Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782

समाज

अनूपपुर। रेलवे प्रशासन यात्रियों की सुविधाओं एवं मांग को ध्यान में रखते हुये दुर्ग से जम्मूतर्वी साप्ताहिक सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन का परिचालन 14 सितम्बर को दुर्ग से प्रारम्भ किया हो रही है। वहीं जम्मूतवी से 16 सितम्बर चलेगी। गाड़ी संख्या 08549 दुर्ग जम्मूतवी साप्ताहिक सुपरफास्ट स्पेशल प्रत्येक मंगलवार को दुर्ग से 14 सितम्बर से तथा गाड़ी संख्या 08550 जम्मूतवी -दुर्ग प्रत्येक गुरुवार को जम्मूतवी से पवाना होगी। गाड़ी में 6 एसी थ्री, 2 एसी टू ,1 एसी टू कम एसी थ्री, 7 स्लीपर, 1 पेंट्रीकार, 1 लगेज वाहन तथा 3 सामान्य सहित कुल 22 कोचों के साथ चलेगी। 14 सितम्बर को दुर्ग से 12.15 बजे छूट कर बिलासपुर 14.45 पहुंचेगी 15 बजे रवाना होकर अनूपपुर 17.25 बजे पहुंच कर 17.30 बजे छूटेगी,कटनी मुडवारा 20.35 पहुंच 20.40 छूटकर दूसरे दिन सुबह शाम दिल्ली सफदरगंज 7.55 पहुच 7.57 छूट,18.10 बजे जम्मूतवी पहुंचेगी। इसी तरह से जम्मूतवी से 16 सितम्बर गुरुवार को 4.35 बजे छूटकर दिल्ली सफदरगंज 13.53 पहुंच 13.55 छूट कटनी मुडवारा 2.10 बजे छूटेगी, अनूपपुर 5.10 पहुंच 5.15 छूटेगी बिलासपुर 8.15 बजे दुर्ग के लिए रवाना होकर 9.55 बजे पहुंचेगी। इस टे्रन में केवल कनफर्म टिकट रेल यात्रियो को ही यात्रा करने की अनुमति दी होगी। एवं कोविड के सभी नियमो का पालन अनिवार्य होगा।  

Kolar News

Kolar News 9 September 2021

अनूपपुर। भाद शुक्ल चतुर्थी के पडऩे के कारण जिलेभर में श्रीगणेश उत्सव का पर्व हर्षोल्लास के साथ आरभ्भ हुआ। कोरोना संक्रमण के कारण इस बार कम पंडालों में गणपति उत्सव मनाने के साथ साथ भक्तो द्वारा घरों में भी विध्नहत्र्ता गणेश की प्रतिमा स्थापित कर पूजा आरभ्भ की जा रही है। शुक्रवार की सुबह गणपति की प्रथम पूजा की शुरूआत की जाएगी। जिसके कारण शहर व ग्रामीण अचंलों में वैदिक मंत्रों व गणपति मोरया की जयघोष गुंजायमान रहेगा। इस मौके पर जिला मुख्यालय अनूपपुर सहित कोतमा, बिजुरी, जैतहरी, पसान, बदरा, अमरकंटक सहित ग्रामीणों क्षेत्रों में उत्साह का माहौल बनेगा। इस मौके पर कोविड गाइडलाइन के पालन के भी निर्देश प्रशासन द्वारा दिए गए हैं।

Kolar News

Kolar News 9 September 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के कई जिलों में इस समय बारिश का दौर जारी है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार पिछले एक दिन पहले से शुरू हुआ यह सिलसिला आगामी गणेश उत्सव के दौरान भी बना रहेगा। राज्य के 52 जिलों की बात की जाए तो गुरुवार सुबह से राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के लगभग 27 जिलों में रुक-रुक कर वर्षा का दौर जारी है। प्रदेश में अब तक छिंदवाड़ा में सर्वाधिक बारिश दर्ज की गई है। मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि फिलहाल उत्तर-पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी में सक्रिय चक्रवात गतिविधियों का तेज प्रभाव बना हुआ है, जिसके कारण पश्चिमोत्तर बंगाल की खाड़ी में निम्न दाब क्षेत्र सक्रिय है। यह स्थिति आगामी कुछ दिन और बनी रहेगी। इसी तरह से राजस्थान के पश्चिमोत्तर क्षेत्र, पंजाब और पूर्वोत्तर अरब सागर के कारण से कच्छ में चक्रवातीय गतिविधियां तेज हैं। इसके प्रभाव से भी प्रदेश में अच्छी बारिश हो रही है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि आगे भी बंगाल की खाड़ी में शनिवार को एक और लो प्रेशर एरिया बनता दिख रहा है। इसका प्रभाव हमें पूरे गणेश उत्सव के दौरान दिखाई दे सकता है। उल्लेखनीय है कि तेज बारिश के कारण बैतूल में सारणी स्तिथ सतपुड़ा डैम लबालब हो गया है, जिसके चलते उसका एक गेट बुधबार रात आठ बजे खोलना पड़ा है। गेट से 825 सीएफटी पानी लगातार बहाया जा रहा है। बांध की पूरी क्षमता 1433 तक है। बीते 24 घंटे में छिंदवाड़ा और होशंगाबाद में सबसे ज्यादा दो इंच बारिश हुई है। रतलाम में 1.7 इंच, बैतूल में 1.3 इंच बारिश दर्ज की गई। टीकमगढ़ में आधा इंच से ज्यादा बारिश हुई। जबलपुर, उज्जैन, रीवा, गुना, धार, मंडला, दमोह, सतना, इंदौर, ग्वालियर, नरसिंहगढ़ और उमरिया में भी बूंदाबांदी हुई और हो रही है।  

Kolar News

Kolar News 9 September 2021

उज्जैन।महाकालेश्वर मंदिर में 11 सितंबर से आम श्रद्धालुओं को भस्मार्ती दर्शन करवाने का निर्णय मंदिर प्रबंध ने लिया है। इसके लिए समिति ने मंगलवार को पोर्टल खोल दिया। मंदिर में भस्मार्ती दर्शन करवाने की क्षमता 2 हजार है। इसका 50 प्रतिशत याने 1000 श्रद्धालुओं को दर्शन करवाए जाएंगे। इसके लिए समिति ने जो नीति अपनाई है,उसकी जानकारी देते हुए मंदिर के सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल ने बताया कि- 150 प्रवेश अनुमति नि:शुल्क ऑफ लाइन दी जाएगी,जोकि 10 सितंबर से प्रारंभ होगी और एक दिन पूर्व अनुमति पत्र दिया जाएगा। 350 अनुमति ऑन लाइन 100 रू. शुल्क जमा करवाकर दी जाएगी,जोकि आम श्रद्धालुओं के लिए रहेगी। शेष 500 अनुमति प्रोटोकाल के तहत रहेगी ओर जिसके लिए 200 रू. शुल्क लिया जाएगा। दर्शन पर टेक्स स्वीकार नहीं: सोहनजी इस संदर्भ में विहिप के मालवा प्रांत मंत्री सोहनजी विश्वकर्मा ने कहाकि महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए किसी भी प्रकार का टेक्स या शुल्क लेने का विहिप द्वार सख्त विरोध किया जाएगा। हम अपनी भावनाओं से जिला प्रशासन को अवगत करवा चुके हैं। शिघ्र ही आगामी रणनीति बनाकर आंदोलन किया जाएगा। शहर कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष रवि राय ने कहाकि मंदिर में भस्मार्ती दर्शन के लिए 100 रू. शुल्क समिति पूर्व से ले रही है,ऐसा बताया गया। समिति ऐसा बगैर श्रद्धालुओं को ध्यान में लाए कर रही थी। यह तो आस्था से खिलवाड़ हो रहा है। कांग्रेस कार्यकर्ता इसका खुलकर विरोध करेंगे।

Kolar News

Kolar News 7 September 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में सितम्बर का महीना सूखा बिन रहा है। पिछले कुछ दिनों से मौसम शुष्क बना हुआ है। राजधानी भोपाल में आसमान पूरी तरह से साफ है और तेज धूप निकल रही है। जिसके चलते गर्मी और उमस का अहसास हो रहा है। हालांकि इस बीच प्रदेश वासियों के लिए राहत भरी खबर है। प्रदेश में एक बार फिर बरसात का दौर शुरू होने वाला है। मध्य प्रदेश में मानसून फिर से सक्रिय हो चुका है। मौसम विभाग ने इसके लिए अलर्ट भी जारी कर दिया है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि 5 सितंबर को बंगाल की खाड़ी में एक निम्न जबाव का क्षेत्र बन रहा है, जिससे 6 सिंतबर से राजधानी भोपाल समेत कई जिलों में भारी बारिश की संभावना है। भोपाल समेत इंदौर, होशंगाबाद और उज्जैन संभागों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग का कहना है कि कई जगहों पर गरज चमक के साथ बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने भोपाल, होशंगाबाद, ग्वालियर और चंबल संभाग के जिलों में बिजली गिरने की भी संभावना जाहिर की है। वहीं जबलपुर में बारिश होने की संभावना कम है। यदि जिले में बारिश होती है, तो हल्की बौछारे पड़ सकती हैं।

Kolar News

Kolar News 3 September 2021

उज्जैन। महाकालेश्वर मंदिर में 11 सितंबर से आम श्रद्धालुओं का भस्मार्ती में प्रवेश दिया जाएगा। प्रारंभ में पूरी क्षमता के 50 प्रतिशत संख्या के मान से ऑन लाइन पंजीयन किया जाएगा। 150 व्यक्तियों के लिए ऑफ लाइन प्रवेश पत्र एक दिन पूर्व मंदिर के तय काउटर से पहले आओ,पहले पाओ की तर्ज पर जारी होगा। यह निर्णय शुक्रवार को बृहस्पति भवन में महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष सह कलेक्टर आशीषसिंह की अध्यक्षता में लिया गया। बैठक में प्रशासक नरेंद्र सूर्यवंशी,एसपी सत्येंद्र शुक्ल एवं विनितगिरि जी महाराज उपस्थित थे। जानकारी देते हुए कलेक्टर ने बताया कि सामाजिक दूरी का पालन करते हुए कुल क्षमता के 50 प्रतिशत दर्शनार्थियों को कार्तिकेय एवं गणेश मण्डपम में प्रवेश दिया जायेगा। गर्भगृह एवं नन्दी हॉल में किसी को भी प्रवेश नहीं दिया जायेगा। 7 सितम्बर की प्रात: 10 बजे से भस्म आरती के लिए ऑनलाइन बुकिंग प्रारम्भ होगी। ऑफलाइन 150 व्यक्तियों के लिये प्रवेश पत्र एक दिन पूर्व काउंटर से पहले आओ,पहले पाओ के सिद्धान्त पर जारी किये जायेंगे। ऑनलाइन भस्म आरती के लिये 200 रुपये भेंट राशि जमा करवाना होगी। बैठक में प्रोटोकॉल व्यवस्था सुदृढ़ करने के लिये प्रोटोकॉल से दर्शन करने आने वाले प्रत्येक व्यक्ति से 100 रुपये की भेंट राशि लेने के निर्णय का अनुमोदन किया गया। शीघ्र ही उक्त व्यवस्था लागू करने के निर्देश दिये गये हैं।

Kolar News

Kolar News 3 September 2021

पन्ना। रत्नगर्भा नगरी पन्ना में कब किसकी किस्मत चमक जाए, इस बारे में कोई कुछ नहीं कह सकता। यहां शुक्रवार को फिर एक पेशे से किसान की किस्मत चमक गई। उसे उज्जवल किस्म का 6.472 कैरेट का हीरा मिला, जिसे वह खुशी खुशी हीरा कार्यालय में जमा करा दिया गया। जानकारी के अनुसार जरूआपुर निवासी प्रकाश मजूमदार ने मार्च 2021 में एक हीरा की खदान जरूआपुर में स्वीकृत कराई थी। उसने अपने सहपाठी दिलीप एवं एक अन्य पार्टनर के साथ उक्त खदान को लगाया और उक्त उथली खदान में शुक्रवार को उपरोक्त हीरा उज्जवल किस्म का मिला। एक हीरा व्यापारी के अनुसार उक्त उज्जवल किस्म के हीरे की कीमत लगभग 20 लाख बताई गई है।  

Kolar News

Kolar News 27 August 2021

रतलाम। कोरोना प्रसार में कमी आने तथा गाडियों में यात्रियों की संख्या में लगातार वृद्धि को देखते हुए रतलाम मंडल पर तीन जोड़ी अतिरिक्त यात्री गाडियों का परिचालन पुन: आरंभ किया जा रहा है। इन तीन जोड़ी गाडियों में दो जोड़ी डॉ.अम्बेडकर नगर-रतलाम के मध्य तथा एक जोड़ी ट्रेन डॉ.अम्बेडकर नगर- ओंकारेश्वर रोड के मध्य चलेगी। मंडल रेल प्रवक्ता खेमराज मीना ने शुक्रवार को बताया कि गाड़ी संख्या 09535/09536 डॉ.अम्बेडकर नगर रतलाम डॉ.अम्बेडकर नगर अनारक्षित स्पेशल डेमू- गाड़ी संख्या 09535 डॉ.अम्बेडकर नगर रतलाम स्पेशल डेमू तथा गाड़ी संख्या 09536 रतलाम डॉ.अम्बेडकर नगर स्पेशल डेमू 3 सितम्बर से अगले आदेश तक प्रतिदिन चलेगी। गाड़ी संख्या 09547/09548 डॉ अम्बेडकर नगर -रतलाम-डॉ.अम्बेडकर नगर अनारक्षित स्पेशल डेमू- गाड़ी संख्या 09547 डॉ.अम्बेडकर नगर रतलाम स्पेशल डेमू तथा गाड़ी संख्या 09548 रतलाम डॉ.अम्बेडकर नगर स्पेशल डेमू , 3 सितम्बर से अगले आदेश तक प्रतिदिन चलेगी। गाड़ी संख्या 09174/09173 डॉ अम्बेडकर नगर ओंकारेश्वर डॉ अम्बेडकर नगर अनारक्षित स्पेशल(मीटरगेज) - गाड़ी संख्या 09174 डॉ अम्बेडकर नगर ओंकारेश्वर मीटर गेज स्पेशल 3 सितम्बर से तथा गाड़ी संख्या 09173 ओंकारेश्वर डॉ अम्बेडकर नगर मीटर गेज स्पेशल, 4 सितम्बर से अगले आदेश तक प्रतिदिन चलेगी।  

Kolar News

Kolar News 27 August 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के किसानों के लिए अच्छी खबर है। प्रदेश में अगले कुछ दिनों तक अच्छी बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बन रहा है। जो अगर सक्रिय होता है तो हिमालय की तराई में पहुंचा मानसून ट्रफ भी वापस आ सकता है। जिसके प्रभाव से मध्य प्रदेश में मानसून एक बार फिर मानसून सक्रिय होगा। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि मानसून ट्रफ के दोनों छोर वर्तमान में हिमालय की तराई में हैं। साथ ही मध्य प्रदेश में किसी भी वेदर सिस्टम के सक्रिय नहीं रहने से बारिश की गतिविधियां लगभग थम गई हैं। हालांकि शुक्रवार को बंगाल की खाड़ी में हवा के ऊपरी भाग में एक सिस्टम बन रहा है। इस सिस्टम के सक्रिय होते ही हिमालय की तराई में पहुंच गए मानसून ट्रफ के भी वापस आने की संभावना है। इन दो सिस्टम के प्रभाव से मध्य प्रदेश में एक बार फिर मानसून सक्रिय होगा। शुक्रवार से पूर्वी मप्र में बारिश की गतिविधियों में तेजी आने के आसार हैं। इसके प्रभाव से शुक्रवार से ही पूर्वी मप्र में कहीं-कहीं बारिश होने लगेगी। शनिवार से बारिश की गतिविधियों में तेजी आने लगेगी। 29 अगस्त को भोपाल और आसपास के जिलों में भी वर्षा होने के आसार हैं। इन जिलों में बारिश के आसार मौसम विभाग के मुताबिक शुक्रवार को रीवा और शहडोल संभागों के जिलों में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती हैं। साथ ही सागर, जबलपुर, भोपाल, होशंगाबाद, ग्वालियर एवं चंबल संभागों के जिलों में रिमझिम बारिश हो सकती है। बुरहानपुर, खंडवा, खरगोन, नीमच एवं मंदसौर जिलों में भी कहीं-कहीं बौछारें पडऩे की संभावना है।

Kolar News

Kolar News 27 August 2021

गुना। हफ्ते भर बारिश रुकने और तेज उमस के बाद मंगलवार को सुबह जिले में फिर बारिश शुरू हुई। सुबह कुछ देर तक बारिश होती रही। मौसम विभाग द्वारा हलकी बारिश का अलर्ट भी जारी किया गया है। बारिश होने से तापमान में गिरावट दर्ज की गई, जिसके बाद नागरिकों को उमस और गर्मी से राहत मिली। 10 अगस्त से जिले में बारिश थमी हुई थी। तेज धूप और उमस से नागरिक परेशान हो रहे थे। सोमवार को तापमान 32 डिग्री तक पहुंच गया था। इसके बाद मंगलवार को सुबह बारिश होने से मौसम सुहाना हो गया। सुबह का तापमान 26 डिग्री पर पहुंच गया। अगस्त के पहले हफ्ते में मूसलधार बारिश ने जिले में कहर ढाया था। बमोरी इलाका सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ था। कई दिन तक नदी-नाले उफान पर रहे। शहर में भी लगभग आधा दर्जन कालोनियों में पानी भरने से नुकसान हुआ है। ये कालोनियां तालाब बन गईं थी। जिले में बाढ़ में बह जाने से 6 लोगों की मौत हुई थी। प्रशासन ने प्राथमिक सर्वे के आधार पर लोगों को मुआवजा देना भी शुरू कर दिया है। हालांकि अभी फसलों का सर्वे शुरू नहीं हो पाया है। कई लोगों के खेतों में भारी नुकसान हुआ है। कुछ खेतों की तो मिटटी तक बह गई है। अजरोडा गांव में गिरे 10 घर   अगस्त के पहले हफ्ते में हुई मूसलधार बारिश से बमोरी इलाके के अजरोडा गांव में काफी नुकसान हुआ है। यहां 10 घर पूरी तरह गिर गए। कलेक्टर फ्रैंक नोबल ने सोमवार को अजरोडा गांव पहुंचकर नुकसान की जानकारी ली।अतिवृष्टि से जिन परिवारों के मकान क्षतिग्रस्त या गिर गए थे, कलेक्टर ने उनसे मुलाकात कर उन्हें तसल्ली दी। उन्होंने जीआरएस फूलसिंह मीना से जानकारी ली। इस दौरान बताया गया कि 10 लोगों के मकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हुए हैं, कुछ मकानों में आंशिक क्षति हुई है। 70 व्यक्तियों को 50-50 किलो खाद्यान्न मिल चुका है। करीब 70 परिवारों को राहत राशि उनके खाते में दी जा चुकी है। कलेक्?टर ने ग्रामीणों से बातचीत की। बातचीत के दौरान उन्?होंने राहत के संबंध में दिए गए निर्देशों एवं जिला प्रशासन द्वारा कार्रवाई की जानकारी ली।

Kolar News

Kolar News 17 August 2021

भोपाल। इस गुरुवार यानी 19 अगस्त को आसमान में एक खगोलीय घटना घटने जा रही है। पृथ्वी का सौर परिवार के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति (जुपिटर) से सामना होगा। पृथ्वी इस दिन बृहस्पति (गुरु) और सूर्य के बीच में आ जाएगी। इससे बृहस्पति (गुरु), पृथ्वी और सूर्य तीनों एक सीध में होंगे। इस रात्रि में पृथ्वी और जुपिटर के बीच की दूरी सबसे कम होने के कारण आकाश में गुरु दर्शन होंगे। भोपाल की राष्ट्रीय अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने मंगलवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि सूर्य की परिक्रमा करते हुए पृथ्वी 19 अगस्त को देर रात गुरु और सूर्य के बीच पहुंच रही है। इससे गुरू, पृथ्वी और सूर्य तीनों एक सरल रेखा में होंगे। उन्होंने बताया कि इस खगोलीय घटना को जुपिटर एट अपोजिशन कहते हैं। इस दौरान बृहस्पति ग्रह पृथ्वी से साल की सबसे कम दूरी पर होगा।सारिका ने बताया कि सबसे बड़ा ग्रह होने के कारण वैसे तो गुरु (जुपिटर) चमकदार रहता ही है, लेकिन इस समय सबसे नजदीक होने के कारण यह अलग ही चमकदार दिखाई देगा। पूर्व में उदित होने के बाद आप पूरी रात जुपिटर को देख पाएंगे। मध्य रात्रि में यह ठीक सिर के ऊपर होगा और सुबह-सबेरे यह पश्चिम दिशा में अस्त हो जायेगा।उन्होंने बताया कि गुरुवार, 19 अगस्त की शाम सूर्यास्त के बाद जब आप पूर्व (ईस्ट) में देखेंगे तो सौर परिवार का सबसे बड़ा ग्रह जुपिटर चमक रहा होगा, जबकि पश्चिम (वेस्ट) दिशा में सौर परिवार का सबसे चमकदार ग्रह शुक्र (वीनस) चमक रहा होगा। इसके अलावा, 22 अगस्त को रक्षा बंधन पर पूर्णिमा की शाम चंद्रमा भी जुपिटर के नजदीक दिखेगा।सारिका ने बताया कि अपोजिशन की इस घटना के समय जुपिटर की दूरी लगभग 60 करोड़ किलोमीटर होगी। इस समय इसकी चमक माइनस 2.9 मैग्नीट्यूड होगी। उन्होंने बताया कि पृथ्वी के गुरु और सूर्य के बीच आने की यह खगोलीय घटना लगभग हर 13 माह में होती है। अब यह घटना 27 सितम्बर 2022 को होगी।क्यों खास है यह घटना   सारिका ने बताया कि अपोजिशन की घटना के समय कोई भी ग्रह पृथ्वी से सीध में रहते हुए साल की सबसे कम दूरी पर होता है। इसे पेरिजी कहते हैं। इस कारण ग्रह अपेक्षाकृत बड़ा और अधिक चमकदार दिखता है।  

Kolar News

Kolar News 17 August 2021

अनूपपुर। मध्यप्रदेश स्टेट सामाजिक संपरीक्षा संचालक भोपाल के निर्देश पर ग्राम सामाजिक एनीमेटर(वीएसए) की चिन्हांकित प्रक्रिया की लिखित परीक्षा में पारदर्शिता नहीं बरतने अभ्यर्थियों के प्राप्तांक में कमी-वृद्धि करके अपात्र लोगों का चिन्हांकन की शिकायत की जॉच हेतु गठित समिति के जॉच प्रतिवेदन पर जिला पंचायत अनूपपुर के सामाजिक अंकेक्षण के प्रभारी जिला समन्वयक दीपेन्द्र विश्वास द्वारा लपरवाही, कुटरचित दस्तावेज से जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी के माध्यम से जिला प्रशासन को गुमराह करने पर दीपेन्द्र विश्वास के विरूद्घ अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए शुक्रवार को कलेक्टर सोनिया मीना ने निलंबित कर दिया है। साथ ही जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर तीन दिवस के अन्दर जवाब मांगा है।   कलेक्टर सोनिया मीना ने जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को ग्राम सामाजिक एनिमेटर के चिन्हांकन की प्रक्रिया जिला स्तर से कराए जाने एवं पूर्व में हुए भर्ती प्रक्रिया के प्रभारी अंकेक्षण अधिकारी डी.एन. विश्वास के द्वारा अनियमितता किए जाने के कारण उनके स्थान पर अन्य किसी सक्षम कर्मचारी को प्रभार देते हुए नए सिरे से चयन प्रक्रिया आयोजित कर चिन्हांकित एवं प्रशिक्षित ग्राम सामाजिक एनिमेटर से अंकेक्षण का कार्य कराने के निर्देश दिए हैं  

Kolar News

Kolar News 13 August 2021

उज्जैन। नागपंचमी का पर्व आज (शुक्रवार) को देशभर में मनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश में भी सुबह से श्रद्धालु मंदिरों में पूजन-अर्चन कर भगवान शिव और नाग देवता को प्रसन्न करने में जुटे हुए हैं। उज्जैन स्थित विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर मंदिर के दूसरे तल पर स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर नागपंचमी पर्व पर ही वर्ष में एक बार 24 घण्टे के लिए खुलता है। नाग पंचमी पर नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट गुरुवार देर रात्रि 12 बजे विधि विधान के साथ खुले। इस दौरान महानिर्वाणी पंचायती अखाड़े के महंत विनीत गिरी ने पूजन किया। तत्पश्चात मंदिर प्रशासक नरेंद्र सूर्यवंशी ने शिवलिंग की पूजा की। इसके बाद देर रात से ही भगवान नागचंद्रेश्वर के ऑनलाइन दर्शन शुरू हो गए। नागपंचमी श्रद्धालुओं को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत ऑनलाइन दर्शन कराए जा रहे हैं। नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट रात्रि 12 बजे तक खुले रहेंगे।उल्लेखनीय है कि महाकालेश्वर मंदिर के द्वितीय तल पर नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट वर्ष में एक बार 24 घंटे के लिए केवल नागपंचमी के दिन ही खुलते हैं। मंदिर में 11वीं शताब्दीं की परमारकालीन बलुआ पत्थर से निर्मित एक अद्भुत प्रतिमा स्थापित है। प्रतिमा में शेषनाग स्वयं अपने सात फनों से सुशोभित हो रहे हैं। साथ में शिव पार्वती के दोनों वाहन नंदी एवं सिंह भी विराजित हैं। श्री गणेश की ललितासन, मूर्ति उमा के दांयी ओर श्री कार्तिकेय की मूर्ति एवं ऊपर की ओर सूर्य-चन्द्रमा भी अंकित हैं। भगवान शिव के गले और भुजाओं में सर्प लिपटे हुए हैं। बताया जाता है कि यह प्रतिमा नेपाल से यहां लाई गई थी। मान्यता है कि उज्जैन के अलावा दुनिया में कहीं भी ऐसी प्रतिमा नहीं है। इस प्रतिमा के दर्शन के उपरांत अंदर प्रवेश करने पर नागचंद्रेश्वर की मुख्य प्रतिमा-शिवलिंग के दर्शन होते हैं।हर साल की तरह इस बार भी नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट गुरुवार रात्रि 12 बजे खोल दिये गए। पट खुलने के बाद भगवान नागचंद्रेश्वर की त्रिकाल पूजा हुई। पंचायती महानिर्वाणी अखाडे के महंत विनीत गिरी द्वारा प्रथम पूजन एवं अभिषेक किया गया। इस बार भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन कोरोना गाइडलाइन के मद्देनजर केवल ऑनलाइन ही कराए जा रहे हैं। सामान्य दर्शन प्रतिबंधित है।  

Kolar News

Kolar News 13 August 2021

उज्जैन। देशभर में शुक्रवार को नागपंचमी का पर्व मनाया गया। इस अवसर पर उज्जैन में विश्व प्रसिद्ध भगवान नागचंद्रेश्वर के केवल ऑनलाइन दर्शन हो रहे हैं, लेकिन ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर के दर्शन प्री बुकिंग से कराए जा रहे हैं । दूर-दूर से लोग प्री-बुकिंग करा कर भगवान महाकाल के दर्शन करने के लिए आ रहे हैं । उज्जैन पहुंचे दर्शनार्थियों ने एक स्वर में कहा कि प्रशासन द्वारा की गई प्री बुकिंग दर्शन करवाने की व्यवस्था अत्यंत ही उत्तम है। उन्हें भीड़भाड़ का सामना नहीं करना पड़ा। आसानी से भगवान महाकाल के दर्शन करके घर जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बरेली, महाराष्ट्र के चंद्रपुर एवं प्रदेश के अन्य स्थानों से आए दर्शनार्थी जिला प्रशासन एवं महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति द्वारा की गई व्यवस्थाओं से संतुष्ट नजर आए और सभी ने सुगम दर्शन व्यवस्था के लिए प्रशासन का धन्यवाद ज्ञापित किया।प्रयागराज उत्तर प्रदेश से आये विश्वजीत रमानी ने बताया कि वे अपने साथियों के साथ उज्जैन आये हैं। नाग पंचमी के अवसर पर भगवान शिव के दर्शन सुव्यवस्थित तरीके से मात्र आधे घंटे में हो गये हैं। उन्होंने कहा कि दर्शन बहुत ही अच्छे हुए हैं, इसके लिये प्रशासन को धन्यवाद। इटारसी होशंगाबाद से आई कृतिका चौहान ने बताया कि यहां पर पुलिस व प्रशासन अपनी जिम्मेदारी बहुत ही अच्छे तरीके से निभा रहे हैं। कोरोना काल में बाकायदा मास्क पहनकर और सोशल डिस्टेंसिंग कापालन करते हुए दर्शन करवाये जा रहे हैं। छिंदवाड़ा से आई तनिशा चौहान ने बताया कि मात्र आधे घंटे में उन्हें व उनके परिवार को दर्शन हो गये। चंद्रपुर महाराष्ट्र से आये अनिल साकरिया ने कहा कि कोरोना काल में वे चाहकर भी महाकाल की नगरी में नहीं आ पाये। इस बार अवसर मिला तो अपने साथियों के साथ तुरन्त चले आये। यहां पर शासन की व्यवस्था बहुत अच्छी है और बहुत ही कम समय में दर्शन लाभ मिल रहे हैं। दमोह के भूपेन्द्र माझी ने भी कहा कि कोरोना गाईड लाइन का पालन करते हुए दर्शन सुगमता से हो रहे हैं। मुलताई बैतूल के प्रीतम बंजारे अपने परिवार सहित दर्शन के लिये आये और सुगम दर्शन का सुखद अनुभव लेकर लौटे।दोपहर में हुआ भगवान नागचंद्रेश्वर का पूजन   महाकालेश्वर मंदिर के तृतीय तल पर स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट साल में एक बार नागपंचमी पर 24 घंटे के लिए खुलते हैं। इस बार गुरुवार रात्रि 12 बजे इस मंदिर के पट खुले और पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनितगिरी महाराज द्वारा रात में भगवान नागचंद्रेश्वर का पूजन किया गया। इसके बाद श्रद्धालुओं के भगवान के आनलाइन दर्शन कराए गए। वहीं, शुक्रवार को नागपंचमी के अवसर पर दोपहर 12 भगवान नागचंद्रेश्वर की त्रिकाल पूजा हुई। इस दौरान पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनितगिरी, संभाग आयुक्त संदीप यादव, महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार शुक्ल ने नागचंद्रेश्वर भगवान का पूजन किया।भस्मार्ती नियत समय से प्रारंभ हुई   नाग पंचमी के अवसर पर 13 अगस्त को भगवान महाकालेश्वर की प्रतिदिन होने वाली भस्मार्ती अपने नियत समय पर प्रारंभ हुई। भस्मार्ती में किसी भी प्रकार का विलंब नहीं हुआ। महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं कलेक्टर आशीष सिंह ने बताया कि मंदिर के सीसीटीवी फुटेज से स्पष्ट है कि भस्मार्ती के लिए 12 एवं 13 अगस्त को पट सुबह 3 बजे खुले तथा भस्मी चढ़ाने का कार्य 12 अगस्त को प्रातः 4.31 पर एवं 13 अगस्त 4.20 पर प्रारम्भ हुआ। कतिपय मीडिया में इस प्रकार की खबर चल रही है कि 13 अगस्त को भस्मार्ती आधा घंटा देरी से प्रारंभ हुई। यह सूचना असत्य एवं भ्रामक है।

Kolar News

Kolar News 13 August 2021

भोपाल/उज्जैन। श्रावण मास में श्रद्धालु देवाधिदेव भगवान शिव की आराधना में जुटे हैं। प्रतिदिन श्रद्धालु अलसुबह से शिव मंदिर पहुंचकर भगवान का अभिषेक और पूजन-अर्चन कर रहे हैं। श्रावण मास में नाग पूजा का भी विशेष महत्व रहता है। इसीलिए इस महीने नाग पंचमी का पर्व भी मनाया जाता है। इस बार नाग पंचमी शुक्रवार, 13 अगस्त को हस्त एवं चित्रा नक्षत्र के साथ रवि योग में मनाई जाएगी।ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद गौतम के अनुसार, इस बार नाग पंचमी पर रवि योग, हस्त एवं चित्रा नक्षत्र का संयोग है। उन्होंने बताया कि गुरुवार, 12 अगस्त को हस्त नक्षत्र प्रात: 10.10 बजे से शुरू हो गया है, जो कि 13 अगस्त को प्रात: 9.07 बजे तक रहेगा। वहीं, 12 अगस्त को श्रावण शुक्ल पंचमी अपरान्ह 3.25 से प्रारंभ होकर 13 अगस्त को दोपहर 1.42 बजे तक रहेगी, जबकि 13 अगस्त को रवि योग प्रात: 6.58 से 14 अगस्त की प्रात: 6.57 बजे तक रहेगा। इसी तरह 13 अगस्त को प्रात: 9.07 बजे से चित्रा नक्षत्र प्रारंभ होगा, जो 14 अगस्त को प्रात: 7.57 बजे तक रहेगा।मप्र में उज्जैन स्थित विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर के मंदिर में शिखर तल पर स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर के पट नाग पंचमी पर वर्ष में एक बार खुलते हैं। हर साल नाग पंचमी पर यहां लाखों श्रद्धालु भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन करते हैं। मंदिर के पट 24 घण्टे सतत दर्शन के लिए खुले रहते हैं। इस वर्ष कोविड प्रोटोकाल के कारण मंदिर में भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।उज्जैन कलेक्टर एवं महाकालेश्वर मंदिर समिति के अध्यक्ष आशीष सिंह ने बताया कि नागपंचमी पर्व पर भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन कोरोना गाइडलाइन के मद्देनजर केवल लाईव ऑनलाइन ही हो पाएंगे। सामान्य दर्शन प्रतिबंधित रहेंगे। यह निर्णय पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनीत गिरी महाराज एवं महाकालेश्वर प्रबंध समिति की सहमति से लिया गया है। नागपंचमी के दिन परम्परागत शासकीय पूजन यथावत रहेगा।उन्होंने बताया कि नागपंचमी के दिन भगवान महाकालेश्वर के दर्शन भी प्रीबुकिंग से ही होंगे। अतः नागपंचमी पर्व के अवसर पर भगवान महाकालेश्वर के दर्शन करने आने वाले दर्शनार्थी प्रीबुकिंग करवा कर ही दर्शन के लिये आएं।

Kolar News

Kolar News 12 August 2021

भोपाल। राज्य शासन ने श्योपुर जिले के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक का तबादला करते हुए उनकी नवीन पदस्थापना की है। इस संबंध में रविवार को आदेश जारी किया गया है। सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार, भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्योपुर कलेक्टर राकेश कुमार श्रीवास्तव को स्थानांतरित कर उन्हें मंत्रालय भोपाल में उप सचिव नियुक्त किया गया है। वहीं ग्वालियर नगर पालिक निगम के आयुक्त शिवम वर्मा को श्योपुर कलेक्टर के पद पर पदस्थ किया गया है।इसी प्रकार गृह विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार, भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी श्योपुर पुलिस अधीक्षक सम्पत उपाध्याय को भोपाल पुलिस मुख्यालय में सहायक पुलिस महानिरीक्षक पदस्थ किया है, जबकि उनकी जगह ग्वालियर के सहायक पुलिस महानिरीक्षक (महिला अपराध) अनुराग सुजानिया को श्योपुर जिले में पुलिस अधीक्षक पदस्थ किया गया है।मुख्य नगर पालिक अधिकारी का स्थानांतरण   नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा नगर पालिका परिषद श्योपुर की मुख्य नगरपालिका अधिकारी मिनी अग्रवाल का स्थानांतरण सहायक आयुक्त नगरपालिक निगम ग्वालियर किया गया है। उनके स्थान पर मुख्य नगरपालिका अधिकारी नगर पालिका परिषद हटा बीडी कतरोलिया को मुख्य नगरपालिका अधिकारी नगर पालिका परिषद श्योपुर पदस्थ किया गया है।

Kolar News

Kolar News 8 August 2021

उज्जैन। उज्जैन स्थित विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकाल के मंदिर में स्थित नागचंद्रेश्वर मंदिर में दर्शन के संबंध में जिला प्रशासन द्वारा नई गाइडलाइन जारी कर दी गई है। नागपंचमी पर्व आगामी 13 अगस्त को मनाया जाएगा। इस दौरान भगवान नागचंद्रेश्वर के दर्शन कोरोना गाइडलाइन के मद्देनजर केवल लाइव ऑनलाइन ही हो पाएंगे। सामान्य दर्शन प्रतिबंधित रहेगा। कलेक्टर एवं महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष आशीष सिंह ने रविवार को इस संबंध में बताया कि उक्त निर्णय पंचायती महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनीत गिरी महाराज एवं महाकालेश्वर प्रबंध समिति की सहमति से लिया गया है। नागपंचमी के दिन परम्परागत शासकीय पूजन यथावत रहेगा।नागपंचमी के दिन भगवान श्री महाकालेश्वर के दर्शन भी प्री बुकिंग से ही होंगे। अतः नागपंचमी पर्व के अवसर पर भगवान महाकालेश्वर के दर्शन करने आने वाले दर्शनार्थी प्री बुकिंग करवा कर ही दर्शन के लिए आएं।

Kolar News

Kolar News 8 August 2021

चित्रकूट। श्रावण मास भगवान भोलेनाथ का अतिप्रिय मास होता है। श्रावण मास में महादेव के पूजन का विशेष महत्व होता है। आज यानि रविवार को हरियाली अमावस्या का भी पर्व है। इसीलिए हरियाली अमावस्या पर विशेष तौर पर भगवान भोलेनाथ का पूजन-अर्चन और धर्म-कर्म करने से बड़ा पुण्य मिलता है। इस पवित्र पर्व पर आज लाखों की संख्या में श्रद्धालु तीर्थ नगरी और भगवान श्रीराम की तपोस्थली चित्रकूट पहुंचे जहां मंदाकिनी में आस्था की डुबकी लगाकर कामदगिरि की परिक्रमा कर पुण्यलाभ लिया। आज के दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए व्रत भी रखा जाता है। बता दें कि भगवान भोलेनाथ का श्रावण मास का हर दिन अति महत्वपूर्ण होता है। इसलिए श्रावण माह में शिवालयों में श्रद्धालुओं की भीड़ रहती है क्योंकि इसका हर दिन भगवान शिव की आराधना के लिए समर्पित है। आज श्रावण अमावस्या के दिन किसी पवित्र नदी में स्नान और दान करने से भी बड़ा लाभ मिलता है। अमावस्या के दिन पितरों को खुश करने के लिए पिंडदान, तर्पण, श्राद्ध कर्म किए जाते हैं। हरियाली श्रावण अमावस्या के शुभ मुहूर्त श्रावण अमावस्या तिथि की प्रारंभ – 07 अगस्त 2021 को शनिवार के दिन शाम 07 बजकर 11 मिनट से शुरू होकर 8 अगस्त 2021 को रविवार की शाम 07 बजकर 19 मिनट तक रहेगा। क्या है हरियाली श्रावण अमावस्या का महत्वज्योतिषों के अनुसार श्रावण में शिवरात्रि के बाद अमावस्या का पर्व मनाया जाता है । बतातें है कि इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान ध्यान और दान करने का विशेष महत्व होता है। मान्यता है कि अमावस्या के दिन पौधे लगाने से भी बड़ा पुण्य लिलता है। साथ ही इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए दान, पूजा पाठ, ब्रह्मणों को भोजन आदि कराना चाहिए। पीपल के पेड़ में त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास माना जाता है।

Kolar News

Kolar News 8 August 2021

ग्वालियर/ जबलपुर। सात दिनों से ग्वालियर-चंबल संभाग में कहर बरपा रहा कम दवाब का क्षेत्र अब बुंदेलखंड में खिसक गया है। इससे संभाग में भारी बारिश के आसार नहीं बचे हैं। हलके से मध्यम ही बारिश की संभावना रहेगी। वहीं मानसूनी सिस्टम के कमजोर पडऩे से जबलपुर में पिछले तीन दिनों से झमाझम बारिश नहीं हुई है। हालांकि रुक-रुक कर कभी तेज तो कभी मध्यम बौछारें मानसूनी सीजन का अहसास करा रही हैं। भिंड छोड़ ग्वालियर-चंबल संभाग के सात जिलों में हलकी से मध्यम, तेज बारिश का दौर दो दिन और चलेगा। उसके बाद आसमान साफ हो जाएगा। मौसम विभाग भी ये साफ कर चुका है कि मध्य प्रदेश के उत्तरी-मध्य क्षेत्र में कम दाब का क्षेत्र बन रहा है। लेकिन झमाझम बारिश के आसार कम ही है। इसके असर से जबलपुर संभाग के जिलों में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती है। वर्तमान में मध्य प्रदेश के उत्तरी-मध्य क्षेत्र में निम्न दाब क्षेत्र सक्रिय है। उधर उत्तरी बंगाल की खाड़ी में में अन्य चक्रवातीय परिसंचरण भी सक्रिय है। जबलपुर सहित मध्यप्रदेश के कुछ जिलों में कहीं-कहीं बौछारें पड़ सकती है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि बंगाल की खाड़ी में 28 को कम दवाब का क्षेत्र बनकर आगे बढ़ा था। यह आगे बढ़ते हुए मजबूत होता गया। 1 अगस्त को ग्वालियर चंबल संभाग के ऊपर पहुंच गया। यह सिस्टम यहीं ठहर गया। इस कारण शिवपुरी, श्योपुर, गुना, अशोकनगर, दतिया, भिंड में अति भारी बारिश की। ग्वालियर व मुरैना में भारी बारिश की। शनिवार तक यह सिस्टम ग्वालियर-चंबल के ऊपर सक्रिय रहा। यह कमजोर होकर बुंदेलखंड व उत्तर प्रदेश की ओर शिफ्ट हो गया है। इसके शिफ्ट होने से भारी से अति भारी बारिश की संभावना अब कम हो गई है। इसके शिफ्ट होने से जो भारी अंचल में बाढ़ तबाई मचा रही थी, वह बाढ़ खत्म हो जाएगी। 10 अगस्त के बाद बारिश भी थम जाएगी। मौसम विभाग के अनुसार ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी, श्योपुर, गुना में दो दिनों तक मध्यम बारिश के आसार रहेंगे। 50 मिमी तक ही बारिश दर्ज हो सकती है। कम दवाब का क्षेत्र कमजोर होकर बुंदेलखंड की ओर चला गया है। इसकी ऊंचाइ भी कम हुई है। पंश्चिम बंगाल के पास चक्रवातीय घेरा बना हुआ है। इससे हवा को पर्याप्त नमी मिल रही है। मानसून ट्रफ लाइन कम दवाब व चक्रवातीय घेरे के बीच से होते हुए राजस्थान तक जा रही है। इससे हवा में नमी आ रही है। इस नमी के कारण दो दिनों तक मध्यम बारिश के आसार बने हुए हैं।

Kolar News

Kolar News 8 August 2021

मंदसौर। गांधीसागर अभयारण्य में विगत दो दिनों में 80 चीतल छोड़े गए। यहां घास के मैदान में अनुकूल वातावरण और पशु आहार का संतुलन बनाने के लिए लगातार चीतल छोड़े जा रहे हैं। छह माह पहले शुरू हुए अभियान के बाद से अभी तक यहां 196 चीतल छोड़े जा चुके हैं। इनमें से 132 तो अभी एक माह में ही लाए गए हैं। गांधीसागर अभयारण्य का चयन भी कूनो पालपुर अभयारण्य के साथ चीतों को बसाने के लिए किया गया था। हालांकि अभी प्राथमिकता कूनो पालपुर अभयारण्य को दी जा रही है। पर भविष्य की तैयारियों को लेकर वन विभाग जुटा हुआ है। गांधीसागर अभयारण्य क्षेत्र में घास के बड़े मैदान, छोटे पहाड़, कंदराएं व अन्य भौगोलिक अनुकूलनता के चलते चीते बसाने के लिए यहां का चयन भी देहरादून से आई विशेषज्ञों की टीम ने किया था। पशु आहार संतुलन के लिए राजगढ़ जिले के नरसिंहगढ़ अभयारण्य से लाकर चीतल को गांधीसागर अभयारण्य में बसाया जा रहा है। चीतल एवं चीतों के लिए गांधीसागर अभयारण्य सुरक्षित जगह है। विशेषज्ञों ने चीतों के अनुकूल बताया स्थान एसके अटोले, अधीक्षक, वन विभाग ने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि गेम रेंजर पन्नाालाल रायकवार ने बताया कि पूर्व में शासन स्तर पर अभयारण्य क्षेत्र में देश के प्रख्यात विशेषज्ञों द्वारा भ्रमण के दौरान चीते के लिए यह स्थल अनुकूल एवं सुरक्षित बताया गया था। इसके तहत चीते के मुख्य आहार के लिए चीतल को यहां बसाया जा रहा है। छह माह में अन्यत्र स्थानों से विशेषज्ञों द्वारा चीतलों को पकड़कर विशेष वाहनों द्वारा सुरक्षित रूप से यहां लाया जाता है अभी तक 196 चीतल गांधीसागर अभयारण्य में छोड़े जा चुके हैं।

Kolar News

Kolar News 5 August 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम अंतर्गत 200 से अधिक छात्रों का मध्यान्ह भोजन तैयार करने वाले 2549 स्कूलों में बॉयोगैस संयंत्र स्थापित किये जाएंगे। जनसम्पर्क अधिकारी लक्ष्मण सिंह ने गुरुवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि खाना पकाने के लिये पारम्परिक ईंधनों पर निर्भरता कम करने के लिये पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत वर्ष 2021-22 में 9500 बॉयोगैस संयंत्र लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इनमें 2549 स्कूल भी शामिल हैं। आवश्यकता एवं माँग के अनुसार सामुदायिक, सामूहिक एवं व्यक्तिगत बॉयोगैस संयंत्र स्थापित किये जाएंगे। उल्लेखनीय है कि स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण द्वितीय चरण के अंतर्गत स्वच्छता के लिये व्यापक पैमाने पर काम किया जा रहा है। खाना पकाने के लिये रसोई को भी स्वच्छ एवं धुआँ-रहित बनाने के लिये प्रयास किये जा रहे हैं। इसी क्रम में गैल्वनाइजिंग ऑर्गेनिक बॉयो एग्रो रिसोर्सेस (गोबर धन) परियोजना के तहत बॉयोगैस संयंत्र निर्माण किया जा रहा है। कोविड के दौरान विद्यालय बंद होने के कारण विद्यालय बंद थे। इसलिये प्रत्येक जिले में कम से कम एक गौशाला में तथा 5 से 10 घरों के बीच 20 से 25 सामूहिक बॉयोगैस संयंत्र लगाये जा रहे हैं। जनसम्पर्क अधिकारी के मुताबिक, बॉयोगैस संयंत्रों को बढ़ावा देने के लिये जन-भागीदारी एवं सामाजिक व्यवहार परिवर्तन के लिये भी प्रयास किये जा रहे हैं। इस कार्य में शासकीय एजेंसी के रूप में ऊर्जा विकास निगम तथा एमपी एग्रो से सहयोग लिया जा रहा है। बॉयोगैस संयंत्र के लिये ग्राम पंचायत स्थल चयन कर अनुशंसा सहित प्रस्ताव जनपद पंचायत को प्रेषित करेगी। जनपद से प्रस्ताव जिला पंचायत में पहुँचाये जायेंगे, जहाँ जिला स्तरीय तकनीकी समिति द्वारा परीक्षण उपरांत प्रशासकीय स्वकृति जारी की जायेगी।

Kolar News

Kolar News 5 August 2021

होशंगाबाद। टोक्यो ओलिंपिक में गुरुवार को हुए हॉकी मैच में भारतीय पुरुष हॉकी टीम की जर्मनी पर जीत से पूरे देश में खुशी का वातावरण है। टीम में शामिल मध्यप्रदेश के खिलाड़ी विवेक सागर के होशंगाबाद जिले में स्थित गांव में भी इस जीत पर जमकर जश्न मनाया गया। जर्मनी के साथ मैच में जैसे ही भारत को मैडल मिलने का रास्ता साफ हुआ, भारतीय हॉकी टीम में मध्यप्रदेश से प्रतिनिधित्व कर रहे खिलाड़ी विवेक सागर का होशंगाबाद जिले में स्थित गांव चांदोन खुशी से झूम उठा। जीत के बाद गांव में दीवाली जैसा माहौल बन गया। गांव के युवा, बच्चे, महिलाएं हाथ में तिरंगा लेकर ढोल के साथ झूम उठे। घर पर विवेक के पिता रोहित प्रसाद, मां कमला प्रसाद और भाई विद्यासागर भी जमकर नाचे। पूरा गांव बधाई देने विवेक के घर पर एकत्र हो गया। भारतीय हॉकी टीम की जीत पर उनके पिता इतने खुश थे कि गांव में मिठाई बंटवाने को बाहर आ गए। इधर, जिला हॉकी संघ के सदस्यों ने भी विजय जुलूस निकालकर टीम इंडिया की जीत का जश्न मनाया। विवेक के भाई विद्यासागर ने कहा आज हमारे विवेक ने पूरी दुनिया मे देश का नाम रोशन कर दिया है। वहीं, जिला हाकी संघ के अध्यक्ष प्रशांत जैन ने कहा कि हम विवेक के घर आगमन पर उनके ऐतिहासिक स्वागत की तैयारी कर रहे हैं। संघ के सचिव कन्हैया गुरयानी ने बताया कि सुबह से दिल थामकर पूरे खिलाड़ी और हॉकी प्रेमी मैच देख रहे थे। मैच में भारत की जीत के बाद जश्न मनाने सारे लोग इटारसी के गांधी स्टेडियम आ गए थे। यहां सभी ने एक दूसरे को बधाई दी।

Kolar News

Kolar News 5 August 2021

मुरैना। लगातार हो रही बारिश के कारण जिले में चम्बल, क्वारी, आसन व सांक नदियां उफान पर हैं। सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक चम्बल का जल स्तर लगभग 7 फुट से ऊपर बढ़ गया। हालांकि चम्बल अभी भी खतरे के निशान से 7 मीटर नीचे बह रही है। लगातार पानी बढऩे की संभावनाऐं व्यक्त की जा रहीं हैं। चम्बल का जल स्तर बढऩे से तटीय गांवों में पानी पहुंचने की संभावनाऐं अधिक हैं। लगभग आधा सैकड़ा गांव चम्बल की बांढ़ से प्रभावित होते हैं। मुरैना के राजघाट के आज सुबह 8 बजे चम्बल का जल स्तर 128.70 मीटर पर था। वहीं दोपहर 2 बजे यह जल स्तर 130.80 मीटर पर पहुंच गया। चम्बल में खतरे का निशान 138 मीटर पर हैं। चम्बल में यह पानी मध्यप्रदेश के निमाण तथा राजस्थान के क्षेत्र से बढ़ रहा है। कोटा-बेराज से पानी खोला गया तब खतरे के निशान को पार करने की अधिक संभावनाऐं बन जायेंगी। मुरैना में चम्बल के साथ आसन, सांक नदियां भी उफान पर हैं, लेकिन सबसे ज्यादा क्वारी नदी गांव की ओर तेजी से बढ़ रही है। क्वारी नदी का जल स्तर सबलगढ़ तहसील के रामपुर गांव के पास जमीन से 55 फुट ऊपर पहुंच गया है। रामपुर का शमशान व हनुमान मंदिर पूर्णत: डूबने की कगार पर है। वहीं आधा किलोमीटर की चौड़ाई में बह रही नदी का पानी रामपुर तथा जारोली गांव की ओर धीरे-धीरे बढ़ रहा है। हालांकि पुलिस प्रशासन सडक़ों पर आवागमन बंद करने के लिये बैरीकेटिंग कर दी गई है। जारोली घाट पुल के पांच फुट ऊपर पानी चलने से एक दर्जन से अधिक गांव का सम्पर्क रामपुर, सबलगढ़ से टूट गया है। पुलिस व प्रशासन इस पर निगाह बनाये हुये हैं। क्वारी नदी में यह पानी श्योपुर जिले के विजयपुर क्षेत्र से बीते 24 घंटों में तेज गति के साथ बढ़ा है। इसका असर मुरैना में क्वारी नदी पर हाइवे के पास तक देखा गया है।

Kolar News

Kolar News 2 August 2021

उज्जैन।मध्यप्रदेश पटवारी संघ के आह्वान पर प्रदेशभर के पटवारियों के साथ उज्जैन जिले के पटवारियों का विभिन्न मांगों को लेकर चरणबद्ध आंदोलन चल रहा हैं। इस क्रम में सामूहिक अवकाश पर चल रहे पटवारी मंगलवार को रैली निकालेंगे। मांगे पूरी करने के लिए 10 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी। मध्यप्रदेश पटवारी संघ, उज्जैन जिला इकाई के अध्यक्ष भगवान सिंह यादव ने बताया कि पटवारियों को अपनी अनेक मांगों के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है। शासन के राजस्व विभाग सहित करीब 56 विभागों में अपनी सेवा देने वाले पटवारी कई सुविधाओं से मोहताज है। यादव ने बताया कि पटवारियों की 3 प्रमुख मांगे हैं - पटवारियों का ग्रेड पे 2800 करते हुए समय मान वेतनमान विसंगतियों को दूर किया जाए। मध्यप्रदेश के अनेक पटवारियों की पदस्थापना अपने गृह जिले से 800-800 किलोमीटर दूर हैं। पटवारियों को उनके गृह जिले या गृह जिले के आसपास के जिलों में पदस्थापना दी जाए। नवीन पटवारियों की सीपीसीटी नियम की अनिवार्यता समाप्त की जाए। यादव ने बताया कि पटवारियों की मांगों को लेकर चरण में आंदोलन जारी रहेगा। चरणबद्ध आंदोलन में पटवारियों ने अपने मोबाइल से सभी शासकीय ऐप अनस्टॉल किए । काली पट्टी और काला मास्क लगाकर कार्य किया। भू.अभिलेख विभाग को छोड़कर अन्य सभी कार्यों का बहिष्कार किया। इसके बाद 4 अगस्त तक सभी पटवारी सामूहिक अवकाश पर चले गए हैं। 3 अगस्त को जिला स्तर पर पटवारियों की रैली का आयोजन होगा। 5 अगस्त को वेब पोर्टल, वेबजीआईएस सहित सभी ऑनलाइन कार्यों का बहिष्कार किया जाएगा। इसके बाद भी मांग पूरी नहीं होने पर 10 अगस्त से पटवारी अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे।

Kolar News

Kolar News 2 August 2021

उज्जैन। विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर के मंदिर में श्रावण मास के दूसरे सोमवार को श्रद्धालुओं की भारी उमड़ रही है। सुबह से ही श्रद्धालु बाबा महाकाल के दर्शन कर आशीर्वाद ले रहे हैं। वहीं, श्रावण मास के दूसरे सोमवार को शाम चार बजे भगवान महाकाल की दूसरी सवारी निकलेगी। बाबा महाकाल पालकी में विराजकर प्रजा का हाल जानने निकलेंगे। इस दौरान भगवान दो स्वरूप में श्रद्धालुओं को दर्शन देंगे। पालकी में चंद्रमौलेश्वर सवार होंगे, जबकि हाथी पर मनमहेश विराजित रहेंगे। सावन के दूसरे सोमवार को तड़के भगवान महाकाल की भस्म आरती हुई। इसके बाद मंदिर के पुजारियों ने बाबा महाकाल का भांग, चंदन, फल, वस्र आदि से अलौकिक श्रृंगार किया गया। सुबह सैकड़ों श्रद्धालुओं ने बाबा महाकाल के दर्शन किए और सुख-समृद्धि के साथ-साथ कोरोना के खात्मे का आशीर्वाद मांगा। इसके बाद लगातार श्रद्धालु भगवान महाकाल के दर्शन करने के लिए पहुंच रहे हैं। लगातार हो रही बारिश के बाद भी सुबह 4.00 बजे से श्रद्धालुओं का तांता लगना शुरू हो गया था, जो देर रात तक जारी रहेगा। श्रावण मास में देशभर से हजारों भक्त भगवान महाकाल के दर्शन करने उज्जैन पहुंच रहे हैं। मंदिर प्रशासन भारी भीड़ के मद्देनजर लगातार व्यवस्थाओं में इजाफ कर रहा है। इसे व्यापक रूप दिया गया है। सोमवार को मंदिर के द्वार खुलते ही बाबा का धाम जयकारों से गूंज उठा। शाम को बाबा महाकाल मंदिर प्रांगण से पालकी में सवार होकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे। दो रूपों में दर्शन देंगे महाकाल श्रावण मास के दूसरे सोमवार को शाम चार बजे भगवान महाकाल की दूसरी सवारी निकलेगी। शाम 4 बजे राजसी ठाठ बाट के साथ महाकाल का नगर भ्रमण शुरू होगा। अवंतिकानाथ चांदी की पालकी में चंद्रमौलेश्वर तथा मनमहेश रूप में हाथी पर सवार होकर भक्तों को दर्शन देंगे। निर्धारित मार्ग से होकर सवारी मोक्षदायिनी शिप्रा के रामघाट पहुंचेगी। रास्ते में हरसिद्धि मंदिर पर शिव शक्ति का मिलन कराया जाएगा। हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते सवारी मार्ग पर भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। सवारी का ऑनलाइन प्रसारण मंदिर के पोर्टल पर, वेब साइट पर, एप पर होगा। इसे विश्व में घरों में बैठकर देखा जा सकता है। मंदिर के शासकीय पुजारी पं. घनश्याम शर्मा ने बताया कि बाबा महाकाल दूसरी सवारी में प्रजा को चंद्रमौलेश्वर स्वरूप में दर्शन देंगे। पालकी का पूजन अपराह्न 4 बजे कोटि तीर्थ के समीप सभामण्डप में होगा और बाबा महाकाल के मुघौटे को पालकी में विराजित किया जाएगा। इसके बाद पालकी को मंदिर के मुख्य द्वार पर लाया जाएगा। यहां बाबा महाकाल को सिंघिया रियासत के समय से चली आ रही परंपरान्तर्गत सशस्त्र सलामी दी जाएगी। पश्चात बाबा महाकाल पुलिस बैण्ड की सुमधुर धुन पर प्रजा का हाल जानने के लिए नगर भ्रमण पर निकलेंगे। प्रदेश सरकार ने कोविड प्रोटोकाल 10 अगस्त बढ़ा दिया है। ऐसे में कोविड-19 अनुकूल व्यवहार के चलते सवारी छोटे मार्ग से निकलेगी और सवारी मार्ग पर धारा-144 लागू रहेगी। आम जनता का प्रवेश सवारी मार्ग पर प्रतिबंधित रहेगा। सवारी मार्ग के दोनों ओर क्रास रोड पर बेरीकेड्स लगे रहेंगे। गत सवारी में जिस प्रकार से अव्यवस्था देखने में आई थी। उसे देखते हुए इस बार कलेक्टर आशीष सिंह ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि सवारी में केवल अनुमति प्राप्त पास धारक लोगों को ही प्रवेश दिया जाएगा। पण्डे, पुरोहितों की संख्या भी चिह्नित रहेगी।  

Kolar News

Kolar News 2 August 2021

उमरिया। कभी रीवा रियासत की शिकारगाह रहा बांधवगढ़ आज देश में बाघ संरक्षण की मिसाल बन गया है। साल 2018 की बाघ गणना ने इस पर मुहर लगाने का काम किया। बांधवगढ़ 124 बाघों के साथ पूरे मध्यभारत का सिरमौर बना हुआ है। 2022 की गणना में भी प्रदेश को बांधवगढ़ से काफी उम्मीदें हैं। हालांकि 1536 वर्ग किमी. में इनका रहवास भी चुनौतीपूर्ण काम है। साथ ही पिछले पांच साल में औसतन पांच बाघ व शावक आपसी संघर्ष में मारे जा रहे हैं। बता दें कि मध्यप्रदेश में कुल 526 बाघ हैं। अकेले बांधवगढ़ में सर्वाधिक 124, कान्हा में 104, पेंच में 87, सतपुड़ा में 47, पन्ना में 31, संजय धुबरी में 6 घोषित किए गए हैं। आईआईएफ संस्था के अध्ययन में पाया गया कि एक सीजन में यहां पर्यटन से जुड़े कारोबार में 100 करोड़ रुपये से अधिक का बाहरी निवेश खर्च होता है। इसका कुछ अंश बाघ सुरक्षा व जंगल के विकास में लगता है।बांधवगढ़ में बाघों के रहवास के लिए अनुकूल परिस्थितियों के कारण बाघ लगातार बढ़े हैं। अच्छी खबर यह भी है कि नई पीढ़ी के वयस्क भी अब नई गिनती में शामिल होंगे। इसके अलावा शावकों में 3 से 12 माह आयु के 41 शावकों की पुष्टि मई माह में की गई थी। इनमें 10 शावक तीन माह से कम उम्र के थे। वाइल्ड लाइफ के अनुसार एक वयस्क बाघ तीन साल की आयु के बाद गिना जाता है। सालभर वह अपनी मां व भाइयों के साथ एक टैरेटरी में रहता है। इस आयु वर्ग वाले कल्लावाह परिक्षेत्र में चार शावक, ताला में बाघिन टी-17 के 4-5, पतौर में 12 शावक, धमोखर 4, पनपथा बफर में 2, पनपथा कोर परिक्षेत्र में 2, मानपुर में 2, मगधी में 5 तथा खितौली परिक्षेत्र में 4 शावक अपने कुनबे के साथ तैयार हैं।बांधवगढ़ के 1536 वर्ग किमी. के भीतर 716 वर्ग किमी. कोर क्षेत्र है। इसमें से 10 गांव विस्थापित होने हैं। 1329 वर्ग किमी. राजस्व क्षेत्र है। आबादी खाली होने से 207 वर्ग किमी में घास मैदान विकसित होंगे। बांधवगढ़ से ब्यौहारी, संजय धुबरी कॉरीडोर में पानी, भोजन के लिए कार्बेट फाउण्डेशन व लास्ट विल्डरनेस संस्थाएं जागरूकता के साथ रूट दुरूस्त कर रही हैं। आसानी से बाघ संजय धुबरी व शहडोल में मूवमेंट कर रहे हैं।बांधवगढ़ में 820 वर्ग किमी. का क्षेत्र बफर में है। इसके अलावा 1030 वर्ग किमी. इको सेंसटिव जोन के रूप में नोटिफिकेशन हुआ है। यहां कुछ गतिविधियां प्रतिबंधित होंगी। इससे कारीडोर में पक्के निर्माण पर पूर्णतः प्रतिबंध लगेगा। शासकीय भूमि पर अतिक्रमण नहीं हो सकेगा।बांधवगढ़ बघेल राजवंशों के शासन काल में शिकारगाह के रूप में जाना जाता था। टाइगर रिजर्व बनने के पूर्व यहां करीब सौ बाघों का शिकार हुआ। 1968 के पूर्व आईएएस अफसरों की एक टीम ने इस क्षेत्र का निरीक्षण किया था। तब इसे टाइगर रिजर्व बनाने की कार्रवाई हुई। साल 1968 में 105 वर्ग किमी. ताला रिजर्व फारेस्ट टाईगर रिजर्व के रूप में नोटिफाई किया गया। वर्ष 1982 में 343 वर्ग किमी. का क्षेत्र उमरिया व कटनी फारेस्ट जोड़ा गया। फिर, 1983 में 245 वर्ग किमी. पनपथा सेंचुरी नोटिफाई की गई। 1993 को भारत सरकार ने टाइगर रिजर्व को प्रोजेक्ट टाइगर से रूप में घोषित किया। वर्ष 2007 में कोर एरिया 716.905 व बफर 820.035 वर्ग किमी घोषित हुआ। फिर 2013 में कोर के साथ बफर को पार्क क्षेत्र संचालक के अधीन किया गया। वर्ष 2014 में यहां 100 से कम बाघ थे। 2018 की गणना में 124 मिले। इनमें 104 बांधवगढ़ व 20 आसपास विचरण वाले थे।बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के क्षेत्र संचालक विन्सेंट रहीम ने गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस के मौके पर बताया कि बांधवगढ़ बाघों के लिए सुरक्षित रहवास के रूप में पहचान बना चुका है। इसका उदाहरण यहां मध्यभारत में सर्वाधिक बाघ संख्या 124 का होना है। सुरक्षित रहवास के लिए कॉरीडोर विस्तार व कोर एरिया से विस्थापन से मदद मिली है। अब अप्रैल माह से विस्थापन नियमों में राशि 10 लाख से बढ़ाकर 15 लाख कर दी गई है। इससे शेष 10 गांव के लोगों को विस्थापन करने जनप्रतिनिधियों के साथ प्रयास जारी हैं।

Kolar News

Kolar News 29 July 2021

भोपाल। कोविड टीकाकरण में मध्यप्रदेश ने जुलाई माह में एक करोड़ एक लाख 34 हजार कोविड टीके लगाने का नया रिकार्ड बनाया है। एनएचएम (टीकाकरण) संचालक डॉ. संतोष शुक्ला ने गुरुवार को बताया कि प्रदेश में जुलाई माह में एक करोड़ 3 लाख 12 हजार 444 कोविड टीके लगाये गये। इनमें 77 लाख 16 हजार 191 व्यक्तियों को पहली डोज और 25 लाख 96 हजार 253 व्यक्तियों को दूसरी डोज लगाई गई है। उन्होंने बताया कि टीकाकरण अभियान में 2 करोड़ 45 लाख 63 हजार 181 व्यक्तियों को पहली डोज लगाकर प्रदेश देश में तीसरे स्थान पर और 48 लाख 94 हजार 469 दूसरी डोज लगाकर 9वें स्थान पर है।  

Kolar News

Kolar News 29 July 2021

पन्ना। पन्ना टाईगर रिजर्व में 3 माह पूर्व बाघिन पी-213-32 की मौत के बाद 4 शावक अनाथ हो गए थे, जंगल की विषम परिस्थितियों में शिकार करना जीवित रहना बहुत कठिन था पर प्राकृतिक व्यवहार से विपरीत पिता बाघ पी- 243 ने इन बच्चों की देखभाल की और अब इन बच्चों की परवरिश तो करता ही है इन 4 शावकों केा शिकार खेलना भी सिखा दिया है। जंगल में झाड़ियों के बीच शिकार खाते शावक, शिकार करते शावकों और जंगल में घूमते हुए शावकों का एक खूबसूरत का वीडियो सामने आया है। इस वीडियो के सामने आने के बाद टाईगर रिजर्व प्रबंधन ने राहत की सांस ली है। रिजर्व के लिए संतोष की बात यह है कि चारों अनाथ शावक सुरक्षित पाए गए हैं और स्वयं शिकार करने लगे हैं। टाईगर रिजर्व प्रबंधन का कहना है कि जंगल में बिना मां के छोटे शावकों का सुरक्षित रहना बहुत मुश्किल होता है। ऐसे में अगर इन शावकों का पिता इनकी परवरिश कर रहा है, तो यह एक शुभ संकेत है। इस पर रिसर्च किया जा रहा है। ज्ञात हो 2009 में पन्ना टाईगर रिजर्व बाघ विहीन हो गया था। बाहर से लाकर 5 नर और मादा टाईगर यहां बसाए गए थे। जिसके बाद अब यहां बाघों की संख्या 70 से अधिक हो गई है।

Kolar News

Kolar News 29 July 2021

उज्जैन।जिला अस्पताल में अभी भी ब्लेक फंगस के मरीज उपचार के लिए आ रहे हैं। औसत दो दिन में एक मरीज आ ही रहा है। इनमें वे मरीज जिनको मल्टी आर्गन इन्वाल्वमेंट (सायनेस,ऑंख,मस्तिष्क आदि) है,उन्हें आर डी गार्डी मेडिकल कॉलेज रैफर किया जाता है। वहां मरीज को नहीं लेने के कारण पुन: एम व्हाय इंदौर भेजा जाता है। ऐसे में मरीज और उसके परिजन परेशान हो रहे हैं। सिविल सर्जन डॉ.पी.एन.वर्मा के अनुसार ब्लेक फंगस के मरीजों की संख्या में कमी आई है लेकिन मरीजों का उपचार के लिए आना बंद नहीं हुआ है। यह बीमारी लम्बे समय रुकने के बाद अचानक से उभर रही है। उन्होंने बताया कि अभी भी औसत दो दिन में एक मरीज उपचार के लिए जिला अस्पताल आ रहा है। यहां राज्य शासन द्वारा नि:शुल्क उपचार दिया जा रहा है,जिसमें एम्फोटेरेसिन-बी इंजेक्शन भी शामिल है। उन्होंने बताया कि जो मरीज आ रहे हैं,उनमें से सप्ताह में ऐसे केस भी आ रहे हैं,जिन्हें सायनेस,ऑंखों और मस्तिष्क तक संक्रमण फैला रहता है। यह शोध का विषय है कि घर में रहते हुए ब्लेक फंगस का होना और एकदम से उसका एक से अधिक अंगों तक फेल जाना कैसे हो रहा है? डॉ.वर्मा के अनुसार ऐसे मरीजों को आर डी गार्डी मेडिकल कॉलेज भेजा जाता है,ताकि यहां रहनेवाले लोग अपने परिजन का उपचार यहीं करवा लें। लेकिन वहां मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। कहा जाता है कि उपचार के रुपये लगेेंगे। ऐसे में हम मरीजों को दोबारा से एम व्हाय,इंदौर में रैफर करते हैं। उपचार तो नि:शुल्क है किंतु दवाईयां खरीदना होगी: डॉ.वैद्य इस संबंध में चर्चा करने पर आर डी गार्डी मेडिकल कॉलेज के ईएनटी विभाग प्रमुख डॉ.सुधाकर वैद्य का कहना है कि ऐसा नहीं है। बात को गलत तरीके से पेश किया जा रहा है। शासन ने पूर्व में ब्लेक फंगस का उपचार नि:शुल्क करवाया था। बाद में अनुबंध समाप्त हो गया। अब उपचार तो नि:शुल्क हो रहा है लेकिन जांच,दवाई आदि के रुपये तो खर्च करना ही होंगे। मरीज यह भी खर्च नहीं करना चाहता है। ऐसे में हम कैसे उपचार करें? यही कारण है कि जिला अस्पताल से एम व्हाय,इंदौर भेजा जाता है। क्योंकि वहां पर दवाईयां,इंजेक्शन भी नि:शुल्क लगते हैं।  

Kolar News

Kolar News 28 July 2021

उज्जैन।श्रावण मास में महाकाल मंदिर में दर्शनार्थियों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। अभी पूरा श्रावण मास शेष है। इस बीच समीपस्थ प्रदेशों से भी श्रद्धालुओं की आवक बढ़ गई है। इन सबको लेकर शहर के चिकित्सकों का कहना है कि यदि समय रहते कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन नहीं करवाया गया तो शहर में संक्रमण एकदम से फैलेगा,जो संभलेगा नहीं। श्रावण मास में बाहरी श्रद्धालुओं के आगमन के चलते गत वर्ष महाकाल मंदिर के पण्डे,पुरोहितों के परिवार चपेट में आ गए थे। कुछ का गंभीर अवस्था में शा.माधवनगर एवं इंदौर के निजी अस्पतालों में उपचार चलता रहा। इस वर्ष श्रावण मास आरंभ होते ही हजारों श्रद्धालु महाकाल मंदिर दर्शन करने के लिए आ रहे हैं। मंदिर प्रशासन भले ही ऑन लाइन पंजीयन को अनिवार्य कर दे लेकिन ऐसे सैकड़ों श्रद्धालु दो दिनों से शहर में हैं,जिन्होने शिखर दर्शन किए और शहर में घूम रहे हैं। उनको कोरोनारोधी वैक्सीन लगी या नहीं,आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव्ह है या नहीं, यह देखनेवाला कोई नहीं है। इन स्थितियों के बीच मंदिर के पण्डे,पुरेाहित,कर्मचारी और व्यापारी आदि प्रभावित हो सकते हैं। इनका कहना है इस संबंध में चर्चा करने पर सीएमएचओ डॉ.महावीर खण्डेलवाल,नोडल अधिकारी डॉ.एच.पी.सोनानिया ने बताया कि कोरोना संक्रमण अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। यह नियंत्रण में है। अत: यह आवश्यक है कि बाहर से आनेवाले श्रद्धालुओं की जांच को लेकर सख्ती होना चाहिए। खासकर महाराष्ट्र से आनेवाले श्रद्धालुओं की विशेष जांच होना चाहिए,ताकि संक्रमण अपने शहर में पैर न पसारे। अन्यथा यदि एक बार यह फैला तो पुन: पूर्व की स्थिति निर्मित होने की आशंका बनी रहेगी।  

Kolar News

Kolar News 28 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से ग्वालियर-चंबल संभाग की स्थिति बिगड़ गई है। यहां पर चंबल, पार्वती, टेम, कूनो और सिंध नदियां उफान पर हैं। गुना, शिवपुरी, श्योपुर, मुरैना और भिंड के कई गांव बाढ़ से घिर गए हैं। नदियों का पानी पुल पर आने से रास्ते बंद हो गए हैं। गुना में सडक़ बह गई। भोपाल और इंदौर में हल्की बारिश हो रही है। जबलपुर में गुरुवार को बरगी डैम के गेट खुल सकते हैं। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इस सिस्टम के बुधवार को गहरा कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील होने की संभावना है। पूर्वी उत्तरप्रदेश पर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है। मानसून ट्रफ भी उत्तरप्रदेश से होकर गुजर रहा है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक अभी चार-पांच दिन तक पूरे प्रदेश में रुक-रुक जारी रहने की संभावना है। बुधवार-गुरुवार को सागर, रीवा संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा होने के आसार हैं। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। मानसून ट्रफ अपनी सामान्य स्थिति में है और उत्तर प्रदेश से होकर बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। पूर्वी उप्र पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। दक्षिण-पूर्वी राजस्थान पर एक चक्रवात बना हुआ है। उत्तरी पाकिस्तान पर भी एक चक्रवात बना हुआ है। इन पांच वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने से प्रदेश में बारिश का सिलसिला अभी चार-पांच दिन तक बना रहने की संभावना है। बुधवार को श्यौपुरकला, मुरैना, भिंड, दतिया, गुना, ग्वालियर, शिवपुरी, अशोकनगर जिलों में तेज बौछारें पड़ सकती हैं। रीवा, सागर, जबलपुर, शहडोल, संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन, इंदौर संभाग के जिलों में अधिकांश स्थानों पर बौछारें पडऩे के आसार हैं। मौसम विभाग ने गुना, ग्वालियर, शिवपुरी सहित 8 जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं, नीमच, मंदसौर, विदिशा, छतरपुर सहित 10 जिलों में भारी बारिश के साथ बिजली गिरने का यलो अलर्ट जारी किया गया है। भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन संभाग के अन्य जिलों में रिमझिम बारिश की संभावना भी जताई है। वहीं, मौसम एक्सपर्ट का कहना है कि इस सप्ताह तो पूरे प्रदेश को बारिश मिलती रहेगी। बंगाल की खाड़ी में फिर से एक सिस्टम एक्टिव हो रहा है। इस कारण 2 से 5 अगस्त तक प्रदेश फिर से जमकर भीगेगा। ऑरेंज अलर्ट : श्योपुर, मुरैना, भिंड, दतिया, गुना, ग्वालियर, शिवपुरी और अशोकनगर। यलो अलर्ट : राजगढ़, आगर, नीमच, मंदसौर, विदिशा, छतरपुर, बालाघाट, पन्ना, शहडोल और टीकमगढ़।

Kolar News

Kolar News 28 July 2021

भोपाल। कोरोना के खतरे के बावजूद लोगों की आस्था पर असर नहीं पड़ा है। हालांकि मंदिरों में कोरोना गाइडलाइन पर अमल का प्रयास किया गया था। इसके बावजूद प्रदेश के शिवालयों में दर्शन और पूजन के लिए जमकर भीड़ उमड़ी। उज्जैन में तो भगवान महाकाल के दर्शन के लिए इतनी भीड़ उमड़ी की मंदिर प्रबंधन को सुबह 11 बजे से भगवान महाकाल के दरवाजे सभी के लिए खोलना पड़े। उज्जैन: नहीं चल पाई प्री बुकिंग की व्यवस्था उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर में कोरोना महामारी के कारण सावन महीने में प्री-बुकिंग पर सिर्फ 5,000 लोगों को प्रवेश देना तय हुआ था, लेकिन सावन के पहले सोमवार पर महाकाल मंदिर के बाहर उमड़ी भक्तों की भीड़ देखकर सबके लिए प्रवेश सुबह 11 बजे तक के लिए फ्री कर दिया गया। सुबह 11 बजे तक 10 हजार से ज्यादा श्रद्धालु महाकाल के दर्शन कर चुके थे। इसके बाद मंदिर में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद कर दिया गया। शाम 4 बजे महाकाल की सवारी निकलेगी, जो वापस मंदिर 6 बजे आएगी। शाम 7 से 9 बजे तक श्रद्धालु फिर से दर्शन कर सकेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी आज महाकाल दर्शन के लिए पहुंचेंगे।   खंडवा: भगवान ओंकारेश्वर की सवारी निकलेगी सावन के चारों रविवार और चारों सोमवार को टोकन बुकिंग के माध्यम से ही भक्तों को ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा। आज भगवान ओंकारेश्वर की पहली सवारी निकलेगी। सावन के दूसरे सोमवार को ओंकार भगवान का महाश्रृ्ंगार किया जाएगा। तीसरे सोमवार को 251 लीटर पंचामृत से कोटितीर्थ घाट पर वैदिक विद्वानों की उपस्थिति में महाभिषेक होगा। मंदसौर: बाहर से हो रहे भगवान पशुपतिनाथ के दर्शन कोरोना के चलते मंदसौर के पशुपतिनाथ मंदिर में इस साल भी धार्मिक आयोजन नहीं होंगे। सावन के पहले सोमवार को भक्त गर्भगृह के बाहर से ही दर्शन कर रहे हैं। एक समय में 5-10 लोगों को ही प्रवेश दिया जा रहा है। भगवान की पूजा और अभिषेक मंदिर के पुजारी कर रहे हैं। जलाभिषेक की व्यवस्था बंद है। भोग प्रसादी मंदिर प्रबंधन की ओर से किया जा रहा है। मंदिर में प्रवेश से पहले भक्तों की थर्मल स्क्रीनिंग भी की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 26 July 2021

भोपाल। कोरोना के खतरे के बावजूद लोगों की आस्था पर असर नहीं पड़ा है। हालांकि मंदिरों में कोरोना गाइडलाइन पर अमल का प्रयास किया गया था। इसके बावजूद प्रदेश के शिवालयों में दर्शन और पूजन के लिए जमकर भीड़ उमड़ी। उज्जैन में तो भगवान महाकाल के दर्शन के लिए इतनी भीड़ उमड़ी की मंदिर प्रबंधन को सुबह 11 बजे से भगवान महाकाल के दरवाजे सभी के लिए खोलना पड़े। उज्जैन: नहीं चल पाई प्री बुकिंग की व्यवस्था उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर में कोरोना महामारी के कारण सावन महीने में प्री-बुकिंग पर सिर्फ 5,000 लोगों को प्रवेश देना तय हुआ था, लेकिन सावन के पहले सोमवार पर महाकाल मंदिर के बाहर उमड़ी भक्तों की भीड़ देखकर सबके लिए प्रवेश सुबह 11 बजे तक के लिए फ्री कर दिया गया। सुबह 11 बजे तक 10 हजार से ज्यादा श्रद्धालु महाकाल के दर्शन कर चुके थे। इसके बाद मंदिर में श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद कर दिया गया। शाम 4 बजे महाकाल की सवारी निकलेगी, जो वापस मंदिर 6 बजे आएगी। शाम 7 से 9 बजे तक श्रद्धालु फिर से दर्शन कर सकेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी आज महाकाल दर्शन के लिए पहुंचेंगे।   खंडवा: भगवान ओंकारेश्वर की सवारी निकलेगी सावन के चारों रविवार और चारों सोमवार को टोकन बुकिंग के माध्यम से ही भक्तों को ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा। आज भगवान ओंकारेश्वर की पहली सवारी निकलेगी। सावन के दूसरे सोमवार को ओंकार भगवान का महाश्रृ्ंगार किया जाएगा। तीसरे सोमवार को 251 लीटर पंचामृत से कोटितीर्थ घाट पर वैदिक विद्वानों की उपस्थिति में महाभिषेक होगा। मंदसौर: बाहर से हो रहे भगवान पशुपतिनाथ के दर्शन कोरोना के चलते मंदसौर के पशुपतिनाथ मंदिर में इस साल भी धार्मिक आयोजन नहीं होंगे। सावन के पहले सोमवार को भक्त गर्भगृह के बाहर से ही दर्शन कर रहे हैं। एक समय में 5-10 लोगों को ही प्रवेश दिया जा रहा है। भगवान की पूजा और अभिषेक मंदिर के पुजारी कर रहे हैं। जलाभिषेक की व्यवस्था बंद है। भोग प्रसादी मंदिर प्रबंधन की ओर से किया जा रहा है। मंदिर में प्रवेश से पहले भक्तों की थर्मल स्क्रीनिंग भी की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 26 July 2021

उज्जैन। उज्जैन स्थित विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर मंदिर में आज श्रावण माह के प्रथम सोमवार को दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ लगी हुई है। सुबह से ही भगवान महाकाल का आशीर्वाद पाने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु मंदिर पहुंच रहे हैं। श्रावण सोमवार होने के कारण बाबा महाकाल का विशेष श्रृंगार किया गया है। उन्हें दुल्हें की तरह सजाया गया और श्रद्धालु उनके इस स्वरूप का दर्शन लाभ ले रहे हैं। वहीं, आज शाम को भगवान महाकाल प्रजा का हालचाल जानने के लिए नगर भ्रमण पर निकलेंगे। कोरोना संक्रमण के चलते लम्बे समय से महाकालेश्वर मंदिर में श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित था, लेकिन पिछले महीने 28 जून से यहां कोरोना गाइडलाइन के प्रोटोकाल के तहत यहां दर्शन शुरू हुए हैं। श्रावण मास में भगवान महाकाल के दर्शन के लिए लाखों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। सोमवार को यहां इसकी झलक देखने को मिली। सुबह से ही मंदिर में भीड़ उमड़ रही है। भीड़ को देखते हुए श्रावण मास में भगवान महाकाल के दर्शन के लिए व्यवस्था में बदलाव किया गया है। उज्जैन कलेक्टर एवं महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष आशीष सिंह ने रविवार को बताया कि श्रावण एवं भादौ मास में प्री-बुकिंग से सामान्य दर्शन का समय दो घटे बढ़ा दिया गया है। अब श्रावण में सोमवार को छोड़कर प्रातः 5 बजे से रात्रि 9 बजे तक प्री-बुकिंग से भगवान महाकाल के दर्शन एवं विशेष दर्शन हो सकेंगे। वहीं, श्रावण में प्रत्येक सोमवार को सुबह 5 बजे से 11 बजे तक एवं शाम 7 से रात्रि 9 बजे तक प्री-बुकिंग से ही दर्शन होंगे। इस अवधि में 250 रुपये वाले विशेष दर्शन बंद रहेंगे। वहीं, श्रावण-भादौ मास में निकलने वाली सवारियों के क्रम में भगवान महाकाल की पहली सवारी आज शाम निकाली जाएगी। शाम 4 बजे शाही ठाठ के साथ राजाधिराज नगर भ्रमण पर निकलेंगे। बाबा महाकाल मनमहेश रूप में प्रजा को दर्शन देंगे। सवारी मंदिर से शाम 4.00 बजे शुरू होकर रामघाट जाएगी और वहां से पूजन पश्चात पुन: मंदिर पहुंचेगी। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सवारी मार्गों पर भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। मंदिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष आशीष सिंह ने बताया कि कोविड-19 प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए इस बार भी गत वर्ष की तरह छोटे मार्ग से बाबा महाकाल की सवारी लाव लश्कर के साथ निकलेगी। नगर भ्रमण के निकलने के पूर्व दोपहर 3.30 बजे सभामंडप में विधिवत पूजन होगा। इसके पश्चात शाम 4.00 बजे भगवान पालकी में विराजित होकर प्रजा को दर्शन देने नगर भ्रमण हेतु प्रस्थान करेंगे। मुख्य द्वार पर सशस्त्र पुलिस बल के जवानों द्वारा भगवान को सशस्त्र सलामी दी जायेगी। सवारी बडा गणेश मंदिर के सामने से होते हुए हरसिद्धि मंदिर के समीप से नृसिंह घाट रोड पर सिद्ध आश्रम के सामने से होते हुए क्षिप्रातट, रामघाट पहुंचेगी। रामघाट पर मां क्षिप्रा के जल से बाबा के अभिषेक.पूजन पश्चात सवारी रामानुजकोट,हरसिद्धी पाल से हरसिद्धी मंदिर के सामने से होकर बडा गणेश मंदिर के सामने से होते हुए महाकालेश्वर मंदिर वापस आएगी।  

Kolar News

Kolar News 26 July 2021

रतलाम। यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए, रतलाम मंडल से होकर परिचालित की जा रही गाड़ी संख्या 02134/02133 जबलपुर बान्द्रा टर्मिनस जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस के फेरे को पुन: विस्तारित किया जा रहा है। मंडल रेल प्रवक्ता जितेन्द्र कुमार जयंत गुरुवार को बताया कि गाड़ी संख्या 02134 जबलपुर बान्द्रा टर्मिनस स्पेशल एक्सप्रेस, 31 दिसम्बर तक जबलपुर से प्रति शुक्रवार को तथा गाड़ी संख्या 02133 बान्द्रा टर्मिनस जबलपुर स्पेशल एक्सप्रेस 1 जनवरी 2022 तक बान्द्रा टर्मिनस से प्रति शनिवार को चलेगी। इस ट्रेन के आगमन/प्रस्थान समय, ठहराव, कोच कंपोजिशन में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है।  

Kolar News

Kolar News 22 July 2021

उज्जैन। विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर की नगरी उज्जैन में श्रावण मास में दूर-दूर से कावड़ यात्राएं आती हैं। यहां देशभर से कांवड़िये विभिन्न नदियों से पवित्र जल लाकर भगवान महाकाल को अर्पित करते हैं, लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के चलते यहां कांवड़ यात्रा नहीं निकलेगी। कावड़ यात्रा निकालने पर जिले की राजस्व सीमा में प्रतिबंध लगा दिया गया है। इस संबंध में अपर जिला दण्डाधिकारी नरेन्द्र सूर्यवंशी द्वारा आदेश जारी किये गये हैं। अपर कलेक्टर नरेन्द्र सूर्यवंशी ने गुरुवार को बताया कि कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी आशीष सिंह के निर्देशानुसार भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत आदेश जारी कर उज्जैन जिले की राजस्व सीमाओं में श्रावण मास में निकलने वाली कांवड़ यात्रा पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है। इसके साथ ही सभी धार्मिक आयोजनों में निर्धारित संख्या से अधिक लोगों का एकत्रित होना भी प्रतिबंधित किया गया है। धारा 144 के तहत पूर्व में जारी समस्त आदेश यथावत लागू रहेंगे। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गए हैं। इस आदेश के उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Kolar News

Kolar News 22 July 2021

भोपाल/ सिवनी। मध्यप्रदेश के सिवनी जिले के पेंच नेशनल पार्क से 13 जुलाई को घायल अवस्था में उपचार के लिये वन विहार भोपाल लाया गया टी-11 बाघ (रैयाकस्सा बाघ) जिसकी गर्दन और पीठ में गंभीर घाव थे। 8 दिन चले इलाज के बाद बाघ ने दम तोड़ दिया है। वन विहार के पशु चिकित्सक डॉ . रजत कुलकर्णी एवं राज्य पशु भोपाल के डॉ . एमके तुमड़िया ने बताया की नर बाघ खवासा परिक्षेत्र स्थित बाज रिसोर्ट परिसर में घायल अवस्था में मिला था। जिसे उपचार के लिए वन विहार भोपाल गया था। मंगलवार को वन विहार भोपाल में उपचार के दौरान टी-11 बाघ ने दम तोड़ दिया जिसे वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ . अतुल गुप्ता की मौजूदगी में पूरे सम्मान के साथ दाह संस्कार किया गया। मुख्य वनसंरक्षक व क्षेत्र संचालक पेंच टाईगर रिजर्व विक्रम सिंह परिहार ने बताया कि बीते 09-10 जुलाई की मध्य रात्रि में पेंच टाइगर रिजर्व, सिवनी के खवासा परिक्षेत्र के अंतर्गत बाज रिसोर्ट, ग्राम आवरघानी में गर्दन झुका कर चलने व घायल अवस्था में टी-11 नर बाघ को देखा गया था सर्चिग के दौरान बाघ का रेस्क्यू 12 जुलाई को किया गया और 13 जुलाई की सुबह बाघ को उपचार के लिये वन विहार भोपाल भेजा गया था। टी-11 (रैयाकस्सा बाघ) नर बाघ है एवं इसकी उम्र लगभग 17 वर्ष है। टी 11 की गर्दन के पास 13 घाव, कंधे एवं पुट्ठे आदि भी कई घाव थे। किसी अन्य बाघ से लड़ाई में इसे गर्दन पर चोट पहुंची थी। माह जून 2018 में भी इसकी अलीकट्टा के पास किसी बाघ की लड़ाई से घायल होने पर इलाज किया गया था एवं बचाया गया था।

Kolar News

Kolar News 21 July 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग (एमपी पीएससी ) द्वारा आयोजित राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2020 आगामी 25 जुलाई को दो सत्रों में आयोजित होगी। इंदौर संभाग में परीक्षा के लिये व्यापक तैयारियां की जा रही हैं। इंदौर जिले में 101 परीक्षा केन्द्र बनाये गये हैं। इन परीक्षा केन्द्रों में 38 हजार 79 आवेदक परीक्षा देंगे। संभाग में कोरोना संक्रमित आवेदकों के लिये परीक्षा देने हेतु विशेष व्यवस्था की गयी है। संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने सोमवार को परीक्षा को पारदर्शी तथा सुव्यवस्थित रूप से संचालित करने और अवांछित गतिविधियों पर निगरानी के लिये विभिन्न शासकीय विभागों के 101 अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी है। संभागायुक्त डा. शर्मा ने संयुक्त आयुक्त इंदौर संभाग सपना सोलंकी को प्रभारी परीक्षा अधिकारी नियुक्त किया है। बताया गया कि यह परीक्षा दो सत्रों में आयोजित होगी। पहला सत्र सुबह 10 से दोपहर 12 बजे तक एवं दूसरा सत्र दोपहर 2.15 बजे से शाम 4.15 बजे तक आयोजित किया जायेगा। समस्त मुख्यालयों पर कोविड-19 संक्रमित अभ्यर्थियों हेतु पृथक से परीक्षा केन्द्रों की व्यवस्था की गई है, जिसमें समस्त कोरोना प्रोटोकाल का पालन सुनिश्चित किया जायेगा। परीक्षा से संबंधित सामग्री का वितरण पूर्ण सुरक्षा के साथ 23 जुलाई तक चलेगा। समस्त जिलों के परीक्षा प्रभारी अधिकारी पूर्ण सुरक्षा व्यवस्था के साथ आयोग से उक्त सामग्री प्राप्त कर संबंधित जिला मुख्यालय ले जाएंगे।इंदौर जिले में तीन परीक्षा केन्द्रों को कोरोना संक्रमित विद्यार्थियों के लिये आरक्षित किया गया है, इनमें महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय तथा शासकीय निर्भयसिंह पटेल साइंस कॉलेज एबी रोड़ इंदौर शामिल है। उपरोक्त अधिकारी परीक्षा तिथि के एक दिन पूर्व परीक्षा केन्द्र का निरीक्षण कर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करायेंगे। परीक्षा की गोपनीयता बनी रहे और पारदर्शी रूप से हो इसका का भी इंतजाम सुनिश्चित करायेंगे।  

Kolar News

Kolar News 19 July 2021

रतलाम । यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए रतलाम मंडल इंदौर से चलने वाली गाड़ी 04318/04317 देहरादून इंदौर देहरादून स्पेशल द्विसाप्ताहिक एक्सप्रेस का परिचालन पुन: आरंभ किया जा रहा है। मंडल रेल प्रवक्ता जितेन्द्र कुमार जयंत ने बताया कि गाड़ी संख्या 04318 देहरादून इंदौर स्पेशल एक्सप्रेस, 23 जुलाई, से अगली सूचना तक, देहरादून से प्रति शुक्रवार एवं शनिवार को 05.50 बजे चलकर बजे चलकर रतलाम मंडल के मक्सी(03.05/03.07, गाड़ी चलने के दूसरे दिन), उज्जैन(03.55/04.10) एवं देवास (04.48/04.50) होते हुए आरंभिक स्टेशन से गाड़ी चलने के अगले दिन 06.10 बजे इंदौर पहुँचेगी। इसी प्रकार गाड़ी संख्या 04317 इंदौर देहरादून स्पेशल एक्सप्रेस, 24 जुलाई से अगली सूचना तक इंदौर से प्रति शनिवार एवं रविवार को 18.40 बजे चलकर रतलाम मंडल के देवास(19.22/19.24), उज्जैन(20.40/20.55) एवं मक्सी(21.48/21.50) होते हुए गाड़ी चलने के अगले दिन 19.45 बजे देहरादून पहुँचेगी। इस ट्रेन का दोनों दिशाओं में हरिद्वार, रूड़की, सहारनपुर, देवबंद, मुजफ्फरनगर, मेरठ सिटी, गाजियाबाद, निजामुद्दीन, फरिदाबाद, कोसी कलां, मथुरा जंक्शन, आगरा कैंट, धौलपुर, मुरैना, ग्वालियर, शिवपुरी, गुना, रुठियाई, कुंभराज, ब्यावरा राजगढ़, पाचोर रोड, शाजापुर, मक्सी, उज्जैन एवं देवास स्टेशनों पर ठहराव दिया गया है। गाड़ी संख्या 04318 देहरादून इंदौर स्पेशल एक्सप्रेस का राजा की मंडी स्टेशन पर विशेष ठहराव दिया गया है।

Kolar News

Kolar News 19 July 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश के कई जिलों में मंगलवार, 20 जुलाई को झमाझम बारिश हो सकती है। हवाओं का रुख बदलते ही मध्य प्रदेश में भी मौसम के तेवर बदल गए हैं। प्रदेश में प्रदेश में बने चक्रवात के चलते अगले 24 घंटे में बारिश की संभावना है। मौसम विभाग ने रीवा, दमोह समेत 11 जिलों में भारी बारिश की संभावा जताई है। बारिश को लेकर मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में हवाओं का रुख दक्षिण-पूर्वी है, जिसके कारण हवा की रफ्तार तेज है और मौसम में नमी बढ़ रही है। मानसून ट्रफ सागर, गुना, रतलाम के ऊपर से होकर गुजर रही है, जिसका असर ग्वालियर-चंबल पर हो रहा है। 20 जुलाई को नया सिस्टम सक्रिय हो रहा है, जिसके कारण नमी बढ़ेगी और बारिश की गतिविधि में तेजी आएगी। रविवार को गुना जिले में मौसम खराब रहा, साथ ही मोटे-मोटे ओले भी गिरे। संभावना जताई जा रही है कि इन 24 घंटों में प्रदेश के कई इलाकों में गरज-चमक के साथ बरसात हो सकती है। वहीं बिजली गिरने की भी आशंका है।

Kolar News

Kolar News 19 July 2021

भोपाल। सिवनी जिले के पेंच अभ्यारण्य क्षेत्र से रेस्क्यू करके वन विहार लाए गए घायल बाघ टी-11 का उपचार जारी है। हालांकि बीते पांच दिनों में घायल बाघ के स्वास्थ्य में जो सुधार हुआ है, उसे संतोषजनक नहीं माना जा रहा है, फिर भी वन विहार के चिकित्सक लगातार उसकी सेहत पर नजर रखे हुए हैं। बाघों की आपसी लड़ाई में घायल 17 वर्षीय बाघ टी-11 को पेंच अभ्यारण्य के खवासा परिक्षेत्र से रेस्क्यू करके मंगलवार दोपहर में उपचार के लिए वन विहार लाया गया था। बाघ टी-11 गंभीर रूप से घायल है और उसकी गर्दन, कंधे तथा पुट्ठे पर कई घाव हैं। वन विहार के वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ. अतुल गुप्ता और डॉ. रजत कुलकर्णी ने जांच के बाद तुरंत उसका उपचार शुरू कर दिया था, जो अभी तक जारी है। इसके बावजूद अभी भी बाघ टी-11 गर्दन ऊपर नहीं कर पा रहा है। वन विहार के असिस्टेंट डायरेक्टर ए.के.जैन ने बताया कि फिलहाल वन विहार प्रबंधन का पूरा जोर इस बात पर है कि बाघ टी-11 के स्वास्थ्य को सामान्य स्तर तक लाया जाए। इसके बाद जो भी जरूरी होगा, किया जाएगा। उन्होंने बताया कि घायल बाघ खाना खा रहा है, लेकिन उसकी गतिविधियां सामान्य नहीं हैं।

Kolar News

Kolar News 17 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का हबीबगंज रेलवे स्टेशन पूरी तरह से तैयार हो गया है। यह देश का एकमात्र ऐसा स्टेशन होगा जहां वर्ल्ड क्लास एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं होंगी। इस स्टेशन का रि-डेवलपमेंट किया गया है। भोपाल के दूसरे स्टेशन यानी हबीबगंज रेलवे स्टेशन का वर्ष 2017 में पुनर्निर्माण का काम शुरू हुआ था जो चार साल बाद अपने नए रूप में तैयार हो गया है, हालांकि लॉकडाउन की वजह से काम में देरी हुई, फिर भी कंपनी द्वारा तेजगति से कार्य करते हुए इसे तैयार कर दिया है। 400 करोड़ से अधिक की लगात से बने इस रेलवे स्टेशन पर वर्ल्ड क्लास एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं मिलेंगी। यहां पर करीब एक साथ 1100 से अधिक यात्रियों के बैठने की व्यवस्था है। स्टेशन की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के लिहाज से हर तरफ हाई रिजोल्यूशन कैमरे भी लगाए गए हैं जो पल-पल की नजर रखेंगे। हबीबगंज रेलवे स्टेशन परिसर में शॉपिंग मॉल, फाइव स्टार हॉस्पिटल, होटल, शॉपिंग मॉल और सिनेमा हॉल बनाया जा रहा है।  

Kolar News

Kolar News 17 July 2021

भोपाल। बिजली उपभोक्ता जो अपने आवासीय परिसर में रेस्ट हाउस, गेस्ट हाउस, पेइंग गेस्ट या अन्य व्यावसायिक गतिविधियों जैसे कोचिंग क्लासेस, ब्यूटी पार्लर आदि चलाते हैं, उन्हें मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने सलाह दी है कि वे संबंधित कार्यालय में जाकर अपने प्रयोजन को घरेलू से गैर घरेलू (व्यावसायिक) श्रेणी में परिवर्तित करवा लें। इसके लिए उपभोक्ताओं को एक आवेदन अपना प्रयोजन गैर घरेलू श्रेणी में परिवर्तित करने के लिए देना होगा। जनसम्पर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने शुक्रवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि विद्युत वितरण कंपनी ने यह भी अपील की है कि उपभोक्ता ने जिस प्रयोजन के लिए कनेक्शन लिया है, उसी के अनुसार विद्युत का उपयोग करें। उदाहरण के लिए यदि किसी उपभोक्ता ने घरेलू (लाइट और फैन) का कनेक्शन लिया है तो वे केवल उस परिसर को निवास के रूप में उपयोग करें। कंपनी ने कहा है कि सघन चैकिंग अभियान के दौरान किसी भी प्रकार की व्यवसायिक गतिविधि आवासीय परिसर में संचालित की जा रही है, तो ऐसी गतिविधियों को गैर घरेलू प्रयोजन में माना जाएगा और संबंधित दोषी उपभोक्ता से जुर्माना वसूला जाएगा।

Kolar News

Kolar News 16 July 2021

  अनूपपुर। आषाढ़ का महीना आधा बीत चुका है, लेकिन इन दिनों भगवान इन्द्रदेव रूठे नजर आ रहे हैं। आसमान में दिन-रात काले बादल उमड़-घूमड़ रहे हैं, फिर भी बारिश नहीं हो रही है। शुरुआती जून माह के दौरान हुई बारिश के उपरांत जिले में खरीफ की बुवाई लायक बारिश नहीं हुई। जिसके बाद जुलाई माह में किसानों की खेतों में लहलहाने वाली खरीफ की फसलें वर्षा के अभाव में प्रभावित हो चली है। खेतों से नमी सूखने लगी है। खेत खाली पड़े हैं। इनमें खरीफ की शत प्रतिशत बुआई नहीं हो सकी है। यही कारण है कि जिले में अब तक खरीफ की लगभग 62 फीसदी ही बुआई सम्भव हो सकी है। जबकि धान की बुआई सबसे अधिक प्रभावित मानी जा रही है। कृषि उपसंचालक एनडी गुप्ता का कहना है कि 15 जुलाई तक 70-75 फीसदी बुआई के अनुमान रहते हैं, लेकिन बारिश के कारण यह आंकड़ा थोड़ा पीछे खिसका है। अनाज के लिए लगभग निर्धारित 151.72 हजार हेक्टेयर में मात्र 66 फीसदी बुआई हुई है, जबकि दलहन के लिए निर्धारित 18 हजार हेक्टेयर में 55 फीसदी और तिलहन की निर्धारित 16.30 हजार हेक्टेयर में मात्र 41 फीसदी बुआई हुई है। अभी ज्यादा विलम्ब नहीं हुआ है, लेकिन मौसम विभाग द्वारा मानसून के सामान्य बारिश की भविष्यवाणी में अबतक मानसून की सक्रियता को लेकर संशय बना हुआ है। विदित हो कि जिले में इस वर्ष 186.02 हजार हेक्टेयर पर बुआई का लक्ष्य रखा गया है। लेकिन अबतक मात्र 62 फीसदी बुआई हो सकी है। फसलों की बुआई फीसदी जानकारी के अनुसार मानसून की बारिश के अभाव में मक्का, सोयाबीन, बाजरा, अरहर और मूंगफली को छोड?र जिले में अनाज, दलहनी और तिलहनी फसलों की बुआई न्यनतम मात्रा में है। इनमें निर्धारित 122 हजार हेक्टेयर धान में 68 फीसदी, 14.50 हजार हेक्टेयर मक्का में 98 फीसदी, ज्वार 0.20 हेक्टेयर में 35 फीसदी, 15 हजार हेक्टेयर कोदो कुटकी में 12 फीसदी, 5.60 हजार हेक्टेयर उड़द में 44 फीसदी, 0.90 हेक्टेयर मूंग में 37 फीसदी, 11 हजार हेक्टेयर अरहर में 64 फीसदी, 2.50 हेक्टेयर तिल में 32 फीसदी, 7.50 हेक्टेयर रामतिल में शून्य फीसदी, 1.20 हजार हेक्टेयर में 97 फीसदी और 5.10 हजार हेक्टेयर सोयाबीन में 92 फीसदी की बुआई हुई है।62 जलाशय बारिश के अभाव में नहीं छूट रहा पानी जलसंसाधन विभाग की की जानकारी के अनुसार जिले में 62 जलाशय है। जिनमें अनूपपुर में 6 जैतहरी में 18 कोतमा में 10 और पुष्पराजगढ़ में 28 जलाशय है। इनमें पूर्व से ही 40-80 फीसदी के बीच पानी का भराव था। वहीं मानसून के दौरान अधिक वर्षा नहीं होने से उनमें पानी का भराव नहीं बन पाया है। जिसके कारण जलाशय से किसानों की खेतों तक पहुंचने वाली कैनाल से पानी नहीं पहुंच पा रहे हैं। अब तक बारिश जिले में अब तक 312.8 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है। जिसमें अनूपपुर में 370.0 मिमी, कोतमा में 302.0 मिमी, जैतहरी में 445.6 मिमी, पुष्पराजगढ़ 289.2 मिमी, अमरकंटक में 389.2 मिमी, बिजुरी में 221.5 मिमी, वेंकटनगर में 300 मिमी, बेनीबारी में 185.0 मिमी बर्षा सहित कुल वर्षा 2502.5 मिमी वर्षा हुई है। जिसमें जिले में कुल औसत वर्षा 312.8 मिमी रही। जबकि वर्ष 2020 में 16 जून तक 368.6 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई थी। एनडी गुप्ता ने बताया कि खरीफ की बुआई जारी है। कुछ आंकड़े कम जरूर हुए हैं। लेकिन अबतक 62 फीसदी बुआई के अनुमान है।    

Kolar News

Kolar News 16 July 2021

इंदौर। शहर के राजकुमार ब्रिज के पास स्थित सेंट्रल जेल की 30 साल पुरानी जर्जर पानी की टंकी को नगर निगम की टीम ने गुरुवार रात ढहा दिया। एक लाख लीटर क्षमता वाली यह टंकी काफी पुरानी हो चुकी थी और जेल प्रशासन ने इसे तोड़ने के लिए नगर निगम को चिट्ठी लिखी थी। नर्मदा परियोजना के कार्यपालन यंत्री संजीव श्रीवास्तव ने बताया कि टंकी को गिराने का काम रात को इसलिए किया गया, क्योंकि उस समय ट्रैफिक कम होता है। फिर भी एहतियात के तौर पर दोनों तरफ का रास्ता बंदकर काम किया गया। उन्होंने बताया कि पोकलेन और जेसीबी की मदद से पहले इसके पिलर कमजोर किए गए । इसके बाद टीम ने टंकी के पिलर में ड्रिल किया और फिर आधी रात को इसे ढहा दिया गया। टंकी को ढहाने में लगभग 2 लाख रुपए खर्च हुए हैं, जिसका भुगतान जेल प्रशासन करेगा। बताया जा रहा है कि पानी की यह टंकी 30 साल से ज्यादा पुरानी थी और इसका उपयोग बंद किया जा चुका था।

Kolar News

Kolar News 16 July 2021

भोपाल। राज्य शासन द्वारा कोरोना वायरस के व्यापक संक्रमण के प्रभावी रोकथाम को दृष्टिगत रखते हुये लोक हित में महाराष्ट्र राज्य से आने और जाने वाले बस परिवहन संचालन को विस्तारित करते हुए आगामी 21 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दिया है। इस संबंध में परिवहन विभाग गुरुवार को आदेश जारी किये गये हैं। बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र से बसों के आवागमन को 14 जुलाई तक स्थगित किया गया था, लेकिन महाराष्ट्र में अब भी कोरोना के मामले लगातार अधिक संख्या में सामने आ रहे हैं। इसी को देखते हुए परिवहन विभाग द्वारा महाराष्ट्र से बसों के संचालन को स्थगित रखते हुये इस स्थगन की अवधि को विस्तारित कर आगामी 21 जुलाई तक की अवधि के लिये बस परिवहन संचालन को स्थगित कर दिया गया है।अब आगामी 21 जुलाई तक लोक हित में अंतर्राज्यीय अनुज्ञाओं और अखिल भारतीय पर्यटक अनुज्ञाओं से आच्छादित महाराष्ट्र राज्य की सभी यात्री बस वाहनों का मध्यप्रदेश राज्य की सीमा में प्रवेश नहीं हो सकेगा। राज्य शासन द्वारा जारी आदेश के परिपालन में क्षेत्रीय परिवहन अधिकारियों और सभी परिवहन चेकपोस्ट प्रभारियों को इस संबंध में समुचित कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये हैं।  

Kolar News

Kolar News 15 July 2021

भोपाल। नगरीय प्रशासन एवं विकास आयुक्त निकुंज कुमार श्रीवास्तव ने रीवा जिले के सेमरिया नगर परिषद के मुख्य नगर पालिका अधिकारी आनंद मिश्रा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। जनसम्पर्क अधिकारी अनुराग उइके ने गुरुवार को मुख्य नगर पालिका अधिकारी आनंद मिश्रा को अनुशासनहीनता एवं अपने उत्तरदायित्वों के प्रति घोर लापरवाही के आरोप में निलंबित किया गया है। निलंबन अवधि में उनका मुख्यालय संभागीय संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन एवं विकास संभाग रीवा रहेगा। इन्हें नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता रहेगी।

Kolar News

Kolar News 15 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में जुलाई माह आधा बीतने को है, लेकिन अब भी झमाझम बारिश का इंतजार हैं। वातावरण में नमी कम होने से आसमान साफ होने लगा है। दिन और रात का तापमान सामान्य से अधिक होने के कारण भीषण गर्मी और उमस हो रही हैं। मौसम विभाग के अनुसार मानसून ट्रफ वर्तमान में सौराष्ट्र पर बने कम दबाव के क्षेत्र से उदयपुर, गुना, गोंदिया, जगदलपुर से होकर बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। साथ ही अरब सागर से नमी मिलने का सिलसिला बना हुआ है। इस वजह से कहीं-कहीं छिटपुट बरसात हो रही है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक 19 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने जा रहा है। इसके पूर्व 17-18 जुलाई से प्रदेश में तेज बौछारें पडऩे की संभावना है। इस सिस्टम के प्रभाव से गुरुवार को भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन और इंदौर संभाग में गरज-चमक के साथ तेज बौछारें पडऩे के आसार हैं। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में हवा का रुख पूर्वी बना हुआ है। इस वजह से वातावरण को अपेक्षित नमी नहीं मिल रही है। इस वजह से बारिश की गतिविधियों में कमी आई है। वर्तमान में किसी प्रभावी वेदर सिस्टम के सक्रिय नहीं रहने से अपेक्षित बरसात नहीं हो रही है। हालांकि, मानसून ट्रफ के गुना से गुजरने के कारण कहीं-कहीं बारिश दर्ज हो रही है। 19 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने के संकेत मिले हैं। उसके प्रभाव से 17 जुलाई से प्रदेश के कई जिलों में बारिश की गतिविधियां बढऩे लगेंगी। बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात के रूप में बदलकर वर्तमान में छत्तीसगढ़ के आसपास आ गया है। इससे अब हवा का रुख बदलकर पश्चिमी, दक्षिण-पश्चिमी होने के आसार हैं। इससे बारिश की गतिविधियों में कुछ तेजी आने लगेगी। विशेषकर इंदौर, भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन संभाग के जिलों में बरसात की संभावना है।

Kolar News

Kolar News 15 July 2021

भोपाल। प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षा में पास हो चुके चयनित शिक्षकों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सोमवार को डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद नियुक्ति पत्र के लिए संघर्ष कर रहे चयनित शिक्षकों ने शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार के बंगले के सामने और लोक शिक्षण संचालनालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। चयनित शिक्षक संघ का कहना है कि वर्ष 2018 में तत्कालीन प्रदेश सरकार ने विधानसभा चुनाव से पहले सितंबर महीने में शिक्षकों की भर्तियां निकाली थीं। स्कूल शिक्षा विभाग और जनजातीय कल्याण विभाग द्वारा प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड के माध्यम से सयुंक्त पात्रता परीक्षा के अंतर्गत उच्च माध्यमिक शिक्षक के 19,220 पद पर एवं माध्यमिक शिक्षक के 11,374 पद पर भर्ती निकाली गई थी। इसकी पात्रता परीक्षा, परीक्षा परिणाम और इसके बाद दोनों विभागों द्वारा काउंसिलिंग प्रक्रिया के अंतर्गत चयनित अभ्यर्थियों की मेरिट और वेटिंग लिस्ट जारी होने के बाद नियुक्ति के लिए दस्तावेज सत्यापन की प्रक्रिया शुरू हुई। बीते तकरीबन एक वर्ष से दस्तावेज सत्यापन की यह प्रक्रिया अटक-अटककर चलती रही। हमारी नियुक्ति अभी तक लंबित है। दो साल पहले परीक्षा और परिणाम प्राप्ति के बाद भी हम चयनित शिक्षक लगातार प्रताडि़त हो रहे हैं। 30594 चयनित अभ्यर्थी अपने परिवार सहित कई प्रकार के आर्थिक और सामाजिक संकटों से जूझ रहे हैं। चयनित शिक्षकों ने स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री से मांग की कि स्कूल शिक्षा विभाग और जनजातीय विभाग द्वारा इस प्रकार की असंवेदनशीलता को देख आप हमारे मुद्दे को महत्वपूर्ण मानते हुए हमारी लंबित नियुक्तियां हमें तत्काल प्रदान करने के लिए आदेश जारी करें, ताकि सभी चयनित शिक्षक विद्यालयों में पहुंच कर अपना कर्तव्य निभाते हुए प्रदेश की नई पीढ़ी का उज्ज्वल भविष्य गढऩे में सहायक बन सकें।  

Kolar News

Kolar News 12 July 2021

भोपाल। राजभवन में नवनियुक्त राज्यपाल मंगूभाई पटेल के शपथ ग्रहण समारोह में बड़ी लापरवाही सामने आई थी। ऑडिटोरियम की लिफ्ट खराब थी, जिसके कारण राज्यपाल को सीढ़ियां चढ़कर जाना पड़ा था। इस मामले में पीडब्ल्यूडी के विद्युत शाखा के एसडीओ और सब इंजीनियर को निलंबित कर दिया गया है। प्रदेश के नवनियुक्त राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने 8 जुलाई को शपथ ली थी। शपथग्रहण समारोह के दौरान दो साल पहले तैयार हुए ऑडिटोरियम की लिफ्ट खराब थी, जिसके चलते 77 साल के राज्यपाल पटेल को सीढ़ियों से चढ़कर जाना पड़ा था। इतना ही नहीं, ऑडिटोरियम के एसी प्लांट को कार्यक्रम से पहले आधी रात को सुधारा गया। राज्य सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच के आदेश दिए थे। पीडब्ल्यूडी के प्रमुख सचिव नीरज मंडलोई ने पाया कि राजभवन के प्रभारी एसडीओ दिनेश कुश्वाहा और सब इंजीनियर हेंमत झारिया की लापरवाही के कारण लिफ्ट को समय रहते नहीं सुधरवाया गया। इसी तरह एसी प्लांट का मेंटनेंस भी नहीं किया जा रहा था। जांच होने के बाद कुशवाहा और झारिया को निलंबित कर दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक राजभवन में मेंटेनेंस की जिम्मेदारी एसडीओ दिनेश कुशवाहा और सब इंजीनियर हेमंत झारिया के पास थी। बताया जाता है कि दोनों इंजीनियर सीएम हाउस में भी तैनात थे। एसडीओ कुशवाहा को लापरवाही के चलते यहां से हटा दिया गया था। उनके स्थान पर एएस चौहान को एसडीओ बनाया गया था, लेकिन कुशवाहा ने चार्ज नहीं छोड़ा। इसी तरह उपयंत्री हेमंत झारियां को लापरवाही और भ्रष्टाचार जैसे आरोपों के चलते मुख्यमंत्री निवास से बाहर किया गया था। उपयंत्री का राजभवन से भी तबादला किया जा चुका है, लेकिन उसके बावजूद राजभवन का काम झारियां द्वारा देखा जा रहा था। जबकि उनके तबादले के बाद उपयंत्री मीताली को तैनात किया जा चुका था।

Kolar News

Kolar News 12 July 2021

भोपाल। नवरात्रि को सनातन धर्म का सबसे पवित्र और ऊर्जादायक पर्व माना गया है। इस आषाढ़ माह में गुप्त नवरात्रि पर्व का सोमवार को आज दूसरा दिन है । इस बार गुप्त नवरात्रि का शुभारंभ बहुत ही शुभ नक्षत्र रवि पुष्य योग के साथ हुआ है और समापन अबूझ मुहूर्त भड़ली नवमी पर होगा। संयोग से पिछले दो सालों की तरह इस साल भी नवरात्र आठ दिन के हैं । मध्य प्रदेश सहित देश भर में इस वक्त गुप्त रूप से मां की आराधना का क्रम शुरू है। इस समय प्रकृति भगवती की होती है विशेष कृपा इस संबंध में आचार्य भरत दुबे ने बताया कि गुप्त नवरात्रि आषाढ़ शुक्ल प्रतिपदा और वर्षा ऋतु के मध्य आरंभ होता है। एक वर्ष में चार नवरात्रि होते हैं। इनमें दो को गुप्त और दो सामान्य कहे गए हैं। यह नवरात्रि गुप्त साधनाओं के लिए परम श्रेष्ठ कहा गया है। उन्होंने बताया कि गुप्त नवरात्रि को सिद्धि प्राप्ति के लिए श्रेष्ठ माना गया है, इस समय प्रकृति भगवती की विशेष कृपा साधक पर होती है। पर्यावरण भी इस समय का सबसे अनुपम रहता है, इसलिए इस नवरात्रि को साधुओं और तांत्रिकों की नवरात्रि के रूप में भी जाना जाता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि सामान्य जन इन दिनों में विशेष पूजा-अर्चना नहीं करते हैं, आचार्य भरत का कहना है कि जिन्हें नौकरी, व्यापार, आर्थिक और सामाजिक क्षेत्र में विशेष उन्नति चाहिए वे इस समय में मां की पूजा-आराधना गुप्त रूप से करते हैं । गुप्त नवरात्र है दस महाविद्याओं की साधना का विशेष दिन पं. राकेश चौबे का कहना है कि गुप्त नवरात्र में दस महाविद्याओं की साधना का विशेष महत्व है। एक तरफ साधक अपने कल्याण के लिए आराधना कर रहे हैं तो दूसरी ओर इस नवरात्रि पर मंदिर और घरों में कोरोना महामारी से मुक्ति के लिए विशेष साधना और अनुष्ठान किए जा रहे हैं । उन्होंने बताया कि माघ और आषाढ़ माह में गुप्त नवरात्र आते हैं और चैत्र और अश्विन माह में प्रकट नवरात्र आते हैं। इस बार छठवीं और सप्तमी तिथि एक ही दिन पड़ रही है । सप्तमी तिथि के क्षय होने के कारण अष्टमी 17 जुलाई को रहेगी और 18 जुलाई को नवमी के साथ नवरात्र का समापन होगा। मां भगवती के इन स्वरूपों की होती है इन दिनों में पूजा उन्होंने बताया है कि नवरात्रि के इन विशेष दिनों में गुप्त नवरात्रि के पहले दिन मां काली की पूजा की गई थी। अब आगे तारा देवी, त्रिपुरा सुंदरी, भगवती भुवनेश्वरी, मां छिन्न मस्ता और मां त्रिपुर भैरवी की पूजा की जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि चूंकि इस दौरान तांत्रिक, साधक या अघोरी तंत्र-मंत्र और सिद्धि प्राप्त करने के लिए मां दुर्गा की साधना करते हैं, इसलिए इन विशेष दिनों में मां के अलग-अलग रूप विशेषकर मां धूमावती, मां बगलामुखी, मां मातंगी और मां कमला देवी की पूजा अंतिम नवरात्रि के दिन की जाती है।

Kolar News

Kolar News 12 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में लंबे समय से झमाझम का इंतजार कर रहे लोगों का इंतजार खत्म होने वाला है। जुलाई का पहला सप्ताह लगभग सूखा बितने के बाद पिछले दो दिनों से राजधानी में बादल तो छाए हुए हैं, लेकिन बरस नहीं रहे हैं। मौसम विभाग के मुताबिक मानसून के आगे बढऩे के लिए परिस्थितियां अनुकूल होने लगी हैं। वर्तमान में अलग-अलग स्थानों पर तीन वेदर सिस्टम बने हुए हैं। इनके प्रभाव से रविवार को राजधानी सहित प्रदेश के कई जिलों में झमाझम बारिश का दौर भी शुरू हो सकता है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में अलग-अलग स्थानों पर बने चार वेदर (मौसमी) सिस्टम के कारण मध्य प्रदेश में रविवार-सोमवार को तेज बौछारें पडऩे की संभावना है। उत्तर-पश्चिमी राजस्थान से उत्तरी मप्र से होकर बंगाल की खाड़ी तक एक ट्रफ बना हुआ है। ओडिशा पर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना है। पूर्वी-पश्चिमी ट्रफ विदर्भ से होकर गुजर रहा है। रविवार को बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बनने जा रहा है। इन चार वेदर सिस्टम से प्रदेश में अच्छी बरसात होने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार इंदौर में रविवार को बूंदाबांदी और 12 से 14 जुलाई को झमाझम बारिश हो सकती है। यहां भारी बारिश का अलर्ट सोमवार-मंगलवार को शहडोल, जबलपुर, रीवा, उज्जैन, एवं इंदौर संभाग के जिलों में अनेक स्थानों पर बरसात होगी। भोपाल, नर्मदापुरम, सागर, ग्वालियर, चंबल संभाग में बारिश की संभावना है। खरगोन, झाबुआ, बड़वानी, बुरहानपुर, आलीराजपुर एवं नीमच में भारी वर्षा की चेतावनी भी दी गई है।

Kolar News

Kolar News 11 July 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना टीकाकरण के प्रति लोगों में खासा उत्साह देखने को मिल है और वे टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचकर वैक्सीन लगवा रहे हैं। टीकाकरण महाअभियान के तहत गुरुवार को सुबह से शाम 5 बजे तक 6 लाख 24 हजार 961 लोगों ने कोरोना वैक्सीन की डोज लगवाई। एन.एच.एम. (टीकाकरण) संचालक डॉ. संतोष शुक्ला ने बताया कि गुरुवार को सुबह से प्रदेश के सभी 51 जिलों में 3 हजार 617 टीकाकरण केन्द्रों पर टीके लगाये जा रहे है। शाम 5.00 बजे तक करीब सवा छह लाख लोगों ने टीके लगवाए। इसके बाद भी वैक्सीन लगाने का कार्य जारी है।

Kolar News

Kolar News 8 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में लंबे इंतजार के बाद एक बार फिर बौछारों का दौर शुरू हो गया है। बुधवार को राजधानी समेत प्रदेश के कई ईलाकों में बादल छाने के बाद गरज चमक के साथ गिरी बौछारों ने गर्मी और उमस से राहत दी। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में फिर सक्रिय हुआ मानसून जबलपुर के रास्ते मध्यप्रदेश में भी दस्तक दे चुका है। विंध्य-महाकौशल समेत प्रदेश में भी असर होना शुरू हो गया है। गुरुवार सुबह जबलपुर, होशंगाबाद, भिंड, गुना, सागर, छिंदवाड़ा में हल्की बारिश हुई। 10 जुलाई तक हल्की बारिश होगी। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि 10 जुलाई से मध्य प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में मूसलाधार बारिश पडऩे की संभावना है। मध्य प्रदेश के सभी 10 संभागों में इन 24 घंटों में कुछ स्थानों पर बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने पूर्वानुमान लगाया था कि 7 जुलाई से मानसून मध्य प्रदेश की सीमा में प्रवेश कर जाएगा। जिसके बाद 8 जुलाई से बारिश शुरू हो जाएगी। अगले 7 दिन प्रदेश में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए लोगों से 10 जुलाई से 15 जुलाई के बीच आवश्यक नहीं होने पर यात्रा टालने की सलाह दी है। नदी नालों उफान पर आ सकते हैं, इसलिए इनके आसपास जाने से बचने को भी कहा गया है।

Kolar News

Kolar News 8 July 2021

ग्वालियर। ग्वालियर के सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल का लाभ आम जनों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के रूप में मिले, इसके लिए अस्पताल का संचालन बेहतर तरीके से किया जाए। संभाग आयुक्त आशीष सक्सेना ने सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल पहुँचकर अस्पताल का निरीक्षण किया और चिकित्सकों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इस मौके पर डीन मेडीकल कॉलेज डॉ. समीर गुप्ता, सुपर स्पेशिलिटी के अधीक्षक डॉ. गुप्ता, उपायुक्त राजस्व शिवप्रसाद सहित चिकित्सक उपस्थित थे। कमिश्नर सक्सेना ने कहा कि ग्वालियर में सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के रूप में शहरवासियों को एक बड़ी सौगात मिली है। इस अस्पताल के माध्यम से लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ मिलें, इसके लिए हम सबको कार्य करना चाहिए। अस्पताल में उपलब्ध कराए गए उपकरण शीघ्र स्थापित किए जाएं ताकि मरीजों को उपचार के दौरान उनका लाभ मिल सके। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के लिए चिकित्सकों और पैरामेडीकल स्टाफ की भर्ती का जो कार्य है उसे भी शीघ्रता से पूरा किया जाए ताकि अस्पताल पूरी क्षमता के साथ लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान कर सके। संभाग आयुक्त ने चिकित्सकों से चर्चा करते हुए कहा कि अस्पताल में सभी उपकरण स्थापित करने के साथ ही जब तक चिकित्सकों एवं पैरामेडीकल स्टाफ की भर्ती नहीं हो जाती तब तक जयारोग्य चिकित्सालय के चिकित्सक भी मरीजों को सुपर स्पेशिलिटी में रखकर उपचार कर सकते हैं। इसके लिए डीन मेडीकल कॉलेज और अधीक्षक सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल मिलकर विस्तृत प्लान तैयार करें। सक्सेना ने लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री को भी निर्देशित किया कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में निर्माण संबंधी अथवा इलेक्ट्रिक के संबंध में जो भी कार्य किए जाना है उसका प्रस्ताव तैयार कर तत्परता से पूरा किया जाए। मेंटेनेंस के अभाव में अस्पताल के संचालन में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आना चाहिए। उन्होंने सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में टोकन सिस्टम को पुन: बेहतर तरीके से संचालित करने के निर्देश भी दिए। इसके साथ ही अस्पताल के लिए फायर एनओसी का कार्य भी शीघ्र पूर्ण करने को कहा।

Kolar News

Kolar News 5 July 2021

भोपाल। संभागीय कमिश्नर कवीन्द्र कियावत ने सोमवार को संबंधित अधिकारियों की बैठक लेकर भोपाल मेट्रो रेल परियोजना के निर्माण कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने भूमि अधिग्रहण के प्रकरणों को त्वरित गति से निराकृत करने के निर्देश दिए और कंपनी से भी कहा है कि जहाँ भूमि विवाद नहीं है, उन हिस्सों में निर्माण कार्य तेजी से करें। बैठक में कलेक्टर अविनाश लवानिया, मंडल रेल प्रबंधक, आयुक्त नगर निगम सहित संबंधित विभागों के अधिकारी और एसडीएम उपस्थित थे। बैठक में बताया गया कि मेट्रो के दो रूट परपल और रेड की लंबाई क्रमश: 16.8 और 14.2 किलोमीटर होगी तथा दोनों में कुल 29 स्टेशन होंगे। परपल लाइन में प्राथमिकता क्रम में एम्स से सुभाष नगर को लिया गया है जिसके अगस्त 2023 तक निर्मित होने की संभावना है जबकि भदभदा से रत्नागिरी तक मई 2024 तक पूर्ण होने की संभावना व्यक्त की गई है। इसी तरह ऐशबाग से करोंद तक के रूट के पूरा होने की समय-सीमा दिसम्बर 2024 तक संभावित है।संभागायुक्त कियावत ने परपल लाइन रूट के निर्माण के उन 15 स्थलों के भूमि अधिग्रहण की समीक्षा की, जिन्हें अगस्त 2023 तक पूरा किया जाना है। उन्होंने नगर निगम, एम्स, रेल्वे, बरकतउल्ला विश्वविद्यालय और महिला बाल विकास के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे आगामी 7 से 15 दिन की अवधि में व्यवस्था बनाकर मेट्रो कंपनी को अधिग्रहीत जमीन सौंपे। उन्होंने यह भी कहा कि उससे पहले ही निर्माण शुरू करने की प्रावधिक अनुमति भी दी जाए।कियावत ने सभी एसडीएम को निर्देश दिए कि वे चिन्हित जमीन का सीमांकन कर कंपनी को सौंपे। उन्होंने कहा कि जहाँ आवश्यकता हो वहाँ कलेक्टर के संज्ञान में लाकर भूमि संबंधी विवाद का निबटारा कराएं।

Kolar News

Kolar News 5 July 2021

इंदौर। करीब एक सप्ताह तक तीखी धूप और तेज गर्मी के बाद इंदौर में सोमवार को राहत भरी बूंदें गिरी। सोमवार को सुबह से छाए काले घने बादलों के कारण उमस ने लोगों को जमकर परेशान किया, हालांकि दोहपर होते-होते इन बादलों ने बूंदों की शक्ल में राहत भी बरसाई। शहर में सोमवार को दोपहर करीब सवा 12 बजे तेज हवा के साथ रिमझिम बारिश शुरू हुई जो देखते ही देखते झमाझम में बदल गई। करीब आधे घंटे तक कभी रिमझिम तो कभी तेज बारिश होती रही। 10 साल में पहली बार ऐसा हो रहा है जब मानसून की इतनी धीमी रफ्तार है। 17 दिन बीतने के बाद भी सिर्फ 2.9 इंच बारिश रिकार्ड हुई है। बारिश नहीं होने से तालाबों को जलस्तर भी कम होता जा रहा है। किसान भी फसल बो चुके हैं, ऐसे में उन्हें नुकसानी का डर सता रहा है। इंदौर में सोमवार को सुबह की शुरुआत हर दिन की तरह खिले-खिले नीले आसमान के साथ हुई। हालांकि दिन चढ़ने के साथ ही बादल भी उमडने लगे। बादलों की आवाजाही रोज ही होती है, ऐसे में किसी को उम्मीद नहीं थी कि आज ये बादल बरसेंगे भी। दक्षिण-पश्चिम मानसून 18 जून को घोषित होने के बाद से अब तक महज 2.9 इंच अधिकृत रूप से बरसा है। 10 सालों में केवल 2014 में ऐसा हुआ था, जब 15 जून को मानसून घोषित होने के 15 दिन बाद तक महज आधा इंच ही पानी बरसा था। लेकिन फिर जुलाई में मानसून सक्रिय हुआ तो कोटा पूरा कर दिया था।

Kolar News

Kolar News 5 July 2021

गुना। सरकार द्वारा चलाया गया टीकाकरण महाअभियान अब ठंडा पड़ता नजर आ रहा है। एकाएक टीकाकरण अभियान में परिवर्तन से नागरिक गफलत में हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार को देर शाम कार्यक्रम जारी करने से शनिवार को असमंजस की स्थिति बन गयी। नागरिक कोविशील्ड और कोवैक्सीन के फेर में उलझकर रह गए। बड़ी संख्या में टीकाकरण केंद्र पर पहुंचे नागरिकों को मायूस होकर वापस लौटना पड़ा। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी कार्यक्रम के अनुसार शनिवार को केवल कोवैक्सीन का दूसरा डोज लगाया जा रहा है। शुक्रवार को देर शाम कार्यक्रम जारी होने और इसका प्रसार न होने के कारण नागरिकों में ये मेसेज गया की वैक्सीन का दूसरा डोज लग रहा है। नागरिकों को यह साफ नहीं हो पाया की कौनसी वैक्सीन का दूसरा डोज लगेगा। इसी गफलत में कोविशील्ड वैक्सीन के दूसरे डोज के लिए भी नागरिक बड़ी संख्या में पहुँच गए। वहां उन्हें बताया गया की आज केवल कोवैक्सीन का ही दूसरा डोज लगाया जा रहा है। पूरे टीकाकरण अभियान में सबसे ज्यादा भीड़ यहीं रही है। शनिवार को सुबह 10 बजे के लगभग यहाँ 200 के करीब नागरिक लाइन में लगे हुए थे। इनमे से ज्यादातर कोविशील्ड का दूसरा डोज लगवाने आये थे। वही 25-30 नागरिक पहला डोज लगवाने के लिए पहुँच गए। यहाँ दोनों काउंटर की खिड़कियों पर स्वास्थ्य विभाग ने उसी समय नोटिस लगवाया की आज केवल कोवैक्सीन का दूसरा डोज ही लगाया जा रहा है। कैंट की रहने वाली 87 वर्ष की रेवती बाई वहां नजर आयीं। वो किसी तरह पैसों की व्यवस्था करके ऑटो से 5 किमी दूर इस केंद्र पर टीका लगवाने पहुंची थीं। न तो उनके पास मोबाइल है और न ही वह पहला डोज लगने के दौरान मिली पर्ची साथ लायीं। उन्होंने बताया की पहले एक पडोसी के मोबाइल नंबर से उन्होंने पहला डोज लगवाया था। साथ ही उन्हें यह भी याद नहीं था की उनसे कौनसी वैक्सीन का पहला डोज लगा है। इसी चक्कर में वह काफी परेशान होती रहीं। उन्हें केवल यह पता था की आज दूसरा डोज लग रहा है। वहां मौजूद स्टाफ द्वारा भी उनकी किसी प्रकार की सहायता नहीं की गयी। स्टाफ द्वारा कहा गया की घर जाकर मोबाइल ले आइये। वृद्धा ने बताया कि उन्हें चलने में बड़ी मुश्किल होती है। ऐसे में अब दोबारा 5 किमी दूर घर जाकर मोबाइल कहाँ से लाएं। इसी असमंजस में वह बिना वैक्सीन लगवाए ही घर चली गयीं। इसके अलावा वैक्सीन का पहला डोज लेने के लिए भी नागरिक इस केंद्र पर पहुँच गए। वे भी लगातार स्टाफ से यही पूछते रहे की वैक्सीन का पहला डोज कब लगेगा। इसकी जानकारी भी उन्हें नहीं मिल पायी। स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम अनुसार सोमवार को कोविशील्ड का केवल दूसरा डोज लगाया जायेगा। ऐसे में अब पहला डोज लगवाने के लिए नागरिकों को और इन्तजार कर सकता है।

Kolar News

Kolar News 3 July 2021

ग्वालियर। मानसून ने जून में भले ही तरसाया हो, लेकिन जुलाई में मानसून काफी मेहरबान नजर आ रहा है। बीते शुक्रवार शाम को अचानक हुई बारिश के बाद शनिवार को भी दोपहर बाद शुरू हुआ बारिश का सिलिसिला रुक-रुककर देर रात तक जारी रहा। इस दौरान कभी तेज तो कभी मध्यम गति से बारिश की झड़ी लगी रही। ग्वालियर शहर में पिछले 24 घंटे में कुल 16.4 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि बारिश का सिलसिला अगले 24 घंटे के दौरान भी जारी रह सकता है।मौसम विभाग के अनुसार वर्तमान में ग्वालियर और उसके आसपास कोई मौसम प्रणाली सक्रिय नहीं है, लेकिन पिछले काफी दिनों से हो रही ओवर हीटिंग की वजह से ग्वालियर-चम्बल के ऊपर गरजने वाले बादल छा गए हैं। इसके साथ ही अरब सागर से नम हवाएं आना भी शुरू हो गई हैं। इसी के फलस्वरूप बीते शुक्रवार से ग्वालियर सहित अंचल में अधिकांश क्षेत्रों में कहीं तेज तो कहीं मध्यम गति से बारिश हो रही है। हालांकि शनिवार को सुबह से दोपहर तक मौसम लगभग शुष्क रहा। हालांकि आसमान में आंशिक बादल जरूर छाए रहे। इसके चलते तेज धूप निकली, जिससे पिछले दिनों की तरह आज भी गर्मी चरम पर थी, लेकिन दोपहर बाद अचानक पूरा आसमान घने बादलों से पट गया और अपरान्ह करीब सवा चार बजे से बारिश शुरू हो गई। इसके बाद रुक-रुककर कभी तेज तो कभी मध्यम गति से बारिश का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। स्थानीय मौसम विज्ञानी सी.के. उपाध्याय का कहना है कि चूंकि हवाओं के साथ अरब सागर से नमी आना शुरू हो गई है। इसके चलते अगले 24 घंटे के दौरान भी ग्वालियर-चम्बल अंचल में कहीं तेज तो कहीं मध्यम गति से बारिश का सिलसिला जारी रहने की संभावना है।पारा 40 डिग्री से ऊपर टिका: शुक्रवार शाम से शहर में बारिश का सिलसिला शुरू हो जाने के बाद भी तापमान में कमी नहीं आई है। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में शनिवार को अधिकतम तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस आंशिक गिरावट के साथ 40.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 3.3 डिग्री सेल्सियस अधिक है। न्यूनतम तापमान भी 0.8 डिग्री सेल्सियस आंश्किा गिरावट के साथ 26.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 0.8 डिग्री सेल्सियस कम है। आज हवाएं उत्तरी चलीं, जिनकी गति छह किलोमीटर प्रति घंटा रही। आज सुबह हवा में नमी 60 प्रतिशत दर्ज की गई, जो औसत से छह प्रतिशत कम है, जबकि शाम को हवा में नमी 95 प्रतिशत दर्ज की गई, जो औसत से 40 प्रतिशत अधिक है।

Kolar News

Kolar News 3 July 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में टीकाकरण महाअभियान के तहत शनिवार, 03 जुलाई को कोवैक्सीन के दूसरे डोज के लिए विशेष अभियान चलाया गया। इसमें अपरान्ह 3.00 बजे तक 2 लाख 12 हजार 410 लोगों ने कोवैक्सीन की दूसरी डोज लगवाई। जनसम्पर्क अधिकारी महेश दुबे ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जिन लोगों ने कोवैक्सीन की प्रथम डोज पूर्व में लगवा ली थी, उन्हें दूसरी डोज लगवाने के लिए राज्य शासन द्वारा विशेष अभियान चलाया गया। इसी क्रम में कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी डोज के लिए 5 जुलाई को विशेष अभियान चलेगा।  

Kolar News

Kolar News 3 July 2021

ग्वालियर। ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों में एक ही दिन में वृहद वृक्षारोपण अभियान चलाकर 4 लाख से अधिक पौधों का रोपण किया जाएगा। इसके लिए सभी जिले तैयारी करें। यह निर्देश संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने बुधवार को ग्वालियर-चंबल संभाग के कलेक्टरों की बैठक में कही। कमिश्नर ने दोनों संभाग की कलेक्टर कॉन्फ्रेंस में राजस्व प्रकरणों की समीक्षा, कोविड-19 के संक्रमण के संबंध में समीक्षा के साथ वृहद वृक्षारोपण अभियान के संबंध में भी विस्तृत चर्चा कर दिशा-निर्देश गए। बैठक में ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।   कमिश्नर आशीष सक्सेना ने कहा कि कोविड-19 के दौरान हमें ऑक्सीजन की जिस प्रकार की कमी महसूस हुई है उसको देखते हुए वातावरण में पर्याप्त ऑक्सीजन देने वाले वृक्षों को रोपने का अभियान चलाना आज के समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है। ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों में अगस्त माह के किसी एक दिन को निर्धारित कर वृहद वृक्षारोपण का कार्य किया जाए। इसके लिये सभी जिलों के कलेक्टर अपने जिलों में वृक्षारोपण की सभी तैयारियां समय रहते पूर्ण करें।   संभाग आयुक्त ने कहा कि वृक्षारोपण का अभियान केवल सरकारी अभियान न होकर आम जन को जोड़कर चलने वाला अभियान बनाया जाए। जिले के हर व्यक्ति की उसमें भागीदारी सुनिश्चित की जाए। वृक्षारोपण में इस बात का विशेष ध्यान दिया जाए कि अधिक से अधिक पौधे 6 फीट हाईट के रोपे जाएं। वृक्षों की देखभाल की जवाबदारी भी जिम्मेदार नागरिकों को सौंपी जाए। वृक्षारोपण के कार्य में जन सहभागिता हो इसके भी प्रयास किए जाएं। एक दिन निर्धारित कर ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों में वृहद वृक्षारोपण का कार्य किया जाए। उन्होंने सभी कलेक्टरों से कहा कि वे अपने-अपने जिलों में लक्ष्य अनुरूप वृक्षारोपण की कार्ययोजना तैयार कर उसकी तैयारियां करें। ग्वालियर जिले में एक लाख पौधरोपण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। अन्य जिलों में भी लक्ष्य निर्धारित कर वृहद वृक्षारोपण का अभियान चलाया जायेगा।   राजस्व प्रकरणों का तेजी से हो निराकरण कमिश्नर सक्सेना ने बैठक में राजस्व प्रकरणों की भी विस्तार से समीक्षा की। इस दौरान कहा कि कोविड-19 के कारण सभी जिलों में राजस्व प्रकरणों के निराकरण में अपेक्षा अनुरूप प्रगति नहीं हुई है। सभी कलेक्टर अपने-अपने जिलों में राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिये विशेष अभियान चलाएं। पाँच साल से अधिक राजस्व का कोई भी लम्बित प्रकरण किसी भी जिले में लंबित न बचे इसके लिये एक सप्ताह में विशेष प्रयास कर प्रकरणों का निराकरण करें।    उन्होंने कलेक्टरों से यह भी अपेक्षा की है कि अपने-अपने जिले में अभियान चलाकर 6 माह से अधिक के लंबित सभी प्रकरणों का निराकरण एक माह में करना सुनिश्चित करें। उन्होंने राजस्व प्रकरणों की समीक्षा के साथ-साथ यह भी निर्देशित किया है कि सभी कलेक्टर अपने-अपने जिले में ई-ऑफिस की दिशा में भी सार्थक प्रयास करें। फाईलों का संचालन कम से कम कर ई-ऑफिस के माध्यम से ही अधिक से अधिक कार्य हो यह सुनिश्चित किया जाए।   संभाग आयुक्त ने यह भी निर्देशित किया है कि आरसीएमएस के तहत ऐसे राजस्व प्रकरण जो न्यायालय में संचालित हैं उनको भी ऑनलाइन दर्ज करने की प्रक्रिया प्रारंभ की जाए। कलेक्टर अपने-अपने जिलों में अभिभाषकों की बैठक लेकर भी प्रक्रिया के संबंध में जानकारी दें। इसके लिये विभागीय स्तर पर प्रशिक्षण भी जिला स्तर पर आयोजित किए जाएं। बैठक में यह भी निर्देशित किया गया कि केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनायें जिनमें प्रधानमंत्री आवास, खाद्यान्न का वितरण एवं अन्य योजनाओं की भी समीक्षा कलेक्टर नियमित करें। योजनाओं के क्रियान्वयन में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए। लक्ष्य अनुरूप योजनाओं का क्रियान्वयन हो।   कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिए अधिक से अधिक सेम्पलिंग कराई जाए  संभागीय आयुक्त आशीष सक्सेना ने बैठक में कोविड-19 के संबंध में भी विस्तार से चर्चा की। उन्होंने निर्देशित किया है कि ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिलों में लक्ष्य अनुरूप सेम्पलिंग का कार्य किया जाए। टीकाकरण के साथ-साथ किल कोरोना अभियान भी निरंतर जारी रखा जाए।    उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि संक्रमण की रोकथाम के लिए आम जन कोविड नियमों का पालन करें इस पर भी विशेष ध्यान दिया जाए। सभी जिलो में जिला स्तरीय, ब्लॉक स्तरीय, पंचायत स्तरीय तथा शहरी क्षेत्र में वार्ड स्तरीय क्राइसेस मैनेजमेंट की बैठकें भी नियमित आयोजित हों। कोविड गाइडलाइन का पालन अच्छे से करने वाले व्यवसाइयों, संस्थाओं, रहवासी संघों एवं अन्य लोगों को सम्मानित करने का कार्य भी जिला स्तर पर आयोजित होना चाहिए।

Kolar News

Kolar News 30 June 2021

बैतूल। आपने अब तक किसी इंसान की सर्जरी होते देखी होगी। लेकिन बैतूल के घोड़ाडोंगरी पशु चिकित्सालय में एक 7 फुट के भुजंग की सर्जरी की गई। जिसका पेट एक दुर्घटना में फट गया था। इस अजगर को बाकायदा बेहोश किया गया और फिर डेढ़ घंटे चले ऑपरेशन के बाद उसकी सफल सर्जरी कर फिलहाल ऑब्जर्वेशन में रखा गया है।   दरअसल 29 जून की शाम को बैतूल जिले के सारनी नगर निवासी पर्यावरणविद और सांपों के संरक्षण का कार्य कर रहे आदिल खान ने बताया कि उन्हें शाम को सूचना मिली कि सारनी के पास स्थित मोरडोंगरी गांव में खेत की जुताई करते समय एक अजगर का पेट कट गया है और उसकी आंतें बाहर आ गई है। जिसके बाद आदिल के माध्यम से सारनी रेंजर अमित साहू को इसकी सूचना दी गई, जिस पर रेंजर अमित साहू ने तत्परता दिखाते हुए वन विभाग से वन रक्षक करण सिंह मर्सकोले को आदिल के पास भेजा। फिर अपने दो सहयोगी अपूर्व, अर्पित सिंह और वन विभाग के आरक्षक के साथ आदिल मोरडोंगरी गांव पहुंचे और वहां से अजगर का रेस्क्यू कर उसे सारनी लाए।   इसके बाद क्षेत्र की वेटरनरी डॉक्टर सीमा ठाकुर को आदिल ने इस संबंध में जानकारी दी और एसडीओ फॉरेस्ट सारनी विजय कुमार मौर्य को भी जानकारी दी गई। वन विभाग ने वाहन उपलब्ध कराकर घायल अजगर को घोड़ाडोंगरी स्थित पशु चिकित्सालय पहुंचाया। रात को लगभग 9.30 बजे घोड़ाडोंगरी पशु चिकित्सालय में 7 फीट लंबे अजगर का वेटरनरी डॉक्टर सीमा ठाकुर, डिस्पेंसरी अटेंडेड दशरथ गीत ने सांप का ऑपरेशन शुरू किया, जो रात को 11 बजे तक चला।   आदिल ने बताया कि लगभग डेढ़ घंटे तक वे अजगर को पकड़कर खड़े रहे और वनरक्षक करन सिंह मर्सकोले वह एक अन्य व्यक्ति भी अजगर को पकड़े हुए थे क्योंकि अजगर बहुत ताकतवर होता है इसलिए उसे संभालने के लिए तीन लोग लगे। ऑपरेशन शुरू करते समय पहले जहां चोट लगी थी वहां पर एनेस्थीसिया लगाया गया इसके बाद सांप का आंतों का जो हिस्सा बाहर आ गया था उसकी सफाई की गई और उसे वापस सांप के शरीर में डाला गया।   सांप बार-बार गहरी सांसे ले रहा था जिस वजह से कभी-कभी अंदर डाला हिस्सा बाहर आ रहा था, धीमे धीमे कर के सांप को अंदर और बाहर दोनों तरफ टांके लगाए गए और फिर उसकी सफाई करके ड्रेसिंग की गई। जिसके बाद सांप को वन विभाग, सर्प विशेषज्ञ आदिल खान और वेटरनरी डॉक्टर सीमा ठाकुर की निगरानी में रखा गया है। सांप के स्वस्थ होने पर उसे सतपुड़ा के घने जंगलों में छोड़ दिया जाएगा।   पर्यावरणविद आदिल खान ने बताया कि वन विभाग और वेटरनरी विभाग से सांप के इलाज के लिए बहुत सहयोग मिला और तत्परता के साथ सब कुछ हुआ जिससे सांप की जान बच गई, यह गर्व की बात है कि सारनी जैसे छोटे शहर में भी अब वन्य प्राणियों के लिए बेहतर उपचार संभव हैं।   घोड़ाडोंगरी की पशु चिकित्सक सीमा ठाकुर ने बताया कि सात फीट लंबे अजगर की आंतें बाहर आ गई थी जिसे अंदर करके दो लेयर में लगभग बारह टांके लगाए गए। अजगर को अभी ऑब्जर्वेशन में रखा है स्वस्थ होने पर जंगल में छोड़ दिया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 30 June 2021

भोपाल। वेतन बढ़ोतरी समेत अन्य मांगों को लेकर हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल की लगभग 400 नर्सें अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गईं। हड़ताल पर जाने से पहले सभी नर्सें बुधवार सुबह हमीदिया अस्पताल परिसर में बने डी-ब्लॉक के पास एकत्रित हुईं और उन्होंने अपनी मांगों को लेकर जमकर नारेबाजी की।   राजधानी भोपाल के हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल की 400 नर्सें बुधवार सुबह से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चली गई। इस हड़ताल का फैसला एसोसिएशन की मंगलवार को हुई बैठक में लिया गया था। नर्सेस एसोसिएशन की प्रदेश अध्यक्ष मंजू मेश्राम ने कहा कि हमारी मांगें पूरी नहीं होने तक हम अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जाने को मजबूर हैं। उन्होंने कहा कि अस्पताल प्रबंधन की तरफ से आश्वासन देने के बावजूद हमारी मांगों को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई। अब हमारी मांगे पूरी नहीं होने तक काम बंद रहेगा। इधर, अस्पताल प्रबंधन ने हड़ताल को देखते हुए मरीजों को परेशानी से बचाने के लिए तीन दिन के लिए नर्सिंग स्टूडेंट्स और एनआरएचएम की तरफ से तैनात नर्सेस की रोस्टर बनाकर ड्यूटी लगाई है।   पहले सोमवार से होने वाली थी हड़ताल हमीदिया की 300 और सुल्तानियां की 100 नर्सेस ने अपनी मांगें नहीं माने जाने पर सोमवार को एक दिन के सामूहिक अवकाश पर जाने का ऐलान किया था। सोमवार सुबह नर्सेस अधीक्षक कार्यालय के सामने एकत्रित हुई। यहां हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक और गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन के आश्वासन के बाद नर्सेस काम पर लौट गई थीं। मंगलवार को दोबारा नर्सेस यूनियन ने बैठक हुई और बुधवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया गया।

Kolar News

Kolar News 30 June 2021

उज्जैन। कलेक्टर आशीष सिंह ने सोमवार को महाकालेश्वर मन्दिर विकास योजना की समीक्षा की। इसमें मृदा योजना, महाकालेश्वर परिसर विस्तार योजना एवं सड़कों के चौड़ीकरण हेतु भूमि का अधिग्रहण आदि कार्य शामिल हैं। बैठक में कलेक्टर ने निर्देश दिये कि महाकालेश्वर मन्दिर में आम दिनों में दर्शनार्थियों के मूवमेंट एवं विशेष पर्व दिवसों पर दर्शनार्थियों के मूवमेंट को लेकर सर्कुलेशन प्लान तैयार किया जाये। उक्त प्लान के आधार पर ही आने वाले समय में विशेष पर्वों पर दर्शन की व्यवस्थाएं की जा सकेंगी।    कलेक्टर ने इसी के साथ महाकाल विकास योजना के तहत विभिन्न सड़कों एवं विकास कार्य के लिये जमीन अधिग्रहण की प्रगति की समीक्षा की और निर्देश दिये कि जमीन अधिग्रहण का कार्य शीघ्रता से किया जाये। बैठक में नगर निगम आयुक्त क्षितिज सिंघल, एडीएम एवं महाकालेश्वर मन्दिर समिति प्रशासक नरेन्द्र सूर्यवंशी, यूडीए सीईओ एसएस रावत, स्मार्ट सिटी सीईओ जितेन्द्रसिंह चौहान मौजूद थे।   बैठक में त्रिवेणी संग्रहालय से चारधाम तक की सड़क निर्माण हेतु महाकाल मन्दिर के सामने की ओर 11 मकानों के अधिग्रहण, चारधाम मन्दिर से नृसिंह घाट तक के मार्ग के लिये जमीन अधिग्रहण, महाकालेश्वर मन्दिर के सामने की ओर 70 मीटर के अधिग्रहण की कार्यवाही व बड़ा गणेश से छोटा रूद्र सागर के मार्ग एवं कालभैरव मन्दिर परिसर के जमीन अधिग्रहण की कार्यवाही की समीक्षा की गई। बताया गया कि त्रिवेणी से चारधाम तक के मार्ग के लिये धारा-19 की कार्यवाही हो चुकी है, अब धारा-21 की कार्यवाही प्रारम्भ होना है। इसी तरह 70 मीटर क्षेत्र के अधिग्रहण के लिये सर्वे का काम हो चुका है। कलेक्टर ने इस मामले में धारा-11 की कार्यवाही आगामी तीन दिनों में करने के लिये कहा है। कालभैरव मन्दिर के विकास के लिये जमीन अधिग्रहण हेतु धारा-19 का प्रकाशन हो चुका है।   बैठक में बताया गया कि महाकाल मन्दिर परिसर में जेके सीमेन्ट द्वारा बनाये जाने वाले अतिथि गृह का कार्य भी शीघ्र प्रारम्भ होने जा रहा है। महाकाल थाने के नवीन भवन के लिये डीपीआर तैयार की जा रही है। कलेक्टर ने हरिफाटक ब्रिज की भुजाओं के विस्तार के लिये आवश्यक सर्वे कार्य हेतु रेलवे के अधिकारियोयं के साथ बैठक आयोजित करने के लिये निर्देशित किया।

Kolar News

Kolar News 28 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के टीके को लेकर लोगों में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है और वे टीकाकरण केन्द्रों पर पहुंचकर कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगवा रहे हैं। मध्यप्रदेश में अब तक 1 करोड़ 98 लाख से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को ट्वीट के माध्यम से दी। साथ ही यह अपील भी की गई है कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण जरूर कराएं।   बता दें कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर देश में शुरू हुए कोरोना टीकाकरण महाअभियान को मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गंभीरता से लिया और इस दौरान अधिक से अधिक लोगों को टीका लगाने की तैयारियां की गईं। मुख्यमंत्री चौहान के नेतृत्व में राज्य सरकार प्रदेशवासियों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित कर रही है और इसमें विभिन्न संगठनों, जनप्रतिनिधयों के साथ गणमान्य नागरिक भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। सभी के सहयोग से टीकाकरण महाअभियान का प्रदेश में सफल क्रियान्वयन हो रहा है। इस महाअभियान के अंतर्गत मध्यप्रदेश में चार दिन में 46 लाख लोगों का टीकाकरण हो गया।    स्वास्थ्य विभाग द्वारा जानकारी दी गई है कि टीकाकरण महाअभियान में पहले दिन 21 जून को 17.42 लाख, दूसरे दिन 23 जून को 11.59 लाख और तीसरे दिन 24 जून को 7.33 लाख लोगों का वैक्सीनेशन हुआ, जबकि चौथे दिन शनिवार, 26 जून को रात नौ बजे तक वैक्सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत 9 लाख 64 हजार 756 डोज़ेज़ नागरिकों को लगाये गए। इस प्रकार वैक्सीनेशन महाअभियान में करीब 46 लाख डोज़ लगे हैं। इन्हें मिलाकर मध्यप्रदेश में 27 जून को रात 09 बजे तक 1 करोड़ 98 लाख 26 हजार से अधिक लोगों को वैक्सीन के डोज लगाए जा चुके हैं।    सोमवार को वैक्सीनेशन महाअभियान का पांचवां दिन है और आज वैक्सीन की कमी होने के कारण प्रदेश के 27 जिलों में टीके लगाए जा रहे हैं। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में वैक्सीनेशन का अभियान निरंतर जारी रहेगा।

Kolar News

Kolar News 28 June 2021

भोपाल। नर्सेस एसोसिएशन के बैनर तले सोमवार से होने वाली हमीदिया और सुल्तानिया अस्पताल की 400 नर्सों की हड़ताल फिलहाल टल गई है। एसोसिएशन की ओर से मंगलवार की बैठक में अगली रणनीति बनाने की बात कही गई है।   हमीदिया अस्पताल की 300 और सुल्तानियां की 100 नर्सेस ने सोमवार को अपनी मांगों को नहीं मानने पर एक दिन के सामूहिक अवकाश पर जाने का ऐलान किया था। सोमवार सुबह नर्सेस अधीक्षक कार्यालय के सामने एकत्रित हुई। यहां हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक और गांधी मेडिकल कॉलेज के डीन के आश्वासन की जानकारी सभी को दी गई। जिसके बाद सभी नर्सेस काम पर लौट गई।   प्रांतीय नर्सेस एसोसिएशन की प्रदेश अध्यक्ष मंजू मेश्राम ने बताया कि आज हड़ताल प्रस्तावित थी, लेकिन डीन और अधीक्षक ने हमारी मांगों पर विचार करने का आश्वसान दिया। जिसके बाद हमने आज की प्रस्तावित हड़ताल को स्थगित कर दिया है। इस मामले में मंगलवार को हमीदिया-सुल्तानिया अस्पताल की नर्सेस बैठक करेंगी। इसके बाद 30 जून से अनिश्चित कालीन हड़ताल को लेकर अपनी आगे की रणनीति तय करेंगे।    एसोसिएशन की प्रमुख मांगों में 2004 के बाद नियुक्त सभी स्टाफ नर्सों की पुरानी पेंशन लागू की जाने, कोरोना काल में काम करने वाली नर्सेस को दो वेतन वृद्धि दी जाने, 2018 के आदर्श भर्ती नियमों में संशोधन करते हुए 70 प्रतिशत, 80 प्रतिशत एवं 90 प्रतिशत का नियम हटाए जाने एवं प्रतिनियुक्ति समाप्त कर स्थानांतरण की प्रक्रिया चालू की जाने, सरकारी अस्पताल एवं मेडिकल कॉलेजों में सेवारत नर्सेस को उच्च शिक्षा के लिए आयु सीमा बंधन हटाए जाने आदि की मांगें शामिल हैं।

Kolar News

Kolar News 28 June 2021

बैतूल। रविवार को प्रसारित मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बैतूल जिले के दुलारिया गांव के राजेश हिरावे और किशोरीलाल धुर्वे से बातचीत की। प्रधानमंत्री ने गांव के लोगों से आग्रह किया कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें, वैक्सीन सुरक्षित है इसे जरूर लगवाएं।   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के दुलारिया गांव के दो ग्रामीणों से बात की। राजेश हिरावे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया कि ग्रामीण इंटरनेट मीडिया पर वैक्सीन को लेकर फैल रहे भ्रम की वजह से टीका नहीं लगवा रहे हैं। इंटरनेट मीडिया पर यह संदेश आ रहा है कि वैक्सीन लगवाने से बुखार आता है, यहां तक कि मौत भी हो जाती है। प्रधानमंत्री ने राजेश हिरावे से कहा कि आप खुद वैक्सीन लगवाइए और ग्रामीणों के बीच इसको लेकर फैल रहे भ्रम को दूर कीजिए। पीएम ने इसी गांव के किशोरीलाल धुर्वे से भी बात की और उन्होंने भी प्रधानमंत्री को वैक्सीन को लेकर फैल रहे भ्रम की जानकारी दी। इस पर प्रधानमंत्री ने कहा कि आप टीका लगवाईए और लोगों के इस भ्रम को दूर कीजिए, उन्होंने यह भी कहा कि आप ग्रामीणों को समझाइये और कोई न माने तो मेरा नाम लीजिए और कहिए कि हमारी उनसे बात हुई है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि वैक्सीन सुरक्षित है। प्रधानमंत्री ने ग्रामीणों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि मैंने और लगभग 100 साल की मेरी मां ने भी वैक्सीन लगवाई है और हमें कुछ नहीं हुंआ।

Kolar News

Kolar News 27 June 2021

बैतूल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के अंतर्गत जिले के विकासखंड भीमपुर के ग्राम डुलारिया के दो व्यक्तियों राजेश हिरावे एवं किशोरीलाल धुर्वे से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों को कोविड वैक्सीन की भ्रांतियों से दूर रहकर आवश्यक रूप से टीकाकरण करवाने की समझाइश दी। प्रधानमंत्री की समझाइश के बाद गांव में वैक्सीन लगवाने के प्रति लोग उत्साहित हुए एवं 126 लोगों ने वैक्सीन लगवाई।   वैज्ञानिकों की दिन रात की मेहनत के बाद बना है वैक्सीन मन की बात में प्रधानमंत्री मोदी को राजेश हिरावे एवं किशोरीलाल धुर्वे ने बताया कि वैक्सीन को लेकर उनके गांव में काफी भ्रम फैला हुआ था कि, इससे बुखार आता है और मृत्यु तक हो जाती है। प्रधानमंत्री ने समझाया कि वैक्सीन विश्व के अनेकों वैज्ञानिकों की दिन-रात की मेहनत के बाद बनाया गया है, जो पूर्ण रूप से सुरक्षित है। अत: बिना किसी भ्रम के वैक्सीन लगवाएं।   मैंने और मेरी माताजी ने दोनों डोज लिए हैं मोदी ने बातचीत में बताया कि उन्होंने स्वयं वैक्सीन के दोनों डोज लिए हैं तथा उनकी 100 वर्षीय माताजी ने भी दोनों डोज लगवाए हैं। वैक्सीन लगवाने के बाद थोड़ा बुखार आता है, परन्तु वह शीघ्र ठीक हो जाता है। वैक्सीन से शरीर को किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होता। वैक्सीन कोरोना के विरुद्ध सुरक्षा चक्र है।   मेरा नाम लेकर कहना कि वैक्सीन सुरक्षित है प्रधानमंत्री मोदी ने राजेश और किशोरीलाल से कहा कि ‘गांव वालों को मेरा नाम लेकर कहना कि मैंने स्वयं वैक्सीन लगवाया है और कहा है कि वैक्सीन पूर्ण रूप से सुरक्षित है तथा कोरोना से सुरक्षा देता है अत: वैक्सीन अवश्य लगवाएं।’   खुद भी टीका लगवाएं और दूसरों को भी प्रेरित करें प्रधानमंत्री की समझाइश के बाद ग्राम डुलारिया के व्यक्तियों ने कहा कि अब हमारा टीके को लेकर भ्रम दूर हो गया है, अब हम भी टीका लगवाएंगे तथा दूसरों को भी टीका लगवाने के लिए प्रेरित करेंगे।   मैं आपकी चिट्टी का इंतजार करूंगा प्रधानमंत्री मोदी ने राजेश और किशोरीलाल से कहा कि जब डुलारिया ग्राम में टीकाकरण पूरा हो जाए तो मुझे जरूर बताएं। मैं आपकी चिट्टी का इंतजार करूंगा।   कोरोना रूपी बहुरूपिए से बचने के दो रास्ते प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना बहुरूपिया बीमारी है, जो रूप-रंग बदल-बदल कर आती है। इस बीमारी से बचने के दो रास्ते हैं। पहला कोविड प्रोटोकॉल का पूरा पालन करना तथा दूसरा वैक्सीन लगवाना। कोरोना प्रोटोकॉल के अंतर्गत मास्क पहनना, परस्पर दूरी बना कर रखना, बार-बार साबुन से हाथ धोना आदि उपाय हैं। हमें इन दोनों पर चलकर स्वयं को, परिवार को तथा सभी देशवासियों को सुरक्षित करना है।   इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा है कि हमारे दूरदर्शी एवं लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी न केवल देश के 18 वर्ष की आयु के ऊपर के हर व्यक्ति को निशुल्क वैक्सीन लगवाकर उन्हें कोरोना से सुरक्षित कर रहे हैं, बल्कि देश के जिन क्षेत्रों में वैक्सीन को लेकर लोगों के मन में भ्रम है उस भ्रम को दूर भी कर रहे हैं।   उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के ग्राम डुलारिया में वैक्सीनेशन को लेकर भ्रम व्याप्त था, लोग डर रहे थे। प्रधानमंत्री मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम के माध्यम से वहां के लोगों से सीधे बातचीत की तथा उन्हें सरल भाषा में समझाया। इसके बाद गांव में उत्साह के साथ वैक्सीनेशन हो रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी का हृदय से आभार व्यक्त किया है।   देश के मुखिया सरल, सहल और संवेदनशील हैं : कमल पटेल  जिले के प्रभारी एवं किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा बैतूल जिले के डुलारिया ग्राम के ग्रामीणों को कोविड वैक्सीनेशन करवाने के लिए दी गई समझाइश के संबंध में ट्वीट करते हुए कहा कि हम सभी को गर्व होता है कि हमारे नेतृत्वकर्ता व देश के मुखिया सरल, सहज और संवेदनशील प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हैं, जो गांव के गरीबों के बारे में सोचते हैं और उनसे इतनी सहजता से बात करते हैं।   जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी भी कर रहे हैं ग्रामीणों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित जिले के भीमपुर विकासखंड के ग्राम डुलारिया में सांसद डीडी उइके, पूर्व विधायक महेन्द्र सिंह चौहान, कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस, पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद एवं जिला पंचायत सीईओ एमएल त्यागी सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा लगातार भ्रमण किया जा रहा है। जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों द्वारा भी ग्रामीणों को भ्रांतियों से दूर रहने एवं टीकाकरण करवाने से कोरोना जैसी गंभीर बीमारी से बचाव की समझाइश दी जा रही है एवं टीकाकरण के लिए प्रेरित किया जा रहा है।   शनिवार को सांसद डीडी उइके एवं पूर्व विधायक महेंद्र सिंह चौहान द्वारा ग्राम डुलरिया एवं आमढाना में चौपाल आयोजित कर लोगों को टीकाकरण के फायदे बताए गए। साथ ही भ्रांतियां भी दूर की गई। चौपाल में ग्रामीणों द्वारा टीकाकरण करवाने का संकल्प भी लिया गया। इसी तरह कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक की मौजूदगी में भी आयोजित चौपाल में ग्रामीणों द्वारा टीकाकरण करवाने के लिए संकल्प लिया गया।

Kolar News

Kolar News 27 June 2021

उज्जैन। महाकालेश्वर मंदिर में करीब पौने तीन माह बाद एक बार फिर श्रद्धालु बाबा महाकाल के दर्शन कर सकेंगे। मंदिर प्रबंध समिति द्वारा कल प्रात: 6 से रात्रि 8 बजे तक दर्शन करवाए जाएंगे। कुल 7 स्लॉट 500-500 भक्तों के बनाए गए हैं, जिसके लिए 2-2 घण्टे का समय रखा गया है। ताकि कोरोना प्रोटोकाल का पालन हो सके। मंदिर में ऑन लाइन बुकिंग 1 जुलाई तक की हो चुकी है।   मंदिर प्रबंध समिति के सहायक प्रशासक मूलचंद जूनवाल के अनुसार 28 जून प्रात: 6 बजे से दर्शन कर सिलसिला प्रारंभ हो जाएगा। कियोस्क बनाया गया है। यहां भक्तों को आकर अपना ऑनलाइन पंजीयन दिखाना होगा तथा मांगने पर कोरोना के टीके का प्रमाण पत्र अथवा आरटीपीसीआर की निगेटिव्ह रिपोर्ट देना होगी। इसके बाद ही प्रवेश दिया जाएगा। प्रवेश 4 नम्बर गेट से होगा और निकासी 5 नम्बर गेट से। सशुल्क दर्शन के लिए 250 रू. की रसीद भी काटी जाएगी। भक्त 6 बजे से  पूर्व भी पहुंच सकते हैं। भक्तों को पुष्प, प्रसादी ले जाने की अनुमति रहेगी।   मॉल-मण्डी खोल दिए, गर्भगृह से परेशानी 28 जून से महाकालेश्वर मंदिर खुलने के साथ ही पण्डे,पुजारियों में असंतोष भी देखा जा रहा है। दिलीप गुरू का चर्चा में आरोप है कि जिला प्रशासन ने मॉल खोल दिए, मण्डी खोल दी। मुख्यमंत्री ने रविवार का जनता कफ्र्यू हटा दिया। इसके बाद जिला प्रशासन को महाकाल मंदिर के गर्भगृह के बारे में सोचना चाहिए। भक्तों को अभिषेक की रसीद काटकर आने दिया जाए। यदि 1500 रू. की अभिषेक की रसीद कटवाकर भक्त आता है और एक हजार लोग भी रसीद कटवाते हैं तो 15 लाख रू. प्रति दिन की आवक होगी। इसमें से 16 पुजारी और 22 पण्डों को भी लाभ होगा। कम से कम उन्हे यह सुविधा देना चाहिए,। ताकि मंदिर की आय बढ़े वहीं 16 पुजारी एवं 22 पण्डों को उसका एक हिस्सा मिल सके और वे भी परिवार चला सकें।

Kolar News

Kolar News 27 June 2021

भोपाल/इंदौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंडिया स्मार्ट सिटी अवार्ड्स कांटेस्ट-2020 में ओवरऑल इंदौर को प्रथम स्थान, प्रदेश की 5 स्मार्ट सिटी को 11 अवार्ड और राज्यों की श्रेणी में मध्यप्रदेश को द्वितीय स्थान प्राप्त होने पर बधाई दी है। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने भी इस उल्लेखनीय उपलब्धि के लिए पूरे स्टाफ की सराहना की है। उन्होंने सागर सहित भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर के प्रशासन और स्थानीय लोगों को भी इस कामयाबी के लिये बधाई दी है। इंदौर के साथ ही सूरत को भी प्रथम स्थान मिला है।   स्मार्ट सिटी मिशन के 6 वर्ष पूरे होने पर भारत सरकार के आवासन और शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी ने शुक्रवार को वर्चुअल मीट के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में 'इंडिया स्मार्ट सिटी कांटेस्ट-2020'के परिणाम घोषित किये।   प्रोजेक्ट अवार्ड बिल्ट एनवायर्नमेंट थीम -इंदौर को 56 दुकान प्रोजेक्ट के लिए प्रथम स्थान मिला। सेनिटेशन थीम -इंदौर को तिरूपति शहर के साथ म्युनिसिपल वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम थीम में प्रथम स्थान मिला। कल्चर थीम -इंदौर को कन्ज़रवेशन ऑफ बिल्ट हेरिटेज के लिए प्रथम स्थान एवं ग्वालियर को डिजिटल म्यूजियम के लिए तृतीय स्थान प्राप्त हुआ। इकॉनॉमी थीम -इंदौर को कार्बन क्रेडिट फाइनेंसिंग मेकेनिज्म के लिए प्रथम स्थान प्राप्त हुआ। अर्बन एनवायर्नमेंट थीम -भोपाल को चेन्नई के साथ क्लीन एनर्जी के लिए प्रथम स्थान मिला।   इनोवेशन अवार्ड इनोवेशन आइडिया अवार्ड थीम में इंदौर को कार्बन क्रेडिट फाइनेंसिंग मेकेनिज्म के लिए प्रथम स्थान प्राप्त हुआ।   सिटी अवार्ड राउंड वन सिटीज़ में इंदौर को प्रथम एवं जबलपुर को तृतीय स्थान प्राप्त हुआ। राउंड 3 सिटीज़ में सागर को द्वितीय स्थान मिला।

Kolar News

Kolar News 25 June 2021

भोपाल। प्रदेश के आसपास चार मौसमी सिस्टम बनने से मानसून एक्टिव हो गया है। राजधानी भोपाल में गुरुवार को दिनभर की उमस और गर्मी के बाद देर शाम जमकर बारिश हुई जो शुक्रवार सुबह तक जारी रही। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में 12 शहरों में यलो अलर्ट जारी किया है, जिसके तहत इन शहरों में भारी बारिश होने के आसार हैं।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि मध्यप्रदेश में लगातार बारिश से कई जिलों में बाढ़ का खतरा बढ़ रहा है। अगले 24 घंटों के दौरान भी आफत की बारिश होने की आशंका है जिसको देखते हुए मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। शुक्रवार को पूरे प्रदेश में कहीं तेज कहीं हल्की बारिश का दौर जारी रहेगा। अगले 24 घंटों के दौरान भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। मौसम विभाग की भारी अलर्ट की चेतावनी आने वाले दो दिनों के लिए जारी की गई है। इस दौरान हवा की रफ्तार भी अपेक्षाकृत अधिक हो सकती है। भोपाल स्थित मौसम विभाग के मुताबिक नीमच, मंदसौर, रतलाम, उज्जैन, झाबुआ और आगर मालवा जिलों में भारी बारिश की संभावना है।   इन जिलों में अलर्ट जारी मौसम विभाग ने शहडोल, कटनी, सिवनी, मंडला, बालाघाट, होशंगाबाद, बैतूल, खरगोन, अलीराजपुर, झाबुआ, उज्जैन और देवास में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

Kolar News

Kolar News 25 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी आ रही है और अब यह संख्या 100 से नीचे पहुंच गई है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 62 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 22 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या सात लाख, 89 हजार, 561 और मृतकों की संख्या आठ हजार 849 हो गई है।    यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा गुरुवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में भोपाल-15, इंदौर-10 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 31 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे। राज्य के तीन जिले-खंडवा, अलीराजपुर और बुरहानपुर कोरोना संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुके हैं। इन तीनों जिलों में अब कोरोना के एक भी सक्रिय प्रकरण नहीं हैं।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 68,453 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 62 पॉजिटिव और 68,391 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 153 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.09 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,499 से बढ़कर 7,89,561 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,798, भोपाल-1,23,073, ग्वालियर-53,059, जबलपुर-50,549, उज्जैन-18,892, रतलाम+17,823, सागर-16,545, रीवा-16,426, खरगौन-13,951, बैतूल-12,855, धार-12,518, शिवपुरी-12,385, सतना-11,960, विदिशा-11,907, नरसिंहपुर-11,193, होशंगाबाद-10,668, सीहोर-10,129, शहडोल-10,079, कटनी-9362, सीधी-9219, अनूपपुर-9229, रायसेन-9222, बालाघाट-9078, सिंगरौली-8786, मंदसौर-8636, राजगढ़-8655, बड़वानी-8349, मुरैना-8230, दमोह-8090, नीमच-7911, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7597, पन्ना-7313, दतिया-6950, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6766, छिंदवाड़ा-6730, शाजापुर-6347, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5128, हरदा-5048, डिंडौरी-4617, खंडवा-4040, श्योपुर-3998, निवाड़ी-3701, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3499, आगरमालवा-3303, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 22 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में रतलाम के चार, सागर के तीन, ग्वालियर और सीहोर के दो-दो तथा इंदौर, जबलपुर, बैतूल, विदिशा, कटनी, राजगढ़, बड़वानी, दमोह, झाबुआ, शाजापुर और मंडला के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8827 से बढ़कर 8849 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1379, भोपाल 972, ग्वालियर-633, जबलपुर-660, उज्जैन-172, रतलाम-364, खरगौन-239, सागर-372, रीवा-155, बैतूल-245, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-225, नरसिंहपुर-81, सतना-133, सीहोर-66, शहडोल-118, कटनी-118, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-82, मंदसौर-84, राजगढ़-161, बड़वानी-90, मुरैना-92, दमोह-177, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-63, छतरपुर-91, पन्ना-62, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-65, उमरिया-63, मंडला-24, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-78, निवाड़ी-48, अशोकनगर-38, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-61, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,79,432 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 255 मरीज गुरुवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 1,280 हैं।

Kolar News

Kolar News 24 June 2021

उज्जैन। शहर की एक महिला को कोरोना वायरस का डेल्टा+ वेरिएंट निकलने के बाद उसकी मौत हो गई। तीन दिन पूर्व जब दिल्ली स्थित लेब से जिनोम सिक्वेंस की रिपोर्ट जिला प्रशासन के पास आई तो प्रशासन अलर्ट हो गया। मृत महिला के रिश्तेदार स्वस्थ है, हालांकि उक्त रिपोर्ट आने के बाद शहर की बड़ी आबादीवाली बस्ती ऋषि नगर में हलचल है, जहां महिला रहती थी। यह वही आबादीवाला क्षेत्र है जो कोरोनाकाल में लगातार हॉट झोन बनता रहा और एक के बाद एक, लोगों की मौते होती रही।   मृत महिला को लेकर जो बातें सामने आई है, उस अनुसार उसने घट्टिया का पता लिखवाया था, जबकि वह पहले क्षीरसागर में रहती थी, उसके बाद ऋषिनगर में रहने गई। बाद में घट्टिया गई। उसका पति सिक्युरिटी गार्ड है। उसे पहले कोरोना हुआ। उसके बाद उसकी पत्नि को हुआ। पत्नि ऋषिनगर में रहते हुए संक्रमित हुई। उसे पहले संजीवनी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। तीन दिन बाद उसे पाटीदार हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां उसकी मौत हो गई। उस समय कांटेक्ट ट्रेसिंग को कथित रूप से हल्के में लिया गया।    स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि उसके रिश्तेदारों के सेम्पल लिए गए,जोकि निगेटिव्ह आए। वे सभी स्वस्थ हैं, जबकि जिले के ही कोरोना का उपचार कर रहे डॉक्टर्स का कहना है कि ये टेस्ट कांटेक्ट ट्रेसिंग के दौरान हुए और कितनों के हुए, उसकी जांच होना आवश्यक है। इसलिए क्योंकि महिला को कोरोना वायरस का डेल्टा+वेरिएंट था, यह बात तो दिल्ली से जिनोम सिक्सेंस की तीन दिन पूर्व आई रिपोर्ट के बाद पता चला है। अब यदि दोबारा से रिश्तेदारों की कांटेक्ट ट्रेसिंग होती है, तो ही स्पष्ट हो पाएगा कि अब की स्थिति क्या है?    जानकारों के अनुसार चूंकि यह मामला शासन-प्रशासन स्तर का है, इसलिए वे सीधे राय नहीं दे सकते हैं, लेकिन प्रशासन को उन क्षेत्रों में अब कांटेक्ट ट्रेसिंग करना चाहिए, जोकि हॉट स्पॉट थे। चूंकि महिला ऋषिनगर में संक्रमित हुई। वह क्षेत्र हॉट स्पॉट था। ऐसे में वहां से अब भी सेम्पल लेकर जिनोम सिक्वेंस के लिए भेजना चाहिए। इसीप्रकार जिन स्वास्थ्यकर्मियों ने उसका उपचार किया, उनकी भी इस समय सेम्पल लेकर जिनोम सिक्सेंसिंग करवाना चाहिए, ताकि वायरस यदि किसी के शरीर में सायलेंट स्थिति में है,तो पता लगे। ज्ञात रहे जिले के कुछ डॉक्टर्स कोरोना को लेकर इंटरनेशनल वेबीनार के माध्यम से सतत जुड़े हुए हैं। हालांकि उनके ज्ञान का उपयोग स्वास्थ्य विभाग नहीं कर पा रहा है।   इस संबंध में सीएमएचओ डॉ.महावीर खण्डेलवाल का कहना है कि महिला जहां-जहां रहती थी, वहां कांटेक्ट ट्रेसिंग करवा ली गई। यह वेरिएंट महिला में मिला, इसकी रिपोर्ट दिल्ली से तीन दिन पूर्व आई है। एक बार फिर रिव्यू कर रहे हैं। हमारे निशाने पर ऋषिनगर क्षेत्र है, वहां के केसेस पर और पूर्व के केसेस पर हमने काम करना शुरू कर दिया है। उस क्षेत्र में दोबारा से सेम्पल लेकर जिनोम सिक्वेंस के लिए भेजेंगे। पता नहीं वह वेरिएंट कैसे म्यूटेंट करे। इसके चलते हमारी पूरी टीम सक्रिय हो गई है। जिला प्रशासन लगातार मानीटरिंग कर रहा है।

Kolar News

Kolar News 24 June 2021

भोपाल। ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा यानी आज रात गुरुवार, चौबीस जून की शाम को आसमान में चंद्रमा विशाल आकार में दिखाई देखा। शाम लगभग सात बजे पूर्व दिशा में जब चंद्रमा उदित हो रहा होगा तब उसका आकार सामान्य पूर्णिमा के चंद्रमा की तुलना में बड़ा होगा और उसकी चमक भी सामान्य से अधिक होगी। यह इस साल का तीसरा सुपरमून है।    इस खगोलीय घटना को स्ट्राबेरी और हनि मून नाम दिया गया  राष्ट्रीय अवार्ड से सम्मानित विज्ञान प्रसारक सारिका घारू इसके बारे में बताती हैं कि यह खगोलीय घटना सुपरमून कहलाती है। आज जो ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन चंद्रमा दिखाई देगा उसे पश्चिमी देशों में स्ट्राबेरी की हार्वेस्टिंग का मौसम होने के कारण स्ट्राबेरी मून नाम दिया गया है। इसे हनी मून भी कहते हैं, क्योंकि इस समय वहां हनी हार्वेस्ट करने के लिये तैयार हो जाता है। यूरोपीय देशों में जून्स फुलमून भी नाम दिया जाता है। पश्चिमी देशों में इसे रोजमून भी कहा जाता है। इसका यह नाम उदित होते फुलमून के लालिमा के कारण तथा कुछ क्षेत्रों में इस समय खिलने वाले गुलाब के कारण दिया गया है।   आज चंद्रमा माइक्रोमून की तुलना में 14 प्रतिशत बड़ा और 30 प्रतिशत ज्यादा चमकदार दिखेगा  सारिका कहती हैं कि चद्रमा पृथ्वी की परिक्रमा अंडाकार पथ पर करते हुये 3 लाख 61 हजार 885 किलोमीटर से कम दूरी पर रहता है तो उस समय पूर्णिमा का चांद सुपरमून कहलाता है। यह माइक्रोमून की तुलना में 14 प्रतिशत बड़ा और 30 प्रतिशत ज्यादा चमकदार दिखता है।     क्या होता है सुपरमून- भारत सरकार का नेशनल अवार्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने बताया कि चंद्रमा पृथ्वी की परिक्रमा गोलकार पथ में नहीं करता। यह अंडाकार पथ में घूमते हुये जब पृथ्वी के सबसे नजदीक होता है, इसे पेरिजी कहते हैं। जब पूर्णिमा और पेरिजी की घटना एक साथ होती हैं तो वह सुपरमून होता है। पृथ्वी के पास आ जाने के कारण यह अन्य माइक्रोमून पूर्णिमा की तुलना में 14 प्रतिशत बड़ा और 30 प्रतिशत अधिक चमकदार दिखाई देता है।   सबसे नजदीकी सुपरमून सारिका ने बताया कि 26 जनवरी 1948 को पड़े सुपरमून के बाद चंद्रमा और पृथ्वी के बीच सबसे कम दूरी का अनुभव करने के लिये 25 नवम्बर 2034 तक का इंतजार करना होगा।    सुपरमून की फोटोग्राफी  उनका कहना है कि सुपरमून को यादगार बनाने क्षितिज से उदित हो रहे चंद्रमा की फोटोग्राफी की जा सकती है। मून इलुजन की घटना के कारण चंद्रमा विशाल गोले के रूप में दिखेगा। इसके लिए शाम को 7 बजे अपने घरों की छत पर जाएं। अपने स्मार्टफोन को ट्राइपॉड पर फिक्स करें। एचडीआर मोड का इस्तेमाल करते हुए फ्लैश लाइट बंद कर फोटो लें। सावधानी के तौर पर फोटो को जूम कर न खींचे। फ्रेम ब्राइट होने से बचाने नाइट मोड का प्रयोग करने से बचें और फोन के अधिकतम रेजोल्यूशन पर ही फोटो क्‍लिक करें।

Kolar News

Kolar News 24 June 2021

उज्जैन। कोरोना संक्रमण से नागरिकों को बचाने के लिए प्रदेशभर में वैक्सीनेशन का महाअभियान चलाया जा रहा है, जिसमें नागरिक बढ़-चढ़कर सहभागिता कर रहे हैं और कोरोना के टीके लगवा रहे हैं। राज्य सरकार अक्टूबर तक प्रदेश में शत-प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य लेकर कार्य कर रही है। इसी क्रम में उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह ने एक नया आदेश जारी करते हुए कहा है कि सरकारी अधिकारियों-कर्मचारियों को टीकाकरण नहीं कराने पर अगले माह से वेतन नहीं मिलेगा।   कलेक्टर आशीष सिंह ने जिले में शत-प्रतिशत टीकाकरण के उद्देश्य से मंगलवार देर शाम यह आदेश जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि -"31 जुलाई तक शत-प्रतिशत शासकीय सेवक वैक्सीनेशन करवाना सुनिश्चित करें, जुलाई का वेतन तभी आहरित होगा जब वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र प्रस्तुत कर दिया जाएगा।"   उन्होंने सभी शासकीय विभागों के प्रमुखों को निर्देश दिये हैं कि वे अपने-अपने अधिनस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों का टीकाकरण सुनिश्चित करवाएं। 31 जुलाई तक शत-प्रतिशत शासकीय सेवकों की वैक्सीनेशन होना चाहिए। ऐसा नहीं होने पर वेतन आहरित नहीं हो पाएगा।   कलेक्टर ने जिला कोषालय के अधिकारी को निर्देशित किया है कि वे जून माह के वेतन बिल के साथ ही सभी जिला अधिकारियों से वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र एकत्रित करें और उन्हें प्रस्तुत करें। जुलाई माह के वेतन तभी आहरित किया जा सकेगा, जब सभी सरकारी कर्मचारी टीका लगवा लेंगे। सभी संविदा और दैनिक वेतन भोगी शासकीय सेवकों के वैक्सीनेशन की जानकारी भी कलेक्टर को प्रस्तुत करने के लिए विभाग प्रमुखों को निर्देश दिए गए हैं।

Kolar News

Kolar News 23 June 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 12 नये मामले सामने आए हैं, जबकि एक व्यक्ति की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 1,52,788 और मृतकों की संख्या 1378 हो गई है।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने बुधवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा मंगलवार देर रात 8,663 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 12 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 788 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1378 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 74 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 51 हजार 129 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल इंदौर में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 281 है, जिनका उपचार चल रहा है। 

Kolar News

Kolar News 23 June 2021

अनूपपुर। जिले में बनाए गए 71 केन्द्रों पर सोमवार को वैक्सीनेशन महाभियान अव्यवस्थाओं के बीच संपन्न हुआ। केन्द्रों पर वैक्सीन लगवाने पहुंचे लोगों की संख्या प्रशासन की सोच व लक्ष्य से कहीं ज्यादा रही। टीका लगवाने के लिए एकत्रित भीड़ धक्का मुक्की तक उतर आई। सोशल डिस्टेसिंग का पालन कराने के लिए न तो प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहा और न ही लोगों ने मास्क पहना हुआ था।   जिले में बनाए गए 71 वैक्सीनेशन सेंटर में कुल 10 हजार 900 से अधिक उपलब्ध थी। लेकिन सेंटरों में बनाए गए डोज के कई ऐसे सेंटरों में अधिक संख्या में लोगो के आने के कारण वैक्सीन की डोज कम पड़ गया। जिसके बाद जिले के कई सेंटरों से हजारों लोगो को बिना वैक्सीन लगवाए ही वापस जाना प$डा। हालांकि वैक्सीन लगवाने आए लोगो की भींड़ को देखते हुए कलेक्टर ने शहडोल 1 हजार अतिरिक्त डोज की उपलब्धता बनाई गई। बावजूद इनमें आधे से अधिक सेंटर पर उपलब्ध टीके दो-तीन घंटे के अंदर ही समाप्त हो गए। कुछ सेंटरों पर टीके लगवाने पहुंचे लोग लाइन लगाए अपने बारी का इंतजार करते देखे गए। वहीं कई कर्मचारियों द्वारा अपने परिचितों को पीछे के दरवाजे से बुलाकर उनको टीका पहले लगवाया गया। जिसपर स्थानीय सेंटरों पर लोगों में आक्रोश का माहौल बना पनपने लगा और कर्मचारियों से विवाद की स्थित उत्पन्न होने लगी थी।    स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना था कि सोमवार को प्रशासन द्वारा महा वैक्सीनेशन अभियान आयोजित किया गया था। जिसके अंतर्गत ज्यादा से ज्यादा संख्या में वैक्सीनेशन कार्य किए जाने थे। उपलब्ध वैक्सीनेशन डोज से अधिक संख्या में लोगों के पहुंचने से वैक्सीनेशन सेंटर पर अव्यवस्था की स्थिति निर्मित हो गई। जहां 71 सेंटरों में जिले अबतक 9544 लोगो को वैक्सीन लगाई जा चुकी हैं टीकाकरण अभी भी जारी हैं। यह आंकड़ बढ़ कर दस हजार से अधिक का हो सकता हैं।   टीका लगवाने उमड़ा जनसैलाब जिले में बनाए गए 71 वैक्सनेशन सेंटर में महाअभियान के दौरान लोगो में टीका लगवाने का उत्साह जमकर देखा गया। लेकिन वैक्सीन की कमी के कारण हजारों की संख्या में लोग बिना टीका लगवाए ही वैक्सीन सेंटर से वापस हुए। जिले में 6 हजार लोगो को टीका लगवाने का लक्ष्य रखा गया था, जहां लक्ष्य के आधार पर 8 हजार डोज की मांग की गई। जिस पर जिले को 8100 डोज प्राप्त हुए। पहले से जिले में रखे गए 1800 डोज तथा अंतिम समय में वैक्सीन लगवाने आए लोगो की संख्या को देखते हुए कलेक्टर ने 1 हजार डोज शहडोल से मंगाया गया था। लेकिन टीका लगवाने वाले लोगो का जन सैलाब सेंटरों में उमड़ प$डा। जिले में कई ऐसे सेंटर थे जहां लोगों के अधिक संख्या में पहुंचने के कारण कुछ घंटो के अंदर ही टीका समाप्त हो गया। जिसके कारण हजारों की संख्या में लोग बिना टीका लगवाए ही वापस हुए।

Kolar News

Kolar News 21 June 2021

उज्जैन। महाकालेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए 28 जून से प्रारंभ होने जा रही व्यवस्था के तहत श्रद्धालुओं को एक ही गेट से प्रवेश दिया जाएगा और उसी से निकासी दी जाएगी, हालांकि प्रवेश एवं निकासी के बीच में मार्ग का बंटवारा रहेगा। मंदिर के 4 नम्बर गेट से श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए प्रवेश दिया जाएगा। वहीं इसी गेट से श्रद्धालुओं की दर्शन पश्चात वापसी भी होगी।   महकालेश्वर मंदिर में 28 जून से श्रद्धालुओं के लिए दर्शन व्यवस्था लागू की जा रही है। इसके लिए मंदिर प्रबंध समिति के अधिकारी लगातार मंथन कर रहे हैं। प्राथमिक तौर पर रजिस्ट्रेशन से हटकर इस बात पर ध्यान दिया जा रहा है कि श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर में कहां जाने दिया जाए और कहां नहीं?    सूत्रों के अनुसार अभी तक की स्थिति यह है कि श्रद्धालु केवल महाकाल बाबा के दर्शन के लिए पीतल के बेरीकेट्स तक जा सकेंगे और वहीं से वापसी होगी। इसके अलावा परिसर में किसी अन्य मंदिर में श्रद्धालुओं को जाने नहीं दिया जाएगा। इस बारे में श्रावण मास के पूर्व होनेवाली बैठक में अंतिम निर्णय होगा।   यहां है प्रसन्नता मंदिर में श्रद्धालुओं को फूल-प्रसादी चढ़ाने की अनुमति मिलने के बाद रोजनदार काफी प्रसन्न हैं। उन्हे लम्बे समय बाद रोजगार मिलेगा। ज्ञात रहे मंदिर के बाहर फूल-प्रसादी बेचनेवालों का एक बड़ा वर्ग है,जिनकी आजीविका मंदिर से ही जुड़ी हुई है।   यहां है निराशा मंदिर प्रबंध समिति द्वारा अभी तक अभिषेक करवाने संबंधी कोई निर्णय नहीं लेने के कारण पण्डे-पुरोहितों में काफी निराशा है। उनके अनुसार अभिषेक की अनुमति दे दी जाए, भले ही श्रद्धालु एक या दो हो। रसीद कटने से जहां मंदिर की आय बढ़ेगी वहीं पण्डे-पुरोहित भी लाभान्वित होंगे। उनके पाट पर बैठने के लिए मंदिर परिसर में दूरी बनाकर व्यवस्था कर दी जाए। चूंकि वैक्सीन लगवाने वाले को ही प्रवेश दिया जाएगा, या फिर आरटीपीसीआर निगेटिव्ह होने पर आने दिया जाएगा, तब इतना सोच विचार क्यों? यह मांग दो दिन जोर पकड़ सकती है।

Kolar News

Kolar News 21 June 2021

भोपाल। कोविड टीकाकरण महाअभियान 21 जून की सुबह प्रारंभ होगा। महाअभियान की तैयारियों के संबंध में स्वास्थ्य विभाग के समस्त क्षेत्रीय संचालक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और जिला टीकाकरण अधिकारी को शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जरूरी निर्देश दिये गये।जनसम्पर्क अधिकारी महेश दुबे ने बताया कि अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य, स्वास्थ्य आयुक्त और राज्य टीकाकरण अधिकारी के द्वारा महाअभियान की सभी व्यवस्थाओं पर अधिकारियों को सौंपे गये दायित्वों से अवगत कराते हुए दिये गये लक्ष्य को 100 फीसदी प्राप्त करने के लिये कहा गया। टीकाकरण महाअभियान में आने वाला कोई भी हितग्राही किसी प्रकार की तकनीकी कठिनाई के कारण टीकाकरण से वंचित नहीं रहे, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। सभी नागरिकों का टीकाकरण करना हमारी प्राथमिकता है।महाअभियान की तैयारियों की समीक्षा बैठक मे बताया गया कि सभी जिलों को टीकाकरण के लिये दिये लक्ष्य के विरूद्ध पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध कराई गई है। साथ यह भी निर्देश दिये गये हैं कि वैक्सीन के एक वायल में 11 डोज होते हैं और टीकाकरण के दौरान यह सुनिश्चित हो कि इनमें से एक भी डोज बर्बाद न हो। सभी 11 के 11 डोज उपयोग किये जाएँ। जिले में व्यवस्थाओं पर निगरानी रखने और महाअभियान के सफल क्रियान्वयन को सुनिश्चित करने के लिये कंट्रोल रूम बनाया जाए। प्रत्येक ब्लॉक के लिये एक जोनल अधिकारी और एक सेक्टर अधिकारी महाअभियान के दौरान क्षेत्र में भ्रमण करेंगे।निर्देशों में कहा गया है कि प्रत्येक कोविड वैक्सीनेशन सेंटर पर प्रिंटर और कम्प्यूटर की व्यवस्था को सुनिश्चित रखें और टीकाकरण के लिये आने वाले प्रत्येक हितग्राही को टीकाकरण के पश्चात सर्टिफिकेट उपलब्ध करायें।सभी जिलों में दिये गये लक्ष्य के अनुसार पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन को 20 जून को अपरान्ह 2 बजे तक पहुँचाना सुनिश्चित किया जाए। वैक्सीन टीकाकरण केन्द्र पर समय पर पहुँचने का प्रमाणीकरण जिला टीकाकरण अधिकारी, राज्य कोल्ड चेन अधिकारी को देंगे।महाअभियान के सफल क्रियान्वयन के लिये राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम की भी व्यवस्था की गई है। वैक्सीन लॉजिस्टिक संबंधी समस्या राज्य कोल्ड चेन अधिकारी इंजीनियर विपिन श्रीवास्तव से 9893 471926 और प्रशासकीय समस्याओं के निराकरण के लिये उप संचालक टीकाकरण डॉ. सौरभ पुरोहित से 9753 776544 पर संपर्क किया जा सकता है। समस्त चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों को कहा गया कि महाअभियान के संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का हस्ताक्षरित पत्र समस्त जन-प्रतिनिधियों को उपलब्ध करायें। पालन प्रतिवेदन 20 जून अपरान्ह 2 बजे तक संचालक, टीकाकरण, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन को ricontrolroom2@gmail.com पर भेजें।महाअभियान के संबंध में प्रचलित नारों को आशा, आँगनवाड़ी कार्यकर्ता के माध्यम से प्रत्येक ग्राम में लिखवाया जाए। जिले में आयोजित किये जा रह सत्र स्थलों की जानकारी सभी विभागों, स्वैच्छिक संगठनों, टीवी चेनल, रेडियो और सोशल मीडिया के द्वारा प्रचारित करें और इसे कोविन एप में भी मैपिंग करें। युवा शक्ति का महाअभियान में महत्वपूर्ण भूमिका है, इसके लिये उच्च शिक्षा विभाग द्वारा तैयार कोरोना मुक्ति के तहत उच्च शिक्षा और पॉलिटेक्निक कॉलेज के छात्र-छात्राओं, एनसीसी, एनएसएस एवं एनवायके टीम सदस्यों का सोशल मोबिलाइजेशन में सहयोग प्राप्त करने को भी कहा गया है।

Kolar News

Kolar News 19 June 2021

मंदसौर। शिवना शुद्धिकरण को लेकर शहर की जनता व निर्मल शिवना अभियान के सदस्य लगातार आंदोलन कर रहे हैं। जनप्रतिनिधियों ने अब तक कोई पहल नहीं की। उनकी लापरवाही की वजह से ही आज शिवना में जलकुंभी का अंबार है। कालाभाटा बांध व रामघाट बेबसी पर आंसू बहा रहे हैं। अभियान सदस्यों व शहरवासियों की नाराजगी यह है कि शिवना को लेकर किए सारे वादे खोखले साबित हो रहे हैं।   अभियान के सदस्य हरिशंकर शर्मा ने बताया कि शहर की जनता मांग कर रही है कि शिवना नदी में गंदे नालों को मिलाने से रोका जाए। दूषित पानी का दंश झेल रहे शहर के प्रमुख जलस्रोतों की ओर ध्यान दिया जाए। जनप्रतिनिधियों का इस ओर कोई ध्यान नही है।   शिवना नदी गंदगी से दूषित हो गई है। नदी के शुद्धिकरण के लिए शहर की जनता द्वारा जल सत्यागृह तक किया गया लेकिन कोई असर नहीं हुआ। वर्तमान में भी निरंतर आंदोलन किया जा रहा है लेकिन इसकी सूचना जवाबदारों तक नही पहुंची है। यदि सूचना पहुंचती तो इसके निराकरण के कार्य शुरू हो जाते। जल संवर्धन को लेकर किए गए दावे खोखले साबित हो रहे हैं। शिवना नदी की ओर जनप्रतिनिधियों का ध्यान ही नहीं है। निर्मल शिवना के सभी कार्यकर्ता शीघ्र ही अभियान के माध्यम से मंत्री हरदीप सिंह डंग को अवगत कराएंगे। अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को स्थिति से अवगत कराना आवश्यक है।   ‘जनता लगातार मांग कर रही लेकिन जनप्रतिनिधि कोई सुध नहीं ले रहे’ प्रज्ञा पोरवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को समस्याओं के बारे में जानकारी लिखकर भेजी है। वर्तमान स्थिति से अवगत कराया है। देश में आजादी के बाद पहली बार ऐसी हठधर्मिता का उदाहरण देखने को मिला। जनता लगातार मांग कर रही है लेकिन पद के अहंकार में लीन नेता कोई सुध नहीं ले रहे हैं। जल सत्यागृह व पोस्ट कार्डों पर भी ध्यान नहीं दिया गया।   जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों को बैठकों से समय नहीं मिल पा रहा है। सब मौन हैं, जवाबदारों की चुप्पी जिम्मेदारियों पर प्रश्न चिह्न खड़ा कर रही है। पशुपतिनाथ महादेव व शिवना नदी से लोगों की आस्थाएं जुड़ी हुई हैं। जनता बार-बार मांग कर रही है लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है।   अपनी बेबसी पर आंसू बहा रहे हैं जलस्त्रोत’ नगर के जलस्त्रोंत अपनी बेबसी पर आंसू बहा रहे हैं। कालाभाटा बांध और रामघाट की हालत बेहद खराब है। नेमीचंद्र कोठारी ने बताया कि काफी जद्दोजहद के बाद चंबल से पानी लाने की एक योजना बनी लेकिन वह भी फेल हो गई। योजना से एक आशा बंधी थी कि अब मंदसौर में पेयजल का संकट नहीं रहेगा। लेकिन करोड़ों रुपए खर्च कर भी जहां से चले थे वही खड़े हैं। जगह-जगह पाइप लीकेज मिले। नगर को पेयजल से वंचित किया जा रहा है। योजना को लेकर एक बार फिर युद्ध स्तर पर काम होना चाहिए।

Kolar News

Kolar News 19 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना के नये मामलों में निरंतर कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 110 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 30 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 89 हजार, 174 और मृतकों की संख्या 8,737 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा शनिवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में इंदौर-22, भोपाल-21 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम नये मरीज मिले हैं, जबकि राज्य के 22 जिले ऐसे भी हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे।  बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 71,543 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 110 पॉजिटिव और 71,433 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 362 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 0.1 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 7,89,064 से बढ़कर 7,89,174 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 1,52,735, भोपाल-1,22,991, ग्वालियर-53,048, जबलपुर-50,526, उज्जैन-18,879, रतलाम+17,814, सागर-16,535, रीवा-16,425, खरगौन-13,942, बैतूल-12,839, धार-12,511, शिवपुरी-12,382, सतना-11,959, विदिशा-11,900, नरसिंहपुर-11,189, होशंगाबाद-10,656, सीहोर-10,124, शहडोल-10,079, कटनी-9362, सीधी-9219, अनूपपुर-9226, रायसेन-9209, बालाघाट-9075, सिंगरौली-8786, मंदसौर-8630, राजगढ़-8639, बड़वानी-8344, मुरैना-8229, दमोह-8086, नीमच 7911, देवास-7723, झाबुआ-7683, छतरपुर-7596, पन्ना-7299, दतिया-6946, टीकमगढ़-6855, सिवनी-6759, छिंदवाड़ा-6723, शाजापुर-6337, उमरिया-6287, मंडला-5184, गुना-5128, हरदा-5041, डिंडौरी-4615, खंडवा-4040, श्योपुर-3997, निवाड़ी-3700, अशोकनगर-3655, अलीराजपुर-3499, आगरमालवा-3297, भिण्ड-2992 और बुरहानपुर-2568 मरीज शामिल हैं।राज्य में आज कोरोना से 30 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में रतलाम-रीवा के चार-चार, सागर-राजगढ़ के तीन-तीन, बैतूल-सीहोर के दो-दो तथा इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, खरगौन, सतना, कटनी, अनूपपुर, झाबुआ, शाजापुर, मंडला, श्योपुर व अशोकनगर के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या 8707 से बढ़कर 8737 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 1375, भोपाल 972, ग्वालियर-625, जबलपुर-654, उज्जैन-171, रतलाम-345, खरगौन-238, सागर-357, रीवा-151, बैतूल-236, धार-130, होशंगाबाद-99, शिवपुरी-125, विदिशा-220, नरसिंहपुर-81, सतना-131, सीहोर-56, शहडोल-118, कटनी-116, सीधी-87, अनूपपुर-89, रायसेन-193, बालाघाट-64, सिंगरौली-81, मंदसौर-84, राजगढ़-151, बड़वानी-89, मुरैना-91, दमोह-175, नीमच-84, देवास-51, झाबुआ-62, छतरपुर-91, पन्ना-62, दतिया-78, टीकमगढ़-110, सिवनी-28, छिंदवाड़ा-120, शाजापुर-63, उमरिया-63, मंडला-23, गुना-44, हरदा-95, डिंडौरी-29, खंडवा-94, श्योपुर-74, निवाड़ी-48, अशोकनगर-37, अलीराजपुर-47, आगरमालवा-59, भिण्ड-32 और बुरहानपुर-39 व्यक्ति शामिल है।बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 7,77,995 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 365 मरीज शनिवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 2,442 हैं।

Kolar News

Kolar News 19 June 2021

मंदसौर। माध्यमिक शिक्षा मंडल की 10वीं और 12वीं दोनों बोर्ड परीक्षाएं इस बार कोरोना दौर के चलते नहीं हो सकीं, इससे पहले साल 2020 में मंदसौर जिला राज्य में कक्षा 10वीं बोर्ड में तीसरे और 12वीं बोर्ड में 15 वें नंबर पर था। हालांकि मंदसौर जिला शिक्षा अधिकारी आरएल कारपेंटर का कहना है कि शासन से मिले निर्देशों के तहत 10वीं मूल्यांकन डिटेल भोपाल भेजा जा चुका है, वहीं प्रारंभिक तैयारियों में 12वीं के विद्यार्थियों की रिजल्टशीट भी तैयार कर मंडल भेजी गई है, जैसे ही नए निर्देश प्राप्त होंगे तो अन्य जानकारी भी भेज देंगे।   डीईओ कारपेंटर ने शुक्रवार को बताया कि संभावना पूरी है कि दोनों ही बोर्ड नतीजे जुलाई माह में आ जाएंगे। उल्लेखनीय है कि मंदसौर जिला अंतिम बार साल 2016 में 10वीं और 12वीं दोनों बोर्ड कक्षाओं में राज्य में नंबर-1 रहा था।   इस प्रकार होगा 10वीं का मूल्यांकन - 10वीं के मूल्यांकन के लिए प्री बोर्ड, हॉफयरली, आंतरिक मूल्यांकन जैसे कई मापदंडों पर वर्गीकरण के साथ माशिमं को कलेक्टर के जरिए डिटेल भेजी गई। उत्कृष्ट स्कूल में जिलेभर से डाटा आने के बाद माशिमं को भेजा।  इधर कक्षा 12वीं बोर्ड को लेकर निर्देश आना बाकी है, हालांकि संभावना जताई जा रही कि इसका आधार 10वीं, 11वीं परीक्षा के अलावा 12वीं के प्रारंभिक टेस्ट आदि होंगे। पुरानी डिटेल को लेकर मंदसौर जिला शिक्षा कार्यालय ने रिजल्ट शीट भोपाल भेज दी है।

Kolar News

Kolar News 18 June 2021

ग्वालियर। शहर में शुक्रवार को दिन भर तेज धूप और उमस के बाद शाम को लगभग आधा घंटे तक तेज बारिश हुई, जिससे गर्मी से काफी राहत मिली। मौसम विभाग इसके पीछे दक्षिण पूर्वी उत्तर प्रदेश और दक्षिण पश्चिमी बिहार के बीच बने कम दबाव के क्षेत्र का असर बता रहा है। मौसम विभाग का कहना है कि गुना तक मानसून पहुंच चुका है, जबकि ग्वालियर सहित अंचल के अन्य जिलों में मानसून एक-दो दिन में पहुंचने की संभावना है।   पिछले दिनों की तरह शुक्रवार को भी शहर के आसमान में आंशिक बादल छाए रहे, जिससे दिन में अधिकांशत: धूप खिली रही। साथ ही छह किलोमीटर प्रति घंटे की गति से नमी युक्त उत्तर पूर्वी हवाएं चलती रहीं। इस कारण शहरवासियों का पूरा दिन उमस भरी गर्मी के साथ बीता। शाम करीब पांच बजे से बादलों का घनत्व बढऩा शुरू हुआ और साढ़े पांच बजे तक आसमान पर पूरी तरह बादलों का कब्जा हो गया। शाम करीब पौने छह बजे से बारिश शुरू हो गई, जो करीब सवा छह बजे तक जारी रही। इस दौरान कभी तेज तो कभी रिमझिम बारिश हुई।   मौसम विज्ञान केन्द्र भोपाल के अनुसार ग्वालियर-चम्बल अंचल में अभी मानूसन केवल गुना तक पहुंचा है। अंचल के शेष जिलों में अभी प्री मानसून के तहत बारिश हो रही है। संभावना है कि एक से दो दिन में अंचल के अन्य जिलों में भी मानसून पहुंच जाएगा। अभी चूंकि दक्षिण पूर्वी उत्तर प्रदेश से दक्षिण पश्चिमी बिहार तक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इसके साथ ही दक्षिण पंजाब से हरियाणा, उत्तरी उत्तर प्रदेश, बिहार से होते हुए पश्चिम बंगाल तक एक द्रोणिका भी बनी हुई है। इसके प्रभाव से ही आज ग्वालियर में बारिश हो रही है। अगले 24 घंटों के दौरान भी ग्वालियर सहित अंचल में कहीं हल्की तो कहीं मध्यम गति से बारिश होने की संभावना है।   उत्तर पूर्वी हवाओं से लुढ़का पारा: पिछले कुछ दिनों से हवाएं पश्चिम और उत्तर पश्चिम से आ रही थीं, लेकिन शुक्रवार को हवाओं का रुख बदलकर उत्तर पूर्वी हो गया। इसके साथ ही शाम को बारिश भी हो गई, जिससे अधिकतम तापमान में आंशिक गिरावट दर्ज की गई है। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 1.7 डिग्री सेल्सियस गिरावट के साथ 37.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 3.2 डिग्री सेल्सियस कम है, जबकि न्यूनतम तापमान 0.9 डिग्री सेल्सियस आंशिक वृद्धि के साथ 27.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यह भी औसत से 2.0 डिग्री सेल्सियस कम है। आज सुबह हवा में नमी 69 प्रतिशत दर्ज की गई, जो औसत से 21 प्रतिशत अधिक है, जबकि शाम को हवा में नमी 56 प्रतिशत दर्ज की गई। यह भी औसत से 22 प्रतिशत अधिक है।

Kolar News

Kolar News 18 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में मानसून की दस्तक के साथ ही अब बारिश का सिलसिला लगातार जारी है। बता दें कि बीते दिनों से राजधानी समेत कई जिलों में बारिश का दौर जारी है। लगातार हुई बारिश से फिज़ा में ठंडक घुल गई है। इसके अलावा मौसम विभाग ने प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश की संभावना जताई है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जीडी मिश्रा ने गुरुवार को जानकारी देते हुए बताया कि झारखंड में कम दबाव का सिस्टम बना हुआ है। इस वजह से पूर्वी मध्य प्रदेश में ज्यादा बारिश की संभावना है। इसके चलते रीवा, शहडोल संभाग के जिलों में तेज वर्षा हो सकती है। इसके अलावा सिस्टम के असर के कारण भोपाल, होशंगाबाद, ग्वालियर, चंबल, इंदौर, उज्जैन संभाग के कई जिलों में गरज-चमक के साथ बारिश की भी संभावना भी है।   इन जिलों में हुई बारिशपिछले 24 घंटे में प्रदेश में कई जिलों में बारिश दर्ज की गई। इसमें टीकमगढ़ में 52.एमएम, उमरिया 40.8, नरसिंहपुर में 7.0, मंडला में 36.0, खंडवा में 28.0, जबलपुर में 10.4, भोपाल में 0.1, ग्वालियर में 2.6, खजुराहो में 9.0, बैतूल में 4.2, सागर में 13.8, नौगांव में 13.8, दमोह 13.0, छिदवाड़ा 0.2 मिलीमीटर दर्ज हुई। इसके अलावा होशंगाबाद और गुना में बूंदाबांदी दर्ज की गई।

Kolar News

Kolar News 17 June 2021

उज्जैन। प्रदेश के पुरातत्व विभाग ने एक महत्वपूर्ण निर्णय ले लिया है। इसके तहत अब महाकालेश्वर मदिर के सतीमाता मंदिर क्षेत्र में करीब 400 वर्गफिट के दायरे में जेसीबी या पोकलेन मशीनें नहीं चलाई जाएंगी। खुदाई का काम गेती-फावड़े की सहायता से होगा। यह निर्णय यहां जमीन में दबी पुरातत्व महत्व की ऐतिहासिक धरोहरों को बचाने के उद्देश्य से लिया गया है।   पुरातत्व विभाग,भोपाल से प्राप्त जानकारी के अनुसार पिछले दिनों मंदिर में भोपाल से एक पुरातत्वविदों का दल आया था। दल ने अपनी रिपोर्ट बनाकर उच्च स्तर तक भेजी थी। वहां अध्ययन के बाद एक आदेश जारी हुआ है। आदेश में ठेकेदार को तथा जिला प्रशासन को कहा गया है कि अब सती माता मंदिर क्षेत्र में करीब 400 वर्गफिट एरिया में कोई खुदाई कार्य पोकलेन या जेसीबी से नहीं होगा। गेती-फावड़े का उपयोग होगा, ताकि जिस स्थान पर अवशेष मिले थे,वहां मंदिर की नींव एवं अन्य स्तंभ आदि मिल सकें। यह दावा किया जा रहा है कि ऐसा होगा ही। इसीलिए फिलहाल उस मटेरियल को तेजी से हटाया जा रहा है,जो जेसीबी के माध्यम से चिंहित क्षेत्र में ढेर बनाकर रख दिया गया था। इस ढेर के हटने के बाद सावधानी के साथ काम होगा तथा नीचे करीब 20 फिट तक खुदाई होगी।

Kolar News

Kolar News 16 June 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में लगातार चौथे दिन नये प्रकरण 100 से नीचे आए हैं। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 47 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो मरीजों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 1,52,622 और मृतकों की संख्या 1373 हो गई है। इससे पहले यहां लगातार तीन दिन क्रमशः 96,  82 व 56 नये मामले सामने आए थे।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 9,314 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 47 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 622 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1373 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 111 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 50 हजार 617 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल इंदौर में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 632 है, जिनका उपचार चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 15 June 2021

होशंगाबाद। पदीय कर्तव्यों के निर्वहन एवं हितग्राही मूलक योजनाओं के क्रियान्वयन में गंभीर लापरवाही बरतने पर ग्राम पंचायत मोहगांव के सचिव अर्जुन यादव को जिला पंचायत सीईओ मनोज सरियाम द्वारा तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।सोमवार को जारी आदेश में उल्लेखित किया गया है कि ग्राम पंचायत सचिव यादव द्वारा ग्राम मोहगांव के 6 बीपीएल हितग्राहियों के मृत्यु पर अंत्येष्टि सहायता राशि के समुचित वितरण में लापरवाही बरती गई। साथ ही सचिव द्वारा मनरेगा योजनान्तर्गत  मानव दिवस सर्जित किए जाने के लक्ष्य के विरुद्ध बहुत कम प्रगति प्राप्त की गई। ग्रामीणों द्वारा भी सचिव की लगातार सीएम हेल्पलाइन एवं जनप्रतिनिधियों के समक्ष शिकायत की जाती रही है। सचिव द्वारा अपने कर्तव्यों के प्रति कोई रुचि नहीं ली गई, साथ ही शासन की महत्वपूर्ण योजनाओं का हितग्राहियों को  लाभ दिलाने में लापरवाही बरती गई है ।इस आधार पर सचिव अर्जुन यादव को पदीय दायित्व के निर्वहन में गंभीर लापरवाही बरतने पर मध्यप्रदेश पंचायत सेवा अनुशासन तथा अपील नियम 2011 के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है।

Kolar News

Kolar News 14 June 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में लगातार तीसरे दिन नये प्रकरण 100 से नीचे आए हैं। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 56 नये मामले सामने आए हैं, जबकि एक मरीज की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 1,52, 575 और मृतकों की संख्या 1371 हो गई है। इससे पहले यहां लगातार दो दिन तक क्रमशः 96 व 82 नये मामले सामने आए थे।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने सोमवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा रविवार देर रात 9,419 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 56 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 575 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1371 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 52 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 50 हजार 506 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल इंदौर में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 698 है, जिनका उपचार चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 14 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में मानसून ने दस्तक दे दी है और झमाझम बारिश से पूरा प्रदेश तरबतर हो गया है। दक्षिण-पश्चिम मानसून के सक्रिय होने से भोपाल, जबलपुर, होशंगाबाद, सागर संभाग के जिलों में अच्छी बरसात का सिलसिला शुरू हो गया है। तेज हवाएं चलने के साथ ही तेज बारिश ने मौसम में ठंडक घोल दी है। हालांकि दिन के समय मौसम साफ रहने से उमस का एहसास हो रहा है लेकिन शाम तक तेज हवा और बारिश से मौसम का मिजाज पूरी तरह से बदल जा रहा है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने रविवार को बताया कि दक्षिण-पश्चिम मानसून शनिवार को बंगाल की खाड़ी, पश्चिम बंगाल, ओडिशा में आगे बढ़ा है। बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इस सिस्टम के रविवार को गहरे कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील होकर आगे बढऩे की संभावना है। इसके प्रभाव से पूर्वी मप्र में झमाझम बारिश का दौर शुरू होने के आसार हैं। उधर, केरल से महाराष्ट्र तक एक अपतटीय ट्रफ बना हुआ है। एक ट्रफ पंजाब से बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। अरब सागर में एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। दक्षिणी उत्तरप्रदेश पर भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इन सिस्टम के कारण मानसून सक्रिय बना हुआ है। रविवार को झमाझम बरसात के साथ मानसून राजधानी में भी प्रवेश कर सकता है। रविवार को भोपाल, होशंगाबाद, सागर, जबलपुर, शहडोल संभाग में तेज बौछारें पडऩे की संभावना है।   इन जिलों में ऑरेंज और रेड अलर्ट जारीमौसम विज्ञान ने पूर्वी मध्यप्रदेश के जबलपुर, शहडोल सहित छह जिलों में गरज, बिजली और भारी वर्षा होने का संभावना व्यक्त करते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं, विदिशा, होशंगाबाद सहित आठ जिलों में गरज, बिजली के साथ तेज बारिश होने के अनुमान के साथ यलो अलर्ट जारी किया गया है।

Kolar News

Kolar News 13 June 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 117 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो मरीजों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 1,52, 341 और मृतकों की संख्या 1366 हो गई है।इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने शुक्रवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा गुरुवार देर रात 10,063 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 117 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 341 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1366 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 311 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 50 हजार 126 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल इंदौर में कोरोना के 849 मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 11 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर भी कमजोर पड़ने लगी है। बीते चौबीस घंटों में प्रदेश के 52 में से 35 जिलों में कोरोना संक्रमण से  एक भी मौत नहीं हुई, जबकि 8 जिलों में तो कोरोना का एक भी नया मरीज नहीं मिला । भोपाल, इंदौर और जबलपुर को छोड़ दिया जाए तो प्रदेश के शेष 41 जिलों में तो कोरोना पॉजिटिव केस की संख्या दो अंकों तक  भी नहीं पहुंच पाई।   मध्यप्रदेश में गुरुवार को कोरोना के कुल 420 नए केस सामने आए। वहीं कोरोना संक्रमण के चलते 34 कोरोना मरीजों की मौत हो गई। इन्हें मिलाकर अब तक प्रदेश में कोरोना के कारण 8475 लोगों की जान जा चुकी है। प्रदेश में अभी  सिर्फ इंदौर और भोपाल में ही कोरोना पॉजिटिव केस 100 से ज्यादा आ रहे हैं। बीते चौबीस घंटों के दौरान सबसे ज्यादा नए केस इंदौर में 129 और भोपाल में 107 मिले, जबकि जबलपुर 37 केस के साथ तीसरे नंबर पर रहा।   प्रदेश का अलीराजपुर ऐसा जिला है, जो पूरी तरह से जीरो है। यहां बीते चौबीस घंटों के दौरान न तो कोई केस सामने आया और न ही किसी की मौत हो गई। कोरोना एक्टिव केस की संख्या भी शून्य है। प्रदेश में इस समय एक्टिव केस की संख्या 6325 है, जबकि 7 लाख 72 375 लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक प्रदेश में कुल 7 लाख 87 हजार 175 कोरोना केस सामने आ चुके हैं। प्रदेश के 8 जिलों में बीते चौबीस घंटों के दौरान एक भी नया केस नहीं आया।   स्वास्थ्य विभाग के अनुसार प्रदेश में बीते चौबीस घंटों के दौरान कुल 420 नए केस मिले। इनमें से ठीक होने वालों की संख्या ज्यादा रही। कुल 1132 कोरोना मरीज ठीक होकर घर गए। सिर्फ बुरहानपुर को छोड़ दिया जाए, तो पूरे प्रदेश में नए केस की अपेक्षा ठीक होने वालों की संख्या ज्यादा रही।

Kolar News

Kolar News 11 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में जूनियर डॉक्टर्स एसोसिशएन की हड़ताल के बाद अब नर्सिंग स्टाफ ने हड़ताल का बिगुल बजा दिया है। अपनी मांगों को लेकर चरणबद्ध तरीके से नर्सिंग स्टाफ पूरे प्रदेश में प्रदर्शन कर रहा है। नर्सिंग स्टाफ ने अपनी 8 सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन शुरू कर दिया है।   भोपाल में शुक्रवार को सांकेतिक प्रदर्शन के तौर पर सभी नर्सों ने ब्लैक रिबन बांधकर अपना विरोध दर्ज कराया और कहा कि अगले तीन दिनों तक इसी तरीके से विरोध जताते रहेंगे। इंदौर और जबलपुर में प्रदर्शन कर रहे नर्सिंग स्टाफ ने भी काली पट्टी बांधी और अपनी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री को पोस्टकार्ड लिखे हैं।   नर्सिंग एसोसिएशन का कहना है कि कोरोना काल में हमने कठिन हालातों में काम किया। हमारी करीब 8 मांगें है, जिनके बारे में सरकार को समय-समय पर बता चुके है। लेकिन अब तक इस पर कोई सुनवाई नहीं हुई है। इसलिए ये आंदोलन किया जा रहा है। नर्सिंग स्टाफ ने सरकार को चेतावनी दी कि अगर मांगे नहीं मानी गईं तो 25 जून से 25 हजार से भी ज्यादा नर्सिंग कर्मचारी सामूहिक हड़ताल करेंगे।   हेल्थ डिपार्टमेंट अधिकारी कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह कौरव ने बताया कि 10, 11 और 12 जून नर्सेस काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। द्वितीय चरण 14 से 17 जून को कार्यस्थल पर विरोध प्रदर्शन करेंगे। तृतीय चरण 18, 19 और 21 जून को मरीजों से क्षमायाचना मांगगे। चतुर्थ चरण में 22 जून को सामूहिक अवकाश पर जाएंगे। पांचवें चरण में मांगें नहीं मानी गयीं तो 25 से अनिश्चिकालीन अवकाश पर जाएंगे। बता दें कि नर्सिंग एसोसिएशन नर्सों की पोस्ट का नाम बदलने, रात्रिकालीन भत्ता देने और सेकंड ग्रेड पे समेत 8 मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 11 June 2021

भोपाल। राजधानी भोपाल आज से अनलॉक हो गई है। इसके साथ ही गुरूवार से बाजार, दुकानें व अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान खुल गए, हालांकि सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल, जिम और स्पा अभी नहीं खुलेंगे। रैली, प्रदर्शन और सामाजिक कार्यक्रमों पर भी प्रतिबंध रहेगा। दुकानें और अन्य प्रतिष्ठान खुलने के लिए उसमें काम करने वाले सभी कर्मचारियों का वैक्सीनेशन अनिवार्य होगा। बाजार बंद होने का समय अभी शाम छह बजे तक था। गुरुवार से रात आठ बजे तक बाजार खुले रहेंगे। शनिवार रात आठ बजे से सोमवार सुबह छह बजे तक जनता कफ्र्यू रहेगा।भोपाल में शनिवार को भी बाजार खुलेंगे, लेकिन रविवार को पूरी तरह से लॉकडाउन रहेगा, साथ ही रोजाना रात 8 बजे से सुबह 6 बजे तक भी कफ्र्यू रहेगा। लोगों को शारीरिक दूरी का पालन करने और मास्क पहनने की सलाह दी गई है। प्रशासन ने साफ कर दिया है कि कोरोना गाइडलाइंस का पालन करना अनिवार्य होगा। भीड़ को रोकने के लिए और कोरोना गाइडलाइंस का पालन कराने के लिए पुलिस विभाग ने टास्क फोर्स गठित की है। साथ ही प्रशासन ने इस बात को साफ कर दिया है कि बिना मास्क वाले ग्राहकों को दुकानदार सामान नहीं देंगे। अगर कोई दुकानदार बिना मास्क वाले ग्राहक को सामान देते हुए पाया गया तो दोनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।   पूरा बाजार खुलने के बाद कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर चिकित्सा शिक्षा व भोपाल के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग ने कलेक्टर अविनाश लवानिया के साथ टीकाकरण केंद्रों का निरीक्षण किया। बाजार वाले क्षेत्रों में दुकानों पर स्टीकर चिपकवाए। उन्होंने कहा कि 'टीका लगवाओ, दुकान खुलवाओ" नारे के साथ दुकान संचालक समेत सभी कर्मचारियों का टीकाकरण जरूरी है। लंबे समय बाद सैलून भी खुलने जा रहे हैं। इसमें शर्त यह रहेगी कि शारीरिक दूरी रखने के लिए बीच की कुर्सी खाली रखी जाएगी। सैलून में लोगों को इंतजार में बैठाया नहीं जाएगा।

Kolar News

Kolar News 10 June 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 129 नये मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से केवल एक मरीज की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1,52, 224 और मृतकों की संख्या 1364 हो गई है। इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने गुरुवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 10249 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 129 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 224 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1364 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 221 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 49 हजार 815 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल 1045 कोरोना पाजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 10 June 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना संक्रमण के मामलों में राहत मिली है। यहां कोरोना के नये मरीजों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 129 नये मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से केवल एक मरीज की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1,52, 224 और मृतकों की संख्या 1364 हो गई है। इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने गुरुवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 10249 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 129 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 52 हजार 224 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से एक मरीज की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1364 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 221 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 49 हजार 815 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल 1045 कोरोना पाजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 10 June 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में लगातार कोरोना संक्रमण के मामले कम हो रहे हैं । सोमवार सुबह तक राज्‍य का रिकवरी रेट सरकार और समाज के संयुक्‍त प्रयासों से 97.65 पर आ पहुंचा है। देश भर में प्रदेश का स्‍थान अब संक्रमण के मामले में 19 वें नम्‍बर पर आ गया है। जबकि यहां देढ़ माह पहले स्‍थ‍िति बहुत भयावह हो गई थी और प्रदेश सातवें स्‍थान पर जा पहुंचा था।    इस संबंध में मीडिया को जानकारी देते हुए मुख्‍यमंत्री की मीडिया देख रहे संयुक्त संचालक अतुल खरे ने बताया है कि डिण्डोरी और हरदा जिलों को छोड़कर अन्य सभी जिलों में कोरोना के नए केसेस की तुलना में कोरोना से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या अधिक रही है। पाँच जून को अलीराजपुर और बुरहानपुर जिलों में एक भी पॉजिटिव प्रकरण प्राप्त नहीं हुआ। प्रदेश के 38 जिलों सतना, नरसिंहपुर, छतरपुर, गुना, हरदा, बड़वानी, कटनी, छिन्दवाड़ा, शाजापुर, सिंगरौली, डिण्डोरी, झाबुआ, मण्डला, भिण्ड, आगर-मालवा, बुरहानपुर, खण्डवा, देवास, उमरिया, दतिया, टीकमगढ़, अलीराजपुर, शहडोल, मंदसौर, राजगढ़, विदिशा, पन्ना, शिवपुरी, होशंगाबाद, उज्जैन, सिहोर, नीमच, अशोकनगर, बालाघाट, श्योपुर, ग्वालियर, मुरैना और सागर की गत सात दिनों में औसत पॉजिटिविटी दर एक प्रतिशत या उससे कम रही है।   उन्‍होंने कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में लगातार प्रयासों से कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर नियंत्रित हो गई है, जो एक मिसाल है। राज्य सरकार द्वारा जन-सहभागिता से कोरोना संक्रमण की रोकथाम और बचाव की प्रभावी रणनीति के साथ त्वरित और सफल कार्य किए गये हैं। प्रदेश में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या प्रतिदिन कम होती जा रही है। पाँच जून की स्थिति में प्रदेश में 10 हजार 103 एक्टिव मरीज हैं और 81 हजार 636 कोरोना टेस्ट किए गए, जिसमें से 735 व्यक्तियों की जाँच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 21 अप्रैल को एक्टिव केसेस की संख्या के हिसाब से मध्यप्रदेश देश में सातवें नम्बर पर था, जो आज की स्थिति में 19वें नम्बर पर है।   उन्‍होंने बताया है कि प्रदेश में 14 जिलों भोपाल, अनूपपुर, रतलाम, दमोह, बैतूल, धार, सीधी, खरगोन, रीवा, जबलपुर, सिवनी, रायसेन, निवाड़ी और इंदौर में विगत सात दिनों में औसत पॉजिटिविटी दर पाँच प्रतिशत या उससे कम रही है। वर्तमान में प्रदेश का कोई भी जिला रेड जोन में नहीं है।

Kolar News

Kolar News 7 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में मानसून के प्रवेश की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। केरल से आगे बढक़र मानसून मुंबई तक पहुंच गया है। इसके बाद अब कभी भी मानसून प्रदेश में दस्तक दे सकता है। मानसून आने से पहले वातावरण में लगातार आ रही नमी के कारण उमस बढ़ गई है, और राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में दोपहर के बाद गरज-चमक के साथ प्री मानसून की बौछारें भी पड़ रही हैं। मौसम विभाग ने सोमवार और मंगलवार को भी राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कई जिलों में बारिश गिरने की संभावना जताई है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में दक्षिण-पश्चिम मप्र पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर तमिलनाडू तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। अरब सागर के गुजरात तट पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इसी तरह समुद्र तट पर गोवा और उससे लगे कर्नाटक पर भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इन चार वेदर सिस्टम के कारण नमी मिल रही है। इस वजह से मानसून पूर्व की गतिविधियों में भी तेजी आने लगी है। वर्तमान में प्रदेश के अधिकांश जिलों में बारिश की संभावना बनी हुई है। बादल छाए रहने से पूरे प्रदेश में अधिकतम तापमान में अधिक बढ़ोतरी भी नहीं हो रही है।   यहां पानी के गिरने के आसारसाहा ने बताया कि सोमवार-मंगलवार को होशंगाबाद, सागर, जबलपुर, रीवा एवं शहडोल संभाग के जिलों में तथा विदिशा, रायसेन, भोपाल, खंडवा, खरगोन, धार, इंदौर, उज्जैन, नीमच, मंदसौर, गुना एवं शिवपुरी में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे की संभावना है।  

Kolar News

Kolar News 7 June 2021

सतना। चित्रकूट में विश्व पर्यावरण दिवस धूमधाम से मनाया गया। नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यावरण दिवस के अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान ने अपने विभिन्न प्रकल्पों के माध्यम से पौधारोपण कर लोगों को जागरूक किया। साथ ही वक्ताओं ने कहा कि शुद्ध पर्यावरण पर ही मानव जीवन आश्रित है। पर्यावरण को शुद्ध रखना हम सभी का परम कर्तव्य है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने जन्म दिवस पर एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए। आने वाले समय में लगाए गए पौधे वृक्ष बनकर हमारी आने वाली पीढ़ी को शुद्ध व स्वच्छ पर्यावरण दे सकें।    रामकथा के लिए चित्रकूट पधारे संत मोरारी बापू ने आरोग्य धाम परिसर में 5 पौधों का रोपण किया। इस दौरान मोरारी बापू ने कहा कि पौधों को लगाने से ज्यादा उसको बचाना है, जैसे हम अपने बच्चों का पालन-पोषण करते हैं ठीक उसी प्रकार हमें पेड़-पौधों का पालन-पोषण करना चाहिए। पौधों के कटान की वजह से भू-जल स्तर भी लगातार गिरता जा रहा है। वायु मंडल में हवा भी प्रदूषित होती जा रही है। जिसकी वजह से जीव जन्तु सभी को परेशानी हो रही है और लोगों को भी सांस संबंधित बीमारियां भी हो रही हैं।   दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने कहा कि मनुस्मृति में कहा गया है कि जब तक पृथ्वी वन्य जीव एवं वनों से सम्पन्न है जब तक वह मानव वंश का पोषण करती रहेगी, लेकिन आज वन और वन्य जीव नष्ट हो रहे हैं, जंगलों का विनाश हो रहा है। प्रकृति के साथ खिलवाड़ का दुष्परिणाम कोरोना काल में भी देखने को मिला है। ऑक्सीजन के लिए पूरे देश भर में किस तरह नजारा रहा है। इसके लिए प्रकृति के साथ मित्रवत व्यवहार बनाकर रखना ही होगा। इस अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान के कोषाध्यक्ष श्री बसंत पंडित ने भी आरोग्यधाम परिसर में वृक्षारोपण किया।

Kolar News

Kolar News 5 June 2021

सतना। चित्रकूट में विश्व पर्यावरण दिवस धूमधाम से मनाया गया। नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यावरण दिवस के अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान ने अपने विभिन्न प्रकल्पों के माध्यम से पौधारोपण कर लोगों को जागरूक किया। साथ ही वक्ताओं ने कहा कि शुद्ध पर्यावरण पर ही मानव जीवन आश्रित है। पर्यावरण को शुद्ध रखना हम सभी का परम कर्तव्य है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने जन्म दिवस पर एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए। आने वाले समय में लगाए गए पौधे वृक्ष बनकर हमारी आने वाली पीढ़ी को शुद्ध व स्वच्छ पर्यावरण दे सकें।    रामकथा के लिए चित्रकूट पधारे संत मोरारी बापू ने आरोग्य धाम परिसर में 5 पौधों का रोपण किया। इस दौरान मोरारी बापू ने कहा कि पौधों को लगाने से ज्यादा उसको बचाना है, जैसे हम अपने बच्चों का पालन-पोषण करते हैं ठीक उसी प्रकार हमें पेड़-पौधों का पालन-पोषण करना चाहिए। पौधों के कटान की वजह से भू-जल स्तर भी लगातार गिरता जा रहा है। वायु मंडल में हवा भी प्रदूषित होती जा रही है। जिसकी वजह से जीव जन्तु सभी को परेशानी हो रही है और लोगों को भी सांस संबंधित बीमारियां भी हो रही हैं।   दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने कहा कि मनुस्मृति में कहा गया है कि जब तक पृथ्वी वन्य जीव एवं वनों से सम्पन्न है जब तक वह मानव वंश का पोषण करती रहेगी, लेकिन आज वन और वन्य जीव नष्ट हो रहे हैं, जंगलों का विनाश हो रहा है। प्रकृति के साथ खिलवाड़ का दुष्परिणाम कोरोना काल में भी देखने को मिला है। ऑक्सीजन के लिए पूरे देश भर में किस तरह नजारा रहा है। इसके लिए प्रकृति के साथ मित्रवत व्यवहार बनाकर रखना ही होगा। इस अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान के कोषाध्यक्ष श्री बसंत पंडित ने भी आरोग्यधाम परिसर में वृक्षारोपण किया।

Kolar News

Kolar News 5 June 2021

सतना। चित्रकूट में विश्व पर्यावरण दिवस धूमधाम से मनाया गया। नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यावरण दिवस के अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान ने अपने विभिन्न प्रकल्पों के माध्यम से पौधारोपण कर लोगों को जागरूक किया। साथ ही वक्ताओं ने कहा कि शुद्ध पर्यावरण पर ही मानव जीवन आश्रित है। पर्यावरण को शुद्ध रखना हम सभी का परम कर्तव्य है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने जन्म दिवस पर एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए। आने वाले समय में लगाए गए पौधे वृक्ष बनकर हमारी आने वाली पीढ़ी को शुद्ध व स्वच्छ पर्यावरण दे सकें।    रामकथा के लिए चित्रकूट पधारे संत मोरारी बापू ने आरोग्य धाम परिसर में 5 पौधों का रोपण किया। इस दौरान मोरारी बापू ने कहा कि पौधों को लगाने से ज्यादा उसको बचाना है, जैसे हम अपने बच्चों का पालन-पोषण करते हैं ठीक उसी प्रकार हमें पेड़-पौधों का पालन-पोषण करना चाहिए। पौधों के कटान की वजह से भू-जल स्तर भी लगातार गिरता जा रहा है। वायु मंडल में हवा भी प्रदूषित होती जा रही है। जिसकी वजह से जीव जन्तु सभी को परेशानी हो रही है और लोगों को भी सांस संबंधित बीमारियां भी हो रही हैं।   दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने कहा कि मनुस्मृति में कहा गया है कि जब तक पृथ्वी वन्य जीव एवं वनों से सम्पन्न है जब तक वह मानव वंश का पोषण करती रहेगी, लेकिन आज वन और वन्य जीव नष्ट हो रहे हैं, जंगलों का विनाश हो रहा है। प्रकृति के साथ खिलवाड़ का दुष्परिणाम कोरोना काल में भी देखने को मिला है। ऑक्सीजन के लिए पूरे देश भर में किस तरह नजारा रहा है। इसके लिए प्रकृति के साथ मित्रवत व्यवहार बनाकर रखना ही होगा। इस अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान के कोषाध्यक्ष श्री बसंत पंडित ने भी आरोग्यधाम परिसर में वृक्षारोपण किया।

Kolar News

Kolar News 5 June 2021

भोपाल। 'एनीमिया मुक्त भारत अभियान' में मध्य प्रदेश ने उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। यह राज्य इस बीमारी से लड़ने में देश में पहले स्थान पर है। एनीमिया मुक्त भारत के वर्ष 2020-21 के इण्डेक्स में मध्य प्रदेश को प्रथम स्थान प्राप्त है। वर्ष 2019-20 में भी मध्य प्रदेश प्रथम स्थान पर था।   दरअसल, एनीमिया का अर्थ है, शरीर के अंदर एक ऐसी स्थिति का हो जाना जिसमें खून की कमी हो जाए और जिसके कारण मानव शरीर धीरे-धीरे साथ देना बंद करने लगे। अगर समय रहते इसका निदान न किया जाए तो यह बीमारी गंभीर रूप ले लेती है। फिर रोगी की असमय मृत्‍यु तक हो जाती है। इसलिए केंद्र एवं राज्‍य सरकारें स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र में यह प्रयास करती हैं कि जिनमें इसके लक्षण हैं, उनमें इसे दूर करने के पूरे प्रयास किए जाएं। कई बार कैंप लगातार एवं स्‍वास्‍थ्‍य सर्वेक्षण कर घर-घर खून की जांच तक की जाती है, जिससे देश की आम जनता को स्‍वस्‍थ रखा जा सके।    खून की कमी से होता है यह रोग  दरअसल, हमारे शरीर में हिमोग्लोबिन एक ऐसा तत्व है जो शरीर में खून की मात्रा बताता है। पुरुषों में इसकी मात्रा 13.8 से 17.2 ग्राम/डीएल और महिलाओं में 12.1 से लेकर 15.1ग्राम/डीएल (ग्राम/डीएल = प्रति ग्राम लीटर का दशमांश) होनी चाहिए। इस बीमारी को रक्ताल्पता भी कहते हैं और इसके होने की पीछे तीन प्रमुख कारण रहते हैं। पहली- खून की कमी। दूसरी- लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में कमी और तीसरी- लाल रक्त कोशिकाओं के विनाश की उच्च दर का किसी भी शरीर में पाया जाना ।    मध्‍य प्रदेश में हो रहा इस रोग को दूर करने का उत्कृष्ट कार्य  केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन के अनुसार देश में हर राज्‍य इस रोग से अपने को मुक्‍त रखने के लिए योजनाएं बनाता है और उन पर अमल करते हुए कार्य कर रहा है। लेकिन भारत के बड़े-छोटे राज्‍यों के बीच ''एनीमिया मुक्त भारत अभियान'' में मध्य प्रदेश ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए देश में पहला स्थान प्राप्त किया है। मध्‍य प्रदेश में इस रोग को लेकर इन दिनों बेहतर कार्य हो रहा है, जिसके कारण से एनीमिया मुक्त भारत के वर्ष 2020-21 के इण्डेक्स में मध्य प्रदेश प्रथम रहा है।    इससे पहले भी यह राज्‍य रहा है एनीमिया को दूर करने में सबसे आगे  इतना ही नहीं वर्ष 2019-20 में भी मध्यप्रदेश प्रथम स्थान पर था। इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एनीमिया मुक्त भारत अभियान में प्रदेश को प्रथम स्थान मिलने पर संबंधित विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।   ऐसे लोगों को होता है आसानी से एनीमिया एनीमिया को लेकर डॉ. आशीष दुबे कहते हैं कि सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि यह रोग होता क्‍यों है? उन्‍होंने बताया कि ऐसे लोग जो लंबे समय से किसी बीमारी या इंफेक्शन का शिकार हैं, उन्हें एनीमिया आसानी से हो जाता है। एनीमिया के कुछ प्रकार अनुवांशिक भी हैं, लेकिन यह खराब डायट और जीवनशैली की वजह से ही ज्‍यादातर होता है।    थकान, कमजोरी, त्वचा का पीला होना, दिल की धड़कन आदि हैं मुख्‍य संकेतक  उन्‍होंने कहा कि जहां तक इसके लक्षणों के मिलने का प्रश्‍न है तो थकान, कमजोरी, त्वचा का पीला होना, दिल की धड़कन का असामान्य होना, सांस लेने में तकलीफ, चक्कर आना, सीने में दर्द, हाथ-पैरों का ठंडा होना, सिरदर्द आदि एनीमिया की तरफ इशारा करते हैं। इसके अलावा स्टूल के कलर में बदलाव, कम ब्लड प्रेशर, स्किन का ठंडा पड़ना, स्प्लीन का साइज बढ़ना भी एनीमिया के लक्षण हैं।   सिर, छाती, पैरों में असामान्‍य दर्द, जीभ में जलन होने पर तुरंत जाएं डॉक्‍टर के पास  इसमें भी यदि सिर, छाती या पैरों में असामान्‍य दर्द हो, जीभ में जलन हो, मुंह और गला सूखे, मुंह के कोनों पर छाले हो जाएं, बालों का कमजोर होकर टूटना शुरू रहे, निगलने में तकलीफ होने लगे, स्किन, नाखून और मसूड़ों का पीला पड़ना सामने आ जाए जैसे लक्षण दिखाई दें तो समझ लेना चाहिए कि यह एनीमिया के गंभीर लक्षण हैं। अगर एनीमिया लगातार बना रहे तो डिप्रेशन का रूप ले सकता है। इसलिए बिना देर किए डॉक्‍टर के पास जाएं और अपना इलाज शुरू करवाएं।    एनीमिया के होते हैं ये तीन प्रकार  इसे लेकर वहीं डॉ. विनीत चतुर्वेदी ने कहा कि एनीमिया तीन तरह का होता है- माइल्ड, मॉडरेट और सीवियर। यदि मनुष्‍य शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा 10 से 11 ग्राम/डीएल पर है तो यह एक तरह से माइल्ड अनीमिया के लक्षण हैं। यह जब आठ से नौ ग्राम/डीएल पर आ जाए तो इसे मॉडरेट अनीमिया कहा जाता है और जब यह हीमोग्लोबिन आठ ग्राम/डीएल से भी नीचे पहुंच जाए तो चिकित्‍सकों की भाषा में कहें तो यह स्‍थ‍िति बहुत गंभीरता को दर्शाने लगती है। हीमोग्‍लोबीन जितना नीचे जाएगा, मरीज के लिए जीवन का खतरा उतना ही बढ़ता जाता है, जिसेे तुरंत खून चढ़ाए बिना दूर नहीं किया जा सकता है ।    बीमारी होने के पीछे की मुख्‍य वजह होती है ये  डॉ. कहते हैं कि एनीमिया कई वजहों से होता सकता है, जिसमें अहम रूप से लगातार खून बहने की वजह से भी शरीर में खून की कमी हो जाती है। फॉलिक ऐसिड, आयरन, प्रोटीन, विटमिन सी और बी 12 की कमी भी इसके पीछे का कारण है। फैमिली हिस्ट्री में ल्यूकेमिया या थैलीसीमिया की बीमारी रही है तो फिर उस स्थिति में एनीमिया होने के चांस 50 फीसदी बढ़ जाते हैं। ऐसे में जहां भारत सरकार का जोर है इसे दूर किया जाए, वहीं, राज्‍य सरकारें इसे दूर करने के लिए अपने प्रोग्राम चला रही हैं। जिसमें कि इस समय मध्‍य प्रदेश में बहुत अच्‍छा कार्य हो रहा है।    पिछले दो साल से लगातार हो रहा अच्‍छा काम  इस संबंध में आंकड़ों को देखें तो वर्ष 2020-21 के एनीमिया मुक्त भारत स्कोर-कार्ड में मध्य प्रदेश को मिली प्रथम रैंक में 64.1 प्रतिशत वेल्यू आंकी गई है, जो पूरे देश में सर्वाधिक है। प्रदेश में आयरन फोलिक एसिड कव्हरेज अंतर्गत छह से 59 माह के बच्चों का कव्हरेज 36.3 प्रतिशत, पांच से नौ वर्ष के बच्चों का कव्हरेज 71.6 प्रतिशत, 10 से 19 वर्ष के बच्चों का कव्हरेज 66.3 प्रतिशत, गर्भवती महिलाओं का कव्हरेज 95 प्रतिशत और धात्री माताओं का कव्हरेज 51.3 प्रतिशत रहा है, जो अन्य प्रदेशों की तुलना में कहीं ज्‍यादा है। इसी तरह से वर्ष 2019-20 में भी मध्यप्रदेश प्रथम स्थान पर था।

Kolar News

Kolar News 3 June 2021

राजगढ़/धार। धार जिले के मोहनखेड़ा महातीर्थ के प्रसिद्ध संत ज्योतिषाचार्य एवं वर्तमान गच्छाधिपति आचार्य भगवंत ऋषभचंद्र सूरीश्वरजी ने गुरूवार को इंदौर के अरबिंदो अस्‍पताल में अंतिम सांस ली। गुरूवार सुबह को उनकी पार्थिव देह को मोहनखेड़ा ले जाया गया है।    बताया जा रहा है कि उन्हें पिछले दिनो कोरोना संक्रमण के चलते इंदौर के अरविंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन लगातार स्वास्थ्य में गिरावट के चलते और ह्रदय गति थमने से उनका निधन हो गाया।   मोहनखेड़ा तीर्थ से जारी पत्र के अनुसार आचार्यश्री ऋषभचंद्र सूरीश्वरजी का शुक्रवार को जन्मदिन था। पत्र के अनुसार विक्रम संवत 2078, ज्येष्ठ वदि 10, शुक्रवार, 4 जून 2021 को दोपहर 12 बजकर 39 मिनिट, विजय मुहूर्त में तीर्थ भूमि पर अग्नि संस्कार के विधि-विधान संपन्न होंगे।   हालांकि प्रशासन मोहनखेड़ा महातीर्थ पहुंचकर गुरुवार शाम 5 बजे अंतिम संस्कार के लिए कहा। कोविड गाइडलाइन को ध्यान में रखकर अंतिम संस्कार कराने की तैयारी है, परंतु आचार्यश्री ऋषभचंद्र सूरीश्वरजी के भक्त शुक्रवार को अंतिम संस्कार की बात पर अड़ा है।    बता दें कि 62 वर्षीय आचार्य सूरीश्वर महाराज ने मोहनखेड़ा तीर्थ को सेवा तीर्थ बनाया था और उनके लाखों देश-विदेशों में भक्‍त हैं। उनका जीवन मानव सेवा एवं जीव दया को समर्पित और संकल्पित रहा।   गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले कोरोना महामारी को देखते हुए आचार्य ऋषभचंद्र सूरीश्वर की प्रेरणा और कैबिनेट मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव के मार्गदर्शन में 300 बिस्तर वाले कोविड सेंटर की शुरुआत की गई थी। अस्पताल खुलते ही कई मरीजों को भर्ती कर उपचार भी शुरू किया गया था।   संत आचार्य ऋषभचंद्र सूरीश्वर के निधन पर शिवराज ने जताया शोक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि श्रीमोहनखेड़ा तीर्थ के प्रसिद्ध संत, परम पूज्य, श्री ऋषभ देव महाराज जी ने आज अपना भौतिक शरीर त्याग दिया। वे धर्म, सेवा और कल्याण की पुण्य ज्योत थे। उनके मंगलकारी विचार हमें मानवता और धर्म की सेवा के लिए प्रेरित करते रहेंगे।  उनका आशीर्वाद सदैव बना रहे! विनम्र श्रद्धांजलि!

Kolar News

Kolar News 3 June 2021

जबलपुर। हाईकोर्ट के हड़ताल को अवैध करार दिए जाने के बाद जबलपुर में 400 जूनियर डॉक्टर्स ने सामूहिक इस्तीफा दे दिया है। जूनियर डॉक्टर्स ने मेडिकल कॉलेज के डीन को सामूहिक इस्तीफ़ा सौंप दिया है। जूनियर डॉक्टर्स ने राज्य सरकार से आगे बढक़र बात करने की मांग की है। स्टायफंड बढ़ाने सहित सभी मांगों पर बात की मांग जूनियर डॉक्टर्स ने की है। इससे पहले ग्वालियर में जूनियर डॉक्टर हाईकोर्ट के फैसले से नाराज सैकड़ों डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया था। जूनियर डॉक्टरों ने गजराराजा मेडिकल कॉलेज के डीन को इस्तीफा सौंपने की बात कही थी। वहीं हाईकोर्ट का आदेश आते ही ग्वालियर के 330 जूनियर डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया है।   प्रदेश में करीब एक हजार पीजी के फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स हैं। मेडिकल कॉलेज के डीन द्वारा भेजे गए नामों पर जूनियर डॉक्टरों के नामांकन कैंसिल करने के लिए यूनिवर्सिटी को लिखा था। इसके बाद अब फाइनल ईयर के छात्र परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे। इस मुद्दे पर गांधी मेडिकल कॉलेज में जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी बुलाई गई है। इसके बाद प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेज से पीजी स्टूडेंट्स विरोध में उतर आए हैं। पीजी के फस्र्ट ईयर और सेकंड ईयर के छात्रों ने सामूहिक रूप से इस्तीफे की पेशकश की है।   इससे पहले जूनियर डॉक्टर्स की प्रदेशव्यापी हड़ताल के मामले में हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला करते हुए हड़ताल को अवैध घोषित कर दिया है। हाईकोर्ट में लंच के बाद फिर शुरू हुई सुनवाई के बाद कोर्ट ने जूनियर डॉक्टर्स का पक्ष सुना, और जूडा को हाईकोर्ट ने विकल्प दिया कि सरकार के आश्वासन पर तत्काल कोविड ड्यूटी बहाल करें। हाईकोर्ट ने जूनियर डॉक्टर्स की हड़ताल अवैध घोषित करते हुए कहा कि 24 घण्टे में काम पर लौटें, काम पर न लौटें जूडा तो राज्य सरकार सख्त कार्रवाई करे, सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस मोहम्मद रफ़ीक ने अहम टिप्पणी करते हुए कहा कि कोरोनाकाल में हड़ताल ब्लैकमेलिंग की तरह है, डॉक्टर्स ने अपनी शपथ भुलाई लेकिन हम अपनी शपथ नहीं भूले हैं।   प्रदेश के 6 मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल का गुरुवार को चौथा दिन है। इधर, चिकित्सा शिक्षा विभाग ने अपनी बात रखते हुए जूडा को कानून के अनुसार कार्रवाई करने की चेतावनी भी दे दी है।  

Kolar News

Kolar News 3 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों मौसम का मिजाज पूरी तरह से बदला हुआ है। मई के महिने में बादल छाने के साथ बारिश हो रही है। उत्तर-पश्चिम मध्यप्रदेश पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इसके अतिरिक्त अरब सागर से लेकर मध्य महाराष्ट्र तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। इससे अरब सागर से लगातार नमी आ रही है। जिसके चलते प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर गरज चमक के साथ बरसात हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद, ग्वालियर, चंबल, उज्जैन और जबलपुर संभाग के जिलों में तेज बौछारें पडऩे की संभावना जताई है।  मौसम विभाग ने यहां यलो अलर्ट जारी किया है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि मप्र पर बने ऊपरी हवा के चक्रवात और अरब सागर से महाराष्ट्र तक एक ट्रफ बना हुआ है। इसके साथ ही एक पश्चिमी विक्षोभ भी हिमालय क्षेत्र में सक्रिय है। इन तीन वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने के कारण मप्र में हवाओं के साथ लगातार नमी आ रही है। इससे गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ी रही हैं। इसी क्रम में बुधवार को पशिचमी मप्र में तेज बौछारें पडऩे के आसार हैं। विशेषकर भोपाल, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, चंबल,होशंगाबाद और जबलपुर संभाग के जिलों में कहीं-कहीं झमाझम बारिश भी हो सकती है। इससे अधिकतम तापमान में गिरावट भी होगी।   इंदौर में मौसम हुआ खुशनुमाइधर इंदौर में मंगलवार दिनभर तेज गर्मी के बाद कई हिस्सों में बारिश ने मौसम खुशनुमा कर दिया। कहीं तेज हवाओं और गरज-चमक के साथ तेज, तो कहीं धीमी गति से बारिश हुई। एयरपोर्ट स्थित मौसम केंद्र के अनुसार मंगलवार शाम 6.35 से शाम सात बजे तक 3.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। बारिश के दौरान 45 से 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चली। मौसम विभाग ने अगले एक-दो दिन तक शहर में ऐसी ही बारिश की संभावना जताई गई है।

Kolar News

Kolar News 2 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों मौसम का मिजाज पूरी तरह से बदला हुआ है। मई के महिने में बादल छाने के साथ बारिश हो रही है। उत्तर-पश्चिम मध्यप्रदेश पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इसके अतिरिक्त अरब सागर से लेकर मध्य महाराष्ट्र तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। इससे अरब सागर से लगातार नमी आ रही है। जिसके चलते प्रदेश में अलग-अलग स्थानों पर गरज चमक के साथ बरसात हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद, ग्वालियर, चंबल, उज्जैन और जबलपुर संभाग के जिलों में तेज बौछारें पडऩे की संभावना जताई है।  मौसम विभाग ने यहां यलो अलर्ट जारी किया है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि मप्र पर बने ऊपरी हवा के चक्रवात और अरब सागर से महाराष्ट्र तक एक ट्रफ बना हुआ है। इसके साथ ही एक पश्चिमी विक्षोभ भी हिमालय क्षेत्र में सक्रिय है। इन तीन वेदर सिस्टम के सक्रिय रहने के कारण मप्र में हवाओं के साथ लगातार नमी आ रही है। इससे गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ी रही हैं। इसी क्रम में बुधवार को पशिचमी मप्र में तेज बौछारें पडऩे के आसार हैं। विशेषकर भोपाल, इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर, चंबल,होशंगाबाद और जबलपुर संभाग के जिलों में कहीं-कहीं झमाझम बारिश भी हो सकती है। इससे अधिकतम तापमान में गिरावट भी होगी।   इंदौर में मौसम हुआ खुशनुमाइधर इंदौर में मंगलवार दिनभर तेज गर्मी के बाद कई हिस्सों में बारिश ने मौसम खुशनुमा कर दिया। कहीं तेज हवाओं और गरज-चमक के साथ तेज, तो कहीं धीमी गति से बारिश हुई। एयरपोर्ट स्थित मौसम केंद्र के अनुसार मंगलवार शाम 6.35 से शाम सात बजे तक 3.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। बारिश के दौरान 45 से 50 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चली। मौसम विभाग ने अगले एक-दो दिन तक शहर में ऐसी ही बारिश की संभावना जताई गई है।

Kolar News

Kolar News 2 June 2021

उज्जैन।  कलेक्टर आशीष सिंह एवं एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने आज पुलिस कंट्रोल रूम में उज्जैन शहर के सभी इसीडेंट कमांडर्स,सीएसपी,तहसीलदार,थाना प्रभारी की बैठक लेकर 1 जून से उज्जैन शहर में होने वाले  अनलॉक के संबंध में निर्देश दिए । कलेक्टर ने कहा कि  एकल दुकाने बारी-बारी से खोली जाएगी। एक साइड की दुकानें एक दिन, दूसरे साइड की दुकानें दूसरे दिन। इसी तरह सब्जी मंडियों  में अनलॉक  के पूर्व जैसा चल रहा है वैसा ही चलेगा। सब्जी मंडियों में रिटेलर को जाने की अनुमति नहीं रहेगी। हाट बाजार नहीं लगेंगे। सभी ठेले वाले चलायमान स्थिति में रहेंगे। वे किसी एक स्थान पर खड़े होकर व्यापार नहीं करेंगे। अंतिम संस्कार में 10 व्यक्तियों को जाने की अनुमति दी गई है। धार्मिक  स्थल नही खोले जाएंग। विवाह की अनुमति के लिए थानों में 20 व्यक्तियों की सूची विवाह आयोजकों को देना होगी । बैठक में एसपी ने कहा कि सभी पुलिस अधिकारी अनलॉक होने के बाद शहर में लगाई गई बेरिकेटिंग  की समीक्षा करेें तथा अत्यावश्यक बेरिकेटिंग  ही बनाए रखें ।

Kolar News

Kolar News 31 May 2021

अशोकनगर। अशोकनगर-बीना के बीच रेल दोहरीकरण का कार्य तेजी से चल रहा है। यहां अशोकनगर से ओर स्टेशन तक दोहरीकरण का कार्य पूरा होने पर सोमवार को अशोकनगर से ओर स्टेशन के बीच 15 किमी की नई रेल लाईन पर 110 की स्पीड से रेल इंजन को दौड़ा कर ट्रायल किया गया, जो सफल रहा।   सोमवार दोपहर यहां अशोकनगर रेलवे स्टेशन पर रेलवे एवं आरबीएनएल के अधिकारी, कर्मचारी अशोकनगर से ओर के बीच नई रेल लाईन के ट्रायल के लिए एकत्रित हुए। इस अवसर पर अशोकनगर स्टेशन पर ट्रायल को लाए गए इलेक्ट्रिक इंजन को फूल-मालाओं, तिरंगे गुब्बारों से सजाया गया था। तत्पश्चात अशोकनगर स्टेशन से ओर के बीच इंजन का ट्रायल शुरू किया गया। एक जानकारी में आरबीएनएल के अधिकारी का कहना था कि पहले इंजन को 25-30 की स्पीड से नई रेल लाईन पर धीरे-धीरे दौड़ाया गया।  परीक्षण पश्चात 110 की स्पीड से दौड़ा कर ट्रायल किया गया है, जो सफल रहा।  अशोकनगर से ओर स्टेशन नई रेल लाईन का ट्रायल इंजन पायलेट सीएल मीना एवं सहायक पायलेट संदीप कुमार द्वारा किया गया। इंजन के ओर स्टेशन पहुंचने पर सफल ट्रायल होने पर पूजा-अर्चना कर मिठाई बांटी गई।  इस अवसर पर यहां रेलवे के अधिकारियों सहित आरबीएनएल के डिप्टी मैनेजर ट्रैक राहुल मलहोत्रा, डिप्टी मैनेजर शिवानी एवं इलेक्ट्रिक बीआर सिंह उपस्थित थे। बता दें कि अशोकनगर से बीना 74 किमी की दूरी पर रेल दोहरीकरण का कार्य तेजी से चल रहा है, नई लाइन पर इंजन के ट्रायल के बाद अब  सीआरएस द्वारा अंतिम रूप से ट्रायल करने के पश्चात इस नई लाईन को हरी झंडी मिलेगी।   जानकारी अनुसार यहां अशोकनगर-बीना रेल खण्ड के बीच कंजिया से बीना स्टेशन तक 20 किमी का रेल दोहरीकरण का इंजन ट्रायल पहले ही हो चुका है।  रेल दोहरीकरण के इन कार्यों के बाद सीएआरएस के ट्रायल होने के पश्चात यहां नॉन इंटरलॉकिंग का कार्य शुरू होगा। इस बीच अब ओर स्टेशन से कंजिया स्टेशन तक रेल दोहरीकारण का कार्य तेज गति से चल रहा है।    बताया गया कि ओर से पिपरई स्टेशन तक सितम्बर माह तक एवं पिपरई से कंजिया स्टेशन तक रेल दोहरीकरण का कार्य नवम्बर 21 तक का पूरा करने का आरबीएनएल का लक्ष्य है। अगर आरबीएनएल अशोकनगर से बीना के बीच नवम्बर माह तक अपना लक्ष्य पूरा करता है तो इसी वर्ष बीना से रुठियाई जंक्शन तक रेल दोहरीकरण की सौगात पूरी हो जाएगी, अशोकनगर से रुठियाई के बीच पहले ही रेल दोहरीकरण कार्य हो चुका है।

Kolar News

Kolar News 31 May 2021

ग्वालियर। रोहिणी नक्षत्र यानी नौतपा के सातवें दिन अधिकतम तापमान 41.6 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। इससे पहले नौतपा के दूसरे दिन 26 मई को अधिकतम तापमान 41.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि पश्चिमी विक्षोभ और प्री मानसून गतिविधियों के चलते बूंदाबांदी के आसार बने हुए हैं, इसलिए नौतपा के शेष बचे दो दिनों में भी तापमान 41 से 42 डिग्री सेल्सियस के आसपास ही टिका रहेगा।     पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से बीते रविवार की रात में शहर में हुई बूंदाबांदी के बाद सोमवार को मौसम शुष्क रहा और हवाएं उत्तर-पश्चिमी चलीं। दिन में निकली तेज धूप और छह किलोमटर प्रति घंटे की गति से राजस्थान की ओर से आईं गर्म हवाओं की वजह से पिछले दिन की अपेक्षा तापमान एक अंक ऊपर चढ़ गया। साथ ही हवाओं में नमी अधिक होने से दिन में उमस की स्थिति भी बनी रही, जिससे शहरवासियों को तेज गर्मी का सामना करना पड़ा।    स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार पिछले दिन की तुलना में सोमवार को अधिकतम तापमान 1.1 डिग्री सेल्सियस बढ़कर 41.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो औसत से 1.0 डिग्री सेल्सियस कम है, जबकि न्यूनतम तापमान 25.7 डिग्री सेल्सियस पर ही टिका रहा। यह भी औसत से 2.6 डिग्री सेल्सियस कम है। आज सुबह हवा में नमी 60 प्रतिशत दर्ज की गई, जो औसत से 25 प्रतिशत अधिक है, जबकि शाम को हवा में नमी 36 प्रतिशत दर्ज की गई। यह भी औसत से 16 प्रतिशत अधिक है।    इन कारणों से है बूंदाबांदी की संभावना: एक पश्चिमी विक्षोभ इस समय उत्तरी पाकिस्तान और उसके आसपास के इलाकों में सक्रिय है। इसके पीछे ही एक और पश्चिमी विक्षोभ आ रहा है, जो अभी अफगानिस्तान में मौजूद है। इधर पंजाब और उससे लगे पाकिस्तान के इलाकों में एक चक्रवात बना हुआ है। इसके अलावा पूर्वी उत्तर प्रदेश से मध्य प्रदेश होते हुए विदर्भ तक एक द्रोणिका भी बनी हुई है। इस वजह से हवाओं के साथ अरब सागर से नमी आ रही है। इन कारणों से अगले 24 घंटे के दौरान ग्वालियर-चम्बल सहित मध्य प्रदेश के कई भागों में बूंदाबांदी की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार आगामी दो जून तक मौसम ऐसा ही रहने की संभावना है। मौसम में उतार-चढ़ाव के चलते दिन में मौसम शुष्क रहेगा तो शाम के समय या रात में बूंदाबांदी हो सकती है। 

Kolar News

Kolar News 31 May 2021

गुना। शहर के दो केंद्रों सहित जिलेभर में 6 अन्य केंद्रों पर 18+ का वैक्सिनेशन किया जा रहा है। शनिवार को कुम्भराज स्थित टीकाकरण केंद्र पर कोरोना प्रोटोकॉल की जमकर धज्जियां उड़ाई गयीं। कई युवाओं ने तो मास्क तक नहीं लगा रखा था। वहीं सोशल डिस्टेंसिंग का बिलकुल भी पालन नहीं किया जा रहा था।   शुक्रवार से जिले के 6 केंद्रों पर ऑनसाइट पंजीयन से वैक्सिनेशन कार्यक्रम शुरू हुआ है। म्याना, बमोरी, कुम्भराज, आरोन, राघौगढ़ और चांचौड़ा में टीकाकरण किया जा रहा है। यहां 31 मई तक हर केंद्र पर वैक्सीन के लिए तय दिनों में 200 टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया है। वहीं जिला मुख्यालय स्थित दो केंद्रों पर अभी भी ऑनलाइन माध्यम से ही 18+ के वैक्सिनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कराये जा रहे हैं। शनिवार को कुम्भराज स्थित टीकाकरण केंद्र पर कोरोना प्रोटोकॉल की बुरी तरह धज्जियां उड़ाई गयीं। सुबह 8 बजे से ही बड़ी संख्या में युवा वैक्सीन लगवाने के लिए लाइन में लग गए थे। हालत यह थी कि लगभग 200 लोग तो सुबह 8 बजे ही केंद्र पर पहुँच गए थे। जबकि यहाँ दिन भर में कुल टीकाकरण का लक्ष्य ही 200 का है।   बाहर तक लग गई कतार इतने लोगों के एक साथ केन्द्र पर पहुँच जाने से केंद्र के बाहर भीड़ लग गयी। लोग एक दूसरे से चिपकाकर लाइन में लगे हुए थे। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन बिल्कुल नहीं किया जा रहा था। वहीं कई लोगों ने तो मास्क तक नहीं लगा रखे थे। लोग एक दूसरे से जमकर धक्का मुक्की करते हुए दिखे। इन्हें संभालने और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करवाने के लिए न तो वहां पुलिस मौजूद थी और न ही स्वास्थ्य विभाग की टीम। सुबह 10 बजे जब केंद्र खुला तब जाकर बमुश्किल टीकाकरण शुरू हो पाया।   एक तरफ 45 वर्ष से ऊपर के नागरिकों के टीकाकरण के लिए प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। उनके बीच निरंतर जागरूकता कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। इसके बावजूद भी इस उम्र के नागरिक टीका लगवाने नहीं पहुँच रहे हैं। दूसरी तरफ 18 से 44 वर्ष तक के नागरिकों में वैक्सीन को लेकर जमकर उत्साह है। बड़ी संख्या में युवा वैक्सीन लगवाने पहुँच रहे हैं। हालत यह हैं की पोर्टल के खुलते ही चंद मिनटों में ही सारे स्लॉट बुक हो जाते हैं। शहर के युवा 40-45 किमी दूर तक वैक्सीन लगवाने के लिए पहुंच रहे हैं। शुक्रवार को शहर में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन न मिलने से बड़ी संख्या में युवकों में ग्रामीण स्तर पर बने इन केंद्रों पर पहुंचकर टीका लगवाया। हालाँकि वहां मौजूद स्वास्थ्य विभाग द्वारा पहली प्राथमिकता ग्रामीण स्तर के युवाओं को ही दी गयी।   यह है जिले में वैक्सीन की स्थिति जिले में अब तक 18+ के 22682 नागरिक पहला डोज लगवा चुके हैं। वहीं 106799 नागरिक 45 से ऊपर के हैं जिन्होंने वैक्सीन लगवा ली है। पहला डोज अब तक 129516 नागरिकों को लगा है और 25905 नागरिक वैक्सीन का दूसरा डोज भी लगवा चुके हैं। आज की स्थिति में स्वास्थ्य विभाग के पास 5 हजार वैक्सीन उपलब्ध है।  

Kolar News

Kolar News 29 May 2021

भोपाल। भारतीय संदर्भ में कहा जाता है कि बेटियां तीन पीढि़यों को उबारने वाली होती हैं। जहां बेटी नहीं वहां शुभता नहीं रहती, इसलिए हर घर में कम से कम एक बेटी का होना जरूरी है। बेटियां पृथ्वी पर ईश्वर का सबसे बड़ा उपहार हैं। क्‍योंकि वे हैं तभी सृष्‍टि की निरंतरता है। अन्‍यथा मनुष्‍य का अतिस्‍व ही नहीं है। इसके बावजूद भारत में गिरता लिंगानुपात हर वर्ग के लिए लगातार चिंता का विषय बना रहा है । माता-पिता की इच्‍छा रहती है कि वह अपनी बेटी का विवाह धूमधाम से करें और उसमें कहीं भी रुपया आड़े नहीं आए।     पढ़ेगी बेटी तभी आगे बढ़ेगी बेटी इसी प्रकार ऐसे भी मां-बाप कम नहीं जो अपनी बेटी को बहुत अच्‍छी शिक्षा देना चाहते हैं, क्‍योंकि उनका भी केंद्र की मोदी सरकार की तरह मानना है कि ''पढ़ेगी बेटी तभी आगे बढ़ेगी बेटी'' लेकिन कई बार रुपयों की कमी ऐसे मां-पिता के सामने आ खड़ी होती है, जो उन्‍हें अपनी बेटी को अच्‍छा भविष्‍य देने से रोक देती है और यही वह बड़ा कारण है कि वे अपनी बच्‍ची को वह सुनहरा कल नहीं दे पाते जिसका सपना उन्‍होंने देखा था।    अब तक कि सफलतम योजना है ये  वास्‍तव में हर मां-बाप चाहते हैं कि उनकी बेटी के भविष्य को संवारने के लिए बहुत सा फंड इकट्ठा  कर लिया जाए, ताकि आगे चलकर बेटी को किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो। वैसे महिलाओं की शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य जरूरतों के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। लेकिन उनमें भी लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार की ''सुकन्या समृद्धि योजना'' अब तक कि अत्‍यधिक सफलतम योजना साबित हुई है । आज यह योजना  देश भर में हर कन्‍या का भविष्‍य सुरक्षित कर रही है।    अच्‍छी बात यह है कि कोरोना के इस विकट महाभयंकर संकट के काल में भी अपनी बेटी के सुनहरे भविष्‍य के लिए माता-पिता इस योजना में बेटी के नाम उसके खाते में समय से रुपए जमा करा रहे हैं। देश में जहां कई राज्‍य इस योजना को गंभीरता से लेकर इस पर काम कर रहे हैं, वहीं केंद्र सरकार द्वारा बालिकाओं के लिए शुरू की गई बहुचर्चित 'सुकन्या समृद्धि योजना'  में मध्य प्रदेश ने आज देश के सभी राज्यों को पीछे छोड़ दिया है। बेटी की पढ़ाई और उसके सुखद भविष्य को सुनिश्चित करने वाली इस महत्वाकांक्षी योजना से अब तक करीब साढ़े तीन लाख से अधिक परिवारों को जोड़ने में सफलता प्राप्‍त की है। इसी के साथ यह राज्‍य देश में इस योजना में अव्‍वल राज्‍यों में भी आ गया है।    इस जिले में हुआ है सर्वश्रेष्‍ठ कार्य  इसमें भी जिस जिले ने बेटियों के लिए विशेष कार्य किया है, वह मध्‍य प्रदेश का छोटा सा जिला कटनी है, जहां बेटी पढ़ेगी, बेटी बढ़ेगी, बेटी इतिहास गढ़ेगी के ध्येय को लेकर खास पहल की गई है। कटनी जिला प्रशासन के बेहतर प्रयासों से जिले ने सुकन्या समृद्धि योजना के क्रियान्वयन में सबसे अधिक सुकन्या खाते खोलकर प्रदेश में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। यहां डाक विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों ने गांवों के हाट बाजारों और सरकारी मेला-प्रदर्शनियों में भी पहुंचकर लोगों को 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' की अहमियत समझाई है।    महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों एवं मैदानी कार्यकर्ताओं द्वारा विशेष अभियान चलाया गया। जिसके तहत जिले की पात्र बेटियों के नाम डाकघरों में भारतीय डाक विभाग और महिला एवं बाल विकास विभाग के स्टाफ के समन्वय से सुकन्या समृद्धि खाता खोलने की कार्यवाही की गई। 22 फरवरी से 31 मार्च 2021 तक चलाए गए व्यापक अभियान के सार्थक परिणाम सामने आये और जिले में 31 हजार 904 पात्र बेटियों के नाम से सुकन्या समृद्धि योजना के खाते खुल गए। कटनी जिले में खुले खातों की संख्या प्रदेश में नंबर एक पर है।    40 दिनों में खोले गए 31 हजार से अधिक नए खाते जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग नयन सिंह बताती हैं कि सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अकाउन्ट खोलने के लिए जिले में कार्ययोजना बनाकर कार्य किया गया। जिसके तहत 40 दिनों में ही 31 हजार 904 बालिकाओं के खाते खोले गये। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के उद्देश्य के साथ महिला एवं बाल विकास विभाग का अमला इस काम में मुस्तैदी से जुटा। प्रत्येक बालिका का खाता 250 रुपये से खोला गया।   बेटियों के लिए दानवीरों ने बढ़ाए हाथ इसमें खास बात यह भी रही कि 1856 ऐसी बालिकाओं जिनके अभिभावक के पास पैसे नहीं थे, उनकी राशि विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों ने स्वेच्छा ने अपनी ओर से जमा कराई। इस खास पहल पर जबलपुर संभाग के प्रवर अधीक्षक डाकघर पीएन पाण्डेय ने इस उपलब्धि के लिए सभी की सराहना की है। वे कहते हैं कि आज हमारे संभाग में यदि ये योजना इतनी सफल हो सकी है तो निश्‍चित ही इसमें महिला बाल विकास विभाग, डाक घर के सभी कर्मचारियों एवं उन तमाम मां-बाप का संयुक्‍त प्रयास कारगर रहा है, जिन्‍होंने केंद्र सरकार की इस योजना का महत्‍व समझा और बेटियों के भविष्‍य को सुनहरा बनाने के लिए अपना समय, श्रम और पूंजी लगाने में जरा भी संकोच नहीं किया है।    उन्‍होंने आगे कहा कि इस योजना के पूरा होने पर मैं यही कह सकता हूं कि देश की लाखों बेटियों का भविष्‍य स्‍वत: सुरक्षित है। माता-पिता इससे मिलनेवाले रुपए को बेटी की इच्‍छा के साथ अपने हिसाब से उसकी बेहतर शिक्षा एवं विवाह के साथ यदि वह कुछ अपना स्‍टार्टप शुरू करना चाहती है तो उस पर खर्च कर सकते हैं ।    इस प्रकार होती है सुकन्या इससे समृद्ध  सुकन्या समृद्धि योजना को 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आरंभ की गई । योजना के अंतर्गत बेटी के माता-पिता द्वारा बेटी के लिए बचत खाता किसी भी राष्ट्रीय बैंक में या फिर पोस्ट ऑफिस (डाकघर) में खोल सकते हैं । 'सुकन्या समृद्धि' बचत योजना मे बेटी की उम्र 10 साल होने से पहले न्यूनतम 250 रुपये से 15 साल के लिए खाता खुलवाया जा सकता है। इसकी पॉलिसी 21 साल बाद मैच्योर होती है।    हालांकि आपको इसमें 14 साल ही निवेश करना पड़ता है। इस योजना में निवेश का तीन गुना मुनाफा मिलता है। यह खाता देशभर में कहीं भी ट्रांसफर हो सकता है। योजना में अधिकतम डेढ़ लाख रुपये प्रतिवर्ष खाते में जमा कर सकते हैं। बेटी की उम्र 18 से 21 साल होने तक इसे जारी रख सकते हैं। पहले सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 9.1 प्रतिशत की ब्याज दर थी जो कि अब  7.6 फीसदी की ब्याज दर से ब्याज दिया जा रहा है।    मान लीजिए कि अगर आप 14 साल तक 1.5 लाख रुपये (12,500 रुपये महीने) सालाना का निवेश करते हैं तो 15वें साल में 40 लाख रुपये की राशि इसमें हो जाएगी,  इसके बाद 40 लाख रुपये अगर नहीं निकाला जाए तो यह 21वें साल में  बढ़कर 65 लाख रुपये हो जाएगी, जिसका आपकी बेटी अपने हिसाब से अपने सुनहरे भविष्‍य के लिए उपयोग कर सकती है।    केंद्र सरकार की योजना होने की वजह से निवेश करने वालों के पैसों की पूरी सुरक्षा रहती है । अकाउंट में जमा किए गए पैसों पर इनकम टैक्‍स की धारा 80 सी के तहत छूट भी मिलती है।    कोरोना काल में पोस्‍ट ऑफिस या बैंक जाने की नहीं है जरूरत  अगर आपने अपनी बेटी का सुकन्या समृद्धि अकाउंट पहले ही खोल रखा है और कोरोना की वजह से आप पोस्ट ऑफिस या बैंक जाकर उसमें पैसे नहीं जमा कर पा रहे हैं तो आपको अब बिल्‍कुल भी चिंता करने की जरूरत नहीं है। अब आप ये काम घर बैठे ऑनलाइन कर कर सकते हैं।    सुकन्या समृद्धि अकाउंट में पैसा जमा करने के लिए सबसे पहले अपने बैंक खाते से आईपीपीबी खाते में पैसे जोड़ें। अब डीओपी प्रोडक्‍ट पर जाएं, यहां आपको सुकन्या समृद्धि खाता दिखाई देगा, उसे सेलेक्ट करें। अब अपना एसएसवाई अकाउंट नंबर और फिर डीओपी कस्टमर आईडी भरें। अब किस्त की अवधि और राशि चुनें। इसके बाद प्रोसेस पूरा करते ही पैसे सुकन्या समृद्धि खाते में चले जाएंगे। आईपीपीबी पोस्ट ऑफिस का मोबाइल एप्लीकेशन आप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।इसी प्रकार से आपको बैंक की साइट पर जाकर प्रयास करने हैं।

Kolar News

Kolar News 29 May 2021

भोपाल। अरब सागर से लगातार नमी आने का सिलसिला जारी है। साथ ही राजस्थान से लेकर मध्यप्रदेश तक एक द्रोणिका लाइन भी बन गई है। इस वजह से वातावरण में नमी बढऩे लगी है। इससे उमस बढ़ गई है। हालांकि प्रदेश में बीते 24 घंटों के दौरान कई जिलों में बारिश दर्ज की गई है। वहीं आज भी कई जिलों में तेज बारिश हो सकती है। इस दौरान प्रदेश में अधिकतम तापमान में इजाफा होने के भी आसार हैं। इसकी वजह राजस्थान की तरफ से गर्म हवाओं का लगातार आना बताई गई है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि दक्षिण-पश्चिम मानसून के लगातार आने बढऩे की परिस्थितियां अनकूल बनी हुई हैं। 31 मई तक मानसून के केरल में दस्तक देने के आसार हैं। इस वजह से अब मानसून पूर्व की गतिनिधियों में तेजी आएगी। वर्तमान में पूर्वी राजस्थान से उत्तर-पूर्वी मप्र तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। साथ ही अरब सागर की तरफ से हवाओं के साथ लगातार नमी भी मिल रही है। इस वजह से बादल छा रहे हैं। इसके अतिरिक्त तूफान यास कम दबाव का क्षेत्र बनकर पूर्वी उत्तरप्रदेश और उससे लगे बिहार पर सक्रिय है इससे रीवा, शहडोल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बरसात हो रही है।   अधिकतम तापमान में गिरावट के आसार नहींवर्तमान में दक्षिण-पश्चिम राजस्थान में भीषण गर्मी पड़ रही है। हवा का रूख पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी बना हुआ है। यही वजह है कि अलग-अलग स्थानों पर बौछारें पडऩे के बाद भी मप्र में अधिकतम तापमान में गिरावट नहीं हो रही है। अगले दो-तीन दिन में अधिकतम तापमान में और बढ़ोतरी होने की संभावना है।   इन जिलों में बारिश के आसारशनिवार को राजधानी भोपाल,इंदौर,उज्जैन, होशंगाबाद संभागों के जिलों में गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ सकती है । गुना, अशोकनगर, नरसिंहपुर, जबलपुर, छिंदवाडा , सिवनी, सागर, दमोह, रीवा, सीधी जिलों में हल्की बारिश की संभावना है। इंदौर, उज्जैन, भोपाल, होशंगाबाद संभागों के जिलों में बिजली गिरने की संभावना जताते हुए मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है।

Kolar News

Kolar News 29 May 2021

भोपाल। प्रदेश के उमरिया जिले में स्थित बाँधवगढ़ टाइगर रिजर्व क्षेत्र बाघों की नर्सरी के रूप में जाना जाता है। यहां से बाघ वयस्क होने पर कम घनत्व के संरक्षित क्षेत्र में प्रदेश के अंदर और बाहर भेजे जाते हैं। यहां हाल ही में बाघों के दो नवजात शावक सहित 3 से 6 माह के 8 शावकों के होने की पुष्टि हुई है।   प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य-प्राणी) आलोक कुमार ने गुरुवार को बताया कि गश्ती दल द्वारा मानपुर परिक्षेत्र के बड़खेड़ा बीट की एक गुफा में दो नवजात शावक देखे गये। इसी तरह पनपथा कोर परिक्षेत्र के चन्सुरा और बिरुहली क्षेत्र में तकरीबन 3-3 माह के 4 शावक होने की पुष्टि हुई है।   आलोक कुमार ने बताया कि बाँधवगढ़ टाइगर रिजर्व प्रबंधन द्वारा एक वर्ष तक के बाघों के होने की जानकारी तैयार की गई है। इसमें विभिन्न गश्ती के दरम्यान ट्रेक कैमरा और प्रत्यक्ष रूप से देखने में 41 बाघ शावक के प्रमाण मिले हैं। कल्लवाह परिक्षेत्र में 8 से 10 माह के 4 शावक, ताला परिक्षेत्र में बाघिन टी-17 के 5, पतौर परिक्षेत्र में 8 से 10 माह के 12, धमोखर परिक्षेत्र में 6 माह के 4, पनपथा बफर परिक्षेत्र में 3 माह के 2, पनपथा कोर परिक्षेत्र में 3 माह के 2, भानपुर में नवजात 2 शावक, मगधी परिक्षेत्र में 10 से 12 माह के 5 और खितौली परिक्षेत्र में 8 से 12 माह के 4 शावक की पुष्टि परिक्षेत्र अधिकारियों ने की है। उल्लेखनीय है कि ताला परिक्षेत्र के पर्यटन जोन में बाघिन टी-17 के 4 शावक पर्यटकों को निरंतर आकर्षित कर रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 27 May 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 577 नए मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से चार लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1 लाख, 47 हजार 922 और मृतकों की संख्या 1327 हो गई है।      इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने गुरुवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 8537 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 577 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 47 हजार 922 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से चार मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1327 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 1895 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख, 39 हजार 433 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। लंबे समय बाद उपचाररत मरीजों की संख्या 10 हजार से नीचे पहुंची। फिलहाल 7162 कोरोना पाजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 27 May 2021

उज्जैन। मंगलवार को उज्जैन में कोरोना का उपचार कर रहे शासकीय हॉस्पिटल्स,कोविड केयर सेंटर्स,क्वारेंटाईन सेंटर्स में स्वास्थ्य व्यवस्थाएं ठप हो गई।  गत वर्ष कोविड-19 के उपचार के लिए रखे गए अस्थायी स्वास्थ्य कर्मचारी,जिनमें डॉक्टर्स एवं पेरा मेडिकल स्टॉफ शामिल है,मंगलवार को अपनी मांगों को लेकर आयसीयू,वार्ड छोड़कर सड़क पर आ गए। ये सभी चरक भवन के सामने एकत्रित हुए। यहां से कलेक्टर को ज्ञापन देने के लिए कोठी गए।   कोविड 19 स्वास्थ्य सेवा संगठन, मध्यप्रदेश के आव्हान पर हड़ताल पर उतरे इन डॉक्टर्स एवं कर्मचारियों ने चरक भवन पर चर्चा में बताया कि हमारी मुख्य मांग यह है कि हम सभी को संविदा में विलय किया जाए तथा 5 जून,18 को पारित नई नीति अनुसार नियमित कर्मचारियों के समकक्ष 90 प्रतिशत वेतन दे। जिन्हे निष्काषित किया गया है,उन्हे पुन: काम पर लिया जाए।   मांगें पूरी नहीं होने पर चरणबद्ध होगा आंदोलनसंगठन के प्रदेशाध्यक्ष जीतेंद्र कुशवाह ने बताया कि  मंगलवार  को प्रदेश के सभी जिलों में कलेक्टर, सीएमएचओ और जनप्रतिनिधियों को तथा तहसील स्तर में एसडीएम एवं ब्लाक मेडिकल आफिसर्स को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया जा रहा है। आगामी 30 मई से अनिश्चिकालीन कामबंद हड़ताल की जाएगी।

Kolar News

Kolar News 25 May 2021

भोपाल। अरब सागर से उठे चक्रवाती तूफान के कमजोर पडने के साथ ही मप्र के मौसम में इसका असर देखने को मिल रहा है। वातावरण में नमी कम होने लगी है जिससे बादल छंटने के साथ मप्र के अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी होनी शुरू हो गई है। मौसम विभाग के अनुसार शनिवार-रविवार को भी तापमान बढने की संभावना है। हालांकि हाल ही में हुई बारिश से अभी वातावरण में कुछ नमी रहने के कारण दोपहर बाद आांशिक बादल छाने के साथ ही भोपाल, इंदौर संभाग के जिलों में बूंदाबांदी होने के भी आसार हैं।   राजधानी भोपाल में शनिवार सुबह आसमान में बादल छाए हुए है और सूरज की लुकाछिपी चल रही है। हालांकि पिछले दिनों हुई बारिश के कारण हवा में ठंडक का एहसास है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि तूफान टाक्टे कमजोर पड़ गया है। वर्तमान में वह पूर्वी उत्तर प्रदेश पर ऊपरी हवा के चक्रवात के रूप में मौजूद है। इस चक्रवात से पूर्वी मध्य प्रदेश से होकर कर्नाटक तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। शनिवार को तूफान के और कमजोर पडऩे के आसार हैं। उधर, उत्तरी पाकिस्तान पर एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है। राजस्थान पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इन सिस्टम के कारण कुछ नमी मिल रही है। साथ ही हाल ही में कई क्षेत्रों में बारिश भी हुई है। इससे भी नमी बरकरार है। इस वजह से तापमान में दो दिन तक धीरे-धीरे और बढोतरी होगी। साथ ही दोपहर के बाद कुछ स्थानों पर गरज-चमक के साथ बौछारें भी पड़ सकती हैं।

Kolar News

Kolar News 22 May 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है। शुक्रवार को संक्रमण दर 8.7 प्रतिशत रही। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 863 नए मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से सात लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1 लाख, 44 हजार 472 और मृतकों की संख्या 1301 हो गई है।      इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने शनिवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शुक्रवार देर रात 9914 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 863 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 44 हजार 472 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से सात मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1301 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 2001 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख, 33 हजार 739 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। लंबे समय बाद उपचाररत मरीजों की संख्या 10 हजार से नीचे पहुंची। फिलहाल 9432 कोरोना पाजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 22 May 2021

भोपाल। महिला एवं बाल विकास की गोविंदपुरा परियोजना द्वारा स्वयं सेवी संगठनों के सहयोग से अपने सेक्टर्स में कुल 140 परिवारों में कुल 460 बच्चों और परिवारों को सूखा राशन उपलब्ध करवाया गया है। खुशहाल नौनिहाल अभियान के तहत चिन्हांकित बालक जिन्हें विभागीय सहायता से भिक्षावृत्ति की प्रवृत्ति से बाहर निकालकर शिक्षा से जोड़ा गया था उन 16 बच्चों के परिवार में कुल 60 लोगों को दोनो समय का पका हुआ भोजन पहुंचाया जा रहा है।   कोरोना काल की विषम परिस्थितियों एवं बच्चों में मानसिक तनाव की स्थिति को देखते हुए गोविन्दपुरा परियोजना अधिकारी अखिलेश चतुर्वेदी ने सभी सेक्टर सुपरवाईजर्स, भोपाल में कार्यरत सेफ सिटी पार्टनर्स एवं अन्य सहयोगी संस्थाओं के साथ ऑनलाईन बैठक कर बच्चों में तनाव कम करने की कार्ययोजना पर काम करने का तय किया है।  इसमें परियोजना के विभिन्न सेक्टर्स में बाल संरक्षण समिति सदस्यों और युवाओं को बस्ती स्तर पर जोड़कर जरूरतमंद परिवारों की सहायता के साथ ही कोविड -19 से बचाव एवं रोकथाम के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की और अन्य साथियों को तैयार रहने के लिए कहा गया।    इस दौरान आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं बाल संरक्षण समिति के सदस्यों ने बताया कि उनके क्षेत्र में कई ऐसे परिवार में जहां बुजुर्ग व्यक्ति और बच्चे हैं , उनके घर में कोई भी व्यक्ति कमाने वाला नहीं है, इस कारण घर में आर्थिक तंगी है और घर में राशन की व्यवस्था भी नहीं है। परियोजना अधिकारी ने ऐसे वंचित परिवारों की सूची बनाकर राशन वितरण के लिए कहा है।     उल्‍लेखनीय है कि व्यवसायिक संगठनों एवं स्वयं सेवी संस्थाओं और व्यापारी बंधुओं के साथ समन्वय कर वंचित एवं आर्थिक तौर पर परेशान परिवारों हेतु राशन ( खाद्य सामग्री ) एवं अतिवंचित परिवारों के लिए दोनों समय पके हुए भोजन की व्यवस्था की जा रही है। परिवारों के लिए सूखा राशन एवं पका हुआ भोजन की व्यवस्था करने में अन्य संस्थाओं एवं स्वयं सेवी संगठनों के द्वारा सहायता प्रदान की गई।

Kolar News

Kolar News 18 May 2021

उज्जैन। जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते प्रशासन ने 9 अप्रैल से कोरोना कर्फ्यू का ऐलान किया था। कोरोना कर्फ्यू लगाने के बाद संक्रमण की दर अब धीरे-धीरे कम होने लगी है जिसके चलते प्रशासन अब रियायतें देना शुरू करेगा, हालांकि जिला प्रशासन ने 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू की गाइड लाइन जारी की है।    कोरोना कर्फ्यू लागू हुए डेढ़ माह से अधिक बीत गया है। अभी भी शहरवासियों को 31 मई तक अपने घरों में कैद रहना है। दो दिन पूर्व 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू की गाइड लाइन जारी की गई है। इसमें ऑप्टीकल्स की दुकानें व नदी के घाटों पर पिण्डदान करने वालों को अनुमति दी गई है।  संभावना है कि 31 मई के बाद 1 जून से जिला प्रशासन कोरोना कर्फ्यू में ढील दे सकता है और किश्तों में बाजार खोल सकता है। पिछले वर्ष भी कोरोना संक्रमण के कारण जून में ही शहर में बाजारों का खुलना किश्तों में जारी हुआ था।    इस साल भी 1 जून से जरूरी चीजों की दुकानों को प्रशासन थोड़ी ढील दे सकता है। छोटे व्यापारियों को व्यापार करने की प्रशासन एक नियत अवधि में अनुमति दे सकता है, क्योंकि व्यापारी भी विगत डेढ़ माह से अपने घरों में बैठे हैं जिससे उनका धंधा चौपट हो गया है और वह अब आस लगाए बैठे हैं कि 1 जून से प्रशासन थोड़ी थोड़ी समयावधि में बाजार खोलने की अनुमति दी। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष कोरोना संक्रमण मार्च से तेज हो गया था। इस वर्ष कोरोना संक्रमण के कारण मौतों का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ा था जिससे शहर सहम सा गया था। अब मई माह में संक्रमण से होने वाली मौतों का आंकड़ा और कोरोना पॉजीटिव मरीजों का आंकड़ा कम हो गया है जिससे प्रशासन और आम जनता में भी राहत की खबर है।    प्रशासन अगर 1 जून से बाजार खोलने की अनुमति देता है तो बाजार एक नियत अवधि और समय में खुलेंगे। सबसे पहले आवश्यक सामग्री की दुकानों को खोलने की अनुमति प्रशासन देगा। 

Kolar News

Kolar News 18 May 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश से कोरोना को लेकर बड़ी राहत भरी खबर है। यहां कोरोना संक्रमण के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 5412 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 70 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 07 लाख, 42 हजार, 718 और मृतकों की संख्या 7139 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा मंगलवार देर  शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई।   नये मामलों में इंदौर- 1262, भोपाल- 661, ग्वालियर- 175, जबलपुर- 306, उज्जैन- 154, सागर- 201, खरगौन- 97, रतलाम- 170, रीवा- 168, बैतूल- 98, विदिशा- 41, धार- 82, सतना- 79, नरसिंहपुर- 70, होशंगाबाद- 98, बड़वानी- 19, शिवपुरी- 105, कटनी- 80, शहडोल- 77, बालाघाट- 69, झाबुआ- 06, सीहोर- 98, छिंदवाड़ा- 34, राजगढ़- 60, रायसेन- 79, मुरैना- 28, नीमच- 47, मंदसौर- 54, देवास- 90, दमोह- 83, शाजापुर- 44, छतरपुर- 39, अनूपपुर- 111, सिंगरौली- 59, सिवनी- 41, सीधी- 85, टीकमगढ़- 36, दतिया-18, गुना- 39, खंडवा- 02, पन्ना- 59, उमरिया- 59, हरदा- 28, मंडला- 41, अलिराजपुर- 05, डिंडौरी-56, अशोकनगर-09, श्योपुर- 21, भिंड- 25, बुरहानपुर- 10, आगरमालवा- 18, निवाड़ी- 16 मरीज मिले हैं। आज प्रदेश के सभी 52 जिलों में कोरोना के प्रकरण पाये गए।   बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 69,454 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 5412 पॉजिटिव और 64,042 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 712 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 07.7 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 07, 42, 718 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 140447, भोपाल- 114526, ग्वालियर- 51681, जबलपुर- 47716, उज्जैन- 17744, सागर- 15190, खरगौन- 13235, रतलाम- 16557, रीवा- 15333, बैतूल- 12139, विदिशा- 11412, धार- 11895, सतना- 11502, नरसिंहपुर- 10910, बड़वानी- 8167, होशंगाबाद- 10128, शिवपुरी- 11696, कटनी- 9076, बालाघाट- 8528, शहडोल- 9540, छिंदवाड़ा- 6470, झाबुआ- 7557, सिहोर- 9521, राजगढ़- 8041, रायसेन- 8660, नीमच- 7573, मुरैना- 7803, मंदसौर- 8077, देवास- 7329, शाजापुर- 5992, दमोह- 7422, छतरपुर- 7327, अनूपपुर- 8450, सिवनी- 6388, सिंगरौली- 8336, सीधी- 8623, टीकमगढ़- 6684, दतिया- 6689, खंडवा- 3979, गुना- 4865, पन्ना- 6887, उमरिया- 5841, हरदा- 4866, मंडला- 5021, अलिराजपुर- 3431, डिंडौरी- 4310, अशोकनगर- 3441, श्योपुर- 3746, भिंड- 2879, बुरहानपुर- 2490, आगरमालवा- 3083, निवाड़ी- 3515 मरीज शामिल हैं।   राज्य में आज कोरोना से 70 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में इंदौर और विदिशा में पांच, भोपाल, शिवपुरी और ग्वालियर में सात, जबलपुर और सीधी में चार, रीवा, बड़वानी और मुरैना में तीन, शहडोल, अनूपपुर, मंदसौर, झाबुआ और दमोह में दो, उज्जैन, खरगौन, सतना, नरसिंहपुर, रायसेन, बालाघाट, सिंगरौली, छतरपुर, पन्ना, टीकमगढ़, भिंड और रतलाम जिले के एक-एक मरीज शामिल है। इसके बाद राज्य में मृतकों की संख्या बढक़र 7139 हो गई है।       मृतकों में सबसे अधिक इंदौर- 1274, भोपाल- 861, ग्वालियर- 492, जबलपुर- 525, उज्जैन- 162, सागर- 205, खरगौन- 212, रतलाम- 268, रीवा- 77, बैतूल- 156, विदिशा- 161, धार- 121, सतना- 93, नरसिंहपुर- 66, बड़वानी- 77, होशंगाबाद- 97, शिवपुरी- 78, कटनी- 79, बालाघाट- 55, शहडोल- 109, छिंदवाड़ा- 117, झाबुआ- 47, सिहोर- 49, राजगढ़- 110, रायसेन- 152, नीमच- 84, मुरैना- 67, मंदसौर- 73, देवास- 42, शाजापुर- 50, दमोह- 127, छतरपुर- 77, अनूपपुर- 67, सिवनी- 27, सिंगरौली- 66, सीधी- 66, टीकमगढ़- 97, दतिया- 73, खंडवा- 90, गुना- 44, पन्ना- 40, उमरिया- 54, हरदा- 72, मंडला- 17, अलिराजपुर- 45, डिंडौरी- 24, अशोकनगर- 21, श्योपुर- 51, भिंड- 20, बुरहानपुर- 35, आगरमालवा- 29, निवाड़ी- 36 व्यक्ति शामिल है।   बुलेटिन के अनुसार, राज्य में अब तक 6,52, 612 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 11358 मरीज मंगलवार को स्वस्थ हुए। अब यहां कोरोना के सक्रिय प्रकरण 82967 हो गए हैं। बता दें कि मप्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में सक्रिय प्रकरण एक हजार के नीचे पहुंच गए थे, लेकिन स्वस्थ होने वाले मरीजों की तुलना में नये मामले अधिक संख्या में आने के कारण यहां सक्रिय प्रकरण लगातार बढ़ते जा रहे थे। हांलाकि अब सक्रिय मामलों में भी धीरे धीरे कमी देखने को मिल रही है। 

Kolar News

Kolar News 18 May 2021

भोपाल। राज्य शासन ने कोरोना वायरस के संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम के लिए लोकहित में मध्यप्रदेश में उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और छत्तीसगढ़ राज्य से आने तथा जाने वाले बस परिवहन संचालन को पूर्व में 15 मई तक स्थगित किया था।   सचिव, राज्य परिवहन प्राधिकारी एवं अपर परिवहन आयुक्त ने बताया कि उक्त राज्यों से आने तथा जाने वाले बस परिवहन संचालन को स्थगित करने की अवधि बढ़ाकर 23 मई, 2021 कर दी गई है। इस संबंध में आदेश जारी कर दिये गये हैं।

Kolar News

Kolar News 15 May 2021

उज्जैन। शहर में अभी भी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी जारी है। अब कालाबाजारी का नया तरीका ईजाद कर लिया गया है। ऐसा तरीका,जिसे प्रशासन इसलिए नहीं पकड़ पा रहा है क्योंकि नियम ही प्रशासन का बनाया हुआ है। शहर के कतिपय प्रायवेट हॉस्पिटल्स के मेडिकल स्टोर्स संचालकों द्वारा तो गली निकाली गई है।   यह प्रक्रिया अपना रहा है प्रशासन प्रतिदिन अपर कलेक्टर जितेंद्रसिंह एवं ड्रग इंस्पेक्टर धर्मसिंह कुशवाह द्वारा  प्रायवेट हॉस्पिटल्स से प्राप्त रेमडेसिविर इंजेक्शन की डिमांड का पत्र प्राप्त किया जाता है। डिमांड जितने इंजेक्शन की रहती है,आवक के अनुसार उस अनुपात में सभी हॉस्पिटल्स को इंजेक्शन की बिलिंग करवाई जाती है। डिमांड में मरीज का नाम और मोबाइल नम्बर लिखा होता है। इंजेक्शन प्रायवेट हास्पिटल्स परिसर में ही संचालित मेडिकल स्टोर्स संचालक को मिलते हैं। वह अपनी सुविधा से  (जान-पहचानवालों के और कथित रूप से अधिक दाम देनेवालों के पूर्व में ही निकाल लिए जाते हैं।)मरीजों को इंजेक्शन देता है।   यहां होता है लोचा.... जो डिमांड जाती है,उसमें कतिपय हॉस्पिटल्स के मेडिकल स्टोर्स से करीब 4 से 5 नाम उन कोविड मरीजों के होते हैं जो या तो हॉस्पिटल में उपचार के दौरान मर गए,या फिर ठीक होने पर उनकी छुट्टी हो चुकी है। ऐसे में 4 से 5 रेमडेसिविर इंजेक्शन इनके पास एक्स्ट्रा आ जाते हैं।   यहां उठा रहे प्रशासन की कमी का फायदा इन मेडिकल स्टोर्स संचालकों को निर्देश हैं कि रात्रि में वे जिन्हें इंजेक्शन प्रदाय किए गए हैं,उनके नाम की  सूची ओर मोबाइल नम्बर दें। इस सूची अनुसार रेंडम आधार पर कुछ को फोन लगा लिया जाता है। दूसरी ओर से जवाब आता है-जी, हमें मिल गया इंजेक्शन। ऐसे में अधिकारी संतुष्ट होकर सो जाते हैं। इधर नींद उनको नहीं आती,जिनका मरीज क्रिटिकल होता है और बावजूद इसके उन्हें इंजेक्शन नहीं मिल पाता है। क्योंकि उन्हें कहा जाता है: आज कम आए,आपका मरीज ठीक है,जो अधिक गंभीर है,उनको लगवा दिए।   यह होना चाहिए... जो सूची इंजेक्शन की डिमांड के रूप में मेडिकल स्टोर्स संचालक ड्रग इंस्पेक्टर को देते हैं,उस सूची में क्रिटिकल मरीजों की प्राथमिकता से नाम मंगवाए जाएं। उसी सूची के नामों के आगे मोबाइल नम्बर बुलवाएं जाएं,जोकि मेडिकल स्टोर्स संचालक नहीं लिखते हैं। उक्त सूची के आधार पर इंजेक्शन दिए जाएं और रात्रि में उसी सूची अनुसार मरीजों को या उनके परिजनों को दिए गए नम्बर पर फोन करके कंफर्म किया जाए। जो गड़बड़ हो रही हे,पकड़ में आ जाएगी।   एक मामला ऐसे ही पकड़ा गया माधवनगर थाना क्षेत्र में एक मामला ऐसा ही पकड़ा गया लेकिन संबंधित को प्रभावशाली व्यक्ति ने थाने से ही छुड़वा लिया? मेडिकल स्टोर्स संचालक के कर्मचारी ने उपर बताई गई गड़बड़ी की। एक मरीज के परिजन ने शिकायत कर दी कि मरे हुए ओर डिस्चार्ज हुए के नाम के इंजेक्शन आए तथा अधिक दाम पर बेचे गए। कर्मचारी को पुलिस ने पकड़ा तो उसने राज उगल दिया। उसे थाने पर बैठाया गया। हालांकि बाद में पुलिस ने इस बात से इंकार कर दिया।   इनका कहना है इस संबंध में ड्रग इंस्पेक्टर धर्मसिंह कुशवाह का कहना है कि हमें जो सूची  मिलती है,उसे वापस कर देते हैं और रात को जो सूची मिलती है,उससे टेली करते हैं। अब पहलेवाली सूची से टेली कर लिया करेंगे।

Kolar News

Kolar News 15 May 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 1548 मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से आठ लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1 लाख, 36 हजार 391 और मृतकों की संख्या 1253 हो गई है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने शनिवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शुक्रवार देर रात 9999 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 1548 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 36 हजार 391 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से आठ मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1253 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 2617 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख, 19 हजार, 110 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल 16028 कोरोना पाजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 15 May 2021

भोपाल। राजधानी में मौसम शुष्क होने के बाद तेज धूप के कारण लोग गर्मी से बेहाल होने लगे हैं। कई हिस्सों में बारिश का सिलसिला जारी है। मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल मौसम का मिजाज इसी तरह रहेगा। शाम के वक्त लोकल सिस्टम के कारण बादल, गरज-चमक की स्थिति बन सकती है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में प्रदेश के कई हिस्सों में तेज हवा गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी की संभावना जताई है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि साउथ-ईस्ट एमपी में ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इससे साउथ-ईस्ट एमपी से नॉर्थ केरल तक एक ट्रफ लाइन बनी हुई है। इससे प्रदेश में बादल बनने के साथ बारिश हो रही है। अगले दो दिन भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, ग्वालियर, चंबल, रीवा संभाग के हिस्सों में गरज-चमक और तेज हवा के साथ बूंदाबांदी होने की संभावना है। भोपाल में बादल छाए रहेंगे। अरब सागर में दो-तीन दिन में बनने वाले तूफान ताऊ ते का राजधानी में शनिवार या रविवार को असर हो सकता है।    मौसम विशेषज्ञों का कहना है कि मिल रहे ट्रेंड के मुताबिक इस दौरान 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं यहां पहुंच सकती हैं। इस दौरान भोपाल समेत आसपास के जिलों में प्री मानसून गतिविधि भी बढ़ेगी। शुक्रवार सुबह तक एक कम दबाव का क्षेत्र दक्षिण-पूर्व अरब सागर में बनने की संभावना है। भोपाल, जबलपुर, उज्जैन, चंबल, रीवा, ग्वालियर संभाग में गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार बन रहे है। 17 से 19 मई तक तक प्रदेश में बारिश होने की संभावना ज्यादा है।

Kolar News

Kolar News 13 May 2021

भोपाल।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार प्रदेश में होम आइसोलेट कोरोना मरीजों को मेडिकल किटों का वितरण लगातार जारी है। अभी तक 52 जिलों में 2 लाख  34  हजार 288 मेडिकल किट वितरित की जा चुकी हैं।   जनसंपर्क अधिकारी राजेश पाण्डेय ने बुधवार को बताया कि 18 अप्रैल से 11 मई के मध्य नगरीय क्षेत्रों में फ़ीवर क्लीनिक एवं होम डिलीवरी के माध्यम से 2 लाख  34 हजार  288 मेडिकल किट कोविड मरीज़ों को उपलब्ध कराई गई हैं। उन्होंने  जानकारी दी है कि  18 अप्रैल को 12 हजार 583, 19 अप्रैल को 16 हजार 914, 20 अप्रैल को 11 हजार 465, 21 अप्रैल को 10 हजार 327, 22 अप्रैल को 11 हजार 76,  23 अप्रैल को 11 हजार 17,  24 अप्रैल को 10 हजार 658, 25 अप्रैल को 9 हजार 497, 26 अप्रैल को 9 हजार 360, 27 अप्रैल को 9 हजार 705, 28 अप्रैल को 11 हजार 141, 29 अप्रैल को 9 हजार 347, 30 अप्रैल को 8 हजार 958, एक मई को 10 हजार 253 , 2 मई को 9 हजार 112, 3 मई को 8 हजार 439, 4 मई को 9 हजार 301 , 5 मई को 8 हजार 455, 6 मई को 8 हजार 866 , 7 मई को 7 हजार 983, 8 मई को 7 हजार 746 , 9 मई को 7 हजार 450, 10 मई को 7 हजार 248 और 11 मई को 7 हजार 387 कोविड मरीजों को मेडिकल किट वितरित की गई हैं।

Kolar News

Kolar News 12 May 2021

भोपाल। राजधानी भोपाल इंदौर के बाद प्रदेश में सबसे संक्रमित शहरों में दूसरे नंबर पर है। इसके बाद भी कि यहां कोरोना के दौरान लगाए गए कर्फ्यू की धज्जियां उड़ रही हैं। भोपाल के काजी कैंप, बैरसिया रोड, सिंधी कॉलोनी समेत कई इलाकों में अब भी धड़ल्ले से दुकानें चल रही हैं। यहां पर चिकन-मटन से लेकर कपड़े जूते और अन्य दुकानें चलाने वाले लोग शटर बंद कर कारोबार कर रहे हैं। सोमवार को पुलिस प्रशासन ने इन दुकानदारों के खिलाफ धड़ल्ले से कार्रवाई शुरू की है।   सोमवार सुबह नगर निगम का अतिक्रमण अमला काजी कैंप पहुंचा और करीब एक दर्जन दुकानों में कार्रवाई की। टीम जब पहुंची तो, यहां एक चिकिन शॉप के शटर लगे हुए थे, लेकिन अंदर कर्मचारी चिकिन साफ करने लगे हुए थे। पूछताछ में पता चला कि शटर बंद कर सप्लाई की जा रही है। इसके बाद टीम ने काजी कैंप, बैरसिया रोड और सिंधी कॉलोनी समेत अन्य इलाकों में कार्रवाई शुरू की। दोपहर तक अतिक्रमण अमला करीब एक दर्जन से अधिक दुकानों पर कार्रवाई कर चुका था और अन्य पर कार्रवाई की जा रही थी। इस पूरी कार्रवाई के दौरान हनुमानगंज सीएसपी और और नगर निगम के अतिक्रमण प्रभारी नासिर खान भी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 10 May 2021

भोपाल। कोरोना महामारी के बीच राजधानी भोपाल से एक अच्छी खबर है। यहां 28 दिन बाद नए संक्रमितों की संख्या 1500 से नीचे आई है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी भोपाल की तरफ से रविवार रात को जारी आंकड़ों के अनुसार संक्रमितों की संख्या 1498 आई है। इससे पहले 13 अप्रैल को एक दिन में 1497 लोग कोरोना संक्रमित मिले थे। इसके बाद से लगातार नए संक्रमितों की संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही थी।   स्वास्थ्य विभाग की तरफ से जारी आंकड़े के अनुसार राजधानी भोपाल में रविवार को 1203 मरीज ठीक हुए। वहीं, कोरोना के कारण 8 लोगों की मौत हुई है। 1498 नए संक्रमितों को मिलाकर भोपाल में अब तक 1लाख 4 हजार 332 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 89098 लोग ठीक भी हो चुके हैं। राजधानी में वर्तमान में एक्टिव केस की संख्या करीब 14 हजार है। कोरोना के कारण अब तक करीब 800 लोगों की मृत्यु हो चुकी है।

Kolar News

Kolar News 10 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में मौसम का मिजाज बदला हुआ है। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं के कारण मई माह में भी वातावरण में नमी बढ़ी हुई है। जिससे राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में बादल छाने लगे हैं साथ ही कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बारिश भी होने लगी है। बालद छाने और बारिश के कारण तापमान में कुछ गिरावट भी होने लगी है। मौसम विभाग के अनुसार मप्र में अगले तीन दिनों तक मौसम का मिजाज बिगड़ सकता है। इस दौरान राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कुछ हिस्सों में गरज चमक के साथ बारिश के आसार है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के मध्य क्षेत्र के उत्तरी भाग में ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से एक ट्रफ असम तक और दूसरा ट्रफ विदर्भ तक बना हुआ है। उधर एक पश्चिमी विक्षोभ भी पाकिस्तान पर सक्रिय हो गया है। ऊपरी चक्रवात की शक्ल के इस सिस्टम के प्रभाव से दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान पर प्रेरित चक्रवात बन गया है। इस वजह से बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से नमी मिलने के कारण मप्र में बादल छाने लगे हैं। इससे गरज-चमक के साथ बारिश हो रही है। रविवार को भोपाल में भी गरज-चमक के साथ बरसात होने की संभावना है। इस तरह की स्थिति अभी तीन-चार दिन तक बनी रह सकती है। इस दौरान अधिकतम तापमान में ज्यादा बढ़ोतरी होने की संभावना नहीं है। इसी क्रम में शुक्रवार को रीवा में 2.0, दमोह में 1.0 मिलीमीटर बारिश दर्ज हुई। छिंदवाड़ा, भोपाल, ग्वालियर में बूंदाबांदी हुई।

Kolar News

Kolar News 8 May 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 1792 नये मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से आठ लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1,21, 694 और मृतकों की संख्या 1184 हो गई है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 10341 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 1792 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 21 हजार 694 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से आठ मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1184 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 2697 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 08 हजार 493 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल 12,017 कोरोना पाजीटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 6 May 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 1792 नये मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से आठ लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढकऱ करीब 1,21, 694 और मृतकों की संख्या 1184 हो गई है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 10341 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 1792 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1 लाख, 21 हजार 694 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से आठ मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1184 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 2697 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 1 लाख 08 हजार 493 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। फिलहाल 12,017 कोरोना पाजीटिव मरीजों का इलाज चल रहा है।

Kolar News

Kolar News 6 May 2021

सिवनी। जिले में कोविड-19 टीकाकरण के तृतीय चरण का शुभारंभ कु. इशिता सोनी व सौम्या तिवारी (18), मनु दिवाकर (35) तथा रश्मि तिवारी (42) को कोवैक्सीन का टीका लगाकर किया गया। इन सभी को शासकीय बड़ा मिशन स्कूल के टीकाकरण केंद्र में टीका लगाया गया।    जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. लोकेश चौहान ने बताया कि लाभार्थियों द्वारा कोविड पोर्टल में अपना पंजीयन कराकर सुविधानुसार टीकाकरण स्लाॅट प्राप्त करते हुए कोविड-19 टीकाकरण केंद्र पर उपस्थित होकर आवश्यक फोटो आईडी प्रस्तुत करने के उपरांत अपना टीकाकरण कराया। इसी प्रकार अन्य लोगों ने भी टीकाकरण केंद्र पर आकर अपना टीकाकरण कराया । सभी लोगों को कोविड-19 टीकाकरण पश्चात 30 मिनट के लिए आब्जर्वेंशन में रखा गया। किसी को भी कोई विपरीत प्रतिक्रिया परिलक्षित नहीं हुई।    डाॅ. चौहान ने बताया कि 18 प्लस के लोगों में टीकाकरण हेतु विशेष उत्साह देखा गया। लाभार्थियों द्वारा टीकाकरण के दौरान मास्क का प्रयोग, सोशल डिस्टेसिंग का पालन कर शांतिपूर्वक ढंग से सहयोग दिया जा रहा था, जो अनुकरणीय है।  सभी लोग टीकाकरण पश्चात कोरोना महामारी से सुरक्षा हेतु आत्मविश्वास से भरे हुए एवं प्रसन्न दिखाई दिए।      डॉ. चौहान ने जिले के लोगों से अपील की है कि जिले को कोरोना मुक्त बनाने के लिए कोविड टीकाकरण ही एकमात्र प्रभावी तरीका है। अतः सभी लोग कोविन पोर्टल पर जाकर अपना पंजीयन करायें तथा उपयुक्त टीकाकरण स्लाॅट चुनकर बिना किसी परेशानी एवं डर के अपना व अपने परिवार के सदस्यों का कोविड टीकाकरण अनिवार्यतः कराना सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होने लोगों से यह भी अपील की है कि टीकाकरण पश्चात मास्क पहनना, सामाजिक दूरी बनाएं रखना तथा बार-बार साबुन पानी/सेनेटाईजर से हाथ की सफाई करते रहना चाहिये।  टीकाकरण के शुभारंभ अवसर पर जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. लोकेश चौहान, एएनएम  वर्षा ठाकुर, सुपरवाईजर संजय दुबे, सत्यापन कर्ता चांदनी मेश्राम तथा धनीराम ब्रोकर आदि उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 5 May 2021

सिवनी। जिले में कोविड-19 टीकाकरण के तृतीय चरण का शुभारंभ कु. इशिता सोनी व सौम्या तिवारी (18), मनु दिवाकर (35) तथा रश्मि तिवारी (42) को कोवैक्सीन का टीका लगाकर किया गया। इन सभी को शासकीय बड़ा मिशन स्कूल के टीकाकरण केंद्र में टीका लगाया गया।    जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. लोकेश चौहान ने बताया कि लाभार्थियों द्वारा कोविड पोर्टल में अपना पंजीयन कराकर सुविधानुसार टीकाकरण स्लाॅट प्राप्त करते हुए कोविड-19 टीकाकरण केंद्र पर उपस्थित होकर आवश्यक फोटो आईडी प्रस्तुत करने के उपरांत अपना टीकाकरण कराया। इसी प्रकार अन्य लोगों ने भी टीकाकरण केंद्र पर आकर अपना टीकाकरण कराया । सभी लोगों को कोविड-19 टीकाकरण पश्चात 30 मिनट के लिए आब्जर्वेंशन में रखा गया। किसी को भी कोई विपरीत प्रतिक्रिया परिलक्षित नहीं हुई।    डाॅ. चौहान ने बताया कि 18 प्लस के लोगों में टीकाकरण हेतु विशेष उत्साह देखा गया। लाभार्थियों द्वारा टीकाकरण के दौरान मास्क का प्रयोग, सोशल डिस्टेसिंग का पालन कर शांतिपूर्वक ढंग से सहयोग दिया जा रहा था, जो अनुकरणीय है।  सभी लोग टीकाकरण पश्चात कोरोना महामारी से सुरक्षा हेतु आत्मविश्वास से भरे हुए एवं प्रसन्न दिखाई दिए।      डॉ. चौहान ने जिले के लोगों से अपील की है कि जिले को कोरोना मुक्त बनाने के लिए कोविड टीकाकरण ही एकमात्र प्रभावी तरीका है। अतः सभी लोग कोविन पोर्टल पर जाकर अपना पंजीयन करायें तथा उपयुक्त टीकाकरण स्लाॅट चुनकर बिना किसी परेशानी एवं डर के अपना व अपने परिवार के सदस्यों का कोविड टीकाकरण अनिवार्यतः कराना सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होने लोगों से यह भी अपील की है कि टीकाकरण पश्चात मास्क पहनना, सामाजिक दूरी बनाएं रखना तथा बार-बार साबुन पानी/सेनेटाईजर से हाथ की सफाई करते रहना चाहिये।  टीकाकरण के शुभारंभ अवसर पर जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. लोकेश चौहान, एएनएम  वर्षा ठाकुर, सुपरवाईजर संजय दुबे, सत्यापन कर्ता चांदनी मेश्राम तथा धनीराम ब्रोकर आदि उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 5 May 2021

सिवनी। जिले में कोविड-19 टीकाकरण के तृतीय चरण का शुभारंभ कु. इशिता सोनी व सौम्या तिवारी (18), मनु दिवाकर (35) तथा रश्मि तिवारी (42) को कोवैक्सीन का टीका लगाकर किया गया। इन सभी को शासकीय बड़ा मिशन स्कूल के टीकाकरण केंद्र में टीका लगाया गया।    जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. लोकेश चौहान ने बताया कि लाभार्थियों द्वारा कोविड पोर्टल में अपना पंजीयन कराकर सुविधानुसार टीकाकरण स्लाॅट प्राप्त करते हुए कोविड-19 टीकाकरण केंद्र पर उपस्थित होकर आवश्यक फोटो आईडी प्रस्तुत करने के उपरांत अपना टीकाकरण कराया। इसी प्रकार अन्य लोगों ने भी टीकाकरण केंद्र पर आकर अपना टीकाकरण कराया । सभी लोगों को कोविड-19 टीकाकरण पश्चात 30 मिनट के लिए आब्जर्वेंशन में रखा गया। किसी को भी कोई विपरीत प्रतिक्रिया परिलक्षित नहीं हुई।    डाॅ. चौहान ने बताया कि 18 प्लस के लोगों में टीकाकरण हेतु विशेष उत्साह देखा गया। लाभार्थियों द्वारा टीकाकरण के दौरान मास्क का प्रयोग, सोशल डिस्टेसिंग का पालन कर शांतिपूर्वक ढंग से सहयोग दिया जा रहा था, जो अनुकरणीय है।  सभी लोग टीकाकरण पश्चात कोरोना महामारी से सुरक्षा हेतु आत्मविश्वास से भरे हुए एवं प्रसन्न दिखाई दिए।      डॉ. चौहान ने जिले के लोगों से अपील की है कि जिले को कोरोना मुक्त बनाने के लिए कोविड टीकाकरण ही एकमात्र प्रभावी तरीका है। अतः सभी लोग कोविन पोर्टल पर जाकर अपना पंजीयन करायें तथा उपयुक्त टीकाकरण स्लाॅट चुनकर बिना किसी परेशानी एवं डर के अपना व अपने परिवार के सदस्यों का कोविड टीकाकरण अनिवार्यतः कराना सुनिश्चित करें। साथ ही उन्होने लोगों से यह भी अपील की है कि टीकाकरण पश्चात मास्क पहनना, सामाजिक दूरी बनाएं रखना तथा बार-बार साबुन पानी/सेनेटाईजर से हाथ की सफाई करते रहना चाहिये।  टीकाकरण के शुभारंभ अवसर पर जिला टीकाकरण अधिकारी डाॅ. लोकेश चौहान, एएनएम  वर्षा ठाकुर, सुपरवाईजर संजय दुबे, सत्यापन कर्ता चांदनी मेश्राम तथा धनीराम ब्रोकर आदि उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 5 May 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों के लिए ऑक्‍सीजन पूर्ति के किए जा रहे प्रयासों में एक बड़ा कार्य हुआ है, यहां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भोपाल को केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍थाओं के तहत 100 आक्सीजन कंसन्ट्रेटर मिले हैं, जिसमें कि हर एक आक्सीजन कंसन्ट्रेटर दो मरीजों को एक साथ ऑक्‍सीजन सप्‍लाई करेगा और इस तरह से 200 मरीजों को इसका लाभ मिल सकेगा।    इस संबध में एम्स भोपाल के कोविड नोडल आफीसर और डिप्टी डायरेक्टर (एडमिन) डीपी सिंह ने बताया कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के माध्‍यम से एम्स भोपाल को  100 ऑक्‍सीजन कंसन्ट्रेटर भेजे गए हैं। इनमें 10 लीटर आक्‍सीजन तैयार करनेवाले ऑक्‍सीजन कंसन्ट्रेटर भी है, जो एक मिनट में इतनी ऑक्‍सीजन निर्मित करने की क्षमता रखते हैं। उन्‍होंने बताया कि इनकी संख्‍या 64 है। इसके साथ ही 36 कंसन्ट्रेटर से प्रति मिनट पांच लीटर आक्‍सीजन तैयार होगी। इन सभी की खास बात यह है कि ये सभी ऑक्‍सीजन कंसन्ट्रेटर डबल आउटलेट वाले हैं जोकि दो कोरोना मरीजों को एक साथ आक्‍सीजन देने में सक्षम हैं । इसके साथ ही केंद्र के सवस्‍थ्‍य मंत्रालय की ओर से हमें आश्‍वस्‍त किया गया है कि शीघ्र आवश्‍यक इक्यूमेंट एम्‍स को और भेजे जाएंगे।    उन्‍होंने बताया कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भोपाल कम संक्रमित कोविड मरीजों के लिए अलग से वार्ड तैयार करने जा रहा है। वहीं, एम्स की अधीक्षिका डॉ. मनीषा श्रीवास्तव ने बताया कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से हमारे यहां के लिए तीन हजार रेमडेसिवर देने की स्वीकृति मिली है। जोकि अगले सप्ताह तक भोपाल एम्स को मिल जाएंगे।

Kolar News

Kolar News 5 May 2021

इंदौर। जैसे-जैसे कोरोना का संक्रमण और वरिष्ठ अधिकारियों का दबाव बढ़ रहा है, पुलिस-प्रशासन के अधिकारी अपना आपा खोते जा रहे हैं। ऐसी ही एक घटना जिले के देपालपुर में हुई, जहां तहसीलदार ने कर्फ्यू तोड़ने वालों को मेंढक बनाया, उनका जुलूस निकाला और उन्हें लातें भी मारी। तहसीलदार की इस हरकत का वीडियो वायरल होने पर उसका विरोध शुरू हो गया है। वहीं, कांग्रेस ने तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई न होने पर उसका मुंह काला करने की चेतावनी दी है।   इंदौर जिला प्रशासन सभी जगह कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई कर रहा है। लेकिन देपालपुर इलाके के चमन चौराहे की घटना ने उनकी कार्यशैली पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं। तहसीलदार बजरंग बहादुर का वीडियो वायरल होने के बाद लोग अफसरों की कार्यशैली पर सवाल उठा रहे हैं। वीडियो में तहसीलदार बजरंग बहादुर चमन चौराहा पर कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों को रोकते हैं। उन्हें मेंढ़क कूद करके आधा किलोमीटर चलने के लिए कहा जाता है। बाकायदा बैंड-बाजे के साथ उनका जुलूस निकाला जाता है। जब लोग मेंढ़क कूद करके चलते हैं तो तहसीलदार उन्हें लात मारते हैं। जो भी बीच में खड़ा होता है वह उसे दौड़-दौड़ कर लात मारते हैं। इस दौरान उनके साथ पुलिसकर्मी और अन्य कर्मचारी भी मौजूद हैं।   जनता को लात मारते हुए तहसीलदार का वीडियो सामने आने के बाद कांग्रेस विधायक विशाल पटेल ने इसकी निंदा की है। सोशल मीडिया पर एक मैसेज भी वायरल किया है, जिसमें लिखा है कि तहसीलदार बजरंग बहादुर के खिलाफ यदि कार्रवाई नहीं होती है तो कांग्रेस कार्यकर्ता तहसीलदार का मुंह काला करेंगे।

Kolar News

Kolar News 3 May 2021

भोपाल। बीते 24 घंटों में राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कई जिलों में बारिश दर्ज की गई। बारिश और हवाओं के कारण कई जिलों में रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। सबसे अधिक 4.8 डिग्री की गिरावट राजधानी भोपाल में दर्ज हुई है।   बारिश के कारण प्रदेश के अधिकांश जिलों में न्यूनतम तापमान नीचे आ गया। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक जेडी मिश्रा ने बताया कि राजस्थान में बने सिस्टम के कारण हो रहा है। वहां से एक ट्रफ लाइन मध्यप्रदेश से गुजर रही है। अगले दो-तीन दिन इसी तरह की स्थिति रहेगी। हालांकि अब इसका ज्यादा असर जबलपुर, और बैतूल समेत इन्हीं इलाकों में रहेगा। अन्य इलाकों में गरज-चमक के साथ बादल छा सकते हैं।   राजधानी भोपाल में बीते चौबीस घंटों में हुई बारिश के कारण रात का पारा सबसे ज्यादा नीचे आया। यहां पर न्यूनतम तापमान 4.8 डिग्री तक गिर गया। यह सामान्य से 3.8 डिग्री सेल्सियस कम रहा। उज्जैन में 4.5 डिग्री, होशंगाबाद में 4.2 डिग्री और राजगढ़ में सबसे कम 4 डिग्री तक तापमान में गिरावट दर्ज की गई। बारिश और ठंडी हवाओं के कारण प्रदेश के 22 जिलों में गर्मी से राहत मिली।   कहां कितनी बारिश बीते चौबीस घंटों में भोपाल शहर में 3.4 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई, जबकि उपनगर बैरागढ़ में कुल बारिश 2.0 मिमी रही। इसके अलावा मलाजखंड में 2.7 मिमी, सिवनी में 4.4 मिमी, रायसेन में 5.4 मिमी, गुना में 1.4 मिमी, होशंगाबाद में 3.5 मिमी, पचमढ़ी में 5.4 मिमी, बैतूल में 6.4 मिमी, ग्वालियर मं 3.8 मिमी और दतिया में 4.4 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई। इंदौर, जबलपुर, उज्जैन और शाजापुर समेत अन्य जिलों में हल्की बारिश और बूंदाबांदी हुई।

Kolar News

Kolar News 3 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश परिवहन विभाग ने बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए पड़ोसी राज्यों महाराष्ट्र, राजस्थान और छत्तीसगढ़ से बस सेवाओं का संचालन स्थगित कर दिया है।   परिवहन एवं राजस्व मंत्री ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया की राज्य में कोरोना संक्रमण की प्रभावी रोकथाम के लिए महाराष्ट्र, राजस्थान एवं छत्तीसगढ़ की और जाने और आने वाली बसों का संचालन पूर्ण रूप से 7 मई तक स्थगित किया गया है। उन्होंने बताया की इस संबंध में दोनों राज्यों के लिए पृथक-पृथक आदेश जारी किये गये है। जिसके अनुसार स्थगन की अवधि 30 अप्रैल से बढ़ाकर 7 मई 2021 तक कर दी गई है।

Kolar News

Kolar News 30 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक बार फिर मौसम का मिजाज बदलने वाला है। अप्रैल माह की विदाई और मई की शुरूआत तेज हवा और बूंदाबांदी के साथ हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश के शुक्रवार और शनिवार को प्रदेश के 35 जिलों में तेज हवा चलने, गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि पूर्वी मध्य प्रदेश के ऊपर हवा का चक्रवात बना हुआ है। साथ ही पूर्वी मध्य प्रदेश से लेकर पश्चिम बंगाल तक एक ट्रफ लाइन भी बनी हुई है। जिसके चलते शुक्रवार और शनिवार को मध्य प्रदेश में बारिश की संभावना बन रही है। सौराष्ट्र और कच्छ के पास भी ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है, जिसके असर से भी एमपी में मौसम में बदलाव देखने को मिल सकता है। विभाग के अनुसार जिन जिलों में आज और कल बारिश की संभावना है, उनमें राजधानी भोपाल समेत मालवा, निमाड़, महाकौशल, ग्वालियर, चंबल और विंध्य के जिले शामिल हैं। इस दौरान मध्य प्रदेश के कई जिलों में सोमवार तक बादल छाए रहने के आसार हैं। इससे गर्मी से लोगों को थोड़ी राहत मिलेगी।   वहीं गुरुवार को भी भोपाल सहित प्रदेश के कई जिलों में धूलभरी तेज आंधी चली और कहीं-कहीं हल्की बारिश भी हुई। शहर में गुरुवार को दिन का तापमान 42.8 डिग्री पर पहुंच गया। यह सीजन का सबसे गर्म दिन रहा और 11 साल में अप्रैल में तीसरा सबसे ज्यादा तापमान है।

Kolar News

Kolar News 30 April 2021

उज्जैन। इस बार सूखे मेवे के व्यापारियों में मीठी ईद को लेकर वह उत्साह नहीं देखने को मिल रहा है जो गत वर्ष कोरोनाकाल में था। थोक व्यापारी जुल्फिकार(बादशाह ड्रायफ्रूट्स,कमरी मार्ग)के अनुसार गत वर्ष भी कोरोनाकाल में ही मीठी ईद आई थी। उस समय लोगों ने पिछले वर्षो की अपेक्षा 35 प्रतिशत खरीदी की थी। इस वर्ष भी कोरोना में ही मीठी ईद आ रही है लेकिन गत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष लोगों में भय अधिक है। यही कारण है कि मीठी ईद तक शहर में करीब 20 प्रतिशत सूखे मेवों की बिक्री की संभावना मान रहे हैं व्यापारी।   शहर में इस समय इंदौर से सूखे मेवे आते हैं। करीब 150 थोक एवं फुटकर व्यापारी सूखे मेवे रखते हैं। कोरोनाकाल में होम डिलेव्हरी पर सूखे मेवों की फुटकर बिक्री इस समय हो रही है। जुल्फिकार के अनुसार इस बार जो होम डिलेव्हरी हो रही है,उसमें घरों की संख्या बहुत ही कम आ रही है। एक और समस्या माल को पहुंचाने की हो रही है। गली मौहल्लों में कर्मचारी घरों को ढूंढते हुए थक रहे हैं। ऐसा होने से एक दिन में मांग के विपरित आधी डिलेव्हरी ही हो पा रही है।   यह भाव है सूखे मेवों के बाजार में(प्रति किग्रा रू. में) खोपरा गोला    200खारक        180काजू        700बादाम        600पिस्ता        1200इलाईची    2400सिवईयों का भाव बाजार में इस समय 60 रू. प्रति किग्रा है।

Kolar News

Kolar News 29 April 2021

इंदौर। शासन-प्रशासन के तमाम उपायों और लॉकडाउन के बावजूद इंदौर जिले में कोरोना की रफ्तार पर काबू नहीं पाया जा सका है। जिले में बुधवार को 1789 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। जबकि 10 मरीजों की मौत हो गई है, जो प्रदेश में सबसे ज्यादा है।   जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार देर रात को जारी किए गए बुलेटिन के अनुसार जिले में 10355 सैंपलों की जांच की गई, जिनमें से 1789 सैंपल पॉजीटिव पाए गए हैं। इनमें से 124 सेंपल रिपीट पॉजिटिव हैं,  जबकि 8433 सेंपल नेगेटिव हैं। 9 सैंपल खारिज हो गए। विभिन्न अस्पतालों से बुधवार को 1024 मरीज डिस्चार्ज किए गए हैं। जबकि 12608 मरीज अभी भी विभिन्न अस्पतालों में इलाज करवा रहे हैं। बुलेटिन के अनुसार बुधवार को 7198 आरटीपीसीआर और 3257 सेंपल रैपिड एंटीजन सेंपल प्राप्त हुए थे।   देर रात आई रेमडेसिविर की खेप-कोरोना मरीजों के लिए रेमडेसिविर इंजेक्शन की एक खेप बुधवार देर रात को इंदौर आई। एयरपोर्ट डायरेक्टर ने बताया कि इंदौर आए विमान से कुल 82 बाक्स उतारे गए हैं। इसमें से 10 बाक्स एमजीएम मेडिकल कालेज को दिए गए। जबकि 43 बाक्स संभागीय निदेशक कार्यालय इंदौर, 27 बाक्स उज्जैन और 2 बाक्स रतलाम के लिए रवाना हुए हैं। विमान यहां से ग्वालियर के लिए रवाना हो गया है।

Kolar News

Kolar News 29 April 2021

भोपाल। राज्य शासन ने कोरोना वायरस के संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम के लिए लोकहित में मध्यप्रदेश में उत्तरप्रदेश राज्य से आने तथा जाने वाले बस परिवहन संचालन को स्थगित कर दिया है।   सचिव, राज्य परिवहन प्राधिकारी एवं अपर परिवहन आयुक्त ने 29 अप्रैल से 7 मई 2021 तक मध्यप्रदेश राज्य की समस्त यात्री बस वाहनों का उत्तरप्रदेश राज्य की सीमा में प्रवेश तथा उत्तरप्रदेश राज्य की समस्त यात्री बस वाहनों का मध्यप्रदेश राज्य की सीमा में प्रवेश स्थगित करने का आदेश जारी किया है।

Kolar News

Kolar News 29 April 2021

भोपाल। मध्यप्रेदश के विभिन्न शहरों में बुधवार को शासन द्वारा 540 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुँचा दी गई है। ट्रेन और टैंकरों के माध्यम से पहुंच रही ये मेडिकल ऑक्सीजन कोरोना मरीजों के लिए संजीवनी साबित हो रही है। इसके बाद कहा जा सकता है कि राज्य सरकार के प्रयासों से आवश्यक माँग से अधिक मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति होना शुरू हो गई है। ऑक्सीजन लेकर आ रही ट्रेन और प्रत्येक टैंकर की ट्रेकिंग भी की जा रही है।   इस संबंध में अधिकारिक तौर पर बताया गया कि बुधवार को छह टैंकरों से 107 मीट्रिक टन ऑक्सीजन भोपाल पहुँची। इसीक्रम में विदिशा जिले के लिए 10 मीट्रिक टन ऑक्सीजन लेकर टैंकर पहुँचा है। ग्वालियर के लिये चार टैंकरों से 50 मीट्रिक टन, इंदौर के लिए छह टैंकरों से 119.5 मीट्रिक टन, जबलपुर के लिए तीन टैंकरों से 53 मीट्रिक टन, रीवा के लिए तीन टैंकरो से 47 मीट्रिक सागर के लिए दो टैंकरो से 30 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन भेजी गई है।    राजधानी भोपाल में पदस्‍थ सूचना  अधिकारी दुर्गेश रायकवार ने बताया कि इसी प्रकार से कटनी के लिए दो टैंकरो से 15 मीट्रिक टन, शहडोल के लिए एक टैंकर से 10 मीट्रिक टन, छिंदवाड़ा के लिए एक टैंकर से 16.5 मीट्रिक टन, रतलाम के लिए एक टैंकर से 16.5 मीट्रिक टन, दतिया के लिए एक से पांच मीट्रिक टन, खण्डवा के लिए एक टैंकर से दस मीट्रिक टन, उज्जैन के लिए दो टैंकरों से 26 मीट्रिक टन, शिवपुरी के लिए एक टैंकर से 4.5 मीट्रिक टन, छतरपुर के लिए एक टैंकर से 4.5 मीट्रिक टन, मंडीदीप रायसेन के लिए एक टैंकर से दस मीट्रिक टन और सतना जिले के लिए एक टैंकर से 6.2 मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुँचाई गई है।   उन्‍होंने बताया है कि प्रदेश में कोविड मरीजों को जरूरत के अनुसार ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए किये जा रहे प्रयासों के परिणाम स्वरूप 471 मीट्रिक टन ऑक्सीजन टैंकरों की जरूरत के विरुद्ध 540 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्रदेश के विभिन्न जिलों में पहुँची है। इससे जिलों में कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित होगी।

Kolar News

Kolar News 28 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के आसपास इन दिनों कोई वेदर सिस्टम सक्रिय नहीं होने से मौसम पूरी तरह से शुष्क बना हुआ है। साथ ही हवा का रुख पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी हो गया है। इसके चलते तापमान में बढ़ोत्तरी होने के साथ गर्मी भी बढ़ने लगी है। मौसम विभाग के अनुसार वर्तमान में गुजरात के कुछ शहरों में लू चलने लगी है। वहां से आ रही गर्म हवाओ के कारण मध्य प्रदेश के शहरों में भी तपिश बढऩे लगी है। हालांकि इस बीच प्रदेश के कुछ इलाकों में शुक्रवार को बारिश होने के भी आसार हैं।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि रात के समय हवा का रूख बदलकर उत्तरी हो रहा है। इससे न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी नहीं हो रही है। साहा के मुताबिक बुधवार-गुरूवार को भी अधिकतम तापमान इसी तरह रहेगा। इसके अलावा एक पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी पाकिस्तान और उसके आसपास सक्रिय हो गया है। इसी तरह मध्य महाराष्ट्र से लेकर कर्नाटक तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बना हुआ है। अरब सागर में प्रति चक्रवात बना रहने से ट्रफ को नमी मिल रही है। इस वजह से बुधवार को महाराष्ट्र से लगे इंदौर संभाग के जिलों में बूंदाबांदी होने की संभावना है। शुक्रवार को एक बार फिर बादल छाने से अधिकतम तापमान में गिरावट होने लगेगी। पश्चिमी विक्षोभ के आगे बढऩे पर 30 अप्रैल को ग्वालियर-चंबल संभाग सहित प्रदेश के कई जिलों में गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।

Kolar News

Kolar News 28 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए एमपी बोर्ड दसवीं और बारहवी की परिक्षाएं टलती जा रही है। स्कूल शिक्षा विभाग पूर्व में ही 30 अप्रैल से होने वाली माध्यमिक शिक्षा मंडल की 10वीं और 12वीं की परिक्षाओं को स्थगित कर चुका है। अब एमपी बोर्ड 10वीं का रिजल्ट सीबीएसई की तर्ज पर बनाने का फैसला किया गया है। 12वीं की परीक्षा को लेकर अब भी संशय बरकरार है।   स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार की अध्यक्षता में हुई बैठक में 10वीं की परीक्षा आयोजित नहीं किए जाने का फैसला किया गया है। बैठक में दसवीं का रिजल्ट सीबीएसई की तर्ज पर आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर बनाने की सहमति बनी है। बैठक के दौरान स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि जिस तरह से प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है। उसे देखते हुए छात्रों की जिंदगी को संकट में नहीं डाला जा सकता है। इसलिए इस बार 10वीं के छात्रों का फाइनल रिजल्ट सीबीएसई की तर्ज पर आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर तैयार किया जाएगा। बैठक में अभी 12वीं की परीक्षाओं को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है। 12वीं की परीक्षा ऑनलाइन मोड में होगी या फिर ऑफलाइन मोड में इसको लेकर संशय बना हुआ है।

Kolar News

Kolar News 27 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में गर्मी ने अपने तेवर दिखाने शुरू कर दिए है। वर्तमान में कोई भी सिस्टम सक्रिय नहीं होने से हवा में नमी कम हो गई है और धीरे -धीरे तापमान में बढ़ोत्तरी होने लगी है। मौसम विभाग के अनुसार जम्मू काश्मीर में बना पश्चिमी विक्षोभ समाप्त हो गया है। वर्तमान में हवा का रूख पश्चिमी और उत्तर-पश्चिमी होने लगा है। इस वजह से सोमवार से राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में अब धीरे-धीरे अधिकतम तापमान बढऩे लगेंगे। अप्रैल के अंत तक प्रदेश में अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में दक्षिण-पूर्वी मप्र पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस सिस्टम से होकर झारखंड तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। इसके अतिरिक्त पूर्वी उत्तरप्रदेश पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। हालांकि इन सिस्टम के कारण नमी नहीं मिलने से मप्र के मौसम पर कोई खास असर नहीं पड़ रहा है। इस वजह से अब तापमान में बढ़ोतरी होने के आसार हैं। हालांकि 27 अप्रैल को एक पश्चिमी विक्षोभ फिर उत्तर भारत में दाखिल होगा, लेकिन मौसम विज्ञानियों का कहना है कि इसकी तीव्रता काफी कम है। इस वजह से यह सिस्टम मध्यप्रदेश के मौसम को विशेष प्रभावित नहीं करेगा। इस कारण 27 अप्रैल से तापमान में बढ़ोत्तरी के साथ ही तेज गर्मी प शुरू हो जाएगी।

Kolar News

Kolar News 26 April 2021

रतलाम।  जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर की 2548 वीं जन्म जयंती 25 अप्रैल को मनाई जा रही है। कोरोना काल के चलते यह दूसरा वर्ष होगा जब वर्षों पुरानी परम्परा के अनुरुप शहरभर में कार्यक्रम आयोजित नहीं होंगे ना चल समारोह निकलेगा। केवल परम्परागत रुप से जैन मंदिरों में भगवान महावीर की प्रतिमाओं की अंगरचना व पूजा-अर्चना होगी, वह भी कोविड गाइडलाइन का ध्यान रखते हुए।  विभिन्न जैन समाज के संगठनों ने वैश्विक महामारी कोरोना के संकट के चलते भगवान महावीर के जियो और जीने दो के सिद्धांत का अनुसरण करते हुए उनकी जयंती को मानव जाति की सेवा कर प्रतिपादित करने का आव्हान किया तथा समाजजनों से अपील की गई है कि दुख और विपदा की घड़ी में अपने घरों में रहकर सादगीपूर्ण रुप से भगवान महावीर की पूजा-अर्चना करें तथा मानव कल्याण की जन भावना के लिए प्रार्थना करें।  शहर में होंगे एक साथ नवकार महामंत्र के जाप-  भगवान महावीर जन्म कल्याणक पर विश्व में  आए कोरोना जैसे प्राकृतिक संकट पर पूरे विश्व मे शांति हो ,बीमारी का प्रकोप कंम हो व सभी शीघ्र स्वस्थ हो इस मंगल कामना को लेकर सकल जैन श्री संघ के आव्हान पर सभी संघो के तत्वाधान में  घरों पर ही सामुहिक जाप का आव्हान किया है।   यह अपील कर सकल जैन संघ के सरंक्षक हिम्मत कोठारी, चैतन्य काश्यप ,महेन्द्र गाादिया व संचालगणों ने आव्हान किया कि  25 अप्रेल को प्रात: 9 से10 अपने-अपने घरों पर सपरिवार नवकार महामंत्र के जाप करें व विश्व शांति की कामना करें। घरों के बाहर पांच दीपक लगाएं- महावीर जैन युवा संघ के संस्थापक अध्यक्ष झमक भरगट, सचिव संजय मूणत ने बयान जारी कर समस्त अहिंसा प्रेमी समाज से आग्रह किया है कि वह 25 अप्रैल की शाम को अपने-अपने घरों के बाहर पांच दीपक  लगाएं, साथ ही प्रार्थना करें कि मानव मात्र को कोरोना महामारी से मुक्त करें।  जैन कांफ्रेस के युवा राष्ट्रीय मंत्री रांका ने भी आग्रह किया-  जैन कांफ्रेंस की युवा शाखा के राष्ट्रीय मंत्री संदीप रांका जावरा ने भी महावीर स्वामी के जन्म कल्याणक के अवसर पर संकल्प लेने का आव्हान किया है कि जब तक कोरोना महामारी पूर्ण रूप से समाप्त नहीं हो जाती तब तक हमें देश के अच्छेे नागरिक का परिचय देते हुए राजधर्म का पालन करना है तथा मास्क, सेनेटाईजर सहित कोरोना गाईड लाईन का पालन कर एक अच्छे नागरिक का परिचय देना है तथा संकल्पित होकर कोविड को देश-दुनिया से हराना है। साथ ही उन्होंने यह भी आग्रह किया कि सूर्योदय के साथ ही धर्म फताका फहराते हुए अपने निवास पर पचरंगी ध्वज या केसरिया ध्वज के साथ भगवान महावीर के स्तवन का वाचन करते हुए प्रत्येक निवास पर नवकार महामंत्र के जाप की आराधना करें, सामायिक प्रतिक्रमण के साथ जीवदया एवं मानव सेवा के कार्य ज्यादा से ज्यादा करते हुए अपने निवास पर रांगोली बनाएं, साथ ही संध्या को पांच-पांच दीपक प्रज्वलन करते हुए यही प्रार्थना करें कि भगवान महावीर विश्व को कोरोना  से मुक्त करें। 

Kolar News

Kolar News 24 April 2021

इंदौर। जिले में कोरोना का कहर लगातार नए रिकॉर्ड बना रहा है। जिले में पिछले 24 घंटों में 1,813 नए संक्रमित पाए गए, जो अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है। इसके साथ ही जिले में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 99,925 हो गई है। शुक्रवार को एक ही दिन में 7 मरीजों की जान भी गई। इसके साथ ही मृतक संख्या अब 1,092 हो गई। हालांकि राहत की बात यह है कि कुल संक्रमितों में से 86,212 स्वस्थ हो चुके हैं।   स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार देर रात जारी बुलेटिन के अनुसार बीते 24 घंटों में जिले में कुल 9,840 टेस्ट किए गए थे, जिनमें से 8,024 निगेटिव और 1,813 नए पॉजिटिव आए। अप्रैल के 23 दिनों में 133 मौतें हुई हैं और 29,396 पाॅजिटिव मरीज मिले हैं। जिले में अभी भी 12,621 एक्टिव मरीज हैं। इनमें से करीब 3000 हजार मरीज आईसीयू या एचडीयू में भर्ती हैं। जिले में अब तक सबसे कम एक्टिव मरीज 12 फरवरी 2021 को बचे थे। इस दिन केवल 280 मरीज इलाजरत थे। इसके बाद यह आंकड़ा ऐसा बढ़ा कि रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है।   दो टेस्टिंग सेंटर सोमवार से होंगे शुरू कोरोना टेस्टिंग की सुविधा बढ़ाने के लिए शहर में दो नए टेस्टिंग सेंटर नेहरू स्टेडियम और दशहरा मैदान में बनाए जा रहे हैं। ये टेस्टिंग सेंटर सोमवार तक शुरू करने का लक्ष्य है। दोनों जगह ड्राइव इन टेस्टिंग की सुविधा लोगों को सशुल्क मिलेगी। निजी लैब द्वारा संचालित किए जाने वाले इन सेंटर्स के लिए नगर निगम जगह और अन्य सुविधाएं मुहैया करवाएगा। निगम के एक्जीक्यूटिव इंजीनियर अनूप गोयल ने बताया कि वर्तमान जरूरतों को देखते हुए ये दो अस्थायी टेस्टिंग सेंटर बनाए जा रहे हैं। इसके लिए दशहरा मैदान और नेहरू स्टेडियम पर सहमति बनी है। दशहरा मैदान पर चार पहिया और दो पहिया वाहनों के लिए दो-दो लेन रहेंगी। रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद लोग गाड़ी में बैठे-बैठे ही सैंपल दे सकेंगे। बाकी प्रक्रियाएं पूरी करने में औसतन दो से तीन मिनट लगेंगे। यहां करीब एक हजार लोग एक दिन में सैंपल दे सकेंगे।

Kolar News

Kolar News 24 April 2021

सिवनी। मध्यप्रदेश के सिवनी जिले के पेंच नेशनल पार्क में शुक्रवार की दोपहर को एक बाघ का शव मिला है। सूचना पर प्रबंधन मौके पर है।    विभागीय सूत्रों के अनुसार पेंच नेशनल पार्क अंतर्गत आने वाले घाट कोहका परिक्षेत्र में शुकवार की दोपहर को एक बाघ का शव मिला है। इसकी जानकारी लगते ही पेंच प्रबंधन का अमला डाॅग स्कावड व टीम के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर अग्रिम कार्यवाहियां कर रहा है। 

Kolar News

Kolar News 23 April 2021

उज्जैन। शहर में इस समय जनता कर्फ्यू चल रहा है। दो दिन पूर्व लगाए गए जनता कर्फ्यू के बाद केवल दूध और दवाई की दुकानें तय समय पर खुल रही हैं। दो दिनों से शहरवासियों को सब्जी,फल और किराना सामग्री नहीं मिल पा रही है। इस संबंध में नगर निगम ने आज आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली है और शुक्रवार फल-सब्जी तथा किराने की होम डिलेवरी शुरू हो जाएगी।   नगर निगम आयुक्त क्षितिज सिंघल ने बताया कि व्यवस्था पूरी तरह से बनने में दो दिन लगेंगे। फल और सब्जी के हाथ ठेले शहर के सभी 6 झोन में आनेवाले वार्डो में चलेंगे। गत वर्ष लॉकडाउन के समय बनाई गई नीति के अनुसार ही इस बार काम किया गया है। उन्होंने बताया कि किराना की थोक दुकानों से खेरची दुकानों पर तय समय में माल पहुंचेगा। खेरची दुकानदार अपनी दुकानों के शटर बंद करके अंदर होम डिलेव्हरी के आर्डर का माल पेक करेंगे और स्वयं के वाहन से संबंधित के घर जाकर डिलेव्हरी देंगे। जिस एरिया में जो दुकानदार है,वह उसी एरिया में डिलेव्हरी देगा। इन सभी के लिए पास की व्यवस्था की जा रही है। आज थोक एवं खेरची किराना व्यापारियों को पास का वितरण किया गया। वहीं  थोक सब्जी एवं फल मण्डी को टुकड़ों में बांटा गया है,ताकि निलामी के समय भीड़ एकत्रित  न हो।   इस संबंध में चर्चा करने पर खेरची किराना व्यापारियों की संस्था के अध्यक्ष राजेंद्र जैन ने बताया कि नगर निगम अधिकारियों के साथ बैठकर सभी 6 झोन की सूचियों को अलग-अलग किया गया और उस अनुसार पास बनाए गए हैं। यह पास मोबाइल फोन करके,बुलाकर दिए जा रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 22 April 2021

इंदौर। कोरोना संकट काल में लोगों को राहत देने के लिए राधा स्वामी सत्संग परिसर में जन सहयोग से बना 600 बिस्तर का मां अहिल्या कोविड केयर सेंटर तैयार हो चुका है। आज से यहां होम आइसोलेशन वाले संक्रमित मरीजों को भर्ती किया जाएगा। इसके लिए भी नियम बनाए गए हैं। इस सेंटर में प्रशासन और दानदाताओं के सहयोग से सारी व्यवस्थाएं जुटाई गई हैं।   देवी अहिल्या कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार है। बुधवार को डॉक्टर्स और नर्स यहां पहुंचे। प्रशासन के अधिकारियों ने उन्हें सेंटर में मरीजों के लिए बनाए गए चार ब्लॉक दिखाए और जुटाई गई व्यवस्थाओं की जानकारी दी। इस दौरान कलेक्टर मनीष सिंह ने डाक्टर्स और नर्सों को संबोधित करते हुए कहा कि यह सेंटर जनसहयोग से सेवा की भावना से बना है। इसलिए आप सभी को सेवा को ही धर्म मानते हुए यहां काम करना है।   राधा स्वामी सत्संग परिसर में बनाए गए इस कोविड केयर सेंटर में होम आइसोलेशन के ऐसे पाजिटिव मरीजों को ही रखा जाएगा, जिनके घर में पर्याप्त जगह और अलग शौचालय आदि की सुविधाएं नहीं हैं। शहर में कार्यरत स्वास्थ्य विभाग की आरआरटी ऐसे पाजिटिव लोगों को कोविड केयर सेंटर में भेजने की सलाह देगी, उन्हें यहां रखा जाएगा। कोविड केयर सेंटर में अधिक लक्षण वाले और गंभीर मरीजों को नहीं रखा जाएगा।   कलेक्टर ने एसडीएम रविकुमार सिंह को कोविड केयर सेंटर का प्रशासनिक अधिकारी नियुक्त कर दिया है। सेंटर की स्वास्थ्य सुविधाओं और प्रबंधन के लिए डा. संतोषसिंह सिसोदिया को प्रभारी बनाया है। इनके सहयोगी के रूप में डा. अमित मालाकार और डा. अनिल डोंगरे रहेंगे। सेंटर में तकनीकी मार्गदर्शन अपोलो, बॉम्बे, चोइथराम और मेदांता अस्पताल का रहेगा।  

Kolar News

Kolar News 22 April 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना की रफ्तार कम नहीं हो रही है। राज्य में जिस रफ्तार से एक्टिव केस बढ़ रहे हैं, अस्पतालों में संसाधन कम पड़ते जा रहे हैं।  इसके चलते नए संक्रमितों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। इंदोर में अरबिंदो अस्पताल ने बोर्ड लगाकर मरीजों को भर्ती करने से मना कर दिया है। ऐसे ही हालात भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर में भी हैं।   कोरोना कर्फ्यू और जनता कर्फ्यू के बावजूद प्रदेश में कोरोना की रफ्तार धीमी नहीं हो रही है। बीते 24 घंटे में प्रदेश में 13,107 नए संक्रमितों की पहचान हुई है। इनमें से 5500 से ज्यादा मरीज तो सिर्फ प्रदेश के 4 बड़े शहरों में ही पाए गए हैं। कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित शहर इंदौर है, जहां 1781 नए केस सामने आए और सरकारी बुलेटिन के अनुसार 10 मरीजों की मौत हो गई। भोपाल में 1729 नए संक्रमित मिले और रिकॉर्ड में 5 की मौत हुई। वहीं, ग्वालियर में 1190 संक्रमित मिले तथा 7 मौतें हुईं। जबलपुर में 803 नए केस मिले और 7 लोगों की मौत हो गई। इस तरह सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार बीते 24 घंटों में कुल 75 मरीजों की जान चली गई।   लगातार नए केस आने के कारण प्रदेश में कोरोना के एक्टिव मरीजों का आंकड़ा 85 हजार से ज्यादा हो गया है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, अस्पतालों और कोविड सेंटर्स के सामान्य बेड पर महज 4,030 मरीज हैं। इससे 4 गुना से ज्यादा 19,172 मरीज ऑक्सीजन बेड पर हैं। इनमें से 6,639 मरीज गंभीर हालत में आईसीयू  में भर्ती हैं। इसलिए ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत पड़ रही है। उज्जैन के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी को लेकर कांग्रेस विधायक महेश परमार गुरुवार को धरने पर बैठ गए हैं।

Kolar News

Kolar News 22 April 2021

भोपाल। प्रदेश में कोरोना की रफ्तार कम होती नजर नहीं आ रही है। मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण अस्पतालों में इंतजाम कम पड़ रहे हैं। बीते 24 घंटों में प्रदेश के 4 बड़े शहरों में ही 5,393 नए संक्रमित पाए गए हैं, जबकि 29 संक्रमित जिंदगी की जंग हार गए हैं। नाइट कर्फ्यू और लॉकडाउन के बाद अब प्रशासन ने इंदौर, भोपाल और दतिया में शादियों की अनुमति देने से भी मना कर दिया है।   बीते 24 घंटों में भोपाल में 1,694 नए संक्रमित मिले हैं। सरकारी आंकड़ों में सिर्फ 4 मौतें बताई गई हैं, जबकि अकेले पीपुल्स अस्पताल में ही ऑक्सीजन की कमी से 10 कोरोना मरीजों की मौत बताई जा रही है। यहां ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन की लगातार कमी बनी हुई है। सोमवार को एक महिला वकील ने रेमडेसिविर न मिलने की वजह से दम तोड़ दिया।    इंदौर में कोरोना हर दिन नए रिकॉर्ड बना रहा है। बीते 24 घंटे में यहां 1,753 नए केस आए, जबकि 8 लोगों की मौत हो गई। एक दिन में नए संक्रमित आने का यह सबसे बड़ा आंकड़ा है। कलेक्टर ने यहां शादियों की परमिशन देने से भी मना कर दिया है और लोगों से अपील की है कि शादियां टाल दें।   ग्वालियर में सोमवार को 3,210 लोगों के सैंपल की रिपोर्ट आई। इनमें से 1,072 संक्रमित पाए गए हैं। 11 मरीजों की मौत भी हुई है। यहां एक मरीज की मौत ऑक्सीजन खत्म होने की वजह से हो गई। ग्वालियर में लगातार चौथा दिन है जब संक्रमितों का आंकड़ा एक हजार से ऊपर गया है।    जबलपुर में बीते 24 घंटे में 3,122 सैंपल की जांच की गई, जिसमें से 874 संक्रमित मिले हैं। वहीं, 483 मरीज ठीक भी हुए हैं। सरकारी आंकड़ों में 6 मौतें बताई गई हैं, जबकि दो मुक्तिधामों और दो कब्रिस्तानों में 74 शव पहुंचे हैं। जबलपुर में रिकवरी रेट घटकर 81.12 फीसदी रह गया है।

Kolar News

Kolar News 20 April 2021

इंदौर। अस्पतालों में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी और कालाबाजारी के मामलों के बीच इंजेक्शन की एक और खेप विशेष विमान से इंदौर पहुंच गई। यह विशेष विमान इंजेक्शन के 312 बॉक्स लेकर मंगलवार सुबह 11:30 बजे इंदौर एयरपोर्ट पर पहुंचा। संभागायुक्त पवन शर्मा और उनकी टीम इंजेक्शन प्रदेश के अन्य जिलों में पहुंचाने की व्यवस्था कर रहे हैं।   प्रदेश को मंगलवार को प्राप्त हुई रेमडेसिविर इंजेक्शन की इस खेप को शासन 7 संभागों के मेडिकल कॉलेज और स्वास्थ्य विभाग को आवश्यकतानुसार वितरित कर रहा है। इंदौर एयरपोर्ट पहुंचे 312 बॉक्स में से 57 बॉक्स भोपाल, 26 बॉक्स सागर, 50 बॉक्स ग्वालियर, 32 बॉक्स रीवा, 50 बॉक्स जबलपुर और 41 बॉक्स उज्जैन पहुंचाए जायेंगे।    रेमडेसिवीर की इस खेप में से इंदौर को 56 बॉक्स प्राप्त होंगे। इनमें से 17 बॉक्स इंदौर मेडिकल कॉलेज, 5 बॉक्स खंडवा मेडिकल कॉलेज एवं 34 बॉक्स इंदौर स्वास्थ्य विभाग को दिए जायेंगे। इंदौर एयरपोर्ट से स्टेट प्लेन और हेलीकॉप्टर के माध्यम से रेमडेसीविर इंजेक्शन की इस खेप को प्रदेश के सातों संभागों में पहुंचाया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 20 April 2021

भोपाल। वर्तमान में वेदर सिस्टम सक्रिय होने से नमी आने के कारण मप्र में मौसम बदला हुआ है। राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के अनेक हिस्सों में बादल छाए हुए है। बादल छाने से तापमान में कमी आई है और गर्मी से राहत है। इसी क्रम में ग्वालियर चंबल संभाग में मौसम का मिजाज बिगड़ सकता है। मौसम विभाग ने मंगलवार और बुधवार को इन इलाकों में बारिश होने की संभावना जताई है। इन इलाकों में मौसम का मिजाज तीन से चार दिन तक बिगड़ा रह सकता है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में दक्षिण-पूर्वी मप्र पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इस सिस्टम से लेकर कर्नाटक तक एक द्रोणिका लाइन (ट्रफ) बनी हुई है। इस वजह से वातावरण में हवाओं के साथ कुछ नमी आने लगी है। इसके चलते राजधानी भोपाल सहित प्रदेश में अधिकांश जिलों में बादल छाने लगे हैं। इस सिस्टम के असर से मंगलवार को ग्वालियर-चंबल संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बरसात हो सकती है। मंगलवार को उत्तर प्रदेश और उससे लगे बिहार पर भी एक ऊपरी हवा का चक्रवात बनने के आसार हैं। इस सिस्टम से छत्तीसगढ़ तक एक द्रोणिका लाइन भी बनेगी। इससे छत्तीसगढ़ की सीमा से लगे पूर्वी मप्र के जबलपुर, शहडोल संभाग के जिलों में बुधवार से बारिश का सिलसिला शुरू होने की संभावना है। जो रुक-रुक कर शुक्रवार तक जारी रह सकता है।

Kolar News

Kolar News 20 April 2021

इंदौर। इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटे में कोरोना के 1692 नये मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से सात लोगों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 89 हजार 317 और मृतकों की संख्या 1047 हो गई है।   इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शनिवार देर रात 8951 सैम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 1692 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 89 हजार 317 हो गई है।   वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटे में कोरोना से सात मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 1047 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 1112 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 77 हजार 218 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं।

Kolar News

Kolar News 18 April 2021

इंदौर। जिले में कोरोना की रफ्तार कायम है और संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इसके चलते बीते तीन दिनों से संक्रमितों का आंकड़ा 1500 से ऊपर बना हुआ है।   गुरुवार देर रात जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार जिले में 1679 संक्रमित मिले। मेडिकल बुलेटिन के अनुसार पहली बार एकदिन में कोरोना संक्रमण से 10 मरीजों की मौत हुई है। पिछले पांच दिनों में शहर में 28 लोगों की मौत हो चुकी है।   हालांकि वास्तव में शहर में कोविड संक्रमण से इससे ज्यादा लोगों की मौत की बात कही जा रही है। इंदौर में पिछले चार दिन में 6535 संक्रमित मिल चुके हैं।   बुलेटिन के अनुसार गुरुवार को शहर में 8942 नमूनों की जांच की गई,  जिनमें से 1679 को पॉजीटिव पाया गया। गुरुवार को संक्रमण दर 18.7 प्रतिशत रही। हालांकि राहत की बात यह है कि गुरुवार को अस्पताल से स्वस्थ होकर 1895 मरीज डिस्चार्ज हुए।   देर रात जारी मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक शहर में अबतक 10 लाख 27 हजार 621 सैम्पलों की जांच की जा चुकी है। इनमें से 85 हजार 969 पॉजीटिव  मिले हैं। मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक गुरुवार को 10 मरीज की मौत हुई। इंदौर में इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा 1033 पहुंच चुका है।

Kolar News

Kolar News 16 April 2021

इंदौर। छत्रीपुरा थाना के एसआई राजेंद्र मरमट की बुधवार सुबह अरबिंदो अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। एसआइ पिछले कुछ दिनों से अस्पताल में भर्ती थे और कोरोना से लड़ रहे थे। कोरोना की दूसरी लहर में पुलिस विभाग में यह तीसरी मौत है। एसआई की मौत से उनके सहकर्मियों में गुस्सा है और यह गुस्सा सोशल मीडिया पर फूट रहा है। इधर, एसआई राजेंद्र मरमट की पत्नी और बेटे भी संक्रमित हो चुके हैं और उनका भी इलाज चल रहा है।   टीआइ पवन सिंघल ने बताया कि एसआई मरमट को इलाज के दौरान छह रेमडेसिविर इंजेक्शन लग चुके थे और उनकी हालत में सुधार भी होने लगा था। लेकिन अचानक उन्हें सांस लेने में दिक्कत हुई और बुधवार सुबह डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद पुलिस विभाग में शोक की लहर दौड़ गई और इंटरनेट मीडिया पर प्रतिक्रियाएं आने लगीं। ज्यादातर सिपाही, एसआई और टीआई अफसरों को ही दोष दे रहे हैं।    उनका आरोप है कि पुलिसकर्मियों का न तो ठीक से इलाज हो रहा है न अफसर ध्यान दे रहे हैं। लगातार अभियान और आंकड़ों का दबाव बनाया गया और स्टाफ संक्रमित होता गया। इस दौर में इंदौर में ही करीब 200 पुलिसकर्मी और उनके परिजन संक्रमित हैं। पश्चिम और पूर्वी क्षेत्र में तीन सीएसपी संक्रमित है। एएसपी और सीएसपी स्तर के अफसरों के परिजन अस्पताल में भर्ती है। दो दिन के भीतर तीन टीआई संक्रमित हो चुके हैं। नाराज पुलिसकर्मियों का आरोप है कि पिछले वर्ष तो खबर मिलते ही अस्पताल में भर्ती करने से लेकर इलाज तक की व्यवस्था हो जाती थी, लेकिन इस बार कोई ध्यान नहीं दे रहा है।   इधर, एएसपी गुरुप्रसाद पाराशर ने इन आरोपों को गलत बताया है। उनका कहना है कि पुलिसकर्मियों के स्वास्थ्य की पूरी चिंता है। अफसर लगातार निगरानी कर रहे हैं। अभी तक ऐसा कोई केस नहीं आया है जिसमें किसी मुलजिम को पकड़ने के दौरान कोई पुलिसकर्मी संक्रमित हुआ हो।

Kolar News

Kolar News 14 April 2021

भोपाल। राज्य शासन ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के दो अधिकारियों की नवीन पद-स्थापना की है। इस संबंध में मंगलवार को आदेश जारी कर दिए गए हैं।    सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा जारी आदेश में सोमेश मिश्रा, उप सचिव, चिकित्सा शिक्षा तथा मुख्य कार्यपालन अधिकारी, आयुष्मान भारत निरामयम (अतिरिक्त प्रभार) को कलेक्टर झाबुआ पदस्थ किया है। रोमित सिंह कलेक्टर, झाबुआ को उप सचिव, मध्यप्रदेश शासन पदस्थ किया गया है।

Kolar News

Kolar News 13 April 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश के प्रमुख शहरों में लॉककडाउन और नाइट कर्फ्यू के बाद भी कोरोना की रफ्तार बनी हुई है। मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही संसाधन कम पड़ते जा रहे हैं। इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर में तो श्मशान घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए भी परिजनों को इंतजार करना पड़ रहा है।   प्रदेश के इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर में बीते 24 घंटे में कोरोना के 4,136 नए केस आए हैं और 21 लोगों की मौतें हुई हैं। इंदौर में सबसे ज्यादा 1,552 संक्रमित मिले हैं और 6 मौतें हुई हैं। भोपाल में 1,456 नए केस मिले और 5 मौत हुई हैं। ग्वालियर में 576 संक्रमित मिले जबकि 6 लोगों की जान गई। जबलपुर में 552 नए मरीज मिले और 4 मरीजों की मौत हो गई। ग्वालियर में संक्रमण दर सबसे ज्यादा 33% और भोपाल में 28% है।   अस्पताल से श्मशान घाट तक इंतजार जबलपुर के चौहानी श्मशान घाट में सोमवार को 30 कोरोना संक्रमितों के शवों का अंतिम संस्कार किया गया। प्रशासन के रिकॉर्ड में 2 दिन में 8 मौतें हुई हैं। वहीं दो कोरोना संदिग्ध शवों का अंतिम संस्कार किया गया। यहां एक चिता की लपटें बुझते ही दूसरी चिता सजानी पड़ रही है। भोपाल के भदभदा विश्राम घाट की भी यही स्थिति है। यहां सोमवार को 41 कोरोना संक्रमितों का अंतिम संस्कार किया गया। जगह न होने से जलती चिताओं के बीच बेहद नजदीक दूसरी चिताएं सजाई जा रही थीं। इंदौर में भी अंतिम संस्कार के लिए इंतजार करना पड़ रहा है।

Kolar News

Kolar News 13 April 2021

भोपाल। मां भगवनी की अराधना का पर्व चैत्र नवराज आज मंगलवार से प्रारंभ हो गए है। देशभर में  नवरात्र का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है। लोगों जवारे रखने के साथ ही नौ दिनों तक देवी की अराधना का संकल्प लिया। हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते इस वर्ष भी लो त्योहार घरों पर ही मना रहे हैं।   पिछले साल की तरह कोरोना इस साल भी भक्तों और माँ के मंदिर के बीच बाधक बना है। माता के भक्त कोरोना कफ्र्यू की बंदिशों के बीच भक्ति में डूबेंगे और नवरात्र धूमधाम से मनाएंगे। फर्क यह होगा कि वे घर पर ही माँ की भक्ति कर शक्ति अर्जित करेंगे और माँ नवदुर्गा से कोरोना के समूल नाश की कामना करेंगे। कोरोना के चलते मंदिरों में प्रवेश बंद कर दिया गया है। भक्त दूर से ही दर्शन और प्रार्थना कर सकेंगे। प्रदेश के कई मुख्य मंदिनों में प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया है। भक्तों का जिन प्रमुख मंदिरों में प्रवेश नहीं हो सकेगा उसमें नलखेड़ा का बगलामुखी माता मंदिर, माता टेकरी देवास, मां विजयासन देवीधाम सलकनपुर, दतिया के पीताम्बरा पीठ, मैहर में शारदा मंदिर, माँ हरसिद्धि देवी मन्दिर रानगिर सागर शामिल हैं। ऐसे में यहां पहुंच रहे भक्त मंदिर के बाहर से ही मां का आशीर्वाद लेकर लौट रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 13 April 2021

भोपाल। मप्र में मौसम ने अचानक करवट बदल लिया है। राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के अधिकांश ईलाकों में बादल छाने के साथ बारिश हो रही है। मौसम विभाग के मुताबिक मध्य प्रदेश में बने दो वेदर सिस्टम से वातावरण में बड़े पैमाने पर आ रही नमी के कारण अधिकांश क्षेत्रों में बादल छाने लगे हैं। साथ ही गरज-चमक के साथ कहीं-कहीं बौछारें भी पड़ने लगी हैं। आगामी 24 घंटों के भीतर प्रदेश के 9 जिलों में कही कही गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना है। वहीं, कुछ इलाकों में 30 से 40 कि.मी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं भी चल सकती हैं। मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने बताया कि राजधानी भोपाल समेत अन्य इलाकों में अचानक मौसम के बदलने के दो कारण हैं। इनमें पहला कारण पश्चिमी विक्षोभ के साउथ वेस्ट मध्य प्रदेश में ऊपरी चक्रवात का क्षेत्र बनने से बारिश के हालात बने हैं। तो, वहीं दूसरा कारण नॉर्थ साउथ ट्रफ भी यहां सक्रीय है। साउथ वेस्ट एमपी से मध्य महाराष्ट्र तक चक्रवात का क्षेत्र बना है। इससे मौसम में नमी आ गई है और प्रदेश के दक्षिण-पश्चिमी क्षेत्र में भी बारिश के आसार बन गए हैं। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश में अधिकतम तापमान बढ़े हुए हैं। वातावरण में नमी मौजूद रहने के कारण दोपहर बाद गरज-चमक की स्थिति बनने लगती है। इस तरह की स्थिति तीन दिनों तक बनी रह सकती है।   एक पश्चिमी विक्षोभ अभी अफगानिस्तान और उसके आसपास बना हुआ है। एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ के 12-13 अप्रैल को उत्तर भारत पहुंचने की संभावना है। इस वजह से मौसम का मिजाज अभी इस तरह बना रहने की संभावना है। ये इंदौर से होते हुए भोपाल से गुजरकर होशंगाबाद में शिफ्ट होगा। इसका असर जबलपुर के कुछ इलाकों में भी दिखाई देगा। खासकर इसका प्रभाव इंदौर और होशंगाबाद में अधिक रहेगा। फिलहाल, आगामी 2 से 3 दिनों तक अधिकतर प्रदेश में गर्मी से राहत तो रहेगी। पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत से आगे बढ़ने के बाद ही मौसम साफ होने के आसार हैं।   इन जिलों में बारिश के आसार आगामी 24 घंटों के भीतर प्रदेश के 9 जिलों में कही कही गरज-चमक के साथ बारिश की संभावना है। वहीं, कुछ इलाकों में 30 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं भी चल सकती हैं। प्रदेश के होशंगाबाद, शहडोल और जबलपुर संभागों के अलावा दमोह, सागर, विदिशा और रायसेन जिले में कहीं-कहीं हल्की बारिश और गरज चमक के साथ बिजली चमकने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक, इन इलाकों में ये स्थिति आगामी दो से तीन दिनों तक इसी तरह बनी रह सकती है।

Kolar News

Kolar News 11 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मरीजों में जिस तरफ से इजाफा हो रहा है उसी अनुसार रेमडेसिविर इंजेक्शन की डिमांड भी तेजी से बढ़ने लगी है। सूबे की कई मेडिकल स्‍टोर्स पर इसका स्टॉक पूरी तरह से खत्म हो गया है।   इंदौर, भोपाल, उज्‍जैन और रतलाम में सहित कई शहरों में इंजेक्शन का स्टॉक खत्म हो चुका है, हालांकि सरकार ने दावा किया है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की अब कमी नहीं होने दी जाएगी क्‍योंकि इसकी आपूर्ति के लिए आर्डर जारी कर दिए गए हैं। अब सरकार ने इसके इस्तेमाल के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है। यह इंजेक्शन केवल उन मरीजों को दिया जाएगा, जिन्हें इलाज के दौरान हर रोज 5 लीटर से ज्यादा ऑक्सीजन दी जा रही है।   अचानक से मांग बढ़ने के कारण रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी बढ़ गई है। यहां तक कि इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने यह तक आदेश जारी कर दिए हैं कि इंजेक्शन को आधार और फोटो आईडी दिखाने पर ही इंजेक्शन दिया जाएगा।   इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान का कहना है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन का उपयोग सरकारी स्तर पर कभी नहीं किया गया, लेकिन ऑल इंडिया इंस्टीटयूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) दिल्ली ने 7 अप्रैल को कोरोना के लिए रिवाइज ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल जारी किया है। इसके मुताबिक जिस मरीज को 5 लीटर से ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है, उन्हें रेमडेसिविर इंजेक्शन दिया जा सकता है। बता दें कि मध्‍यप्रदेश अभी तक करीब  54 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन लग चुकी है। 

Kolar News

Kolar News 11 April 2021

गुना। जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण की चपेट में अब जिला प्रशासन के अधिकारी भी आने लगे हैं। बीती रात चांचौड़ाा तहसीलदार कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिससे शुक्रवार को तहसील कार्यालय में ताला लगा रहा।  दूसरी ओर उनके संपर्क में रहे नायब तहसीलदार और नगर परिषद चांचौड़ा-बीनागंज सीएमओ भी होम आइसोलेट हो गई हैं। उधर, संक्रमित तहसीलदार के संपर्क में रहे 12 कर्मचारियों के सैंपल लिए जाएंगे। शुक्रवार को तहसील कार्यालय नहीं खुलने की वजह से ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं सोमवार को भी कार्यालय खोलने को लेकर अधिकारी कार्ययोजना तैयार करेंगे।   जिले में पहली बार गुरुवार को कोरोना संक्रमित मरीजों का बड़ा आंकड़ा सामने आया। 54 कोरोना संक्रमित मरीज मिलते ही 2 हजार का आंकड़ा पार हो गया, तो चांचौड़ा तहसीलदार के कोरोना संक्रमित होने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उनके संपर्क में रहे लोगों की सूची तैयार करनी शुरू कर दी है। सबसे अहम बात तो यह है कि तहसीलदार ने पिछले दिनों एक बैठक का आयोजन किया था, जिसमें नगर परिषद बीनागंज-चांचौड़ा सीएमओ और नायब तहसीलदार शामिल हुए थे। इस दौरान अन्य जो भी अधिकारी और कर्मचारी शामिल हुए थे, उनकी सूची भी तैयार करने में जिला प्रशासन जुटा हुआ है। तहसीलदार चांचौड़ा पॉजिटिव होने की वजह से होम क्वारंटाइन हो गए हैं। वहीं कार्यालय को सैनिटाइज कराने के निर्देश एसडीएम ने दिए हैं। वहीं दूसरी ओर एक सैकड़ा से अधिक ग्रामीण अपनी समस्या लेकर अलग-अलग कार्यालय में पहुंचे, लेकिन तहसीलदार और नायब तहसीलदार कार्यालय में नहीं होने की वजह से वह वापस लौट गए।   इनका कहना है चांचौड़ा तहसीलदार कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, जिसकी वजह से वह होम क्वारंटाइन हो गए हैं। नायब तहसीलदार और नगर परिषद सीएमओ इनके संपर्क में रहे इसलिए वह होम आइसोलेट हो गए हैं। करीब 12 कर्मचारियों को सैंपल लिए जा रहे हैं। शुक्रवार को तहसील कार्यालय बंद रहा है, क्योंकि तहसीलदार होम क्वारंटाइन और नायब तहसीलदार होम आइसोलेट थे।   - वीरेंद्र सिंह, एसडीएम चाचौड़ा

Kolar News

Kolar News 9 April 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 887 नये मामले सामने आए हैं, जबकि कोरोना से चार लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 76 हजार 680 और मृतकों की संख्या 989 हो गई है।    इंदौर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.एस सैत्या ने शुक्रवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा गुरुवार देर रात 5115 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 887 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 76 हजार 680 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से चार मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 986 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 326 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 68 हजार 770 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं, लेकिन नये मामले अधिक संख्या में मिलने से यहां सक्रिय मरीज बढक़र 6921 हो गए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है।   बता दें कि इंदौर में फरवरी के शुरुआत में नये मामलों की संख्या 50 से नीचे पहुंच गई थी, लेकिन इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ते हुए अब 800 के पार पहुंच गई है। इंदौर में लगातार चौथे दिन 800 से अधिक नये मामले सामने आए हैं। इससे एक दिन पहले यहां रिकॉर्ड 898 नये संक्रमित मिले थे।

Kolar News

Kolar News 9 April 2021

भोपाल। मप्र के मौसम में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। प्रदेश में दो दिन तक तीखे तेवर दिखाने के बाद गर्मी के तेवर अब नरम पडऩे लगे हैं। इसकी वजह प्रदेश के आसपास वेदर सिस्टम का सक्रिय होना है। तेजी से बदल रहे मौसम के चलते प्रदेश के कई इलाकों में बारिश का अलर्ट लगातार जारी है। आने वाले 24 घंटों में प्रदेश के दक्षिणी और पूर्वी इलाकों में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बरसात होने की भी संभावना है जबकि शेष आधे मध्यप्रदेश में लू चलेगी। वहीं राजधानी भोपाल में शुक्रवार सुबह से तेज हवा चल रही है और मौसम में ठंडक का एहसास हो रहा है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर में सक्रिय है। साथ ही पाकिस्तान पर एक ट्रफ (द्रोणिका लाइन) बना हुआ है। इस सिस्टम के प्रभाव से दक्षिण-पश्चिम राजस्थान पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बन गया है। इसी तरह दो दिन तक पंजाब और उसके आसपास सक्रिय ऊपरी हवा का चक्रवात अब पश्चिमी उत्तर प्रदेश की तरफ खिसक गया है। इससे हवाओं के साथ वातावरण में नमी आने लगी है। इससे अधिकतम तापमान में कमी आने लगी है। शुक्रवार को प्रदेश में कई स्थानों पर बादल छाने लगेंगे। इससे अधिकतम तापमान में और गिरावट दर्ज होने लगेगी। साथ ही शुक्रवार-शनिवार को प्रदेश के होशंगाबाद, जबलपुर, शहडोल, रीवा, सागर संभाग के जिलों में कहीं-कहीं बरसात होने के भी आसार हैं। पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत से आगे बढऩे पर एक बार फिर मौसम साफ होने लगेगा। इससे दिन का तापमान फिर बढऩे लगेगा। इसके बाद एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ के 11 अप्रैल को फिर उत्तर भारत में आने की संभावना है।   इन जिलों में चलेगी लूवहीं प्रदेश के शेष इलाकों में लू चलने के आसार है। मौसम विभाग के अनुसार अफगानिस्तान और पाकिस्तान से उठने वाला हवाओं का बवंडर भारत के रेगिस्तान से होता हुआ मध्यप्रदेश पहुंच रहा है। इसके कारण मध्यप्रदेश में गर्म हवाएं चल रही है। दतिया, ग्वालियर, छतरपुर, सागर, दमोह में गर्मी का प्रकोप ज्यादा रहेगा। इन जिलों में लू चलने के आसार है।

Kolar News

Kolar News 9 April 2021

ग्वालियर। छत्तीसगढ़ में कोरोना के संक्रमण को देखते हुए मध्यप्रदेश परिवहन विभाग ने छत्तीसगढ़ से आने-जाने वाली यात्री बसों पर 7 से 15 अप्रैल तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है। इस संबंध में आदेश बुधवार को जारी कर दिए गए हैं।   छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखे हुए मध्यप्रदेश परिवहन विभाग ने दोनों प्रदेशों के बीच आने-जाने वाली बसों पर 15 अप्रैल तक रोक लगा दी है। इसके पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कोरोना संक्रमण को देखते हुए मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के बीच लोगों की आवाजाही पर रोक लगाने की बात कही थी। बुधवार को जारी हुए परिवहन विभाग के इस आदेश में 7 से 15 अप्रैल तक मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के बीच सभी बसों पर रोक लगाने को कहा गया है। आदेश में लिखा गया है कि यह निर्णय कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए जनता की भलाई में लिया गया है।   गौरतलब है कि इससे पहले महाराष्ट्र में बढ़ते संक्रमण को देखे हुए मध्यप्रदेश की महाराष्ट्र से लगी सीमाएं सील की जा चुकी हैं। जानकारी के मुताबिक छत्तीसगढ़ में मंगलवार को 9 हजार से ज्यादा नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। छत्तीसगढ़ में पिछले वर्ष मार्च के बाद अब फिर इस तरह की स्थिति बन गई है। कोरोना संक्रमण से वहां 53 मौते एक ही दिन में दर्ज की गई हैं, जिनमें 26 मौतें अकेले रायपुर में हुई हैं। छत्तीसगढ़ में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या 52,445 पहुंच गई है।

Kolar News

Kolar News 7 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में इन दिनों भीषण गर्मी पड़ रही है। तापमान में हुई बढ़ोतरी से लोग परेशान है साथ ही प्रदेश के कई जिलों में लू भी चल रही है। मौसम विभाग की मानें तो आने वाले दिनों में प्रदेश के मौसम में फिर से बदलाव देखने को मिलेगा। गुरुवार शाम को राजधानी समेत प्रदेश के अधिकांश जिलों में बादल छाने का अनुमान है। शुक्रवार-शनिवार को कहीं-कहीं बरसात भी हो सकती है, जिससे प्रदेशवासियों को गर्मी से थोड़ी राहत मिलेगी।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने बुधवार को जानकारी देते हुए बताया जम्मू-कश्मीर में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत से आगे बढ़ गया है। एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ वर्तमान में अफगानिस्तान और उससे लगे पाकिस्तान पर बना हुआ है। उसके प्रभाव से पंजाब और उससे लगे क्षेत्र पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बन गया है। इन दो सिस्टम के कारण हवाओं का रुख बदलकर पश्चिमी और दक्षिण-पश्चिमी हो गया है। हवाओं का रुख बदलने से राजधानी सहित पूरे मध्य प्रदेश में मौसम का मिजाज गर्म हो गया है। हालांकि गुरुवार से गर्मी के तीखे तेवरों में कुछ कमी आने की संभावना है। बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवात बना हुआ है। दक्षिणी हवाओं के साथ कुछ नमी भी आने लगी है, जिसके कारण आंशिक बादल भी छाने लगे हैं।    मौसम विज्ञानियों के मुताबिक शुक्रवार से प्रदेश के अधिकांश जिलों में बादल छाने के आसार हैं। शुक्रवार-शनिवार को कहीं-कहीं बरसात भी हो सकती है। हवाओं की दिशा बदलने के कारण और वातावरण में नमी बढऩे के कारण बुधवार को पूर्वी मध्य प्रदेश को छोडक़र शेष स्थानों पर तापमान में कुछ गिरावट होने की संभावना है। नौ-दस अप्रैल को प्रदेश में बादल छाने के आसार हैं। साथ ही बुरहानपुर, खंडवा, देवास, छिंदवाड़ा, डिंडोरी, बालाघाट, सिवनी, मंडला, बैतूल, हरदा में बादल छाने के साथ बौछारें पडऩे की भी संभावना है। इसके बाद तापमान में मामूली गिरावट आ सकती है।   प्रदेश के इन जिलों में चली लूमौसम विभाग के अनुसार दतिया, ग्वालियर, छतरपुर, सागर, दमोह में बुधवार को गर्म हवाएं चल सकती है। मंगलवार को राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की गई। प्रदेश के 26 स्थानों पर तापमान 40 से 43 डिग्री सेल्सियस के बीच रहा। टीकमगढ़, सागर, दमोह, नौगांव, गुना, ग्वालियर, रतलाम, सतना और खजुराहो में लू चली।

Kolar News

Kolar News 7 April 2021

उज्जैन। मप्र के उज्जैन जिले में भी कोरोना के मामलों में लगातार तेजी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 123 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद जिले में कुल संक्रमितों की संख्या बढक़र 6924 हो गई है।    उज्जैन के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. महावीर खंडेलवाल ने बुधवार को बताया कि जिले में बीते 24 घंटों के दौरान 1279 लोगों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 123 व्यक्ति संक्रमित पाए गए। इनमें 111 मरीज उज्जैन, तीन नागदा, दो बडऩगर, चार तराना, दो घटिया और एक खाचरौद का रहने वाले है। अब जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 6924 हो गई है। हालांकि, बीते 24 घंटों में यहां 74 मरीज स्वस्थ भी हुए हैं। अब तक उज्जैन में 5836 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। अब यहां सक्रिय मरीज 976 है, जिनका उपचार जारी है। वहीं, जिले में अभी तक कोरोना से 112 लोगों की मृत्यु हुई है।

Kolar News

Kolar News 7 April 2021

शहडोल। मध्यप्रदेश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। जनप्रतिनिधि भी इसकी चपेट में आने से नहीं बच पा रहे हैं। अब शहडोल संसदीय क्षेत्र से भाजपा सांसद हिमाद्री सिंह भी कोरोना संक्रमित हो गई हैं। उन्होंने मंगलवार को सोशल मीडिया के माध्यम से इसकी जानकारी देते हुए उनके सम्पर्क में आने वाले लोगों से कोरोना जांच कराने की अपील की है।   सांसद हिमाद्री सिंह ने ट्वीट किया है कि मेरी कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। चिकित्सकों की सलाह से मैंने स्वयं को आइसोलेट कर लिया है। उन्होंने लोगों से निवेदन किया है कि जो भी व्यक्ति मेरे संपर्क में आए हों, कृपया अपनी जांच कराएं और खुद को आइसोलेट करें। 

Kolar News

Kolar News 6 April 2021

उज्जैन। प्रदेश के स्कूली शिक्षा विभाग ने मंगलवार शाम को एक ताजा आदेश जारी किया है। आदेश के तहत जिला कलेक्टर्स एवं जिला शिक्षाधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कक्षा 9वीं एवं 11वीं की स्थानीय परीक्षा तथा कक्षा 10वीं एवं 12वीं की प्री बोर्ड  परीक्षाओं को लेकर निम्रांकित आदेशों का पालन करें।   उपसचिव प्रमोद सिंह द्वारा जारी आदेश अनुसार कक्षा 9वीं एवं 11वीं की वार्षिक परीक्षाओं तथा कक्षा 10वीं एवं 12वीं की प्री बोर्ड परीक्षाओं को लेकर दो विकल्प दिए जा रहे हैं-   1. ऑन लाइन परीक्षा का आयोजन होगा। 2. विद्यार्थियों को प्रश्न पत्र विद्यालय से जारी होंगे। जिसे विद्यार्थी घर पर हल करके विद्यालय द्वारा निर्धारित समय सीमा में विद्यालय जाकर जमा करवाएंगे।   शासकीय विद्यालयों के लिए आदेश सभी शासकीय विद्यालयों में विकल्प दो के अनुसार परीक्षाएं होंगी।   प्रायोगिक एवं वार्षिक परीक्षाएं कक्षा 10वीं एवं 12वीं बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाएं एवं वार्षिक परीक्षाएं माध्यमिक शिक्षा मण्डल,आयसीएसई,सीबीएसई अनुसार जारी निर्देशों के अनुसार होंगी।

Kolar News

Kolar News 6 April 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के रिकॉर्ड 805 नये मामले सामने आए हैं। इंदौर में पहली बार एक दिन में आठ सौ से अधिक नये संक्रमित मिले हैं। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से तीन लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 74 हजार 029 और मृतकों की संख्या 977 हो गई है।    इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूनम गाड़रिया ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 5377 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 805 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 74 हजार 029 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से तीन मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 977 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 516 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 67 हजार 177 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं, लेकिन नये मामले अधिक संख्या में मिलने से यहां सक्रिय मरीज बढक़र 5875 हो गए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है।   बता दें कि इंदौर में फरवरी के शुरुआत में नये मामलों की संख्या 50 से नीचे पहुंच गई थी, लेकिन इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ते हुए अब 800 के पार पहुंच गई है। इंदौर में पहली बार 800 से अधिक नये मामले सामने आए हैं। इससे एक दिन पहले यहां रिकॉर्ड 788 नये संक्रमित मिले थे।

Kolar News

Kolar News 6 April 2021

बड़वानी।  मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले में भी कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। यहां कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसी क्रम में जिले में बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 73 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 16 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर रवाना हुए हैं।   बड़वानी की मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अनीता सिंगारे ने सोमवार को बताया कि जिले में बीते 24 घंटों में प्राप्त रिपोर्ट में 73 नये लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है, जबकि 368 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई हैष जिन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उनमें निवाली का 28 वर्षीय पुरुष, दिवान्या की 20 वर्षीय महिला, अंजड़ की 65 वर्षीय महिला, 18 वर्षीय पुरुष, 57 वर्षीय महिला, 60 वर्षीय पुरुष, राजपुर का 40 वर्षीय पुरुष, मण्डवाडा का 66 वर्षीय पुरुष, सिलावद का 9 वर्षीय बालक, 55 वर्षीय पुरुष, मेणीमाता का 32 वर्षीय पुरुष, रेहगुन की 45 वर्षीय महिला, तांगड़ा का 19 वर्षीय पुरुष, 19 वर्षीय पुरुष, बड़वानी का 24 वर्षीय महिला, 25 वर्षीय पुरुष, 57 वर्षीय महिला, 50 वर्षीय महिला, 66 वर्षीय पुरुष, 34 वर्षीय पुरुष, 35 वर्षीय महिला, 25 वर्षीय पुरुष, 30 वर्षीय पुरुष, 28 वर्षीय पुरुष, 56 वर्षीय पुरुष, 52 वर्षीय पुरुष, 35 वर्षीय पुरुष, 20 वर्षीय महिला, 52 वर्षीय पुरुष, 54 वर्षीय पुरुष, 55 वर्षीय महिला, 65 वर्षीय पुरुष, भुलगॉव का 56 वर्षीय पुरुष, चिखल्या की 33 वर्षीय महिला, पलसूद की 40 वर्षीय महिला, 60 वर्षीय महिला, 48 वर्षीय पुरुष, निवाली का 35 वर्षीय पुरुष, सेंधवा का 43 वर्षीय पुरुष, 48 वर्षीय पुरुष, 27 वर्षीय पुरुष, 50 वर्षीय पुरुष, 42 वर्षीय पुरुष, 29 वर्षीय पुरुष, 39 वर्षीय पुरुष, 32 वर्षीय पुरुष, 40 वर्षीय महिला, 54 वर्षीय महिला, 62 वर्षीय पुरुष, सोलवन की 40 वर्षीय महिला, 45 वर्षीय महिला, 33 वर्षीय महिला, 50 वर्षीय पुरुष, 26 वर्षीय पुरुष, बलवाड़ी का 65 वर्षीय पुरुष, भवरगढ़ की 32 वर्षीय महिला, जुनापानी का 41 वर्षीय पुरुष, जलगोन का 23 वर्षीय पुरुष, आमदा का 65 वर्षीय पुरुष, 25 वर्षीय महिला, बंधाराबुजुर्ग का 38 वर्षीय पुरुष, पानसेमल की 18 वर्षीय बालिका, 46 वर्षीय पुरुष, 38 वर्षीय महिला, 28 वर्षीय पुरुष, 16 वर्षीय बालक, 20 वर्षीय महिला, पन्नाली की 25 वर्षीय महिला, भमराटा का 30 वर्षीय पुरुष, 7 वर्षीय बालिका, 28 वर्षीय महिला, मनकुई का 26 वर्षीय पुरुष, मडगॉव का 35 वर्षीय पुरुष शामिल है।   उन्होंने बताया कि जिले में 16 मरीजों ने कोरोना को मात दी है और उन्हें सोमवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर अपने घर रवाना किया गया है। इस प्रकार जिले में अब तक कुल 3742 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए। इनमें से 3250 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। अब जिले में सक्रिय मरीज 460 है, जिनका उपचार जारी है। वहीं, जिले में अभी तक कुल 31 लोगों की उपचार के दौरान मृत्यु हुई है।

Kolar News

Kolar News 5 April 2021

उज्जैन। उज्जैन स्थित विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर मन्दिर स्थित नन्दी हॉल, प्रवचन हॉल द्वार के क्षेत्र तथा महाकाल मन्दिर प्रांगण में आवाजाही दर्शनार्थियों के लिये प्रतिबंधित कर दी गई है। केवल मन्दिर के पुजारी अथवा पुरोहित तथा मन्दिर के कर्मचारी को उक्त प्रतिबंध से छूट रहेगी।    सोमवार को कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी आशीष सिंह ने विगत 27 एवं 28 मार्च 2021 को जारी धारा-144 के आदेश में संशोधन कर नया आदेश जारी किया है। जारी आदेश के मुताबिक, महाकालेश्वर मन्दिर स्थित नन्दी हॉल जल द्वार, चांदी द्वार, नगाड़ा द्वार, प्रवचन हॉल द्वार के क्षेत्र तथा महाकाल मन्दिर प्रांगण में श्रद्धालुओं की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया गया है। इसी तरह उज्जैन शहर के बसस्टेण्ड, देवासगेट एवं नानाखेड़ा तथा रेलवे स्टेशन के निकटतम स्थित भोजनालय/रेस्टोरेंट में उज्जैन शहर से बाहर से आये हुए यात्रियों को यात्रा टिकिट, परिचय-पत्र आदि के आधार पर लॉकडाउन अवधि को छोडक़र बैठाकर खाना खिलाया जा सकेगा।

Kolar News

Kolar News 5 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में अप्रैल माह की शुरूआत में ही गर्मी के तेवर तीखे हो गए हैं। अप्रैल माह में ही मई-जून जैसी गर्मी पडऩे से लोग परेशान है। मौसम विभाग की मानें तो तापमान में अचानक इतने उछाल की वजह राजस्थान और गुजरात से आने वाली वह गर्म हवाएं हैं, जिन्होंने मध्यप्रदेश की ओर रुख किया है। इन हवाओं की वजह से ही मध्य प्रदेश के तापमान में इजाफा दर्ज किया गया है। मौसम विभाग के अनुसार दक्षिणी और पश्चिमी हवाएं चलने से सोमवार से ही राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के कई जिलों में अधिकतम तापमान में धीरे-धीरे बढ़ोतरी होने लगेगी।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि रविवार को एक पश्चिमी विक्षोभ अफगानिस्तान और उससे लगे पाकिस्तान पर सक्रिय हो गया है। यह सिस्टम उत्तर भारत की तरफ बढ़ रहा है। उसके प्रभाव से उत्तर-पश्चिमी राजस्थान पर एक प्रेरित चक्रवात बन गया है। इन दो सिस्टम के प्रभाव से हवाओं का रुख बदलेगा। इससे सोमवार से अधिकतम तापमान में धीरे-धीरे बढ़ोतरी होने लगेगी। सात अप्रैल यानी बुधवार से मध्य प्रदेश के कुछ जिलों में लू चलने के भी आसार बन सकते हैं। दक्षिणी और पश्चिमी हवाएं चलने से सोमवार से ही राजधानी भोपाल सहित प्रदेश के कई जिलों में अधिकतम तापमान में धीरे-धीरे बढ़ोतरी होने लगेगी। उधर मंगलवार को एक अन्य पश्चिमी विक्षोभ भी उत्तर भारत की तरफ बढ़ेगा। इस वजह से सात अप्रैल से गर्मी के तेवर तीखे होने लगेंगे। राजधानी भोपाल समेत इंदौर, सागर, जबलपुर, शहडोल, होशंगाबाद, उज्जैन संभाग के जिलों में कहीं-कहीं लू भी चल सकती है। वहीं तापमान 42 डिग्री से. तक पहुंच सकता है। 6-7 अप्रैल से प्रदेश में लू से हीट स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाएगा। हालांकि गर्मी के तेवर सिर्फ दो दिन ही तीखे रहेंगे। इसके बाद पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत से आगे बढ़ते ही अधिकतम तापमान में फिर गिरावट का दौर शुरू होने लगेगा।

Kolar News

Kolar News 5 April 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना बढ़ते मामलों को देखते हुए चार शहरों-छिंदवाड़ा, रतलाम, बैतूल और खरगौन में शनिवार को सम्पूर्ण लॉकडाउन का व्यापक असर देखने को मिला। लोग स्वैच्छा से लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं और सडक़ों पर सुबह से ही सन्नाटा पसरा हुआ है। इनमें से तीन शहर रतलाम, बैतूल और खरगौन में शुक्रवार 10 बजे से सोमवार सुबह 6.00 बजे तक 56 घंटे का लॉकडाउन है, जबकि छिंदवाड़ा में गुरुवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह 6.00 बजे तक यानी कुल 80 घंटों का लॉकडाउन लागू है।   लॉकडाउन के चलते इन चारों शहरों में शनिवार सुबह से सभी बाजार, व्यावसायिक प्रतिष्ठान और दुकानें पूरी तरह बंद हैं और सडक़ों पर लोगों की आवाजाही भी नहीं हो रही है। जगह-जगह पुलिस बल तैनात है और बेवजह घूमने वाले लोगों पर चालानी कार्रवाई की जा रही है। अधिकांश लोग स्वैच्छा से लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं।    गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है और पुराने सारे रिकार्ड तोड़ दिये हैं। शुक्रवार को यहां कोरोना ने पुराने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिये और एक दिन में सर्वाधित  2777 मामले सामने आए। लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीजों की संख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने 13 शहरों में रविवार को लॉकडाउन घोषित किया है। इनमें भोपाल, इंदौर, जबलपुर, बैतूल, छिंदवाड़ा, रतलाम, खरगोन, उज्जैन, ग्वालियर, नरसिंहपुर, रीवा, छिंदवाड़ा, सौंसर और नीमच शामिल हैं। बीते दो रविवार से यहां लॉकडाउन लगाया जा रहा है। इसके बाद भी कोरोना के मामलों में कमी नहीं आ रही है। इसी को देखते हुए जिला आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में रतलाम, बैतूल और खरगौन में स्वैच्छा से शनिवार-रविवार को लॉकडाउन रखने का निर्णय लिया, जबकि छिंदवाड़ा में व्यापारियों की मांग को देखते हुए तीन दिन का लॉकडाउन किया है।

Kolar News

Kolar News 3 April 2021

उज्जैन। मप्र के उज्जैन जिले में भी कोरोना के मामलों में लगातार तेजी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 89 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद जिले में कुल संक्रमितों की संख्या बढक़र 6535 हो गई है।    उज्जैन के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. महावीर खंडेलवाल ने शनिवार को बताया कि जिले में बीते 24 घंटों के दौरान 1312 लोगों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 89 व्यक्ति संक्रमित पाए गए। इनमें 83 मरीज उज्जैन, चार बडऩगर और एक-एक मरीज महिदपुर व नागदा के रहने वाले हैं। अब जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 6535 हो गई है। हालांकि, बीते 24 घंटों में यहां 24 मरीज स्वस्थ भी हुए हैं। अब तक उज्जैन में 5568 मरीज पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। अब यहां सक्रिय मरीज 857 है, जिनका उपचार जारी है। वहीं, जिले में अभी तक कोरोना से 110 लोगों की मृत्यु हुई है।

Kolar News

Kolar News 3 April 2021

भोपाल। मप्र में इन दिनों मौसम पूरी तरह से शुष्क बना हुआ है और गर्मी ने लोगों को बेहाल कर दिया है। हालांकि हवाओं का रुख लगातार परिवर्तनशील बना रहने से मध्यप्रदेश में दिन और रात के तापमान में उतार-चढ़ाव का सिलसिला देखने को मिल रहा है। अधिकतम तापमान में जहां बढ़ोत्तरी हुई है, वहीं न्यूनतम तापमान में कमी दर्ज की गई है। मौसम विभाग के अनुसार अभी दो दिनों तक मौसम का मिजाज इसी तरह बने रहने के आसार हैं।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में कोई वेदर सिस्टम सक्रिय नहीं है। साथ ही हवा का रुख बार-बार बदल रहा है। विशेषकर शाम ढलने के बाद हवा का रुख उत्तरी हो जाने से राजधानी सहित प्रदेश के अधिकांश जिलों में न्यूनतम तापमान में गिरावट होने लगती है। सुबह के बाद हवा की दिशा दक्षिण-पश्चिमी हो जाने से अधिकतम तापमान बढ़ रहा है।  अभी दो दिन तक मौसम का मिजाज इसी तरह बना रहने की संभावना है।     उन्‍होंने बताया है कि चार अप्रैल को एक पश्चिमी विक्षोभ के उत्तर भारत में दाखिल होने की संभावना है। इसके प्रभाव से मौसम के मिजाज में फिर बदलाव होने के आसार हैं। शुक्रवार को राजधानी सहित प्रदेश में अधिकांश जिलों में अधिकतम तापमान बढ़ गए हैं। इसी तरह से मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी में बताया गया कि शुक्रवार को पूरे प्रदेश में न्यूनतम तापमान में काफी गिरावट दर्ज की गई, जबकि अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी हुई। राजधानी में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 39.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। यह सामान्य से दो डिग्री से. अधिक रहा। वहीं न्यूनतम तापमान 17.4 डिग्रीसे. रिकार्ड हुआ। यह सामान्य से तीन डिग्रीसे. कम रहा।

Kolar News

Kolar News 3 April 2021

बैतूल। बैतूल जिले में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शनिवार और रविवार को लॉकडाउन रहेगा। आज शुक्रवार रात 10 बजे से यह 56 घंटे का लॉकडाउन शुरू हो जाएगा, जो कि सोमवार, 05 अप्रैल को सुबह 6.00 तक जारी रहेगा।  कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी अमनबीर सिंह बैंस ने बताया कि जिले की सम्पूर्ण राजस्व सीमा में दो अप्रैल शुक्रवार की रात्रि 10 बजे से पांच अप्रैल सोमवार को प्रात: 6 बजे तक घोषित सम्पूर्ण लॉकडाउन के दौरान शासकीय कर्मचारियों को अपने परिचय पत्र के साथ कार्य स्थल पर आने-जाने की छूट रहेगी।   कलेक्टर द्वारा जारी आदेश के अनुसार लॉकडाउन अवधि में जिन व्यक्तियों को आवागमन की छूट दी गई है। इसके अनुसार, जिले में स्थित भारत सरकार/राज्य सरकार के कार्यालयों में नियोजित समस्त शासकीय सेवकों/लोक सेवकों के कार्यालय आने एवं वापस जाने पर, जिले के समस्त दांडिक/सिविल/राजस्व न्यायालयों में नियोजित समस्त शासकीय सेवकों/ लोकसेवकों के कार्यालय आने एवं वापस जाने पर, जिले की औद्योगिक इकाइयों/प्रोडक्शन यूनिट्स में नियोजित श्रमिकों/कर्मियों, कर्तव्य स्थल पर आने एवं वापस जाने पर, प्रायवेट/सहकारी बैंक के अधिकारी/कर्मचारी, कर्तव्य स्थल पर आने एवं वापस जाने पर, उपरोक्त व्यक्तियों को अपने नियोक्ता द्वारा जारी अद्यतन पहचान पत्र साथ में रखना अनिवार्य होगा।   दवाइयों की दुकानों पर लॉकडाउन का प्रतिबंध लागू नहीं होगा। दवाई लेने जाने वाले व्यक्ति को अपने पास डॉक्टर का लेटेस्ट प्रीक्रिप्शन दिखाना अनिवार्य होगा। रेल्वे स्टेशन आने एवं जाने तथा परीक्षा/प्रतियोगी परीक्षाओं में शामिल होने की छूट रहेगी, वे अपने पहचान पत्र दिखाकर आवागमन कर सकेंगे। लॉकडाउन के संबंध में जारी आदेश की अन्य व्यवस्थाएं यथावत् प्रभावशील रहेंगी। कोविड-19 की रोकथाम एवं बचाव हेतु केन्द्र शासन/राज्य शासन तथा जिला प्रशासन द्वारा समय-समय पर जारी निर्देशों/आदेशों का कड़ाई से पालन किया जाना बंधनकारी होगा।   यह आदेश आम जनता को संबोधित है। इस आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 के साथ ही भारतीय दण्ड संहिता की धारा-188 तथा एपिडेमिक एक्ट 1897 के तहत मप्र शासन द्वारा जारी किए गए विनियम दिनांक 23 मार्च 2020 की कंडिका-10 के अंतर्गत उल्लेखित विधि प्रावधानों अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। यह आदेश तत्काल प्रभावशील होकर आगामी आदेश पर्यन्त प्रभावी रहेगा।

Kolar News

Kolar News 2 April 2021

जबलपुर। जबलपुर-इटारसी रेलखंड पर बुधवार रात को इटारसी-छिवकी एक्सप्रेस के पटरी से उतरने की घटना की प्रारंभिक जांच में मिले साक्ष्यों से रेलवे में हड़कंप की स्थिति है। जांच में यह पता लगा है कि ट्रेन का पटरी से उतरना कोई दुर्घटना नहीं थी, बल्कि ट्रेन पटरी पर रखे गए एक लोहे के टुकड़े से टकराकर पटरी से उतरी थी। इससे इस हादसे के पीछे साजिश की बू आ रही है। वहीं, रेल प्रशासन ने दुर्घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं तथा आरपीएफ अलग से इसकी जांच करेगा।   जानकारी के अनुसार इटारसी से छिवकी (प्रयागराज) जा रही स्पेशल एक्सप्रेस 01117 बुधवार रात नरसिंहपुर जिले के बोहानी रेलवे स्टेशन के आउटर पर हादसे का शिकार हो गई थी। ट्रेन के इंजन से तीसरी बोगी के चार पहिए पटरी से उतर गए थे। गति धीमी होने और ड्राइवर की सूझबूझ से कोई अनहोनी तो नहीं हुई, लेकिन पटरी पर लोहे का टुकड़ा मिलने के बाद साजिश की आशंका ने रेलवे प्रशासन को सकते में ला दिया है। वहीं इंजीनियरिंग विभाग की बड़ी चूक को भी उजागर किया है। स्टेशन के आउटर के पास की पटरियों के रख-रखाव को लेकर इस तरह की लापरवाही से स्पष्ट है कि पटरियों की लगातार जांच नहीं की जाती है। बोहानी रेलवे स्टेशन के पास ये हादसा होम सिग्नल से लूप लाइन की ओर मुड़ने के दौरान प्वाइंट 102 पर हुआ था। स्टेशन के आउटर पर होने की वजह से ट्रेन की रफ्तार काफी कम थी। जैसे ही पहिए पटरी से उतरे और आवाज आई। ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन को रोक दिया था। सिर्फ एक डिब्बा ही पटरी से उतर पाया और ट्रेन पलटने से बच गई। जांच हुई तो हादसे वाले स्थान के पास 300 एमएम का लोहे का टुकड़ा मिला।   पमरे जीएम शैलेन्द्र कुमार सिंह ने गुरुवार को उच्च स्तरीय जांच के निर्देश जारी किए। जांच में यह देखा जाएगा कि बुधवार रात 8.30 बजे बोहानी स्टेशन के पास हुए हादसे की असल वजह क्या थी। लोहे का टुकड़ा वहां कैसे पहुंचा। इंजीनियरिंग विभाग पटरियों की देखरेख में कैसे चूक कर गया। आरपीएफ की गश्ती दल को क्यों नहीं पता चला। वहीं आरपीएफ ने भी इस मामले को गंभीरता से लिया है। साजिश को अंजाम देने वाले का पता लगाने के लिए आरपीएफ ने अलग टीम गठित की है। घटनास्थल और रेल पटरी के आसपास रहने वाले संदिग्धों से पूछताछ की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 2 April 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के रिकॉर्ड 682 नये मामले सामने आए हैं। यह आंकड़ा अब तक एक दिन में सबसे अधिक है। वहीं, यहां तीन कोरोना मरीजों की मौत भी हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 70 हजार 991 और मृतकों की संख्या 965 हो गई है।    इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूनम गाड़रिया ने शुक्रवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा गुरुवार देर रात 4246 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 682 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 70 हजार 991 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से तीन मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 965 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 311 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 65 हजार 540 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं, लेकिन नये मामले अधिक संख्या में मिलने से यहां सक्रिय मरीज बढक़र 4576 हो गए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है।   बता दें कि इंदौर में फरवरी के शुरुआत में नये मामलों की संख्या 50 से नीचे पहुंच गई थी, लेकिन इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ते हुए अब 600 के पार पहुंच गई है। इंदौर में अब लगातार आठवें दिन 600 से अधिक नये मामले सामने आए हैं। इससे पहले यहां 30 मार्च को एक दिन में सर्वाधिक 543 नये संक्रमित मिले थे। अब यह रिकॉर्ड भी टूट गया।

Kolar News

Kolar News 2 April 2021

उज्जैन। उज्जैन में गुरुवार को जिला क्राइसिस मैनेजमेंट समिति की बैठक हुई, जिसमें उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, विधायक पारस जैन, कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार शुक्ल, विवेक जोशी, बहादुरसिंह बोरमुंडला मौजूद रहे। बैठक में सांसद अनिल फिरोजिया वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये शामिल हुए। बैठक में सभी जनप्रतिनिधियों ने एकमत से निर्णय लिया कि वे रंग पंचमी पर रंग नहीं खेलेंगे, न ही मिलन समारोह आयोजित करेंगे। सभी जनप्रतिनिधियों ने आमजन से आग्रह किया कि कोरोना से बचाव के लिये सभी लोग घर पर ही रहें। इसके साथ ही यह निर्णय भी लिया गया कि रंग पंचमी पर गेर, जुलूस आदि नहीं निकाले जाएंगे।   बैठक में निर्णय लिये गये कि होम क्वारेंटाईन में रह रहे कोरोना पॉजीटिव मरीज यदि चाहें तो उनका उपचार निजी अस्पताल वाले घर पर ही कर सकते हैं। इस सम्बन्ध में अनुमति जारी की जा सकती है। साथ ही शासकीय चिकित्सा सुविधा भी उन्हें प्राप्त होती रहे, यह सुनिश्चित करने के लिये कहा गया है। परिवार में यदि एक व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव आता है तो परिवार के अन्य सदस्यों को भी घर में क्वारेंटाइन रहना होगा। कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिये कंटेनमेंट झोन बनाकर यह व्यवस्था सुनिश्चित की जाये कि कोरोना पॉजीटिव के परिजन यहां-वहां न घूमे। बैठक में तय किया गया कि नगर निगम के विद्युत शवदाह गृह एवं गैस से संचालित शवदाह गृह को एक-दो दिन में हर हाल में प्रारम्भ किया जाये, जिससे लोगों को असुविधा न हो।   बैठक में बताया गया कि आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज एवं माधव नगर हॉस्पिटल की व्यवस्थाओं का पर्यवेक्षण करने के लिये यूडीए सीईओ सुजानसिंह रावत को नोडल अधिकारी बनाया गया है। वे यह सुनिश्चित करेंगे कि माधव नगर हॉस्पिटल में क्रिटिकल कंडिशन वाले मरीज ही भर्ती हों, इससे गंभीर मरीजों के लिये इस उच्च स्तरीय अस्पताल में बेड उपलब्ध रहेंगे। धारा-144 के तहत जारी किये गये प्रतिबंधात्मक आदेशों का पालन कड़ाई से एवं समान रूप से किया जाये। राज्य शासन द्वारा जारी की गई गाईड लाइन के अनुसार रेस्टोरेंट में खाद्य सामग्री पैक करके घर ले जाई जा सकती है। इसमें बाहर से आने वाले यात्रियों के लिये आंशिक छूट दी जा सकती है।   बैठक में निजी नर्सिंग होम्स एवं पैथालॉजी लेब द्वारा मनमाने ढंग से दवाओं के दाम वसूलने की जनप्रतिनिधियों द्वारा एक स्वर में जोरदार आलोचना की गई एवं इस पर कड़ा नियंत्रण लगाने के लिये कहा गया। जनप्रतिनिधियों ने कहा कि जो लोग 1500 से 2000 रुपये के रेमेडीसीवियर इंजेक्शन के 5400 रुपये वसूल कर रहे हैं, उनके विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जाये। इसी तरह सिटी स्केन के शुल्क में मनमानी वृद्धि पर भी अंकुश लगाने के लिये जिला प्रशासन को कहा गया है।   बैठक में जनप्रतिनिधियों द्वारा कोविड के अलावा अन्य मरीजों से नर्सिंग होम में संचालित मेडिकल स्टोर से दवाईयों के मनमाने पैसे लिये जाने पर भी चर्चा की गई एवं केमिस्ट एसोसिएशन तथा ड्रग इंस्पेटर्स की बैठक आयोजित कर इस मनमानी वसूली पर तुरन्त रोक लगाने की बात कही गई। बैठक में कलेक्टर ने बताया कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया गया है कि वे रेंडमली सभी नर्सिंग होम में भर्ती कोविड पेशेंट के बिलों की जांच करें और जांच रिपोर्ट से क्राइसिस मैनेजमेंट टीम को अवगत करायें।

Kolar News

Kolar News 1 April 2021

इंदौर। कोरोना के कारण जिले में हालात दिन ब दिन खराब हो रहे हैं। इसे देखते हुए प्रशासन की सख्ती भी बढ़ती जा रही है। अभी तक कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालों को समझाइश देकर या जुर्माना लगाकर छोड़ दिया जाता था, लेकिन अब प्रशासन ऐसे लोगों को अस्थायी जेल भेजेगा। इसके लिए कलेक्टर मनीष सिंह ने निर्देश जारी कर दिए हैं।   कलेक्टर मनीष सिंह ने इंदौर में कोरोना महामारी से बचाव के लिए जारी गाइडलाइन का पालन नहीं करने वालों और जन स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने वालों पर सख्ती के निर्देश दिए हैं। अब ऐसे लोगों को गिरफ्तार कर अस्थाई रूप से कुछ घंटों के लिए जेल में बंद रखने के लिए कहा गया है। इसके लिए कलेक्टर ने स्नेहलतागंज स्थित गुजराती अतिथि गृह को आगामी 60 दिनों के लिए अस्थायी कारागार घोषित कर दिया है। आदेश में कहा गया है कि देखने में आ रहा है कि कुछ लोग गाइड लाइन का पालन नहीं कर रहे हैं। इसलिए ऐसे लोगों पर धारा 188 के तहत कार्यवाही कर गिरफ्तार किया जाए। कलेक्टर मनीष सिंह द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित जिन रेस्टोरेंट्स में बड़ी संख्या में लोगों का आना-जाना है और वहां कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन हो रहा है, उसे सील करने की कार्रवाई करें।

Kolar News

Kolar News 1 April 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 638 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 70 हजार 309 और मृतकों की संख्या 962 हो गई है।    इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूनम गाड़रिया ने गुरुवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 3927 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 638 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 70 हजार 309 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 962 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 401 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 65 हजार 139 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं, लेकिन नये मामले अधिक संख्या में मिलने से यहां सक्रिय मरीज बढक़र 4208 हो गए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है।   बता दें कि इंदौर में फरवरी के शुरुआत में नये मामलों की संख्या 50 से नीचे पहुंच गई थी, लेकिन इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ते हुए अब 600 के पार पहुंच गई है। इंदौर में अब लगातार सातवें दिन 600 से अधिक नये मामले सामने आए हैं। इससे एक दिन पहले यहां रिकॉर्ड 643 नये संक्रमित मिले थे।

Kolar News

Kolar News 1 April 2021

ग्वालियर।  ग्वालियर को हवाई सेवाओं के क्षेत्र में नई सौगात मिली है। ग्वालियर से पुणे के लिये अब सीधी हवाई सेवा शहरवासियों को मिल गई है। होली के त्यौहार पर प्रथम उड़ान भरकर पुणे से ग्वालियर आए यात्रियों का विमानतल पर क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने स्वागत किया और सभी को होली की शुभकामनाएं दीं। उनके साथ भाजपा के जिला अध्यक्ष कमल माखीजानी भी उपस्थित थे। माखीजानी ने भी सभी यात्रियों को होली की शुभकामनाएं दीं।    क्षेत्रीय सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने रंगों के त्यौहार होली पर दोपहर 2.50 बजे विमानतल पहुँचकर पुणे से ग्वालियर आई प्रथम उड़ान के यात्रियों का स्वागत किया और सभी को होली की शुभकामनायें दीं। पुणे से ग्वालियर आए यात्रियों ने भी सांसद शेजवलकर को होली की शुभकामना देने के साथ-साथ ग्वालियरवासियों के लिये जो सौगात मिली है उसके लिये बधाई दी। यात्रियों का कहना था कि अब ग्वालियर से पुणे की यात्रा बहुत सहज और बहुत कम समय में पूरी होगी।   ग्वालियर से हवाई यात्राओं की सौगातें निंरतर बढ़ती जा रही हैं। इसी कड़ी में शहरवासियों को पुणे के लिये सीधे फ्लाइट की सौगात भी उपलब्ध हुई है। प्रथम दिवस ग्वालियर से 29 यात्रियों ने पुणे के लिये उड़ान भरी। जबकि पुणे से 46 यात्री हवाई यात्रा कर ग्वालियर पहुंचे। ग्वालियर पहुंचे ज्यादातर यात्री ग्वालियर एवं ग्वालियर के आस-पास के निवासी हैं। सभी ने इस नई सौगात पर प्रसन्नता व्यक्त की। क्षेत्रीय सांसद शेजवलकर ने भी यात्रियों से चर्चा के साथ-साथ विमानतल के अधिकारियों से भी विस्तार से चर्चा की।   

Kolar News

Kolar News 30 March 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में तापमान बढ़ने लगा है। उमस और गर्मी ने अभी से बेहाल कर दिया है। राजधानी भोपाल में मंगलवार सुबह से ही तेज धूप निकली है। आद्रता का स्तर कम होने से लोगों को गर्मी ज्यादा महसूस हो रही है। वहीं होली के दिन सोमवार को भी गर्मी ने इंदौर में अपना असर दिखाया। राजधानी भोपाल में होली के दिन लू चली। मौसम विभाग के मुताबिक इस बार गर्मी के तेवर तीखे रहने के आसार है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि इस सीजन में मार्च में पहली बार इंदौर में दिन का तापमान सामान्य से 4 डिग्री अधिक 40.2 डिग्री दर्ज किया गया। मंगलवार को भी मौसम विभाग ने लू को लेकर यलो अलर्ट जारी किया है। इंदौर में मंगलवार को अधिकतम तापमान सोमवार के मुकाबले एक से डेढ़ डिग्री ज्यादा रहने की संभावना है।    मौसम विभाग द्वारा इंदौर में मंगलवार को लेकर येलो अलर्ट भी जारी किया गया है। इंदौर में सोमवार को 12:00 बजे के बाद से पश्चिमी हवाएं अधिकतम 18 से 20 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से चली। प्रदेश में भोपाल ग्वालियर, जबलपुर, सतना, रीवा सागर, दमोह,धार, गुना, रतलाम उमरिया और छतरपुर में तो लूं चली। ग्वालियर में दिन का तापमान सामान्य से 6 डिग्री अधिक रहा। भोपाल और जबलपुर में दिल का तापमान सामान्य से 5 डिग्री अधिक रहा। इसके अलावा खजुराहो और नौगांव में भी दिन का तापमान सामान्य से 6 डिग्री अधिक दर्ज किया गया।

Kolar News

Kolar News 30 March 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के रिकॉर्ड 628 नये मामले सामने आए हैं। यह आंकड़ा अब तक एक दिन में सबसे अधिक है। वहीं, दो लोगों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 69 हजार 028 और मृतकों की संख्या 959 हो गई है।    इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूनम गाड़रिया ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 3113 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 628 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 69 हजार 028 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 959 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 367 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 64 हजार 524 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं, लेकिन नये मामले अधिक संख्या में मिलने से यहां सक्रिय मरीज बढक़र 3545 हो गए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है।   बता दें कि इंदौर में फरवरी के शुरुआत में नये मामलों की संख्या 50 से नीचे पहुंच गई थी, लेकिन इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ते हुए अब 600 के पार पहुंच गई है। इससे पहले यहां शुक्रवार को 612 और शनिवार को 619, रविवार को 603 और सोमवार को 609 नये संक्रमित मिले थे। इंदौर में अब लगातार पांचवें दिन 600 से अधिक नये मामले सामने आए हैं।

Kolar News

Kolar News 30 March 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 603 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 67 हजार 791 और मृतकों की संख्या 955 हो गई है।    इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूनम गाड़रिया ने रविवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा शनिवार देर रात 3903 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 603 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 67 हजार 791 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 955 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 312 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 63 हजार 713 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं, लेकिन नये मामले अधिक संख्या में मिलने से यहां सक्रिय मरीज 2834 से बढक़र 2123 हो गए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है।   बता दें कि इंदौर में फरवरी के शुरुआत में नये मामलों की संख्या 50 से नीचे पहुंच गई थी, लेकिन इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ते हुए अब 600 के पार पहुंच गई है। इससे पहले यहां शुक्रवार को रिकॉर्ड 612 और शनिवार को एक दिन में सर्वाधिक 619 नये संक्रमित मिले थे।

Kolar News

Kolar News 28 March 2021

भोपाल। भोपाल में आगामी त्योहारों को लेकर कलेक्टर अविनाश लवानिया ने शनिवार देर रात संशोधित आदेश जारी किया। इसके तहत 20 लोगों के साथ होलिका दहन, शब ए बारात एवं पाप संडे प्रतीकात्मक रूप से मनाने की अनुमति दी गई है।   भोपाल में होली, शब ए बारात और पाप संडे के त्योहारों को लेकर नई गाइडलाइन जारी हो गई है। नए आदेश के अनुसार अब होली जलाने के लिए 20 लोग जा सकेंगे। आदेश के अनुसार होलिका दहन प्रतीकात्मक रूप से कॉलोनी/सोसायटी के अंदर अधिकतम 20 लोगों की मौजूदगी में किया जा सकेगा। अन्य सार्वजनिक स्थल जैसे मुख्य मार्ग/मुख्य चौराहे/ पार्क इत्यादि पर बड़ी संख्या में एकत्रित होकर दहन नहीं किया जाएगा। आदेश के मुताबिक व्यक्तियों की सीमा एवं कोविड प्रोटोकॉल के पालन की जिम्मेदारी संबंधित हाउसिंग सोसायटी की रहेगी। यह आदेश कलेक्टर अविनाश लवानिया ने शनिवार देर रात जारी किया। इससे पहले आदेश में कलेक्टर ने त्योहार पर किसी भी प्रकार की छूट देने से साफ इनकार कर दिया था।   नए आदेश के अनुसार शब ए बारात एवं पाप संडे भी प्रतीकात्मक रूप  से संबंधित कब्रिस्तान एवं चर्च में एक समय में अधिकतम 20 लोगों की मौजूदगी में मनाया जा सकेगा। व्यक्तियों की सीमा एवं कोविड प्रोटोकॉल के पालन की जिम्मेदारी संबंधित वक्फ अथवा चर्च की रहेगी। आदेश का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Kolar News

Kolar News 28 March 2021

रतलाम। पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल से होकर निजामुद्दीन से पुणे के मध्य साप्ताहिक सुपरफास्ट स्पेशल एसी एक्सप्रेस का परिचालन आगामी 30 मार्च से किया जाएगा।   मंडल रेल प्रवक्ता जितेेन्द्र कुमार जयंत ने गुरुवार को बताया कि होली त्योहार के दौरान यात्रियों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए रतलाम मंडल से होकर निजामुद्दीन से पुणे के मध्य एसी स्पेशल का परिचालन किया जा रहा है। गाड़ी संख्या 04426 निजामुद्दीन पुणे स्पेशल एसी एक्सप्रेस  30 मार्च को निजामुद्दीन से 21.30 बजे चलकर रतलाम मंडल के रतलाम (07.00/07.15) होते हुए गाड़ी चलने के दूसरे दिन 21.25 बजे पुणे पहुँचेगी। इसी प्रकार गाड़ी संख्या 04425 पुणे निजामुद्दीन स्पेशल एसी एक्सप्रेस, 24 मार्च एवं 01 अप्रैल को पुणे से 05.15 बजे चलकर रतलाम मंडल के रतलाम(18.20/18.30) होते हुए गाड़ी चलने के दूसरे दिन 05.35 बजे निजामुद्दीन पहुँचेगी। इस ट्रेन का दोनों दिशाओं में मथुरा, कोटा, रतलाम, वडोदरा, सूरत, वापी, वसई रोड, कल्याण एवं लोनावाला स्टेशनों पर ठहराव दिया गया है। इस ट्रेन में एक एसी प्रथम, छह द्वितीय एसी एवं 10 सामान्य श्रेणी के कोच रहेंगे।

Kolar News

Kolar News 25 March 2021

उज्जैन। मप्र के उज्जैन जिले में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 58 नये मामले सामने आए हैं। कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए उज्जैन जिले में चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान को आगामी सूचना तक स्थगित कर दिया गया है। उज्जैन के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. महावीर खंडेलवाल ने ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी।   उन्होंने बताया ट्वीट किया है कि सम्पूर्ण उज्जैन जिले में आज 25 मार्च से आगामी सूचना तक कोविड-19 टीकाकरण स्थगित रहेगा। सिर्फ विजयाराजे कन्या स्कूल घासमंडी चौराहा तथा नगर निगम कार्यालय आगर रोड पर हैल्थ केयर एवं फ्रंटलाइन वर्कर को कोवेक्सीन की दूसरी खुराक का ही टीकाकरण किया जायेगा।   सीएमएचओ के मुताबिक, जिले में बीते 24 घंटों में 1173 जांच रिपोर्ट में कोरोना 58 नये मामले सामने आए हैं। इनमें 48 मरीज उज्जैन, चार बडऩगर, 05 नागदा और एक महिदपुर का निवासी है। इसके साथ ही जिले में कुल संक्रमितों की संख्या बढक़र 5864 हो गई है। इनमें से अब तक 5353 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। अब जिले में सक्रिय मरीज 404 है, जिनका उपचार जारी है, जबकि जिले में अब तक कोरोना से 107 लोगों की मौत हो चुकी है।

Kolar News

Kolar News 25 March 2021

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना का कहर जारी है। यहां 15 फरवरी के बाद से कोरोना के नये मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना के 584 नये मामले सामने आए हैं, जबकि दो लोगों की मौत हुई है। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या बढक़र 65 हजार 957 और मृतकों की संख्या 949 हो गई है। बता दें कि इंदौर में इस साल 2021 में पहली बार कोरोना के 500 से अधिक नये मामले सामने आए हैं।   इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूनम गाड़रिया ने गुरुवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 3871 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 584 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए, जबकि शेष लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 65 हजार 957 हो गई है। वहीं, इंदौर में बीते 24 घंटों में कोरोना से दो मरीजों की मौत की पुष्टि हुई है। अब यहां मृतकों की संख्या 949 हो गई है। हालांकि, यहां बीते 24 घंटे में 299 मरीज स्वस्थ हुए हैं। यहां अब तक 62 हजार 485 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं, लेकिन नये मामले अधिक संख्या में मिलने से यहां सक्रिय मरीज 2240 से बढक़र 2523 हो गए हैं, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है।   बता दें कि इंदौर में फरवरी के शुरुआत में नये मामलों की संख्या 50 से नीचे पहुंच गई थी, लेकिन इसके बाद यह संख्या लगातार बढ़ते हुए अब 500 के पार पहुंच गई है। 

Kolar News

Kolar News 25 March 2021

झाबुआ। पश्चिमी मध्यप्रदेश के गुजरात और राजस्थान की सीमा से लगे लगे झाबुआ, आलीराजपुर जिलो में आदिवासी समुदाय का लोकपर्व भगोरिया की शुरुआत हो गई है।  होली तक चलने वाले इस उत्सव के दौरान जिलो के विभिन्न स्थानों के हॉट बाजारों में पिछले दिनों से भारी भीड़ उमड़ती हुई देखी गई है। प्रशासनिक सख्ती की वजह से इस वर्ष इन हाट बाजार में कही-कही कम भीड़ दिखाई दे रही है, किन्‍तु अधिकतर जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करते हुए हुजूम का हुजूम उमड़ता हुआ नजर आ रहा है।    भगोरिया में आज तीसरे दिन भी जिलो के हाट बाजारों में भीड़ इकट्ठा हुई है, और सभी स्थानों पर शासन की गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाई गई है। भीड़ भरे स्थानों में दो गज छोड़ कर आधा फिट की दूरी का भी पालन नहीं हो पा रहा है और नही अनिवार्य रूप से मास्क लगाए जाने का पालन किया जा रहा है।  इस सारी स्थिति को लेकर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी भी लापरवाह नजर आए। भगोरिया हाट के अभी 4 दिन ओर शेष है ऐसे में ये बड़ी लापरवाही कही इन जिलों को भारी न पड़ जाए।       उक्त दोनों जिलो से पिछले महीनों में बड़ी संख्या में  मजदूरी करने के लिए आदिवासी जन  उन बड़े शहरों से वापस लौट कर आए है, जो कोरोना महामारी  से अधिक प्रभावित है।  अन्य राज्यो के शहरों में काम पर गए  ये कामगार  भगोरिया मनाने के लिए यहां फिर लोट कर आए है और यदि इनमें से कुछ लोग भी संक्रमित हुए तो यहाँ कोरोना के पैर पसारने की सम्भावना बढ़ती ही जाएगी। ऐसे में "दो गज दूरी मास्क जरूरी " के साथ अधिक लोगो के इकट्ठा होने पर  सख्त पाबंदी बहुत ज्यादा जरूरी है।   

Kolar News

Kolar News 24 March 2021

अनूपपुर। जिले में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान में कम पड़े टीके पर प्रशासन की मांग में शासन ने अनूपपुर के लिए 385 वॉयल की खेप उपलब्ध करा दी है। इस 385 वॉयल से लगभग 3850 बेनेफिशरी को टीकाकरण किया जा सकेगा। प्रशासन ने शासन के निर्देश में फिलहाल जिले के 17 नए प्रस्तावित टीकाकरण सेंटर पर अभियान को आगामी आदेश में टाल दिया है, लेकिन पहले से संचालित 26 केंद्रों पर टीकाकरण शुरू हो गया है।   दरअसल, कम हुए टीके की पूर्ति में भोपाल से विशेष विमान 22 मार्च को जबलपुर पहुंचा और यहां 23 मार्च की रात टीके अनूपपुर पहुंचाए गए। 385 वॉयल वैक्सीन के मिलने के बाद बुधवार से जिले के पूर्व निर्धारित 26 स्वास्थ्य केन्द्रों पर फिर से टीकाकरण शुरू किया गया। इससे पूर्व टीके के अभाव में 23 मार्च को अनूपपुर के पांच स्वास्थ्य केन्द्रों जिला चिकित्सालय अनूपपुर पर बने दो केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कोतमा, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र फुनगा, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जैतहरी में टीकाकरण अभियान चलाया गया। जिसमें कुल 425 टीके लगाए गए। इनमें अनूपपुर पर बने दोनों सेंटर पर 181, फुनगा में 70, जैतहरी में 100 तथा कोतमा में 74 लोगों को टीकाकरण किया गया। लेकिन अन्य 22 स्वास्थ्य केन्द्रों पर टीकाकरण का कार्य एक दिन के लिए बंद रहा।   सीएमएचओ डॉ. एससी राय ने बताया कि टीके की उपलब्धता के साथ ही सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर फिर से टीकाकरण के लिए तैयारी के निर्देश दिए गए हैं। हमारी ओर से 17 और नए सेंटर स्थापित कर टीकाकरण का प्रस्ताव तैयार किया गया था, लेकिन फिलहाल टीको की स्थिति को देखते हुए इन सेंटरों पर अभियान को रोक दिया गया है।   इन नए प्रस्तावित 17 सेंटरों पर नहीं होगा टीकाकरण टीकों की उपलब्धता के साथ वैक्सीनेशन की प्रस्तावित योजना में शामिल 17 नए स्वास्थ्य केन्द्रों पर अब टीकाकरण नहीं होगा। शासन के निर्देश में उपलब्ध टीकों में ही आगे की व्यवस्था चलाए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जिसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने नए सेंटरों को फिलहाल चालू नहीं करेगी। इन सेंटरों के चालू होने से जिले में माइक्रो प्लान के अनुसार 43 सेंटर बन जाते। इनमें अनूपपुर विकासखंड के तीन सेंटर लोढी, केल्होरी, बरगवां, कोतमा विकासखंड में पांच चाका, बदरा, थानगांव, पैरीचुआ, सकोला जबकि पुष्पराजगढ़ विकासखंड के 9 सेंटर में पोंडकी, अमगवां, अल्हवार, बिलासपुर, लेढरा, गोंडा, खांटी, अमदरी, टिटही शामिल थी।   अबतक टीकाकरण में हेल्थकेयर वर्कर्स प्रथम 3998 एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स 2237 कुल 6235,वहीं द्वितीय 2583 हेल्थ केयर वर्कर्स एवं फ्रंटलाइन वर्कर्स 1077 कुल 3660 कलोगो को लगाया गया। साथ ही पहली बार 45-59 वर्ष 629 एवं 60 प्लस 6915 टीकाकरण किया गया।   डॉ. एससी राय, सीएमएचओ ने बताया कि विम