Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782
Advertisement

समाज

स्वामी विवेकानंद कैरियर मार्गदर्शन योजना में रीवा के शासकीय रणमत सिंह महाविद्यालय (टीआरएस) में गुरुवार को रोजगार मेले में पीजी एवं यूजी अंतिम वर्ष के 284 विद्यार्थियों का प्राथमिक स्तर पर चयन किया गया है। मेले में शामिल मारूति सुजुकी गुड़गाँव, गूगल पे, पेटीएम, बजाज एलायंस, एलआईसी एवं आईसीसीआई प्रोडेंशियल जैसी कंपनियों ने दस्तावेज एवं कॉउंसलिंग के आधार पर इन विद्याथिर्यों का चयन किया है। सभी चयनित विद्यार्थियों को एक सप्ताह के भीतर कंपनी के हेडक्वार्टर बुलाया जाएगा। जहाँ उनके साक्षात्कार एवं कॉउंसलिंग के बाद दस्तावेजों का वैरीफिकेशन होगा। इसके बाद अंतिम रूप से चयनित युवाओं को ऑफर लेटर प्रदान किये जायेंगे। महाविद्यालय में एक काउंसिलंग स्टॉल भी लगाया गया, जहाँ विशेषज्ञों द्वारा मेले में शामिल होने वाले विद्यार्थियों की शैक्षणिक पृष्ठभूमि एवं संकाय के आधार पर कॅरियर मार्गदर्शन किया गया। रोजगार मेले में कुल 653 विद्यार्थियों ने पंजीयन कराया। मेले में कुल 13 कंपनियां शामिल हुई। कंपनी के अधिकारियों द्वारा विद्यार्थियों के प्राथमिक साक्षात्कार एवं दस्तावेजों के आधार पर उनका चयन किया गया। चयनित विद्यार्थियों को फील्ड ऑफीसर, ट्रेनी एवं सेल्स रिप्रेजेंटेटिव आदि का जॉब प्रदान किया जाएगा। इनका वेतन 12 हजार से 21 हजार प्रतिमाह रहेगा।    

Kolar News

Kolar News 25 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि लोक धन के अपव्यय को रोकने संबंधी व्यवस्थाओं के अनुपालन में और सभी प्रकार के वित्तीय लेन-देन की पारदर्शिता सुनिश्चित कराने में लेखा परीक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका है। लेखा परीक्षा विभाग का 160 वर्षों का समृद्ध और गौरवशाली इतिहास है। राज्यपाल पटेल ने शुक्रवार को लेखा परीक्षा सप्ताह के समापन समारोह को वर्चुअली संबोधित किया। राज्यपाल पटेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने लेखा परीक्षा विभाग के गौरवशाली इतिहास के सम्मान में गत वर्ष से 16 नवम्बर को लेखा परीक्षा दिवस के रूप में मनाने की पहल की है। राज्यपाल पटेल ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था की प्रमुख विशेषता विधायिका सहित उसके सभी प्रमुख अंगों में सामंजस्य बनाए रखना है। लेखा परीक्षा विभाग द्वारा संसद और राज्य विधान सभाओं के लिए सरकार और अन्य सार्वजनिक प्राधिकरण की सार्वजनिक धन के व्यय सम्बन्धी जवाबदारी तय करने और इस सम्बन्ध में जानकारी जन-साधारण को उपलब्ध कराने के महत्वपूर्ण और चुनौतीपूर्ण दायित्व का निर्वहन किया जाता है। वास्तव में लेखा परीक्षा विधायिका के प्रति प्रशासन की जवाबदेही लागू करने का उपकरण होकर वित्तीय प्रशासन पर विधायी नियंत्रण का महत्वपूर्ण साधन है।     राज्यपाल पटेल ने कहा कि ऑडिट के कठोर मानकों का पालन अधिक सावधानी के साथ किया जाना चाहिए, जिससे ऑडिट के दौरान नुकसान के अनुमानों अथवा बाहरी आंकड़ों के कारण ऑडिट की अखंडता प्रभावित नहीं हो। राज्यपाल पटेल ने कहा कि लेखा परीक्षा और लेखा विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा अपने दायित्वों का सफल निर्वहन, संवैधानिक कर्त्तव्यों और सौंपी गयी जिम्मेदारियों को हमेशा सचेत रहते हुए पूर्ण निष्ठा के साथ पालन करना ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय संसाधनों का उपयोग गरीबों और ज़रूरतमंदों के हित में प्रभावी ढंग से सुनिश्चित करने में लेखा परीक्षा के अधिकारी-कर्मचारियों की महती भूमिका है। राज्यपाल पटेल ने कहा कि अधिकारी-कर्मचारी सबसे निर्धन लोगों की सेवा करने और उनके चेहरों पर मुस्कान लाने के लिए पारस्परिक सहानुभूति से भरपूर सोच के साथ कार्य करें। उन्होंने लेखा परीक्षा के अधिकारी-कर्मचारियों को बधाई देते हुए कहा कि उनका सहयोग विकास की वर्तमान गति को और तेज करने, समाज के वंचित वर्गों के कल्याण और राष्ट्र-निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान होगा।  

Kolar News

Kolar News 25 November 2022

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अनुपम राजन ने आज मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2023 को लेकर जिलों में चल रही गतिविधियों की समीक्षा की। उन्होंने ईपी रेसियो, जेंडर रेसियो सहित ब्लैक एंड व्हाइट फोटो को कलर में बदलने को लेकर चर्चा की। वीडियो कांफ्रेंस से हुई समीक्षा बैठक में सभी जिलों के उप जिला निर्वाचन अधिकारी सम्मिलित हुए। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राजन ने कहा कि जिन जिलों में 18-19 साल आयु के नए मतदाताओं के आवेदन कम मिले हैं वहाँ विशेष प्रयास किए जाएँ। उन्होंने कहा कि जहाँ पुरुष मतदाताओं की तुलना में महिला मतदाताओं की संख्या कम है, ऐसे जिलों में जेंडर रेसियो बढ़ाने के लिए आँगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ता की मदद ली जाए। यदि लक्ष्य के अनुरूप नए मतदाताओं का नाम सूची में जोड़ने के आवेदन नहीं आ रहे हैं तो ऐसी स्थिति में बीएलओ घर-घर जाकर आवेदन लें। मिलने वाले फॉर्मों को उसी दिन गरुड़ा एप के माध्यम से अपलोड करें। साथ ही उन्होंने उप जिला निर्वाचन अधिकारियों को लगातार निरीक्षण करने के निर्देश दिए। 18-19 वर्ष के सभी युवा मतदाताओं का नाम सूची में जोड़ने के लिए कॉलेजों में शिविर लगाए जाएँ। 17 साल से अधिक उम्र के युवा भी सूची में अपना नाम जुड़वाने का आवेदन अग्रिम रूप से दे सकते हैं, इसके लिए अभियान चला कर जागरूकता कार्यक्रम चलाया जाए। प्रदेश में 9 नवंबर से मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2023 का शुभारंभ हुआ है। इसमें 8 दिसंबर तक आवेदन लिए जाएंगे। प्राप्त हुए आवेदनों का 26 दिसंबर तक निराकरण किया जाएगा। इसके बाद 5 जनवरी 2023 को अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन किया जाएगा।  

Kolar News

Kolar News 25 November 2022

स्कूल शिक्षा विभाग के सातवें राज्य स्तरीय कला उत्सव में आज भोपाल में लोक नृत्य, लोक गीत एवं चित्रकला, मूर्तिकला और खेल-खिलौने की प्रतियोगिताएँ दूसरे दिन भी जारी रही। सीधी की श्वेता साहू द्वारा प्रस्तुत बधाई नृत्य ने सभी दर्शकों का मन मोह लिया। इसी श्रंखला में शहडोल के शिवम ने बैगा जनजाति का लोक नृत्य प्रस्तुत किया। पूर्वी कुलकर्णी ने सितार वादन किया। भुमि शर्मा के मालवी लोकगीत 'प्यारो लागे मारो मालवा देश' ने सभी दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। कला उत्सव में मध्यप्रदेश के प्रतिभागियों ने कला, संस्कृति के मंच पर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। संयुक्त संचालक श्री अरविंद चोरगढ़ी द्वारा सभी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। शास्त्रीय गायन एकल वर्ग में जबलपुर के मोहित परोहा ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। बालिका वर्ग में रीवा संभाग की राखी द्विवेदी प्रथम रही। सितार वादन में उर्वी कुलकर्णी प्रथम रही और तबला वादन में आस्था घाटके ने प्रथम स्थान प्राप्त किया।   लोक नृत्य में शहडोल के शिवम, सीधी की श्वेता साहू एवं तबला वादन में समर शर्मा ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। शास्त्रीय नृत्य में बालिका वर्ग में अधीरा पीवी प्रथम रही। खेल-खिलौने विधा में जबलपुर संभाग के दिनेश विश्वकर्मा प्रथम स्थान पर रहे, वही रिमझिम दत्ता ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। चित्रकला में उत्कृष्ट विद्यालय उज्जैन की छात्रा आध्या द्विवेदी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। एकल अभिनय में जबलपुर संभाग के आनंद कौरव एवं बालिका वर्ग में भोपाल संभाग की नम्रता श्याम प्रथम रही। 2 दिन चली इन प्रतियोगिताओं में प्रथम स्थान पर चयनित सभी 20 प्रतिभागी माह जनवरी 2023 में एनसीईआरटी दिल्ली द्वारा आयोजित राष्ट्रीय कला उत्सव में सहभागिता करेंगे।   मूर्तिकला चित्रकला एवं खिलौने विधा में कई बच्चों ने मध्यप्रदेश के लकड़ी के खिलौने, अलीराजपुर झाबुआ की गुड्डे-गुड़िया, मंडला की गोंड चित्रकला एवं निमाड़ की सांझी पुली सहित कई लोक कलाओं की प्रस्तुति दी। मध्यप्रदेश के स्थानीय खेल-खिलौने विधा में सभी बच्चों ने बचपन में खेले गए खेलों में उपयोग की गई खिलौना गाड़ी, घोड़ा गाड़ी बना कर अपनी कला का प्रदर्शन किया। प्रोफेसर भावसार ने सभी बच्चों को मूर्तिकला एवं चित्रकला के बारे में बारीकी से समझाया और यह बताया कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में लोक कलाओं एवं प्रदर्शनकारी कलाओं पर महत्व दिया गया है। आगामी वर्षों में पाठ्यक्रम में इन कलाओं को स्थान दिया जाएगा। कला उत्सव से किसी भी प्रदेश की विलुप्त होती कलाओं को मंच दिया जाता है, साथ ही उस प्रदेश के बहुरंगी लोक नृत्य, लोक कलाएँ और ऐसी कला जो अब प्रचलन में नहीं है उनको मंच दिया जाता है। पिछले कई वर्ष से इस क्रम में मध्यप्रदेश के विद्यार्थी अपनी कलाओं का प्रदर्शन कर रहे हैं। सभी अतिथियों का आभार माना गया। संयुक्त संचालक लोक शिक्षण द्वारा जनवरी माह में भुवनेश्वर में होने वाली राष्ट्रीय कला उत्सव के लिए सभी प्रतिभागियों को शुभकामनाएँ दी।

Kolar News

Kolar News 24 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि सेवा का काम ईश्वर का प्रसाद पाने का सबसे प्रभावी माध्यम है। उन्होंने सक्रिय नि:क्षय मित्रों का सार्वजानिक सम्मान करने की जरूरत बताई। टी.बी एसोसिएशन को राजभवन की ओर से एक लाख रूपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए। राज्यपाल पटेल आज राजभवन में टी.बी एसोसिएशन भोपाल की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने टी.बी सील अभियान में अंशदान भी दिया। राज्यपाल पटेल ने कहा है कि टी.बी के नियंत्रण के लिए रोग के कारण, रोकथाम के उपाय और सावधानियों के संबंध में व्यापक स्तर पर जन-जागरूकता का प्रसार जरूरी है। उन्होंने कहा कि स्कूलों में रोग के संबंध में जानकारी के पर्चे वितरित किए जाने चाहिए। रोगियों को नियमित उपचार के लिए प्रेरणा देने उपचारित व्यक्तियों के साथ संवाद के कार्यक्रम भी किए जाए। मादक पदार्थों का सेवन नहीं करने के लिए समझाइश और प्रेरणा देने के कार्य भी जरूरी हैं। राज्यपाल श्री पटेल ने स्वास्थ्य शिविर लगाने और दो-तीन दिन पूर्व से ही शिविर के समय और स्थान का प्रचार कराए जाने के निर्देश दिए।   राज्यपाल पटेल ने अभियान के लिए क्षेत्रीय जन-प्रतिनिधियों से आर्थिक सहयोग प्राप्त करने की पहल के लिए कहा। उन्होंने विशिष्ट व्यक्तियों को शामिल कर जागरूकता कार्यक्रम करने, रोग नियंत्रण प्रयासों में उत्कृष्ट कार्य करने और सहयोग देने वालों के सम्मान कार्यक्रम की जरूरत बताई। टी.बी एसोसिएशन भोपाल के चेयरमेन जयपाल सचदेव ने समिति के सदस्यों के सहयोग से किए जा रहे कार्यों की जानकारी देते हुए स्वागत उद्धबोधन दिया। मानसेवी सचिव डॉ. मनोज वर्मा ने एसोसिएशन की गतिविधियों का विवरण देते हुए बताया कि स्कूलों में जागरूकता के लिए सघन स्तर पर स्कूल शिक्षा विभाग के साथ समन्वय से कार्यक्रम किया गया है। जागरूकता रैली, प्रदर्शनी, स्वास्थ्य परीक्षण, औषधि वितरण और वृक्षारोपण के कार्यक्रम किए गए हैं। सर्वधर्म समिति की बैठक भी की गई है।  

Kolar News

Kolar News 24 November 2022

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा अपने उपभोक्ताओं को उनकी माँग पर ग्रीन एनर्जी उपलब्ध कराई जा रही है और प्रतिमाह उपभोक्ताओं को इसका प्रमाण-पत्र भी दिया जा रहा है। मध्यप्रदेश विद्युत नियामक आयोग ने चालू वर्ष में उपभोक्ताओं की माँग पर उन्हें ग्रीन एनर्जी प्रदान करने के लिए टैरिफ में प्रावधान किया है। इसी तारतम्य में कंपनी द्वारा औद्योगिक विकास केन्द्र मालनपुर में मेसर्स मांडलेज फूड इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को उनकी माँग पर ग्रीन एनर्जी उपलब्ध कराई जा रही है। ग्रीन एनर्जी को बढ़ावा देकर कार्बन फुटप्रिंट कम करने के उद्देश्य से औद्योगिक संस्थानों द्वारा ग्रीन एनर्जी की माँग दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसी तारतम्य में मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी माँग के अनुरूप ग्रीन एनर्जी उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न औद्योगिक इकाइयों को प्रोत्साहित कर रही है। म.प्र. विद्युत नियामक आयोग के टेरिफ प्रावधान से एक ओर जहाँ ग्रीन एनर्जी उपलब्ध कराई जा रही है वहीं दूसरी ओर पर्यावरण की दृष्टि से कार्बन फुटप्रिंट को कम किया जा रहा है तथा उपभोक्ता को इससे लाभ हो रहा है।  

Kolar News

Kolar News 24 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने नरसिहंपुर जिले के ग्राम गोरखपुर में शासकीय सीनियर जनजातीय बालक छात्रावास का अवलोकन किया और छात्रों से स्नेहपूर्वक संवाद किया। उन्होंने छात्रों को किताब और खेलकूद सामग्री वितरित की। राज्यपाल ने शयन कक्ष, लायब्रेरी और रसोई कक्ष का अवलोकन किया। उन्होंने भोजन की गुणवत्ता के बारे में जानकारी ली। छात्रों से सामान्य ज्ञान और स्थानीय जन-प्रतिनिधियों से संबंधित प्रश्न पूछे। राज्यपाल पटेल ने लायब्रेरी में रखी "भारत रत्न" पुस्तक कक्षा 9 वीं के छात्रों से पढ़वाई और छात्रों से कहा कि लायब्रेरी में दिन में कम से कम आधा घंटा जरूर पढ़ना चाहिये। इससे ज्ञान बढ़ता है। छात्रों को अपने देश पर सर्वस्व न्यौछावर करने वाले महान व्यक्तियों के बारे में जानकारी होनी चाहिये।     राज्यपाल पटेल ने ग्राम गोरखपुर में 60 लाख रूपये लागत के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के अतिरिक्त कक्ष के नवीन भवन का लोकार्पण किया।राज्यपाल पटेल ने स्कूली बच्चों से आत्मीय संवाद किया। उन्होंने कक्षा 11 वीं के छात्र अनिल गौड़ एवं अंकित राय से स्कूल में मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने बच्चों से कहा कि वे अपने माता-पिता का सदैव सम्मान करें और उनका ध्यान रखें। राज्यपाल पटेल ने नवीन स्कूल भवन में केमिस्ट्री एवं बायोलॉजी की प्रयोग शाला और अटल टिंकरिंग लैब का निरीक्षण किया और छात्र- छात्राओं से विभिन्न प्रयोगों के बारे में जानकारी ली। राज्यपाल पटेल ने स्कूल परिसर में आम का पौधा रोपा। विधायक जालम सिंह पटैल, जिला पंचायत अध्यक्ष ज्योति काकोड़िया, अन्य जन-प्रतिनिधि ने भी पौध-रोपण किया।     राज्यपाल टेल नरसिंहपुर जिले के ग्राम गोरखपुर में सिकल सेल एनीमिया स्वास्थ्य शिविर में लोगों से रू-ब-रू हुए और मरीजों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली। उन्होंने बच्चों से स्नेहपूर्वक बात की और उनकी माताओं से जानकारी ली। राज्यपाल पटेल ने मोहल्लों में स्वास्थ्य शिविर लगाने और आयुष्मान भारत योजना का लाभ पात्र व्यक्तियों को दिलाने के निर्देश दिये। राज्यपाल पटेल ने कहा है कि सिकल सेल रोग से पीड़ितों के बच्चों की भी जाँच कर उनका समुचित इलाज कराया जाए। उन्होंने बच्चों को अनिवार्य रूप से स्कूल भेजने के लिये ग्रामीणों को प्रेरित किया। राज्यपाल पटेल ने यश मेहरा को दिव्यांगता प्रमाण-पत्र और गंगोत्री बाई एवं रामप्यारी ठाकुर को टीबी चैम्पियन प्रमाण पत्र प्रदान किये। उन्होंने हितग्राही महिला को फूड बॉस्केट भी प्रदान किया। राज्यपाल पटेल ने कहा कि प्रोटीनयुक्त पोषण आहार और दवाइयाँ नियमित रूप से जरूर लें। उन्होंने प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान में पोस्टर पर हस्ताक्षर किये।  

Kolar News

Kolar News 23 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की विशेष उपस्थिति में इन्दौर में एमएसएमई एवं स्टार्ट अप्स को सशक्तिकरण प्रदान करने के लिए विभिन्न सेक्टर की 10 संस्थाओं से समझौता एमओयू हुए। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग द्वारा ब्रिलिएंट कन्वेंशन सेंटर इंदौर में आयोजित हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री चौहान थे। एमओयू हस्ताक्षर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश उन्नति के पथ पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। प्रदेश के ग्रामीण युवा भी स्टार्टअप के क्षेत्र आगे आ रहे हैं। प्रदेश सरकार इन युवा को हर संभव सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार दृढ इच्छाशक्ति और प्रतिबद्वता के साथ युवाओं को स्टॉर्टअप के क्षेत्र में स्थापित करने के लिए काम कर रही है। मुख्यमंत्री ने आईडीए अध्यक्ष से स्टार्टअप को बल देने के लिए 15 दिवस के भीतर इन्दौर में सर्वसुविधायुक्त कार्यालय स्थापित करने के निर्देश दिए। उन्होंने युवाओं से कहा कि वे अपने टैलेंट का प्रकटीकरण करें। स्टॉर्टअप को पूंजी से लेकर प्रशिक्षण और मेन पावर की उपलब्धता के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने युवा स्टार्टअप्स की समस्याओं का समाधान एक फोन और ईमेल पर करने की व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा।     सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम एवं विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने कहा कि प्रदेश के युवा सशक्त उद्यमी बनाने तथा प्रदेश में कुशल मानव संसाधन की उपलब्धता हेतु विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। रोजगार दिवस एवं विभिन्न स्व-रोजगार योजनाओं से युवाओं को आत्मनिर्भर बनाये जाने के प्रयास हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि रोजगार के व्यापक अवसरों की सुलभता के लिए आगामी 4 माह में प्रदेश के 42 जिलों में 100 से ज्यादा क्लस्टर बनाए जाएंगे। प्रदेश सरकार युवा स्टॉटअप्स को बैकवर्ड एवं फॉरवर्ड लिंकेज से सहयोग के प्रयास कर रही है। रोजगार दिवस के माध्यम से अभी तक प्रदेश में 14 लाख 73 हजार हितग्राहियों को स्व-रोजगार योजनाओं में ऋण प्रदान किये गए हैं।   मंत्री सखलेचा ने कहा कि राज्य सरकार की नीतियों से प्रदेश में बने अनुकूल वातावरण का लाभ उठाते हुए एक बेहतर इकोसिस्टम निर्मित किया जाना है। इसी तारतम्य में एमएसएमई तथा स्टार्टअप को सक्षम बनाने के लिए आज देश की अग्रणी संस्थाओं के साथ एमओयू निष्पादन का यह कार्यक्रम किया गया है। प्रथम सत्र में ओएनडीसी नेटवर्क पर संबंधित बाजार सहयोगियों, स्टार्टअप एवं एमएसएमई को शामिल करने एवं उसका लाभ की जानकारी देने के लिये कार्यशाला में परिचर्चा हुई। कार्यशाला में उद्यमियों की जिज्ञासाओं का विशेषज्ञों ने समाधन किया। स्वागत उदबोधन सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग के सचिव पी. नरहरि ने दिया।       आज हुए एमओयू से प्रदेश की एमएसएमई तथा स्टार्टअप को अनेक लाभ और सहयोग प्राप्त होंगे। मुख्य रूप से अकादमिक संस्थाओं एवं इनक्यूबेशन सेंटर के लिए क्षमता निर्माण, प्रशिक्षण के हैंड होल्डिंग कार्यक्रम, विभिन्न सरकारी योजनाओं में वित्त पोषण के लिए आवेदन प्रक्रिया का मार्गदर्शन, विभाग के साथ इनोवेशन लैब/हब जैसी नई पहल स्थापित करने के लिए सहायता दी। स्टार्टअप्स को मार्केट लिंकेज और बिजनेस डेवलपमेंट के अवसर, टेक्नोलॉजी और कम्युनिटी डेवलपमेंट में सहायता, नीतिगत परामर्श में सहयोग, क्लस्टर विकास में सहयोग, स्टार्टअप के विशिष्ट आवश्यकता के अनुरूप विभिन्न बैंकिंग समाधान, स्टार्टअप्स को विकास और विजिबिलिटी के लिए स्मार्ट बॉय प्लेटफार्म पर सूचीबद्ध करने में, ट्रेड्स प्लेटफार्म और अन्य आपूर्ति श्रंखला (सप्लाय चेन), वित्त समाधानों के बारे में जागरूकता, लघु उद्योगों और स्टार्टअप को विलंबित भुगतान से राहत का माध्यम, राज्य के स्टार्टअप्स की सफलता की कहानियों का प्रकाशन, यूएई में निवेश के अवसरों, व्यापार और वाणिज्य की प्रासंगिक जानकारी, बाजार तक पहुँच और स्टार्टअप्स को फंडिंग के लिए पिचिंग की सुविधा आदि लाभ और सहयोग मिलेंगे।  

Kolar News

Kolar News 23 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रवासी भारतीय दिवस और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में आने वाले अतिथियों का स्वागत हम पलक-पावड़े बिछा कर करेंगे। दोनों आयोजन मध्यप्रदेश और इंदौर की ब्रांडिंग के उम्दा अवसर बनेंगे। हम परिवार-भाव से सभी का स्वागत और अभिनन्दन करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान आज इंदौर में प्रवासी भारतीय दिवस और जीआईएस के आयोजनों की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। आयुक्त नगर निगम प्रतिभा पाल ने की गई व्यवस्थाओं और योजना की जानकारी दी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि समूचे आयोजन में इंदौर के नागरिकों की सक्रिय सहभागिता और जन-प्रतिनिधियों के समन्वय से हम इसे एक अविस्मरणीय आयोजन बनाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस अवसर पर मध्यप्रदेश की विशेषताओं को प्रमुखता से उजागर किया जाये। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने स्मारिका के प्रकाशन का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि "एक जिला-एक उत्पाद" में चयनित उत्पादों का गिफ़्ट पैक भी अतिथियों को दिया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश की प्रमुख विशेषताओं माँ नर्मदा और यहाँ की पुरातन विरासत का प्रदर्शन भी किया जाना चाहिए।मुख्यमंत्री चौहान ने इंदौर के आस-पास के पर्यटन-स्थलों के पहुँच मार्ग की भी जानकारी ली और उन्हें समय रहते पूरी तरह दुरूस्त करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि होम-स्टे के लिए प्रस्तावित घरों को प्रशासन की टीम जाकर देख ले और भली भाँति तस्दीक कर ले कि वे अतिथियों के लिए उपयुक्त हों। संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा, पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, सांसद शंकर लालवानी, महापौर पुष्यमित्र भार्गव एवं अन्य जन-प्रतिनिधि ने अपने सुझाव रखे। 

Kolar News

Kolar News 23 November 2022

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि हाल ही में नई दिल्ली में यूजीसी के चेयरमैन प्रो. जगदीश कुमार से हुई मुलाक़ात के दौरान उन्होंने माना है कि मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति क्रियान्वयन के साथ स्नातक स्तर पर जो पाठ्यक्रम लागू किए हैं वह मॉडल बन सकते हैं। मंत्री डॉ. यादव ने कहा है पूरे प्रदेश में पाठ्यक्रम का स्वरूप एक जैसा हो। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में मध्यप्रदेश में लागू पाठ्यक्रम उच्च स्तरीय है। प्रयास किये जाए कि इनका लाभ विद्यार्थियों को मिले। विश्वविद्यालय नीति के लाभों पर केन्द्रित कार्यशाला करें और विद्यार्थियों को अधिक से अधिक जागरूक करें। डॉ. यादव ने ये बात सोमवार को मंत्रालय में टास्क फोर्स समिति और विभिन्न विश्वविद्यालय के कुलपतियों के साथ हुई बैठक में कही। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने कहा कि अकादमिक अनुशासन की दृष्टि से राष्ट्रीय शिक्षा नीति की एकरूपता अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि एन ई पी के परिपेक्ष्य में विश्वविद्यालय और संभाग स्तर पर कार्यशाला करें। युवा उत्सव जैसे बड़े कार्यक्रम कर युवाओं को राष्ट्रीय शिक्षा नीति की बारीकियों से रू-ब-रू कराएँ। डॉ. यादव ने विदेशी छात्रों के आधार पाठ्यक्रम में आ रही कठिनाई के निराकरण के लिए समिति गठित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आधार पाठयक्रम में जो छात्र 20 क्रेडिट से ज्यादा अर्जित किया है परंतु फाउंडेशन में फेल हो गए हैं, वे पूरक परीक्षा दे सकते हैं।   उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने कहा कि विश्वविद्यालय अगले 25 सालों के लिए उच्च शिक्षा के बेहतर भविष्य के लिए कार्य-योजना तैयार करें। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति में व्यवसायिक पाठ्यक्रम की पहल से विद्यार्थी अपनी रूचि अनुसार पाठयक्रम का चयन कर, इंटर्नशिप और अप्रेंटशिप के विकल्प को अपना कर अपने कौशल को निखार सकते हैं। आयुक्त उच्च शिक्षा कर्मवीर शर्मा ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन की प्रगति और नवाचार की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि स्नातक प्रथम वर्ष के 85 विषय एवं द्वितीय वर्ष के 83 विषय के परिणाम आधारित पाठयक्रम पोर्टल पर अपलोड किए गए हैं। स्नातक तृतीय वर्ष के लिए 82 विषय के केंद्रीय अध्ययन मंडलों द्वारा 60 पढयक्रम निर्माण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। साथ ही 40 प्रमुख विषयों के 1450 से अधिक ई-कंटेंट, ई-शिक्षा एलएमएस पोर्टल पर अपलोड किए गए हैं। शर्मा ने बताया कि प्रदेश की शिक्षण संस्थानों द्वारा 12 अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों के साथ एमओयू किए गए हैं। इसमें प्रमुख संस्थानों के साथ ऑनलाइन व्याख्यान, सेमिनार, वर्कशॉप आदि से 157 शिक्षक और 258 विद्यार्थी लाभान्वित हुए हैं। अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा शैलेन्द्र सिंह और विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति एवं कुल सचिव उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 22 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में निवेशकों को सुविधाएँ देने की नीति देश में सबसे बेहतर है। प्रदेश में निवेशकों को पूरा सहयोग दिया जाएगा। निवेश बढ़ने से युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे। आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश और आत्म-निर्भर भारत का निर्माण हो सकेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने यह बात आज निवास पर उद्योगपतियों से भेंट के दौरान कही। उन्होंने निवेशकों को इंदौर में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर समिट में शामिल होने के लिए निमंत्रण दिया। भेंट के दौरान सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री चौहान से चर्चा के दौरान मेसर्स एचईजी लिमिटेड मण्डीदीप के प्रमोटर श्री रिजु झुनझुनवाला ने कहा कि मध्यप्रदेश में औद्योगिक निवेश के क्षेत्र में काम करने का सबसे अच्छा माहौल है। उनकी कंपनी की इकाई ग्रेफाईट एनोड के विनिर्माण के लिए प्रदेश में 1800 करोड़ रूपए का नवीन निवेश करेगी। ग्राम सिरसौदा, तहसील सोनकच्छ, जिला देवास में इस परियोजना के प्रथम चरण में 800 करोड़ तथा द्वितीय चरण में एक हजार करोड़ का निवेश किया जाएगा। जिसकी वार्षिक उत्पादन क्षमता 20 हजार मीट्रिक टन होगी। एक जनवरी 2025 तक प्रथम चरण का उत्पादन शुरू होगा और एक जनवरी 2028 तक परियोजना को पूरा कर लिया जाएगा। इसमें लगभग 400 लोगों को रोजगार मिलेगा।   मेसर्स एलम सोलर, नई दिल्ली के सीईओ मनोज अग्रवाल ने बताया कि कम्पनी दो चरणों में 1500 मिलियन यूएस डालर का निवेश करेगी। लगभग 500 एकड़ में स्थापित प्लांट में 400 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा और 15 हजार से 20 हजार लोगों को रोजगार मिल सकेगा। मेसर्स रमणीक पॉवर एण्ड एलॉयज प्रा. लि. बालाघाट के डायरेक्टर निश्‍चल त्रिवेदी ने बताया कि कम्पनी द्वारा ग्राम सरंडी, तहसील वारासिवनी, जिला बालाघाट में 168 करोड़ रूपए का निवेश प्रस्तावित है। इससे सैकड़ों लोगों को रोजगार मिलेगा। इसमें सिलिको एलॉयज का उत्पादन होगा। मेसर्स बुरहानपुर टेक्सटाईल्स लिमिटेड के मेनटोर श्री ओमप्रकाश मित्तल ने बताया कि उनकी कम्पनी द्वारा ग्राम फतेपुर, जिला बुरहानपुर में यार्न, ट्वीस्टेड यार्न, ग्रे-फेब्रिक, आरएफडी फेब्रिक, साड़ी धोती/जॉब वर्क, पैलेट्स उत्पादन पर 297 करोड़ 86 लाख रूपये के निवेश का प्रस्ताव है। इससे 1100 व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध हो सकेगा।  

Kolar News

Kolar News 22 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि अनुसूचित जनजाति और आमजन में सिकल सेल एनीमिया के प्रति जागरूकता बढ़ायें। उन्होंने जनजाति के लोगों को बीमारी के प्रति जागरूक होने और समाज के अन्य वर्गों के युवाओं से जनजातीय वर्ग को इस बीमारी से निजात दिलाने के लिये आवश्यक जागरूकता हेतु प्रचार-प्रसार करने पर जोर दिया। राज्यपाल पटेल ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि शासन द्वारा संचालित लोक-कल्याणकारी योजनाओं का शत-प्रतिशत लाभ पात्र व्यक्तियों को दिलाया जाना सुनिश्चित करें। गरीबों को शासन की योजनाओं का लाभ प्राथमिकता से दिलायें। किसी भी स्थिति में गरीबों का शोषण नहीं होना चाहिये। राज्यपाल पटेल सोमवार को नरसिंहपुर सर्किट हाऊस में अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे।   राज्यपाल पटेल ने कहा कि सिकल सेल बीमारी से निजात पाने के लिये जरूरी है कि विवाह के पहले युवक-युवती अपने खून की जाँच करायें, यदि दोनों में बीमारी के लक्षण पाये जाते हैं, तो वे विवाह नहीं करें। इससे संतान में इस आनुवांशिक बीमारी के प्रसार को रोका जा सकता है। सभी प्रकार के नशे से दूर रहें। बच्चों को शिक्षा से बेहतर भविष्य बनाने में अपना योगदान दें। सिकिल सेल की जाँच करने वाली एजेंसी की सतत निगरानी की जाये। इस कार्य में आशा कार्यकर्ता को भी जोड़ा जाये। राज्यपाल पटेल ने पेसा एक्ट का लाभ दिलाने पर जोर देते हुए कहा कि इसमें महिलाओं की भागीदारी सुनिश्चित हो। उन्होंने भारिया जनजाति को विशेष पिछड़ी जनजाति में शामिल करने पर चर्चा की। पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ गरीबों को मिलना सुनिश्चित होना चाहिये। उन्होंने स्वसहायता समूहों को बढ़ावा देने पर जोर दिया। राज्यपाल ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास, जनजाति कार्य, कानून-व्यवस्था, वन विभाग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की गतिविधियों संबंधी अधिकारियों से चर्चा कर जानकारी ली और आवश्यक निर्देश दिये। कलेक्टर सुश्री ऋजु बाफना, पुलिस अधीक्षक विपुल श्रीवास्तव और संबंधित अधिकारी मौजूद थे। राज्यपाल पटेल को जिला प्रशासन ने स्मृति चिन्ह भेंट किया।  

Kolar News

Kolar News 22 November 2022

मध्यप्रदेश के नर्मदापुरम सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में बाघों का बर्चस्व हैं। और जब पर्यटकों को बाघिन कुनबे के साथ दीदार करा दे तो जंगल सफ़ारी का मजा दोगुना हो जाता हैं। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व से बाघिन और उसके दो शावक के आये दिन रोमांचित वीडियो सामने आते है। शनिवार को भी पर्यटक जंगल सफारी करने पहुंचे तो बाघिन और उसके दो शावकों ने पर्यटकों का रास्ता रोक लिया। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व में शनिवार को बाघिन और उसका परिवार पर्यटकों की जिप्सी के आगे रस्ते में आराम फरमाता नजर आया। इस नज़ारे को देख कर पर्यटक काफी रोमांचित नजर आये। सभी पर्यटकों ने इस दृश्य का वीडियो कैमरे में कैद कर लिया। उसी वक्त एक शावक टहलता हुआ पर्यटकों के पास पहुँच गया। जिसे देख पर्यटक घबरा गए। यह वीडियो एसटीआर प्रबंधन ने सोशल मिडिया पर शेयर किया है। इन दिनों बाघिन और उसके दो व्यस्क शावक पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। पर्यटकों की सुरक्षा व्यवस्था के लिए। उनके साथ प्रशिक्षित वाहन चालक और गाइड को भेजा जाता है। 

Kolar News

Kolar News 21 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि डिप्रेशन के बारे में जन-जागरूकता के प्रयास महत्वपूर्ण हैं। इस समस्या से युवाओं को बचाना बहुत आवश्यक है। प्रयास यह होना चाहिए कि डिप्रेशन की समस्या हो ही नहीं पाए। दौड़ के आयोजन और अन्य जागरूकता गतिविधियों से लोगों को डिप्रेशन से बचाने के कार्य से जुड़ी संस्था हिमालय नाइट के प्रयास अनुकरणीय हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि युवाओं द्वारा डिप्रेशन के विरूद्ध विश्व की सबसे लम्बी रिले दौड़ का प्रयास सराहनीय है। करीब 8 हजार किलोमीटर की दौड़ में 30 धावक शामिल हैं। चंडीगढ़ से 10 नवम्बर को रवाना यह दौड़ 19 नवम्बर को महाकाल लोक की परिक्रमा भी कर आई है। प्रतिदिन 250 किलोमीटर की दूरी तय की जा रही है। यह दौड़ 24 घंटे चलती है। कुल 36 दिन तक दौड़ निरंतर चलेगी। इस दौड़ के मार्ग में हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश और अन्य प्रांत शामिल हैं। रिले दौड़ नई दिल्ली में समाप्त होगी। आज भोपाल पहुँचे धावक दल के सदस्यों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के साथ स्मार्ट उद्यान में भी पौध-रोपण में हिस्सा लिया। मुख्यमंत्री चौहान ने संदीप आर्य, धावक दल के एक दिव्यांग सदस्य सहित चार बेटियों से चर्चा भी की। पौध-रोपण के दौरान धावक दल के सदस्यों ने डिप्रेशन के विरुद्ध प्रारंभ अभियान की जानकारी दी। मुख्यमंत्री चौहान ने डिप्रेशन के विरूद्ध किए जा रहे प्रयासों के लिए दल के सभी सदस्यों को बधाई और शुभकामनाएँ दी। मुख्यमंत्री चौहान ने आज गुलमोहर और आंवला के पौधे रोपे। मुख्यमंत्री  चौहान के साथ समाजसेवी प्रद्युम्न शास्त्री ने अपने जन्म-दिवस पर पौधा लगाया। पार्षद सुरेन्द्र वाडिका एवं सर्वश्री तीर्थ राज मिश्रा, योगेश सक्सेना और अशोक पटेल भी शामिल हुए।   

Kolar News

Kolar News 21 November 2022

लोक निर्माण मंत्री  गोपाल भार्गव ने 162 करोड़ 66 लाख रूपये से बनने वाली आपचंद मध्यम सिंचाई परियोजना का सागर जिले के रहली में भूमि-पूजन किया। उन्होंने कहा है कि इस परियोजना से लगभग एक दर्जन गाँव के किसानों को सिंचाई के लिये जल मिलेगा। परीयोजना से किसानों को पानी की कोई कमी नहीं आयेगी और रहली क्षेत्र के किसानों की आय दोगुनी हो जायेगी। मंत्री भार्गव ने कहा कि वर्तमान में कई देशों में पानी की कमी है। हमारे देश में कई ऐसे राज्य एवं जिले हैं, जहाँ पानी की कमी होने से पानी की बचत की जाती है। प्रकृति ने हमें इस क्षेत्र में सुनार, गधेरी और कोपरा नदियाँ दी हैं। बांध बनने के बाद आस-पास के नलकूप, बोरवेल और कुओं का जल-स्तर बढ़ेगा। मंत्री भार्गव ने कहा कि शाहपुर के पास साजली नदी पर पेयजल के लिए डैम बना है। पेयजल के लिए क्षेत्र के 108 गाँव में पाइप लाइन बिछाई जा रही है। यहाँ घरों में टोंटी से जल आएगा। जल, जंगल और जमीन पर सभी का हक है। नर्मदा नदी प्रदेश की जीवन रेखा है। नर्मदा नदी से सिंचाई और पीने के लिए जल मिलता है।      मंत्री भार्गव ने कहा कि सिंचाई परियोजना से 12 हजार एकड़ कृषि भूमि को सिंचाई के लिए पाइप लाइन से पानी दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि जिन किसानों की जमीन परियोजना से डूब में आयेगी, उन्हें प्रति हेक्टेयर 8 लाख रूपये मुआवजा राशि दी जायेगी और घर बनाने के लिए पाँच लाख रूपये के साथ प्लाट भी नि:शुल्क दिया जायेगा। प्रभावित किसानों को प्रति माह 3 हजार रूपये जीवन निर्वाह भत्ता दिया जायेगा। प्रभावित पशु मालिकों, छोटे व्यापारियों को शेड निर्माण के लिए 25 हजार रूपये और पुनर्स्थापना के लिए 50 हजार रूपये दिए जाएंगे। पक्की सड़क, शौचालय, आँगनवाड़ी भवन बनाए जायेंगे। सिंचाई परियोजना से चनौआ खुर्द, बडखेरा गौतम, भौदहार, बसारी, बेलई, भटोली, कदला, कुमेरिया, वगरोन, चंदौला, मुर्गा दरारिया, ऊमरा, चौका, चंद्रपुरा, बोरई, रतनारी, पहरेह, खनपुरा आदि ग्रामों के किसानों की खेती सिंचित हो जायेगी। मंत्री श्री भार्गव ने कहा कि नर्मदा नदी पर बने बाँधों से  बिजली बनाई जा रही है। रहली क्षेत्र की सुनार, गधेरी, कोपरा नदी पर डैम बनाए जा रहे हैं। कोपरा नदी का डैम बनने से इसका पानी दमोह, पथरिया विधानसभा तक जाएगा। 

Kolar News

Kolar News 21 November 2022

महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान, मध्यप्रदेश के चेयरमेन भरत बैरागी ने कहा है कि कॉउंसिल ऑफ बोर्डस ऑफ एज्यूकेशन (कोबसे) की तीन दिवसीय कॉन्फ्रेंस में हुई चर्चाओं का निश्चित ही शिक्षा जगत को लाभ होगा। साथ ही शिक्षा की दृष्टि से भारत में बदलाव आयेगा। उन्होंने कहा कि सभी बच्चों में एक योग्यता होती है और हम उस योग्यता को कहाँ जोड़ पा रहे हैं, हम उनको क्या शिक्षा दे रहे हैं, यह देखना बहुत जरूरी है। बच्चों की रूचि के अनुसार ही शिक्षा देना चाहिए और उसके अनुरूप ही शिक्षा नीति होना चाहिए। बच्चों के पास अपनी विधा हो, एक कौशल हो, यह सब शिक्षा से ही आयेगा। नई शिक्षा में आमूलचूल बदलाव कर हम बच्चे को एक योग्य नागरिक बनाये, जिससे भारत में एक समरसता का भाव होगा और वह समाज को पोषक करेगा।  बैरागी ने कहा कि इस कॉन्फ्रेंस में आये भारत वर्ष के 32 राज्यों के अधिकारियों द्वारा शिक्षा नीति पर की किये गये मंथन से निकला अमृत स्कूल शिक्षा बोर्ड की प्रक्रिया सुधारने का काम करेगा। भरत कॉन्फ्रेन्स के समापन-सत्र को संबोधित कर रहे थे। कॉन्फ्रेंस में फोटो पत्रिका का विमोचन भी किया गया। कॉन्फ्रेंस की चर्चा और निर्णयों को शीघ्र मूर्तरूप दिया जायेगा। कोबसे की प्रेसीडेन्ट एवं नागालेण्ड एज्यूकेशन बोर्ड की चेयरमेन असानो सिकोसे ने कहा कि 51वीं वार्षिक कॉन्फ्रेन्स में जो चर्चा और निर्णय हुए हैं, उनको शीघ्र ही मूर्तरूप दिया जायेगा। महासचिव एम. सी. शर्मा ने कहा कि शिक्षा नीति पर हुई ऑनलाइन और ऑफलाइन चर्चा के निष्कर्ष को शीघ्र ही सभी ओपन बोर्ड को अपने राज्यों में आगामी कार्यवाही के लिए भेजा जायेगा।

Kolar News

Kolar News 20 November 2022

जन-सामान्य को जोड़ कर स्वास्थ्य कार्यक्रमों के क्रियान्वयन को अधिक प्रभावी बनाया जा सकता है। प्रदेश में  संजीवनी क्लीनिक मॉडल का नवाचार इसका प्रमाण है। स्वास्थ्य कार्यक्रमों के क्रियान्वयन की चुनौतियों को समुदाय के साथ साझा करते हुए, समुदाय के लोगों को दायित्वों के निर्वहन में भागीदार बना कर स्वास्थ्य कार्यक्रमों का  अधिक  परिणाममूलक  क्रियान्वन सुनिश्चित किया जा सकता है।  शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम की चुनौतियों एवं नवाचार पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और  विश फाउंडेशन द्वारा शनिवार को हुई।  राष्ट्रीय संगोष्ठी में विशेषज्ञों ने यह  विचार व्यक्त किए। संगोष्ठी में केन्द्रीय लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, तमिलनाडु, गुजरात, दिल्ली राज्य की स्वास्थ्य संस्थाओं के अधिकारी, चिकित्सा विशेषज्ञ तथा विश फाउंडेशन के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए। संगोष्ठी में भोपाल, इन्दौर और जबलपुर में संचालित शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम पर प्रस्तुतिकरण दिया गया। साथ ही संजीवनी क्लीनिक पर नॉलेज मैनेजमेंट डाक्यूमेंट का विमोचन भी किया गया।  केन्द्रीय शहरी स्वास्थ्य कार्यक्रम की अतिरिक्त आयुक्त डॉक्टर ज्योति रावत, प्रदेश के संचालक लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण डॉ. पंकज जैन, संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन डॉ. के.के. रावत और विश फाउंडेशन के सीनियर  डायरेक्टर डॉ. राजेश खन्ना ने भी संबोधित किया।

Kolar News

Kolar News 20 November 2022

संस्कृति, पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर ने कहा है कि पुरातत्व को आकर्षक, रोचक और आसान भाषा में भावी पीढ़ी तक पहुँचाएँ। मंत्री ठाकुर राज्य संग्रहालय में विश्व धरोहर सप्ताह अंतर्गत गतिविधियों के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रही थी। मंत्री ठाकुर ने कहा कि पुरातत्व हमारी पहचान है। इसके तथ्यों को वैज्ञानिक आधार पर प्रस्तुत करें। भावी पीढ़ी में हमारी संस्कृति और धरोहर के प्रति गौरव का भाव विकसित करें। 21वीं सदी का जगतगुरू भारत का निर्माण तभी हो सकता है जब हम विश्वास करें कि हम कालजयी विश्वविजयी संस्कृति के संवाहक हैं। प्रमुख सचिव संस्कृति और पर्यटन शिव शेखर शुक्ला ने कहा कि पुरातत्व और इतिहास को जन-जन का विषय बनाएँ। हमारे वैभवशाली इतिहास को भावी पीढ़ी तक पहुँचाना विभाग के साथ समाज का भी कर्त्तव्य है। हम सभी को भावी पीढ़ी में अपने इतिहास और संस्कृति के प्रति गर्व और प्रेम की भावना का विकास करना चाहिए। संस्कृति विभाग द्वारा निरंतर इस प्रकार के कार्यक्रम किए जाएंगे।   मंत्री ठाकुर ने राज्य संग्रहालय में विश्व धरोहर सप्ताह में मृणमयी प्रतिमाओं की प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। यह प्रदर्शनी डॉ. विष्णु श्रीधर वाकणकर पुरातत्व शोध संस्थान के सहयोग से लगाई गई है। मंत्री ठाकुर ने पुरातत्व संचालनालय द्वारा प्रकाशित पुस्तक "छतरपुर जिले का पुरातत्व" का विमोचन भी किया। मंत्री  ठाकुर ने आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में हुई फोटोग्राफी के विजेताओं को पुरूस्कृत किया। पुणे के अनूप गंधे को बिठोजी होलकर की छत्री के छायाचित्र के लिए प्रथम पुरस्कार के रूप में एक लाख रूपये, ग्वालियर के राजेश लाड को मोहम्मद गौस का मकबरा ग्वालियर के छायाचित्र के लिए द्वितीय पुरस्कार के रूप में 50 हजार रूपये और इंदौर के सुधांशु तिवारी को जल महल मांडू के छायाचित्र के लिए तृतीय पुरस्कार के रूप में 25 हजार रूपये एवं प्रमाण-पत्र प्रदान किए गए। साथ ही वाराणसी के सतीश वर्मा, इंदौर के श्री आकर्ष आर्य और कोलकाता के प्रणब बासक को सांत्वना पुरस्कार के रूप में 10 हजार रूपए और प्रमाण-पत्र प्रदान किए गए। राज्य संग्रहालय के कार्यक्रम में डॉ. विष्णु श्रीधर वाकणकर पुरातत्व शोध संस्थान भोपाल के निदेशक श्री प्रकाश परांजपे, जीवाजी विश्वविद्यालय के प्रो. एस.के. द्विवेदी, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण दिल्ली के सेवानिवृत्त अधीक्षण डॉ. मेनुअल जोसेफ और अश्विनी शोध संस्थान उज्जैन के निदेशक डॉ. आर.सी. ठाकुर ने पुरातत्व के वैज्ञानिक पहलुओं और उनके महत्व पर व्याख्यान दिया। विभागीय अधिकारियों सहित बड़ी संख्या में पुरातत्व और इतिहास प्रेमी उपस्थित रहे।  

Kolar News

Kolar News 20 November 2022

लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने सागर जिले के गढ़ाकोटा नगर पंचायत क्षेत्र में 2 करोड़ 61 लाख रूपये लागत से शैक्षणिक संस्थाओं में भवन और अतिरिक्त कक्ष का लोकार्पण किया। मंत्री भार्गव ने कहा है कि शासकीय कन्या हायर सेकेण्डरी स्कूल गढ़ाकोटा क्षेत्र की पुरानी शैक्षणिक संस्था है। काफी समय से छात्राओं की बढ़ती संख्या के कारण अतिरिक्त कक्ष और विज्ञान संकाय में प्रयोगशाला की आवश्यकता महसूस की जा रही थी। आज स्कूल में 73 लाख 87 हजार रूपये की लागत से निर्मित 3 अतिरिक्त कक्ष और 3 प्रयोगशाला कक्ष का लोकार्पण हुआ है। इसी कड़ी में लोक निर्माण मंत्री  भार्गव ने शासकीय हायर सेकेण्डरी स्कूल साबूलाल में एक करोड़ 88 लाख रूपये की लागत से बनाये गये दो मंजिला भवन का भी लोकार्पण किया।

Kolar News

Kolar News 19 November 2022

प्रगति मैदान नई दिल्ली में चल रहे 41वें भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2022 में आज मध्यप्रदेश दिवस समारोह का सांस्कृतिक भव्यता के साथ आयोजन हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ अध्यक्ष लघु उद्योग निगम  इमरती देवी, सचिव सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम पी. नरहरि, महाप्रबंधक लघु उद्योग निगम रोहित सिंह और आवासीय आयुक्त पंकज राग द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। विशेष आयुक्त अनुग्रह पी. सहित मध्यप्रदेश शासन के अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे। इमरती देवी ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में लघु उद्योग निगम ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को आत्म-निर्भर बनाने में हरसंभव सहायता दे रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला जैसे मंच से मध्यप्रदेश की गरीब महिलाओं को विदेशों में अपनी कला और कौशल का प्रचार-प्रसार करने के अच्छे अवसर मिलेंगे।    सचिव नरहरि ने बताया कि आजादी की 75वीं वर्षगाँठ पर आयोजित इस व्यापार मेले में मध्यप्रदेश मण्डप का निर्माण ’’वोकल फार लोकल और लोकल टू ग्लोबल’’ थीम पर किया गया है। मण्डप इन्दौर में निकट भविष्य में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट और प्रवासी भारतीय दिवस में भाग लेने के लिए आगन्तुकों को निमंत्रित करता है। यह मण्डप आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश रोड मैप सहित प्रदेश की नीतियों, उपलब्धियों, सांस्कृतिक धरोहर, कला और संस्कृति का अवलोकन करने का मौका प्रदान करता है।  छतरपुर की माटी शिल्प और भोपाल की जरी-जरदोजी कला का सजीव प्रदर्शन भी मण्डप में किया जा रहा है। मध्यप्रदेश दिवस समारोह में प्रदेश की समृद्ध संगीत और नृत्य विरासत का प्रदर्शन किया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम में भेरू सिंह चौहान और समूह ने मालवा क्षेत्र के कबीर लोक गायन और संजय महाजन और समूह ने निमाड़ क्षेत्र के गणगौर लोक नृत्य की मनमोहक प्रस्तुति दी। समारोह में शासकीय और निजी क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए पुरस्कार भी वितरित किये गये। मध्यप्रदेश माटी कला बोर्ड को पहला पुरस्कार और मध्यप्रदेश ग्रामीण आजीविका मिशन को दूसरा पुरस्कार प्राप्त हुआ।   

Kolar News

Kolar News 19 November 2022

राज्य शासन द्वारा स्वामित्व योजना में 8990 गाँवों के 9 लाख 37 हजार अधिकार-पत्र नागरिकों को सौंपे गए हैं। यह जानकारी राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने शुक्रवार को मंत्रालय में राजस्व विभाग की योजनाओं के क्रियान्वयन की समीक्षा बैठक में दी। राजस्व और परिवहन मंत्री ने कहा कि मैं स्वयं गाँवों में योजनाओं का फीड बेक लूँगा। स्वामित्व योजना में कागजों में जिन कार्यों का उल्लेख किया जा रहा है, उनमें से किसी ऐसे ग्राम में जहाँ अधिकार अभिलेख पूर्ण हो चुका है, वहाँ मैं स्वयं संपूर्ण कार्य का भौतिक सत्यापन करूँगा। प्रमुख सचिव राजस्व मनीष रस्तोगी, सचिव संजय गोयल एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। राजस्व मंत्री ने कहा कि 50 हजार ग्रामों में आबादी सर्वेक्षण का कार्य अगस्त 2023 तक पूरा कर पालन प्रतिवेदन प्रस्तुत करें। इसके लिए उन्होंने कार्य की गति बढाने के निर्देश दिये।      मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना के संदर्भ में महाकौशल, मालवा, बुन्देलखंड, बघेलखंड, पूर्वी मध्यप्रदेश, पश्चिमी मध्यप्रदेश और उत्तरी मध्यप्रदेश में कार्यक्रम कर माह दिसम्बर एवं जनवरी में 10-15 जिलों के लोगों को सम्मिलित किया जाए। मंत्री राजपूत ने कहा कि अब कोरोना खत्म हो गया है, इसलिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं अन्य मंत्रीगण क्षेत्र में शिविर कर आर्थिक सहायता वितरित करेंगे।राजस्व मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अति महत्वपूर्ण एवं लोक कल्याणकारी योजना नगरीय भू-अधिकार योजना का अधिक से अधिक प्रचार किया जाये, जिससे पात्र लोग योजना का लाभ प्राप्त कर सकें। उन्होंने निर्देश दिये कि शिविर लगा कर प्राप्त आवेदनों का निराकरण जल्द से जल्द किया जाये।  राजपूत ने रेवेन्यू केस मैनेजमेंट सिस्टम (आर.सी.एम.एस.) के क्रियान्वयन को भी गति देने के निर्देश दिये। मंत्री राजपूत ने कहा किसानों के हितों से जुड़े इस मामले पर कि जिलेवार जानकारी तैयार करें और जिन जिलों ने निर्धारित समय-सीमा में कार्य नहीं किया है, उन्हें कारण बताओ सूचना-पत्र जारी करें।

Kolar News

Kolar News 19 November 2022

राष्ट्र निर्माण में छात्रों की भूमिका महत्वपूर्ण है। भविष्य की नींव के मजबूत आधार हैं विद्यार्थी। विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने पं. कुंजीलाल दुबे राष्ट्रीय संसदीय विद्यापीठ में "क्या जनसंख्या नियंत्रण कानून राष्ट्र-हित में है'' विषय पर वाद-विवाद प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरित करते हुए यह बात कही। संचालक, संसदीय विद्यापीठ डॉ. प्रतिमा यादव ने विद्यापीठ की गतिविधियों से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि वाद-विवाद प्रतियोगिता में 21 विद्यालयों के 42 विद्यार्थियों ने अपने विचार रखे। पक्ष एवं विपक्ष में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार के अतिरिक्त एक-एक प्रतिभागी को प्रोत्साहन पुरस्कार भी दिया गया। पक्ष एवं विपक्ष के विजेताओं को पृथक-पृथक 10 हजार रूपये का प्रथम पुरस्कार, 7 हजार 500 रूपये का द्वितीय पुरस्कार, 5 हजार रूपये के तृतीय पुरस्कार और 2 हजार 500 रूपये के प्रोत्साहन पुरस्कार दिये गये।  

Kolar News

Kolar News 18 November 2022

स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) एवं सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री इन्दर सिंह परमार ने कहा है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन से शिक्षा का स्वरूप बदल रहा है। नवाचार और पद्धतियों के अनुप्रयोग से एक-दूसरे राज्यों को समझने का अवसर मिलता है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 नए संदेश को समाहित कर शिक्षा के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन के साथ स्वाभिमान और आत्म-गौरव के भाव को पुनर्स्थापित करने का अवसर दे रही है। राज्य मंत्री परमार ने कहा कि देश के सभी शिक्षा बोर्ड समन्वय के साथ विद्यार्थी के समग्र मूल्यांकन पर विचार करें। शिक्षा बोर्ड के नवाचारों से एक-दूसरे राज्यों को लाभ मिलेगा। राष्ट्र को सकारात्मक दृष्टि से अग्रसर करने के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 में भारतीय भाषाओं को महत्व दिया गया है। परमार ने कहा कि भाषाएँ जोड़ने का काम करती हैं। एक दूसरे से संवाद करने एवं आत्मीयता से जुड़ने के भाव को जाग्रत करने में भाषा की अहम भूमिका है। मध्यप्रदेश भी अन्य राज्यों की क्षेत्रीय भाषाओं जैसे कन्नड़, तमिल, तेलगु आदि को शिक्षण पाठ्यक्रम में शामिल करने की ओर कार्य कर रहा है।   राज्य मंत्री परमार ने कहा कि सीएम राइज स्कूल योजना से मध्यप्रदेश में नई शिक्षा क्रांति का सूत्रपात होगा। इस सत्र में 370 सीएम राइज विद्यालय प्रारंभ हो चुके हैं और 9200 सर्वसुविधायुक्त सीएम राइज विद्यालय प्रदेश में खोले जायेंगे। विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्ता की शिक्षा देने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्धता से आगे बढ़ रही है। इसी परिप्रेक्ष्य में विद्यार्थी के समग्र मूल्यांकन की दृष्टि से 5वीं एवं 8वीं कक्षाओं की बोर्ड परीक्षा लेने का निर्णय किया गया है। राज्य मंत्री परमार ने आज भोपाल में मप्र राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड एवं महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान द्वारा 17 से 19 नवम्बर तक आयोजित "काउंसिल ऑफ बोर्डस ऑफ स्कूल एजुकेशन" की 3 दिवसीय 51वीं वार्षिक कॉन्फ्रेन्स का शुभारंभ किया। उन्होंने काउंसिल आफ वोर्ड की पत्रिका "सहोदय" के विशेष संस्करण का विमोचन भी किया। पतंजलि संस्कृत संस्थान के अध्यक्ष भरत बैरागी ने कहा कि राज्य सरकार सीएम राइज विद्यालय जैसे नवाचारों से शिक्षा व्यवस्था में आदर्श स्थापित कर रही है। संस्कृत भाषा के प्रति जन-मानस की धारणा परिवर्तित हो रही है। उन्होंने कहा की कोई भी भाषा कमतर नहीं है, लेकिन संस्कृत भाषा से अन्य भारतीय भाषाओं का प्रादुर्भाव हुआ है।   प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि अरूण शमी ने विभिन्न राज्यों से आए शिक्षा बोर्ड के प्रतिनिधियों का अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि कांफ्रेंस एक-दूसरे से सीखने और अनुभव साझा करने के लिए बेहतर अवसर है। हर राज्य में शिक्षा क्षेत्र में समान चुनौतियाँ होती हैं और उनके समाधान भी समान ही होते हैं। तीन दिवसीय कांफ्रेंस में होने वाली चर्चा से हम निर्धारित कर सकेंगे कि बच्चों को कैसे बेहतर शिक्षा देकर उनका बेहतर मूल्यांकन कर सकें। कांफ्रेंस में नेपाल, यूएसए, मॉरिशस आदि देशों सहित भारत के विभिन्न राज्यों के शिक्षा बोर्ड के लगभग 70 प्रतिनिधि सम्मिलित हो रहे हैं। कॉन्फ्रेन्स में ऑनलाइन एजुकेशन और कॉमन यूनिवर्सिटी इंट्रेन्स टेस्ट के आयोजन के विषयों सहित नवीन शिक्षा नीति के प्रकाश में विभिन्न अकादमिक विषयों पर चर्चा की जायेगी। सी.ओ.बी.एस.ई. एवं नागालैंड बोर्ड की अध्यक्ष असानो सेहासो, महासचिव एम.सी. शर्मा, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि अरूण शमी एवं आयुक्त लोक शिक्षण अभय वर्मा, निदेशक मप्र राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड प्रभात राज तिवारी सहित अधिकारी एवं विभिन्न राज्यों के प्रतिनिधिगण उपस्थित रहे।  

Kolar News

Kolar News 18 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि भावी पीढ़ी को देश और समाज के लिए कार्य करने की प्रेरणा देने वाले साहित्य का प्रसार किया जाना चाहिए। राष्ट्रीय गौरव, आजादी के संघर्ष, अमर वीर-वीरांगनाओं और पर्यावरण चेतना के प्रति सजग बनाने वाले साहित्य का पुस्तकालयों में संकलन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पाठ्यक्रम की पुस्तकों के साथ ही साहित्य, कला और पर्यावरण आदि विभिन्न विषय पर पुस्तकों की उपलब्धता पुस्तकालयों में होनी चाहिए। राज्यपाल पटेल आज कुशाभाऊ ठाकरे इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में रविन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित टैगोर अंतर्राष्ट्रीय साहित्य एवं कला महोत्सव 2022 के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। राज्यपाल पटेल ने कहा कि कलात्मकता की शक्ति अद्भुत होती है। दिल, दिमाग और आत्म-शक्ति के समन्वय से ही रचना का सृजन होता है। इसके लिए किसी साधन-संसाधन की आवश्यकता नहीं होती है। उन्होंने डिण्डोरी जिले की यात्रा के प्रसंग का उल्लेख करते हुए कहा कि वहाँ दोनों हाथों से वंचित बालिका पैरों से अद्भुत चित्र का निर्माण करती है। उन्होंने कहा कि कलात्मक प्रतिभा और शक्ति व्यक्तित्व को विशिष्ट स्वरूप देती है। सांस्कृतिक आयोजनों से पारंपरिक कलाओं को निरंतरता, मजबूती मिलती और नई पीढ़ी अपनी गौरवशाली सांस्कृतिक धरोहरों से परिचित होती है। राज्यपाल पटेल ने कहा कि भारत की भाषाई, भौगोलिक विविधताओं ने सृजन के उदार मिश्रण के रूप में बेहतरीन साहित्य का निर्माण किया है, जिसकी बानगी, अनूठी और अप्रतिम विविधता है। उन्होंने कहा कि जनजातीय समुदाय में मौखिक परम्पराओं में लोक कला, संस्कृति, जड़ी-बूटी, पारम्परिक उपचार और पर्यावरण अनुकूल जीवन शैली के ज्ञान का अपार भण्डार सुरक्षित है। शिक्षण संस्थाओं, समाज के रचनाकारों और साहित्यकारों का भी दायित्व है कि वे आने वाली पीढ़ी को अपनी कला और संस्कृति की धरोहर से परिचित कराये। उन्होंने आशा व्यक्त की कि विश्वरंग की पहल डिजिटल क्रांति के दौर में भी सांस्कृतिक मूल्यों के संरक्षण के लिए साहित्य, शिक्षा, संस्कृति और भाषा के सृजनकारों के बीच वैश्विक विमर्श का शुभारम्भ करेगी।   राज्यपाल  पटेल ने हिन्दी के डॉ. नंद किशोर आचार्य, गुजराती के श्री जयंत परमार, मराठी के श्री शरण कुमार लिम्बाले, मलयालम के ए.अनविंदाक्षन, उड़िया की प्रतिभा राय, अंग्रेजी की  सुकृता पॉल, संस्कृत के डॉ. राधावल्लभ त्रिपाठी को विश्वरंग अलंकरण सम्मान से सम्मानित किया। राज्यपाल पटेल को राजभवन की अधिकारी शिल्पी दिवाकर द्वारा उनकी रचना "प्रेम सेतु की गिलहरी" की प्रथम प्रति भेंट की गयी। विश्वरंग के अवसर पर प्रकाशित विश्व रंग फोल्डर, विश्व में हिन्दी रिपोर्ट, विश्वरंग स्पीकर प्रोफाइल बुकलेट, विश्वरंग पुस्तक यात्रा रिपोर्ट और बाल कविता कोश भेंट किये गए। रविन्द्रनाथ टैगोर विश्वविद्यालय के कुलाधिपति संतोष चौबे ने स्वागत उद्बोधन में विश्व रंग के आयोजन के संबंध में प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि हिन्दी और भारतीय भाषाओं में परस्पर रिश्ता कायम करने की पहल विश्वरंग का आयोजन है। उन्होंने विश्वरंग के दौरान की जाने वाली गतिविधियों की जानकारी दी। सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्यम एवं विज्ञान प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा ने कहा कि दुनिया में समस्त विज्ञान का स्रोत भारत का प्राचीन विज्ञान है। जिसका अलग-अलग रूपों में आज विकास हो रहा है। विश्वरंग के सह-निदेशक डॉ. सिद्धार्थ चतुर्वेदी ने आयोजन की रूपरेखा की जानकारी दी। सह-निदेशक डॉ. पल्लवी राव चतुर्वेदी ने चिल्ड्रन लिटरेचर फेस्टिवल कार्यक्रम के बारे में बताया। राज्यपाल ने दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। राज्यपाल पटेल का कुलाधिपति संतोष चौबे ने शॉल और गुरूदेव रविन्द्रनाथ टैगोर की प्रतिकृति स्मृति-चिन्ह के रूप में भेंट कर सम्मान किया।  

Kolar News

Kolar News 18 November 2022

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने सभी सीएमएचओ और सिविल सर्जन को निर्देश दिए हैं कि सम्पूर्ण कायाकल्प अभियान के कार्यों को सर्वोच्च प्राथमिकता दें। उन्होंने कहा कि सभी कायाकल्प अभियान में प्रदेश की समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं की अधो-संरचना को बेहतर और सुदृढ़ किया जाना सुनिश्चित किया गया है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी बुधवार को मंत्रालय में संपूर्ण कायाकल्प अभियान में जिलों में किये जा रहे कार्यों की वर्चुअल समीक्षा कर रहे थे। एसीएस स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, स्वास्थ्य आयुक्त डॉ. सुदाम खाड़े और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि सभी स्वास्थ्य संस्थाओं को सामान्य एवं विशेष मरम्मत मद में राशि दी गई है। सामान्य मरम्मत में जन-भागीदारी और जन-प्रतिनिधियों की सहभागिता भी सुनिश्चित की गई है। इसमें 1625 संस्थाओं द्वारा रंगाई-पुताई, मायनर रिपेयरिंग, प्लंबिंग कार्य, इलेक्ट्रिसिटी वायरिंग जैसे कार्य कराये गए हैं। विशेष मरम्मत में 1120 संस्थाओं में निविदा के माध्यम से वृहद मरम्मत कार्य जैसे छतों की वाटर प्रूफिंग, सीवेज मरम्मत, फ्लोरिंग, इलेक्ट्रिसिटी मेंटेनेंस, बाउंड्री वाल रिपेयर इत्यादि कार्य कराये गए।

Kolar News

Kolar News 17 November 2022

राज्य-स्तरीय समन्वय समिति की बैठक में कानून प्रवर्तन एजेन्सियों को सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिये दोषियों को चिन्हांकित कर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिये गये हैं। गत दिवस बैठक की अध्यक्षता करते हुए परिवहन आयुक्त  एस.के. झा ने निर्देशित किया कि मोटर व्हीकल एक्ट का उल्लंघन किये जाने पर नियमानुसार सख्त कार्रवाई करने में कोई कोताही न बरतें। पुलिस प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान में आयोजित समिति की बैठक में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक पीटीआरआई जी. जनार्दन ने सड़क निर्माण एजेन्सियों को अपने दायित्वों का निर्वहन भलीभाँति करने की नसीहत दी।   दुर्घटनाओं को रोकने के लिये विभिन्न सड़क निर्माण एजेन्सी, परिवहन और पुलिस को समन्वयपूर्वक कार्य करने की हिदायत दी गई। परिवहन आयुक्त झा ने कहा कि दुर्घटनाओं को रोकने के लिये जरूरी है कि मोटर व्हीकल एक्ट के प्रावधानों का सख्ती से पालन कराया जाना सुनिश्चित किया जाये। इसमें परिवहन विभाग और पुलिस समन्वयपूर्वक कार्य कर जिम्मेदारी से अपने कर्त्तव्यों का निर्वहन करें, जिससे आमजन की जानमाल की सुरक्षा हो सकें। उन्होंने कहा कि ओवर लोडेड और तेज गति से वाहन संचालन पर कड़ी कार्रवाई करें। मादक पदार्थों का सेवन और शराब पीकर वाहन चलाने वालों के साथ बिल्कुल भी रियायत नहीं बरती जाये। बिना हेलमेट और बिना सीट बेल्ट के वाहन संचालन करने वालों को नियमानुसार दण्ड के साथ ही चेतावनी और समझाईश भी दी जाये। सभी विभागों के नोडल अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि राज्य स्तर से मातहत कार्यालयों के अधिकारी-कर्मचारियों को अनिवार्य रूप से हेलमेट पहनने संबंधी निर्देश जारी करें।   एडीजी जर्नादन ने सड़क निर्माण एजेन्सियों को मार्ग संकेतक लगाने, यदि खराब हैं तो उन्हें दुरूस्त करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि सड़कों पर आवश्यकतानुसार रम्बल स्ट्रीप बनाया जाना सुनिश्चित करें। जिन स्थानों पर मार्किंग खराब हो गई उसे तत्काल दुरूस्त किया जाये। जनार्दन ने कहा कि मार्ग संकेतकों की सड़क दुर्घटनाओं को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। बैठक में स्कूली पाठयक्रम में सड़क सुरक्षा संबंधी पाठय सामग्री को शामिल करने के साथ ही उच्च शिक्षा में वाहन संचालन के लिये प्रशिक्षण के प्रबंध करने के निर्देश भी दिये गये। सभी नोडल अधिकारियों को पाबंद किया गया कि बैठक में दिये गये निर्देशों का पालन कठोरता से सुनिश्चित करायें। अनुपालन में आने वाली दिक्कतों से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत करायें ताकि उनका समाधान किया जाकर सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिये पुख्ता प्रबंध किये जा सके।

Kolar News

Kolar News 17 November 2022

सचिव राज्य निर्वाचन आयोग राकेश सिंह ने गुरूवार को निर्वाचन के लिए बाकी नगरीय निकायों एवं त्रिस्तरीय पंचायतों के निर्वाचन तैयारियों की वीडियो कॉफ्रेंसिंग से समीक्षा की। सिंह ने कहा कि सभी तैयारियाँ समय-सीमा में सुनिश्चित करें। सिंह ने बताया कि 5 जिलों के 19 नगरीय निकायों में आम निर्वाचन होना है। उन्होंने निकायवार निर्वाचन तैयारियों की समीक्षा की। सिंह ने कहा कि शेष पंचायतों में आम एवं उप निर्वाचन की पूरी जानकारी तुरंत भेजें। बैठक में जिलों से उप जिला निर्वाचन अधिकारी, निर्वाचन अधीक्षक और नोडल अधिकारी आई.टी. शामिल हुए। बैठक में निर्वाचन सामग्रियों की उपलब्धता और बजट आवंटन के संबंध में भी चर्चा की गयी। इस दौरान राज्य निर्वाचन आयोग के उप सचिव राजकुमार खत्री, नवीत धुर्वे, सुतेश शाक्य एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 17 November 2022

राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने कहा है कि मध्यप्रदेश ने विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति के अनेक आयाम प्राप्त किये हैं। मध्यप्रदेश की विकास यात्रा तेज गति से आगे बढ़ेगी और सभी वर्गों तक विकास पहुँचेगा। मध्यप्रदेश का अनेक क्षेत्रों में अमूल्य योगदान है। खाद्यान उत्पादन में मध्यप्रदेश आगे है। कृषि क्षेत्र में उत्पादन सहित अन्य कार्यों में चार वर्ष में मध्यप्रदेश ने महत्वपूर्ण वृद्धि और प्रगति प्राप्त की है। इसके लिए मध्यप्रदेश बधाई का पात्र है। स्वच्छता के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने स्वच्छतम राज्य और इन्दौर नगर ने छठवीं बार स्वच्छतम शहर का पुरस्कार प्राप्त किया है। यह सराहनीय है और इन उपलब्धियों के लिए मध्यप्रदेश के नागरिक प्रशंसा के पात्र हैं। देश के अन्य प्रान्तों के लिए भी यह उपलब्धि अनुकरणीय है। राष्ट्रपति मुर्मु आज राजभवन भोपाल में अपने नागरिक सम्मान और दो परियोजनाओं के शिलान्यास समारोह को सम्बोधित कर रही थी।   राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि मध्यप्रदेश नर्मदा जल से सिंचित है। प्रदेश को प्रकृति का वरदान प्राप्त है। देश में सबसे बड़ा वन क्षेत्र है। अनेक राष्ट्रीय उद्यान और अभयारण्य भी हैं। कूनो में नामीबिया से चीते लाए गए हैं, जो लुप्त हो गए थे। रानी दुर्गावती, झलकारी बाई की गौरव गाथाएँ सुनी जाती हैं। अहिल्या बाई होल्कर ने काशी के मंदिर का उद्धार करवाया। मध्यप्रदेश सरकार ने भोपाल में रानी कमलापति के सम्मान में कदम उठाए हैं। रेलवे स्टेशन का नामकरण भी उनके योगदान को याद करने के लिए किया गया है। मध्यप्रदेश में डॉ. अम्बेडकर, डॉ. शंकरदयाल शर्मा और अटल जी जैसी विभूतियाँ जन्मीं और प्रदेश से आजीवन जुड़ी रहीं। प्रदेश में अनुपम प्राकृतिक सौन्दर्य है। कालिदास, तानसेन, उस्ताद अलाउद्दीन खाँ के साथ ही अन्य अनेक व्यक्तित्व मध्यप्रदेश की पहचान हैं। उज्जैन में सिंहस्थ होता है। ग्वालियर, मैहर, खजुराहो में उत्सव होते हैं। भेड़ाघाट, शिवपुरी और बेतवा के उत्सव, अमरकंटक और चित्रकूट सहित तीन विश्व धरोहर स्थल यहाँ हैं। भीमबेठका, साँची और खजुराहो को यूनेस्को ने यह दर्जा दिया है। राष्ट्रपति मुर्मु ने मध्यप्रदेश वासियों को उपलब्धियों के लिए बधाई देते हुए सभी प्रदेशवासियों के विकास की कामना की।  

Kolar News

Kolar News 16 November 2022

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने राज्यपाल मंगुभाई पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तथा केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा के साथ जनजातीय संग्रहालय का अवलोकन किया। राष्ट्रपति का पद्मश्री भूरी बाई ने जनजातीय संग्रहालय आगमन पर अंग वस्त्रम भेंट कर आत्मीय स्वागत किया। राष्ट्रपति मुर्मु ने जनजातीय संग्रहालय स्थित जनजातीय जीवन वीथिका, जनजातीय परिवेश के बच्चों के खेलों पर केन्द्रित वीथिका, लिखन्दरा प्रदर्शनी दीर्घा और चिनहारी संग्रहालय स्टॉल का अवलोकन किया। उल्लेखनीय है कि जनजातीय जीवन दीर्घा में प्रदेश में निवासरत गोंड, बैगा, भारिया, सहरिया, भील और कोरकू जनजातीय समुदाय के आवासों की वास्तु, शिल्प, व्यवहार संबंधी विशेषताओं और उनकी जीवनशैली को प्रदर्शित किया गया है। राष्ट्रपतिमुर्मु को मुख्यमंत्री चौहान ने इन वीथिकाओं के संबंध में परिचयात्मक जानकारी दी। राष्ट्रपति ने संग्रहालय के आकल्पन और प्रदर्शन विधा की सराहना की। राष्ट्रपति को जनजातीय संग्रहालय की ओर से भगवान गणेश की धातुशिल्प से निर्मित लघु प्रतिमा, भारिया देवलोक सहित अन्य पुस्तकों का सेट और गोंड पेंटिंग भेंट की गई।  

Kolar News

Kolar News 16 November 2022

वोटर लिस्ट के संक्षिप्त पुनरीक्षण-2023 के कार्यक्रम अनुसार वोटर लिस्ट का प्रारंभिक प्रकाशन 9 नवम्बरको किया जा चुका है। अब वोटर लिस्ट में नाम जोड़ने तथा आपत्तियों के आवेदन प्रस्तुत करने का क्रम जारी है। 26 दिसम्बर 2022 तक आवेदन पत्रों का निराकरण होगा तथा 5 जनवरी- 2023 को वोटर लिस्ट का अंतिम प्रकाशन होगा।  निर्वाचक नामावली में नाम जोड़ने की अर्हता तिथि अब वर्ष में चार दिनांकों में अर्हता तिथि रखी गयी है जो उस वर्ष की 01 जनवरी, 01 अप्रेल, 01 जुलाई एवं 01 अक्टूबर होगी। इससे उन निर्वाचकों को जो इन तिथियों में 18 वर्ष की आयु प्राप्त कर लेते हैं, उन्हें अपना नाम निर्वाचक नामावली (Voter List) में जुड़वाने की पात्रता हो जाती है। आवेदक अब पूर्व से अपना आवेदन जमा कर सकते हैं जो बाद में 18 वर्ष पूर्ण करेंगे। पूर्व में निर्वाचक के पत्नी के रिश्ते का उल्लेख था, अब उसके स्थान पर अब Spouse (पति/पत्नि) का प्रावधान किया गया है। निर्वाचकों के नाम जोड़ने, नाम हटाने, नाम में संशोधन करने एवं एक स्थान से दूसरे स्थान पर नाम का स्थानांतरण करने में जिन फार्मों की आवश्यकता पड़ती थी। उनमें भी संशोधन किया गया है। नवीन मतदाता के लिये प्रारूप - 6. आधार संग्रहण हेतु प्रारूप-6 (ख), किसी निर्वाचक के नाम हटाने अथवा जोड़ने के विरूद्ध प्रारूप-7 एवं एपिक कार्ड बदलने, दिव्यांग जन चिन्हांकित करने, निवास स्थानांतरण तथा एक से अन्य विधानसभा में नाम स्थानांतरण हेतु प्रारूप-8 निर्धारित किया गया है।

Kolar News

Kolar News 16 November 2022

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने जिला अस्पताल शहडोल और अशोकनगर जिला के मुंगावली सिविल अस्पताल में भर्ती मरीजों से वीडियो कॉल से सीधा संवाद किया। उन्होंने मरीजों को मिलने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने अशोकनगर जिले के मुंगावली सिविल अस्पताल में भर्ती मरीज ब्रजलाल, तूफान सिंह और प्रताप सिंह अहिरवार से संवाद किया। उन्होंने मरीजों से अस्पताल में मिलने वाले उपचार, दवा और साफ-सफाई के बारे जानकारी प्राप्त की। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने जिला अस्पताल शहडोल में डायलिसिस करवाने आए शकील खान और अमित कुमार गुप्ता से बात की। श्री शकील खान ने बताया कि वे जिला अस्पताल में पिछले तीन वर्ष से डायलिसिस करवा रहे हैं। जिला अस्पताल की सुविधाओं से संतुष्ट हैं। स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी ने शहडोल जिला अस्पताल में भर्ती कृष्णा सिंह और सेम बाई से अस्पताल में मिल रहे उपचार और अस्पताल की व्यवस्थाओं के संबंध में चर्चा की।  

Kolar News

Kolar News 15 November 2022

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा है कि फायलेरिया प्रभावित जिलों में मास लेवल पर फायलेरिया निरोधी दवा की खुराक सभी लोग के लिए एक बार लेना जरूरी है। इसके लिये आमजन को समझाइस दी जाए। फायलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम में ऐसे जिले जहाँ पर फायलेरिया के केस पूरी तरह से समाप्त नहीं हुए है, उनमें मास लेवल पर फायलेरिया निरोधी दवा की खुराक दी जाना है। फायलेरिया निरोधी दवा की खुराक सभी को लेना है। इससे फायलेरिया को समाप्त किया जा सकता है। यदि प्रभावित क्षेत्र अथवा जिले के कुछ लोग दवा का सेवन नहीं करते है तो इससे पूरा क्षेत्र फायलेरिया बीमारी से पीड़ित बना रहता है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी सोमवार को मंत्रालय में राष्ट्रीय फायलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम की स्टेट टास्क फोर्स की बैठक को संबोधित कर रहे थे। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने बताया कि आम लोगों को फायलेरिया बीमारी के उन्मूलन के लिये दवा खाने की आवश्यकता का एहसास कराना होगा। आमजन को यह समझाइस देना होगी कि फायलेरिया से मुक्ति तभी संभव जब प्रभावित जिले के सभी लोगों द्वारा दवा का एक बार सेवनअवश्य किया जाए। उन्होने कहा कि आमजन को यह जानकारी दी जाए कि फायलेरिया की रोकथाम के लिये दवा खाने से फायलेरिया की बीमारी नहीं होगी और दवा का दुष्प्रभाव नहीं है। फायलेरिया के उन्मूलन के लिये संबंधित जिलों के जनसमुदाय को दवा खाना जरूरी है। इस संदेश को विभिन्न माध्यमों से प्रभावित जिलों में जन-जन तक पहुँचाया जाए।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि देश में 20 राज्य के 133 जिलों में फायलेरिया उन्मूलन प्रगति पर है। प्रदेश में 12 एंडेमिक जिलें है। उन्होंने बताया कि फायलेरिया संक्रमित मच्छर क्यूलेक्स के द्वारा फैलने वाली बीमारी है। फायलेरिया के शुरूआती लक्षण में लगातार बुखार, अंगो में दर्द, हाथ-पैरों आदि में सूजन होने लगती है। यह एक गंभीर बीमारी है। छतरपुर, दतिया, कटनी, पन्ना, उमरिया, रीवा, टीकगमढ़, निवाड़ी, सागर, सतना, छिन्दवाड़ा और दमोह जिले फायलेरिया से प्रभावित है। फायलेरिया उन्मूलन की गतिविधियों में मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एमडीए) की गतिविधि 5 वर्ष अथवा उससे अधिक समय तक की जाती है। प्रत्येक वर्ष में एक बार दो वर्ष से अधिक आयु के जनसमुदाय को निर्धारित मात्रा में डी.ई.सी और एल्बेण्डाजोल दवा का सेवन कराया जाता है। एमडीए की गतिविधि को पाँच वर्ष से अधिक समय तक सफलतापूर्वक संचालित करने के बाद नाइट ब्लड सर्वे की गतिविधि की जाती है और इसके आधार पर संबंधित जिले में फायलेरिया के उन्मूलन की कार्यवाही की जाती है।   स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि छतरपुर, दतिया, कटनी, पन्ना, उमरिया, रीवा, टीकमगढ़ और निवाड़ी में एमडीए की गतिविधि की जा रही है। सागर, सतना, छिन्दवाड़ा और दमोह जिले को ट्रांसमिशन असिसमेन्ट सर्वे के लिये शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि एमडीए की गतिविधि के सफलतापूर्वक संचालन के लिये संबंधित जिलों के स्थानीय जनप्रतिनिधियों सहित नगरीय निकायों के पार्षद और ग्राम पंचायत के सरपंच से अभियान में भागीदार बनाने के लिये पहल की जाएँ। उन्होंने कहा कि शिक्षा, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, महिला-बाल विकास, जल संसाधन, किसान कल्याण एवं कृषि विकास, नगरीय विकास एवं आवास, जनजातीय कार्य, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग के मैदानी अमले को फायलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम में जोड़ने की जरूरत है।

Kolar News

Kolar News 15 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में जनजातीय संस्कृति के संरक्षण और जनजातीय वर्ग के हित संरक्षण की दृष्टि से महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है। प्रदेश के लिए 15 नवम्बर ऐतिहासिक और अद्भुत रहेगा। प्रदेश में जनजातीय वर्ग के कल्याण के लिए उल्लेखनीय कार्य हो रहा है। गत वर्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनजातीय गौरव दिवस के अवसर पर भोपाल पधारे थे। मध्यप्रदेश सरकार ने पेसा कानून नियम लागू करने की पहल की है। इसके माध्यम से राजस्व कार्यों के निपटारे,जल संसाधनों के प्रबंधन, वनोपज से जनजातीय वर्ग को अधिक लाभ पहुँचाने जैसे महत्वपूर्ण कार्य आसान होंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि भगवान बिरसा मुंडा जी की जयंती मध्यप्रदेश के लिए गौरव का दिन है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु मध्यप्रदेश के प्रवास पर आ रही हैं। राष्ट्रपति महोदया के शहडोल और भोपाल में हो रहे कार्यक्रमों से जनजातीय वर्ग और प्रदेश के समस्त नागरिकों में उमंग का संचार होगा। प्रदेश का जन-जन उत्साहित दिखाई दे रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने आज इन कार्यक्रमों की रूपरेखा के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की। मुख्यमंत्री चौहान ने कार्यक्रमों की तैयारियों की भी जानकारी प्राप्त की।  

Kolar News

Kolar News 15 November 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री  कमल पटेल ने कहा है कि तवा बांध से सिंचाई के लिए पानी सभी किसानों को पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होगा। उन्होंने दूरभाष पर अधीक्षण यंत्री जल संसाधन राजाराम मीणा को टेल ऐंड के किसानों को सिंचाई के लिए प्राथमिकता से पानी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। पटेल ने अधीक्षण यंत्री को टेल ऐंड पर जाकर मौका मुआयना करने को भी निर्देशित किया है। मंत्री पटेल ने अधीक्षण यंत्री जल संसाधन को रबी की सिंचाई के लिए तवा बांध से किसानों को समुचित मात्रा में पानी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि नहर के टेल ऐंड से अपर एरिया तक निरंतर मौका मुआयना किया जाकर निगरानी रखी जाए जिससे कि सभी किसानों को समय पर पानी उपलब्ध हो सके। होशंगाबाद, सिवनी मालवा, इटारसी और हरदा के किसानों को उनके लिए निर्धारित की गई मात्रा में पानी उपलब्ध कराया जाना सुनिश्चित करें। मंत्री पटेल ने कहा है कि पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है। किसानों को खाद की कमी नहीं आने दी जाएगी। उन्होंने बताया है कि किसानों को उनके गाँव में खाद उपलब्ध कराया जाएगा। इसका क्रियान्वयन भी हरदा के आदिवासी अंचल के ग्राम काल्या खेड़ी, कांकरदा, पिल्या खाल गाँव से प्रारंभ हो गया है। किसानों ने खाद की गाँव पहुँच सेवा पर कृषि मंत्री पटेल और सरकार के प्रयासों पर प्रसन्नता व्यक्त की है।

Kolar News

Kolar News 14 November 2022

किसी भी मानव-समुदाय की पृथक पहचान उसकी जीवन-शैली, सांस्कृतिक परंपराओं और भाषा-बोली से होती है। आज स्थिति यह है कि वैश्वीकरण की प्रक्रिया में दुनिया की सैकड़ों बोलियाँ विलुप्त होने की कगार पर हैं। किसी भी सभ्यता के विकास में भाषा की प्रमुख भूमिका होती है। मनुष्य अपने भाव अथवा विचार भाषा के माध्यम से ही अन्य व्यक्ति तक सम्प्रेषित करता है। इस प्रकार भाषा मनुष्य को सामाजिक प्राणी बनाने में केन्द्रीय तत्व के रूप में कार्य करती है। जनजाति समुदायों की भाषाओं पर विचार करते हुए यह तथ्य और अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। ये भाषाएँ मानव-सभ्यता की विकास-यात्रा में सहयात्री रही हैं, इसलिये इनमें आरंभिक मनुष्य द्वारा अन्वेषित और अर्जित पारंपरिक ज्ञान संचित है,जो अत्यंत मूल्यवान है।जनजातीय भाषाओं का एक-एक शब्द संबंधित समुदाय की सांस्कृतिक निधि है। इन भाषाओं की परंपरागत वाचिक (मौखिक) संपदा के माध्यम से ही मानव-इतिहास, सभ्यता-संस्कृति, वनस्पति और जीव-जगत, कृषि, वास्तु एवं अन्य कला-कौशलों संबंधित ज्ञान की परंपरा को समझा जा सकता है। अन्य उन्नत भाषाओं और सभ्यताओं से सघन संपर्क के कारण जनजातीय भाषाओं के स्वरूप में बदलाव आ रहा है। भाषा की यह परिवर्तनशीलता एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। भारत की सांस्कृतिक विविधता में भाषिक भिन्नता एक प्रमुख घटक है। राष्ट्र की इस वैविध्यपूर्ण विशेषता को अक्षुण्ण रखने के लिए विभिन्न भाषा-बोलियों को बचाए रखना आवश्यक है। यह निश्चित है कि भाषाओं को बचाने का काम उसे बोलने वाले  ही कर सकेंगे।   मध्यप्रदेश में 43 अनुसूचित जनजातियाँ अथवा उनके समूह हैं। पहले प्रत्येक जनजाति समुदाय की अलग भाषा हुआ करती थी। अब केवल भीली, भिलाली, बारेली, पटलिया, गोंडी, ओझियानी, अगरिया, बैगानी, कोरकू, मवासी, नहाली ही कुछ क्षेत्रों में परिवर्तित रूपों के साथ संबंधित समुदायों की प्राय: पुरानी पीढ़ी द्वारा बोली जाती हैं। अन्य जनजातियों की बोलियाँ लुप्त हो चुकी हैं, जैसे-कोल की कोलिहारी, परधान की परधानी, भारिया की भरियाटी, सहरिया की सहरानी, खैरवार या कोंदर की खैरवारी तथा भिम्मा, नगारची, मोंगिया सहित अन्य जनजातियों की भाषाएँ भी।भारत की मान्य भाषाएँ वे हैं, जो आठवीं अनुसूची में सम्मिलित हैं।तकनीकी रूप से ये प्रायः वे भाषाएँ हैं, जिनके प्रयोक्ताओं की संख्या तुलनात्मक दृष्टि से अधिक है और जिनका समृद्ध साहित्यिक इतिहास है। इनके अलावा भी देश में अनेक भाषाएँ हैं,जिनका प्रयोग व्यापक क्षेत्र में होता है और जिनमें प्रचुर मात्रा में साहित्य भी उपलब्ध है। वर्ष 1961 की जनगणना में कुल 1652 मातृभाषाएँ चिन्हित की गयीं थीं, जिनमें से 184 भाषाओं को बोलने वालों की संख्या 10 हजार से अधिक थी। ‘पीपुल ऑफ इंडिया' के अनुसार भारत में 75 प्रमुख भाषाएँ हैं, जबकि मातृभाषा के रूप में 325 बोलियों का प्रयोग होता है। ‘एथनोलॉग’ में उल्लेख किया गया है कि भारत में कुल 398 भाषाएँ रही हैं, जिनमें से 387 जीवित हैं और 11 मृत हो चुकी हैं। एक आकलन के अनुसार 32 भाषाएँ ऐसी हैं, जिनका प्रयोग 10 लाख अथवा उससे अधिक लोग करते हैं। यूनेस्को की मान्यता पर ध्यान दें तो भारत में 400 भाषाएँ हैं, जिनमें से 70 से 80 प्रतिशत विलोपन के क्षेत्र में हैं।   आयुक्त भाषाई अल्पसंख्यक द्वारा वर्ष 2005 में प्रस्तुत ‘लघु भाषाएँ : विशेष प्रतिवेदन’ में उल्लेखानुसार भारत में कुल 116 भाषाएँ हैं, जिनमें से 22 आठवीं अनुसूची में तथा 94 उसके बाहर हैं। इनके अलावा दस हजार से कम प्रयोक्ताओं वाली अनेक बोलियाँ हैं, जिनमें से 44 सुपरिभाषित हैं। इसी प्रतिवेदन में बताया गया है कि चार अण्डमानीय भाषाएँ- अका 50, जारवा 300, सैंटिनलीज़ 100 तथा ओंजे 100 भाषा-भाषियों के साथ जीवित हैं। मध्यप्रदेश जनजातीय जनंसख्या की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य है।जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, यहाँ भारत सरकार द्वारा जारी अनुसूची में शामिल 43 जनजाति समूह आबाद हैं, जिनमें जनंसख्या की दृष्टि से भील, गोंड, कोल,सहरिया,बैगा, कोरकू आदि प्रमुख हैं। आदिम जाति समूह के अंतर्गत बैगा, भारिया और सहरिया शामिल हैं। इन सभी जनजातियों की अपनी-अपनी बोलियाँ हैं। भील समूह की भीली, भिलाली, बारेली, पटलिया आदि बोलियाँ प्रमुख रूप से झाबुआ, अलीराजपुर, धार, खरगौन, बड़वानी, रतलाम, मंदसौर आदि जिलों में बोली जाती है। यह आर्य भाषा परिवार से संबंधित भाषा समूह है। इन बोलियों का मौखिक साहित्य अत्यंत समृद्ध है। गोंडी मध्य भारत की प्रमुख जनजातीय भाषा है। एक कालखंड में वर्तमान उत्तर प्रदेश की सीमा से लेकर मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, तेलंगाना, महाराष्ट्र आदि राज्यों के विभिन्न क्षेत्रों में गोंडवाना साम्राज्य स्थापित था।उन क्षेत्रों में आज भी गोंडी के विभिन्न रूपों का प्रयोग होता है। मध्यप्रदेश में प्रमुख रूप से मंडला, डिण्डौरी, जबलपुर, बालाघाट, सिवनी, शहडोल, अनूपपुर, सीधी, रायसेन, सागर, होशंगाबाद, बैतूल, छिन्दवाड़ा आदि जिलों में गोंडी बोली जाती है। यह द्रविड़ भाषा-परिवार की भाषा है। मध्यप्रदेश में इसके दो रूप देखने को मिलते हैं। एक आधुनिक रूप, जिसे 'मंडलाही' कहा जाता है, इसमें आर्य बोलियों-जैसे छत्तीसगढ़ी, बुंदेली आदि के साथ हिन्दी-मराठी के शब्दों की प्रचुरता है और दूसरा मूल द्रविड़ियन रूप, जो 'पारसी' कहलाता है।    कोरकू जनजाति की भाषा कोरकू कहलाती है। कोरकू जातिसूचक शब्द 'कोरो' (मनुष्य) शब्द में बहुवचन सूचक 'कू' प्रत्यय लगाने पर बना है। कोरकू समूह की दो उप बोलियाँ हैं, जो मवासी अथवा मोवासी और नहाली अथवा निहाली कहलाती हैं। यह आस्ट्रिक भाषा परिवार की बोली मानी जाती है, जो खंडवा, बुरहानपुर, हरदा, होशंगाबाद, बैतूल आदि जिलों के साथ ही महाराष्ट्र के सीमावर्ती क्षेत्रों में भी बोली जाती है। कोरकू आस्ट्रो-एशियाई भाषा-परिवार की मुण्डा शाखा की भाषा है। कोरकू समुदाय की बसाहट गोंड समुदाय के आसपास होती है।बैगानी प्रमुख रूप से डिण्डौरी, मंडला, बालाघाट, शहडोल, अनूपपुर के साथ ही छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती क्षेत्रों में भी प्रचलित है। भरियाटी पातालकोट की भारिया जनजाति द्वारा बोली जाती है। इन सभी बोलियों का मौखिक साहित्य इनकी प्राचीनतम ज्ञान-परंपरा को रेखांकित करता है।मध्यप्रदेश में जनजातीय बोलियों की स्थिति यदि जनगणना संबंधी आँकड़ों के विश्लेषण के आधार पर देखी जाये तो यह पता चलता है कि इन भाषाओं के प्रयोक्ता जनसंख्या की तुलना में निरंतर कम होते जा रहे हैं। अल्प आबादी वाली जनजातियों द्वारा बहुसंख्यक समुदाय की बोलियों को संपर्क भाषा के रूप में व्यवहार में लाये जाने के कारण उनकी मातृभाषा विस्मृत होती जा रही है। निष्कर्ष रूप में जनजातीय भाषाओं की वर्तमान दशा को देखते हुए यही कहा जा सकता है कि अनुकूल माहौल बनाकर यदि इन्हें खुली हवा में साँस लेने का अवसर उपलब्ध नहीं कराया गया तो जल्दी ही इनका दम घुट जायेगा। इसलिये इनकी सही देखभाल घरों में ही हो सकती है। हर माँ को बच्चे की परवरिश अपनी भाषा में करनी होगी। स्कूल हो,या कार्यस्थल-कहीं भी किसी को अपनी भाषा बोलने से न रोका जाये।ये प्राचीन भाषाएँ बचेंगी तो इनके साथ करोड़ों वर्षों के अनुभव से अर्जित ज्ञान-संपदा भी बचेगी। संतोष की बात है कि वर्तमान मध्यप्रदेश सरकार जनजातीय संस्कृति और भाषाओं के संरक्षण को लेकर गंभीर है और इनके प्रोत्साहन के अनेक उपाय लगातार कर रही हैं।  

Kolar News

Kolar News 14 November 2022

राज्य शासन मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में जनसेवा का कार्य कर रहा है। राज्य शासन का ध्येय जनता की सेवा है। अपने दायित्वों का निर्वाह राज्य शासन द्वारा बखूबी किया जा रहा है। विकास के कार्यों को लगातार अंजाम दिया जाता रहेगा। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने यह बात रतलाम में विकास कार्यों के भूमि-पूजन कार्यक्रम में कही। मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने रतलाम में 1536 लाख 35 हजार रुपए लागत के शहर के विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया। उन्होंने रतलाम शहर विकास के लिए 200 करोड़ रुपए राशि स्वीकृति की। सिंह ने कहा कि शहर के विकास के लिए राशि की कमी नहीं आने दी जाएगी। आप जितना चाहेंगे उससे अधिक राशि मुख्यमंत्री चौहान द्वारा दी जाएगी। मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि 2024 तक सभी आवासहीनों को आवास उपलब्ध करा दिया जाएगा। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के अन्तर्गत 9 लाख आवास बनाने के लक्ष्य के तहत अब तक 6 लाख आवास निर्मित किये जा चुके हैं, इस कार्य में मध्यप्रदेश नम्बर वन है।      मंत्री सिंह ने विधायक चेतन्य काश्यप के रतलाम नगर को महानगर बनाने के विजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि विधायक काश्यप तथा महापौर प्रहलाद पटेल की मांग अनुसार शहर में विकास कार्यों के लिए 200 करोड रुपए की सौगात दी जायेगी, इसमें अमृत मिशन में 136 करोड़ रुपए तथा स्वच्छ भारत मिशन कार्यों के लिए 17 करोड़ रुपए सम्मिलित है। उन्होंने कहा कि कालोनियों के नियमितीकरण के लिए विधायक चेतन्य काश्यप द्वारा लगातार बात की गई तो राज्य शासन ने काश्यप की अध्यक्षता में एक कमेटी बना दी। कमेटी की अनुशंसा अनुसार शासन ने विधानसभा में कानून पारित करके लागू कर दिया है। रिडेंसीफिकेशन पालिसी में हमने सड़कों को भी शामिल किया है। अवैध एवं अविकसित कालोनियों को बनाने एवं विकसित करने के लिए जितनी भी राशि की जरुरत होगी, दी जाएगी। प्लाटों के विभक्तिकरण एवं जलापूर्ति के सम्बन्ध में भी समाधान निकाला जाएगा।   सांसद  गुमान सिंह डामोर ने कहा कि रतलाम शहर में तेजी से विकास हो रहा है। नगर महानगर बनने की ओर अग्रसर हो रहा है। विधायक चेतन्य काश्यप लगातार शहर की समृद्धि के लिए कार्य कर रहे हैं। विधायक चेतन्य काश्यप ने कहा कि प्रदेश सरकार शहर के नागरिकों की सुविधा के लिए हरसंभव संसाधन एवं सुविधाएँ उपलब्ध करा रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा संजीवनी क्लीनिक प्रारंभ किए गए हैं। नगर में 10 संजीवनी क्लीनिक बनाए जाएंगें, नागरिकों को अपने घर के नजदीक ही निःशुल्क उपचार की सुविधा उपलब्ध होगी। विधायक दिलीप मकवाना ने विधायक श्री चेतन्य काश्यप के नेतृत्व में रतलाम नगर में तेजी से किये जा रहे विकास कार्यो की प्रशंसा करते हुए कहा कि रतलाम नगर को महानगर बनाया जाना है। महापौर प्रहलाद पटेल ने कहा कि नवीन परिषद के 100 दिवस पूर्ण हो चुके हैं, इन 100 दिवसों में परिषद द्वारा 21 करोड़ से अधिक की राशि के विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया जा चुका है और आज रविवार को 15 करोड़ से अधिक की राशि के विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया गया है। निगम अध्यक्ष मनीषा शर्मा ने कहा कि विधायक श्री काश्यप के कार्यकाल में नगर ने विकास की रफ्तार पकड़ी है, जो दिन प्रतिदिन तेज होती जा रही है। अब वह दिन दूर नहीं जब रतलाम महानगर कहलाएगा। इस दौरान स्थानीय जन-प्रतिनिधि और नागरिक उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 14 November 2022

केन्द्रीय विद्युत सचिव आलोक कुमार ने  जबलपुर स्थित शक्ति भवन में बिजली कंपनियों के प्रबंध संचालकों के साथ केन्द्रीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। साथ ही प्रदेश के ऊर्जा क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों की जानकारी ली। केन्द्रीय सचिव कुमार ने कहा कि म.प्र. में ऊर्जा के क्षेत्र में किए जा रहे कार्य सराहनीय हैं। उन्होंने कहा कि बिजली कंपनियों द्वारा आईटी क्षेत्र के नवाचारों को अपनाए जाने से उपभोक्ता सेवाओं में सुधार हुआ है। कुमार ने विद्युत वितरण हानि कम करने के लिए किए जा रहे प्रयासों तथा  पेपरलेस बिलिंग, क्यू.आर. कोडिंग एवं लोड वेरिफिकेशन के लिए किए जा रहे कार्यों की भी प्रशंसा की। उन्होंने वितरण कंपनियों में स्मार्ट मीटरिंग एवं बिलिंग इफिसेयेन्सी बढाने पर जोर दिया।  प्रमुख सचिव ऊर्जा  संजय दुबे ने  केन्द्र शासन की महत्वाकांक्षी योजना आर.डी.एस.एस. के कार्यों की प्रगति से अवगत कराया। योजना में किए जा रहे कार्यों को जीआईएस सर्वे कर एवं ईआरपी में अपलोड कर प्राप्त बीओक्यू को टेंडर में दर्शाया गया है। इससे संबंधित एजेंसी द्वारा सटीक कार्य किया जा सकेगा।     आलोक कुमार ने योजना की पारदर्शिता की सराहना करते हुए म.प्र. को राष्ट्रीय स्तर पर प्रस्तुतिकरण देने के लिए नई दिल्ली आमंत्रित किया।केंद्रीय ऊर्जा सचिव ने सोलर रूफटॉप के क्षेत्र में देश के सबसे बड़े 750 मेगावाट क्षमता के रीवा सोलर पार्क एवं दुनिया के सबसे बडे़ 600 मेगावाट क्षमता के ओंकारेश्वर फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट की सफलता पर बधाई दी । पूर्व क्षेत्र कंपनी के एम.डी. अनय द्विवेदी ने स्मार्ट मीटरिंग, न्यू जनरेशन बिलिंग सिस्टम, कन्ज्यूमर इंडेक्सिंग, जीआईएस सर्वे, क्यू.आर. कोडिंग एवं लोड वेरीफिकेशन, एम.डी.एम., एन.ए.बी.एल. टेस्टिंग लैब, आदि की प्रगति को प्रेजेन्टेशन दिया। ट्रांसको के एम.डी. सुनील तिवारी ने ट्रांसमीशन लाइनों की ड्रोन टेक्नालॉजी से पेट्रोलिंग एवं सब-स्टेशनों के रिमोट आपरेशन सिस्टम की जानकारी दी। जेनको के एम.डी.  मनजीत सिंह ने विद्युत उत्पादन गृहों की स्थिति से अवगत कराया।

Kolar News

Kolar News 13 November 2022

ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने  कहा है कि आनंद नगर पार्क में असामाजिक तत्व न घूमें। इसके लिए पुलिस गश्त बढ़ाई जाएगी। मंत्री श्री तोमर ने कहा कि  पार्क में थाना प्रभारी, बीट प्रभारी, पार्क अधीक्षक और पार्क के कर्मचारियों के नाम अनिवार्य रूप से होना चाहिए। श्री तोमर ने शनिवार को ग्वालियर में बहोड़ापुर क्षेत्र में सड़क, सीवर, विद्युत पेयजल, साफ-सफाई और पार्क  के निरीक्षण में यह निर्देश दिए। ऊर्जा मंत्री तोमर सुबह बहोड़ापुर पहुँचे और आनंद नगर चौराहे रेलवे क्रोसिंग स्थित डिवाइडरों से डस्ट साफ करने और फोवर मशीन से डिवाइडर की धुलाई कराने की हिदायत दी। उन्होंने तिकोनिया पार्क में कचरा  साफ कराने  और सेल्फी पॉइंट बनाने के निर्देश भी दिये। ऊर्जा मंत्री तोमर ने आनंद नगर बी ब्लॉक में पानी की लाइन के लीकेज ठीक कराने और स्ट्रीट लाइट  जल्द सुधरवाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।

Kolar News

Kolar News 13 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि प्राकृतिक संसाधनों का पर्यावरण अनुकूल उपयोग सुनिश्चित किया जाना समय की अनिवार्यता है। आवश्यकता है कि पारंपरिक ऊर्जा के उत्पादकों और उपभोक्ताओं के लिए कुशलतर और स्वच्छ प्रक्रियाओं को विकसित किया जाएँ। पटेल आज राजभवन भोपाल से आभासी माध्यम से इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स द्वारा विद्युत अभियंताओं के 37वें राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि पर्यावरण की चिंता केवल सरकार की नहीं, प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है। ज़रूरी है कि ऊर्जा, पर्यावरण-संरक्षण के प्रति बच्चे, युवा और बुजुर्ग सजग और सक्रिय हों। उन्होंने आशा व्यक्त की कि सम्मेलन ऊर्जा प्रौद्योगिकी के विकास के लिए अभियंताओं के बीच विचारों के आदान-प्रदान का मंच बनेगा। देश को औद्योगिक रूप से अधिक उन्नत और भावी पीढ़ियों के लिए स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण पथ को आलोकित करेगा।   राज्यपाल पटेल ने कहा कि देश प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में वर्ष 2047 तक 5 ट्रिलियन की अर्थ-व्यवस्था के लक्ष्य की ओर तेजी से आगे बढ़ रहा है। भारत दुनिया के 5 शीर्ष अर्थ-व्यवस्थाओं की सूची में शामिल हो गया है। केंद्र सरकार चौथी औद्योगिक क्रांति के द्वारा राष्ट्रीय अर्थ-व्यवस्था को बढ़ावा और नागरिकों को सस्ती कीमत पर बिजली देने के लिये प्रयासरत है। ऊर्जा आपूर्ति पर्यावरण सुरक्षित हो, इस दिशा में सरकार तेजी से कार्य कर रही है। दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छ पर्यावरण के लिए वर्ष 2030 तक सकल घरेलू उत्पाद की उत्सर्जन सघनता को वर्ष 2005 के स्तर से 33 से 35 प्रतिशत तक कम करने का संकल्प किया है। राज्यपाल पटेल ने कहा कि वर्ष 2030 तक गैर-जीवाश्म आधारित बिजली उत्पादन क्षमता को स्थापित ऊर्जा उत्पादन के करीब 30 प्रतिशत तक ले जाने का लक्ष्य तय किया गया है। साथ ही अतिरिक्त वन और वृक्ष आच्छादन के माध्यम से एक अतिरिक्त संचयी कार्बन सिंक बनाने के कार्य भी तेज गति से चल रहे हैं। केंद्र और प्रदेश सरकारें ऊर्जा आपूर्ति में सौर और पवन ऊर्जा जैसे नवकरणीय संसाधनों पर विशेष बल दे रही हैं ।   इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग डिवीजन बोर्ड के अध्यक्ष प्रोफेसर सुधीर कुमार कल्ला ने कहा कि स्वच्छ, हरित ऊर्जा के प्रति जन-जागृति निरंतर बढ़ रही है। उसका बाजार भी तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने ऊर्जा की मांग के अनुसार उन्नत तकनीकों के विकास की जरूरत बताई। सम्मेलन के संयोजक डॉ. विवेक चंद्रा ने कहा कि ऊर्जा का उपयोग जीवन स्तर की गुणवत्ता का आधार है, जिसे प्रति व्यक्ति ऊर्जा उपभोग से समझा जाता है। उन्होंने ऊर्जा के क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों का विवरण देते हुए संगोष्ठी का विषय प्रवर्तन किया। स्वागत उद्बोधन इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स  की जबलपुर इकाई के अध्यक्ष प्रकाश चंद दुबे ने दिया। मानसेवी सचिव संजय कुमार मेहता ने आभार माना।

Kolar News

Kolar News 13 November 2022

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने शुक्रवार को भारत टॉकीज आरओबी का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मंत्री सारंग ने आरओबी के नीचे गोदाम में संचालित अवैध दुकानों के बंद न होने को लेकर पीडब्लूडी के सेतु विभाग के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। मंत्री सारंग ने गोदाम को तत्काल बंद करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि आरओबी के नीचे गोदाम में फर्नीचर और वेल्डिंग की अवैध दुकानों में तोड़फोड़ का कार्य होने से आरओबी की आयु पर विपरित असर होता है। इसको लेकर तत्काल गोदाम बंद करने के निर्देश दिये गये हैं। मंत्री सारंग ने बताया कि वर्ष 1973 में निर्मित भारत टॉकीज आरओबी पुराने और नये भोपाल को मेन स्टेशन से जोड़ने का महत्वपूर्ण सेतु है। आरओबी से प्रतिदिन हजारों की संख्या में वाहनों का आवागमन होता है। लगभग 49 साल पुराने ब्रिज के पीयर्स और स्लेब के बीच मौजूद बियरिंग खराब हो गये हैं, जिससे बड़ी दुर्घटना की आशंका बन रही थी। इसीलिये आरओबी की मरम्मत के लिये योजना बनाई गई है।      सारंग   ने कहा कि रेलवे ओवर ब्रिज की लंबाई 700 मीटर पर पूर्व में किया गया डामर 20 नवंबर तक पूरी तरह से हटाया जायेगा। इसके बाद आरओबी के सभी 144 बियरिंग बदले जायेंगे।  इस मरम्मत कार्य के पूरा होने से आरओबी की आयु लगभग 25 साल और बढ़ जायेगी। इस मरम्मत कार्य को पूर्ण होने में लगभग डेढ़ माह का समय लगेगा।मंत्री सारंग ने बताया कि आरओबी की बियरिंग बदलने की प्रकिया पुल के स्लैब को लिफ्ट करके संपादित की जायेगी। पुल के स्लैब को लिफ्ट करने एवं बियरिंग बदलने की प्रक्रिया शुरू करने से पूर्व ट्रेफिक व्यवस्था में परिवर्तन किया जायेगा। इसके लिये रेलवे एवं ट्रैफिक विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर परिवर्तित ट्रैफिक प्लान बनाया जायेगा, जिससे नागरिकों को आवागमन में असुविधा का सामना ना करना पड़े। निरीक्षण के दौरान मंत्री सारंग ने आरओबी के नीचे असामाजिक तत्वों की गतिविधि होने पर बजरिया थाना प्रभारी के समक्ष नाराजगी व्यक्त करते हुए असामाजिक तत्वों पर शीघ्र कार्रवाई करने के भी निर्देश दिये।  

Kolar News

Kolar News 12 November 2022

प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार में सराहनीय कार्य हुआ है। यह जानकारी केन्द्र शासन के विशेष दल द्वारा सीधी एवं सिंगरौली जिले में स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार के निरीक्षण के बाद दिये प्रतिवेदन में दी गई। केन्द्र सरकार के विशेष दल द्वारा इस वर्ष सीधी और सिंगरौली जिले की स्वास्थ्य संस्थाओं का भ्रमण किया गया। भ्रमण के बाद दल ने दिये प्रतिवेदन में बताया कि आयुष, एचडब्ल्यूसी, स्वास्थ्य संस्थाओं में पैथालॉजी लेब, डायलिसिस उपकरण के रख-रखाव, योजनाओं के क्रियान्वयन के साथ ही एनआरसी में भर्ती कुपोषित बच्चों की प्रगति की मॉनीटरिंग के लिये एनआरसी, एमआईसी पोर्टल का संधारण बहुत अच्छे से किया गया है। दल द्वारा बताया गया कि स्वास्थ्य संस्थाओं में शाम की ओपीडी लाभदायक है। जाँच दलों ने बताया कि स्वास्थ्य संस्थाओं में डिजिटल हीमोग्लोबिन मीटर से खून की जाँच की जा रही है, जिससे एनीमिया का समय पर पता कर उपचार किया जा रहा है। एमपी आरोग्यम से सीएचओ की परफार्मेंस को मॉनीटर किया जा रहा है। ममता कॉर्नर, सुमन डेस्क और जननी एक्सप्रेस महिलाओं के लिये मददगार साबित हो रही हैं।   जाँच दल ने बताया कि टी.बी. मुक्त भारत बनाये जाने के लिये टी.बी. की जाँच और उपचार की व्यवस्था ग्राम स्तर तक सुनिश्चित की जाए। विभागीय संरचना में हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर पर पदस्थ कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर की भूमिका को सशक्त बनाया जाए। इनके माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए, जिससे कि मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम किया जा सके। प्रतिवेदन में जाँच दल ने बताया कि जिले और राज्य की जरूरतों के लिये आईटी पोर्टल का विकास किया जाए। केन्द्र सरकार के विशेष जाँच दल ने प्रतिवेदन का प्रस्तुतिकरण एम.डी. एनएचएम सुश्री प्रियंका दास की अध्यक्षता में एनएचएम मुख्यालय में हुई कॉमन रिव्यू मीटिंग में दिया गया। सीधी जिले में भ्रमण करने वाले केन्द्र शासन के विशेष दल में डॉ. एम.ए. बालसुब्रमण्यम, एडवाइजर सीपीसीएससी और जिला सिंगरौली में  रंगोली पाठक उप संचालक एमएमपी सेल केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय टीम लीडर थी। केन्द्र सरकार के विशेष दल द्वारा जिलों में 5 दिवसीय भ्रमण किया गया। एम.डी. एनएचएम सुश्री दास ने बताया कि मातृ और शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिये निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। इसके लिये स्टेट टॉस्क कम्युनिटी बनाई गई है, जिसके द्वारा मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के कार्यक्रमों की मॉनीटरिंग की जा रही है।  

Kolar News

Kolar News 12 November 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि पूरे प्रदेश में कहीं भी खाद की कमी नहीं है और खाद के नाम पर अराजकता फैलाने वाले लोगों को चाहे वे कोई भी हो बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। मुख्यमंत्री शुक्रवार को रायसेन जिले के सुल्तानपुर में पूर्व मुख्यमंत्री स्व. सुंदरलाल पटवा की जयंती कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने स्व. श्री पटवा की प्रतिमा का अनावरण भी किया।  मुख्यमंत्री  चौहान ने स्व. श्री पटवा के व्यक्तित्व और कृतित्व को रेखांकित करते हुए कहा कि राज्य सरकार समाज के सबसे गरीब व्यक्तियों के कल्याण में लगी हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों को हर हितग्राही मूलक योजना का लाभ ढूंढ-ढूंढ कर सुनिश्चित किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान की मंच पर ही समीक्षा करते हुए कलेक्टर को निर्देश दिए कि कोई भी गरीब बिना राशन के न रहे, सभी को उज्ज्वला योजना का लाभ मिले।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारी माताओं-बहनों को आत्म-निर्भर बनाने के लिए स्व-सहायता समूहों से जोड़ा जा रहा है। महिलाओं की आमदनी 10 हजार रूपये माह करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं को पानी के लिए होने वाली परेशानी को दूर करने के लिए जल जीवन मिशन से हर घर में नल से जल प्रदाय करने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि समूह पेयजल योजना के लिए परीक्षण कर घरों में आसपास से नल द्वारा जल पहुँचाने का काम किया जाए। किसानों की आमदनी में वृद्धि के लिए सिंचाई के रकबे में लगातार वृद्धि की जा रही है। नवीन जल संरचनाओं का निर्माण किया जा रहा है। बारिश के पानी को संग्रहीत किया जा रहा है। समर्थन मूल्य पर गेहूँ, मूंग, धान सहित अन्य उपजों की खरीदी की जा रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बाड़ी, सुल्तानपुर, मण्डीदीप, औबेदुल्लागंज में विधायक  सुरेन्द्र पटवा द्वारा अनेक विकास के कार्य किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में उद्योगों का विकास करना है। जनता की बेहतर सेवा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान में लोगों की समस्याओं का निराकरण कर हितग्राहियों को शासन की योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है।   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राशन, उज्ज्वला रसोई गैस कनेक्शन, लाड़ली लक्ष्मी योजना, बेटियों की शिक्षा, कन्या विवाह योजना, सहित अनेक योजनाएँ चलाई जा रही हैं। दिव्यांगों को सरकार की योजनाओं का मिलेगा, कोई भी दिव्यांग बिना लाभ के नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भू-आवासीय अधिकार योजना से ग्रामीणों को आवासीय भूमि का अधिकार सौंपा जा रहा है। इसके अलावा मेधावी विद्यार्थी योजना के माध्यम से आगे बढ़ने के अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब प्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई हिन्दी में कराई जा रही है। इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी हिन्दी माध्यम से कराई जाएगी मुख्यमंत्री चौहान ने भोजपुर विधानसभा क्षेत्र में 7900 लाख रूपये की लागत के विकास कार्यों का शिलान्यास एवं भूमि-पूजन किया1 उन्होंने 1500 लाख रूपये की लागत वाले विकास कार्यों का लोकार्पण किया।

Kolar News

Kolar News 12 November 2022

नेशनल चीफ सेक्रेटरी कांफ्रेंस 2.0 की तैयारियों के मद्देनजर नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा प्रारंभिक कार्यशाला की गई। कार्यशाला में नगरीय क्षेत्रों की अधो-संरचना और विकास, नगरीय लोक परिवहन, औद्योगिक विकास एवं ऊर्जा जैसे विषयों पर चर्चा की गई। प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास मनीष सिंह ने कार्यशाला की जानकारी दी। आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास भरत यादव ने निर्धारित विषयों पर चर्चा की।  मध्यप्रदेश अर्बन डेवलपमेंट कम्पनी के प्रमुख अभियंता दीपक रत्नावत और पीएमसी टीम लीडर के.के श्रीवास्तव ने "मध्यप्रदेश में गैर राजस्व, जल और ऊर्जा के लिए रणनीतियाँ" विषय पर प्रेजेंटेशन दिया। अपर आयुक्त रूचिका चौहान, उप सचिव श्री हर्ष पांचोली एवं अन्य अधिकारी मौजूद रहे।   

Kolar News

Kolar News 10 November 2022

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अनुपम राजन ने कहा है कि जिस व्यक्ति ने आज की तारीख में 17 साल से अधिक की आयु पूरी कर ली है वह अपना नाम मतदाता सूची में जुड़वाने के लिए अग्रिम रूप से आवेदन दे सकता है। उसे दोबारा आवेदन देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 18 साल की आयु पूरी करते ही उसका नाम मतदाता सूची में जुड़ जाएगा। उन्होंने कहा कि मतदाता ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम का उपयोग कर अपना नाम मतदाता सूची में जुड़वाने के लिए फॉर्म भर सकता है।   प्रदेश में 9 नवंबर से मतदाता सूची के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2023 कार्यक्रम की शुरूआत हुई। इस मौके पर मतदाताओं को जागरूक करने राज्य स्तरीय साइकिल रैली निकाली गयी। भोपाल में निर्वाचन सदन और जिला प्रशासन द्वारा सुबह 8 बजे साइकिल रैली निकाली गई। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अनुपम राजन ने भारत माता चौराहे से साइकिल रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस दौरान वे भी साइकिल पर सवार होकर रैली के साथ चले। भारत माता चौराहे से शुरू रैली लाड़ली लक्ष्मी पथ, पॉलीटेक्निक चौराहा होते हुए वोट क्लब पहुँची, जहाँ रैली का समापन हुआ। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने रैली में शामिल छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र बाँटे। उन्होंने कहा कि 17 साल से अधिक आयु वाले युवा अपना नाम मतदाता सूची में जुड़वाने के लिए अग्रिम रूप से आवेदन दे सकते हैं। सूची में नाम जुड़वाने के लिए कही भटकने की जरूरत नहीं पड़ेगी। सभी लोग अपना नाम मतदाता सूची में शामिल करवायें। परिवार, पास पड़ोस के लोगों को भी मतदाता सूची में नाम जुड़वाने, हटाने, सहित अन्य गतिविधियों के बारे में जागरूक करें। साइकिल रैली के दौरान भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया, राज्य स्तरीय आईकॉन राजीव वर्मा, अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राजेश कुमार कौल सहित बड़ी संख्या में अधिकारी और युवा मतदाता मौजूद रहे। राजन ने कहा कि मतदाता पहचान-पत्र के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं है। आपका वोटर आईडी कार्ड स्पीड़ पोस्ट से आपके घर तक पहुँच जाएगा। मतदाता सूची के संक्षिप्त पुनरीक्षण 2023 के दौरान प्रदेश के सभी 64 हजार 100 मतदान केंद्रों पर सुबह 10 से शाम 5 बजे तक बीएलओ मौजूद रहेंगे।

Kolar News

Kolar News 10 November 2022

अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास और विकास आयुक्त मलय श्रीवास्तव ने कहा है कि ग्रामीण विकास की योजनाओं में मध्यप्रदेश "स्टार परफॉर्मर" है। प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण, ग्राम सड़क योजना, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन आदि के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में अग्रणी है। विभागीय अधिकारी पूरी तन्मयता, मेहनत और निष्ठा के साथ कार्य करते रहें और सभी योजनाओं में प्रदेश और बेहतर प्रदर्शन करें। अपर मुख्य सचिव श्रीवास्तव आज विकास आयुक्त कार्यालय, विंध्याचल भवन में विभागीय कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्य कार्यपालन अधिकारी ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण  तन्वी सुंद्रियाल और मुख्य कार्यपालन अधिकारी ग्रामीण आजीविका मिशन ललित मोहन बेलवाल उपस्थित थे। अपर मुख्य सचिव  श्रीवास्तव ने निर्देश दिए कि मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान में सभी पात्र हितग्राहियों को समय-सीमा में विभागीय योजनाओं का शत-प्रतिशत लाभ सुनिश्चित किये जाएँ। केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं का प्रदेश को अधिक से अधिक लाभ मिले, इसके लिए संबंधित अधिकारियों से निरंतर समन्वय कर केन्द्र सरकार से जितने संसाधन लाये जा सकें लाये जाएँ। श्रीवास्तव ने इसके पूर्व विकास आयुक्त कार्यालय का निरीक्षण भी किया। उन्होंने कार्यालय भवन और कार्य-स्थल पर स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने को कहा।

Kolar News

Kolar News 10 November 2022

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने निवास पर प्रतिदिन होने वाले ‘जनदर्शन’ में मंगलवार को आयी कैंसर रोग से पीड़ित महिला को स्वयं एम्बुलेंस से अस्पताल के लिये रवाना किया। साथ ही उन्होंने महिला का संपूर्ण इलाज निःशुल्क करवाने की भी व्यवस्था की। भोपाल के साईबाबा नगर, अरेरा कॉलोनी निवासी  संतोषी बाई रायकवार पिछले कई महिनों से कैंसर रोग से ग्रसित है। आर्थिक रूप से कमजोर होने से कैंसर के इलाज के लिये वे मंगलवार को मंत्री सारंग के निवास पर प्रतिदिन होने वाले जनदर्शन में पहुँची। उन्होंने अपनी समस्या से मंत्री श्री सारंग को अवगत कराया। मंत्री श्री सारंग ने उपस्थित अधिकारी को तत्काल एम्बुलेंस बुलाने का निर्देश दिये। मंत्री निवास से ही एम्बुलेंस से कैंसर पीड़िता को इलाज के लिये चिरायु अस्पताल भेजा गया। मंत्री सारंग ने महिला का संपूर्ण इलाज निःशुल्क करवाने का आश्वासन दिया।     मंगलवार को जनदर्शन में आये रूपनगर, गोविंदपुरा निवासी दिव्यांग  नत्थुलाल खेरजे अपनी पत्नी के साथ आर्थिक सहायता का आवेदन लेकर आये थे। मंत्री सारंग ने बुजुर्ग दंपत्ति को ट्राईसाइकल के साथ आयुष्मान कार्ड, गरीबी रेखा राशन कार्ड, वृद्धावस्था पेंशन और संबल योजना का लाभ प्रदान करने के निर्देश संबंधित अधिकारी को देकर त्वरित सहायता पहुँचाई। सेवा परमो धर्मः के विचार को आत्म-सात करते हुए विगत 14 वर्ष से भी अधिक समय से मंत्री श्री सारंग द्वारा निवास पर जनता की समस्याओं के तत्काल समाधान के लिए प्रतिदिन “जनदर्शन” किया जा रहा है। मंत्री सारंग जनता की आर्थिक एवं स्वास्थ्य से संबंधित समस्या से लेकर मूलभूत आवश्यक्ताओं से संबंधित समस्याओं को सुन कर उनका तत्काल निराकरण करते हैं। जन-सेवा के इस अभिनव प्रकल्प से अब तक हजारों की संख्या में लोग लाभांवित हुए हैं। वही वर्तमान में भी बड़ी संख्या में भोपाल सहित अन्य जिलों से भी नागरिक प्रतिदिन मंत्री सारंग के निवास पहुँच रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 9 November 2022

पर्यावरण, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग ने मंगलवार को प्रकाश पर्व पर भोपाल के हमीदिया रोड स्थित गुरूद्वारे में मत्था टेका और अरदास की। मंत्री  डंग ने कहा कि गुरू नानक देव द्वारा 500 वर्ष पहले दी गई शिक्षा आज भी मानव मात्र के उत्थान के लिये एक प्रकाश पुंज का कार्य कर रही हैं। 'नाम जपो (प्रभु का सिमरन करो), कीरत करो (ईमानदारी से कड़ी मेहनत करो) वंड छको (बाँट कर खाओ)' का सिक्ख समुदाय पालन कर रहा है। गुरूद्वारों में आज भी लंगर और मानव सेवा गुरू नानक जी की देन है। मंत्री डंग ने गुरूद्वारे में अरदास, गुरू ग्रंथ साहिब की सेवा के साथ कारसेवा भी की। उन्होंने गुरूद्वारा प्रबंधन द्वारा बताई गई समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन भी दिया। मंत्री डंग ने कहा कि गुरू नानक देव ने भारत, अफगानिस्तान, अरब सहित अनेक स्थान पर 30 वर्ष तक यात्रा कर मानव जीवन को सार्थक बनाने में अपना सम्पूर्ण जीवन समर्पित कर दिया। गौरव की बात है कि गुरू नानक देव के चरण भोपाल में पड़े थे।  

Kolar News

Kolar News 9 November 2022

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) पीटीआरआई जी. जनार्दन ने बताया है कि दो पहिया वाहन सवारों की सुरक्षा के लिये हेलमेट का अनिवार्य उपयोग सुनिश्चित करने के लिये समग्र प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा है कि हेलमेट के उपयोग के लिये जागरूकता अभियान के साथ वाहन अधिनियम में कार्यवाही भी की जा रही है। एक लाख से अधिक दो पहिया वाहन सवारों के विरुद्ध चालानी कार्यवाही की गई है। जनार्दन ने कहा कि जागरूकता कार्यक्रम और दण्डात्मक कार्यवाही आगे भी जारी रहेगी।   एडीजी जनार्दन ने बताया है कि बगैर हेलमेट के वाहन सवारों की सड़क दुर्घटना में होने वाली जन-हानि को रोकने के लिये विशेष जागरूकता अभियान पुलिस और परिवहन विभाग द्वारा मिल कर चलाया जा रहा है। इसके लिये आवश्यक निर्देश भी सभी शासकीय कार्यालयों और शैक्षणिक संस्थानों के लिये जारी किये गये हैं। ऑटोमोबाइल शॉप, होटल, ढाबा, रेस्टोरेंट, मॉल, लायसेंसी शराब की दुकानें, पार्किंग संचालकों, पेट्रोल पम्पों को बगैर हेलमेट धारण किये वाहन सवार को वांछित सुविधा उपलब्ध न कराने के निर्देश प्रसारित किये गये हैं। इसी प्रकार वाहन विक्रय केन्द्रों को वाहन के साथ हेलमेट भी विक्रय करने को पाबंद किया गया है।   एडीजी जनार्दन ने बताया है कि जागरूकता कार्यक्रम के प्रचार-प्रसार के लिये इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, प्रिंट मीडिया और सोशल मीडिया के साथ अन्य माध्यमों का उपयोग कर आमजन को हेलमेट धारण करने के लिये जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पुलिस एवं परिवहन विभाग ने मिल कर 6 से 20 अक्टूबर, 2022 तक जागरूकता अभियान के साथ ही हेलमेट धारण न करने वाले दो पहिया वाहन सवारों के विरुद्ध मोटर व्हीकल एक्ट की धारा-128 एवं 129 में एक लाख 8 हजार 139 चालान किये गये। जबलपुर में सर्वाधिक 13 हजार 105, सागर में 7106, भोपाल में 5966, इंदौर में 4830, सिंगरौली में 4087, शिवपुरी में 3517 सहित अन्य जिलों में चालान बनाये गये।  

Kolar News

Kolar News 8 November 2022

राष्ट्रीय मीन्स कम मेरिट स्कालरशिप परीक्षा में इस वर्ष मध्यप्रदेश से रिकार्ड 2 लाख 52 हज़ार से अधिक विद्यार्थियों ने सहभागिता की है। गत वर्षों में इस छात्रवृति परीक्षा में सम्मिलित होने वाले विद्यार्थियों की संख्या वर्ष 2019 में अधिकतम एक लाख ही रही है। इस सबंध में संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र धनराजू एस ने बताया कि पूर्व वर्ष तक इस परीक्षा के लिए आवेदन प्रक्रिया एमपी ऑनलाइन कियोस्क से होती थी। जिसके स्थान पर इस वर्ष राज्य शिक्षा केन्द्र के द्वारा मोबाइल एप प्रणाली विकसित कर शालाओं के प्रधानाध्यापकों के माध्यम से विद्यार्थियों के पंजीयन की सुविधा उपलब्ध कराई गई है।   संचालक धनराजू एस ने बताया कि राष्ट्रीय मीन्स कम मेरिट परीक्षा का उददेश्य आर्थिक रूप से कमजोर किन्तु प्रतिभाशाली छात्रों का चयन कर छात्रवृति प्रदान करना है। इस परीक्षा के लिए म.प्र. राज्य में स्थित केवल शासकीय एवं शासकीय अनुदान प्राप्त अथवा स्थानीय निकायों द्वारा संचालित विद्यालयों में कक्षा 8 वीं में नियमित रूप से अध्ययनरत ऐसे विद्यार्थी ही पात्र होते हैं, जिन्होंने कक्षा 7 वीं में कम से कम सी ग्रेड प्राप्त किया है। छात्र-छात्राओं के अभिभावक की वार्षिक आय 3.50 लाख रूपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। छात्रवृति के लिए मध्यप्रदेश राज्य के लिए शिक्षा मंत्रालय, केन्द्र सरकार द्वारा 6,446 छात्रों का कोटा निर्धारित है। इसमें चयनित छात्रों को कक्षा 9 वीं से 12 वीं तक 12 हजार रूपये प्रतिवर्ष के मान से छात्रवृत्ति प्राप्त होती है। इस वर्ष इस परीक्षा के सुचारू आयोजन के लिए संपूर्ण प्रदेश में कुल 811 परीक्षा केन्द्र बनाये गए थे। छात्रवृति के लिए कुल 2 लाख 52 हजार 410 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी है।  

Kolar News

Kolar News 8 November 2022

राज्यपाल  मंगुभाई पटेल ने कहा है कि प्रगति की पहली सीढ़ी शिक्षा है। उन्होंने जनजातीय छात्र-छात्राओं का आव्हान किया कि विकास की मुख्यधारा के साथ कदम ताल के लिए अच्छी से अच्छी शिक्षा प्राप्त करें। राज्यपाल पटेल एकलव्य विद्यालयों की बैंगलुरु में आयोजित राष्ट्रीय सांस्कृतिक एवं साहित्यिक प्रतियोगिता में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले प्रदेश के छात्र-छात्राओं के दल से आज राजभवन मे चर्चा कर रहे थे। पटेल ने सभी प्रतिभागियों को उपहार भी दिए।राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि जीवन में सफलता के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है। जनजातीय बच्चों की अच्छी शिक्षा में कोई बाधा नहीं आए। उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा बच्चों की प्रतिभा को उजागर करने के लिए राष्ट्रीय प्रतियोगिता के आयोजन की सराहना की। उन्होंने कहा कि केंद्र एवं राज्य सरकार बेहतर शिक्षा के लिए सभी तरह के प्रयास कर रही हैं। विदेशों में शिक्षा प्राप्त करने के प्रयासों में भी सरकार सहयोग करती है और अपने माता-पिता, विद्यालय और गुरूओं के योगदान को कभी भूले नहीं और उनके सम्मान के प्रति सदैव सजग रहें।आयुक्त जनजातीय कार्य संजीव सिंह ने बताया कि बैंगलुरु कर्नाटक में आयोजित साहित्यिक एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता में मध्यप्रदेश राज्य के दल ने 13 विभिन्न विधाओं में पुरस्कार प्राप्त किए हैं। प्रतियोगिता में ओवर ऑल मध्यप्रदेश को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है। आभार प्रदर्शन अपर आयुक्त जनजातीय श्री के.जी. तिवारी ने किया।  

Kolar News

Kolar News 8 November 2022

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने विगत रात ग्वालियर में शिंदे की छावनी स्थित लक्ष्मण तलैया सड़क के निर्माण कार्य और रविवार को सुबह 6 बजे किलागेट से घास मंडी तक सड़क डामरीकरण का जायजा लिया। मंत्री तोमर किलागेट से घास मंडी तक सड़क डामरीकरण का कार्य का जायजा लेने सुबह  बाइक पर सवार होकर पहुँचे थे। मंत्री तोमर ने अधिकारियों से कहा कि विकास कार्यों को तेजी से पूर्ण किया जाए। सड़कों का निर्माण  दिन-रात काम कर पूरा कराया जाए। निर्माण कार्यों में लापरवाही बरतने वालों के विरूद्ध दण्डात्मक कार्रवाई की जाएगी। ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा की निर्माण  कार्य पूर्ण करने की समय-सीमा निर्धारित की जाए।  साथ ही ऊर्जा मंत्री तोमर ने ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में गलियों में घूम कर जनता का हालचाल  जाना।

Kolar News

Kolar News 7 November 2022

मध्यप्रदेश स्थापना दिवस कार्यक्रम श्रृंखला अंतर्गत एप्को द्वारा जतरंग वेटलैंड इंटरप्रिटेशन सेंटर भोपाल में पर्यावरण और प्राकृतिक-संरक्षण विषय पर विद्यालयीन छात्रों की चित्रकला तथा महाविद्यालय छात्रों की क्विज प्रतियोगिता हुई। इन प्रतियोगिताओं में लगभग 200 छात्र ने उत्साहपूर्वक शामिल होकर पर्यावरण-संरक्षण के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दर्शाई। भोपाल के विभिन्न विद्यालयों के अध्यापक और महाविद्यालयों के प्राध्यापकगण उपस्थित रहे। स्थापना दिवस कार्यक्रम श्रृंखला अंतर्गत राष्ट्रीय हरित कोर योजना में प्रदेश के सभी जिलों के विद्यालयों के 15 हजार 600 और महाविद्यालयों के 100 ईको क्लब में पर्यावरण- संरक्षण और जन-जागरूकता संबंधित विभिन्न गतिविधियाँ की जा रही हैं।

Kolar News

Kolar News 7 November 2022

मध्यप्रदेश स्थापना दिवस की श्रृंखला में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री बृजेन्द्र सिंह यादव के मुख्य आतिथ्य में डॉ. विश्वैश्वरैया सभागार, जल भवन, भोपाल में सेमीनार हुआ। सेमीनार का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के 39 जिलों के करीब 10 हजार से अधिक जल-स्रोत विहीन ग्रामों के लिये शुद्ध पेयजल की कार्य-योजना तैयार करना और आम लोगों में जल-संरक्षण एवं संवर्द्धन के लिये जागरूकता लाना है। राज्य मंत्री यादव ने कहा है कि प्रदेश में निरंतर गिर रहे जल-स्तर से आमजन प्रभावित न हो और सभी को उनकी जरूरत के अनुसार पानी मिल सके, इसके लिये जल-संरक्षण बहुत जरूरी है। उन्होंने अपने गाँव की तालाबी खेती का उदाहरण देकर जल-संरक्षण की उपयोगिता को समझाया। राज्य मंत्री यादव ने कहा कि जल-संरक्षण एवं संवर्द्धन को एक निरंतर प्रक्रिया के रूप में चलाया जाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि जल की दीर्घकालिक उपलब्धता के लिये जल-संरक्षण जरूरी है, तभी हम लम्बे समय तक पेयजल योजनाओं का बेहतर लाभ प्राप्त कर सकेंगे।   अपर मुख्य सचिव पीएचई  मलय श्रीवास्तव ने कहा कि जल-जीवन मिशन से ग्रामीण परिवारों को जल देने की व्यवस्था की जा रही है। यह बहुत जरूरी है कि ग्रामीण क्षेत्र में जल-संरक्षण एवं संवर्द्धन के समुचित उपाय किये जायें। उन्होंने कहा कि ग्रामवासियों को जल-संरक्षण के लिये जागरूक करना हम सबकी जिम्मेदारी है। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि जल-स्रोत विहीन ग्रामों की जल-प्रदाय व्यवस्था के लिये स्थानीय स्रोतों के अनुरूप और ग्रामीणजनों की सहभागिता को शामिल करते हुए बेहतर कार्य-योजनाएँ बनाई जाना चाहिये। निदेशक केन्द्रीय भू-जल बोर्ड  राकेश सिंह ने जल-स्रोत विहीन ग्रामों की पेयजल व्यवस्था के संबंध में विशेष कार्य-योजना तैयार किये जाने पर बल दिया। उन्होंने कहा‍कि विभाग इस कार्य-योजना में ग्रामीण आबादी से पूरी तरह समन्वय बना कर जल-संरचनाओं का निर्माण करे। 

Kolar News

Kolar News 7 November 2022

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने प्रभात चौराहे का मेट्रो और पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के साथ निरीक्षण कर फ्लाईओवर एवं मेट्रो की लाइन को लेकर आ रही दिक्कतों को दूर कर दोनों विभागों में तालमेल बैठाया। साथ ही महानगरों की तर्ज पर थ्री टियर सिस्टम बनाने का सुझाव दिया। मंत्री सारंग ने बताया कि प्रभात चौराहे पर भारी यातायात को देखते हुए फ्लाईओवर का निर्माण कराया जा रहा है। वहीँ से मेट्रो लाइन का रूट नम्बर 2 भी निकल रहा है। इसको लेकर दोनों विभागों में कुछ दिक्कते थीं। अत: दोनों विभागों के अधिकारियों के साथ मौके पर जाकर निरीक्षण किया गया है और दोनों के बीच तालमेल बैठाया गया है।मंत्री  सारंग ने कहा कि एक ही अलाइनमेंट में एलिवेटेड डिज़ाइन से फ्लाईओवर का निर्माण किया जाएगा और यह फ्लाईओवर थ्री टियर सिस्टम पर बनाया जाएगा, जिसमें सबसे नीचे सुभाष नगर फ्लाईओवर से स्टेशन जाने वाला यातायात निकलेगा। बीच में बोगदा पुल से रायसेन जाने वाला यातायात निकलेगा और सबसे ऊपर मेट्रो की लाइन निकलेगी। मंत्री सारंग ने बताया कि उन्होंने मेट्रो के जीएम को रूट 2 को रूट 4 से प्रभात चौराहे जोड़ने के भी निर्देश दिये हैं। निरीक्षण के दौरान मेट्रो के जीएम, पीडब्ल्यूडी सेतु के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 6 November 2022

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने शनिवार को इंदौर के तलावली चांदा में निर्माणाधीन खाद्य एवं औषधि प्रशिक्षण प्रयोगशाला भवन का निरीक्षण किया। प्रयोगशाला का निर्माण 4 करोड़ 35 लाख रूपये की लागत से किया जा रहा है। उन्होंने भवन का निर्माण कार्य शीघ्र पूर्ण कर फरवरी 2023 के अंत तक शुरू करने के लिये कहा। मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि प्रयोगशाला खाद्य पदार्थों के तत्काल परीक्षण में उपयोगी साबित होगी। इसमें अत्याधुनिक उपकरण रहेंगे। इंदौर समेत उज्जैन संभाग के मिलावट संबंधी नमूनों के तत्काल परीक्षण की सुविधा मिलेगी। मंत्री डॉ. चौधरी ने प्रयोगशाला में एयर कंडीशनर एवं फर्नीचर के लिए अलग से एक करोड़ 75 लाख रूपये जारी करने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मिलावट के खिलाफ कठोर कार्यवाही के प्रावधान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की सरकार द्वारा किए गए हैं। लोगों को शुद्ध खानपान एवं खाद्य सामग्री मुहैया हो इसके तमाम प्रबंध किए जा रहे हैं।  

Kolar News

Kolar News 6 November 2022

चिकित्सा शिक्षा एवं भोपाल गैस त्रासदी मंत्री विश्वास सारंग ने कहा है कि अच्छी जीवन शैली और नियमित दिनचर्या अपनाकर काफी हद तक मधुमेह, हार्ट अटैक, उच्च रक्तचाप आदि बीमारियों से बचा जा सकता है। सभी चिकित्सकों को मरीजों को कम से कम दर पर अच्छी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करानी चाहिए। शहर के चिकित्सकों को ग्रामों और दूर-दराज के क्षेत्रों में अपनी सेवाएँ देने के लिये आगे आना चाहिए, जिससे वहाँ के लोगों के स्वास्थ्य में सुधार हो।मंत्री सारंग ने आज स्थानीय होटल में हृदय एवं मधुमेह रोग केन्द्रित दो दिवसीय 20वें राष्ट्रीय सम्मेलन का शुभारंभ किया। सम्मेलन में भारत के विभिन्न प्रदेशों से आये विशेषज्ञ चिकित्सकों ने भाग लिया। एम्स दिल्ली के डायरेक्टर पद्मश्री डॉ. रनदीप गुलेरिया ने कहा कि कोविड महामारी से देश को बहुत नुकसान हुआ परन्तु सभी के सहयोग से हमारे देश ने इस पर काबू पा लिया है। वर्तमान में कोविड के इक्का-दुक्का केस ही नजर आते हैं। डॉ. शीला नयनन मायतरा, मुम्बई ने भी संबोधन दिया।   अपोलो अस्पताल दिल्ली के डॉ. एन.एन. खन्ना ने बताया कि नवीन पद्धतियों से पैर की नसों की सुकड़न को प्रभावी ढंग से ठीक किया जा सकता है। गंगाराम अस्पताल दिल्ली के डॉ. अश्विनी मेहता ने खून की चिपचिपाहट कम करने की दवाओं के बारे में बताया। डॉ. श्रीमती शैला मैत्रा ने कहा कि समय से पता चल जाने पर सेप्सिस बीमारी का इलाज हो जाता है, परन्तु देरी होने पर यह रोग घातक सिद्ध हो सकता है। डॉ. आशीष नाभर मुम्बई ने हृदय की लय संबंधी बीमारी में बताया और कहा कि असमय मृत्यु को रोकने के लिये एआईसीडी का प्रत्यारोपण अच्छे परिणाम देता है।आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ. पी.सी. मनोरिया ने कहा कि देश में हर तीन वयस्क व्यक्तियों में से एक को हाई ब्लड प्रेशर, 5 में से एक व्यक्ति को डायबिटिज और 3 में से एक व्यक्ति को कोलेस्ट्राल रहता है। प्रतिवर्ष 30 लाख लोगों को हार्ट अटैक होता और हर 15 मिनिट में एक हार्ट अटैक होता है। हार्ट अटैक जीवन शैली संबंधी बीमारी है और अच्छी जीवन शैली से इस पर काबू पाया जा सकता है।   डॉ. मनोरिया ने बताया कि यदि आप 80 वर्ष तक स्वस्थ रहना चाहते हैं तो 80 का मूल मंत्र अपनायें अर्थात् कमर का घेरा 80 सेंटीमीटर, ब्लड शुगर 80 एमजी, नीचे की ब्लड प्रेशर 80, एलडीएल कोलेस्ट्राल 80 एमजी, धूम्रपान करने वालों से दूरी 80 मीटर, हृदय की धड़कन 80 प्रति मिनिट, दूषित वातावरण 80 डीबी से अधिक नहीं होना चाहिए। हार्ट अटैक एवं लकवा रोगी 80 एमजी एस्प्रिन एवं एटोरबा गोली लें। डॉ. पंकज मनोरिया ने कहा कि हार्ट अटैक में मरीजों की एंजियोप्लास्टी में इंट्रावास्कुलर अल्ट्रासाउंड (IVUS) एवं ऑप्टिकल कोहेरेन्स टोमोग्राफी (OCT) का उपयोग करने से एक नये युग की शुरूआत हुई है। इनके द्वारा यह आसानी से पता लगाया जाता है कि हृदय की धमनी में जिस स्टेंट का प्रत्यारोपण किया गया है वह सटीक तरीके से लगाया गया है या नहीं। डॉ. रोशन चंचलानी ने आभार व्यक्त किया।

Kolar News

Kolar News 6 November 2022

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने कहा है कि उत्पाद या सेवाओं को लेकर किए जाने वाले भ्रामक प्रचार पर रोक लगाने का प्रावधान किया गया है। यदि कोई लोकप्रिय व्यक्ति या सेलिब्रिटी किसी ऐसे उत्पाद या सेवा का प्रचार-प्रसार करता है या उसे बढ़ावा देता है, जिससे उपभोक्ता को नुकसान हुआ हो या नुकसान होने की संभावना है तो उत्पाद के विनिर्माता या सेवा प्रदाता के साथ ही सेलिब्रेटी को भी जिम्मेदार माना जाएगा। एम.बी.बी.एस. की तरह लॉ की पढ़ाई भी हिन्दी में प्रारंभ की जाना चाहिए। इससे हिन्दी मीडियम के छात्र भी सहजता से कानून की पढ़ाई कर सकेंगे। मंत्री सिंह शुक्रवार को राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 को लागू करने की चुनौतियाँ विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला के सेमीनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह आयोजन उपभोक्ता संरक्षण की मंशा के अनुरूप लोगों को त्वरित न्याय एवं जागरूकता प्रदान करने में महती भूमिका अदा करेगा। कार्यशाला का शुभारंभ प्रमुख सचिव खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण फैज़ अहमद किदवई, वाइस चांसलर प्रो. डॉ. विजय कुमार एवं प्रो. डॉ. राजीव खरे द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।     मंत्री  सिंह ने कहा कि वैश्वीकरण के इस दौर में उपभोक्ता वस्तुओं एवं सेवाओं की बिक्री में बढ़ोत्तरी के साथ उपभोक्ता समस्याओं में भी बढ़ोत्तरी हो रही है। इस बदलते परिवेश में यह आवश्यक हो गया है कि उपभोक्ताओं को यह ज्ञात हो कि उन्हें खरीदारी करते समय क्या सावधानियाँ बरतनी चाहिये। यदि कोई समस्या आती है तो उसका निराकरण किस प्रकार होगा। उपभोक्ताओं तक इसकी भी सही जानकारी पहुँचे। मंत्री सिंह ने कहा कि उपभोक्ता चाहे तो अपनी शिकायतों को ऑनलाइन भी दर्ज करा सकता है। ई-दाखिल पोर्टल से ऑनलाईन शिकायत दर्ज करने की व्यवस्था प्रदेश में प्रारंभ हो चुकी है। उपभोक्ता हित में यह एक अभिनव पहल है, जिसमें उपभोक्ता प्रदेश के किसी सुदूर क्षेत्र से भी ई-दाखिल पोर्टल पर ऑनलाईन अपना परिवाद आसानी से ई-फाइल कर सकता है।

Kolar News

Kolar News 5 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुदनी के लकड़ी के खिलौनों के विक्रय और प्रचार-प्रसार के निर्देश दिए थे। इन निर्देशों के अनुपालन में सीहोर जिला पंचायत और म.प्र. हस्तशिल्प विकास निगम द्वारा निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। इसी क्रम में भोपाल के गौहर महल में आज संत रविदास हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम की प्रबंध संचालक अनुभा श्रीवास्तव ने एक्सक्लूसिव शोरूम का शुभारंभ किया। एंब्रॉयडरी हुरमुचो की विशेषज्ञ आर्टिस्ट सरला सोनेजा (ग्वालियर) विशेष रूप से उपस्थित थी। शोरूम प्रारंभ होने से काष्ठ शिल्पियों की आय में वृद्धि होगी। "एक जिला-एक उत्पाद" अंतर्गत बुदनी जिला सीहोर के लकड़ी के कलात्मक खिलौनें और अन्य हस्तशिल्प के एक्सक्लूसिव मृगनयनी शोरूम के शुभारंभ पर अनेक हस्त शिल्पी मौजूद रहे। उल्लेखनीय है कि काष्ठ शिल्प के उत्कृष्ट कलाकार बुदनी में कई वर्ष से लकड़ी के खिलौनों का विक्रय करते आ रहे हैं। इनका विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर भी आउटलेट शुरू हुआ है। कार्यक्रम में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत सीहोर हर्ष सिंह, हस्तशिल्पी, हस्तशिल्प विकास निगम के अधिकारी-कर्मचारी और कला प्रेमी नागरिक भी उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 5 November 2022

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने कहा है कि उत्पाद या सेवाओं को लेकर किए जाने वाले भ्रामक प्रचार पर रोक लगाने का प्रावधान किया गया है। यदि कोई लोकप्रिय व्यक्ति या सेलिब्रिटी किसी ऐसे उत्पाद या सेवा का प्रचार-प्रसार करता है या उसे बढ़ावा देता है, जिससे उपभोक्ता को नुकसान हुआ हो या नुकसान होने की संभावना है तो उत्पाद के विनिर्माता या सेवा प्रदाता के साथ ही सेलिब्रेटी को भी जिम्मेदार माना जाएगा। एम.बी.बी.एस. की तरह लॉ की पढ़ाई भी हिन्दी में प्रारंभ की जाना चाहिए। इससे हिन्दी मीडियम के छात्र भी सहजता से कानून की पढ़ाई कर सकेंगे। मंत्री सिंह शुक्रवार को राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 को लागू करने की चुनौतियाँ विषय पर दो दिवसीय कार्यशाला के सेमीनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह आयोजन उपभोक्ता संरक्षण की मंशा के अनुरूप लोगों को त्वरित न्याय एवं जागरूकता प्रदान करने में महती भूमिका अदा करेगा। कार्यशाला का शुभारंभ प्रमुख सचिव खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण फैज़ अहमद किदवई, वाइस चांसलर प्रो. डॉ. विजय कुमार एवं प्रो. डॉ. राजीव खरे द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।   मंत्री सिंह ने कहा कि वैश्वीकरण के इस दौर में उपभोक्ता वस्तुओं एवं सेवाओं की बिक्री में बढ़ोत्तरी के साथ उपभोक्ता समस्याओं में भी बढ़ोत्तरी हो रही है। इस बदलते परिवेश में यह आवश्यक हो गया है कि उपभोक्ताओं को यह ज्ञात हो कि उन्हें खरीदारी करते समय क्या सावधानियाँ बरतनी चाहिये। यदि कोई समस्या आती है तो उसका निराकरण किस प्रकार होगा। उपभोक्ताओं तक इसकी भी सही जानकारी पहुँचे। मंत्री सिंह ने कहा कि उपभोक्ता चाहे तो अपनी शिकायतों को ऑनलाइन भी दर्ज करा सकता है। ई-दाखिल पोर्टल से ऑनलाईन शिकायत दर्ज करने की व्यवस्था प्रदेश में प्रारंभ हो चुकी है। उपभोक्ता हित में यह एक अभिनव पहल है, जिसमें उपभोक्ता प्रदेश के किसी सुदूर क्षेत्र से भी ई-दाखिल पोर्टल पर ऑनलाईन अपना परिवाद आसानी से ई-फाइल कर सकता है।

Kolar News

Kolar News 5 November 2022

प्रदेश में 9 माह से 5 वर्ष आयु के सभी बच्चों को दिसम्बर 2023 तक 2 बार मीजल्स-रूबेला का टीका लगा कर जानलेवा बीमारी मीजल्स और रूबेला से मुक्त कराने के लिये हम सभी संकल्पबद्ध हैं। मीजल्स-रूबेला निर्मूलन की राज्य स्तरीय टास्क फोर्स समिति की मंत्रालय में शुक्रवार को हुई बैठक में यह संकल्प लिया गया। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य  मोहम्मद सुलेमान ने टास्क फोर्स समिति के सदस्यों को संकल्प दिलाया। सुलेमान ने कहा कि दिसम्बर 2023 तक 9 माह से 5 वर्ष आयु के शत-प्रतिशत बालक-बालिकाओं को एमआर के टीके लगवाने का अभियान पूरी जिम्मेदारी से संचालित किया जाये। स्वास्थ्य, महिला-बाल विकास, शिक्षा, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण विभाग के अधिकारियों को मीजल्स-रूबेला टीकाकरण अभियान में दी गई जिम्मेदारी से अवगत कराया गया। एमडी एनएचएम  प्रियंका दास ने टीकाकरण अभियान की जानकारी दी। राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. संतोष शुक्ला ने मीजल्स-रूबेला टीकाकरण अभियान पर प्रेजेन्टेशन दिया। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य सुलेमान सहित राज्य टास्क फोर्स समिति के सभी सदस्यों ने संकल्प-पत्र पर हस्ताक्षर भी किये।  

Kolar News

Kolar News 5 November 2022

केन्द्र सरकार के जनजातीय कार्य मंत्रालय के अंतर्गत देश के एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय (ईएमआरएस) के लिए बैंगलुरु में आयोजित तीसरे नेशनल कल्चरल फेस्ट में मध्यप्रदेश ने देश में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। तीन दिवसीय फेस्ट में देश के हजारों विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया, जिसमें 13 विभिन्न विधाओं में मध्यप्रदेश के विद्यार्थियों ने अपनी जगह बनाई। मध्यप्रदेश के जनजातीय कार्य विभाग के अधीन संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के लगभग 80 जनजातीय विद्यार्थियों ने फेस्ट में यह उपलब्धि प्राप्त कर प्रदेश का नाम रोशन किया है। बैंगलुरु स्थित आर्ट ऑफ लिविंग इंटरनेशनल सेंटर में हुए प्रदेश के विद्यार्थियों को भव्य समारोह में पुरस्कार वितरित किए गए। इस दौरान इन जनजातीय विद्यार्थियों के दल ने कर्नाटक के राज्यपाल श्री थावरचंद गहलोत से भी भेंट भी की। इस उपलब्धि पर जनजातीय कार्य विभाग के आयुक्त संजीव सिंह सहित अधिकारियों ने विद्यार्थियों को बधाई दी।        ईएमआरएस इंदौर की साक्षी मयड़िया और राजाराम ने प्रश्नोत्तरी में पहला स्थान प्राप्त किया। साक्षी ने अंग्रेजी भाषण में भी पहला स्थान प्राप्त किया। हिंदी वाद-विवाद में ईएमआरएस इंदौर की वैष्णवी वास्कले और पीवीटीजी, ईएमआरएस इंदौर की नेहा यशवंत ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। अंग्रेजी वाद-विवाद में ईएमआरएस इंदौर के सौम्य राय ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। ईएमआरएस इंदौर की हिमांगी खपड़े ने स्पेल-बी में दूसरा स्थान हासिल किया। ईएमआरएस बड़वानी के कार्तिक डोडवे ने हिंदी भाषण में दूसरा और ईएमआरएस पाली के तीरथ सिंह ने काव्यपाठ में तीसरा स्थान प्राप्त किया। ईएमआरएस बुदनी की भारती बिघेले ने उप शास्त्रीय गायन में द्वितीय स्थान और ईएमआरएस धंसौर के आशीष मिश्र ने शास्त्रीय गायन में तीसरा स्थान प्राप्त किया। देशभक्ति समूह गायन में ईएमआरएस बड़वानी का दल तृतीय रहा। जनजातीय एकल गीत गायन में ईएमआरएस बुदनी की रंगिता ने पहला मुकाम हासिल किया। साथ ही, उप शास्त्रीय एकल गायन में ईएमआरएस तामिया के आशीष भारती ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। कल्चरल फेस्ट में शास्त्रीय और उप शास्त्रीय गायन, वाद्य वादन, एकल एवं समूह गायन, तात्कालिक चित्रकारी, नाटक, जनजातीय समूह नृत्य, लोकनृत्य और समूह गायन जैसी विधाओं के अलावा कहानी पाठ, सृजनात्मक लेखन, स्पेलबी और वाद-विवाद प्रतियोगिताएँ भी हुई।  

Kolar News

Kolar News 4 November 2022

भारत में स्वामित्व योजना से पहली बार ग्राम वासियों को उनकी संपत्ति पर संपूर्ण हक का अभिलेख मिल रहा है। इसके माध्यम से वे बैंकों से ऋण प्राप्त कर सकते हैं तथा संपत्ति का क्रय-विक्रय कर सकते हैं। भारत में 24 अप्रैल 2020 को यह योजना लागू कई की गई जिस पर सभी राज्यों में तेजी से अमल किया जा रहा है। योजना के क्रियान्वयन में मध्य प्रदेश अग्रणी राज्य है जहाँ 56 हजार गाँव में से 40 हजार 500 गाँव में ड्रोन सर्वेक्षण का कार्य पूर्ण हो गया है और 9 लाख 37 हजार अधिकार अभिलेख वितरित किए जा चुके हैं। स्वामित्व योजना एवं ग्रामीण नियोजन पर आज कुशाभाऊ ठाकरे कन्वेंशन सेंटर में प्रारंभ हुए दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन (नेशनल कॉन्फ्रेंस) में यह जानकारी दी गई। कार्यशाला का विधिवत शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलन के साथ भारत सरकार पंचायती राज मंत्रालय के सचिव सुनील कुमार ने किया। कार्यशाला में भारत के 20 राज्यों और 4 केंद्र शासित प्रदेशों के लगभग 150 पंचायत प्रतिनिधि, पंचायत एवं ग्रामीण विकास के अधिकारी, राजस्व विभाग अधिकारी उपस्थित थे। कार्यशाला में स्वामित्व योजना और ग्रामीण नियोजन पर विशेषज्ञ समिति की रिपोर्ट का विमोचन भी किया गया। रिपोर्ट का विस्तृत प्रस्तुतिकरण पंचायती राज मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त सचिव श्री एपी नागर ने किया।   सचिव पंचायती राज मंत्रालय भारत सरकार सुनील कुमार ने कहा कि स्वामित्व योजना क्रांतिकारी योजना है। इससे व्यापक आर्थिक और सामाजिक बदलाव आएगा। यह योजना ग्रामीणों की संपत्ति को पूँजी में बदलेगी। ग्रामीण अर्थ-व्यवस्था को मजबूत करने में यह योजना दूरगामी साबित होगी। उन्होंने योजना में मध्य प्रदेश में हो रहे कार्यों की सराहना की। सचिव राजस्व विभाग संजय गोयल ने योजना के मध्यप्रदेश में क्रियान्वयन के विषय में बताया कि प्रदेश में योजना का कार्य पूर्णता की ओर है। अगले वर्ष दिसंबर माह तक यह कार्य पूरा हो जाएगा। प्रदेश में आधुनिक ड्रोन तकनीकी से ग्रामीण क्षेत्रों में सर्वे कर अधिकार अभिलेख तैयार किए जा रहे हैं। यह अभिलेख लैंड रिकॉर्ड्स पोर्टल पर उपलब्ध है। सर्वे पश्चात 11 हजार 600 ग्रामों में अधिकार अभिलेख का प्रकाशन हो चुका है। ग्रामीणों को पहली बार उनकी संपत्ति का वैध दस्तावेज कानूनी अधिकार के साथ दिया जा रहा है।   जशदा संस्था पुणे के डीडीजी एस. चोकलिंगम ने बताया कि ग्रामीण भूमि का सर्वे आवश्यक है, चाहे वह आबादी की हो या खेत की। संबंधित क्षेत्र के कलेक्टर/डीएम को, यदि किसी ग्रामीण क्षेत्र में लोग पर्याप्त समय से रह रहे हैं, तो उस भूमि को आबादी भूमि घोषित करना चाहिए। निजी क्षेत्र के लिए यह सीमा 12 वर्ष और शासकीय भूमि के लिए 30 वर्ष है। यदि फार्म हाउस है तो उसे आबादी भूमि घोषित न किया जाए। कमिश्नर सर्वे, सेटलमेंट एंड लैंड रिकॉर्ड्स कर्नाटक  मनीष मोद्गिल ने बताया कि लोगों को उनकी संपत्ति का स्वामित्व देने का यह कानूनी तरीका है। जिन ग्रामीण क्षेत्रों का पहली बार सर्वे हो रहा है वहाँ, सार्वजनिक स्थल और रोड आदि छोड़ कर, जिस जगह पर व्यक्ति रह रहा है ,उसे उस जगह का हक दिया जा सकता है। डायरेक्टर लैंड रिकॉर्ड्स असम शांतनु गोटमारे ने बताया कि अलग-अलग क्षेत्रों में भूमि स्वामित्व की अवधारणा अलग-अलग है। अरुणाचल प्रदेश में भूमि पर समुदाय का अधिकार है। पारंपरिक रिवाजों और कानून अनुसार भूमि का अधिकार देना चाहिए। भूमि पर स्वामित्व देने के बाद उसे कर से न जोड़ा जाए।  

Kolar News

Kolar News 4 November 2022

अगले वर्ष 31 जनवरी से मध्यप्रदेश के 8 शहरों में खेलो की विभिन्न विधाओं के रोमांचक मुकाबले देखने को मिलेंगे। देश के ह्रदय स्थल मध्यप्रदेश में 5वां खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022 का आयोजन होगा। खेल और युवा कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया इस आयोजन को सफल बनाने के लिए प्रत्येक स्तर पर तैयारियों का जायजा ले रही हैं। इसी क्रम में श्रीमती सिंधिया ने भोपाल में निर्धारित खेलों के वेन्यू का निरीक्षण किया। खेल मंत्री  सिंधिया ने गुरूवार को ग्वालियर में स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया की गेम्स टेक्निकल कंडक्ट कमेटी (GTCC) की निदेशक सुश्री अमर ज्योति और उनकी टीम के साथ खेल स्थलों का निरीक्षण कर तैयारियों की समीक्षा की।   सिंधिया ने कहा कि हमारी खेल अधो-संरचना हमारी यूएसपी है। खेलो इंडिया के आयोजन से मध्यप्रदेश के खेलों की दिशा में नई क्रान्ति आयगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खेलो इंडिया यूथ गेम्स की मेज़बानी देकर मध्यप्रदेश पर जो विश्वास दिखाया है इस कसौटी पर हम पूरी तरह से खरा उतरेंगे। ये एक बड़ी चुनौती है, चुनौतियों का सामना करने से ही सफलता हासिल होती है। श्रीमती सिंधिया ने कहा कि बेहतर खेल अधो-संरचना और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सुविधाएँ मध्यप्रदेश की पहचान हैं। खेल मंत्री ने ग्वालियर (कम्पू) खेल परिसर में खेलो इंडिया यूथ गेम्स के लिए चुने गए गेम वेन्यू, हॉकी ग्राउंड, बॉक्सिंग एरिना और बेडमिंटन हॉल का भ्रमण कर तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने अधिकारियों के साथ ग्वालियर में बनने वाले आईआईआईटीएम के समीप बनने वाले स्पोर्ट्स सिटी के लेआउट प्लान और भोपाल के नाथू बरखेड़ा में स्वीकृत अंतराष्ट्रीय स्तर के स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के पहले और दूसरे चरण के प्लान पर विस्तृत चर्चा की। साथ ही खेल मध्यप्रदेश राज्य महिला हॉकी अकादमी और बेडमिंटन के प्रशिक्षकों के साथ 36वें राष्ट्रीय खेलो के परफॉर्मेंस और खेलो इंडिया यूथ गेम्स की तैयारियों की भी समीक्षा की।  

Kolar News

Kolar News 4 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि पदाभिमान पतन का कारण होता है। पद ईश्वर का प्रसाद है, जो पिछड़े और वंचित वर्गों की समस्याओं के समाधान और उनके सहयोग के लिए मिलता है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल के रूप में वह प्रदेश के दूरस्थ अंचलों के भ्रमण और वंचित वर्गों के साथ आत्मीय संवाद बना कर, उनकी समस्याओं के समाधान के लिए ‍प्रयास कर रहे हैं। अभी तक प्रदेश के 39 जिलों का भ्रमण कर चुके हैं। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि पदाभिमान पतन का कारण होता है। पद ईश्वर का प्रसाद है, जो पिछड़े और वंचित वर्गों की समस्याओं के समाधान और उनके सहयोग के लिए मिलता है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल के रूप में वह प्रदेश के दूरस्थ अंचलों के भ्रमण और वंचित वर्गों के साथ आत्मीय संवाद बना कर, उनकी समस्याओं के समाधान के लिए ‍प्रयास कर रहे हैं। अभी तक प्रदेश के 39 जिलों का भ्रमण कर चुके हैं।   राज्यपाल पटेल आज सप्रे संग्रहालय अलंकरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह माधवराव सप्रे स्मृति समाचार-पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान भोपाल के पं. झाबरमल्ल शर्मा सभागार में हुआ। राज्यपाल पटेल ने कहा कि भौतिक सुख क्षणिक संतुष्टि है। आत्मिक आनंद की अनुभूति ही सच्चा सुख है। अनीति से भौतिक सुख प्राप्त करना केवल क्षणिक आनंद दे सकता है। अंतर्मन में आत्म-ग्लानि का भाव स्थायी रूप से उत्पन्न हो जाता है। यह भाव जीवन भर व्यक्ति के मन में रहता है और समय-समय पर पीड़ा देता है। राज्यपाल ने कहा कि संसाधन उन्नति का साधन नहीं है। उन्होंने अपने जीवन की पृष्ठभूमि का संदर्भ देते हुए कहा कि राष्ट्र और समाज के लिए समर्पित सोच ही प्रगति का मार्ग है। किसी भी स्थान और क्षेत्र पर किसी एक का एकाधिकार नहीं होता है। सद्प्रयास और सदाचार को निरंतर आगे बढ़ने का मार्ग मिल जाता है। राज्यपाल ने अंलकृत विभूतियों को बधाई दी। उन्होनें कहा कि साहित्य का सृजन दिल, दिमाग और हाथों का कमाल है। ऐसे सिद्ध-जन का सम्मान स्वस्थ समाज निर्माण का प्रयास है। इसके लिए सप्रे संग्रहालय बधाई का पात्र है।   पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ.पी. रावत ने कहा कि संस्थान की स्थापना के समय से ही उनका जुड़ाव संस्थान से रहा है। उन्होंने कहा कि समाज की धरोहरों को उजागर करने के प्रयास को विस्तारित किया जाना चाहिए। समाज की विभूतियों को अलंकृत करने से लोगों को उनके प्रामाणिक कार्यों से समाज के लिए योगदान की प्रेरणा मिलती है और समाज का गौरव बढ़ता है।अलंकृत विद्वान डॉ. शीलेन्द्र कुमार कुलश्रेष्ठ ने अपनी जीवन-गाथा से परिचित कराया। संग्रहालय के संस्थापक विजय दत्त श्रीधर ने बताया कि दुनिया में समाचार-पत्रों के संग्रहालय के रूप में यह अनूठा स्थान है, जहाँ 5 करोड़ पृष्ठ का विशाल संग्रह है, जिसका 12 हजार से अधिक शोधार्थियों ने उपयोग किया है। उन्होंने बताया कि चम्पारन सत्याग्रह के 100 वर्ष की स्मृति में महात्मा गांधी और डॉ. हरिकृष्ण दत्त के साहित्यक योगदान की स्मृति में इन अलंकरण सम्मानों की स्थापना की गई है।टेल आज सप्रे संग्रहालय अलंकरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह माधवराव सप्रे स्मृति समाचार-पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान भोपाल के पं. झाबरमल्ल शर्मा सभागार में हुआ। राज्यपाल पटेल ने कहा कि भौतिक सुख क्षणिक संतुष्टि है। आत्मिक आनंद की अनुभूति ही सच्चा सुख है। अनीति से भौतिक सुख प्राप्त करना केवल क्षणिक आनंद दे सकता है। अंतर्मन में आत्म-ग्लानि का भाव स्थायी रूप से उत्पन्न हो जाता है। यह भाव जीवन भर व्यक्ति के मन में रहता है और समय-समय पर पीड़ा देता है।      राज्यपाल ने कहा कि संसाधन उन्नति का साधन नहीं है। उन्होंने अपने जीवन की पृष्ठभूमि का संदर्भ देते हुए कहा कि राष्ट्र और समाज के लिए समर्पित सोच ही प्रगति का मार्ग है। किसी भी स्थान और क्षेत्र पर किसी एक का एकाधिकार नहीं होता है। सद्प्रयास और सदाचार को निरंतर आगे बढ़ने का मार्ग मिल जाता है। राज्यपाल ने अंलकृत विभूतियों को बधाई दी। उन्होनें कहा कि साहित्य का सृजन दिल, दिमाग और हाथों का कमाल है। ऐसे सिद्ध-जन का सम्मान स्वस्थ समाज निर्माण का प्रयास है। इसके लिए सप्रे संग्रहालय बधाई का पात्र है। पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त ओ.पी. रावत ने कहा कि संस्थान की स्थापना के समय से ही उनका जुड़ाव संस्थान से रहा है। उन्होंने कहा कि समाज की धरोहरों को उजागर करने के प्रयास को विस्तारित किया जाना चाहिए। समाज की विभूतियों को अलंकृत करने से लोगों को उनके प्रामाणिक कार्यों से समाज के लिए योगदान की प्रेरणा मिलती है और समाज का गौरव बढ़ता है। अलंकृत विद्वान डॉ. शीलेन्द्र कुमार कुलश्रेष्ठ ने अपनी जीवन-गाथा से परिचित कराया। संग्रहालय के संस्थापक  विजय दत्त श्रीधर ने बताया कि दुनिया में समाचार-पत्रों के संग्रहालय के रूप में यह अनूठा स्थान है, जहाँ 5 करोड़ पृष्ठ का विशाल संग्रह है, जिसका 12 हजार से अधिक शोधार्थियों ने उपयोग किया है। उन्होंने बताया कि चम्पारन सत्याग्रह के 100 वर्ष की स्मृति में महात्मा गांधी और डॉ. हरिकृष्ण दत्त के साहित्यक योगदान की स्मृति में इन अलंकरण सम्मानों की स्थापना की गई है।

Kolar News

Kolar News 3 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि ऊर्जा और पर्यावरण-संरक्षण के लिए हर व्यक्ति और हर घर को पहल करनी होगी। उन्होंने कहा कि भावी पीढ़ी को सुरक्षित पर्यावरण देने के लिए जीवन पद्धति में बदलाव लाना और भारतीय जीवन-शैली को अपनाना होगा। राज्यपाल पटेल विज्ञान भवन के जगदीश चन्द्र बसु सभागार में केन्द्रीय ऊर्जा मंत्रालय, मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद और विज्ञान भारती द्वारा आयोजित ऊर्जा और पर्यावरण-संरक्षण संगोष्ठी का समापन कर रहे थे। राज्यपाल पटेल ने पूर्वजों की जीवन-शैली का उल्लेख करते हुए कहा कि भारतीय जीवन पद्धति पर्यावरण-सरंक्षण का प्रभावी तरीका है। स्टील और सीमेंट से मकान बनेंगे तो एयर कंडीशनिंग भी करनी होगी। जरूरत यह समझने की है कि पर्यावरण हमारी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का कहना है कि परिवार के सदस्य जन्म-दिवस पर एक पौधे का रोपण अवश्य करें। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रतिदिन पौधा रोपण की पहल की है, जो सराहनीय है। राज्यपाल पटेल ने कहा कि आधुनिक जीवन की पर्यावरणीय चिंताओं, ग्लोबल वार्मिंग, क्लाइमेट चेंज आदि के मूल में मानव के कार्य ही है। अत: ऊर्जा और पर्यावरण-संरक्षण के लिए चिंता एवं संचेतना को आचरण में उतारना जरूरी है।

Kolar News

Kolar News 3 November 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री  कमल पटेल ने कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बेटियों को लखपति बनाने के साथ ही पढ़ाई-लिखाई के भी सभी बंदोबस्त किये हैं। उन्होंने कहा कि लाड़ली लक्ष्मी 2.0 योजना से अब बेटियों को महाविद्यालयीन पढ़ाई के लिये 25 हजार रूपये की राशि मिलेगी। मंत्री पटेल ने हरदा में लाड़ली उत्सव कार्यक्रम में बालिकाओं को लाड़ली लक्ष्मी प्रमाण-पत्र प्रदान किये। मंत्री पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने बालिकाओं की पढ़ाई-लिखाई की जिम्मेदारी भी ले ली है। अब बालिकाओं को कॉलेज में प्रवेश करने पर निश्चित राशि प्रदाय की जायेगी। उच्च शिक्षा के लिये उन्हें 25 हजार रूपये की राशि 2 किश्तों में मिलेगी। मंत्री पटेल ने कहा कि नारी सशक्तिकरण के लिये सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएँ संचालित की जा रही हैं। लाड़ली लक्ष्मी 2.0 योजना में हरदा जिले की चयनित 6 बालिकाएँ कुमारी सलोनी भाटी, आयुषी, मीना धुर्वे, सेजल वर्मा, प्रतिमा धुर्वे तथा मोनिका गौर बुधवार को राज्य स्तरीय कार्यक्रम में भोपाल में शामिल हुई।

Kolar News

Kolar News 3 November 2022

खनिज साधन एवं श्रम मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने मंगलवार को पुरानी कचहरी तिराहा पन्ना स्थित महिला-बाल विकास भवन में संत रविदास म.प्र. हस्तशिल्प एवं हाथकरघा विकास निगम के नवनिर्मित शोरूम का शुभारंभ किया। उन्होंने शोरूम का अवलोकन कर बुनकरों द्वारा निर्मित उत्पादों के बारे में जानकारी ली।खनिज साधन मंत्री सिंह ने कहा कि प्रदेश के स्थापना दिवस पर पन्ना शहर में मृगनयनी शोरूम की सौगात नगरवासियों को मिली है। इससे स्थानीय कारीगरों द्वारा निर्मित उत्पादों का विक्रय होगा और उनकी आमदनी भी बढ़ेगी। मृगनयनी ब्राण्ड ने देश में अपनी अलग पहचान स्थापित की है। उन्होंने कहा कि खजुराहो और भोपाल जैसे शहरों के बाद अलग ब्राण्ड का शोरूम होने से यह पन्ना में भी अलग पहचान स्थापित करेगा। नगरवासियों के साथ पर्यटकों को भी गुणवत्तायुक्त उत्पाद क्रय करने की सुविधा मिल जाएगी। इससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।    वर्तमान में छोटे स्वरूप में इसकी शुरूआत की गई है। आगामी दिनों में वृहद स्वरूप में इसका विस्तार किया जाएगा।मंत्री सिंह ने कहा कि शोरूम को बेहतर रूप से संचालित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि पन्ना की पहचान धार्मिक नगरी के रूप में है। इसे स्वच्छ और सुसज्जित बनाने के साथ ही विकास के आयामों से जोड़ने का निरंतर प्रयास किया जाएगा। डायमण्ड पार्क की स्थापना सहित एनएमडीसी खदान को पुनः शुरू कराने का प्रयास किया जा रहा है। कार्यक्रम को कलेक्टर संजय कुमार मिश्र और पुलिस अधीक्षक धर्मराज मीणा ने भी संबोधित किया। मृगनयनी के वरिष्ठ प्रबंधक योगेन्द्र सिंह ने ब्राण्ड और उत्पादों के संबंध में अवगत कराया।

Kolar News

Kolar News 2 November 2022

पर्यटन, संस्कृति और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर ने निवास से राष्ट्रीय एथलीट एवं पर्वतारोही आशा राजूबाई मालवीय की साइकिल यात्रा को फ्लैग ऑफ किया। आशा 20 हजार किलोमीटर लंबी साइकिल यात्रा कर देश के राज्यों का भ्रमण करेंगी और मध्यप्रदेश के पर्यटन स्थलों का प्रचार करेंगी। मंत्री ठाकुर ने कहा है कि प्रदेश के युवा अपनी प्रतिभा के दम पर देशभर में छाए हुए हैं, खासकर बेटियाँ हर क्षेत्र में सराहनीय कार्य कर रही हैं। राज्य सरकार भी बेटियों का हौसला बढ़ाने के लिए पूरा प्रयास कर रही है। मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा आशा को सायकिल और साइकिलिंग किट भेंट की गई है। उनकी यात्रा सफल हो, शुभकामना है।     अपर प्रबंध संचालक विवेक श्रोत्रिय ने बताया कि प्रदेश के नैसर्गिक सौंदर्य, समृद्ध इतिहास और संस्कृति के प्रति देश में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से साइकिल यात्रा को टूरिज्म बोर्ड ने सहयोग दिया है।  म.प्र. टूरिज्म बोर्ड ने आधुनिक जीपीएस युक्त हाइब्रिड साइकिल रोम-2 बतौर सहयोग सौंपी है। लंबी यात्रा की सुरक्षा को देखते हुए साइकिलिंग किट भी दी है। पर्यटन स्थलों को महिलाओं खास कर एकल महिला यात्रियों (सोलो फिमेल ट्रेवलर) के लिए और अधिक सुरक्षित तथा सुगम बनाने के लिए मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा प्राथमिकता पर विभिन्न योजना-परियोजनाओं का संचालन किया जा रहा है। इसी को दृष्टिगत रखते हुए बोर्ड द्वारा सुश्री आशा राजूबाई मालवीय का साइकिल से देश भ्रमण करने के लिए सहयोग के प्रस्ताव को स्वीकारते हुए साइकिल एवं साइकिलिंग किट प्रदान की गई है। आशा नेपाल-भूटान-बांग्लादेश की सीमा पर स्थित तेनजिंग नोर्गे (19,545 फीट) एवं बीसी राय (20,500 फीट) जैसी बर्फिली चोटियों को फतह कर तिरंगा फहरा चुकी हैं। फलस्वरूप उनका नाम देश की नेशनल बुक ऑफ रिकॉर्ड ओएमजी बुक में दर्ज है।  

Kolar News

Kolar News 2 November 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने हरदा जिले में सिंचाई सुविधाओं की नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के अधिकारियों के साथ समीक्षा की। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार हरदा शीघ्र ही शत-प्रतिशत सिंचित जिला बनेगा। जिले में सिंचाई सुविधा से वंचित क्षेत्रों के लिये कार्य-योजना तैयार कर ली गई है। मंत्री पटेल ने नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण, जल-संसाधन और जिला अधिकारियों को निर्देशित किया कि हरदा को पूर्ण रूपेण सिंचित जिला बनाने के लिये त्वरित कार्यवाही करें। मोरन्ड गंजाल और होशंगाबाद बैराज परियोजना क्रियान्वयन इकाई सिवनी-मालवा के परियोजना प्रशासक डी.आर. आकरे ने बताया कि जिले में सिंचाई सुविधा से वंचित 118 ग्राम को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिये शहीद इलाप सिंह माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना प्रस्तावित है।   मंत्री पटेल ने बताया कि प्रस्तावित परियोजना के लिये सभी आवश्यक कार्यवाही पूर्ण करें। उन्होंने बताया कि उक्त परियोजना से हरदा जिले की हंडिया तहसील के 68, खिरकिया के 25, टिमरनी के 21 और हरदा तहसील के 4 गाँव के किसान लाभान्वित होंगे। उक्त परियोजना से 26 हजार 890 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। इससे नर्मदा जल, पाइप केनाल से किसानों को उपलब्ध हो सकेगा। कृषि मंत्री पटेल ने मध्यप्रदेश के 67 वें स्थापना दिवस पर हरदा के स्थानीय स्टेडियम पहुँच कर खिलाड़ियों से मुलाकात की। उन्होंने स्टेडियम में रस्साकसी प्रतियोगिता का आनंद लिया और साथ ही क्रिकेट खिलाड़ियों को किट भी वितरित किये। मंत्री पटेल ने सभी को स्थापना दिवस की बधाई और शुभकामनाएँ दी।  

Kolar News

Kolar News 2 November 2022

1 नवम्बर को पूरे मध्यप्रदेश में स्थापना दिवस मनाया जा रहा है। विभिन्न जगहों पर समारोह आयोजित किये जा रहे है। वहीं अगले 7 दिनों तक मध्यप्रदेश का स्थापना दिवस हर्षोल्लास एवं उमंग के साथ सभी वर्गों को जोड़ कर मनाया जायेगा। लगातार 7 दिनों तक विभिन्न कार्यक्रम सभी जिलों में होंगे। इन सात दिवसीय स्थापना उत्सव में नई योजना की शुरूआत, प्रभात फेरी, स्वच्छता संबंधी गतिविधियाँ, रोजगार दिवस का आयोजन, "एक जिला-एक उत्पाद" योजना पर केन्द्रित गतिविधियाँ, मध्यप्रदेश के गौरव पर केन्द्रित नाटक, लोक नृत्य और जननायकों पर केन्द्रित प्रतियोगिताएँ, वन्य-प्राणी सुरक्षा, जागरूकता, ऊर्जा-पर्यावरण, जल-संरक्षण आदि पर सेमीनार, व्याख्यान और चित्रकला प्रतियोगिताएँ की जायेगी। उत्सव के अंतिम दिन प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया जायेगा। स्थापना दिवस की शाम 7 बजे भोपाल के लाल परेड ग्राउण्ड में आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। इसमें शंकर-एहसान-बॉय बैंड के गीत-संगीत और शिव महिमा नृत्य नाटिका की आकर्षक प्रस्तुति होगी।

Kolar News

Kolar News 1 November 2022

मध्यप्रदेश के 67वें स्थापना दिवस समारोह में सुप्रतिष्ठित शंकर-एहसान-लॉय बैण्ड की गीत-संगीत प्रस्तुति तथा नई दिल्ली की सुप्रतिष्ठित कोरियोग्राफर मैत्रेयी पहाड़ी के निर्देशन में 400 कलाकारों द्वारा "शिव महिमा" नृत्य नाटिका प्रमुख आकर्षण होंगे। भोपाल के लाल परेड ग्राउण्ड में शाम 7 बजे से समारोह शुरू होगा। प्रमुख सचिव संस्कृति और पर्यटन शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मार्गदर्शन में स्थापना दिवस समारोह में सभी प्रदेशवासी सादर आमंत्रित है। मध्यप्रदेश राज्य का सौभाग्य है कि बारह ज्योतिर्लिंगों में से दो ज्योतिर्लिंग मध्यप्रदेश में स्थित हैं। इन ज्योतिर्लिंगों के होने से मध्यप्रदेश का आध्यात्मिक मानस और संस्कृति शैव भक्ति और ज्ञान की दृष्टि से ओत-प्रोत है। मध्यप्रदेश का 67वाँ स्थापना दिवस समारोह शैव भक्ति एवं ज्ञान आधारित मनाया जा रहा है। शून्य से शिव, शिव से कालातीत महाकाल की कथा नृत्य संगीत एवं 3डी तकनीकी संयोजन के साथ प्रस्तुत की जायेगी। प्रस्तुति के लिए बहुतलीय मंच एवं सेट संयोजित किया जायेगा, जिस पर सारे प्रतीक यथा डमरु, त्रिशूल, नन्दी, जटा, गंगा आदि को समाहित करते हुए शिव प्रसंगों की समवेत प्रस्तुति होगी। देश के सुविख्यात शंकर-एहसान-लॉय बैंड की गीत-संगीत प्रस्तुति संयोजित की जा रही है। यह भारतीय संगीतकारों की तिकड़ी है। यह तिकड़ी शंकर महादेवन, एहसान नूरानी और लॉय मेंडोंसा से मिल कर बनी है। उन्होंने कई फिल्मों में संगीत दिया एवं गायन कार्य किया है। इसमें मिशन कश्मीर ,दिल चाहता है , कल हो न हो , बंटी और बबली , कभी अलविदा ना कहना , डॉन-द चेस बिगिन्स अगेन , तारे जमीं पर , रॉक ऑन , वेक अप सिड , माय नेम इज खान , कार्तिक कॉलिंग कार्तिक , हाउसफुल और सूरमा आदि शामिल हैं।  

Kolar News

Kolar News 1 November 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने राष्ट्रीय एकता दिवस पर भारत के प्रथम उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल के राजभवन के बैंक्वेट हॉल में लगाये गये तैल-चित्र का अनावरण किया। उन्होंने राजभवन के सांदीपनि सभागार में स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण और श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस अवसर पर राज्यपाल के प्रमुख सचिव डी.पी. आहूजा मौजूद थे। राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने बैंक्वेट हॉल में राजभवन के अधिकारी-कर्मचारियों को राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ भी दिलाई। उन्होंने उपस्थितों को सत्यनिष्ठा के साथ सरदार वल्लभ भाई पटेल की दूरदर्शिता से संभव हुई राष्ट्र की एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए स्वयं को समर्पित करने, एकता की भावना को देशवासियों में प्रसारित करने और आंतरिक सुरक्षा को सुनिश्चित करने में सत्यनिष्ठा से योगदान देने के लिए संकल्पित कराया। तैल-चित्र का निर्माण राज सैनी द्वारा किया गया है।         

Kolar News

Kolar News 1 November 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में भगवान बिरसा मुंडा की जयंती जनजातीय गौरव दिवस के रूप में धूमधाम से मनाई जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा जनजातीय गौरव दिवस 15 नवम्बर को मनाने के निर्णय के लिए मध्यप्रदेश सदैव ऋणी और आभारी रहेगा।मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट कर कहा कि- आज यशस्वी प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों से भारत की संस्कृति, जीवन-शैली, सौर ऊर्जा, युवाशक्ति, पर्यावरण-संरक्षण सहित मन की बात से अनेक महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भगवान बिरसा मुंडा ने हमें सिखाया कि कैसे अपने परिवेश के साथ सद्भाव में रहना है और अपनी संस्कृति पर गर्व करना है। उनसे प्रेरित होकर उनके सपनों को पूरा करने और अपने जनजातीय समुदायों को सशक्त बनाने के लिए देश में कार्य हो रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने भगवान बिरसा मुंडा की जयंती जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया था। प्रधानमंत्री श्री मोदी गत वर्ष 15 नवम्बर को मध्यप्रदेश आकर राजधानी भोपाल में दिवस में शामिल हुए थे। भगवान बिरसा मुंडा ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ आदिवासी और जनजातीय समाज को एकजुट करने और देश को आजादी दिलाने के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया था। उनके योगदान का सदैव स्मरण करना हमारा दायित्व भी है।  

Kolar News

Kolar News 31 October 2022

राज्यपाल  मंगुभाई पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार की शाम को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर कुशाभाऊ ठाकरे इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में होने वाले कार्यक्रम में शामिल होंगे। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव और स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार भी मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम स्थल पर स्वराज संस्थान संचालनालय द्वारा प्रदर्शनी भी लगाई जाएगी। अतिथियों द्वारा सरदार वल्लभ भाई पटेल के चित्र पर पुष्प अर्पित कर दीप जला कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया जायेगा। इस मौके पर पुलिस बैण्ड द्वारा राष्ट्र-गान की धुन, विद्यार्थियों द्वारा देश भक्ति गीत प्रस्तुत किये जायेंगे। कार्यक्रम में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी पर केन्द्रित फिल्म भी प्रदर्शित की जाएगी। राज्यपाल और मुख्यमंत्री का सरदार वल्लभ भाई पटेल के व्यक्तित्व और कृतित्व पर उद्बोधन भी होगा। सरदार वल्लभ भाई पटेल की जन्म-तिथि 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस पर प्रदेश में राष्ट्रीय एकता, अखंडता और सुरक्षा को बनाये रखने की शपथ ली जायेगी। साथ ही सभी जिलों में 'रन फॉर यूनिटी' का आयोजन भी होगा।

Kolar News

Kolar News 31 October 2022

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान का उद्देश्य आमजन को सरकार की जनहितैषी योजनाओं का लाभ दिलाना है। इसलिए शिविर लगा कर सभी विभागों के  कर्मचारियों को एक ही छत के नीचे बिठा कर आमजन की समस्याएँ सुनी जा रही हैं। ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि गरीबों एवं असहाय लोगों के लिए काम करना सबसे बड़ा पुण्य का काम है। उन्होंने कहा कि आपका सेवक आपकी सेवा हमेशा करता रहेगा। नागरिकों की समस्याओं के निराकरण के लिए यह शिविर लगाया गया है। ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि पर्यटन की दृष्टि से सागर ताल का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है। नालों का निर्माण का कार्य चालू है। घर के नजदीक ही स्वास्थ्य सुविधाएँ मिले, इसके लिये प्रत्येक वार्ड में संजीवनी क्लीनिक बनाई जा रही हैं।  वार्ड नं. 6 में भी संजीवनी क्लीनिक का शीघ्र ही भूमि-पूजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उपनगर के 16 हजार से अधिक पात्र परिवारों को राशन की पात्रता पर्ची दी जा चुकी है। साथ ही पेंशन एवं आयुष्मान कार्ड बड़ी संख्या में बनाये गए हैं। ऊर्जा मंत्री तोमर ने हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र भी वितरित किये।

Kolar News

Kolar News 31 October 2022

पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल ने जिला अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि जिले में घुमंतू जनजाति के लोगों का सर्वे कर उन्हें मुख्यमंत्री भू-अधिकार योजना में भूमि का पट्टा दें और प्रधानमंत्री आवास योजना में उन्हें आवास मुहैया कराएँ। राज्य मंत्री पटेल शुक्रवार को मंदसौर जिले के अजयपुर और ग्राम बाबुल्दा में मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान के शिविर को संबोधित कर रहे थे। राज्य मंत्री पटेल ने निर्देश दिये कि जिले में पिछड़ा वर्ग के लोगों को चिन्हित कर सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाया जाए। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार के प्रयासों से प्रदेश में वर्तमान में 45 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। राज्य सरकार द्वारा राज्य मंत्री पटेल को मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान अंतर्गत मंदसौर जिले का प्रभार दिया गया है। शिविर को नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री हरदीप सिंह डंग ने भी संबोधित किया। उन्होंने बताया कि वर्ष 2024 तक प्रदेश के आवासहीन व्यक्तियों को पात्रतानुसार आवास दिलाया जायेगा। उन्होंने बताया कि सीतामऊ क्षेत्र में करीब 1664 करोड़ रूपये की सिंचाई योजनाओं को पूरा किया गया है। शिविर मे विधायक देवीलाल धाकड़ एवं स्थानीय जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।  

Kolar News

Kolar News 30 October 2022

राष्‍ट्रीय एथलीट और पर्वतारोही आशा राजूबाई मालवीय मध्‍यप्रदेश के स्‍थापना दिवस- एक नवंबर को 20 हजार किलोमीटर लंबी साइकिल यात्रा कर देश के सम्पूर्ण राज्यों का भ्रमण करेंगी। यात्रा के दौरान वे प्रदेश के पर्यटन गंतव्यों, नैसर्गिक सौंदर्य, समृद्ध इतिहास और संस्कृति को देश के कोने-कोने तक पहुँचाने के अभियान का हिस्सा बनेंगी। पर्यटन, संस्कृति और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर साइकिल यात्रा को फ्लेग ऑफ करेंगी। प्रमुख सचिव पर्यटन और संस्कृति एवं प्रबंध संचालक टूरिज्म बोर्ड शिव शेखर शुक्ला ने आशा को यात्रा में सहयोग के रूप में टूरिज्म बोर्ड की ओर से बेहद आधुनिक जीपीएस युक्त हाइब्रिड साइकिल रोम-2 और साइकिल किट सौंपी।   पर्यटन स्थलों को महिलाओं खास कर एकल महिला यात्रियों (सोलो फीमेल ट्रेवलर) के लिए और अधिक सुरक्षित तथा सुगम बनाने मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा प्राथमिकता पर विभिन्न योजना-परियोजनाओं का संचालन किया जा रहा है। इसी के मद्देनजर बोर्ड द्वारा खिलचीपुर, जिला राजगढ़ की रहने वाली राष्‍ट्रीय एथलीट एवं पर्वतारोही सुश्री आशा राजूबाई मालवीय का साइकिल से देश भ्रमण का प्रस्ताव स्वीकार कर उनकी पहल का स्वागत किया है। यात्रा का समापन 11 माह बाद दिल्ली में होगा। आशा नेपाल-भूटान-बांग्लादेश की सीमा पर स्थित तेनजिंग खान (19,545 फीट) एवं बीसी राय (20,500 फीट) जैसी बर्फीली चोटियों को फतह कर तिरंगा फहरा चुकी हैं। उनका नाम नेशनल बुक ऑफ रिकॉर्ड ओएमजी बुक में दर्ज है।

Kolar News

Kolar News 30 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भोपाल में डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर में बन रही सिक्स लेन सड़क राजधानी की सबसे सुंदर सड़क होने के साथ भविष्य को ध्यान में रख कर बनाई जा रही है। भविष्य में मेट्रो ट्रेन के आगमन और समन्वित विकास के लिए आवश्यक तैयारी के साथ सड़क निर्माण की परियोजना तैयार की गई है। इसके लिए जन-प्रतिनिधि, लोक निर्माण विभाग और आमजन बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने नागरिकों से विकास के प्रयासों में सहभागी होने का आह्वान भी किया। मुख्यमंत्री चौहान आज भोपाल के डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर (कोलार) में सिक्स लेन रोड के उन्नयन और सुदृढ़ीकरण के प्रकल्प का भूमि-पूजन कर रहे थे। इसकी लागत लगभग सवा 200 करोड़ रूपए और लम्बाई 15 किलोमीटर है। इस सीमेंट-कांक्रीट रोड के निर्मित होने के बाद आगामी 30 वर्ष तक इसकी मरम्मत की आवश्यकता नहीं होगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विलंब से कार्य पर निर्माण एजेंसी को आर्थिक दंड भरना होगा। साथ ही यदि समय के पहले कार्य संपन्न होते हैं तो 3 प्रतिशत प्रोत्साहन राशि बोनस के रूप में दी जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा विकास की नई दृष्टि के साथ कार्य हो रहा है। जब कहीं सड़क बनती है तो उसे फिर से बार-बार खोदने का कार्य नहीं होना चाहिए। यहाँ इसके लिए व्यवस्थित योजना तैयार कर क्रियान्वित की जा रही है। इसके लिए जन-प्रतिनिधि और संबंधित विभाग बधाई के पात्र हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि विधायक श्री रामेश्वर शर्मा के सक्रिय होने से विकास का कार्य आसान होता है। शर्मा, कल्पना शक्ति और इच्छा-शक्ति से कार्य करते हैं। उनमें कोलार, बैरागढ़ और क्षेत्र के विकास के लिए तड़प है। भोपाल को स्वच्छतम राजधानी के रूप में पुरस्कृत किया गया है। प्रयास करें कि आने वाले समय में सर्वश्रेष्ठ और स्वच्छ नगर के रूप में भोपाल की पहचान मजबूत हो।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि महाकाल लोक के लोकार्पण के बाद सलकनपुर वाली विजयासन माता स्थल के विकास का कार्य किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बेटियों को बचाने और उन्हें प्रोत्साहित करने के साथ आमजन नशा मुक्ति का संकल्प भी लें। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह क्षेत्र, नशा मुक्त हो जाए, इसमें सबका सहयोग जरूरी है। नशे के कारोबारियों को दफन कर देने की जरूरत है। गरीबों के लिए पैसे की कमी नहीं है। प्रत्येक पात्र व्यक्ति राशन वितरण योजना का लाभ ले। इसी तरह आयुष्मान भारत योजना में आयुष्मान कार्ड बनवाने और अन्य योजनाओं में गरीबों के नाम जुड़वाने का कार्य करवाने में सभी नागरिक रूचि लें। जन-प्रतिनिधि भी इसमें आवश्यक सहयोग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आहवान किया कि अमृत योजना-2, प्रधानमंत्री किसान-कल्याण योजना, मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी योजना, उद्यमियों को सहायता प्रदान करने वाली योजनाओं और स्व-रोजगार योजनाओं का भी सभी पात्र लोग लाभ लें।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारा संकल्प है कि कोई गरीब बिना मकान के नहीं रहेगा। आपराधिक तत्वों से मुक्त कराई गई जमीन आवास योजनाओं में उपयोग की जाएगी। आगामी 2 नवम्बर को लाड़ली लक्ष्मी सम्मेलन होने वाला है। बेटियाँ बोझ नहीं वरदान हैं। योजना में जितनी भी बेटियाँ आएंगी उनकी कॉलेज की फीस चाहे वह मेडिकल की हो, इंजीनियरिंग की हो, राज्य सरकार भरवाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश पहला राज्य है जहाँ मेडिकल की पढ़ाई हिंदी में होगी। एक साल के अंदर एक लाख सरकारी भर्तियों की प्रक्रिया पूरी की जाएगी ताकि हमारे नौजवानों को सीधे रोजगार मिले। सीएम राइज़ योजना में सर्वसुविधा युक्त स्कूल बनाए जा रहे हैं। पुलिस विभाग में भर्ती की कार्यवाही की जा रही है। प्रदेश में 17 हजार शिक्षकों की भर्ती की गई है। अब 15 हजार अन्य शिक्षकों की भर्ती कर रहे हैं।   लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान ने गाँव, गरीब और किसान वर्ग के साथ शहरी क्षेत्र के लोगों के कल्याण के कदम उठाए हैं। कोलार मार्ग पर सड़क के दोनों तरफ ड्रेनेज की व्यवस्था रहेगी। जल भराव नहीं होगा। फुटपाथ और सर्विस डक्ट भी बनेंगे। भूमिगत रूप से पानी, रसोई गैस और फाइबर लाइन बिछाने आवश्यक व्यवस्था रहेगी। चौराहों के उन्नयन के साथ प्रकाश व्यवस्था भी रहेगी। सड़कों के निर्माण के साथ पट्टिका लगा कर जिम्मेदार एजेंसी का उल्लेख करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्यमंत्री चौहान का सपना है कि भोपाल, चंडीगढ़, हैदराबाद जैसे नगरों की तरह विकसित हो। भार्गव ने भोपाल सहित प्रदेश में निर्मित की जाने वाली सड़कों, फ्लायओवर और बीस रोप-वे की प्रस्तावित योजनाओं, परियोजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान की मंशा अनुरूप कार्य का संचालन हो रहा है। समय-सीमा में कार्यों को पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं।     विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी नगर में अब तक हुए विकास कार्य मुख्यमंत्री चौहान की पहल पर सम्पन्न हुए हैं। उन्होंने निर्माण और विकास कार्यों में पूरा सहयोग दिया है। पीने के पानी का प्रबंध हुआ है। करीब 25 हजार घरों में नल कनेक्शन देने का कार्य भी पूरा हो गया है। बहुमंजिला भवनों में बल्क नल कनेक्शन देने की पहल हुई है। चार पुल निर्मित हो गए हैं। राज्य सरकार से 15 करोड़ रूपए की अतिरिक्त राशि प्राप्त हुई है। शर्मा ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र मंडीदीप और सलकनपुर मंदिर से यह क्षेत्र अब बेहतर रूप में कनेक्ट हो जाएगा। उन्होंने सिक्स लेन सड़क निर्माण परियोजना की विशेषताएँ बताई। आगामी 11 माह में सिक्स लेन सड़क निर्माण का लक्ष्य है। इसके पहले ही यह कार्य पूरा कर लेने का संकल्प लिया गया है। सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश में चहुँमुखी विकास हो रहा है। मुख्यमंत्री चौहान राजधानी भोपाल और मध्यप्रदेश के सभी क्षेत्रों के विकास के लिए संकल्पबद्ध हैं। महापौर मालती राय ने आभार माना। प्रारंभ में मुख्यमंत्री चौहान सहित जन-प्रतिनिधियों ने कन्या-पूजन भी किया।

Kolar News

Kolar News 30 October 2022

लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने कहा है कि प्रदेश में सड़क दुर्घटना पर नियंत्रण के लिए आगामी एक वर्ष में प्रदेश की सड़कों को ब्लैक स्पॉट से मुक्त कर दिया जाएगा। उन्होंने यह बात इंदौर के ब्रिलियंट कन्वेशन सेंटर में केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा आयोजित इंटरनेशनल सेमिनार ऑन रोड सैफ्टी करंट सिनेरियो वे फारवर्ड सेमिनार में कही। उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटनों को नियंत्रित करने के लिए सरकार और समाज को सम्मिलित प्रयास करने होंगे। लोक निर्माण मंत्री भार्गव ने कहा कि हम एक ऐसा सिस्टम तैयार करना चाहते हैं, जिसमें यातायात नियमों का और सख्ती से पालन हो। दुर्घटनाएँ न हो इस विषय में हमें गंभीरता से सोचना होगा। उन्होंने कहा कि आज हुई परिचर्चा हमें सड़क यातायात सुधार में मुकम्मल स्थान पर पहुँचाने में मदद करेगी। मंत्री भार्गव ने कहा कि दुर्घटनाओं को रोकने के लिए एक अकेला विभाग लोक निर्माण सक्षम नहीं होगा। इसके लिए सभी विभागों को प्रयत्न करने होंगे। आमजन को यातायात नियम, यातायात सुरक्षा के लिए जागरूक बनना होगा तभी अच्छे परिणाम देखने को मिल सकेंगे। उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं में मृत्यु होना चिंता का विषय है। इसलिए यह जरूरी है कि इस महत्वपूर्ण विषय पर हम सब लोग विचार करें।   कार्यक्रम में इंडियन रोड कांग्रेस के सेक्रेटरी जनरल  एस.के. निर्मल, वाइस प्रेसिडेंट आर.के. मेहरा, इंजीनियर इन चीफ एमपी पीडब्ल्यूडी श्री नरेंद्र कुमार, प्रोजेक्ट डायरेक्टर जी.पी. मेहरा, नेशनल हाई-वे के टेक्निकल मेंबर  महावीर सिंह, इंडियन रोड कांग्रेस के वाइस प्रेसिडेंट  प्रणब कुमार, चेयरमेन कमेटी  बी.के. चौहान और लोकल ऑर्गेनाइजिंग सेक्रेटरी आर.के. जोशी भी उपस्थित थे। सेमिनार में आई.आर.सी. द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर के विशेषज्ञों और विभिन्न राज्यों से 120 प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है। मध्यप्रदेश के जिलों के विभिन्न विभागों के 130 प्रतिनिधियों ने भी भागीदारी की। दो दिवसीय सेमिनार में कुल 17 तकनीकी प्रस्तुतिकरण किये गये।

Kolar News

Kolar News 29 October 2022

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के  मुख्य आतिथ्य में ग्वालियर में मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में शिविर लगाया गया।  शिविर में 405 आवेदन प्राप्त हुए। इनमें से 321 आवेदनों को मौके पर ही निराकृत किया गया। ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि राज्य सरकार की मंशानुसार अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक सरकार की योजनाओं का लाभ दिलाना इन शिविरों का उद्देश्य है। विभागीय अधिकारी पूरी गंभीरता के साथ हितग्राहियों को लाभान्वित कराएँ। तोमर ने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से कोई भी पात्र परिवार छूटे नहीं, इस उद्देश्य से मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर 17 सितम्बर से 31 अक्टूबर तक मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान चलाया जा रहा है। इससे आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों को बड़ा संबल मिला है।    मंत्री तोमर ने कहा कि उपनगर में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिये बेहतर कार्य किये जा रहे हैं। दो सीएम राइज स्कूल बनने जा रहे हैं। इसमें से एक शा.क.उ.मा.वि. फोर्ट रोड का भूमि पूजन शनिवार को मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया जाएगा। कम्युनिटी हॉल कांचमील में आम जनता की सुविधा के लिए लगाये गये शिविर में लाड़ली लक्ष्मी योजना, निर्माण श्रमिक कार्ड, वृद्धावस्था तथा कल्याणी पेंशन और घरेलू कामकाजी महिलाओं एवं हाथठेला योजना संबंधी आवेदन आये। अधिकारियों द्वारा आवदनों का शिविर में ही सत्यापन कर निराकरण किया गया। पात्र हितग्राहियों को ऊर्जा मंत्री श्री तोमर द्वारा स्वीकृति-पत्र सौंपे गए।  

Kolar News

Kolar News 29 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नर्मदा जी से पाइप लाइन बिछा कर किसानों के खेतों तक सिंचाई के लिये पानी पहुँचाने के प्रबंध किये जाएंगे। इसके लिये 102 करोड़ रूपये की लागत की सिंचाई योजना स्वीकृत की गई है। ऐसे किसान, जिनकी ढाई-ढाई हेक्टयर भूमि है, उन्हें इस योजना से लाभान्वित किया जाएगा। विशेष कर उन किसानों को जिन्हें वारना नहर से पानी नहीं मिल पा रहा है, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान आज सीहोर जिले के बुधनी विकासखण्ड की ग्राम पंचायत गादर में मुख्यमंत्री जन-सेवा शिविर को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने शिविर में आए ग्रामीणों को केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं में पात्र व्यक्तियों को चिन्हित कर उन्हें लाभान्वित करने जन-सेवा शिविर लगाए जा रहे हैं। ग्रामीणजन सजग होकर योजनाओं का लाभ लें।    मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोई भी पात्र व्यक्ति शासन की योजना के लाभ से वंचित न रहे। इसके लिये डोर-टू-डोर सर्वे भी किया जाए।मुख्यमंत्री चौहान को शिविर में मूक बधिर श्री रंजीत चौहान ने अपनी समस्या से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने हितग्राही को यथाशीघ्र लाभ दिलाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने शिविर में आए आवेदनों पर त्वरित कार्यवाही करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान में अब तक की गई कार्यवाही से अवगत कराया। मुख्यमंत्री चौहान ने कन्या-पूजन के साथ शिविर का शुभारंभ किया। साथ ही विभिन्न योजनाओं में हितलाभ और स्वीकृति-पत्र वितरित किए। विदिशा सांसद श्री रमाकांत भार्गव ने भी संबोधित किया। शिविर में जन-प्रतिनिधि, अधिकारी और बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 29 October 2022

राज्य शासन ने जल जीवन मिशन में प्रदेश के चिन्हित किये गये संवहनीय जल स्त्रोत विहीन (water scarce) ग्रामों के लिये भू-जल और सतही जल स्त्रोतों के परीक्षण तथा नलजल योजना बनाए जाने के लिए उपलब्ध होने वाले स्त्रोतों की उपयुक्तता का आकलन करने "जल जीवन मिशन योजना हेतु स्त्रोत परीक्षण समिति" का गठन किया गया है। प्रमुख अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी की अध्यक्षता में गठित समिति में प्रमुख अभियंता जल संसाधन, सदस्य अभियांत्रिकी नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण, प्रमुख अभियंता ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, निदेशक मैपकॉस्ट, मुख्य महाप्रबंधक मध्यप्रदेश जल निगम, क्षेत्रीय संचालक केन्द्रीय भू-जल बोर्ड और मुख्य अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी (समस्त परिक्षेत्र) को सदस्य बनाया गया है। अधीक्षण यंत्री मॉनिटरिंग लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी को सदस्य सचिव मनोनीत किया गया है। प्रदेश में चिन्हित किये गये 10 हजार 409 संवहनीय जल-स्त्रोत विहीन (water scarce) ग्रामों के लिये समिति द्वारा जल जीवन मिशन के मापदण्डों के अनुसार जल स्त्रोत की उपलब्धता होने की अनुशंसा की जायेगी। समिति की अनुशंसा पर प्रमुख अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग नलजल योजनाओं की डीपीआर तैयार कर सक्षम स्तर से प्रशासकीय स्वीकृति प्राप्त करने की कार्यवाही करेंगे। समिति द्वारा एक माह में निर्देशित कार्रवाई पूर्ण करना सुनिश्चित किया जायेगा।

Kolar News

Kolar News 28 October 2022

प्रदेश के शासकीय महाविद्यालयों में रोजगार एवं कॅरियर अवसर मेलों तथा कौशल उन्नयन के लिए हुए प्रशिक्षण कार्यक्रमों से प्रदेश के विद्यार्थियों को रोजगार प्रदान किया जाता है। गौरतलब है कि उच्च शिक्षा विभाग की स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन योजना से शासकीय महाविद्यालयों में सत्र 2021-22 तथा 22-23 में 21 हजार 315 विद्यार्थियों ने बैंकिंग, फार्मा, कोरियर सर्विस, माइक्रो फायनेंस एवं स्माल फाइनेंस, सेक्युरिटी सेवा, बायो टेक्नोलॉजी, एग्रोटेक, टेक्सटाइल, वर्धमान, यार्न, अल्ट्राटेक, ब्रिज स्नों पीथमपुर, टीसीएस, विप्रो, सिप्ला आदि अशासकीय संगठित और असंगठित क्षेत्रों में रोजगार प्राप्त किये। साथ ही 3595 विद्यार्थियों ने स्वयं का व्यवसाय शुरू किया।   ज्ञात हो कि महाविद्यालयों में स्व-रोजगार के लिए कॅरियर मार्गदर्शन योजना प्रशिक्षण शिविर आयोजित किए जाते हैं। प्रशिक्षण प्राप्त विद्यार्थी अपना स्वयं का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। ऐसे ही प्रशिक्षण प्राप्त विद्यार्थियों ने अलग-अलग क्षेत्रों में स्वयं का व्यवसाय प्रारंभ किया है। इसमें ब्यूटी पार्लर, बुटीक, केक निर्माण, वर्मीकंपोस्ट निर्माण, मछली पालन तथा वनोपज से संबंधित व्यवसाय शामिल हैं।  इसके अतिरिक्त शासकीय महाविद्यालयों को उद्यमिता शिविर किए जाते हैं, जिसमें महाविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा बनाए गए उत्पादों का प्रदर्शन एवं विक्रय किया जाता है। इससे अनेक विद्यार्थियों को आय प्राप्त हो रही है। अनेक छात्र– छात्राएँ आय प्राप्त कर रहे हैं।  

Kolar News

Kolar News 28 October 2022

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा है कि पूरी तैयारी के बाद पूजा स्थलों पर भव्यता के साथ छठ पूजा की जायेगी। सारंग ने लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा के मद्देनजर भोपाल में विभिन्न स्थानों पर बने छठ पूजा स्थलों का निरीक्षण किया। मंत्री सारंग ने बुधवार को अन्ना नगर शाखा ग्राउंड, सुभाष नगर दुर्गा मंदिर, एकतापुरी दशहरा मैदान, राजेंद्र नगर, करोंद पर तैयार किये जा रहे छठ पूजा स्थलों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मंत्री सारंग ने जल कुंडों की साफ-सफाई, स्वच्छता, पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था एवं छठ पूजा करने वालों की सुविधा और सुरक्षा संबंधी जानकारी ली।   मंत्री श्री सारंग ने कहा कि प्रत्येक त्यौहार बेहद हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। विगत 10 वर्षों से छठ पूजा के लिये सूर्य कुण्डों का निर्माण कर घाटों का विस्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि पूजा के दौरान लोगों को असुविधा नहीं हो, इस के लिये छठ घाटों पर सुविधा एवं सुरक्षा का ध्यान रखते हुए व्यवस्था की जा रही है। मंत्री सारंग ने कहा कि छठ पूजा के अवसर पर बड़ी संख्या में क्षेत्र की महिलायें पूजन में शामिल होती हैं। महिलाओं को किसी भी प्रकार की असुविधा नहीं हो, इसके लिये छठ घाटों के समीप नगर निगम द्वारा अस्थाई शौचालय की व्यवस्था की जाएगी। निरीक्षण के दौरान महापौर मालती राय, एमआईसी सदस्य अशोक वाणी और आनंद अग्रवाल, क्षेत्रीय पार्षद, नगर निगम के अधिकारी एवं स्थानीय रहवासी उपस्थित रहे।   मंत्री  सारंग ने गोवर्धन पूजा के अवसर पर निज निवास पर विधि-विधान के साथ गो-माता की पूजा-अर्चना की। मंत्री सारंग ने गो-माता को रोटी खिलाकर आरती उतारी। मंत्री सारंग ने कहा कि सनातन संस्कृति में पूज्य एवं वेदों में प्रतिष्ठित गोमाता में सभी देवी-देवता विद्यमान रहते हैं। जिस प्रकार देवी लक्ष्मी सुख-समृद्धि देती हैं उसी प्रकार गो माता भी अपने दूध से जन-मानस को स्वास्थ्य रूपी धन प्रदान करती हैं। उन्होंने कहा कि गाय सम्पूर्ण मानव जाति के लिए पूजनीय और आदरणीय है। गो-संवर्धन हमारा कर्त्तव्य और समाज की जरूरत भी है।  

Kolar News

Kolar News 27 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गोवर्धन पूजा पर प्रदेशवासियों को पौध-रोपण करने, बिजली बचाने, पानी बचाने, लकड़ी के स्थान पर गो-काष्ठ का उपयोग करने, प्राकृतिक खेती अपनाने, गो-ग्रास के लिए योगदान देने, पराली नहीं जलाने और पर्यावरण-संरक्षण के लिए राज्य सरकार के साथ हरसंभव सहयोग देने का संकल्प दिलाया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गोवर्धन पूजा पर्यावरण और प्रकृति की पूजा ही है। मुख्यमंत्री चौहान कुशाभाऊ ठाकरे इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर भोपाल में गोवर्धन पूजा पर प्रकृति के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने के उद्देश्य से आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। पर्यावरण मंत्री  हरदीप सिंह डंग, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, इंटरनेशनल सोसायटी फॉर कृष्ण कॉन्शसनेस इस्कॉन के गवर्निंग बॉडी कमिश्नर गोरांग दास विशेष रूप से उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह के साथ कन्वेंशन सेंटर परिसर में बने गोवर्धन परिक्रमा पर्वत की विधि-विधान से पूजा अर्चना की। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि और संपन्नता की कामना की। कार्यक्रम का दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ किया। पर्यावरण-संरक्षण पर केंद्रित लघु फिल्म का प्रदर्शन भी हुआ। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश के 16 नगर निगमों में शहरी पार्क, शहरी वन क्षेत्र, हरित परिवहन, वायु गुणवत्ता और सौर ऊर्जा के मापदंडों पर रैंकिंग के लिए ग्रीन सिटी इंडेक्स का सिंगल क्लिक से शुभारंभ किया।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रकृति के असंतुलन से मनुष्य के अस्तित्व पर संकट आएगा। हमारी संस्कृति, प्रकृति के दोहन का संदेश देती है, शोषण का नहीं। भारतीय संस्कृति में हर बिंदु पर पेड़ों की पूजा और जियो और जीने दो के सिद्धांत को व्यवहार में लाने का ध्यान रखा गया है। किसान जीव-जंतुओं के चारे के लिए घास उपलब्ध कराने के उद्देश्य से बीड़ के रूप में अपने गाँवों में स्थान छोड़ते थे। आज वही अवधारणा ग्रीन बेल्ट के रूप में लागू हो रही है। प्राणियों में सद्भावना और विश्व के कल्याण का भाव, भारतीय परंपरा में वर्षों से विद्यमान है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आने वाली पीढ़ियों के लिए वर्तमान में धरती की चिंता करना आवश्यक है। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लाइफ फॉर एनवायरमेंट कार्यक्रम आरंभ किया गया है। उनके संकल्पों को पूरा करने के लिए मध्यप्रदेश प्रतिबद्ध है। धरती बचाने के लिए जीवन शैली में परिवर्तन लाना आवश्यक है। हमें अपने जीवन में पानी बचाने, बिजली बचाने, अपने जन्म-दिवस, शादी की वर्षगाँठ सहित अन्य शुभ अवसरों पर पौधा लगाने को आदत में शामिल करना होगा। विकास और पर्यावरण-संरक्षण के बीच संतुलन आवश्यक है। पर्यावरण-संरक्षण के संबंध में जन-साधारण से भी विचार आमंत्रित किए जा रहे हैं। इन गतिविधियों में समाज और सरकार साथ मिल कर कार्य करेंगे। प्रदेश में "ग्रीन एनर्जी-क्लीन एनर्जी" के लिए नवकरणीय ऊर्जा के स्रोतों को प्रोत्साहित करने की दिशा में गतिविधियाँ संचालित हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गो-वंश के रख-रखाव की जिम्मेदारी सरकार के साथ समाज को भी उठानी होगी। मशीनीकरण के कारण बैलों का उपयोग नहीं रहा है। दुग्ध उत्पादन के योग्य नहीं रही गायों को भी छोड़ दिया जाता है। प्रदेश में 1 करोड़ 87 लाख से अधिक गो-वंश है। बहुत बड़ी संख्या में गो-वंश सड़क पर है। इनके प्रबंधन के लिए समाज और सरकार को संयुक्त रूप से आगे आना होगा। गाय के गोबर से सीएनजी उत्पादन के लिए प्रदेश में प्रयास हो रहे हैं। साथ ही गो-मूत्र और गोबर के अन्य उपयोग भी हैं, इन्हें शामिल कर गो-शालाओं को बहुआयामी बना कर उन्हें आत्म-निर्भर बनाने की दिशा में कार्य किया जाएगा। शहर और ग्रामों में पौध-रोपण के लिए स्थान निर्धारित किए जाएंगे। इन स्थानों की देख-रेख पंचायत तथा नगरीय निकाय करेंगे। यह स्थान गो-वंश के लिए भी सुरक्षित होंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रासायनिक खाद और कीटनाशकों के उपयोग से हो रही खेतों की दुर्दशा को रोकने के लिए प्राकृतिक खेती को अपनाना आवश्यक है। सभी किसान भाई अपनी-अपनी कृषि भूमि के एक भाग में प्राकृतिक खेती को अपनाएँ। मध्यप्रदेश में जीडीपी की गणना में ग्रास एनवायरमेंटल प्रोडक्ट को भी जोड़ा जाएगा। प्राकृतिक संसाधन, वन और जैव विविधता को भी जीडीपी में शामिल किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार पर्यावरण संरक्षण के लिए हर संभव प्रयास करेगी। प्राकृतिक और सांस्कृतिक धरोहर को सुरक्षित रखना समय की मांग है। गोवर्धन पूजा कर्मकांड नहीं प्रकृति के संरक्षण का अभियान है। समाज और सरकार मिल-कर धरती बचाने का संकल्प लें।   इस्कॉन संस्था के गोरांग दास जी ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा पर्यावरण हितैषी जीवन-शैली को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से आयोजित सामाजिक नेतृत्व के इस कार्यक्रम की अवधारणा सराहनीय है। मानव समाज में भ्रांतियाँ विद्यमान हो गई हैं कि धन ही सुख का आधार है, तकनीक से शांति प्राप्त की जा सकती है, अस्त्रों से सुरक्षित रह जा सकता है, भूमि से भोग की सभी सामग्री प्राप्त की जा सकती है और अपशिष्ट के लिए पृथ्वी का निर्बाध उपयोग किया जा सकता है। जिससे प्राकृतिक व मनुष्य का आतंरिक पर्यावरण बिगड़ रहा है। संयुक्त राष्ट्र संघ, जन-सामान्य में आत्म-संयम विकसित करने धर्म गुरुओं का सहयोग ले रही है। जीवन की निरंतरता के लिए पर्यावरण के प्रति नम्रता और कृतज्ञता का भाव आवश्यक है। पर्यावरण मंत्री हरदीप सिंह डंग ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान की पर्यावरण संवेदी सोच के परिणाम स्वरूप ही गोवर्धन पूजा के कार्यक्रम की संकल्पना साकार हुई। मातृ-भूमि को स्वच्छ सुंदर बनाना हमारा कर्त्तव्य है। प्राकृतिक संपन्नता से ही प्रदूषण की समस्या के समाधान का मार्ग प्रशस्त होता है। प्रदेश में अंकुर अभियान में 16 लाख लोगों द्वारा पंजीयन कराया गया है। पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एप्को) तथा मध्यप्रदेश जनअभियान परिषद द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में सभी जिले और विकासखंड वर्चुअली शामिल हुए। विभिन्न टी.वी. चैनलों और सोशल मीडिया प्लेटफार्मस से भी लोग कार्यक्रम से जुड़ें। कार्यक्रम में अंकुर अभियान के प्रतिभागी और ग्राम पंचायतों में प्रस्फुटन समितियों के सदस्य सहभागी रहें। गोवर्धन-पूजा के राज्य स्तरीय कार्यक्रम में प्रदेश की सभी गोशालाएँ, कृषि विज्ञान केन्द्र, कृषि प्रशिक्षण केन्द्र, कृषि उपज मंडियाँ, नाबार्ड के एफपीओ, सहकारी समितियाँ, कृषि महाविद्यालय और विश्वविद्यालय वर्चुअली शामिल हुए।

Kolar News

Kolar News 27 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आगामी 15 नवम्बर को बिरसा मुंडा जयंती पर जनजातीय गौरव दिवस मनाया जाएगा। प्रदेश की सभी पंचायतों में यह कार्यक्रम होगा। मुख्यमंत्री चौहान निवास कार्यालय पर कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव अनुसूचित जाति कल्याण और जनजातीय कार्य डॉ. पल्लवी जैन गोविल, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री शिवशेखर शुक्ला सहित अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कार्यक्रम में नवनिर्मित कन्या शिक्षा परिसरों का वर्चुअली लोकार्पण होगा। संपूर्ण स्वास्थ्य कार्यक्रम, पेसा एक्ट, मित्र-24x7 कॉल सेंटर और ट्राइबल डिजाइन सेंटर- एनआईडी भोपाल का शुभारंभ होगा। साथ ही जेईई, नीट और क्लेट के विद्यार्थियों का सम्मान होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पेसा एक्ट के कार्यक्रम का 7 दिवस पहले से प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाए।  

Kolar News

Kolar News 27 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 26 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा के उपलक्ष्य में पर्यावरण-संरक्षण पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे। राज्य स्तरीय कार्यक्रम कुशाभाऊ ठाकरे कन्वेंशन सेंटर भोपाल में सुबह 11 बजे से होगा। मुख्यमंत्री चौहान की उपस्थिति में जन-भागीदारी से पौध-रोपण, जल-संरक्षण और सस्टेनेबल ग्रीन साइट्स पर गतिविधियाँ होंगी। मुख्यमंत्री चौहान अंकुर अभियान के प्रतिभागियों से संवाद भी करेंगे। राज्य स्तरीय कार्यक्रम से सभी जिले वर्चुअली जुड़ेंगे। जिलों में होने वाले कार्यक्रमों में पर्यवारण प्रेमी, पर्यावरणविद और अंकुर अभियान के प्रतिभागी शामिल होंगे। गोवर्धन पूजा के उपलक्ष्य में सभी जिलों में होने वाले कार्यक्रमों का समन्वय मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद द्वारा किया जा रहा है।   उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री चौहान ने 22 अक्टूबर को प्रदेशवासियों के नाम जारी संदेश में कहा था कि गोवर्धन पूजा का पर्व सार्वजनिक रूप से मनाया जाएगा। गोवर्धन पूजा सही अर्थों में पर्यावरण और प्रकृति की पूजा है, इसका आरंभ भगवान श्रीकृष्ण ने किया था। उन्होंने बृजवासियों से कहा था कि गोवर्धन पर्वत गायों को घास देता है, पर्वत पर लगे पेड़ों के फलों का उपयोग किया जाता है और पर्वत के जंगल लोगों को जीवन देते हैं। इसलिए यदि बृजवासियों को पूजा करना है तो गोवर्धन पर्वत की पूजा की जाए। भगवान श्रीकृष्ण द्वारा शुरू की गई परंपरा आज तक भारत में जारी है। गोवर्धन पूजा का अर्थ पर्यावरण की रक्षा करना है, जो आज बहुत प्रासंगिक हो गई है। गोवर्धन पूजा पर्यावरणविदों और पर्यावरण प्रेमियों के साथ की जाएगी। प्रकृति की पूजा और संरक्षण ही धरती को आने वाली पीढ़ियों के लिए सुरक्षित छोड़ सकती है। इसी उद्देश्य से संपूर्ण प्रदेश में प्रकृति प्रेमियों के साथ गोवर्धन पूजा का आयोजन किया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 26 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दमोह जिले के देहात थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम देवरान में गोलीबारी की घटना में एक ही परिवार के तीन सदस्यों की असामयिक मृत्यु होने पर दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री  चौहान ने ईश्वर से दिवंगत आत्माओं को शांति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना की है। उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना भी की है। मुख्यमंत्री चौहान ने जिले के प्रशासनिक अधिकारियों को प्रभावितों को उचित आर्थिक सहायता देने और घटना की जाँच कर दोषियों को कठोरतम सजा दिलाने के निर्देश दिए हैं। 

Kolar News

Kolar News 26 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार प्रदेश में नशामुक्ति अभियान में कड़ी कार्यवाही जारी है। अब तक एक लाख 44 हजार 621 लीटर से अधिक अवैध शराब जप्त की जा चुकी है। अब तक 17 हजार 908 प्रकरण दर्ज कर 18 हजार 272 लोगों को आरोपी बनाया जा चुका है। अभियान में एनडीपीएस एक्ट में 1117 प्रकरण दर्ज कर 1190 आरोपी से 5905.358 मादक पदार्थ जप्त किये गये। सार्वजनिक स्थलों पर शराब पीने वाले 5691 लोगों के विरूद्ध 5375 प्रकरण दर्ज किये गये हैं। शराब पीकर वाहन चलाने वालों के विरूद्ध 2346 प्रकरण दर्ज कर 2354 आरोपी के विरूद्ध कार्यवाही की गई है। अभियान में धूम्रपान निषेध कानून में 6723 प्रकरण दर्ज कर 7342 आरोपी बनाये गये हैं। अवैध मादक पदार्थों का नशा कराने वाले 24 हजार 975 और अवैध शराब पीने-पिलाने वाले 37 हजार 312 संदिग्ध स्थानों की सघन जाँच की गई है। नशामुक्ति के लिये जागरूकता कार्यक्रम भी सतत चलाये जा रहे हैं। अब तक 14 हजार 175 कार्यक्रम किये जा चुके हैं।  

Kolar News

Kolar News 26 October 2022

आयुष राज्य मंत्री रामकिशोर 'नानो' कावरे ने प्रदेशवासियों को 7वें राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के मौके पर शुभकामनाएँ दी हैं। कावरे ने अपने संदेश में कहा है कि दुनिया में सबसे पुरानी चिकित्सा प्रणालियों में आयुर्वेद को जाना जाता है। यह उपचार प्रणाली शरीर, आत्मा और दिमाग में स्वस्थ जीवन-शैली और आहार का अभ्यास करने के लिये प्रोत्साहित करती है। आयुर्वेद दवाएँ मानव शरीर को बीमारियों और शारीरिक दर्द से मुक्त रखने में मदद करती हैं। देश में पिछले 8 वर्ष में आयुर्वेद को वैश्विक पहचान दिलाने में केन्द्र सरकार द्वारा ठोस प्रयास किये गये हैं। उन्होंने प्रदेशवासियों से आयुर्वेद जैसी भारत की पारम्परिक चिकित्सा पद्धति को सम्मान के साथ व्यापक स्तर पर अपनाने का आग्रह किया है। 7वें राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस 23 अक्टूबर रविवार को प्रदेश में व्यापक आयोजन होंगे। आयुष विभाग ने विभागीय जिला कार्यालयों को इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी किये हैं। इस वर्ष राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस की थीम "हर दिन-हर घर आयुर्वेद'' रखी गई है। कार्यक्रम की रूपरेखा "आयुर्वेद @ 2047'' थीम पर तैयार की गई है। आयुष राज्य मंत्री कावरे राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के मौके पर बालाघाट जिले में होने वाले कार्यक्रम में शामिल होंगे।  

Kolar News

Kolar News 23 October 2022

गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को दतिया जिले के बड़ौनी में प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों को प्रथम एवं द्वितीय किश्त की राशि एक करोड़ 69 लाख रूपये की खातों में अंतरित की। उन्होंने कहा कि आज से दीपावली की शुरूआत में धनतेरस पर बड़ौनीवासियों को लक्ष्मी जी की कृपा प्राप्त हुई है। माँ पीताम्बरा के आशीर्वाद से दतिया जिले के सर्वांगीण और चहुमुखी विकास में कोई कोर-कसर नहीं रहने देंगे। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा प्रधानमंत्री आवास योजना में निर्माण राशि वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि दतिया जिले के सभी गरीब परिवारों को पक्के आवास उपलब्ध कराये जायेंगे। जिले में आवास के लिये प्राप्त 450 आवेदन-पत्रों का परीक्षण कर पात्र परिवारों को शीघ्र ही योजना से लाभान्वित किया जायेगा। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार विभिन्न योजनाओं में लाभान्वित करने के लिये सभी स्तर पर प्रयास किये जायेंगे, जिससे जिले का चहुमुखी विकास हो सके। मंत्री डॉ. मिश्रा ने कार्यक्रम में 48 हितग्राही को नवीन पेंशन स्वीकृति-पत्र और 150 श्रमिकों को मजदूर कार्ड वितरित किये। अनुग्रह सहायता योजना में 3 प्रकरण में 6 लाख 16 हजार रूपये की राशि और अंत्येष्टि सहायता योजना के 4 प्रकरण में 21 हजार रूपये की सहायता राशि प्रदान की। कार्यक्रम में जन-प्रतिनिधि और अधिकारी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 23 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना में बने साढ़े चार लाख आवासों में गृह प्रवेश कर रहे परिवारों को शुभकामनाएँ दी हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि आज से दीपावली आरंभ हो रही है और इस शुभ दिन में लोग अपने आवासों में गृह प्रवेश करेंगे। सभी लोगों को बहुत-बहुत शुभकामनाएँ। आज धनतेरस के दिन प्रधानमंत्री मोदी का आशीर्वाद प्रदेशवासियों को मिल रहा है। प्रधानमंत्री मोदी गृह प्रवेश के कार्यक्रम का वर्चुअल शुभारंभ करेंगे। उनके आर्शीवचन भी प्रदेश को सुनने को मिलेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने मीडिया के माध्यम से निवास कार्यालय से यह संदेश दिया। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि ‍गृह प्रवेश करने वाले परिवारों में उत्साह और आनंद का वातावरण है। परिवारजन अपने-अपने घरों पर रंगोली बना रहे हैं। नारियल फोड़ कर गृह प्रवेश कराया जाएगा और घरों में दीप प्रज्ज्‍वलित होंगे। जहाँ-जहाँ आवास बने हैं, वहाँ हर गाँव में धूमधाम के साथ गृह प्रवेश कार्यक्रम किया जाएगा। इसमें सभी मंत्रीगण तथा जन-प्रतिनिधि शामिल होंगे।  

Kolar News

Kolar News 22 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गोवर्धन पूजा का पर्व सार्वजनिक रूप से मनाया जाएगा। गोवर्धन पूजा सही अर्थों में पर्यावरण और प्रकृति की पूजा है, इसका आरंभ भगवान श्रीकृष्ण ने किया था। उन्होंने बृजवासियों से कहा था कि गोवर्धन पर्वत गायों को घास देता है, पर्वत पर लगे पेड़ों के फलों का उपयोग किया जाता है और पर्वत के जंगल लोगों को जीवन देते हैं। इसलिए यदि बृजवासियों को पूजा करना है तो गोवर्धन पर्वत की पूजा की जाए। भगवान श्रीकृष्ण द्वारा शुरू की गई परंपरा आज तक भारत में जारी है। गोवर्धन पूजा पर्यावरण की रक्षा है, जो आज बहुत प्रासंगिक हो गई है। इसलिये गोवर्धन पूजा पर्यावरणविदों और पर्यावरण प्रेमियों के साथ मनाई जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रकृति की पूजा ही धरती को आने वाली पीढ़ियों के लिए सुरक्षित कर सकती है, इसलिये प्रकृति प्रेमियों के साथ ही गोवर्धन पूजा का कार्यक्रम होगा।  

Kolar News

Kolar News 22 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में सभी औद्योगिक क्षेत्रों में अपार संभावनाएँ हैं। टेक्सटाईल, खाद्य प्र-संस्करण, फार्मास्युटिकल सेक्टर सहित सभी क्षेत्रों में निवेशकों के लिए मध्यप्रदेश आकर्षण का केन्द्र है। यहाँ सिंगल विन्डो सिस्टम से उद्योग स्थापना संबंधी प्रक्रियाओं को सुगम और समय-सीमा में पूर्ण करना संभव हो रहा है। पर्यटन की दृष्टि से भी मध्यप्रदेश, देश के सबसे समृद्ध राज्यों में से एक है। भारत को वर्ष 2026 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थ-व्यवस्था बनाने के संकल्प को पूर्ण करने मध्यप्रदेश में निवेश प्रोत्साहन के लिये राज्य सरकार प्रतिबद्ध है। प्रदेश में एक लाख 22 हजार एकड़ का लैंड बैंक, पर्याप्त पानी, बिजली, रोड नेटवर्क, दक्ष मानव संसाधन और शांतिपूर्ण वातावरण उपलब्ध है। सभी निवेशक मित्रों का मध्यप्रदेश में स्वागत है। निवेशकों को किसी भी तरह की समस्या आने नहीं दी आयेगी।   मुख्यमंत्री  चौहान पुणे के होटल हयात रेजेंसी में "इन्वेस्टमेंट अपॉर्चुनिटीज़ इन मध्यप्रदेश" कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उल्लेखनीय है कि जनवरी 2023 में इन्दौर में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में निवेश प्रोत्साहन और उद्योगपतियों को समिट में आमंत्रित करने दो दिवसीय यात्रा के दूसरे दिन पुणे में यह कार्यक्रम किया गया। एक दिन पहले 20 अक्टूबर को मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दिल्ली में निवेशकों से संवाद किया था। मुख्यमंत्री चौहान ने संभावित निवेशकों के साथ वन-टू-वन चर्चा भी की। मुख्यमंत्री  चौहान ने संभावित निवेशकों को प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि ई-व्हीकल भविष्य की आवश्यकता है। प्रदेश में ई-व्हीकल कंपनियों के लिए पार्क बनाने का निर्णय लिया गया है। हमने मध्यप्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया है। प्रदेश में दो एक्सप्रेस-वे का निर्माण हो रहा है। चंबल के बीहड़ को जोड़ते हुए अटल एक्सप्रेस-वे और अमरकंटक से सीधे गुजरात की सीमा तक नर्मदा एक्सप्रेस-वे बनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश में सिंचित क्षेत्र 7.5 लाख हेक्टेयर था, जिसे बढ़ा कर हमने 45 लाख हेक्टेयर कर दिया है। आने वाले 3 वर्षों में सिंचित क्षेत्र 65 लाख हेक्टेयर होगा। लगातार दस सालों तक हमने 18 प्रतिशत से अधिक एग्रीकल्चर ग्रोथ रेट दर्ज की है, जो चमत्कार है। अधो-संरचना, स्वास्थ्य-शिक्षा, सुशासन तथा अर्थ-व्यवस्था और रोजगार राज्य शासन के लिए प्राथमिकता के क्षेत्र हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोविड काल के दौरान मैं भी कोरोना से संक्रमित हो गया था। उस समय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आपदा को अवसर में बदलने की बात कहते हुए "आत्म-निर्भर भारत" का मंत्र दिया। हमने आत्म-निर्भर भारत के लिए आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश का रोडमेप बनाया है, जिस पर अमल जारी है। मध्यप्रदेश औद्योगिक विकास की ओर निरंतर अग्रसर है। पर्यटन की दृष्टि से भी प्रदेश, देश के समृद्ध राज्यों में से एक है। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लोकार्पित "श्री महाकाल लोक" विश्व का ध्यान आकर्षित कर रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बड़े एवं मध्यम बांधों का जाल बिछा हुआ है, जिससे पानी की उपलब्धता आसानी से होगी। मध्यप्रदेश पहला राज्य है जहाँ लेबर रिफॉर्मस किए गए हैं। अब प्रदेश में महिलाएँ भी 3 शिफ्ट में कार्य कर सकती हैं। प्रदेश में इंडस्ट्री फ्रेंडली पॉलिसी है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आप सभी को भारतीय प्रवासी दिवस तथा ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के लिए आमंत्रित करता हूँ। आप लोग समिट होने का इंतजार न करें, आज और अभी से निवेश की प्रकिया प्रारंभ कर दें। मैं प्रति सोमवार को उद्योगपतियों के लिए समय आरक्षित रखता हूँ, आप मुझसे कभी भी मिल सकते हैं।   औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्रीराज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव ने कहा कि मध्यप्रदेश ऑटो कम्पोनेंट, सर्विस सेक्टर, फूड प्रोसेसिंग, हॉस्पिटेलिटी, टेक्सटाईल आदि सेक्टर्स में प्रगति कर रहा है। मध्यप्रदेश, देश में ऐसा पहला राज्य है, जिसने अपना ऑटो-शो किया। यहाँ आईआईटी और आईआईएम के साथ ही कई आईटीआई हैं। सिंगापुर की सहायता से भोपाल में ग्लोबल स्किल पार्क स्थापित किया गया है, जहाँ स्किल्ड मेनपावर तैयार किया जा रहा है। मध्यप्रदेश द्वारा गेहूँ, चावल, लहसुन, प्याज, मक्का, सोयाबीन, डेयरी उत्पाद सहित कई कृषि उत्पादों का मिडिल ईस्ट एवं यूएई में निर्यात किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक समय बीमारू राज्य कहा जाने वाला मध्यप्रदेश आज मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के दृढ़ निश्चय एवं अथक प्रयासों से विकसित राज्यों की श्रेणी में आ गया है।प्रमुख सचिव, औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन श्री संजय शुक्ला ने प्रदेश में निवेश के लिये उपलब्ध सुविधाओं एवं नीतियों संबंधी जानकारी दी। एमडी एमपीआईडीसी श्री जॉन किंगस्ले ने उद्योगपतियों का आभार माना। कार्यक्रम में मध्यप्रदेश की समृद्ध, सामाजिक, सांस्कृतिक, प्राकृतिक, औद्योगिक, पर्यटन विरासत एवं आधारभूत संरचना को दर्शाती लघु फिल्म भी दिखायी गई।मुख्यमंत्री  चौहान से काउंसिल जनरल ऑफ इजराइल के कोबी शोनी, भारत फोर्ज लिमिटेड के बाबा कल्याणी, किर्लोस्कर ब्रदर्स लिमिटेड के श्री संजय किर्लोस्कर, वीकफ़ील्डस फूड्स प्रायवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अश्विनी मल्होत्रा, पियाजियो व्हीकल्स इंडिया प्रायवेट लिमिटेड के डिएगो ग्रेफी, केपीआईटी टेक्नोलॉजी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक रवि पंडित, जेडएफ स्टीयरिंग गियर्स के उत्कर्ष मोनोतो, प्रवीण मसाला (सुहाना मसाला) के विशाल चौरडि़या, राठी ग्रुप के अदित राठी और मालपानी ग्रुप के आशीष मालपानी ने मध्यप्रदेश में निवेश संबंधी प्रस्तावों पर संवाद किया।  

Kolar News

Kolar News 22 October 2022

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने ग्वालियर में लक्ष्मण तलैया रोड़, गेंडे वाली सड़क एवं जेएएच हॉस्पिटल वाली रोड का पैदल चल कर निरीक्षण कर संबंधित अधिकारियों पर रोड़ का कार्य चालू न होने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कार्य  शीघ्र पूर्ण कराने के  निर्देश दिए। मंत्री श्री तोमर ने  कहा कि विकास कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही वर्दाश्त नहीं की जाएगी। ऊर्जा मंत्री तोमर ने सबसे पहले लक्ष्मण तलैया से शब्द प्रताप आश्रम तक पैदल चल कर रोड का निरीक्षण किया। उन्होंने रोड़ का कार्य धीमी गति से चलने पर संबंधित अधिकारियों पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि पिछली बार निरीक्षण में रोड का कार्य शीघ्र चालू करने के निर्देश दिये थे, कार्य काफी लेटलतीफी से किया जा रहा है। आमजन को  परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।     मंत्री तोमर ने निरीक्षण में लक्ष्मण तलैया से शब्द प्रताप आश्रम तक रोड़ पर कई जगह पानी के लीकेज से रोड़ का कार्य चालू नहीं होने से अमृत योजना के संबंधित अधिकारियों पर  नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने लीकेज को जल्द ठीक करने के निर्देश दिये। साथ ही शब्द प्रताप आश्रम पर रोड़ के दोनों साइड नाला बनाने के भी निर्देश दिये। ऊर्जा मंत्री तोमर ने गेंडे वाली सड़क के निरीक्षण में  अधिकारियों को अमृत योजना में किये जा रहे कार्यों की शीघ्र एनओसी स्मार्ट सिटी को दिये जाने के लिये  कहा।  उन्होंने जेएएच हॉस्पिटल चौराहे से हुजरात पुल तक  नंगे पैर चल कर सड़क निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि इस रोड़ की हालत काफी खराब है। जगह-जगह गड्डे है। इस रोड़ पर संभाग का सबसे बडा अस्पताल होने से गंभीर मरीज यहाँ आते है, उनको निकलने में कितनी परेशानी होती होगी। उन्होंने कहा कि इस रोड को बनने में समय लगेगा। इसलिये रोड को तब तक आमजन के चलने लायक बनाया जाये। साथ ही उन्होंने नये बाजार में सीवर एवं पेयजल लाइन के लिये खोदे गए रोड के गढ्डों को शीघ्र भरने के निर्देश भी दिए। 

Kolar News

Kolar News 21 October 2022

मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान का जायजा लेने ग्वालियर पहुँचे प्रदेश के वित्त एवं वाणिज्यिक कर मंत्री जगदीश देवड़ा ने डबरा के सरकारी अस्पताल और अनुसूचित जाति जूनियर छात्रावास का आकस्मिक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने छात्रावास में अनुसूचित जाति की बालिकाओं के बीच बैठ कर उनके हालचाल जाने। साथ ही सरकार द्वारा छात्रावास में दी जा रहीं सहूलियतों और भोजन व्यवस्था इत्यादि के बारे में जानकारी ली। छात्रावास की व्यवस्थाओं को बालिकाओं ने बेहतर बताया। वित्त मंत्री देवड़ा ने इस अवसर पर छात्रावास की रसोई, स्नानागार एवं शौचालय सहित सम्पूर्ण परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने छात्रावास के पिछले हिस्से की बाउण्ड्रीवॉल बना कर पार्क विकसित कराने के लिए कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह से कहा। देवड़ा ने शिक्षा के विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली छात्राओं का उत्साहवर्धन भी किया।   डबरा के सरकारी अस्पताल (सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र) के निरीक्षण के दौरान वित्त मंत्री श्री देवड़ा ने चिकित्सकों से कहा कि वे ग्वालियर अपडाउन न कर डबरा में ही रात्रि विश्राम करें, जिससे यहाँ के जरूरतमंद मरीजों को परेशान न होना पड़े। उन्होंने अस्पताल की महिला चिकित्सक के लिये आवास आवंटित करने के निर्देश कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह को दिए। साथ ही यह भी कहा कि डबरा में निर्माणाधीन अस्पताल उच्च गुणवत्ता के साथ समय-सीमा के भीतर पूरा कराएँ। उन्होंने अस्पताल के विभिन्न वार्डों का भी जायजा लिया।  

Kolar News

Kolar News 21 October 2022

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में मध्यप्रदेश द्वारा  कर किसानों को अधिकाधिक लाभ पहुँचाने के कार्यों को राष्ट्रीय स्तर पर सराहना मिली है। योजना में किसानों को लाभान्वित करने में प्रदेश अव्वल है। केन्द्र सरकार ने किसानों को योजना से लाभान्वित करने के लिये किये मध्यप्रदेश के नवाचार की सराहना करते हुये उत्कृष्टता प्रमाण-पत्र प्रदान किया है। कोच्चि (केरल) में 8वें राष्ट्रीय समीक्षा सम्मेलन में राज्य सरकार की ओर से पुरस्कार संचालक कृषि श्रीमती प्रीति मैथिल नायक ने प्राप्त किया। संचालक कृषि ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में नामांकन और दावा प्रक्रिया में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिये राज्य सरकार ने अभिनव प्रयोग किया। एनसीआईपी पोर्टल के साथ भूमि रिकॉर्ड को एकीकृत करने का अभिनव कार्य किया, जिससे पोर्टल किसानों के लिये सुविधाजनक हुआ। किसानों ने योजना का लाभ लेने के लिये आगे बढ़ कर नामांकन कराया है।  

Kolar News

Kolar News 21 October 2022

नर्सरियों के विकास और माली ट्रेनिंग सहित उद्यानिकी विभाग की अन्य योजनाओं के क्रियान्वयन में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग समन्वय करेगा। उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास और उद्यानिकी विभाग के समन्वय के संबंध में अधिकारियों के साथ मंत्रालय में बैठक की। राज्य मंत्री कुशवाह ने कहा कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग मनरेगा में ग्रामीण क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के कार्य करता है। उद्यानिकी विभाग की नर्सरियों के विकास और माली प्रशिक्षण सहित अन्य कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में ग्रामीण विकास विभाग सहयोग कर सकता है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण विकास विभाग और उद्यानिकी विभाग के अधिकारी उद्यानिकी के क्षेत्र में दोनों विभाग के समन्वय से किये जाने वाले कार्यक्रमों के लिये संयुक्त रूप से कार्य-योजना तैयार करें। बैठक में उद्यानिकी विभाग की 50 नर्सरी के विकास और माली ट्रेनिंग कार्यक्रम को ग्रामीण विकास विभाग के समन्वय से करने का निर्णय लिया गया। संचालक उद्यानिकी सुश्री निधि निवेदिता, संयुक्त आयुक्त पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री एम.एल. त्यागी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 20 October 2022

संस्कृति, पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री उषा ठाकुर ने कहा है कि अखिल भारतीय कालिदास समारोह की सभी तैयारियाँ और व्यवस्थाएँ सुनिश्चित कर लें। सभी अतिथि  । उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि कालिदास समारोह शासन का प्रतिष्ठित आयोजन है। व्यवस्थाओं के दौरान कलाकारों के सम्मान का पूरा ध्यान रखें। मंत्री द्वय ने मंत्रालय में, उज्जैन में 4 नवंबर से होने वाले अखिल भारतीय कालिदास समारोह की तैयारियों की समीक्षा की। अखिल भारतीय कालिदास समारोह का शुभारंभ 4 नवंबर को राज्यपाल मंगुभाई पटेल के मुख्य आतिथ्य में होगा। चित्रकूट के पूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी का सारस्वत उद्बोधन होगा। इसी दिन शासन के प्रतिष्ठित कालिदास सम्मान भी प्रदान किए जाएंगे। इसमें रंगकर्म, शास्त्रीय नृत्य, रूपंकर और शास्त्रीय संगीत की विधा में कलाकारों को सम्मानित किया जाएगा। कालिदास संस्कृत अकादमी परिसर में 7 दिवसीय कालिदास समारोह 4 नवंबर से प्रारंभ होकर 10 नवंबर तक चलेगा।    प्रमुख सचिव संस्कृति और पर्यटन शिव शेखर शुक्ला ने कहा कि शासन के लिए कालिदास अकादमी एक महत्वपूर्ण परिसंपत्ति है। इसकी गरिमा और मान को बनाए रखना शासन-प्रशासन का दायित्व है। इसी को ध्यान में रख कर विभाग द्वारा सभी तैयारियाँ की जा रही हैं। कालिदास समारोह के दौरान राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी, महाकवि कालिदास पर केंद्रित संस्कृत नाटक, नृत्य नाटिका और हिंदी नाटक सहित शास्त्रीय गायन, सितार वादन और स्थानीय कलाकारों की प्रस्तुति होगी। अखिल भारतीय कालिदास समारोह का सजीव प्रसारण दूरदर्शन, यू-ट्यूब सहित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी किया जाएगा। संचालक संस्कृति अदिति कुमार त्रिपाठी, अपर आयुक्त उच्च शिक्षा कर्मवीर शर्मा, उप सचिव स्कूल शिक्षा प्रमोद सिंह, उप संचालक वित्त अरुण पालीवाल, समिति सचिव विक्रम विश्वविद्यालय शैलेंद्र शर्मा उपस्थित रहे। कलेक्टर उज्जैन आशीष सिंह सहित संबंधित विभाग, अकादमी और विश्वविद्यालय के प्रतिनिधि ऑनलाइन समीक्षा बैठक से जुड़े।   अखिल भारतीय कालिदास समारोह के एक दिन पूर्व 3 नवंबर को झाबुआ, उज्जैन और गुजरात के लोक दल द्वारा कलश-यात्रा निकाली जाएगी। साथ ही लखनऊ की सुश्री मालिनी अवस्थी द्वारा शास्त्रीय गायन और उज्जैन के डॉ. विवेक बनसोड़ द्वारा मंगल वाद्य वादन की प्रस्तुति दी जाएगी। समारोह के पहले दिन 4 नवंबर को कालिदास संस्कृत अकादमी महर्षि पाणिनी संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय उज्जैन द्वारा मालविकाग्निमित्रम् पर केंद्रित संस्कृत नाटक का मंचन किया जाएगा। दूसरे दिन नई दिल्ली की सुश्री संध्या पुरेचा द्वारा भरतनाट्यम शैली में मेघदूत और ऋतुसंहार पर नृत्य नाटिका की प्रस्तुति होगी। अगले दिन 6 नवंबर को कोलकाता के श्री पियाल भट्टाचार्य द्वारा विक्रम संवत्सर पर केंद्रित हिंदी नाटक का मंचन किया जाएगा। समारोह के पाँचवे दिन 8 नवंबर को त्रिवेंद्रम की सुश्री मैथिल देविका द्वारा मोहिनीअट्टम एकल शास्त्रीय नृत्य और भुवनेश्वर के श्री गजेंद्र पण्डा द्वारा ओडीसी नृत्य प्रस्तुत किया जाएगा। अगले दिन 9 नवंबर को कोलकाता की सुश्री कौशिकी चक्रवर्ती द्वारा शास्त्रीय गायन की प्रस्तुति होगी। कालिदास समारोह के अंतिम दिन कोलकाता के श्री बुधादित्य मुखर्जी द्वारा शास्त्रीय सितार वादन, उज्जैन की डॉ. वर्षा अग्रवाल द्वारा संतूर वादन सहित काकरोली के श्री छीतरमल जोशी द्वारा राजस्थानी शैली में चित्रांकन एवं गायन की प्रस्तुति दी जाएगी।  

Kolar News

Kolar News 20 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य सरकार द्वारा किसानों के हित में सदैव महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। यह क्रम अभी भी जारी है। किसान मंच जैसे संगठनों से किसानों की वर्तमान समस्याओं की वास्तविक जानकारी भी प्राप्त होती है, जिससे किसानों से जुड़ी छोटी-बड़ी समस्याओं को त्वरित रूप से हल करने में मदद मिलती है। किसानों और अन्य उपभोक्ताओं के हित में राज्य सरकार ने इस दिशा में सजग और सक्रिय रह कर निरंतर कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पर्याप्त बिजली की आपूर्ति के लिए 24 हजार करोड़ रूपये की सब्सिडी प्रदान की गई है। शिविरों के माध्यम से विद्युत प्रदाय और विद्युत देयकों की त्रुटियों से जुड़ी शिकायतों का तत्काल समाधान किया जाए। रबी फसलों की बोवनी के वर्तमान समय में भी किसानों को बिना समस्या के आवश्यक विद्युत आपूर्ति की जाए।   मुख्यमंत्री चौहान आज मंत्रालय में किसान मंच के पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में कृषक कल्याण से संबंधित प्राप्त सुझाव पर चर्चा कर रहे थे। मुख्यमंत्री  चौहान ने किसान मंच से प्राप्त सुझावों पर आवश्यक क्रियान्वयन के निर्देश दिए। बैठक के प्रारंभ में किसान मंच के सदस्यों ने मुख्यमंत्री चौहान को उज्जैन में महाकाल लोक के अनावरण के लिए बधाई दी। मुख्यमंत्री चौहान ने किसान मंच द्वारा प्राप्त शिकायत पर गुना जिले के बीनागंज स्थित कृषि उपज मंडी समिति के सहायक उप निरीक्षक बृजेश धाकड़ को निलंबित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री चौहान ने एक अन्य शिकायत पर नर्मदापुरम जिले के वनखेड़ी में विद्युत वितरण कम्पनी के कर्मचारी के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कर जेल भिजवाने के निर्देश दिए। इस शिकायत में कर्मचारी द्वारा अवैध रूप से रसीद बुक छपवा कर किसानों से राशि की वसूली करने का आरोप है। बैठक में कृषि, राजस्व, ऊर्जा, पशुपालन और सहकारिता विभाग से संबंधित सुझावों पर संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने अब तक हुए कार्य और भविष्य में की जाने वाली कार्यवाही की जानकारी दी।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा किसानों को कृषि कार्य के लिए अधिकतम सुविधाएँ ऊर्जा विभाग की तरफ से दी जाएँ। रबी फसलों के लिए पर्याप्त विद्युत प्रदाय, ट्रांसफार्मर को ओवरलोड से बचाने, बिगड़े ट्रांसफार्मर ठीक करवाने विभागीय अमला मुस्तैदी से कार्य करता रहे। शिविर लगा कर समाधान की कार्यवाही की जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में राजस्व जागरूकता और त्रुटियों को ठीक करने का अभियान पूर्व में संचालित हुआ है। ऐसा अभियान फिर से चलाया जाएगा। अभियान की रूपरेखा तैयार की जा रही है। प्रदेश में नामातंरण और अन्य कार्यों को कम समय में पारदर्शी ढंग से किया जा रहा है। राजस्व विभाग और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी ने बताया कि प्रदेश में राजस्व संबंधी कार्यों के तेजी से निपटारे की व्यवस्था की गई है। सायबर तहसील की अभिनव व्यवस्था की गई है। पायलट आधार पर दतिया और सीहोर से सायबर तहसील की शुरूआत हुई थी। अब इसका विस्तार करते हुए चार अन्य जिलों सागर, डिंडोरी, इंदौर और हरदा को इस व्यवस्था से जोड़ा गया है। भोपाल में पदस्थ सायबर तहसील के तहसीलदार को जिले से प्राप्त रिपोर्ट के बाद आवश्यक कार्यवाही हो जाती है। अविवादित प्रकरण में अविलंब कार्रवाई हो जाती है। इस व्यवस्था में किसान और राजस्व अधिकारी परस्पर एक दूसरे को नहीं जानते। फेसलेस सिस्टम विकसित किया गया है। अन्य जिलों में भी यह व्यवस्था लागू की जाएगी।       बैठक में सुशासन के अंतर्गत सायबर तहसील व्यवस्था द्वारा अविवादित नामांतरण प्रकरणों के पक्षकारों को तहसील कार्यालय में पेशियों पर स्वत: उपस्थित न होकर घर बैठे नामांतरण की सुविधा मिलने की पहल की सराहना की। उपस्थित किसान मंच के पदाधिकारियों ने इस व्यवस्था को किसानों के हित में उठाया गया महत्वपूर्ण कदम बताया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में गठित एफ.पी.ओ. को भी आवश्यक सहयोग दिया जा रहा है। राज्य स्तर पर भी एफ.पी.ओ. के गठन और आवश्यक सहयोग देने पर फोकस करते हुए इसके लिए पृथक नीति बनाने पर विचार करेंगे । किसानों के लिए उनकी आवश्यकता के अनुसार खाद की व्यवस्था की गई है। प्रदेश में पर्याप्त खाद, उर्वरक और उसकी आपूर्ति की निरंतर समीक्षा की गई है। शिकायत और गड़बड़ियों पर नियंत्रण किया गया है। कुछ जिलों में समितियों द्वारा खाद वितरण की व्यवस्था की गई है। मार्कफेड द्वारा प्रतिदिन खाद की उपलब्धता के साथ वितरण पर ध्यान दिया जा रहा है।     मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश की सभी मंडियों में आने वाले अनाज और अन्य सामग्री की गुणवत्ता को देखने के लिए टेस्टिंग मशीनें स्थापित की जाएंगी। वर्तमान में प्रदेश की करीब एक तिहाई मंडियों में यह व्यवस्था की गई है। अनाज को बीनने और छानने का कार्य करने वाली बहनों को, हम्मालों की तरह लायसेंस देने अथवा उनका पंजीयन कर अलग श्रेणी प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में लंपी वायरस का विस्तार नहीं होने दिया गया। राजस्थान में स्थिति जरूर गंभीर थी, लेकिन मध्यप्रदेश में स्थिति नियंत्रण के बाहर नहीं होने दी गई। इस कार्य में किसान और पशुपालकों ने भी जागरूक होकर सरकार के प्रयासों में पूरा सहयोग दिया। प्रदेश में लगभग 25 लाख पशु को रोग निरोधक टीके लगाए गए। राज्य सरकार देसी गाय के पालन पर अनुदान दे रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पशुपालकों और किसानों से संबंधित योजनाओं में बजट में वृद्धि कर अधिक संख्या में हितग्राहियों को लाभान्वित किया जाएगा। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि दुग्ध पदार्थों में मिलावट करने वालों और इस कार्य को बढ़ावा देने वाले दोषियों के विरुद्ध सख्त अभियान चलाया जाएगा। बाजार में बिकने वाले मावे और पनीर की गुणवत्ता यदि संदिग्ध होती है तो खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण विभाग के साथ स्वास्थ्य विभाग द्वारा संयुक्त कार्रवाई की जाएगी।  

Kolar News

Kolar News 20 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि निर्माणाधीन सिंचाई परियोजनाएँ, जो पूर्ण होने के करीब हैं, को शीघ्रता से पूरा कर लोकार्पित कराया जाए। कार्य में गुणवत्ता का ध्यान रखा जाना बहुत जरूरी है। मुख्यमंत्री  चौहान मंत्रालय में नर्मदा घाटी विकास विभाग की समीक्षा कर रहे थे। नर्मदा घाटी राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह, मुख्य सचिव  इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव वित्त  मनोज गोविल, अपर मुख्य सचिव जल संसाधन एवं नर्मदा घाटी विकास  एस.एन. मिश्रा उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सिंचाई परियोजनाओं को पूर्ण करने के लिए प्राथमिकता भी तय कर ली जाए। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि अल्पकालीन, मध्यकालीन और दीर्घकालीन परियोजनाओं की तिथि तय कर निर्धारित सीमा में कार्य पूरा करें। किसानों को सिंचाई के लिए पानी देना राज्य सरकार की प्राथमिकता है।

Kolar News

Kolar News 19 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में जनवरी माह में होने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्स की तैयारी बेहतर हो। विभिन्न खेलों के लिए शहरों का चयन कर लिया जाए। मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों में उत्साह पैदा करने के लिए खेलमय वातावरण बनाया जाए। स्वास्थ्य की दृष्टि से भी खेल जरूरी है। मुख्यमंत्री चौहान मंत्रालय में खेल एवं युवा कल्याण विभाग की समीक्षा कर रहे थे। खेल एवं युवा कल्‍याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव वित्त मनोज गोविल और प्रमुख सचिव खेल दीप्ति गौड़ मुखर्जी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के खिलाड़ी सभी स्पर्धाओं में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी उत्साह और खेल भावना को बनाये रखने की जरुरत है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हर गाँव में बच्चों के लिए खेल मैदान बनाए जाएँ। ग्रामीण विकास विभाग इसमें सहयोग करे। खेल मैदानों का रख-रखाव और उपयोग बेहतर हो। आनंद के लिए भी खेल जरूरी है। इसलिए आनंद विभाग के साथ विभिन्न खेल गतिविधियाँ की जाएँ। खेल अधो-संरचनाओं का पीपीपी मॉडल पर विकास हों। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को शासकीय सेवाओं में प्राथमिकता मिलनी चाहिए। नवीन मल्टीपर्पज इंडोर स्पोर्टस कॉम्पलेक्स एंव इंडोर हॉल के अधूरे कार्यों को प्राथमिकता से पूरा करें। प्रदेश में खेलमय वातावरण बनाये रखने के लिए खेलों से संबंधित कार्यक्रम निरंतर किए जाएँ।  

Kolar News

Kolar News 19 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि संतुलित जीवन और सुरक्षित धरती छोड़ने के लिए प्रगति और प्रकृति के बीच समन्वय आवश्यक है। प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के संकल्प अनुसार राज्य में अधो-संरचना विकास के साथ पर्यावरण की सुरक्षा के लिए व्यापक स्तर पर गतिविधियाँ संचालित हैं। पौध-रोपण के लिए आरंभ किया गया अंकुर अभियान, पर्यावरण-संरक्षण के क्षेत्र में जन-भागीदारी से हुई पहल का श्रेष्ठ उदाहरण है। पौध-रोपण सहित स्वच्छता, जल-संरक्षण, नशे के विरूद्ध अभियान, बेटियों के सशक्तिकरण के लिए प्रदेश में ग्राम-स्तर पर गतिविधियाँ चलाई की जा रही हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने समुद्र तट (मुम्बई) से हिमालय तक की साईकिल यात्रा पर निकले पद्मश्री डॉ. अनिल प्रकाश जोशी के साथ पौध-रोपण के बाद मीडिया से चर्चा कर रहे थे। अध्यक्ष, म.प्र. राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम श्री जसवंत जाटव, सामाजिक कार्यकर्ता श्री विजय शर्मा और संदीप माहेश्वरी भी पौध-रोपण में सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री  चौहान ने स्मार्ट सिटी उद्यान में पीपल, कचनार और टिकोमा के पौधे लगाए। पौध-रोपण में दुर्गेश पंत, डॉ. रीमा पंत और शालिनी और अशोक जोशी भी शामिल हुए। साईकिल यात्रा में शामिल अन्य युवाओं ने भी पौधे लगाए। पद्मश्री से सम्मानित डॉ. अनिल प्रकाश जोशी 2 अक्टूबर को प्रगति पथ की जागरूकता को लेकर मुम्बई से उत्तराखंड तक की साईकिल यात्रा पर निकले हैं। यात्रा का उद्देश्य प्रकृति के लिए लोगों को एक साथ जोड़ना है। डॉ. जोशी ने कहा कि महाराष्ट्र से शरू की गई साईकिल यात्रा के मध्यप्रदेश में प्रवेश करते ही हमारे दल को पेड़ों की अधिक छाँव मिलने लगी। सघन वन और निरंतर वृक्षा-रोपण होना मध्यप्रदेश की पहचान है। मुख्यमंत्री श्री चौहान प्रगति और प्रकृति के बीच बेहतर संतुलन के श्रेष्ठ उदाहरण हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान की प्रवृत्ति-प्रकृति के समान है। उनका प्रतिदिन तीन पौधे लगाने का संकल्प अनुकरणीय है।

Kolar News

Kolar News 19 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आज मंत्रालय में मध्यप्रदेश प्रवास पर आए 4 देशों में पदस्थ भारत के राजदूतों ने सौजन्य भेंट की। मुख्यमंत्री चौहान से अर्जेंटाइना में भारत के राजदूत दिनेश भाटिया, लेबनान के राजदूत सुहेल एजाज खान, ओमान के राजदूत अमित नारंग और जिंबाब्वे के राजदूत विजय खंडूजा ने भेंट की। सुहेल एजाज खान का इंदौर और अमित नारंग का जबलपुर से संबंध रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने राजदूतों को बताया कि विदेश मंत्रालय के साथ राज्य सरकार प्रवासी भारतीय दिवस का कार्यक्रम कर रही है। इंदौर में आगामी 8,9 और 10 जनवरी 2023 को प्रवासी भारतीय दिवस मनाने का दायित्व मध्य प्रदेश को मिला है, जो सौभाग्य की बात है। इसके बाद दो दिवसीय ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट भी होगी। इन दोनों कार्यक्रम की तैयारियाँ की जा रही हैं।    मुख्यमंत्री चौहान ने राजदूतों को बताया कि मध्यप्रदेश में गेहूँ का विपुल उत्पादन होता है। प्रदेश के गेहूँ का विदेशों में निर्यात करने के प्रयास किए जा रहे हैं।  चौहान ने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में मध्यप्रदेश में व्यापक संभावनाएँ हैं। प्रवासी भारतीयों का भी इसमें सहयोग प्राप्त हो रहा है।मुख्यमंत्री चौहान को राजदूतों ने अपने दायित्व वाले देशों में मध्यप्रदेश के विकास और प्रचार में अधिक से अधिक सहयोग का आवश्वासन दिया। राजदूतों ने मुख्यमंत्री चौहान और अन्य मंत्री गण को अर्जेंटाइना, लेबनान, ओमान और जिम्बाब्वे आने का निमंत्रण दिया। मुख्यमंत्री चौहान से राजदूतों की भेंट के दौरान औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन विभाग के प्रमुख सचिव संजय कुमार शुक्ला और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 18 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इंदौर में 11-12 जनवरी 2023 को होने वाली ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट से नए–नए उद्योग क्षेत्रों में निवेश आने में मदद मिलेगी। पूर्व में हुई ऐसी समस्त समिट के फलस्वरूप ही प्रदेश में निवेश आया और बड़ी संख्या में जरूरतमंदों को काम मिला। इंदौर समिट में अभी लगभग तीन माह का समय है। इससे पहले निवेश के कई ठोस और गंभीर प्रस्ताव जमीन पर उतारने का कार्य हो रहा है। प्रदेश में उद्योगों के विकास और उसके कारण आर्थिक गतिविधियों में तेजी से वृद्धि का लक्ष्य पूरा हो रहा है। औद्योगिक नीति और निवेश प्रोत्साहन विभाग द्वारा नए निवेश प्रस्तावों का तेजी से क्रियान्वयन किया जाए।   मुख्यमंत्री  चौहान 20 अक्टूबर को नई दिल्ली और 21 अक्टूबर को पुणे में विभिन्न प्रतिष्ठानों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों, औद्योगिक संस्थानों के प्रमुखों और पदाधिकारियों के साथ बैठकें करेंगे। विभिन्न देशों के राजदूत और उच्चायुक्त भी इनमें हिस्सा लेंगे। यह राऊंड टेबल बैठकें मध्यप्रदेश में नवीन निवेश की दृष्टि से महत्वपूर्ण रहेंगी। मुख्यमंत्री चौहान आज मंत्रालय में ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। औद्योगिक नीति और निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री ओ.पी. सकलेचा और मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस सहित अधिकारी उपस्थित थे।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में बल्क ड्रग पार्क स्थापना की पहल प्रशंसनीय है। इंडियन ड्रग मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के साथ इसकी स्थापना के प्रस्ताव का अध्ययन कर जरूरी कदम उठाए जाएँ। मालवा अंचल में मध्यप्रदेश राज्य का फार्मा पार्क बनाने की संभावनाओं को साकार करने आवश्यक कार्यवाही की जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में औद्योगिक स्थापना और पूँजी निवेश के लिए आवश्यक वातावरण बना हुआ है।मुख्यमंत्री चौहान ने इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट और मेगा इन्वेस्टमेंट के संबंध में औद्योगिक नीति और निवेश प्रोत्साहन विभाग द्वारा तैयार प्रेजेंटेशन देखा। बताया गया कि ग्रीन फील्ड इंटरनेशनल एयरपोर्ट एंड मेगा इन्वेस्टमेंट रीजन से आने वाले कुछ वर्ष में लगभग 6 लाख युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे।  

Kolar News

Kolar News 18 October 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि संस्कारित राष्ट्र के लिए भौतिक प्रगति के साथ ही आध्यात्मिक आनंद के प्रयासों में समन्वय होना आवश्यक है। सभी वर्गों को जोड़ कर बुद्धि एवं संस्कार के दिव्यकरण द्वारा उनमें आध्यात्मिक प्रकृति को विकसित करने की पहल सराहनीय है। उन्होंने कहा कि जीवन में आनंद के अनेक साधन उपलब्ध हैं, जिन्हें धन से क्रय किया जा सकता है। इन सभी साधनों से क्षणिक शारीरिक और बौद्धिक सुख की प्राप्ति होती है। आत्मिक शांति आध्यात्मिकता से ही प्राप्त होती है। आध्यात्मिकता का मूलाधार स्नेह, सम्मान, सहयोग और संवेदनशीलता है। इसलिए परमात्मा ने मानव को वाणी और बुद्धि जैसी असीम शक्तियाँ प्रदान की हैं। राज्यपाल पटेल प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के सह-निकाय राजयोग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन के मूल्य शिक्षा प्रशिक्षण एवं शोध केंद्र के प्रथम चरण के उद्घाटन एवं शिक्षाविद् सम्मेलन शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।     राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा कि फाउंडेशन का प्रशिक्षण कार्यक्रम शाश्वत मूल्यों और जीवन सूत्रों को आधुनिकतम वैज्ञानिक ढंग से जन-मानस में संप्रेषित करेगा। समाज में सकारात्मकता, आध्यात्मिकता के यथा योग्य वातावरण का निर्माण करेगा। मूल्य शिक्षा, आध्यात्मिकता और आत्म-शांति का मार्ग है। राज्यपाल ने आज़ादी के अमृत महोत्सव के प्रसंग पर दिव्य मूल्यों की पुनर्स्थापना से आध्यात्मिक क्रांति की पहल के लिए फाउंडेशन की सराहना की। राज्यपाल पटेल ने कहा कि आज तेजी से हो रहे भौतिक विकास में मानव अस्तित्व को केवल एक शरीर के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है। भौतिक प्रगति में जीवन की सार्थकता है। इस मिथक की अंधी दौड़ में व्यक्ति का जीवन यंत्रवत हो गया है। शारीरिक सुख के साधन और सुविधाओं की अंधी दौड़ में आत्मिक आनंद की अनुभूतियों से मानवता वंचित हो रही है। आध्यात्मिकता से ही व्यक्ति में भरोसा, आदर और धैर्य जैसे सद्गुण प्रगट होते हैं और आंतरिक अनुभूतियों को जगा कर शरीर को आत्मा के अनुरूप बनाते हैं।   कार्यकारी सचिव ब्रह्माकुमारीज़, माउंटआबू राजयोगी बी. के. मृत्युंजय ने कहा कि आध्यात्मिक विश्वविद्यालय परमात्मा की दैवीय कृपा से स्थापित संस्थान है। संस्थान का प्रयास हर आत्मा को दैवीय गुण से संपन्न कर मानव को देव बनाना है। प्रशिक्षण अन्याय, भ्रष्टाचार और विकारों से मुक्त महामानव निर्माण का प्रकल्प है। उन्होंने बताया कि संस्थान द्वारा 24 विश्वविद्यालयों के साथ थॉट लेब स्थापना का पारस्परिक समझौता किया है। संस्थान की 30 हजार से ज्यादा बहने सम्पूर्ण विश्व के करीब 147 देशों में संचालित केंद्रों से नैतिक और मूल्य परक शिक्षा का प्रसार कर रही हैं। भोपाल ज़ोन की निदेशक राजयोगिनी बी. के. अवधेश ने स्वागत उद्बोधन दिया।  राज्यपाल का बैज लगा एवं गुलदस्ता भेंट कर स्वागत किया गया। बालिकाओं द्वारा स्वागत नृत्य की प्रस्तुति दी गई। मूल्य शिक्षा एवं शोध केंद्र निर्माण परियोजना के मॉडल और ऑडियो, वीडियो फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया।

Kolar News

Kolar News 18 October 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि मानव सेवा में ही प्रभु की सेवा है। मानवता के कल्याण के कार्य पुण्य प्राप्त करने का सबसे श्रेष्ठ साधन है। उन्होंने शिक्षित जनजातीय युवाओं का आहवान किया कि वह समुदाय के विकास के लिए केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा किए जा रहे कार्यों में योगदान दें। समाज के वंचित, पिछड़े पात्र व्यक्तियों को लोक कल्याणकारी योजनाओं के लाभ दिलाने में सहयोग करें।  राज्यपाल पटेल पन्ना जिले के ग्राम कल्दा में संत श्री बागेश्वर धाम द्वारा आयोजित श्रीराम कथा में जन-समुदाय को आभासी माध्यम से राजभवन भोपाल से संबोधित कर रहे थे।     राज्यपाल पटेल ने कहा कि वे राज्यपाल के रूप में समाज के वंचित और पिछड़े वर्ग को विकास की मुख्यधारा में शामिल कराने के लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारा देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संकल्प नए भारत के निर्माण के लिए सबका साथ, विश्वास और प्रयास से विकास है। सभी की सेवा और उनकी खुशहाली के लिए प्रधानमंत्री मोदी निरंतर कार्य कर रहे हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री आवास, आयुष्मान, उज्जवला और सामाजिक सुरक्षा की अनेक योजनाएँ लागू की हैं। उन्होंने कहा कि समावेशी समाज के निर्माण में सरकार के साथ ही समाज के हर बड़े-छोटे व्यक्ति की भूमिका महत्वपूर्ण है। लोक कल्याणकारी योजनाओं का लाभ जनजातीय और वनवासी समाज तक पहुँचे। यह समाज के सभी वर्गों की जिम्मेदारी है। उन्होंने बागेश्वर धाम द्वारा मानवता के कल्याण के संकल्प के साथ किए जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय पोषक अनाज वर्ष के रूप में घोषित किए जाने के परिप्रेक्ष्य में कोदो, कुटकी, ज्वार, बाजरा और रागी जैसे अनाज के उत्पादन को प्रोत्साहन देने की जरूरत बताई।

Kolar News

Kolar News 17 October 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि परिवार का वातावरण स्वस्थ और आनंदमय रखना परिवार के सदस्यों की जिम्मेदारी है। परिवार ईश्वर द्वारा प्रदत्त फूलों की बगियाँ है। बगियाँ में खिलने का स्वस्थ वातावरण समान रूप से सभी को मिलना जरूरी है। उन्होंने कहा कि राजभवन परिवार के मुखिया के रूप में वह सभी के सुख-दुख में समान रूप से सहभागी हैं। सदैव उनका प्रयास अधिक से अधिक सहयोग का रहता है। राज्यपाल पटेल राजभवन में दीपावली के प्रसंग में आयोजित दीपोत्सव को सांदीपनि सभागार में सम्बोधित कर रहे थे। राज्यपाल ने कार्यक्रम में गीत, संगीत की प्रस्तुति देने वाले कलाकारों के दलों को 11-11 हजार रुपए के पुरस्कार की घोषणा की। राज्यपाल ने पटेल ने सभी अधिकारी-कर्मचारियों के साथ दीपावली की शुभकामनाओं का पारस्परिक विनिमय किया। उन्हें दीपावली की सौगात भेंट की। सभागार में राज्यपाल के प्रमुख सचिव डी.पी. आहूजा सहित राजभवन के अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे।   राज्यपाल पटेल ने कहा कि बच्चे निर्मल और कोमल होते हैं। परिवार के वातावरण का उन पर सीधा प्रभाव पड़ता है। पति-पत्नी का यह दायित्व है कि बच्चों का लालन-पालन स्वस्थ वातावरण में हो। बच्चों के सामने माता-पिता विवाद नहीं करें। संयमित भाषा और आचरण का पालन करें। उन्होंने कहा कि व्यसन व्यक्ति की अवनति का पथ है। इसी तरह उन्नति के लिए प्रयास करना जरूरी है किंतु अति महत्वाकांक्षा रखना भी अनीति का मार्ग और पतन का कारक होता है। इसलिए जरूरी है कि न्याय संगत ढंग से जीवन यापन करते हुए क्षमता और पहुँच वाले लक्ष्य निर्धारित करें। क्रमिक प्रगति में आनंद और आत्म-संतोष की प्राप्ति होती है। उन्होंने कहा सभी के जीवन में सुख और दुख का मिश्रण होता है। सुख में आनंद का अतिरेक नहीं करें। दुख में घबराए नहीं। दोनों अवस्थाओं में समान रहना सात्विक जीवन का मार्ग है। उन्होंने शुभकामना देते हुये कहा कि दीपावली के प्रकाश के समान सभी के परिवार में सुख, समृद्धि का उजाला हो।   राजभवन परिवार के अधिकारी-कर्मचारियों के बच्चों के दल ने ईश वंदना और दीपावली बधाई गीत एवं नृत्य की रंगारंग प्रस्तुति प्रशिक्षक संघमित्रा के निर्देशन में दी। केंद्रीय जेल के आजीवन कारावास के बंदियों ने प्रशिक्षक इम्तियाज अली के निर्देशन में तरंगित स्वर और ध्वनि की लहरियों से उत्सवी माहौल को नई ऊँचाई दी। दीपावली बधाई के मधुर गीत और देश-भक्ति गीतों के ओजस्वी गान ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। संस्कृति विभाग के जनजातीय कला और बोली केंद्र बैतूल से आए कलाकारों ने गीत, नृत्य के संगम कोरकू जनजातीय नृत्य थापटी की प्रस्तुति से सभागार को लोक-कला की मीठी सुंगंध से महका दिया। कार्यक्रम स्थल की उत्सवी सजावट में महिला एवं बाल विकास विभाग के कलाकारों ने रंगोली में, रंगों की अद्भुत छठा बिखेर दी। कागज की रंगोलियों का अभिनव स्वरूप अरुण फणनवीस ने निर्मित किया था।

Kolar News

Kolar News 17 October 2022

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने कहा है कि ग्वालियर में देश के अत्याधुनिक हवाई अड्डे के निर्माण से जहाँ हवाई सेवाओं का विस्तार होगा वही कार्गो टर्मिनल के निर्माण से पूरे विश्व में ग्वालियर एवं चंबल अंचल के लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योगों के उत्पादों का आयात – निर्यात हो सकेगा। इससे रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे और इससे आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ेंगी। ग्वालियर-चंबल अंचल का तेजी से विकास होगा। केन्द्रीय गृह मंत्री शाह रविवार को ग्वालियर में लगभग 446 करोड़ रूपए की लागत से राजमाता विजयाराजे सिंधिया एयर टर्मिनल नवीन भवन एवं हवाई अड्डे के विस्तार कार्य का शिलान्यास, नल-जल योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास तथा प्रधानमंत्री आवास योजना के गृह प्रवेश समारोह को संबोधित कर रहे थे। समारोह की अध्यक्षता मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने की।       केन्द्रीय गृह मंत्री ने माहौल को खुशनुमा बनाते हुए कहा कि लगता है मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यज्ञ कराए हैं, जिससे पिछले कुछ दिनों से मध्यप्रदेश लगातार देश की सुर्खियों में बना हुआ है। पिछले दिनों प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत के सांस्कृतिक पुररूत्थान की कड़ी में प्राचीन सांस्कृतिक नगरी उज्जैन में “श्री महाकाल लोक” का लोकार्पण किया है। साथ ही 130 करोड़ जनता की ओर से महाकाल की पूजा – अर्चना कर देश की खुशहाली की कामना की है। केन्द्रीय गृह मंत्रीअमित शाह एवं मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान सहित अन्य अतिथियों ने रिमोट से पट्टिका का अनावरण कर एयरपोर्ट विस्तार कार्य का शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ग्रामीण और शहरी आवास योजना में जिले के 1458 हितग्राहियों को गृह प्रवेश कराया। मंच से प्रतीक स्वरूप ग्राम जखारा निवासी श्री हरेन्द्र सिंह भगौरिया और महलगाँव निवासी सीमा सक्सेना को आवास की चाबियाँ भी सौंपी। केन्द्रीय गृह मंत्री ने जल जीवन मिशन में 4300 करोड़ रूपए लागत की नल-जल योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया।    शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी ने ग्वालियर के सुनियोजित विकास के लिये एयरपोर्ट के रूप में बड़ी सौगात दी है। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बड़ी बारीकी से अत्याधुनिक हवाई अड्डे के निर्माण की रूपरेखा तैयार की है। हमें भरोसा है कि ग्वालियर का नया हवाई अड्डा देश के सबसे अच्छे हवाई अड्डे के रूप में स्थापित होगा। केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में चहुँमुखी विकास के साथ भारत का सांस्कृतिक उत्थान भी हो रहा है। देश में प्रधानमंत्री आवास योजना में हर गरीब के घर का सपना साकार हो रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में मध्यप्रदेश सरकार प्रधानमंत्री मोदी की मंशा के अनुरूप तेज गति से योजना में जरूरतमंदों के लिये घर बनवा रही है। राज्य सरकार “हर घर नल से जल” कार्यक्रम में गरीब से गरीब के घर में नल से जल पहुँचाने के लिये पूरी प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है। सड़क निर्माण की रफ्तार पहले से तीन गुना से भी ज्यादा हो गई है। इसी तरह पहले एक साल में मात्र 375 किलोमीटर रेल लाईन डल पाती थी, अब हर साल 1458 किलोमीटर रेल लाईन बिछाई जा रही हैं। सरकार ने कृषि बजट को 27 हजार करोड़ से बढ़ा कर एक लाख 24 हजार करोड़ कर दिया है।   केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कठिन कोरोना काल को ध्यान में रख कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने ढाई साल तक देश की 80 करोड़ जरूरतमंद जनता को मुफ्त राशन उपलब्ध कराने का काम किया है। सरकार ने देशवासियों को कोरोना वैक्सीन के 224 करोड़ नि:शुल्क टीके भी लगवाए हैं। शाह ने अपने उदबोधन में शिवाजी महाराज और मराठा वीर महादजी सिंधिया की वीरता को नमन किया। उन्होंने राजमाता स्व. विजयाराजे सिंधिया और कुशाभाऊ ठाकरे का भी स्मरण किया।     मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में आज का दिन स्वर्ण अक्षरों में लिखा जायेगा। आज जहाँ प्रदेश में हिन्दी में मेडिकल की पढ़ाई शुरू करने की ऐतिहासिक एवं क्रांतिकारी शुरूआत हुई हैं वहीं ग्वालियर में अत्याधुनिक एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर के एयर टर्मिनल भवन और हवाई अड्डे के विस्तार की अधारशिला रखी गई। मुख्यमंत्री ने यह सौगातें देने के लिये सम्पूर्ण प्रदेशवासियों की ओर से केन्द्रीय गृह मंत्री  अमित शाह का आभार माना। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मेडिकल की पढ़ाई हिन्दी में शुरू होने से गरीब एवं निम्न मध्यम वर्ग के बच्चों की जिंदगी में नया सवेरा आयेगा। वहीं ग्वालियर में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के हवाई अड्डे के निर्माण से विकास के नए आयाम स्थापित होंगे। उन्होंने कहा एलीवेटेड रोड का निर्माण, एक हजार बिस्तर का अस्पताल, अंतर्राज्यीय बस स्टेण्ड, नवीन स्टोन पार्क, चंबल से ग्वालियर एवं मुरैना को पेयजल की आपूर्ति योजना सहित अनेक सौगातें मिल रही हैं। प्रधानमंत्री ने हाल ही में ग्वालियर-चंबल अंचल के श्योपुर जिले के कूनो-पालपुर अभयारण्य को चीते सौंपे हैं, जिससे मध्यप्रदेश अब टाइगर स्टेट के साथ चीता स्टेट भी हो गया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हाल ही में हुई अतिवृष्टि से जिन किसानों की फसलों को नुकसान पहुँचा है, उसका सर्वे राहत मुहैया कराई जायेगी। प्रधानमंत्री के हर घर के सपने को मध्यप्रदेश पूरा करेगा और आगे आने वाले साल में प्रदेश में कोई भी गरीब बिना घर के नहीं रहेगा। आजादी के अमृत काल में हम आत्म-निर्भर भारत के साथ आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश का निर्माण भी कर रहे हैं।       मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश के विकास में जहाँ केन्द्र और राज्य की डबल इंजन सरकारें जुटी हैं वहीं ग्वालियर के विकास में इन डबल इंजन के साथ केन्द्रीय कृषि मंत्री तोमर एवं केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री  सिंधिया के रूप में दो और इंजन काम कर रहे हैं। इससे ग्वालियर के विकास में नित नए आयाम स्थापित हो रहे हैं। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गरीब लोगों के आर्थिक सशक्तिकरण के साथ देश को वैभवशाली बनाने के काम में जुटे हैं। गरीब आदमी भी हवाई यात्रा कर सके, इस उद्देश्य से उन्होंने उड़ान योजना शुरू की है। इसी सोच के साथ आज ग्वालियर में नए एयरपोर्ट टर्मिनल विस्तारीकरण की आधारशिला रखी गई है। उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्री से ग्वालियर के साडा क्षेत्र में सीमा सुरक्षा बल द्वारा आरक्षित कराई गई जमीन पर बीएसएफ की गतिविधियों को आगे बढ़ाने का आग्रह भी किया।       केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि आज ग्वालियर में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह विकास एवं तरक्की का नया पैगाम लेकर आए हैं। उन्होंने आज ग्वालियर में जिस भव्य एयर टर्मिनल भवन एवं एयरपोर्ट विस्तार की आधारशिला रखी है। यह जब बन कर तैयार होगा तब उसमें ग्वालियर की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत की झलक भी दिखाई देगी। इससे ग्वालियर क्षेत्र के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। सिंधिया ने कहा कि लगभग 180 एकड़ क्षेत्र में करीबन 500 करोड़ की लागत से नए एयर टर्मिनल एवं हवाई अड्डे का विस्तार होगा। व्यस्ततम समय में इस अत्याधुनिक हवाई अड्डे पर 1400 यात्रियों के प्रबंधन की क्षमता रहेगी। पहले से उपलब्ध तीन एप्रन को बढ़ा कर 13 किया जा रहा है। साथ ही कार्गो टर्मिनल का भी निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि ग्वालियर से बैंगलुरू के लिये जल्द ही हफ्ते में एक दिन बोइंग विमान सेवा मिलने जा रही है। साथ ही ग्वालियर और मुम्बई के बीच हफ्ते में चार दिन के लिये 15 नवम्बर से यह सेवा शुरू होगी। उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्री से साडा क्षेत्र में बीएसएफ की एक बटालियन का मुख्यालय स्थापित करने और आईटीबीपी की के जवानों के लिये सपोर्ट वेपन ट्रेनिंग सेंटर स्थापित करने का आग्रह किया। प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने भी संबोधित किया। आरंभ में सभी अतिथियों ने एयरपोर्ट टर्मिनल की होलोग्राफिक 3डी डिजाइन देखी। मुख्यमंत्री चौहान ने साफा एवं अंग वस्त्र भेंट कर केन्द्रीय गृह मंत्री शाह का स्वागत किया। ग्वालियर के एक जिला एक उत्पाद में शामिल सेंड स्टोन से निर्मित मानसिंह महल की प्रतिकृति स्मृति-चिन्ह के रूप में गृह मंत्री को भेंट की। सचिव केन्द्रीय नागर विमानन मंत्रालय राजीव बंसल ने आभार माना।   

Kolar News

Kolar News 17 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार नशामुक्ति अभियान में प्रदेश में नशे का अवैध कारोबार करने वालों के विरूद्ध लगातार कार्रवाई जारी है। शनिवार को रतलाम जिले में 112 होटल में सघन जाँच-पड़ताल की गई। अभियान में अब तक 79 हजार 583 लीटर अवैध शराब जप्त की जा चुकी है। प्रदेश में नशे के खिलाफ व्यापक स्तर पर जन-जागरूकता कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। अब तक जिलों में जन-जागरूकता संबंधी 5367 एक्टिविटीज की जा चुकी हैं।अभियान में सख्त कार्रवाई करते हुए पुलिस ने रीवा में 500 किलो और सीधी में 475 किलो लहान जप्त कर नष्ट किया है। सतना में सीरप की 103, सिंगरौली में 30 और शहडोल में 20 शीशी के साथ ही रीवा में भी कोरेक्स की 14 शीशियाँ जप्त की गईं। प्रदेश में 91 पूर्व आरोपियों की सख्ती से चेकिंग की गई।   प्रदेश में शनिवार को एनडीपीएस एक्ट में 85 प्रकरण में 201.552 ग्राम मादक पदार्थ की जप्ती की गई। विभिन्न जिलों में 1114 प्रकरण में 121 आरोपी को नामजद करते हुए 7970 लीटर अवैध शराब की जप्ती की गई। सार्वजनिक स्थल पर शराब पीने वाले 502 लोगों के विरूद्ध कार्रवाई की गई। शराब पीकर वाहन चलाने वाले 197 आरोपी के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की गई। धूम्रपान निषेध कानून में 643 लोगों के विरूद्ध कार्यवाही हुई। अवैध मादक पदार्थों का नशा कराने और अवैध शराब पिलाने वाले 4126 स्थान की चेकिंग कर कार्रवाई की गई।

Kolar News

Kolar News 16 October 2022

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री, अमित शाह द्वारा हिंदी भाषा में चिकित्सा शिक्षा के पाठ्यक्रम का शुभारंभ 16 अक्टूबर को मध्यप्रदेश से किया जा रहा है। इसके परिप्रेक्ष्य में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा अनुरूप प्रदेश के विद्यालयों में व्यापक आयोजन के लिए स्कूल शिक्षा मंत्री इन्दर सिंह परमार ने स्कूल शिक्षा विभाग को निर्देशित किया। परमार के निर्देश पर 15 अक्टूबर को हिंदी भाषा आधारित कार्यक्रम प्रदेश के विद्यालयों में हुए।   सभी जिलों के विद्यालयों में "हिन्दी में ज्ञान के प्रकाश" विषय पर संगोष्ठिय तथा अन्य गतिविधियों का आयोजन किया गया। सायंकाल प्रतीक स्वरूप दीप प्रज्ज्वलन किया गया। इसमें विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। इन कार्यक्रमों में 14 लाख से अधिक विद्यार्थियों ने सहभागिता की एवं 1422 उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, 1503 उच्च माध्यमिक विद्यालय, 1152 माध्यमिक विद्यालय एवं 1706 प्राथमिक शालाओं ने हिंदी भाषा आधारित गतिविधिय एवं कार्यक्रमों में अपनी सहभागिता दर्ज की। इन विद्यालयों में हुए कार्यक्रमों में विद्यार्थियों को हिन्दी में चिकित्सा शिक्षा को लेकर जानकारी दी गई एवं उन्हें प्रोत्साहित किया गया। बताया गया कि अब डॉक्टर बनने की राह में भाषा बाधा नहीं बनेगी। विद्यार्थी अपनी मातृ-भाषा हिंदी में ही चिकित्सा क्षेत्र की शिक्षा ले सकेंगे। हिंदी भाषा में चिकित्सा शिक्षा की सौगात देने वाला मध्यप्रदेश भारत का पहला और इकलौता राज्य है। इस पहल से हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों के अध्ययन में अंग्रेजी जैसी अन्य भाषा आड़े नहीं आयेगी और चिकित्सा विद्यार्थियों को पढ़ने, सीखने, समझने में सहजता और सरलता मिलेगी।

Kolar News

Kolar News 16 October 2022

वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने कहा है कि वित्त सेवा के अधिकारी-कर्मचारियों ने कोरोना काल के विषम समय में अर्थव्यवस्था के बेहतर प्रबंधन में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वित्त मंत्री यहाँ मध्यप्रदेश वित्त सेवा अधिकारियों के दो दिवसीय प्रांतीय अधिवेशन एवं मिलन समारोह को संबोधित कर रहे थे। वित्त मंत्री देवड़ा ने कहा कि वित्त सेवा का काम निरंतर चलने वाला काम है। इसमें समय और ऊर्जा दोनों खर्च होते हैं। उन्होंने वित्त सेवा अधिकारी संघ की प्रतिष्ठित त्रैमासिक पत्रिका "वित्त व्यवस्था" के दीपावली विशेषांक का विमोचन किया। अधिकारी संघ के अध्यक्ष डॉ. विजय मोहन चौधरी ने वित्त सेवा की प्रासंगिकता एवं संघ के लक्ष्यों को रेखांकित किया। संचालक पेंशन जे.के. शर्मा ने बताया कि पूरे देश में मध्यप्रदेश डिजिटलाइजेशन के क्षेत्र में अग्रणी है। इसमें वित्त सेवा के अधिकारियों का विशेष योगदान है। वित्त मंत्री ने संघ की नई कार्यकारिणी के निर्वाचन एवं गठन के लिए शुभकामनाएँ दी। प्रांतीय अधिवेशन में अधिकारियों के परिजन ने रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।  

Kolar News

Kolar News 16 October 2022

विभिन्‍न देशों से पर्यटन प्रेमियों को भ्रमण के लिए मध्‍यप्रदेश में आमंत्रित करने तथा प्रदेश की पर्यटन सम्‍भावनाओं, संस्‍कृति, साहित्‍य एवं समृद्ध इतिहास से परिचय कराने के लिए विभिन्‍न देशों के प्रतिनिधियों के साथ संवाद किया जा रहा है। भारतीय दूतावास भूटान के सहयोग से ट्रेवल एजेन्‍ट, टूर ऑपरेटर, कंटेंट राइटर तथा सोशल मीडिया इंफ्लूएंजर्स की 6 सदस्‍यीय दल 7 दिवसीय भ्रमण के लिए मध्यप्रदेश आया है। प्रमुख सचिव पर्यटन और संस्कृति एवं प्रबंध संचालक टूरिज्‍म बोर्ड शिव शेखर शुक्‍ला ने भूटान से आये विशेष अतिथियों का स्‍वागत किया और पर्यटन क्षमताओं तथा संस्‍कृति से परिचय कराया।   म.प्र. टूरिज्‍म बोर्ड द्वारा अतिथियों हेतु 13 से 20 अक्टूबर तक विशेष फैम टूर का आयोजन किया गया है। उन्हें मध्‍यप्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्‍थलों (सांची, भीमबेटका, मढ़ई, भेड़ाघाट, जबलपुर, खजुराहो तथा ओरछा) का भ्रमण कराया जा रहा है। दल को प्रेजेन्टेशन से प्रदेश के पर्यटन गंतव्‍यों, संस्‍कृति तथा इतिहास के साथ प्रदेश की पर्यटन नीतियों एवं प्रदेश द्वारा चलाई जा रही निवेश प्रोत्साहन और गाइड प्रशिक्षण कार्यक्रमों की जानकारी दी गई। दल द्वारा भोपाल के ट्राइबल म्‍यूजियम तथा बौद्ध नगरी सांची का भ्रमण किया गया। ट्राइबल म्‍यूजियम में मौजूद आकृतियों और जनजातीय जीवन की झलकियां देख मंत्र-मुग्ध और अभिभूत हो उठा। टूरिज्म बोर्ड कार्यालय में सभी का स्वागत किया गया। अपर प्रबंध संचालक टूरिस्ट बोर्ड विवेक श्रोत्रिय सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।  

Kolar News

Kolar News 15 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वन्य-प्राणी और मनुष्य दोनों का अस्तित्व और सुरक्षा महत्वपूर्ण है। इस कार्य में ऐसा समन्वय होना चाहिए कि किसी भी पक्ष को हानि न हो। मुख्यमंत्री चौहान ने सरदारपुर और सैलाना क्षेत्र में दुर्लभ पक्षी खरमोर के संरक्षण के लिए नागरिकों में जागरूकता की जरूरत बताई। इसी तरह सोन चिड़िया के संरक्षण के लिए भी सरकार और समाज मिल कर प्रयास करेंगे तो मध्यप्रदेश की वन्य-प्राणी संरक्षण की पहचान को बनाए रखने में सहयोग मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान मंत्रालय में मध्यप्रदेश राज्य वन्य-प्राणी बोर्ड की 23वीं बैठक को संबोधित कर रहे थे। वन मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव वन अशोक वर्णवाल और बोर्ड के सदस्य उपस्थित थे। मुख्यमंत्री का बोर्ड के सभी सदस्यों ने प्रदेश के कूनो राष्ट्रीय उद्यान में अफ्रीका से चीतों को लाकर उनके प्रतिस्थापन का कार्य सफलतापूर्वक संपन्न करने पर खड़े होकर स्वागत कर आभार माना। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वन्य-प्राणियों की सुरक्षा पवित्र उद्देश्य है। साथ ही यह भी देखना आवश्यक है कि वन्य-प्राणियों की संख्या में इस तरह भी वृद्धि न हो कि मानव समाज को असुविधा हो। आवश्यक संतुलन की स्थिति होना चाहिए। इसके लिए वन क्षेत्र में वन्य-प्राणियों की संख्या के संबंध में क्षेत्रवार पृथक-पृथक अध्ययन किया जाए।       कूनो राष्ट्रीय उद्यान में नामीबिया से लाए गए चीतों की पुनर्स्थापना के संबंध में चर्चा हुई। बताया गया कि अफ्रीका से हवाई मार्ग द्वारा लाए गए चीतों को कूनों राष्ट्रीय उद्यान में वातावरण रास आ रहा है। इन्हें बड़े बाड़ों में ले जाने का कार्य प्रोटोकाल के अनुसार करने और अनुकूल हेबिटेट बनाए रखने के प्रयास निरंतर किए गए हैं। बोर्ड के सदस्य अभिलाष खांडेकर ने कहा कि यह कार्य वैश्विक स्तर पर सराहा गया है। खांडेकर ने कहा कि मध्यप्रदेश में वन्य-प्राणी संरक्षण की दिशा में मुख्यमंत्री चौहान की रूचि और केन्द्र एवं राज्य के संयुक्त प्रयासों से कूनो राष्ट्रीय उद्यान में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा चीतों का प्रवेश करवाया गया, जो ऐतिहासिक घटना है। उन्होंने बोर्ड सदस्यों से आग्रह किया कि इसके लिए अपने स्थान पर सभी सदस्य खड़े होकर मुख्यमंत्री चौहान ने प्रति आभार व्यक्त करें। बोर्ड के सदस्यों ने करतल ध्वनि के साथ खड़े होकर मुख्यमंत्री चौहान का आभार व्यक्त करते हुए उन्हें बधाई दी। बताया गया कि मध्यप्रदेश बाघ और तेंदुए के साथ ही चीता प्रदेश भी हो गया है।       जबलपुर के निकट डुमना क्षेत्र में टाइगर सफारी के प्रस्ताव पर चर्चा हुई। बोर्ड के सदस्य डॉ. सुरेंद्र तिवारी ने जापान की तरह मध्यप्रदेश में वन क्षेत्रों में फारेस्ट बाथ की व्यवस्था का सुझाव दिया। जिसमें वन क्षेत्र में कुछ दिन के लिए प्रवेश के लिए अनुमति देकर रहवास और भोजन की व्यवस्था की जाती है। पर्यटक या वन्य-प्राणी प्रेमी को निर्धारित शुल्क पर संगीतमय और प्राकृतिक वातावरण मिलने से हृदय रोग, रक्तचाप और मधुमेह जैसे रोगों में आराम मिलता है। मुख्यमंत्री चौहान ने इस सुझाव को अभिनव बताते हुए इस पर विचार करने के निर्देश वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दिए। नौरादेही अभयारण्य एवं वीरांगना रानी दुर्गावती टाइगर रिजर्व के विकास से संबंधित प्राप्त सुझावों पर भी चर्चा हुई। वन्य-प्राणी चिकित्सकों के एक पृथक संवर्ग के वन विभाग में संविलियन के संबंध में भी विचार विमर्श हुआ। इसी तरह रातापानी अभयारण्य को रातापानी टाइगर रिजर्व घोषित करने के संबंध में प्रचलित कार्यवाही की जानकारी दी गई। इस कार्य के लिए क्षेत्र के जन-प्रतिनिधियों के अभिमत के अनुरूप प्रस्ताव तैयार किया गया है। विचार-विमर्श के बाद संजय टाइगर रिजर्व सीधी अंतर्गत कटनी-सिंगरौली रेलवे लाइन की दोहरीकरण योजना के कार्य क्षेत्र में सिग्नल और टेलीकम्यूनिकेशन कार्य के लिए आवश्यक अनुमति प्रदान की गई। इसी तरह बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व उमरिया अंतर्गत बल्हौड़ ग्राम समूह जल प्रदाय योजना के लिए भूमिगत पाइप लाइन के उद्देश्य से वन्य-प्राणी क्षेत्र के लिए आवश्यक अनुमति प्रदान की गई। बोर्ड की 22वीं बैठक में लिए गए निर्णयों के पालन प्रतिवेदन की जानकारी भी दी गई।  

Kolar News

Kolar News 15 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रदेश की जीवन रेखा नर्मदा के जल के अधिकतम उपयोग पर प्रारंभ से जोर दिया जाता रहा है। पूर्व वर्षों में अनेक नगरीय और ग्रामीण क्षेत्रों में सिंचाई और पेयजल के लिए नर्मदा जल लाने का कार्य हुआ है। इस क्रम में आज प्रदेश में नर्मदा जल उपयोग के लिए 11 हजार 540 करोड़ रूपए लागत की 5 सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण कार्यों के लिए निविदाएँ स्वीकृत करने का निर्णय लिया गया। इन परियोजनाओं के निर्माण से लगभग 2 लाख 14 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी और 100 मेगावाट विद्युत उत्पादन भी होगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में सम्पन्न नर्मदा नियंत्रण मण्डल की 75वीं बैठक में यह निर्णय लिए गए।   इस बैठक में जो निविदाएँ स्वीकृत की गई उनमें डिन्डौरी जिले की अपर नर्मदा 45 हजार 600 हेक्टेयर, होशंगाबाद जिले की दूधी 55 हजार 410 हेक्टेयर, नरसिंहपुर जिले की शक्कर-पेंच लिंक 95 हजार 839 हेक्टेयर, मण्डला जिले की बसानिया 8 हजार 780 हेक्टेयर एवं सीहोर जिले की डोबी 8 हजार 544 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की परियोजनाएँ शामिल हैं। इन परियोजनाओं के क्रियान्वयन से मध्यप्रदेश के हिस्से के 2.223 एमएएफ नर्मदा जल का उपयोग सुनिश्चित होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने बरगी परियोजना की स्लीमनाबाद टनल का कार्य जून 2023 तक पूर्ण करने के निर्देश दिए। टनल के बाद निकलने वाली रीवा शाखा नहर के लिए भी दो ग्रुप में निविदाएँ स्वीकृत की गईं। इनसे 42 हजार 700 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा निर्मित होगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि प्रदेश में नहरों के निर्माण में गुणवत्ता को प्राथमिकता दी जाये। भविष्य में भी ऐसे ही प्रयास हों। साथ ही समूह माइक्रो सिंचाई परियोजनाओं, नर्मदा नदी के विभिन्न घाट के विकास कार्यों की पूर्णता और निर्माणाधीन कार्यों के निरंतर निरीक्षण भी किए जाएँ। वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, वन मंत्री विजय शाह, नर्मदा विकास घाटी विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव नर्मदा घाटी विकास एस.एन. मिश्रा, अपर मुख्य सचिव वित्त मनोज गोविल और प्रमुख सचिव लोक निर्माण  नीरज मंडलोई उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 15 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार प्रदेश को नशामुक्त बनाने के लिये नशा माफियाओं के विरुद्ध सख्ती से कार्यवाही की जा रही है। साथ ही नशामुक्ति के लिये आमजन को जागरूक करने भी व्यापक जागरूकता कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। अभियान प्रारंभ होने से अब तक 3,438 कार्यक्रम हुए हैं। शराब माफियाओं के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करते हुए 64 हजार 398 लीटर अवैध शराब जप्त की गई है। नशामुक्ति के विरूद्ध लोगों को जागरूक करने गुरूवार को प्रदेश में 806 कार्यक्रम किये गये। विभिन्न स्थानों पर पुलिस ने विद्यालयों, महाविद्यालयों, सामाजिक संस्थाओं आदि के साथ मिल कर लोगों को जागरूक करने कार्य किया। सर्वाधिक जन-जागरूकता के 154 कार्यक्रम इंदौर जोन में हुए। इंदौर कमिश्नरेट में 22, भोपाल जोन में 58, भोपाल कमिश्नरेट में 13, ग्वालियर जोन में 7, नर्मदापुरम जोन में 56, बालाघाट जोन में 55, चम्बल जोन में 15, जबलपुर जोन में 66, रीवा जोन में 95, शहडोल जोन में 94, सागर जोन में 35 और उज्जैन जोन में 136 नशामुक्ति जागरूकता कार्यक्रम किये गये।   इस क्रम में एनडीपीएस एक्ट में 103 प्रकरण में 110 आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही करते हुए 424.061 ग्राम मादक पदार्थों की जप्ती की गई। अब तक 862.597 ग्राम मादक पदार्थ जप्त किये जा चुके हैं। एक हजार 477 आरोपियों के विरुद्ध कार्यवाही करते हुए 1246 प्रकरण बना कर 8226 लीटर अवैध शराब जप्त की गई। अब तक 8571 प्रकरण में 8844 लोगों के विरूद्ध कार्यवाही कर 64 हजार 398 लीटर अवैध शराब जप्त की गई है। प्रदेश में सार्वजनिक स्थलों पर शराब पीने वाले 498 लोगों के विरूद्ध 471 प्रकरण दर्ज किये गये हैं। अब तक 2071 प्रकरण में 2191 लोगों के विरूद्ध कार्यवाही हुई है। शराब पीकर वाहन चलाने वालों के विरूद्ध गुरूवार को 200 प्रकरण में 200 लोगों को आरोपी बनाया गया है। अब तक 1097 प्रकरण में 1103 आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही की गई है। धूम्रपान निषेध कानून में अब तक 1984 लोगों के विरुद्ध कार्यवाही सुनिश्चित की गई है। प्रदेश में अवैध मादक पदार्थों का नशा कराने वाले 7199 और अवैध शराब पिलाने वाले 11 हजार 307 स्थानों पर सघन जाँच की गई।

Kolar News

Kolar News 14 October 2022

आयुष राज्य मंत्री रामकिशोर 'नानो' कावरे ने कहा है कि सातनारी जलाशय बनने से बालाघाट जिले के अनुसूचित जनजाति बहुल अंचल परसवाड़ा में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे तथा किसानों की आर्थिक स्थिति और अधिक मजबूत होगी। राज्य मंत्री श्री कावरे गुरूवार को सातनारी जलाशय के भूमि-पूजन समारोह को संबोधित कर रहे थे। 10 करोड़ 29 लाख रूपये की लागत से बनने वाले जलाशय का निर्माण जल संसाधन विभाग द्वारा किया जा रहा है। राज्य मंत्री  कावरे ने कहा कि सातनारी जलाशय का कार्य पिछले 40 वर्ष से अधूरा पड़ा था। लेकिन उनकी पहल से जलाशय का निर्माण अब पुन: तय की गई समय-सीमा जून-2023 तक पूरा किया जाएगा। योजना के पूरा होने पर जनजाति बहुल क्षेत्र के 500 किसान को सिंचाई का लाभ मिलेगा और क्षेत्र की 320 हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। उन्होंने कहा कि जलाशय में मत्स्य पालकों को भी रोजगार के अधिक से अधिक अवसर दिये जाएंगे। साथ ही पर्यटन के अवसर भी बढ़ाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि जलाशय बनने से ग्राम बुढ़ियागांव, टाकाबर्रा, अलीटोला, खुरसोड़ा और खर्राकोना के किसानों को सिंचाई सुविधा में लाभ मिलेगा।     आयुष राज्य मंत्री कावरे ग्राम समनापुर में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान में लगाए गये शिविर में भी शामिल हुए। उन्होंने ग्रामीणों की समस्याओं को सुना और संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए। राज्य मंत्री  कावरे ने कहा कि शिविर लगाए जाने का उद्देश्य ग्रामीणों को सरकारी योजनाओं का लाभ सुलभता से उपलब्ध कराना है। उन्होंने कहा कि इस अभियान में 38 योजना को शामिल किया गया है। शिविर से इन योजनाओं के लाभ से वंचित लोगों का पता लगाया जाता है। उन्हें योजना का लाभ दिलाया जाता है। किसी हितग्राही के पास कोई दस्तावेज नहीं है तो उसे शिविर में ही दस्तावेज तैयार करके दिया जाएगा। इस मौके पर पंचायत प्रतिनिधि भी मौजूद थे।  

Kolar News

Kolar News 14 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दत्तोपंत ठेंगड़ी की पुण्य-तिथि पर उन्हें नमन किया। मुख्यमंत्री चौहान ने निवास स्थित सभागार में उनके चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की। दत्तोपन्त राष्ट्रवादी विचारधारा के ट्रेड यूनियन नेता और भारतीय मजदूर संघ, स्वदेशी जागरण मंच एवं भारतीय किसान संघ के संस्थापक थे। उनका जन्म 10 नवम्बर 1920 को महाराष्ट्र के वर्धा जिले के आर्वी ग्राम में हुआ। उनके विचार देशवासियों का मार्गदर्शन करते रहेंगे। उनके आलेख पत्र–पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहे। दत्तोपंत जी ने अनेक अवसरों पर मध्यप्रदेश और विशेष रूप से भोपाल का प्रवास किया। भोपाल में डिपो चौराहे के निकट ठेंगड़ी भवन उनकी स्मृति का प्रतीक है। उनका 14 अक्टूबर 2004 को पुणे में अवसान हुआ।

Kolar News

Kolar News 14 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में कानून-व्यवस्था को मजबूत रखने के साथ ही नशे सहित सभी तरह के अवैध कारोबार को ध्वस्त किया जाएगा। मुख्यमंत्री  चौहान रायसेन में राज्य स्तरीय कार्यक्रम में संबल 2.0 योजना अंर्तगत 15 हजार 948 श्रमिक परिवार के बैंक खातों में 345 करोड़ 59 लाख रूपए की राशि सिंगल क्लिक से अंतरित करने के बाद जनसभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री  चौहान ने प्रदेश के अनेक जिलों में हुई असमय बारिश से फसलों को हुए नुकसान का उल्लेख करते हुए किसानों को आश्वस्त किया कि- "चिंता मत करना सरकार आपको संकट से पार ले जायेगी।" उन्होंने कहा कि प्रभावित किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा के साथ राहत राशि भी दी जाएगी। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा हर हाल में गरीबों का सम्मान कायम रखा जाएगा। मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान भी इसीलिए चलाया जा रहा है, जिससे कोई भी गरीब शासन की किसी भी योजना के लाभ से वंचित नहीं रहे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गरीब परिवारों को घर बनाने के लिए जमीन देगी, चाहे खरीद कर जमीन देना पड़े पर सरकार किसी भी गरीब को बिना घर के नहीं रहने देगी।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान के तहत इस महीने के अंत तक आवेदन लेकर मध्यप्रदेश स्थापना दिवस (एक नवंबर) से वंचित रह गए गरीब परिवारों को खाद्यान्न उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे तेंदूपत्ता श्रमिकों को भी अभियान चला कर संबल योजना में शामिल करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब का जीवन आसान बनाना ही उनका मकसद है और रोटी, कपड़ा, मकान, दवाई और पढ़ाई की व्यवस्था सरकार कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के चारों श्रमोदय विद्यालयों से गरीब श्रमिकों के बच्चों के लिए उच्च शिक्षा के नए द्वार खुले हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने मंच से ही खाद उपलब्धता और वितरण की समीक्षा करते हुए किसानों को आश्वस्त किया कि खाद की कोई कमी नहीं होगी। उन्होंने प्रशासन को अपना खुफिया तंत्र मजबूत करने और खाद सहित राशन की चोरी करने वालों पर सख्त कार्यवाही के निर्देश दिए।     मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रायसेन के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी। उन्होंने घोषणा की कि रायसेन किले में पर्यटन सुविधाएँ बढ़ाने के लिए रोप-वे स्थापित किया जायेगा। उन्होंने सीवेज के लिए सर्वे करने और सांस्कृतिक आयोजनों के लिए सर्वसुविधायुक्त आडिटोरियम के निर्माण की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री ने सेमरी जलाशय का काम मार्च माह तक पूरा करने और आस-पास के गाँव के प्रत्येक परिवार को दिसंबर तक नल से जल उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री  चौहान ने कटनी, छतरपुर, देवास, अशोकनगर और नर्मदापुरम जिलों की महिला हितग्राहियों से वर्चुअल संवाद किया। श्रम कल्याण मण्डल की तीन विवरणिका का विमोचन किया। उन्होंने रायसेन जिले के संबंल योजना के हितग्राहियों को अनुग्रह राशि के चेक भी वितरित किए। मुख्यमंत्री चौहान ने कलेक्टर और जिले के अन्य अधिकारियों को मंच पर बुला कर मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान की प्रगति की समीक्षा की। श्रम मंत्री  बृजेन्द्र प्रताप सिंह और स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने भी संबोधित किया। सांसद रमाकांत भार्गव, विधायक रामपाल सिंह और सुरेन्द्र पटवा, जिला पंचायत अध्यक्ष  यशवंत मीणा उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 13 October 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने राजमाता सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय के आठवें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि किसानों को लाभ और सीमांत किसान परिवारों की खुशहाली में ही कृषि की सार्थकता है। उन्होंने कहा कि निश्चित ही आज दीक्षित विद्यार्थी प्राप्त की गई शिक्षा से अपने परिवार के साथ सम्पूर्ण समाज के कल्याण में योगदान देंगे। किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा कि कृषि संकाय में विशेषज्ञता प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों के ज्ञान का लाभ कृषि को उन्नत बनाने में मिलेगा। दीक्षांत समारोह में चार विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक, 14 को शोध उपाधियाँ (पीएचडी) सहित 321 विद्यार्थियों को स्नातकोत्तर और 303 विद्यार्थियों को स्नातक उपाधियाँ प्रदान की गईं। साथ ही तीन विद्यार्थियों को सिरताज बहादुर सिन्हा स्मृति नगद पुरस्कार प्रदान किए गए। राजमाता सिंधिया कृषि विश्वविद्याल के दत्तोपंत ठेंगड़ी सभागार में आठवें दीक्षांत समारोह में उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह, विधायक वीरेन्द्र रघुवंशी, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उप महानिदेशक डॉ. आर सी अग्रवाल, कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एस.के. राव राजा मानसिंह तोमर संगीत एवं कला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अविनाश तिवारी, कृषि विश्वविद्यालय के डीन डॉ. दीपक हरी रानाडे, अधिष्ठाता एन.एस. भदौरिया सहित विश्वविद्यालय प्रबंध मंडल के सदस्य और विद्यार्थी मौजूद थे।   राज्यपाल  मंगुभाई पटेल ने उपाधियाँ प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को बधाई एवं शुभकामनाएँ देते हुए विश्वास व्यक्त किया कि आप सब खेती को समावेशी, व्यापक और अधिक टिकाऊ बनाने में पूरे उत्साह के साथ योगदान देंगे। कृषि विद्यार्थियों के प्रयास ऐसे हों, जिससे देश में कृषि व्यापार का ऐसा वातावरण बने जो किसानों के लिये लाभकारी हो। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन्नत कृषि तकनीक को बढ़ावा देने के लिये प्रभावी कदम उठाए हैं। राज्यपाल  पटेल ने जैविक खेती अपनाने पर जोर देते हुए कहा कि किसानों को उपयुक्त तकनीक और खेती के नए-नए तरीकों में पारंगत करने की जरूरत है। साथ ही यह भी प्रयास करने होंगे कि किसान कृषि उद्यमी के रूप में आगे बढ़ें। राज्यपाल पटेल ने राजमाता स्व. विजयाराजे सिंधिया का स्मरण कर उनके द्वारा समाज की भलाई के लिए किए गए कार्यों को भी रेखांकित किया।   किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने विद्यार्थियों का आह्वान करते हुए कहा कि कृषि की पढ़ाई की सार्थकता तभी सिद्ध होगी, जब कृषि विशेषज्ञता का लाभ किसानों को मिलेगा। उन्होंने किसानों के कल्याण के लिये सरकार द्वारा उठाए गए महत्वपूर्ण कदमों और योजनाओं पर भी प्रकाश डाला। पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, किसान सम्मान निधि और कृषि अधोसंरचना विकास फंड से किसानों को बड़ी मदद मिल रही है। कृषि मंत्री पटेल ने उत्कृष्ट स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को अपनी ओर से 10–10 हजार रूपए के नगद पुरस्कार देने की घोषणा भी की। उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भारत सिंह कुशवाह ने सफलता प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को बधाई एवं शुभकामनाएँ दीं। मंत्री कुशवाह ने कहा कि कृषि विद्यार्थी वैज्ञानिक तरीके से कृषि उत्पादन बढ़ाने में अपना योगदान दें और जलवायु परिवर्तन अप्रभावित होने वाली ऐसी कृषि तकनीकें खोजें जिससे सूखे और अतिवर्षा की स्थिति में भी किसानों को अच्छा उत्पादन मिल सके। कुशवाह ने कहा कि कृषि विद्यार्थी किसानों को उद्यानिकी अपनाने के लिये प्रेरित करें। दीक्षांत समारोह में राज्यपाल पटेल, कृषि मंत्री  पटेल एवं उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  कुशवाह सहित अन्य अतिथियों ने कृषि विश्वविद्यालय के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण भी किया। लोकार्पित कार्यों में जैविक कपास उत्कृष्ट अनुसंधान केन्द्र भवन खंडवा एवं आगर मालवा तथा मनावर, धार और अलीराजपुर के कृषि विज्ञान केन्द्रों में नवनिर्मत प्रशासनिक एवं कृषक भवन सहित अनुसूचित जाति-जनजाति कौशल विकास केन्द्र मंदसौर शामिल है।

Kolar News

Kolar News 13 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में पर्याप्त उपलब्धता के बावजूद कुछ स्थानों पर खाद प्राप्त न होने के संबंध में प्राप्त किसानों की शिकायतों का तत्काल समाधान किया जाए। मध्यप्रदेश को आवश्यकतानुसार खाद उपलब्ध करवाने में केन्द्र सरकार का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री मनसुख लाल मंडाविया से भी समय-समय पर चर्चा होती है और प्रदेश के किसानों के लिए उर्वरक की आपूर्ति का कार्य बिना बाधा के होता रहा है। मुख्यमंत्री चौहान आज निवास पर हुई बैठक में प्रदेश में खाद वितरण कार्य की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मार्कफेड द्वारा खाद के एक से अधिक विक्रय पाइंट बनाने और स्कंध खत्म होने के पहले भंडारण सुनिश्चित करने पर सहमति हुई। लगातार समीक्षा कर यह कार्य किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है।ऐसे में मार्कफेड और अन्य संबंधित संस्थाओं द्वारा ऐसी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जाएँ कि खाद न मिलने की कहीं से भी शिकायत नहीं आए। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि किसानों को आश्वस्त किया जाना आवश्यक है कि खाद पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। किसी भी स्तर पर इसके उपलब्ध न होने की आशंका के आधार पर अनावश्यक संग्रहण भी न किया जाए।   मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि किसानों से खाद न मिलने की शिकायतें न मिलें, इसके लिए किसानों से संवाद भी हो। खाद वितरण में कहीं खामी हो तो व्यवस्थाएँ सुधारें। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश में उर्वरक की व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए अधिकारियों से कहा कि कुछ जिलों से जो शिकायतें आई हैं उनका बिना विलम्ब निराकरण करें। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने बैठक में वर्चुअली हिस्सा लेते हुए कहा कि पिछले साल इस तरह की शिकायतें नहीं आई थीं। संयुक्त प्रयासों के अच्छे परिणाम आ रहे हैं। सभी संबंधित विभाग और संस्थाएँ मिल कर मॉनिटरिंग कर रहे हैं। खाद के वितरण के लिए माइक्रो मैनेजमेंट जरूरी है। संबंधित अधिकारियों को विस्तृत निर्देश दिए गए हैं।   अपर मुख्य सचिव किसान-कल्याण तथा कृषि विकास अजीत केसरी ने बताया कि प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में खाद उपलब्ध है। केन्द्र सरकार से प्रदेश की माँग पर उर्वरकों की रेक निरंतर मिल रही हैं। हाल में हुई समीक्षा में यह बात सामने आई है कि सहकारिता क्षेत्र में यूरिया, डीएपी उर्वरकों की 70 प्रतिशत से कम मात्रा का उठाव किया गया है। जिला विपणन अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि नगद विक्रय केन्द्र पर खाद के इच्छुक किसानों के लिए व्यवस्थित प्रबंध सुनिश्चित करें। प्रदेश में अप्रैल से लेकर 11 अक्टूबर तक यूरिया 19.09 लाख मीट्रिक टन, डीएपी 9.80 लाख मीट्रिक टन, एनपीके 3.42 लाख मीट्रिक टन और एसएसपी 8.58 लाख मीट्रिक टन उपलब्ध है। गत वर्ष से इस वर्ष आलोच्य अवधि में प्रत्येक उर्वरक का अधिक भंडारण हुआ है। लेकिन विक्रय गत वर्ष से कम है और शेष स्कंध की मात्रा यूरिया 2.51 लाख मीट्रिक टन, डीएपी 1.98 लाख मीट्रिक टन, एनपीके 1.31 लाख मीट्रिक टन, एसएसपी 3.50 लाख मीट्रिक टन है। इस महीने प्राप्त होने वाली संभावित उर्वरक मात्रा 11.84 लाख मीट्रिक टन है।

Kolar News

Kolar News 13 October 2022

मध्यप्रदेश में जल जीवन मिशन में ग्रामीण परिवारों को हर घर जल उपलब्ध करवाने के लिये जल संरचनाओं के निर्माण का सिलसिला जारी है। जल प्रदाय योजनाओं का निर्माण मिशन गाइड लाइन के अनुरूप, गुणवत्तापूर्ण और निर्धारित समय-सीमा में पूरा किये जाने के उद्देश्य से राज्य स्तरीय कार्यशाला 13 अक्टूबर को प्रात: 11 बजे से कुशाभाऊ ठाकरे सभागार, भोपाल होगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कार्यशाला में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी और जल निगम के अधिकारियों से संवाद और प्रतिभागियों का अभिप्रेरण एवं मार्गदर्शन करेंगे। कार्यशाला में विभाग के राज्य मंत्री श्री बृजेन्द्र सिंह यादव सहित सभी स्तर के विभागीय अधिकारी शामिल रहेंगे।

Kolar News

Kolar News 12 October 2022

मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी ने प्रदेश में बढ़ते लोड के मद्देनजर 400 केव्ही सबस्टेशन आष्टा में 315 एमव्हीए क्षमता का अतिरिक्त पावर ट्रांसफार्मर स्थापित किया है। गत दिवस इस पावर ट्रांसफार्मर को सफलतापूर्वक ऊर्जीकृत किया गया। म.प्र.पावर ट्रांसमिशन कंपनी के मुख्य अभियंता अतुल जोशी ने बताया कि इस 400/220 केव्ही वोल्टेज लेवल के 315 एमव्हीए क्षमता के पावर ट्रांसफार्मर के उर्जीकृत होने से भोपाल, उज्जैन और इंदौर सहित संपूर्ण मालवा की पारेषण क्षमता को मजबूती मिलेगी। इस ट्रांसफार्मर के ऊर्जीकरण होने से मध्यप्रदेश, सेंटर ग्रिड से अधिक मात्रा में पावर प्राप्त कर सकेगा। ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने इस उपलब्धि पर मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कम्पनी के पूरे स्टॉफ को बधाई दी है।   पूर्व में सिहोर जिले का लोड बढ़ने से जैतपुरा (इंदौर), भोपाल आदि से विद्युत पारेषण हुआ करता था। अब इसकी आपूर्ती आष्टा से ही हो जाया करेगी। इस अतिरिक्त ट्रांसफार्मर की स्थापना से जैतपुरा (इंदौर) देवास, चापड़ा, शुजालपुर, मुगलिया छाप क्षेत्रों में भी भरोसेमंद विद्युत का पारेषण होगा। इससे कृषि एवं घरेलू उपभोक्ताओं को गुणवत्ता पूर्ण विद्युत उचित वोल्टेज पर प्राप्त हो सकेगी। इस नये 315 एमव्हीए के .पावर ट्रांसफार्मर के उर्जीकृत होने से संपूर्ण मालवा क्षेत्र की पारेषण क्षमता एवं विश्वसनीयता में उल्लेखनीय बढ़ोत्तरी हुई है। अब सिहोर जिले की कुल ट्रांसफारमेशन कैपेसिटी बढ़कर 2251 एमव्हीए की हो गई है। सिहोर जिले में म.प्र.पावर ट्रांसमिशन कंपनी अपने 10 अति उच्चदाब सबस्टेशनों से विद्युत पारेषण करती है। इसमें 400 के व्ही का एक सबस्टेशन आष्टा, 220 के व्ही का एक सबस्टेशन बुधनी तथा 132 के व्ही के 8 सबस्टेशन आष्टा, सिहोर, शाहगंज, इच्छावर, श्यामपुर, विलकिसगंज, गोपालपुर एवं नसरूल्लागंज शामिल है।

Kolar News

Kolar News 12 October 2022

18 वर्ष की आयु पूरी करने वाले युवाओं का नाम मतदाता सूची में जोड़ने प्रदेश में 10 दिन तक विशेष अभियान चलाया जा रहा है, जिसकी सोमवार से शुरुआत हुई। मंगलवार को निर्वाचन सदन मध्यप्रदेश के अधिकारी भोपाल जिले के विभिन्न कॉलेजों में पहुंचे। यहां पर 18 साल की आयु पूर्ण करने वाले विद्यार्थियों से संवाद किया। नाम जोड़ने, हटाने, आधार से लिंक करने और बदलाव के संबंध में उपयोग में आने वाले फॉर्म्स के बारे में छात्र-छात्राओं को जानकारी दी। इसके बाद वोटर हेल्पलाइन एप को डाउनलोड कराया और मतदाता सूची में नाम जुड़वाने की प्रक्रिया से अवगत कराया।   उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 18 साल की आयु पूरी करने वाले युवाओं का नाम मतदाता सूची में जोड़ने के लिए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, मध्यप्रदेश द्वारा 10 से 20 अक्टूबर तक विशेष अभियान चलाया जा रहा है, जिसकी शुरुआत भी हो चुकी है। 11 अक्टूबर को अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी राजेश कुमार कौल, एमबीएम कॉलेज, उपमुख्य निर्वाचन पदाधिकारी प्रमोद शुक्ला, शासकीय महिला पॉलीटेक्निक महाविद्यालय और उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी  रंजना देवड़ा बीएलओ के साथ नूतन कॉलेज पहुंचीं। यहां पर विद्यार्थियों को मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए ऑनलाइन-ऑफलाइन प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी। इसके अलावा कॉलेजों में स्वीप गतिविधियां भी आयोजित की गई। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, मध्यप्रदेश अनुपम राजन ने बताया कि 18 साल की आयु पूर्ण कर चुके युवाओं का नाम मतदाता सूची में जोड़ने के लिए हायर सेकेंडरी स्कूल, महाविद्यालय और विश्वविद्यालयों में 10 दिन का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत विद्यार्थियों को जागरूक भी किया जा रहा है, जिससे कोई भी युवा मतदाता सूची में नाम जुड़वाने से वंचित न रह जाए।  

Kolar News

Kolar News 12 October 2022

36वें राष्ट्रीय खेलों में आज मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों ने 3 स्वर्ण, 7 रजत और 3 कांस्य पदक हासिल किये हैं। अब तक मध्यप्रदेश ने 19 स्वर्ण, 23 रजत और 17 कांस्य पदक के साथ कुल 59 मेडल जीते हैं। मध्यप्रदेश के प्रणव कोरी ने हैंगिंग मलखम्ब में स्वर्ण हासिल किया। इसी प्रकार पोल मलखम्ब में सिद्धि गुप्ता ने स्वर्ण पदक और रोप मलखम्ब में रजत पदक हासिल किया। मध्यप्रदेश के राजवीर पवार ने रोप मलखम्ब में रजत पदक जीता। मध्यप्रदेश के मलखम्ब खिलाड़ी चंद्रशेखर चौहान ने रोप और पोल मलखम्ब इवेंट में क्रमशः 1-1 कांस्य पदक हासिल किया। मध्यप्रदेश के जय मीणा ने शॉफ्ट टेनिस मेन्स सिंगल्स में स्वर्ण पदक अपने नाम किया। महिलाओं के शॉफ्ट टेनिस सिंगल्स में मध्यप्रदेश की आध्या तिवारी ने रजत पदक जीता।   मध्यप्रदेश के कयाकिंग एवं कनोइंग खिलाड़ियों ने आज रजत पदक पर अपना कब्जा जमाया। कनोइंग C2 500 मी महिलाओं के इवेंट में मध्यप्रदेश की कावेरी ढीमर और शिवानी वर्मा ने रजत पदक हासिल किया। इसके अलावा कनोइंग K4 500मी में सुषमा वर्मा, दिमिता देवी, स्वाती साहू और दीपाली के ग्रुप ने रजत पदक हासिल किया। पुरूषों के K4 500मी. कनोइंग इवेंट में विशाल दांगी, अक्षित बरोई, रिमसन मरियमबाम और हिमांशु टंडन ने रजत पदक हासिल किया। मध्यप्रदेश के वूशू खिलाड़ियों ने आज एक रजत और एक कांस्य पदक हासिल किया। दावशू गुनशू ऑलराउंड इवेंट में रोहित जाधव ने रजत पदक हासिल किया। मध्यप्रदेश की भूरक्षा दुबे ने जियानशू क्यांगशू इवेंट में कांस्य पदक हासिल किया।

Kolar News

Kolar News 11 October 2022

  उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने उद्यानिकी फसलों के उत्पादन और प्र-संस्करण में हुए नवाचारों की जानकारी से किसानों को अवगत करवाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने संभाग, जिला और विकासखंड स्तर पर जानकारी देने के लिये डिस्प्ले बोर्ड लगाने को कहा। राज्य मंत्री कुशवाह ने सोमवार को मंत्रालय में विभाग की समीक्षा के दौरान यह निर्देश दिए। राज्य मंत्री कुशवाह ने कहा कि उद्यानिकी फसलों के उत्पादन में पिछले वर्षों में काफी उन्नति हुई है। उन्होंने कहा कि उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण विभाग की विभिन्न योजनाओं और नवाचारों को किसानों तक पहुँचाने के लिये संभाग, जिला और विकासखंड स्तर पर डिस्प्ले बोर्ड लगाने के लिए अगले 2 सप्ताह में कार्यवाही की जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि पोटेटो टिश्यू कल्चर लेब और फ्लोरी कल्चर गार्डन की स्थापना संबंधी कार्यों में तेजी लाई जाए। राज्य मंत्री कुशवाह ने विभाग के अनुकम्पा नियुक्ति संबंधी प्रकरणों का भी त्वरित निराकरण और लंबित विभागीय जाँच प्रकरणों में निर्धारित समय अवधि में कार्यवाही करने के लिये कहा। बैठक में अपर मुख्य सचिव उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण जे.एन. कंसोटिया, संचालक उद्यानिकी  निधि निवेदिता, एम.डी. एम.पी.एग्रो.  राजीव जैन और अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 11 October 2022

जनजातीय कार्य विभाग द्वारा विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर विद्यार्थियों के लिए मानसिक स्वास्थ्य विषय पर सत्र का आयोजन किया गया। बावड़िया कला स्थित एकलव्य आदर्श आवासीय (गुरुकुलम्) विद्यालय में हुए सत्र में मनोवैज्ञानिक सुश्री प्रिया सोनपर ने विद्यार्थियों को बेहतर मानसिक स्वास्थ्य और केरियर से जुड़े मार्ग-दर्शन दिए। उन्होंने विद्यार्थियों को अवसाद और तनाव से जुड़े मुद्दों की बुनियादी जानकारी दी और इससे बचने की सलाह भी दी। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि परीक्षा से जुड़ा तनाव तभी हो सकता है जब परीक्षा सिर पर हो और नियमित रूप से पढ़ाई न की हो। तनाव ही अवसाद का कारण बनता है और इसका दुष्परिणाम यह होता है कि ठीक से नींद नहीं आती। खाना खाने का मन नहीं करता है। ऐसी स्थिति में अपने परिजन, शिक्षक और मित्रों से इस बारे में बात करें।    सुश्री प्रिया सोनपर ने विद्यार्थियों को सेल्फ मोटिवेशन और केरियर को लेकर भी कई सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि अपने जीवन में रोज खुशी के लिए कुछ वजह खोजें। रोज सुबह उठने पर आपका एक डिफरेंट मोटिव हो। खुद को खुश रखने के लिए रोज अपनी पसंद का एक काम जरूर कीजिए। जीवन में आपका एक उद्देश्य तय होना चाहिए। जब आप अपने केरियर का चयन करें तो अपने व्यक्तित्व और प्रकृति को ध्यान में रखें। कक्षा 9वीं से आपको यह सोचना शुरू कर देना चाहिए कि केरियर में आगे क्या करना है। इसके लिए आप अपने बड़े भाई-बहन, पैरेंट्स और शिक्षक से भी सलाह ले सकते हैं। स्ट्रेस की छोटी-छोटी वजहों को बेवजह इकट्टठा कर के न रखें, उनके निराकरण को टाले नहीं और न ही ओवर थिंकिंग करें। रोज अपने आस-पास के लोगों से खुशी के साथ बात करें। जब आप खुशियाँ जाहिर करते हैं तो यह फैलती है। जब आप खुश होते हैं और चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान रखते हैं तो आस-पास का माहौल भी खुशनुमा होता है। इसके लिए अपने सामाजिक संबंध मजबूत बनाए रखेंगे तो आपको मानसिक सुदृढ़ता मिलेगी। प्राचार्य डॉ. यशपाल सिंह और शिक्षकगण उपस्थित रहे।  

Kolar News

Kolar News 11 October 2022

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह 16 अक्टूबर को भोपाल के लाल परेड ग्राउंड पर हिंदी में एमबीबीएस प्रथम वर्ष की पुस्तकों का विमोचन कर हिंदी में मेडिकल की पढ़ाई का शुभारंभ करेंगे। विमोचन कार्यक्रम को लेकर भव्य तैयारियाँ की जा रही हैं। रविवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री  विश्वास कैलाश सारंग ने लाल परेड ग्राउंड पर कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण कर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।   मंत्री  सारंग ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव पर ‘हिंदी में मेडिकल की पढ़ाई’ मध्यप्रदेश सरकार की ओर से देश को बड़ी सौगात है। उन्होंने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी के आह्वान को जनप्रिय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने शिरोधार्य करते हुए हिंदी में एमबीबीएस पाठ्यक्रम शुरू करने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि यह प्रसन्नता की बात है कि चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा निर्धारित समय-सीमा में एमबीबीएस के हिंदी पाठ्यक्रम को तैयार करने का कार्य पूर्ण किया गया। मंत्री सारंग ने बताया कि 16 अक्टूबर को केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री शाह के मुख्य आतिथ्य में भोपाल के लाल परेड गाउंड पर भव्य कार्यक्रम में एमबीबीएस प्रथम वर्ष के हिंदी पाठ्यक्रम की पुस्तकों का विमोचन किया जायेगा। यह दिन चिकित्सा शिक्षा विभाग, मध्यप्रदेश, देश एवं हिंदी के लिये बेहद महत्वपूर्ण है। कार्यक्रम में हजारों की संख्या में पूरे प्रदेश के चिकित्सा महाविद्यालयों के छात्र शामिल होंगे।   मंत्री  सारंग ने बताया कि मध्यप्रदेश, देश का पहला राज्य होगा जो हिंदी में मेडिकल की पढ़ाई का शुभारंभ करेगा। हिन्दी में एमबीबीएस पाठ्यक्रम का पायलट प्रोजेक्ट गांधी चिकित्सा महाविद्यालय से शुरू होगा। मध्यप्रदेश के सभी 13 शासकीय चिकित्सा महाविद्यालयों में वर्तमान सत्र से ही एमबीबीएस प्रथम वर्ष में एनाटॉमी, फिजियोलॉजी एवं बॉयो-केमिस्ट्री की हिंदी में भी पढ़ाई कराई जाएगी। वहीं अगले सत्र में एमबीबीएस द्वितीय वर्ष में भी इसे लागू किया जाएगा। सारंग ने यह भी स्पष्ट किया कि हिंदी में पढ़ाई का मतलब समानांतर रूप से हिंदी माध्यम से पढ़े छात्रों को सहायता के तौर पर यह व्यवस्था की जा रही है। अंग्रेजी के साथ हिंदी की किताबें भी उपलब्ध कराई जायेगी। किताबों के हिंदी रूपांतरण के लिये हिंदी प्रकोष्ठ ‘मंदार’ का विधिवत गठन कर सुव्यवस्थित पाठ्यक्रम तैयार किया गया है। इस टॉस्क फोर्स में चिकित्सा क्षेत्र के विशेषज्ञ शामिल हैं।   लाल परेड मैदान में कार्यक्रम स्थल पर 15 अक्टूबर को मध्यप्रदेश चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा हिंदी में एमबीबीएस, नॉलेज शेयरिंग मिशन, चिकित्सा छात्र बीमा योजना, एमबीबीएस फाउंडेशन कोर्स में मूल्य आधारित चिकित्सा शिक्षा का समावेश, ईज़ ऑफ हेल्थ सर्विसेज, मेडिकल इन्क्यूबेशन सेंटर समेत विभिन्न नवाचार पर आधारित प्रदर्शनी भी लगाई जायेगी।

Kolar News

Kolar News 10 October 2022

सतना जिले में प्रसिद्ध तपोस्थली चित्रकूट में भारत रत्न नाना जी देशमुख की 106 वीं जयंती पर रविवार को 4 दिवसीय ग्रामोदय मेला का शुभारंभ केन्द्रीय कौशल विकास एवं उच्च शिक्षा मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान द्वारा नानाजी मंडप के सामने नाना जी की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया। केन्द्रीय मंत्री श्री प्रधान ने कहा कि राजनीति में रह कर समाज नीति की नई परिभाषा नानाजी ने दी है। नानाजी ने चित्रकूट में मुक्त विश्वविद्यालय की कल्पना को साकार रूप दिया है कि लोग आएँ सीखे, समझे और आत्म-सात कर अपने जीवन में उतारें।   केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, मध्यप्रदेश के सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्यम एवं विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा,उत्तराखंड सरकार के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा, सहकारिता, उच्च शिक्षा एवं स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, मध्यप्रदेश के खनिज मंत्री  बृजेंद्र प्रताप सिंह, संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री ऊषा ठाकुर, उत्तर प्रदेश सरकार के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री  राकेश सचान, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री ठाकुर  जयवीर सिंह, लोकसभा सदस्य सतना  गणेश सिंह, लोकसभा सदस्य बांदा चित्रकूट आर.के. सिंह पटेल, मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम की अध्यक्ष श्रीमती इमरती देवी, मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के महानिदेशक अनिल कोठारी, जन अभियान परिषद मध्यप्रदेश के उपाध्यक्ष जितेंद्र जामदार, महात्मा गांधी राज्य ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज संस्थान मध्यप्रदेश के निदेशक संजय सराफ एवं दीनदयाल शोध संस्थान के प्रधान अतुल जैन प्रमुख रूप से मंचासीन रहे।  मंच के बाँयी तरफ संतों के लिए अलग से मंच बनाया गया था, जिसमें चित्रकूट के सभी प्रमुख संत-महात्मा मंचासीन रहे।   केन्द्रीय मंत्री प्रधान ने कहा कि हम सभी का सौभाग्य है कि आज भारत रत्न नाना जी देशमुख की जयंती पर इस कार्यक्रम में शामिल होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। चित्रकूट 21वीं शताब्दी में एक नया रूप ले रहा है, गाँव में पढाई कैसे हों, संस्कार कैसे हो इस पर दीनदयाल शोध संस्थान रोल मॉडल का काम कर रहा है। भारत को आत्म निर्भर बनाने के लिए जरूरी है गाँव को आत्म-निर्भर बनाना। कोरोना काल में  प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 150 देशों में दवाइयाँ पहुँचाई गई है।  केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा कि आत्म-निर्भर भारत के सपने को साकार करने में दीनदयाल शोध संस्थान देश में एक रोल मॉडल है। आज जल उपलब्धता की दिशा में प्रधानमंत्री के नेतृत्व में जो काम हो रहा है वह आने वाले 50 वर्ष में बढ़ती आबादी के लिये पीने के पानी की आपूर्ति और जल-संरक्षण के क्षेत्र में उल्लेखनीय है। वर्ष 2047 तक हम आजादी का शताब्दी वर्ष एक विकसित भारत के रुप में मनायेंगे।       

Kolar News

Kolar News 10 October 2022

नि:शक्तजन कल्याण आयुक्त संदीप रजक ने बताया कि प्रदेश में पहली बार दिव्यांगजन और गंभीर बीमारियों से पीड़ितों के उपचार के लिये डिंडोरी जिले के बरगाँव में रविवार को तहसील स्तर पर एक दिवसीय शिविर के साथ चलित न्यायालय भी लगाया गया। शिविर में बड़ी संख्या में दिव्यांगजन आये। इनका स्वास्थ्य परीक्षण कर व्हील चेयर, ट्राइसिकिल, श्रवण यंत्र और अन्य कृत्रिम उपकरण प्रदान करने के साथ उनकी समस्याओं का भी समाधान किया गया।   शिविर में चिकित्सा विशेषज्ञों ने विभिन्न बीमारियों से पीड़ित 3 हजार 924 मरीजों का पंजीयन किया। नि:शक्तजन मोबाइल कोर्ट में 550 दिव्यांग मरीज का स्वास्थ्य परीक्षण कर बैसाखी, ट्राइसिकिल और कृत्रिम उपकरण दिये गये। आयुष विभाग, कोविड टीकाकरण, फिजियोथेरेपी, चर्म रोग, हृदय रोग, नेत्र, स्त्री, शिशु, सर्जरी, अस्थि, रेडियोलॉजी, नाक-कान-गला, कैंसर, मनोरोग, पैथॉलॉजी, किडनी, दंत, प्लास्टिक सर्जरी, सिकल सेल आदि रोगों के विषय विशेषज्ञों ने काउंटर लगा कर मरीजों का उपचार और परीक्षण किया। शिविर में कलेक्टर  रत्नाकर झा, पुलिस अधीक्षक संजय सिंह, विद्युत विनियामक आयोग के अध्यक्ष डॉ. भरतशरण सिंह, रेडक्रास सोसायटी के अध्यक्ष डॉ. गगन कोले सहित सामाजिक न्याय विभाग के अधिकारी, जन-प्रतिनिधि और जिला एवं जनपद स्तरीय अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 10 October 2022

चित्रकूट में 9 से 12 अक्टूबर तक ग्रामोदय से राष्ट्र उदय की अवधारणा पर ग्रामोदय मेला आयोजित होगा। मेले में राज्य शासन के कई विभाग सहभागिता कर रहे हैं। भारत रत्न नानाजी देशमुख की जयंती पर होने वाले इस आयोजन में सांस्कृतिक कार्यक्रमों से ओत-प्रोत शरद उत्सव भी होगा। ग्रामोदय मेले में केन्द्रीय मंत्री, प्रदेश सरकार के मंत्रियों के अलावा अन्य राज्यों के मंत्री भी शामिल होंगे। ग्रामोदय मेले का शुभारंभ प्रातः 10 बजे भारत सरकार के शिक्षा, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान करेंगे। ग्रामोदय मेले के लिए तीन अलग-अलग डोम तैयार किये गए है। पहले डोम को नानाजी मंडप नाम दिया गया है जिसमें ‘एक जिला-एक उत्पाद’ पर विशेष प्रदर्शनी होगी। मध्यप्रदेश के सभी जिलों के प्रमुख उत्पादों को उसमें प्रदर्शित किया जाएगा। दूसरे डोम का नाम दीनदयाल मंडप होगा, मध्यप्रदेश एवं उत्तर प्रदेश के सभी विभागों के लिए प्रमुख कार्यक्रम, गतिविधियों, योजनाओं, नीतियों आदि को प्रदर्शित किया जाएगा। तीसरा अब्दुल कलाम मंडप होगा, जिसमें केन्द्र शासन के मंत्रालय/उपक्रम तथा निजी कंपनियों संबंधी प्रदर्शनी होगी। चार दिवसीय मेले में विभिन्न विषयों पर सेमीनार, परिचर्चा, गोष्ठियाँ और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे।   प्रथम दिवस 9 अक्टूबर को मेला परिसर में प्रातः 9:30 से 9:55 बजे तक पूजन कर ग्रामोदय मेला का भव्य शुभारंभ किया जाएगा। प्रातः 10 से 11:45 बजे तक मुख्य पंडाल में ग्रामीण महिलाओं का आर्थिक सशक्तिकरण, जनप्रतिनिधियों सरपंच सम्मेलन, सुजलाम-जल संस्कृति, प्राकृतिक खेती क्रेता-विक्रेता सम्मेलन, जनजातीय समुदाय के पोषण एवं उत्तम स्वास्थ्य में फलों का महत्व, बाल संरक्षण अधिकारों पर जिला पंचायत अध्यक्षों का सम्मेलन और सेमिनार का उद्घाटन किया जाएगा। 11:45 बजे से 12:30 बजे तक जनप्रतिनिधियों (सरपंचों) की सेमिनार, 12 बजे से मंदाकिनी भू-क्षरण रोक के लिए निर्माण कार्य का पंचवटी घाट पर भूमि पूजन, अपरान्ह 2:30 बजे से 5 बजे तक मूल्य सहायता प्राप्त खाद्य उत्पादों के माध्यम से ग्रामीण महिलाओं की क्षमता निर्माण और आर्थिक सशक्तिकरण पर सेमिनार तथा अपरान्ह 2:30 बजे से 5 बजे तक पंचवटी घाट में सुजलाम-जल संस्कृति पर सेमिनार होगा। सायं 7 से 10 बजे रात्रि तक मुख्य पंडाल में सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। इसी दौरान खीर प्रसाद का वितरण भी किया जाएगा।   द्वितीय दिवस 10 अक्टूबर को मेला भ्रमण प्रातः 10 बजे से शाम 7 बजे तक होगा। इसके साथ ही प्रातः 10:30 से 1 बजे तक प्राकृतिक खेती पर विवेकानंद सभागार में सेमिनार, सती अनुसुइया आश्रम में 10:30 बजे से 12:30 बजे तक सुजलाम सेमिनार, मेला पंडाल में 12 बजे से निबंध प्रतियोगिता, मुख्य पंडाल में चित्रकला प्रतियोगिता, गुरुकुल में स्वस्थ पशु प्रतियोगिता, विवेकानंद सभागार में अपरान्ह 2 बजे से 5 बजे तक प्राकृतिक खेती पर सेमिनार और शाम 7 बजे से 10 बजे तक मुख्य पंडाल में सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे।तीसरे दिन 11 अक्टूबर को प्रातः 10 बजे से शाम 7 बजे तक मेला भ्रमण, प्रातः 10:30 से 12:30 बजे तक विवेकानंद सभागार में क्रेता-विक्रेता सम्मेलन, मेला पंडाल में दोपहर 12 बजे से भाषण प्रतियोगिता एवं मुख्य पंडाल में तीसरे दिवस शरद पूर्णिमा को सायं 7 बजे से 10 बजे तक सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे, जिसमें प्रसिद्ध कवि कुमार विश्वास शामिल होंगे।   ग्रामोदय मेले के अंतिम और चौथे दिन 12 अक्टूबर को प्रातः 10 बजे से शाम 7 बजे तक मेला भ्रमण, प्रातः 10 बजे से विवेकानंद सभागार में बाल संरक्षण अधिकार पर जिला पंचायत अध्यक्षों का सम्मेलन और प्रातः 11:30 बजे से जनजातीय समुदाय के उत्तम स्वास्थ्य के लिए फलों की भूमिका पर सेमिनार होगा। मेले का समापन 12 अक्टूबर को शाम 4 बजे होगा।

Kolar News

Kolar News 9 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने 36 वें राष्ट्रीय खेलों में मलखंब में स्वर्ण पदक जीतने पर मध्यप्रदेश की पुरूष टीम को बधाई और शुभकामनाएँ दी हैं।  मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अद्भुत संतुलन, अद्वितीय सामंजस्य और समर्पण से मध्यप्रदेश के खिलाड़ियों ने स्वर्णिम विजय प्राप्त की है। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि मलखंब मध्य प्रदेश का राज्य खेल है। राष्ट्रीय प्रतियोगिता में मध्यप्रदेश की पुरूष टीम ने स्वर्ण पदक जीत कर प्रदेश का नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा कि सभी खूब आगे बढ़ें और ऐसे ही जीतते रहें। देश-दुनिया में इस पारंपरिक खेल को प्रसारित करें। उल्लेखनीय है कि खेलो इंडिया युवा खेलों में सफल पदार्पण के बाद मलखंब को 36 वें राष्ट्रीय खेलों में पहली बार शामिल किया गया है। यह प्रतियोगिता सूरत (गुजरात) में 27 सितम्बर से प्रारंभ हुई और 10 अक्टूबर तक चलेगी।  

Kolar News

Kolar News 9 October 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के क्षेत्रीय अधिकारी श्री विवेक जायसवाल को सड़क मरम्मतीकरण के निर्देश दिए हैं। उन्होंने इंदौर हरदा राजमार्ग पर सड़कों के गड्ढों की मरम्मत तत्परता से करने को कहा है मंत्री पटेल ने कहा है कि सड़कों पर यातायात को सभी के लिए सुरक्षित बनाने के लिए जरूरी है कि सड़के बेहतर हो। मार्ग की मरम्मत कर दुर्घटनाओं से आम व्यक्ति की जान-माल की सुरक्षा के दायित्वों का निर्वहन भली-भांति किया जाना सुनिश्चित करें।  

Kolar News

Kolar News 9 October 2022

कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा इंदौर में आयोजित "एमपी क्राफ्ट-आर्ट फ्रॉम द हार्ट" के समापन अवसर पर आयोजित टॉक-शो में टेक्सटाइल क्षेत्र के दिग्गज और बुनकरों ने एक छत के नीचे बैठकर प्रदेश में खादी, शिल्प और हथकरघा उत्पादों की बेहतरी के लिये संवाद किया। इसमें प्रमुख सचिव कुटीर एवं ग्रामोद्योग श्री मनु श्रीवास्तव, आयुक्त श्रीमती अनुभा श्रीवास्तव सहित अन्य विभागीय अधिकारियों ने दोनों पक्षों को राज्य शासन की नीति, नियमों और सरकार द्वारा उठाये गये कदमों के विषय में विस्तार से बताया।   इस टॉक-शो में रिलायंस ग्रुप के प्रबल सिंह ने कपड़े की गुणवत्ता और कीमत को नियंत्रित करने के संबंध में सुझाव दिये। लालटेन कंपनी के अल्बर्ट ने सप्लाई चैन स्ट्रक्चर को मजबूत बनाये जाने की दिशा में क्या किया जा सकता है, इस संबंध में अपने सुझाव दिये। पंजा दरी के बुनकर  छोटेलाल ने मध्यप्रदेश सरकार द्वारा समय-समय पर व्यापार के लिये उपलब्ध कराये जा रहे मंच के लिये राज्य सरकार का आभार व्यक्त किया। ग्रीन वेयर कम्पनी के अभिषेक पाठक ने खादी उत्पादन में सौर ऊर्जा के उपयोग को लेकर सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि वह इस क्षेत्र में निवेश के इच्छुक हैं। कोटक महिन्द्रा क्षेत्र के रीजनल वाइस प्रेसीडेंट अनुभव दुबे ने हितग्राहियों को बैंकों के माध्यम से ऋण मुहैया कराने में आ रही समस्याओं के समाधान के विषय में बतलाया। टॉक शो में नादना, जरी जरदोजी, बाग प्रिंट के क्षेत्र में काम करने वाले कारिगरों ने भी हिस्सा लिया। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग द्वारा प्रदेश के हथकरघा एवं हस्तशिल्प को बढ़ावा देने के लिये बुनकरों, कारीगरों को एक नया प्लेटफार्म उपलब्ध कराने के उद्देश्य से इंदौर के शेरेटन ग्रैंड पैलेस होटल में 6 से 8 अक्टूबर तक "एमपी क्राफ्ट-आर्ट फ्रॉम द हार्ट" का आयोजन किया गया था।  

Kolar News

Kolar News 9 October 2022

आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय अभय वर्मा ने सीएम राइज स्कूलों में विज्ञान प्रशिक्षण हेतु 4 दिवसीय आवासीय कार्यशाला का सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय में शुभारंभ किया। यह प्रशिक्षण 21वीं सदी के कौशलों पर आधारित विज्ञान शिक्षण के संदर्भ में आयोजित किया जा रहा है जिसमें विज्ञान की नवीनतम एवम आधुनिक शिक्षण पद्धतियों जैसे कि परियोजना आधारित शिक्षण (प्रोजेक्ट बेस्ड लर्निंग), गतिविधि आधारित शिक्षण (एक्टिविटी बेस्ड लर्निंग), स्टीम (STEAM) आधारित शिक्षण एवं प्रयोगात्मक विज्ञान शिक्षण पर शिक्षकों को हैंड्स ऑन ट्रेनिंग दी जाएगी।   प्रशिक्षण में प्रत्येक संभाग से मास्टर ट्रेनर्स का चयन किया गया है, जो भोपाल से प्राप्त प्रशिक्षण के अनुरूप अपने अपने संभाग के बाकी शिक्षकों को प्रशिक्षण देंगे। साथ ही मास्टर ट्रेनर्स को एक्सपोजर विजिट के लिए आंचलिक विज्ञान केंद्र एवं रीजनल म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री में भी भेजा जाएगा ताकि वे विज्ञान विषय की आधुनिकतम जानकारियों से परिचित हो सकें। प्रशिक्षण में अनुभवात्मक विज्ञान प्रशिक्षण एवं शिक्षक हैंडबुक के निर्माण हेतु पिरामल फाउन्डेशन मध्यप्रदेश का सहयोग लिया गया है। कार्यशाला में अपर संचालक  डी.एस. कुशवाहा, राज्य स्त्रोत समूह सदस्य श्री अतुल विनायक, विकास जोशी, सुधाकर पाराशर जी, रंजन शर्मा शामिल हुए।

Kolar News

Kolar News 8 October 2022

वन मंत्री डॉ. कुँवर विजय शाह ने कहा है कि वन विभाग के सभी नेशनल पार्क में प्लास्टिक बोतल और थैलियों पर एक जनवरी 2023 से प्रतिबंध लगाया जायेगा। डॉ. शाह आज राष्ट्रीय वन विहार उद्यान की विहार वीथिका में वन्य-प्राणी सप्ताह के समापन समारोह में संबोधित कर रहे थे। मंत्री डॉ. शाह ने कहा कि सभी नेशनल पार्क में वाटर एटीएम लगाये जायेंगे, जिनसे पर्यटकों को कम कीमत पर पानी मिलेगा। साथ ही पार्क में खाद्य सामग्री आदि की थैलियाँ ले जाने पर प्रतिबंध लगाया जायेगा, जिससे पर्यावरण-संरक्षण को बल मिलेगा।   वन मंत्री डॉ. शाह ने कहा कि देश में विलुप्त हो रहे चीतों के पुनर्स्थापन को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान के सार्थक प्रयासों से 72 साल बाद चीता के रूप में प्रदेश को नायाब तोहफा मिल सका है। उन्होंने कहा कि वन विभाग अफ्रीका से आये चीतों के संरक्षण और सुरक्षा के प्रति सतत रूप से निगरानी रख रहा है। उन्होंने कहा कि भोपाल के आसपास टाइगर मूवमेंट को देखते हुए इस क्षेत्र को अभयारण्य बनाने पर विचार किया जा सकता है। इसके लिये जन-प्रतिनिधियों, वन्य-प्रेमी और बुद्धिजीवी वर्ग को आगे आना चाहिये। वन मंत्री डॉ. शाह ने कहा कि प्रदेश में अफ्रीका से चीता आने के बाद अब जेब्रा और जिराफ को भी 26 जनवरी, 2023 के पहले वन विहार राष्ट्रीय उद्यान भोपाल में लाने के प्रयास किये जा रहे हैं।       वन मंत्री डॉ. शाह ने घोषणा की कि राज्य स्तरीय वन्य-प्राणी सप्ताह में हुई विभिन्न प्रतियोगिताओं के 75 विजेता और उप विजेता प्रतिभागियों को नेशनल पार्क बाँधवगढ़, पेंच टाइगर रिजर्व, पन्ना टाइगर रिजर्व और कान्हा टाइगर रिजर्व में वन्य-प्राणियों का अवलोकन कराने विभाग द्वारा नि:शुल्क व्यवस्था की जायेगी। वन मंत्री ने फोटोग्राफी-प्रदर्शनी, चित्रकला, रंगोली, विद्यालयीन एवं महाविद्यालयीन वाद-विवाद, मेहंदी, पॉम पेंटिंग, फैंसी ड्रेस, फेस पेंटिंग और शिक्षक वाद-विवाद प्रतियोगिता के प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पर आये विजेताओं को पुरस्कृत किया। वन-रक्षकों द्वारा किये गये वन प्रबंधन के उत्कृष्ट कार्य पर केन्द्रित श्रेष्ठ दो लघु फिल्में प्रदर्शित की गई। वन मंत्री ने फिल्मकार और वन-रक्षक आकाश साहू और  संजय नामदेव को पुरस्कृत किया।     वन मंत्री डॉ. शाह ने वन विहार के वन्य-प्राणी राजू की नजर से बुकलेट, मध्यप्रदेश राज्य जैव-विविधता बोर्ड द्वारा आयोजित “मध्यप्रदेश राज्य जैव-विविधता क्विज-2022’’ का पोस्टर जैव-विविधता बोर्ड एवं विश्व प्रकृति निधि भारत द्वारा संयुक्त रूप से प्रकाशित ‘ड्रेगन फ्लाई’ पर केन्द्रित पुस्तक एवं डॉ. ए.बी. श्रीवास्तव की पुस्तक “जंगली बिल्लियों के पोस्टमार्टम हेतु मेन्युअल’’ और मध्यप्रदेश वनांचल संदेश की त्रैमासिक पत्रिका का विमोचन किया। वन मंत्री ने वन्य-प्राणियों के संरक्षण, संवर्धन और सुरक्षा के लिये सभी को शपथ भी दिलाई। वन विहार संचालक  पद्म प्रिया बालकृष्णन ने वन्य-प्राणी सप्ताह में हुए विभिन्न कार्यक्रम और प्रतियोगिताओं का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। प्रमुख सचिव वन अशोक वर्णवाल सहित अधिकारी-कर्मचारी, प्रतिभागी एवं पर्यटक उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 8 October 2022

11 अक्टूबर का दिन मध्यप्रदेश के इतिहास में ऐतिहासिक होने जा रहा है। इस दिन प्राचीन काल-गणना नगरी उज्जयनी सहित प्रदेश के सभी मंदिरों और धार्मिक स्थलों पर दीपोत्सव मनाया जाएगा। यह अवसर होगा, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा महाकाल की नगरी उज्जैन में नव-निर्मित श्री महाकाल लोक का लोकार्पण। शिव लीलाओं की अदभुत छटा के साथ विकसित किया गया श्री महाकाल लोक न केवल प्रदेशवासियों वरन पूरे भारत के श्रद्धालुओं के लिये आकर्षण का केन्द्र बनेगा। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की विशेष रूचि ने उज्जैन नगरी को श्रद्धालुओं के लिये ऐसा विकसित कर दिया है कि पर्यटक एवं श्रद्धालु स्वयं ही खिंचे चले आयेंगे। यहाँ पौराणिक कथाओं पर केन्द्रित शिव लीलाओं के साथ ऐसी अधो-संरचनाएँ निर्मित की गई हैं, जिन्हें देख कर लोगों को पृथ्वी पर शिव लोक के दर्शन होंगे।     महाकाल लोक के लोकार्पण समारोह को सुखद और आनंदित बनाने के लिये सभी आवश्यक तैयारियाँ पूर्ण की जा चुकी हैं। मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि  महाकाल लोक का लोकार्पण अद्भुत समारोह होगा, इसमें जन-जन को जोड़ने के लिये प्रयास किये जा रहे हैं। पिछले कई दिनों से मुख्यमंत्री  चौहान स्वयं प्रदेशवासियों को विभिन्न संचार माध्यमों से समारोह में आमंत्रित कर रहे हैं। साथ ही उनके द्वारा यह आहवान भी किया जा रहा है कि प्रदेश के सभी मंदिरों में 11 अक्टूबर को दीप जला कर भजन-कीर्तन किये जाये। यहाँ उज्जैन के मुख्य कार्यक्रम का लाइव प्रसारण करने की व्यवस्था भी की जाएगी, जिससे क्षेत्रवासी समारोह का आनंद उठा कर साक्षी बन सकें। मुख्यमंत्री श्री चौहान का मानना है कि समारोह जरूर उज्जैन में हो रहा है, लेकिन इसकी छटा पूरे प्रदेश में बिखरे और दिखे। मुख्यमंत्री की इस मंशा को पूरा करने सभी जिलों में स्थानीय प्रशासन द्वारा जन-भागीदारी से लोकार्पण समारोह की तैयारियाँ की जा रही हैं। प्रदेश के देव स्थानों में दीपमालाएँ जला कर रोशनी की जाएगी। सभी जिलों के बड़े शिव मंदिरों में 10 एवं 11 अक्टूबर को 2 दिन अभिषेक-पूजन आदि होंगे और मंदिरों में रोशनी की जायेगी। महाकाल लोक की अवधारणा वर्ष 2017 में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के मन में आई थी। इस पर विभिन्न सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाओं, संतों और विषय-विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श कर योजना तैयार की गई थी जिस पर गंभीरता से अमल करते हुए योजना का प्रथम चरण पूर्ण किया जा चुका है। " महाकाल लोक" के लोकार्पण के अलावा प्रधानमंत्री श्री मोदी उज्जैन में एक विशाल धर्म सभा को भी संबोधित करेंगे।  

Kolar News

Kolar News 8 October 2022

प्रदेश में हथकरघा एवं हस्तशिल्प को बढ़ावा देने और बुनकर एवं कारीगरों को एक नया प्लेटफार्म उपलब्ध कराने एमपी "क्रॉफ्ट्स- ऑर्ट फ्रॉम द हार्ट" का आयोजन 6 से 8 अक्टूबर तक इन्दौर में किया जा रहा है। आयुक्त हाथकरघा एवं हस्तशिल्प श्रीमती अनुभा श्रीवास्तव ने बताया की इंदौर के होटल शेरेटन ग्रैंड पैलेस में होने वाले कार्यक्रम में एक्सीवशन क्रॉफ्ट टॉक एवं फैशन शौ भी होगा। इसमें डिजाइनर्स द्वारा हाथकरघा फ्रैबिक्स से तैयार किए गए परिधानों का प्रदर्शन किया जाएगा। "एम.पी.क्राफ्ट- आर्ट फ्राम द हार्ट" में प्रदेश के तीन प्रमुख डिजाइनर आयुषी अग्रवाल के केलक्शन “गुठली”, श्रृष्टि मिश्रा के कलेक्शन “मिशिको और फरहा सय्यद का कलेक्शन “रूह“ शामिल है। ये सभी डिजाइनर अपने कलेक्शन से मध्यप्रदेश की गौरवशाली विरासत, विविधता और प्रासंगिकता को प्रस्तुत करेंगे।   तीन दिन तक चलने वाले "एमपी क्रॉफ्ट्स-ऑर्ट फ्रॉम द हार्ट" में प्रदेश के अलग-अलग जिलों के हस्तशिल्प एवं हाथकरघा कारीगार शामिल होंगे। चंदेरी, पंजा दरी, बाग प्रिंट, बटिक प्रिंट, ज़री, ज़रदोज़ी एवं जूट, महेश्वरी वस्त्र, कार्पेट, कॉटन वस्त्र, तारापुर, नांदना, खादी और जनजातीय आभूषण सहित विभाग के उत्कृष्ट उत्पादों के कुल 18 स्टॉल लगाए गये है। "एमपी क्रॉफ्ट्स-ऑर्ट फ्रॉम द हार्ट" में 8 अक्टूबर को क्रॉफ्ट टॉक का कार्यक्रम होगा। रिलायंस, अजिओं, लालटेन, ग्रीन्वेयर जैसे टेक्सटाइल क्षेत्र के ब्रांड विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक कर अपने ‍विचार साझा करेंगे। क्रॉफ्ट टॉक सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे तक होगी।

Kolar News

Kolar News 7 October 2022

संचालक पशुपालन एवं डेयरी डॉ. आर.के मेहिया ने बताया कि पिछले दो माह में प्रदेश के कुल 17 हजार 553 पशु लम्पी चर्म रोग की चपेट में आये हैं। इनमें से 15 हजार 73 यानी 86 प्रतिशत इस बीमारी से स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में 2480 सक्रिय केसेस हैं, जिनका नियमित एवं निरंतर उपचार जारी है। लम्पी चर्म रोग का प्रकोप प्रदेश में जुलाई के अंतिम सप्ताह में शुरू हुआ था। प्रदेश के 14 जिलों में अभी तक इस रोग की पुष्टि प्रयोगशाला में हुई है। पड़ौसी राज्यों में लम्पी के फैलने के बाद ही ऐहतियातन पशुपालन विभाग ने स्थानीय प्रशासन की मदद से सतर्कता बढ़ा दी थी। इसीलिये पशु संख्या के मुकाबले मध्यप्रदेश में लम्पी पीड़ित पशुओं की संख्या काफी कम है। प्रदेश में एक करोड़ 87 लाख गौवंश और लगभग एक करोड़ भैंस वंशीय पशु हैं।   विभाग द्वारा अब तक कुल 11 लाख 25 हजार पशुओं का टीकाकरण किया जा चुका है। साथ ही बीमार पशुओं का सतत उपचार किया जा रहा है, जिससे विगत 10 दिनों से प्रभावित पशुओं की संख्या एवं पशुओं की मृत्यु दर में कमी आई है। विगत एक सप्ताह से किसी नये जिले से पशुओं में बीमारी की कोई भी सूचना प्राप्त नहीं हुई है। लम्पी स्किन बीमारी की रोकथाम के लिये 23 लाख डोज टीका द्रव्य वर्तमान में उपलब्ध है। जिलों द्वारा प्रभावित क्षेत्रों में टीकाकरण एवं उपचार कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। विभाग द्वारा बीमारी की रोकथाम के लिये प्रतिदिन मॉनीटरिंग की जा रही है। जिलों से प्राप्त जानकारी अनुसार बीमारी का प्रकोप विगत 10 दिन से कम होता नजर आ रहा है और पशुओं में होने वाले इस रोग की स्थिति नियंत्रण में है।  

Kolar News

Kolar News 7 October 2022

राष्ट्रीय वन विहार उद्यान भोपाल की विहार वीथिका में राज्य स्तरीय वन्य-प्राणी सप्ताह के 5वें दिन वन्य-प्राणी थीम पर खुला वर्ग के लिए मेंहदी एवं पाम पेंटिंग प्रतियोगिता हुई। इसमें 156 प्रतिभागियों ने भागीदारी की। "गिद्धों का संरक्षण भी बाघ संरक्षण के समान महत्वपूर्ण" विषय पर शिक्षिकों की वाद-विवाद प्रतियोगिता में 15 प्रतिभागियों ने पक्ष-विपक्ष में आकर्षण रूप से तर्क रखे। गिद्धों का संरक्षण निहायत जरूरी है, के पक्ष में ज्यादा असरदार तरीके से तर्क प्रस्तुत किये गए। वन्य-प्राणी सप्ताह में बुधवार को सुबह एक्सीलेंस और ट्रूबा कॉलेज के 34 छात्र-छात्राओं ने पक्षी दर्शन और जैव-विविधता शिविर में हिस्सा लिया। विभिन्न प्रजाति के मिले पक्षियों की विशेषताओं के बारे में पक्षी विशेषज्ञ डॉ. सुदेश वाघमारे, डॉ. सुरेन्द्र तिवारी, डॉ. संगीता राजगीर और मो. खालिक ने महत्वपूर्ण जानकारियाँ दी। वन विहार उद्यान परिक्षेत्र में रोजाना की तरह सुबह 6 बजे पक्षी अवलोकन एवं जैव-विविधता शिविर होगा। सुबह 11 से दोपहर 2 बजे तक विद्यालयीन छात्र-छात्राओं की जागरूकता विषय पर कार्यशाला होगी। इसमें विषय-विशेषज्ञों द्वारा क्ले मॉडलिंग और पेपर क्रॉफ्ट निर्माण की विधि समझाई जायेगी।  

Kolar News

Kolar News 6 October 2022

राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि समाज के वंचित और पिछड़े वर्ग की सेवा में ही ईश्वर की आराधना है। उन्होंने कहा कि सृष्टि में मानव की रचना दूसरों की मदद और सहयोग के लिए ही की गई है। यही कारण है कि मानव ही ऐसा जीव है, जिसे बुद्धि और वाणी जैसी अद्भुत शक्तियाँ मिली हैं। राज्यपाल पटेल आज नागरिक कल्याण समिति द्वारा तात्याटोपे नगर में विजयादशमी समारोह को संबोधित कर रहे थे। चिकित्सा शिक्षा मंत्री  विश्वास सारंग, महापौर  मालती राय, विधायक पूर्व मंत्री  पी. सी. शर्मा, नगर निगम के अध्यक्ष  किशन सूर्यवंशी, पार्षद, जन-प्रतिनिधि एवं बड़ी संख्या में नागरिक मौजूद थे। उन्होंने कहा कि विजयादशमी का पर्व अनीति पर नीति की विजय का पर्व है। इसीलिए प्रभु श्रीराम ने रावण का उसकी गलत नीतियों के कारण संहार किया।    राज्यपाल ने कहा कि नवरात्रों में नौ दिन देवी की अराधना के बाद विजयादशमी का पर्व नकारात्मकता को समाप्त कर, समाज में सकारात्मकता के प्रसार का पर्व है। उन्होंने नागरिकों का आहवान किया कि सकारात्मकता का सहयोग करें। देश और प्रदेश के विकास में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दें। राज्यपाल पटेल ने भगवान श्रीराम, लक्ष्मण एवं भगवन हनुमान जी का तिलक लगा कर आरती की। उन्होंने नागरिक कल्याण समिति की ओर से नगर के कला, साहित्य, संस्कृति और समाज में रचनात्मक योगदान देने वाली प्रतिभाओं कैलाश चन्द्र पन्त,  शरद दिवेदी,  कुमकुम गुप्ता, आशा खरे, श्री भगवान सिंह और समिति के सदस्य स्व. राजेश वर्मा को मरणोपरांत नागरिक सम्मान उनकी पत्नी को प्रदान किया। प्रारंभ में समिति की ओर से अतिथियों का स्वागत किया गया। समिति के सचिव मनीष ब्यौहार ने समिति की गतिविधियों की जानकारी देते हुए बताया कि संस्था की स्थापना वर्ष 1960 में की गई थी। वर्तमान आयोजन 63वां समारोह है। स्वागत उद्बोधन  सोनू भाभा ने दिया। अतिथियों द्वारा समिति की स्मारिका का विमोचन किया गया।

Kolar News

Kolar News 6 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने स्व. प्यारेलाल जी खंडेलवाल की पुण्य-तिथि पर उन्हें नमन किया। मुख्यमंत्री  चौहान ने निवास कार्यालय स्थित सभागार में उनके चित्र पर माल्यार्पण किया। स्व.  खण्डेलवाल का जन्म 6 अप्रैल, 1929 को ग्राम चारमंडली ज़िला सीहोर में हुआ था। उन्होंने इन्दौर में क्रांतिकारियों और देश भक्तों के समूह, प्रजा मंडल द्वारा प्रकाशित गुप्त पर्चों का वितरण किया तथा माहेश्वरी विद्यालय इंदौर में विद्यार्थी आन्दोलन को अपना प्रखर नेतृत्व प्रदान किया। वन्दे-मातरम का नारा लगाने पर कठोर यातना और बेतों की सजा मिलने के बावजूद भी प्यारेलाल जी 'भारत माता' की आराधना में निरंतर समर्पित रहे। देश स्वतंत्र होने के बाद स्वतंत्र भारत की राजनीति को दिशा देने में भी  खंडेलवाल का महत्वपूर्ण योगदान रहा। उनका अवसान 6 अक्टूबर 2009 को हुआ।  

Kolar News

Kolar News 6 October 2022

क्रिस्प द्वारा माटी कला से जुड़े शिल्पकार और कारीगरों को कौशल विकास प्रशिक्षण दिया गया। इस 15 दिवसीय रहवासी प्रशिक्षण में 30 प्रशिक्षणार्थियों को माटी कला के हुनर सिखाये गये। प्रशिक्षण के लिये सीहोर, देवास, भोपाल, राजगढ़ और सतना जिले से शिल्पकार और कारीगरों का चयन किया गया। प्रशिक्षण के दौरान शिल्पकारों को नई तकनीक जैसे स्लिप कास्टिंग, इलेक्ट्रिक चाक व्हील पर कार्य करने के साथ इलाकई मिट्टी पर नए-नए प्रयोग करना सिखाया गया। इसमें हांडी, ग्लास, कटोरी, लैप शेड, कछुआ, टेराकोटा ज्वेलरी आदि निर्माण के गुर बताये गये।   क्रिस्प के मुख्य विपणन अधिकारी राजेश माहेश्वरी ने बताया कि प्रशिक्षण का समापन भोपाल हाट में राष्ट्रीय खादी उत्सव एवं राज्य स्तरीय प्रदर्शनी में हुआ। मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम में पहुँचकर प्रशिक्षणार्थियों को इलेक्ट्रिक चाक व्हील का वितरण किया। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिक चाक से आप सभी को वोकल फॉर लोकल को और आगे बढ़ाते हुए अपने लोकल उत्पादों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर तक लेकर जाना है। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रशिक्षणार्थियों को शुभकामनाएँ दी एवं उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।  

Kolar News

Kolar News 5 October 2022

राज्य स्तरीय वन्य-प्राणी सप्ताह के तीसरे दिन राष्ट्रीय वन विहार राष्ट्रीय उद्यान भोपाल की विहार वीथिका में पक्षी अवलोकन और जैव-विविधता शिविर में संत हिरदाराम और सैफिया कॉलेज के 80 प्रतिभागियों ने शिरकत कर विभिन्न प्रजाति के पक्षियों को रू-ब-रू देखा। तीसरे दिन सोमवार को ‘वन विहार’ विषय पर हुई फोटोग्राफी प्रतियोगिता में 75 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। इन प्रतिभागियों ने सॉफ्ट कॉपी के रूप में अपने फोटोग्राफ्स जमा किये। म.प्र. में पाये जाने वाले मांसाहारी वन्य-प्राणी विषय और म.प्र. में पाई जाने वाली तितलियाँ विषय पर हुई रंगोली प्रतियोगिता में 99 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इसके अलावा ‘मानव एवं वन्य-प्राणियों का सह अस्तित्व संभव’ विषय पर हुई विद्यालयीन वाद-विवाद प्रतियोगिता में 24 प्रतिभागियों ने भाग लिया। मंगलवार को सुबह 6 बजे पक्षी अवलोकन एवं जैव-विविधता शिविर, सुबह 11 बजे से ‘विकास ही पर्यावरण असंतुलन का कारण है’ विषय पर विश्व प्रकृति निधि भारत के सहयोग से महाविद्यालयीन वाद-विवाद प्रतियोगिता आयोजित होगी।

Kolar News

Kolar News 4 October 2022

राज्यपाल  मंगुभाई पटेल ने कहा है कि लाल कोठी के धरोहर स्वरूप का संरक्षण जीर्णोद्धार कार्य का आधार होना चाहिए। यह अनिवार्यत: सुनिश्चित किया जाए कि भवन का स्वरूप लाल कोठी के अनुरूप हो। राज्यपाल  पटेल आज राजभवन में लोक निर्माण विभाग के तकनीकी अधिकारियों के साथ चर्चा कर रहे थे। राज्यपाल के प्रमुख सचिव डी.पी. आहूजा, प्रमुख अभियंता लोक निर्माण  नरेन्द्र कुमार, मुख्य अभियंता  संजय मस्के एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे।   राज्यपाल  मंगुभाई पटेल ने कहा कि निर्माण कार्य की गुणवत्ता को सुनिश्चित किया जाए। यह भी जरूरी है कि कार्य समय पर पूरा हो। उन्होंने कहा कि कार्य की गुणवत्ता और समय- सीमा के लिए निर्माण के दौरान निरंतर निगरानी भी जरूरी है। बताया गया कि लाल कोठी का निर्माण वर्ष 1904 में किया गया था। राजभवन के पीछे 24 क्वार्टर के सामने कंपाउंड वॉल का निर्माण किया जाना आवश्यक है। राजभवन के मुख्य भवन, राजेन्द्र कॉटेज, जवाहर खंड और नर्मदा डाइनिंग हॉल की छत का जीर्णोद्धार भी जरूरी है।  

Kolar News

Kolar News 4 October 2022

ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने ग्वालियर के फूलबाग से सेवानगर, लक्ष्मण तलैया एवं विनय नगर में सड़क के निर्माण कार्य का निरीक्षण किया। उन्होंने मौके पर ही संबंधित अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये कि सड़क एवं सीवर सहित अन्य विकास कार्य तय समय-सीमा में करायें। विकास कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। तोमर ने निर्देशित किया कि विकास कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।   ऊर्जा मंत्री  तोमर ने जीडीए भवन के सामने सड़क के निर्माण कार्य का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान पाया कि सड़क पर पानी भरे होने से आमजन को निकलने में काफी परेशानी हो रही थी। इस पर संबंधित अधिकारी के खिलाफ नाराजगी व्यक्त की तथा स्पष्ट निर्देश दिये कि इस रोड का कार्य 10 दिन में पूरा कर लिया जाए। साथ ही सड़क निर्माण में बाधा बन रहे पोल को समय-सीमा में शिफ्ट करने के लिये निर्देशित किया। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने लक्ष्मण तलैया रोड के निरीक्षण के दौरान नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि इस रोड पर सीवर लाइन डाले हुए काफी समय हो गया है, परंतु आज तक इसके संधारण का कार्य नहीं किया गया। संबंधित अधिकारियों एवं ठेकेदार को निर्देशित किया कि कल से ही रोड के निर्माण कार्य चालू हो जाए।

Kolar News

Kolar News 4 October 2022

राज्य स्तरीय वन्य-प्राणी सप्ताह के दूसरे दिन रविवार को राष्ट्रीय वन विहार उद्यान में प्रतिभागियों को पक्षी अवलोकन एवं जैव विविधता शिविर में विभिन्न प्रजाति के पक्षियों से रू-ब-रू कराया गया। यूथ हॉस्टल, इंटर नेशनल पब्लिक स्कूल और पक्षी-पर्यावरण में रूचि रखने वाले 135 प्रतिभागियों ने 17 प्रजाति के पक्षी देख कर आनंदित हो उठे। इनमें प्रमुख रूप से गोल्डन ओरिओल, दूधराज, इग्रेट, मेग पाई राबिन, ब्रोंज विंग, जकाना, किंगफिशर, ग्रीन बी ईटर, टिटहरी और पोंड मुनिया प्रजाति के पक्षी शामिल हैं। साथ ही तितलियों में ग्रे पेनसी, कॉमन ईवनिंग ब्राउन, प्लेन टाइगर, कॉमन ग्रास यलो, ब्लू टाइगर, कमीसन रोज आदि को देख कर प्रतिभागियों ने देखा।   प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य प्राणी)  जे.एस. चौहान, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य प्राणी) सत्यानंद और वन विहार संचालक पदम प्रिया बाला कृष्णन की मौजूदगी में चीता दौड़ के प्रतिभागियों को झण्ड़ी दिखा कर रवाना किया। वन विहार के गेट क्र.-2 से सुबह 7 बजे प्रारंभ हुई चीता दौड़ भदभदा, डिपो चौराहा, समार्ट सिटी तिराहा, जनजाति संग्रहालय, मानव संग्रहालय, बोट क्लब से होते हुए गेट क्र.-1 पर समाप्त हुई। चीता दौड़ में 20 विजेता महिला-पुरूष प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र, टी-शर्ट और कैप दिए गए। यूथ हॉस्टल लेक सिटी यूनिट द्वारा वन्य-प्राणी अंगीकरण योजना में एक मगर को एक सप्ताह के लिए गोद भी लिया गया।     सोमवार को सुबह 6 से 8:30 बजे तक पक्षी अवलोकन एवं जैव विविधता शिविर, सुबह 7 से 11 बजे तक कनिष्ठ वर्ग (कक्षा 6वीं से 12वीं तक) के लिए "वन विहार" विषय पर फोटोग्राफी प्रतियोगिता, सुबह 9 से 11 बजे तक कक्षा 5वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए "म.प्र. में पाई जाने वाली तितलियाँ" विषय पर, खुला वर्ग के लिए "म.प्र. में पाए जाने वाले माँसाहारी वन्य-प्राणी" विषय पर रंगोली प्रतियोगिता और "मानव एवं वन्य प्राणियों का सह-अस्तित्व संभव" विषय पर विद्यालयीन वाद-विवाद प्रतियोगिता होगी।

Kolar News

Kolar News 3 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इस मानसून में अधिक वर्षा के कारण जहाँ शहरी क्षेत्र में व्यवस्थाएँ प्रभावित हुईं, वहीं ग्रामीण अंचलों में किसान वर्ग को अतिवृष्टि के कारण बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। संकट की इस घड़ी में राज्य सरकार ने सहायता पहुँचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। मुख्यमंत्री चौहान ने बाढ़ एवं अतिवृष्टि से प्रभावित रहे प्रदेश के 19 जिलों विदिशा, सागर, गुना, रायसेन, दमोह, हरदा, मुरैना, आगर-मालवा, बालाघाट, भोपाल, अशोकनगर, सीहोर, नर्मदापुरम, श्योपुर, छिंदवाड़ा, भिंड, राजगढ़, बैतूल और सिवनी जिले के प्रभावित किसानों के खातों में 202 करोड़ 64 लाख रुपये की सहायता राशि सिंगल क्लिक से अंतरित की। अतिवृष्टि एवं बाढ़ प्रभावित जिलों का प्रभावित रकबा लगभग 2 लाख 2 हजार 488 हेक्टेयर है। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। प्रभावित 19 जिलों के कलेक्टर्स और किसान वर्चुअली शामिल हुए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि संकट के समय प्रभावित व्यक्तियों को सहायता पहुँचाने, आम जनता को तकलीफ की स्थिति में जरूरी सहयोग देने के लिए राज्य सरकार तत्पर है। बाढ़ और अतिवृष्टि के समय आवश्यक आपदा प्रबंधन किया गया। संकट के समय प्रशासन के साथ जन-प्रतिनिधि भी सक्रिय रहे।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कुछ जिले अतिवृष्टि से प्रभावित रहे। राज्य सरकार ने ऐसी स्थिति में सभी जरूरी व्यवस्थाएँ कर यह सुनिश्चित किया कि जहाँ अतिवृष्टि से किसी की जान न जाए, वहीं किसी को अन्य परेशानियों का भी सामना नहीं करना पड़े। जहाँ बाढ़ की स्थिति थी, वहाँ से लोगों को रेस्क्यू कर राहत शिविरों और सुरक्षित स्थानों तक पहुँचाया गया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बाढ़ का पानी उतरने के बाद ग्रामों में जमा मलबा साफ करवाने, शुद्ध पेयजल की व्यवस्था करने और अब किसानों को हुई क्षति पर सहायता राशि पहुँचाने का कार्य किया गया। फसलों की क्षति का सर्वे करवा कर ग्राम पंचायत में सूची भी प्रदर्शित की गई थी। मकानों के क्षतिग्रस्त होने और घरेलू सामग्री के नुकसान और पशु हानि के लिए पहले 43 करोड़ 87 लाख रूपए की राशि वितरित की चुकी है। आज 1 लाख 91 हजार 755 कृषकों के खाते में सहायता राशि अंतरित की गई है। पारदर्शी तरीके से हितग्राहियों के बैंक खातों में पैसा जमा किया गया है। इसके पहले राजस्व, कृषि, उद्यानिकी और पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों के संयुक्त दल ने सर्वे कार्य किया था।       मुख्यमंत्री  चौहान ने प्रभावित किसानों को राहत राशि का अंतरण कर कुछ हितग्राहियों से चर्चा भी की। इनमें विदिशा जिले के  मनमोहन सिंह दांगी, सागर के संजीव विश्वकर्मा और गुना जिले के रंगलाल शामिल हैं। हितग्राहियों ने बताया कि सर्वे कार्य के संबंध में सहायता राशि की मंजूरी के लिए चक्कर नहीं लगाने पड़े। सर्वे का कार्य ईमानदारी के साथ समय पर पूरा किया गया। राशि अंतरण कार्यक्रम से वर्चुअली जुड़े राजस्व मंत्री  गोविंद सिंह राजपूत ने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान किसानों की पीड़ा समझते हैं। वे गरीबों के लिए सदैव ढाल बन कर खड़े रहे हैं। इस मानसून में प्रदेश में 23 औसत वर्षा हुई है। प्रदेश के तीन जिले अत्यधिक वर्षा और 26 जिले अधिक वर्षा की श्रेणी में हैं। मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में प्रभावित परिवारों को राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधान के अनुसार बिना देर किए जरूरी सहायता देने का कार्य हुआ है।

Kolar News

Kolar News 3 October 2022

मध्यप्रदेश के बुरहानपुर को स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2022  पुरस्कार समारोह में हर घर जल प्रमाणित जिला घोषित करने के लिए सम्मानित किया गया। बुरहानपुर में सभी गाँव ने ग्राम सभाएँ आयोजित कर सत्यापित किया कि उनके सभी घरों, शालाओं और आँगनवाड़ियों में सुरक्षित पीने का पानी सही मात्रा में नियमित रूप से मिल रहा है। स्वच्छ भारत दिवस के अवसर पर विज्ञान भवन में एक कार्यक्रम में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने ये पुरस्कार प्रदान किया। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अपर मुख्य सचिव  मलय श्रीवास्तव और बुरहानपुर कलेक्टर  प्रवीण सिंह ने पुरस्कार ग्रहण किये। केन्द्रीय ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री श्री गिरिराज सिंह, जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, जल शक्ति राज्य मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल और बिश्वेश्वर टुडु उपस्थित थे।   स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2022 में पश्चिम जोन में उत्कृष्ट कार्य करने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश को प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है। पुरस्कार पंचायत एवं ग्रामीण विकास के प्रमुख सचिव उमाकांत उमराव ने ग्रहण किया। साथ ही उत्कृष्ट कार्य करने वाले जिलों में भोपाल को प्रथम एवं इंदौर को तृतीय पुरस्कार प्राप्त हुआ है। सुजलम 1.0 अभियान में श्रेष्ठ कार्य के लिये मध्यप्रदेश को प्रथम और सुजलम 2.0 अभियान में चतुर्थ पुरस्कार प्राप्त हुआ है। ये पुरस्कार केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने प्रदान किये।

Kolar News

Kolar News 2 October 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गांधी दर्शन आज भी संपूर्ण विश्व में सर्वाधिक प्रासंगिक है। संपूर्ण विश्व यह कहता भी है और मानता भी है। विश्व में शांति के प्रकाश के दर्शन के लिए गांधी जी आज भी प्रकाश स्तंभ का कार्य कर रहे हैं। यह विचारणीय है कि हम गांधी जी को मानते हैं पर गांधी जी की बातों को नहीं मानते। यदि हम उनकी छोटी-छोटी बातों का अनुसरण करें, उन्हें आचरण, विचार और व्यवहार में लाएँ तो चमत्कार हो सकता है। मुख्यमंत्री चौहान गांधी जयंती पर रवीन्द्र भवन में राष्ट्रीय महात्मा गांधी सम्मान अलंकरण समारोह को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने ग्रामीण विकास विज्ञान समिति जोधपुर के श्री रोशन लाल तथा श्री वरूण शर्मा को वर्ष 2021 का राष्ट्रीय महात्मा गांधी सम्मान प्रदान किया। सम्मान में समिति को 10 लाख रूपए की सम्मान निधि, शाल, श्रीफल और प्रशस्ति- पत्र भेंट किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीप प्रज्ज्वलित करने के बाद राष्ट्रपिता महात्मा गांधी तथा पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री के चित्र पर माल्यार्पण किया। मुख्यमंत्री ने धर्मपाल शोधपीठ द्वारा प्रकाशित “गांधी के बाद विश्व में गांधीवाद” पुस्तक का लोकार्पण भी किया।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि महात्मा गांधी की स्वच्छता, नशे से दूरी, माँ- बहन -बेटी का सम्मान और प्रतिदिन पेड़ लगाने जैसी बातों का निरंतर अनुसरण कर हम अपने देश, प्रदेश और समाज में बदलाव ला सकते हैं। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में स्वच्छता, जन-आंदोलन बना है। प्रधानमंत्री मोदी शांति के लिए भी विश्व स्तर पर प्रयासरत हैं। मध्यप्रदेश को स्वच्छता के क्षेत्र में देश में सर्वाधिक पुरस्कार प्राप्त हुए हैं। यह गांधी जी के दर्शन को व्यवहार में लाने का प्रयास है। हममें से प्रत्येक व्यक्ति गांधी जी के संदेशों में से किसी एक संदेश को मानने के लिए प्रतिबद्ध हो और उसका अपने जीवन में निरंतर पालन करें तभी हमारा गांधी जयंती मनाना सार्थक होगा। मुख्यमंत्री चौहान ने पूर्व प्रधानमंत्री  लाल बहादुर शास्त्री की जयंती पर उनका स्मरण करते हुए कहा कि शास्त्री जी ने "जय जवान-जय किसान" का नारा देकर देश में आशा और ऊर्जा का संचार किया। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपयी ने "जय विज्ञान" का नारा दिया और प्रधानमंत्री मोदी "जय अनुसंधान" का नारा देकर देश को प्रगति पथ पर अग्रसर कर रहे हैं। प्रमुख सचिव संस्कृति  शिव शेखर शुक्ला ने जानकारी दी कि राज्य शासन द्वारा गांधी विचार और दर्शन के अनुरूप कार्य करने वाली संस्था को सम्मानित करने के उद्देश्य से सबसे बड़ा राष्ट्रीय महात्मा गांधी सम्मान 1995 में स्थापित किया गया। समारोह में ग्रामीण विकास विज्ञान समिति जोधपुर द्वारा संचालित गतिविधियों की जानकारी दी गई। अलंकरण समारोह के बाद “एके राम रहीम” भजनांजलि कार्यक्रम में वृंदावन के प्रख्यात गायक ध्रुव शर्मा और स्वर्ण  ने भजनों की प्रस्तुति दी।

Kolar News

Kolar News 2 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश जल उपयोग के लिए पूर्णत: सजग है। वर्ष 2003 के बाद प्रदेश में पानी रोक कर सिंचाई क्षमता में वृद्धि की गई है। प्रदेश में सिंचाई क्षमता साढ़े सात लाख हेक्टेयर से बढ़ कर 42 लाख हेक्टेय़र तक पहुँच गई है। हम कम पानी में अधिक और प्रभावी सिंचाई व्यवस्था के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसके लिए केनाल सिस्टम के स्थान पर प्रेशर पाईप से सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। उद्देश्य अधिक से अधिक पानी बचाना है। मुख्यमंत्री चौहान मध्यप्रदेश राज्य जल नीति-2022 पर मंत्रालय में हुई जल विशेषज्ञों और बुद्धिजीवियों की संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। संगोष्ठी में जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, अटल बिहारी वाजपेयी नीति विश्लेषण संस्थान के प्रोफेसर सचिन चतुर्वेदी, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव जल संसाधन एस.एन. मिश्रा, वरिष्ठ अधिकारी, जल विशेषज्ञ तथा सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेशवासियों को शुद्ध पेयजल सरलता से उपलब्ध हो। इस उद्देश्य से जल जीवन मिशन गाँव-गाँव में क्रियान्वित किया जा रहा है। भू-जल स्तर बढ़ाने के लिए जलाभिषेक अभियान में विभिन्न गतिविधियाँ संचालित की गई। प्रधानमंत्री मोदी की मंशा के अनुरूप सभी जिले में बड़ी संख्या में अमृत सरोवर का निर्माण किया जा रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि क्रॉप पेटर्न अब बदल रहा है। खेती में तीसरी फसल लेने की व्यवस्था ने प्रवेश कर लिया है। यह फसल प्राय: गर्मी के दिनों में ली जा रही है, जो भू-जल पर आधारित है। इससे उत्पादन तो बढ़ रहा है पर भू-जल स्तर निरंतर नीचे जा रहा है। अधिक सिंचाई वाली फसलों के कारण नदियाँ भी दम तोड़ रही हैं। इन मुद्दों पर विचार आवश्यक है। उद्योगों में भी पानी की मांग निरंतर बढ़ रही हैं। भविष्य में पानी की उपलब्धता और मांग को देखते हुए रणनीति बनाना आवश्यक है। पीने का पानी आज भी बहुत से ग्रामों और बसाहटों में बड़ी समस्या है। भविष्य में पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करना बढ़ी चुनौती होगी। नदियों के पुनर्जीवन के लिए जन-सामान्य की संवेदनशीलता को जागृत करते हुए कार्य-योजना बनाना और उसका क्रियान्वयन आवश्यक है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि परिस्थितियों को देखते हुए अधिक पानी के उपयोग पर आधारित जीवन शैली में बदलाव की आवश्यकता है। पानी को रि-साईकल कर उसे उपयोग में लेने, कम पानी के उपयोग से गतिविधियाँ संचालित करने की पद्धतियों को रोजमर्ऱा के जीवन में अपनाना होगा। हमें आने वाली पीढ़ी के लिए धरती इस स्वरूप में छोड़ना है, जिससे भावी पीढ़ी भी धरती पर खुशहाल जीवन व्यतीत कर सके। हमें इन चिंताओं को ध्यान में रख कर जल नीति बनाना होगी। नीति ऐसी बने जिसे जनता के साथ मिल कर क्रियान्वित किया जा सके। मुख्यमंत्री चौहान को सेंटर फॉर सस्टेनेबल गोल्स द्वारा प्रकाशित डॉ. अरविंद कुमार की पुस्तक "इंडिया एट 75 एण्ड बियोंड" भेंट की गई। संगोष्ठी में जल के सांस्कृतिक, आर्थिक एवं सामाजिक महत्व, सामुदायिक सहभागिता, वाटर लिट्रेसी, आज के परिप्रेक्ष्य में समाज की परंपरागत तकनीक और अनुशासन, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, जल प्रहरी का महत्व, क्रॉपिंग पेटर्न और जीवन शैली, विभिन्न उपयोगों के लिए जल स्रोतों की प्राथमिकता, वाटर सिक्योरिटी प्लांट, वाटर ट्रेकिंग एप, जैव विविधिता संरक्षण, जल शुद्धिकरण और जल गुणवत्ता, तालाबों और नदियों का पुर्नजीवन विषय पर चर्चा हुई।  

Kolar News

Kolar News 1 October 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश से निर्यात होने वाली सामग्री की गणना में कृषि उत्पादों को जोड़ा जाए। कृषि से संबंधित सामग्री के निर्यात के लिए दीर्घकालीन योजना बनाई जाए। इससे किसानों के उत्पादों का सही मूल्य मिल सकेगा। जिलों में एक्सपोर्ट प्रोमोशन कॉउंसिल का गठन कर जिलों से निर्यात को प्रोत्साहित किया जाए। यह कॉउंसिल, निर्यात के साथ समग्र व्यापार पर आवश्यक प्रशिक्षण और मार्गदर्शन उपलब्ध कराए। प्रदेश के उत्पादों जैसे संतरा, चावल आदि की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान स्थापित करने विशेष प्रयास किए जाएँ। मुख्यमंत्री चौहान मंत्रालय में मध्यप्रदेश व्यापार संवर्धन परिषद की पहली बैठक को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश ट्रेड प्रमोशन पॉलसी का तेजी से क्रिय़ान्वयन किया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने मध्यप्रदेश निर्यात मेला आयोजित करने पर सहमति दी। औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, राजस्व मंत्री  गोविंद सिंह राजपूत, उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण मंत्री भारत सिंह कुशवाह, अटल बिहारी वाजपयी नीति विलेषण के संस्थान के उपाध्यक्ष  सचिन सिन्हा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन संजय शुक्ला सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे। मंत्री  ओमप्रकाश सखलेचा बैठक में वर्चुअली शामिल हुए।   मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश के निर्यात को प्रोत्साहित करने के लिए प्रभावी रणनीति बनाई जाए। अगले 5 वर्षों में प्रदेश से होने वाले निर्यात को 4 गुना बढ़ाया जाए। यह सुनिश्चित करें कि निर्यात में प्रदेश देश के 10 अग्रणी राज्यों में हो। बैठक में प्रदेश में निर्यात संचालनालय के स्थापना के प्रस्ताव को सहमति प्रदान की गई। साथ ही प्रदेश के उत्पादों के जियो टेगिंग के लिए एजेंसी को नामित करने के प्रस्ताव पर भी सहमति दी गई। जानकारी दी गई की प्रदेश में वित्तीय वर्ष 2021-22 में रिकार्ड 58 हजार 407 करोड़ का निर्यात हुआ है। आईटी कंपनियों से होने वाला निर्यात वर्ष 2017-18 में 258 करोड़ रूपये था, जो वर्ष 2021-22 में बढ़ कर 1761 करोड़ हो गया है। प्रदेश में सर्वाधिक निर्यात फार्मा, कॉटन और कॉटन प्रोडक्ट का है।  

Kolar News

Kolar News 1 October 2022

प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति और प्रबंध संचालक टूरिज्म बोर्ड  शिव शेखर शुक्ला ने कहा है कि प्रदेश के बच्चे पर्यटन के ब्रांड एंबेसडर हैं। पर्यटन क्विज प्रतियोगिता से प्रदेश के करीब 8 हज़ार स्कूल के लगभग 24 हज़ार विद्यार्थियों ने प्रदेश की ऐतिहासिक और पुरातात्विक धरोहर, संस्कृति और नैसर्गिक प्राकृतिक सौंदर्य सहित पर्यटन के विभिन्न पहलुओं को जाना है। प्रमुख सचिव शुक्ला कुशाभाऊ ठाकरे अंतरराष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर में टूरिज्म बोर्ड द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 2022 के समापन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। प्रमुख सचिव श्री शुक्ला ने प्रतियोगिता में भाग लेने वाले हर विद्यार्थी से अपने आस-पड़ोस में 10 अन्य बच्चों को प्रदेश के पर्यटन, इतिहास, संस्कृति और धरोहरों के संबंध में जागरूक और ज्ञानी बनाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इस तरह हर बच्चे में अपने प्रदेश के प्रति जानकारी बढ़ेगी और संवेदनशीलता आएगी।    प्रमुख सचिव शुक्ला ने कहा कि केंद्रीय पर्यटन मंत्रालय की पहल "देखो अपना देश" की तर्ज पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने "देखो अपना मध्यप्रदेश" का विजन दिया है। जिसे आगे ले जाते हुए पर्यटन विभाग ने "बूझो, जानो और फिर देखो मध्यप्रदेश" के विचार के साथ पर्यटन क्विज प्रतियोगिता आयोजित की है। प्रमुख सचिव  शुक्ला ने विद्यार्थियों को अपने प्रदेश और देश के प्रति गर्व का भाव अनुभव करने के लिए प्रत्साहित किया। साथ ही सोशल मीडिया और इंटरनेट के सदुपयोग के संबंध में जागरूक किया।    राज्य स्तरीय टूरिज्म क्विज-2022 में मंदसौर की टीम ने बाजी मारी। उन्होंने फाइनल में भिंड जिला को 10 अंकों के अंतराल से हराया। फाइनल में दोनों टीमों ने बराबर अंक हासिल करने पर एक अंतिम राउंड हुआ, जिसमें सही जवाब देकर मंदसौर विजेता बना। तीसरे स्थान पर छिंदवाड़ा की टीम रही। सीधी, सतना और डिंडोरी की टीम रनरअप बनी। प्रमुख सचिव शुक्ला, आयुक्त लोक शिक्षण श्री अभय वर्मा और अपर प्रबंध संचालक विवेक श्रोत्रिय ने प्रतियोगिता की विजेता और उप विजेता टीमों को पर्यटन निगम के होटलों का टूर पैकेज सहित प्रमाण-पत्र और मेडल दिए। प्रथम तीन विजेता टीम मंदसौर, भिंड और छिंदवाड़ा को पर्यटन निगम की इकाइयों में ठहरने के नि:शुल्क उपहार कूपन दिए गए। अंतिम तीन उप विजेता टीम सीधी, सतना और डिंडोरी को पर्यटन विकास निगम की इकाई के फूड कूपन दिए गए। पर्यटन और स्कूल शिक्षा विभाग के संबंधित अधिकारी-कर्मचारी और शिक्षक सहित बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित रहे।   जिला स्तर से जीत कर आईं 52 टीम ने प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया द्वारा सुबह प्रतियोगिता का शुभारंभ करने के बाद लिखित और फिर दोपहर बाद मल्टीमीडिया राउंड हुआ, जिसके आधार पर पाइंट दिए गए। यह प्रतियोगिता मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा स्कूल शिक्षा पर्यटन विकास निगम, जिला प्रशासन और जिला पुरातत्व, पर्यटन और संस्कृति परिषद के सहयोग से की गई है। प्रदेश के पर्यटन गंतव्यों के प्रति विद्यार्थियों में जागरूकता लाने और पर्यटन से सीखने की प्रक्रिया को विकसित करने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश पर्य़टन बोर्ड सालाना पर्य़टन क्विज का आयोजन करता है।  

Kolar News

Kolar News 30 September 2022

चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने गुरूवार को गांधी चिकित्सा महाविद्यालय में विश्व हृदय दिवस पर ‘दिल से दिल की देखभाल’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। उन्होंने चिकित्सा शिक्षा विभाग अंतर्गत सीपीआर ट्रेनिंग प्रोग्राम शुरू करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से हृदय-घात होने पर चिकित्सक के पहुँचने तक आम व्यक्ति भी मरीज की जान बचा सकेगा। इससे कई अनमोल जिंदगियों को बचाया जा सकेगा।   मंत्री सारंग ने कहा कि आज की व्यस्ततम दिनचर्या से नई पीढ़ी में भी हृदय रोग की समस्या देखी जा रही है। उन्होंने कहा कि ‘दिल से दिल की देखभाल’ कार्यक्रम से हृदय रोग की रोकथाम के प्रति लोगों में जागरूकता का प्रचार-प्रसार किया जायेगा। मंत्री सारंग ने प्रसिद्ध कॉमेडियन  राजू श्रीवास्तव का उदाहरण देते हुए कहा कि अगर सही समय पर उन्हें जिम में ही सीपीआर दिया जाता तो शायद उनकी जान बचाई जा सकती थी। उन्होंने कहा कि हृदय-घात में सीपीआर से ही मरीज को जीवन-दान दिया जा सकता है। इसी उद्देश्य से चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा विस्तृत कार्यक्रम की रूपरेखा बना कर स्कूल, कॉलेज, कार्यालयों एवं जिम में सीपीआर ट्रेनिंग दी जायेगी। इससे कई जिंदगियाँ बचाई जा सकती हैं।   मंत्री  सारंग ने कहा कि मानवता के उत्थान एवं व्यक्ति के कल्याण के साथ ही पर्यावरण- संरक्षण भी 'दिल से दिल की देखभाल' कार्यक्रम का प्रमुख स्तंभ है। उन्होंने कहा कि विश्व में हृदय-घात से हो रही मृत्यु में 25 प्रतिशत मृत्यु के लिये प्रदूषण जिम्मेदार है। ऐसे में पर्यावरण-संरक्षण से हृदय रोग की रोकथाम में बड़ा कदम उठाया जा सकता है। मंत्री श्री सारंग ने बताया कि हृदय रोग की रोकथाम एवं हृदय-घात जैसी आपात स्थिति के लिये चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा आने वाले समय में कार्डियक हेल्पलाइन शुरू करने पर भी विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि तमाम पहलुओं पर विचार के बाद कार्डियक हेल्पलाइन की शुरूआत की जायेगी।   मंत्री श्री सारंग ने कहा कि मध्यप्रदेश हिंदी में एमबीबीएस पाठ्यक्रम प्रारंभ करने वाला देश का पहला राज्य बनने जा रहा है। उन्होंने कहा कि एमबीबीएस प्रथम वर्ष की एनाटॉमी, फिज़ियोलॉजी एवं बायोकेमेस्ट्री की पुस्तकों का हिंदी रूपांतरण पूरा हो गया है। हिंदी में पाठ्यक्रम शुरू होने से चिकित्सा विद्यार्थियों की गुणवत्ता में सकारात्मक परिवर्तन होगा। मंत्री श्री सारंग ने कहा कि हमीदिया अस्पताल के इमर्जेंसी वॉर्ड को कॉर्पोरेट अस्पताल की तर्ज पर विकसित किया जा रहा है। इसके लिये इमर्जेंसी विभाग में कार्यरत चिकित्सक, नर्सिंग एवं पैरा मेडिकल स्टाफ को सॉफ्ट स्किल ट्रेनिंग दी जायेगी।   चिकित्सा विद्यार्थियों को बताया गया कि आपातकालीन परिस्थिति में पीड़ितों की जान कैसे बचाई जा सकती है। साथ ही सीपीआर क्या है एवं इसके फायदे और सावधानियाँ विषय पर प्रशिक्षण दिया गया। भोपाल महापौर मालती राय, गांधी चिकित्सा महाविद्यालय के डीन डॉ. अरविंद राय, हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डॉ. आशीष गोहिया, हृदय रोग विभाग के अध्यक्ष डॉ. राजीव गुप्ता, इमरजेंसी मेडिसन विभाग की अध्यक्ष डॉ. रूचि टंडन सहित बड़ी संख्या में चिकित्सा विद्यार्थी उपस्थित रहे।    

Kolar News

Kolar News 30 September 2022

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राष्ट्र के विकास में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की महत्वपूर्ण भूमिका है। मध्यप्रदेश में विज्ञान से जुड़े विषयों पर अलग- अलग दिशाओं में कार्यों की जरूरत है। विज्ञान के लोकव्यापीकरण के लिए प्रयास बढ़ाए जाएँ। मध्यप्रदेश विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद (मेपकास्ट) ने विज्ञान फिल्म फैस्टिवल और विज्ञान पार्क विकसित करने की पहल कर प्रशंसनीय कार्य किया है। इस तरह के प्रयास जारी रखे जाएँ। गाँवों तक विज्ञान को लोकप्रिय बनाने का कार्य हो। प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों में जड़ी बूटियों के प्रयोग के वैज्ञानिक पक्ष और झाबुआ जिले सहित अन्य स्थानों पर जल-संरक्षण की पारम्परिक पद्धतियों के प्रयोग का अध्ययन कर बढ़ावा दिया जाए।   मुख्यमंत्री चौहान मंत्रालय सभाकक्ष में विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद की साधारण सभा की 10 वीं बैठक को संबोधित कर रहे थे। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव और वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। मुख्मंत्री चौहान ने परिषद द्वारा प्रकाशित ग्राउंड वॉटर क्वालिटी एटलस का विमोचन किया।     बताया गया कि प्रदेश में केन्द्र सरकार के जैव प्रौद्योगिकी विभाग को बायोटेक्नोलॉजी पार्क की स्थापना के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। यह नीमच जिले की जावद तहसील में स्थापित करने का प्रस्ताव है। यह पार्क बॉयोटेक्नोलॉजी में नवीन अनुसंधान गतिविधियों को बढ़ावा देने का कार्य करेगा। बॉयोटेक उद्यमियों को भी आवश्यक सहयोग मिलेगा।     मुख्यमंत्री चौहान ने परिषद की गतिविधियों की जानकारी प्राप्त की। परिषद के महानिदेशक डॉ. अनिल कोठारी ने बताया कि परिषद ने जल जीवन मिशन अंतर्गत ग्राउंड वाटर क्वालिटी एटलस तैयार किए हैं। इससे जिलों में नलकूप जल की गुणवत्ता और उपलब्धता की जानकारी प्राप्त कर पेयजल व्यवस्था को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी। जिलों में खनन के उद्देश्य से स्थल चयन के लिए यह महत्वपूर्ण दस्तावेज होगा। प्रायोगिक तौर पर धार, बैतूल, सतना और टीकमगढ़ जिलों के एटलस तैयार कर भू-जल गुणवत्ता और भू-जल उपलब्धता दर्शाने वाले मानचित्र संकलित किए गए हैं। परिषद ने साइंस सिटी और रीजनल सांइस सेंटर के निर्माण, 41 नगर के ड्रोन और यूएवी आधारित मास्टर प्लान प्रोजेक्ट बनाने की पहल की है। परिषद ने भोपाल में अगस्त माह में राज्य स्तरीय विज्ञान फिल्म उत्सव भी सफलतापूर्वक किया है। फिल्म उत्सव में देश भर से 71 विज्ञान फिल्म प्रदर्शन के लिए आईं थीं। इनमें से 25 विज्ञान फिल्म को पुरस्कृत भी किया गया। मुख्यमंत्री  चौहान ने अधिकारियों को परिषद में रिक्त पदों की पूर्ति करने के निर्देश दिए। परिषद के सदस्यों ने विज्ञान कार्यशालाएँ कर विज्ञान में रूचि रखने वालों की भागीदारी, प्रदेश में विज्ञान अकादमी बनाने और विद्यार्थियों को नवीनतम वैज्ञानिक जानकारियाँ प्रदान करने के सुझाव दिए।  

Kolar News

Kolar News 30 September 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने बुधनी विकासखंड की ग्राम पंचायत तालपुरा में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के शिविर में मुख्यमंत्री डेयरी प्लस योजना का शुभारंभ किया। उन्होंने आवेदकों से चर्चा कर उनकी समस्याओं को सुना और आवेदनों का निराकरण करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र एवं सामग्री का प्रतीक स्वरूप वितरित किया। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान शिविर आमजनों को योजनाओं से लाभान्वित करने के लिए ही लगाए जा रहे हैं। इन शिविरों से सभी पात्र हितग्राहियों को योजना का लाभ मिले, इसके लिए विशेष शिविर लगायें। मुख्यमंत्री ने जन सेवा अभियान शिविर में विभिन्न योजनाओं से लाभांवित हितग्राहियों को प्रमाण पत्र प्रदान किए। मुख्यमंत्री चौहान ने 'मुख्यमंत्री डेयरी प्लस योजना' का शुभारंभ भी किया। उन्होंने चिन्हित हितग्राहियों से संवाद कर उनके पशुपालन व्यवसाय के संबंध में जानकारी प्राप्त की। योजना में हितग्राहियों को दो मुर्रा भैंस प्रदाय की गई हैं।   मुख्यमंत्री चौहान ने मुख्यमंत्री डेयरी प्लस योजना से लाभांवित हितग्राही कमल किशोर पंवार, राकेश कटारे,  रामकिशोर अहिरवार सहित अन्य पशुपालकों से संवाद कर उनका हालचाल जाना और उनके व्यवसाय की जानकारी ली। मुख्यमंत्री  चौहान ने शिविर में लाभान्वित हितग्राहियों से भी संवाद कर योजना के लाभ प्राप्ति के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने मंच पर प्रश्नोत्तरी संवाद कर शिविर में आए आवेदनों के निराकरण तथा योजनाओं से वंचित पात्र हितग्राहियों के बारे में भी जाना। मुख्यमंत्री चौहान ने तालपुरा सहित अन्य चार ग्राम पंचायतों में विशेष राजस्व शिविर लगा कर राजस्व संबंधी प्रकरणों का शत-प्रतिशत निराकरण कराने के निर्देश भी दिए। उन्होंने ग्राम पंचायत तालपुरा में नवीन उचित मूल्य दुकान खोलने के निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री किसान कल्याण योजना एवं मुख्यमंत्री किसान सम्मान निधि के पात्र किसानों को लाभ दिलाया जाना सुनिश्चित करें। सीहोर जिले के प्रभारी और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, पशुपालन सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण मंत्री प्रेमसिंह पटेल, लघु, सूक्ष्म, मध्यम उद्योग मंत्री  ओमप्रकाश सखलेचा, सांसद  रमाकांत भार्गव सहित जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।     डेयरी व्यवसाय से प्रदेश के किसानों की आय में वृद्धि हो और वे पशुपालन कर अधिक से अधिक आय अर्जित कर सके, इसके लिए मुख्यमंत्री डेयरी प्लस योजना का शुभारंभ किया गया है। पायलेट प्रॉजेक्ट के तौर पर योजना प्रदेश के तीन जिलों सीहोर, विदिशा और रायसेन में शुरू की गई है। पहले से ही पशुपालन का कार्य कर रहे पशुपालकों को मुख्यमंत्री डेयरी प्लस योजना में दो मुर्रा भैंसे उपलब्ध कराई जा रही है। इनकी दुग्ध उत्पादन क्षमता 10 लीटर प्रतिदिन की होती है। मुर्रा भैंसों की लागत दो लाख 50 हजार रूपए होगी। योजना में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के पशुपालकों को राज्य सरकार द्वारा 75 प्रतिशत अनुदान एवं पिछड़ा वर्ग और सामान्य श्रेणी के पशुपालकों को 50 प्रतिशत का अनुदान दिया जाएगा। इस प्रकार अनुसूचित जाति एवं जनजाति के पशुपालकों को अंशदान के रूप में 62 हजार 500 रूपए तथा पिछड़ा वर्ग और सामान्य श्रेणी वालों को एक लाख 50 हजार रूपए जमा करने होंगे। इसमें पशुपालकों के आने-जाने का व्यय एवं बीमा आदि की राशि भी शामिल है।

Kolar News

Kolar News 30 September 2022

मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी ने नवाचार करते हुए भोपाल के पारेषण नेटवर्क को मजबूती और विश्वसनीयता प्रदान करने के लिए प्रदेश का दूसरा तथा भोपाल का पहला जी.आई.एस. (गैस इंसूलिटेड स्विच गियर सबस्टेशन) का निर्माण पूरा कर लिया है। करीब 38 करोड़ रूपये की अनुमानित लागत से भोपाल की घनी आबादी स्थित ई-8 अरेरा कालोनी में 50 एम.व्ही.ए. क्षमता के साथ इस सबस्टेशन को ऊर्जीकृत किया गया। ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा है कि इस सबस्टेशन के प्रारंभ हो जाने से मध्य भोपाल क्षेत्र में विद्युत पारेषण व्यवस्था को मजबूती मिलने के साथ भोपाल को अति उच्चदाब सबस्टेशन का एक और विकल्प उपलब्ध हो गया है। भोपाल शहर में मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी का यह 11वाँ अति उच्चदाब सबस्टेशन है जो क्रियाशील है।   मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के प्रबंध संचालक इंजी. सुनील तिवारी ने बताया कि भोपाल में विद्युत की बढ़ती मांग को देखते हुए मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी को भोपाल शहर में अतिरिक्त सबस्टेशन के निर्माण की जरूरत महसूस हुई। भोपाल जैसी घनी आबादी में परम्परागत सबस्टेशन और लाईनों के निर्माण के लिए पर्याप्त भूमि की उपलब्धता न रहने के कारण मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी ने भोपाल में जी.आई.एस. सबस्टेशन (गैस इंसूलिटेड स्विच गियर सबस्टेशन) तैयार करने का निर्णय लिया।   जी.आई.एस. सबस्टेशन (गैस इंसूलिटेड स्विच गियर सबस्टेशन) के निर्माण में परम्परागत एयर इंसुलेटेड सबस्टेशनों के मुकाबले कम भूमि की जरूरत पड़ती है। इस तकनीक से सबस्टेशन के निर्माण का बजट परम्परागत सबस्टेशन की तुलना में लगभग ढाई गुना अधिक रहता है, पर मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी ने राजधानी भोपाल की जरूरत को देखते हुए इस निर्माण की मंजूरी दी। गैस इंसुलेटेड चेंबर में रहने के कारण इन सबस्टेशनों के उपकरणों में कम खराबी आती है। इन्हें बोलचाल की भाषा में ‘‘मेंटीनेंस फ्री’’ सबस्टेशन भी कहा जाता है।   प्रबंध संचालक इंजी. सुनील तिवारी ने बताया कि इस 132 के.व्ही. जी.आई.एस. सबस्टेशन के निर्माण से सबसे अधिक फायदा मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के शहपुरा, ई-8 अरेरा कालोनी, गोविंदपुरा एवं त्रिलंगा क्षेत्र के लगभग 5 लाख की घनी आबादी को होगा। इन्हें गुणवत्तापूर्ण विद्युत उचित वोल्टेज पर प्राप्त हो सकेगी। साथ ही 33 के.व्ही. फीडरों की लंबाई कम हो जाने से इन लाइनों में विद्युत व्यवधान होने की स्थिति में जल्द सुधार कार्य संभव हो सकेगा। इस नवनिर्मित सबस्टेशन से भोपाल की घनी आबादी में 33 के.व्ही. के 8 फीडरों को विद्युत आपूर्ति की जा सकेगी।  

Kolar News

Kolar News 29 September 2022

महिला-बाल विकास विभाग द्वारा प्रदेश में पोषण माह के दौरान सभी आँगनवाड़ी केंद्रों में 5 वर्ष तक के बच्चों के लिए स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा हुई। संचालक महिला बाल विकास डॉ. राम राव भोंसले ने बताया कि केंद्रीय महिला-बाल विकास मंत्रालय द्वारा लिए गए निर्णय अनुसार यह स्पर्धा हुई। भोंसले ने बताया कि आँगनवाड़ी केंद्रों पर हर माह की 11 से 20 तारीख के दौरान बच्चों के वजन और ऊँचाई का माप नियमित रूप से लिया जाता है, इस आधार पर बच्चे के पोषण स्तर को जाना जाता है। उन्होंने बताया कि स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा का मुख्य उद्देश्य जन-मानस को यह संदेश देना है कि बच्चे के सही शारीरिक और मानसिक विकास के लिए संतुलित और पौष्टिक आहार के साथ स्वच्छता और बच्चे की निगरानी करना भी है। उन्होंने कहा कि स्पर्धा से ऐसे बच्चों के माता-पिता को, जो शारीरिक रूप से कमजोर होने और प्रतिरोधक क्षमता की कमी की वजह से बार-बार बीमार पड़ रहे हैं, विशेष देखभाल के लिए प्रेरित करना है। स्पर्धा में स्वस्थ एवं पोषण संबंधी मानकों के आधार पर बच्चों का आकलन कर उन्हें गाँव का स्वस्थ बच्चा घोषित किया गया।   भोंसले ने बताया कि प्रदेश में 26 सितंबर को प्रत्येक आँगनवाड़ी और जिला एवं परियोजना स्तर पर स्वस्थ बालक-बालिका स्पर्धा हुई, जिसमें निर्धारित मापदंड के आधार पर 6 माह से 3 वर्ष और 3 से 5 वर्ष के आयु समूह में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान के सबसे स्वस्थ बच्चों को सामूहिक रूप से पुरस्कृत कर सम्मानित किया गया। प्रत्येक चयनित स्वस्थ बच्चे को जन-प्रतिनिधियों द्वारा प्रमाण पत्र दिया गया। स्वस्थ बच्चों की माताओं एवं अभिभावकों ने अपने बच्चों के लिए अपनाए गए पोषण एवं स्वास्थ संबंधी व्यवहारों को दूसरे अभिभावकों के साथ साझा किया। जन-जागरूकता के लिए पोषण मेला, व्यंजन प्रतियोगिता, हीमोग्लोबिन की जाँच जैसी अन्य महत्वपूर्ण गतिविधि भी हुई।  

Kolar News

Kolar News 29 September 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने राजगढ़ जिले के सारंगपुर स्थित प्रसिद्ध देवी धाम, माँ भैंसवा माता मंदिर के दर्शन कर पूजन एवं हवन किया और मंदिर निर्माण की आधारशिला रखी। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि एवं कल्याण के लिए प्रार्थना भी की। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि माताजी का यह अदभुत स्थान है। दर्शन मात्र से ही मुझमें अद्भुत ऊर्जा का संचार हुआ, यह एक शक्ति स्थल है। उन्होंने कहा कि जो निर्माण कार्य हो रहे हैं, वो माँ की कृपा से ही हो रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुझे मंदिर समिति द्वारा यह बताया गया है कि मंदिर का निर्माण यहाँ जनता के पैसों से होगा। जनता अपने खून-पसीने की कमाई से मंदिर का निर्माण कराएगी। यह कर्म मार्ग की श्रेणी में आता है। उन्होंने कहा कि ईश्वर को पाने के लिए यही सही मार्ग है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मंदिर परिसर में वैदिक पाठशाला परीक्षण केन्द्र और भक्त निवास राज्य सरकार द्वारा बनवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि भैंसवा माता का भव्य मंदिर बनेगा जो शक्ति और भक्ति का प्रतीक होगा। सभी लोग संकल्प लें कि हम भैंसवा माता के भव्य मंदिर में अपना योगदान देंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मकवाना पत्थर से भव्य मंदिर का निर्माण किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि शक्ति स्थल पर मैंने माँ से यही प्रार्थना की है कि मेरे प्रदेश के गाँव, शहर, प्रदेश और देश प्रगति के पथ पर आगे बढ़ता रहे। उन्होंने कहा कि यह मंदिर एक सामाजिक चेतना का केन्द्र बनेगा। उल्लेखनीय है कि भैंसवा माता मंदिर, मालवा क्षेत्र का शक्तिपीठ माना जाता है।     कार्यक्रम में माँ बीजासेन धाम परिक्षेत्र विकास की परियोजना का प्रजेंटेशन दिया गया, जिसमें 100 हेक्टेयर भूमि पर मंदिर परिसर में सर्वसुविधायुक्त निर्माण कराया जाएगा। भव्य मंदिर एवं यज्ञ शाला निर्माण 13.65 हेक्टेयर, नक्षत्र वाटिका एवं प्रगति संस्थान 1.00 हेक्टेयर, गौशाला 1.326 हेक्टेयर, वैदिक पाठशाला, योग प्रशिक्षण, प्राकृतिक चिकित्सा, धनवंतरी गार्डन 5-5 हेक्टेयर, ग्रामीण पर्यटन 4.89 हेक्टेयर, अतिथि गृह 1.1 हेक्टेयर, वीआईपी विश्राम गृह कथा पांडाल 1.05 हेक्टेयर, ए.सी. ऑडिटोरियम 759 हेक्टेयर, शॉपिंग कॉम्पलेक्स एवं मैरिज गार्डन 5.4 हेक्टेयर, तालाब 14 हेक्टेयर, ट्री एरिया 5.5 हेक्टेयर, पार्किंग जोन 8.9 हेक्टेयर, बड़ी परिक्रमा 6.23 हेक्टेयर, छोटी परिक्रमा 1.30 हेक्टेयर में, इस प्रकार कुल एरिया 100 हेक्टेयर होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंदिर ट्रस्ट की वेबसाइट भी लाँच की। मुख्यमंत्री चौहान ने परिसर में स्थित नक्षत वाटिका में रुद्राक्ष एवं शमी का पौधा रोपा। उन्होंने स्व-सहायता समूह के प्रगति संस्थान में समूह की महिलाओं से चर्चा की और उनके द्वारा निर्मित उत्पादों का अवलोकन भी किया। जिले के प्रभारी एवं उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, संसद रोडमल नागर, क्षेत्रीय विधायक सहित जन-प्रतिनिधि और नागरिक उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 29 September 2022

मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज उज्जैन के प्रशासनिक संकुल में मंत्रि-परिषद की बैठक हुई। मंत्रि-परिषद द्वारा मध्यप्रदेश जल निगम मर्यादित द्वारा जल जीवन मिशन के क्रियान्वयन के लिए प्रस्तावित 23 नवीन समूह जल प्रदाय योजनाओं तथा एक पुनरीक्षित समूह जल प्रदाय योजना की प्रशासकीय स्वीकृति का अनुमोदन किया गया। उपरोक्त 23 नवीन योजनाओं की कुल लागत 17 हजार 971 करोड़ 95 लाख रूपये है।   मंत्रि-परिषद ने मुख्यमंत्री उद्यम क्रान्ति योजना को और अधिक प्रभावी तथा व्यापक बनाने न्यूनतम परियोजना सीमा एक लाख से कम कर 50 हजार रूपये किये जाने का निर्णय लिया। योजना में अब हितग्राही को ब्याज अनुदान वार्षिक के स्थान पर त्रैमासिक आधार पर भुगतान किया जायेगा। विनिर्माण इकाई 50 लाख रूपये से अधिक होने अथवा सेवा/खुदरा व्यवसाय इकाई 25 लाख रूपये से अधिक होने पर भी योजना में परियोजनाएँ स्वीकार की जायेगी, जिसमें बैंक द्वारा प्रकरण स्वीकृति की दशा में हितग्राही को 3 प्रतिशत ब्याज अनुदान का लाभ अधिकतम 50 लाख अथवा 25 लाख रूपये तक की ऋण राशि पर ही प्राप्त हो और ऋण गारंटी शुल्क की प्रतिपूर्ति भी यथानुपात आधार पर हो। बैंक द्वारा दिया गया पूरा ऋण कोलेटरल फ्री होना चाहिये।मुख्यमंत्री उद्यम क्रान्ति योजना में अर्हता एवं वित्तीय सहायता के लिये आयु सीमा मूलत: 18 से 40 वर्ष रखी गई थी, जिसको संशोधित कर अब 18 वर्ष से 45 वर्ष करने के आदेश का अनुमोदन किया गया।     मंत्रि-परिषद ने 10x40 मेगावाट महेश्वर जल विद्युत परियोजना, जिला खरगोन के सम्बन्ध में समन्वय में मुख्यमंत्री से प्राप्त निर्णयों का अनुसमर्थन किया।महेश्वर जल विद्युत परियोजना, मण्डलेश्वर, जिला खरगोन से विद्युत क्रय हेतु तत्कालीन मध्य प्रदेश विद्युत मण्डल (वर्तमान में एमपीपीएमसीएल) द्वारा क्रमश: 11 नवम्बर 1994 एवं 27 मई 1996 को मेसर्स श्री महेश्वर हायडल पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एसएमएचपीसीएल) के साथ निष्पादित विद्युत क्रय अनुबंध एवं इस अनुबंध के संशोधन को निरस्त किये जाने का निर्णय लिया गया। मेसर्स एसएमएचपीसीएल एवं विद्युत मण्डल (वर्तमान में एमपीपीएमसीएल) के मध्य परियोजना के पुनर्वास एवं पुनर्स्थापना के कार्यों के सम्बन्ध में 24 फरवरी 1997 को निष्पादित अनुबंध को निरस्त किया गया। मेसर्स एसएमएचपीसीएल द्वारा महेश्वर परियोजना के वित्त पोषण हेतु जारी किये गये 400 करोड़ के ओएफसीडी हेतु पीएफसी द्वारा दी गई गारंटी के परिप्रेक्ष्य में अमेंडेटरी एण्ड रिस्टेटेड एग्रीमेंट के प्रावधानों के अनुसार राज्य शासन द्वारा पीएफसी के पक्ष में दी गई काउंटर गारंटी को निरस्त किया। पीएफसी, मेसर्स एसएमएचपीसीएल इत्यादि के साथ 16 सितम्बर 2005 को निष्पादित अमेंडेटेरी एण्ड रिस्टेटेड एग्रीमेंट (ए. एण्ड आर. अनुबंध) को मेसर्स एसएमएचपीसीएल द्वारा किये गये डिफाल्ट्स के दृष्टिगत निरस्त किया। मेसर्स एसएमएचपीसीएल के साथ 27 मई 1996 को निष्पादित इंप्लीमेंटेशन एग्रीमेंट एवं उनके विद्युत देयकों का भुगतान सुनिश्चित करने हेतु राज्य शासन द्वारा प्रदान की गई गारंटी को निरस्त किया। महेश्वर परियोजना के क्रियान्वयन में आ रही कठिनाईयों के निराकरण हेतु गठित टास्क फोर्स के अध्यक्ष द्वारा परियोजना के निराकरण हेतु सुझाये गये द्वितीय विकल्प यथा प्रकरण का निराकरण पीएफसी द्वारा एनसीएलटी में प्रस्तुत की गई आईबीसी पिटीशन में होने दिया जाये, को स्वीकार किये जाने का निर्णय लिया गया।   मंत्रि-परिषद ने प्रदेश के कुटुंब न्यायालयों में प्रकरणों की बढ़ती संख्या के दृष्टिगत उच्च न्यायालय से प्राप्त प्रस्ताव अनुसार कुटुंब न्यायालयों हेतु पीठासीन अधिकारी एवं स्टाफ की संख्या में वृद्धि करने का निर्णय लिया। निर्णय अनुसार भोपाल में एक, ग्वालियर में एक, इन्दौर में दो तथा जबलपुर में एक इस तरह कुल 5 अतिरिक्त कुटुंब न्यायालयों के लिये पीठासीन अधिकारी एवं अमले के 55 पदों के सृजन का अनुमोदन किया।  

Kolar News

Kolar News 28 September 2022

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने नई दिल्ली में आरोग्य मंथन 2022 कार्यक्रम के समापन-सत्र में मध्यप्रदेश को आयुष्मान भारत निरामयम और स्वास्थ्य योजनाओं में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर पुरस्कृत किया है। प्रदेश को वर्ष 2021-22 में आयुष्मान भारत योजना में 'नवाचार और सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाने पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य' के रूप में चुना गया है। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया। आयुक्त स्वास्थ्य डॉ. सुदाम खाड़े और सीईओ आयुष्मान भारत योजना अनुराग चौधरी ने पुरस्कार प्राप्त किया। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण ने आयुष्मान भारत निरामयम और विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं में मध्यप्रदेश द्वारा किए गए अनुकरणीय कार्य और प्रगति की सराहना की है। प्रदेश का स्वास्थ्य विभाग और राज्य स्वास्थ्य एजेंसी, आयुष्मान भारत निरामयम योजना के विस्तार और पात्र व्यक्तियों को नि:शुल्क गुणात्मक स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित करने के लिए लगातार प्रयासरत है।   प्रदेश में आयुष्मान भारत निरामयम योजना में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। प्रतिदिन 4 हजार से अधिक लाभार्थियों को नि:शुल्क उपचार दिया जा रहा है। राज्य एम्बुलेंस सेवा से योजना के पात्र व्यक्तियों को नि:शुल्क परिवहन प्रदाय किया जा रहा है। योजना में लाभार्थी केंद्रित 26 लाइन इनबाउंड और आउटबाउंड कॉल सेंटर स्थापित किए गए हैं। इनबाउंड कॉल सेंटर से लाभार्थियों को योजना अंतर्गत सूचना प्रदाय की जा रही है। समवर्ती लेखा परीक्षा और लाभार्थी फीडबेक लेने के लिए आउटबाउंड कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। पीएमजेएवाय फंड से सरकारी अस्पतालों का सुदृढ़ीकरण किया जा रहा है। निरामयम प्रोत्साहन योजना में पंजीकृत होने वाले प्रत्येक प्रकरण के लिए चिकित्सक और उपचार करने वाले कर्मचारियों को प्रोत्साहन राशि दी जाती है। रोगी कल्याण समितियों में जमा ‍हुई राशि से अस्पतालों के बुनियादी ढाँचों को सुदृढ़ करने के प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य शासन ने अस्पतालों को इलाज के लिए पर्याप्त पैकेज लागत उपलब्ध कराने के लिए स्वास्थ्य लाभ पैकेज 2.2 कार्यक्रम को अपनाया है।

Kolar News

Kolar News 27 September 2022

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री  कमल पटेल ने कहा कि कर्त्तव्य निर्वहन के दौरान हम से बिछड़ गये मंडी बोर्ड के कर्मचारियों के निकटस्थ आश्रितों को सर्वोच्च प्राथमिकता से नियुक्तियाँ दी गई हैं। उन्होंने बताया कि मंडी बोर्ड में आज 13 परिजन को अनुकम्पा नियुक्ति सह-सहमति पत्र प्रदान किये गये हैं। मंत्री पटेल ने बताया है कि मार्च 2020 में सरकार बनने के बाद से मंडी बोर्ड में आज तक मंडी बोर्ड में कार्यरत रहते हुए दिवंगत हुए 156 अधिकारी-कर्मचारियों के आश्रितों को अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान की है। कृषि मंत्री श्री पटेल ने नवनियुक्त मंडी बोर्ड के कर्मचारियों से कहा कि वे अपने परिवारों का सम्मानपूर्वक जीवन निर्वाह करेंगे। उन्होंने अपेक्षा की कि मंडी बोर्ड के द्वारा सौंपे गये दायित्वों का निर्वहन पूरी निष्ठा और कर्मठता से करेंगे। मंत्री पटेल ने कहा कि मंडी बोर्ड में प्राथमिकता के आधार पर उनके द्वारा चाहे गये स्थानों पर ही नियुक्ति करने के प्रयास किये हैं। उन्होंने बताया कि आज सहायक ग्रेड-3 के 8 पदों और भृत्य-चौकीदार के 5 पदों पर अनुकम्पा नियुक्ति प्रदान की गई है। मध्यप्रदेश राज्य कृषि विपणन बोर्ड की उपाध्यक्ष सुश्री मंजू दादू, बोर्ड की प्रबंध संचालक-सह आयुक्त  जी.व्ही. रश्मि ने भी नव-नियुक्त्कर्मचारियों को बेहतर कार्य की अपेक्षा के साथ शुभकामनाएँ दी।   

Kolar News

Kolar News 27 September 2022

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान से दलित इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (डिक्की) के फाउंडर चेयरमेन पद्मश्री मिलिंद कांबले, राष्ट्रीय अध्यक्ष पद्मश्री रवि कुमार नर्रा, मेंटर एवं सलाहकार डिक्की डॉ. मनोज आर्या तथा डॉ. अनिल सिरवैया ने निवास कार्यालय पर भेंट की। मुख्यमंत्री श्री चौहान को पदाधिकारियों ने 9 अक्टूबर वाल्मीकि जयंती पर आयोजित एससी-एसटी बिजनेस कान्क्लेव के संबंध में जानकारी दी। कान्क्लेव में प्रदेश के लगभग 1800 उद्यमी एवं स्टार्टअप, लगभग 200 से अधिक महिला उद्यमी और प्रदेश के बाहर के 200 प्रमुख उद्योगपति सम्मिलित होंगे। कान्क्लेव में भारत सरकार और राज्य शासन की योजनाओं पर 6 तकनीकी सत्र भी होंगे।  

Kolar News

Kolar News 27 September 2022

मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड के प्रतिनिधिमंडल ने फ्रांस में तीन दिवसीय आईएफटीएम टॉप रेसा 2022 में ट्रेवल ट्रेड पार्टनर्स, मीडिया सहित अन्य हितधारकों के साथ 60 से अधिक बैठकों के साथ अपनी सफल भागीदारी का समापन किया। प्रमुख सचिव पर्यटन और संस्कृति एवं प्रबंध संचालक टूरिज्म बोर्ड शिव शेखर शुक्ला ने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया, जिसमें राज्य के प्रमुख टूर ऑपरेटर शामिल थे। टीयूआई, सीता, एशिया, मार्को वास्को आदि जैसे फ्रांस के महत्वपूर्ण टूर ऑपरेटरों के साथ बैठकें उपयोगी रहीं। डेसिर्स डी वॉयज, नेशनल ज्योग्राफिक, फ्रांस टीवी और मैरी फ्रांस सहित अन्य प्रमुख मीडिया से चर्चा कर मध्यप्रदेश के गंतव्यों को प्रमोट किया गया। पेरिस स्थित भारतीय दूतावास में मध्यप्रदेश पर्यटन के विभिन्न पहलुओं को प्रदर्शित करने के लिए एमपी डे मनाया गया। फ्रांस और मोनाको में भारत के राजदूत जावेद अशरफ ने मध्यप्रदेश के विभिन्न पर्यटन गंतव्यों, वन्य-जीव, विरासत आदि के बारे में बताया गया।   प्रमुख सचिव शुक्ला ने मध्यप्रदेश और फ्रांस के बीच बॉर्बन युग के संबंधों के बारे में चर्चा की। उन्होंने महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन परियोजना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में महिलाओं के लिए कौशल-प्रशिक्षण किया जा रहा है, जिससे न सिर्फ उनको आजीविका मिल रही है बल्कि पर्यटन स्थलों पर महिलाओं की सुरक्षा भी सुनिश्चित की जा रही है। फिल्म पर्यटन के बारे में बताया कि प्रदेश में फिल्म/सीरियल शूटिंग के इच्छुक लोगों के लिए सिंगल विंडो क्लीयरेंस प्रणाली लागू की गई है। राज्य में फिल्माई गई फिल्मों के लिए वित्तीय सब्सिडी भी उपलब्ध है। कार्यक्रम के दौरान एक ऑडियो-विजुअल प्रेजेन्टेशन हुआ, जिसके बाद मटका, बधाई और कथक जैसे म.प्र. के लोक और शास्त्रीय नृत्यों को प्रदर्शित करने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। मेहमानों को