एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर में पहुंचेगा। ग्वालियर-चम्बल अंचल में इसका असर दो दिन बाद नजर आएगा। इसके प्रभाव से हवाओं की दिशा बदलने के साथ आंशिक बादल भी छा सकते हैं।   स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की अपेक्षा बुधवार को अधिकतम तापमान 1.5 डिग्री सेल्सियस बढ़कर 42.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो औसत से 1.3 डिग्री सेल्सियस अधिक है जबकि न्यूनतम तापमान 0.5 डिग्री सेल्सियस आंशिक गिरावट के साथ 27.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह भी औसत से 1.5 डिग्री सेल्सियस अधिक है। आज सुबह हवा में नमी 56 और शाम को 34 प्रतिशत दर्ज की गई।

Kolar News

Kolar News 11 May 2022

मंडला। बढ़ती गर्मी के साथ कान्हा नेशनल पार्क में पर्यटकों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। गर्मी से राहत के साथ वन्य प्राणियों का दीदार करने पर्यटक कान्हा नेशनल पार्क पहुंच रहे हैं। कान्हा के जंगल जहां गर्मी से राहत दे रहे हैं तो वहीं वन्य प्राणी के दीदार रोमांचित कर रहे हैं। बुधवार को ऐसा ही एक नजारा कान्हा जोन में डीबी 2 बाघ का देखने को मिला जब सफारी के दौरान पर्यटकों की चिप्सी के सामने से अपने अंदाज में रास्ता पार कर रहा था। इसके साथ ही पर्यटकों ने एक और वीडियो एक बाघ का बनाया है जो शिकार की तलाश में जलाशय के पास पहुंचा और कभी देर तक पर्यटकों को रोमांचित करता रहा। जो सोशल मीडिया में भी काफी वायरल हो रहा है।

Kolar News

Kolar News 11 May 2022

  भोपाल । भोपाल में 6 से 17 मई तक आयोजित 12वीं सीनियर नेशनल वुमन हॉकी चैंपियनशिप 2022 के 5वें दिन दो मैच खेले गए। मेजर ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम में मंगलवार को खेले गए पहले मैच में ओडिशा वुमन हॉकी टीम ने केरल को 11-0 से हराया। ओड़िशा की टीम ने 6 फील्ड गोल और 2 पेनाल्टी कॉर्नर से जीत हासिल की है। दूसरे मैच में हिमाचल ने तेलंगाना को 7 फील्ड गोल और 1 पेनाल्टी कॉर्नर से 8-0 से पराजित किया।     बुधवार 11 मई को 4 मैच खेले जाएंगे। इसमें सुबह 6:30 बजे चंडीगढ़ और बिहार के बीच मुकाबला होगा। प्रात: 8:15 बजे असम और बंगाल आमने-सामने होंगे। प्रात: 10 बजे छत्तीसगढ़ और त्रिपुरा के मध्य मैच खेला जायेगा। दोपहर 3 बजे राजस्थान और उत्तराखंड तथा शाम 4:45 बजे आंध्र प्रदेश और पुडुचेरी के बीच मुकाबले होंगे।

Kolar News

Kolar News 10 May 2022

मंदसौर। मंदसौर के शामगढ़ में प्रतिवर्ष लगने वाले पशु हाट मेले में सांस्कृतिक और धार्मिक आयोजन के नाम पर फूहड़ डांस कराना नगर पालिका सीएमओ नासिर अली खान को महंगा पड़ गया। डांस के वीडियो वायरल हुए तो कैबिनेट मंत्री हरदीप सिंह डंग ने तत्काल कार्रवाई को लेकर अधिकारियों को निर्देशित किया। देर रात कमिश्नर के आदेश के बाद सीएमओ नासिर अली खान को निलंबित कर दिया गया और मामले की जांच के लिए एसडीएम गरोठ और तहसीलदार शामगढ़ को क्लेक्टर गौतम सिंह ने निर्देश दिए गए हैं। यह था ममाला मंदसौर के शामगढ़ नगर की आराध्या देवी मां महिषासुर मर्दिनी देवी के नाम से प्रसिद्ध पशु मेला नगर परिषद द्वारा आयोजित किए गए मेले में सांस्कृतिक मंच के नाम पर अश्लीलता परोसी गई थी। मेला परिसर में मंच पर पोस्टर लगाया गया था, जिसमें महिषासुर मर्दिनि माता की फोटो के साथ में कैबिनेट मंत्री हरदेव सिंह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिवराज सिंह चैहान सहित कई नेताओं के फोटो बैनर में लगे थे। कार्यक्रम नगर परिषद शामगढ़ के द्वारा आयोजित किया गया था। मेले में सांस्कृतिक और धार्मिक आयोजन के नाम पर फूहड़ और अश्लील नृत्य के वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुए तो सवाल खड़े हुए लोगों ने इसका विरोध किया। कांग्रेस ने इसे मुद्दा बनाते हुए जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग को लेकर ज्ञापन भी दिया था। सोमवार देर रात तक कैबिनेट मंत्री ने कमिश्नर से चर्चा की और दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके बाद कलेक्टर के आदेश पर शामगढ़ नगर परिषद सीएमओ नासिर अली खान को निलंबित कर दिया गया।

Kolar News

Kolar News 10 May 2022

उज्जैन। महाकालेश्वर मंदिर में मंगलवार से शुक्रवार तक श्रद्धालुओं को तय समय में गर्भगृह में नि:शुल्क प्रवेश मिलेगा। यह समय दोपहर 1 से 4 बजे तक का रहेगा। मंदिर प्रबंध समिति भीड़ की स्थिति देखकर निर्णय करेगी। प्रशासक गणेश धाकड़ ने बताया कि मंदिर क्षेत्र में निर्माण कार्य लगातार चल रहे हैं। इसी के चलते दर्शन व्यवस्था में परिवर्तन होता रहता है। अब मंगलवार से शुक्रवार तक प्रति सप्ताह भीड़ की स्थिति देखकर दोपहर 1 से अपरांह 4 बजे तक,चार घण्टे तक श्रद्धालुओं को गर्भगृह में नि:शुल्क प्रवेश दिया जाएगा। सामान्य श्रद्धालुओं की दर्शन हेतु कतार बड़ा गणेश मंदिर के सामने से लगाकर,4 नम्बर गेट से प्रवेश करवाकर,विश्राम धाम,संगमरमर गलियारा,मंदिर परिसर,कार्तिकेय मण्डप की रैम्प से नीचे उतरकर गणपति मंडप के बेरीकेट्स से होकर दर्शन तथा निर्गम रेम्प से गेट नम्बर 5 से वापसी होगी। इसी प्रकार प्रोटकाल श्रद्धालु महाकालेश्वर मंदिर प्रशासनिक कार्यालय के सामने फेसिलिटी सेन्टर से प्रवेश करए निर्माल्य द्वार से सुर्यमुखी हनुमान की सीढियों से सभामण्डप,काले गेट से होकर गणपति मण्डप के बैरिकेट्स से दर्शन कर उसी मार्ग से वापसी करेंगे।

Kolar News

Kolar News 10 May 2022

ग्वालियर। बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान 'आसनी' और उत्तर-पश्चिमी मध्य प्रदेश में सक्रिय चक्रवात के असर से सोमवार को अधिकतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है। लेकिन मौसम के जानकारों का पूर्वानुमान है कि मंगलवार से छह दिन यानी 15 मई तक ग्वालियर-चम्बल अंचल में तापमान बढऩे के साथ लू की स्थिति निर्मित हो सकती है। पिछले दिनों की तरह सोमवार को भी मौसम शुष्क रहा और तेज धूप निकली लेकिन हवाओं की गति मंद रही। हालांकि फिर भी गर्मी चरम पर थी लेकिन लू से राहत बनी रही। स्थानीय मौसम विज्ञानी सी.के. उपाध्याय ने बताया कि उधर बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान और इधर उत्तर-पश्चिमी मध्य प्रदेश में चक्रवात सक्रिय है। इन दोनों मौसम प्रणालियों के प्रभाव से वायु मंडल में जहां हवाओं की दिशा पूर्वी हो गई है वहीं हवाओं में नमी भी बढ़ गई है। इसी कारण आज अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। लेकिन मंगलवार से गर्मी तेज हो सकती है। मौसम विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान अनुसार 10 से 15 मई तक ग्वालियर-चम्बल में तेज गर्मी पड़ने के साथ लू की स्थिति निर्मित हो सकती है। इस दौरान तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ऊपर जा सकता है। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में सोमवार को अधिकतम तापमान 1.1 डिग्री सेल्सियस गिरावट के साथ 42.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो औसत से 1.1 डिग्री सेल्सियस अधिक है। न्यूनतम तापमान भी 1.3 डिग्री सेल्सियस बढ़कर 26.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह भी औसत से 1.4 डिग्री सेल्सियस अधिक है। सोमवार सुबह हवा में नमी 59 और शाम को 31 प्रतिशत दर्ज की गई।

Kolar News

Kolar News 9 May 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 28 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 19 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 717 हो गई है। राहत की बात है कि राज्य में लगातार 14वें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले भी राज्य में 28 नये संक्रमित मिले थे। कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 7,554 सैम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 28 पॉजिटिव और 7,526 सैम्पल निगेटिव पाए गए, जबकि 122 सैम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.3 रहा। नये मामलों में भोपाल में 4, ग्वालियर और मुरैना में 3-3, बैतूल, नर्मदापुरम, नरसिंहपुर, रायसेन और टीकमगढ़ में 2-2 तथा छतरपुर, दतिया, गुना, जबलपुर, कटनी, मंदसौर, निवाड़ी और सिंगरौली में 1-1 नये संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 36 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। राज्य में आज कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां 14 दिन से मृतकों की संख्या 10,735 पर स्थिर है। प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 91 लाख 48 हजार 368 लोगों के सैम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,717 प्रकरण पॉजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,783 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 19 मरीज सोमवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 190 से बढ़कर 199 हो गई है। हालांकि, खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 27 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।     इधर, प्रदेश में 09 मई को शाम छह बजे तक 42 हजार 599 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन की 11 करोड़, 80 लाख, 92 हजार 605 डोज लगाई जा चुकी है।

Kolar News

Kolar News 9 May 2022

  उमरिया। देश के टाइगर स्टेट मध्य प्रदेश में बाघों का कुनबा लगातार बढ़ता जा रहा है। इसी क्रम में सोमवार को राष्ट्रीय उद्यान बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में सोमवार सुबह एक साथ छह बाघ देखे गए। पर्यटकों के सामने एक साथ छह बाघ आए तो वे रोमांचित हो उठे। इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें छह बाघ एक साथ अठखेलियां करते नजर आ रहे हैं।   दरअसल, उमरिया के विश्व प्रसिद्ध बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में सोमवार की सुबह पर्यटक सफारी पर निकले थे। इसी दौरान उनके सामने एक साथ 6 बाघ आ गए। इन बाघों को देखकर पर्यटक रोमांचित हो उठे। पर्यटकों के सामने यह रोमांचक दृश्य बाँधवगढ़ टाइगर रिजर्व के खितौली कोर जोन में उत्पन्न हुआ। यहां पर्यटकों को मशहूर बाघिन का कुनबा देखने को मिला, जिसमें चार शावकों के साथ मां तारा बाघिन और पिता छोटा भीम बाघ एक साथ नजर आए। छह बाघों को एक साथ देखकर पर्यटक खुशी से झूमने लगे। पार्क के खितौली कोर जोन में पर्यटक जिप्सियों में सवार होकर बाघ दर्शन की मनोकामना से गए थे, लेकिन इस तरह से समूह में बाघों को देखना पर्यटकों की कल्पना से बाहर था।   पर्यटकों की जिप्सी खितौली पर्यटन जोन में बाघ दर्शन के लिए भ्रमण कर रही थी, तभी वन तलैया में छह बाघों के झुंड एक साथ पानी में आनंद लेते दिखाई दिए। पर्यटकों ने बाघ दर्शन का जी भरकर लुत्फ उठाया। बाँधवगढ़ की मशहूर बाघिन अपने चार शावकों और पिता एवं पार्क के सबसे डोमिनिटेड बाघ छोटा भीम के साथ ठंडे पानी मे शीतलता का आनंद ले रहे थी।   इस दौरान पर्यटकों ने बाघ दर्शन का लुत्फ उठाया और फोटोग्राफी की और वीडियो भी बनाए हैं। पर्यटकों द्वारा बनाया गया वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में साफ़ दिखाई दे रहा है कि सभी छह बाघ आसपास बैठे हुए हैं और पानी की ठंडक का आनंद उठा रहे हैं। ऐसे दृश्य बांधवगढ़ में आमतौर पर कम ही देखने को मिलते हैं।   मशहूर है तारा बाघिन   बाँधवगढ़ टाइगर रिजर्व में वर्तमान में तारा बाघिन काफी लोकप्रिय है। देश विदेश के पर्यटक महज तारा बाघिन का दीदार करने यहां पंहुच रहे है। जिसकी मुख्य वजह इसके चार शावक हैं जो लगभग 20 माह के हो चुके हैं। बाघिन शावकों को हमेशा अपने साथ रखती है। दूसरी खास बात यह कि यह पर्यटकों को देखकर सहज रहती है।

Kolar News

Kolar News 9 May 2022

  भोपाल। मध्यप्रदेश में मौसम का मिजाज एक बार फिर बदलने वाला है। अब तक ग्वालियर-चंबल, भोपाल और सागर में गर्मी से राहत देने वाले बादल अब उज्जैन, इंदौर और नर्मदापुरम रविवार से शिफ्ट हो जाएंगे। भोपाल में रविवार को भी हल्की राहत रहेगी, लेकिन ग्वालियर-चंबल, सागर और बुंदेलखंड में पारा चढ़ने लगेगा। रविवार को कुछ इलाकों में तापमान में 1 से 2 डिग्री की बढ़ोतरी होगी। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह ने बताया कि 12 से 14 मई तक बादलों के कारण तापमान फिर नीचे आएगा। इसके बाद 15 मई से 26 मई तक एक बार फिर गर्मी का दौर शुरू होगा। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान से आ रही हवाएं शनिवार रात से कमजोर हो गई हैं। ये हवाएं जम्मू-कश्मीर के ऊपर ट्रफ के रूप में उत्तर में है। चक्रवातीय गतिविधियां पूर्वोत्तर बांग्लादेश और विदर्भ के ऊपर सक्रिय हैं। विदर्भ और मराठवाड़ा से लेकर कर्नाटक तक हवाओं में निरंतरता है। दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी में अतिनिम्न दाब क्षेत्र सक्रिय है। इसके रविवार से प्रभावी होकर चक्रवातीय तूफान के रूप में विकसित होने की संभावना है। इसके साथ ही पाकिस्तान से 11 मई से हवाएं फिर से आने लगेंगी। इधर, बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से नमी मिलने से 12 मई से 14 मई तक प्रदेश के कई इलाकों में बादल छाने की संभावना है। इससे तीन दिन तक तापमान में नीचे आने से गर्मी से राहत रहेगी। इसके बाद 15 मई से फिर से तापमान बढ़ेगा। मौसम की परिस्थितियों के चलते प्रदेश में रविवार से ग्वालियर-चंबल, सागर समेत बुंदेलखंड में तापमान में बढ़ोतरी होगी। प्रदेश भर में 10 से 11 मई तक दिन का पारा 45 डिग्री की रेंज में रहेगा। इससे कई इलाकों में फिर से लू का प्रकोप रहेगा। तीन दिन बाद मौसम करवट लेगा और बादल छाने से कुछ राहत मिलेगी। हालांकि इस दौरान बारिश की ज्यादा संभावना नहीं है।

Kolar News

Kolar News 8 May 2022

  विनय तिवारी   4 मई का दिन दतियावासियों या कहें कि पीताम्बरा माई के भक्तों के लिये ऐतिहासिक दिन था। पहली बार मांई अपने लाखों भक्तों के बीच रथ में सवार हो दर्शन देने निकली थीं। भक्ति गीतों और जय माता दी गूंज हर लबों पर थीं। दतिया में हुआ यह धार्मिक अनुष्ठान अपनी गहरी छाप छोड़ गया और यह सवाल भी उठा गया कि क्या मांई का यह सिद्ध स्थल धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में अपनी ख्याति प्राप्त नहीं कर सकता। वैसे भी इन दिनों कई धार्मिक पर्यटन स्थलों को संजाने संवारने और उनको धार्मिक पर्यटन के रूप में तेजी से विकसित किये जाने का सिलसिला जारी है। जब कोई धार्मिक पर्यटन स्थल देश के पर्यटन के मानचित्र पर आ जाता है तो निश्चीय ही वह पर्यटन का प्रमुख केन्द्र बन जाता है। लोगों की आस्था का केन्द्र बन जाता है। इसके लिये सरकार, मंदिर के ट्रस्ट और जनभागीदारी की बहुत जरूरत होती है। पीताम्बरा शक्ति पीठ भले ही धार्मिक स्थल के रूप में विख्यात है लेकिन इसकी ख्याति के लिये अभी बहुत प्रयत्न किया जाना बाकी है। इस स्थल को धार्मिक पर्यटन और पर्यटकों के हिसाब से सुविधाएं जुटाना भी आवश्य्क है। आज नैसर्गिक पर्यटन से ज्यादा लोग धार्मिक यात्रा करना पसंद करते हैं। पीताम्बरा पीठ मंदिर परिसर के विस्तार और उसके आस-पास ठहरने, खान-पान की आधुनिक सुविधाएं विकसित किये जाने की बहुत जरूरत है। क्योंकि पर्यटक कोई भी हो पैसे की चिन्ता नहीं करता वह तो वहां सुविधाएं चाहता है। प्रचार-प्रसार की अपेक्षा रखता है ताकि उसको सारी जानकारी एक क्लिक करते ही मिल जाये। मंदिर के महत्व, अनुष्ठानों की प्रमाणित जानकारी वह प्रकाशित फोल्डरों, पुस्तकों के माध्यम से जानना चाहता है। सीडी या अन्य माध्यमों से वह मांई के गुणगान सुनना चाहता है। जब किसी धार्मिक स्थल की महिमा दूर-दूर तक पहुंचती है तो वह स्थल एक धार्मिक व्यावसायिक केन्द्र का रूप भी ले लेता है। लोगों को रोजगार के साधन मुहैया होने लगते हैं। स्थानीय लोगों को रोजगार के लिये ज्यादा संघर्ष नहीं करना पड़ता है। पर्यटक ज्यादा आते हैं तो घर होम स्टे, लॉज होटलों में परिवर्तित होने लगती हैं। रेस्टोरेन्ट भी खुलने लगते हैं। मंदिर के तीज त्यौहार, उत्सवों का स्वरूप बड़ा रूप लेने लगता है। तिथि के हिसाब से हर साल अपने आप ही धार्मिक श्रद्धालु जुटने लगते हैं। पीताम्बरा शक्तिपीठ के लिये ख्यात दतिया वैसे भी रेलवे लाईन पर है। यहां श्रद्धालुओं को आने-जाने में दिक्कत भी नहीं होती है। पुरातत्व दृष्टि से भी दतिया समृद्ध है। दतिया को टूरिस्ट सर्किट से जोड़ा जा सकता है। क्योंकि आगरा, ग्वालियर, झांसी, ओरछा, खजुराहों एक टूरिस्ट सर्किट की तरह हैं। इस बीच दतिया को भी शामिल कर दिया जाये तो यहां का धार्मिक महत्व ओर भी बढ़ सकता है। मध्यप्रदेश शासन को मध्यप्रदेश के धार्मिक स्थलों को भी मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना से भी जोड़ना चाहिए। मध्यप्रदेश और देशवासियों के लिये मध्यप्रदेश के मंदिर भी आस्था के केन्द्र हैं। दतिया दर्शन योजना पर भी विचार किया जाना चाहिए ताकि मांई के दर्शन करने आया श्रद्धालु पीताम्बरा पीठ के अलावा पूरा दिन क्या-क्या घूमें, यह उसमें शामिल होना आवश्यठक है। जब धार्मिक पर्यटक किसी स्थल पर जाता है तो ठहरता है, प्रसाद खरीदता है, स्थानीय दुकानों से प्रचलित वस्तुये खरीदता है, होटलों में व्यंजनों का स्वाद लेता है। इस प्रक्रिया में स्थानीय दुकानदारों को रोजगार सुलभ होता है। किसी भी धार्मिक स्थल को उसके महत्व और वहां की संस्कृति से प्रसिद्धी दिलायी जा सकती है। हर स्थल के व्यंजनों का स्वाद भी अलग होता है। यदि यहां आने वाले धार्मिक श्रद्धालुओं को दतिया के प्रसिद्ध व्यंजन परोसे जाये तो वह यहां की अलग छबि होकर प्रस्थान करेगा। जिस प्रकार बीते दिनों पीताम्बरा पीठ पर भक्तों का सैलाब उमड़ा, उसको दृष्टिगत लगता है कि इस स्थल को भव्य रूप दिया जा सकता है। पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिये प्रयास तो करने होंगे।

Kolar News

Kolar News 8 May 2022

मदर्स डे विशेष (प्रवीण कक्कड़) आधुनिक समाज में यह परंपरा विकसित हो गई है कि कोई ना कोई तारीख या दिन किसी विशेष प्रयोजन को समर्पित किया जाता है। आज का दिन मदर्स डे के रूप में मां को समर्पित किया गया है। मां होने का अर्थ क्या है? एक मां तो वह है जिसने हमें जन्म दिया है और हमारा लालन पालन करके संसार में उतरने के लिए तैयार किया है। दूसरी मां धरती मां है जो हमारे लिए अन्न, जल और दूसरी चीजें उपलब्ध कराती हैं, ताकि हम अपना भरण-पोषण कर सकें। तीसरी मां प्रकृति है जिसने इस सारे ब्रह्मांड की उत्पत्ति की है। यहां जरा खुद से पूछेंगे कि आखिर हमने क्यों धरती को और प्रकृति को और बल्कि बहुत सी ईश्वरीय शक्तियों को भी मां के रूप में ही स्वीकार किया है। बहुत से देश अपने राष्ट्र को पितृभूमि कहते हैं लेकिन हम अपने देश को मातृभूमि कहते हैं। हमारी सारी देवियां माता हैं। यह विश्लेषण बताता है कि भारत की संस्कृति सिर्फ नारी की पूजा ही नहीं करती बल्कि अपनी हर महान चीज को माता के स्वरूप मानती है। हमारी सभ्यता और संस्कृति ईश्वर को संसार का निर्माता और माता के स्वरूप को संसार का भरण पोषण करने वाला और पालन करने वाला मानता है। ईश्वर सब जगह नहीं हो सकता, इसलिए उसने मां बनाई। लेकिन मैं एक बात और आप से कहता हूं कि दुनिया में हर चीज हर जगह आपको मिल सकती है, लेकिन मां और कहीं नहीं मिल सकती। क्या कभी किसी मां ने अपने बच्चों से या अपने परिवार से अपने इस सेवा, समर्पण और त्याग की कीमत मांगी है। एक बात और ध्यान रखिए कि उसका यह सेवा, समर्पण और त्याग बिना किसी साप्ताहिक अवकाश के, बिना किसी राष्ट्रीय अवकाश और बिना किसी धार्मिक अवकाश के जीवनपर्यंत चलता रहता है।  रामचरितमानस में कहा गया है: "मात पिता गुरु प्रभु की बानी, बिनहिं बिचार करेहु सुभ जानी।" यहां एक बात पर गौर कीजिए तुलसीदास जी ने यह तो लिखा ही है कि मां की वाणी को बिना विचार किए हुए ही अपने लिए शुभ समझ लेना चाहिए, लेकिन इस बात पर भी ध्यान दीजिए की मां का दर्जा पिता, गुरु और ईश्वर तीनों से पहले दिया गया है। अर्थात सृष्टि में जो भी पूजनीय हैं, उनमें मां सर्वोच्च है। हमारी कई भाषाओं में से एक प्रार्थना में कहा गया है "पूत कपूत सुने बहुतेरे माता कभी ना कुमाता" यानी लड़के तो बहुत से बिगड़ सकते हैं लेकिन मां तो मां ही रहती है। छत्रपति शिवाजी महाराज और महात्मा गांधी जैसे हमारे राष्ट्रीय नेताओं के व्यक्तित्व को गढ़ने में सबसे ज्यादा भूमिका उनकी माताओं की ही रही है। आज के समय को देखें तब भी आप पाएंगे कि सुबह सुबह बच्चों के लिए नाश्ता बनाने से लेकर उन्हें स्कूल तक छोड़ने की जिम्मेदारी भी अधिकांश माताएं उठाती हैं। उनके छोटे से कष्ट करने वालों सबसे पहले माता ही करती है। मां को अपने बच्चों की पसंद और नापसंद का जितना कह रहा अंदाजा होता है उतना किसी मित्र या अभिभावक को नहीं होता। यहां तक कि प्रेमी और प्रेमिका भी एक दूसरे को इतनी गहराई से नहीं समझते इतनी गहराई से माता अपनी संतान को समझती है। इसीलिए यह बहुत स्पष्ट है की माता सिर्फ हमें जन्म नहीं देती या हमें दुलार नहीं देती वह असल में इस संसार का मूल है। वह स्वयं सृष्टि है और सृष्टि की जननी भी है। इस मदर्स डे पर अपनी माता को प्रणाम करिए और उसके चरणों में नमन करके सारी सृष्टि को वंदन करिए।

Kolar News

Kolar News 8 May 2022

रीवा। विन्ध्य की भूमि वीरों और शहीदों की भूमि है। यहाँ की माटी में जन्म लेने वाले कई वीरों ने देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर किए। इन्हीं में शामिल हैं रीवा जिले के ग्राम फरेदा के लांस नायक स्वर्गीय दीपक सिंह। दीपक ने भारतीय सेना के जांबाज सैनिक के रूप में 15 जून 2020 में लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के धोखे से किए गए हमले का जोरदार मुकाबला किया।   उन्होंने चीनी सैनिकों के साथ कड़ा मुकाबला करते हुए अपने साथियों के साथ चीनी सेना को पीछे हटने के लिए मजबूर किया। लेकिन इस संघर्ष में दीपक सिंह मातृभूमि की रक्षा करते हुए शहीद हो गए। उनके शहादत की खबर रीवा पहुंचने पर उनके परिवार के सदस्यों के साथ पत्नी रेखा पर जैसे वज्रपात हो गया। विवाह के केवल 15 माह के बाद रेखा ने अपने पति को खो दिया। दीपक सिंह को मरणोपरांत वीर चक्र से सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहीद के परिजन को एक करोड़ रुपये की सहायता राशि प्रदान की थी।   रेखा सिंह के जीवन पर जैसे मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा। जिस उम्र में नव विवाहित युवतियाँ वैवाहिक जीवन के मधुर सपनों में खोई रहती हैं, उस उम्र में उन्हें अपने पति को खोना पड़ा। विवाह से पहले रेखा सिंह जवाहर नवोदय विद्यालय सिरमौर में शिक्षिका के रूप में कार्य कर रही थीं। उच्च शिक्षित रेखा के मन में शिक्षक बनकर समाज की सेवा करने के सपने थे। विवाह के बाद उनके पति दीपक सिंह ने रेखा को अधिकारी बनने के लिए प्रेरित किया। रेखा सिंह ने अपने पति की मृत्यु के बाद उनके सपने को पूरा करने का संकल्प लिया। उनके मायके और ससुराल के परिवारजनों ने पूरा सहयोग किया।   रेखा सिंह को मध्यप्रदेश शासन की ओर से शिक्षाकर्मी वर्ग दो पद पर नियुक्ति दी गई। उन्होंने पूरी जिम्मेदारी से अपना शिक्षकीय दायित्व निभाया। लेकिन उनके मन में सेना में जाने की इच्छा लगातार बलवती होती रही। रेखा सिंह ने जिला सैनिक कल्याण कार्यालय से इस संबंध में चर्चा की। रेखा सिंह को रीवा जिला प्रशासन तथा जिला सैनिक कल्याण कार्यालय ने सेना में चयन के संबंध में उचित मार्गदर्शन और संवेदनशीलता से सहयोग दिया।   रेखा सिंह ने बताया कि जब कोई नव विवाहिता किसी कारणवश अपने पति को खो देती है तो परिवार और समाज उस बेटी के भविष्य को लेकर अनेक प्रश्नचिन्ह लगाता है तथा तरह-तरह के लांछन लगाकर भविष्य के आगे बढ़ने के सभी मार्ग बंद करने का प्रयास करता है। मैं ऐसे व्यक्तियों का मुंह बंद करने और अपनी बहनों को हौसला देने के लिए सेना में शामिल हुई हूँ। मुझे उचित मार्गदर्शन मिला। मैंने नोएडा जाकर सेना में भर्ती होने के लिए प्रवेश परीक्षा की तैयारियों का प्रशिक्षण लिया। रीवा में मैंने फिजिकल ट्रेनिंग ली। अपने प्रथम प्रयास में मुझे सफलता नहीं मिली। लेकिन दूसरे प्रयास में मेरा चयन भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के पद पर हुआ। मेरा प्रशिक्षण 28 मई से चेन्नई में शुरू होगा। प्रशिक्षण पूरा होने पर एक साल में मैं भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बनकर अपनी सेवाएं दूंगी।   विपरीत परिस्थितियों में हिम्मत से काम लेकर और कठिनाइयों में भी सकारात्मक दृष्टिकोण से हर स्थिति का सामना करते हुए रेखा ने अप्रतिम उपलब्धि हासिल की। उन्होंने पति दीपक सिंह के उन्हें अधिकारी बनाने के सपने को पूरा किया। रेखा सिंह सही मायनों में रीवा जिले ही नहीं पूरे देश की लाडली लक्ष्मी हैं।

Kolar News

Kolar News 7 May 2022

मुरैना। शनिवार को उस समय एक बड़ा हादसा होने से बच गया जब नई दिल्ली-भोपाल शताब्दी एक्सप्रेस से चम्बल के बीहड़ों से निकला एक ऊंट टकरा गया। चालक ने गाड़ी का हार्न बजाकर रेलवे लाइन से इस ऊंट को हटाने का भरसक प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली, हालांकि चालक के प्रयासों से शताब्दी एक्सप्रेस बड़ी दुर्घटना का शिकार होते-होते बच गई। गाड़ी का इंजन ऊंट के ऊपर से निकल गया। ऊंट इंजन के पीछे के जनरेटर व ब्रेकयान के पहियों में फंस गया। जिसे काट-काटकर बाहर निकाला गया। घटना की जानकारी मिलते ही सरायछोला थाना पुलिस, रेल पुलिस सहित रेल विभाग का अमला मौके पर पहुंच गया था। इस घटना के कारण इंजन में खराबी आ गई। ग्वालियर से नया इंजन भेजा गया तब गाड़ी घटना स्थल से रवाना हो सकी। इस दौरान दो घंटे तक यात्री गाड़ी में बैठे-बैठे परेशान होते रहे। इस घटना का प्रभाव लम्बी दूरी की पांच बड़ी गाडिय़ों पर भी देखा गया। शताब्दी एक्सप्रेस शनिवार सुबह नई दिल्ली से भोपाल के रानी कमलापति रेलवे स्टेशन के लिये रवाना हुई। यह गाड़ी धौलपुर स्टेशन से निर्धारित समय पर चलने के बाद चम्बल रेल पुल पार करती हुई चम्बल के बीहड़ों से गुजर रही थी। उसी समय बीहड़ों से निकला एक ऊंट रेल लाइन पर आ गया। चालक ने ऊंट को हटाने का प्रयास गाड़ी के तेज हॉर्न बजाकर किया, इसके बावजूद ऊंट टस से मस नहीं हुआ, अंतत: शताब्दी एक्सप्रेस का इंजन ऊंट से टकरा गया। इंजन ऊंट के ऊपर से निकल गया लेकिन पीछे के जनरेटर व ब्रेकयान के पहियों में ऊंट फस गया। चालक ने अपने प्रयासों से रेल गाड़ी को कन्ट्रोल कर बड़ी दुर्घटना होने से बचा ली। यह घटना चम्बल रेलपुल और हेतमपुर रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे के 1279 किलोमीटर पर हुई। शताब्दी एक्सप्रेस से दुर्घटना होने की जानकारी मिलते ही पुलिस व रेल अमला मौके पर पहुंचा और ऊंट को निकालने का प्रयास किया गया। पहियों में बुरी तरह से फसे ऊंट के शरीर के हिस्सों को रेल अमले ने काट-काटकर निकाला। रेल लाइन से ऊंट के शव को बाहर निकालने के बाद इंजन में आई खराबी का पता चला। ग्वालियर से दूसरा इंजन भेजा गया। इसके बाद घटना स्थल से शताब्दी एक्स्रपेस को मुरैना रेलवे स्टेशन के लिये रवाना किया गया।   शताब्दी एक्सप्रेस से दुर्घटना होने के कारण अपट्रेक पर आवागमन बंद हो गया था। इस कारण पंजाबमेल एक्सप्रेस 4 घंटे 50 मिनट, मंगला एक्सप्रेस 2 घंटे, छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस 1 घंटे 20 मिनट तथा ताज व खजुराहो इंटरसिटी रेल गाडिय़ां एक-एक घंटे की देरी से मुरैना पहुंची। दोपहर बाद तक अपट्रेक की स्थिति सामान्य हो पाई। पुलिस बल यह जांच कर रहा है कि यह ऊंट किसका था और बीहड़ों में कैसे आया। इस घटना के कारण आगरा से लेकर ग्वालियर तक रेल विभाग में अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। इसका मुख्य कारण यह था कि आज छोटी रेल लाइन से बड़ी रेल लाइन में परिवर्तित हो रहे ग्वालियर-श्योपुर रेलवे ट्रेक का निरीक्षण करने के लिये उत्तर मध्य रेलवे के महाप्रबंधक सहित रेल विभाग का सम्पूर्ण अमला मुरैना में ही मौजूद था।

Kolar News

Kolar News 7 May 2022

भोपाल। पश्चिमी विक्षोभ के चलते आसमान में बादल छाने और आस-पास के क्षेत्रों में बारिश के चलते उमस भरी गर्मी से राहत मिली है। राजधानी भोपाल का मौसम शुक्रवार शाम को अचानक बदल गया। तेज हवाएं चलने के साथ ही आसमान में बादल छा जाने से माहौल में ठंडक घुल गई। इसके अलावा मध्य प्रदेश के अधिकतर जिलों में भी अधिकतम तापमान में अधिक बढ़ोतरी नहीं हो रही है। शुक्रवार को प्रदेश में सबसे अधिक 44 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के मुताबिक वर्तमान में मप्र में भी दो मौसम प्रणालियां सक्रिय रहने से शनिवार को भी बादल रह सकते हैं। नमी कम रहने के कारण कहीं-कहीं बूंदाबांदी हो सकती है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में अफगानिस्थान और उसके आसपास एक पश्चिमी विक्षोभ ट्रफ के रूप में बना हुआ है। हरियाणा में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। दक्षिण-पूर्वी मप्र पर भी हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर विदर्भ होते हुए तमिलनाडू तक एक ट्रफ लाइन बनी हुई है। इस वजह से वातावरण में कुछ नमी आने के कारण बादल छाने लगे हैं। इससे तापमान में अधिक बढ़ोतरी नहीं हो रही है। इसके अलावा बंगाल की खाड़ी में अंडमान के पास एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इसके शनिवार को अवदाब के क्षेत्र में परिवर्तित होने के आसार हैं। इस समुद्री चक्रवात के 10 मई को उत्तरी आंध्र प्रदेश एवं दक्षिणी ओडीशा के बीच में टकराने की संभावना है। इसके प्रभाव से पूर्वी मप्र के जिलों में बादल छा सकते हैं। दो दिन बाद तापमान फिर बढ़ सकती है। तेज धूप और गर्म हवाएं चलने की भी संभावना है।   मौसम विभाग के मुताबिक राजस्थान में तेज गर्मी पडऩे के आसार है। इसके असर से जबलपुर सहित मध्य प्रदेश में अधिकतम तापमान दो से तीन डिग्री तक बढ़ सकता है। उत्तरी पश्चिमी गर्म हवाएं चल सकती हैं।

Kolar News

Kolar News 7 May 2022

रतलाम। राकेश मन्नालाल सकलेचा परिवार के घास बाजार स्थित निवास से वर्षीदान वरघोड़ा शुक्रवार प्रात: निकला, इसमें दीक्षार्थी मुमुक्ष रत्न वल्लभ भाई, पत्नी वर्षा बहन सहित पुत्री केजल कुमारी के आगे-आगे मुनिराज कल्याणरत्नविजय महाराज सहित आदीठाणा चल रहे थे। दीक्षार्थी दंपती और पुत्री अपने हाथों से नोट व सांसारिक वस्तुएं लुटाकर वैराग्य प्रकट कर रहे थे। चल समारोह का अलग-अलग मार्गों पर जैन श्रद्धालुओं ने बहुमान भी किया। वरघोड़ा घास बाजार, माणकचौक, डालूमोदी चौराहा, नाहरपुरा, धानमंडी, तोपखाना होते हुए चांदनीचौक से लक्कड़पीठा मार्ग पहुंच सागौद रोड स्थित कार्यक्रम स्थल पहुंचा। पारिवारिक जिम्मेदारियों का बखूबी निवर्हन करें मुनिराज कल्याणरत्नविजय महाराज ने प्रवचन देते हुए कहा कि जीवन में जो काम दवा नहीं करती वह काम सिर्फ आपके विचार कर देते हैं। मानव जीवन में प्रत्येक व्यक्ति को अंतरात्मा से सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ते हुए सांसारिक जीवन की जिम्मेदारी का निर्वहन करना चाहिए। मुनिराज ने सकलेचा परिवार के तीन सदस्यों के दीक्षा के दौरान कहा कि जीवन में यह मोड़ कई बदलाव लाता है। मोक्ष के रास्ते पर चलना ही जीवन का सही अर्थ है। मुनिराज ने श्रावकों से कहा कि मैं ऐसा नहीं कहता कि आप पारिवारिक जिम्मेदारियों को छोडकर सांसारिक मोह त्यागे। पहले पारिवारिक जिम्मेदारियों का बखूबी निवर्हन करें और उसके बाद आपको लगे कि आपने अपने सभी कर्तव्यों को ईमानदारी से निभाया है और अब आपके पास अन्यंत्र किसी प्रकार की जवाबदेही नहीं है, इसके बाद आप आत्मकल्याण के लिए अंतर्मन से विचार करें। सुबह लेंगे दीक्षा मुमुक्ष रत्न 48 वर्षीय वल्लभभाई, पत्नी वर्षा बहन सहित 17 वर्षीय पुत्री केजल कुमारी 7 मई को सांसारिक मोह त्याग दीक्षा ग्रहण करेंगी। आत्मकल्याण भूमि पर सकलेचा दंपती के अलावा पुत्री की दीक्षा आत्मा से परमात्मा की ओर मार्ग प्रशस्त करने जा रहा है। आत्म कल्याण उत्सव अंतर्गत 7 मई को सुबह मुनिराज के सानिध्य में सुबह 6 बजे दीक्षाविधि का शुभारंभ किया जाएगा। दीक्षाविधि पश्चात तीनों दीक्षार्थी मुनिराज श्री कल्याणरत्नविजयजी महाराज और आदीठाणा के साथ अहमदाबाद के लिए सागोद रोड होते हुए शिवगढ़, रावटी और कुशलगढ़ होते हुए विहार करेंगे।

Kolar News

Kolar News 6 May 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 34 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 37 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 634 हो गई है। हालांकि, राहत की बात है कि राज्य में लगातार 11वें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले राज्य में 26 नये संक्रमित मिले थे।   कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 8,148 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 34 पॉजिटिव और 8,114 सेम्पल निगेटिव पाए गए, जबकि 36 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.4 रहा। नये मामलों में भोपाल में 13, ग्वालियर में 5, मुरैना में 4, इंदौर और गुना में 3-3, जबलपुर में 2 तथा अशोकनगर, दतिया, मंदसौर और टीकमगढ़ में 1-1 नये संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 42 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में आज कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां 11 दिन से मृतकों की संख्या 10,735 पर स्थिर है।   प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 91 लाख 25 हजार 666 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,634 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,689 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 37 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 213 से घटकर 210 हो गई है। हालांकि, खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 32 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।   इधर, प्रदेश में 06 मई को शाम छह बजे तक 24 हजार 431 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 11 करोड़, 79 लाख, 75 हजार 322 डोज लगाई जा चुकी है।

Kolar News

Kolar News 6 May 2022

भोपाल। भारत में ब्रिटिश हाई कमिश्नर एलेक्सजेंडर एलिस एवं उनके सहयोगियों ने शुक्रवार को राजधानी भोपाल स्थित जनजातीय संग्रहालय का भ्रमण किया। उन्होंने संग्रहालय की विभिन्न दीर्घाओं, चित्र प्रदर्शनी, चिन्हारी सोविनियर शॉप और पुस्तकालय ‘लिखन्दरा’ का अवलोकन किया। अवलोकन दौरान उन्होंने संग्रहालय की दीर्घाओं एवं उनमें जनजातीय समुदाय की वाचिक और कला परम्परा के बेहतर प्रदर्शन तथा कलात्मक संयोजन की प्रशंसा भी की।   ब्रिटिश हाई कमिश्नर एलिस ने कहा कि यह संग्रहालय दुनिया के बेहतरीन संग्रहालयों में से एक है। संग्रहालय में उकेरी गईं जनजातीय कथाएं एवं उनके परिवेश को बहुत ही कलात्मक रूप से यहां प्रदर्शित किया गया है। इस दौरान संग्रहाध्यक्ष अशोक मिश्र एवं अन्य अधिकारी मौजूद रहे। वहीं, अवलोकन पश्चात उन्होंने विविध प्रकार के देशज व्य़ंजनों का भी स्वाद लिया एवं उनकी काफी सराहना की।   अवलोकन दौरान भारत में ब्रिटिश हाई कमिश्नर एलिस एवं उनके सहयोगियों ने लिखंदरा प्रदर्शनी दीर्घा में संयोजित शलाका-25 प्रदर्शनी से 4 अलग-अलग चित्रों को क्रय किय़ा। शलाका-25 प्रदर्शनी में भील समुदाय की युवा चित्रकार शांता भूरिया के चित्रों का संयोजन किय़ा गया है।

Kolar News

Kolar News 6 May 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश राज्य बैंडमिंटन अकादमी की दिव्यांग खिलाड़ी गौरांशी शर्मा ने ब्राजील में चल रहे डेफ ओलिम्पिक में टीम इवेंट में स्वर्ण पदक हासिल किया है।   खेल एवं युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने बधाई देते हुए कहा कि गौरांशी ने ये साबित कर दिया है कि मध्यप्रदेश में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि गौरांशी की प्रतिभा को निखारने का श्रेय हमारी अकादमी की बेहतर सुविधाओं और प्रशिक्षकों को जाता है। साथ ही मैं उनके समर्पित माता-पिता को भी बधाई देती हूँ। गौरांशी के माता-पिता भी दिव्यांग हैं, लेकिन उन्होंने कभी इसे गौरांशी के सपनों के बीच बाधा नहीं बनने दिया।   प्रशिक्षण के लिये एक लाख रुपये स्वीकृत खेल मंत्री सिंधिया ने कहा कि जब गौरांशी टी.टी. नगर स्टेडियम में समर कैम्प में शामिल होने आई थी, तब वो मात्र सात वर्ष की थी। उनकी लगन और जुनून के चलते वे मध्यप्रदेश राज्य बैंडमिंटन अकादमी के प्रतिनिधित्व कर रही हैं। उनकी इस प्रतिभा को निरंतर जारी रखने और बेहतर प्रशिक्षण के लिए खेल विभाग द्वारा एक लाख रुपये की राशि स्वीकृत की गई है।   मंत्री सिंधिया ने कहा कि गौरांशी ने डेफ ओलिम्पिक में स्वर्ण पदक हासिल कर हमें गौरवान्वित किया है। मुझे उम्मीद है कि गौरांशी इंडिविजुअल इवेंट में भी स्वर्ण पदक हासिल कर प्रदेश और देश का नाम रोशन करेगी।

Kolar News

Kolar News 5 May 2022

  अशोकनगर। जिला मुख्यालय के शंकरपुर में प्रशासन द्वारा बुलडोजर चलवाकर पांच करोड़ लागत की 25 बीघा शासकीय भूमि कब्जे से मुक्त कराई गई, उक्त भूमि को शिक्षा संस्थानों के लिए पहले ही चयनित किया जा चुका था। बता दें कि कलेक्टर आर.उमामहेश्वरी के निर्देशानुसार गुरुवार को अशोकनगर के ग्राम शंकरपुर में तहसीलदार रोहित रघुवंशी सहित पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर बादाम सिंह पुत्र इमरत लोधी, संजू पुत्र गौरीशंकर लोधी, बलवंत सिंह पुत्र सुमेर सिंह लोधी, मुल्लू पुत्र गौरीशंकर लोधी से लगभग 25 बीघा शासकीय भूमि ग्राम शंकरपुर स्थित भूमि सर्वे क्रमांक 143,155 रकवा 5.200 हेक्टेयर को कब्जा से मुक्त कराकर अतिक्रमण हटाया गया। उक्त अतिक्रमणकर्ता के विरूद्ध प्रकरण दर्ज कर बेदखली का आदेश पारित किया गया।   उक्त शासकीय भूमि का अनुमानित बाजार मूल्य लगभग 05 करोड़ रुपये है। जिसे आज कार्यवाही करते हुए शासकीय भूमि को अतिक्रमण से मुक्त कराया गया। उल्लेखनीय है कि अतिक्रमण से मुक्त कराई गई भूमि पर सीएम राइस स्कूल, बालिका सीनियर छात्रावास, बालिका जूनियर छात्रावास, अनुसूचित जनजाति देवस्थान हेतु आरक्षण के लिए प्रस्तावित स्थल हैं।

Kolar News

Kolar News 5 May 2022

जबलपुर। मंगलवार को अक्षय तृतीया के मौके पर अबूझ मुहूर्त में प्रदेश में सैकड़ों शादियां कराई गईं। इस दौरान जबलपुर के पास प्रशासन की टीम ने एक बाल-विवाह रुकवाया। बताया जा रहा है कि जिले के बरगी थाना क्षेत्र के ग्राम कौलोन में 15 साल की बालिका का विवाह किया जा रहा था, लेकिन कलेक्टर द्वारा गठित ने समय रहते विवाह को रुकवाया और बालिका को मुक्त करवाया। वहीं माता-पिता को समझाकर शपथ दिलाई कि वे अपनी पुत्री का विवाह 18 वर्ष की आयु के बाद ही करें।   शहपुरा एसडीएम अनुराग सिंह ने बताया कि मंगलवार सुबह महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों ने मासूम को कच्ची उम्र में दुल्हन बनने से रोका। क्षेत्र के ग्राम कौलोन में एक पिता और उनके रिश्तेदारों ने 15 साल की मासूम का विवाह बेलखेड़ा पावला निवासी अजय के साथ तय कर दिया था। निर्धारित कार्यक्रम के तहत मासूम का विवाह होने वाला था, लेकिन महिला एवं विकास विभाग को इसकी जानकारी पहुंची तो मौके पर जाकर बाल विवाह को रूकवाया गया और परिजनों को समझाइश दी गई कि वह 18 वर्ष पार होने के बाद ही लड़की का विवाह कराएं।   उन्होंने बताया कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं बालिका की अंकसूची के अनुसार जन्मतिथि 09/02 /2007 दर्ज है। इस प्रमाण के आधार पर माता पिता और परिवार वालों को समझाइश देकर बाल विवाह रोक दिया गया और माता-पिता ने शपथ पत्र लिखा की पुत्री के 18 वर्ष होने के पश्चात विवाह करेंगे। कार्यवाही के दौरान परियोजना अधिकारी पुलिस विभाग की टीम मौजूद थी।

Kolar News

Kolar News 3 May 2022

बैतूल। मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के जंगलों की आबोहवा बाघों को अपनी ओर आकर्षित करती है। बाघों का गाहे-बगाहे जिले के जंगल में मूवमेंट बना रहता है और यही वजह है कि शिकारियों की पैनी नजर भी इन बाघों पर गड़ी रहती है जिससे वह मौका पाते हुए शिकार करने से नहीं चुकते हैं। गत पांच साल में चार बाघों की मौत हो चुकी है। वहीं यदि शिकार की बात करें तो वर्ष 2017 में एक बाघर की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।   उल्लेखनीय है कि बैतूल से आठ किमी दूर राठीपुर के जंगल से आठ अप्रैल को चार साल के घायल बाघ को रेस्क्यू कर वन विहार नेशनल पार्क में शिफ्ट किया गया था। बाघ की हालत देख वन विहार की (2017) तत्कालीन डायरेक्टर समिता राजौरा के निर्देश पर तीन डॉक्टरों ने बाघ का इलाज किया। डॉ. अतुल गुप्ता, डॉ. अमोल वरवड़े सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के डॉ. गुरुदत्त शर्मा ने बाघ को दोबारा ट्रेंकुलाइज कर एक्सरे किया। एक्सरे में बाघ के पेट, सीने और जांघ में गोली लगने के निशान मिले। वन विहार की डायरेक्टर ने इसकी रिपोर्ट स्टेट वाइल्ड लाइफ और एसटीएफ (स्टेट टाइगर फोर्स) के अधिकारियों को दी थी। एक्सरे रिपोर्ट के मुताबिक गोली लगने से बाघ की जांघ और रीढ़ की हड्डी टूट गई थी। दायां पैर भी टूटा हुआ था, जबकि बायां पैर पूरी तरह जख्मी हो गया था। उसकी पसलियों में भी चोट थी। घायल होने के कारण वह कई दिनों से भरपेट डाइट नहीं ले रहा था, जिसके कारण पेट की आंत तेजी से सूख रही थी। गोली लगने के कारण पिछला हिस्सा लकवाग्रस्त हो चुका था। ऑपरेशन के बाद बाघ की जांघ और पेट के बीच गोली मिलने की पुष्टि होने के बाद स्टेट टाइगर फोर्स (एसटीएफ) के अधिकारी सक्रिय हो गए हैं। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व (एसटीआर), पेंच टाइगर रिजर्व और बैतूल, शाहपुर, इटारसी के आसपास पूर्व में बाघ समेत दूसरे वन्यजीवों के शिकार में पकड़े गए आधा दर्जन आरोपियों को दबोचा गया था। 2 अगस्त 2021 आठनेर में हुआ था शिकार 2021 से तीन साल पहले आठनेर खंड के वन ग्राम छिन्दवाड़ा में एक बाघ को जहर देकर मारा गया था। यह सनसनीखेज खुलासा महाराष्ट्र के नागपुर में बाघ की खाल और पंजों का सौदा करते पकड़े गए छिन्दवाड़ा निवासी एक व्यक्ति की गिरफ्तारी के बाद हुआ था, जिसके बाद टीम ने बैतूल के आठनेर इलाके से दो लोगों को गिरफ्तार किया था। मुलताई पांढुरना- महाराष्ट्र एवं मध्य प्रदेश वन विभाग की टीम ने आठनेर के वन ग्राम छिंदवाड़ पोस्ट हिडली से बाघ को जहर देकर मारने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया था, जिसमें एक पांढुरना और दो आरोपी मुलताई वन अनुभाग के आठनेर क्षेत्र के शामिल थे। चार पंजे किए थे बरामद मामले की जांच महाराष्ट्र वन विभाग की टीम कर रही थी, जिसने आरोपियों से बाघ के चार पंजे और खाल बरामद किए थे। बाघ की खाल और पंजों को फॉरेंसिक लैब में जांच के लिए भेजा गया था। मुलताई वन अनुभाग के आठनेर बीट में वन ग्राम छिंदवाड़ में बाघ को जहर देकर मारा गया था, जिसके पंजे और खाल को आरोपियों का मामा मोतीलाल सलामे जो कि पांढुरना विकासखंड के बिछुआ सहानी ग्राम का निवासी है, नागपुर में बेचने का प्रयास कर रहा था। खाल भी की थी जब्त नागपुर वन विभाग को जब इसकी सूचना मिली तो उन्होंने पांढुरना के ग्राम बिछुआ सहानी मे मोतीलाल सलामे को गिरफ्तार किया। सलामे के खेत में बने कोठे से बाघ की खाल एवं बाघ के पंजे बरामद किए गए। सलामे की निशानदेही पर पांढुरना एवं मुलताई वन विभाग के सहयोग से मुलताई वन अनुभाग के आठनेर क्षेत्र के वन ग्राम छिंदवाड़ से रामदेव मर्सकोले एवं रामभाऊ मर्सकोले को बाघ की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। बाघ को मारकर गाड़ दिया था गड्ढे में बाघ की हत्या के आरोप में पकड़ाए आरोपियों ने जो जानकारी वन विभाग के अमले को दी थी। तीन साल पहले बाघ ने वन ग्राम छिंदवाड़ा में एक गाय का शिकार कर लिया था और बाघ की प्रवृत्ति होती है वह शिकार करने के बाद दूसरी बार अपने शिकार को खाने जरूर आता है। बाघ जब शिकार करने के बाद लौट गया, तब आरोपी रामदेव मर्सकोले एवं रामभाऊ मर्सकोले ने शिकार पर जहरीला पदार्थ डाल दिया, जिसके कारण बाघ की मौत हो गई। आरोपियों ने बाघ को गड्ढे में गाड़ दिया, बाद में उसकी खाल एवं पंजे निकाल लिए गए, जो कि पांढुर्णा से बरामद किए गए थे। ट्रेन से टकराकर हुई थी शावक की मौत 11 मई 2021 को बैतूल सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के एक बाघ शावक की ट्रेन से टकराकर मौत हो गई। बैतूल के भौरा के पास रेलवे लाइन के किनारे इस शावक की लाश बरामद की गई। डेढ़ साल के इस नर बाघ शावक को लेकर आशंका थी कि यह यह अपनी मां के साथ इस इलाके में मौजूद रहा होगा, जो कि यहां से गुजरने वाली किसी ट्रेन की चपेट में आने से मौत का शिकार हो गया। ट्रेक के बाजू में पड़ा मिला था शव पोला-पत्थर ढोढरा मोहर स्टेशन के बीच किलोमीटर 791/09 डाउन रोड पर एक बाघ के मृत अवस्था में ट्रैक के बाजू में पड़ा होने की सूचना 02626 केरला के लोको पायलट द्वारा दी गई थी। जिसके बाद रेल प्रशासन ने वन विभाग को सूचित किया। इधर घटनास्थल भौरा के करीब होने की वजह से सुबह घूमने वालो ने भी रेल की पटरियों के किनारे इस शावक को मृत अवस्था में पड़ा देखकर वन अमले को जानकारी दी। तत्कालीन सीसीएफ बैतूल मोहन मीणा और सतपुडा टाइगर रिजर्व का अमला मौके पर पहुंचा और शव को बरामद कर पीएम की कार्रवाई की। अब मिला शावक का शव एक मई 2022 को एक बार फिर राठीपुर का जंगल ही बाघ शावक की मौत का गवाह बना। यहां शनिवार 30 अप्रैल को लापता बाघिन की तलाश करते हुए वन अमले को उसके शावक का शव मिला। महज 20 दिन के इस शावक की मौत भूख और गर्मी की वजह से होना माना जा रहा है।

Kolar News

Kolar News 3 May 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 26 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 13 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 540 हो गई है। हालांकि, राहत की बात है कि राज्य में लगातार आठवें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा मंगलवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले राज्य में 23 नये संक्रमित मिले थे। उल्लेखनीय है कि यहां स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक मिलने के कारण सक्रिय मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं।   कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 5,330 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 26 पॉजिटिव और 5,304 सेम्पल निगेटिव पाए गए, जबकि 22 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.4 रहा। नये मामलों में इंदौर में 8, ग्वालियर में 6, भोपाल और मुरैना में 4-4, जबलपुर में 2 तथा कटनी और रायसेन में 1-1 नये संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 45 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में आज कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां आठ दिन से मृतकों की संख्या 10,735 पर स्थिर है।   प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 91 लाख 04 हजार 621 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,540 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,602 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 13 मरीज मंगलवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 190 से बढ़कर 203 हो गई है। हालांकि, खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 31 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।   इधर, प्रदेश में 03 मई को शाम छह बजे तक 3,549 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 11 करोड़, 78 लाख, 47 हजार 475 डोज लगाई जा चुकी है।

Kolar News

Kolar News 3 May 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा संचालित हाईस्कूल /हायर सेकण्डरी/ हायर सेकण्डरी व्यावसायिक पाठ्यक्रम (द्वितीय अवसर ) की परीक्षाएं प्रारंभ होने की तिथियाँ मण्डल द्वारा घोषित कर दी गई हैं। हायर सेकेण्डरी परीक्षा में केवल एक विषय तथा हाईस्कूल परीक्षा में दो विषयों में अनुत्तीर्ण छात्रों को ही पूरक की पात्रता प्रदान की गई है। हायर सेकेण्डरी के समस्त विषयों की पूरक परीक्षाएँ 20 जून, 2022 तथा हाईस्कूल पूरक परीक्षा 21 जून, 2022 से 30 जून, 2022 तक तथा हायर सेकण्डरी व्यावसायिक द्वितीय अवसर पूरक परीक्षा 21 जून 2022 से 27 जून 2022 तक संपन्न होंगी। उक्त परीक्षाएँ प्रातः 9 बजे से 12 बजे के मध्य निर्धारित परीक्षा केन्द्रों पर सम्पन्न होंगी। जनसम्पर्क अधिकारी राजेश बैन ने सोमवार को उक्त जानकारी देते हुए बताया कि हायर सेकण्डरी-हाईस्कूल पूरक परीक्षा एवं हायर सेकण्डरी व्यावसायिक पाठ्यक्रम (द्वितीय अवसर) पूरक परीक्षा के आवेदन पत्र निर्धारित शुल्क जमा कर एम.पी. ऑनलाईन के कियोस्क के माध्यम से 04 मई 2022 से हायर सेकण्डरी परीक्षा प्रारंभ दिनॉक के एक दिन पूर्व तक भरे जा सकेंगे। पूरक परीक्षा में सम्मिलित होने वाले सभी परीक्षार्थियों के प्रवेश पत्र 05 जून 2022 से ऑनलाइन के माध्यम से प्राप्त किये जा सकेंगे।

Kolar News

Kolar News 2 May 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से पड़ रही भीषण गर्मी से लोगों को थोड़ी राहत मिली है। रविवार शाम से आसमान में बादल छाने और प्रदेश के कुछ हिस्सों में हुई बारिश से तापमान में गिरावट आई है। रविवार शाम को नर्मदापुरम में तेज बारिश हुई, वहीं सीधी में 6 मिलीमीटर तो राजगढ़ में हल्की बारिश हुई। सीहोर के शाहगंज क्षेत्र में ओले गिरे। इधर सोमवार सुबह राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कुछ इलाकों में हल्की बूंदाबांदी हुई। मौसम विभाग के अनुसार ग्वालियर चंबल संभाग के जिलों में बारिश की संभावना है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक राजेन्द्रपुरी गोस्वामी ने जानकारी देते हुए बताया कि पाकिस्तान से आ रही हवाओं से बंगाल की खाड़ी में बने लो प्रेशर एरिया के कारण नमी आ रही है। इसी कारण 2 मई से लेकर 5 मई के बीच कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है। इस दौरान भोपाल में कहीं-कहीं बूंदाबांदी हो सकती है। इंदौर में बादल छाने से गर्मी से राहत तो रहेगी, लेकिन बारिश नहीं होगी। अगले 24 घंटों के दौरान ग्वालियर-चंबल, सागर, विदिशा, दमोह, रायसेन और देवास समेत 7 इलाकों में कहीं-कहीं हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। दोपहर तक गुना, अशोकनगर, सीहोर, नर्मदापुरम, पचमढ़ी, छिंदवाड़ा और सिवनी में भी हल्की बारिश के आसार हैं। बारिश के बाद कुछ इलाकों में तापमान में गिरावट भी दर्ज की गई। पिछले 24 घंटों के दौरान अधिकतम तापमान 2 से 3 डिग्री तक नीचे आ गया। रात को भी न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। मौसम विभाग ने तीन से चार दिन तक इसी तरह मौसम रहने की संभावना जताई है। इसके बाद एक बार फिर तापमान में बढ़ोतरी होगी।

Kolar News

Kolar News 2 May 2022

आलीराजपुर। मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल जिले में एक अनूठी शादी का मामला सामने आया है। यहां एक शख्स ने तीन प्रेमिकाओं से एक साथ शादी की। बताया गया है कि वह 15 साल तीनों प्रेमिकाओं के साथ लिव इन में रहा। इस दौरान उसके तीनों से छह बच्चे भी हुए। रविवार की रात शख्स ने तीनों प्रेमिकाओं से एक साथ आदिवासी परम्परा के अनुसार विवाह रचाया। खास बात यह कि अपने माता-पिता की शादी में बच्चे भी जमकर नाचे।   मध्य प्रदेश में आदिवासी समाज के लोग बहुतायत संख्या में है। बेहद प्राचीन संस्कृति को अपने में समेटे इस समाज की कई परंपराएं अनूठी हैं। अलीराजपुर के आसपास आदिवासी समाज में युवक-युवती अगर एक-दूसरे को पसंद करते हैं तो वे पूरी आजादी से साथ रह सकते हैं। इसके लिए तात्कालिक तौर पर विवाह का कोई बंधन नहीं है। पसंद मिलने पर आदिवासी युवक एक से अधिक पत्नियों के साथ भी रह सकते हैं।   जानकारी के मुताबिक, अलीराजपुर जिले के नानपुर तहसील के गांव मोरी फलिया का पूर्व सरपंच समरथ मौर्य करीब 15 साल पहले प्रेम प्रसंग के चलते एक युवती के साथ घर बसाकर रहने लगा। इसके बाद दो अन्य युवतियों को भी पसंद मिलने पर उसने अपना लिया। इसके बाद वह तीनों प्रेमिकाएं के साथ एक ही घर में 15 साल लिव-इन रिलेशनशिप में रहा। आदिवासी समाज की परंपर अनुसार कोई भी मांगलिक कार्य करने के लिए पति-पत्नी का रीति-रिवाज के अनुसार विवाह करना जरूरी है। इसलिए अब मौर्य ने तीनों महिलाओं के साथ रीति-रिवाज से ब्याह रचाया। शादी समारोहपूर्वक हुई और इसके आमंत्रण पत्र भी बांटे गए। कार्ड में तीनों पत्नियों के नाम भी लिखे गए।   रविवार की रात मौर्य ने तीनों प्रेमिकाओं के साथ एक ही मंडप में एक साथ विवाह रचाया। शादी में आए लोगों के साथ मौर्य के छह बच्चों ने भी जमकर डांस किया। उनकी तीन पत्नियों से तीन पुत्री और तीन पुत्र हैं। उल्लेखनीय है कि भारतीय संविधान का अनुच्छेद 342 आदिवासी समाज की प्राचीन संस्कृति और रीति-रिवाज को संरक्षण प्रदान करता है। यह शादी क्षेत्र ही नहीं, पूरे मध्य प्रदेश में चर्चा का विषय बनी हुई है।

Kolar News

Kolar News 2 May 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 31 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 10 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 491 हो गई है। हालांकि, राहत की बात है कि राज्य में लगातार छठवें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा रविवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई।   बता दें कि राज्य में बीते पांच दिन से कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे थे। यहां बीते मंगलवार को 13, बुधवार को 15, गुरुवार को 29 और शुक्रवार को 34 और शनिवार को 46 नये संक्रमित मिले थे। रविवार को इस संख्या में कमी आई है, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक मिलने के कारण सक्रिय मरीज तेजी से बढ़ रहे हैं।   कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 7,995 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 31 पॉजिटिव और 7,964 सेम्पल निगेटिव पाए गए, जबकि 199 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.3 रहा। नये मामलों में इंदौर में 10, भोपाल में 6, मुरैना में 5, ग्वालियर में 4, टीकमगढ़ में 3, दतिया में 2 शिवपुरी में 1 नया संक्रमित मिला है, जबकि राज्य के 45 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में आज कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां छह दिन से मृतकों की संख्या 10,735 पर स्थिर है।   प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 90 लाख 91 हजार 777 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,491 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,585 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 10 मरीज रविवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 150 से बढ़कर 171 हो गई है। हालांकि, खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 33 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।   इधर, प्रदेश में 01 मई को शाम छह बजे तक 3,197 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 11 करोड़, 77 लाख, 86 हजार 415 डोज लगाई जा चुकी है।

Kolar News

Kolar News 1 May 2022

खरगोन। खरगोन के स्वामी विवेकानंद सभागृह में रविवार को दंगों में प्रभावित परिवारों को राहत सामग्री बांटी गई। क्षेत्रीय सांसद गजेंद्र पटेल ने प्रभावितों से चर्चा की और उन्हें राहत सामग्री प्रदान की गई। यह राहत सामग्री एनटीपीसी द्वारा उपलब्ध कराई गई है। राहत सामग्री में किराना सामान के अलावा घर गृहस्थी की सामग्री जैसे बर्तन और कपड़े भी बांटे गये। सामग्री वितरित करने के बाद प्रभावितों के घर सामग्री पहुंचाने के लिए वाहन की व्यवस्था भी की गई।   एसडीएम कार्यालय खरगोन से प्राप्त जानकारी के अनुसार कुल 122 प्रभावितों को सामग्री प्रदान की गई। इस दौरान पूर्व कृषि राज्य मंत्री बालकृष्ण पाटीदार, पूर्व विधायक बाबूलाल महाजन, एनटीपीसी के मुख्य जनरल मैनेजर कनोजिया आदि उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 1 May 2022

प्रवीण कक्कड़ दुनिया का बहुत लंबा इतिहास देवताओं, राजाओं, सेनापतियों और सामंतों के बारे में ज्यादा से ज्यादा वर्णन करते हुए लिखा गया है। मानव सभ्यता के 5000 वर्ष के इतिहास को उठाकर देखें तो शुरू के 4700 साल तो ऐसे भी थे जिनमें मजदूर के लिए कहीं कोई उल्लेखनीय स्थान था ही नहीं। रोमन सभ्यता में अगर वे दास थे तो अरब और भारत जैसे देशों में उनकी स्थिति सेवक से अधिक की नहीं थी। कभी किसी ने सोचा भी नहीं था कि मजदूरों के नाम पर भी कोई दिवस मनाया जा सकता है या उनके सुख-दुख और अधिकारों के बारे में चर्चा की जा सकती है। राजशाही के पतन और कृषि आधारित अर्थव्यवस्था की पूरी बात और संवाद के रूप में परिवर्तित होने के बाद ही दुनिया में मजदूरों के ऊपर होने वाले शोषण और उनके अधिकारों की चर्चा विधिवत शुरू हुई। अंतर्राष्ट्रीय मज़दूर दिवस मनाने की शुरूआत 1 मई 1886 से मानी जाती है, जब अमेरिका की मज़दूर यूनियनों नें काम का समय 8 घंटे से ज़्यादा न रखे जाने के लिए हड़ताल की थी। मई दिवस की दूसरी ताकत रूस में कोई बोल्शेविक क्रांति के बाद मिली जो कार्ल मार्क्स के सिद्धांतों पर मजदूरों की सरकार मानी गई। भारत में सबसे पहले यह विचार दिया था कि दुनिया के मजदूरों एक हो जाओ। इस तरह देखें तो पूंजीवाद और साम्यवाद दोनों ही प्रणालियों में मजदूर के महत्व को पहचाना गया। भारत में मई दिवस सबसे पहले चेन्नई में 1 मई 1923 को मनाना शुरू किया गया था। उस समय इस को मद्रास दिवस के तौर पर प्रामाणित कर लिया गया था। इस की शुरूआत भारतीय मज़दूर किसान पार्टी के नेता कामरेड सिंगरावेलू चेट्यार ने शुरू की थी। भारत में मद्रास के हाईकोर्ट सामने एक बड़ा प्रदर्शन किया और एक संकल्प के पास करके यह सहमति बनाई गई कि इस दिवस को भारत में भी कामगार दिवस के तौर पर मनाया जाये और इस दिन छुट्टी का ऐलान किया जाये। भारत समेत लगभग 80 मुल्कों में यह दिवस पहली मई को मनाया जाता है। इसके पीछे तर्क है कि यह दिन अंतर्राष्ट्रीय मज़दूर दिवस के तौर पर प्रामाणित हो चुका है।  यह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पृष्ठभूमि है जो मई दिवस से जुड़ी हुई है। भारत में जब आजादी का आंदोलन चला तो आजादी का नेतृत्व कर रही कांग्रेस पार्टी ने भी बराबर मजदूरों के हितों को समानता से परिचय दिया। महात्मा गांधी अगर ट्रस्टीशिप के सिद्धांत की बात करते थे तो पंडित जवाहरलाल नेहरू और सुभाष चंद्र बोस जैसे नेता मजदूरों को लगभग उस तरह के अधिकार देने के पक्ष में थे जैसे किसी साम्यवादी व्यवस्था में होने चाहिए। नेहरू जी ने तो खुद भी ट्रेड यूनियन के नेता की भूमिका निभाई। आजादी के बाद भारत में मजदूरों के हितों के लिए विशेष कानून बनाए गए। श्रमिक कल्याण कानूनों के उद्देश्यों को चार भागों में बांटा जा सकता है। पहला सामाजिक न्याय, दूसरा आर्थिक न्याय, तीसरा राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की मजबूती और चौथा अंतरराष्ट्रीय संधियों और समझौतों के प्रति वचनबद्धता। लेकिन यह कानून अपनी जगह है और व्यावहारिक परिस्थितियां अपनी जगह। कानून के मुताबिक किसी मजदूर से 8 घंटे से अधिक काम नहीं कराया जा सकता उसे न्यूनतम वेतन देना जरूरी है और उसके दूसरे अधिकार भी उसे मिलने चाहिए। लेकिन कई बार विपरीत परिस्थितियों में यह सब चीजें मजदूरों को मिल नहीं पाती। मजदूरों को उनके अधिकार सुनिश्चित कराना एक कल्याणकारी सरकार की जिम्मेदारी है। पिछले कुछ समय में भारत के मजदूरों के सामने कुछ मुख्य चुनौतियां आई हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के साल 2020 की 'एक्सिडेंटल डेथ्स एंड सुइसाइड' रिपोर्ट आई है, जिससे पता चलता है कि साल 2020 में आत्महत्या सबसे ज़्यादा दिहाड़ी मजदूरों ने की है। एनसीआरबी के आँकड़ों के मुताबिक़ 2020-21 में भारत में तकरीबन 1 लाख 53 हज़ार लोगों ने आत्महत्या की, जिसमें से सबसे ज़्यादा तकरीबन 37 हज़ार दिहाड़ी मजदूर थे. जान देने वालों में सबसे ज़्यादा तमिलनाडु के मज़दूर थे। फिर मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, तेलंगाना और गुजरात के मजदूरों की संख्या है। हालांकि इस रिपोर्ट में मजदूरों की आत्महत्या के पीछे कोरोना महामारी को वजह नहीं बताया गया है लेकिन पिछले 2 साल में भारत में लगे लॉकडाउन के बाद मजदूरों के पलायन की तस्वीरे सबने देखी थी. कैसे भूखे प्यासे लोग पैदल ही अपने गाँव की तरफ़ निकल पड़े थे. अब हालात बदले हैं। औद्योगिक और व्यापारिक गतिविधियां फिर से शुरू हो गई है। मजदूर फिर से काम पर जाने लगे और अर्थव्यवस्था का चक्का चलने लगा है। ऐसे में 1 मई दिवस पर हम सबको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की औद्योगिक गतिविधियां इस तरह चलें कि राष्ट्र निर्माण भी होता रहे और मजदूरों के घर में चूल्हा भी जलता रहे। मजदूरों को उनके कानूनी अधिकार मिले उद्योगपति और मजदूरों के बीच किस तरह के रिश्ते बने की हड़ताल की नौबत ना आए। सबसे बढ़कर इस तरह का इंतजाम किया जाए कि उनके रहने की उचित व्यवस्था हो सके, उनके बच्चों की शिक्षा का सही प्रबंधन हो, उन्हें उचित स्वास्थ्य सुविधा मिले और उनके बच्चों के सामने भविष्य में दूसरे विकल्प चुनने का मौका हो। क्योंकि लोकतंत्र में समानता का अर्थ यह नहीं होता कि सभी लोग एक झटके में एक समान हो जाएंगे बल्कि उसका अर्थ होता है अवसर की समानता। अर्थात एक संपन्न व्यक्ति का बच्चा अपने जीवन के लिए जो विकल्प चुन सकें उसी तरह के विकल्प चुनने की स्थिति मजदूर के बेटे/ बेटी के लिए भी हो। तभी मजदूर दिवस की सार्थकता साबित हो सकेगी।

Kolar News

Kolar News 1 May 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। राज्य के कई शहरों में तापमान 45 डिग्री के पार पहुंच गया है, जिससे जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो गया है। इसी बीच स्वास्थ्य विभाग ने शनिवार को एडवायजरी जारी की है। कहा गया है कि वर्तमान समय में तापमान में तेजी से वृद्धि हुई है, गर्म हवाएं चलने लगी हैं, जिसके कारण लू लगने की आशंका बढ़ गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा लू से बचने के लिए जन सामान्य को दोपहर में ज्यादा समय तक घर में रहने एवं अनावश्यक बाहर ना निकलने की अपील की गई है।   एडवायजरी में कहा गया है कि आमजन दोपहर में अति आवश्यक कार्य होने पर ही घर से बाहर निकलें। स्वास्थ्य विभाग ने आम लागों को सलाह दी है कि घर से बाहर निकलते समय पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं, खाली पेट घर से बाहर न जायें, इससे लू लगने का खतरा बढ़ जाता है । दिन में कम से कम 12 से 15 गिलास पानी जरूर पियें । लू से बचाव के लिए देशी घरेलू उपाय आम का पना, नीबू का पानी एवं प्याज के रस का उपयोग करें ।     बाहर निकलते समय सूती कपड़े से चेहरा और सर ढक़कर रखें तथा पानी साथ में जरूर रखें । पहनने के लिए सूती कपड़ों का अधिक उपयोग करें । अगर लू के लक्षण जैसे मितली आने, गला सूखने तथा बुखार का प्रकोप होने जैसा लगे तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करके उचित उपचार करायें । स्वास्थ्य विभाग द्वारा ठन्डे वातावरण से गरम या गरम वातावरण से ठण्डे में अचानक न जाने की भी सलाह दी गई है। 

Kolar News

Kolar News 30 April 2022

इंदौर। मध्य प्रदेश में औद्योगिक विकास के संकेतक उत्साहजनक दिख रहे हैं। मप्र ऑटो शो का आयोजन इस प्रक्रिया में उत्प्रेरक का काम करेगा। हम आगे और बेहतर करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के अनुरूप अगले वर्ष होने वाले आयोजन को विश्व स्तर का बनाएंगे।   यह बातें प्रदेश के औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन दत्तीगांव ने शनिवार को इंदौर में आयोजित तीन दिवसीय ऑटो शो के समापन समारोह को संबोधित करते हुए कही। कार्यक्रम में मध्य प्रदेश औद्योगिक विकास निगम के एमडी जॉन किंग्स ली और सीआईआई के संदीप तथा आयोजन के प्रतिभागी उपस्थित थे।   राजवर्धन ने कहा कि इस आयोजन का उद्देश्य मध्य प्रदेश में उपलब्ध सुविधाओं का एक शोकेस प्रस्तुत करना था। हमारा मज़बूत इको सिस्टम और प्रभावी नीतियां औद्योगिक वातावरण के लिए एक बेहतर विकल्प है।   उन्होंने बताया कि इस आयोजन में व्हीकल निर्माण करने वाली लगभग 100 कंपनियों ने भाग लिया। एक हजार से अधिक औद्योगिक प्रतिनिधियों और 50 हज़ार विज़िटर्स ने इस ऑटो शो में भाग लिया। इस आयोजन में 220 बी-टू-बी मीटिंग की गई। ग्यारह कंपनियों के 15 नए वाहनों की लॉन्चिंग कार्यक्रम के दूसरे दिन शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा यहाँ की गई।   मंत्री दत्तीगांव ने प्रतिभागी कंपनियां विशेष तौर पर जॉन डीयर, वॉल्वो, आईसर, टैफे इत्यादि का धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होंने कहा कि यहाँ हुए पैनल डिस्कशन से भी महत्वपूर्ण फीडबैक मिला है। इस आयोजन में एमएसएमई सेक्टर और स्टार्टअप को प्रोत्साहन के लिए निःशुल्क स्थान उपलब्ध कराया गया।   एमडी जॉन किंग्स ली ने अपने उद्बोधन में कहा कि आयोजन के लिए हमें कम समय मिला था। यह एक चुनौतीपूर्ण लक्ष्य था, जिसे औद्योगिक विकास केंद्र की टीम द्वारा समय पर पूरा किया गया। कार्यक्रम के अंत में औद्योगिक विकास निगम के कार्यपालक निदेशक रोहन सक्सेना ने सभी का आभार माना।

Kolar News

Kolar News 30 April 2022

उज्जैन।शनिवार को अमावस्या होने से उज्जैन के त्रिवेणी स्थित शनि मंदिर में शिप्रा स्नान पश्चात दर्शन का विशेष महात्म्य है। शनिश्चरी अमावस्या पर अंचलों से श्रद्धालु उज्जैन में त्रिवेणी पहुंचते हैं। इस बार यह आंकड़ा भीषण गर्मी के बावजूद 50 हजार के पार पहुंच गया। इस बार यह संयोग रहा कि शनिवार को शनिश्चरी अमावस्या का स्नान था वहीं 29 अप्रेैल को पांच दिन चलने वाली 118 किमी लम्बी पंचक्रोशी यात्रा का समापन हुआ। ऐसे में हजारों श्रद्धालु शनिश्चरी अमावस्या के स्नान के लिए उज्जैन ही रूक गए और 29 अप्रैल को पंचक्रोशी यात्रा पूर्ण करके,रामघाट पर शिप्रा स्नान करके त्रिवेणी पहुंच गए। शनिवार को अपरांह बाद तक स्नान करनेवालों का आंकड़ा 50 हजार पार कर गया था। इंदौर मार्ग स्थित शनि मंदिर पर बने घाट को त्रिवेणी कहा जाता है। यहां देवास की ओर से शिप्रा नदी,इंदौर से कान्ह नदी और शास्त्रो में उल्लेखित सरस्वती नदी जोकि लुप्त हो चुकी है,का संगम था। अब कान्ह नदी का प्रदूषित पानी रोक दिया जाता है और देवास से इस ऋतु में शिप्रा के प्रवाहमान नहीं होने के कारण नर्मदा का पानी छोड़ा जाता है। सुरक्षा की दृष्टि एवं पानी की कमी के चलते घाटों पर फव्वारे लगाकर श्रद्धालुओं को शनिवार को स्नान करवाया गया। श्रद्धालुओं ने स्नान किया और जो कपड़े पहने थे,वे घाटों पर ही पनौति के रूप में छोड़ दिए। साथ ही जूते-चप्पल भी वहीं छोड़ दिए। रविवार को प्रशासन द्वारा यहां उक्त कपड़ों एवं जूते-चप्पलों की निलामी हमेशा की तरह की जाएगी।

Kolar News

Kolar News 30 April 2022

भोपाल। पुलिस महानिदेशकसुधीर सक्सेना ने शुक्रवार को सभी जोनल, अतिरिक्त, पुलिस महानिदेशक-महानिरीक्षक एवं इंदौर तथा भोपाल के पुलिस आयुक्त की वीडियों कॉफ्रेंस के माध्यम से बैठक ली। इस बैठक में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आदर्श कटियार, पुलिस महानिरीक्षक साजिद फरीद शापू भी उपस्थित रहे। बता दें कि पुलिस महानिदेशक ने आगामी त्यौपहारों विशेषत: ईद, अक्षय तृतीया तथा परशुराम जंयती पर कानून-व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि सांप्रदायिक तनाव फैलाने वाले लोगों को चिन्हित कर आवश्यक वैधानिक कार्यवाही करें। दोनों समुदाय के प्रभावशाली सदस्यों के साथ शांति समिति की बैठक आयोजित करें ताकि सभी आयोजन सहृदयता और सौहार्द पूर्वक सम्पन्न हों। डीजीपी ने कहा कि इन त्यौहारों पर धार्मिक स्थलों के आसपास पर्याप्त पुलिस व्यवस्था रखें। जुलूस मार्ग पर लगे सभी वीडियो कैमरा/सीसीटीवी कैमरा दुरुस्त हों ऐसा सुनिश्चित करें और जिलों को प्रदाय किए गए व्हीकल सर्विंलांस सिस्टम का प्रभावी ढंग से उपयोग करें। जुलुस तथा आयोजन की वीडियोग्राफी कराएं। पुख्ता पेट्रोलिंग के साथ-साथ ड्रोन कैमरों के माध्ययम से निगरानी करें तथा धार्मिक स्थलों के आस-पास भी विशेष ध्यान रखें और संदिग्ध लोगों पर कड़ी नजर रखें। सोशल मीडिया पर किसी भी अवांछनीय पोस्ट पर नजर रखें।

Kolar News

Kolar News 29 April 2022

उज्जैन। सूर्यपुत्र शनि देव का 30 साल बाद स्वराशि में राशि परिवर्तन अमावस्या के साथ सूर्य ग्रहण के विशेष योग में आ रहा है। इसका हर राशि पर प्रभाव पड़ेगा। ज्योतिर्विद अजयकृष्ण शंकर व्यास के अनुसार शनिवार, 30 अप्रैल को शनि कुंभ राशि में गोचर करेंगे। मकर और कुंभ राशियां शनि देव की अपनी राशि हैं। इन राशियों का स्वामी ग्रह शनि है। अप्रैल का महीना वैदिक ज्योतिष विक्रम संवत के नजरिए से बहुत ही खास महीना रहा। इस माह अब तक सभी 9 ग्रहों में से 8 ग्रहों का राशि परिवर्तन हो चुका है और अब 30 अप्रैल 2022 को सभी ग्रहों में सबसे मंद गति से चलने वाले शनि ग्रह राशि परिवर्तन कर रहे हैं। ज्योतिष में सूर्यपुत्र शनि देव को न्याय और कर्म का देवता माना गया है। शनि व्यक्ति को उसके कर्मों के आधार पर शुभ या अशुभ फल प्रदान करते हैं। अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि मजबूत हैं तो वे उस व्यक्ति को हमेशा शुभ और अच्छे परिणाम देते हैं। वहीं अगर कुंडली में शनि कमजोर है व्यक्ति के जीवन में परेशानियां का सामना करना पड़ता हैं। शनि को कलियुग का दंडाधिकारी माना गया है। इस वर्ष शनि ढाई साल बाद राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। शनि का राशि परिवर्तन बहुत ही अहम माना जा रहा है। विक्रम संवत पंचांग के अनुसार शनि का राशि परिवर्तन। 30 साल बाद कुंभ राशि में शनि का गोचर शनि का यह राशि परिवर्तन साल 2022 का सबसे बड़ा गोचर है। 30 अप्रैल 2022 को 30 साल के बाद दोबारा से शनि कुंभ राशि में आ रहे हैं। शनि के कुंभ राशि में परिवर्तन के बाद 05 जून 2022 को शनि वक्री चाल से भ्रमण करते हुए 12 जुलाई 2022 को फिर से मकर राशि में गोचर करेंगे। शनि पूरी तरह से अगले साल यानी 17 जनवरी 2023 को मकर से कुंभ राशि में गोचर करेंगे जहां पर ये पूरे ढाई वर्षों तक इसी राशि में रहेंगे। कर्म फलदाता शनि पिछले करीब ढाई वर्षों से मकर राशि की यात्रा करते हुए शनिवार,30 अप्रैल 2022 की सुबह 9 बजकर 57 मिनट पर अपनी दूसरी स्वराशि कुंभ राशि में प्रवेश कर जाएंगे। शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही सभी राशियों पर अपना प्रभाव डालना शुरू कर देंगे। शनि के राशि परिवर्तन से वैसे तो सभी राशियों के जातकों पर शुभ.अशुभ दोनों तरह का प्रभाव पड़ेगा। इसी के साथ इस गोचर से देश और दुनिया में इसका प्रभाव देखने को मिलेगा।

Kolar News

Kolar News 29 April 2022

ग्वालियर। ग्वालियर-चम्बल सहित मध्यप्रदेश के अधिकांश जिले इन दिनों भीषण गर्मी और लू की चपेट में हैं। शुक्रवार को 45.2 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान के साथ ग्वालियर में अपै्रल की गर्मी ने पिछले 11 साल का रिकार्ड तोड़ दिया। इससे पहले ग्वालियर में 17 अपै्रल 2010 को सर्वाधिक अधिकतम तापमान 45.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में शुक्रवार को राजगढ़, खजुराहो, नौगांव सबसे गर्म रहे जहां अधिकतम तापमान 46 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि शनिवार को भी मौसम इसी प्रकार गर्म बना रहेगा, जबकि रविवार से अधिकतम तापमान में गिरावट का सिलसिला शुरू होगा। मौसम विभाग के अनुसार वर्तमान में कोई प्रभावी मौसम प्रणाली सक्रिय नहीं होने से मौसम शुष्क बना हुआ है। साथ ही राजस्थान की ओर से लगातार गर्म हवाएं आ रही हैं। इसी क्रम में शुक्रवार को भी मौसम शुष्क रहा जिससे सूरज के तेवर काफी गर्म बने रहे। साथ ही छह किलोमीटर प्रति घंटे की गति से उत्तर-पश्चिमी गर्म हवाएं भी चलती रहीं। जिससे अधिकतम तापमान पिछले दिन की तुलना में 0.2 डिग्री सेल्सियस आंशिक वृद्धि के साथ 45.2 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया जो औसत से 3.9 डिग्री सेल्सियस अधिक है। सूरज की भीषण तपन और गर्म हवाओं के चलते दोपहर में लू की स्थिति बनी रही। भीषण गर्मी का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि सुबह 8.30 बजे ही तापमान 36.6 डिग्री सेल्सियस पर था जबकि पूर्वान्ह 11.30 बजे 42.6, मध्यान्ह 2.30 बजे 44.8, शाम 5.30 बजे 42.8 डिग्री सेल्सियस पर था। पिछले दिन की तुलना में आज न्यूनतम तापमान भी 1.8 डिग्री सेल्सियस उछाल के साथ 25.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो औसत से 0.8 डिग्री सेल्सियस कम है। स्थानीय मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि शनिवार को भी तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के आसपास ही टिका रहेगा, लेकिन रविवार एक मई से तापमान में गिरावट की संभावना है क्योंकि सोमवार दो मई एक पश्चिमी विक्षोभ आने की संभावना है जो पश्चिमी हिमालय के मौसम को प्रभावित करेगा। दो से चार मई तक इसका आंशिक प्रभाव ग्वालियर-चम्बल सहित मध्यप्रदेश के अन्य हिस्सों में भी नजर आएगा। इस दौरान बादल छाए रह सकते हैं जिससे अधिकतम तापमान में गिरावट होगी।

Kolar News

Kolar News 29 April 2022

रतलाम। पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल से होते हुए, ग्रीष्मकालीन छुट्टियों के दौरान गाडिय़ों में यात्रियो की अतिरिक्त भीड़ को देखते हुए उधना एवं बनानस के मध्य स्पेशल ट्रेन का परिचालन स्पेशल किराया के साथ किया जाएगा। मंडल रेेल प्रवक्ता खेमराज मीना ने शुक्रवार को गाड़ी संख्या 09013/09014 उधना बनारस उधना स्पेशल ट्रेन के कुल 4 फेरों का परिचालन किया जाएगा। गाड़ी संख्या 09013 उधना बनारस स्पेशल एक्सप्रेस, 26 अप्रैल एवं 3 मई को उधना से मंगलवार को 07.25 बजे चलकर रतलाम मंडल के रतलाम जंक्शन(13.00/13.05), नागदा(13.50/13.52), उज्जैन(15.05/15.15) एवं मक्सी( 16.30/16.32 मंगलवार) होते हुए बुधवार को 10.50 बजे बनारस पहुँचेगी। इसी प्रकार गाड़ी संख्या 09014 बनारस उधना स्पेशल एक्सप्रेस, 27 अप्रैल एवं 4 मई को बनारस से बुधवार को 18.10 बजे चलकर रतलाम मंडल के मक्सी(11.40/11.42, गुरूवार), उज्जैन(12.30/12.40), नागदा(13.48/13.50) एवं रतलाम जंक्शन(14.35/14.40 गुरूवार) होते हुए गुरूवार को 20.10 बजे उधना पहुँचेगी। इस ट्रेन का दोनों दिशाओं में वडोदरा, रतलाम जंक्शन, नागदा जंक्शन, उज्जैन जंक्शन, मक्सी जंक्शन, शाजापुर, ब्यावरा राजगढ़, रुठियाई, गुना, शिवापुरी, ग्वालियर, मालनपुर, सोनी, भींड, इटावा, गोविंदपुरी, फतेहपुर, प्रयागराज एवं ज्ञानपुर रोड स्टेशनों पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में 16 स्लीपर एवं 04 सामान्य श्रेणी के कोच रहेंगे।

Kolar News

Kolar News 22 April 2022

भोपाल। खगोल विज्ञान की रोचक घटनाएं देखने के उत्सुक लोगों के लिए अगला सप्ताह बेहद खास रहने वाला है। इस दौरान सुबह के समय आसमान में जुपिटर और वीनस का मनोहारी मिलन देखने का अवसर प्राप्त होगा। इसके साथ ही शनि, मंगल, शुक्र और बृहस्पति की कतार के साथ चांद के भी दीदार होंगे। अगर आप असंख्य तारों के बीच अपने सौर परिवार के सदस्यों को पहचानना चाहते हैं तो तैयार हो जाइए, रविवार देर रात से आगामी तीन दिनों में चंद्रमा इन ग्रहों की एक-एक करके पहचान कराने जा रहा है। भोपाल की राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने शुक्रवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि इसके लिए जल्दी जागकर सुबह 4 बजे आपको पूर्व दिशा में आकाश को निहारना होगा। रविवार, 24 अप्रैल की देर रात को अर्द्धचंद्राकार चंद्रमा सौरमंडल के सबसे सुंदर ग्रह शनि (सेटर्न) के साथ होकर उसकी पहचान कराएगा। यह आगे चलन करते हुए 25 अप्रैल की देर रात को मंगल (मार्स) के नीचे रहेगा। अगले दिन 26 अप्रैल की देर रात चंद्रमा जुपिटर और वीनस की जोड़ी के साथ होकर उनका परिचय देगा। सारिका ने बताया कि माह की अंतिम रात्रि 30 अप्रैल को देर रात के बाद यानी 1 मई को तड़के 4 बजे के पूर्वी आकाश में वीनस और जुपिटर एक दूसरे में समाए नजर आएंगे। जुपिटर और वीनस का यह अल्ट्राक्लोज कंजक्शन होगा। खगोलीय पिंडों के मिलन की इन घटनाओं को खाली आंखों से देखा जा सकेगा। इसके लिए किसी टेलीस्कोप की जरूरत नहीं पड़ेगी। विज्ञान प्रसारक सारिका ने बताया कि अप्रैल का अंतिम सप्ताह में इन ग्रहों को पहचानने का भी अच्छा अवसर होगा। इस सप्ताह सूरज के उदित होने से 2 घंटे पहले दिखने वाले इन मनोहारी आकाशीय दृष्य को देखने के लिए हो जाइए तैयार।

Kolar News

Kolar News 22 April 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 11 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 07 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 292 हो गई है। वहीं, राहत की बात यह है कि राज्य में लगातार 33वें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले भी यहां 15 नये संक्रमित मिले थे।   कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 7,897 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 11 पॉजिटिव और 7,886 निगेटिव पाए गए, जबकि 35 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.1 रहा। नये मामलों में भोपाल और ग्वालियर में 3-3, जबलपुर में 2 तथा डिंडौरी, इंदौर और मंडला में 1-1 नये संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 46 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में बीते 24 घंटों में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां 33 दिन से मृतकों की कुल संख्या 10,734 पर स्थिर है।   प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 90 लाख 24 हजार 460 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,292 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,496 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 07 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 58 से बढ़कर 62 हो गई। खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 35 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।   इधर, प्रदेश में 22 अप्रैल को शाम छह बजे तक 38 हजार 958 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 11 करोड़, 71 लाख, 84 हजार 872 डोज लगाई जा चुकी है

Kolar News

Kolar News 22 April 2022

बैतूल। एक एमबीबीएस आदिवासी डॉक्टर ने स्वयं के विवाह में बैलगाड़ी से बारात निकाली और दुल्हन को ब्याने के लिए पहुंचे। ऐसा उन्होंने इसलिए किया ताकि आदिवासी रीति रिवाजों और परंपराओं को युवा पीढ़ी याद रख सकें। एक ओर जहां जिले, प्रदेश सहित पूरे देश में लोग महंगी और खर्चीली शादी को अपनी शान समझते हैं, वहीं मध्य प्रदेश के बैतूल के एक डॉक्टर ने इन लोगों के सामने मिसाल पेश की है। इस डॉक्टर ने साधारण शादी कर देश के सामने ये आदर्श पेश किया कि उन्हें बदलते दौर में महंगाई की भी फिक्र है, पर्यावरण की भी फिक्र है और पुरातन संस्कृति की भी फिक्र है। उन्होंने समाज को एक अनूठा सन्देश देते हुए न केवल शादी का समारोह अपने गांव में आयोजित किया, बल्कि दुल्हन को लेने बैलगाड़ी में रवाना हुए। ये शादी बैतूल के चिचोली ब्लॉक के आदिवासी बाहुल्य गांव असाढ़ी में हुई। इस शादी की जबरदस्त चर्चा हो रही है, क्योंकि, इस शादी में दूल्हे डॉ. राजा धुर्वे ने बैलगाड़ी को ऐसा सजाया कि उसके सामने लग्जरी कार और बग्घियां भी फीकी दिखाई दीं। डॉक्टर राजा पेशे से एमबीबीएस डॉक्टर, शिक्षक और मोटिवेशनल स्पीकर हैं। इस मौके पर राजा धुर्वे का कहना था कि अपने सामाजिक, सांस्कृतिक मूल्यों को सहेजने और लोगों को महंगाई के दौर में सादा जीवन-उच्च विचार सिखाने का इससे अच्छा मौका नहीं हो सकता था। उनके मुताबिक महंगाई के इस दौर में बैलगाड़ी सबसे सस्ता सुलभ और प्रदूषणमुक्त साधन है। बैलगाड़ी ग्रामीण सभ्यता संस्कृति की पहचान है. इसलिए अपनी संस्कृति को पुनर्जीवित करने के लिए उन्होंने बैलगाड़ी पर बारात ले जाने का फैसला किया। यूं सजाया बैलगाड़ी को इस अनूठी बारात में बैलगाड़ी को खास जनजातीय, लोक-कलाओं से सजाया गया था। दूल्हे की बैलगाड़ी के पीछे चार बैलगाडिय़ां और चलाई गईं। इनमें बच्चों और महिलाओं को बैठाया गया था। बारात में जनजातीय लोक नृत्य और लोक वाद्य शामिल किए गए थे, जो आज किसी शादी में देखने को नहीं मिलते। ग्राम असाढ़ी से बैलगाड़ी में निकले दूल्हे राजा जब 3 किलोमीटर दूर दूधिया गांव में अपनी दुल्हन को लेने पहुंचे तो लोग झूम उठे। आज अपने परम्परागत तौर तरीकों से दूर होते जा रहे आदिवासी समुदाय के लिए ये विवाह एक बड़ा सन्देश लेकर आया। लोग होंगे प्रेरित इस मौके पर दूल्हे के दोस्त रमेश पांसे ने कहा कि बात 100 टका सही है कि आधुनिकता और दिखावे के दौर में डॉक्टर राजा धुर्वे जैसे लोग यूथ आइकॉन ही कहे जा सकते हैं, जो उच्च शिक्षित और सक्षम होने के बावजूद सभ्यता-संस्कृति को सहेजने और दिखावे की आदत से लोगों को दूर रहने का संदेश दे रहे हैं। उम्मीद की जा सकती है कि राजा धुर्वे का ये अनूठा प्रयास लोगों को अपनी जड़ों की तरफ लौटने के लिए प्रेरित करेगा।

Kolar News

Kolar News 21 April 2022

गुना। गुरुवार को अचानक मौसम में बदलाव आ गया। तापमान में गिरावट दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 38 डिग्री तक पहुंच गया। अचानक मौसम बदलने से मौसम में ठंडक घुल गयी। पिछले एक हफ्ते से लगातार जारी गर्मी और लपट के बीच नागरिकों को गुरुवार को राहत मिली। अगले दो दिन तक इसी तरह का मौसम बना रहने की संभावना जताई गई है।   मौसम विभाग के अनुसार उत्तर-पश्चिम वेस्टर्न डिस्टस की वजह से मध्यप्रदेश के पश्चिमी-पूर्वी हिस्से में एक सिस्टम एक्टिव हुआ है। इस वजह से दो दिन पश्चिमी और एक दिन पूर्वी हिस्से में बारिश होगी। वहीं तेज हवाएं भी चलने के आसार हैं। दिन और रात के तापमान में 2-3 डिग्री तक कि गिरावट हो सकती हैं। हालांकि दो दिन बाद फिर एक बार तर्ज गर्मी प?ने की संभावना जताई गई है।   गुरुवार को जिलेभर में सुबह से ही बादल छाए रहे। इस वजह से तापमान ने गिरावट देखी गयी है। सुबह से ही काफी तेज हवाएं भी चलती रहीं। मैसम सुहाना होने से नागरिकों को भी काफी राहत मिली। बारिश यदि होती है तो सब्जी और मूंग की फसल उगाने वाले किसानों को काफी फायदा मिल सकता है। बिजली संकट के कारण सिंचाई की व्यवस्था वैसे भी चरमराई हुई है।   ऐसा रहा 5 दिन का तापमान   16 अप्रैल- 41.6 डिग्री   17 अप्रैल- 42.2 डिग्री   18 अप्रैल- 42.8 डिग्री   19 अप्रैल- 43 डिग्री   20 अप्रैल- 43 डिग्री

Kolar News

Kolar News 21 April 2022

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नई दिल्ली में दतिया जिला प्रशासन को पोषण अभियान में जन-भागीदारी को बढ़ावा देने और लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार से सम्मानित किया। दतिया कलेक्टर संजय कुमार ने यह पुरस्कार ग्रहण किया। गुरुवार को सिविल सेवा दिवस पर दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में यह पुरस्कार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दतिया कलेक्टर संजय कुमार को पुरस्कार प्रदान किया गया। इस मौके पर केन्द्रीय कार्मिक एवं प्रशिक्षण राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह और कैबिनेट सचिव राजीव गौबा और प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव पीके मिश्रा उपस्थित थे। दतिया जिले में जन-भागीदारी के माध्यम से पोषण अभियान में 'मेरा बच्चा अभियान' की शुरुआत की गई। अभियान में कुपोषित मां और बच्चों की पहचान कर उन्हें कुपोषण से सुपोषण कार्यक्रम में शामिल किया गया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों में कम वजन, ठिगनापन और शारीरिक अपक्षय को दूर करना और महिलाओं में खून की कमी का उपचार करना है। साथ ही जिले में 'पोषण मटका' थीम में कुपोषित बच्चों के परिवारों को खाद्यान्न सहयोग देने के लिए भी समुदाय को प्रेरित किया गया।

Kolar News

Kolar News 21 April 2022

इंदौर। स्वच्छ शहरों में सिरमौर बनने के बाद इंदौर के अब स्वच्छता के जन सहभागिता मॉडल को प्रधानमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार के लिए चुना गया है। लोक सेवा दिवस पर नई दिल्ली में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में नागरिकों का स्वच्छता के प्रति समर्पण के लिए यह अवार्ड प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार को इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह को देंगे। दरअसल, कोविड के कारण दो वर्ष से यह अवार्ड घोषित नहीं हो सका था। वर्ष 2019, वर्ष 2020 और वर्ष 2021 के लिए प्रधानमंत्री उत्कृष्टता अवार्ड एक आईएएस अधिकारी को दिया जा रहा है। इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह प्रदेश में इकलौते ऐसे अधिकारी हैं. जिन्हें यह प्रतिष्ठित पुरस्कार भारत सरकार प्रदान करेगी। वर्ष 2020 में लोक प्रशासन के क्षेत्र में प्रधानमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार की कैटेगरी "स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) के माध्यम से जन आंदोलन को बढ़ावा- जनभागीदारी" के तहत केन्द्र सरकार ने इन्दौर का चयन किया है।   इस संबंध में कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि यह अवार्ड स्वच्छता के क्षेत्र में काम करने वाले समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों के साथ-साथ सफाईकर्मियों, इंदौर के समस्त नागरिकों और जनप्रतिनिधियों की सक्रिय सहभागिता और परिश्रम के कारण इंदौर को मिला है। उन्होंने कहा कि जिले के जनप्रतिनिधियों, नागरिकों और सफाई कर्मियों की सक्रिय सहभागिता देशभर में उदाहरण बन चुकी है। उन्होंने यह उत्कृष्टता पुरस्कार इंदौर के सभी सफाईकर्मियों और नागरिकों को समर्पित किया। उल्लेखनीय है कि यह अवार्ड टीम इन्दौर को स्वच्छता के क्षेत्र में सफल तरीके से जनभागीदारी करते हुए उसे जन आंदोलन बनाने के लिए दिया जा रहा है। वर्ष 2020 के लिए यह अवार्ड केन्द्र सरकार ने प्रत्येक राज्य के रेसीडेंट कमिश्नर के माध्यम से अवार्डी अधिकारियों को दिया जाएगा। इस पुरस्कार में ट्रॉफी, प्रशस्ति पत्र तथा जिले को 10 लाख रुपये का रिवार्ड दिया जाएगा, जिसे कलेक्टर द्वारा लोक कल्याण संबंधी कार्यों में अथवा स्वच्छ भारत मिशन से संबंधित कार्यों में व्यय किया जा सकेगा। विदित है कि लोक प्रशासन के क्षेत्र में प्रधानमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार देने की शुरूआत वर्ष 2006 में केन्द्र सरकार ने शुरू की थी, जिसमें सम्पूर्ण देश में विभिन्न जिलों अथवा केन्द्र, राज्य सरकार के संगठनों द्वारा किये गये, असाधारण एवं अभिनव कार्यों को पुरस्कृत किया जाता है। राज्य शासन की विभिन्न स्कीम जिसमें स्वच्छ भारत मिशन भी शामिल है, को भी केन्द्र सरकार ने “मिशन मोड" में लागू किया गया था।

Kolar News

Kolar News 20 April 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 06 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 10 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 266 हो गई है। वहीं, राहत की बात यह है कि राज्य में लगातार 31वें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले भी यहां 10 नये संक्रमित मिले थे।   कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 7,036 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 06 पॉजिटिव और 7,030 निगेटिव पाए गए, जबकि 41 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.08 रहा। नये मामलों में इंदौर में 5 तथा शिवपुरी में एक नया संक्रमित मिला है, जबकि राज्य के 50 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में बीते 24 घंटों में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां 31 दिन से मृतकों की कुल संख्या 10,734 पर स्थिर है।   प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 90 लाख 08 हजार 792 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,266 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,487 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 10 मरीज बुधवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 49 से घटकर 45 रह गई। खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 37 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।   इधर, प्रदेश में 20 अप्रैल को शाम छह बजे तक 49 हजार 616 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 11 करोड़, 70 लाख, 55 हजार 861 डोज लगाई जा चुकी है।

Kolar News

Kolar News 20 April 2022

ग्वालियर। आगामी 30 अप्रैल को शनिचरी अमावस्या है। इस दिन वर्ष का पहला सूर्य ग्रहण पडऩे जा रहा है। भारत में ग्रहण के स्पर्श और मोक्ष के समय रात्रि होने से यह ग्रहण भारत में दृश्य नहीं होगा। इस ग्रहण का ना ही सूतक, वेध, कर्म, यम, नियम, स्नान, दान, पुण्य आदि की मान्यता नहीं होगी। ज्योतिषाचार्य डॉ.सतीश सोनी ने बताया कि 30 अप्रैल को वैशाख मास की अमावस्या तिथि के दिन शनिचरी अमावस्या पर वर्ष का पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। इसके एक दिन पहले 29 अप्रैल को शनि गोचर करके कुम्भ राशि में प्रवेश करेंगे। शनि का राशि परिवर्तन भारत को और ज्यादा आत्मनिर्भर बनाएगा। यह अमावस्या शनिवार के दिन होने के कारण शनिचरी अमावस्या का योग बन रहा है। जबकि वर्ष का दूसरा सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर को लगेगा। उन्होंने बताया कि सूर्य ग्रहण की दृश्यता के अनुसार ही सूतक काल का निर्धारण भी किया जाता है। भारत में यह ग्रहण दिखाई नहीं देगा और ना ही इसका कोई सूतक काल मान्य होगा। इस बार यह खंडग्रास सूर्य ग्रहण भारतीय समय के अनुसार इसका स्पर्श मध्य रात्रि में 12.15 पर होगा। ग्रहण का मध्य रात्रि में 2.12 बजे पर, वही रात्रि 4.08 बजे मोक्ष होगा। भारत में स्पर्श और मोक्ष के समय रात्रि रहेगी। इससे यह ग्रहण भारत में दृश्य नहीं होगा। इसलिए ग्रहण हेतु वेध, सूतक, स्नान, दान, पुण्य, कर्म, यम, नियम, जप, अनुष्ठान हेतु मान्यता नहीं होगी। यह ग्रहण दक्षिण अमेरिका, दक्षिण पश्चिमी भाग प्रशांत महासागर और दक्षिण ध्रुव में दिखाई देगा।

Kolar News

Kolar News 19 April 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 10 नये मामले सामने आए हैं, जबकि पांच मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके साथ राज्य में अब तक कोरोना के मामलों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 260 हो गई है। राहत की बात यह है कि राज्य में लगातार 30वें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार देर शाम जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी है। एक दिन पहले भी यहां पांच नये संक्रमित मिले थे। कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 4,669 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 10 पॉजिटिव और 4,659 निगेटिव पाए गए, जबकि 20 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.2 रही। नये मामलों में सबसे अधिक इंदौर में 4 तथा भोपाल, नर्मदापुरम, जबलपुर, मुरैना, नरसिंहपुर और सागर में 1-1 नये संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 45 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में बीते 24 घंटों में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां 30 दिन से मृतकों की कुल संख्या 10,734 पर स्थिर है। प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 90 लाख 01 हजार 756 लोगों के सेम्पलों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,260 प्रकरण पाजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,477 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 05 मरीज मंगलवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 44 से बढ़कर 49 हो गई है। खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 35 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है। इधर, प्रदेश में 19 अप्रैल को शाम छह बजे तक 20 हजार 671 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन के 11 करोड़, 70 लाख, 04 हजार 054 डोज लगाई जा चुकी है।

Kolar News

Kolar News 19 April 2022

भोपाल। मिनी मुम्बई कहा जाने वाला इंदौर, आलू उत्पादन में भी नई इबारत लिख रहा है। न के बराबर शुगर होने से शुगर-फ्री आलू के नाम से इसकी लोकप्रियता देश ही नहीं विदेश में भी बढ़ रही है। जिले में हर साल 45 हजार हेक्टेयर में लगभग 20 लाख मीट्रिक टन आलू उत्पादन होता है। प्रदेश का ही नहीं, देश का भी प्रमुख आलू उत्पादक जिला होने से इंदौर में ‘एक जिला-एक उत्पाद’ योजना में आलू का चयन किया गया है।   इस संबंध में जनसंपर्क अधिकारी सुनीता दुबे ने मंगलवार को बताया कि आय-वर्धक होने के कारण किसान बड़ी संख्या में आलू उत्पादन की ओर आकर्षित हो रहे हैं। शुगर-फ्री आलू की चिप्स तलने के बाद लाल नहीं होती, सफेद बनी रहती है। आलू उत्पादन के लिये जिले में किसानों को 25 से 35 लाख रुपये तक का ऋण मुहैया कराया जा रहा है, जिसमें अधिकतम 10 लाख रुपये की सब्सिडी दी जा रही है। प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना में 35 प्रतिशत क्रेडिट लिंक्ड अनुदान पर आलू फसल आधारित नवीन सूक्ष्म उद्योग लगाने की ओर युवा वर्ग प्रेरित हो रहा है। इंदौरी आलू की विशेषताओं के चलते अनेक छोटी कंपनियों के साथ प्रतिष्ठित कंपनियों ने भी इंदौर में कारखाने स्थापित किये हैं।   महू क्षेत्र के ग्राम गवली, पलासिया, जामली, बिचौली, कोदरिया, बड़गोंदा, हरसोला, दतोदा, हासलपुर, मेमदी, कुवाली, मानपुर, टीही, राउ, रंगवासा, कैलोद और मेण में प्रमुख रूप से आलू की खेती की जा रही है। आमतौर पर एक हेक्टेयर में 220 में 240 क्विंटल तक आलू का उत्पादन होता है, लेकिन देपालपुर तहसील के ग्राम चितोड़ा के किसान भरत पटेल ने उन्नत तकनीक अपनाकर प्रति हेक्टेयर 400 क्विंटल आलू उत्पादन में अद्भुत सफलता हासिल की है। उन्होंने 7 वेरायटी का आलू उत्पादन किया।   आलू अनेक गुणों से भरपूर है। इसमें स्वास्थ्य-वर्धक तत्व-विटामिन, आयरन, केल्शियम, मेग्नीज, फास्फोरस आदि होते हैं। त्वचा जलने में आलू का औषधीय प्रयोग होता है। आलू से बनने वाले चिप्स, पापड़, समोसा, कचौड़ी, आलूबड़ा, टिक्की, फ्रेंच फ्राइस और पराठे हर आयुवर्ग में लोकप्रिय हैं।

Kolar News

Kolar News 19 April 2022

इंदौर/भोपाल। सोशल मीडिया/इलैक्ट्रॉनिक मीडिया एवं कतिपय समाचारों में राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा के स्थगन तथा उसके 22 मई 2022 को आयोजन की भ्रामक जानकारी प्रकाशित की गयी है। इस भ्रामक जानकारी का आयोग द्वारा खण्डन किया गया है। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा सोमवार को जानकारी दी गई है कि मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाने वाली राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2021 एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2021 आयोग के वार्षिक परीक्षा कार्यक्रम (कैलेण्डर) के अनुसार ही 19 जून 2022 को आयोजित की जाना प्रस्तावित है। इस संबंध में विस्तृत जानकारी का प्रकाशन शीघ्र ही किया जाएगा। आयोग द्वारा जानकारी दी गई है कि राज्य सेवा मुख्य परीक्षा-2020 आगामी 24 अप्रैल 2022 से 29 अप्रैल 2022 तक इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, छिंदवाडा, रतलाम, सतना, शहडोल तथा बड़वानी स्थित परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जाएगी। परीक्षा हेतु प्रवेश पत्र आयोग की वेबसाइट www.mponline.gov.in तथा https://mppsc.mp.gov.in पर डाउनलोड हेतु उपलब्ध हैं। राज्य अभियांत्रिकी सेवा परीक्षा-2021 एवं दन्त शल्य चिकित्सक परीक्षा-2022 के अंतर्गत विज्ञापित पदों हेतु 22 मई 2022 को इंदौर, भोपाल, जबलपुर तथा ग्वालियर स्थित परीक्षा केन्द्रों पर वस्तुनिष्ठ प्रश्नों की ओएमआर आधारित परीक्षा तय कार्यक्रमानुसार ऑफलाइन पद्धति से आयोजित की जाएगी। परीक्षा हेतु प्रवेश पत्र 17 मई 2022 से www.mponline.gov.in तथा https://mppsc.mp.gov.in पर डाउनलोड हेतु उपलब्ध रहेंगे। राज्य अभियांत्रिकी सेवा परीक्षा-2021 के कुछ पदों की शैक्षणिक अर्हता एवं उप पुलिस अधीक्षक (रेडियो) परीक्षा-2021 की शैक्षणिक अर्हता में समानता होने के कारण उप पुलिस अधीक्षक (रेडियो) परीक्षा-2021 के विज्ञापित पदों हेतु परीक्षा 22 मई 2022 को आयोजित नहीं की जा रही है। उप पुलिस अधीक्षक (रेडियो) परीक्षा 2021 की नवीन तिथि यथाशीघ्र घोषित की जाएगी। आयोग द्वारा स्पष्ट किया गया है कि परीक्षाओं के संबंध में सूचना प्राप्ति हेतु केवल आयोग की वेबसाइट पर प्रकाशित सूचनाओं को ही अधिकृत रूप से मान्य किया जाये। अन्य माध्यमों से प्राप्त जानकारी पर कदापि विश्वास नहीं किया जाये।

Kolar News

Kolar News 18 April 2022

आगरमालवा। आगरमालवा जिले के वीर सपूत शहीद जवान अरूण शर्मा को सोमवार को उनके गृहग्राम कानड़ में गमगीन माहौल में अंतिम बिदाई दी गई। शहीद के निवास अयोध्या बस्ती से निकली अंतिम यात्रा में उमड़े जनसैलाब में हर कोई अंतिम दर्शन के लिये प्रयासरत था। अंतिमयात्रा में पूरे समय जब तक सूरज चांद रहेगा-अरूण शर्मा का नाम रहेगा तथा अरूण शर्मा अमर रहे के गगन भेदी नारे गूंजते रहे। कानड़ स्थित श्मशाम में शहीद के छोटे भाई वायुसेना में पदस्थ शिवशक्ति और पिता मनोहरलाल शर्मा ने मुखाग्नि दी। पूरे सम्मान के साथ शहीद को पंचतत्व में विलीन कर दिया गया। इस दौरान नगर में सभी ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे और लोगों ने घरों की छतों से अंतिम दर्शन पुष्प अर्पित किये। बता दें कि सोमवार सुबह निकली अंतिम-यात्रा में क्षैत्रिय सांसद महेन्द्रसिंह सोलंकी, जनप्रतिनिधि, अधिकारी, कर्मचारी सहित बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। इसके पूर्व तड़के करीब तीन बजे शहीद की पार्थिव देह एम्बुलेंस से ग्राम कानड़ पहुंची, परिवार की मनःस्थिति को देखते हुए पार्थिव शरीर पहले प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कानड़ में रखा तथा सुबह छह बजे स्थानीय कृषि उपज मंडी प्रांगण में शहीद की पार्थिव देह को लोगों के दर्शनार्थ रखा गया। यहां कलेक्टर अवधेश शर्मा, पुलिस अधीक्षक राकेश सगर के साथ ही अन्य जनप्रतिनिधियों, आमलोगों व नगरवासियों ने शहीद को श्रृद्धासुमन अर्पित किये। कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक ने शहीद के परिवार को सांत्वना देते हुए उनके पिता मनोहरलाल शर्मा द्वारा अपने दोनो पुत्रों को देश सेवा में समर्पित करने के निर्णय को साहसिक तथा प्रेरणादायी बताते हुए उन्हें हर संभव मदद करने का भरोसा दिलाया। गौरतलब है कि शहीद अरूण का छोटा भाई शिवशक्ति शर्मा भी एयरफोर्स में तैनात है तथा वर्तमान में वह कर्नाटक के बेलगांव में आटो टेक्निकल शाखा में सामरा सेंटर पर अपनी सेवाएं दे रहा है वही इनके पिता पेशे से शिक्षक है। शहीद अरूण का विवाह चार माह पहले एक दिसम्बर को समीपस्थ उज्जैन जिले के ग्राम गुराडिया निवासी शिवानी शर्मा से हुआ था।

Kolar News

Kolar News 18 April 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। राजधानी भोपाल समेत पूरा प्रदेश तप रहा है। रविवार को राज्य के शहरों का औसत तापमान 43.3 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्य के 29 शहरों में बीते एक सप्ताह से अधिकतम तापमान 43 से 44 डिग्री के आसपास बना हुआ है। इसके साथ तेज हवाएं चलने से कई शहर लू की चपेट में ही। स्वास्थ्य विभाग ने लोगों को लू से बचाव के आसान उपाय बताए हैं। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने सोमवार को बताया कि राजस्थान में एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना है लेकिन मध्य प्रदेश में इसका कोई असर नहीं पड़ रहा है। यहां सूर्य की किरणें ज्यादा समय तक पड़ रही हैं, इसलिए यहां इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। तापमान में वृद्धि से हवाएं गर्म हो गई हैं, जिसके कारण लू लगने की आशंका बढ़ गई है। स्वास्थ्य विभाग ने लू से बचने के लिए जन सामान्य को ज्यादा समय तक घर में रहने और अनावश्यक बाहर नहीं निकलने की सलाह दी गई है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुधीर डेहरिया ने कहा है कि आमजन अति आवश्यक कार्य होने पर ही घर से बाहर निकलें। घर से बाहर निकलते समय पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं, खाली पेट घर से बाहर न जायें, इससे लू लगने का खतरा बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि दिन में कम से कम 12 से 15 गिलास पानी जरूर पियें। लू से बचाव के लिए देशी घरेलू उपाय आम का पना, नीबू का पानी एवं प्याज के रस का उपयोग करें। बाहर निकलते समय सूती कपड़े से चेहरा और सर ढककर रखें तथा पानी साथ में जरूर रखें। पहनने के लिए सूती कपड़ों का अधिक उपयोग करें। अगर लू के लक्षण जैसे मितली आने, गला सूखने तथा बुखार का प्रकोप होने जैसा लगे तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करके उचित उपचार कराएं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा ठन्डे वातावरण से गरम या गरम वातावरण से ठण्डे में अचानक न जाने की भी सलाह दी गई है।

Kolar News

Kolar News 18 April 2022

जबलपुर। प्रसिद्ध पार्श्व गायिका अनुराधा पौडवाल रविवार को एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जबलपुर आई हैं। यहां उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि गीत वहीं है, जो सुनते ही दिल में उतर जाए। पुराने गीतों में एक अलग ही कसक थी। पुराने गीत और भजन सदाबहार हैं। जिसे आज भी सुनकर लोग आनंद से भर जाते हैं, लेकिन वर्तमान में गाए जाने वाले गीत एक समय के बाद याद भी नहीं रहते हैं। पुराने गाने आज भी लोगों की जुबां पर अनायास ही आ जाते हैं, लोग गीतों को गुनगुनाते भी हैं। अनुराधा पौडवाल ने एक सवाल के जवाब में कहा कि मौजूदा दौर में बालीवुड का कल्चर तेजी से बदल रहा है। कम बजट की फिल्में भी धमाल मचा रही हैं और महंगी से महंगी फिल्में भी फ्लाप हो रही हैं। उन्होंने साउथ की फिल्मों को लेकर कहा कि लोग साउथ की फिल्में भी पंसद कर रहे हैं। उन्होंने कश्मीरी पंडितों पर हुए अत्याचारों को प्रदर्शित करती फिल्म कश्मीर फाइल्स को लेकर कहा कि देश में जो कुछ हो रहा है, वह ठीक नहीं है। हिंदुओं को जागृत होने की जरूरत है। पत्रकार वार्ता के बाद अनुराधा पौडवाल पाटन रोड स्थित भजन संध्या के निजी कार्यक्रम में पहुंची और यहां उन्होंने धार्मिक भजन, गीतों की प्रस्तुती देकर समां बांध दिया।

Kolar News

Kolar News 17 April 2022

सागर। नई दिल्ली चलकर भोपाल के रानी कमलापति रेलवे स्टेशन आने वाली शदाब्दी एक्सप्रेस में रविवार को बीना स्टेशन के पास अचानक अलार्म अलार्म बजने लगा। इसके बाद ऐहतियात के तौर पर लोको पायलट ने ट्रेन रोक दी। इस दौरान अफवाह फैल गई कि सी-6 कोच में आग लग गई है। इससे ट्रेन में सवार यात्री दहशद में आ गए। जब रेलवे कर्मचारियों ने फायर सिस्टम की जांच की तो उसमें से चूहा निकला, जिसकी वजह से फायर अलार्म बजा था। इसके बाद यात्रियों ने राहत की सांस ली। करीब पांच मिनट बाद ही ट्रेन को ट्रेन को गंतव्य के लिए रवाना कर दिया गया।   जानकारी के मुताबिक, रविवार को सुबह नई दिल्ली से चली ट्रेन क्रमांक 12002 शताब्दी एक्सप्रेस बीना स्टेशन से दोपहर करीब 12:35 बजे तेज रफ्तार में निकली। स्टेशन से निकलते ही कुछ दूरी पर अचानक ट्रेन में फायर अलार्म बज गया। अलार्म को गंभीरता से लेते हुए लोको पायलट और ट्रेन गार्ड ने आपस में चर्चा कर ट्रेन रोक दी। ट्रेन में मौजूद सेफ्टी स्टाफ ने सी-6 कोच में जाकर जांच की तो पता चला कि अलार्म सिस्टम में चूहा घुस गया है। सेफ्टी स्टाफ ने चूहा निकालकर ट्रेन चलाने की अनुमति दे दी।   रेलवे अधिकारियों के मुताबिक ट्रेन करीब 12:35 बजे रुकी और पांच मिनट बाद गंतव्य के लिए रवाना कर दी गई। हालांकि इस दौरान ट्रेन में अफवाह फैल गई कि ट्रेन में शाट सर्किट से आग लग गई है। इस दौरान बहुत से लोग ट्रेन से बाहर आ गए, लेकिन जल्द ही यात्रियों को पता चल गया कि कोच में आग लगने की बात अफवाह है। हकीकत में चूहा की वजह से अलार्म बजा है।   बीना के भारी स्टेशन मास्टर एसके जैन ने बताया कि शताब्दी एक्सप्रेस में आग लगने की जानकारी अफवाह है। वास्तव में ट्रेन के फायर सिस्टम में चूहा घुस गया था, जिससे फायर अलार्म बज गया था। चूहे को बाहर निकालकर ट्रेन पांच मिनट बाद गंतव्य के लिए रवाना कर दिया गया।

Kolar News

Kolar News 17 April 2022

भोपाल। वर्ष 2025 तक क्षय उन्मूलन के लक्ष्य प्राप्ति के लिए हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर 24 मार्च से 13 अप्रैल तक संचालित किए जा रहे क्षय (टीवी) उन्मूलन महाअभियान में मध्यप्रदेश देश में नंबर वन है। आयुष्मान भारत के चौथे वार्षिक दिवस शनिवार, 16 अप्रैल को वर्चुअल कार्यक्रम में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने मध्यप्रदेश को 5 करोड़ से अधिक जनसंख्या वाले राज्यों की श्रेणी में नंबर वन घोषित कर प्रमाण-पत्र दिया।   केंद्र सरकार द्वारा अभियान की समीक्षा की जा रही है। देश के समस्त राज्यों से प्राप्त रिपोर्टिंग एवं आंकड़ों के आधार पर राज्यों को सम्मानित किया गया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मांडविया ने देश में 5 करोड़ से अधिक जनसंख्या वाले राज्यों में मध्यप्रदेश को प्रथम स्थान मिलने पर बधाई दी।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ.चौधरी ने अधिकारी-कर्मचारियों को दी बधाई कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल हुए प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने क्षय उन्मूलन अभियान से जुड़े स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारी-कर्मचारियों को इस उपलब्धि पर बधाई दी है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा विश्व क्षय दिवस के उपलक्ष्य में क्षय उन्मूलन अभियान प्रारंभ किया था। अभियान में प्रदेश के समस्त हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर टीबी जाँच, उपचार की सुविधाएँ प्रारंभ की।   डॉ. चौधरी ने कहा कि क्षय रोगियों को उच्च-स्तरीय जाँच एवं निदान सुविधा उपलब्ध कराई गई। अभियान में प्रदेश के सभी जिलों में युद्ध स्तर पर कार्य किया जाकर 2 लाख 42 हजार 987 मरीजों की जाँच की गई। खोजे गए 81% क्षय रोगियों को निक्षय पोषण योजना का लाभ उपलब्ध करवाया गया।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि प्रदेश के लिए बड़े गर्व की बात है कि मध्यप्रदेश स्वास्थ्य के क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर पर निरंतर उपलब्धि हासिल कर रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले माह विश्व क्षय दिवस के उपलक्ष में सब नेशनल सर्टिफिकेशन में प्रदेश के 2 जिले पुरस्कृत हुए थे। उन्होंने कहा कि राज्य को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत होने से राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम से जुड़े सभी अधिकारी-कर्मचारियों को प्रोत्साहन मिला है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2025 तक क्षय उन्मूलन के लक्ष्य को निश्चित प्राप्त करेंगे।   मुख्यमंत्री ने टीबी मुक्त अभियान में प्रथम आने पर स्वास्थ्य विभाग को दी बधाई मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने देश में चलाए गए टीबी मुक्त अभियान में 5 करोड़ से अधिक आबादी वाले राज्यों में मध्यप्रदेश को प्रथम स्थान प्राप्त होने पर स्वास्थ्य विभाग को बधाई दी है। प्रदेश में संचालित हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स द्वारा अभियान में प्रदेश के 2 लाख 42 हजार लाख मरीजों की जाँच कर महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की गई।   केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने देश में 24 मार्च से 13 अप्रैल 2022 तक चलाए गए टीबी मुक्त अभियान में मध्यप्रदेश राज्य को प्रथम स्थान प्राप्त करने पर शनिवार को ई-प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह उपलब्धि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में स्वस्थ भारत के संकल्प के साथ स्वस्थ मध्यप्रदेश के निर्माण की दिशा में किए जा रहे प्रयासों का परिणाम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत को वर्ष 2025 तक टीबी मुक्त बनाने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मध्यप्रदेश कोई कसर नहीं छोड़ेगा।

Kolar News

Kolar News 16 April 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना काल में दो साल बाद पवन पुत्र हनुमान जी का जन्मोत्सव शनिवार को धूमधाम से मनाया जा रहा है। राजधानी भोपाल में हनुमान मंदिरों में सुबह से ही भक्तों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया था, जो देर शाम तक जारी रहा। मंदिरों में पवनपुत्र का महाभिषेक किया जा रहा है। भक्त हनुमान जी को चोला चढ़ा रहे हैं। उन्हें पुष्प और मालाएं अर्पित करके पूजा अर्चना कर रहे हैं। आरती गा रहे हैं। इधर, भोपाल में शाम को हनुमान जन्मोत्सव पर पुराने शहर के तलैया इलाके से शोभायात्रा शुरू हो गई है। पुलिस के साये में यह शोभायात्रा निकाली जा रही है। शोभायात्रा मार्ग पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।   निधारित कार्यक्रम के अनुसार, भोपाल के बुधवारा कालीघाट से शाम 6.00 बजे शोभायात्रा शुरू हुई। इसमें चार हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए हैं। हनुमान भक्त जय श्रीराम के नारे लगा रहे हैं। शोभायात्रा में भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा और पूर्व महापौर आलोक शर्मा भी शामिल हुए हैं। विधायक शर्मा ने हनुमान जी की पूजा की। इसके बाद शोभायात्रा शुरू हुई। शोभायात्रा में शामिल हनुमान भक्त श्रद्धालु जय श्रीराम और वन्दे मातरम् के नारे लगा रहे हैं। हालांकि डीजे शुरू होते ही बंद करा दिया गया। शोभायात्रा में शामिल होने के लिए शहर के विभिन्न इलाकों से हनुमान भक्तों का जत्था पहुंच रहा है। लिली टॉकीज से सुल्तानिया अस्पताल तक एक तरफ हनुमान भक्तों का जमावड़ा लगा है। इस कारण ट्रैफिक भी जाम हो गया है।     शोभायात्रा मार्ग की दुकानें बंद करा दी गई हैं। सिर्फ खान-पान की दुकानें ही खुली हैं। तलैया से इकबाल मैदान रोड पर यातायात रोक दिया गया है। किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए यहां मौजूद सभी मस्जिदों के सामने पुलिस बल तैनात किया गया है। शोभायात्रा में भारी मात्रा में लोग मौजूद हैं। सभी के हाथ में भगवा झंडे हैं। इनमें बड़ी संख्या में बजरंग बली के भक्त भी शामिल हैं। इस दौरान इलाके में भारी सुरक्षा बल तैनात है। सुरक्षा के लिए 600 जवान तैनात किए गए हैं। प्रशासन अलर्ट मोड पर है।     शोभायात्रा चार बत्ती चौराहे से बुधवारा, इतवारा, मंगलवारा, आजाद मार्केट, जुमेराती, घोड़ा नक्कास, नादरा बस स्टैंड होते हुए देर शाम सिंधी कॉलोनी पर पहुंचेगा। हिंदू उत्सव समिति के सदस्यों ने शहर के मंदिरों में जाकर चोला चढ़ाया। इसके साथ ही समिति के सदस्य शोभायात्रा का स्वागत करेंगे।

Kolar News

Kolar News 16 April 2022

खरगौन। मध्य प्रदेश के खरगौन में रामनवमी पर हुई सांप्रदायिक हिंसा के बाद लगाए गए कर्फ्यू में लगातार तीसरे दिन शनिवार को सुबह-शाम दो-दो घंटे की ढील दी गई है। यह छूट महिला-पुरुष दोनों के लिए रहेगी। शनिवार सुबह 10 से 12 बजे तक सभी दुकानें खुलीं और लोग जरूरी सामान की खरीदारी करने के लिए अपने घरों से बाहर निकले। धार्मिक स्थल खोलने की परमिशन नहीं दी गई है। इसिलए हनुमान जयंती पर मंदिर सुबह से बंद हैं। शहर में अपराहिन 3 बजे से शाम 5 बजे तक कर्फ्यू में ढील रहेगी। इस दौरान दुकानें खुली रहेंगी और लोग खरीदारी कर सकेंगे। लोग सब्जी, फल, दूध, किराना, मेडिकल, इलेक्ट्रिक रिपेयरिंग, मिठाई और नमकीन शॉप्स खोल सकेंगे। लोगों को गाड़ी ले जाने की परमिशन भी नहीं दी गई है। लोगों को पैदल ही बाजार जाकर खरीदारी करनी पड़ेगी। दुकानों को छोड़कर दूसरे स्थानों पर पांच या इससे ज्यादा लोग जमा नहीं हो सकेंगे।इससे पहले गुरुवार और शुक्रवार को भी सुबह-शाम कर्फ्यू में ढील दी गई थी। पुलिस अधीक्षक रोहित काशवानी का कहना है कि खरगौन में अब हालात सामान्य हो रहे हैं। संवेदनशील इलाकों में विशेष निगरानी की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 16 April 2022

ग्वालियर। हनुमान जी को कलयुग में सबसे प्रभावशाली देवताओं में एक माना जाता है। हनुमान जी शिवजी के सभी अवतारों में सबसे बलवान और बुद्धिमान माने जाते हैं। कोरोना संक्रमण के दो वर्ष बाद शनिवार को हनुमान जी की जयंती शहर में धूमधाम से मनाई जाएगी। इस मौके पर हनुमान मंदिरों पर भव्य आयोजन और भण्डारे भी होंगे। वहीं शहर के हनुमान मंदिरों को भी आकर्षक विद्युत से सजाया गया है।   पहाड़ फटने से प्रकट हुए थे गरगज के हनुमान जी: बहोड़ापुर स्थित गरगज हनुमान मंदिर 100 वर्ष से अधिक पुराना है। मंदिर 10 से 11 फिट की प्रतिमा विराजमान है। इस प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा नहीं की गई है यह पहाड़ फटने से प्रकट हुई है। मंदिर के महंत पूर्णानंद शर्मा, पुजारी अशोक शर्मा और अजय शर्मा ने बताया कि हनुमान जंयती पर भगवान का अद्भुत श्रंगार किया गया है। भक्त सुबह से ही भगवान के दर्शन कर सकेंगे। इस मौके पर सुंदरकांड और भजनसंध्या का भी आयोजन होगा। हनुमान जयंती के दूसरे दिन शोभायात्रा भी निकाली जाएगी।   खेड़ापति मंदिर पर लगेगा छप्पन भोग: शहर के प्रमुख मंदिरों में शामिल खेड़ापति हनुमान मंदिर पर शनिवार को हनुमान जयंती धूमधाम से मनाई जाएगी। मंदिर के महंत सियाराम शर्मा ने बताया कि कोरोना के दो वर्ष बाद हनुमान जयंती मनने से सभी काफी उत्साहित हैं। इस दिन मंदिर पर 56 भोग लगाया जाएगा। इसके साथ ही मंदिर पर फूल बंगला सजेगा और भगवान का श्रंगार व अभिषेक किया जाएगा। मंदिर पर आने वाले भक्तों के लिए शीतल पेय पदार्थ उपलब्ध रहेंगे। इसके साथ ही भण्डारा भी होगा। सुबह पांच बजे आरती उपरांत भक्त भगवान के दर्शन कर सकेंगे।   150 वर्ष पुराना है मंशापूर्ण हनुमान मंदिर: पड़ाव स्थित मंशापूर्ण हनुमान मंदिर 150 वर्ष पुराना मंदिर है। मंदिर के पुजारी पं. गोपाल दुबे ने बताया कि वैसे तो प्रतिदिन हनुमान जी की तीन आरती की जाती हैं लेकिन हनुमान जयंती के अवसर पर हनुमान जी की चार आरती की जाएंगी। मंदिर में हनुमान जी की साढ़े चार फीट की प्रतिमा विराजमान है जो बाल रूप में है। हनुमान जयंती के अवसर पर भगवान का विशेष श्रंगार किया गया है। इस दिन भंडारा भी किया जाएगा। कोरोना का प्रभाव खत्म होने से इस बार हनुमान जयंती बहुत ही धूमधाम से मनाई जाएगी।

Kolar News

Kolar News 15 April 2022

भोपाल। तीन दिन पहले अलग-अलग स्थानों पर बनी मौसम प्रणालियों के कारण तापमान में कमी आने से मध्य प्रदेश में भीषण गर्मी से मामूली राहत मिली है। तापमान में कमी आने से गुरुवार को प्रदेश के किसी भी शहर में लू नहीं चली। मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार को जम्मू पर बना पश्चिमी विक्षोभ आगे बढ़ जाएगा। इससे शुक्रवार को तापमान वर्तमान स्तर पर लगभग स्थिर रहेगा, जबकि शनिवार से अधिकतम तापमान में फिर बढ़ोतरी का सिलसिला शुरू हो जाएगा। उधर गुरुवार को प्रदेश में सबसे अधिक 43 डिग्री सेल्सियस तापमान खंडवा, खरगोन एवं दमोह में दर्ज किया गया। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू और उसके आसपास हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात के रूप में बना हुआ है। उत्तर प्रदेश के मध्य में हवा के ऊपरी भाग में बना चक्रवात अब उत्तर-पूवी उत्तर प्रदेश पर पहुंच गया है। विदर्भ से लेकर कर्नाटक तक एक ट्रफ लाइन बनी हुई है। उधर अरब सागर से हवाओं के साथ कुछ नमी अभी भी आ रही है। शुक्रवार को पश्चिमी विभोभ के उत्तर भारत से आगे बढ़ जाने की संभावना है। इससे शनिवार से राजस्थान, गुजरात के साथ ही मप्र में भी अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी होने की संभावना है।

Kolar News

Kolar News 15 April 2022

भोपाल। उज्जैन और संपूर्ण मालवा क्षेत्र की पारेषण क्षमता को मजबूती देने के लिये मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कपंनी ने 400 के.व्ही. का डबल सर्किट फीडर ऊर्जीकृत किया है। यह जानकारी गुरुवार को मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी के प्रबंध संचालक इंजीनियर सुनील तिवारी ने दी।   उन्होंने बताया कि गत दिवस पावर ग्रिड के हतुनिया इंदौर स्थित 765 के.व्ही. सब-स्टेशन से उज्जैन के ताजपुर स्थित 400 के.व्ही. सब-स्टेशन के बीच नव-निर्मित 400 के.व्ही. के डबल सर्किट फीडर को ऊर्जीकृत किया गया। इससे मालवा के बहुत बड़े क्षेत्र सहित उज्जैन शहर और आसपास के अन्य सब-स्टेशनों से जुडे औद्योगिक और घरेलू उपभोक्ताओं को बहुत लाभ पहुँचेगा। उन्हें अब गुणवतापूर्ण बिजली उचित वोल्टेज लेवल पर प्राप्त हो सकेगी। इस सर्किट के ऊर्जीकृत होने से नागदा क्षेत्र भी लाभान्वित होगा, जिसे अब उज्जैन से भी बिजली सप्लाई प्राप्त करने का एक अतिरिक्त विकल्प मिल गया है।   500 मेगावाट तक मिल सकेगा उज्जैन को पावर इस नई लाइन के प्रारंभ हो जाने से ताजपुर स्थित 400 के.व्ही. सब-स्टेशन उज्जैन को 500 मेगावाट तक का अतिरिक्त पावर मिल सकेगा, जिससे उज्जैन से जुड़े 400 के.व्ही. सब-स्टेशन नागदा, 220 के.व्ही. सब-स्टेशन शंकरापुरा, नलखेडा और बड़ौद तथा 132 के.व्ही. तराना, ज्योति नगर (उज्जैन) तथा 132 के.व्ही. विक्रम उद्योगपुरी सब-स्टेशन को भी लाभ पहॅुचेगा।   उज्जैन की स्थापित पारेषण क्षमता है 438 एम.व्ही.ए. उज्जैन शहर की स्थापित पारेषण क्षमता 438 एम.व्ही.ए. की है। उज्जैन शहर में मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कपंनी अपने चार सब-स्टेशनों के माध्यम से विद्युत आपूर्ति करती है, जिसमें 220 के.व्ही. सब-स्टेशन शंकरापुरा, 132 के.व्ही. सब-स्टेशन ज्योति नगर, 132 के.व्ही. सब-स्टेशन रतडिया (मुल्लापुरा) तथा 132 के.व्ही. सब-स्टेशन भैरूगढ़ शामिल है।   उज्जैन में 150 मेगावाट तक जाती है बिजली की डिमांड उज्जैन शहर में फिलहाल ट्रांसमिशन कंपनी लगभग 90 से 100 मेगावाट विद्युत आपूर्ति कर रही है। गर्मी का सीजन बढ़ने से यह डिमांड डेढ़ गुनी तक जाने की संभावना है, जिसे पूरा करने मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कपंनी की पूरी तैयारी है।

Kolar News

Kolar News 14 April 2022

झाबुआ। जिले के मेघनगर जनपद क्षेत्र अन्तर्गत ग्राम देवीगढ़ में चैत्र शुक्ल पक्ष त्रयोदशी तिथि से वैशाख कृष्ण पक्ष द्वितीया तिथि तक आयोजित पांच दिवसीय श्रीस्वयंभू माता मेला गुरुवार प्रातः काल माताजी की पूजा अर्चना एवं महाआरती के बाद आरम्भ हुआ। कोरोना महामारी के दौरान दो वर्षों तक मेला स्थगित रहने के बाद इस वर्ष फिर से शुरू हुए इस मेले में भारी उत्साह देखा गया है। मेले के आयोजन के पूर्व नवरात्र में परम्परागत रूप से होने वाला अनुष्ठान एवं यज्ञ एक कर्म कांडी ब्राह्मण द्वारा सम्पन्न कराया गया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में देवीगढ़ ग्राम के ग्रामीणों सहित नगरीय क्षेत्र से आए लोग मौजूद थे। चैत्र मास शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के अवसर पर स्वयंभू माताजी के दर्शनार्थ एवं इस अवसर पर आयोजित मेले में सम्मिलित होने हेतु झाबुआ एवं आलीराजपुर जिले सहित मालवा क्षेत्र एवं गुजरात और राजस्थान प्रान्त से बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का देवीगढ़ पहुंचना होता है। ग्राम पंचायत देवीगढ़ एवं मेला समिति द्वारा मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा को दृष्टिगत रखते हुए हेतु व्यापक रूप से प्रबन्ध किए गए हैं। स्वयंभू माता का मन्दिर पद्मावती नदी के तट पर करीब 400फीट ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। प्राचीन काल में देवी का उक्त स्थान तंत्र साधना के एक महत्वपूर्ण स्थान के रूप में जाना जाता था। नवरात्र में यहां अब भी परम्परागत रूप से अनुष्ठान किया जाता है। किंवदंती है कि ग्राम के एक ग्रामीण को नवरात्र में देवी के दर्शन हुए थे, और देवी के द्वारा पद्मावती नदी तट पर स्थित पहाड़ी के शिखर पर प्रतिमा के रूप में होने एवं प्रतिमा के उसी स्थान पर प्रतिष्ठित किए जाने हेतु निर्देश दिया गया था। उसी अनुसार ग्रामीणों ने उस स्थान पर खुदाई की, तो माताजी की प्रतिमा निकली। अतः देवी को स्वयंभू कहा जाने लगा और अपभ्रंश होकर शंभूमाता के रूप में यह स्थान सुविख्यात हुआ। बाद में देवीगढ़ ग्राम के ग्रामीणों द्वारा पहाड़ी पर एक चबूतरा बना कर वहां प्रतिमा स्थापित कर दी गई। पहाड़ी की तलहटी में एक प्राकृतिक गुफा है, जो शेर के आवास के रूप में जाना जाता है। ग्रामीण जनों का कहना है कि इस स्थान पर नवरात्र में अब भी मंदिर स्थान पर शेर आता है। देवीगढ़ ग्राम के ग्रामीणों के अनुसार स्वयंभू माता मंदिर स्थान पर मेले की शुरुआत करीब एक सदी पूर्व राजा उदय सिंह द्वारा की गई। मेले के दौरान राजा उदय सिंह स्वयं माताजी के दर्शनार्थ आया करते थे।   शंभूमाता मन्दिर सेवा समिति के मुख्य सेवादार अशोक अरोड़ा ने बताया कि माताजी का यह स्थान प्राचीन काल से ही धार्मिक एवं आध्यात्मिक महत्व का स्थान रखता है। मेले के अवसर पर जिले सहित समीपवर्ती गुजरात एवं राजस्थान सीमा से लगे आंचलिक क्षेत्रों से बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का यहां आना होता है। मेले में आने वाले लोगों को कोई असुविधा न हो, इस हेतु ग्राम पंचायत एवं मेला समिति द्वारा प्रतिवर्ष उचित प्रबंध किए जाते हैं।

Kolar News

Kolar News 14 April 2022

चौधरी मदन मोहन 'समर'   कल रिलीव हो गया। परसों नई जगह ज्वाइन भी कर लूंगा। जिंदगी के दिन हमेशा की तरह करवट बदलकर अपने नए पथ नई जगह पर नए तौर-तरीकों से उदय-अस्त होने लगेंगे।    लगभग सवा पांच साल तक मध्यप्रदेश पुलिस अकादमी भोपाल में शिक्षक की भूमिका से पुनः मैदान में वर्दी के उत्तरदायित्व निभाने चला हूँ। 30 वर्ष विभिन्न थानों का प्रभारी रहा, वह भूमिका भी बदल चुकी है। अब थानों का दिक़दर्शक रहूंगा, अपने अनुभव साझा करूंगा साथियों के साथ एसडीओपी के रूप में। (इस पद को कई प्रदेशों में सीओ भी कहते हैं। महानगरों में यह एसीपी कहलाता है।)  एसडीओपी सुहागपुर जिला नर्मदापुरम (होशंगाबाद) अकादमी में बिताए दिन मेरे लिए विशेष स्मरणीय दिन रहेंगे। यहां पर मेरे वरिष्ठ अधिकारी हों अथवा मेरे समकक्ष साथी या मेरे कनिष्ठ सहयोगी, एक परिवार की तरह हमलोग रहे। सबका स्नेह मिला। सच बताऊँ यह सिर्फ कहने अथवा औपचारिक नहीं मेरे हृदय से कहा सच है, जो सम्मान मुझे यहां पर मिला है वह पूरा आकाश भर है। रत्तीभर भी कम नहीं।यहां हमारे आवासीय परिसर में रहने वाले परिवार मेरे अपने परिवार थे।तीज-त्यौहार पर उत्साह और उल्लास हमने मनाया। वर्ष में दो बार आने वाले नवरात्रि पर्व पर हमने ग्यारह बार मेरे घर महोत्सव का आनन्द लिया। हर परिवार मुझे मेरा कुल-गोत्र लगा। बहुत कुछ पाया यहां मैंने। जीवन भर के लिए स्नेहिल और मधुर रिश्ते,  उनकी मिठास और अपनापन। किसका नाम लूँ विशेष रूप से। सभी तो अपने से भी बढ़ कर लगे। अकादमी में प्रशिक्षण हेतु मैं क्या योगदान दे पाया यह तो पता नहीं लेकिन 256 युवा उप पुलिस अधीक्षक, 1000 से अधिक उपनिरीक्षक, साथ ही विभिन्न कोर्स में आने वाले अनेक साथी मेरी स्मृतियों में रहेंगे। पूरे प्रदेश में मैं मौजूद हूँ मेरे इन साथियों के संग। मैं अपनी उस हर त्रुटि अथवा धृष्टता के लिए क्षमा चाहूंगा जो मुझसे किसी के प्रति हुई हो। मेरा AIG-7 का पता, जो अब बदल जायेगा का आंगन, इसमें मेरे साथ मुस्कुराने वाले पेड़-पौधे, गाने वाली गौरैया, मैना, बुलबुल, तोते, और तमाम पक्षी मुझे गुदगुदाते रहेंगे।आम अमरूद चीकू पपीते कटहल जामुन नींबू हमेशा फलते फूलते रहेंगे झूमकर। विदा भौरी, विदा अकादमी। लेकिन अलविदा नहीं। आता रहूंगा किसी न किसी रूप में।

Kolar News

Kolar News 14 April 2022

जबलपुर। मध्यप्रदेश में अधिवक्ताओं के सबसे बड़े संगठन हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के चुनाव में कुल 58 प्रत्याशियों ने अपने नामांकन दाखिल किए हैं। बुधवार को नामांकन पत्रों की जांच गई। अब 14 अप्रैल को नाम वापसी के बाद तय होगा कि असल में मुख्य मुकाबले में कितने प्रत्याशी बचे हैं।   मुख्य चुनाव अधिकारी वरिष्ठ अधिवक्ता दिनेश उपाध्याय के मुताबिक 58 नामांकन फॉर्म भरे गए हैं। इसमें अध्यक्ष पद के लिए 5, उपाध्यक्ष पद के लिए 9 , सचिव पद के लिए 8 , कोषाध्यक्ष पद के लिए 7 , सह सचिव पद के लिए 6, पुस्तकालय इंचार्ज के लिए 6 और कार्यकारिणी सदस्य के लिए 18 लोगों ने नामांकन फॉर्म भरा है। बुधवार को नामांकन फार्मों की जांच की गई, जबकि 14 अप्रैल को प्रत्याशी अपने नाम वापस ले सकते हैं। इसके बाद 25 अप्रैल को मतदान होगा। हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के चुनाव में 2718 अधिवक्ता मतदाता में हिस्सा में लेंगे। चुनाव मतदान हाईकोर्ट के सिल्वर जुबली हॉल में कराया जाएगा।   अध्यक्ष पद के प्रत्याशी   मनीष तिवारी, संजय वर्मा, निर्मला नायक, उमाकान्त शर्मा, आनन्द कृष्ण त्रिवेदी।   उपाध्यक्ष पद के प्रत्याशी   आशीष तिवारी, अनिल लाला, के. के. कुशवाहा, नरेन्द्र कुमार शर्मा, शंभू दयाल गुप्ता, प्रशांत अवस्थी, सुशील मिश्रा, रघुवर प्रसाद प्रजापति, प्रमेन्द्र सेन।   सचिव पद के प्रत्याशी   राहुल रावत, सम्पूर्ण तिवारी, पी.के. मिश्रा, वीरेन्द्र दुबे, सुरेन्द्र वर्मा, पारितोष त्रिवेदी, अमित जैन, असीम त्रिवेदी।

Kolar News

Kolar News 13 April 2022

ग्वालियर। पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से पिछले दो दिन में अधिकतम तापमान में 2.2 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई है। जिससे लू की स्थिति से राहत बनी हुई है लेकिन पिछले दो दिन में न्यूनतम तापमान में 2.6 डिग्री सेल्सियस का उछाल आने से रात में गर्मी का असर बढ़ गया है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले दो दिन में अधिकतम तापमान में लगभग दो डिग्री सेल्सियस की और गिरावट हो सकती है लेकिन 16 अपै्रल से अधिकतम तापमान में फिर से वृद्धि होने की संभावना है। यहां बता दें कि पिछले दिनों ग्वालियर शहर में तापमान 44 डिग्री सेल्सियस के नजदीक पहुंच गया था जिससे तीव्र लू की स्थिति निर्मित हो गई थी लेकिन पिछले दो दिन से तापमान में गिरावट दर्ज की जा रही है। बीते मंगलवार को शहर के आसमान में आंशिक बादल थे लेकिन बुधवार को मौसम शुष्क रहा। जिससे धूप भी काफी तेज निकली। साथ ही लगभग पांच किलोमीटर प्रति घंटे की गति से पश्चिमी हवाएं भी चलती रहीं। बावजूद इसके तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई। स्थानीय मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि वर्तमान में उत्तरी पाकिस्तान और उससे सटे जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। साथ ही पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से पंजाब और उससे सटे मध्य पाकिस्तान में प्रेरित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। इन दोनों मौसम प्रणालियों के प्रभाव से पश्चिमी हवाओं में ज्यादा गर्माहट नहीं है। इसके चलते अगले दो दिन में अधिकतम तापमान में दो डिग्री सेल्सियस की और गिरावट हो सकती है लेकिन न्यूनतम तापमान में आंशिक वृद्धि की संभावना है। 15 या 16 अपै्रल को इन दोनों मौसम प्रणालियों का प्रभाव समाप्त हो जाएगा। इसके बाद अधिकतम तापमान में फिर से वृद्धि होगी। जिससे भीषण गर्मी के साथ एक बार फिर लू की स्थिति निर्मित हो सकती है। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में बुधवार को अधिकतम तापमान 1.0 डिग्री सेल्सियस गिरावट के साथ 41.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो औसत से 2.8 डिग्री सेल्सियस अधिक है जबकि न्यूनतम तापमान 0.9 डिग्री सेल्सियस वृद्धि के साथ 24.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह भी औसत से 4.0 डिग्री सेल्सियस अधिक है। आज सुबह हवा में नमी 23 और शाम को 21 प्रतिशत दर्ज की गई।

Kolar News

Kolar News 13 April 2022

बैतूल। इटारसी-नागपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 69 पर ग्राम सुखतवा में 138 पहिये के ट्राले से टूटा सुखतवा नदी पुल पर प्रशासन द्वारा अस्थाई रपटा तैयार कर यात्री बसों का आवागमन भी शुरू कर दिया गया है, जिससे अब यात्रियों को इटारसी, नर्मदापुरम या भोपाल जाने के लिए 94 किलोमीटर का फेरा नहीं लगाना पड़ेगा। हालांकि, अभी इस रपटे से बड़े ट्रक, ट्राले, कण्टेनर सहित अन्य लगेज वाहनों के निकलने की अनुमति नहीं मिली है, जिससे इन बड़े लगेज वाहनों को बैतूल से होशंगाबाद पहुंचने में 94 किलोमीटर का फेर लगाना पड़ रहा है। फिर भी दो पहिया, चौपहिया वाहनों के साथ ही यात्री बसों के निकलने से राहत है।   उल्लेखनीय है कि बीते रविवार को 130 टन वजन की मशीन लेकर हैदराबाद से इटारसी जा रहे 138 पहिए वाले ट्राले के गुजरने के दौरान सुखतवा नदी पर बना 158 साल पुराना ब्रिटिशकालीन पुल टूट गया था, जिससे ट्राला सहित मशीन भी लगभग 40 फीट नीचे गिर गई थी। उक्त पुल टूटने के बाद नागपुर-भोपाल के बीच सीधा सड़क संपर्क टूट गया था। पुल टूटने के बाद रविवार दोपहर से ही यातायात बाधित चल रहा था। होशंगाबाद जिला प्रशासन और एनएचएआई ने सेना की मदद से अस्थाई रपटा निर्माण का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू किया। इसके बाद सोमवार शाम को सुखतवा नदी में मुरम और पाईप की सहायता से अस्थाई सड़क बना दी थी। मुरम के इस अस्थाई रास्ते पर पुल में लगने वाली सीमेंट की मोटी गडर भी बिछा दी गई।   इसके बाद पुल से यात्री बसों की आवाजाही शुरू कर दी गई है। बुधवार को सुबह से ही अस्थाई रपटे से छोटे वाहनों के साथ-साथ यात्री बसें भी निकलने लगी। बसों का आवागमन शुरू होने से भोपाल, इंदौर, नर्मदापुरम से बैतूल, नागपुर, अमरावती, आकोला की ओर आने-जाने वाली यात्री बसों का संचालन शुरू हो गया। बसे समय से चलना शुरू हो गई जिससे लोगों ने राहत की सांस ली है।   हालांकि, अभी सुखतवा नदी पर बने अस्थाई पुल से बड़े लगेज वाहनों की आवाजाही शुरू नहीं की गई है। जिससे बैतूल से होशंगाबाद, भोपाल की ओर आने-जाने वाले बड़े लगेज वाहन ट्रक, ट्राला, कंटेनर आदि बैतूल से चिचोली, ढेकना, टिमरनी, सिवनी मालवा होते हुए नर्मदापुरम और सिवनी मालवा से औबेदुल्लागंज होते हुए भोपाल पहुंच रहे हैं। इससे उन्हें 94 किलोमीटर का फेर लगाना पड़ा। लगेज वाहनों को 94 किलोमीटर अधिक दूरी तय करने से ट्रक ऑपरेटर्स ने भाड़ा भी बढ़ा दिया है।

Kolar News

Kolar News 13 April 2022

(प्रवीण कक्कड़) राज्य सरकार की जितनी सेवाएं होती हैं, उनमें पुलिस का एक खास महत्व है। हम चाहें या ना चाहें पुलिस हमारे सामाजिक जीवन के हर हिस्से से जुड़ी है। स्कूल की परीक्षाएं कराने से लेकर राजनैतिक समारोह तक सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस के पास ही है। परिवार का छोटा सा झगड़ा हो या बदमाशों का गैंगवार, मामला निपटाने की जिम्मेदारी अंततः पुलिस पर आती है। समाज में जिस तरह से छोटी-छोटी बातों को लेकर लोग ज्यादा उग्र होने लगे हैं, उसे देखते हुए पुलिस की भूमिका लगातार बढ़ती जा रही है। विशेषज्ञ इन समस्याओं और उनके प्रसार से लंबे समय से अवगत हैं। इसीलिए पुलिस सुधार की बात एक अरसे से चल रही है। पुलिस सुधार का मतलब क्या है? क्या पुलिस वालों के काम के तरीके को बदल देना? लेकिन इसमें कितना बदलाव आ सकता है, क्योंकि उनका मूल काम तो अपराध नियंत्रण का रहेगा ही। इसका मतलब है कि पुलिस सुधार का अर्थ कहीं व्यापक है। सबसे पहले तो यह देखना होगा कि पुलिस के ऊपर कहीं काम का ज्यादा बोझ तो नहीं है। राष्ट्रीय परिदृश्य पर गौर करें तो राज्य पुलिस बलों में 24% रिक्तियां हैं (लगभग 5.5 लाख रिक्तियां)। यानी जहां 100 पुलिस वाले हमारे पास होने चाहिए वहां 76 पुलिस वाले ही उपलब्ध हैं। हर एक लाख व्यक्ति पर पुलिसकर्मियों की स्वीकृत संख्या 181 है, उनकी वास्तविक संख्या 137 है। उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र के मानक के अनुसार एक लाख व्यक्तियों पर 222 पुलिसकर्मी होने चाहिए। इस तरह गौर करें तो राष्ट्रीय मानक से तो हम पीछे हैं ही अंतर्राष्ट्रीय मानक से तो बहुत पीछे हैं। राज्य पुलिस बलों में 86% कॉन्स्टेबल हैं। अपने सेवा काल में कॉन्स्टेबलों की आम तौर पर एक बार पदोन्नति होती है और सामान्यतः वे हेड कॉन्स्टेबल के पद पर ही रिटायर होते हैं। इससे वे अच्छा प्रदर्शन करने को प्रोत्साहित नहीं हो पाते।  एक तथ्य और महत्वपूर्ण है। राज्य सरकारों को पुलिस बल पर राज्य के बजट का 3% हिस्सा खर्च करना चाहिए जो कि अभी नहीं हो रहा है। राज्य पुलिस पर कानून एवं व्यवस्था तथा अपराधों की जांच करने की जिम्मेदारी होती है, जबकि केंद्रीय बल खुफिया और आंतरिक सुरक्षा से जुड़े विषयों (जैसे उग्रवाद) में उनकी सहायता करते हैं। जब दोनों के काम लगभग समान है तो बजट भी समान होना चाहिए। यह तो वे पक्ष हुए जो यह बताते हैं कि पुलिस वालों को प्रशासन की और बेहतर कृपा दृष्टि की जरूरत है। अच्छी तरह से काम करने के लिए उन्हें बेहतर संसाधन चाहिए। दूसरा पक्ष भी बड़ा महत्वपूर्ण है। सेना में भर्ती होने वाले लोगों के लिए चाहे वे सैनिक हों या उच्चाधिकारी बहुत सारी मानवीय सुविधाएं होती हैं। ऑफिसर्स मैस होगा, सैनिक स्कूल, अस्पताल खेल कूद और व्यायाम के लिए पार्क और बड़े पैमाने पर शारीरिक व्यायाम की सुविधा होती है। इसके अलावा खेलों में सेना के जवानों का विशेष प्रतिनिधित्व हो सके इसके लिए पर्याप्त इंतजाम किए जाते हैं। मेजर ध्यानचंद जैसे महान खिलाड़ी इसी व्यवस्था से हमें प्राप्त हुए हैं। निश्चित तौर पर सेना की जिम्मेदारी बड़ी है और उसे सरहदों पर देश की रक्षा करनी होती है। लेकिन पुलिस की जिम्मेदारी भी कम नहीं है, उसे तो रात दिन बिना अवकाश के समाज की कानून व्यवस्था को बना कर चलना होता है। उसे अपने कानूनी दायित्व के साथ इस विवेक का परिचय भी देना होता है कि समाज में किसी तरह की अशांति ना फैले और बहुत संभव हो तो दो पक्षों का झगड़ा आपस की बातचीत से समाप्त हो जाए। इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि पुलिस के काम पर लगातार राजनीतिक नेतृत्व का एक खास किस्म का दबाव तो बना ही रहता है। ऐसे में पुलिस वालों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए पर्याप्त उपाय करना पुलिस सुधार की पहली सीढ़ी होनी चाहिए।  दूसरी बात यह होनी चाहिए कि भले ही कोई कांस्टेबल स्तर से भर्ती हुआ हो, लेकिन अगर वह पर्याप्त शैक्षणिक योग्यता हासिल कर लेता है तो इस तरह की परीक्षाएं उसे उपलब्ध हों जिससे वह शीर्ष पद तक पहुंच सके। अभी जिस तरह की पुलिस लाइन बनी हुई है, उनमें बहुत से सुधार की आवश्यकता है। उनकी क्षमता भी इतनी नहीं है कि एक शहर में पदस्थ सारे पुलिस वाले वहां रह सकें। ऐसे में पुलिस के लिए नए आवासों के निर्माण के बारे में ध्यान से सोचना चाहिए। पुलिस कर्मियों के बच्चे अच्छे स्कूलों में शिक्षा ले सकें, इसलिए सैनिक स्कूल के मुकाबले के स्कूल खोले जाने चाहिए। यहां न सिर्फ कक्षा की पढ़ाई होनी चाहिए बल्कि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी होनी चाहिए। राज्य पुलिस में अब पहले की तुलना में महिलाओं का योगदान बढ़ा है। पुलिस सेवा का पूर्व अधिकारी होने के नाते मैं अपने अनुभव से जानता हूं की महिलाओं के लिए पुलिस की नौकरी करना पुरुषों की अपेक्षा कठिन है। दिन भर धूप में खड़े रहना, धरना प्रदर्शन आदि को नियंत्रित करना और पुरुष पुलिस कर्मियों के साथ अपराध के स्थानों पर जाकर अपराध को नियंत्रण करना। भारत के पितृसत्तात्मक समाज में महिलाओं को किस तरह की तकलीफों का सामना करना पड़ता है, इसे हम स्वीकार करें या ना करें, लेकिन समझ तो सकते ही हैं। खासकर ट्रैफिक पुलिस में बड़े पैमाने पर चौराहों पर ड्यूटी करती हुई महिला पुलिसकर्मी आपको मिल जाएंगी। किसी का चालान काटना, उसे ट्रैफिक नियमों का पालन करने की बात समझाना, इन मामलों में उन्हें वाहन चालकों के साथ कई तरह की बहस में पड़ना पड़ता है। इन सब परिस्थितियों से निपटने के लिए पुलिस के पुरुष और महिला कर्मचारियों की विशेष ट्रेनिंग होनी चाहिए। यह ट्रेनिंग इस तरह की ना हो कि नौकरी में भर्ती समय हो गई और बाकी समय वह पुराने ढर्रे पर काम करते रहें। कम से कम 6 महीने या 1 साल में हर बार नई परिस्थितियों के अनुसार विशेष ट्रेनिंग होनी चाहिए। पुलिस सुधार के यह वे पहलू हैं, जिनमें पुलिस को सक्षम बनाने के रास्ते बताए गए हैं। पुलिस के कामकाज में ऐसे बदलाव किस तरह किए जाएं कि जनता में पुलिस के प्रति समरसता का भाव उत्पन्न हो उसकी चर्चा हम इस लेख के दूसरे भाग में करेंगे।

Kolar News

Kolar News 13 April 2022

भोपाल। देश में अपनी तरह के सबसे पहले एवं सबसे आधुनिक रेडियो फ्रीक्वैंसी स्मार्ट मीटर का विशाल प्रोजेक्ट संचालित करने वाली मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र बिजली वितरण कंपनी को देश का प्रतिष्ठित स्कॉच सिल्वर अवॉर्ड मिला है। इसकी घोषणा मंगलवार की शाम को की गई। इस अवॉर्ड की दौड़ में देश की विभिन्न बिजली कंपनियां, राज्यों के ऊर्जा विभाग, बैंक, शासकीय सेवा उपलब्ध कराने वाली संस्थाएं और तकनीकी संस्थाएं आदि शामिल थीं। पश्चिम क्षेत्र बिजली वितरण कंपनी ने श्रेष्ठ सेवाओं, योजना के कार्यों की स्कॉच टीम के साथ सर्वोत्तम प्रस्तुति, वोटिंग एवं अन्य मापदंडों को पूरा करते हुए सिल्वर अवॉर्ड़ हासिल किया है।   इस प्रतिष्ठित अवॉर्ड मिलने पर मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध निदेशक अमित तोमर ने स्मार्ट मीटर योजना के मुख्य अभियंता एसआर बमनके, अधीक्षण अभियंता डीएस चौहान, सेंट्रलाइज्ड स्मार्ट मीटर कंट्रोल सेंटर प्रभारी नवीन गुप्ता और पूरी टीम को बधाई दी है। प्रबंध निदेशक तोमर ने बताया कि कंपनी का महू शत-प्रतिशत स्मार्ट मीटर वाला मप्र का पहला शहर है, वहीं इंदौर, उज्जैन, रतलाम, देवास, खरगोन आदि में अब तक पौने तीन लाख स्मार्ट मीटर लगाए जा चुके हैं।

Kolar News

Kolar News 12 April 2022

भोपाल। राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा नगरीय निकायों एवं पंचायतों की फोटोयुक्त मतदाता सूची के वार्षिक पुनरीक्षण-2022 का संशोधित कार्यक्रम जारी किया गया है। अब मतदाता सूची का सार्वजनिक प्रकाशन 10 मई 2022 को होगा। राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने मंगलवार को जानकरी दी है कि 11 अप्रैल 2022 तक प्राप्त दावे-आपत्तियों का निराकरण 16 अप्रैल तक किया जाएगा। फोटोयुक्त मतदाता सूची का निहित स्थानों पर सार्वजनिक प्रकाशन 10 मई 2022 को किया जायेगा। पूर्व में मतदाता सूची का प्रकाशन 25 अप्रैल 2022 को किया जाना था।

Kolar News

Kolar News 12 April 2022

ग्वालियर। जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ सहित अलग-अलग स्थानों पर सक्रिय चार मौसम प्रणालियों के प्रभाव से आसमान में आंशिक बादल छा गए हैं। जिससे मंगलवार को अधिकतम तापमान में 1.2 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई। साथ ही आज लू का प्रभाव भी नहीं था। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले तीन दिन तक लू से राहत बनी रहेगी। इस दौरान तापमान में एक से दो डिग्री सेल्सियस की गिरावट भी हो सकती है। यहां बता दें कि पिछले करीब एक पखवाड़े से मौसम को प्रभावित करने वाली कोई मौसम प्रणाली सक्रिय नहीं होने से शुष्क मौसम के चलते सूरज की तपन और पछुआ गर्म हवाओं के संयुक्त प्रभाव से ग्वालियर-चम्बल अंचल सहित मध्यप्रदेश के अधिकांश इलाके भीषण गर्मी और लू की चपेट में थे। इस दौरान ग्वालियर में सीवियर हीट वेव यानी तीव्र लू की स्थिति भी निर्मित हो गई थी लेकिन मंगलवार को मौसम में आंशिक बदलाव देखने को मिला। दिन भर आंशिक बादल छाए रहने से पिछले दिनों की अपेक्षा आज सूरज के तेवर कुछ नरम बने रहे। हालांकि पिछले दिनों की तरह आज भी हवाएं उत्तर-पश्चिमी चलीं। जिनकी गति लगभग चार किलोमीटर प्रति घंटा थी लेकिन हवाओं में पिछले दिनों जैसी गर्माहट नहीं थी। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में मंगलवार को अधिकतम तापमान 1.2 डिग्री सेल्सियस गिरावट के साथ 42.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो औसत से 3.8 डिग्री सेल्सियस अधिक है जबकि न्यूनतम तापमान 1.7 डिग्री सेल्सियस वृद्धि के साथ 23.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह भी औसत से 3.5 डिग्री सेल्सियस अधिक है। आज सुबह हवा में नमी 24 और शाम को 27 प्रतिशत दर्ज की गई। इस कारण हुई तापमान में गिरावट: स्थानीय मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि वर्तमान में जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। जिसके प्रभाव से मध्य पाकिस्तान में प्रेरित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। इसके अलावा पूर्वी उत्तर प्रदेश और उससे सटे बिहार में चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ। इसके साथ ही बिहार से पूर्वी उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश होते हुए विदर्भ तक एक द्रोणिका लाइन भी गुजर रही है। इन चार मौसम प्रणालियों के प्रभाव से ग्वालियर-चम्बल में आंशिक बादल छा गए हैं लेकिन बारिश की संभावना कम है। उन्होंने बताया कि इन मौसम प्रणालियों के प्रभाव से अगले तीन दिन तक भीषण गर्मी और लू के प्रकोप से राहत बनी रहेगी। इस दौरान अधिकतम तापमान में एक से दो डिग्री सेल्सियस की गिरावट हो सकती है जबकि न्यूनतम तापमान में आंशिक वृद्धि संभव है। आगामी 15 अपै्रल को इन मौसम प्रणालियों का प्रभाव समाप्त होने के बाद अधिकतम तापमान में फिर से वृद्धि होगी और गर्मी व लू का प्रकोप बढ़ेगा।

Kolar News

Kolar News 12 April 2022

भोपाल। केन्द्रीय भारतीय खाद्य संरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) द्वारा सोमवार को राजधानी भोपाल के पलाश रेजीडेंसी में प्रदेश के ईट स्मार्ट सिटीज के पुरस्कृत 4 नगर के खाद्य सुरक्षा अधिकारियों को प्रशस्ति-पत्र एवं स्मारिका प्रदान कर सम्मानित किया गया। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने विजेता शहरों सागर, जबलपुर, इंदौर और उज्जैन को बधाई दी है।   इस मौके पर प्रमुख सचिव नागरिक आपूर्ति फ़ैज़ अहमद किदवई, आयुक्त स्वास्थ्य सेवाएं और सचिव लोक स्वास्थ एवं परिवार कल्याण डॉ. सुदाम खाड़े और विशिष्ट रूप से एफएसएसएआई की क्षेत्रीय संचालक प्रीति चौधरी उपस्थित थी। सभी ने देश में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले मध्यप्रदेश के विजेता शहर इंदौर, जबलपुर, सागर तथा उज्जैन में किये गये कार्यों की प्रशंसा की। उल्लेखनीय है कि केवल मध्यप्रदेश एकमात्र ऐसा राज्य है, जिसके 4 शहर इंदौर, जबलपुर, सागर और उज्जैन ने देश के टॉप 11 विजेताओं में स्थान अर्जित किया है। पुरस्कृत शहरों को 50-50 लाख रुपये की अवार्ड राशि मिलेगी और जुलाई 2022 में बर्मिंघम (इंग्लैंड) में भागीदारी का अवसर प्राप्त होगा।   बता दें कि ईट स्मार्ट सिटीज़ चैलेंज प्रतियोगिता में देश से कुल 104 शहरों ने भाग लिया। इसमें से विभिन्न राज्यों के मात्र 11 शहर विजेता घोषित किए गए। मध्यप्रदेश के सर्वाधिक 4 शहरों ने ईट स्मार्ट सिटीज चैलेंज प्रतियोगिता में विजेता बनकर संपूर्ण देश में मध्यप्रदेश का मान बढ़ाया है। इस प्रकार मध्यप्रदेश ईट स्मार्ट सिटी चैलेंज में देश में प्रथम स्थान पर है।   सागर के अटल पार्क का नाम हुआ देश में रोशन : मंत्री सिंह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने विजेता शहरों को बधाई देते हुए कहा कि स्वच्छता और गुणवत्ता के कड़े पैमाने पर खरे उतरे इन शहरों ने अपने अथक प्रयासों से यह सफलता हासिल की है। इस सफलता के साथ ही सागर के अटल पार्क का नाम भी संपूर्ण देश में रोशन हुआ है।   मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया है कि फूड सेफ्टी स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया तथा मिनिस्ट्री ऑफ हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स द्वारा आयोजित की गई ईट स्मार्ट सिटीज़ प्रतियोगिता में विजयी शहर को 50 लाख की अवार्ड राशि प्राप्त होगी। साथ ही इन शहरों को जुलाई 2022 में बर्मिंघम इंग्लैंड में भागीदारी का अवसर भी मिलेगा।

Kolar News

Kolar News 11 April 2022

रतलाम। कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी कुमार पुरुषोत्तम द्वारा जनसामान्य के स्वास्थ्य हित, जानमाल एवं लोक शांति को बनाए रखने के लिए रतलाम जिले की संपूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र में धारा 144 के अंतर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश लागू किए गए हैं। सोमवार को लागू किए गए आदेशों के तहत रतलाम जिले की संपूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र अन्तर्गत समस्त होटल, लाज, सराय आदि में समस्त यात्रियों, व्यक्तियों के परिचय पत्र (आई.डी. कार्ड) प्राप्त कर पृथक से पंजी संधारित की जाकर संदेहास्पद होने पर संबंधित पुलिस थाने को सूचित करने, जिले की राजस्व सीमा क्षेत्र अन्तर्गत मकान मालिक अपने किरायेदार की, व्यवसायी अपने कर्मचारियों कारीगरों जो बाहरी क्षेत्र (अन्यत्र जिला एवं राज्य) के निवासी है, की निर्धारित प्रोफार्मा में जानकारी भरकर मय चरित्र प्रमाण के क्षेत्र के थाना प्रभारी को एक सप्ताह में देने के लिए बाध्य होगा। घरेलू नौकर को रखने वाले व्यक्तियों के लिए तथा प्रायवेट होस्टल संचालक स्वयं की व कार्यरत कर्मचारियों की जानकारी मय परिचय पत्र की छायाप्रति के साथएक सप्ताह में निर्धारित प्रोफार्मा ने संबंधित थाने में देना अनिवार्य होगा। किसी भी धार्मिक स्थल जैसे मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च, स्थानक आदि स्थानों पर बाहर से आकर रहने वाले व्यक्तियों एवं लंबे समय (5 दिवस से अधिक) रुक कर धार्मिक प्रवचन देने वाले व्यक्तियों की जानकारी मय आईडी प्रुफ के संबंधित धार्मिक स्थल के संचालक को 24 घंटे में संबंधित पुलिस थाने को देना अनिवार्य होगा। सभी होटलों, लाज, धर्मशाला आदि में सीसी टीवी लगाना अनिवार्य है। उक्त आदेश आगामी दो माह तक प्रभावशील रहेगा तथा उक्त प्रभावशील अवधि में इस आदेश का उल्लंघन धारा 188 भारतीय दण्ड विधान अन्तर्गत दण्डनीय अपराध की श्रेणी में आएगा।

Kolar News

Kolar News 11 April 2022

अनूपपुर। छत्तीसगढ़ के मरवाही वन परिक्षेत्र से 1 अप्रैल को आए तीन हाथियों के समूह 11वें दिन सोमवार को अनूपपुर वन मंडल के जैतहरी से राजेंद्रग्राम वन परीक्षेत्र के जंगलों तथा ग्रामीण क्षेत्रों से गुजरता हुआ वन परीक्षेत्र अहिरगवा के जंगलों में विचरण कर रहा है। इससे पहले रविवार की रात हाथियों के समूह ने ग्राम खमरौध के तीन ग्रामीणों के कच्चे मकानों में तोड़फोड़ कर घर के अंदर रखें सामग्रियों को अपना आहार बनाया। इसके बाद सोमवार सुबह इन हाथियों अहिरगवा बीट के वन चौकी के पीछे जंगल में अपना डेरा जमाया है।   हाथियों का समूह शनिवार को वन परिक्षेत्र राजेंद्रग्राम से विचरण करता हुआ रविवार की सुबह वन क्षेत्र अहिरगवा के तरंग गांव में जोहिला नदी के किनारे पूरे दिन आराम करने बाद देर शाम जोहिला नदी के किनारे कातुरदोना पहुंचा जहां समनू बैगा के कच्चे मकान को तोड़कर घर के अंदर रखा अनाज को बाहर निकालकर खाया व बाड़ी में लगे कटहल को अपना अहार बनाया। ग्रामीणों द्वारा हल्ला के कारण हाथियों का समूह खमरौध ग्राम पंचायत में जंगल के किनारे बसे छापीटोला में इंद्रपाल पिता लालमन सिंह गौड़ का मकान तोड़कर घर के अंदर रखे मसूर धान की फसल को खाते हुए प्यारेलाल बैगा, राजू सिंह के मकान को भी नुकसान पहुंचाया। बैगानटोला होते हुए लगभग 15 किलोमीटर की दूरी तय कर सोमवार की सुबह अहिरगवा बीट के वन चौकी के पीछे अहिरगवा पथखई घाट के बीच जंगल में अपना डेरा जमाए हुए हैं। हाथियों के समूह के निरंतर विचरण से ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ हैं। वन परिक्षेत्र अधिकारी अहिरगवा अविचल त्रिपाठी, परिक्षेत्र सहायक अहिरगवा राजू केवट, परिक्षेत्र सहायक पडमनिया देवेंद्र पांडे, परिक्षेत्र सहायक खरसोल जे,पी,साहू सहित वनरक्षको व सुरक्षा श्रमिक,ग्रामीणों के साथ मिलकर हाथियों पर नजर बनाए हुए हैं।   वन विभाग प्रशासन एवं पुलिस के द्वारा आम जनों से हाथी विचरण क्षेत्रों में दिन या रात में नहीं जाने जंगल व जंगल के किनारे स्थित कच्चे मकानों में ना रहने के साथ हाथियों से दूरी बनाए रखने की अपील करते हुए मुनादी भी कराई जा रही हैं। वन मंडला अधिकारी अनूपपुर डॉ,एए अंसारी, उप वन मंडल अधिकारी राजेंद्रग्राम मान सिंह मरावी ने वन विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों से आमजन की सुरक्षा को देखते हुए हाथियों के समूह के साथ ग्रामीणों को उनकी सुरक्षा के लिए निरंतर निगरानी करने के निर्देश दिए हैं। हाथियों के समूह के निरंतर 11 वें दिन से विचरण पर अब तक किसी भी तरह की जन घायल जनहानि की घटनाएं निर्मित नहीं होने से जिला प्रशासन, पुलिस एवं वन विभाग ने राहत की सांस ली हैं। वहीं आने वाले समय में निरंतर विचरण कर रहे इस समूह पर नजर बनाए रखते हुए आम जनों की सुरक्षा एक बड़ी चुनौती बनी हुई हैं। संभावना व्यक्त की जा रही है कि हाथियों का समूह एक दो दिनों बाद अन्य वन मंडलों के इलाके में प्रवेश कर जा जाने की संभावना बन रही है जिससे अनूपपुर वन मंडल के लोगों को राहत मिल सकेगी।

Kolar News

Kolar News 11 April 2022

मंदसौर। तापमान में बढ़ोतरी के साथ ही बीमारी का खतरा बढ़ गया है। लोग मौसमजनीत बीमारी के शिकार हो रहे हैं। शहर सहित पूरे अंचल में लगातार बढ़ रहे पारे से हालात खराब हो रहे हैं। सूरज की लगातार बढ़ रही धमक से पारा भी 41 डिग्री पार पहुंच गया है। दोपहर में चली गर्म हवा के चलते सडकों पर आवाजाही भी कम ही रही। अब मौसम विभाग भी लू की चेतावनी दे रहा हैं। तेज हो रही गर्मी का के चलते पहले ही जिला प्रशासन ने नर्सरी से लेकर कक्षा 12 तक के सभी स्कूलों का समय सुबह 7.30 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक कर दिया था। आंगनबाडियों का समय भी सुबह 11.30 बजे तक कर दिया था। न्यूनतम तापमान भी तेज गति से बढते हुए 22 डिग्री तक पहुंच गया हैं।   तापमापी तेजी से ऊपर जा रहा हैं और अचानक शुरू हुई तेज गर्मी से लोग मौसमजनित बीमारियों सर्दी-जुकाम, उल्टीह-दस्त, बुखार के शिकार हो रहे हैं। जिला अस्पताल की ओपीडी में चिकित्सोकों की कमी के चलते अधिकांश मरीज निजी क्लिनिक में जा रहे हैं। शहर सहित जिलेभर में गर्मी का असर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अप्रैल की शुरूआत से ही दोपहर के तापमान में उछाल आ गया था। इस दौरान पहले भी दो दिन तक पारा 41 डिसे तक पहुंच गया था। 4 व 5 अप्रैल को पारा 41 डिग्री सेंटीग्रेट पर ही टिका रहा। इसके बाद 6, 7 व 8 अप्रैल को पारा फिर 40 डिग्री से अंदर आकर 39 तक पहुंचाप गया था और अब शनिवार को एक बार फिर पारा 41.0 डिसे तक पहुंच गया। अप्रैल माह में रिकार्ड बना रही गर्मी के दौर में बहुत सालों बाद अप्रैल के पहले पखवाड़े में पारा 41 डिग्री के पार पहुंचा हैं। अगर तापमापी की यही रफ्तार रही तो जल्दक ही 42 से 43 डिग्री तक पहुंच जाएगा। इसके साथ ही अब रात का पारा भी बढना शुरु हो गया है। शनिवार को न्यूीनतम पारा भी 20 डिग्री तक पहुंच गया है। शिवना नदी पर बने रामघाट बैराज और कालाभाटा बांध के साथ ही तैलिया तालाब में भरे पानी का वाष्प न भी तेज हो रहा है। अगर गर्मी के यही हाल रहे तो जलस्तर भी तेजी से कम होने लगेगा। तापमान बढने का असर जनजीवन पर भी दिख रहा हैं। बाजार में दोपहर में लोग कम हो रहे हैं। पर अभी त्योअहार होने से बाजारों में गतिविधियां दिख रही हैं। दरअसल त्योहार भी है और आगे जाकर शादियों का सीजन भी शुरू होने वाला हैं। इसके चलते लोग खरीददारी में भी जुटे हैं। गर्मी बढने के साथ ही धूल भरी गर्म हवा की रफ्तार भी 20 किमी प्रतिघंटा दर्ज की गई। इसके साथ ही रात में उमस भरा वातावरण भी रहा।

Kolar News

Kolar News 10 April 2022

सिवनी। जिले के पेंच नेशनल पार्क के कुरई सेंचुरी की बीट रूखड के अंतर्गत आने वाले ग्राम गंडाटोला के वन क्षेत्र में रविवार की अल सुबह बीमार एक वृद्ध बाघ की मौत हो गई है। विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वृद्ध बाघ कुछ दिनों से बीमार था जिसकी देखभाल पेंच प्रबंधन द्वारा की जा रही थी। घटनाक्रम की जानकारी मिलते ही पेंच प्रबंधन के वरिष्ठ अधिकारी सहित अमला रविवार की सुबह गंडाटोला पहुंचे है। और इस मामले में अग्रिम कार्यवाहियां की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 10 April 2022

सिवनी। जिले के जनजातीय कार्य विभाग के सहायक आयुक्त सतेन्द्र सिंह मरकाम ने शनिवार को कार्यों के प्रति लापरवाही बरतने पर कन्या छात्रावास की एक अधीक्षिका एवं आदेशों की अवहेलना करने पर दो प्राथमिक शिक्षकों को निलंबित कर दिया है।   सहायक आयुक्त सतेन्द्र सिंह मरकाम ने बताया कि जनजातीय कार्य विभाग अंतर्गत सीनियर अनुसूचित जाति कन्या छात्रावास केवलारी में पदस्थ अधीक्षका प्रेमलता कुमारी मूल पद प्राथमिक शिक्षक को अपने पद के प्रति उदासीनता एवं लापरवाही बरतने को लेकर मध्यप्रदेश सिविल सेवा वर्गीकरण नियंत्रण तथा अपीलीय नियम 1966 के नियम 9 के प्रावधान अनुसार निलंबित किया गया है। निलंबन अवधि में उनका मुख्यालय विकास खंड अधिकारी छपारा रहेगा।   इसी प्रकार जनजातीय कार्य विभाग अंतर्गत प्राथमिक शिक्षक राजेश कुमार झारिया एवं प्राथमिक शिक्षक राधे श्याम राहंगडाले को शिक्षक विहीन संस्था शासकीय प्राथमिक शाला अमोली में अस्थाई रूप से अध्यापन कार्य करने के आदेश का परिपालन न करने तथा उक्त आदेश को प्राप्त करने से इंकार करने को लेकर दोनों ही प्राथमिक शिक्षक को मध्यप्रदेश सिविल सेवा वर्गीकरण नियंत्रण तथा अपील नियम के निहित प्रावधान अनुसार निलंबित कर दिया है दोनों निलंबित शिक्षकों का मुख्यालय विकास खंड अधिकारी घंसौर नियत किया गया है।

Kolar News

Kolar News 9 April 2022

मंदसौर। मंदसौर इन दिनों लू की चपेट में है। दोपहर में आसमान से आग बरस रही है। तेज गर्म हवाओं से हाल बेहाल हो गया है। तापमान 42 डिग्री से ऊपर पहुंच गया है, जबकि, न्यूनतम तापमान 25 डिग्री है। दोपहर में तीन घंटे तक तापमान 42 के पार रहा। बाकी समय तापमान 41 डिग्री रहा। मौसम विभाग ने प्रदेश के कुछ जिलों के साथ मंदसौर, नीमच, रतलाम में लू का ऑरेंज अलर्ट जारी किया। सूरज तेज आग उगाल रहा है। दोपहर में बाजार पूरी रहत से सुनसान और चौराहों पर सन्नाटा दिखाई दे रहा है। जिले में तापमान 40 से 43 डिग्री के बीच चल रहा है। शनिवार को सुबह 10 बजे से ही तापमान 41 डिग्री के पार पहुंच गया। बाजार में भी छाछ से लेकर आइसक्रीम और शीतल पेय पदार्थों की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। शहर में सुबह से गर्मी का असर तेज रहा। दोपहर में शहर में अधिकतम तापमान एक बार फिर 42 डिग्री से अधिक तक पहुंच गया। पिछले एक सप्ताह से तापमान 40 से 41 डिग्री के बीच बना था। शनिवार को 42 के पार हो गया। आग उगलते सूरज के बीच लोगों का घरों से निकलना दूभर हो रहा। शाम होने के बाद बाजारों में लोग दिखाई देना शुरू होते हैं।

Kolar News

Kolar News 9 April 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 05 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 23 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए हैं। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 10 लाख 41 हजार 188 हो गई है। राहत की बात यह है कि राज्य में लगातार 19वें दिन कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर शाम को जारी कोविड-19 बुलेटिन में दी गई। एक दिन पहले भी यहां 06 नये संक्रमित मिले थे। कोविड-19 बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 8,863 नमूनों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 05 पॉजिटिव और 8,858 निगेटिव पाए गए, जबकि 41 नमूने रिजेक्ट हुए। पॉजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत (संक्रमण की दर) 0.05 रहा। नये मामलों में इंदौर में 2 तथा रतलाम, कटनी और उमरिया में 1-1 नये संक्रमित मिले हैं, जबकि राज्य के 48 जिलों में आज कोरोना के नये मामले शून्य रहे। वहीं, राज्य में बीते 24 घंटों में कोरोना से कोई मौत नहीं हुई है। यहां 19 दिन से मृतकों की कुल संख्या 10,734 पर स्थिर है। प्रदेश में अब तक कुल दो करोड़ 89 लाख 24 हजार 385 लोगों के नमूनों की जांच की गई। इनमें कुल 10,41,188 प्रकरण पॉजिटिव पाए गए। इनमें 10,30,400 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें से 23 मरीज शुक्रवार को स्वस्थ हुए। अब यहां सक्रिय प्रकरणों की संख्या 72 से घटकर 54 रह गई। खुशी की बात यह भी है कि राज्य के 35 जिले पूरी तरह कोरोना संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं। इन जिलों में अब कोरोना का एक भी सक्रिय मरीज नहीं है।   इधर, प्रदेश में 08 अप्रैल को शाम छह बजे तक 48 हजार 386 लोगों का टीकाकरण किया गया। इन्हें मिलाकर राज्य में अब तक वैक्सीन की 11 करोड़, 66 लाख, 22 हजार, 435 डोज लगाई जा चुकी है।

Kolar News

Kolar News 9 April 2022

भोपाल । विख्यात संगीतज्ञ मनीषी कुमार गंधर्व की स्मृति में 8-9 अप्रैल को कुमार गंधर्व सम्मान अलंकरण और संगीत समारोह आयोजित किया जायेगा। यह संस्कृति विभाग की उस्ताद अलाउद्दीन खाँ संगीत एवं कला अकादमी, भोपाल द्वारा जिला प्रशासन देवास के सहयोग से मल्हार स्मृति मंदिर, देवास में प्रतिदिन शाम 7:30 बजे से होगा। समारोह के पहले दिन 8 अप्रैल को राष्ट्रीय कुमार गंधर्व सम्मान से कलाकारों को अलंकृत किया जायेगा।   जनसंपर्क अधिकारी अनुराग उइके ने गुरुवार को बताया कि इस समारोह के पहले दिन की शुरुआत दिल्ली की राष्ट्रीय कुमार गंधर्व सम्मान से अलंकृत मीता पण्डित के गायन से होगी। इसके बाद कोलकाता की बिम्बावती देवी और साथी मणिपुरी समूह नृत्य प्रस्तुत करेंगे। समारोह के दूसरे और अंतिम दिन सभा की शुरूआत पुणे के अतुल खाण्डेकर के गायन से होगी। शाम की दूसरी प्रस्तुति राष्ट्रीय कुमार गंधर्व सम्मान से अलंकृत सुचिस्मिता आचार्य एवं देवोप्रिया रणदिवे-ठाणे के बाँसुरी युगल की होगी। दोनों दिनों की संगीत सभाओं में सहयोगी कलाकार के रूप में तबले पर मिथलेश कुमार झा, गांधार राजहस, रागेन्द्र सिंह सोलंकी, हारमोनियम पर रवि किल्लेदार, दीपक खसरवाल एवं सारंगी पर कमाल अहमद संगत करेंगे।

Kolar News

Kolar News 7 April 2022

रतलाम। पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल के रतलाम स्टेशन से होते हुए बान्द्रा टर्मिनस अनवरगंज बान्द्रा टर्मिनस सुपरफास्ट स्पेशल एक्सप्रेस का परिचालन स्पेशल किराये के साथ किया जाएगा। ग्रीष्मकालीन छुट्टियों के दौरान गाड़ियों में यात्रियों की अतिरिक्त भीड़ को देखते हुए पश्चिम रेलवे द्वारा रतलाम मंडल से होते हुए गाड़ी संख्या 09191/09192 बान्द्रा टर्मिनस कानपुर अनवरगंज बान्द्रा टर्मिनस सुपरफास्ट स्पेशल एक्सप्रेस के 20 फेरों का परिचालन किया जाना है। नए शेड्यूल के अनुसार गाड़ी संख्या 09191 बान्द्रा टर्मिनस कानपुर अनवरगंज स्पेशल एक्सप्रेस,14 अप्रैल से 16 जून तक बान्द्रा टर्मिनस से प्रति गुरूवार को 04.55 बजे चलकर रतलाम मंडल के रतलाम जंक्शन (14.15/14.25) होते हुए शुक्रवार को 07.00 बजे कानपुर अनवरगंज पहुँचेगी। इसी प्रकार गाड़ी संख्या 09192 कानपुर अनवरगंज बान्द्रा टर्मिनस स्पेशल एक्सप्रेस,15 अप्रैल से 17 जून तक कानपुर अनवरगंज से प्रति शुक्रवार को 08.40 बजे चलकर रतलाम मंडल के रतलाम जंक्शन(01.40/01.45 शनिवार) होते हुए शनिवार को 11.55 बजे बान्द्रा टर्मिनस पहुँचेगी। इस ट्रेन का दोनों दिशाओं में बोरीवली, वापी, सूरत, वडोदरा, रतलाम, शामगढ़, भवानीमंडी, कोटा, गंगापुर सिटी, हिंडौन सिटी, भरतपुर,भरतपुर, अछनेरा, मथुरा, कासगंज एवं फारुखाबाद स्?टेशनों पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में 20 सामान्य श्रेणी के कोच रहेंगे।

Kolar News

Kolar News 7 April 2022

उज्जैन।प्रदेशभर सहित उज्जैन में भी पारा करीब 40 डिसे पर लगातार बनने रहने तथा लू चलने के कारण कलेक्टर ने जिले में सरकारी/प्रायवेट स्कूलों का समय बदल दिया है। गुरुवार से सभी स्कूल प्रात: 7 से दोपहर 12 बजे तक संचालित होंगे। आंगनबाडिय़ों का समय प्रात: साढ़े 8 से साढ़े 11 बजे तक रहेगा। सरकारी स्कूलों में चल रही वार्षिक परीक्षाएं भी इसी दौरान होंगी। परीक्षाओं के समय परिवर्तन को लेकर संबंधित प्राचार्य विद्यार्थियों को सूचना देंगे। जिला शिक्षाधिकारी आनंद शर्मा ने बुधवार को बताया कि समय परिवर्तन करने की अनुशंसा का पत्र कलेक्टर को भेजा दिया था। ज्ञात रहे जिला शिक्षाधिकारी की अनुशंसा के पत्र के आधार पर ही कलेक्टर आदेश जारी करते हैं।

Kolar News

Kolar News 6 April 2022

भोपाल। मध्यप्रदेश के मौसम को प्रभावित करने वाली कोई भी मौसम प्रणाली वर्तमान में मौजूद नहीं है और हवा का रुख भी पश्चिमी बना हुआ है। वहीं, पड़ोसी राज्य राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र में एक बार फिर तपिश बढ़ गई है। वहां से आ रही गर्म हवाओं के असर से राजधानी भोपाल सहित पूरे मध्यप्रदेश में गर्मी बढ़ने लगी हैं। राजधानी भोपाल में धूप के तेवर का अंदाज इस बात से ही लगाया जा सकता है कि सुबह साढ़े आठ बजे ही तापमान 31 डिग्री पर पहुंच गया था। राजधानी भोपाल में सोमवार को अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, जो सामान्य से चार डिग्री सेल्सियस अधिक था। वहीं, मौसम विज्ञानियों के मुताबिक मंगलवार को सुबह साढ़े आठ बजे ही पारा 31 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया था। मंगलवार को राजधानी में दिन का तापमान 41 डिग्री सेल्सियस के ऊपर निकल जाने की आशंका जताई जा रही है। मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ विज्ञानी पीके साहा के अनुसार मंगलवार को राजधानी का न्यूनतम तापमान 20.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से 0.5 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। साथ ही यह सोमवार के न्यूनतम तापमान 20.2 डिग्री सेल्सियस के मुकाबले 0.3 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा। सोमवार को अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया था, जो सामान्य से चार डिग्री सेल्सियस अधिक रहा था। साथ ही यह रविवार के अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस के बराबर ही रहा था।

Kolar News

Kolar News 5 April 2022

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। सोमवार को प्रदेश में सात शहरों में अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि 13 शहर लू के हालात रहे। मौसम विभाग का कहना है कि प्रदेश में भी भीषण गर्मी से राहत मिलने की कोई उम्मीद नहीं है। आने वाले दिनों में दिनों में तापमान में इजाफा होने की संभावना है।   भोपाल मौसम केन्द्र से मिली जानकारी के अनुसार, सोमवार को प्रदेश में सबसे अधिक तापमान खजुराहो, नर्मदापुरम, राजगढ़, दमोह, खंडवा, खरगोन एवं दमोह में 43 डिग्री दर्ज किया गया। इसके साथ ही छिंदवाड़ा, रीवा, सीधी, गुना, राजगढ़, दमोह, खजुराहो, नौगांव, सागर, सतना, रतलाम, जबलपुर एवं ग्वालियर में गर्म हवाएं चलने से लू के हालात बने रहे।   वरिष्ठ मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि सोमवार को राजधानी का अधिकतम तापमान 40.6 डिग्रीसे. दर्ज किया गया, जो सामान्य से चार डिग्री अधिक रहा। रविवार को भी अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री से. पर ही था। न्यूनतम तापमान 20.2 डिग्री से. रिकार्ड किया गया, जो सामान्य रहा। यह रविवार के न्यूनतम तापमान 20.8 डिग्री से. की तुलना में 0.6 डिग्री से. कम रहा।   साहा ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के असर से राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र में तपिश कुछ कम हो गई थी। इस वजह से मध्य प्रदेश में भी दिन के तापमान में मामूली कमी दर्ज की गई थी। अभी दो–तीन दिन तक अधिकतम तापमान में विशेष परिवर्तन होने की संभावना कम ही है।   मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि प्रदेश में मौसम का मिजाज अभी इसी तरह बना रहने की संभावना है। गुजरात, राजस्थान में तपिश बढ़ने के बाद मध्य प्रदेश में भी दिन के तापमान में और बढ़ोतरी होगी। हालांकि जिन शहरों में लू की स्थिति हैं, वहां राहत मिलने के आसार नहीं हैं।   चार महानगरों का तापमान मप्र के चार महानगरों में सोमवार को भोपाल में अधिकतम तापमान 40.6 और न्यूनतम तापमान 20.2 डिग्री दर्ज किया गया। इसी प्रकार इंदौर में 39.5 और 22.5 जबलपुर में 41.0 और 23.3 तथा ग्वालियर में अधिकतम तापमान 41.0 तथा न्यूनतम तापमान 18.6 डिग्री सेल्सियस रहा।

Kolar News

Kolar News 5 April 2022

उज्जैन। शिप्रा नदी को पुन: प्रवाहमान बनाने के लिए उसकी सहायक नदी चंद्रभागा को पुनर्जीवित करने हेतु सैकड़ों ग्रामीण आगे आए हैं। सोमवार से ग्रामीणों ने श्रमदान शुरू कर दिया है। यह श्रमदान 15 दिनों तक चलेगा। इस कार्य में करीब 150 ग्रामीण जुट गए हैं। शिप्रा नदी संरक्षण अभियान के तहत सोमतीर्थ क्लस्टर के प्रभारी पुष्पेंद्र शर्मा ने बताया कि शिप्रा नदी को पुन: प्रवाहमान बनाने के लिए जल संरक्षण अन्तर्गत सोमवार से ग्रामीणों ने सहायक नदी चंद्रभागा के उद्गम स्थल मोहनपुरा, बडऩगर मार्ग पर श्रमदान अभियान शुरू किया। क्षेत्र के ग्रामीणों ने संकल्प लिया कि उक्त नदी को पुनर्जीवित करेंगे ताकि शिप्रा नदी पुन: प्रवाहमान बन सके। अभी उक्त नदी एक बरसाती नाले के रूप में है। जोकि सोमतीर्थ के समीप जाकर शिप्रा नदी में मिलता है। श्रमदान पश्चात नदी अपना मूल स्वरूप ले लेगी। 90 वर्षीय वृद्धा बोली: मैरे सामने यह नदी उफना करती थी श्रमदान करने आए ग्रामीणों में 90 वर्षीय सूरजबाई पटेल भी थी। उन्होंने बताया कि बचपन से जवानी के बीच उन्होंने स्वयं इस नदी को अपने मूल स्वरूप में उफनते हुए देखा था। बाद में यह बरसाती नाला बनकर रह गई। सूरजबाई ने भी श्रमदान किया।

Kolar News

Kolar News 4 April 2022

मुरैना। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मामा का बुलडोजर सोमवार को मुरैना में भी चल गया। रिठौरा थाना क्षेत्र के ग्राम बस्तपुर में बड़ी संख्या में पहुंची पुलिस ने अवैध शराब की फैक्ट्री संचालित करने वाले आरोपित के नवनिर्मित मकान को जेसीबी से ध्वस्त कर दिया। हाल ही में बस्तपुर निवासी आदतन अपराधी धर्मवीर गुर्जर द्वारा निर्मित की जा रही अवैध शराब की फैक्ट्री को पुलिस ने पकड़ा था। इसके विरुद्ध हत्या तथा दलित उत्पीडऩ सहित अवैध शराब का निर्माण व विक्रय करने के आधा दर्जन मामले दर्ज हैं।   अवैध शराब फैक्ट्री पकड़े जाने के बाद से ही यह फरार बना हुआ है। इसके द्वारा बस्तपुर गांव में एक नवीन भवन का निर्माण किया जा रहा था। पुलिस द्वारा जांच पड़ताल के बाद यह पाया कि उक्त भवन की अनुमति ग्राम पंचायत से नहीं ली गई है। वहीं अपराध को लेकर फरार होने के कारण पुलिस ने मकान को जेसीबी से तुड़वा दिया।

Kolar News

Kolar News 4 April 2022

(प्रवीण कक्‍कड़) चैत्र नवरात्रि प्रारंभ हो गईं हैं। घर-घर में माता की पूजा चल रही है। इसके साथ ही चैत्र शुक्‍ल प्रतिपदा को भारतीय नव वर्ष भी शुरू हो गया है। शास्‍त्रोक्‍त तरीके से देखें तो भारत में वर्ष के लिए संवत शब्‍द बहुत पहले से प्रचलित है। हमारा यह नया वर्ष विक्रम संवत पर आधारित है। आजकल हम अपने इस्‍तेमाल के लिए जिस ग्रेगेरियन या सरल भाषा में कहें तो अंग्रेजी कलैंडर का प्रयोग करते हैं, उसकी तुलना में हमारा संवत्‍सर 57 साल पुराना है। यह सिर्फ हमारी प्राचीनता का द्योतक ही नहीं है, बल्कि यह भी बताता है कि खगोलीय गणनाओं, पृथ्‍वी की परिक्रमा, चंद्र और सूर्य की कलाओं और परिक्रमण की सटीक गणना भी हम बाकी संसार से बहुत पहले से न भी सही तो साथ-साथ जरूर कर रहे हैं। इतिहास के पन्‍ने पलटें तो पता चलता है कि विक्रम संवत सिर्फ एक कैलेंडर नहीं है, बल्कि इतिहास के माथे पर भारत की विजयश्री का तिलक भी है। भविष्‍यत पुराण के अनुसार महाराजा विक्रमादित्‍य परमार राजवंश के राजा गंधर्वसेन के पुत्र थे। उज्‍जैन के महाराजा विक्रमादित्‍य ने उज्‍जैन से शकों को पराजित कर व