Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782
Advertisement

विशेष

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश सरकार गरीबों के कल्याण को सर्वोपरि मानती है। संसाधनों का समान वितरण कर जरूरतमंद गरीबों को सहारा देने वाली संबल जैसी व्यावहारिक योजना को पूर्व सरकार ने बंद कर दिया था। जन्म के पूर्व से लेकर असामयिक मृत्यु की स्थिति में आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने वाली संबल योजना पर निरंतर अमल किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने बुधवार को भोपाल के मिंटो हाल में आयोजित कार्यक्रम में संबल योजना के 3700 हितग्राहियों के खाते में 80 करोड़ रुपये की अनुग्रह राशि का अंतरण किया।   तीन साल में मिलेगा सभी को पक्का मकान   मुख्यमंत्री ने कहा कि संबल संसाधनों के समान वितरण की योजना है। यह योजना गरीबों के लिए बहुत बड़ा सहारा बनी है। उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार ने मुँह का निवाला भी छीन लिया था। गर्भवती बहनों के पोषण में उपयोगी लड्डू से उन्हें वंचित कर दिया गया था। पूर्व सरकार के इशारे पर योजना बंद हो गई थी। आने वाले तीन साल में सभी को पक्का मकान मिलेगा। उन्होंने हितग्राहियों से चर्चा के दौरान उन्हें संबल योजना के लाभ बताए और आश्वासन दिया कि आप लोग कभी चिंता न करना। यह योजना चालू रहेगी और आप लोगों को इसका लाभ मिलता रहेगा।   प्रवासी श्रमिकों को संबल से जोड़ा जाएगा   मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में जो हितग्राही योजना के लाभ से वंचित हैं उन्हें भी इसका लाभ दिलवाया जाएगा। जो प्रवासी श्रमिक कोविड-19 की समस्या के कारण प्रदेश में लौटे उन्हें भी संबल से जोड़ा जाएगा। इन श्रमिकों को भवन संनिर्माण कर्मकार मंडल से जोडक़र भी लाभान्वित किया जाएगा। इन श्रमिकों के बच्चों के लिए नि:शुल्क पढ़ाई की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि यह वास्तविकता है कि जिस परिवार में कोई दु:खद घटना होती है, कुछ दिन सभी लोग सहानभूति व्यक्त करते हैं। वास्तविक पीड़ा प्रभावित व्यक्ति ही महसूस कर सकता है। ऐसे लोगों को सरकार से आर्थिक सहायता मिलना ही चाहिए। गरीबों की योजना संबल के क्रियान्वयन के लिए धनराशि की कमी आड़े नहीं आने दी जाएगी। आज जिन हितग्राहियों को योजना का लाभ मिला है, वे आत्मनिर्भर हो सकेंगे।   22 जिलों में 308 स्थानों पर मना कार्यक्रम   मुख्यमंत्र् ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री जनकल्याण संबल योजना में 22 जिलों के हितग्राहियों के खाते में 80 करोड़ रुपये की सहायता राशि ऑनलाईन अंतरित की। राज्य स्तरीय कार्यक्रम के साथ प्रथम चरण में 22 जिलों के 308 स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री ने संबल योजना की राशि हितग्राहियों के खातों में अंतरित करने के बाद हितग्राहियों से संवाद किया। कार्यक्रम के प्रसारण के लिए एनआईसी द्वारा नेट लिंक प्रदान किया गया था।    हर हाल में जारी रखना संबल योजना   मंदसौर के ग्राम नाटाराम की लीलाबाई बागरी ने मुख्यमंत्री से कहा कि संबल योजना को हरहाल में जारी रखना। लीला बाई के पति मजदूरी करते थे। बीमारी के कारण उनकी असामयिक मृत्यु हो गई थी। संबल योजना के अंतर्गत लीला बाई को दो लाख रुपये की सहायता मिली। लीला बाई ने मुख्यमंत्री को बताया कि इससे बंजर खेत को सुधारने की योजना है। साथ ही बकरी पालन भी शुरु करने का विचार है। उन्होंने कहा कि मुसीबत के समय मिली सहायता से बेटों की पढ़ाई की चिंता दूर हुई है।   जाने वाले की कमी दूर नहीं होती पर संबल बनी सहारा   मंदसौर की ग्राम पंचायत गोवर्धनपुरा की श्यामू बाई सेन ने मुख्यमंत्री से कहा कि जाने वाले की कमी पूरी नहीं होती पर संबल ने सहारा दिया है। श्यामू बाई के पति की सूरत में दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी। संबल के अंतर्गत उन्हें चार लाख रुपये की सहायता मिली। उन्होंने कहा कि इस सहायता से किराना दुकान आरंभ करने की योजना है। मुख्यमंत्री ने श्यामू बाई को हिम्मत बढ़ाते हुए कहा कि बच्चों की पढ़ाई की फीस सरकार भरेगी। तुम बच्चों को पढ़ाना जरूर।   चिंता नहीं करना भाई साथ है   मुख्यमंत्री ने गुना की सुमेला बाई भील से कहा कि चिंता नहीं करना। भाई साथ है। मिलकर मुसीबत से निकलेंगे। सुमेला के पति का बीमारी से निधन हो गया था। उन्हें दो लाख रुपये की सहायता मिली इससे वे रेडीमेड कपड़े की दुकान शुरु कर रही हैं। मुख्यमंत्री ने सुमेला को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी रेडीमेड की बहुत मांग है।   हिम्मत नहीं हारना सीमा   सागर की सीमा अहिरवार के पति की मृत्यु टायफाइड के कारण हो गई थी। वे कृषक मजदूर थे। सीमा को दो लाख रुपये की सहायता मिली है। इससे वे सिलाई मशीन खरीद कर सिलाई का काम शुरु करने की योजना बना रहीं हैं। मुख्यमंत्री ने सीमा से घर के बारे में जानकारी ली और कहा कि बस हिम्मत मत हारना सरकार हर कदम पर तुम्हारे साथ है।   मुख्यमंत्री ने रायसेन की साधना बाई से भी बात की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री द्वारा भोपाल की जायदा बी, सीता नागर, रेखा बाई, सुहागमल, सोमू गुर्जर और प्यारे सिंह को हितलाभ वितरण प्रमाण-पत्र भी प्रदान किया गया।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने कोरोना वॉरियर्स के लिए शुरू हुई मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना’ को संशोधित किया। नए नियम के अनुसार योजना के तहत अब स्वास्थ्य विभाग, चिकित्सा शिक्षा और आयुष विभाग के हर सफाई कर्मचारी, वार्ड ब्वॉय, नर्स, आशा कार्यकर्ता, पैरामेडिक्स, तकनीशियन, डॉक्टर, विशेषज्ञ और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को योजना का लाभ नहीं मिलेगा। योजना का लाभ अब उन्हीं लोगों को मिलेगा जो सीधे तौर पर कोविड संक्रमण को रोकने में जुटे हैं। इनमें कोविड के अधिकृत अस्पताल, कोविड केयर सेंटर, कोविड टेस्टिंग लैब, क्वारेंटाइन सेंटर में काम करने वाले शामिल हैं। कोविड योद्धा कल्याण योजना में संशोधन पर मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने आपत्ति जताई है और इसे तत्काल निरस्त करने की मांग की है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर सरकार के फैसले पर एतराज जताते हुए कहा ‘इस कोरोना महामारी में हमारे डॉक्टर्स, नर्स, विशेषज्ञ, आशा- आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सफ़ाई कर्मी, पेरामेडिकल स्टाफ़, स्वास्थ्य कर्मी बड़ी संख्या में फ़ील्ड में जुटे होकर अपनी जान जोखिम में डाल कोरोना योद्धा की तरह रात-दिन काम कर रहे है। अवसर है उनको प्रोत्साहित करने का लेकिन मध्यप्रदेश में कोरोना वारियर्स के लिये बनी कोविड योद्धा कल्याण योजना में संशोधन की जानकारी सामने आयी है। अब इसमें पूर्व से शामिल सभी लोगों को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा सिर्फ़ चुनिंदा लोगों को ही इस योजना का लाभ मिलेगा।   एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा कि एक तरफ़ देश के अन्य राज्य कोरोना योद्धाओं को निरंतर प्रोत्साहित करने को लेकर काम कर रहे है , उनके लिये कई प्रावधान कर रहे है लेकिन दूसरी तरफ़ प्रदेश में शिवराज सरकार में कोरोना वारियर्स को हतोत्साहित करने का काम किया जा रहा है , वो भी ऐसे समय जब प्रदेश में कोरोना संक्रमण के आँकड़ो भयावह होते जा रहे हैं। कमलनाथ ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि मै सरकार से माँग करता हूँ कि इन संशोधनों को तत्काल निरस्त किया जाए और पूर्व की भॉति ही सारे कोरोना वारियर्स को इस योजना का लाभ मिलता रहे।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

इंदौर। प्रदेश में 15 महीने कांग्रेस की सरकार रही। कमलनाथजी मुख्यमंत्री रहे, लेकिन उन्होंने गरीब के दर्द और पीड़ा को समझा ही नहीं। वे उद्योगपति हैं, बड़े आदमी के बेटे हैं, सोने का चम्मच मुंह में लेकर पैदा हुए थे, गरीब का दर्द कैसे समझते। जाके पांव ना फटी बेमाई, वो का जाने पीर पराई। दर्द का एहसास है भाजपा को, उसके नेताओं को और हमारे मुख्यमंत्री को, क्योंकि वे गरीब और किसान के बेटे हैं। यह बात प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को रवींद्र नाट्यगृह में आयोजित अनुग्रह सहायता राशि वितरण कार्यक्रम के दौरान कही।    गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि आप उनके काम देखें और हमारे काम को देखें। कन्या विवाह योजना, लाड़ली लक्ष्मी योजना लागू की तो भाजपा ने। एक रुपये किलो चावल, एक रुपये किलो गेहूं और एक रुपये किलो नमक देने का काम भाजपा ने किया। यह भाव कभी कांग्रेस के मन में नहीं आया। प्रधानमंत्री आवास देने का भाव हमारे प्रधानमंत्री मोदीजी के मन में आया। उन्होंने कहा कि भाजपा और शिवराज के मन में दर्द है, इसलिए उन्होंने गरीबों के लिए कई योजनाएं शुरू कीं। संबल योजना भी इसी का हिस्सा है। कांग्रेस की 15 महीने की सरकार ने जनता को सिर्फ धोखा दिया। जनता को धोखा देने के कारण ही मंत्री सिलावट ने कांग्रेस को छोड़ दिया और भाजपा से जुड़े। गृह मंत्री ने कहा कि काम तो भाजपा करती है,  बाकी पार्टियां तो सिर्फ बातें करती हैं। कार्यक्रम में गृह मंत्री के साथ जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला, पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता समेत निगम और प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

गुना। प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री एवं बमौरी विधानसभा से उपचुनाव में भाजपा के संभावित प्रत्याशी महैन्द्र सिंह सिसौदिया कोरोना संक्रमित निकले है। इसके साथ ही उनकी माँ की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजीटिव आने की खबर है। बता दें कि सिसौदिया की पत्नी पहले ही कोरोना संक्रमण का शिकार हो चुकी है। हालांकि उपचार के बाद अब वह स्वस्थ है। बहरहाल सिसौदिया ने अपने कोरोना संक्रमित होने की जानकारी खुद ट्वीट कर मंगलवार को दी।    इससे पूर्व एक बार पहले भी सिसौदिया के लक्षणों के आधार पर कोरोना संक्रमित होने की आशंका बनी थी, किन्‍तु जांच में उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। इस बार ऐसे समय वह संक्रमित निकले है। जब बमौरी में उपचुनाव की घड़ी निकट आने लगी है और कुछ दिनों में ही आचार संहिता लगने वाली है। इसके साथ ही भाजपा का चुनाव प्रचार चरम पकड़ रहा है। इसी तारतम्य में 25 सितंबर को बमौरी में भाजपा की उनके पक्ष में विशाल आमसभा भी होने जा रही है। जिसमें प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, राज्य सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया शामिल होंगे। ऐसे में सिसौदिया के कोरोना संक्रमित निकलने से भाजपा की चुनावी तैयारियां प्रभावित हो सकतीं है। हालांकि खुद सिसौदिया इससे संभवत: इससे इत्फाक नहीं रखते है और इसके संकेत उन्होने अपने ट्विट में भी दिए है। जिसमें उन्होने उपचुनाव को भाजपा के देवतुल्य कार्यकर्ताओं को चुनाव बताते हुए इसमेंं सफल होने का विश्वास जताया है। साथ ही जय श्रीराम का जयघोष किया है।   अधिकारी के बाद मंत्री भी संक्रमित कोरोना संक्रमण जिले मेंं तेजी से पैर पसार रहा है। आमजन तो इससे पीडि़त हो ही रहे है। इसके साथ ही अब अधिकारी, राजनेता और मंत्री तक अछूते नहीं रह गए है। एक पूर्व नपाध्यक्ष सहित अन्य राजनेताओं के संक्रमित होने की खबर पहले ही सामने आ चुकी है तो हाल ही में पंचायत मंत्री के ही विभाग से जुड़े एक अधिकारी की कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव आ चुकी है। इसके बाद अब खुद पंचायत मंत्री महैन्द्र सिंह सिसौदिया कोरोना संक्रमित निकले है। इसके साथ ही उनकी माँ की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजीटिव आई है। दोनों फिलहाल भोपाल के चिरायू अस्पताल में उपचारत है।    गौरतलब है कि सिसौदिया का कुछ दिन पहले ही स्वास्थ्य खराब हुआ था। जिसके बाद उन्होने अपने सभी कार्यक्रम निरस्त कर दिए थे और चिकित्सकों की सलाह पर क्वारेंटाइन हो गए थे। यहां तक की शासन के महत्वकांक्षी कार्यक्रम वन भूमि के पट्टा वितरण में भी पंचायत मंत्री शामिल नहीं हो पाए  थे। इसी बीच उनकी कोरोना जांच कराई गई। जो पॉजीटिव निकली।    पंचायत मंत्री ने किया जय श्रीराम का जयघोष पंचायत मंत्री सिसौदिया ने अपने कोरोना पॉजीटिव होने की जानकारी ट्वीट के माध्यम से दी है। साथ ही भाजपा कार्यकर्ताओं को देवतुल्य बताते हुए जय श्रीराम का जयघोष भी किया है। सिसौदिया के ट्वीट के मुताबिक जांच के दौरान मुझमें कोरोना पॉजीटिव लक्षण आए है और मैं चिरायु अस्पताल में उपचारत हूं। मेरे संपर्क में जो भी आए हैं, वह अपना कोरोना टेस्ट करा लें। आने वाला चुनाव भाजपा के देवतुल्य कार्यकर्ताओं का चुनाव है और मुझे विश्वास है हम निश्चित रुप से सफल होंगे। जय श्री राम, वहीं राज्य सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर सिसौदिया के जल्द स्वास्थ्य होने की प्रार्थना ईश्वर से की है।    आचार संहिता के पहले की हो सकती है आखरी बड़ी सभा उपचुनाव की तैयारियों क्रम में 25 सितंबर को भाजपा की बमौरी में विशाल आमसभा होने जा रही है। इस आमसभा में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर एवं राज्य सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया शामिल होने जा रहे है। सभा को लेकर तैयारियां इन दिनों जोरों पर चल रहीं है। उपचुनाव को लेकर चुनावी नियम-कायदों से परे यह आखरी बड़ी सभा मानी जा रही है। दरअसल, जिस तरह के संकेत मिल रहे है, उस लिहाज से 27-28 सितंबर तक आचार संहिता लग सकती है। इसके बाद जो भी सभा होगी, वह आचार संहिता के नियम कायदों में बंधी रहेगी। चूंकि पंचायत मंत्री सिसौदिया बमौरी से भाजपा के संभावित उम्मीद्वार भी है और फिलहाल की स्थिति में उनके सभा में मौजूद रहने की संभावना नहीं बन रही है। अगर ऐसा होता है तो उनकी गैरमौजूदगी में यह सभा कैसे हो पाएगी? इस पर सभी की निगाहें लगी हुईं है।    जोर-शोर से चल रहा है चुनाव प्रचार बमौरी विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव को लेकर भाजपा का प्रचार जोरशोर से चल रहा है। शुरुआती दौर से ही भाजपा चुनाव में बाजी हथियाएं हुए है। जहां पंचायत मंत्री महैन्द्र सिंह सिसौदिया लगातार बमौरी क्षेत्र का दौरा कर रहे थे तो भाजपाजन भी पूरी ताकत के साथ चुनाव में जुटे हुए है। इसके साथ ही भाजपा के प्रादेशिक और केन्द्रीय पदाधिकारी भी चुनाव में अपनी भूमिका दर्ज करा चुके है। इन सबके मद्देनजर भाजपा के आम कार्यकर्ता का उत्साह भी चरम पर बना हुआ है और वह चुनाव में रिकॉर्ड तोड़ जीत की बात कह रहा है। सिसौदिया के कोरोना संक्रमित होने को भी वह इसमें बाधा नहीं मानता है। भाजपा कार्यकर्ताओं का कहना है कि ईश्वर की कृपा से सिसौदिया और उनकी माँ जल्द स्वस्थ होंगे, वहीं चुनाव सिर्फ सिसौदिया नहीं, बल्कि  उनके पक्ष में भाजपा कार्यकर्ता और बमौरी की जनता खुद लड़ रही है।

Kolar News

Kolar News 22 September 2020

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में मध्यप्रदेश में गरीब कल्याण सप्ताह मनाया जा रहा है। इसी के अंतर्गत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा मंगलवार को प्रदेश के 63 हजार किसानों को क्रेडिट कार्ड का वितरण किया गया। इस अवसर पर उन्होंने घोषणा की कि मप्र के किसानों को हर साल सम्मान निधि के रूप में दस हजार रुपये मिलेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में अभी तीन किस्तों में सालाना छह हजार रुपये मिलते हैं। अब इसमें चार हजार रुपये राज्य सरकार मिलाएगी। इसके साथ ही सहकारी बैंकों को कर्ज माफी की बकाया राशि भी दी जाएगी। कार्यक्रम में जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों को 800 करोड़ रुपये का अनुदान भी दिया गया।    मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों, पशुपालकों और मत्स्य पालकों को हमने शून्य प्रतिशत ब्याज पर कर्ज देने की योजना प्रारम्भ की थी, जिसे कांग्रेस सरकार ने बंद कर दिया था। हमने इसे फिर से प्रारम्भ कर दिये हैं। आपके कल्याण के किसी काम को मैं रोकने नहीं दूंगा, परिस्थिति चाहे जैसी हो। किसानों को बिना ब्याज के कर्ज देने का काम जारी रहेगा। इसमें पशुपालक और मत्स्य पालकों को भी जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण खजाने की स्थिति अच्छी नहीं है, लेकिन किसानों को चिंता करने की जरूरत नहीं है।    उन्होंने कहा कि मैं रोने वाला मुख्यमंत्री नहीं हूं कि पैसा नहीं है। पिछली सरकार ने फसल बीमा के 22 सौ करोड़ रुपये का अंशदान जमा नहीं किया था, जिसकी वजह से किसानों को बीमा राशि नहीं मिल पा रही थी। सरकार में आते ही बीमा कंपनियों को राज्यांश दिया और किसानों को 31 सौ करोड़ रुपये का फसल बीमा दिलाया। इसके बाद 4600 करोड़ रुपये से ज्यादा का फसल बीमा हाल ही में 22 लाख से ज्यादा किसानों को दिया गया है।   कृषि संबंधित तीनों विधायक किसानों के हित में   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संसद में पारित तीन कृषि विधयकों को लेकर कहा कि कुछ लोग कृषि संबंधित जो तीनों विधेयक बने हैं, उसके बारे में भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। ये विधेयक किसान की आय को दोगुना करने के लक्ष्य की प्राप्ति में सहायक सिद्ध होंगे। इसके लिए मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का अभिनंदन करता हूं। मंडिया बंद नहीं होंगी, ये पूर्ववत चलती रहेंगी। किसान अपनी उपज चाहे खेत से बेचे, प्राइवेट मंडियों में बेचे, वेयरहाउस से ही बेच दे। किसान को जहां अधिक कीमत मिलेगी, बेचने के लिए स्वतंत्र है। समर्थन मूल्य पर उपज की खरीदी जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि मेरे किसान भाइयों मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि कृषि संबंधित जो तीनों विधेयक बने हैं, वे किसानों के हित में हैं। किसानों को इसका लाभ मिलेगा और पहले से अधिक सशक्त बनेंगे। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में लहसुन, धनिया आदि का उत्पादन बहुत अधिक होता है। प्रसंस्करण इकाइयां लगाकर प्रदेश में ही मसाले तैयार किये जायेंगे, ताकि किसान को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके।

Kolar News

Kolar News 22 September 2020

ग्वालियर। मध्यप्रदेश विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर दोनों प्रमुख पार्टियां जोर-शोर से तैयारियों में जुटी हैं। भाजपा द्वारा अभी इन सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की गई है, लेकिन इन सीटों पर कांग्रेस से आए पूर्व विधायकों को ही उपचुनाव लड़ाएगी, जबकि कांग्रेस ने 12 सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिये हैं। शेष सीटों पर उम्मीदारों को लेकर खींचतान जारी है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस शेष सीटों की सूची भी आज या कल में जारी कर सकती है।   दरअसल, प्रदेश की जिन सीटों पर उपचुनाव होने वाले हैं, उनमें से अधिकांश सीटें कांग्रेस विधायकों द्वारा इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होने से रिक्त हुई हैं। इनमें ग्वालियर चम्बल अंचल की सीटें ज्यादा हैं। मुरैना सीट से कांग्रेस के जिलाध्यक्ष राकेश मावई का नाम लगभग तय माना जा रहा है, मगर बीच मे ही किसान कोंग्रेस के नेता दिनेश गुर्जर का नाम सामने आने के बाद सूची अटक गई।    दिनेश को कमलनाथ को करीबी माना जाता है, मगर मैदानी सर्वे में पिछड़ रहे हैं, ऐसे में दोनों के बीच खींचतान मच गई है। इस वजह से सूची जारी नहीं हो सकी। संभावना जताई जा रही है कि कांग्रेस की अगली सूची बुधवार तक जारी हो सकती है। ग्वालियर पूर्व विधानसभा से डॉ सतीश सिंह सिकरवार का नाम तय हो चुका है। इसकी घोषणा होना ही शेष है। हालांकि दो दिन पहले शहर के दौरे पर आए प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सतीश से अपने छेत्र में काम मे जुट जाने की बात कही थी। अंचल की जौरा सीट को लेकर भी भारी घमासान मचा हुआ है। यहां से 4 दावेदार होने की वजह से कुछ भी स्पष्ट नहीं हो पा रहा है। वहीं परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत के खिलाफ सुर्खी से पूर्व विधायक पारुल शाह का नाम भी लगभग तय हो चुका है।

Kolar News

Kolar News 22 September 2020

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में प्रदेश में मनाये जा रहे गरीब कल्याण सप्ताह अन्तर्गत 22 सितंबर, मंगलवार को 63 हजार कृषकों, पशुपालकों एवं मत्स्य पालक हितग्राहियों को नवीन किसान क्रेडिट कार्ड वितरित किये जायेंगे। 'सबको साख-सबका विकास' राज्य-स्तरीय कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सुबह 11.30 बजे मिन्टो हॉल में करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंधन मंत्री डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया द्वारा की जाएगी। कार्यक्रम में प्रदेश के किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर सहकारी बैंकों/समितियों को 800 करोड़ रूपये की सहायता भी प्रदान की जायेगी।   मुख्यमंत्री चौहान द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि के लाभार्थियों, पशुपालकों एवं मत्स्य पालकों से सीधा संवाद भी किया जाएगा। इस अवसर पर अपेक्स बैंक द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मुख्यमंत्री सहायता कोष के लिये एक करोड़ रूपये की राशि भेंट की जाएगी। कार्यक्रम का क्षेत्रीय न्यूज चैनल्स और सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर लाइव प्रसारण किया जाएगा।   सहकारिता मंत्री डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया ने कहा है कि किसानों, पशुपालकों और मत्स्य पालकों का विकास करना प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। राज्य सरकार उन्हें आर्थिक सुदृढ़ता प्रदान करने के लिये क्रेडिट कार्ड और शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराने के लिये सहकारी बैंकों को आवश्यक राशि भी उपलब्ध करा रही है।   कार्यक्रम से जुड़ने के लिये मेपआईटी ने भेजे रिकार्ड 2 करोड़ मेसेज 'सबको साख-सबका विकास' की भावना से आयोजित इस कार्यक्रम में आम लोगों के जुड़ने के नये कीर्तिमान स्थापित होंगे। प्रमुख सचिव सहकारिता उमाकांत उमराव ने बताया कि सहकारिता विभाग द्वारा मेपआईटी (MAPIT) के माध्यम से कार्यक्रम से जुड़ने हेतु फ्री-रजिस्ट्रेशन के लिये लगभग 2 करोड़ लोगों को मेसेज भिजवाये गये हैं। इसके लिये जरूरी डाटा मेपआईटी को उपलब्ध कराया गया है।   12 लाख लोग जुड़ेंगे लाइव टेलीकास्ट से प्रमुख सचिव सहकारिता उमराव ने बताया कि 'सबको साख-सबका विकास' थीम अन्तर्गत 22 सितंबर को आयोजित होने वाले सहकारिता विभाग के कार्यक्रम को अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाने के लिये 40-45 हजार स्थानों पर लाइव टेलीकास्ट की व्यवस्था करवाई गई है, जिसमें लगभग 12 लाख लोग जुड़ेंगे। साथ ही कार्यक्रम में 15 लाख लोगों को मायगोव (Mygov) के माध्यम से सीधे जोड़ने के लिये वेबलिंक भी भेजी गई है। कार्यक्रम से जुड़ने वाली संख्या के मान से यह एक नया कीर्तिमान होगा।

Kolar News

Kolar News 21 September 2020

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा किसानों की फसल खरीद संबंधी तीन अध्यादेश को लेकर राजनीति तेज हो गई है। देशभर में कांग्रेस अध्यादेश का विरोध कर रही है। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने भी अध्यादेश को किसान विरोधी बताते हुए इसके खिलाफ सदन से लेकर सडक़ तक लड़ाई लडऩे की बात कही है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर अध्यादेश का विरोध करते हुए कहा कि मोदी सरकार के अध्यादेश पूरी तरह से किसान विरोधी व खेतिहर मजदूर विरोधी है। यह दिन इतिहास में काले दिवस के रूप में दर्ज होगा। इसको लेकर ना किसानों की सहमति ली गयी ना अन्य राजनैतिक दलों से चर्चा की गयी। उन्होंने केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार तानाशाही तरीक़े से देश को चलाना चाहती है। पुरानी जमींदारी प्रथा वापस लाना चाहती है। वादा किसानों की आय दोगुनी का किया था लेकिन भाजपा सरकार किसानो की रोज़ी- रोटी छिनना चाहती है।   कमलनाथ आगे अपने ट्वीट में कहा कि देश भर के किसानों की इस लड़ाई को कांग्रेस लड़ेगी। सदन से लेकर सडक़ तक कांग्रेस किसानों के हित में इस काले क़ानून के विरोध में संघर्ष करेगी। उन्होंने प्रदेश सरकार से सवाल पूछते हुए कहा कि शिवराज सरकार स्पष्ट करे कि वो किसानो के साथ है या इन किसान विरोधी काले क़ानून के साथ? प्रदेश का किसान इस सच्चाई को जानता चाहता है कि कौन उसके साथ है और कौन किसान विरोधी काले क़ानून के साथ?

Kolar News

Kolar News 21 September 2020

भोपाल। कोरोना संकट के बीच मध्यप्रदेश विधानसभा का एक दिवसीय सत्र सोमवार को शुरू हुआ। सत्र में भाग लेने के लिए विधानसभा पहुंचने के पहले विधानसभा अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ, संसदीय कार्यमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा समेत सभी विधायकों की जांच की गई और हाथ सैनिटाइज कराने के बाद उन्हें प्रवेश दिया गया। सदन में सबसे पहले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, राज्यपाल लालजी टण्डन समेत अन्य दिवंगतों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई, जिसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने पांच मिनट के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी।   बता दें कि यह मध्यप्रदेश की पंद्रहवीं विधानसभा का सातवां सत्र है। शुरुआत में विधानसभा अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, तत्कालीन राज्यपाल लालजी टंडन, सदन के सदस्य मनोहर ऊंटवाल और गोवर्धन दांगी तथा पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष हजारीलाल रघुवंशी के निधन की विधिवत सूचना सदन को दी। साथ ही पूर्व विधायक डेरहू प्रसाद धृतलहरे और अन्य नेताओं के अलावा गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ संघर्ष में शहीद हुए जवानों, जम्मू कश्मीर के बारामूला में शहीद सैनिक और देश प्रदेश में कोरोना के कारण व्यक्तियों के निधन की सूचना दी और सदन की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की।   इसके अलावा सदन में पूर्व विधायक उदय सिंह पंड्या, चंपालाल देवड़ा, देवेंद्र कुमारी, बलिहार सिंह, बलबीर सिंह कुशवाह, घनश्याम प्रसाद जायसवाल, बूंदीलाल रावत, विमला शर्मा, मनमोहन शाह बट्टी, चिमनलाल सडाना, रमाकांत तिवारी, गणेशराम खटीक और बिंद्रा प्रसाद साकेत तथा छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और पूर्व केंद्रीय मंत्री हंसराज भारद्वाज के निधन के उल्लेख के साथ उनके प्रति भी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। सदन के नेता एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी दिवंगतों का राजनैतिक, सामाजिक और देश सेवा के क्षेत्र में योगदान का जिक्र करते हुए सभी के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की। विपक्ष के नेता कमलनाथ ने अपनी और दल की ओर से सभी दिवंगतों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद सभी ने दो मिनट का मौन रखा और प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने दिवंगतों के सम्मान में कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी।   स्थगन के बाद जब सदन दोबारा समवेत हुआ, तो सबसे पहले संसदीय कार्य मंत्री ने आदेशों पत्रों को पटल पर रखा। अध्यक्ष ने विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र देने वाले विधायकों, सदस्यों की सूचना सदन को दी। वित्त मंत्री की अनुपस्थिति में संसदीय कार्य मंत्री ने उनका कार्य संपादित किया। सबसे पहले धन विनियोग विधेयक सदन में प्रस्तुत किया गया। इस पर कांग्रेस ने चर्चा कराने की मांग की, लेकिन सरकार ने मना कर दिया। इसके बाद मध्यप्रदेश विनियोग विधेयक 2020 पारित हो गया। संसदीय कार्य मंत्री ने समस्त विभागों की अनुदान मांगों का प्रस्ताव एक साथ प्रस्तुत किया। इस पर कांग्रेस विधायक दल के मुख्य सचेतक गोविंद सिंह एवं नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने चर्चा कराने का अनुरोध किया। जिसके जवाब में संसदीय कार्य मंत्री ने सर्वदलीय बैठक का उल्लेख किया। फिलहाल सदन की कार्रवाई जारी है।   बता दें कि कोरोना के चलते इस तीन दिवसीय सत्र को महज एक दिन का किया गया है, जिसमें केवल शासकीय कार्य ही संपादित किए जाएंगे। सदन में कुल 202 विधायकों में से केवल 60 ही मौजूद रहे, जबकि कई विधायक अपने अपने जिलों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सदन की कार्यवाही में शामिल हुए।

Kolar News

Kolar News 21 September 2020

  भोपाल। मंदसौर जिले में पिछले साल बाढ़ से भारी तबाही हुई थी। मैंने मुख्यमंत्री कमलनाथ से कहा कि आप भी देख लीजिए कितना नुकसान हुआ है। वो नहीं आए और बोले हम तो बंगले में बैठे-बैठे ही देख लेते हैं। मंदसौर में ही राहुल गांधी ने ये घोषणा की थी कि हम 10 दिनों में किसानों का हर प्रकार का दो लाख रुपये तक का कर्ज माफ करेंगे। लेकिन जब सरकार बन गई, तो कर्जमाफी में कई शर्तें लगा दीं। रंग-बिरंगे फार्म भरवाने लगे। कटऑफ की तारीख बदल दी। कांग्रेस की सरकार ने किसानों को धोखा दिया। आप कहीं भी बहस कर लें कमलनाथ जी, मैं फिर ये कहता हूं कि आपने कर्जमाफी के झूठे प्रमाण पत्र बांटे, बैंकों को पैसा नहीं दिया। यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने रविवार को सुवासरा विधानसभा के सीतामऊ, महिदपुर के इन्दौख और आगर मालवा विधानसभा के बड़ौद में विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करते हुए कही।   हम बहाने नहीं बनाते, काम करते हैंमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कमलनाथ सरकार के समय जब भी जनप्रतिनिधि कोई मांग रखते थे, वो कहते थे पैसा नहीं है। कोरोना के कारण आज भी आर्थिक संकट है, लेकिन हम बहाना नहीं बनाते। हम पैसा कहीं से भी लाएं, लेकिन विकास के काम नहीं रुकने देंगे। हमने शून्य प्रतिशत ब्याज पर कर्ज योजना का पैसा भरा, किसानों के फसल बीमा की प्रीमियम भरी। सस्ते अनाज की योजना जिसे कांग्रेस ने ठंडे बस्ते में डाल दिया था, हमने फिर शुरू कर दी है। संबल योजना, तीर्थदर्शन योजना हम फिर शुरू कर रहे हैं और सभी योजनाओं को दोबारा शुरू करेंगे, जिन पर कमलनाथ सरकार ने रोक लगा दी थी। चौहान ने कहा कि किसान भाई चिन्ता न करें, हम सोयाबीन का मुआवजा भी देंगे और जल्द ही हम किसान भाइयों के लिए ऐसी योजना लाने वाले हैं, जिससे उनके खातों में पैसा आता रहे। हम शिक्षक भर्ती, पुलिस भर्ती भी शुरू करने वाले हैं, ताकि युवाओं को रोजगार मिले। मुख्यमंत्री चौहान ने सीतामऊ में 2187 करोड़ रुपये लागत वाली कयामपुर माइक्रो इरिगेशन परियोजना की स्वीकृति की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि अगले तीन सालों में हम किसी भी गरीब को बिना पक्की छत के नहीं रहने देंगे और हर घर में साफ पीने का पानी उपलब्ध कराएंगे।   सवा साल में प्रदेश को लूट लियाचौहान ने कहा कि सवा साल की कमलनाथ सरकार ने प्रदेश को लूट लिया। पद बिकते थे, शराब के ठेके और रेत का कारोबार बिकता था। विभाग बंटते थे और प्रदेश का विकास ठप हो गया था। आम लोगों को तो छोड़िये, तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास मंत्री-विधायकों से मिलने के लिए भी समय नहीं होता था। लेकिन जब कोई बड़ा ठेकेदार आ जाए, तो वो कहते थे आने दो-आने दो। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उस सरकार ने वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया था। लेकिन प्रदेश की जनता से उस सरकार को ही चलो-चलो कह दिया।   हमारी सरकार को परमानेंट करें, विकास में कसर नहीं छोड़ेंगेमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कमलनाथ सरकार के सवा सालों में आपने सरकार-सरकार का फर्क देखा होगा। एक वो सरकार थी, जिसने भ्रष्टाचार के रिकॉर्ड बना डाले। किसानों, नौजवानों, बहन-बेटियों का पैसा खा गई। उस सरकार के पास बस एक ही काम रहा-शिवराज को गाली दो। दूसरी तरफ हमारी सरकार है, जो विकास करती है, योजनाओं का पैसा लोगों के खातों में डालती है। वो जनता के बीच जाते नहीं थे और हमारे दिल में जनता के लिए दर्द है। चौहान ने कहा कि हम विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। लेकिन आपसे निवेदन है कि अभी हमारी सरकार टेम्परेरी है। इसलिए आने वाले चुनावों में हमारी सरकार को परमानेंट बनायें, मोदी जी के हाथ मजबूत करें और धोखेबाजों का साथ छोड़ें।  

Kolar News

Kolar News 20 September 2020

  भोपाल। प्रदेश में महिला सशक्तिकरण की दिशा में कहीं भी कोई कमी भाजपा की सरकार अपनी ओर से नहीं आने देगी। 4% से अधिक ब्याज साल भर जो स्‍वसहायता समूह पर बैंक द्वारा लगाया जाता है वह भी अब उसे नहीं देना होगा, प्रदेश में स्वसहायता समूह का ब्याज अब सरकार भरेगी। सभी स्वसहायता समूह को बाजार उपलब्ध कराने के लिए भी सरकार की ओर से काम होगा। राज्य स्तरीय विपणन महासंघ बनाया जाएगा।    उक्‍त बातें मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को राजधानी भोपाल में आयोजित मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 13 हजार स्व-सहायता समूहों से जुड़े एक लाख 30 हजार से अधिक जरूरतमंद ग्रामीण परिवारों को 200 करोड़ रूपये की ऋण राशि प्रदान करते हुए कही।   सीएम चौहान ने इस ऋण वितरण के लिये वर्चुअल कार्यक्रम में भोपाल से शामिल होकर दमोह, देवास तथा शिवपुरी जिलों के हितग्राहियों से सीधा संवाद किया। उन्‍होंने कहा कि सरकार एक संस्थान या यूनिवर्सिटी बनाएगी, जहां के विशेषज्ञ तय करेंगे कि हम कैसे महिला  स्वसहायता समूहों को मदद करें और उन्हें बताएं कि कौन से काम करने से वे आर्थिक रूप से अधिक सुदृढ़ हो सकती हैं। सीएम शिवराज ने कहा,  अभी प्रदेश में स्वसहायता समूह से 33 लाख बहनों को और जोड़ना है, कहीं भी कार्य के विकास में पैसे की कमी नहीं आने दी जाएगी ।  उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में राज्य आजीविका संस्थान खड़ा किया जाएगा तो वहीं, महिलाओं के आर्थ‍िक सुदृढ़ीकरण के लिए प्रदेशभर में विशेष ट्रेनिंग प्रोग्राम चलाए जाएंगे। स्कूल और महाविद्यालयों में सफल बहनों और स्वसहायता समूहों की केस स्टडी पर अध्ययन की व्यवस्था सरकार करेगी । इसके अलावा सरकार में कैसे आवेदन देकर बड़े काम प्राप्त किए जा सकते हैं, उसके लिए भी स्वसहायता समूह को सरकार की ओर से सहायता मुहैया कराई जाएगी।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जब मुख्यमंत्री बना तो सबसे पहले मध्यप्रदेश की धरती पर यह भेद मिटाने के लिए मैंने अपना संकल्प जमीन पर उतारा । बेटी जन्म ले तो वह लखपति ही पैदा हो इसलिए सरकारी स्तर पर मैंने लाड़ली लक्ष्मी योजना को साकार रूप दिया । एक नहीं अनेकों योजनाएं उसके बाद से महिला सशक्तिकरण के लिए मैंने प्रदेश में संचालित करने का प्रयास किया जोकि आज भी सफलता से चल रही हैं।   मुख्‍यमंत्री सिंह ने कहा कि प्रदेश तब तक सशक्त नहीं हो सकता जब तक कि राज्‍य की महिलाएं हमारे प्रदेश की शक्ति व सामर्थ्य नहीं बनेंगी। हम अकेले बहुत बड़ा काम ना कर पाएंं लेकिन जब समूह में इकट्ठे होते हैं तो हम बहुत बड़े-बड़े काम कर जाते हैं इसलिए आज के समय में महिला समूह की बहुत आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हमारी परंपरा में भगवान राम के साथ पहले सीता माता का नाम आता है, श्री कृष्‍ण के साथ पहले राधा का नाम लिया जाता है और भगवान शंकर के साथ गौरीजी का नाम पहले आता है, यह तो कुछ काल ऐसा रहा जिसमें शक्तिशाली सबला,  अबला बन गई,  लेकिन अब समय बदल चुका है हमें बहनों को फिर शक्तिशाली स्वरुप में लाना है।    इस दौरान स्व सहायता समूह की मध्य प्रदेश में परफॉर्मेंस पर एक शार्ट फिल्म की स्क्रीनिंग प्रस्‍तुत की गई। स्व सहायता समूह का एक वेब पोर्टल का उद्घाटन भी मुख्यमंत्री द्वारा किया गया जो कि स्वसहायता समूह की गतिविधियों का एकल प्लेटफार्म होगा। इसके साथ ही मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सिंगल क्लिक से 70 करोड़ रुपए की रिवाल्विंग फंड एवं सामुदायिक निवेश निधि की राशि ई माध्‍यम से स्‍व सहायता समूहों को प्रदान की। इस दौरान मंच का संचालन ग्रामीण विकास विभाग के अतिरिक्‍त मुख्‍य सचिव मनोज श्रीवास्‍तव करते नजर आए।  

Kolar News

Kolar News 20 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव से पहले घमासान मचा हुआ है। भाजपा और कांग्रेस के दिग्गज नेता लगातार चुनावी दौरे कर रहे हैं और जनता तक पहुंच कर अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास कर रहे हैं। वहीं अब इस सियासी संग्राम में नेता पुत्रों की भी एंट्री हो गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय चुनाव मैदान में उतरेंगे तो वहीं सिंधिया के बेटे महा आर्यमन सोमवार को चुनाव प्रचार करेंगे।   कार्तिकेय और महाआर्यमन दोनों नेता पुत्र सांची में चुनावी समर में ताकत झोकेंगे। दोनों मंत्री प्रभु राम चौधरी के पक्ष में प्रचार करेंगे। दोनों नेता पुत्र सांची में युवा सम्मेलन में भाग लेंगे। आपको बता में मध्यप्रदेश उपचुनाव में सियासी दलों ने ताकत झोकना शुरू कर दिया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान मंदसौर, आगर और उज्जैन के दौरे पर रहेंगे हैं। वे यहां चुनावी सभाओं को संबोधित कर सरकार की योजनाओं की जानकारी देंगे।

Kolar News

Kolar News 20 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को उज्जैन में आयोजित कार्यक्रम में सिंगल क्लिक से प्रदेश के 22 लाख किसानों के खाते में प्रधानमंत्री फसल बीमा के 4 हजार 686 करोड़ रुपये की राशि अंतरित की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार किसान हितैषी है और सरकार का मुख्य केन्द्र बिन्दु किसान एवं खेती है। हर परिस्थिति में सरकार किसान के साथ खड़ी है। कार्यक्रम में मौजूद एवं वेब कास्टिंग के माध्यम से जुड़े किसानों से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने सरकार में आते ही किसानों की प्रधानमंत्री फसल बीमा की पुरानी किश्त भरने का काम किया। किसानों के हित में निर्णय लिया गया है कि मध्यप्रदेश में कोई भी मंडी बंद नहीं होगी। प्रदेश के किसान को यह सुविधा दी गई है कि वह चाहे तो अपने खेत से या अपने घर से भी अपनी उपज बेच सकता है।   उन्होंने कहा कि खेती को लाभ का धंधा बनाया जायेगा और माँ नर्मदा का जल मालवा क्षेत्र में लाकर रहेंगे। आगामी तीन वर्षों में सूक्ष्म सिंचाई के लिये हरित क्रान्ति समिति का गठन भी किया जायेगा।   किसानों की जिन्दगी को पटरी से उतरने नहीं दिया   मुख्यमंत्री ने कहा कि बाबा महाकाल की नगरी से किसानों को बीमा राशि की सौगात दी जा रही है। कोरोना संकट के कारण प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था के बाबजूद भी किसानों के हित में किसी भी तरह की कोई बाधा नहीं आने दी जायेगी। लॉकडाउन के चलते कारखाने और उद्योग-धंधे बंद हो गये। टैक्स आना बंद हो गया, फिर भी हमने ढाई सौ करोड़ रुपये का प्रीमियम किसानों का भरा। किसानों की जिन्दगी को पटरी से उतरने नहीं दिया। सहकारी बैंक का 1500 करोड़ रुपये भर रहे हैं। इसके साथ ही भावांतर के 470 करोड़ रुपये भी हम देंगे।    मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने किसानों का एक करोड़ 29 लाख मैट्रिक टन गेहूं खरीदा। गेहूं खरीदी में हमने पंजाब और हरियाणा को पीछे छोड़ दिया। 25 हजार करोड़ रुपये की राशि किसानों के खाते में हस्तांतरित की। तिवड़ा लगा चना भी खरीदा। पूर्व में 13 क्विंटल चना खरीदी की ही अनुमति थी। केन्द्रीय कृषि मंत्री से बात कर इसे 20 क्विंटल तक बढ़ाया। उपार्जन की राशि 30 हजार करोड़ रुपये किसानों के खातों में डाली। पूर्व में प्रधानमंत्री सम्मान निधि का लाभ 35 लाख किसानों को मिलता था, जिसे हमने बढ़ाकर 77 लाख तक कर दिया है।   अब हर किसान को मिलेगा किसान क्रेडिट कार्ड   मुख्यमंत्री ने बताया कि अब कोई भी किसान क्रेडिट कार्ड से वंचित नहीं रहेगा। दूध उत्पादक कृषकों के भी किसान क्रेडिट कार्ड बनाये जायेंगे। यदि कोई व्यक्ति गोवंश के लिये ऋण लेता है तो उसे जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। स्वामित्व योजना के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्र का सर्वे कर ग्रामीण व्यक्तियों को भू-अधिकार दिया जायेगा। वह अपने घर के माध्यम से ऋण ले सकेगा। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदा में 13 हजार लोगों की जान बचाई गई और फसल नुकसान का सर्वे किया गया। सोयाबीन, उड़द एवं मक्का की फसल में जो नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई की जायेगी, चाहे इसके लिये कहीं से भी उधारी लेनी पड़े। प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत का संकल्प लिया है और हमने आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का संकल्प लिया है। आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश किसानों के सहयोग से ही बन सकेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी कभी बन्द नहीं की जायेगी।   एक हजार जलवायु आधारित गाँव बनाये जायेंगे   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में एक हजार जलवायु आधारित गाँव बनाये जायेंगे। गांवों में कस्टम हायरिंग सेन्टर स्थापित किया जायेगा। अब किसानों से ही कच्चे माल का फूड प्रोसेसिंग करवायेंगे। इससे लोगों को रोजगार मिलेगा। तीन हजार हेक्टेयर क्षेत्र में जैविक खेती को प्रोत्साहित किया जायेगा। चिन्नौर का चावल एवं गाडरवाड़ा की दाल को जियोटैग दिलवायेंगे। एक जिला एक पहचान के तहत उस जिले की उद्यानिकी फसल को पहचान दिलाई जायेगी।   मुख्यमंत्री ने किसानों को फसल बीमा की राशि के प्रमाण-पत्र वितरित किये   कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने उज्जैन जिले के छह किसानों को खरीफ-2019 की फसल बीमा राशि के भुगतान का प्रमाण-पत्र वितरित किया। मुख्यमंत्री ने जयरामपुरा के बद्रीलाल को तीन लाख 13 हजार रुपये की राशि का प्रमाण-पत्र वितरित किया। इसी क्रम में तालोद के अर्जुनसिंह रघुवंशी को तीन लाख 66 हजार 24 रुपये का, जलवा के जालमसिंह सोलंकी को तीन लाख 50 हजार 60 रुपये का, उमरिया के बनेसिंह को तीन लाख दो हजार 49 रुपये का, जवासिया के करणसिंह को 66 हजार 605 रुपये तथा लिघोड़ा के आत्माराम को एक लाख छह हजार रुपये की राशि के प्रमाण-पत्र वितरित किये।

Kolar News

Kolar News 18 September 2020

  भोपाल/उज्जैन। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को उज्जैन में कालिदास अकादमी में आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश के 22 लाख 51 हजार 188 किसानों को खरीफ 2019 की फसल बीमा दावा की कुल राशि 4 हजार 688 करोड़ 83 लाख रुपये का ई-अंतरण के माध्यम से भुगतान किया। इस दौरान उन्होंने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से अन्य जिलों के किसानों से संवाद भी किया। इस अवसर पर प्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल तथा उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव उपस्थित रहे।   उज्जैन का कालिदास अकादमी में शुक्रवार को आयोजित कार्यक्रम में कोरोना संकट के कारण चुनिंदा किसानों की उपस्थिति में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के 22 लाख किसानों को फसल बीमा की 4688 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया। उन्होंने ई-अंतरण के माध्यम से यह राशि किसानों के खातों में ट्रांसफर की। कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री ने माधवनगर अस्पताल में कोरोना मरीजों के लिए बने आइसीयू वार्ड का भी लोकार्पण किया। कार्यक्रम का वेबलिंक के माध्यम से प्रदेशभर में सीधा प्रसारण किया गया।    गौरतलब है कि खरीफ 2019 में 37 लाख किसानों द्वारा फसल बीमा कराया गया था, जिसका बीमित क्षेत्र 61.09 लाख हेक्टेयर था तथा किसानों से कुल राशि 343.81 करोड़ रुपये कृषक अंश लिया गया। राज्यांश 1072.44 करोड़ एवं केन्द्रांश 1072.44 करोड़ रुपये, इस प्रकार कुल 2488.69 करोड़ रुपये प्रीमियम बीमा कंपनियों को भुगतान किया गया है।  

Kolar News

Kolar News 18 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका लगा है। पूर्व भाजपा विधायक पारुल साहू ने शुक्रवार को अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। उन्होंने कहा कि मुझे आज बहुत खुशी है कि पारुल साहू ने प्रदेश की वर्तमान तस्वीर देखते हुए, सच्चाई को पहचानते हुए आज कांग्रेस में प्रवेश लिया है। इनका परिवार कांग्रेस से जुड़ा रहा है और आज इनकी घर वापसी हुई है। इस अवसर पर कमलनाथ ने कहा कि आज जो प्रदेश की तस्वीर है सब जानते है कि किस प्रकार कलाकारी से, झूठी घोषणाओं से प्रदेश की जनता को भाजपा द्वारा गुमराह करने का काम जारी है। शिवराज जी तो अपनी जेब में नारियल रख कर चलते है, जहां मौका मिलता है फोड़ देते है और घोषणाएँ कर देते है। उन्होंने कहा कि यह चुनाव उपचुनाव नहीं है, यह प्रदेश के भविष्य का चुनाव है। इसका परिणाम प्रदेश का भविष्य सुरक्षित रखेगा। भाजपा ने कितना कलंकित प्रदेश को किया। बाबा साहेब आंबेडकर ने भी सोचा नहीं होगा कि हमारे देश के राजनीतिक क्षेत्र में इस प्रकार की अनैतिक घटना भी घटेगी। भाजपा पर बरसते हुए कमलनाथ ने कहा कि आज देश में प्रदेश का नाम बिकाऊ राजनीति के लिये जाना जाने लगा है। मुझे शर्म आती है जब देश में प्रदेश का नाम बिकाऊ राजनीति के लिए कहा जाता है लेकिन भाजपा यह समझ ले कि कुछ नेता बिक ज़रूर सकते हैं, पर प्रदेश के ईमानदार मतदाताओं के ईमान को भाजपा कभी खऱीद नहीं सकती। वह प्रयास ज़रूर करेंगे लेकिन कभी सफल नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा ने प्रदेश में सविधान और प्रजातंत्र के साथ खिलवाड़ किया है। इसका फैसला जनता इस उपचुनाव में करेगी। जनता यह भी फैसला करेगी कि हमारे प्रदेश में ऐसी राजनीति चलेगी क्या कि बोली बोलो और सरकार बना लो, फिर चुनाव का क्या फायदा? सीएम शिवराज और भाजपा पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि आज प्रदेश के नौजवानों के बारे में भाजपा नहीं सोच रही है, आज नौजवान रोजगार को लेकर भटक रहा है, आज पीडि़त किसान गुहार लगा रहा है लेकिन सिर्फ गुमराह करने का काम जारी है। शिवराज जी आज किसानों को फसल बीमा का पैसा बाटेंगे, सच्चाई यह है कि इसका प्रीमियम भी कांग्रेस सरकार ने ही जमा किया था और यह सिर्फ़ झूठी वाहवाही करेंगे क्योंकि आगे उपचुनाव लेकिन आज का मतदाता बहुत समझदार है। अहंकार और डर के खिलाफ लड़ाई लड़ रहीइस अवसर पर पारुल साहू ने कहा कि मैं आज सुरखी विधानसभा क्षेत्र की जनता की आवाज बनकर अहंकार और डर के खिलाफ लड़ाई लड़ रही हूं। आज मेरी घर वापसी हुई है और मैं अपने परिवार में वापस आयी हूँ, इसकी मुझे बेहद खुशी है।

Kolar News

Kolar News 18 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर प्रदेश में 8 लाख बच्चों को दूध वितरण आरंभ कर राज्यव्यापी पोषण महोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेश के विभिन्न स्थानों की बालिकाओं और महिलाओं से संवाद किया। उन्होंने आंगनवाड़ी संचालन, लाड़ली लक्ष्मी योजना के संबंध में जानकारी ली।   दीया सुमन ने कहा कलेक्टर बनूंगी   मुख्यमंत्री ने श्योपुर जिले की पांडोला ग्राम पंचायत की कक्षा 6वीं की विद्यार्थी दीया सुमन से बात की। लाड़ली लक्ष्मी योजना की हितग्राही दीया 6वीं कक्षा में पढ़ती है। मुख्यमंत्री के दीया से पूछा कि वह बड़ी होकर क्या बनना चाहती है। दीया ने कहा कि मामा मैं तो कलेक्टर बनूंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सबसे बड़ी ताकत प्रयास करने में है, तुम मन से कोशिश करो सफलता अवश्य मिलेगी।   खुशी से बात कर सीएम की खुशी का ठिकाना न रहा   ग्वालियर जिले के डबरा विकासखंड की सहोना ग्राम पंचायत की कक्षा 9वीं की बालिका खुशी परिहार से मुख्यमंत्री ने बातचीत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे वह समय याद आ रहा है जब रायसेन में छोटी सी बेटी को गोद में लेकर मैंने पहली एन.एस.सी. प्रदान की थी। आज यह बेटियां कक्षा 9वीं, 10वीं में पढ़ रही हैं। यह क्षण मेरे लिए व्यक्तिगत संतोष और अपार प्रसन्नता का क्षण है। खुशी ने मुख्यमंत्री से कहा कि वह बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां चाह होती है वहीं राह निकलती है।   पोषण आहार का पैकेट खिलाती भी हो या पटक देती हो   मुख्यमंत्री ने ग्वालियर जिले के डबरा विकासखंड की ग्राम पंचायत सहोना के आंगनवाड़ी जाने वाले बालक बलदेव यादव की माँ पूजा यादव से बात की। मुख्यमंत्री ने श्रीमती पूजा यादव से पूछा कि आंगनवाड़ी समय पर खुलती है या नहीं। उन्होंने यह भी पूछा कि आंगनवाड़ी से पोषण आहार का जो पैकेट मिलता है, वो बलदेव को खिलाती भी हो या कहीं पटक देती हो। उन्होंने कहा कि बच्चे के खान-पान में पोषण का ध्यान जरूरी है। मुख्यमंत्री ने पूजा सहित सभी बहनों को बच्चों का टीकाकरण समय पर कराने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि बच्चों और माताओं के स्वास्थ्य के लिए यह जरूरी है।   'राम-राम मामा'   बड़वानी जिले के पाटी विकासखंड की ग्राम पंचायत ओसाड़ा के आशीष सस्ते की माँ राहाबाई ने मुख्यमंत्री को स्क्रीन पर देखते से ही कहा 'राम-राम मामा'। मुख्यमंत्री ने राहाबाई से आशीष के खान-पान की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि अब आंगनवाड़ी में बच्चों के लिए दूध पाउडर देना भी शुरू कर रहे हैं।   कोंदो-कुटकी की पहचान देश-दुनिया में बना दी   मुख्यमंत्री ने तेजस्विनी समूह की रेखा पन्द्राम से कहा कि तुमने तो कोंदो-कुटकी की पहचान देश-दुनिया में बना दी। डिंडौरी के स्व-सहायता समूह से बातचीत के दौरान रेखा पन्द्राम ने बताया कि कोंदो कुटकी से बने बर्फी, बिस्किट आदि की बिक्री मध्यप्रदेश पर्यटन के माध्यम से हो रही है। एक यूनिट को एक माह में 20 से 25 हजार रुपये का शुद्ध लाभ होता है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के अन्य स्व-सहायता समूहों को इससे प्रेरणा लेकर स्थानीय खाद्य सामग्री से पौष्टिक आहार बनाने के लिए पहल करने को कहा।   आठ लाख बच्चों को मिलेगा दूध   कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 8 लाख कुपोषित अथवा कम पोषित बच्चों के लिए मीठे दूध पाउडर का वितरण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस से आरंभ किया जा रहा है। प्रतिदिन दूध के सेवन से यह कुपोषित बच्चे जल्द ही सुपोषित होंगे।   मुख्यमंत्री ने किया 601 आंगनवाड़ी केन्द्रों का लोकार्पण   मुख्यमंत्री ने कोरोना काल में विभिन्न गांवों में आए प्रवासी मजदूरों द्वारा निर्मित 601 आंगनवाड़ी भवनों का सिंगल क्लिक से लोकार्पण भी किया।   मुख्यमंत्री ने दिलाया पोषण संकल्प   मुख्यमंत्री ने पोषण रणनीति का प्रभावी क्रियान्वयन कर प्रदेश को एनीमिया व कुपोषण से मुक्त करा कर विकास की ओर अग्रसर करने तथा सुपोषित प्रदेश बनाने के लिए पोषण संकल्प दिलाया।

Kolar News

Kolar News 17 September 2020

भोपाल। अपने बेबाक अंदाज और बयानों के लिए सुर्खियों में रहने वाली सिंधिया समर्थक और शिवराज सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी एक बार फिर चर्चा में है। दरअसल इमरती देवी का एक वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वह ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कह रही है कि हम कलेक्टर को कहेंगे तो उतनी सीट हमें मिल जाएगी।   मध्य प्रदेश में 27 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव होने है। जिसको लेकर इन दिनों राजनेता क्षेत्रों में पहुंचकर सभाएं कर रहे हैं। ऐसे ही डबरा में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी का वीडियो वायरल हुआ है। वीडियो में इमरती देवी उपचुनाव में जीत का दावा करते हुए कह रही है कि उपचुनाव के बाद प्रदेश में भाजपा की ही सरकार बनी रहेगी। इमरती ने यह भी कहा कि भाजपा को सिर्फ 8 सीटों की जरुरत है, इतनी तो कलेक्टर ही जितवा देंगे। कांग्रेस को 27 सीटें चाहिए, तो आप ही बता दो सत्ता सरकार क्या आंखे मीचे बैठे रहेगी और वो पूरी की पूरी सीट जीत जाएंगे। सत्ता सरकार का इतना बहुमत होता है कि वो कलेक्टर से कहकर जो सीट चाहे जीत सकते है। इमरती का वीडियो वायरल होने के बाद कांग्रेस आक्रामक हो गई है।इमरती देवी ने वीडियो को बताया गलतवीडियो वायरल होने के बाद इमरती देवी ने वीडियो को गलत बताया है। उन्होंने कहा कि मैंने कोई गलत बात नहीं की है। सरकार काम कर रही तो चुनाव जीतेगी। अभी आचार संहिता लागू नहीं हुई है, लिहाजा उसके उल्लंघन का सवाल नहीं उठता।

Kolar News

Kolar News 17 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश के दमोह से सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रहलाद सिंह पटेल कोरोना संक्रमित पाए गए है। उन्होंने खुद ट्वीट कर खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी है। उनकी जांच रिपोर्ट बुधवार की देर रात आई। जिसके बाद मंत्री आइसोलेशन में चले गए हैं। उन्होंने संपर्क में आने वाले सभी व्यक्तियों को सतर्कता बरतने की सलाह दी है। केंद्रीय राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने गुरुवार को जारी एक बयान में कहा, कल रात्रि में मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जो लोग मुङो मंगलवार को मिले थे उन्हें सावधानी बरतनी चाहिए। मंत्री के संपर्क में आने वाले स्टाफ और अन्य लोग भी अब कोरोना की जांच कराने की तैयारी में हैं।

Kolar News

Kolar News 17 September 2020

भोपाल। राजस्थान प्रदेश में अब निजी चिकित्सा संस्थानों और लैबों में कोविड-19 की जांच की निर्धारित दरें कम की गई है। अब यह जांच 1200 रुपए में हो सकेगी। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने राजस्थान की तर्ज पर प्रदेश सरकार से भी कोविड 19 की जांच दर कम करने की मांग की है।   कमलनाथ ने बुधवार को ट्वीट कर प्रदेश सरकार से राजस्थान की तरह कोरोना की जांच दर निर्धारित करने की मांग की है। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा ‘राजस्थान सरकार ने एक फैसला लेते हुए निर्णय लिया है कि अब प्राइवेट हॉस्पिटल और लैब में कॉविड-19 की  जांच अब मात्र 1200 रुपए में होगी। मध्यप्रदेश की सरकार को भी जनहित में ऐसा ही फ़ैसला लेना चाहिये। प्रदेश में जाँच की दर अभी ज़्यादा है। जाँच दर कम होने से आम आदमी भी निजी लेब में अपनी जाँच करा सकेगा।

Kolar News

Kolar News 16 September 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश के दमोह जिले में मंगलवार देर शाम को बारिश के साथ आकाशीय बिजली गिरने की तीन घटनाओं में कुल सात लोगों की मौत हो गई है। इन मृतकों में एक ही परिवार के तीन सदस्य भी शामिल हैं, जबकि एक गंभीर रूप से घायल बताया जा रहा है।   दमोह जिले के पुलिस अधीक्षक हेमंत चौहान ने बताया कि दमोह जिले में आकाशीय बिजली गिरने से सात लोगों की मौत हुई है। ये घटनाएं जिले के तीन अलग-अलग गांवों में हुई हैं। तेजगढ़ पुलिस थानांतर्गत ग्राम छोटी लमती गांव में एक खेत में काम कर रहे लोगों पर मंगलवार की शाम आकाशीय बिजली गिरने से पांच लोगों की मौत हुई है, जबकि एक घायल हुआ है। मरने वालों में लमती गांव के लखन यादव (35), उसकी पत्नी सावित्री बाई (32) एवं उनके बेटे नरेंद्र (7) और जालम पुत्र रामलाल आदिवासी (21) एवं प्रेमबाई आदिवासी (50) शामिल हैं। हादसे के वक्त ये सभी लोग खेत में काम कर रहे थे। इस हादसे में लखन यादव का दूसरा बेटा छोटू यादव (12) गंभीर रूप से घायल हुआ है। इसके अलावा, पटेरा पुलिस थाना अंतर्गत ग्राम सतरिया में वज्रपात होने से प्रीतम (38) की मौत हुई है, जबकि कुंवरपुर गांव में आकाशीय बिजली गिरने से गोपाल पटेल (48) की भी आज मौत हो गई।   सीएम शिवराज ने जताया दुख बिजली गिरने की घटना में मृतकों के लिए सीएम शिवराज ने दुख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘ दमोह जिले में आकाशीय बिजली गिरने से हुई। 7 लोगों की आकस्मिक मृत्यु का दु:खद समाचार मिला है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे दिवंगत आत्माओं को शांति दें और परिजनों को इस वज्रपात को सहने की क्षमता दें।   पूर्व सीएम ने भी दुख प्रकट कियापूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने वज्रपात की घटना पर दुख जताते हुए मृतकों के परिजनों के लिए संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट कर घटना पर दुख प्रकट करते हुए कहा ‘प्रदेश के दमोह जिले में एक दुखद हादसे में आकाशीय बिजली गिरने से 7 लोगों की अकाल मृत्यु होने की जानकारी मिली है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे दिवंगत आत्माओं को शांति और पीछे परिजनों को इस दु:ख  को सहने की शक्ति प्रदान करे।

Kolar News

Kolar News 16 September 2020

ग्वालियर। ग्वालियर पूर्व के कांग्रेस के टिकट को लेकर जबर्दस्त घमासान मचा हुआ है। दावेदारी कर रहे मितेन्द्र सिंह को कमलनाथ ने अपने ग्वालियर दौरे के पहले भोपाल बुला लिया है। इसके साथ ही अब कमलनाथ के 18 सितम्बर के दौरे पर दावेदार जमकर शक्ति प्रदर्शन भी करने के मूड़ में है।    दरअसल, मध्यप्रदेश विधानसभा की रिक्त 27 सीटों के लिए होने वाले उपचुनावों के लिए जोर-शोर से तैयारियां शुरू हो गई हैं। चुनाव आयोग के साथ ही प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियां कांग्रेस और भाजपा भी अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी हैं। इन 27 सीटों में ग्वालियर पूर्व की सीट भी शामिल है। कांग्रेस ने उपचुनाव के लिए कमर कस ली है। कांग्रेस ने जिले में डबरा और ग्वालियर सीट पर टिकटों की घोषणा कर दी गई है, जबकि एकमात्र पूर्व विधानसभा को होल्ड पर रखा गया है।    दरअसल, पेंच यह है कि सिंधिया राजघराने के करीब रहे मितेन्द्र पूर्व के कुछ समय पहले तक टिकट के प्रबल दावेदार थे। बताया गया कि भोपाल से कमलनाथ के ऑफिस से आये कॉल के बाद मितेन्द्र भोपाल पहुंच गए हैं। बताया जा रहा है कि उनकी कमलनाथ के साथ उप चुनाव की टिकट को लेकर बैठक हुई। अब कमलनाथ 18 सितम्बर को ग्वालियर के दौरे पर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस दौरान कांग्रेस के दावेदार जमकर शक्ति प्रदर्शन कर सकते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सामने जनसमर्थन दिखाने के लिये भीड़ जुटाने की मशक्कत सभी ने शुरू कर दी है।

Kolar News

Kolar News 16 September 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा का आगामी सत्र 21 सितम्बर से शुरू होने जा रहा है। इसको लेकर विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा की अध्यक्षता में मंगलवार को सुबह 11 बजे सर्वदलीय बैठक हुई। बैठक में सदन के नेता एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रतिपक्ष के नेता एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ, संसदीय कार्यमंत्री नरोत्तम मिश्रा, नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेन्द्र सिंह, पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस विधायक विजयलक्ष्मी साधौ, पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा, विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह एवं स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव मो. सुलेमान सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।    सर्वदलीय बैठक में मुख्यत: कोविड-19 से प्रभावित 39 वर्तमान विधानसभा सदस्यों के साथ ब्यावरा विधायक गोवर्धन सिंह दांगी के निधन को देखते हुए विचार-विमर्श किया गया और सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि कोविड-19 के चलते विधानसभा का प्रस्तावित सत्र केवल एक दिन 21 सितम्बर को आवश्यक वित्तीय एवं विधायी कार्य सीमित उपस्थिति के साथ संपन्न होगा। इस दौरान निधन उल्लेख सहित शासकीय कार्य किये जाएंगे।    बता दें कि विधानसभा का प्रस्तावित सत्र तीन दिवसीय 21, 22 व 23 सितम्बर को संपन्न होना था। तीनों दिन के लिए विधानसभा सचिवालय को प्रश्नकाल, ध्यानाकर्षण, शून्यकाल की सूचनाएं प्राप्त हुई हैं। सर्वदलीय बैठक में निर्णय लिया गया है कि विधानसभा सचिवालय को प्राप्त सभी सूचनाओं के उत्तर सदस्यों को लिखित रूप में दिये जाएंगे। सत्र में दोनों पक्षों के सहमति के आधार पर उपस्थिति-गण पूर्ति करते हुये पूर्ण होगी। कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुये विधानसभा सचिवालय स्थित एलोपैथिक चिकित्सालय में कोरोना का रेपिड टेस्ट स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से सभी सदस्यों के साथ विधानसभा सचिवालय के समस्त अधिकारियों-कर्मचारियों का अनिवार्य रूप से किया जाएगा।   बैठक में अपर मुख्य सचिव मो. सुलेमान द्वारा कोविड-19 के संबंध में प्रस्तुतिकरण दिया गया, साथ ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा वैकल्पिक व्यवस्था के संबंध में जानकारी दी गई।

Kolar News

Kolar News 15 September 2020

राजगढ़। ब्यावरा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी का बीती रात गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया, उनका पार्थिव देह ब्यावरा लाया जा रहा है,उनका अंतिम संस्कार पैतृक गांव में किया जाएगा। बतादें कि विधायक श्री दांगी कोरोना संक्रमण से पीड़ित थे, जिसके चलते भोपाल के चिरायु अस्पताल में उपचार किया जा रहा था,लेकिन 8 सितम्बर को स्वांस लेने में ज्यादा तकलीफ आ रही थी, जिससे उन्हें दिल्ली के गुरुग्राम मेदांता अस्पताल रेफर किया गया था। दूसरे दिन उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई, लेकिन स्वास्थ लगातार बिगड़ता चला गया और बीती रात 1ः30 बजे उनका दुखद निधन हो गया। विधायक श्री दांगी का पार्थिव देह ग्वालियर के रास्ते ब्यावरा लाया जा रहा है, जहां उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार किया जाएगा। वही माना जा रहा है कि अब मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव में 27 की जगह 28 सीटों पर चुनाव होंगे। श्री दांगी के निधन से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है।

Kolar News

Kolar News 15 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले की ब्यावरा विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायन गोवर्धन दांगी (63 वर्ष) का मंगलवार तडक़े निधन हो गया। पिछले दिनों विधायक दांगी  कोरोना संक्रमित पाए गए थे। लगातार तबीयत बिगडऩे पर उन्हें ईलाज के लिए दिल्ली के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां आज सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली। गोवर्धन दांगी के निधन का समाचार मिलते ही पार्टी में शोक की लहर फैल गई है। कांग्रेस नेता उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं। मप्र के मुख्यमंत्री और भाजपा नेताओं ने भी विधायक दांगी के निधन शोक व्यक्त किया है।   सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस विधायक गोवर्धन दांगी के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘मध्यप्रदेश की ब्यावरा विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक श्री गोवर्धन सिंह दांगी जी के निधन का समाचार मिला। ईश्वर से दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान देने की प्रार्थना करता हूं। श्रद्धांजलि!   भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कांग्रेस विधायक दांगी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए शोकाकुल परिवार के प्रति संवेदना जताई है। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा ‘मध्य प्रदेश की ब्यावरा विधानसभा से कांग्रेस विधायक श्री गोवर्धन सिंह दांगी जी के निधन का दु:खद समाचार मिला। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दे एवं शोक संतप्त परिवार को इस दु:ख को सहने की शक्ति दे।   गृहमंत्री नरोत्तम ने अपने शोक संदेश में कहा ‘ब्यावरा से कांग्रेस विधायक श्री गोवर्धन सिंह दांगी जी के निधन का दुखद समाचार मिला। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को यह गहन दुख सहने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना करता हूँ।

Kolar News

Kolar News 15 September 2020

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय भोपाल के ग्राम मुगालिया कोट, विदिशा रोड में निर्मित नए भवन का वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से लोकार्पण किया। लोकार्पण कार्यक्रम की अध्यक्षता राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने लखनऊ से वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा की। कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, सांसद विष्णुदत्त शर्मा, सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर उपस्थित हुए।  इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हिन्दी विश्वविद्यालय द्वारा चिकित्सा शिक्षा पाठ्यक्रम हिन्दी में प्रारंभ करने और अभियांत्रिकी की हिन्दी में प्रकाशित पुस्तकों को मान्यता के संबंध में प्रयास किए जाएंगे। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया से पूर्व में भी हिन्दी में चिकित्सा शिक्षा पाठ्यक्रम की अनुमति प्राप्त करने के प्रयास किए गए थे। यह प्रयास पुन: करते हुए ग्रामीण क्षेत्र से हिन्दी माध्यम से स्कूली शिक्षा प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। लोकार्पण कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के सफल अमलीकरण में मध्यप्रदेश अन्य राज्यों का दिशा दर्शन करें, इसके लिए शिक्षा व्यवस्था में बदलाव करना होगा। परिवर्तन के लिए शिक्षकों, सिखाने वालों की सोच में बदलाव जरूरी है। उन्होंने कहा कि हिंदी और विज्ञान के शिक्षकों को अन्य विषयों की शिक्षा के लिए सक्षम बनाना होगा। इसी अनुरूप शिक्षक प्रशिक्षण की व्यवस्था और पाठ्यक्रम तैयार करने होंगे। सबकी रुचि के अनुसार सब को शिक्षा देने में प्रथम पांच वर्षों की शिक्षा व्यवस्था बहुत महत्वपूर्ण है। शिक्षा में शिक्षण कैसे होगा, क्या पढ़ाएंगे, प्रकृति कैसी होगी, हमारे भ्रमण कार्यक्रम कैसे होंगे, कुटीर उद्योग कैसे होंगे, ऐसे अनेक विषय कैसे शामिल होंगे, इस पर चिंता और चिंतन कर क्रियान्वयन की योजना बनानी होगी। राज्यपाल ने नए भवन के लिए बधाई देते हुए कहा कि यह ईंट-चूने से बनी इमारत नहीं है, विद्यार्थियों के भावी जिंदगी के निर्माण का केंद्र है। प्रयास किया जाए कि यहां का वातावरण, प्रवृत्ति ऐसी हो, जहां विद्यार्थी को जो चाहिए वह मिले, दुनिया भर की जानकारी, संस्कृति और हमारी परंपरा, जीवन मूल्यों के ज्ञान के साथ विद्यार्थी परिसर से बाहर जाए। उन्होंने कहा कि हिंदी को वैश्विक मान्यता प्रदान करने के लिए चिकित्सा, तकनीक ज्ञान से समृद्ध किया जाए। उसमें अहिंदी भाषी शब्दों का खुलकर इस्तेमाल हो। भारतीय परंपरा में विकसित लोक विद्या को उच्च शिक्षण संस्थाओं की व्यवसायिक शिक्षा में शामिल किया जाए। प्रदेश की सांस्कृतिक समृद्धि और विविधता वाले पर्यटन स्थलों के विषय में अच्छी पाठ्य सामग्री तैयार कराने में विश्वविद्यालय सहयोग करें।मातृभाषा में आसान होता है ज्ञान को आत्मसात करनामुख्यमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार चिकित्सा और अभियांत्रिकी सहित अन्य तकनीकी विषयों की शिक्षा भी हिंदी में उपलब्ध करवाने का प्रयास करेगी। विद्यार्थी मातृभाषा में ग्रहण की गई ज्ञान को गहराई से आत्मसात कर पाते हैं। मध्यप्रदेश में हिंदी विश्वविद्यालय प्रारंभ करने का कार्य कोई कर्मकांड नहीं था। यह हिंदी की प्रतिष्ठा को बढ़ाने के लिए वैश्विक स्तर पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी द्वारा किए गए प्रयासों की श्रृंखला में एक नया कदम था। प्रदेश सरकार ने हिंदी विश्वविद्यालय प्रारंभ करने का निर्णय सुविचारित सोच के साथ लिया था जो शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के प्रतिभावान और क्षमतावान हिंदी माध्यम में शिक्षित, दीक्षित विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के स्तर पर हिंदी में पढ़ाई का अवसर उपलब्ध करवाने वाला कदम था।विकसित देशों में भी सम्मान का भाव भरती है हिन्दीमुख्यमंत्री ने कहा कि हिंदी का ज्ञान किसी हीनता का परिचायक नहीं। हिंदी सम्मान की भाषा है। हम अंग्रेजी के गुलाम कतई नहीं हो सकते। ब्रिटेन और अमेरिका जैसे विकसित राष्ट्रों में भी कोई व्यक्ति हिंदी में बात कर सम्मानित महसूस करता है और उसे सुनने वाले भी सम्मान के भाव से देखते हैं। यह धारणा गलत है कि अंग्रेजी के बिना प्रगति नहीं हो सकती। आज ऐसी मानसिकता बना दी गई है कि अंग्रेजी में बोलना प्रतिष्ठा की बात समझी जाती है। हिन्दी भारत माता के माथे की बिंदी है। निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल। हिन्दी दुनिया की तीसरी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है। संयुक्त राष्ट्र संघ में अटल बिहारी वाजपेयी जी ने हिन्दी का उपयोग किया। उनकी हिन्दी मंत्रमुग्ध कर देती है। उनके भाषण हो अथवा काव्य पाठ, दोनों ही अद्भुत हैं। हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हिंदी की प्रतिष्ठा को दुनिया में स्थापित करने का कार्य किया है।मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हिंदी विश्वविद्यालय में अधिकांश ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थी प्रवेश ले रहे हैं। इसलिए हम यह कह सकते हैं कि हिंदी विश्वविद्यालय अपनी स्थापना के उद्देश्य में सफल है। विद्यार्थियों में प्रतिभा की कमी नहीं होती। अंग्रेजी की वजह से भाषा का बोझ उनके लिए ज्ञान अर्जित करने में बाधक है।हिन्दी को विकृति से बचाना हम सबका दायित्वमुख्यमंत्री ने हिन्दी के विकृत हो रहे स्वरूप का उल्लेख करते हुए कुलपति रामदेव भारद्वाज से अपेक्षा की कि वे हिन्दी को विकृत होने से बचाने के संबंध में शोध कार्य प्रारंभ करवाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिन्दी में पाठकों की संख्या भी बढ़ रही है। हिन्दी की पत्रिकाएं और अखबार देश-विदेश में रूचि के साथ पढ़े जाते हैं। हिंदी का प्रयोग निरंतर बढ़ रहा है। यह भी जरूरी है कि हम सभी मिलकर  हिंदी की स्वीकार्यता बढ़ाएं। हिन्दी की प्रतिष्ठा को अधिक से अधिक बढ़ाने का दायित्व हिंदी विश्वविद्यालय का है और मुझे विश्वास है कि इसे निभाते हुए विश्वविद्यालय निरंतर प्रगति पथ पर आगे बढ़ेगा।  

Kolar News

Kolar News 14 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मंत्रालय में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कोरोना प्रबंधन की समीक्षा की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर से प्रदेश तक कोरोना महामारी की गंभीर होती स्थिति के कारण सजगता और सतर्कता जरूरी है। कोरोना संक्रमण की घातकता को समझना और उससे डरना आवश्यक है। तभी हर व्यक्ति कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सावधानी का गंभीरता से पालन करेगा।    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना नियंत्रण और प्रबंधन के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। चिकित्सक और पैरामेडिकल स्टॉफ भी प्राण-प्रण से लगे हैं। अभी कोरोना की दवा उपलब्ध नहीं है, इसमें समय लगना संभावित है। अत: समाज को इस दिशा में और अधिक गंभीर होना होगा। सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं को सक्रिय होकर जन-जन को कोरोना से बचाव की सावधानियां अपनाने के लिए प्रेरित करना होगा। यह वातावरण बनाना होगा कि यह मजबूरी नहीं अपने बचाव और सुरक्षा के लिए जरूरी है।    व्यापारियों की पहल सराहनीय   मुख्यमंत्री ने भोपाल के न्यू मार्केट और दस नंबर क्षेत्र तथा इंदौर के व्यापारियों द्वारा दुकानें खोलने का समय स्वयं सीमित करने और भीड़ नियंत्रण के लिए की गई पहल की सराहना की। उन्होंने कहा कि सावधानियां बरतने के इस प्रेरणादायी व्यवहार को राज्य शासन प्रोत्साहित करेगा।   सबकी सहमति से बनेगी दीर्घकालिक रणनीति   मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की गंभीर होती स्थिति और सामाजिक व आर्थिक गतिविधियां लंबे समय तक बंद नहीं कर पाने की बाध्यता को देखते हुए दीर्घकालीक रणनीति बनाना आवश्यक है। उन्होंने मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस को उप समूह बनाकर इस पर कार्य करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सर्वसम्मति से रोडमैप विकसित किया जाए। इसके लिए धर्मगुरुओं, सामाजिक, राजनैतिक, व्यापारिक संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं से विचार-विमर्श कर कार्ययोजना बनाई जाए। कोरोना प्रबंधन के लिए शासकीय सहित निजी अस्पतालों के प्रबंधन, चिकित्सा महाविद्यालयों, विषय-विशेषज्ञों से संवाद कर रणनीति विकसित करने के निर्देश भी दिए गए। आवश्यकता होने पर जिलों की विशेष परिस्थितियों को देखते हुए डिस्ट्रिक्ट स्पैसिफिक रणनीति विकसित की जाए।   बैठक में जानकारी दी गई कि प्रदेश में कोरोना रिकवरी रेट 75 प्रतिशत है, पर सक्रिय प्रकरणों की संख्या बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन आदि जिलों की जानकारी लेते हुए सजगता एवं सावधानियां बरतने के निर्देश दिये। बैठक में अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या व प्रबंधन, संचालित फीवर क्लीनिक, जिला स्तरीय कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेंटर के कार्यों की समीक्षा भी की गई। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्म्द सुलेमान उपस्थित थे। विभिन्न जिलों के प्रभारी अधिकारी वीडियो कान्फ्रेंसिंग द्वारा बैठक में शामिल हुए।

Kolar News

Kolar News 14 September 2020

  भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव के मद्देनजर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ लगातार बैठके और जनसभा मेंं भाग ले रहे हैं। सोमवार को उन्होंने अपने निवास पर मध्यप्रदेश किसान कांग्रेस के जिला अध्यक्षों और प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक ली। बैठक में कमलनाथ भाजपा पर जमकर बरसें। उन्होंने भाजपा पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि किसानों की खुशहाली से ही बाजारों में रोशनी है, यह रोशनी बनी रहे, इसके लिए हमने किसानों का ऋण माफ कर 27 लाख किसानों को कर्ज मुक्त किया। किसानों की ऋण माफ़ी का कार्य जारी था लेकिन सौदा करकर, बोली लगाकर कांग्रेस की किसान हितैषी सरकार को गिरा दिया गया।   कांग्रेस पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश की 70 प्रतिशत आबादी कृषि आधारित है। इसलिए जरूरी है कृषि क्षेत्र खुशहाल हो। हमारे सामने यह सबसे बड़ी चुनौती थी। मेरा सपना था कि कृषि क्षेत्र से पढ़ा-लिखा नौजवान जुड़े। हमने प्रयास किया कि किसानों की उपज दलालों के हाथों में ना जाए। उन्हें बेहतर दाम मिले , इसके लिए मैंने मुख्यमंत्री के तौर पर सभी जिला कलेक्टरों से व्यक्तिगत बातचीत कर उन्हें निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जो प्रदेश हमारे हाथों में भाजपा ने सौंपा था, उसमें किसानों की आत्महत्या, बेरोजगार, महिलाओं पर अत्याचार में मप्र नंबर वन था। प्रदेश की इस पहचान को बदलने के लिए हमने शुरुआत की। हर क्षेत्र में, चाहे मिलावट खोरी हो, माफिया हो या नकली खाद बेचने वाले हो, इन सब के खिलाफ हमारी सरकार ने अभियान चलाया। कमलनाथ ने कहा कि भाजपा सरकार में हमारे प्रदेश में लोग निवेश नहीं करते थे क्योंकि हमारा प्रदेश भ्रष्टाचार में भी देश में शीर्ष पर था। इस माहौल को हमने 15 माह के कम समय में ही बदल दिया था। निवेशकों का विश्वास वापस लौटा था और वे निवेश करने के लिए उत्सुक हुए थे।   बैठक के दौरान उपचुनाव में भाजपा सरकार को उखाड़ फेंकने की  बात कहते हुए कमलनाथ ने कहा कि  यह उप चुनाव मध्यप्रदेश के भविष्य का चुनाव है। किसानों, गरीबों और इस प्रदेश की जनता का भविष्य इन उपचुनावों से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि किसान कांग्रेस के सभी लोग अपने उत्साह, जोश और निष्ठा से इन उपचुनावो में कांग्रेस प्रत्याशियों को विजय दिलाने में जुट जाये। प्रदेश के किसान भाइयों से आव्हान करे कि इन उपचुनावों में प्रदेश से इस किसान विरोधी भाजपा सरकार को उखाड़ फेंके। इस मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव ,पूर्व कृषि मंत्री सचिन यादव एवं मध्यप्रदेश किसान कांग्रेस के दिनेश गुर्जर ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में किसान कांग्रेस के पदाधिकारी उपस्थित थे।  

Kolar News

Kolar News 14 September 2020

इंदौर। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने उपचुनाव को लेकर राजनीतिक दौरे शुरू कर दिए है। रविवार को वे सांवेर के अर्जुन बरोदा गांव में पहुंचे जहां उन्होंने हुंकार भरते हुए भाजपा पर जमकर निशाना साधा। कमलनाथ ने साँवेर के कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू के समर्थन में विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए भाजपा पर सौदेबाजी का सरकार गिराने का आरोप लगाते हुए अपनी सरकार के दौरान किए गए कार्यों को गिनाया।   कमलनाथ ने कहा कि " मैं प्रदेश की जनता से और सांवेर की जनता से पूछना चाहता हूं कि वह बताएं कि क्या माफियाओं के खिलाफ अभियान छेड़ मैंने कोई पाप किया, क्या मिलावट के खिलाफ युद्ध छेड़ मैंने कोई गलती की, क्या लोगों को शुद्ध दूध पिला कर मैंने कोई गलती की। क्या यह मेरा गुनाह है,जो सौदेबाजी कर मेरी सरकार गिरा दी गई? उन्होंने कहा कि क्या प्रदेश की पहचान माफिय़ाओं से होगी, मिलावटखोरों से होगी। इस अवसर पर कमलनाथ ने कहा कि सांवेर में नर्मदा लाने की शुरुआत हमारी सरकार ने की, उस पर काम हमने शुरू किया लेकिन यह लोग आज सिर्फ घोषणा की राजनीति कर जनता को गुमराह करने में लगे हुए हैं। यह लोग सिर्फ घोषणा की, कलाकारी की राजनीति जानते हैं। अभी अगले 6 महीने तक ये लोग कई झूठी घोषणाएं करेंगे। मुझे लगा था कि शिवराज जी इतने वर्षों बाद अब झूठी घोषणाओं से बाहर जाएंगे लेकिन अभी भी उनका झूठ बोलने का काम निरंतर जारी है। मैं कभी घोषणा नहीं करता, मैंने तो मुख्यमंत्री रहते भी एक भी घोषणा नहीं की। इनको सडक़ पर रोजगार को लेकर भटकता नौजवान-युवा दिखाई नहीं देता, इनकी आंखें बंद है, इनको मदद के लिए चिल्लाता किसान दिखाई नहीं देता क्योंकि इनके कान बंद है, इनका तो सिर्फ मुंह चालू है। मुंह चलाने और सरकार चलाने में बड़ा अंतर है।   कमलनाथ ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज प्रदेश की इन्होंने क्या हालत कर दी, तस्वीर आपके सामने है। आपने कभी गुजरात, केरल या तमिलनाडु का मजदूर देखा है लेकिन आपने टीवी पर भी देखा होगा तो मध्यप्रदेश का मजदूर देखा होगा। इन्होंने अपने 15 वर्ष की सरकार में मध्यप्रदेश को सबसे ज्यादा मजदूरों का उत्पादन वाला राज्य बना कर रख दिया। इन्होंने अपनी 15 वर्ष की सरकार में मुझे कैसा प्रदेश सौंपा। बेरोजगारी में नंबर वन, महिलाओं से अत्याचार में नंबर वन, किसानों की आत्महत्याओं में नंबर वन। हमारी सरकार को तो काम करने के लिए मात्र साढे 11 माह ही मिले, इसमें भी हमने अपनी नीति और नियत का परिचय दिया।   प्रशासन पर कटाक्ष करते हुए कमलनाथ ने कहा कि जो अधिकारी आज भाजपा का एजेंट बनकर काम कर रहे हैं, भाजपा का बिल्ला जेब में लिए फिर रहे हैं, उनसे भी हम समय आने पर हिसाब किताब लेंगे। आज हमारे सामने कृषि क्षेत्र की चुनौती है, कैसे आर्थिक मजबूती आए। आज इंदौर का बाजार दिल्ली से नहीं चलता, यह हमें देखना होगा। आज हमारा युवा-नौजवान भटक रहा है, यह चित्र सबके सामने है। आप कमलनाथ का भले साथ मत देना लेकिन सच्चाई का साथ ज़रूर देना क्योंकि यह उपचुनाव नहीं है, यह तो प्रदेश के भविष्य का चुनाव है। प्रदेश के नौजवानों के भविष्य को हमें सुरक्षित रखना है।   हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय

Kolar News

Kolar News 13 September 2020

इंदौर। मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने उपचुनाव को लेकर राजनीतिक दौरे शुरू कर दिए है। रविवार को वे सांवेर के अर्जुन बरोदा गांव में पहुंचे जहां उन्होंने हुंकार भरते हुए भाजपा पर जमकर निशाना साधा। कमलनाथ ने साँवेर के कांग्रेस प्रत्याशी प्रेमचंद गुड्डू के समर्थन में विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए भाजपा पर सौदेबाजी का सरकार गिराने का आरोप लगाते हुए अपनी सरकार के दौरान किए गए कार्यों को गिनाया।   कमलनाथ ने कहा कि " मैं प्रदेश की जनता से और सांवेर की जनता से पूछना चाहता हूं कि वह बताएं कि क्या माफियाओं के खिलाफ अभियान छेड़ मैंने कोई पाप किया, क्या मिलावट के खिलाफ युद्ध छेड़ मैंने कोई गलती की, क्या लोगों को शुद्ध दूध पिला कर मैंने कोई गलती की। क्या यह मेरा गुनाह है,जो सौदेबाजी कर मेरी सरकार गिरा दी गई? उन्होंने कहा कि क्या प्रदेश की पहचान माफिय़ाओं से होगी, मिलावटखोरों से होगी। इस अवसर पर कमलनाथ ने कहा कि सांवेर में नर्मदा लाने की शुरुआत हमारी सरकार ने की, उस पर काम हमने शुरू किया लेकिन यह लोग आज सिर्फ घोषणा की राजनीति कर जनता को गुमराह करने में लगे हुए हैं। यह लोग सिर्फ घोषणा की, कलाकारी की राजनीति जानते हैं। अभी अगले 6 महीने तक ये लोग कई झूठी घोषणाएं करेंगे। मुझे लगा था कि शिवराज जी इतने वर्षों बाद अब झूठी घोषणाओं से बाहर जाएंगे लेकिन अभी भी उनका झूठ बोलने का काम निरंतर जारी है। मैं कभी घोषणा नहीं करता, मैंने तो मुख्यमंत्री रहते भी एक भी घोषणा नहीं की। इनको सडक़ पर रोजगार को लेकर भटकता नौजवान-युवा दिखाई नहीं देता, इनकी आंखें बंद है, इनको मदद के लिए चिल्लाता किसान दिखाई नहीं देता क्योंकि इनके कान बंद है, इनका तो सिर्फ मुंह चालू है। मुंह चलाने और सरकार चलाने में बड़ा अंतर है।   कमलनाथ ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज प्रदेश की इन्होंने क्या हालत कर दी, तस्वीर आपके सामने है। आपने कभी गुजरात, केरल या तमिलनाडु का मजदूर देखा है लेकिन आपने टीवी पर भी देखा होगा तो मध्यप्रदेश का मजदूर देखा होगा। इन्होंने अपने 15 वर्ष की सरकार में मध्यप्रदेश को सबसे ज्यादा मजदूरों का उत्पादन वाला राज्य बना कर रख दिया। इन्होंने अपनी 15 वर्ष की सरकार में मुझे कैसा प्रदेश सौंपा। बेरोजगारी में नंबर वन, महिलाओं से अत्याचार में नंबर वन, किसानों की आत्महत्याओं में नंबर वन। हमारी सरकार को तो काम करने के लिए मात्र साढे 11 माह ही मिले, इसमें भी हमने अपनी नीति और नियत का परिचय दिया।   प्रशासन पर कटाक्ष करते हुए कमलनाथ ने कहा कि जो अधिकारी आज भाजपा का एजेंट बनकर काम कर रहे हैं, भाजपा का बिल्ला जेब में लिए फिर रहे हैं, उनसे भी हम समय आने पर हिसाब किताब लेंगे। आज हमारे सामने कृषि क्षेत्र की चुनौती है, कैसे आर्थिक मजबूती आए। आज इंदौर का बाजार दिल्ली से नहीं चलता, यह हमें देखना होगा। आज हमारा युवा-नौजवान भटक रहा है, यह चित्र सबके सामने है। आप कमलनाथ का भले साथ मत देना लेकिन सच्चाई का साथ ज़रूर देना क्योंकि यह उपचुनाव नहीं है, यह तो प्रदेश के भविष्य का चुनाव है। प्रदेश के नौजवानों के भविष्य को हमें सुरक्षित रखना है।   हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय

Kolar News

Kolar News 13 September 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक क्षेत्रीय विधायक के फर्जी हस्ताक्षकर कर विधानसभा में प्रश्न लगाने का मामला सामने आया है। इस मामले में विधायक की शिकायत पर भोपाल के अरेरा हिल्स थाने में अज्ञात आरोपित के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुटी है।   अरेरा हिल्स थाने के नगर पुलिस अधीक्षक रजत सकलेचा ने बताया कि शनिवार देर रात दतिया जिले सेवड़ा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक घनश्याम सिंह ने शिकायत दर्ज कराई है कि उनके फर्जी हस्ताक्षर कर किसी व्यक्ति ने उनके नाम से विधानसभा में एक प्रश्न लगाया। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर लिया है और मामले की जांच की जा रही है।    विधायक घनश्याम सिंह ने अपनी शिकायत में बताया है कि उनके नाम से किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा विधानसभा में जमीन पर अतिक्रमण संबंधित एक प्रश्न लगाया गया था। विधानसभा में प्रश्न की जांच के दौरान विधानसभा के उपसचिव को हस्ताक्षर को लेकर शंका हुई, तो उन्होंने विधायक घनश्याम सिंह से इस संबंध में जानकारी ली, जिसमें उन्होंने इस तरह का प्रश्न लगाने से साफ इनकार कर दिया। इसके बाद विधायक ने तत्काल पुलिस को मामले की जानकारी दी। पुलिस ने विधायक के हस्ताक्षर का नमूना लेकर प्रश्न में किये गए हस्ताक्षर से मिलान किया तो वह फर्जी निकला। इसके बाद पुलिस ने आपराधिक धाराओं में प्रकरण दर्ज कर अज्ञात आरोपित की तलाश शुरू की।

Kolar News

Kolar News 13 September 2020

मुरैना। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सुमावली के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। कोई भी गरीब भूखा नहीं रहेगा। सभी गरीब परिवारों को चिन्हित कर राशन दिया जाएगा। प्रदेश सरकार हर गरीब को ढूंढ-ढूंढक़र खाद्यान्न पर्चियाँ देगी और उन्हें एक रुपये प्रतिकिलो की दर से राशन मुहैया करायेगी। इसके लिये आगामी 16 सितम्बर को महा अभियान शुरू होगा। उन्होंने यह बातें शनिवार को मुरैना जिले के सुमावली विधानसभा के छैरा ग्राम में आयोजित हुए विकास कार्यों के भूमिपूजन एवं लोकार्पण समारोह को संबोधित करते हुए कही।   उन्होंने केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर तथा राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया और प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री ऐदल सिंह कंसाना के साथ लगभग 68 करोड़ रुपये लागत के विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि लगभग 8500 करोड़ की लागत से चम्बल अटल प्रोग्रेस-वे बनकर तैयार होगा। इससे चम्बल क्षेत्र के युवाओं को रोजगार मिलेगा। बच्चों के लिये खेल स्टेडियम भी बनाया जायेगा। कोरोना काल में जो भी बिजली के बिल आयें है, उनका भुगतान सरकार करेगी। उपभोक्ताओं को चालू माह से बिल भुगतान करना होगा। साथ ही सरकार ने किसान व गरीबों के कल्याण के लिये बनी संबल योजना को फिर से चालू करने का फैसला भी लिया है। इसी तरह आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के बच्चों की उच्च शिक्षा में मदद के लिये शुरू की गईं योजनायें भी सरकार ने चालू कर दी हैं। सरकार गरीबों के बच्चों की आईआईटी, आईआईएम व मेडीकल इत्यादि संस्थानों की फीस भरेगी। उन्होंने कहा कि जल्द ही भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाएगी। युवाओं के लिए पुलिस की भर्ती होगी। महिलाओं को परेशान न होना पड़े इसलिए हर घर नल से जल पहुंचाया जाएगा।    केंद्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जनहित के कार्य करने वाले एक संवेदनशील जनसेवक हैं। जो हर वर्ग के कल्याण के लिए तत्पर होकर काम कर रहे हैं। प्रदेश सरकार किसान, मजदूर, गरीबों, महिलाओं और बच्चों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चला रही है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। आज यहाँ लगभग 68 करोड़ की लागत के विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण कर उन्होंने एक सौगात दी है। शिक्षा, स्वास्थ्य, सडक़ निर्माण, विद्युत, हर घर नल से जल आदि के लिए काम किया जा रहा है।   राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि सुमावली के विकास के लिए आज विकास कार्यों का भूमिपूजन और लोकार्पण किया जा रहा है। आज मुख्यमंत्री ने विकास कार्यों की सौगातें देकर क्षेत्र के विकास के लिये नए दरवाजे खोले हैं। आगे भी इसी प्रकार निरंतर विकास के लिए काम किया जाएगा। कमजोर वर्गों को मुख्यधारा से जोड़ा जाएगा। 

Kolar News

Kolar News 12 September 2020

आगरमालवा। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को आगरमालवा जिले के बड़ौद में आगर विधानसभा उपचुनाव के लिए कांग्रेस प्रत्याशी विपिन वानखेड़े के पक्ष में सभा को संबोधित करते हुए कहा कि हमने वोट से सरकार बनाई थी वही भाजपा ने नोट से सरकार बनाई है ये जो उपचुनाव है, ये प्रदेश के भविष्य का चुनाव है।    उन्होंने कहा कि मैने किसानों का कर्ज माफ किया, नौजवानों के लिये रोजगार के अवसर के लिए कार्य किया, माफिया के खिलाफ मोर्चा खोला, शुद्ध के लिये युद्ध अभियान चलाया, गौशालाएं बनाई हमे सिर्फ 11-12 माह मिले फिर भी हमने भाजपा के 15 साल से अच्छा काम करने का प्रयास किया है। भाजपा घोषणा और झूठ की राजनीति करती है। हमने कभी ऐसी राजनीति नहीं की है। इसके पूर्व कमलनाथ ने आगरमालवा जिले की इसके पूर्व श्रीनाथ ने जिले के नलखेड़ा पहुचंकर विश्वप्रसिद्ध पीताम्बरा सिद्धपीठ माँबगलामुखी के दर्शन कर पूजा अर्चना की।    इस मौके पर श्रीनाथ के साथ पूर्व मंत्रीगण सज्जनसिंह वर्मा, जयवर्द्धनसिंह भी थे। गौरतलब है कि पिछले विधानसभा चुनाव में आगर विधानसभा क्षैत्र से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार मनोहर उंटवाल विजय हुए थे। बीमारी के चलते श्री उंटवाल की विगत दिनों मृत्यु हो गई थी। 

Kolar News

Kolar News 12 September 2020

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार सुबह मध्यप्रदेश में ऑनलाइन गृह प्रवेशम् कार्यक्रम के माध्यम से प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के अंतर्गत बनाए गए मकानों में 1.75 लाख परिवारों को गृह प्रवेश कराया। प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 1.75 लाख घरों का उद्घाटन किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी ऑनलाइन कार्यक्रम से जुड़े। यह घर राज्य के 12 हजार गांवों में तैयार किए गए हैं।    प्रधानमंत्री ने इस दौरान पीएम आवास के हितग्राहियों से संवाद भी किया। उन्होंने धार जिले के सरदारपुर गांव के हितग्राही गुलाब सिंह, सिंगरौली जिले के हितग्राही प्यारेलाल यादव, ग्वालियर जिले के हितग्राही नरेंद्र नामदेव से बातचीत कर योजना के संबंध में जानकारी ली। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार आप सभी की दीवाली, आप सभी के त्योहारों की खुशियां कुछ और ही होंगी। कोरोना काल नहीं होता तो आज आपके जीवन की इतनी बड़ी खुशी में शामिल होने के लिए आपके घर का एक सदस्य, आपका प्रधानसेवक आपके बीच होता। आज का ये कार्यक्रम मध्य प्रदेश समेत देश के सभी बेघर साथियों को एक विश्वास देने वाला भी पल है। जिनका अब तक घर नहीं, एक दिन उनका भी घर बनेगा, उनका भी सपना पूरा होगा   पीएम मोदी ने कहा कि सही नीयत से बनाई गई सरकारी योजनाएं साकार भी होती हैं और उनके लाभार्थियों तक पहुंचती भी हैं। जिनको आज अपना घर मिला है, उनके संतोष और आत्मविश्वास को मैं अनुभव कर सकता हूं।   उन्होंने धार जिले के अमझेरा में आदिवासी गुलाब सिंह और उनके बेटे से हलमा पद्धति की जानकारी ली। उन्होंने पीएम को बताया कि इस पद्धति से समाज और परिवार के लोगों ने घर बनाने के लिए मदद की, इसमें मजदूरी के पैसे नहीं देना होते हैं। बस मकान बनवाने में मदद करने वालों को सिर्फ खाना खिलाया जाता है। इस पर प्रधानमंत्री ने पूछा कि क्या यह परंपरा सिर्फ आपके ही गांव में है या दूसरे गांवों में भी। उन्हें बताया गया कि यह परंपरा दूसरे गांवों में भी है। पीएम ने उनकी तारीफ की। पीएम आवास योजना के लाभार्थी सिंगरौली के प्यारेलाल यादव ने पक्का घर मिलने पर प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। मप्र में 16 हजार से अधिक ग्राम पंचायतों में इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण करवाया जा रहा है।

Kolar News

Kolar News 12 September 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की रिक्त 27 सीटों पर होने वाले उपचुनावों की तैयारियों की बीच कांग्रेस पार्टी ने शुक्रवार को उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। इनमें उपचुनाव के लिए 15 विधानसभा सीटों के उम्मीदवारों के नाम घोषित किये गए हैं।    जारी सूची के अनुसार, दिमनी विधानसभा सीट से रविंद्र सिंह तोमर, अम्बाह से सत्यप्रकाश, गोहद से मेवाराम जाटव, ग्वालियर से सुनील शर्मा, डबरा से सुरेश राजे, भांडेर से फूल सिंह बरैया, करैरा से प्रागीलाल जाटव, बमोरी से कन्हैयालाल अग्रवाल, अशोकनगर से आशा दोहरे, अनूपपुर से विश्वनाथ सिंह कुंजाम, सांची से मदनलाल चौधरी अहिरवार, आगर से विपिन वानखेड़े, हाटपीपल्या से राजवीर सिंह बघेल, नेपानगर से रामकिशन पटेल और सांवेर से प्रेमचंद गुड्डू को उम्मीदवार घोषित किया गया है।   बता दें कि मध्यप्रदेश में इसी साल मार्च के महीने में सत्ता परिवर्तन हुआ था। इस दौरान कांग्रेस के 22 विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर भाजपा की सदस्यता ले ली थी। इसके बाद कांग्रेस के तीन अन्य विधायकों ने भी पार्टी छोड़ दी और भाजपा में शामिल हो गए थे। वहीं दो सीटें विधायकों के निधन के कारण रिक्त हुई। इस प्रकार प्रदेश विधानसभा की कुल 27 सीटें रिक्त हैं, जिन पर उपचुनाव होना है। फिलहाल, उपचुनाव का कार्यक्रम घोषित नहीं किया गया है, लेकिन प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियां भाजपा और कांग्रेस उपचुनाव की तैयारियों में जुटी हुई हैं। कांग्रेस ने शुक्रवार को 15 सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम घोषित किये, जबकि भाजपा सभी सीटों पर पूर्व विधायकों को उपचुनाव लड़ाएगी। इसके अलावा बसपा भी मैदान में है और उसने भी आठ विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम पहले ही घोषित कर दिये थे।

Kolar News

Kolar News 11 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में ऑक्सीजन का संकट नहीं है। पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध है। किसी को भी चिंता की आवश्यकता नहीं है। राज्य शासन द्वारा आवश्यक व्यवस्थाएं कर ली गईं हैं। विभिन्न राज्य सरकारों से भी समन्वय किया जा रहा है। प्रदेश में ऑक्सीजन उपलब्धता की मॉनीटरिंग के लिए प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा संजय शुक्ला को दायित्व सौंपा गया है।   मुख्यमंत्री चौहान ने शुक्रवार को कोरोना की समीक्षा बैठक ली। उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना महामारी को लेकर निरंतर सजगता की आवश्यकता है। स्वास्थ्य संस्थाओं में स्थापित किए गए फीवर क्लीनिक, संभावित लक्षणों से प्रभावित व्यक्तियों के परीक्षण और उपचार के लिए निरंतर सक्रिय रूप से कार्य करें। होम आइसोलेशन में रह रहे व्यक्तियों की मॉनीटरिंग के लिए जिला स्तर पर बनाए गए कमांड एवं कंट्रोल सेंटर की व्यवस्थाओं की भी प्रभारी अधिकारी निरंतर मॉनीटरिंग करें।    बैठक में अवगत कराया गया कि प्रदेश का रिकवरी रेट 75.3 प्रतिशत है। प्रदेश में अब-तक 83 हजार 619 पॉजीटिव प्रकरण सामने आए। रिकवर हुए केस 62 हजार 936 हैं। जिलावार स्थिति की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने ग्वालियर चिकित्सा महाविद्यालय से किसी विशेषज्ञ को शिवपुरी भेजने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने एम्स भोपाल में उपलब्ध क्षमता तथा संसाधनों की भी जानकारी ली।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना के प्रकरण प्रदेश में लगातार बढ़ रहे हैं। इससे बचाव के लिए प्रत्येक व्यक्ति को सतर्क रहना आवश्यक है। कार्य व्यवहार में परस्पर दूरी और मॉस्क का उपयोग सुनिश्चित करना आवश्यक है। समीक्षा बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा संजय शुक्ला, आयुक्त जनसंपर्क डॉ. सुदाम खाडे एवं अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 11 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में अतिवृष्टि और बाढ़ के कारण प्रारंभिक आकलन के अनुसार लगभग 9 हजार 500 करोड़ की हानि हुई है। प्रदेश में फसलें, मकान, पशु हानि के साथ-साथ सड़कों तथा अधोसंरचना को हुई क्षति के कारण व्यवस्थाएं प्रभावित हुईं। इस स्थिति में लोगों को अपने घरों से रेस्क्यू कर राहत शिविरों में पहुंचाया गया। जनहानि न हो इसके प्रयास किए गए और इसमें सफलता भी मिली। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को अपने निवास पर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का अवलोकन और अध्ययन करने आए केन्द्रीय अध्ययन दल के सदस्यों से चर्चा करते हुए कही। इस अवसर पर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, कृषि उत्पादन आयुक्त के.के. सिंह, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री मनीष रस्तोगी और अन्य अधिकारी मौजूद रहे। बता दें कि अध्ययन दल के समक्ष गुरुवार को विस्तृत प्रजेंटेशन के माध्यम से भी प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति को सामने रखा जा चुका है।    मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय अध्ययन दल के सदस्यों से चर्चा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में बीते पखवाड़े अतिवर्षा से हुई हानि की विस्तृत जानकारी केन्द्र सरकार को दी गई है। सर्वे कार्य निरंतर जारी है और अधिक नुकसान की स्थिति भी सामने आ सकती है। राज्य सरकार ने प्रभावित लोगों को अधिकाधिक सहायता दी है। आगे भी राहत पहुँचाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। केन्द्रीय अध्ययन दल के प्रभावित जिलों में भ्रमण के पश्चात राहत कार्यों को पूरी तरह से पूर्णता तक पहुंचाने में सहयोग मिलेगा।    कीट-व्याधि से नुकसान के आकलन के लिए पृथक केन्द्रीय दल भेजने का अनुरोध चौहान ने कहा कि फसल बीमा और राहत राशि से नुकसान की भरपाई की जा रही है, परन्तु कीट-व्याधि से हुए नुकसान की पूर्ति के लिए केन्द्र से सहयोग की अपेक्षा है। उन्होंने कहा कि कीट-व्याधि के कारण फसलों को बहुत अधिक नुकसान हुआ है। प्रदेश का राजस्व अमला उस नुकसान का सर्वे कर रहा है। उन्होंने कीट-व्याधि से हुए नुकसान के आकलन के लिए भी पृथक से केन्द्रीय अध्ययन दल भेजे जाने का अनुरोध किया। बैठक में जानकारी दी गई कि मुख्यत: सोयाबीन, मक्का तथा चने की फसल कीट व्याधि से प्रभावित हुई है। प्रदेश में 15 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फसलें और 17 लाख कृषक कीट-व्याधि से प्रभावित हैं।   लगातार निगरानी से जनहानि रोकने में मिली सफलता मुख्यमंत्री ने बताया कि 28 एवं 29 अगस्त को अतिवृष्टि से जलस्तर खेतों के साथ ग्रामीण आवासीय क्षेत्रों तक पहुंच गया था। सेना और अन्य राहत दलों ने सतर्कतापूर्वक दिन-रात कार्य किया। निरंतर मॉनीटरिंग की गई। प्रदेश के 12 जिले गंभीर रूप से और 23 जिले आंशिक रूप से प्रभावित हुए। कुल 8 हजार 442 गांवों में नुकसान हुआ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि वे स्वयं भी 48 घंटे सोये नहीं। तत्काल प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर लोगों की जीवन रक्षा और राहत शिविरों में उनके ठहरने और खाने-पीने की व्यवस्था का कार्य सुनिश्चित किया। श्री चौहान ने कहा कि परिणाम स्वरूप हमें इस बात का संतोष है कि पूरे अमले की सक्रियता के परिणामस्वरूप जनहानि रोकने में सफल हुए।   औसत से 39 प्रतिशत तक अधिक हुई वर्षा चौहान ने बताया कि सीहोर, रायसेन, होशंगाबाद, हरदा, देवास सहित इन्दौर, आगर-मालवा, भोपाल और छिंदवाड़ा में औसत से 26 से 39 प्रतिशत तक अधिक वर्षा अगस्त माह में दर्ज की गई। प्रदेश में होमगार्ड, सेना, एसडीईआरएफ और एनडीईआरएफ ने रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए सक्रिय होकर कार्य किया। प्रदेश में 13 हजार 344 लोग रेस्क्यू किए गए। अतिवर्षा से अधिक प्रभावित जिलों में उज्जैन, खरगौन, खण्डवा, विदिशा, निवाड़ी, नरसिंहपुर, सिवनी से कुल 22 हजार 546 लोगों को उनके निवास स्थान से हटाकर सुरक्षित किया गया। प्रदेश में कुल 231 राहत शिविर स्थापित किए गए।   फसलों और मकानों को हुआ नुकसान मुख्यमंत्री ने बताया कि अतिवर्षा और बाढ़ से 24 जिलों में लगभग 11 लाख 30 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों का नुकसान हुआ है। करीब 11 लाख 34 हजार किसान प्रभावित हुए हैं। लगभग 60 हजार मकान बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुए। सरकार ने फौरी राहत के लिए पूरे प्रयास किए हैं। अभी भी लोगों को राहत की आवश्यकता है। चौहान ने केन्द्रीय दल से प्रदेश के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के विस्तृत निरीक्षण और प्रभावित व्यक्तियों से मुलाकात और चर्चा के बाद क्षति की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने का आग्रह किया।

Kolar News

Kolar News 11 September 2020

  भोपाल। मध्यप्रदेश की पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे वरिष्ठ कांग्रेस विधायक आरिफ अकील को ब्रेन हेमरेज हुआ है। चिरायु अस्पताल में भर्ती कराने के बाद उनका ऑपरेशन भी किया गया है। गुरुवार देर रात उनकी हालत नाजुक होने की सूचना सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी, लेकिन अच्छी बात यह है कि फिलहाल आरिफ़ अकील की तबियत स्थिर बनी हुई है।   भोपाल उत्तर विधानसभा क्षेत्र से विधायक व पूर्व मंत्री आरिफ अकील को शुगर और बीपी की समस्या है और इसका वे नियमित उपचार कराते हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से वह ब्रेन में ब्लड क्लॉटिंग की समस्या से जूझ रहे थे। अधिक परेशानी होने के बाद तीन दिन पहले उन्हें चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया था। ऑपरेशन के बाद अब उनकी हालत स्थिर है और उनका इलाज जारी है। उनके भाई ने बताया कि उनकी हालत स्थिर है और वे खतरे से बाहर हैं। वहीं वरिष्ठ विधायक के स्वास्थ्य को लेकर कांग्रेस नेता और उनके समर्थक चिंतित है, सभी उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं। बताते चले कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आरिफ अकील 6 बार भोपाल उत्तर से विधायक रहे हैं। 1972 से छात्र राजनीति शुरूआत करने वाले अकील लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हैं।  

Kolar News

Kolar News 11 September 2020

दतिया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि चंबल अटल प्रोग्रेस-वे बनने से इस क्षेत्र का विकास तेजी से होगा और बड़ी संख्या में उद्योग धंधे खुलेंगे, जिससे क्षेत्र के युवाओं को रोजगार मिलेगा।चंबल अटल प्रोग्रेस-वे से क्षेत्र का चहुमुखी विकास होगा। इससे कृषि, उद्योग, शिक्षा एवं पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री गुरुवार को चंबल संभाग के मुरैना जिले के दिमनी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम रतीरामपुरा में आमसभा को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने 88 करोड़ से अधिक की लागत के विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने ग्राम दिमनी में महाविद्यालय खोलने की घोषणा की। साथ ही दिमनी में ही खेल मैदान एवं मुरैना जिले में सैनिक स्कूल खोलने की भी बात कही।   समारोह में केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री ऐदल सिंह कंषाना, कृषि राज्यमंत्री गिर्राज डण्डोतिया, जिला पंचायत अध्यक्षा गीता हर्षाना, भाजपा जिलाध्यक्ष योगेशपाल गुप्ता, पूर्व विधायक रघुराज सिंह कंषाना, पूर्व मंत्री मुंशी लाल, पूर्व विधायक गजराज सिंह एवं पूर्व महापौर अशोक अर्गल, कलेक्टर अनुराग वर्मा, पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया सहित जनप्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी जितनी गर्मी पड़ रही है, उससे अधिक गर्मी मुरैना एवं भिण्ड जिलों के युवाओं के खून में होती है। चंबल क्षेत्र के लोग बड़ी संख्या में सेना में भर्ती होकर देश की रक्षा करते है। वे लड़ाई के समय दुश्मन की छाती छलनी कर देते हैं। इसलिये हमारे देश की तरफ कोई आंख उठाकर नहीं देख सकता है। यदि किसी ने गलत हरकत की तो उसका सेना ने मुंहतोड़ जबाव दिया है। चंबल की माटी में जन्मे मुरैना जिले के ग्राम बरबाई निवासी शहीद पंडित रामप्रसाद बिस्मिल ने स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में अंग्रेजों को सबक सिखाया था।   उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में प्रदेश में बड़ी संख्या में विभिन्न विभागों में भर्ती होगी। सरकार ने निर्णय लिया है कि अब नौकरी में मध्यप्रदेश के ही युवाओं की भर्ती की जायेगी। पिछली सरकार ने अनेक जनकल्याणकारी योजनाओं को ठंडे बस्ते में डाल दिया था, इन्हीं योजनाओं को वर्तमान सरकार ने पुन: शुरू किया है। जिसमें संबल योजना, तीर्थ दर्शन योजना, लाड़ली लक्ष्मी योजना एवं अन्य योजनायें शामिल है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में जो भी बिजली के बिल आये हैं, उनका भुगतान सरकार करेगी। उपभोक्ताओं को चालू माह से बिल भुगतान करना होगा। प्रदेश में गरीब परिवारों को पात्रता पर्ची दी जायेगी। जिसके माध्यम से एक रुपये किलो गेहूं दिया जायेगा, ताकि प्रदेश में कोई गरीब भूखा न रहे। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश दिये कि यह सुनिश्चित करें जिले में कोई पात्र व्यक्ति गेहूं से वंचित न रहे।   मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरी क्षेत्र में बिना ब्याज के 10 हजार रुपये का ऋण सरकार दे रही है। इसी प्रकार की सहायता ग्रामीण क्षेत्रों में भी पथ विक्रेताओं के लिये लागू की गई है। उन्होंने बताया कि किसानों के कल्याण के लिये शीघ्र ही सरकार द्वारा उनके खाते में फसल बीमा की 4 हजार 600 करोड़ रुपये की राशि डाली जायेगी। दिमनी विधानसभा क्षेत्र के हर घर में अगले 3 वर्ष में नलजल योजना के द्वारा पानी पहुंचाया जायेगा।       चंबल संभाग की तकदीर एवं तस्वीर बदलेगी: केन्द्रीय मंत्री तोमर    केन्द्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने 88 करोड़ से अधिक के कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण के लिये क्षेत्र की जनता को बधाई दी एवं मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि प्रतिकूल परिस्थितियों में भी सरकार ने जनता का ध्यान रखा है और विकास कार्यों को इतनी जल्दी स्वीकृत किया है। विकास कार्यों में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी तथा अब विकास का पहिया थमने नहीं देंगे। आने वाले दिनों में घर-घर में बिजली एवं नलजल योजना के माध्यम से शुद्ध पानी पहुंचाया जायेगा। उन्होंने कहा कि चंबल अटल प्रोगे्रस-वे के निर्माण के लिये केन्द्र सरकार ने 8 हजार करोड़ रुपये की स्वीकृति दी है। इस वे के बन जाने से क्षेत्र की तकदीर एवं तस्वीर बदल जायेगी।   मप्र की सरकार प्रगतिशील है: सिंधिया   राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार प्रगतिशील सरकार है। जनता को न्याय व सम्मान दिलाने के लिये उन्होंने वर्तमान सरकार बनाने में साथ दिया है।चंबल अटल प्रोग्रेस-वे का निर्माण इटावा से होकर राजस्थान के कोटा शहर तक होगा। यह केवल सडक़ ही नहीं है, इससे चंबल क्षेत्र के संपूर्ण विकास को गति मिलेगी।   कार्यक्रम के अन्त में मुख्यमंत्री ने लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत लाड़लियों को प्रमाणपत्र एवं अन्य योजनाओं के लाभान्वित हितग्राहियों को हितलाभ वितरित किये।

Kolar News

Kolar News 10 September 2020

भोपाल। कोरोना काल के बीच मप्र मेंं मेडिकल ऑक्सीजन की किल्लत हो गई है। देवास, जबलपुर, ग्वालियर, शिवपुरी समेत कई जिलों में मंगलवार-बुधवार को यह दिक्कत आई है। किल्लत इसलिए हुई, क्योंकि मप्र की मेडिकल ऑक्सीजन की डिमांड छत्तीसगढ़, गुजरात और महाराष्ट्र पूरी करते हैं। दरअसल, महाराष्ट्र सरकार ने अपनी जरूरत बढ़ती देख दूसरे राज्यों के लिए ऑक्सीजन की सप्लाई करने से इंकार कर दिया। इसके बाद मध्यप्रदेश में ऑक्सीजन की भारी किल्लत हो गई। ऑक्सीजन की कमी के लिए प्रदेश सरकार पर लापरवाही के आरोप लग रहे हैं। इन सभी आरोपों के बीच गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से फोन पर बात की है।   आक्सीजन की सप्लाई की कमी को लेकर सीएम शिवराज के निवास पर सुबह एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। सीएम ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी का विषय महत्वपूर्ण था जो मुझे विचलित कर रहा था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया को बताया कि उन्होंने महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे से कहा है कि संकट के समय ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं  रोकी जानी चाहिए। सीएम ठाकरे में मुझे आश्वस्त किया है। हमने वैकल्पिक व्यवस्था भी की है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोविड मरीजों को ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं होगी।   सीएम शिवराज ने बताया कि हमने वैकल्पिक व्यवस्था भी की है, प्रारंभ मे एमपी में आक्सीजन की उपलब्धता थी केवल 50 टन, जिसे बढ़ा कर 120 टन तक कर ली है। 30 सितंबर तक 150 टन तक आक्सीजन की व्यवस्था कर लेंगे। एमपी को महाराष्ट्र से 20 टन आक्सीजन मिलती थी। आईनॉक्स की जो कंपनी 20 टन आक्सीजन नागपुर से सप्लाई करती थी, अब वही कंपनी गुजरात से और उत्तरप्रदेश से 20 टन आक्सीन एमपी को सप्लाई करेगी। उन्होंने कहा कि हमारे यहां आक्सीजन के जो छोटे छोटे प्लांट है उनकी क्षमता भी कवल 50-60 टन थी, हमने उनसे आग्रह किया है कि वो फुल कैपिसिटी पर अपना प्लांट चलाएं। मैं प्रदेश की जनता को आश्वस्थ करता हूं कि आक्सीजन की कमी प्रदेश में नही होने पाएगी।

Kolar News

Kolar News 10 September 2020

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को पीएम स्वनिधि योजना के मप्र के हितग्राहियों को संबोधित किया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री का अभिवादन करते हुए कहा कि हमारे प्रधानमंत्री जो पुरुषार्थ में कण-कण और जीवन का क्षण-क्षण लगाने वाले वैश्विक नेता हैं। उन्होंने कोरोना संकट के समय राह निकालने का कार्य किया। देश की 130 करोड़ जनता के लिए 1 लाख 75 हजार करोड़ का गरीब कल्याण राहत पैकेज प्रदान कर, गरीब की थाली, खाली न रहने देने के संकल्प के साथ 80 करोड़ जनता तक अनाज पहुंचाया गया। उन्होंने मध्यप्रदेश के 24 जिले भी चुने जहां लोग अधिक जरूरतमंद थे।    मुख्यमंत्री ने कहा कि मनरेगा से रोजगार और आत्मनिर्भरता के मंत्र से आमजन को राहत मिली। लॉकडाउन की अवधि में अपनी जीविका गवां चुके लोगों को प्रत्यक्ष सहायता मिली है। बाजार से महंगी ब्याज दर पर कर्ज लेने वाले लोग पठानी ब्याज चुकाते-चुकाते त्रस्त हो जाते थे। उनका कुछ बच ही नहीं पाता था। उन्होंने कहा कि जून 2020 से प्रारंभ पीएम स्वनिधि योजना में भारत सरकार द्वारा 7 प्रतिशत ब्याज के प्रावधान के साथ कार्यशील पूंजी उपलब्ध करवाती है। इससे यह योजना छोटे-छोटे स्ट्रीट वेंडर्स के लिए एक वरदान के रूप में लाभान्वित करने वाली सिद्ध हुई है। मध्यप्रदेश में सिर्फ तीन सप्ताह में 8 लाख 78 हजार पंजीयन पोर्टल के माध्यम से कर लिए गए। भौतिक सत्यापन के बाद साढ़े चार लाख पात्र स्ट्रीट वेंडर्स में से चार लाख को परिचय-पत्र और वेंडर प्रमाण- पत्र भी जारी कर दिए गए। बैंकों के समक्ष 2.55 लाख आवेदन पेश हो गए हैं, जिनमें से 1.56 लाख आवेदनों में राशि की मंजूरी दी जा चुकी है। हितग्राहियों के खातों में पैसा पहुंच रहा है।    उल्लेखनीय बात यह है कि प्रत्येक हितग्राही को डिजिटल ट्रांजेक्शन से जोडऩे के लिए यूपीआई-आईडी और क्यूआर कोड उपलब्ध करवाया गया है। चाहे पान की दुकान वाला हो, चाट मूंगफली बेचने वाला, पंचर बनाने वाला, जूते सुधारने वाला, सैलून चलाने वाला या फिर झाडू बेचने जैसे कार्य करने वाले अब इन स्ट्रीट वेंडर्स की खुशियों में नया रंग जुड़ेगा। डिजिटल लेनदेन के महत्व को रेखांकित करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने योजना के हितग्राहियों से इन काव्य पंक्तियों के साथ अपना व्यवसाय करने का आव्हान किया- 'समय विषम है, डगर कठिन है, जाना भी उस पार है, छोड़ चलो ये रीत पुरानी, राह नई तैयार है.... ।'     अब बड़े लक्ष्य की चुनौती स्वीकार करें   वर्चुअल कार्यक्रम के पश्चात मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि पीएम स्वनिधि योजना में पांच लाख स्ट्रीट वेंडर्स हितग्राही लाभान्वित करने का लक्ष्य पूर्ण किया जाए। योजना में प्रति हितग्राही 10 हजार रुपये की कार्यशील पूंजी मिलने से छोटे व्यवसायियों का उन्नयन हो जाता है। मध्यप्रदेश में स्ट्रीट वेंडर्स को चिन्हित करने का कार्य बड़े पैमाने पर हुआ है। जिन आवेदकों को अभी ऋण प्राप्त नहीं हुआ है, उन्हें लाभान्वित करने की कार्रवाई तेज की जाए। बड़े लक्ष्य की चुनौती को स्वीकार करते हुए अधिक से अधिक रेहड़ी वालों को योजना का लाभ दिलवाया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने इस योजना के शानदार क्रियान्वयन की प्रशंसा की है। इस नाते मध्यप्रदेश सरकार का यह प्रयास रहेगा कि यह योजना सफलता के और भी नए आयाम प्राप्त करे।   व्यापक रूप से देखा गया स्वनिधि संवाद कार्यक्रम   स्वनिधि संवाद में प्रधानमंत्री मोदी का संबोधन मध्यप्रदेश के पौने चार सौ स्थानों पर सुना गया। इसके साथ ही इलेक्ट्रानिक मीडिया और सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म पर इसके सीधे प्रसारण की व्यवस्था से योजना के बारे में नागरिक अवगत हो सके। लगभग 2 करोड़ दर्शकों और श्रोताओं तक क्षेत्रीय टीव्ही चैनल्स ने यह प्रसारण पहुंचाया। प्रदेश में करीब 20 लाख लोग वेबकास्ट के माध्यम से प्रधानमंत्री मोदी द्वारा हितग्राहियों से आत्मीयतापूर्वक किए गए संवाद के साक्षी भी बने। वर्चुअल कार्यक्रम का संचालन प्रमुख सचिव, नगरीय विकास एवं आवास नीतेश व्यास ने किया।

Kolar News

Kolar News 9 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 12 सितम्बर को प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत आयोजित होने वाला गृह प्रवेश कार्यक्रम उत्साहपूर्वक मनाया जाए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लक्ष्य है कि 'हर परिवार के पास अपना घर हो'। इस दिशा में कार्य करते हुए प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दो लाख आवास निर्मित किए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इन आवासों में हितग्राहियों को गृह प्रवेश करायेंगे। प्रधानमंत्री प्रदेश के हितग्राहियों से चर्चा भी करेंगे।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बातें बुधवार को मंत्रालय में प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत गृह प्रवेश कार्यक्रम की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कही। उन्होंने बैठक में गृह प्रवेश कार्यक्रम की विस्तार से समीक्षा की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पीएम आवास योजना के हितग्राही परिवारों के लिए यह दिन आनंद और उत्साह का है। अपना घर लोगों के मन में सुरक्षा का भाव लाएगा। अत: वर्चुअल आधार पर आयोजित इस कार्यक्रम में अधिक से अधिक लोग जुड़ें। बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास मनोज श्रीवास्तव तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।   वर्चुअल आधार पर आयोजित इस कार्यक्रम में हितग्राही वेबकास्ट के माध्यम से जुड़ेंगे। कार्यक्रम प्रात: 11 बजे आरंभ होगा। जिसका प्रसारण फेसबुक, ट्विटर के साथ-साथ क्षेत्रीय चैनल पर होगा। उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी अवधि में बने इन आवासों से बड़े पैमाने पर श्रमिक वर्ग को काम मिला तथा स्थानीय निवासियों के साथ-साथ प्रवासी श्रमिकों के लिए भी आवास सुविधा उपलब्ध हो सकी।

Kolar News

Kolar News 9 September 2020

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्ट्रीट वेंडर्स के लिए बनाई गई स्वनिधि योजना का वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शुभारंभ किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने प्रदेश के सांवेर के झगनलाल एवं ग्वालियर की अर्चना शर्मा से भी बातचीत की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी उपस्थित थे।    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यक्रम के दौरान सांवेर के झाड़ू कारोबारी झगनलाल से बातचीत की। उन्होंने  झगनलाल को आइडिया दिया कि यदि झाड़ू का पाइप दोबारा इस्तेमाल में लाया जाए तो ग्राहक को झाड़ू सस्ती दी जा सकती है। प्रधानमंत्री ने झगनलाल से पूछा कि वे झाड़ू किस चीज से बनाते हैं, तो झगनलाल ने उन्हें बताया कि खजूर के पत्ते से। प्रधानमंत्री मोदी ने झगनलाल से झाड़ू बनाने में आने वाले खर्च और झाड़ू बनाने के तरीके के बारे में भी जानकारी ली। झगनलाल ने बताया कि वह झाड़ू बनाने के साथ-साथ बच्चों को भी पढ़ाते हैं। प्रधानमंत्री ने जब झगनलाल से उनके बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि मैं छोटा सा व्यवसाय करता हूं। आपकी योजना का जो लाभ मिल रहा हैं, जिससे मेरा व्यवसाय अच्छा चल रहा है।   ग्वालियर में टिक्की सेंटर चलाने वाली अर्चना शर्मा से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने उनसे पूछा कि ग्वालियर आएं,  तो हमें टिक्की खिलाएंगे? अर्चना के साथ उनके बच्चे भी बैठे थे। मोदी ने अर्चना के बच्चों से पूछा कि पढ़ते हो, पेंटिंग करते हो, क्या-क्या पेंटिंग में बनाया। मोदी ने अर्चना से पूछा कि आपके पति क्या करते हैं, तो अर्चना ने कहा कि उनका स्वास्थ्य खराब होने के कारण वे अब घर पर ही रहते हैं। इस पर मोदी ने कहा कि आप बहुत मेहनत करती हैं, घर भी संभालती हैं और टिक्की सेंटर भी चलाती हैं। मोदी ने उन्हें सुझाव दिया कि जो लोग साफ सफाई से काम करते हैं,  हाईजीन रखते हैं लोग उन्हीं के पास जाना पसंद करते हैं। मोदी ने आयुष्मान भारत योजना के बारे में पूछा तो अर्चना ने कहा कि मेरे पति का इलाज आयुष्मान भारत योजना से ही चल रहा है। अर्चना के पति राजेंद्र शर्मा ने भी मोदी से बात की।   मुख्यमंत्री ने दी योजना की जानकारीवीडियो कांफ्रेंस में उपस्थित मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने योजना की जानकारी देते हुए कहा कि केशकर्तन, चूड़ी कंगन बेचने वाले, सब्जी बेचने वाले, नाश्ते, चाट, नमकीन बेचने वाले, आइसक्रीम बेचने वाले, कबाड़ा बीनने वाले, आइसक्रीम आदि बेचने वालों की किस्मत बदलने का काम प्रधानमंत्रीजी ने किया है। प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत हमने योजना बनाई, जिसमें आठ लाख 78 आवेदन प्राप्त हुए। चार लाख 51 हजार लोगों को परिचय पत्र प्रदान किया। उन्होंने स्ट्रीट वेंडर्स की योजना के बारे में विस्तार से बताया।

Kolar News

Kolar News 9 September 2020

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को स्ट्रीट वेंडर्स के लिए बनाई गई स्वनिधि योजना का वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शुभारंभ किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने प्रदेश के सांवेर के झगनलाल एवं ग्वालियर की अर्चना शर्मा से भी बातचीत की। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी उपस्थित थे।    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यक्रम के दौरान सांवेर के झाड़ू कारोबारी झगनलाल से बातचीत की। उन्होंने  झगनलाल को आइडिया दिया कि यदि झाड़ू का पाइप दोबारा इस्तेमाल में लाया जाए तो ग्राहक को झाड़ू सस्ती दी जा सकती है। प्रधानमंत्री ने झगनलाल से पूछा कि वे झाड़ू किस चीज से बनाते हैं, तो झगनलाल ने उन्हें बताया कि खजूर के पत्ते से। प्रधानमंत्री मोदी ने झगनलाल से झाड़ू बनाने में आने वाले खर्च और झाड़ू बनाने के तरीके के बारे में भी जानकारी ली। झगनलाल ने बताया कि वह झाड़ू बनाने के साथ-साथ बच्चों को भी पढ़ाते हैं। प्रधानमंत्री ने जब झगनलाल से उनके बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि मैं छोटा सा व्यवसाय करता हूं। आपकी योजना का जो लाभ मिल रहा हैं, जिससे मेरा व्यवसाय अच्छा चल रहा है।   ग्वालियर में टिक्की सेंटर चलाने वाली अर्चना शर्मा से बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने उनसे पूछा कि ग्वालियर आएं,  तो हमें टिक्की खिलाएंगे? अर्चना के साथ उनके बच्चे भी बैठे थे। मोदी ने अर्चना के बच्चों से पूछा कि पढ़ते हो, पेंटिंग करते हो, क्या-क्या पेंटिंग में बनाया। मोदी ने अर्चना से पूछा कि आपके पति क्या करते हैं, तो अर्चना ने कहा कि उनका स्वास्थ्य खराब होने के कारण वे अब घर पर ही रहते हैं। इस पर मोदी ने कहा कि आप बहुत मेहनत करती हैं, घर भी संभालती हैं और टिक्की सेंटर भी चलाती हैं। मोदी ने उन्हें सुझाव दिया कि जो लोग साफ सफाई से काम करते हैं,  हाईजीन रखते हैं लोग उन्हीं के पास जाना पसंद करते हैं। मोदी ने आयुष्मान भारत योजना के बारे में पूछा तो अर्चना ने कहा कि मेरे पति का इलाज आयुष्मान भारत योजना से ही चल रहा है। अर्चना के पति राजेंद्र शर्मा ने भी मोदी से बात की।   मुख्यमंत्री ने दी योजना की जानकारीवीडियो कांफ्रेंस में उपस्थित मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने योजना की जानकारी देते हुए कहा कि केशकर्तन, चूड़ी कंगन बेचने वाले, सब्जी बेचने वाले, नाश्ते, चाट, नमकीन बेचने वाले, आइसक्रीम बेचने वाले, कबाड़ा बीनने वाले, आइसक्रीम आदि बेचने वालों की किस्मत बदलने का काम प्रधानमंत्रीजी ने किया है। प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत हमने योजना बनाई, जिसमें आठ लाख 78 आवेदन प्राप्त हुए। चार लाख 51 हजार लोगों को परिचय पत्र प्रदान किया। उन्होंने स्ट्रीट वेंडर्स की योजना के बारे में विस्तार से बताया।

Kolar News

Kolar News 9 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना कहर बनकर टूटा है। कोरोना संक्रमण ने तेजी से लोगों को अपनी चपेट में लेने के बाद अब अपनी बढ़त राजनीतिक गलियारे तक बना ली है। सत्ता पक्ष भाजपा के साथ विपक्षी कांग्रेस के राजनेता भी कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी के बाद अब कांग्रेस के एक और वरिष्ठ नेता एनपी प्रजापति भी अस्पताल में भर्ती हो गए हैं।   बताया जाता है कि कोरोना के शुरुआती लक्षण दिखने के बाद एनपी प्रजापति ने अपने सैंपल जांच के लिए दिए थे। उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। जिसके बाद उन्होंने खुद को क्वारंटाइन कर लिया हैं। वहीं, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष ने अपने संपर्क में आए हुए सभी लोगों से खुद को क्वारंटाइन करने और जांच कराने की अपील भी की हैं।   गौरतलब है कि अब तक मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा कई मंत्री और भाजपा विधायक कोरोना संक्रमित हो चुके है। वही कांग्रेस में पूर्व मंत्री तरुण भनोत भी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुके हैं। सबसे पहले कुणाल चौधरी कोरोना संक्रमित हुए और कांग्रेस नेता पीसी शर्मा समेत कई राजनेता कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं।  

Kolar News

Kolar News 8 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंगलवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मंत्रि-परिषद की पांचवीं वर्चुअल बैठक हुई, जिसमें प्रदेश के हित में कई अहम निर्णय लिये गये। मंत्रिपरिषद ने अफोर्डेबल रेंटल हाउसिंग स्कीम के साथ ही खर्राघाट नहर मध्यम सिंचाई परियोजना रूपांकित सिंचाई क्षमता 3500 हेक्टेयर के लिए 46 करोड़ 43 लाख 21 हजार की पुनरीक्षित प्रशासकीय स्वीकृति दी है।   भोपाल बायपास मार्ग पर टोल की स्वीकृति   मंत्रीपरिषद ने भोपाल बायपास मार्ग पर टोल की स्वीकृति दी है। इसके तहत मध्यप्रदेश सडक़ विकास निगम के अंतर्गत भोपाल बायपास मार्ग पर कार, हल्के (वाणिज्यिक) वाहन, बस, ट्रक, मल्टी एक्सल ट्रक पर दूरी आधारित टोल दरें निर्धारित की गई है। साथ ही मासिक पास की राशि  85 रुपये नियत की गई है। सरकारी कर्तव्य पर भारत सरकार तथा मध्यप्रदेश शासन के सभी यान, संसद तथा विधानसभा के सदस्यों के यान, भारतीय सेना की ड्यूटी के सभी यान, एम्बुलेंस, फायर बिग्रेड, भारतीय डाक तथा तार विभाग के यान, भूतपूर्व विधायकों एवं सांसदों के यान, कृषि प्रयोजन के लिए उपयोग की जाने वाली ट्रेक्टर-ट्राली, आटो रिक्शा, दो पहिया एवं बैलगाडिय़ां, स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों एवं अधिमान्यता प्राप्त पत्रकार को मार्ग पर टोल से छूट रहेगी।   दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना में 44 नए अतिरिक्त केंद्र खुलेंगे   मंत्रिपरिषद ने दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना को कुछ संशोधनों के साथ निरंतर रखने की मंजूरी दी है। योजना में पूर्व में 56 केंद्रों के अतिरिक्त 44 नए केंद्रों के साथ कुल 100 रसोई केंद्र स्थापित किए जाएंगे। योजनान्तर्गत दिन का भोजन 10 रुपये प्रति व्यक्ति की दर से दिये जाने की स्वीकृति प्रदान की गई। योजना के परिचालन के लिए खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग द्वारा नगरीय विकास एवं आवास विभाग के मांग अनुसार गेहूं और चावल उपलब्ध कराया जायेगा। योजना में औद्योगिकी नीति एवं निवेश संवर्धन विभाग को प्राथमिकता के आधार पर कार्पोरेट सामाजिक दायित्व के अंतर्गत धन राशि उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया गया हैं। योजना के क्रियान्वयन के लिए सभी अनुषांगिक कार्यवाही के लिए नगरीय विकास एवं आवास विभाग को अधिकृत किया गया हैं।    आत्म निर्भर भारत अभियान के पैकेज 2 के अंतर्गत अफोर्डेबल रेंटल हाउसिंग स्कीम   मंत्रिपरिषद ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के पैकेज 2 में भारत सरकार, आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय के द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना(शहरी) अंतर्गत प्रारंभ की गई अफोर्डेबल रेंटल हाउसिंग स्कीम को प्रदेश में लागू करने की मंजूरी दी । योजना 1 लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में लागू की जायेगी। आपरेशन गाइडलाईन के प्रावधानों के अनुसार भारत सरकार आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय तथा मध्यप्रदेश शासन द्वारा मेमोंरेंडम ऑफ एग्रीमेंट हस्ताक्षरित करने के लिए नगरीय विकास एवं आवास विभाग को अधिकृत किया हैं।   योजना स्थल पर ट्रंक अंधोसंरचना का कार्य निकाय द्वारा किया जायेगा। इन कार्यो का वित्तीय भार निकायों पर आयेगा। ट्रंक अंधोसंरचना को पूरा करने के लिए राज्य शासन की ओर से प्रति परियोजना 5 करोड़ रुपये की अधिकतम सीमा में 50 प्रतिशत का वित्तीय अनुदान अलग से दिया जायेगा। योजनान्तर्गत स्वीकृत परियोजनाओं के लिए नगरीय सेवाएं यथा जल प्रदाय शुल्क, सम्पत्तिकर,सीवरेज शुल्क इत्यादि को आवासीय श्रेणी के अंतर्गत आरोपित किया जायेगा। इसके लिए नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा आवश्यक निर्देश जारी किए जाएंगे।   पद सृजन की मंजूरी   मंत्रिपरिषद ने राज्य निर्वाचन आयोग के मुख्यालय के लिए नगरीय निकायों, त्रिस्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन वर्ष 2020-21 के लिए कुल 15 पदों को अस्थाई रूप से 1 जुलाई 2020 से 30 जून 2021 तक की अवधि के लिए सृजित करने की मंजूरी दी है। इसमें अपर सचिव/उप सचिव, अवर सचिव, प्रोग्रामर, अनुभाग अधिकारी के 2-2 और सहायक प्रोग्रामर (कम्प्यूटर) के 4 तथा डाटा एन्ट्री आपरेटर के 3 पद शामिल हैं।   अन्य निर्णय   लोक परिसम्पत्ति प्रबंधन विभाग का गठन एवं कार्य (आवंटन) नियम में संशोधन की कार्यवाही करने का मंत्रिपरिषद ने निर्णय लिया।   मंत्रिपरिषद ने मध्यप्रदेश सहकारी सोसायटी (संशोधन) अध्यादेश 2020 का मध्यप्रदेश सहकारी सोसायटी (संशोधन) विधेयक 2020 के रूप में प्रतिस्थापन तथा मध्यप्रदेश लोक सेवाओं के प्रदान की गारंटी (संशोधन) विधेयक 2020 लाए जाने के संबंध में, दोनों विधेयकों को विधानसभा में प्रस्तुत करने की मंजूरी दी।

Kolar News

Kolar News 8 September 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में प्रजातंत्र को खरीदा गया है, यह एक शर्मनाक कृत्य है जो भाजपा ने सत्ता के सौदागरों के साथ बोली लगाकर खरीदा है। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज मंगलवार को ग्वालियर-चंबल संभाग के कद्दावर भाजपा नेता डॉ.सतीश सिकरवार और उनके साथ आये सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं का कांग्रेस में स्वागत करते हुए कही।   उन्होंने कहा कि आपने सच्चाई को पहचाना है और सच का साथ देने का निर्णय लिया है, यह प्रदेश और लोकतंत्र के हित में बड़ा निर्णय है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सतीश सिकरवार के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल हुए सैकड़ों कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि अब कांग्रेस में महलों का दखल खत्म हो गया है। अब कांग्रेस में कोई महल नहीं है, आप सभी लोग आज कमलनाथ के घर में आए है। आज आप कांग्रेस पार्टी के परिवार से जुड़ गए हैं। उन्होंने कहा कि हमारा देश देवी-देवताओं, विभिन्न संस्कृतियों का देश है। यहां जोडऩे की बात होती है, तोडऩे की नहीं। कांग्रेस सदैव जोडऩे की राजनीति करती है। कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश की जनता भी सच्चाई को जान चुकी है। समय आने पर वह जनादेश का अपमान करने वालों को मुंहतोड़ जवाब देगी। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को धोखा देकर बिकने वाले को व खरीदने वालों को इस प्रदेश की जनता कभी माफ नहीं करेगी।

Kolar News

Kolar News 8 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि गौण खनिज खदानों के लीज धारकों को 75 प्रतिशत रोजगार प्रदेश के मूल निवासियों को देना होगा। दागी अधिकारियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, भ्रष्ट अधिकारियों को तत्काल सेवा से पृथक किया जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि खनिज से संबंधित समस्त प्रक्रियाओं को पारदर्शी बनाते हुए ऑनलाइन व्यवस्था सुदृढ़ की जाए। प्रदेश में उपलब्ध मुख्य खनिज तथा गौण खनिज, रायल्टी का बड़ा स्रोत है। उत्खनित खनिज की शत-प्रतिशत रायल्टी राज्य को प्राप्त हो, इसके लिए हमें हरसंभव प्रयास करना होंगे। राज्य शासन खनिज संसाधनों की सुरक्षा व प्रबंधन के लिए पृथक बल बनाने पर भी विचार कर सकती है। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री चौहान ने सोमवार को मंत्रालय में गौण खनिज नियम तथा जिला खनिज प्रतिष्ठान नियम में प्रस्तावित संशोधनों पर विचार-विमर्श करते हुए कही।   अवैध रेत खदानों को वैधानिक प्रक्रिया में लाया जाएगा मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि रेत रायल्टी का बड़ा स्रोत है। इससे जुड़ी अवैध गतिविधियों के कारण जो रायल्टी राज्य सरकार को प्राप्त नहीं हो रही है, उसे राज्य निधि में लाने के लिए वैधानिक विकल्प विकसित कर उनका क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है। अवैध रेत खदानों को वैधानिक प्रक्रिया में लाया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जिन जिलों के खनिज प्रतिष्ठान में अधिक राशि आती है उसका सार्थक उपयोग सुनिश्चित करने के लिए राज्य स्तर से गाइडलाइन तथा प्राथमिकताएं निर्धारित करना आवश्यक है।   बैठक में जिला खनिज प्रतिष्ठान की वार्षिक प्राप्तियों और उनके उपयोग पर विचार-विमर्श हुआ। जिला खनिज प्रतिष्ठान के वार्षिक कार्य की योजनाओं का अनुमोदन राज्य स्तर से कराने, राज्य खनिज निधि में जिला खनिज प्रतिष्ठान से अंतरित की जाने वाली राशि को बढ़ाने तथा राज्य निधि में एकत्रित राशि से किए जाने वाले विकास कार्यों के अनुमोदन तथा पर्यवेक्षण के लिए समिति गठित करने के प्रस्ताव पर चर्चा हुई। जिला निधि में जिला कलेक्टर तथा प्रभारी मंत्री के अधिकार और राज्य निधि के प्रबंधन के संबंध में भी विचार-विमर्श हुआ।   31 मुख्य खनिजों को गौण खनिज में शामिल करने का प्रस्ताव बैठक में 31 मुख्य खनिजों को गौण खनिज में शामिल करने, ग्रेनाइट, मार्बल, फर्शी-पत्थर के वेस्ट केनिराकरण, शासकीय भूमि पर फर्शी पत्थर व पत्थर की खदानों को नीलामी के स्थान पर लीज से आवंटित करने, लीज स्वीकृति की शक्तियों के निर्धारण और गौण खनिज की रॉयल्टी दर के पुनरीक्षण पर भी चर्चा हुई।   निर्मित रेत (एम-सैंड) की रॉयल्टी दर पर चर्चा नदी की रेत के विकल्प एम-सैंड (निर्मित रेत) की रॉयल्टी दर पर भी चर्चा हुई। उल्लेखनीय है कि इसे नवीन गौण खनिज के रूप में शामिल किया जा रहा है। यह लोक निर्माण विभाग के एस.ओ.आर. में भी शामिल है।   बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, खनिज साधन मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह, सचिव खनिज साधन सुखवीर सिंह तथा अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 7 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार में सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया सोमवार को पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर जमकर बरसें। उन्होंने किसानों के मामले में भाजपा पर लगाए जा रहे आरोपों के लिए कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए प्रदेश में उनकी सरकार के दौरान कर्जमाफी को लेकर पलटवार किया और कई गंभीर आरोप लगाए।   सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया ने सोमवार को मीडिया से चर्चा करते हुए किसानों की कर्ज माफी को लेकर कमलनाथ सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि कमलनाथ जी की सरकार ने 15 महीने में किसी किसान का कर्ज माफ नहीं किया। कांग्रेस ने बस कागजी कार्यवाही में ही किसानों का कर्जा माफ किया है जमीनी स्तर से कोई काम नहीं किया। इसके अलावा मंत्री भदौरिया ने पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर घोषणा पत्र के मुताबिक प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को बेरोजग़ारी भत्ता न देने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार ने कहा था कि हम बेरोजगार युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देंगे लेकिन पिछले 15 माह की सरकार में उन्होंने किसी एक व्यक्ति को भी बेरोजगारी भत्ता नहीं दिया।पूर्व मंत्री डॉ. गोविंद सिंह की नदी बचाओ यात्रा पर कसा तंजइस दौरान पत्रकारों से चर्चा करते हुए मंत्री भदौरिया ने पूर्व मंत्री गोविंद सिंह द्वारा निकाली जा रही नदी बचाओं यात्रा पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि पूर्व सहकारिता मंत्री जो नदी बचाओ यात्रा निकाल रहे हैं मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि आप अपनी अंतरात्मा में झांक कर यह बताएं की सबसे ज्यादा अवैध उत्खनन किस सरकार में हुआ है। उत्खनन के लिए जो भी टेंडर हुए हैं वह आपकी सरकार के समय के ही हैं। उप चुनाव के समय ही यह सब हो रहा है क्योंकि खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे।   कमलनाथ सरकार ने नहीं कि ग्वालियर चंबल क्षेत्र में विकास मंत्री अरविंद भदौरिया ने पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार पर ग्वालिय चंबल क्षेत्र की उपेक्षा का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी की सरकार ने पिछले 15 महीने के कार्यकाल में ग्वालियर चंबल क्षेत्र में एक पैसे का भी काम नहीं किया। जैसे ही सरकार बदली तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्वालियर चंबल को सौगात देते हुए 8 हजार करोड़ की लागत से बनने वाले एक्सप्रेस वे का भूमि पूजन कर दिया।   रुतबे जलवे को लेकर मुख्यमंत्री द्वारा दिए बयान पर कहा कि रुतबे जलवे से कुछ नही होता। हम जनता की सेवा तभी कर सकते हैं जब हम सरकार में हैं। विकास के सपने तभी साकार हो सकते हैं जब सरकार में हो इसीलिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि क्षेत्र में जाकर जनता की सेवा करें।

Kolar News

Kolar News 7 September 2020

  भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले कांग्रेस किसानों के मुद्दे को प्रमुखता से उठा रही है। कांग्रेस प्रदेश सरकार को किसानों की मौत का जिम्मेदार ठहराते हुए उस पर किसान विरोधी होने और किसानों के साथ छल करने का आरोप लगा रही है। पूर्व सीएम कमलनाथ भी लगातार ट्वीट कर किसानों की आत्महत्या के मामले में सरकार पर निशाना साध रहे हैं। कमलनाथ के ऐसे ही एक ट्वीट कर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस पर जमकर बरसे। उन्होंने प्रदेश में किसानों की आत्महत्या को लेकर कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए निशाना साधा। मंत्री मिश्रा ने कमलनाथ के किसान आत्महत्या मामले पर ट्वीट को कहा, मौत कोई हो दुखद होती है, कैसी भी हो पीड़ा दायिक होती है और मौत के ऊपर राजनीति करना उससे भी ज्यादा पीड़ादायक हैं। मंत्री मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कमलनाथ ने कभी यह ट्वीट नही किया की हमने और हमारे नेता राहुल गांधी ने 10 दिनों में 2 लाख रुपये का कर्ज माफ का कहाँ था, मगर झूठ का सहारा बांधने का कार्य किया हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने किसानों को कर्जमाफी के नाम पर सपना दिखाया और किसानों को धोखा दिया।   कमलनाथ का ग्वालियर दौरा रद्द होने पर कसा तंजगृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व सीएम कमलनाथ के ग्वालियर दौरा रद्द होने पर तंज कसते हुए कहा कि हमें नही लगता कि कमलनाथ कभी ट्विटर के आगे जा पाएंगे। उन्होंने उपचुनाव को लेकर कहा कि क्या कांग्रेस से और नेता भागने वाले है। उन्होंने कहा कि वह न तो नेता ठीक है और ना ही राजनीति ठीक इसलिए वह कोई रुकना नही चाहता। कांग्रेस में नीति, नियत, नेता ठीक नहीं है, कांग्रेस डूबता जाहज है। इसके अलावा वरिष्ठ कांग्रेस नेता गोविंन्द सिंह की यात्रा पर तंज कसते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि जब मंत्री थे तब माफी मांगी, आज प्रदेश जानता है गोविंन्द सिंह क्यों यात्रा निकाल रहे हैं।   सावधानी हटने से बढ़ा कोरोना का संक्रमणमें आज भी सक्रिय हूं और कल भी सक्रिय था। पार्टी के अनुसार ही कार्य करता हूँ उसको अन्यथा नही जोड़ो। गृह मंत्री ने कहा कि कोरोना चल रहा उनको उनके स्वास्थ्य की चिंता हैं। प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी है, सावधानी हटने से बढ़ा कोरोना का संक्रमण, सरकार अपनी तरफ से सभी काम कर रही है, मगर सावधानी में ही सबकी सुरक्षा हैं।  

Kolar News

Kolar News 7 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि देश की सत्तर प्रतिशत आबादी गांवों में निवासरत है। गांवों की तस्वीर बदलने का दायित्व पंचायत प्रतिनिधियों का है। राज्य सरकार इन कार्यों के लिए संसाधनों की कोई कमी नहीं होने देगी। पंचायत प्रतिनिधि विकास कार्यों का पूरी प्रतिबद्धता, पारदर्शिता और ईमानदारी से संचालन करें। मुख्यमंत्री चौहान ने शनिवार को 15वें वित्त आयोग अनुदान की 996 करोड़ राशि, पंचायतों को सिंगल क्लिक से ई-ट्रांसफर की। इस अवसर पर उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों को संबोधित भी किया। मंत्रालय से आयोजित इस वर्चुअल संवाद में मुख्यमंत्री चौहान ने कोरोना काल में पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा की गई व्यवस्थाओं और कार्यों के लिए उनकी सराहना की।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पंच परमेश्वर योजना के अंतर्गत प्राप्त 996 करोड़ रुपये पंचायतों को उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इससे पेयजल और स्वच्छता से संबंधित कार्य कराये जाना है। इस वित्तीय वर्ष में अब तक पंचायतों को 15वें वित्त आयोग से तीन हजार 984 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए जा चुके हैं। इससे ग्रामों की तस्वीर बदलेगी। इस मौके पर बताया गया कि कुल राशि का 85 प्रतिशत ग्राम पंचायत, 10 प्रतिशत जनपद पंचायत और 5 प्रतिशत जिला पंचायतों को उपलब्ध कराया जा रहा है।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि पंच परमेश्वर योजना गांवों के लिए वरदान सिद्ध हुई है। इससे ग्राम पंचायतों ने पेयजल, जल संरक्षण, अधोसंरचना निर्माण और कोरोना महामारी से बचाव के लिए सैनेटाइजर, मास्क, प्रवासी श्रमिकों की भोजन व्यवस्था, आश्रय तथा अन्य प्रशासनिक कार्य संचालित किए हैं। मुख्यमंत्री ने पंचायत प्रतिनिधियों से मुख्यमंत्री पथ विक्रेता योजना, पात्रता पर्ची तथा खाद्यान्न वितरण की तैयारियों और संबल योजना के क्रियान्वयन की स्थित की जानकारी भी ली।   प्रधानमंत्री 12 सितम्बर को करेंगे 1.50 लाख आवासों का लोकार्पण मुख्यमंत्री ने जानकारी दी कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 12 सितम्बर को एक लाख 50 हजार आवासों का सिंगल क्लिक से लोकार्पण करेंगे। प्रधानमंत्री, वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से पंचायत प्रतिनिधियों से संवाद भी करेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने पंचायत प्रतिनिधियों से कहा कि वे अपने क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों का समारोहपूर्वक गृह प्रवेश आयोजित करें। कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों का पालन सुनिश्चित किया जाए।   मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायतों को उपलब्ध कराई जा रही राशि से पंचायतें सामुदायिक स्वच्छता परिसर, पेयजल कूप, नल-जल संबंधी कार्य, रूफ वाटर हार्वेस्टिंग, साफ-सफाई व स्वच्छता के कार्य और जल संरक्षण संबंधी निर्माण कार्य करा सकेंगी।   वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में सभी जिला व जनपद पंचायतें एन.आई.सी. से तथा सभी ग्राम पंचायतों को वैब लिंक के माध्यम से जोड़ा गया था। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास मनोज श्रीवास्तव तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री ने पंचायत पदाधिकारियों से प्रधानमंत्री के कार्यक्रम की तैयारी करने के निर्देश भी दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि योजनाओं को पंचायतें गति दें। इसके लिए सभी मिलकर कार्य करें। विशेष रूप से छोटे-छोटे कार्य करने वालों के व्यवसाय को पटरी पर लाने के लिए ग्रामीण पथ विक्रेता कल्याण योजना के बेहतर क्रियान्वयन में सहयोग दें। पंचायत राज की असल भावना को जमीन पर उतारें। इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने हितग्राहियों से भी बातचीत की। 

Kolar News

Kolar News 5 September 2020

रायसेन। जिले के देवनगर थाना क्षेत्र में बीती रात भोपाल-सागर मार्ग पर रायसेन के पास सडक़ हादसे में देवरी के वरिष्ठ भाजपा नेता तेजी सिंह राजपूत की मौत हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है।    सागर जिले के देवरी विधानसभा क्षेत्र के वरिष्ठ भाजपा नेता 65 वर्षीय तेजी सिंह राजपूत शुक्रवार को देर शाम भोपाल से अपने घर लौट रहे थे। इसी दौरान देवनगर थाना क्षेत्र में उनकी कार अनियंत्रित होकर पलट गई, जिसमें वे गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। बता दें कि पिछले विधानसभा चुनाव में वे देवरी से भाजपा के उम्मीदवार थे।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके निधन पर शोक जताते हुए ईश्वर से उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। मुख्यमंत्री ने शनिवार को ट्वीट किया है कि - ‘ प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता श्रद्धेय तेजीसिंह जी राजपूत ‘ककाजू’ के चरणों में श्रद्धासुमन अर्पित करता हूँ। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें और उनके परिजनों और समर्थकों को इस अपार दु:ख को सहन करने की शक्ति दें।’

Kolar News

Kolar News 5 September 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया प्रभारी, पूर्व मंत्री और कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने हाल ही में आई राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ताजा रिपोर्ट पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। जीतू पटवारी ने शनिवार को एक बयान जारी कर कहा कि मोदी जी, शिवराज जी और भारतीय जनता पार्टी एनसीआरबी के आंकडे यह बताते हैं कि देश में कितनी भयावाह स्थिति  है।   उन्होंने कहा कि 2019 सबसे अधिक आत्महत्या करने वाला वर्ष बन गया है। वर्ष 2019 में 10281 किसानों और खेतिहर मजदूरों ने जान दी है। जबकि 32,559 दिहाड़ी मजूदरों ने इस अवधि में आत्महत्या की है। साल 2019 में कुल 139,123 लोगों ने पूरे देश में जान दी। पूरे देश में मौत को गले लगाने वाले लोगों में 7.4 फीसदी लोग खेती से जुड़े किसान और खेतिहर मजूदर थे। यही नहीं आत्महत्या करने वालों में बेरोजगार युवा भी थे।    पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि क्या यही वह अच्छे दिन है जिसे भारतीय जनता पार्टी, मोदी जी और शिवराज जी ने देने का वादा किया था। अब लोग गुहार लगा रहे हैं कि हमें हमारे पुराने दिन ही लौटा दो। जीतू पटवारी ने बताया कि गृह मंत्रालय के आधीन आने वाले राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के अनुसार मेरे प्रदेश मध्य प्रदेश में 12,457 किसान, मजदूरो और युवा बेरोजगारों ने आत्महत्या की है। उन्होनें भाजपा पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि यह प्रदेश की वस्तु स्थिति है, और यही शिवराज सिंह चौहान का असली चेहरा है। मध्य प्रदेश को आत्महत्याओं का हब बना दिया है। जीतू पटवारी ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान जिस जिले सीहोर की बुधनी विधानसभा से चुनकर आते है वहाँ पिछले तीन दिनों में तीन-तीन लोगों ने आत्महत्या की है। यह देश का सबसे अधिक आत्महत्या करने वाला जिला बना हुआ है।

Kolar News

Kolar News 5 September 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में बेरोजगार संघ के आह्वान पर शुक्रवार को बेरोजगार युवक-युवतियों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। शहर के रोशनपुरा चौराहे पर हजारों की संख्या में बेरोजगार युवक-युवतियां एकत्रित हुए और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सड़क पर बैठ गए, जिससे रास्ता जाम हो गया। पुलिस ने बल प्रयोग कर प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा और रास्ता खुलवाया। पुलिस ने 50 से अधिक प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है। इसी बीच पूर्व सीएम कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह भी रोशनपुरा पहुंच गए और उन्होंने बेरोजगारों के प्रदर्शन का समर्थन किया।   बेरोजगार संघ के आह्वान पर प्रदेश के कई हिस्सों ने बेरोजगार युवक-युवतियां शुक्रवार सुबह भोपाल पहुंचे और जिला प्रशासन की अनुमति के बगैर रोजगार मुहैया कराने की मांग को लेकर रोशनपुरा चौराहे पर एकत्रित होकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी रोशनपुरा पहुंचकर प्रदर्शनकारियों से मिले और उनका समर्थन किया। प्रदर्शनकारियों ने रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने की मांग संबंधी नारे लगाए और सीएम हाउस का घेराव करने के लिए रवाना हुए, लेकिन पुलिस प्रशासन ने प्रदर्शन के मद्देनजर सुरक्षा संबंधी सख्त प्रबंध किए थे और उन्हें रोशनपुरा क्षेत्र से आगे नहीं बढ़ने दिया गया। इस दौरान प्रदर्शनकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सडक़ पर बैठ गए और चक्काजाम करते हुए इन युवाओं ने सरकार से रोजगार दिए जाने की मांग की।   बिना अनुमति प्रदर्शन करने के कारण पुलिस को सख्ती दिखानी पड़ी और बल प्रयोग कर प्रदर्शनकारियों को खदेड़ा गया। पुलिस ने इस दौरान 50 से अधिक प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया। इनमें लड़कियां भी शामिल हैं। फिलहाल, पुलिस की कार्रवाई जारी है। टीटी नगर सीएसपी उमेश तिवारी ने बताया कि अब तक 50 से अधिक प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है। सभी के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन और कोरोना गाइडलाइन के नियमों का पालन नहीं करने का प्रकरण दर्ज किया है। वहीं, प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाए कि पुलिस ने उन पर जानबूझकर लाठीचार्ज किया। प्रदर्शन के लिए प्रशासन से अनुमति मांगी गई थी, लेकिन अनुमति नहीं दी गई। 

Kolar News

Kolar News 4 September 2020

रायसेन। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि चाहे उन्हें कर्ज लेना पड़े, वे किसानों के नुकसान की भरपाई राहत की राशि और फसल बीमा से करेंगे। मुख्यमंत्री शुक्रवार को गैरतगंज में प्रभावित फसलों का जायजा लेने के बाद किसानों को सांत्वना देते हुए सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर सिलवानी के विधायक रामपाल सिंह भी उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा कि लगता है ईश्वर ने उन्हें कोरोना से लडऩे और किसानों के दुख दर्द दूर करने के लिए ही फिर मुख्यमंत्री बनाया है। उन्होंने किसानों से कहा कि आंख में आंसू मत लाना, मैं परिश्रम की पराकाष्ठा करके आपको संकट से पार निकालकर ले जाऊंगा। उन्होंने यहां सोयाबीन और उड़द फसलों में लगे यलो-मौजिक रोग के चलते फसलों के नुकसान का खेतों मे जाकर निरीक्षण किया और जिला-प्रशासन को निर्देश दिए कि सर्वे का काम शीघ्र करें और किसी भी प्रकार की हड़बड़ी न हो इसका भी विशेष ध्यान रखें।    उन्होंने कहा कि कोई भी प्रभावित किसान फसलों के सर्वे के बाद राहत और बीमा राशि से वंचित नहीं रहें। सर्वे में पंचायत के 5 सदस्यों को भी रखें जिससे कोई गड़बड़ी नहीं हो। उन्होंने बेगमगंज और सिलवानी के किसानों को आश्वस्त किया कि पूर्व में हुई गड़बड़ी की जांच के साथ इस बार पारदर्शी तरीके से सर्वे होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार सजग है और बाढ़ पीडि़तों की मदद के साथ ही गरीब किसानों की मदद में अपनी सक्रिय भूमिका में कार्यरत है। दिन-रात एक करके पिछले हफ्ते ही बाढ़ में फंसे 13 हजार लोगों की जान बचाई हैं।   मुख्यमंत्री ने कहा कि रायसेन जिले का कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं सोएगा और हजारों की संख्या में शीघ्र ही राशन पर्ची देकर राशन दिया जाएगा। उन्होंने कोरोना से प्रभावित ग्रामीण छोटे व्यापारियों को आश्वस्त किया कि उन्हें मुख्यमंत्री स्ट्रीट वेंडर योजना से 10 हजार की रकम दिलाई जाएगी और उसकी गारंटी वह लेंगे।   आंखों में आँसू मत लाना, सरकार और मैं किसानों को संकट से निकालूंगा   इससे पहले मुख्यमंत्री ने गैरतगंज से लगे ग्राम सहजपुर के खेतों मे पहुंचकर यलो-मौजिक रोग से प्रभावित हुई सोयाबीन फसल का जायजा लिया। कृषि अधिकारियों ने बताया कि लगातार 3 हफ्ते बारिश नहीं होने के कारण यह प्रकोप हुआ है। मुख्यमंत्री ने कृषक महेंद्र यादव को भी सांत्वना दी और कहा कि आंखों में आंसू मत लाना सरकार और मैं आपको संकट से पार निकालेंगे। उन्होंने मौके पर उपस्थित किसानों को हर सम्भव मदद का भरोसा दिलाया।   गरीबों के भारी-भारी बिजली के बिल स्थगित   मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों के भारी-भारी बिजली के बिल उन्होंने स्थगित कर दिये हैं और इस माह से माह वार नये बिल आएंगे। पिछली सरकार द्वारा गरीबों के कल्याण की सभी योजनाएं बंद कर दी थी, संबल सहित ऐसी सभी योजनाएं फिर से शुरू कर दी हैं। अब किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि रायसेन में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की किश्त जमा करने की तारीख अब 7 सितम्बर कर दी है। विधायक रामपाल सिंह ने तिथि बढ़ाने पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।    प्रदेश में लैब से लेकर ऑक्सीजन, दवाई, वेंटिलेटर और अस्पतालों की व्यवस्था की है   मुख्यमंत्री ने किसानों को से कहा कि कोरोना से जंग के लिए प्रदेश में लैब से लेकर आक्सीजन, दवाई, वेंटिलेटर और अस्पताल आदि की व्यवस्था की है। कोई भी व्यक्ति अब इस संक्रमण से लड़ सकेगा।  कोई भी नागरिक इससे घबरायें नहीं, सभी अस्पतालों में स्वास्थ्य के बेहतर संसाधन उपलब्ध कराये गये हैं। मुख्यमंत्री किसानों के बीच जाकर उनकी समस्याओं से भी रूबरू हुए।

Kolar News

Kolar News 4 September 2020

भोपाल। बालाघाट और मंडला में गरीबों को घटिया चावल बांटने के मामले के बाद सरकार सख्त हो गई है। बुधवार देर रात बैहर में 5 और वारासिवनी में 3 राइस मिल को जिला प्रशासन ने सील कर दिया है। जबकि 10 और मिलों को सील करने की प्रशासन ने कमर कस ली है। बालाघाट जिला प्रशासन ने खैर लांजी की दुर्गा राइस मिल, वारासिवनी की संचेती राइस मिल, लालबर्रा की कुमार राइस को सील कर दिया है। यह कार्यवाही देर रात हुई। वही अब इस पूरे मामले पर राजनीति भी तेज हो गई है। घटिया चावल बांटने के मामले में भाजपा और कांग्रेस में बयानबाजी तेज हो गई है। कांग्रेस प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगा रही है। कंाग्रेस के आरोपों पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शायराना अंदाज में तंज कसा है। गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार करते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि "उन्होंने गरीबों के ज़ख्म का कुछ यूं किया इलाज़, मलहम भी लगा रहे हैं तो खंजर की नोंक से" ये चावल तो कांग्रेस ने खरीदा था, हमारी सरकार ने सड़ा हुआ चावल पकड़ा है। उन्होंने कहा कि केंद्र में हमारी सरकार, राज्य में हमारी सरकार। घटिया चावल तो कमलनाथ जी की सरकार ने ही खरीदे थे। पोल खुली तो वो अब वो ट्वीट कर भाजपा सरकार पर इल्ज़ाम लगा रहे हैं। उन्हें तो घटिया अनाज की खरीद के लिए गरीबों से माफ़ी मांगनी चाहिए। कांग्रेस बहा रही मगरगच्छ के आंसू के आंसू गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सीहोर में किसान आत्महत्या मामले पर कांग्रेस द्वारा सरकार पर झूठ बोलने के आरोपों पर कहा कि किसान के बेटे ने कहा कि उनका मन भटका हुआ था। कांग्रेस मगरमच्छ के आंसू बहा रही है। कांग्रेस के पास कुछ बताने के लिए नही है। पब्जी बंद करने का फैसला स्वागतयोग्यवहीं चायनीस ऐप पब्जी को बंद किए जाने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि चाइनीज एप पबजी का बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ रहा था और लंबे समय से देश में इस पर बैन लगाने के लिए आवाज उठ रही थी। केंद्र सरकार के इस फैसले का आज पूरे देश में स्वागत हो रहा है।

Kolar News

Kolar News 3 September 2020

भोपाल। एक से 30 सितंबर तक की अवधि के लिये भारत सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन्स के पालन के लिए प्रदेश सरकार ने आदेश जारी कर दिये हैं। अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा ने मंगलवार को आदेश जारी करते हुए बताया है कि रियायतों के साथ अनलॉक 4 की गाइडलाइन्स जारी की गई हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना की चेन-ब्रेकिंग के लिये आवश्यकताओं को दृष्टिगत रखते हुए पुख्ता प्रबंध कर निश्चित लोगों की उपस्थिति में 21 सितंबर के बाद कार्यक्रम आयोजित हो सकेंगे। गाइडलाइन्स का उल्लंघन होने पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी।   केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी की जाने वाली एसओपी के बाद 21 सितंबर से अधिकतम 100 लोगों की उपस्थिति में विभिन्न सामाजिक अकादमिक, स्पोर्ट्स, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक, राजनैतिक और अन्य सामुहिक कार्यक्रम किये जा सकेंगे। इसमें भी फेस मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, थर्मल स्केनिंग और सेनेटाइजेशन के प्रबंध रखना अनिवार्य रहेगा।   21 सितंबर 2020 से कन्टेंमेंट जोन के बाहर के स्कूलों में ऑनलाइन और डिस्टेंस लर्निंग की गतिविधियाँ संचालिक हो सकेंगी। स्कूलों में 50 प्रतिशत टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्टाफ को बुलाया जा सकेगा। कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थी पालकों की सहमति से स्कूलों में शिक्षकों से मार्गदर्शन प्राप्त करने के लिये आ सकेंगे। राष्ट्रीय संस्थानों और इससे पंजीकृत संस्थानों में लघु कौशल शिक्षण की अनुमति रहेगी। उच्च शिक्षा विभाग गृह मंत्रालय की सहमति से शोधार्थियों और तकनीकि और व्यावसायिक कार्यक्रमों में स्नातकोत्तर कक्षाओं में अध्ययनरत छात्रों को कोविड-19 की गाइडलाइन्स अनुसार अनुमति प्रदान कर सकेगा। 30 सितंबर तक स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक और कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे। इनमें नियमित संचालित होने वाली गतिविधियाँ नहीं होंगी।   केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के निर्देशानुसार जिला कलेक्टर कोरोना की चेन को तोड़ने के लिये माइक्रो लेवल पर कंटेनमेंट जोन को चिन्हांकित कर सकेंगे। जिला कलेक्टरों को इन जोन्स को वेबसाइट पर अधिसूचित करना होगा। राज्य में कहीं भी आने-जाने पर कोई पाबंदी नहीं रहेगी। आने-जाने के लिये किसी प्रकार की अनुमति, अनुमोदन या ई-परमिट की जरूरत नहीं होगी। अनलॉक 4 की गाइडलाइन्स में 65 वर्ष से अधिक उम्र के वृद्धजनों और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को अत्यावश्यक नहीं होने पर घरों में रहने की सलाह दी गई है।   भारत सरकार द्वारा जारी अनलॉक 4 की गाइडलाइन्स में राज्य स्तर से किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं किया जा सकेगा। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिये राज्य सरकार धारा 144 का प्रयोग कर सकती हैं। गाइडलाइन का उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के अन्तर्गत कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

Kolar News

Kolar News 1 September 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अनंत चौदस के शुभ अवसर पर अपने सरकारी आवास पर विराजमान भगवान गणेश की प्रतिमा का मंगलवार को विसर्जन किया। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए सीएम शिवराज ने अपने पूरे परिवार के साथ निवास में ही बने कुंड में भगवान गणेश की प्रतिमा का विसर्जन और दुनिया को कोरोना मुक्त करने और प्रदेश की खुशहाली के लिए प्रार्थना की।   इस अवसर सीएम शिवराज ने प्रदेश की जनता से भी आग्रह करते हुए कहा कि कोरोना गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए बड़े आयोजन ना करें। भगवान गणेश का विसर्जन अपने घरों में करें। घर में छोटे कुंड बनाकर विसर्जित करें। गणेश जी जहां विसर्जित हों वहां पौधा रोपित करें और भगवान की आराधना करें। इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भगवान गणेश की आराधना कर प्रदेश की सुख शांति समृद्धि की प्रार्थना की।  उल्लेखनीय है कि हर वर्ष सीएम शिवराज के घर गणेश पूजा धूमधाम से होती है। दस दिनों तक सीएम शिवराज परिवार के साथ भगवान गणेश की पूजा अर्चना करते हैं। अनंत चतुर्दशी के दिन सीएम शिवराज पत्नी के साथ धूमधाम से गणेश विसर्जन करने घाट पर जाते थे लेकिन इस साल कोरोना महामारी के कारण उन्होंने अपने परिवार के साथ सादगी पूर्वक त्यौहार को मनाया।

Kolar News

Kolar News 1 September 2020

भोपाल। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी विकास दर में भारी गिरावट को लेकर ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है। राहुल गांधी के इस बयान पर मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार कर किया है और राहुल गांधी का आड़े हाथों लेते हुए कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए राहुल गांधी और कांग्रेस पर जमकर बरसे। उन्होंने राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि भारत के ऊपर उंगली उठना राहुल गांधी का स्वभाव है, भारत को कैसे कमजोर बताना राहुल गांधी की आदत है। कोरोना में पूरे विश्व मे वैश्विक मंदी का दौर है, लेकिन सरकार ने पूरे लॉक डाउन में तीन महीने तक राशन दिया गया, वेंडर्स के खातों में पैसे डाले। मध्य प्रदेश में किसी गरीब को भूखा नही सोने दिया। प्रवासियों को घर तक छोडऩे का प्रबंधन किया गया। उन्होंने कहा कि एक उंगली हम पर तो 3 कांग्रेस वालों पर उठती है। मंत्री मिश्रा ने राहुल गांधी को सलाह देते हुए कहा कि जीडीपी भारत की गिर रही है वो कह रहे हंै, राहुल कभी अपने नाना के घर इटली देखे, जहाँ की 39 प्रतिशत जीडीपी गिरी है।   कांग्रस और कमलनाथ पर कसा तंजइसके अलावा उपचुनाव को लेकर कांग्रेस के चुनावी सर्वे और कमलनाथ के ग्वालियर- चम्बल में धमाकेदार एंट्री की तैयारी पर मंत्री डॉ मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस और उनके नेताओं की लीला अपरंपार है। हमने कमलनाथ का बयान पढ़ा हैं। वे बोलते है संविधान पर खतरा है, खतरे में गांधी नही कांग्रेस है। उस पर ध्यान दे केवल टीवी और ट्विटर पर राजनीति कर रहे हैं, टीवी और ट्विटर से बाहर निकलो। उन्होंने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री रात रात भर नावों में सवार होकर बाढ़ प्रभावितों के पास पहुँच रहे हैं। कांग्रेस के नेता केवल ट्विटर पर है, कांग्रेस में व्यक्तियों का टोटा है। कमलनाथ के ग्वालियर- चम्बल में धमाकेदार एंट्री की तैयारी पर मंत्री डॉ मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कमलनाथ कांग्रेस के फुसडी लड़ी है। केवल हमारी आलोचना कर के वह जा रहे है, खुद की तो कुछ उपलब्धि नही है।

Kolar News

Kolar News 1 September 2020

भोपाल। भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का सोमवार को निधन हो गया। प्रणब मुखर्जी को कोरोना संक्रमित होने के बाद अस्पताल में भर्ती किया गया था, जिसके बाद उनकी सर्जरी हुई थी। आज दोपहर उपचार के दौरान उनका निधन हो गया। उनके बेटे अभिजित मुखर्जी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। पूर्व राष्ट्रपति के निधन पर मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया है।   सीएम शिवराज प्रणब मुखर्जी के निधन को अपूर्णीय क्षति बताते हुए विनम्र श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘भारत के पूर्व राष्ट्रपति मा. श्री प्रणब मुखर्जी के निधन के समाचार को सुनकर अत्यंत दु:ख हुआ। आज मां भारती ने अपने एक गुणी और राष्ट्र के लिए समर्पित पुत्र को खो दिया। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं।    भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा ‘ पूर्व राष्ट्रपति "भारत रत्न" श्री प्रणव मुखर्जी जी का निधन पूरे देश के लिए एक अपूर्णीय क्षति है। उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन राष्ट्र सेवा के लिए समर्पित कर दिया। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे एवं शोक संत्पत परिवार को इस दु:ख को सहने की शक्ति दे।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व राष्ट्रपति के निधन को युग का अंत बताते हुए कहा कि ‘देश के लिए दुख और गहन वेदना का दिन है। हम-सबके बेहद सम्मानित पूर्व राष्ट्रपति, भारतरत्न डॉ. प्रणब मुखर्जी के निधन से देश में राजनीति के एक विशिष्ट युग का अवसान हुआ है। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना और परिजनों के प्रति शोक संवेदनाएं प्रकट करता हूँ।  

Kolar News

Kolar News 31 August 2020

इंदौर/भोपाल। शहर के खजराना क्षेत्र में प्रतिबंध के बावजूद रविवार को ताजिये निकालने का मामला गर्मा गया है। इंदौर की पूर्व महापौर मालिनी गौड़ ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इसे भय फैलाने की साजिश बताया है और कार्रवाई की मांग की है।   कोरोनाकाल में प्रतिबंध के बाद भी शहर में ताजिए निकालने की घटना सामने आई है। इंदौर में खजराना के बड़ला इलाके में बड़ी संख्या में इकट्ठे हुए लोग पांच ताजिए लेकर मैदान में आ गए, जिसके बाद वहां सोशल डिस्टेंसिंग टूट गई। सूचना मिलने पर पुलिस के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने लोगों को समझाकर ताजिए वापस रखवाए। एएसपी राजेश रघुवंशी के अनुसार घटना रविवार दोपहर को बड़ला में हुई है। चार दिन से लगातार समुदाय के लोगों को समझाया जा रहा था कि कोविड काल में कोई भी भीड़ इकट्ठी नहीं होने देना है। लोगों ने पुलिस की बात मानी, लेकिन बड़ला में अचानक भीड़ सामने आ गई। यहां लोगों ने पुलिस की सारी व्यवस्थाओं को धत्ता बताते हुए ताजिए निकाल दिए। ताजिए मैदान में भी घुमाए।   डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्र के अनुसार पूरे शहर में हमने सख्त कार्रवाई की है। व्यवस्थाएं चाक चौबंद थी। हालांकि राजीव नगर बड़ला में व्यवस्था बिगड़ी तो वहां टीआई औऱ आयजकों के खिलाफ भी कार्रवाई की है। एएसपी राजेश रघुवंशी के अनुसार इसमें 4 एफआईआर हुई। सभी पर भादवी की धारा 188, 269 और 270 के तहत केस दर्ज हुआ है। इसमें कुछ नामजद लोग हैं जिसमें उस्मान पटेल का नाम भी शामिल है। बाकी की पहचान फोटो और वीडियो देखकर होगी। वीडियो के लिहाज से इसमें 100 से ज्यादा लोग होंगे।   पूर्व महापौर ने लिखा पत्र   इस घटना को लेकर पूर्व महापौर और विधायक मालिनी गौड़ ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। गौड़ ने लिखा है कि रविवार की घटना को संयोग नहीं, बल्कि भय फैलाने की साजिश थी। इंदौर में इस प्रकार की घटना होने पूरे शहर के लिए खतरनाक है। इससे यह बात पता चलती है कि यहां का इंटेलीजेंस पूरी तरह से फेल है। इस प्रकार की घटना के लिए पुलिस-प्रशासन के साथ ही अन्य जिम्मेदार लोग भी दोषी हैं। पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच होने के साथ ही दोषियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

Kolar News

Kolar News 31 August 2020

भोपाल। मप्र में एक और राजनेता ने कोरोना से जिंदगी की जंग हार गए हैं। भोपाल विकास प्राधिकरण के पूर्व उपाध्यक्ष और मप्र कांग्रेस महासचिव मोहम्मद सलीम का सोमवार सुबह निधन हो गया। कांग्रेस नेता मोहम्मद सलीम कोरोना संक्रमित थे और भोपाल के चिरायु अस्पताल में उनका ईलाज चल रहा था। मोहम्मद सलीम ने सोमवार सुबह करीब पांच बजे अंतिम सांस ली। मोहम्मद सलीम का जनाजा दोपहर 1:00  बजे जदे वाले कब्रिस्तान जहांगीराबाद भोपाल में सुपुर्द ए खाक किया जाएगा।   कांग्रेस नेता मोहम्मद सलीम के निधन का समाचार मिलते ही पार्टी में शोक की लहर दौड़ पड़ी। भाजपा और कांग्रेस नेताओं ने उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। मोहम्मद सलीम पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने समर्थक और करीबी नेता थे। उनके निधन पर कमलनाथ ने गहरा दुख जताते हुए दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा ‘ मेरे वर्षों के साथी, प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री मो. सलीम के दुखद निधन का समाचार प्राप्त हुआ। उनका निधन मेरे लिये व्यक्तिगत क्षति है। परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणो में स्थान व पीछे परिजनो को यह दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करे।   सीएम शिवराज ने जताया दुख कांग्रेस नेता मोहम्मद सलीम के निधन पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी दुख व्यक्त करते हुए परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘ मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं भोपाल विकास प्राधिकरण के पूर्व उपाध्यक्ष मो. सलीम जी के निधन का दुखद समाचार मिला। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को यह गहन दु:ख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं। विनम्र श्रद्धांजलि!

Kolar News

Kolar News 31 August 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश से नौ जिलों में बाढ़ के हालात बने हुए हैं। नर्मदा नदी का जल स्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया है, जिससे करीब साढ़े चार सौ गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। हालांकि, रविवार को बारिश से थोड़ी राहत मिली है और भोपाल के आसपास के क्षेत्रों में तेज बारिश का दौर थम गया है, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं। उन्होंने शनिवार को कई क्षेत्रों का हवाई निरीक्षण किया था। दूसरे दिन रविवार को भी उन्होंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हेलीकॉप्टर से निरीक्षण किया।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को जहां होशंगाबाद, सीहोर, रायसेन के बाढ़ प्रभावित इलाकों का निरीक्षण किया था, तो वहीं रविवार को फिर उन्होंने होशंगाबाद, सीहोर और रायसेन जिलों के साथ ही देवास, हरदा और विदिशा जिले के जलमग्न क्षेत्रों को देखा। इस दौरान उन्होंने जिला कलेक्टर से फोन पर बात की और इन क्षेत्रों में बाढ़ की स्थिति, प्रभावित जनसंख्या, जनधन क्षति और मवेशियों, फसलों एवं अन्न भण्डार की सुरक्षा के संबंध में विस्तार से जानकारी ली।    इस दौरान उन्होंने कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि वे संकट की इस स्थिति में प्रभावित लोगों की पूरी सहायता के लिए सक्रिय रहें। निचली बस्तियों में पानी के भराव की स्थिति को देखते हुए समय रहते नागरिकों को अन्य स्थानों पर शिफ्ट किया जाए। नियंत्रण कक्ष सक्रियता से कार्य करें। जहां आवश्यक हो तत्काल पुलिस, होमगार्ड, सेना और आपदा प्रबंधन दल की सहायता प्राप्त की जाए।   मुख्यमंत्री ने सभी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में किए गए सुरक्षा प्रबंधनों की जानकारी भी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि आपात स्थिति से निपटने के लिए गोताखोर, बोट, हेलीकाप्टर आदि के पुख्ता इंतजाम हैं। जिन क्षेत्रों में सडक़ों पर पुल-पुलियों पर बाढ़ का पानी है, उसे पार करने का प्रयास न किया जाए। जनता स्वयं भी सावधान रहे, पिकनिक स्थलों पर जाने से भी लोग बचें। उन्होंने कहा कि बांधों का जलस्तर बढऩे से गेट खोलने की सूचना दी जाती है, लेकिन बहुत से लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते। आम नागरिकों की सहायता के लिए राज्य सरकार तत्पर है। लेकिन आमजन का सजग रहना बहुत आवश्यक है। जिलों में पदस्थ आपदा प्रबंधन दल हर तरह के संकट में लोगों की सहायता के लिए तैयार हैं।   बाढ़ प्रभावित इलाकों से 325 लोगों को सफलतापूर्वक किया गया रेस्क्यू   होशंगाबाद जिले के बाबई विकासखंड में रविवार को बाढ़ प्रभावित ग्रामों में सेना एवं प्रशासन की टीम द्वारा 161 लोगों को रेस्क्यू कर राहत पुनर्वास केंद्र रूप में शिफ्ट किया। इससे पूर्व 164 लोगों का रेस्क्यू किया गया था। इस क्षेत्र के ग्राम बालाभेंट से 90, बिकोर से 30, मनवाड़ा से 14, गुराडिया से 5, तमचरू से 18, नसीराबाद से 4 लोगों को रेस्क्यू किया गया, जबकि शनिवार को यहां 164 लोगों का रेस्क्यू किया गया। रेस्क्यू किए गए लोगों को सुरक्षित राहत पुनर्वास केंद्रों पर भेजा गया है।   बारिश से सीहोर में पार्वती नदी का पुल क्षतिग्रस्त   इधर, सीहोर जिले में पिछले 24 घंटों से लगातार हो रही भारी बारिश के चलते सीहोर-शाजापुर जाने वाले मार्ग पर कालापीपल के पास बना यह पुल क्षतिग्रस्त हो गया है। इस पुल के ऊपर से लगातार पानी बह रहा है। रविवार को बारिश कम होने के कारण पानी में कुछ कमी आई है, तब जाकर पता चला कि पुल का ऊपरी हिस्सा एक तरफ का कट चुका है। इसके साथ ही बारिश से जिले के नदी नाले उफान पर तथा कई स्थानों पर बाढ़ के हालात बने हुए हैं   बाढग़्रस्त क्षेत्रों में फंसे लोगों को निकालने का काम जारी   प्रदेश के मध्य, पूर्वी और दक्षिणी हिस्से में रविवार को बारिश का क्रम कमजोर पडऩे के कारण राहत और बचाव कार्य में तेजी आयी है। सेना, पुलिस, होमगार्ड और विशेष दलों की मदद से बाढग़्रस्त क्षेत्रों में फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने के कार्य में जुटे हैं। इस कार्य में सेना के हेलीकॉप्टर, मोटरबोट और अन्य उपकरणों की मदद ली जा रही है।

Kolar News

Kolar News 30 August 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश से बाढ़ के हालात बने हुए हैं। राज्य के नौ जिलों के करीब साढ़े चार सौ गांवों बाढ़ की चपेट में हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया है कि राज्य के बाढ़ से प्रभावित 9300 से अधिक लोगों को 170 से अधिक राहत शिविरों में ठहराया गया है और उनके खान पान की व्यवस्था भी की गयी है। वहीं, सीहोर जिले के बुधनी के सोमलवाड़ा में बाढ़ में फंसे लगभग 40 लोगों को सेना के जवानों द्वारा हेलीकॉप्टर से रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को अपने निवास पर पत्रकारों से बाचतीत में कहा है कि पिछले तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश का क्रम आज राज्य दक्षिण और पूर्वी हिस्से में थम गया है, जिससे इन इलाकों में थोड़ी राहत है, लेकिन बारिश वाला यह सिस्टम राज्य के पश्चिमी हिस्से में पहुंच गया है, इसलिए अब इंदौर और उज्जैन संभागों में प्रशासन को और अधिक सतर्क रहने के लिए कहा गया है।   इधर, सीहोर जिले के सोमलवाड़ा में रविवार सुबह बाढ़ में फंसे लगभग 40 लोगों को सेना के हेलीकॉप्टर द्वारा रेस्क्यू कर शाहगंज मंडी प्रांगण में बने रेस्क्यू सेटर में सुरक्षित पहुंचाया गया। मौके पर सांसद रमाकांत भार्गव, कलेक्टर अजय गुप्ता, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे। कलेक्टर गुप्ता ने बताया कि बुदनी के सोमलवाड़ा के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में सेना द्वारा राहत एवं बचाव कार्य चलाया गया। एयरफोर्स के हेलीकॉप्टर से कई प्रभावितों को सुरक्षित निकाला गया है। राज्य सरकार इस आपदा से निपटने के लिए युद्धस्तर पर कार्य कर रही है।   रायसेन में भी बाढ़ में फंसे लोगों को निकालने हेलीकॉप्टर बुलाए गए   इसी तरह रायसेन जिले के बाड़ी बरेली क्षेत्र में बिगड़े बाढ़ के हालात के बाद कलेक्टर उमाशंकर भार्गव के प्रयास से सेना के तीन हेलीकॉप्टर बुलाए गए, जिससे इस क्षेत्र के 20 लोगों को अब तक सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है। प्रशासन द्वारा मौके पर रेस्क्यू किये लोगों को एक गार्डन में रखा जा रहा है। ग्राम भोति में बाढ़ से हालात बिगड़े हैं। उधर, तेन्डोनी नदी में शनिवार की रात कार से जा रहा एक युवक कार समेत बह गया। बहे युवक का शव रविवार सुबह बरामद हो गया है। मृतक युवक की पहचान ग्राम पंचायत सचिव दर्शन सिंह के रूप में हुयी है।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से किया बाढ़ प्रभावितों की मदद का अनुरोध   वहीं, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने पार्टी कार्यकर्ताओं से बाढ़ में फंसे लोगों को हर संभव मदद पहुंचाने का अनुरोध किया है। उन्होंने रविवार सुबह ट्वीट करते हुए कहा है कि - ‘मध्यप्रदेश में पिछले दो दिनों से जारी भारी बारिश के कारण कई जिलों में बाढ़ के हालात बन गये हैं। मैं सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अनुरोध करता हूँ कि बाढ़ पीडि़तों-प्रभावितों को हर संभव मदद पहुंचाने का कार्य करें। प्रदेशवासी अपनी एवं अपनों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखें।’

Kolar News

Kolar News 30 August 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में बीते दो दिनों से लगातार हो रही बारिश के चलते जनजीवन बुरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है। रविवार को भी सुबह से रिमझिम बारिश का दौर जारी है। नर्मदा समेत सभी नदी-नाले उफान पर हैं और होशंगाबाद, रायसेन, सीहोर और अन्य जिले बाढ़ की चपेट में आ गए। हालांकि, जिला प्रशासन की टीमें एनडीआरएफ और होमगार्ड के जवान राहत एवं बचाव कार्य में जुटे हुए हैं और सेना की मदद भी ला जा रही है। अब तक लगभग 8000 लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया है। इस बीच मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को राज्य की बाढ़ की स्थिति के संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत की और उन्हें स्थिति की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने यह जानकारी स्वयं ट्वीट के माध्यम से दी।   उन्होंने ट्वीट के माध्यम से प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा है कि - ‘मेरे प्रदेश के भाई-बहनों, पूरा प्रशासन और मैं स्वयं पूरी रात राहत एवं बचाव में लगे रहे। यह बताते हुए खुशी है कि बाढ़ प्रभावित 12 जिलों के 411 गांवों में हमने एक भी जान का नुकसान नहीं होने दिया। आठ हजार लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है।’ उन्होंने कहा है कि मैंने आज प्रात: काल माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी से चर्चा कर पूरी स्थिति की जानकारी दी है। उनका स्नेहपूर्ण समर्थन, सहयोग और आशीर्वाद मिल रहा है। रात को मैंने सेना के 5 हेलिकॉप्टर मांगे थे, तीन टेकऑफ कर चुके हैं और 2 और की तैयारी है। इससे बचाव कार्य में तेजी आयेगी।’   मुख्यमंत्री ने कहा कि - ‘सीहोर जिले के सोमालवाड़ा से फंसे सभी भाई-बहनों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। एयरलिफ्ट करने का ऑपरेशन रायसेन के भौंती गांव से प्रारम्भ होने वाला है। रायसेन के विभिन्न क्षेत्रों में फंसे हुए लोग परेशान ना हो। आर्मी के दो कॉलम भी भेजे रहे हैं। हम सभी को सुरक्षित निकाल लेंगे।’   मध्यप्रदेश में भारी बारिश वाले इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य जोर-शोर से जारी है। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम शनिवार को देर रात भी होशंगाबाद, सीहोर, रायसेन, बालाघाट और अन्य बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत एवं बचाव कार्य में लगे रहे। बता दें कि राज्य के मध्य, दक्षिण और पूर्वी क्षेत्रों में बाढ़ की स्थिति बनी हुयी है। नर्मदा और अन्य नदियां लगातार खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं। तटीय गांवों और कस्बों में बाढ़ का पानी आने के कारण हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। सेना के हेलीकॉप्टर और सेना के जवानों को भी राहत एवं बचाव कार्य में लगाया गया है। कम से कम नौ जिलों में बाढ़ की स्थिति ज्यादा चिंताजनक है।

Kolar News

Kolar News 30 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में बनी अतिवर्षा और बाढ़ की स्थिति से कोई जनहानि न हो, यह सुनिश्चित करना हमारा कर्तव्य भी है और धर्म भी। उन्होंने विशेष रूप से भोपाल, होशंगाबाद तथा जबलपुर संभाग में आगामी 48 घंटों में बन रही अतिवृष्टि की संभावनाओं को देखते हुए, जिला प्रशासन को निरंतर सतर्क रहने के निर्देश दिए। आवश्यकता होने पर सेना और वायुसेना की मदद ली जाए। यह बात मुख्‍यमंत्री ने शनिवार को प्रदेश में बनी अतिवर्षा और बाढ़ की स्थिति की समीक्षा करते हुए कही।    मुख्यमंत्री निवास में आयोजित बैठक में संभागवार स्थिति पर चर्चा हुई। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, नावों, गोताखोरों तथा उपकरणों की तत्काल उपलब्धता सुनिश्चित करें। निचली बस्तियों में पानी भरने की आशंकाओं को देखते हुए लोगों को समय रहते राहत शिविरों में शिफ्ट किया जाए। शिविरों में कोरोना से बचाव की सभी सावधानियाँ बरती जाएं। अतिवृष्टि तथा बाढ़ से प्रभावित व्यक्ति डायल-100 तथा फोन नं. 1079 पर मदद के लिए संपर्क कर सकते हैं। नर्मदा नदी के लगातार बढ़ते जलस्तर और विभिन्न बांधों के गेट खुलने तथा सहायक नदियों से आ रहे पानी के कारण होशंगाबाद, शाहगंज तथा बरेली में जिला प्रशासन को आगामी 10 दिन के लिए मुस्तैद रहने के निर्देश भी दिए गए हैं। बैठक में डूब में आने वाले संभावित निचले इलाकों की जिलावार जानकारी ली गई।    बैठक में जानकारी दी गई की भोपाल, होशंगाबाद तथा जबलपुर संभाग में निरंतर अतिवर्षा जारी है तथा अगले 48 घंटों में भी वर्षा की संभावना है। साथ ही सागर तथा उज्जैन संभाग भी वर्षा से प्रभावित हैं। ग्वालियर संभाग भी इससे प्रभावित होगा। प्रदेश के सभी बांध लगभग भर गए हैं। तवा डेम के 13 में 13 गेट खोले गए हैं, इंदिरा सागर बांध के 22 गेट, ओंकारेश्वर में 23 में से 21 गेट, राजघाट बांध पर 18 में से 14 गेट, बरगी बांध 21 में से 17 गेट खोले गए हैं। सरदार सरोवर बांध भी हाई लेवल से 7 मीटर नीचे है। मण्डला तथा पेंच बांध के भी गेट खोले गए हैं। जबलपुर संभाग में छिंदवाड़ा और नरसिंहपुर में सबसे अधिक बारिश हुई है। छिंदवाड़ा के बेलखेड़ा में 150 लोगों को सुरक्षित केम्प में पहुँचाया गया। यहां बाढ़ में फंसे मधु कहार को सुरक्षित निकाला गया। नर्मदा नदी की सहायक नदियों से आ रहे पानी के कारण जलस्तर भी लगातार बढ़ रहा है। इन्दौर संभाग में सर्वाधिक वर्षा खण्डवा में दर्ज की गई है। सागर संभाग के दमोह, छतरपुर, निवाड़ी भी अतिवर्षा से प्रभावित हैं तथा राहतगढ़ में कुछ परिवारों को कैम्प पहुँचाया गया है।   उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव गृह श्री राजेश राजौरा तथा अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 29 August 2020

भोपाल। छिंदवाडा में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के पूर्व विधायक और गोंगपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनमोहन शाह बट्टी की मौत के मामले में अब राजनीति शुरू हो गई है। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। पत्र में कमलनाथ ने मनमोहन शाह बट्टी की मौत के मामले में सीबीआई जांच की मांग की है। उन्होंने सीएम शिवराज से उच्च स्तरीय जांच सहित सीबीआई जांच का अनुरोध किया है।   कमलनाथ ने अपने पत्र में लिखा है कि अखिल भारतीय गोंडवाना पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं अमरवाड़ा विधानसभा के पूर्व विधायक स्वर्गीय मनमोहन शाह बट्टी का आकस्मिक निधन 2 अगस्त 2020 को हो गया था। शोकाकुल परिवार को सांत्वना देने मैं 24 अगस्त को उनके गृह नगर ग्राम देवरी गया था। ग्राम में आदिवासी समाज के वरिष्ठजन एवं अन्य उपस्थित प्रबुद्धजनों द्वारा मनमोहन शाह बट्टी की मृत्यु को संदेहास्पद बताया गया एवं  शंकाओं के समाधान के लिए उनकी मृत्यु की जांच को अत्यावश्यक बताया।   आगे उन्होंने अपने पत्र में कहा कि मनमोहन बट्टी आदिवासी समाज के लोकप्रिय एवं बड़े नेता थे। उनकी मृत्यु अप्रत्याशित रुप से हुई है। उनकी मृत्यु के कारण संपूर्ण आदिवासी समाज में संदेह और आक्रोश की स्थिति है। आदिवासी समाज के मानस में उपजे अविश्वास एवं शंका के समाधान हेतु आवश्यक है कि उनकी मृत्यु की विश्वसनीय एजेंसी के माध्यम से निष्पक्ष, विस्तृत और गहन जांच हो जिससे उनकी मृत्यु के स्पष्ट तथ्य सामने आ सकेंगे और आदिवासी समाज का विश्वास बनेगा।   कमलनाथ ने मांग करते हुए कहा कि आपसे अनुरोध है कि मनमोहन शाह बट्टी की मौत की जांच एक उच्च स्तरीय समिति अथवा सीबीआई के माध्यम से कराई जाए। गौरतलब है कि इससे पहले छिंदवाडा जिला गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन कलेक्टर और एसडीएम को सौंपा था, ज्ञापन के माध्यम से सीबीआई जांच की मांग रखी थी।

Kolar News

Kolar News 29 August 2020

होशंगाबाद। होशंगाबाद में नर्मदा का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है। बिगड़ते हालात को देखते हुए प्रशासन ने सेना बुलाई है। संभागयुक्त रजनीश श्रीवास्तव ने इसकी पुष्टि की है। एनडीआरएफ की टीम भी बुलाई गई हैं। नर्मदा का रौद्र रूप देखकर याद आई 1973 की भीषण बाढ़, आज ही दिन पानी-पानी हुआ था पूरा शहर। शनिवार सुबह 9 बजे तक नर्मदा का जलस्तर 973 फीट तक पहुंच गया है। जो खतरे के निशान से 6 फीट ऊपर चल रहा है।   होशंगाबाद में 29 अगस्त 1973 का दिन। जब लोगों की सुबह आंख खुली थी नर्मदा उफन रही थी। कई मोहल्लों में पानी भर चुका था। 29 अगस्त 2020 को भी नर्मदा एक बार फिर से उफान पर है। जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर चल रहा है। कई मोहल्लों में पानी भरने के कारण उन्हे लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा रहा है। सुबह 9 बजे तक नर्मदा का जलस्तर 973 फीट तक पहुंच गया है। जो खतरे के निशान से 6 फीट ऊपर चल रहा है।   यह हुआ था 29 अगस्त 1973 को होम साइंस कॉलेज के पास बनी पिचिन के टूटने से शहर के कई हिस्सों में पानी पहुंच गया था। देखते ही देखते पूरे शहर में पानी भर गया था। कई मकान भी धराशायी हो गए थे। तूफानी बरसात में जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया था। बच्चे, महिलाएं सभी अपनी जीवन रक्षा के लिए सुरक्षित स्थानों की ओर भाग रहे थे।   इस बार फिर से जिले में रिटर्न 1973 जैसे हालात 29 अगस्त 1973 में भी बारिश के साथ तीनों बांधों के गेट खोल दिए जाने से बाढ़ आई थी, ऐसे ही हालात 47 साल बाद फिर आज के दिन 29 अगस्त 2020 में भी बन रहे हैं। जिसमें सराफा चौक के पास तक नर्मदा का पानी पहुंच गया था। तटीय बस्तियां भी जलमग्न हो गईं थी। बीटीआई, एसपीएम पुलिया, महिमा नगर, ग्वालटोली रोड, धानाबड़, बांद्राभान में बैक वाटर भरा रहा है।   होशंगाबाद में बांधों का जलस्तर अपडेटसमय 10 बजे सुबहनर्मदा नदी - 974.40 फीटतवा जलाशय - 1166.10 फीटबरगी जलाशय - 422.40 मीटरबारना जलाशय -348.22 मीटर

Kolar News

Kolar News 29 August 2020

भोपाल। मप्र में होने वाले उपचुनावों को लेकर गुरुवार को मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के निवास पर गुरुवार को एक बैठक आयोजित हुई। बैठक में कमलनाथ भाजपा पर जमकर बरसे। कमलनाथ ने मीडिया में जारी अपने एक बयान में आरोप लागते हुए कहा कि जब- जब प्रदेश में भाजपा की सरकार आयी है, किसान परेशान हुआ है और भ्रष्टाचारी, घोटालेबाजों, मिलावटखोरों व कालाबाजारी करने वालों के हौसले बुलंद हुए है।   कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार का किसान विरोधी चेहरा रोज सामने आ रहा है। जिस दिन से प्रदेश में भाजपा की सरकार काबिज हुईं है, प्रदेश का किसान उसी दिन से परेशान हो चला है। आज प्रदेश में यूरिया का जमकर संकट बना हुआ है। प्रदेश के कई हिस्सों में किसानों को यूरिया के लिये भटकना पड़ रहा है। यूरिया की कालाबाजारी जमकर जारी है। किसानों को महँगे दामों पर यूरिया खरीदने को मजबूर होना पड़ रहा है। खाद के लिये लाइनों में लगा किसान पुलिस की लाठियाँ भी खा रहा है।   उन्होंने बताया कि एक तरफ़ किसान इस महामारी में लंबी- लंबी लाइन लगाकर एक- एक बोरी खाद के लिये भटक रहा है। वही दूसरी और किसानों को मिलने वाली खाद को भूमिहीनों व मृतकों के नाम पर फर्जी तरीके से आवंटित कर लाखों क्विंटल खाद को भाजपा समर्थित व्यापारियों के साथ मिलकर भ्रष्टाचार कर ठिकाने लगाया जा रहा है, इसके प्रमाण भी प्रदेश के कई हिस्सों से सामने आ चुके है।   कमलनाथ ने प्रदेश में यूरिया की कालाबाजारी का गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश में यूरिया की जमकर कालाबाज़ारी हो रही है, प्रदेश में अमानक खाद की बिक्री भी चरम पर है। किसान एक- एक बोरी खाद के लिये परेशान है वही शिवराज सरकार कुंभकर्णी नींद में सोयी हुई है। मुख्यमंत्री सिर्फ़ ज़ुबानी चेतावनी व धमकियों से काम चला रहे हैं। ज़मीनी धरातल पर कालाबाज़ारी व मिलावट खोरी रोकने के कोई इंतज़ाम नहीं है। किसान परेशान होकर सडक़ों पर उतर रहा है। सरकार को सारी स्थिति पूर्व से ही पता थी लेकिन इसको रोकने को लेकर कोई ठोस कदम समय पर नहीं उठाये गये।   कमलनाथ ने सरकार से चेतावनी भरे लहजे में मांग करते हुए कहा कि मै सरकार से माँग करता हूँ कि वे मैदान में जाकर ज़मीनी हकीकत देखे। प्रदेश में किसान भाइयों को मिलावट रहित यूरिया की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिये तत्काल आवश्यक कदम उठाये जावे अन्यथा कांग्रेस किसानो के समर्थन में, सरकार की किसान विरोधी नीतियो के विरोध में सडक़ों पर प्रदर्शन करने को मजबूर होगी।  

Kolar News

Kolar News 27 August 2020

  भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ गुरुवार सुबह अचानक सीएम हाउस पहुंच गए और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की। बताया जा रहा है कि इस दौरान उनके बीच आगामी विधानसभा सत्र को लेकर चर्चा हुई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वयं ट्वीट के माध्यम से इसकी जानकारी दी।   मध्यप्रदेश विधानसभा का तीन दिवसीय सत्र आगामी 21 सितम्बर से शुरू होने जा रहा है। यह पंद्रहवीं विधानसभा का सांतवां सत्र है, जो कि 23 सितम्बर तक चलेगा। गुरुवार सुबह पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ सीएम हाउस पहुंचे, जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनका स्वागत किया। इसके बाद दोनों के बीच विधानसभा सत्र के दौरान पेश किए जाने वाले विधेयकों को लेकर चर्चा हुई। इसके अलावा अन्य विषयों को लेकर भी उनके बीच बातचीत हुई।    गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के बाद प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनी थी, लेकिन इसी साल मार्च में प्रदेश में राजनीति उलटफेर हुआ और कांग्रेस के 22 विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया, जिससे कमलनाथ सरकार अल्पमत में आकर गिर गई। इसके बाद 23 मार्च को शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की लेकर भाजपा की सरकार बनाई और 24 मार्च को विधानसभा में आहूत विशेष सत्र में उन्होंने बहुमत साबित किया। इसके बाद 20 जुलाई से विधानसभा का मानसून सत्र होना था, लेकिन उसे कोरोना संकट के चलते स्थगित कर दिया गया था। अब अगला सत्र 21 सितम्बर से शुरू होगा, जिसमें राज्य सरकार कई विधेयक पेश कर सकती है। इसी को लेकर पूर्व सीएम और वर्तमान सीएम के बीच चर्चा हुई।  

Kolar News

Kolar News 27 August 2020

भोपाल। भाजपा के सदस्यता अभियान की तर्ज पर कांग्रेस ने भी बुधवार को ग्वालियर में महासदस्यता अभियान का बिगुल फूंका। इस अभियान में पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, डॉ गोविंद सिंह, पीसी शर्मा, जयवर्धन सिंह, पूर्व विस अध्यक्ष एनपी प्रजापति जैसे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मंच पर जमा हुए और भाजपा पर जमकर निशाना साधा। वहीं अब कांग्रेस के इस कार्यक्रम पर मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसा है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को अपने निवास पर मीडिया से बताचीत करते हए ग्वालियर पहुंचे कांग्रेस नेताओं को लेकर कहा कि ग्वालियर में कांग्रेसी नेता पॉलिटिकल पर्यटन के लिए गए थे। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कार्यक्रम में कांग्रेस बी टीम के लोग थे और वहां सदस्यता का कहकर कुछ और किया गया। मंत्री मिश्रा ने कहा कि कमलनाथ की आंधी अपनी ही सरकार को ले उड़ी, कांग्रेस बस बड़ी बैठक कर सकती है, प्रदर्शन बड़ा नहीं कर सकते। कांग्रेस पार्टी और नेता सिर्फ ट्वीट कर सकते हैं, पार्टी कांग्रेस का लोकतंत्र नहीं बचा पाई, देश का क्या बचाएंगे। इसके अलावा कांग्रेस जांच दल के दतिया दौरे पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि एक भी झूठा प्रकरण हो तो मीडिया के सामने लाये। एक भी प्रकरण झूठा नहीं है, नेता वहां केवल माफियाओं के लिए जा रहे हैं। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि भाजपा ने बिजली उपलब्ध कराई और कांग्रेस देश को चिमनी चम्बल युग में ले गयी है, हमने सम्बल जैसी योजनाएं दी हैं जिससे लोगों को राहत मिली। या तो कांग्रेस मुक्त भारत होगा या गांधी मुक्त कांग्रेस होगी।   कलाबजारी करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सख्त लहजे में कहा है कि कलाबजारी करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई, शिकायत मिलने पर थानों पर भी होगी कार्रवाई। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में यूरिया और राशन की कालाबाजारी करने वाले सीधे जेल भेजे जाएंगे। यदि किसी क्षेत्र में यूरिया या राशन की कालाबाजारी पाई गई तो उस क्षेत्र के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी।   एनईईटी परीक्षा नौजवानों और देश के भविष्य से जुड़ी एनईईटी- जेईई परीक्षा पर कांग्रेस के विरोध पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि यह परीक्षा बहुत ज़रूरी है। इससे जनभागीदारी के काम होते हैं। उन्होंने कहा कि एनईईटी- जेईई की परीक्षा कोई छोटी-मोटी परीक्षा नहीं है। ये नौजवानों और देश के भविष्य से जुड़ी हैं। विपक्ष को इसका विरोध कर देश के भविष्य से खिलवाड़ नहीं करना चाहिए।

Kolar News

Kolar News 27 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि यूरिया और खाद्य सामग्री की कालाबाजारी तथा मिलावट को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। हमें प्रदेश में ऐसी व्यवस्था स्थापित करनी है जिससे कालाबाजारी और मिलावट की गतिविधियां शून्य की स्थिति में हों। यह निर्देश मुख्यमंत्री ने बुधवार को मंत्रालय में आयोजित बैठक में दिए।    मुख्‍यमंत्री ने कहा कि किसानों और राशन उपभोक्ताओं के लिये संचालित योजनाओं में अवैध गतिविधियों को रोकने के लिए अद्तन तकनीक का उपयोग सुनिश्चित किया जाए। सुशासन स्थापित करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। चौहान ने कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ लगने वाली धाराओं का उल्लेख करते हुए कहा कि दोषियों पर विधि सम्मत सख्त कार्रवाई सुनिश्चित की जाए।   उन्‍होंने कहा कि अपराधियों पर मुकदमें दर्ज हों और उनके वाहन भी राजसात किए जाएं। बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा, कृषि उत्पादन आयुक्त के.के. सिंह के अलावा आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) के अधिकारी भी उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री ने ईओडब्ल्यू के अधिकारियों को दोषियों के प्रकरण में कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्‍होंने कालाबाजारी के दर्ज हुए मामले, अब तक हुई कार्रवाई की जानकारी प्रस्तुत करने के निर्देश भी दिए।

Kolar News

Kolar News 26 August 2020

जबलपुर/ भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह बुधवार को अल्प प्रवास पर जबलपुर पहुंचे, जहां उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से सर्किट हाउस में मुलाकात की। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर जमकर हमला बोला। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि आज लोकतंत्र खतरे में है। सवाल यह भी उठता है कि आखिर कब तक देश की जनता अस्थिरता का माहौल में झूलती रहेगी। आखिर कब तक विधायकों की खरीद फरोख्त चलती रहेगी।   पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी जनमत को समाप्त करना चाह रही है। आज के माहौल में कब, किस विधायक को खरीद लें, कब सरकार गिरा दी जाए, कुछ पता ही नहीं चल रहा है। जनमत से जो सरकार बनती है, उस सरकार को अस्थिर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मप्र में होने वाले आगामी उपचुनाव पर कांग्रेस ने जनता के सामने मुद्दा रखा है कि गद्दारों को भगाओ और लोकतंत्र बचाओ। उन्होंने उम्मीद जताई कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार दोबारा सत्ता में लौटेगी।   दिग्विजय सिंह ने इस दौरान मीडिया के सवालों के जवाब भी दिये। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस का अध्यक्ष अगले 6 माह में तय हो जाएगा। सीडब्ल्यूसी की बैठक में तय हो गया है सिर्फ नाम पर अंतिम मुहर लगना बाकी है, लेकिन वे इस बात को टाल गए कि इस बार फिर से कहीं गांधी परिवार का ही कोई सदस्य तो नहीं बनेगा। इधर, भाजपा के सदस्यता अभियान पर दिग्विजय सिंह ने कहा कि ये कोई अभियान नहीं है ये सिर्फ मिस्ड काल अभियान है, जिसे की भाजपा प्रदेश में चला रही है।    वहीं, केवल प्रदेश के युवाओं को ही रोजगार देने वाले शिवराज सिंह के बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने तंज कसा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में युवाओं को रोजगार देने की हमेशा से प्राथमिकता रही है, लेकिन जब भारतीय जनता पार्टी की मध्य प्रदेश में सरकार आई तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस प्रथा को बंद कर दिया। इसकी वजह यह थी कि वह अपने परिवार वालों को,ससुराल वालों को प्राथमिकता देते हुए उनकी नियुक्ति करवाई थी। दिग्विजय सिंह ने कहा कि जब तक गजट नोटिफिकेशन नहीं हो जाता तब तक उनके इस बयान पर भरोसा नहीं किया जा सकता है।   शक्ति पूजा करने पहुंचे   इसके बाद दिग्विजय सिंह सर्किट हाउस से सीधे बगलामुखी मंदिर पहुंचे। जहां उन्होंने विधिवत शक्ति पूजन कर आशीर्वाद लिया। ब्रह्मचारी चैतन्यानंद महाराज ने उनका स्वागत किया और पूजन सम्पन्न कराया। इस मौके पर नगर अध्यक्ष दिनेश यादव, प्रदेश प्रवक्ता टीकाराम कोष्टा, कदीर सोनी समेत अन्य कांग्रेसी नेता मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 26 August 2020

देवास। शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत स्टेशन रोड स्थित नई आबादी में  मंगलवार शाम को एक तीन मंजिला जर्जर मकान भरभरकार ढह गया था, जिससे मकान में रहने वाले 12 लोग मलबे में दब गए थे। सूचना मिलने पर पुलिस, प्रशासन, नगर निगम और एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची और रेस्क्यू शुरू किया। देर रात चले रेस्क्यू के दौरान 10 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया, जबकि इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई।    शहर के लाल गेट के सामने घमंडी होटल के पीछे रहने वाले जाकिर शेख का तीन मंजिला पक्का मकान मंगलवार शाम को अचानक भरभराकर ढह गया। इस मकान में चार भाइयों के परिवार रहते थे। सूचना मिलने पर पुलिस-प्रशासन और नगर निगम की टीम मौके पर पहुंची और राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया। जेसीबी और गैस कटर की मदद से मलबे में फंसे लोगों को बाहर निकाला गया। रात 9 बजे तक छह लोगों को बाहर निकालकर अस्पताल पहुंचाया जा चुका था। इस दौरान नगर निगम कमिश्नर विशाल सिंह चौहान और ट्रैफिक डीएसपी किरण शर्मा ने रेस्क्यू की कमान संभाली और देर रात तक तीन और लोगों को मलबे से निकाल लिया गया। इसके बाद भी तीन लोगों का पता नहीं चल पा रहा था। फिर, एनडीआरएफ की 30 सदस्यीय टीम मौके पर पहुंची और मोर्चा संभाला।    रेस्क्यू टीम ने कैमरे डालकर तीनों की तलाश शुरू की। अंदर फंसे तीनों लोगों की सलामती के लिए कमिश्नर ने ऐहतियात बरतते हुए मशीनों से केवल सहारा देने का काम किया। कांक्रीट का एक-एक हिस्सा कटर और क्रेन की सहायता से सावधानी से काटा। डीएसपी किरण शर्मा स्वयं मलबे में उतर गए। कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला व एसपी डॉ. शिवदयाल सिंह ने भी पहुंच कर टीम को जरूरी मार्गदर्शन दिया। तीन क्रेन, पांच जेसीबी, होम गार्ड की टीम के साथ रेस्क्यू चलाया। रात एक बजे तक चले इस रेस्क्यू के बाद मलबे से एक और को सुरक्षित निकाल लिया गया, जबकि दो लोगों के शव बरामद हुए।    एसपी डॉ. शिवदयाल सिंह के अनुसार, इस हादसे में 12 लोग मकान के मलबे में दबे थे, जिनमें से 10 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया, जबकि दो लोगों की मौत हो गई। मृतकों में 23 वर्षीय सिमरन पुत्री फिरोज खान और एक वर्षीय आहिल पुत्र आदिल शामिल हैं। वहीं, 10 लोग घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। इनमें दो की हालत गंभीर है, उन्हें इंदौर रैफर किया गया है।   घायलों में 55 वर्षीय बस्कर बी पत्नी अजीज शेख, आठ वर्षीय आफिया पुत्री इरशाद उर्फ मोनू शेख, 16 वर्षीय अक्शा पुत्री जाकिर शेख, 40 वर्षीय अंजुम पत्नी जाकिर शेख, 16 वर्षीय अल्फेज पुत्र ईरशाद शेख, 14 वर्षीय अलीशा पुत्री जाकिर शेख, 24 वर्षीय शिरिन पत्नी शहनावज, 40 वर्षीय शबाना पत्नी फिरोज शेख, 15 वर्षीय शिनम पुत्री रशीद शेख और 16 वर्षीय रेहान शामिल हैं। बस्कर बी और आफिया को इंदौर रैफर किया गया। बाकी का इलाज देवास जिला अस्पताल में चल रहा है। 

Kolar News

Kolar News 26 August 2020

भोपाल। केन्द्रीय सडक़ परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को मध्यप्रदेश की 11 हजार 427 करोड़ की लागत से 1361 किमी लम्बाई की 45 सडक़ परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकार्पण किया गया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय स्थित कक्ष से इसमें हिस्सा लिया। मुख्यमंत्री शिवराज ने वर्चुअल लोकार्पण और शिलान्यास कार्यक्रम में कहा कि मध्यप्रदेश के लिए आज का दिन प्रगति का नया अध्याय जोडऩे का दिन है। केन्द्रीय मंत्री गडकरी की कार्यों को तत्परता से पूरा करने की शैली और वित्तीय प्रबंधन के गुण का कोई जवाब नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के मंत्र को आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश से साकार किया जा रहा है।   प्रदेश को मिलीं सडक़ों की सौगात के लिए प्रधानमंत्री मोदी और गडकरी का प्रदेश की जनता की ओर से धन्यवाद ज्ञापित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वे ऐसे जननेताओं का अभिनंदन करना चाहते हैं। केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने प्रदेश में उनके मंत्रालय से जुड़े किसी भी कार्य के लिए स्वीकृति देने में इंकार नहीं किया, बल्कि बिना देर किए मंजूरियां दी हैं। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री गडकरी को जानकारी दी कि आज ही आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का ड्राफ्ट फायनल हुआ है। मध्यप्रदेश में जलीय परिवहन के संबंध में विचार किया जा रहा है। ओंकारेश्वर और इंदिरा सागर जलाशयों के पर्यटन संबंधी उपयोग के साथ ही एम.एस.एम.ई. सेक्टर में नवीन गतिविधियों का रोडमैप बनाया गया है। प्रदेश के औद्योगिक विकास को इससे बढ़ावा मिलेगा।    उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में 329 कि.मी. के आठ मार्गों में से दो मंजूर हो गए हैं। ये मार्ग नसरुल्लागंज-रेहटी-बुदनी 42 कि.मी. और सागरटोला-कबीर चबूतरा 44 कि.मी. हैं। शेष 6 मार्गों के लिए भूमि उपलब्ध है। उन्होंने केन्द्रीय सडक़ परिवहन राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से जीरापुरा-पिछोर, भोजापुरा-ढोलखेड़ी, कुरवाई-मुंगावली-चंदेरी, जीरापुर-सुसनेर, पवई-चंदिया, बमीठा-खजुराहो के लिए मंजूरी का आग्रह किया। उन्होंने गडकरी को सडक़ सुरक्षा के प्रयासों के लिए भी धन्यवाद देते हुए कहा कि इन प्रयासों से आज अनेक कीमती जानें बच पा रही हैं। केन्द्र सरकार के इस तरह के नवाचार प्रशंसनीय हैं।   मुख्यमंत्री ने कहा कि रामवन गमन पथ के लिए भी केन्द्र सरकार से सहयोग की अपेक्षा है। वर्तमान में इस मार्ग के एक हिस्से मैहर-सतना-चित्रकूट की 121 कि.मी. की स्वीकृति मिली है। इसी तरह जिलों में ड्राइवर ट्रेनिंग सेंटर्स प्रारंभ करने, इंदौर जबलपुर में बीओटी मॉडल पर लॉजिस्टिक हब की शुरूआत के लिए पूर्ण सहयोग की आशा है।   वन टाइम इनवेस्टमेंट पॉलिसी में मध्यप्रदेश के लिए सहयोग बढ़ाने का आग्रह   मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत माला परियोजना में बहुत सी सडक़ें मध्यप्रदेश से गुजरती हैं जो वरदान बन गईं। उन्होंने कहा कि नर्मदा एक्सप्रेस-वे के संबंध में अलाइनमेंट और भूमि के सर्वे के लिए एजेंसी निर्धारित की जा चुकी है। प्रस्ताव के अनुसार अमरकंटक से जबलपुर, बुदनी, खातेगांव, कुक्षी और अलीराजपुर तक कुल 968 किमी. की लम्बाई मध्यप्रदेश में प्रस्तावित है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ये क्षेत्र उपजाऊ होने से भूमि अर्जन में कुछ समय लग सकता है। उन्होंने एनएचएआई के सहयोग से इस कार्य की शीघ्र पूर्णता के संबंध में केन्द्रीय मंत्री गडकरी से अनुरोध किया। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री से वन टाइम इनवेस्टमेंट पॉलिसी के तहत 278 किमी. लंबाई के 182 करोड़ के 65 सडक़ निर्माण कार्यों के लिए आग्रह भी किया। मुख्यमंत्री ने गडकरी की सराहना करते हुए कहा कि वे उलझे मामले सुलझा देते हैं। प्रतिदिन 32 कि.मी. सडक़ें बनना चमत्कार से कम नहीं है।

Kolar News

Kolar News 25 August 2020

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को करीब 10 हजार करोड़ रुपये से अधिक  लागत की 1361 किलोमीटर लम्बी 45 सडक़ परियोजनाओं की सौगात दी गई है। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इन परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। इस ऑनलाइन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत और नरेंद्र सिंह तोमर, कोरोना पीडि़त प्रदेश के पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद वीडी शर्मा भी जुड़े।   केंद्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्यप्रदेश की करीब 50 विधानसभा क्षेत्रों को प्रभावित करने वाली 45 सडक़ व पुल परियोजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। इसमें 26 योजनाओं का लोकार्पण और 19 योजनाओं का शिलान्यास किया गया है। इनकी कुल लागत दस हजार करोड़ रुपये से अधिक बताई गई है। ये सभी परियोजनाएं राष्ट्रीय राजमार्ग से जुड़ी हैं। इसमें सडक़ों का चौड़ीकरण, सुदृढ़ीकरण, नई सडक़ और पुल शामिल हैं।    कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्रीय सडक़ परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से नर्मदा एक्सप्रेस वे को मंजूरी देने का आग्रह किया। इसके साथ ही उन्होंने चंबल एक्सप्रेस वे का काम तेज करने और रामायणकालीन प्रमुख ऋषियों के आश्रम जोडऩे वाले रामगमन पथ के निर्माण को मंजूरी व सहयोग देने का भी अनुरोध किया।

Kolar News

Kolar News 25 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को गृह विभाग की समीक्षा बैठक की। बैठक में अपराध अनुसंधान और योजना शाखाओं की समीक्षा की गई। बैठक में पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक कैलाश मकवाना समेत वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौजूद थे। अपराध अनुसंधान की समीक्षा बैठक में मंत्री मिश्रा ने गरीबों के साथ धोखाधड़ी कर उनकी मेहनत की कमाई का पैसा हड़पने वाली चिटफंड कंपनियों के खिलाफ पुलिस को कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश में गरीबों के हक़ से खिलवाड़ किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।   मीडिया से बातचीत करते हुए मंत्री मिश्रा ने बताया कि धोखाधड़ी कर गरीबों का पैसा हड़पने वाली चिटफंड कंपनियों के खिलाफ पुलिस को 150 से ज्यादा शिकायतें मिली हैं। करीब डेढ़ करोड़ रुपये की राशि शिकायकर्ताओं को वापस भी दिलाई गई है। प्रदेश में गरीबों के शोषण के खिलाफ ये कार्रवाई जारी रहेगी। इसके अलावा मंत्री मिश्रा ने पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी को प्रदेश में पुलिसकर्मियों के लिए अधिक से अधिक आवास निर्माण की पहल करने के निर्देश दिए है। उन्होंने कहा है कि जिलों में पदस्थापना के दौरान आवास समस्या का सामना करना पड़ता है। उनकी आवास समस्या के निराकरण के लिए मप्र पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन को पुलिस विभाग के लिए अधिकतम आवास का निर्माण करना चाहिए, जिससे वे अपने दायित्वों का बेहतर निर्वहन कर सकें।   उन्होंने समीक्षा के दौरान सभी जिला मुख्यालयों पर महिला पुलिस थाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया। मंत्री मिश्रा ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में महिला संबंधित अपराधों की विवेचना के लिए महिला थाना होना जरुरी है। उन्होंने इसके लिए आवश्यक पहल करने के निर्देश दिए। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक कैलाश मकवाना ने अवगत कराया कि प्रदेश के 10 जिलों में महिला थाना स्थापित किए गए है।

Kolar News

Kolar News 25 August 2020

सीहोर/शाजापुर। भोपाल से सटे सीहोर जिले में सोमवार दोपहर एक हृदयविदारक दुर्घटना में एक पिता के सामने उसकी तीन बेटियां और दो भतीजी पार्वती नदी में डूब गईं। पिता ने नदी में छलांग लगाकर अपने भाई और साले की बेटियों को तो बाहर निकाल लिया, लेकिन उनमें से एक की ही जान बच पाई। लेकिन लाचार पिता अपनी तीन बेटियों को नहीं बचा सका। भोपाल और शाजापुर से राहत और बचाव कार्य के लिए विशेष टीम घटनास्थल पर पहुंच गई हैं। देर शाम दो शवों को गोताखोरों की मदद से नदी से निकाल लिया गया। एक बच्ची का शव नहीं मिल पाया था, जिसकी तलाश जारी है।   सीहोर एएसपी समीर यादव के अनुसार घटना मंडी थाना क्षेत्र के मूंडला गांव की है। यहां रेलवे पुल के नीचे से पार्वती नदी बहती है। दोपहर करीब 1 बजे गांव के मुबीन खां अपनी तीन बेटियों 10 साल की सानिया, कहकशां और मनतसा तथा भाई अंसार मियां की 17 साल की बेटी आबसार और 16 साल की मुनिया के साथ नदी में नहाने पहुंचे। रेलवे पुल के नीचे वे बच्चियों के साथ नहाने लगे। इसी दौरान तेज बहाव में लड़कियां बहने लगीं। मुबीन खां ने छलांग लगाते हुए दो बच्चियों को किसी तरह पानी के बाहर निकाला, लेकिन तीन लड़कियां गायब हो गईं। मुनिया की जान तो बच गई, लेकिन आबसार की जान नहीं बच सकी थी। मुबीन ने दोबारा पानी में छलांग लगाई, लेकिन उनकी बेटियों का कुछ पता नहीं चला। सूचना मिलते ही भोपाल होमगार्ड की टीम राहत और बचाव कार्य में जुट गई थी। शाम 5 बजे के बाद ही दो के शव निकाले जा सके। एक की तलाश जारी थी।   पीछे-पीछे आ रही थी बच्चियां अपनी आंखों के सामने तीन बेटियों को खो देने वाले मुबीन खां की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। उसने सुबकते हुए बताया कि मैं आगे-आगे जा रहा था, जबकि पांचों पीछे-पीछे आ रही थीं। मुझसे बोली पापा आप रुको हम तैरकर आते हैं। किसी को भी तैरना नहीं आता था। उनके पानी में तैरने का प्रयास करते ही पांचों यहां-वहां डूबने लगी। मैंने किसी तरह दो को तो पकड़कर किनारे कर दिया, लेकिन मेरी तीनों बेटियां बह गईं। उनका कुछ पता नहीं चला।

Kolar News

Kolar News 24 August 2020

भोपाल। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने सिंधिया पर तंज कसते हुए कहा है कि जो भाजपा नेतागण कह रहे है कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण बनी, वो उनके ख़ुद के चुनाव का परिणाम ही एक बार फिर से देख ले। हमारी सरकार तो उनके कारण नहीं बनी लेकिन भाजपा की प्रदेश में सरकार तो उन्ही के कारण ही बनी है। कमलनाथ के इस बयान पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   मंत्री मिश्रा ने सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि सिंधिया को धोखा देकर पहले कमलनाथ खुद मुख्यमंत्री बन गए, इसलिए उन्हें लग रहा है यहां भी ऐसा हुआ है। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस ने जनता को सुंदर मोड़ा दिख कर बुजुर्ग से शादी कर दी। वास्तव में कांग्रेस अब टूटी है, बिखरी है, अपना दोष किसी ओर पर मत डालो। उन्होंने कहा कि दतिया में कांग्रेस की बैठक में हंगामा हुआ। कांग्रेस जो भी है उसमें से अधिकांश आयातित है।   इसके अलावा सीडब्ल्यूसी की बैठक को लेकर मंत्री मिश्रा ने कहा कि यह कांग्रेस का अन्यरिक मामला है। कांग्रेस को क्यों हमारी प्रतिक्रिया चाहते है, कांग्रेस में बहुत सारे योग्य उमीदवार है। सोनिया गांधी है, राहुल गांधी है, प्रियंका वाड्रा है, रेहान वाड्रा है, कई योग्य उमीदवार है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को यह समझना जरूरी होगा की कांग्रेस वो विद्यालय है, कहा कार्यकर्ता कितना ही पढ़ ले फस्र्टतो हेडमास्टर का बेटा ही आएगा।    सिंधिया का विरोध इस्पांसरग्वालियर में सिंधिया के विरोध पर मंत्री डॉ मिश्र ने कहा कि ये सभी विरोध एस्पांसर कार्यक्रम है और इन कांग्रेस के इन एस्पांसर कार्यक्रमों को वरोध नही मानो। एक दो महीने रुको हम आप को बताएंगे समर्थन।

Kolar News

Kolar News 24 August 2020

ग्वालियर। ग्वालियर में भाजपा का तीन दिवसीय सदस्यता अभियान चल रहा है। अभियान के तीसरे दिन सोमवार को ग्वालियर से पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता ने घर वापसी की है। उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया और केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ली।    दरअसल, 2018 के विधानसभा चुनाव में समीक्षा गुप्ता ने पार्टी से बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ा था। उस समय भाजपा के कई बड़े नेताओं ने समीक्षा गुप्ता से चुनाव नहीं लड़ने के लिए कहा था, लेकिन पूर्व महापौर का कहना था कि एक ही समाज के व्यक्ति को लगातार तीन बार से टिकट देना गलत है, दूसरों को भी मौका मिलना चाहिए। समीक्षा की बगावत का खामीयाजा भाजपा को भुगतना पड़ा था।भाजपा के उम्मीदवार पूर्व मंत्री नारायण सिंह कुशवाह चुनाव हार गए थे और कांग्रेस से पहली बार चुनाव लड़े प्रवीण पाठक मात्र 121 वोट से चुनाव जीत गए थे।   पिछले कई दिनों से अटकलें लगाई जा रही थी कि समीक्षा गुप्ता जल्दी ही भाजपा में फिर लौटेंगी। उनकी भाजपा के बड़े नेताओं से मुलाकात हो चुकी है और फिर जब ग्वालियर में संभाग स्तरीय सदस्यता ग्रहण समारोह आयोजित किया गया तो ये तय माना जा रहा था कि इसमें समीक्षा गुप्ता की वापसी निश्चित है। मुख्यमंत्री की ग्वालियर में मौजूदगी ने ये राह आसान कर दी हालांकि पार्टी के कुछ नेता विरोध कर रहे थे। बता दें कि मध्यप्रदेश में आगामी उपचुनाव के मद्देनजर भाजपा सदस्यता अभियान चला रही है। सदस्यता अभियान का आज तीसरा दिन है। सीएम शिवराज ने भाजपा ज्वाइन करने वाले सभी 35, 843 सदस्यों का स्वागत किया है।

Kolar News

Kolar News 24 August 2020

भोपाल। प्रदेश में 24 घंटों से जारी बारिश के कारण हालात बिगड़ने लगे हैं। नदियां जहां उफान पर आ गई हैं, वहीं अधिकांश बांध लबालब हो गए हैं। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शनिवार को ग्वालियर रवाना हो गए, लेकिन उन्होंने ग्वालियर रवाना होने से पहले सुबह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश में अतिवर्षा की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कलेक्टरों को छोटे-बांधों बांधों की लगातार निगरानी करने को कहा और उन पर अमले को अलर्ट मोड पर रखने के निर्देश दिए।    मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान शनिवार को भाजपा के सदस्यताग्रहण समारोह में भाग लेने के लिए ग्वालियर रवाना हो गए हैं, लेकिन इससे पहले उन्होंने बारिश से पैदा हुए हालात की समीक्षा के लिए अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की। उन्होंने कहा कि जलभराव और बांधों के गेट खोलने की स्थिति आने पर जरूरी व्यवस्थाएं करें। बाढ़ के हालात जानने के लिए समीपी कलेक्टरों के लगातार संपर्क में रहें।    मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां जल भराव की स्थिति बनी हुई है, वहां लोगों को सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करने की व्यवस्था करें। चौहान ने सभी संभागायुक्तों को नियमित निगरानी करने के निर्देश दिए हैं और राहत स्थलों पर खाना-पानी सहित अन्य सभी इंतजाम करने को कहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बारिश में मनोहारी दृश्य देखने लोग जाते हैं। इसमें सावधानी बरतें और जहां जरूरी हो, तत्काल राहत टीम भेजें।

Kolar News

Kolar News 22 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल, इंदौर, उज्जैन, शाजापुर सहित कई मध्य प्रदेश के इलाकों में देर रात से भारी बारिश हो रही है। भोपाल में भारी बारिश से कई इलाकों में पानी भर गया है, देर रात कलेक्टर अविनाश लवानिया ने निचली बस्तियों का दौरा कर जल जमाव की स्थिति की समीक्षा की। भोपाल में शनिवार सुबह तक करीब 5 इंच बारिश हो चुकी है। उधर इंदौर में भी देर रात तीन बजे से हुई भारी बारिश से कई इलाकों में पानी भर गया है। इस तेज बारिश ने इंदौर में 39 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। सुबह 5.30 बजे तक 24 घंटे में इंदौर में 8 इंच बारिश दर्ज की गई।    होशंगाबाद में तवा डैम के पांच गेट खोले   भारी बारिश से बढ़ते जल स्तर के बाद होशंगाबाद में तवा डैम के पांच गेट खोल दिए गए हैं। पांच-पांच फीट खोले गए गेट से 40415 क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज किया जाएगा। तवा के केचमेंट एरिया में लगातार बारिश हो रही है। होशंगाबाद में नर्मदा नदी का जलस्तर खतरे के निशान के करीब पहुंच गया है।   यशवंत सागर डेम के गेट खोले गए   यशवंत सागर डेम के दो गेट रात में ही खोल दिए गए थे, सुबह 6 गेट खोले गए हैं। बागली में झमाझम बारिश, नेमावर में नर्मदा का जलस्तर बढ़ा, लोगों को चेतावनी दी गई।   इन इलाकों में के लिए जारी की गई चेतावनी   मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक शनिवार को भोपाल, सागर, जबलपुर, उज्जैन, ग्वालियर संभाग में अच्छी बरसात होगी। इस दौरान कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है। रविवार को रीवा, सागर, जबलपुर, शहडोल और चंबल संभाग में कहीं-कहीं भारी बरसात होने की संभावना है।    इंदौर शहर और आस-पास के इलाकों में देर रात तीन बज से भारी बारिश ने 39 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। मौसम विभाग के मुताबिक शहर में 24 घंटे में सुबह 8 बजे तक 10.3 इंच बारिश हो चुकी है। इसके पहले अगस्त के महीने में एक दिन में सर्वाधिक बारिश 10 अगस्त 1981 में हुई थी। वहीं रात 8.30 बजे के बाद आज सुबह तक 7 इंच बारिश दर्ज की गई है। इस सीजन में अब तक शहर में 32 इंच बारिश हो गई है। मौसम विभाग ने पहले ही इंदौर में अति भारी बारिश का अलर्ट जारी किया था।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि मप्र में हो रही झमाझम बारिश की वजह दो सिस्टम हैं। गहरा कम दबाव का क्षेत्र पूर्वी मप्र पर सक्रिय है। मानसून द्रोणिका (ट्रफ) भी गुना से होकर गुजर रही है। मौसम विज्ञानियों ने शनिवार, रविवार को भोपाल, सागर, जबलपुर समेत प्रदेश के कई इलाकों में भारी वर्षा होने की चेतावनी दी है। बंगाल की खाड़ी से आगे बढ़ा गहरा कम दबाव का क्षेत्र पूर्वी मप्र में जबलपुर और गुना के बीच सक्रिय है। साथ ही मानसून द्रोणिका भी गुना से होकर बंगाल की खाड़ी तक जा रही है। उधर, अरब सागर से भी लगातार नमी मिल रही है। इस वजह से भोपाल सहित प्रदेश के कई स्थानों पर अच्छी बरसात हो रही है। रुक-रुक कर तेज बौछारें पडऩे का सिलसिला दो दिन तक जारी रहने की संभावना है। इसके अलावा 23 अगस्त को बंगाल की खाड़ी में एक और कम दबाव का क्षेत्र बनने जा रहा है। उसके सक्रिय होते ही बारिश का एक और दौर शुरू हो जाएगा।   मप्र में कैसा 21 से 27 अगस्त के बीच रहेगा मौसम   21 और 22 अगस्त को मध्य प्रदेश के पश्चिमी तथा मध्य भागों में भारी वर्षा होने की संभावना है। 23 अगस्त होते-होते वर्षा की गतिविधियां कम हो जाएंगी। सीधी, सतना, उमरिया, दमोह, जबलपुर, मांडला सहित पूर्वी मध्य प्रदेश में 25 से 27 अगस्त के बीच एक बार फिर से वर्षा की गतिविधियां बढ़ सकती हैं। लेकिन उस दौरान पश्चिमी जिलों में ज़्यादातर क्षेत्रों में मौसम लगभग शुष्क ही बना रहेगा।

Kolar News

Kolar News 22 August 2020

भोपाल। गणेश चतुर्थी के अवसर पर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं, साथ ही कोरोना को लेकर भाजपा पर तंज भी कसा है।    पूर्व सीएम कमलनाथ ने शनिवार को ट्वीट किया है कि - ‘वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ समस्त देशवासियों को विघ्नहर्ता, प्रथम पूज्य भगवान श्री गणेश जी की आराधना के महापर्व गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं। श्री गणेश चतुर्थी के पावन अवसर पर विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश जी से प्रार्थना करता हूँ कि कोरोना महामारी से उत्पन्न विघ्नों को दूर कर समस्त देशवासियों को निरोगी काया प्रदान करे।’   उन्होंने अगले ट्वीट में भाजपा पर तंज कसते हुए कहा है कि -‘ गणेश चतुर्थी की प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएँ। इस कोरोना महामारी में पूरे प्रदेश में जनता के लिये तो लॉकडाउन रहा लेकिन भाजपा के राजनैतिक उत्सव इस दौरान  निरंतर चलते रहे, प्रदेश में कोरोना का संक्रमण बढ़ता गया , अब हम 50 हज़ार के पार पहुंच गए हैं। सत्ता का ऐसा दुरुपयोग पहली बार देखा, जहां आमजन के लिये ही सिर्फ नियम, धार्मिक स्थलों के लिये व धार्मिक आयोजनों पर भी रोक, लेकिन भाजपा नेताओ के लिये कोई नियम नहीं, उन्हें हर कार्यक्रम के लिये पूरी छूट? कोरोना संक्रमण भले बढ़ता रहे? भगवान श्री गणेश इन्हें सदबुद्धि प्रदान करे व प्रदेश वासियों को स्वस्थ रखे। यही कामना।’

Kolar News

Kolar News 22 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को वीडियो कान्फ्रेंस से केंद्रीय कृषि, किसान कल्याण, पंचायत राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के साथ कृषि अधोसंरचना कोष के क्रियान्वयन के संबंध में विस्तृत चर्चा में हिस्सा लिया। केन्द्रीय मंत्री तोमर ने वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा आत्मनिर्भर भारत अन्तर्गत कृषि क्षेत्र में अधोसंरचना कोष के संबंध में राज्यों से चर्चा की और प्रधानमंत्री मोदी द्वारा किसानों की समृद्धि के लिए तैयार किए गए प्रकल्प को सफल बनाने का आव्हान किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश प्रधानमंत्री मोदी के आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत कृषि अधोसंरचना कोष का अधिकाधिक लाभ किसानों को दिलवाने का कार्य करेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने की यह अद्भुत योजना है। मध्यप्रदेश सरकार इसके क्रियान्वयन में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। इसे जमीन पर उतारने की दिशा में मध्यप्रदेश सरकार ने ठोस प्रयास प्रारंभ कर दिए हैं।   मध्यप्रदेश के प्रयासों का शुक्रवार को हुई वीडियो कान्फ्रेंस में उल्लेख हुआ। केन्द्रीय कृषि मंत्रालय के अधिकारियों ने मध्यप्रदेश में आत्मनिर्भर वेबिनार के माध्यम से कृषि अधोसंरचना कोष के प्रावधानों का लाभ लेने के लिए की गई अग्रिम पहल को अन्य राज्यों के लिए अनुकरणीय बताया। केन्द्रीय कृषि मंत्रालय की इस वीडियो कान्फ्रेंस में केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के दोनों राज्यमंत्री पुरुषोत्तम रूपाला और कैलाश चौधरी के साथ ही हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और हिमाचल प्रदेश, गुजरात एवं अन्य प्रांतों के कृषि एवं सहकारिता मंत्री उपस्थित रहे।   मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री को आश्वस्त किया कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए मध्यप्रदेश में सुनियोजित प्रयास होंगे। इस दिशा में कृषि, सहकारिता और उद्यानिकी विभाग की गतिविधियाँ प्रारंभ हो गई हैं। कृषि विभाग की तरफ से राज्यस्तरीय निगरानी समिति और जिलास्तरीय निगरानी समितियों के गठन, कृषक उत्पादक समूह (एफपीओ) को आंदोलन के रूप में विस्तारित करने का लक्ष्य है। हर विकासखंड से योजना के अंतर्गत कम से कम दो प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए गए हैं। सहकारिता विभाग की तरफ से भारत सरकार के उपक्रम नाबार्ड, एनसीवीसी के अधिकारियों को शामिल करते हुए सहकारिता विभाग, अपेक्स बैंक और मार्कफेड के अधिकारियों की दो कमेटियों का गठन किया गया है। निर्धारित मापदंडों के मुताबिक 263 जिलास्तरीय प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों (पैक्स) और 54 विपणन समितियों को चिन्हित कर लिया गया है।      कृषि क्षेत्र में आएगी क्रांति : केन्द्रीय मंत्री तोमर केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि आज प्रधानमंत्री मोदी द्वारा आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत कृषि अधोसंरचना कोष में एक लाख करोड़ की राशि के प्रावधान और क्रियान्वयन के बिंदुओं पर राज्यों से हो रही यह बातचीत इस कार्य को गति प्रदान करेगी। कृषि क्षेत्र में वृहद स्तर पर निवेश से निश्चित ही क्रांति आएगी। आमूल-चूल परिवर्तन के यह प्रयास आत्मनिर्भर भारत में बड़ा योगदान देंगे। केन्द्रीय मंत्री तोमर ने बताया कि एक लाख करोड़ के पैकेज को 8 जुलाई को मंजूरी मिली थी, एक माह बाद ही 9 अगस्त को कार्यवाही पूरी की गई। प्रधानमंत्री ने इस दिन साढ़े आठ करोड़ किसान परिवारों को पीएम किसान सामान्य निधि के 17 हजार करोड़ रुपये प्रदान कर लाभान्वित किया। इसके साथ ही मंत्रिमंडल द्वारा योजना के अनुमोदन के 30 दिन बाद 2282 कृषक सोसायटियों को 1000 करोड़ रुपये से अधिक राशि की मंजूरी दी गई।      अनुकूल परितंत्र के निर्माण की पहल किसानों को उद्यमी बनाने की दिशा में भारत सरकार ने एक अनुकूल परितंत्र के निर्माण की पहल की है। यह पहल देश के प्रत्येक हिस्से तक पहुंचने में सक्षम है। मध्यप्रदेश के लिए कृषि अधोसंरचना कोष में 7 हजार करोड़ का लक्ष्य निर्धारित है। योजना में शासकीय सहायता के प्रावधान किसानों के लिए किए गए हैं। इसमें अधिकतम दो करोड़ रुपये की ऋण राशि के प्रकरण में वार्षिक ब्याज दर में 3 प्रतिशत की छूट रहेगी। यह छूट अधिकतम 7 साल के लिए होगी। क्रेडिट गारंटी के अंतर्गत अधिकतम 2 करोड़ की ऋण राशि पर प्रति प्रकरण क्रेडिट गारंटी शुल्क आवश्यक राशि का भुगतान सरकार करेगी। योजना में प्राथमिक कृषि साख समितियों, किसान उत्पादक समूहों, स्वसहायता समूहों, कृषि उद्यामियों, स्टार्टअप और बहुउद्देश्यीय सहकारी समितियों के साथ ही केन्द्रीय/राज्य एजेंसियां या सार्वजनिक निजी साझेदारी (पीपीपी) परियोजना को पात्र माना गया है। सम्मिलित प्रयासों से भारत को विश्व की फूड मार्केट बनाने का प्रयास है।   राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) अध्यक्ष गोविंदा राजुलु चिंताला  ने अपने संबोधन में कृषि अधोसंरचना कोष को सराहनीय कदम बताया। वीडियो कान्फ्रेंस में मध्यप्रदेश के विभिन्न मंत्री, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, कृषि उत्पादन आयुक्त के.के. सिंह, आयुक्त जनसंपर्क डॉ. सुदाम खाड़े उपस्थित रहे।

Kolar News

Kolar News 21 August 2020

भोपाल। आयकर विभाग की अलग-अलग टीमों द्वारा भोपाल के रियल एस्टेट कारोबारी फेथ ग्रुप के चेयरमैन राघवेंद्र सिंह तोमर उनके सहयोगी पीयूष गुप्ता के 20 से अधिक ठिकानों पर गुरुवार को छापामार कार्रवाई शुरू की। यह कार्रवाई दूसरे दिन शुक्रवार को भी जारी है। अब तक की कार्रवाई में आयकर विभाग को एक करोड़ रुपये की नकदी और 100 से अधिक संपत्तियों के दस्तावेज बरामद हुए हैं, जिन्हें जब्त कर लिया गया है। विभाग अब इनसे जुड़े लोगों की जानकारी जुटा रहा है  साथ ही ऑफिस और घर से मिली संपत्तियों की कीमत का आकलन किया जा रहा है।   आयकर विभाग के 150 से अधिक अधिकारियों ने गुरुवार को पुलिस बल के साथ अलग-अलग टीमों में भोपाल के हाईप्रोफाइल रियल एस्टेट कारोबारी राघवेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गुप्ता चूड़ीवाला के 20 ठिकानों पर छापे मारे। इस कार्रवाई में अब तक एक करोड़ रुपये की नगदी और 100 बेहिसाब संपत्तियों के दस्तावेज बरामद हुए, जिनकी कीमत 200 करोड़ रुपये आंकी गई है। इसके अलावा अन्य दस्तावेज भी बरामद हुए हैं। फिलहाल, विभाग की एक विशेष टीम केवल संपत्तियों के मूल्यांकन के काम में जुटी है, जबकि अन्य टीमें दोनों कारोबारियों के ठिकानों पर दबिश देकर उनसे जुड़े लोगों की जानकारी निकाल रही है। फिलहाल, आयकर विभाग की कार्रवाई जारी है।   बताया जा रहा है कि पीयूष गुप्ता के नौकर, ड्रायवर और उनके रिश्तेदारों के पर भी रियल एस्टेट में निवेश किया गया है। आयकर विभाग की टीम सभी की जानकारी जुटा रही है। शुक्रवार सुबह आयकर विभाग की एक टीम पीयूष गुप्ता के नौकर विपिन के घर पहुंची है, जहां फिलहाल तलाशी ली जा रही है। इसके अलावा आयकर विभाग की टीम पीयूष के चौक बाजार स्थित दफ्तर, और एनआईआर स्थित उनके और नौकर के मकान-ऑफिस समेत अन्य जगहों पर कार्रवाई कर रही है। हालांकि, इस कार्रवाई में अब तक क्या-क्या बरामद हुआ है, आयकर विभाग ने इसकी जानकारी किसी को नहीं दी है।

Kolar News

Kolar News 21 August 2020

भोपाल। पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी की जयंती पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने वर्चुअल रैली के माध्यम से युवा संवाद कार्यक्रम को संबोधित किया। अपने संबोधन में कमलनाथ ने युवाओं के नाम सन्देश दिया, जिसमें उन्होंने कहा कि स्वर्गीय राजीव गांधी आधुनिक डिजि़टल भारत के सच्चे अर्थों में वास्तुविद थे। उन्होंने लोकतंत्र और सदभाव को मजबूत बनाने के साथ ही भारतीय राजनीति में भविष्य की सोच के एक राजनेता की पहचान बनाई और इक्कीसवी सदी के नए भारत की नीवं रखी। उन्होंने कहा की आज जो हालात है उससे हमारा युवा और किसान दोनों हताश है। यह वही शक्ति है जिसकी देश के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका है। कमलनाथ ने कहा की उस समय विरोधी दलों ने कंप्यूटर को लेकर विरोध किया और आन्दोलन किया। राजीव गांधी की सोच थी कि युवा देश का भविष्य है उनकी भागीदारी और सक्षमता ही इस देश के निर्माण का भविष्य तय करेगी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा की मुझे यह कहते हुए अफसोस है कि, जो युवा 5-10 वर्ष पहले कॉलेज की पढ़ाई करके निकले हैं- वे- अच्छे भविष्य का इंतजार करते करते आज ओवर एज हो गये। ऐसे युवा जो पढे लिखे हैं और जिन्होंने उच्च शिक्षा प्राप्त की है वे ना तो गांव के रहे और ना ही शहर के रहे। पिछले 15 वर्ष में हमारा मध्यप्रदेश बहुत पीछे रह गया है। नौकरी और रोजगार को लेकर न तो कोई सोच और न ही कोई योजना बन पाई। इससे नौजवानों में हताशा और निराशा का माहौल है। केवल मीडिया में ऐलान करने से नौजवानों को रोजगार नहीं मिलेगा। कमलनाथ ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि आज के नौजवानों में एक तड़प है वो आगे बढऩा चाहता है वो ठेका या कमीशन नही चाहता है, वो तो अपना भविष्य बनाना चाहता है। उसे व्यवसाय और रोजगार की तलाश है। 15 सालों मे भाजपा सरकार ने जितनी घोषणायें ,आश्वासन और विज्ञापन दिये ,उनमे से कुछ पर भी अमल होता तो आज हमारा प्रदेश आगे बढ़ जाता।    इन 15 वर्षों में प्रदेश के किसान और नौजवान सबसे ज्यादा निराश हुये हैं। इस दौरान कमलनाथ ने उपचुनाव को ध्यान में रखते हुए कई बातें कही। कमलनाथ ने हाल ही में मध्यप्रदेश में घटित घटनाक्रम का उल्लेख किया द्य उन्होंने कहा की जनादेश के बाद कांग्रेस की सरकार बनी तब कांग्रेस को ऐसा मध्यप्रदेश सौंपा गया, जो किसानों की आत्महत्या में नंबर वन, बेरोजगारी में नंबर वन, महिलाओं पर अत्याचार में नंबर वन, भ्रष्टाचार में नंबर वन- बिगड़ती कानून व्यवस्था और तिजोरी खाली थी। इन परिस्थितियों में मैने सरकार संभाली और एक नई शुरूआत की। कांग्रेस सरकार को 5 वर्ष काम करने का जनादेश मिला था लेकिन, काम करने के लिये 15 माह ही मिले इनमें से 3 माह  लोकसभा चुनाव और राजनैतिक उथल-पुथल में ही निकल गये। इतने अल्प समय में प्रशासन में एक नयी सोच,नई दिशा और कार्यप्रणाली की शुरूआत की। नौजवानों के भविष्य को लेकर अपने संकल्प सामने रखेद्य पांच वर्षों में मेरा प्रयास पूरे प्रदेश की तस्वीर बदलने का होता। सौदेबाजी और बोली लगाकर कांग्रेस सरकार को गिरायाकमलनाथ ने अपने संबोधन में भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि सौदेबाजी और बोली लगाकर कांग्रेस सरकार को गिराया गया। भाजपा ने मध्यप्रदेश की पहचान बिकाउ राजनीति करने वाले राज्य के रूप में बनाने की शुरूआत की है। मध्यप्रदेश इस राजनैतिक सौदेबाजी के कारण देश में कलंकित हुआ है। जब पूरा देश और प्रदेश कोरोना से लडने की तैयारी कर रहा था, तब कांग्रेस सरकार गिराने के लिये भाजपा सौदेबाजी में व्यस्त थी। कोरोना महामारी से निपटने के खराब प्रबंधन ने एक आर्थिक संकट खडा कर दिया है। भाजपा सरकार की नाकामी का दौर जारीउन्होंने कहा की भाजपा सरकार की नाकामी का दौर जारी है, बेरोजगारी बढ़ रही है। केन्द्र की भाजपा सरकार ने 20 लाख करोड़ रूपये के राहत पैकेज की घोषणा की थी। मै पूछना चाहता हूँ कि क्या प्रदेश के किसी युवा को कोई राशि मिली ? इस बात को हमारे प्रदेश के नौजवान बेहतर समझते हैं। प्रदेश की आर्थिक गतिविधि चौपट हो चुकी है, केवल घोषणा और मीडिया की राजनीति से ध्यान हटाने का काम चल रहा है।     हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय

Kolar News

Kolar News 20 August 2020

भोपाल। केंद्र सरकार द्वारा गुरुवार को स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के नतीजे घोषित किए गए। मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर को देश का सर्वश्रेष्ठ स्वच्छ शहर घोषित किया गया है। इंदौर ने लगातार चौथी बार यह उपलब्धि हासिल की है। इसके साथ ही मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल देश का सातवां स्वच्छ शहर बन गया है। इसके अलावा मप्र के ग्वालियर और जबलपुर शहर ने भी स्वच्छ शहरों की टॉप-20 सूची में अपनी जगह बनाई है।   केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी द्वारा गुरुवार को स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के परिणाम घोषित किये गये। मप्र का इंदौर शहर लगातार चौथी बार देश का सबसे स्वच्छ शहर चुना गया है। वहीं, दूसरे नंबर पर गुजरात का सूरत और तीसरे नंबर पर नवी मुंबई रहा। स्वच्छता के मामले में इंदौर लगातार तीन साल (2017, 2018, 2019) तक शीर्ष स्थान पर रहा और अब चौथी बार भी देश का सबसे स्वच्छ शहर घोषित किया गया है।   मध्य प्रदेश के अन्य तीनों महानगर भी स्वच्छता सर्वेक्षण की टॉप-20 सूची में जगह बनाने में सफल रहे। भोपाल इस सूची में सातवें नम्बर पर है, जबकि ग्वालियर 13वें और जबलपुर 17वें स्थान पर रहा। राजधानी भोपाल की बात करें तो पिछले साल यह देश के स्वच्छ शहरों में 19वें नम्बर पर था। इस बार भोपाल की रैंकिंग के जबरदस्त सुधार हुआ और यह देश का सातवां सबसे स्वच्छ शहर बन गया। ग्वालियर शहर इस बार स्वच्छता सर्वेक्षण में 46 अंकों की छलांग लगाकर 59 से 13वें नम्बर पर पहुंचा है। वहीं, जबलपुर भी टॉप-20 स्वच्छ शहरों में जगह बनाने में सफल रहा।

Kolar News

Kolar News 20 August 2020

भोपाल। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ को विधानसभा में नेता प्रतिपक्षा बनाया गया है। कमलनाथ को नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने उन्हें बधाई दी है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, पूर्व मुख्यमंत्री, कांग्रेस विधायक दल के मुख्य सचेतक औऱ कमलनाथ जी को विपक्ष का नेता बनने की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं। मैं शाम को उनसे व्यक्तिगत मुलाकात कर बधाई दूंगा।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हए कमलनाथ के युवा संवाद संबोधन कार्यक्रम पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि मैं युवाओं से पार्थना करुंगा की वो कमलनाथ से चार हजार महंगाई भत्ते की घोषणा के बारे में पूछे। पन्द्रह महीने में कमलनाथ ने किसी भी एक नौजवान को महंगाई भत्ता दे पाए या फिर 15 महीनों की सरकार में किसी को भी एक नौकरी दे पाए, ये सावल नौजवान उनसे आज के कार्यक्रम में जरूर पूछे। कांग्रेस के राम राज्य के विज्ञापन पर गृहमंत्री मिश्रा ने निशाना साधते हुए कहा कि ये ही अचम्बा है कि कांग्रेस को विज्ञापन देकर बताना पढ़ रहा है कि राम हमारे है। अगर राम तुम्हारे हैं तो शक कैसा और अगर नहीं है तो हक कैसा। रोम रोम में राम बसे हैं विज्ञापन देना ही शक पैदा करता है।   इसके अलावा केंद्र सरकार के सरकारी नौकरी में एक राष्ट्र एक परीक्षा के फैसले पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि केंद्र सरकार हर बड़े फैसले करती है। एक नेशन- वन राशन, एक देश- एक टैक्स लेकर आए। उन्होंने कहा कि केंद्र ने ये फैसला लेकर नोजवानों के लिए व्यपाक अवसर खोले हैं। वहीं प्रदेश में सरकारी नोकरी में 100प्रतिशत मूलनिवासी को नौकरी देने के फैसले पर कांग्रेस के आरोपों पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस के किसी भी प्रमाण पत्र की जरूरत भाजपा को नही है, लेकिन अच्छा है वो हमला करे वो विपक्ष में है लेकिन ट्विटर या विज्ञापन से नही सडक़ों पर उतरे।   सद्भावना दिवस पर मंत्री डॉ.मिश्रा ने दिलाई शपथगृह एवं जेल मंत्री डॉक्टर नरोत्तम मिश्रा ने आज गुरुवार को सद्भावना दिवस के अवसर पर वल्लभ भवन स्थित पार्क में  सद्भावना एवं एकता की शपथ दिलवाई। इस अवसर पर मुख्य सचिव इक़बाल सिंह बैस, अपर मुख्य सचिव विनोद कुमार, प्रमुख सचिव नीरज मंडलोई सहित मंत्रालय विभिन्न अधिकारी और कर्मचारी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 20 August 2020

ग्वालियर। मध्यप्रदेश के यात्रियों से भरी एक बस को आगरा के पास कार सवार बदमाशों द्वारा हाईजेक करने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि बस में मप्र के पन्ना जिले के 34 यात्री सवार हैं, जो सुरक्षित बताये जा रहे हैं। मामले का पता बुधवार को अलसुबह उस समय चला, जब बस के चालक और क्लीनर मलपुरा थाने पहुंचे और शिकायत दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस सक्रिय हुई और आला अधिकारियों से सम्पर्क साधा। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुटी है।   जानकारी के मुताबिक, हरियाणा के गुरुग्राम से मंगलवार शाम को एक बस मध्यप्रदेश के पन्ना जिले के 34 यात्रियों को लेकर रवाना हुई थी। आगरा के पास बस को कार सवार बदमाशों ने रोका और अपने साथ ले गए। बताया गया है कि बस चालक ग्वालियर के डबरा निवासी रमेश कुमार व परिचालक को बदमाशों ने मलपुरा थाना क्षेत्र में बस से उतार दिया और फिर वे बस लेकर चले गए। बुधवार तडक़े करीब चार बजे चालक और परिचालक मलपुरा थाने पहुंचे और पुलिस को बस हाईजेक की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस सक्रिय हुई और बस की तलाश शुरू की।    ग्वालियर एसपी अमित सांघी ने बताया कि राजस्थान और यूपी पुलिस के आला अधिकारियों से मामले को लेकर बातचीत हुई है और जगह-जगह सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं, ताकि बदमाश बस को कहा ले गए गए हैं, इसकी पता लगाया जा सके। एसपी ने बताया कि यात्रियों को बदमाशों ने एक दूसरी बस में शिफ्ट कर दिया है। उन्होंने यह भी कहा है कि बस में सवार सभी यात्री सुरक्षित हैं। ग्वालियर में पुलिस को अलर्ट कर दिया है। बताया जा रहा है कि बस पर कल्पना ट्रैवल्स लिखा है और वह इटावा पासिंग है। जानकारी मिली है कि बस का मालिक ग्वालियर का रहने वाला है। 

Kolar News

Kolar News 19 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश के होने वाले विधानसभा उपचुनाव के लिए भाजपा और कांग्रेस दोनों ही राजनीतिक पार्टियां तैयारियों में जुटी हुई है। सत्ता गंवाने के बाद कांग्रेस एक बार फिर उसे हथियाने के लिए किसानों, महिला सुरक्षा के साथ युवाओं को भी साधने की कोशिश कर रही है। इसी क्रम में अब पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ गुरुवार 20 अगस्त को युवाओं के साथ संवाद करेंगे। कमलनाथ युवाओं की वर्चुअल सभा को संबोधित करेंगे।   दरअसल मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को युवाओं को सरकारी नौकरियां देने को लेकर बड़ा ऐलान किया है। इस ऐलान के बाद प्रदेश की राजनीति एक बार फिर से गरमा गई है। कमलनाथ ने मंगलवार देर शाम ट्वीट कर अपने कार्यकाल में युवाओं के लिए किए गए कामों का जिक्र किया था। लेकिन अब युवाओं को सीधे साधने के लिए कमलनाथ गुरुवार को युवा संवाद कार्यक्रम के तहत वर्चुअल सभा को संबोधित करेंगे। इस वर्चुअल रैली का सीधा प्रसारण कांग्रेस के सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर शाम 4 बजे से किया जाएगा। कांग्रेस सरकार में युवाओं के लिए किए गए काम की जानकारी साझा करेंगे।

Kolar News

Kolar News 19 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार को अंधी, बहरी, लूली, लंगड़ी, सरकार बताया है। पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने पूर्व मंत्रियों के बंगले खाली करवाने के मुद्दे पर भाजपा की शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह सरकार चुन-चुनकर विधायकों और पूर्व मंत्रियों को बंगला खाली करवाने का नोटिस दे रही है।   पूर्व मंत्री साधौ ने सोमवार जारी अपने बयान में कहा कि कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में 15 महिने हमारी सरकार ने भाजपा के कई नेता जो मंत्री पद पर नहीं रहे उनसे कभी बंगला खाली करवाने नोटिस नहीं भेजा। उन्होनें उदाहरण देते हुए कहा कि मंत्री भूपेन्द्र सिंह, नरोत्तम मिश्रा, विश्वास सारंग, जगदीश देवड़ा, पारस जैन, सुरेन्द्र पटवा, रामपाल सिंह, कृष्णा गौर, दीपक जोशी जैसे भाजपा नेता कमलनाथ सरकार के दौरान सरकारी बंगलों में रही, लेकिन हमने द्वेषपूर्ण कार्यवाही नहीं की। जिसमें सुरेन्द्र पटवा और कृष्णा गौर तो मात्र विधायक है जिन्हें बी टाइप बंगले मिले हुए है।    पूर्व मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ ने कहा कि सरकार बंगलों पर मेरी और न किसी और की बपौती नहीं है, पर विधानसभा ने अपने सदस्यों के लिए नियम कानून बनाए है। इसके आधार पर वह इन बंगलों में रहने के पात्र है। जिसकी यह अंधी, बहरी, लूली, लंगड़ी सरकार अनदेखी कर रही है। साधौ ने कहा कि शिवराज सरकार इस कोरोना काल में भेदभाव पूर्व रवैया अपनाकर एससी और एसटी विधायकों और पूर्व मंत्रियों से बंगला खाली करवाने नोटिस भेज रही है। जिसमें दो एससी विजयलक्ष्मी साधौ और सज्जन वर्मा तथा दो एसटी बाला बच्चन और उमंग सिंघार को नोटिस दिए गए है। पूर्व मंत्री साधौ ने कहा कि आखिर शिवराज सरकार भेदभाव पूर्ण रवैया क्यों अपना रही है। पहली बार के विधायकों को बी टाइप बंगले और जो पाँच बार के विधायक हो, एक बार उच्च सदन का सांसद हो, चार बार का मंत्री हो और पात्र हो उसे बंगले से बाहर निकालने का नोटिस दिया जा रहा है। कोरोना काल में बंगले में घुसकर महिलाओं और बच्चों को बाहर निकालने की कार्यवाही की जा रही है।     कांग्रेस की वरिष्ठ नेता विजयलक्ष्मी साधौ ने किसानों के कर्जमाफी पर शिवराज सरकार के कृषिमंत्री कमल पटेल के बयान का हवाला देते हुए कहा कि कृषिमंत्री कहते है कि किसानों के कर्जमाफी का पाप कांग्रेस ने किया है तो हम उसे ढोएंगे थोड़ी। साधौ ने कहा कि कृषि मंत्री के यह उद्गार निकल रहे है, इससे पता चलता है कि यह कैसे सरकार चला रहे है। इन्होंने एन केन प्रकारेण सरकार बना ली लेकिन इनकी स्थितियां खराब है, इन्होनें प्रजातंत्र का गला घोंटकर सरकार बना ली। लेकिन अब कमलनाथ सरकार द्वारा बनाई गई किसान, मजदूर और गरीबों के लिए योजनायें बंद करने में लगी है। साधौ ने कहा कि यह घोषणावीर की सरकार है उप चुनाव हुआ तो यह सरकार नहीं रहेगी।

Kolar News

Kolar News 18 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को घोषणा की है कि राज्य में अब सरकारी नौकरियां सिर्फ प्रदेश के बच्चों की दी जाएगी। वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री के निर्णय का स्वागत करते हुए तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि पूर्व की घोषणा की भांति यह भी कहीं घोषणा बनकर ही न रह जाए।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने मंगलवार को सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि -‘मैंने अपनी 15 माह की सरकार में प्रदेश के युवाओं को प्राथमिकता से रोजगार मिले, इसके लिये कई प्रावधान किये। मैंने हमारी सरकार बनते ही उद्योग नीति में परिवर्तन कर 70 फीसदी प्रदेश के स्थानीय युवाओं को रोजगार देना अनिवार्य किया। हमने युवा स्वाभिमान योजना लागू कर युवाओं को रोजगार मिले, इसके लिये कई महत्वपूर्ण निर्णय किये। आपकी 15 साल की सरकार में प्रदेश में बेरोजगारी की क्या स्थिति रही, यह किसी से छिपी नहीं। युवा हाथों में डिग्री लेकर नौकरी के लिये दर-दर भटकते रहे।’   उन्होंने अगले ट्वीट में कहा है कि -‘क्लर्क व चपरासी की नौकरी तक के लिये हजारों डिग्री धारी लाइनों में लगते रहे। मजदूरों व गरीबों के आंकड़े इसकी वास्तविकता खुद बयां कर रहे हैं। अपनी पिछली 15 वर्ष की सरकार में कितने युवाओं को आपकी सरकार ने रोजगार दिया, यह भी पहले आपको सामने लाना चाहिये।’   कमलनाथ ने अगले ट्वीट में कहा है कि -‘चलिये आप 15 वर्ष बाद आज युवाओं के रोजगार को लेकर नींद से जागे, आज आपने प्रदेश के युवाओं को प्राथमिकता से नौकरी देने के हमारे निर्णय के अनुरूप ही घोषणा की, लेकिन यह पूर्व की तरह ही सिर्फ घोषणा बन कर ही ना रह जाये। प्रदेश के युवाओं के हक के साथ पिछले 15 वर्ष की तरह वर्तमान में भी छलावा न हो, वे ठगे न जाएं, यह आगामी उपचुनावों को देखते हुए मात्र चुनावी घोषणा बनकर ना रह जाये, इस बात का ध्यान रखा जाए, अन्यथा कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी।’

Kolar News

Kolar News 18 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्य प्रदेश में अब सरकारी नौकरियां राज्य के लोगों को ही मिलेंगी। इस संबंध में राज्य सरकार ने फैसला ले लिया है और आवश्यक कानून बनाने की तैयारियां भी प्रारंभ कर दी गयी हैं। कानूनी प्रावधान किए जा रहे हैं।   मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी किया है। साथ ही मंगलवार को उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा है, ‘मेरे प्यारे भांजे-भांजियों! आज से मध्य प्रदेश के संसाधनों पर पहला अधिकार मध्य प्रदेश के बच्चों का होगा। सभी शासकीय नौकरियाँ सिर्फ मध्य प्रदेश के बच्चों के लिए ही आरक्षित रहेंगी। हमारा लक्ष्य प्रदेश की प्रतिभाओं को प्रदेश के उत्थान में सम्मिलित करना है।’   उन्होंने दूसरे ट्वीट में कहा है, ‘मध्य प्रदेश के युवाओं का भविष्य ‘बेरोजगारी भत्ते’ की बैसाखी पर टिका रहे, यह हमारा लक्ष्य न कभी था और न ही है। जो यहां का मूल निवासी है, वही शासकीय नौकरियों में आकर प्रदेश का भविष्य संवारे, यही मेरा सपना है। मेरे बच्चों, खूब पढ़ो और फिर सरकार में शामिल होकर प्रदेश का भविष्य गढ़ो।’

Kolar News

Kolar News 18 August 2020

उज्जैन। उज्जैन स्थित विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भगवान महाकालेश्वर की शाही सवारी सोमवार को धूमधाम से निकाली गई। पालकी में विराजित मनमहेश जैसे ही महाकाल मन्दिर परिसर से बाहर आये, कड़ाबीन के धमाकों से लोगों को राजाधिराज के आने की सूचना दी गई। समूचा परिवर्तित सवारी मार्ग ध्वज, वंदनवार एवं गुब्बारों एवं फूलों से सजाया गया था। सवारी के लिये मार्ग में लाल कालीन बिछाया गया। सवारी के आगे नगर के राजा के सम्मान में घुड़सवार दल चल रहा था। इसके पीछे पुलिस बैण्ड "ओम नम: शिवाय" की धुन बजाते हुए निकला।   महाकालेश्वर मन्दिर के सभामण्डप में सोमवार शाम चार बजे भगवान मनमहेश का विधिवत पूजन-अर्चन पुजारी घनश्याम शर्मा द्वारा किया गया एवं उन्हें पालकी में विराजित किया गया। सभा मण्डप में  संभागायुक्त आनन्द कुमार शर्मा ने सपत्नीक भगवान मनमहेश का विधिवत पूजन-अर्चन किया एवं आरती उतारी। सवारी से पहले पुलिस बैण्ड और फिर महाकाल का चांदी का ध्वज निकाला गया। इसके बाद पालकी में सवार होकर भगवान महाकाल की सवारी निकली। सवारी के पीछे पांच मुखौटे एक रथ पर एवं हाथी पर चंद्रमौलेश्वर सवार होकर निकले। सम्पूर्ण सवारी मार्ग में संभागायुक्त आनन्द कुमार शर्मा, आईजी राकेश गुप्ता, डीआईजी मनीष कपूरिया, कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक मनोज सिंह सहित अन्य प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी एवं पुजारी चल रहे थे। सवारी में दो नगाड़े भी आकर्षण का केन्द्र बने हुए थे। परिवर्तित मार्ग अनुसार भगवान महाकालेश्वर की सवारी महाकाल मन्दिर से बड़ा गणेश मन्दिर होते हुए हरसिद्धि मन्दिर चौराहा पहुंची। यहां से झालरिया मठ और बालमुकुंद आश्रम होते हुए सवारी रामघाट पर पहुंची।    भगवान महाकालेश्वर का पूजन-अर्चन किया रामघाट पर भगवान महाकाल की पालकी के पहुंचने के पश्चात उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, कृषि मंत्री कमल पटेल, लोकसभा सांसद अनिल फिरोजिया और राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया द्वारा विधिवत पूजन-अर्चन किया गया। पूजन-अर्चन पं. आशीष गुरू द्वारा सम्पन्न करवाया गया। इस दौरान अन्य पुजारी भी मौजूद थे।    परम्परा अनुसार दत्त अखाड़े की तरफ से शिप्रा नदी के दूसरे तट से भी भगवान महाकालेश्वर की आरती की गई। रामघाट से पूजन-अर्चन के पश्चात भगवान महाकालेश्वर की पालकी को होमगार्ड के सशस्त्र्र बल के जवानों द्वारा सलामी दी गई। इस अवसर पर रामघाट पर रंग-बिरंगी छत्रियों में आतिशबाजी आकर्षण का केन्द्र थी। रामघाट पर इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, महापौर मीना जोनवाल, विधायक बहादुरसिंह चौहान, महेश परमार, मुरली मोरवाल, मनोज चावला, जिला पंचायत अध्यक्ष करण कुमारिया, पूर्व विधायक राजेन्द्र भारती, बालयोगी उमेशनाथजी महाराज, संभागायुक्त आनंद कुमार शर्मा, आईजी राकेश गुप्ता, डीआईजी मनीष कपूरिया, कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह, नगर निगम आयुक्त क्षितिज सिंघल, एडीएम बिदिशा मुखर्जी, प्रशासक एसएस रावत एवं अन्य नागरिक मौजूद थे।   इसके पश्चात सवारी रामानुजकोट, हरसिद्धि की पाल होते हुए हरसिद्धि मन्दिर मार्ग, बड़ा गणेश मन्दिर के सामने से होती हुई पुन: महाकालेश्वर मन्दिर पहुंची।

Kolar News

Kolar News 17 August 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में सभी नगर पालिका के अध्यक्ष सोमवार को सुबह भोपाल पहुंचे और अपनी विभिन्न मांगों को लेकर सीएम हाउस का घेराव किया। हालांकि, पुलिस ने सीएम हाउस से पहले ही उन्हें पुलिस ने रोक लिया। इस दौरान उन्होंने जमकर नारेबाजी की।   जानकारी के अनुसार प्रदेश के 100 से अधिक नगर पालिका अध्यक्ष सोमवार को सुबह से ही भोपाल में जुटने लगे थे। सभी सीएम हाउस के बाहर ही जमा हो गए। भीड़ बढ़ती देख जिला प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये और सीएम हाउस के बाहर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया। बताया जा रहा है कि इनमें कांग्रेस के साथ-साथ भाजपा के नगरपालिका अध्यक्ष भी शामिल रहे। सभी ने एकत्रित होकर श्यामला हिल्स स्थित सीएम हाउस का घेराव कर दिया। हालांकि पुलिस ने उन्हें पॉलिटेक्निक चौराहा से आगे नहीं जाने दिया। पुलिस द्वारा रोके जाने पर प्रदर्शनकारियों ने पॉलिटेक्निक चौराहे पर जोर-शोर से नारेबाजी करते हुए सरकार पर उनकी उपेक्षा के आरोप लगाए। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि सरकार ने उनके कार्यकाल को बढ़ाने के लिए अप्रैल में घोषणा कर दी थी, लेकिन इस पर अमल आज तक नहीं हुआ है। अगर अब भी सरकार ने उनकी तरफ ध्यान नहीं दिया, तो वे किसी भी स्तर तक जा सकते हैं।

Kolar News

Kolar News 17 August 2020

भोपाल। कांग्रेस नेता राहुल गांधी आए दिन भाजपा और केन्द्र सरकार पर निशाना साधते रहते हैं। वहीं अब राहुल गांधी ने भाजपा और आएसएस पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने ट्वीट कर एक विदेशी अखबार में छपी खबर का हवाला देते हुए भाजपा और आरएसएस पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये दोनों संगठन भारत में फेसबुक और व्हाट्सएप को कंट्रोल करते हैं। वे इसके माध्यम से फर्जी खबरें और नफरत फैलाते हैं और इसका इस्तेमाल मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए करते हैं। राहुल गांधी के बयान पर मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने राहुल गांधी के ट्वीट पर शायराना अंदाज में पलटवार किया है। उन्होंने सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि उम्र भर ग़ालिब यही भूल करता रहा धूल चेहरे पर थी और आईना साफ करता रहा। वो अपने चेहरे की धूल साफ करे। वो सिर्फ इल्ज़ाम पर इल्ज़ाम ही लगाते हैं। अपनी गलतियां ठीक करें। इसके अलावा उपचुनाव में कांग्रेस के घोषणा पत्र पर उन्होंने कहा कि पिछले घोषणा पत्र की एक बात भी पूरी नही की कांग्रेस ने। हमने मंदिर बनाने का कहा और बनाया, हमने ट्रिपल तलाक़ का कहा तो हटाया। कांग्रेस ने झूट बोले है कर्ज माफ नही किया। मंत्री मिश्रा ने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस ने मध्यप्रदेश को बीमारू राज्य बना दिया था हमने मप्र को विकाशशील राज्य बनाया।

Kolar News

Kolar News 17 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को भोपाल के लाल परेड ग्राउण्ड परिसर के मोतीलाल नेहरु स्टेडियम में आयोजित राज्यस्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह में ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी। मुख्यमंत्री चौहान ने महिला विशेष सशस्त्र बल, जिला बल, शासकीय रेल पुलिस, विशेष शस्त्रबल हॉक फोर्स, एस.टी.एफ., नगर सेना, जेल विभाग और पुलिस बैंड की टुकड़ियों से सज्जित परेड का निरीक्षण किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री चौहान की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह, राज्य मंत्रिपरिषद के सदस्य, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी मौजूद रहे।   मुख्यमंत्री चौहान एवं सभी उपस्थितों द्वारा भारतमाता की जयघोष के साथ मुख्यमंत्री का संबोधन प्रारंभ हुआ। मुख्यमंत्री चौहान ने राष्ट्र को स्वतंत्रता दिलवाने वाले वीर बलिदानियों के चरणों में नमन करते हुए कहा कि देश के लिए सर्वस्व न्यौछावर करने वालों के सम्मान में भोपाल में निर्मित शौर्य स्मारक में आज भारतमाता की प्रतिमा स्थापित हुई है। यह सभी को राष्ट्र प्रेम, शौर्य और साहस की प्रेरणा देगी। प्रत्येक नागरिक को भोपाल के शौर्य स्मारक में स्थापित इस प्रतिमा के दर्शन करना चाहिए।   मुख्यमंत्री चौहान ने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी का स्मरण किया तथा उनके कथनों को उद्धृत किया।  मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सीमा पर अतिक्रमण करने का दुस्साहस करने वालों को हमारे वीर सैनिकों ने अपने प्राणों की परवाह न कर मुँहतोड़ जवाब दिया। भारतीय सेना के गौरवशाली इतिहास के इस महत्वपूर्ण अध्याय में मध्यप्रदेश के रीवा जिले के फरेदा गाँव के सैनिक दीपक सिंह ने मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों का उत्सर्ग किया। उन्हें सादर श्रद्धांजलि।    प्रधानमंत्री के कुशल नेतृत्व में कोरोना से बचाव मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में सही समय पर लिए गए सुविचारित निर्णयों के परिणामस्वरूप भारत ने कोरोना संक्रमण से बचाव की दिशा में प्रभावी कार्य किया। मोदी मैन ऑफ़ आइडियाज हैं। कठिन चुनौती भरे समय को अवसर के रूप में लेते हुए उन्होंने आत्म-निर्भर भारत का जो मंत्र दिया है उस पर प्रदेश तेज गति से चल रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोविड की आपदा से निपटने के लिए सरकार ने समाज के सहयोग से आई.आई.टी.टी. अर्थात् “आईडेंटीफाई, आयसोलेट, टेस्ट एण्ड ट्रीट' की रणनीति बनाकर उस पर अमल किया।    एक हजार नवीन कृषक उत्पादक संघ आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश अभियान के अंतर्गत अगले तीन वर्ष में प्रदेश में 1000 नवीन कृषक उत्पादक संगठनों का सृजन कर इन्हें पूँजी अनुदान, क्रेडिट गारंटी और प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रदेश में बड़ी संख्या में खाद्य प्रसंस्करण इकाईयां स्थापित की जाएंगी।   नर्मदा जल का पूरा उपयोग नर्मदा नदी मध्यप्रदेश की जीवन-दायिनी है। मध्यप्रदेश को आवंटित 18.25 एम.ए.एफ. नर्मदा जल का उपयोग सुनिश्चित करने के लिए रणनीति पर काम चल रहा है। नर्मदा कछार में 2.85 मिलियन एकड़ फिट अतिरिक्त जल भण्डारण के लिये 13 हजार 544 करोड़ रुपये लागत की 8 नवीन परियोजनाओं की स्वीकृतियाँ प्रदान की गई हैं। राज्य शासन द्वारा साँवेर परियोजना सहित अनेक सिंचाई परियोजनाओं को मंजूरी दी गई है।    महिला एस.एच.जी. को कम ब्याज पर ऋण महिला सशक्तिकरण के लिए प्रदेश में महिला स्व-सहायता समूहों के लिए कम ब्याज पर ऋण दिलाने का निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि इस वर्ष 1300 करोड़ रुपये से अधिक का ऋण 4 प्रतिशत की ब्याज दर पर प्रदान किया जाएगा।   आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि प्रदेश में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का रोडमैप तैयार किए जाने के लिए भौतिक अधोसंरचना विकास, सुशासन, शिक्षा, उद्योग एवं रोजगार विषयों पर वेबिनार आयोजित कर विशेषज्ञों के सुझाव प्राप्त कर ड्राफ्ट तैयार कर लिया गया है। इसे नीति आयोग से चर्चा उपरांत इस माह के अंत तक अंतिम रूप दे दिया जाएगा। उन्होंने नागरिकों का आव्हान करते हुए कहा कि वे आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिये अपने बहुमूल्य सुझाव सरकार के पोर्टल mp.mygov.in पर दे सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि आगामी तीन वर्ष के रोडमैप से समृद्ध, समावेशी और आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण का मार्ग प्रशस्त होगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश की कल्पना को साकार करते हुए कोविड-19 आपदा के दौरान प्रदेश के 20 हजार से अधिक स्व-सहायता समूह सदस्यों द्वारा एक करोड़ 12 लाख से अधिक मास्क, एक लाख 12 हजार से अधिक पी.पीई. किट्स, 96 हजार लीटर सेनिटाइजर तथा 2 लाख से अधिक साबुन बनाकर विक्रय किए गए।    रीवा में 'अल्ट्रा मेगा सोलर परियोजना' गत दिनों प्रधानमंत्री ने रीवा में 750 मेगावॉट की 'अल्ट्रा मेगा सोलर परियोजना' का लोकार्पण किया। यह विश्व की सौर ऊर्जा उत्पादन करने वाली बड़ी इकाइयों में से एक है। राज्य सरकार ओंकारेश्वर में 3000 करोड़ रुपये की लागत से 600 मेगावॉट का विश्व का सबसे बड़ा 'फ्लोटिंग सोलर पॉवर प्लांट' तैयार करेगी।   'चंबल प्रोगेस-वे' एवं 'नर्मदा एक्सप्रेस-वे' चंबल क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के लिये चंबल प्रोग्रेस-वे को फास्ट-ट्रेक मोड में विकसित किया जायेगा। लगभग 6 हजार करोड़ रुपये की लागत से बनने वाला 309 किलोमीटर लंबाई का चंबल प्रोग्रेस वे श्योपुर, मुरैना एवं भिण्ड से होते हुए राजस्थान एवं उत्तरप्रदेश की सीमाओं को जोड़ेगा। अमरकंटक से होकर अलीराजपुर के रास्ते गुजरात को जाने वाले लगभग 1300 किलोमीटर लंबाई के नर्मदा एक्सप्रेस-वे से जुड़े चिन्हित क्षेत्रों में नया निवेश लाया जाएगा।   'रेडीमेड गारमेंट' क्षेत्र को बढ़ावा रेडीमेड गारमेंट क्षेत्र के उद्योगों में बड़ी संख्या में रोजगार का सृजन होता है। प्रदेश में रेडीमेड गारमेंट क्षेत्र में पूँजी निवेश को प्रोत्साहित करने के लिये उद्योग संवर्धन नीति में बदलाव किया गया है। अब यंत्र, संयंत्र एवं भवन में 25 करोड़ से अधिक पूँजी निवेश करने वाली गारमेंट निर्माण इकाइयों को भी मेगा स्तर की औद्योगिक इकाई माना जाएगा।    भोपाल में पुलिस के लिए 50 बिस्तरीय अस्पताल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की कि हमारे पुलिस के साथियों के इलाज के लिए भोपाल में सर्वसुविधायुक्त 50 बिस्तरीय अस्पताल बनाया जाएगा।   बेटियों की पूजा से ही प्रारंभ होंगे सरकारी आयोजन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में बेटियाँ की पूजा से ही सभी सरकारी आयोजन प्रारंभ होंगे। बेटियों का कल्याण हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। प्रदेश में लाड़ली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत 78 हजार से अधिक ई-सर्टिफिकेट जारी किए गए हैं। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत 5 लाख 9 हजार से अधिक हितग्राहियों के बैंक खातों में 84 करोड़ रुपये से अधिक राशि डाली गई है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना भी संचालित की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 15 August 2020

भोपाल। मप्र के पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आज प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में ध्वजारोहण किया और राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को सलामी दी। इस अवसर पर विजयगीत ‘विजय विश्व तिरंगा प्यारा’ और राष्ट्र-गान ‘जन-गण-मन’ का गायन हुआ। प्रदेश के नागरिकों, कांग्रेसजनों के नाम संदेश का वाचन किया।   कमलनाथ ने प्रदेश की जनता को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए स्वतंत्रता आंदोलन में शहीद सैनानियों को नमन किया। उन्होंने ने कहा कि आज देश के सामने कई चुनौतियां हैं और सबसे बड़ी चुनौती देश के लोकतंत्र और संविधान की अस्मिता को बचाये रखना है। देश में दल बदल कानून होने के बावजूद ऐसी नई परिस्थितियां पेश हुईं, जिससे जनता द्वारा बहुमत से चुनी सरकारों को अस्थिर करने का काम न केवल मप्र में बल्कि अनेक प्रदेशों में किया गया है। संविधान और लोकतंत्र की भावनाओं के विपरीत मप्र में जो घटनाक्रम हुआ उससे प्रजातंत्र के मूल्यों पर प्रहार हुआ है, प्रजातंत्र की हत्या की गई।   इस अवसर पर कमलनाथ ने अपने सीएम कार्यकाल में किए गए कार्यों का वर्णन करते हुए संदेश में कहा कि 15 महीने की सरकार में हमें 12 महीने काम करने का अवसर मिला। सरकार बनते ही हमने किसानों का 2 लाख रू. तक का फसल ऋण माफ करने का निर्णय लिया, 21 लाख किसानों के ऋण खाते में 7155 करोड़ की राशि का भुगतान कर दिया तथा 7 लाख से अधिक किसानों के कर्ज भुगतान हेतु 4612 करोड़ रूपये की राशि स्वीकृत की गई। उन्होंने कहा कि किसानों को कृषि प्रयोजन के विद्युत कनेक्शन की दर में 50 प्रतिशत छूट दी गई, इंदिरा गृह ज्योति योजना के अन्तर्गत 100 यूनिट तक मासिक खपत करने पर 100 रूपये प्रतिमाह की दर से विद्युत प्रदाय की गई। वृद्धा, विधवा एवं विकलांगों की पेंशन राशि में दुगनी बढौत्री अर्थात 300 रूपये की जगह 600 रू प्रतिमाह की गई। कन्याओं के विवाह हेतु सहायता राशि बढ़ाकर 51 हजार रूपये की गई। युवाओं के लिए मुख्यमंत्री युवा स्वाभिमान योजना प्रारंभ की गई। उन्होंने कहा कि हमने आम नागरिकों के हित में भूमाफिया तथा मिलावट खोरों के लिए सघन अभियान चलाया। हमारा यह प्रयास रहा है कि प्रदेश की जनता के हित में जो संभव हो सके वे निर्णय लिये।   कमलनाथ ने कहा कि महामारी कोरोनाकाल में प्रदेश के आम नागरिकों के स्वास्थ्य, सुरक्षा के लिए जो गंभीर प्रयास किए जाने थे, हमें दु:ख के साथ कहना पड़ रहा है कि इसके लिए वर्तमान सरकार द्वारा जरूरी कदम नहीं उठाये गए, जो प्रवासी मजदूर बाहर प्रदेशों से आए है, उन्हें रोजगार देने में वर्तमान सरकार असफल हुई है। कोरोना महामारी के इस दौर में कर्ज माफ न होने के कारण किसान, बिजली के लंबे-चौड़े बिलों के कारण आम नागरिक और हित लाभ न मिलने पर कर्मचारी वर्ग परेशान है। आज प्रदेश की जनता दोहरी मार झेल रही है जिससे उसका सामान्य जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।  

Kolar News

Kolar News 15 August 2020

भोपाल। स्वंतत्रता दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार सुबह मुख्यमंत्री निवास पर झंडावंदन किया तथा सलामी ली। राष्ट्रगान हुआ तथा भारत माता की जय का उदघोष हुआ। मुख्यमंत्री ने आजादी के पर्व की सभी को शुभकामनाएँ दीं।   इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सभी शासकीय सेवकों को शुभकामनाएँ देते हुए उनकी सुरक्षा में पदस्थ पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा अपना कार्य अधिक मेहनत, लगन और निष्ठा के साथ किए जाने  के फलस्वरूप उन्हें पुरस्कृत भी किया। राजपत्रित अधिकारियों को प्रशंसा-पत्र, सभी निरीक्षकों को 5750 रुपये उप निरीक्षकों एवं सहायक उप निरीक्षकों को 5500 रुपये तथा प्रधान आरक्षकों एवं आरक्षकों को 5000 रुपये का पुरस्कार प्रदान किया गया।     राज्य निर्वाचन आयुक्त ने किया ध्वजारोहण   वहीं, प्रदेश के राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिह ने स्वतंत्रता दिवस पर राज्य निर्वाचन आयोग में ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर आयोग के सचिव दुर्गविजय सिंह सहित स्टाफ ने राष्ट्रगान का सामूहिक गायन किया।   राजभवन में हुआ ध्वजारोहण   इधर, स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राजभवन में राज्यपाल के प्रमुख सचिव डीपी आहूजा ने ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर विधि अधिकारी डीपीएस गौर, राज्यपाल के परिसहाय द्वय विजय राणा, अखिल पटेल, नियंत्रक  सुरभि तिवारी, सुरक्षा अधिकारी नीरज ठाकुर सहित राजभवन के अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।   अंटोनी डिसा ने रेरा भवन में ध्वजारोहण किया   इसी तरह रेरा अध्यक्ष अंटोनी डिसा ने रेरा भवन परिसर में 74वें स्वतंत्रता दिवस पर ध्वजारोहण किया। इस मौके पर न्यायिक सदस्य दिनेश कुमार नायक, तकनीकी सदस्य अनिरूद्ध डी. कपाले, न्यायनिर्णायक अधिकारी विनोद कुमार दुबे, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी दिलीप कुमार कापसे सहित अन्य स्टाफ ने राष्ट्रगान का सामूहिक गायन किया।

Kolar News

Kolar News 15 August 2020

उज्जैन। इतिहास अपने आप को दोहराता है,यह तो सुना था। लेकिन इतिहास परंपराओं को तोड़ता है, ऐसा पहली बार आगामी सोमवार को होगा। इस बार बाबा महाकाल की शाही सवारी में एक इतिहास बनेगा है और एक मिथक टूट जाएगा। ऐसा होगा ज्योतिरादित्य सिंधिया के उज्जैन आगमन पर।   तत्कालिन सिंधिया रियासत की बात की जाए तो उस समय शैव एवं वैष्णवों के बीच मतांतर के चलते संघर्ष की स्थितियां रहती थी। सिंधिया रियासत शैव धर्म का पालन तो करती थी लेकिन वैष्णवों को भी समभाव से स्थान देती थी। इतिहास को थोड़ा पिछे जाकर खंगालें तो तत्कालिन रियासतदारों ने राजपाठ चलाने के लिए शैव एवं वैष्णवों के बीच समन्वय स्थापित करने के उद्देश्य से हरि-हर मिलन की परंपरा स्थापित की थी। यह दो हिस्सों में होती थी। पहली तो बाबा महाकाल की श्रावण-भादौ मास की सवारी की रामघाट से वापसी में गोपाल मंदिर के बाहर सिंधिया परिवार के सदस्य द्वारा बाबा महाकाल की अगवानी करके आरती,पूजन करने की तो दूसरी वैकुण्ठ चतुर्दशी पर रात्रि में बाबा महाकाल का हरि के राजप्रासाद में आकर मिलने की।   इस बार कोरोना काल में यह परंपरा एक वर्ष के लिए टूट गई। कोरोनाकाल में जिला प्रशासन द्वारा सामाजिक दूरी का पालन करवाते हुए नए छोटे मार्ग से बाबा की सवारी निकाली जा रही है। इसके चलते पुराने रूट पर गोपाल मंदिर आएगा नहीं, यही कारण है कि सिंधिया परिवार इस बार स्वयं रामघाट जाएगा और वहां पर बाबा महाकाल का पूजन करते हुए परंपरा का निर्वाह करेगा। शैव-वैष्णव के बीच समन्वय की अपनी रियासती दौर की परंपरा का पालन करते हुए ज्यातिरादित्य सिंधिया हरि की ओर से हर के लिए भेंट लेकर भी पहुंचेंगे। इसी के साथ वे यह मिथक तोड़ देंगे कि रियासतकालीन परंपराएं अटूट नहीं रहेगी, बल्कि समय काल के अनुसार इसमें परिवर्तन किया जाएगा।    सूत्रों का कहना है कि यदि ज्योतिरादित्य सिंधिया थोड़ा सा भी दबाव बनाते तो जिला प्रशासन को शाही सवारी का मार्ग पर्व वर्षो के परंपरागत मार्ग को करना पड़ सकता था। इसमें अत्यधिक मशक्कत करना पड़ती और लोकतंत्र में राजशाही का गलत संदेश जाता। यही कारण है कि ग्वालियर से ही यह पहल हुई कि परिवार के मुखिया याने ज्योतिरादित्य सिंधिया स्वयं रामघाट पहुंचकर बाबा का पूजन करेंगे। ऐसा करके एक नया इतिहास लिखेंगे। पूर्व मे कभी नहीं हुआ कि रियासतकालीन परिवार के सदस्य रामघाट पहुंचे हो और बाबा महाकाल का पूजन किया हो।

Kolar News

Kolar News 14 August 2020

  भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के नागरिकों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश शीघ्र ही समृद्ध, विकसित और आत्मनिर्भर प्रदेश की पहचान बनायेगा। सभी वर्गों का कल्याण सुनिश्चित करते हुए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का लक्ष्य हासिल करेंगे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना संकट की परिस्थितियों में आत्मनिर्भर भारत का मंत्र दिया है। इसके अंतर्गत आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश का निर्माण तेजी से किया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि देश की स्वतंत्रता जिन बलिदानियों के कारण मिली है, उनका पुण्य स्मरण करते हुए इस वर्ष छोटे स्वरूप में स्वतंत्रता दिवस मनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री चौहान ने उम्मीद व्यक्त की है कि प्रदेश के नागरिक वर्तमान कोरोना की चुनौती का साहस से सामना करते हुए प्रदेश की प्रगति के लिए सहभागी बनेंगे।  

Kolar News

Kolar News 14 August 2020

भोपाल। मप्र में कांग्रेस की इन दिनों खूब किरकिरी हो रही है। दरअसल, सिंधिया और उनके समर्थक विधायकों की बगावत के चलते कमलनाथ को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। कमलनाथ के इस्तीफा देने के बाद उस दिन मध्यप्रदेश कांग्रेस के ऑफिशियल ट्वीटर अकाउंट से एक ट्वीट किया गया, जिसमें लिखा गया कि इस ट्वीट को संभाल कर रखना, 15 अगस्त 2020 को कमलनाथ जी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर ध्वजारोहण करेंगे और परेड की सलामी लेंगे। ये बेहद अल्प विराम है। पार्टी का यह ट्वीट इन दिनों खूब सुर्खियों में है। ट्वीट को लेकर कांग्रेस की खूब किरकिरी हो रही है।   वहीं, अब पूर्व सीएम कमलनाथ स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले आज शुक्रवार को मध्यप्रदेश की जनता को संबोधित करेंगे। कांग्रेस ने अपने आफिशियल ट्वीटर अकाउंट से इसकी जानकारी दी है। इसका सीधा प्रसारण शाम 4 बजे कांग्रेस के सभी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर किया जाएगा। दरअसल मध्य प्रदेश कांग्रेस ने पूर्व सीएम कमलनाथ का एक ट्वीट पोस्ट किया है। जिसमें 14 अगस्त शाम 4 बजे जनसंबोधन लाइव करने की बात कही है साथ ही इसे कांग्रेस के सभी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर प्रसारित करने की बात भी कही गई है। इसे लेकर भाजपा नेता हितेश वाजपेयी ने ट्वीट के माध्यम से कमलनाथ पर निशाना साधा है। उन्होंने कमलनाथ को घेरते हुए कहा है कि 14 अगस्त को तो पाकिस्तान आजाद हुआ था क्या कमलनाथ प्रदेश की जनता को ये याद दिलाना चाहते है कि तब कांग्रेस ने देश के दो हिस्से करवा दिए थे। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा ‘14 अगस्त को सत्ता के बिछोह में डूबे कंपनी बहादुर साहब अपनी प्रशासनिक खुजली मिटाते हुए मप्र की जनता को पाकिस्तान के स्थापना दिवस की शुभकामनाएं देंगे।

Kolar News

Kolar News 14 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोन हर किसी को अपनी चपेट में ले रहा है। राजनेता भी खुद को इससे बचा नहीं पा रहे हैं। कोरोना संक्रमण का सबसे ज्यादा असर भाजपा में देखने को मिल रहा है। यहां रोजाना नेता कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। सीएम शिवराज से लेकर मंत्रिमंडल के मंत्री और संगठन के सदस्य तक इसकी चपेट में आ चुके हैं। वहीं अब भाजपा के एक और नेता कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए हैं। पूर्व विधायक और भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष जीतू जिराती की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने खुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने अपने करीबी और संपर्क में आए लोगों से तुरंत जांच करवाने और क्वारंटाइन में चले जाने की अपील भी की है।   जीतू जिराती ने शुक्रवार सुबह ट्वीट कर अपने कोरोना संक्रमित होने की जानकारी दी। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा ‘मुझे एक-दो दिन से जुकाम व बुखार था, टेस्ट के बाद मेरी रिपोर्ट कोविड19 पॉजिटिव आई है। मेरी सभी साथियों से अपील है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं ,वह अपना कोरोना टेस्ट करवा लें ओर मेरे निकट संपर्क वाले लोग क्वारन्टीन में चले जाएँ।   गौरतलब है कि एक दिन पहले ही गुरुवार को ही निवाड़ी से भाजपा विधायक अनिल जैन और भाजपा से राज्यसभा सांसद डॉक्टर सुमेर सिंह सोलंकी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। दोनों ही राजनेताओं की तबीयत कुछ दिनों से ठीक नहीं थी, जिसके बाद उन्होंने अपना कोरोना टेस्ट करवाया और रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सांसद सुमेर सिंह और विधायक अनिल जैन ने फिलहाल खुद को क्वॉरंटीन कर दिया गया है। सीएम शिवराज ने भी ट्वीट कर दोनों नेताओं के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की थी। वहीं राजनेताओं में लगातार संक्रमण को देखते हुए भाजपा में हडक़ंप मच गया है।

Kolar News

Kolar News 14 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना में प्रदेश का रिकवरी रेट 74.7 प्रतिशत हो गया है। सभी जिले मास्क पहनने तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अनिवार्यता सुनिश्चित करें। यह कोरोना संक्रमण को रोकने में प्रभावी हैं। होम आइसोलेशन के साथ-साथ कोरोना की चैन तोड़ने के लिए जहां-जहां आवश्यक हो वहां संस्थागत क्वारेंटाइन की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि आगे आने वाले त्यौहारों जैसे गणेश उत्सव तथा मोहर्रम आदि में किसी भी तरह का सार्वजनिक आयोजन तथा समागम न हों यह सुनिश्चित किया जाए। इस उद्देश्य से यदि कहीं बड़ी मूर्तियों और ताजिए आदि का निर्माण आरंभ हो रहा है तो उस पर तत्काल पाबंदी लगाई जाए। धार्मिक कार्यक्रम घरों में ही हों, यह सुनिश्चित करें। उक्‍त निर्देश मुख्‍यमंत्री ने गुरुवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा करते हुए दिए।   वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने जेलों में फैल रहे संक्रमण को गंभीरता से लेने तथा इसके प्रभावी उपाय करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि फ्रंट लाइन शासकीय सेवकों में संक्रमण से बचाव के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएं। मुख्यमंत्री चौहान ने दिवंगत प्रसिद्ध शायर राहत इंदौरी की मृत्यु के संबंध में भी जानकारी ली।    टेस्टिंग क्षमता में लगातार हो रही है वृद्धि समीक्षा में बताया गया कि प्रदेश में टेस्टिंग क्षमता में लगातार विस्तार हो रहा है। अब 20 हजार से अधिक टेस्ट प्रतिदिन किए जा रहे हैं। अब तक कोरोना से प्रभावित 42 हजार 618 में से 31 हजार 835 व्यक्ति स्वस्थ हुए हैं। वर्तमान में सक्रिय केस 9 हजार 718 हैं।   राजगढ़ तथा सीधी जिले की समीक्षा मुख्यमंत्री चौहान ने राजगढ़ तथा सीधी जिले की विशेष रूप से जानकारी ली। राजगढ़ में 54 कंटेनमेंट एरिया बनाए गए हैं। मास्क न पहनने पर जुर्माना तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने पर प्रभावी कार्रवाई लगातार जारी है। राजगढ़ कलेक्टर को निर्देश दिए गए हैं कि जो परिवार होम आइसोलेशन के प्रावधानों का पालन नहीं कर रहे हैं, उन्हें संस्थागत क्वारेंटाइन में रखा जाए। इसी प्रकार सीधी जिले में प्रकरणों की समीक्षा तथा उपलब्ध क्षमता की जानकारी ली गई।   अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि होम आइसोलेशन तथा संस्थागत क्वारेंटाइन पर विस्तृत दिशा-निर्देश जिलों को जारी किए गए हैं। जबलपुर, मुरैना, खरगोन, नीमच, मंदसौर, रतलाम, सागर, इंदौर जिलों की समीक्षा भी की गई। कोरोना की समीक्षा में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस सहित अन्य अधिकारीगण ने भाग लिया।

Kolar News

Kolar News 13 August 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश के इकलौते कांग्रेस सांसद और पूर्व सीएम कमलनाथ के पुत्र नकुलनाथ का राजधानी भोपाल में लगा एक पोस्टर मीडिया की सुर्खियों में छाया हुआ है। दरअसल, पोस्टर में ‘स्वतंत्रता दिवस’ के अवसर पर सांसद नकुल नाथ ने देशवासियों को ‘गणतंत्र दिवस’ की शुभकामनाएं दी हैं। बताया गया है कि यह पोस्टर नकुल नाथ के समर्थकों द्वारा लगाया गया है, लेकिन कांग्रेस ने इसे फेक बताया है। वहीं, भाजपा ने चुटकी लेते हुए पूर्व सीएम कमलनाथ को सलाह दी है कि वे अपने सांसद बेटे को दोबारा स्कूल भेंजे, ताकि उन्हें गणतंत्र दिवस और स्वस्तंत्रता दिवस का फर्क बता चल सके।   राजधानी भोपाल के एमपी नगर चौराहे स्थित एक भवन पर छिंदवाड़ा से कांग्रेस सांसद नकुलनाथ का गुरुवार सुबह एक होर्डिंग लगा देखा गया, जिसमें उन्होंने देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की जगह गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। होर्डिंग के लगते ही इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं। हालांकि, प्रदेश कांग्रेस ने इस होर्डिंग को फेक बताया है। कांग्रेस नेता एवं पूर्व सीएम कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने गुरुवार को ट्वीट करते हुए कहा है कि यह भाजपा की डर्टी पॉलिटिक्स है। भाजपा किस तरह फेक होर्डिंग के माध्यम से जानबूझकर झूठ परोसने में लगी हुई है। पहले जयवर्धन सिंह के इसी तरह नकली पोस्टर लगवाये और अब ....? स्वतंत्रता दिवस पर गणतंत्र दिवस का फेक होर्डिंग? भाजपा के मंसूबे कभी कामयाब नहीं होंगे।’   इधर, भाजपा ने होर्डिंग को लेकर पूर्व सीएम कमलनाथ पर तंज कसा है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा है कि जो नकुल नाथ ठीक से बोल नहीं पाते हैं, उन्हें स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के बीच का फर्क क्या पता? स्वतंत्रता की कीमत देश के लाखों लोगों ने अपनी प्राणों की आहुति देकर चुकाई है, कांग्रेस ने तो केवल मलाई खाने का काम किया है। मैं कमल नाथ जी से आग्रह करूंगा कि नकुल नाथ को दोबारा स्कूल भेजें, शायद वे राजनीति में बहुत जल्दी आ गए।’

Kolar News

Kolar News 13 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले कांग्रेस भाजपा पर हमलावर हो गई है और प्रदेश सरकार पर जनता के साथ धोखे का आरोप लगा रही है। इन सब के बीच प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कांग्रेस के घोषणा पत्र में विधान परिषद के गठन को जुमला बताया है।   गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कमलनाथ सरकार ने विधान परिषद के गठन का जुमला दिया था। उस पर कमलनाथ सरकार चार कदम भी नहीं चली। जिस तरह बाकी सब झूठ बोला, उसी तरह इस पर भी सिर्फ और सिर्फ झूठ ही बोला। अभी विधान परिषद गठन का कोई भी प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। उन्होंने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि 15 महीने की कांग्रेस सरकार का विजन, युवाओं को ढोर-चराने, बैंड बजाने का विजऩ था। 15 महीने में किसी को रोजगार नहीं दिया गया, न बेरोजग़ारी भत्ता दिया। पूरा पैसा छिंदवाड़ा भेज दिया।   वहीं कांग्रेस द्वारा कमलनाथ सरकार गिरने के बाद पार्टी द्वारा 15 अगस्त पर कमलनाथ के ध्वजारोहण वाले ट्वीट पर चुटकी लेते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ और सिर्फ झूठ की राजनीति करती है। कह दिया कि पंद्रह अगस्त को झंडा वंदन करेंगे ,कहीं दिखें तो बताना, हम भी देखने जाएंगे।   दिग्विजय सिंह को आड़े हाथों लेते हुए मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि छपास के लिए दिग्विजय सिंह भगवान राम के नाम का दुरुपयोग कर रहे हैं, राम मंदिर के शिलान्यास से सर्वाधिक पीड़ा या तो बाबर के मन में हुई होगी या तो उसके समर्थकों में, दिग्विजय सिंह और लक्ष्मण सिंह का यह कृत्य निंदनीय है। उन्होंने कहा कि राम के साथ मजाक करना बहुत निंदनीय है, कांग्रेस राम का दुरुपयोग छपास के लिए कर रहे हैं। कांग्रेस को इस बात पर चिंतन करना चाहिए कि उनके मंत्री-विधायक,नेता ही क्यों टूटते हैं।

Kolar News

Kolar News 13 August 2020

सतना। मध्यप्रदेश के सतना जिले के सरला नगर में स्थित मैहर सीमेंट कंपनी में डायरेक्टर जनरल ऑफ जीएसटी इंटेलिजेंस (डीजीजीई) द्वारा बुधवार को छापामार कार्रवाई की गई है। बताया जा रहा है कि कंपनी द्वारा कोरोड़ों रुपये की जीएसटी चोरी का मामला उजागर हुआ है। फिलहाल कार्रवाई जारी है।   बताया जाता है कि मैहर सीमेंट द्वारा जीएसटी चोरी का यह खेल काफी समय से किया जा रहा था, जिस पर जीएसटी विभाग द्वारा लगातार नजर रखी जा रही थी। कंपनी के खिलाफ काफी पुख्ता सबूत जमा हो गये तो डीजीजीई की टीम बुधवार को मैहर सीमेंट कंपनी पहुंची और यहां छापमार कार्रवाई शुरू की, जिसमें करोड़ों रुपये की जीएसटी चोरी का मामला सामने आया है। कार्रवाई में अब तक 52 लाख रुपये से ज्यादा नकद बरामद किए गए हैं। बताया गया है कि डीजीजीई द्वारा कंपनी के मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के 28 ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की जा रही है। कंपनी से अहम दस्तावेज जब्त किये गये हैं।

Kolar News

Kolar News 12 August 2020

ग्वालियर। मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा उपचुनाव की तैयारियों के बीच राजनेताओं में बयानबाजी भी जोरों से चल रही है। शिवराज सरकार में पीएचई मंत्री ऐंदल सिंह कंषाना ने उपचुनाव से पहले बड़ा बयान दिया है। उन्होंने रेत खनन को लेकर गोविंद सिंह के उपवास वाले बयान पर निशाना साधते हुए कहा है कि कांग्रेस सरकार के समय वे उपवास पर क्यों नहीं बैठे। इतना ही नहीं मंत्री कंसाना ने गोविंद सिंह और दिग्विजय सिंह जैसे वरिष्ठ नेताओं को राजनीति छोडक़र आराम करने की सलाह दी है।   मंत्री एंदल सिंह कंसाना ने मीडिया से बातचीत करते हुए उपचुनाव की तैयारी को लेकर कहा कि चुनावी प्रचार चल रहा है, हम तैयार है, चाहे जब भी चुनाव हो। इस दौरान कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस बेड पर है, 70 पार वाले क्या राजनीति करेंगे। मेरी सलाह है गोविंद सिंह, दिग्विजय सिंह को अब ये लोग आराम करें। चम्बल के कांग्रेस विधायकों के भाजपा से संपर्क में होने के सवाल पर मंत्री कंषाना ने कहा कि कांग्रेस के विधायक पहले भी संपर्क में थे, आज भी हैं। अगर विधायक संपर्क में नहीं होते तो, हम बीजेपी में कैसे होते। गोविंद सिंह के उपवास वाले बयान पर उन्होंने कहा कि अवैध उत्खनन तो गोविंद सिंह के विधानसभा क्षेत्र में होता था, अब तो टेंडर प्रक्रिया से उत्खनन होता है। जब कांग्रेस की सरकार थी तो गोविंद सिंह उपवास पर बैठते थे।   कांग्रेस ने की मुरैना की उपेक्षा  कैबिनेट मंत्री ऐंदल सिंह कंषाना ने कहा कि 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने पहली बार मुरैना क्षेत्र से सभी 6 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की। लेकिन जब मंत्री पद देने की बात आई तो किसी को मौका नहीं दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने मुरैना का अपमान किया  यही कारण है कि कांग्रेस से बगावत की है। 

Kolar News

Kolar News 12 August 2020

भोपाल। मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एक बार फिर कांग्रेस पर निशाना साधा है। कांग्रेस में राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को लेकर मचे घमासान पर उन्होंने तंज कसते हुए कहा है कि कांग्रेस किसी तीसरे को अध्यक्ष नहीं बना सकती, जब भी नया अध्यक्ष बनेगा गांधी परिवार से ही बनेगा। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस में 20 लोग भी नहीं है तो कैसे इंचार्ज बना दिया। कांग्रेस किसी तीसरे को अध्यक्ष बना ही नहीं सकती। दौड़ में एक लडक़ा फस्र्ट आया तो दूसरे ने पूछा सेकंड कौन आया? जवाब मिला, दौड़ा ही अकेला था, तो फस्र्ट तो आना ही था...।   वहीं जन्माष्टमी पर कमलनाथ को अर्जुन बताने वाला पोस्टर वायरल होने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि अर्जुन ने ऐसी हालात नहीं कि थी अपनी सेना की जैसी कमलनाथ के रहते में हो गयी है। कमलनाथ पर निशाना साधते हुए मंत्री मिश्रा ने कहा कि वो तो कभी सुंदरकांड करते हैं, कभी कृष्ण दरबार सजाते हैं। कुछ लोग ऐसे ही होते हैं जो हालात देखकर बाजार लगाते हैं। कांग्रेस द्वारा वेबिनार कि आलोचना किए जाने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि यह आश्चर्य की बात है, वेबिनार का आयोजन समृद्ध एमपी के लिए है। 4 समूह बने हैं सभी मंत्री किसी न किसी समूह में शामिल हैं, आत्मनिर्भर भारत और एमपी के लिए जो सुझाव सभी से मिले हैं फोन पर चर्चा कर 25 अगस्त तक ड्राफ्ट सभी समूह पेश करेंगे।   व्यापारियों से की गाईडलान का पालन करने की अपीलइसके साथ ही गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सभी व्यापारी भाइयों से पुन: आग्रह है कि वे कोरोना की गाइडलाइन का गम्भीरता से पालन करें और कराएं। ऐसी व्यवस्था रखें कि हमें फिर से सख्ती न करनी पड़े। सभी अपनी दुकानों पर मास्क, सैनेटाइजर और पर्याप्त दूरी बनाकर रखें। साथ ही आम जनता से भी कोरोना को लेकर मंदिरों में भीड़ से बचने की अपील की है, केंद्र की गाइडलाइंस का पालन हो, मोहर्रम पर तजियाँ भी न निकालें। 

Kolar News

Kolar News 12 August 2020

भोपाल। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के अंतर्गत मंगलवार को अर्थव्यवस्था और रोजगार विषय पर आयोजित वेबिनार में केन्द्रीय उड्डन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा है कि शिवराज जी के नेतृत्व में मध्यप्रदेश में कृषि के क्षेत्र में जो प्रगति हुई है, उससे अन्य राज्य भी प्रेरणा लेते हैं।    आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप निर्माण के लिए वेबिनार श्रृंखला के माध्यम से किए जा रहे मंथन के चौथे दिन मंगलवार को अर्थव्यवस्था एवं रोजगार विषय पर विशेष विशेषज्ञों द्वारा अपने विचार रखे गए। इस दौरान केन्द्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में मध्यप्रदेश में जो प्रगति शिवराज जी के नेतृत्व में हुई है, अन्य राज्य उससे प्रेरणा लेते हैं। जिस प्रकार सिंचाई की व्यवस्था मध्यप्रदेश में हुई है और किसान समृद्ध हुए हैं, वह अनुकरणीय है। हमें अपने भाग्य को अपने आप बनाना है। हमारे पास सभी तरह के साधन उपलब्ध होना चाहिए। इसी को आत्मनिर्भरता कहा जाता है। हमें देश के नजरिए से नहीं ग्लोबल लेवल पर कंपीटिटिव बनना है। प्रदेश और देश की कम्पनियां वैश्विक कम्पनियों से प्रतिस्पर्धा कर सकें। इनके उत्पाद ग्लोबल स्टैंडर्ड के हों, तो हम तेजी से आत्मनिर्भरता के लक्ष्य को प्राप्त कर सकेंगे।   इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वेबीनार का शुभारंभ करते हुए कहा कि कोरोना काल में हमने देखा कि यदि अर्थव्यवस्था का पहिया रुक जाए, तो चारों ओर हाहाकार मच जाता है। मध्यप्रदेश को भी काफी नुकसान हुआ, लेकिन हमने तय किया कि जनता की भलाई के कार्य नहीं रुकेंगे। हमें सुनिश्चित करना है कि नागरिकों की आजीविका कैसे सुरक्षित रहे। मैं मानता हूं कि जरूरी चीजों के लिए उधार लेकर उसकी पूर्ति की जाये, तो वह उचित है। बेहतर अर्थव्यवस्था और नागरिकों के रोजगार के लिए कुछ नया करना पड़े तो उसे करना चाहिए।    मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने मनरेगा के मध्यप्रदेश में बेहतर उपयोग किया। हमें पूंजी की उपलब्धता को बढ़ाने पर भी कार्य करना है। मुझे लगता है कि बच्चों को शिक्षा लेने के साथ ही काम करना भी सीखना चाहिए। हमने मध्यप्रदेश वापस आये श्रमिकों की स्किल मैपिंग की और रोजगार-सेतु बनाया। हमारे प्रदेश के हर क्षेत्र की कुछ न कुछ विशेषताएं हैं। महेश्वरी, चंदेरी साडिय़ां विश्व भर में प्रसिद्ध हैं। मालवा फेस नामक ब्रांड हमने बनाया और संतरे बाहर भेजे, तो उसका बहुत बढिय़ा दाम मिला। ऐसे प्रयासों के लिए विचार होना चाहिए। महिला स्वसहायता समूहों ने प्रदेश को बड़ी ताकत दी। पोषण आहार से लेकर पीपीई किट, सैनिटाइजर बनाने का अद्भुत काम किया। मेरी बहनें चमत्कार कर सकती हैं। इनकों हम सशक्त बनाएं, ये प्रदेश और देश को सशक्त बनाने का काम स्वयं कर देंगी। हम चाहते हैं कि प्रदेश के गाँव स्वावलंबी बनें। गाँव की ज़रूरत गाँव में ही पूरी हो, इसके लिए कदम उठाने होंगे। हमने मध्यप्रदेश में श्रम कानूनों में सुधार किए हैं। अर्थव्यवस्था एवं रोजगार विषय पर आयोजित इस वेबिनार में नीति आयोग के सदस्यों एवं विषय विशेषज्ञों के साथ भाग लिया।  

Kolar News

Kolar News 11 August 2020

इंदौर। मशहूर शायर डॉ. राहत इंदौरी का कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया। उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें मंगलवार को सुबह अरविंदो अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां शाम को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया।   इंदौर एमजीएम मेडिकल कॉलेज की सोमवार देर रात जारी की गई जांच रिपोर्ट में डॉ. राहत इंदौर भी संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद मंगलवार सुबह उन्हें अरविंदो अस्पताल में भर्ती किया गया। इसकी जानकारी उन्होंने खुद अपने ट्वीटर और फेसबुक अकाउंट पर भी दी थी। मंगलवार शाम को अचानक उन्हें दिल के दो दौरे पड़े और उन्होंने अस्पताल में ही अंतिम सांस ली। डाक्टरों के अनुसार उनके दोनों फेफड़ों में कोरोना का संक्रमण, किडनी में सूजन थी और सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। अरविंदों अस्पताल के चिकित्सकों ने उनके निधन की पुष्टि की है।   राहत इंदौर का जन्म एक जनवरी 1950 को इंदौर में हुआ था। उनके पिता रफ्तुल्लाह कुरैशी एक कपड़ा मिल में काम करते थे। शहर के नूतन विद्यालय में प्रारंभिक शिक्षा के बाद उनकी पढ़ाई आयके कॉलेज में हुई। भोपाल के बरकतुल्लाह विश्वविद्यालय से उर्दू में एमए करने के बाद राहत इंदौरी ने भोज मुक्त विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में पीएचडी की उपाधि हासिल की। उन्होंने अपनी शायरी से दुनिया में अपनी पहचान बनाई। उन्होंने फिल्मों में गीत भी लिखे। अपनी शायरी के लिए राहत इंदौरी का नाम पूरी दुनिया में मशहूर हैं। इंदौर का नाम पूरी दुनिया में रोशन करने वाला यह शायर कोरोना वायरस संक्रमण से हार गया। 

Kolar News

Kolar News 11 August 2020

भोपाल। ग्वालियर अंचल के वरिष्ठ कांग्रेस नेता और मप्र कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष बृजमोहन सिंह परिहार का मंगलवार तडक़े दिल्ली के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वे कोरोना से संक्रमित हो गए थे। उनके निधन की खबर से कांग्रेस और उनके समर्थकों में शोक की लहर दौड़ गई है।   कांग्रेस नेता बृजमोहर सिंह परिहार पिछले कुछ दिनों से बीमार थे। इस दौरान वे कोरोना पॉजिटिव हो गए। उन्हें ईलाज के लिए ग्वालियर के सिम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां ज्यादा तबीयत खराब होने के बाद उन्हें गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां मंगलवार सुबह करीब 5 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। परिहार युवावस्था से ही कांग्रेस के खाँटी नेता रहे। छात्र जीवन से ही वे एनएसयूआई, फिर युवक कांग्रेस और कांग्रेस में अनेक पदों पर रहे। उनकी गिनती दिग्विजय सिंह के करीबियों में होती थी। स्व परिहार की पत्नी रश्मि परिहार भी कांग्रेस की प्रमुख नेता हैं। वे कांग्रेस और महिला कांग्रेस में अनेक महत्वपूर्ण पदों पर रह चुकी हैं और एक बार कांग्रेस ने विधानसभा चुनावों में उन्हें प्रत्याशी भी बनाया था लेकिन वे मामूली अंतर से चुनाव हार गईं थीं। उनके परिवार में एक पुत्र और दो पुत्रियां हैं।   कमलनाथ ने जताया दुख प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष (पूर्व मुख्यमंत्री) कमलनाथ ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष वरिष्ठ कांग्रेस नेता बृजमोहन परिहार के दु:खद निधन पर अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने कहा बहुत ही दु:खद खबर है कि श्री परिहार का आज निधन हो गया, मैं उनके निधन से बहुत ही स्तब्ध और दु:खी हूं। परमपिता परमेश्वर दिवंगत उनको अपने श्रीचरणों में स्थान दे तथा शोकाकुल परिवार को इस दु:ख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें, यही मेरी ईश्वर से प्रार्थना है।   प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारियों ने भी शोक संवेदना व्यक्त कीबृजमोहन परिहार के असमयिक दुखद निधन पर प्रदेश कांगे्रस पदाधिकारीगण चंद्रप्रभाष शेखर, प्रकाश जैन, राजीव सिंह, जीतू पटवारी, नरेन्द्र सलूजा ,भूपेन्द्र गुप्ता ,मो. सलीम, राजकुमार पटेल, अभय दुबे, जे.पी. धनोपिया, रवि सक्सेना, विभा पटेल, दुर्गेश शर्मा सहित सभी पदाधिकारियों ने शोक संवेदना व्यक्त कर ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति की प्रार्थना की, ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान प्रदान करे।

Kolar News

Kolar News 11 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जिस तरह मध्यप्रदेश ने बीते वर्षों में बिजली, पानी और कृषि के क्षेत्र में विकास के नए रिकार्ड बनाए हैं, उसी तरह अब स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में श्रेष्ठ उपलब्धियां प्राप्त करने के प्रयास होंगे। यह बात मुख्यमंत्री ने सोमवार को आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप निर्माण के लिए वेबिनार श्रृंखला के माध्यम से किए जा रहे मंथन के तीसरे दिन स्वास्थ्य और शिक्षा वेबिनार का शुभारंभ करते हुए कही।    मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के निर्देशन में भारत की नई शिक्षा नीति के तीन प्रमुख उद्देश्यों ज्ञान-कौशल और संस्कार को प्राप्त करने के सोच से तैयार की गई है। मध्यप्रदेश इसका आदर्श तरीके से क्रियान्वयन करेगा। स्वास्थ्य क्षेत्र में भी आयुष्मान भारत योजना में नया सहारा दिया है। यह योजना मार्गदर्शक सिद्ध हो रही है। मध्यप्रदेश में दूरस्थ ग्रामीण अंचलों तक बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं पहुँचाने का कार्य किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि तकनीकि शिक्षा के क्षेत्र में प्रदेश में 600 करोड़ की लागत से सिंगापुर के सहयोग से ग्लोबल स्किल पार्क के विकास की योजना है। इसके क्रियान्वयन की गति बढ़ायी जाएगी।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि स्वास्थ्य और शिक्षा सहित अन्य क्षेत्रों में आत्मनिर्भरता की प्राप्ति के लिए नीति आयोग के निर्देशन में इस वेबिनार श्रृंखला के माध्यम से रोडमैप तैयार करने का महत्वपूर्ण कार्य हो रहा है। तीन वर्ष में विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लक्ष्यों को प्राप्त किया जाएगा।   केन्द्रीय मंत्री निशंक ने की वेबिनार आयोजन की प्रशंसा केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए वेबिनार का आयोजन प्रशंसनीय है। विचार-विमर्श से महत्वपूर्ण सुझाव मिलते हैं। भारत की नई शिक्षा नीति के लिए करीब सवा दो लाख सुझाव प्राप्त हुए। नई शिक्षा नीति में 10+2 के फार्मेट स्थान पर 5+3+3+4 फार्मेट लागू होगा। स्वतंत्र भारत के बाद हुए सबसे बड़े नवाचार में अनेक शिक्षाविद् और कुलपति आदि ने परामर्श देने का कार्य किया।    निशंक ने भारत की नई शिक्षा नीति की विशेषताओं का विस्तार से उल्लेख किया। निशंक ने बताया कि कक्षा छठवीं से विद्यार्थी व्यावसायिक शिक्षा से जुड़ जाएगा। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कोई बच्चा शिक्षा से नहीं छूटेगा। करीब ढाई करोड़ विद्यार्थी के ड्राप आउट को समाप्त करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि अब पहली से पांचवी कक्षा तक मातृभाषा का उपयोग किया जाएगा। विश्व के अनेक देशों में मातृभाषा को इस तरह का महत्व दिया गया है। भारत में पहली बार आठवीं अनुसूची में शामिल भारतीय भाषाओं को शिक्षा से जोड़ा गया है। केंद्रीय मंत्री निशंक मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री चौहान को आश्वस्त किया कि मध्यप्रदेश स्थित केंद्रीय संस्थानों को सक्षम बनाकर आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के टारगेट को पूरा करने में सहयोग दिया जाएगा।   वेबिनार में नीति आयोग के एडिशनल सेक्रेटरी डॉ. राकेश सारवाल ने प्रेजेन्टेशन के माध्यम से शिशु और मातृ मृत्यु दर की वर्तमान स्थिति पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि प्रदेश में करीब 88 प्रतिशत आधार कार्ड इनरोल है। सारवाल ने बताया कि प्रदेश में नागरिकों की आवश्यकता के अनुरूप डॉक्टरों की संख्या कम है। इसे बढ़ाये जाने की तत्काल आवश्यकता है। नीति आयोग के सारवाल ने माना कि मध्य प्रदेश में सरकारी क्षेत्र में मेडिकल कॉलेज की संख्या निरंतर बढ़ रही है। लेकिन इन सबके बावजूद प्रदेश मे प्रायवेट सेक्टर में मेडिकल कॉलेज शुरू किये जाने को प्रोत्साहित किये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने मेडिकल एजुकेशन की गुणवत्ता में और सुधार किये जाने की आवश्यकता बताई। एडिशनल सेक्रेटरी नीति आयोग ने बताया कि प्रदेश में चिकित्सा सुविधा को बढ़ाने में टेली मेडीसन मुख्य भूमिका हो सकती है। उद्घाटन सत्र के बाद वेबिनार में चार अलग उप समूह में चर्चा प्रारंभ हुई।   शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश सत्र के प्रारंभ में अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि शिक्षा और स्वास्थ्य नागरिकों की मूलभूत सुविधाओं में गिनी जाती है। आम जनता के मंशानुरूप इन सुविधाओं की गुणवत्ता में व्यापक सुधार हो। इसके लिये वेबिनार सत्र के पूर्व वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों ने आपसी विचार विमर्श के बाद लक्ष्य निर्धारित किये है। उन्होंने बताया कि इन दो विषयों पर व्यापक चर्चा के लिये आज देश भर के 83 सब्जेक्ट एक्सपर्ट से भी वेबिनार के माध्यम से सुझाव लिये जा रहें है। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि चर्चा के लिये चार उप समूह तैयार किये गये है। पहला समूह स्वास्थ्य, दूसरा समूह हायर एजुकेशन, तीसरा समूह स्कूल एजुकेशन और चौथा समूह कौशल विकास और टेक्नीकल एजुकेशन चर्चा करें। इसके साथ ही इन विषयों पर चर्चा में मंत्री परिषद के 13 सदस्य भी अपने महत्वपूर्ण सुझाव प्रस्तुत कर रहे है।    अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि जिन बिन्दुओं पर मुख्य रूप से चर्चा की जा रही है उनमें स्वास्थ्य के क्षेत्र में सुधार के लिये प्रायवेट सेक्टर की भागीदारी, तकनीकी शिक्षा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाई जाना, तकनीकी शिक्षा की भाषा का माध्यम क्या हो साथ ही प्रदेश में उच्च शिक्षा की गुणवत्ता में और कैसे सुधार हो, जैसे मुद्दो पर आपसी विचार विमर्श किया जाना है। उन्होंने बताया कि स्कूल शिक्षा में आवश्यकता के अनुसार शिक्षकों की पूर्ति कैसे पूरी हो। इस पर भी महत्वपूर्ण सुझाव लिये जा रहे है।

Kolar News

Kolar News 10 August 2020

भोपाल। कमलनाथ सरकार में मंत्री रहे कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की फोटो के साथ छेड़छाड़ के मामले मेें भाजपा ने एफआईआर दर्ज करवाई है। जीतू पटवारी के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने से कांग्रेस तिलमिला उठी है और एक के बाद एक कांग्रेस नेता इस पर आपत्ति जताते हुए भाजपा पर आरोप लगा रहे हैं। वहीं अब इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने भी तीखी प्रतिक्रिया दी है।    पूर्व सीएम कमलनाथ ने जीतू पटवारी के खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर पर अपना विरोध जताया है। उन्होंने ट्वीट कर इस मामले में भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कई गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि मैं पहले भी इस बात को कह चुका हूँ और आज फिर दोहरा रहा हूँ भाजपा प्रदेश में निरंतर ग़लत परंपराओ को जन्म दे रही है, राजनैतिक बदलेबाजी, दबाव -दुर्भावना की राजनीति व द्वेष भावना से काम कर रही है। भाजपा जनता का विश्वास खो चुकी है इसलिये बौखलाहट में यह सब कर रही है।   कमलनाथ ने कहा कि सरकारें आती जाती रहती है। हमारी भी प्रदेश में सरकार रही है लेकिन हमने कभी इस भावना से काम नहीं किया। हम भी यदि भाजपा की राह पर चलते तो आज कई भाजपाइयों पर इसी तरह से प्रकरण दर्ज हो चुके होते, लेकिन हम इस तरह की राजनैतिक द्वेष भावना में विश्वास नहीं करते है। कमलनाथ ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश भर में हमारे नेताओं, जनप्रतिनिधियों व कार्यकर्ताओं को चुन-चुन कर निशाना बनाया जा रहा है। सोशल मीडिया पर काम करने वाले हमारे लोगों को डराया, धमकाया जा रहा है, उन पर झूठे प्रकरण दर्ज किये जा रहे हैं।    कमलनाथ ने प्रदेशव्यापी आंदोलन की चेतावनी देते हुए कहा कि मैं भाजपा सरकार को खुली चेतावनी देता हूँ कि वो इस कुत्सित व घृणित राजनीति से बाज आये अन्यथा हमें सडक़ों पर उतरना पड़ेगा। भाजपा सरकार की इस दमनकारी सोच का मुँह तोड़ जवाब देना पड़ेगा। हम अन्याय बर्दाश्त नहीं करेंगे, हमने देश की आज़ादी की लड़ाई के लिये अंग्रेजो से संघर्ष किया है तो भाजपा क्या है ? भाजपा सरकार ने यदि इस तरह की द्वेष भावना की राजनीति बंद नहीं की तो हम इसके खिलाफ प्रदेशव्यापी आंदोलन करेंगे।

Kolar News

Kolar News 10 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को वीडियो कान्फ्रेंस से कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर संभागवार मृत्यु दर, उसके कारणों तथा बचाव की प्रभावी रणनीति पर विस्तार से विचार-विमर्श किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना पर जीत से कम कुछ नहीं चाहिए। प्रदेश में कोरोना की मृत्यु दर को न्यूनतम करने के लिए शासन, प्रशासन, चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टॉफ और जनसामान्य को साथ मिलकर काम करना होगा। कोरोना संभावित व्यक्तियों की जल्द पहचान तथा उन्हें तत्काल मेडिकल केयर उपलब्ध कराना ही बचाव एवं उपचार ही सर्वश्रेष्ठ उपाय है। इसके लिए प्रदेश में परीक्षण क्षमता बढ़ाना होगी। उन्होंने प्रदेश में प्रतिदिन 20 हजार टेस्ट की क्षमता विकसित करने के निर्देश दिए।मुख्यमंत्री ने जागरूकता अभियान को विस्तार देने,  घरेलू एकांतवास को प्रोत्साहित करने और प्लाज्मा थैरेपी को बढ़ावा देने की आवश्यकता बतायी। वीडियो कान्फ्रेंस में सभी संभागायुक्त सहित मेडिकल कॉलेज के डीन, चिकित्सा विशेषज्ञों ने भाग लिया।मुख्यमंत्री करेंगे प्लाज्मा डोनेटमुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वे भी कोरोना पॉजिटिव हो गये थे। उपचार के बाद पूर्ण स्वस्थ हैं। उनकी बॉडी में कोरोना के एंटीवायरस डेवलप हो गये होंगे। प्लाज्मा थेरेपी के लिये वे शीघ्र ही प्लाजमा डोनेट करेंगे।गंभीर मरीज अस्पताल में और सामान्य लक्षण वाले घरेलू एकांतवास में रहेंमुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना अब शहरों से कस्बों और कस्बों से गाँवों की ओर फैल रहा है। अत: इससे बचाव के लिए आवश्यक सावधानियों पर जागरूकता अभियान चलाना होगा। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह को नगरीय क्षेत्रों में मास्क के उपयोग तथा सामाजिक दूरी पर जागरूकता तथा इनका पालन सुनिश्चित कराने के लिए विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज से लेकर जिला चिकित्सालयों तक की क्षमता में सुधार करना भी आवश्यक है। एम्बुलेंस सुविधा तथा गंभीर बीमारी से ग्रस्त व्यक्तियों को तत्काल चिकित्सालय तक पहुंचाने में विलंब न हो, इस तथ्य का विशेष ध्यान रखा जाए। कोरोना मरीजों के उपचार संबंधी प्रोटोकॉल तथा गाइडलाइन पर जिला अस्पतालों का प्रशिक्षण आवश्यक है, जिसमें मेडिकल कॉलेज तथा एम्स जैसी संस्थाओं को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। सीएम ने कहा कि अस्पतालों में गंभीर मरीजों का उपचार ठीक से हो, इसके लिए सामान्य लक्षण वाले मरीजों के घरेलू एकांतवास को प्रोत्साहित करना चाहिए। इसमें रियल टाइम मॉनीटरिंग सुनिश्चित करने के लिए एप तथा अन्य आवश्यक साधनों का उपयोग सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग बढ़ाने और मास्क का शत-प्रतिशत उपयोग सुनिश्चित कराने के निर्देश भी दिए।संभाग स्तर पर होगी मीडिया ब्रीफिंगमुख्यमंत्री ने कहा कि इस समीक्षा का उद्देश्य चिकित्सकों तथा पैरामेडिकल स्टॉफ की कमियां निकालना नहीं है। वे हमारे कोरोना वारियर हैं उनका मनोबल तथा उत्साह बनाए रखना आवश्यक हैं। शीघ्र ही कोरोना वारियर्स के सम्मान के लिए कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कोरोना की स्थिति पर वास्तविक जानकारी जनता तक पहुंचाने के उद्देश्य से संभाग स्तर पर मीडिया ब्रीफिंग आयोजित करने के निर्देश भी दिए। वीडियो कान्फ्रेंस में अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने जानकारी दी कि जनसामान्य में जागरूकता के लिए 15 अगस्त से 'सहयोग से सुरक्षा अभियान' आरंभ किया जाएगा।जनसामान्य को नकारात्मकता से बचाना आवश्यकमुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमणकाल में जनसामान्य को नकारात्मकता से बचाने की भी आवश्यकता है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि लोग और विशेषकर संक्रमण से प्रभावित व्यक्ति अवसाद में न जाए। इसके लिए अस्पतालों में मनोरंजन, इनडोर गेम्स, संगीत, टेलीविजन, ध्यान व योग और प्रेरणादायी उद्बोधन आदि की व्यवस्था की जाए।कॉल सेंटर बने मार्गदर्शन में सहायकवीडियो कान्फ्रेंस में हुई संभागवार समीक्षा में संभागायुक्त तथा संबंधित चिकित्सा महाविद्यालय के डीन ने भाग लिया। इंदौर में जागरूकता तथा सर्वेक्षण की सहायता से प्रारंभिक लक्षणों की पहचान कर तत्काल इलाज आरंभ करने की रणनीति से स्थिति को नियंत्रित करने में मदद मिली है। इसके साथ ही प्रशासन तथा चिकित्सकों द्वारा प्रतिदिन प्रशासनिक समीक्षा और क्लीनिकल तथ्यों के आधार पर स्थिति की समीक्षा की जा रही है। इसी प्रकार भोपाल, जबलपुर, सागर, रीवा, ग्वालियर मेडिकल कॉलेज द्वारा प्रस्तुतीकरण किया गया। वीडियो कान्फ्रेंस में एम्स भोपाल के निदेशक ने कोरोना संभावित और संक्रमित व्यक्तियों के मार्गदर्शन के लिए प्रभावी कॉल सेंटर व्यवस्था विकसित करने की आवश्यकता बतायी।कोरोना मरीजों को उपलब्ध हों मनोवैज्ञानिकों की सेवाएंचिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने घरेलू एकांतवास के संबंध में स्पष्ट गाइडलाइन जारी करने की आवश्यकता बतायी। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि जहाँ-जहाँ मनोवैज्ञानिक उपलब्ध हैं, वहां उनकी सेवाएं कोरोना मरीजों को उपलब्ध कराना सुनिश्चित की जाएं। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने बताया कि आज की चर्चा के निष्कर्षों के आधार पर कोरोना के मरीजों के बचाव एवं उपचार संबंधी बनाई गई विस्तृत एडवाइजरी एवं गाइड लाइन सभी जिलों को जारी की जाएगी। वीडियो कान्फ्रेंस में डॉ. निशांत खरे, डॉ. लोकेन्द्र दवे तथा अन्य चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा भी सुझाव रखे गये।कोरोना समीक्षा के मुख्य बिन्दु     डेथ ऑडिट के साथ-साथ ट्रीटमेंट ऑडिट सुनिश्चित होगा।     उपचार और व्यवस्था में सुधार की दृष्टि से गंभीर मरीजों की उपचार प्रक्रिया के अध्ययन के लिए विशेषज्ञ समूह का गठन।     जनसामान्य में जागरूकता बढ़ाने के साथ-साथ कोरोना के खतरों की जानकारी देने पर फोकस।     कोरोना के लक्षणों का लगातार विस्तार हो रहा है, तदनुसार उपचार रणनीति विकसित करना।     लक्षणों के परीक्षण के लिए निश्चित चेकलिस्ट विकसित करना तथा समय-समय इसे अद्यतन करना।     संक्रमण नियंत्रण प्रोटोकॉल की निरंतर समीक्षा।     चिकित्सकों तथा पैरामेडिकल स्टॉफ को संक्रमण से बचाने के लिए प्रभावी उपाय सुनिश्चित करना।     कोरोना वार्ड के अनुवीक्षण का दायित्व वरिष्ठ चिकित्सकों को सौंपा जाए।     गंभीर रूप से बीमार मरीजों के लिए चिकित्सकों की टीम आधारित एप्रोच क्रियान्वित हो।     कोरोना उपचार के अद्यतन प्रोटोकॉल के अनुसार पैरामेडिकल स्टॉफ का निरंतर प्रशिक्षण सुनिश्चित करना।     स्थानीय स्तर पर उपलब्ध चिकित्सकों तथा अन्य पैरोमेडिकल को कोरोना संक्रमण की पहचान प्रक्रिया से जोड़ना।     संभावित तथा संक्रमितों को कोविड केयर सेंटर तथा डेडिकेटेड सेंटर में रैफर करने के लिए सरल व सुविधाजनक प्रोटोकॉल  सुनिश्चित करना।     थर्मल गन, पल्स ऑक्सीमीटर तथा अन्य परीक्षण उपकरणों की व्यापक उपलब्धता सुनिश्चित करना।     मेडिकल कॉलेज तथा एम्स को जिला चिकित्सालयों की मेंटरिंग का दायित्व।     60 वर्ष से अधिक उम्र के अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रस्त मरीजों के चिन्हांकन के लिए विशेष व्यवस्था।

Kolar News

Kolar News 10 August 2020

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को ‘पीएम-किसान योजना’ के अंतर्गत देश के 8.5 करोड़ किसानों के खातों में 17,000 करोड़ रुपये सहायता राशि ट्रांसफर की और एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड के तहत एक लाख करोड़ रुपये की वित्तपोषण सुविधा की भी शुरुआत की। इस योजना को लेकर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में देश का किसान तेजी से आत्मनिर्भर बन रहा है। मोदी जी के सपनों के समर्थ और सशक्त भारत के निर्माण में मध्यप्रदेश अपना हरसंभव योगदान देने के लिए प्रतिबद्ध है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि - ‘देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र के नेतृत्व में केंद्र सरकार सभी आवश्यक कदम उठा रही है। लॉकडाउन में किसानों को लाभान्वित करने, आत्मनिर्भर कृषि बनाने व किसान बन्धुओं की आय दोगुना करने संबंधी अनेक कल्याणकारी निर्णय किये गए हैं। उन्होंने कहा कि पीएम फसल बीमा, किसान सम्मान निधि व राष्ट्रीय कृषि विकास जैसी योजनाओं से अन्नदाता सशक्त हो रहा है। ऐसे अभूतपूर्व प्रयासों के लिए प्रधानमंत्री जी का अभिनंदन।'   मुख्यमंत्री ने अगले ट्वीट में लिखा है कि -'डिजिटल रूप से देशभर की मंडियों में अब अपनी उपज उचित मूल्य पर किसान प्लेटफार्म का उपयोग करते हुए बेच सकेंगे। देश और मध्यप्रदेश के किसानों की ओर से इस ऐतिहासिक और कल्याणकारी कदम के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का अभिनंदन करता हूं।' उन्होंने अगले ट्वीट में कहा कि ‘प्रधानमंत्री मोदी जी के सपनों के समर्थ और सशक्त भारत के निर्माण में मध्यप्रदेश अपना हरसंभव योगदान देने के लिए प्रतिबद्ध है। आत्मनिर्भर कृषि के लक्ष्यों को आत्मसात कर मध्यप्रदेश आगे बढ़ेगा और अपने किसानों को समर्थ बनाकर इस पावन ध्येय को सफल बनाएगा।’   मध्यप्रदेश ने रचा कीर्तिमान, गेहूं उपार्जन में बना नंबर-1   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए बताया कि कोरोना संकट और लॉकडाउन के दौरान मध्यप्रदेश सरकार ने किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 129 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं की खरीदी कर देशभर में खरीदी का नया रिकार्ड कायम किया है। मध्यप्रदेश सरकार से किसानों को भरपूर सुविधा मिली है, जिससे अन्नदाता की हर दुविधा दूर हुई। कोरोना संकट और लॉकडाउन के दौरान मध्यप्रदेश सरकार ने किसानों को कृषि कार्य के लिए बिना ब्याज पर लिए फसल ऋण भुगतान की तारीख बढ़ाई, वर्ष 2020-21 में भी किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर ऋण मिल रहा है।   वहीं, कृषि मंत्री कमल पटेल ने ट्वीट के माध्यम से बताया है कि मध्यप्रदेश में खरीफ फसलों की बुआई का कार्य निर्धारित लक्ष्य की तुलना में 92.5 प्रतिशत पूरा हो चुका है। जिसमें प्रमुख फसलें धान 70.6 प्रतिशत, मक्का 100.9 प्रतिशत, सोयाबीन 100.7 प्रतिशत हैं। इस वर्ष मध्यप्रदेश में खरीफ फसलों की बुआई का लक्ष्य 146.31 लाख हेक्टेयर है जो कि पिछले वर्ष की तुलना में 25.32 लाख हेक्टेयर अधिक है। पिछले वर्ष खरीफ फसलों की बुआई का लक्ष्य 120.99 लाख हेक्टेयर निर्धारित किया गया था।

Kolar News

Kolar News 9 August 2020

भोपाल। वरिष्ठ कांग्रेस विधायक और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह अपनी बेबाक बयानों के लिए जाने जाते हैं। लक्ष्मण सिंह आए दिन अपनी पार्टी लाइन से हटकर बयान देते रहते हैं। रविवार को एक बार फिर उन्होंने ट्वीट कर भाजपा के साथ ही अपनी पार्टी के नेताओं पर भी निशाना साधा है।   दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और चाचौड़ा से विधायक लक्ष्मण सिंह ने बीजेपी पर और अपनी ही पार्टी के नेताओं पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्विटर के माध्यम से शुद्धिकरण अभियान पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए राजनेताओं के भी शुद्धिकरण को आवश्यक बताया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि "सूटकेस और लूटकेस" वाले नेताओं को राजनीति से जनता स्वयं हटाएगी। लक्ष्मण सिंह ने अपने ट्वीट में कहा "शुद्धिकरण"राजनेताओं का भी आवश्यक है,"सूटकेस और लूटकेस"वाले राजनेताओं को अब जनता स्वयं घर बैठा देगी। गौरतलब है कि यह पहला मौका नहीं है जब लक्ष्मण सिंह ने इस तरह के सवाल उठाए है, इससे पहले भी कई बार वे अपनी ही पार्टी की कार्यप्रणाली और रणनीति को लेकर पार्टी के खिलाफ ही बयान दे चुके हैं।

Kolar News

Kolar News 9 August 2020

भोपाल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत शनिवार को देर रात भोपाल पहुंचे। वे यहां दो दिवसीय प्रवास पर आए हैं। भोपाल में वे क्षेत्र के प्रमुख कार्यकर्ताओं के साथ व्यक्तिगत संवाद करेंगे तथा कोरोना संकट में स्वयंसेवकों द्वारा किये गए सेवा कार्यों की समीक्षा करेंगे। साथ ही भविष्य के सेवा कार्यों की योजना पर भी विस्तृत चर्चा होगी।    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत नागपुर से शनिवार देर रात ट्रेन से भोपाल पहुंचे हैं। यहां वे संघ कार्यालय समिधा में ठहरे हैं। डॉ. भागवत यहां राष्ट्रीय मजदूर संघ के कार्यालय ठेंगड़ी भवन में रविवार को मध्यभारत व मालवा प्रांत के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के साथ होने वाली बैठक में भाग लेंगे।   मध्यभारत प्रांत के प्रचार प्रमुख ओमप्रकाश सिसोदिया ने बताया कि कोरोना काल में मध्यभारत प्रांत में संघ, सेवा भारती व समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से व्यापक सेवा कार्य किये गए हैं। कोरोना संक्रमण के समय जब अस्पतालों में भर्ती मरीजों को रक्त की आवश्यकता हुई तो संघ के स्वयंसेवकों ने बढ़-चढ़ कर रक्तदान किया। मध्यभारत प्रांत में मेडिकल इमरजेंसी की स्थिति में 1173 स्वयंसेवकों ने लोगों का जीवन बचाने के लिये रक्तदान किया। इस मुश्किल समय में जब हम सब समाज की सुरक्षा के लिए अपने घरों में थे तब कोरोना वारियर्स अपने प्राणों की चिंता किये बगैर सेवा कार्यों में लगे थे।    उन्होंने बताया कि डॉ. मोहन भागवत रविवार को संघ की महत्पूर्व बैठक में शामिल होकर स्वयंसेवकों द्वारा किये गये सेवा कार्यों की समीक्षा करेंगे। विभिन्न सत्रों में आयोजित इस बैठक में देश के आर्थिक हालातों के साथ-साथ अन्य मुद्दों पर भी चर्चा होगी। इस बैठक में आगामी चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए सेवा के नए कार्यों पर सरसंघचालक जी का मार्गदर्शन प्राप्त होगा।

Kolar News

Kolar News 9 August 2020

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बिना लक्षण वाले ऐसे मरीज जिनके घर में इसके लिए व्यवस्था है तथा जो घर पर ही रहना चाहते हैं, उनके 'होम आइसोलेशन' के दौरान उनके उपचार एवं देखभाल की मॉनीटरिंग की अच्छी व्यवस्था बनाएं। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग गाइड लाइन तैयार कर प्रत्येक जिले को भिजवाए। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री चौहान ने शनिवार को वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति और व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कही। वीडियो कान्फ्रेंस में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, डीजीपी विवेक जौहरी तथा अन्य अधिकारियों ने भाग लिया।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि चूंकि अब कस्बों एवं गांवों में भी कोरोना संक्रमण हो रहा है अत: जिलों की ही तरह सब डिविजन स्तर पर भी क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप बनाए जाएं, जो वहां की परिस्थितियों के अनुरूप कोरोना नियंत्रण का कार्य करें। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने बताया कि इस संबंध में जिलों को ‍विस्तृत निर्देश जारी कर दिए हैं।   टेस्ट बढ़ाए जाएं कटनी जिले की समीक्षा के दौरान पाया गया कि गत 7 दिनों में वहां पॉजिटिविटी दर 7.36 प्रतिशत आई है। जिले में वर्तमान में 221 पॉजीटिव व 77 एक्टिव मरीज हैं, 139 स्वस्थ होकर घर गए है तथा 5 मृत्यु हैं। जिले में टेस्टिंग कम है। मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि जिलें में टेस्टिंग बढ़ाई जाए तथा पूरी सर्तकता के साथ काम किया जाए।   अन्य राज्यों से आने वालों की स्क्रीनिंग अनिवार्य सिंगरौली जिले की समीक्षा में पाया गया कि वहां गत 7 दिन में कोरोना के 91 नए प्रकरण आए हैं। जिला जेल में 27 प्रकरण आए हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि यह सुनिश्चित किया जाए कि बिना स्वास्थ्य जाँच के कोई भी व्यक्ति जिले में न आए। जेल में भी क्वारेंटाइन हैल्थ स्क्रीनिंग आदि की समुचित व्यवस्था हो।    क्वारेंटाइन की गाइडलाइन फिर से जारी करें मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए हे कि 'क्वारेंटाइन' एवं 'आइसोलेशन' किए जाने के संबंध में जिलों को गाइडलाइन दोबारा जारी करें। एसीएस हैल्थ ने बताया कि जो मरीज कोविड पॉजीटिव हैं, उनका परिस्थिति अनुसार 'होम आइसोलेशन' किया जा सकता है तथा जो संदिग्ध हैं, उनका 'होम आइसोलेशन' अथवा 'संस्थागत क्वारेंटाइन' किया जा सकता है।   इन 5 जिलों में सर्वाधिक नए मरीज जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर, भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर और मुरैना में सर्वाधिक क्रमश: 184,138,61,35 तथा 32 कोरोना प्रकरण पाए गए हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने इन सभी जिलों में विशेष ध्यान रखे जाने के निर्देश दिए।   प्रदेश में 1185 मरीज 'होम आइसोलेशन' में अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि प्रदेश में बिना लक्षण वाले 1185 कोरोना मरीजों को 'होम आइसोलेशन' में रखा गया है, इनमें से मुख्यरूप से इंदौर में 492, जबलपुर में 326, ग्वालियर में 113, भोपाल में 47 तथा शिवपुरी में 42 मरीजों को 'होम आइसोलेशन' में रखा गया है।   सतना एवं झाबुआ भी विशेष ध्यान दें सतना एवं झाबुआ जिले की समीक्षा में वहां पॉजिटिविटी रेट अधिक पाए जाने पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश मुख्यमंत्री चौहान ने दिए। झाबुआ जिले को टेस्टिंग बढ़ाए जाने के निर्देश दिए गए। वहां प्रति व्यक्ति 10 लाख टेस्टिंग 2 से 2.5 हजार है, जो कि काफी कम है।

Kolar News

Kolar News 8 August 2020

भोपाल। राज्य शासन के गृह विभाग द्वारा आगामी स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम, धार्मिक कार्य त्यौहार एवं उपासना स्थलों पर कोविड-19 से बचाव को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं। गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव एसएन मिश्रा ने शनिवार को प्रदेश के सभी कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी को इस संबंध में आदेश दिये गये हैं।   जारी आदेश के अनुसार, कोई भी कोई भी धार्मिक कार्य त्यौहार का आयोजन सार्वजनिक स्थलों पर नहीं किया जाएगा, न ही कोई धार्मिक जुलूस या रैली निकाली जाएगी, साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर किसी प्रकार की मूर्ति झांकी एवं ताजिए स्थापित नहीं किया जाएंगे। लोग अपने-अपने घरों में पूजा-उपासना करेंगे।   आदेश में कहा गया है कि धार्मिक उपासना स्थलों पर कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिए आवश्यक है कि एक समय में 5 से अधिक व्यक्ति इकट्ठे न हों, साथ ही उपासना स्थलों पर फेस कवर एवं सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का कड़ाई से पालन किया जाना सुनिश्चित करें। आगामी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर प्रशासन द्वारा प्रसारित निर्देशों के अनुरूप आयोजित किए जाएं, निजी तौर पर आयोजित किए जाने वाले समारोह में 5 से अधिक व्यक्ति इकट्ठे न हों, साथ ही फेस कवर एवं सामाजिक दूरी के मानकों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें।   आदेश में कहा गया है कि माह अगस्त 2020 में जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी एवं मोहर्रम के त्योहारों को देखते हुए सभी जिलों में डिस्ट्रिक्ट क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक आगामी तीन दिवस में निर्देशों से सर्वसंबंधित एवं धार्मिक संप्रदाय से जुड़े लोगों को अवगत कराया जाएगा। निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाए।

Kolar News

Kolar News 8 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिका और बाल शिक्षा केंद्र की महिलाओं को ड्रेस कोड को लेकर सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिका और बाल शिक्षा केंद्र की महिलाओं को ड्रेस कोड साड़ी खरीदने के लिए सरकार खातों में पैसा जमा करेगी। इसके लिए महिला एवं बाल विकास संचालक विभाग ने पहले से ही बजट में 16 करोड़ 2 लाख रुपये आवंटित किए हैं।   राज्य के प्रत्येक आंगनबाड़ी कार्यकत्री, सहायिका और बाल शिक्षा केंद्र की महिलाओं के खाते में साड़ी खरीदने के लिए सरकार द्वारा 800 रुपये भेजे जाएंगे। नियम के मुताबिक आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को क्रीम बॉर्डर वाली लाल रंग की साड़ी, जबकि सहायिकाओं को क्रीम बॉर्डर वाली हरे रंग की साड़ी खरीदनी होगी। इससे पहले आंगनबाड़ी महिला कार्यकर्ताओं की साड़ी का रंग गुलाबी होता था, जिसे इस बार बदला जा रहा है। पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार के दौरान साड़ी का रंग तय नहीं होने के कारण पूरा मामला अटक गया था। हालांकि बाद में कमलनाथ सरकार ने साड़ी खरीदने के लिए सूरत की एक कंपनी को थोक में खरीदने का प्रस्ताव दिया था, जिसे शिवराज सरकार ने खारिज कर दिया है।

Kolar News

Kolar News 8 August 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य के प्रसिद्ध बासमती चावल को भौगोलिक संकेत टैग (जीआई टैगिंग) दिलाने के प्रयासों के बीच पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने की निंदा की है। साथ ही उन्होंने कहा है कि उनका यह कदम राजनीति से प्रेरित है। इस संबंध में उन्होंने गुरुवार को प्रधानमंत्री को एक पत्र भी लिखा है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को मीडिया को जारी अपने बयान में कहा है कि 'मैं पंजाब की कांग्रेस सरकार द्वारा मध्यप्रदेश के बासमती चावल को जीआई टैगिंग देने के मामले में प्रधानमंत्री जी को लिखे पत्र की निंदा करता हूँ और इसे राजनीति से प्रेरित मानता हूँ। मैं पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से यह पूछना चाहता हूँ कि आखिर उनकी मध्यप्रदेश के किसान बन्धुओं से क्या दुश्मनी है? यह मध्यप्रदेश या पंजाब का मामला नहीं, पूरे देश के किसान और उनकी आजीविका का विषय है।   मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस संदर्भ में पत्र लिखा है। उन्होंने मध्यप्रदेश के बासमती चावल के एतिहासिक संदर्भ का उल्लेख करते हुए प्रदेश के किसानों एवं बासमती चावल आधारित उद्योगों को प्रोत्साहित करने के लिये प्रदेश के बासमती चावल को जी.आई. दर्जा प्रदान करने का अनुरोध किया है।   मध्यप्रदेश के निर्यात होने वाले प्रसिद्ध बासमती चावल को जीआई टैग दिलाने के राज्य के प्रयासों के बीच पंजाब के मुख्यमंत्री ने कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनसे इस संबंध में हस्तक्षेप की मांग की है। पत्र में दावा किया गया है कि ऐसा हो जाने पर पंजाब और अन्य राज्यों के हित प्रभावित होंगे, जिनके बासमती चावल को पहले से ही 'जीआई टैग' हासिल है। पत्र में यह भी कहा गया है कि ऐसा होने पर पाकिस्तान को भी लाभ मिल सकता है।   मुख्यमंत्री ने कहा है कि पाकिस्तान के साथ कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपेडा) के मामले का मध्यप्रदेश के दावों से कोई संबंध नहीं है। क्योंकि यह भारत के जीआई एक्ट के तहत आता है और इसका बासमती चावल के अंतर्देशीय दावों से कोई जुड़ाव नहीं है। पंजाब और हरियाणा के बासमती निर्यातक मध्यप्रदेश से बासमती चावल खरीद रहे हैं। केंद्र सरकार के निर्यात के आकड़े इस बात की पुष्टि करते हैं। केंद्र सरकार वर्ष 1999 से मध्यप्रदेश को बासमती चावल के 'ब्रीडर बीज' की आपूर्ति कर रही है।   मुख्यमंत्री ने कहा कि तत्कालीन 'सिंधिया स्टेट' के रिकॉर्ड में अंकित है कि वर्ष 1944 में प्रदेश के किसानों को बीज की आपूर्ति की गई थी। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ राइस रिसर्च, हैदराबाद ने अपनी 'उत्पादन उन्मुख सर्वेक्षण रिपोर्ट' में दर्ज किया है कि मध्यप्रदेश में पिछले 25 वर्ष से बासमती चावल का उत्पादन किया जा रहा है। मध्यप्रदेश को मिलने वाले जीआई टैगिंग से अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भारत के बासमती चावल की कीमतों को स्थिरता मिलेगी और देश के निर्यात को बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया है कि मध्यप्रदेश के 13 जिलों में वर्ष 1908 से बासमती चावल का उत्पादन हो रहा है और इसका लिखित इतिहास भी है। मध्यप्रदेश का बासमती चावल अत्यंत स्वादिष्ट माना जाता है और अपने जायके और खुशबू के लिए यह देश विदेश में प्रसिद्ध है।   मुख्यमंत्र् ने बताया कि मध्यप्रदेश में बासमती की खेती परम्परागत रूप से होने के संबंध में आईआईआरआर हैदराबाद एवं अन्य विशेषज्ञ संस्थानों द्वारा प्रतिवेदित किया गया है। इस प्रतिवेदन की प्रति केन्द्रीय कृषि मंत्री को इस संदर्भ में पृथक से भेजी गयी है। प्रदेश में उत्पादित बासमती चावल को जीआई सुविधा देने के लिये दिये गये अभ्यावेदन के परीक्षण के लिये उच्च स्तरीय समिति गठित की गई है और प्रकरण अभी समिति के समक्ष निराकरण हेतु लंबित है।

Kolar News

Kolar News 6 August 2020

भोपाल। दिग्गज भाजपा नेत्री और पूर्व विदेश मंत्री स्वर्गीय सुषमा स्वराज की आज गुरुवार को प्रथम पुण्यतिथि है। आज से ठीक एक साल पहले 6 अगस्त 2019 को उनका देहांत हो गया था। राजनीति में सुषमा स्वराज एक ऐसा नाम था, जिसे कभी नहीं भुलाया जा सकता। हाजिर जवाब, अपनी रणनीति और लोगों की मदद के लिए हमेशा खड़ी रहने वालीं सुषमा स्वराज की पुण्यतिथि के मौके पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है। उनके उन साहसी कार्यों को याद कर रहा है, जो उन्होंने विदेश मंत्री के तौर पर लोगों की मदद करके किए। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी सुषमा स्वराज को पुण्यतिथि पर याद कर भावुक हो गए।   अपने मृदुभाषी स्वभाव के लिए प्रसिद्ध सुषमा स्वराज को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी बहन की तरह सम्मान देते थे। विदिशा संसदीय सीट से दो बार सांसद रही सुषमा स्वराज का मध्यप्रदेश से खास रिश्ता भी रहा। ऐसे में सुषमा स्वराज की पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए सीएम शिवराज भावुक हो गए। उन्होंने सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देते हुए कहा ‘आज बहन सुषमा स्वराज जी की पुण्यतिथि है। हमें छोडक़र गये उन्हें एक साल बीत गया हैं, लेकिन लगता है कि जैसे कल की ही बात है। ऐसा लग रहा है कि वे अचानक मेरे सामने आयेंगी और मुझे स्नेह से डांटेंगी कि इतना काम मत करो। तबीयत खराब हो जायेगी, जैसा वे मुझे डांटते हुए अक्सर कहा करती थीं।   एक अन्य ट्वीट कर विदेश मंत्री रहते हुए सुषमा स्वराज के अभूतपूर्व कार्यों को याद करते हुए सीएम शिवराज ने कहा ‘विदेश मंत्री रहते हुए दीदी ने यमन में फंसे भारतीयों के साथ विदेशी नागरिकों को भी उनके घर पहुंचाने का मानवीय कार्य किया। किसी ने ट्विटर पर भी मदद मांगी तो, दीदी ने उन्हें निराश नहीं होने दिया। आउटस्टैंडिंग पार्लियामेंटेरियन अवॉर्ड उनके ऐसे ही अनूठे कार्यों का सम्मान है।   उन्होंने कहा कि सात बार की सांसद और दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री रहीं दीदी सुषमा जी जब भी बोलती थीं, लगता था कि माता सरस्वती उनकी जिह्वा पर विराजमान हैं। आज भी उनके बोले शब्द कानों में गूंजते हैं। मैं, विदिशा, मध्यप्रदेश और यह देश उन्हें अनंत काल तक न भुला सकेगा। सादर नमन, श्रद्धांजलि!

Kolar News

Kolar News 6 August 2020

भोपाल। शिवपुरी जिले के पिछोर तहसील मुख्यालय स्थित बस स्टैंड पर लगी डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा ख्ंाडित होनेे के बाद अब इस पर राजनीति शुरू हो गई है। बसपा नेताओं ने गुरुवार सुबह ही इस नाराजगी जताते हुए कलेक्टर के नाम स्थानीय तहसील कार्यालय में एक ज्ञापन सौंपा। वरिष्ठ भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मामले की निंदा कर जिला प्रशासन को कार्रवाई के निर्देश दे चुके हैं। वहीं अब इस मामले में कांग्रेस भी कूद गई है। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने घटनाक्रम को शर्मनाक बताते हुए दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर घटना पर कड़ी निंदा जताई है, साथ ही भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि शिवपुरी के पिछोर नगर में बाबा साहेब डॉ.भीमराव आम्बेडकर की प्रतिमा खंडित किये जाने की जानकारी मिली है। जब से प्रदेश में शिवराज सरकार आयी है, प्रदेश में अनुसूचित जनजाति व अनुसूचित जाति वर्ग के उत्पीडऩ की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है।   कमलनाथ ने एक अन्य ट्वीट कर घटना को निंदनीय बताते हुए कहा पिछोर नगर की यह घटना बेहद निंदनीय है। ऐसा कृत्य कर क्षेत्र का माहौल खऱाब करने का प्रयास किया जा रहा है। मैं सरकार से माँग करता हूँ कि तत्काल इसके दोषियों को चिन्हित कर उन पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो। बाबा साहेब की प्रतिमा को वापस पुराने स्वरुप में ससम्मान स्थापित किया जाए व प्रतिमा की सुरक्षा के सभी इंतज़ाम किये जाये।

Kolar News

Kolar News 6 August 2020

अयोध्या। अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां अभिजीत मुहूर्त में भूमिपूजन किया। यह मुहूर्त कुल 32 सेकंड का रहा। षोडश वरदानुसार 15 वरद में ग्रह स्थितियों का संचरण शुभ और अनुकूलता प्रदान करने वाला है।प्रधानमंत्री ने आयोजन स्थल पर पहुंचने पर सभी विशिष्ट आमंत्रित अतिथियों का हाथ जोड़कर अभिवादन किया। इस दौरान सामाजिक दूरी का पूरी तरह से पालन किया गया। भूमिपूजन स्थल पर प्रधानमंत्री और सभी आचार्यों के आसन के बीच दूरी का खास ध्यान रखा गया।    मंत्रोच्चार के बीच प्रधानमंत्री पूर्व की दिशा में मुख कर पूजन में शामिल हुए। उन्होंने विधिवत पूजन प्रक्रिया का पालन किया। यजमान के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी को संकल्प दिलाया गया। भगवान श्री गणेश की स्तुति के साथ प्रधानमंत्री ने आचमन किया। इस दौरान सभी देवताओं का ध्यान किया गया। पांच सौ वर्षों बाद इस शुभ घड़ी के लिए धन्यवाद किया गया।जिस स्थल पर रामलला विराजमान थे उसी स्थल पर शिलाओं का पूजन किया गया। भूमिपूजन स्थल पर राम मन्दिर आन्दोलन से जुड़े भक्तों की ओर से भेजी गई नौ शिलाएं रखी हुई थीं। प्रधानमंत्री ने पहले प्रधान शिलापूजन संकल्प होने के बाद अष्ट उपशिला का पूजन किया। प्रभु श्रीराम की कुलदेवी के पूजन के साथ ही सभी देवियों का पूजन किया गया। प्रधामनंत्री ने मुख्य कूर्म शिला का पूजन किया। इसके बाद कूर्म शिला पर पंचधातु जड़ित कमलपुष्प अर्पण किया।भूमिपूजन के दौरान राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने भी अपनी ओर से भेंट समर्पित ​की। इस दौरान श्री राम जन्म्भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारी मौजूद रहे।     अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां रामलला प्रांगण में भगवान रामलला विराजमान का दर्शन-पूजन किया। वह रामलला प्रांगण में भगवान श्रीराम और हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं। प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इस दौरान मौजूद रहे।प्रधानमंत्री ने रामलला को साष्टांग प्रणाम किया। इसके बाद उन्होंने भगवान को माला अर्पण की और उनकी आरती की। इस दौरान आचार्य मंत्रोच्चार करते रहे। दर्शन के बाद प्रधानमंत्री ने रामलला की प्रक्रिमा की। इसके बाद प्रधानमंत्री ने पारिजात का पौधा भी लगाया।    रामलला के पूजन के लिए प्रधानमंत्री को पूजा की थाल दी गई। कोरोना के मद्देनजर पूजन को लेकर कई प्रकार की सुरक्षा व सतर्कता बरती गई। भूमि पूजन के दिन रामलला को नवरत्न जड़ित वस्त्र पहनाये गए हैं। इसमें उनकी सुन्दरता देखते ही बन रही है। इससे पहले प्रधानमंत्री ने हनुमानगढ़ी में दर्शन पूजन और आरती की और उनकी आज्ञा की।

Kolar News

Kolar News 5 August 2020

भोपाल।  भगवान राम की जन्मभूमि अयोध्या में बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए आधारशिला रखी जाएगी। मप्र की पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेत्री उमा भारती भी राम मंदिर भूमिपूजन में शामिल होंगी। इसके लिए उन्हें रामजन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ अधिकारी ने शिलान्यास स्थली पर उपस्थित रहने का निर्देश दिया है। यह जानकारी उन्होंने स्वयं सोशल मीडिया के माध्यम से दी है।   वरिष्ठ भाजपा नेत्री उमा भारती ने बुधवार सुबह ट्वीट करते हुए कहा है कि -‘मैं मर्यादा पुरुषोत्तम राम की मर्यादा से बँधी हूँ। मुझे रामजन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ अधिकारी ने शिलान्यास स्थली पर उपस्थित रहने का निर्देश दिया है। इसलिये मैं इस कार्यक्रम में उपस्थित रहूँगी।’   बता दें कि केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के कोरोना संक्रमित होने के बाद उन्होंने मंगलवार को कहा था कि वे राममंदिर शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगी। वे प्रधानमंत्री नरेन्दर मोदी के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं, इसलिए इस दौरान सरजू के तट पर निवास करेंगी और शिलान्यास के बाद वे रामलला के दर्शन करेंगी। अब उन्होंने शिलान्यास कार्यक्रम में शामिल होने की बात कही है।

Kolar News

Kolar News 5 August 2020

भोपाल। अयोध्या में आज बुधवार को बहुप्रतिक्षित राम मंदिर का शिलान्यास होने जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंदिर का शिलान्यास करेंगे, इसके लिए वो अयोध्या के लिए रवाना हो गए हैं। पूरा देश इस खास दिन को उत्सव की तरह मना रहा है। देश भर में इस शुभ घड़ी पर लोग अपने घरों में विभिन्न आयोजन कर रहे हैं। भाजपा नेता और कार्यकर्ता भी अपने घरों से ही पूजा पाठ कर मना रहे हैं। वहीं कांग्रेस के राज्यसभा सांसद और पूर्व सीएम दिग्विजय अब भी राम मंदिर मुहूर्त का राग अलाप रहे हैं। बुधवार को एक बार फिर उन्होंने ट्वीट कर मुहूर्त को अशुभ बताते हुए भगवान क्षमा प्रार्थना की है।   दिग्विजय सिंह भूमिपूजन के मुहूर्त को अशुभ बता रहे हैं। बीते पांच दिनों में दिग्विजय सिंह ने इस मुद्दे को लेकर कई ट्वीट किए। बुधवार को भी भूमि पूजन से पहले उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि - आज अयोध्या जी में भगवान रामलला के मंदिर का "शिलान्यास" वेद द्वारा स्थापित ज्योतिष शास्त्र की स्थापित मान्यताओं के विपरीत हो रहा है, हे प्रभु हमें क्षमा करना। यह निर्माण निर्विघ्न रूप से पूरा हो यही हमारी आप से प्रार्थना है। जय सिया राम। गौरतलब है कि इससे पहले भी दिग्विजय सिंह मुहूर्त को अशुभ बताते हुए पीएम मोदी पर अपनी सुविधा अनुसार शिलान्यास करने का आरोप लगा चुके है। इतना ही नही दिग्विजय सिंह ने यह तक कह दिया कि अशुभ मुहूर्त के कारण राम मंदिर के पुजारी समेत गृहमंत्री अमित शाह और अन्य भाजपा नेता बीमार हो रहे हैं और कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं। 

Kolar News

Kolar News 5 August 2020

भोपाल। देशभर में राम मंदिर शिलान्यास की तारीख सामने आने के बाद खुशी का माहौल है। एक दिन बाद शिलान्यास का शुभ मुहूर्त है, इस खुशी के मौके पर पूरी अयोध्या को भगवा रंग में रंग दिया गया है। वहीं राम मंदिर शिलान्यास पर मप्र में राजनीति भी जमकर हो रही है। कांग्रेस में भी अब खुद को राम भक्त साबति करने की होड़ मच गई है। पूर्व सीएम कमलनाथ पहले ही वीडियो जारी कर राम में खुद की आस्था जाहिर कर चुके हैं। लेकिन अब उनका नया रुप सामने आया है। कमलनाथ भी अब पूरी तरह से भगवा रंग में रंग चुके हैं।   मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ भगवा रंग में रंग चुके हैं। उन्होंने अपना ट्विटर हैंडल भगवा रंग में रंग चुका है। ट्विटर के कवर पिक्चर और पोफाइल पिक में पूर्व सीएम भगवा वस्त्र धारण किए नजर आ रहे हैं। ट्विटर प्रोफाइल पिक में पूर्व सीएम हनुमान जी की तस्वीर के साथ भगवा वस्त्र पहने नजर आ रहे हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि श्री राम के हनुमान कल्याण करो। कमलनाथ अपने निवास में आज हनुमान चालीसा का पाठ करवा रहे हैं। वहीं भाजपा युवा मोर्चा ने घर-घर भगवा फहराने के साथ राम मंदिरों में दीप जलाकर आतिशबाजी करने का ऐलान किया है। कांग्रेसी भी इस खुशी में शामिल हैं।

Kolar News

Kolar News 4 August 2020

भोपाल, 04 अगस्त (हि.स.)। मध्य प्रदेश की राजनीति में इन दिनों उपचुनाव की बजाय राम नाम गूंज रहा है। पांच अगस्त को राम मंदिर शिलान्यास से पहले अब कांग्रेस भी खुद को राम भक्त साबित करने मेें जुट गई है। इसके लिए पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ राम मंदिर में आस्था जता चुके हैं और आज मंगलवार को हनुमान पाठ का आयोजन किया है। वहीं दूसरी तरफ पिछले कई दिनों से पूर्व सीएम और कांग्रेस राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह मंदिर शिलान्यास के मुहूर्त को लेकर सवाल उठा रहे हैं। जिस पर खूब राजनीति हो रही है।   दिग्विजय सिंह लगातार ट्वीट कर राम मंदिर शिलान्यास के मुहूर्त पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने तो यहां तक का दिया कि अशुभ मुहूर्त के कारण राम मंदिर के पुजारी और देश के गृहमंत्री अमित शाह समेत भाजपा नेता बीमार हो रहे हैं और कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। दिग्विजय सिंह लगातार ट्वीट कर निशाना साध रहे हैं। वहीं अब इस ट्वीट वार में प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी एंट्री कर ली है। उन्होंने ट्वीट कर दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए कहा है कि ज्योतिषाचार्य दिग्विजय सिंह यह भी बता दे कि अगले मुहूर्त में कौन सा कांग्रेस नेता पार्टी छोडऩे वाला है। मंत्री मिश्रा ने अपने ट्वीट में कहा ‘करोड़ों राम भक्तों की आस्था से खेलने के बजाय ज्योतिषाचार्य दिग्विजय सिंह जी को कुछ और शुभ मुहूर्त निकालने के सुझाव... -अगला कौन नेता हताश होकर कांग्रेस छोड़ेगा ?- पार्टी का अगला अध्यक्ष कौन होगा ?- वो खुद किस मुहूर्त में पार्टी छोड़ेंगे ?

Kolar News

Kolar News 4 August 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेत्री उमा भारती पांच अगस्त को अयोध्या में होने जा रहे राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगी। इसके लिए उन्होंने राम जन्म भूमि न्यास के वरिष्ठ अधिकारी और प्रधानमंत्री कार्यालय को सूचना भेज दी है। वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लेकर चिंतित हैं। यह जानकारी उन्होंने ट्वीट के माध्यम से मीडिया को दी है।   बता दें कि उमा भारती ने 90 के दशक में अयोध्या आंदोलन में अहम भूमिका निभाई थी। इसीलिए उन्हें राम जन्म भूमि न्यास द्वारा भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल होने का आमंत्रण दिया गया था। उमा भारती ने सोमवार को सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा है कि वे पांच अगस्त को अयोध्या में रहते हुए भी शिलान्यास कार्यक्रम में भाग नहीं लेंगी। उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि -‘ कल जब से मैंने गृह मंत्री अमित शाह जी और यूपी भाजपा के नेताओं के बारे में कोरोना पॉजिटिव होने का सुना, तभी से मैं अयोध्या में मंदिर के शिलान्यास में उपस्थित लोगों के लिए, खासकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के लिये चिंतित हूं। इसीलिये मैंने रामजन्मभूमि न्यास के अधिकारियों को सूचना दी है कि शिलान्यास के कार्यक्रम के मुहूर्त पर मैं अयोध्या में शरयू के किनारे पर रहूंगी।’   उन्होंने अगले ट्वीट में कहा है कि -‘मैं भोपाल से आज रवाना होऊंगी। कल शाम अयोध्या पहुंचने तक मेरी किसी संक्रमित व्यक्ति से मुलाकात हो सकती है, ऐसी स्थिति में जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी और सैकड़ों लोग उपस्थित हो, मैं उस स्थान से दूरी रखूंगी तथा नरेन्द्र मोदी और सभी समूह के चले जाने के बाद ही मैं रामलला के दर्शन करने पहुंचूंगी। यह सूचना मैंने अयोध्या में राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ अधिकारी और पीएमओ को भेज दी है कि माननीय नरेन्द्र मोदी जी के शिलान्यास कार्यक्रम के समय उपस्थित समूह के सूची में से मेरा नाम अलग कर दें।’

Kolar News

Kolar News 3 August 2020

भोपाल। अयोध्या में भगवान राम की जन्मभूमि पर पांच अगस्त को भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए आधारशिला रखी जाएगी, लेकिन मध्यप्रदेश के एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता द्वारा भूमिपूजन के शुभ मुहूर्त पर लगातार सवाल उठाये जा रहे हैं। इसको लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसी का नाम लिए बगैर कांग्रेस और उसके नेताओं पर पलटवार किया है। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा है कि कांग्रेस के ही कुछ अतिउत्साही नेताओं ने नारा दिया था, 'मंदिर वहीं बनाएंगे, लेकिन तारीख नहीं बताएंगे!' वह शुभ घड़ी आई तो उनके पेट में दर्द होने लगा है। श्रीराम के अस्तित्व को ही नकारने वाले कांग्रेस नेता राम मंदिर के निर्माण के शुभ-अशुभ समय का निर्धारण करने में लगे हैं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि -‘कांग्रेस के ही कुछ अतिउत्साही नेताओं ने नारा दिया था, 'मंदिर वहीं बनाएंगे, लेकिन तारीख नहीं बताएंगे!' अब वह शुभ घड़ी आई तो उनके पेट में दर्द होने लगा है। सीएम शिवराज ने ट्वीटर पर एक फोटो भी पोस्ट किया है, जिसमें भगवान श्रीराम साधु-संतों द्वारा यज्ञ के दौरान विघ्न डालते राक्षसों का वध कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने आगे लिखा है कि -‘पौराणिक काल में जब ऋषि-मुनि यज्ञ करते थे, तो असुर और राक्षस आकर उसमें विघ्न डालते थे, कांग्रेस के नेता यही चरितार्थ कर रहे हैं। इस निकृष्ट सोच और सनातन धर्म की आस्थाओं के साथ खिलवाड़ का नतीजा है कि आज सम्पूर्ण कांग्रेस अपने पतन की ओर अग्रसर है।’   सीएम शिवराज ने अपने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘कांग्रेस के लिए राम, राजनीति के विषय होंगे लेकिन हमारे लिए राम, भक्ति और आस्था के विषय हैं। कपिल सिब्बल जी ने रामलला के विरुद्ध खड़े होकर सनातन आस्था का अपमान किया। कमलनाथ जी भगवान राम को राजनीतिक स्टंट बताते हैं। एक मिस्टर बंटाधार हैं, जिन्हें राम नाम में सिर्फ राजनीति दिखाई देती है। राहुल बाबा तो यह तक कह चुके हैं कि लोग मंदिर लड़कियों को छेडऩे जाते हैं।’   उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि - ‘देश की जनता बहुत अच्छे से जानती है कि कांग्रेस वही पार्टी है जिसने कभी प्रभु श्रीराम के अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह लगाये! सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर कहा कि भगवान राम कभी पैदा ही नहीं हुए, यह एक कोरी कल्पना है। मणिशंकर अय्यर जी ने भगवान श्रीराम के जन्मस्थान पर सवाल खड़े किए! कांग्रेस के नेता, जिन्होंने श्रीराम के अस्तित्व को ही नकार दिया, आज राम मंदिर के निर्माण के शुभ-अशुभ समय के निर्धारण करने में लगे हैं। अरे कांग्रेसियों, राम का नाम लेने से ही समय शुभ हो जाता है!’   बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह लगातार तीन दिनों से राम मंदिर शिलान्यास के मुहूर्त पर सवाल उठा रहे हैं। सोमवार को भी उन्होंने ट्वीट कर सिलसिलेवार ट्वीट कर भूमिपूजन के मुहूर्त पर सवाल उठाए। उन्होंने लिखा है कि-‘अशुभ मुहूर्त के कारण राम मंदिर के मुख्य पुजारी से लेकर देश के गृहमंत्री अमित शाह तक कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। उन्होंने इसे उन्होंने ‘सनातन हिंदू धर्म की मान्यताओं को नजरअंदाज करने का नतीजा बताया, साथ ही प्रधानमंत्री मोदी से 5 अगस्त के मुहूर्त को टालने की मांग की है।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिग्विजय सिंह के इस ट्वीट के जवाब ट्वीट के माध्यम से दिया है, जिसमें उन्होंने पूरी कांग्रेस पार्टी और उनके नेताओं को निशाने पर लिया है।

Kolar News

Kolar News 3 August 2020

भोपाल। मप्र के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह द्वारा राम मंदिर निर्माण के मुहूर्त को लेकर दिए गयान के बाद बवाल मच गया है। भाजपा की ओर से दिग्विजय के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया सामने आ रही है। वहीं मप्र के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिग्विजय के बयान पर पलटवार किया है। उन्होंने दिग्विजय पर तंज कसते हुए कहा है कि कमलनाथ जी सुंदरकांड करवा रहे हैं, दिग्विजय सिंह जी लंका कांड में बिजी हैं। इतिहास गवाह है, जब जब कोई धार्मिक काम या हवन होते थे, तो आसुरी शक्ति विघ्न बाधा डालती हैं, कमोबेश यह उसी तरह की राजनीति है। जिस तरह से यह कर रहे हैं भगवान उन्हें कभी माफ नहीं करेगा।   सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए गृहमंत्री नरोत्त मिश्रा ने दिग्विजय के बयान पर उन्हें आड़े हाथों लेते हुए जमकर बरसें। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह को फ्री कंसल्टेंसी खोल लेनी चाहिए। वे सबको सुबह से शाम तक सलाह ही देते रहते हैं। अब राहुल गांधी पता नहीं कौन सी यात्रा निकलें, कहीं उत्तराखंड की यात्रा पर न चले जाएं। मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि एक ओर कमलनाथ  जी सुंदरकांड करा रहे हैं तो दूसरी ओर दिग्विजय सिंह जी लंकाकांड में व्यस्त हैं। इतिहास गवाह है कि जब-जब कोई धार्मिक कार्य होता है तो आसुरी शक्तियां विध्न बाधाएं डालतीं हैं। कमोवेश ये उसी तरह की राजनीति है, भगवान उन्हें कभी माफ नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि ज्योतिषाचार्य दिग्विजय सिंह राममंदिर के भूमिपूजन के मुहूर्त की चिंता करने के बजाय अपने शास्त्रीय ज्ञान का उपयोग कांग्रेस की दुर्दशा सुधारने के लिए आवश्यक अनुष्ठान का मुहूर्त निकालने में करें। इससे उनका भी भला होगा और कांग्रेस का भी।

Kolar News

Kolar News 3 August 2020

सतना। मध्यप्रदेश के सतना जिले की चित्रकूट विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक नीलांशु चतुर्वेदी को जान से मारने की धमकी मिली है। किसी अज्ञात व्यक्ति ने दो लाख रुपये की फिरौती की मांग की और नहीं देने पर पर जान से मारने की धमकी दी। फोन करने वाले व्यक्ति ने खुद का नाम सैलजा भाई बताया है। मामले को लेकर विधायक ने नयागांव थाने में शिकायत दर्ज कराई है। इसके बाद उनकी सुरक्षा बढ़ी दी गई है।जानकारी के अनुसार, कांग्रेस विधायक नीलांशु चतुर्वेदी के कम्प्यूटर ऑपरेटर विजय शुक्ला के मोबाइल पर शुक्रवार को देर शाम को किसी अज्ञात व्यक्ति का फोन आया पर आया। फोन करने वाले शख्स ने दो लाख रुपये की मांग की और  पैसे नहीं मिलने पर जान से मारने की धमकी दी। बताया जा रहा है कि शख्स ने अज्ञात नंबर से फोन किया था और खुद का नाम सैलजा भाई बताया। जानकारी मिलने के बाद विधायक नीलांशु चतुर्वेदी के निजी सचिव ने थाने में शिकायत दर्ज करवाई है। पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है। वहीं, विधायक की सुरक्षा भी बढ़ा दी है। विधायक के निवास पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है।

Kolar News

Kolar News 1 August 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में राम मंदिर निर्माण को लेकर सियासत जारी है। प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह लगातार राम मंदिर निर्माण को लेकर निशाना साध रहे हैं। 5 अगस्त को पीएम मोदी अयोध्या में मंदिर का शिलान्यास करने वाले हैं। जिस को लेकर एक बार फिर दिग्विजय ने ट्वीट कर मंदिर निर्माण की शिलान्यास तारीख पर सवाल उठाए है। उनके ट्वीट कर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शनिवार को मीडिया से बाचतीत करते हुए दिग्विजय के बयान पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह जब बोलते हैं उल्टा ही बोलते हैं, लेकिन कांग्रेस ने कम से कम राम का नाम तो लिया, कांग्रेस के कारण राम मंदिर निर्माण लेट हुआ है। मंत्री मिश्रा ने दिग्विजय की चुटकी लेते हुुए कहा आदणीय दिग्विजय जी के लिए तो बस इतना ही कहूंगा कि कबीरदास की उल्टी वाणी, बरसे कंबल भींजे पानी। उन्हें तो अच्छाई में भी बुराई नजर आती है लेकिन उन्होंने आलोचना में ही सही कम से कम भगवान राम का नाम तो लिया। वहीं कोरोना के चलते बढ़ रही बेरोजग़ारी को लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को रोजग़ार देने की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। हजारों को रोजगार मिला, स्किल्स के हिसाब से काम मिल रहा है। उन्होंने बताया कि अब तक 13 लाख 10 हजार से ज्यादा लोगों को काम मिला है।   कमलनाथ पर साधा निशाना इस दौरान कमलनाथ द्वारा सीएम शिवराज से पेट्रोल डीजल के दामों में कमी की मांग किए जाने पर मंत्री मिश्रा ने कमलनाथ को जमकर घेरा। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी को तो कहने का अधिकार ही नहीं है। शीशे के घरों में रहने वाले यदि दूसरों पर पर पत्थर फेंकेंगे तो कैसे काम चलेगा। पहले ये तो देख लें कि विधानसभा चुनाव के वचन पत्र में उसने जनता से क्या वादा किया था और उसकी सरकार ने किया क्या...? उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार ने ही टैक्स बढ़ाया था, हमारे विधायक, मंत्री, अपनी सैलरी कोरोना से लड़ाई के किए दे रहे हैं, कांग्रेस का काम वो ही जानें।

Kolar News

Kolar News 1 August 2020

भोपाल। मप्र की राजनीति में लोकसभा उपचुनाव की सरगर्मियों के बीच कोरोना की एंट्री हो गई है। सरकार और भाजपा संगठन को अपनी चपेट में लेने के बाद अब विपक्ष में भी कोरोना ने दस्तक दे दी है। पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। शुक्रवार देर शाम को उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जिसके बाद वे ईलाज के लिए चिरायु अस्पताल में भर्ती हुए है।   पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने स्वयं ट्वीट कर अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी है। उन्होंने शुक्रवार देर रात ट्वीट कर कहा मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, मैं अस्पताल में भर्ती हो रहा हूं। कृपया कर मेरे संपर्क में हुए लोग अपनी अपनी जांच करवा ले। धन्यवाद। इसके बाद पीसी शर्मा ईलाज के लिए चिरायु अस्पताल में भर्ती हुए है। उनके कोरोना संक्रमित होने की जानकारी मिलने के बाद पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, पूर्व मंत्री जीतू पटवारी समेत भाजपा नेता और उनके समर्थक और साथी विधायक उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं। गौरतलब है कि इससे पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान, उनके मंत्रिमंडल के तीन मंत्री और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, महामंत्री सुहास भगत कोरोना संक्रमित पाए गए है और सभी का ईलाज जारी है।   कांग्रेस नेताओं में मचा हडक़ंप विधायक पीसी शर्मा की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद कांग्रेस नेताओं में हडक़ंप मच गया है। पिछले दिनों वे कांग्रेस की कई बैठकों में भी शामिल हुए थे। 28 जुलाई को विधायक पीसी शर्मा ग्वालियर में थे और एक पत्रकार वार्ता में भी शामिल हुए। इस दौरान वे ग्वालियर में कई कांग्रेस नेताओं के घर भी गए थे।

Kolar News

Kolar News 1 August 2020

जबलपुर। जबलपुर हाईकोर्ट ने शुक्रवार को एक अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट ने एक पत्र की सुनवाई करते हुए अपने अंतिम आदेश में कहा है कि भारतीय रेलवे बर्थ के आरक्षण की प्रक्रिया में वरीयता के क्रम पर विचार करे। एक पत्र याचिका का निराकरण करते हुए हाईकोर्ट ने कहा है कि रेलवे सीट रिजर्वेशन में सबसे पहले गर्भवती महिलाओं, फिर सीनियर सिटीजन और उसके बाद फिर वीवीआईपी को प्राथमिकता दे।   लोअर बर्थ के आरक्षण के मुद्दे पर हाई कोर्ट के जस्टिस संजय यादव और जस्टिस अतुल श्रीधरण की डबल बेंच ने कहा कि गर्भवती महिलाओं को प्राथमिकता देने के लिए सिर्फ इसलिए कहा जा रहा है, क्योंकि स्वास्थ्य कारणों के कारण उनके लिए मिडिल बर्थ या अपर बर्थ उचित नहीं होगी। ऐसे में गंभीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों की बजाए उनको आरक्षण में वरीयता दी जाए। इस आग्रह के साथ डिवीजन बेंच ने पत्र याचिका का निराकरण करते हुए रेलवे से वरीयता क्रम में बदलाव करने को कहा है।   क्‍या था मामला   जस्टिस राजीव कुमार श्रीवास्तव ने ग्वालियर से जबलपुर के बीच अपने ऑफिशियल विजिट के दौरान अपने अनुभवों को लेकर हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को पत्र भेजकर कई खामियां गिनाई थीं। मकसद यही था कि रेलवे आरक्षण में व्यवस्था और सुधार करने के लिए कुछ नये और ठोस कदम उठाए जा सकें।इसमें जस्टिस राजीव कुमार श्रीवास्तव के अनुभव पर अधिवक्ता आदित्य संघी ने अपनी सहमति जताते हुए एक अर्जी दायर की थी। याचिका की सुनवाई के दौरान रेलवे की ओर से जवाब दिया गया था कि लोअर बर्थ के आवंटन में सबसे पहले प्राथमिकता वीवीआईपी को दी जाती है। इसमें मंत्री, सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जज भी शामिल रहते हैं।   वीवीआईपी के बाद गर्भवती महिलाओं और फिर सीनियर सिटीजन को प्राथमिकता दी जाती है, हालांकि रेलवे का यह भी कहना था कि हर व्यक्ति को लोअर बर्थ चाहिए होती है, लेकिन सबसे पहले कोशिश यही की जाती है कि सीनियर सिटीजन को पहले प्राथमिक्ता दी जाए।

Kolar News

Kolar News 31 July 2020

  भोपाल। मध्य प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों से निपटने और लोगों की मदद के लिए शिवराज सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने मंत्रियों के वेतन में 30 प्रतिशत कटौती का फैसला लिया है। शुक्रवार को कोरोना की वर्तमान स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों के साथ चर्चा की। इस दौरान सीएम ने प्रदेश के सभी मंत्रियों से कोरोना फंड में 30 फीसदी सैलरी देने की अपील की। जिस पर सभी मंत्रियों ने अपनी सहमति जताई है।   मंत्रियों की वेतन कटौती का फैसला लेते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि उनके योगदान से कोरोना के खिलाफ जंग में मदद मिलेगी। सीएम ने बताया कि प्रदेश के 22 जिलों में डीएमएफ है उसका 30 प्रतिशत कोरोना की जरुरत जैसे बेड, पीपीई किट, वेंटिलेटर, अस्पताल इत्यादि में खर्च की जाएगी। वहीं इसकी मॉनिटरिंग जिले के प्रभारी मंत्री द्वारा की जाएगी। गौरतलब है कि इससे पहले मोदी सरकार ने यह फैसला लिया था, जिसके तहत प्रधानमंत्री समेत सभी मंत्रियों और सांसदों के वेतन में एक वर्ष तक 30 प्रतिशत कटौती की गई है। इसमें राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यपाल भी शामिल है। यह राशि कोरोना के खिलाफ जंग में उपयोग की जाएगी।   बताते चले कि इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 1 से 14 अगस्त तक किल कोरोना अभियान पार्ट 2 चलाने के आदेश दिए हैं। इस दौरान कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 14 अगस्त सभी मंत्रियों, विधायकों और सांसदों को किसी प्रकार के सार्वजनिक एवं राजनैनितक कार्यक्रम दौरा करने पर रोक लगाई है। जरूरी होने पर वर्चुअल सभा करने की सलाह दी है।  

Kolar News

Kolar News 31 July 2020

भोपाल। मप्र में कोरोना संक्रमण तेजी से पैर पसारता जा रहा है। यहां रोजाना बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए प्रदेश के कई जिलों में कुछ दिनों का लॉकडाउन भी लगया गया है। वहीं कोरोना संक्रमण को लेकर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है।   मप्र में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले पर शुक्रवार को गृहमंत्री ने कहा है कि कोरोना को लेकर कल मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए थे कि 14 अगस्त तक कोई भी मंत्री सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं करेंगे। उन्होंने कहा महती आवश्यकता हो तो वर्चुअल मुलाकात कर सकते हैं। इसके अलावा 5 लोगों से अधिक लोग भी जनप्रतिनिधि के पास इकट्ठा नहीं होंगे। कोरोना की बढ़ती रफ्तार पर उन्होंने कहा कि देश भर में कोरोना पीक पर जा रहा है, उसी कड़ी में एमपी में भी कोरोना बढ़ा है लेकिन अच्छी बात ये है की हमारी रिकवरी रेट बढ़ा है। गृहमंत्री ने कहा कि हमारे पास इलाज की पर्याप्त व्यवस्था है, एक दो दिन में कोरोना की रफ्तार पकड़ में आ जायेगी। अब लगता नही की कोरोना की रफ्तार इससे तेज़ हो पाएगी।   बंदी-परिजन ई मुलाकात का लोकार्पण जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने आज सुबह 11 बजे अपने निवास से ही बंदी-परिजन ई मुलाकात का लोकापर्ण किया। कोरोना काल में जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कैदियों को लेकर नया फैसला लिया है, आज से जेल में बंद कैदियों की उनके परिजन से ई मुलाकात शुरू करवाई जाएगी। भोपाल के बाद यह व्यवस्था सभी जिलों में लागू की जाएगी।

Kolar News

Kolar News 31 July 2020

भोपाल। केन्द्र सरकार द्वारा राफेल को भारत लाने और नई शिक्षा नीति लागू किए जाने के बाद कांग्रेस के आरोप-प्रत्यारोप जारी हैं। कांग्रेस द्वारा लगातार की जा रही बयानबाजी पर प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है। उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा है कि भाजपा अपने भारत को एक करना चाहती है जबकि कांग्रेस हमेशा विभाजन की बात करती है।   प्रदेश सरकार के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कांग्रेस पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि भाजपा का हमेशा से राष्ट्र सेवा का भाव रहा हैं। जब जीएसटी आई तब हमने कहा था वन नेशन वन टैक्स। भाजपा ने 370 हटाई और इस देश में वन नेशन वन लॉ लागू करवाया। 370 हटा कर वन नेशन वन फ्लैग  देश में लागू करवाया। इसके बाद देश में वन नेशन वन एजुकेशन लेकर आई, इस बात को समझने की जरूरत है कि हम अपने बच्चों को बचपन से टेक्निकल बनाएं, जिससे उनको काम मिलेगा। इस एजुकेशन से काफी लाभ मिलेगा ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदर्शिता है। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा अपने भारत को एक करना चाहती है जबकि कांग्रेस हमेशा विभाजन की बात करती है। वहीं दिग्विजय सिंह द्वारा भाजपा से लगातार सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मैं तीसरी बार बोल रहा हूं जब सत्र निरस्त हो जाता है तो उसकी कार्रवाही भी निरस्त हो जाती है। उन्हें थोड़ा ज्ञान वर्धन करने की जरूरत है।   लक्ष्मण के ट्वीट को बताया सही   चाचौड़ा से कांग्रेस विधायक और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह सिंह के बाबाओ वाले ट्वीट पर ग्रहमंत्री ने कहा कि उनकी बात ठीक है। कांग्रेस की विचारधारा लुप्त हो गई है, इसलिए वो सुप्त हो गई है, इसलिए कांग्रेस विचरण कर रही है। इसके अलावा कांग्रेस द्वारा 11 हजार का इनाम गृहमंत्री को मास्क और नियमों का पालन करवाने वाले मामले पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि जब से लॉक डाउन शुरू हुआ है तब से मैं सीधे मीडिया से मिला हूं। मैं हमेशा थ्री लेयर तोलिये के साथ रहता हूं, ये परिस्थतिवश है मेरी प्रार्थना है कि कांग्रेस वो ग्यारह हजार रुपये किसी गरीब को दान करे।   आज से प्रदेश में शुरू होगा रेपिड टेस्ट प्रदेश में आज से शुरू होने जा रहे रेपिड टेस्ट पर गृहमंत्री ने कहा कि हमारा उद्देश्य है किल कोरोना अभियाम से वाइरस को किल करना है। न्यापालय कि हर बात का पालन करेंगे। वहीं सीएम शिवराज के कोविड संक्रमित होने के वाबजूद समीक्षा बैठक करने पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी जिंदगी का भाग देश सेवा के लिए निकाल रहे है। इसलिए बीमार रहते हुए भी समीक्षा बैठक कर रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 30 July 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। यहां सरकार के साथ भाजपा संगठन भी कोरोना संक्रमण की चपेट में है। सीएम शिवराज के साथ उनके तीन मंत्री और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, संगठन महामंत्री सुहास भगत सभी कोरोना पॉजिटिव है और इनका उपचार जारी है। भाजपा नेताओं में कोरोना संक्रमण फैलने पर पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक पीसी शर्मा ने बयान दिया है।   उन्होंने गुरुवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि भाजपा ने कोरोना गाइडलाइंस का उलंघन किया, इसलिए भाजपा के सभी बड़ी नेता संक्रमित हुए और प्रदेश भर में संक्रमण फैला। उपचुनाव को लेकर तैयारियों पर पीसी शर्मा ने कहा कि कांग्रेस वर्चुअल रूप से नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ लगातार बैठककर रहे हैं। बिकाऊ नहीं टिकाऊ चाहिए लिखे मास्क के जरिये कांग्रेस का मास्क कैंपेन शुरू हुआ है।   शिवराज सरकार द्वारा भोपाल मास्टर प्लान को रद्द करने पर पीसी शर्मा ने कहा कि जनता की सलाह से एक्सस्पर्ट के द्वारा प्लान बनाया गया था। मास्टर प्लान बहुत अच्छा था, प्लान रद्द करने की जितनी निंदा की जाए कम है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा इतने सालों से मास्टर प्लान नहीं बना पाई। भाजपा अपने फायदे के लिए बड़े स्तर पर हेराफेरी करना चाहती है। वहीं लक्षमण सिंह के ट्वीट पर कहा उन्होंने कहा कि कांग्रेस की विचारधारा सेवा की रही है, कांग्रेस नेता सेवा की भावना से ही काम करते हैं।

Kolar News

Kolar News 30 July 2020

भोपाल। राजधानी भोपाल में तीन दिन पहले प्रेस कॉन्फेंस कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर गंभीर आरोप लगाने वाले आरोपित डॉ. राजन सिंह को क्राइम ब्रांच पुलिस ने गुरुवार को दोपहर में एक अस्पताल से गिरफ्तार कर लिया है। बताया जा रहा है कि वह सीने में दर्द की शिकायत को लेकर एक अस्पताल में भर्ती हुआ था, जहां से उसे गिरफ्तार किया गया है। फिलहाल, आरोपित से पूछताछ जारी है। बता दें कि एचसी/पीएचडी मध्यप्रदेश कुपोषण निवारण समिति के पूर्व अध्यक्ष डॉ. राजन सिंह ने तीन दिन पहले भोपाल में एक प्रेस कांफ्रेस कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर गंभीर आरोप लगाए थे और सोशल मीडिया पर उसका वीडियो वायरल किया था। उसने चिरायु अस्पताल में भर्ती मुख्यमंत्री की जान को खतरा भी बताया था। सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो के आधार पर क्राइम ब्रांच पुलिस ने डॉ. राजन सिंह के खिलाफ धारा 500, 501, 505 (2), 188 आईपीसी के तहत एफआईआर दर्ज की थी। इसके बाद से ही पुलिस उसकी तलाश में जुटी थी।क्राइम ब्रांच पुलिस को गुरुवार सुबह जानकारी मिली कि डॉ. राजन कोरोना इलाके के एक अस्पताल में भर्ती हुआ है। क्राइम ब्रांच की टीम ने अस्पताल प्रबंधन से बात कर मामले की जानकारी ली। अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि राजन सीने में दर्द की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंचा है। वह अब बिलकुल ठीक है और उसे दोपहर में डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। क्राइम ब्रांच की टीम दोपहर में अस्पताल पहुंच गई और उसके डिस्चार्ज होते ही उसे गिरफ्तार कर लिया। क्राइम ब्रांच की टीम आरोपित से पूछताछ में जुटी है और उससे वीडियो में लगाए गए आरोपों के सबूत मांगे जा रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 30 July 2020

भोपाल। मप्र में सरकार और भाजपा संगठन कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद अब भाजपा संगठन महामंत्री सुहास भगत, जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट और उनकी पत्नी और राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इसके अलावा भाजपा के संगठन मंत्री आशुतोष तिवारी, पूर्व विधायक रघुराज सिंह कंसाना और विधायक गिरीश गौतम की पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।    भाजपा संगठन महामंत्री सुहास भगत की दूसरी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनकी पहली रिपोर्ट निगेटिव आई थी। स्वर्गीय लालजी टंडन के निधन में लखनऊ जाने वाले नेताओं में कोरोना संक्रमित होने वाले सुहास भगत तीसरे व्यक्ति है। सबसे पहले मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया कोरोना पॉजिटिव मिले थे। उसके बाद सीएम शिवराज में भी कोरोना की पुष्टि हुई थी। अब केवल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ही निगेटिव हैं। उनकी दूसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है।   मंत्रीमंडल के दो मंत्री भी कोरोना पॉजिटिवइसके अलावा शिवराज मंत्रिमंडल में सहाकरिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया के बाद अब जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट के साथ उनकी पत्नी और राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल भी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। मंत्री रामखेलावन सतना अमरपाटन से विधायक हैं और फिलहाल वे भोपाल में नवीन पारिवारिक परिसर स्थित एमएलए रेस्ट हाउस में रहते हैं। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है, वहीं उनके परिवार और स्टॉफ के भी सैंपल लिए गए हैं। वहीं सिलावट सांवेर विधानसभा उपचुनाव के लिए कई दिनों से गांव-गांव जाकर जनसंपर्क कर रहे हैं। चार-पांच दिन में ही वे करीब साढ़े तीन हजार लोगों से मिल चुके हैं। शिवराज के साथ उनकी टीम के दो मंत्रियों के पॉजिटिव आने के बाद अब बाकी मंत्रियों में भी संक्रमण होने संभावनाएं होने की अटकलें हैं। बताया जा रहा है कि स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने भी सेंपल दिया है। 

Kolar News

Kolar News 29 July 2020

भोपाल। भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुुर को फोन पर धमकी मिली है। अज्ञात व्यक्ति ने सांसद प्रज्ञा को राम मंदिन निर्माण मुद्दे पर धमकी दी है। सांसद ने कमला नगर थाने में अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। भोपाल पुलिस की साइबर सेल ने मोबाइल नंबर के आधार पर जांच शुरू कर दी है।   जानकारी अनुसार बुधवार सुबह सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को अज्ञात व्यक्ति ने फोन कर धमकी दी है। अज्ञात आरोपित ने राम मंदिर निर्माण मुद्दे पर साध्वी प्रज्ञा के बयानों से नाराजगी जताते हुए धमकाया है। सांसद प्रज्ञा को धमकी देने वाले ने भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं को लेकर भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया। इसके बाद भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कमला नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई है। सांसद की शिकायत पर साइबर सेल पुलिस ने मोबाइल नंबर के आधार पर जांच शुरू कर दी है। गौरतलब है कि आगामी 5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण का शिलान्यास किया जाना है। इस मुद्दे पर  साध्वी प्रज्ञा का बयान सामने आया का था, जिस पर अज्ञात आरोपित ने नाराजगी जताते हुए सांसद को धमकाया है।

Kolar News

Kolar News 29 July 2020

  भोपाल। उपचुनाव से पहले कांग्रेस विभिन्न मुद्दों पर सरकार के खिलाफ आक्रामक हो रही है। वहीं अब कांग्रेस ने सरकार द्वारा कर्मचारियों के वेतन वृद्धि रोकने के फैसले को मुद्दा बनाया है। पूर्व सीएम कमलनाथ ने सीएम शिवराज को पत्र लिखकर सरकार के इस फैसले का विरोध किया है और सरकार से इस फैसले को वापस लेने की मांग की है।   कमलनाथ ने बुधवार को सीएम शिवराज को एक पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा कि मैं आपके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। चूंकि आप निरंतर सक्रिय है इसलिए मैं आपका ध्यान कर्मचारियों के साथ लगातार हो रहे अन्याय की ओर दिलाना चाहता हूं। हाल ही मैंने समाचार पत्रों में पढ़ा है कि आपकी सरकार ने कर्मचारियों को वार्षिक वेतन वृद्धि न देने का फैसला किया है। प्रशासनिक भाजपा में आपने उन्हें काल्पनिक वार्षिक वेतन वृद्धि दी है। इसके पूर्व मेरी सरकार ने कर्मचारियों को 5 प्रतिशत महंगाई भत्ता देने का निर्णय लिया था। इस फैसले पर भी आपकी सरकार ने रोक लगा दी जिसके संबंध में मैंने आपकों पूर्व में भी एक पत्र लिखा था। यही नहीं आपकी सरकार ने कर्मचारियों को मिलने वाले सातवें वेतनमान के एरियर्स की राशि, जो अंतिम किश्त के रुप में दी जानी थी, उसे भी न देेने का निर्णय भी लिया है। उन्होंने कहा कि यह भी ज्ञात हुआ है कि पर्यटन विभाग के अंतर्गत कर्मचारियों को 50 प्रतिशत वेतन न देने का निर्णय भी लिया गया है। विगत पांच माह में आपकी सरकार ने निरंतर कर्मचारियों के हित एवं उनके अधिकारों को छिनने वाले निर्णय लिए है, जिसका कांग्रेस पार्टी विरोध करती है।   अपने पत्र में कमलनाथ ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की चुनी हुई सरकार को अलोकतांत्रिक तरीके से गद्दारों के साथ मिलकर हटाने का भाजपा ने जो कृत्य किया है, उसके परिणामस्वरुप आज प्रदेश के 25 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव हो रहे हैं। इन उपचुनावों में लगभग जो 100 करोड़ खर्च हो रहे हैं इसके जवाबदेह भी आज की सरकार ही है। कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि इन उप चुनावों को येनकेन प्रकारेण जीतने के लिए प्रतिदिन सरकार द्वारा करोड़ों रुपयों के कार्य स्वीकृत किए जा रहे हैं। ब्रांडिंग और विज्ञापनों पर भी निरंतर राशि खर्च की जा रही है। अगर प्रदेश के आर्थिक हालात वास्तव में खराब है तो उक्त कार्य चुनाव के लिए कैसे स्वीकृत हो पा रहे हैं। स्पष्ट है कि सरकार द्वारा प्रदेश की जनता एवं कर्मचारियों दोनों को भ्रमित कर धोखे में रखा जा रहा है।   कमलनाथ ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि अत: मेरा आपसे अनुरोध है कि कर्मचारियों के रोके गए समस्त लाभ अविलंब प्रदान करने का निर्णय लेने का कष्ट करें जिससे प्रदेश के कर्मचारी दौगुने उत्साह से वैश्विक महामारी कोरोना से निपटने में अपना सक्रिय और महती योगदान दे सकेंगे।  

Kolar News

Kolar News 29 July 2020

भोपाल। अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस विश्व भर में 29 जुलाई को मनाया जाता है। यह दिन बाघों के प्रति जागरूकता लाने के लिए मनाया जाता है। मप्र को देश में टाइगर स्टेट के दर्जे का गौरव प्राप्त है। पिछले साल जुलाई 2019 में 13 साल के लंबे इंतजार के बाद एक बार फिर मप्र को टाइगर स्टेट का दर्जा प्राप्त हुआ है। लेकिन पिछले एक साल में यहां लगातार बाघों की मौत के मामले सामने आए हैं। पिछले एक सप्ताह के अंदर ही पन्ना टाइगर रिसर्व में दो बाघों की मौत हुई है। जिस पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने चिंता जाहिर की है।   अंतराष्ट्रीय बाघ दिवस के एक दिन पहले पन्ना टाइगर रिजर्व में कुछ दिनों के अंतर में दो बाघों की मौत पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने चिंता जताई है। साथ ही वीडी शर्मा ने सीएम से मांग करते हुए कहा है कि सरकार को इस दिशा में उचित कदम उठाने चाहिए और दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई भी करनी चाहिए। वीडी शर्मा ने ट्वीट कर कहा ‘मध्य प्रदेश की पहचान पन्ना टाइगर रिजर्व में पिछले कुछ दिनों में दो बाघों की मौत बेहद चिंता का विषय है। यूनेस्को की विश्व धरोहरों में से एक खजुराहो से कुछ ही दूरी पर होने के कारण पन्ना टाइगर रिजर्व भारतीय एवं विदेशी दोनों ही पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है।   एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने सीएम शिवराज से मांग करते हुए कहा कि ‘बाघों के मरने की इस तरह की घटनाओं से पर्यटन पर भी नाकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। मेरा सरकार से आग्रह है कि दोषियों पर तुरंत कार्यवाही की जाए एवं यह सुनिश्चित किया जाए कि भविष्य में इस तरह की घटनाएं ना हों। प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने अपनी ही सरकार से दोषियों पर तत्काल कार्रवाई की अपील की है।

Kolar News

Kolar News 28 July 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश में एक ओर भाजपा नेता कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए हैं। मुरैना से वरिष्ठ भाजपा नेता रघुराज कंसाना कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। सीएम शिवराज के संपर्क में आने के बाद रघुराज कंसाना ने कोरोना की जांच कराई थी। जिसमें उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। संक्रमित होने के बाद अब रघुराज कंसाना ने अपने संपर्क में आए ग्रामीणों, नेताओं और कार्यकर्ताओं से कोरोना की जांच कराने की अपील की है।   कंसाना ने अपने फेसबुक अकाउंट पर संपर्क में आए लोगों से जांच कराने और घरेलू एकांतवास में जाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि ‘मेरे प्रिय मुरैना वासियों, मुझे माननीय मुख्यमंत्री महोदय संपर्क में आने के कारण मैंने अपना कोविड-19 टेस्ट करवाया था टेस्ट के बाद मेरी रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। मेरी सभी साथियों से अपील है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं, वह अपना कोरोना टेस्ट करवा लें। मेरे निकट संपर्क वाले लोग क्वारन्टीन में चले जाएं। गौरतलब है कि शनिवार को सीएम शिवराज कोरोना संक्रमित पाए गए थे। इसकी जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट कर दी थी। इसके बाद उन्होंने अपने संपर्क में आए लोगों से जांच कराने की अपील भी की थी। जिसके बाद उनके संपर्क में आए सभी लोगों ने अपनी जांच कराई है।   कांग्रेस विधायक ने जीती कोरोना से जंग   वहीं कोरोना संक्रमण से कांग्रेस विधायक लखन घनघोरिया ने जंग जीत ली है। उन्हें गुरुग्राम के निजी अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया है। लखन खनघोरिया भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। उनका इलाज गुरुग्राम के निजी अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में चल रहा था। आपकों बता दें जबलपुर में घनघोरिया की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी। पूर्व मंत्री और जबलपुर विधायक लखन घनघोरिया की पिछले करीब 1 माह से अस्वस्थ थे।

Kolar News

Kolar News 28 July 2020

भोपाल। मप्र में तेजी से पैर पसार रहे कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए सरकार सुरक्षा के हर संभव प्रयास कर रही है। कोरोना का संकट अब जेलों में भी देखने को मिल रहा है। प्रदेश के जेलों में कैदियों के कोरोना संक्रमित होने के मामले भी सामने आ रहे हैं। ऐसे में कैदियों की सुरक्षा को देखते हुए ऑनलाइन पेशी पर सरकार विचार कर रही है। इसे लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है।   गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि कैदियों की पेशी भी अब वर्चुअल के माध्यम से कराने पर सरकार विचार कर रही है। कोरोना संकट काल में अब जेल में बंदियों की कोर्ट पेशी भी ऑनलाइन कराई जाएगी। सरकार इस संबंध में जल्द ही निर्णय लेने जा रही है। इसके अलावा गृहमंत्री डा.नरोत्तम मिश्रा ने कहा हैं कि प्रदेश के सभी जिलों में अब मैदानी पुलिसकर्मियों के लिए सर्वसुविधायुक्त आवास बनाए जाएंगे। वे अपने परिवार को कम समय दे पाते हैं। इसलिए मैंने पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन को हर भवन में लाइब्रेरी भी बनाने को कहा है। उन्होंने कहा कि अराजपत्रित पुलिस कर्मियो को जिलों में मकान की समस्या से पुलिस विभाग निजात दिलाएगा। डॉ. मिश्रा ने पुलिस हाउसिंग बोर्ड के महानिदेशक अजय शर्मा को निर्देशित किया कि इसकी शुरुआत छोटे और मध्यम जिलों से करें। जिलों में मल्टी स्टोरी बनाएंगे। सर्व सुविधायुक्त अत्याधुनिक भवन होगा जिसमें लिफ्ट और सामुदायिक भवन की भी सुविधा होगी। बैठक में एडीजी प्लानिंग अनिल कुमार भी मौजूद थे।   राहुल गांधी और कांग्रेस पर कसा तंज   इस दौरान गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि राहुल गांधी देश की सुरक्षा से जुड़े संवेदनशील मुद्दों पर भी जिस तरह से सार्वजनिक टिप्पणी कर रहे हैं, वो उचित नहीं। एक तरफ वे चीन के राजनयिक से गुपचुप मुलाकात करते हैं फिर दूसरी तरफ चीन को लेकर सवाल भी खड़े करते हैं? वहीं प्रदेश कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर मचे घमासान पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस अभी अंतद्र्वंद और संक्रमण के दौर से गुजर रही है। उपचुनाव को लेकर उसके दावों पर मेरा कहना है कि न पटवारी, न व्यापारी, अबकी बार जनता की बारी। दिग्विजय दस साल सीएम रहे उन पर तरस भी नही आता वो अनुभवी हैं। जो सत्र निरस्त होता है उसकी सारी प्रक्रिया निरस्त हो जाती है।   गलतियों में किया जाएगा सुधार भोपाल में कोरोना को लेकर बनी स्थिति पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि सुधार की प्रक्रिया निरंतर जारी है जहां गलती हुई वहां सरकार झुकने के लिए भी तैयार है। स्वास्थ मंत्री भोपाल के हैं। पूरी व्यवस्था ठीक है, बेड भी काफी संख्या में हैं। यदि कोई कोरोना पेसेंट टेस्ट कराता है और रिपोर्ट आने में देरी होती है तो उसे अस्पताल में कैसे भर्ती किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जिस भी मरीज की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई और उसे भर्ती होने मे दिक्कत हुई उसके लिए सरकार क्षमा प्रार्थी है और गलतियों को सुधार किया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 28 July 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश में विधानसभा की रिक्त 27 सीटों पर आगामी दिनों में होने वाले उपचुनावों को लेकर राजनीतिक चरम पर है। दोनों ही प्रमुख पार्टियों भाजपा और कांग्रेस के नेता इन सीटों पर जीत का दावा कर एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। इसी बीच भाजपा की वरिष्ठ नेत्री, केन्द्रीय मंत्री और प्रदेश की मुख्यमंत्री उमा भारती का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा उपचुनाव में भाजपा की सभी सीटों पर विजय होगी।दरअसल, उमा भारती श्रावण सोमवार के अवसर पर सीहोर के प्राचीन गणेश मंदिर पहुंची थी। यहां उन्होंने भगवान गणेश की पूजा-अर्चना कर दर्शन किये। इस अवसर पर उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए में कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के स्वस्थ होने की कामना की है। वे बहुत जल्द ठीक होकर जनता की सेवा करेंगे। उमा भारती ने पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा उपचुनाव में भाजपा सभी सीटों पर जीत हासिल करेगी। उन्होंने भोपाल में लगाए गए 10 दिन के लॉकडाउन का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के प्रकरण लगातार बढ़ रहे हैं और ऐसे में भोपाल में लॉकडाउन लगाना सरकार का सही फैसला है। लोगों को चाहिए कि वे लॉकडाउन के नियमों का पालन करें। घर से बाहर निकलने के पहले मास्क पहनकर निकले और सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करें।

Kolar News

Kolar News 27 July 2020

भोपाल। मप्र में विधानसभा उपचुनाव से पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे और छिंदवाड़ा से कांग्रेस सासंद नकुलनाथ के प्रदेश में कांग्रेस नेतृत्व संभालने की चर्चा सुर्खियों में है। इन चर्चाओं पर तंज कसते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बयान दिया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि कांग्रेस में नेतृत्व पर हमेशा परिवारवाद हावी रहा है। अब प्रदेश में युवाओं का नेतृत्व नकुलनाथ करेंगे और बुजुर्गो का नेतृत्व कमलनाथ के हाथ होगा। बाकी सारी कांग्रेस अनाथ रहेगी। गृहमंत्री के बयान के बाद बयानबाजी का दौर तेज हो गया है।   गृहमंत्री के बयान पर सांसद नकुलनाथ ने पलटवार किया है। उन्होंने ट्वीट कर बड़े ही रोचक अंदाज में गूहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को जवाब दिया है। नकुलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि ‘"अनाथ" प्रदेश को "नाथ" चाहिए..."कमल" नहीं "कमल नाथ" चाहिए।   इसके अलावा कांग्रेस विधायक और युवा कांग्रेस अध्यक्ष कुणाल चौधरी ने भी गृहमंत्री के बयान पर पलटवार किया है। सोमवार को जारी अपने एक बयान में कुणाल चौधरी ने कहा कि गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को कांग्रेस पर तंज कसने से ज्यादा अच्छा होता कि मंत्री प्रदेश में गिर रही कानून व्यवस्था को लेकर चिंता करते और अपराधियों पर लगाम लगाने की फिक्र करते। प्रदेश की गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर कोई योजना बनाते। कुणाल ने कहा कि सांसद नकुलनाथ कांग्रेस के युवा चेहरा है और नकुलनाथ ही युवाओं का नेतृत्व करेंगे।

Kolar News

Kolar News 27 July 2020

भोपाल। कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद राजधानी के चिरायु अस्पताल में भर्ती मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की दूसरी रिपोर्ट भी सोमवार को पॉजिटिव आई है। वहीं, राजधानी भोपाल में सोमवार को चार डॉक्टरों समेत 177 नए कोरोना पॉजिटिव सामने आए हैं। इससे पहले रविवार को भोपाल में 199 मरीज सामने आए थे।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कोरोना की दूसरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। हालांकि, उनके अब तक किए गए सभी टेस्ट की रिपोर्ट सामान्य है। उन्होंने रविवार को अस्पताल से ही कोरोना समेत अन्य विभागों के अधिकारियों और मंत्रियों से चर्चा की। राजधानी भोपाल में 10 दिन का टोटल लॉकडाउन है। ऐसे में कई लोग शहर छोड़कर जा रहे हैं। वहीं, अब प्रदेश में संक्रमितों का आंकड़ा 28 हजार के पार पहुंच गया है। रविवार को सबसे ज्यादा 874 नए मामले मिले थे। अब तक 19132 व्यक्ति स्वस्थ हो चुके हैं। एक्टिव केस 7857 हैं। रविवार को 13752 सैंपल में से 12 हजार 878 की रिपोर्ट निगेटिव निकली। रविवार को 12 कोरोना संक्रमितों के दम तोड़ने से प्रदेश में 811 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। कटनी में 2 अगस्त और छतरपुर में 31 जुलाई तक टोटल लॉकडाउन किया गया है।भोपाल में 177 नए मामले सोमवार को राजधानी में फिर 177 नए केस सामने आए। नए संक्रमितों में गांधी मेडिकल कॉलेज के दो डॉक्टर समेत कुल 4  डॉक्टर भी पॉजिटिव निकले हैं। अच्छी बात यह है कि रविवार को कुल 77 मरीज ठीक होकर घर पर भी पहुंचे। भोपाल में कोरोना संक्रमितों की संख्या 5720 हो गई है। रविवार को 4 लोगों की कोरोना से मौत भी हुई।

Kolar News

Kolar News 27 July 2020

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना संक्रमित हो गए हैं। शनिवार को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसकी पुष्टि होने के बाद वे अपना इलाज कराने के लिए यहां चिरायु अस्पताल पहुंच गए और वहां उन्हें भर्ती कर लिया गया है।   मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर बताया है कि मैं कोरोना गाइड लाइन का पूरा पालन कर रहा हूं। उन्होंने अपील की है कि मेरे सम्पर्क में जो भी लोग आए हों, वे तुरंत अपनी जांच करवाएं। मुख्यमंत्री की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम सीएम हाउस पहुंची और शिवराज सिंह चौहान के परिवार के सदस्यों और वहां मौजूद स्टॉफ की जांच की। इसके बाद एम्बुलेंस से मुख्यमंत्री को चिरायु अस्पताल लाया गया। उन्हें कोविड केयर सेंटर में भर्ती कर उपचार शुरू कर दिया गया है। वहीं मुख्यमंत्री को अस्पताल में भर्ती करने से पहले ही चिरायु अस्पताल की सुरक्षा बढ़ा दी गई है और मीडिया को भी अस्पताल से दूर रखा गया है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में सीएम ने सभी मंत्रियों के साथ वन-टू-वन चर्चा की थी, इसी के साथ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा उनके साथ ज्यादातर स्थानों पर साथ गए थे। इससे पहले प्रदेश के कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे और मुख्यमंत्री उनसे भी लगातार सम्पर्क में बने हुए थे। शनिवार सुबह कोरोना जांच रिपोर्ट आने के बाद मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि 'मैं कोरोना पॉजिटिव हो गया हूं। मेरी सभी साथियों से अपील है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं, वे अपना कोरोना टेस्ट करवा लें। मेरे निकट सम्पर्क वाले एकांतवास में चले जाएं। मैं कोरोना गाइड लाइन का पूरा पालन कर रहा हूं। डॉक्टर की सलाह के अनुसार स्वयं को एकांतवास करुंगा और और इलाज कराऊंगा। मेरी प्रदेश की जनता से अपील है कि सावधानी रखें, जरा सी असावधानी कोरोना को निमंत्रण देती है।'मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना से घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना का समय पर इलाज होता है तो कोरोना बिल्कुल ठीक हो जाता है। मैं 25 मार्च से प्रत्येक शाम को कोरोना की समीक्षा बैठक करता रहा हूं। मैं यथासंभव अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से कोरोना की समीक्षा करने का प्रयास करूंगा और मेरी अनुपस्थिति में यह बैठक गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, नगरीय विकास एवं प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह, स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभु राम चौधरी करेंगे। मैं स्वयं भी एकांतवास में रहते हुए इलाज के दौरान प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के हर संभव प्रयास करता रहूंगा।

Kolar News

Kolar News 25 July 2020

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शुक्रवार रात आठ बजे से 10 दिन का टोटल लॉकडाउन लगाया है। शनिवार को सुबह से ही पूरा भोपाल लॉक है। बाजार पूरी तरह बंद हैं और सड़कों पर सन्नाटा छाया हुआ है। जगह-जगह पुलिस बल तैनात है और बेवजह घूमने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा रही है। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल वासियों से कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सहयोग की अपील की है। शनिवार को सुबह से ही भोपाल में पुलिस की सख्ती देखने को मिल रही है। लॉकडाउन के दौरान लोग बाहर निकल रहे हैं, उनके खिलाफ पुलिस कार्रवाई कर रही है। कुछ लोग पुलिस को देखकर वापस लौट रहे हैं तो कुछ बहस करते नजर आ रहे हैं। हालांकि, जरूरी सेवाओं और जरूरत पड़ने पर निकलने वाले लोगों को पूछताछ के बाद जाने दिया जा रहा है। भोपाल में लॉकडाउन के दौरान बाजारों के साथ-साथ बैंक भी आम लोगों के लिए बंद रखे गए हैं। दूध की दुकानें केवल सुबह नौ बजे तक खोली गई, उसके बाद पुलिस ने उन्हें भी बंद करा दिया।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता से अपील की है कि वे कोरोना संक्रमण की चेन तोडक़र इसे पराजित करने में अपना सहयोग दें। उन्होंने कहा कि यह जनता को बचाने का फैसला है। फिलहाल, पार्टियां और समारोह आयोजित न हों। घरों में भी सामाजिक दूरी का पालन करते और स्वच्छता से रहते हुए संक्रमण की चेन को हर स्थिति में तोड़ा जाए। लॉकडाउन से अनलॉक की स्थिति में आने के बाद जुलाई माह में कोरोना के पॉजीटिव प्रकरण निरंतर बढ़े हैं, जो चिंता का विषय है।भोपाल में टोटल लॉकडाउन 4 अगस्त की सुबह 5 बजे तक रहेगा। इसका कड़ाई से पालन कराने के लिए शहर में पुलिस ने करीब 200 जगह नाकेबंदी की है। करीब ढाई हजार पुलिसकर्मी शहरभर में लॉकडाउन का पालन कराने के लिए तैनात किये गये हैं, जो बिना कारण और मास्क लगाए बिना निकलने वाले पर धारा 144 के उल्लंघन की कार्रवाई करेंगे।

Kolar News

Kolar News 25 July 2020

भोपाल। मप्र में कोरोना का कहर तेजी से बड़ रहा है। इसके लिए राजधानी भोपाल में दस दिनों का टोटल लॉकडाउन भी लगाया गया है। इस बीच राजधानी भोपाल से बड़ी खबर सामने आई है। प्रदेश के मुखिया सीएम शिवराज सिंह चौहान भी कोरोना की चपेट में आ गए है। शनिवार सुबह उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने स्वयं ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। साथ ही उन्होंने संपर्क में आए सभी लोगों को घरेलू एकांतवास में जाने की सलाह दी है। सीएम शिवराज की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उनके संपर्क मेंं आए नेताओं में हडक़ंप मच गया है। वहीं सीएम शिवराज देश के पहले मुख्यमंत्री है जो कोरोना की चपेट में आए है।   सीएम शिवराज ने ट्वीट कर इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि ‘मेरे प्रिय प्रदेशवासियों, मुझे कोविड19 के लक्षण आ रहे थे, टेस्ट के बाद मेरी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मैं कोरोना पॉजिटिव हो गया हूं। मेरी सभी साथियों से अपील है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं वह अपना कोरोना टेस्ट करवा लें । मेरे निकट संपर्क वाले कोरेंनटाइन में चले जाएं। मैं कोरोना गाइड लाइन का पूरा पालन कर रहा हूं। डॉक्टर की सलाह के अनुसार स्वयं को कोरेनटाइन करूंगा और इलाज कराऊंगा। मेरी प्रदेश की जनता से अपील है कि सावधानी रखें, जरा सी असावधानी कोरोना को निमंत्रण देती है। मैंने कोरोना से सावधान रहने के हर संभव प्रयास किए लेकिन समस्याओं को लेकर के लोग मिलते ही थे। मेरी उन सब को सलाह है कि जो मुझसे मिले वह अपना टेस्ट करवा लें।एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा कि कोविड19 का समय पर इलाज होता है तो व्यक्ति बिल्कुल ठीक हो जाता है। मैं 25 मार्च से प्रत्येक शाम को कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा बैठक करता रहा हूँ। मैं यथासंभव अब वीडियो कांफ्रेंसिंग से कोरोना की समीक्षा करने का प्रयास करूंगा। मेरी अनुपस्थिति में अब यह बैठक गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा, नगरी विकास एवं प्रशासन मंत्री भूपेन्द्र सिंह, स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी करेंगे। मैं स्वयं भी इलाज के दौरान प्रदेश में कोविड19 नियंत्रण के हरसंभव प्रयास करता रहूंगा।   गौरतलब है कि सीएम शिवराज पिछले दिनों राज्यपाल लालजी टंडन के अंतिम दर्शन करने लखनऊ गए थे। उनके साथ विमान में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, संगठन मंत्री सुहास भगत और सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया मौजूद थे। मंत्री भदौरिया पहले ही कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इसके बाद सभी ने अपनी जांच करवाई थी, जिसमें प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन मंत्री सुहास भगत की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है लेकिन सीएम शिवराज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

Kolar News

Kolar News 25 July 2020

शिवपुरी। पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा से अभी हाल ही में राज्यसभा सांसद बने ज्योतिरादित्य सिंधिया को केंद्र की मानव संसाधन विकास मंत्रालय की संसदीय समिति में सदस्य मनोनीत किया गया है। राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को कमेटी में सदस्य मनोनीत किया है।   मानव संसाधन विकास मंत्रालय की संसदीय समिति में सदस्य के रूप में नई जिम्मेदारी मिलने पर भाजपा पदाधिकारी व कार्यकर्ताओं ने हर्ष व्यक्त किया और शुभकामनाएं दी हैं। गौरतलब है कि अभी हाल ही में ज्योतिरादित्य सिंधिया  भाजपा की ओर से मप्र से राज्यसभा सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए हैं। 22 जुलाई को राज्यसभा सदस्य के रूप में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शपथ ली थी और इस शपथ के बाद राज्यसभा के सभापति और उपराष्ट्रपति बैंकैया नायडू ने राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को कमेटी में सदस्य मनोनीत किया है।   लंबा अनुभव काम आएगा-    ज्योतिरादित्य सिंधिया का लोकसभा सांसद के रूप में लंबा अनुभव रहा है और अब वह राज्यसभा में अपनी नई पारी की शुरूआत कर रहे हैं। वैसे ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना-शिवपुरी संसदीय सीट पर हुए उपचुनाव में रिकॉर्ड मतों से जीते थे। इसके बाद वह गुना-शिवुपरी से संसदीय सीट से लगातार कई सांसद रहे। इसके बाद वह केंद्र सरकार में संचार मंत्री, ऊर्जा मंत्री सहित कई पद संभाल चुके हैं। ऐसे में उनके लंबा अनुभव का लाभ मिलना तय है।

Kolar News

Kolar News 24 July 2020

भोपाल। एग्रो इंडस्ट्रीज निगम द्वारा शुक्रवार को मंत्रालय में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को 2 करोड़ 64 लाख 85 हजार 618 रुपये का लाभांश चेक भेंट किया गया। उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य  मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह ने एमपी स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कारपोरेशन की ओर से लाभांश का यह चेक भेंट किया। जनसम्पर्क अधिकारी अशोक मनवानी ने बताया कि राज्य सरकार के इस सरकारी उपक्रम की कुल प्रदत्त समता अंश पूंजी 3 करोड़ 29 लाख 49 हजार 800 रुपये है। इसमें राज्य शासन की अंशदान राशि दो करोड़ 9 लाख 49 हजार 800 है और भारत शासन की अंशदान  राशि 1 करोड़ 20 लाख रुपये है। निगम ने वर्ष 2017- 18  में 966 .68 करोड़ का व्यवसाय किया है। एग्रो निगम द्वारा निरंतर डिविडेंड का भुगतान राज्य सरकार को किया जा रहा है। इसके साथ ही राज्य शासन से प्राप्त ऋण और ब्याज का पूर्ण भुगतान पूर्व में किया जा चुका है। एग्रो इंडस्ट्रीज कारपोरेशन वर्ष 2017 - 18 की स्थिति में 188.46 करोड़ के संचित लाभ में है। मुख्यमंत्री को निगम की गतिविधियों की