Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782

विशेष

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को मंत्रालय में प्रदेश में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि श्योपुर और शिवपुरी जिलों में कूनो और पार्वती नदी में आई बाढ़ में फंसे लोगों को एयरलिफ्ट कराने के लिए वायु सेना से तत्काल चर्चा कर व्यवस्था की जाए। अगले 48 घंटे में ग्वालियर, चंबल संभाग में बारिश की संभावना को देखते हुए ग्रामीणों को गाँवों से तत्काल निकलने के लिए कहा जाए। बैठक में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में जानकारी दी गई कि कूनो और पार्वती नदी में आई बाढ़ से श्योपुर और शिवपुरी जिले के गाँव प्रभावित हुए हैं। राहत और बचाव कार्य के लिए जिला प्रशासन, एस.डी.आर.एफ. कार्यरत है। एन.डी.आर.एफ. की टीम भी बाढ़ क्षेत्रों में पहुँच रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश के अन्य भागों में हो रही वर्षा और बांधों की स्थिति की जानकारी ली।  

Kolar News

Kolar News 2 August 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इंदौर में विकसित होने वाले फर्नीचर और खिलौना क्लस्टर में राज्य शासन हरसंभव सहयोग प्रदान करेगी। क्लस्टर में स्थापित इकाइयों से प्रदेश में रोजगार की संभावनाएं बढ़ेंगी। यह आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए आवश्यक है। इंदौर में फर्नीचर और खिलौना क्लस्टर विकसित करना, उद्योगपतियों की सराहनीय पहल है। मुख्यमंत्री चौहान सोमवार को मंत्रालय में इंदौर फर्नीचर क्लस्टर तथा खिलौना क्लस्टर के संबंध में भेंट करने आए उद्योगपतियों से चर्चा कर रहे थे। इस अवसर पर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा, आयुक्त उद्योग एवं सचिव सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विवेक पोरवाल उपस्थित थे।इंदौर फर्नीचर क्लस्टरइंदौर के बेटमा में 154 हेक्टेयर क्षेत्रफल में 600 करोड़ रुपये की लागत से फर्नीचर क्लस्टर विकसित किया जा रहा है। क्लस्टर में 171 निवेशकों द्वारा अपनी इकाइयाँ स्थापित की जाएंगी। इससे लगभग 5200 लोगों को रोजगार मिलेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने क्लस्टर के लिए नामांतरण के आधार पर अलॉटमेंट, क्लस्टर को तीन फेज में विकास की अनुमति और विद्युत सब स्टेशन, एक एम.एल.डी. पानी तथा 45 मीटर सड़क बनाकर देने की प्रतिनिधियों की माँग पर सहमति प्रदान की।इंदौर खिलौना क्लस्टरइंदौर में राऊ रंगवासा स्थित औद्योगिक क्षेत्र में बनने वाले खिलौना क्लस्टर में 70 करोड़ रुपये के निवेश की 20 इकाइयाँ स्थापित करने की योजना है। इससे लगभग 4 हजार लोगों को रोजगार मिलेगा। प्रथम वर्ष का अनुमानित उत्पादन लगभग 250 करोड़ रुपये का है। प्रतिनिधि मंडल ने क्लस्टर के लिए शासन द्वारा क्षेत्र को विकसित कर विभागीय दर पर सदस्यों को सीधे आवंटित करने संबंधी माँग रखी। मुख्यमंत्री चौहान ने इसकी सहमति देते हुए भवन निर्माण के लिए दो एफएआर की स्वीकृति भी प्रदान की।

Kolar News

Kolar News 2 August 2021

  भोपाल। मध्यप्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस को झूठ बोलने वाली पार्टी करार देते हुए कहा कि किसान, बेरोजगारों व महंगाई को लेकर हल्ला मचाने वाली कांग्रेस को तो इन मुद्दों पर बोलने का हक ही नही है क्योंकि वह तो चुनावी घोषणा पत्र में झूठ बोलकर पहले ही धोखेबाज़ी कर चुकी है। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि सच मे अजब कांग्रेस के गजब खेल है। कभी कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ किसानों की चिंता करते दिखते है तो कभी दिग्विजय सिंह बेरोजगारों को लेकर सरकार को कोसते दिखते है। आज सभी काँग्रेसी नेताओं को किसान, बेरोजगार ओर महंगाई की चिंता हो रही है लेकिन जब प्रदेश में कमलनाथ सरकार थी तब कांग्रेस सरकार ने क्या किया। कांग्रेस तो चुनाव में वचन देकर पलट गई। किसानों का 2 लाख तक का कर्जा माफ करने का वचन देने वालों ने एक भी किसान का कर्जा माफ नही किया। उन्होंने कहा कि कॉंग्रेस ने वादा किया था कि बेरोजगारों को 4 हज़ार रुपए हर महीने भत्ता देंगे। 15 महीने चली सरकार में एक भी बेरोजगार को भत्ता नही दिया। कायदे से हर बेरोजगार को 15 महीने में 60 हज़ार रुपए मिल जाना चाहिए थे।बेरोजगारो के नाम पर आज झूठे आंसू बहा रही इसी कांग्रेस ने लिखित में वादा कर बेरोजगारों के साथ छल किया। महंगाई को लेकर आज आंदोलन करने वाली कांग्रेस ने इस मुद्दे पर भी कांग्रेस ने जनता से झूठ बोला। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में पेट्रोल डीजल पर टैक्स कम करने का वादा किया था। लेकिन किया उसका उल्टा तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने घटाने की जगह वैट बढ़ा दिया। डॉ. मिश्रा ने कहा कि झूठे वादे कर सत्ता पाना और फिर भूल जाना कांग्रेस की पुरानी आदत है। जनता भी कांग्रेस की इस फितरत को अब अच्छे से समझ गयी है इसलिए वह कांग्रेस के बहकावे में नही आती है और आएगी भी नहीं चाहे काँग्रेसी कितने ही घडिय़ाली आँसू बहाते रहे।  

Kolar News

Kolar News 2 August 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को अपने नई दिल्ली प्रवास के दौरान केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से उनके कार्यालय में मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने ग्रीष्मकालीन मूंग की फसल के उपार्जन के संबंध में चर्चा की। मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री तोमर से अनुरोध किया कि राज्य में पंजीकृत किसानों द्वारा मूंग की फसल को अधिकाधिक केन्द्र द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उपार्जित किया जाए, जिससे किसानों को उनकी पैदावार का सही मूल्य मिल सके। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री से ग्रीष्मकालीन मूंग के लिए 05 लाख मीट्रिक टन अतिरिक्त का लक्ष्य एवं ग्रीष्मकालीन फसल उड़द के लिए 0.61 लाख मीट्रिक टन उपार्जन का लक्ष्य निर्धारित करने का भी आग्रह किया।मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा ग्रीष्मकालीन मूंग का 34020 मीट्रिक टन का अधिकतम उपार्जन करने का लक्ष्य और मूल्य स्थिरीकरण कोष योजना में मूंग फसल का एक लाख मीट्रिक टन उपार्जन करने का लक्ष्य प्राप्त हुआ है। इस प्रकार मूंग का कुल 1.34 लाख मीट्रिक टन उपार्जन लक्ष्य प्राप्त हुआ है। वर्ष 2020-21 में प्रदेश का कुल दलहन उत्पादन 64.94 लाख मीट्रिक टन है, जबकि कुल उपार्जन का लक्ष्य 17.23 लाख मीट्रिक टन होता है। अतः 17.23 लाख मीट्रिक टन उपार्जन किया जाना शेष है।मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में लगभग 3.2 लाख किसानों द्वारा 12 लाख मीट्रिक टन मूंग उपार्जन के लिए पंजीयन हुआ है। प्रदेश को अबतक 1.34 लाख मीट्रिक टन मूंग उपार्जन का लक्ष्य प्राप्त हुआ है जो अत्यन्त कम है। केन्द्रीय मंत्री तोमर ने मुख्यमंत्री को ध्यानपूर्वक सुना और केन्द्र द्वारा हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।

Kolar News

Kolar News 29 July 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में गुरुवार को कोरोना के 07 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेशवासियों से एक बार फिर कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइडलाइन्स का पालन करने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि थोड़ी सी भी असावधानी से स्थिति बिगड़ सकती है। मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि -"आज इंदौर ज़िले में कोविड-19 के 7 पॉज़िटिव केस आये हैं। मैंने प्रशासन को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। वहां के नागरिकों से भी मैं विनम्र अनुरोध करता हूँ कि अगर हमने ज़रा सी भी असावधानी रखी, तो परिस्थितियों को बदलने में देर नहीं लगेगी, इसलिए सजग रहें और गाइडलाइंस का पालन करते रहें।"उन्होंने अगले ट्वीट में कहा है कि -"आज पन्ना ज़िले में कई दिनों बाद कोविड-19 के 4 पॉज़िटिव केस आये हैं। मैंने प्रशासन को तुरंत कंटेन्मेंट ज़ोन बनाकर कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग कर स्थिति को नियंत्रित करने के निर्देश दिए हैं। आज राज्य में भी 18 पॉज़िटिव केस आये हैं। मैं सभी नागरिकों से अपील करता हूँ कि गाइडलाइंस का पालन आवश्यक रूप से करें। थोड़ी सी भी असावधानी से स्थिति बिगड़ सकती है। इसलिए मास्क लगते रहें, आपस में दूरी बनाकर रखें और हाथ धोते रहें। प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है।"

Kolar News

Kolar News 29 July 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित हायर सेकेण्डरी (12वीं) परीक्षा, हायर सेकेण्डरी व्यावसायिक सर्टिफिकेट परीक्षा और हायर सेकेण्डरी (अंध, मूक बधिर) श्रेणी के परीक्षा परिणाम गुरुवार को घोषित किये गए। प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने माध्यमिक शिक्षा मंडल में ऑनलाइन सिंगल क्लिक से परीक्षा परिणाम जारी किया। इस बार सभी विद्यार्थियों को उत्तीर्ण किया गया है। इस बार बोर्ड ने 12वीं का परीक्षा परिणाम 10वीं के ‘बेस्ट ऑफ फाइव सब्जेक्ट’ फॉर्मूले के आधार पर तैयार किया गया है। इसमें 10वीं कक्षा के पांच सबसे अच्छे परफॉर्मेंस वाले विषयों के अंक लिए गए हैं। इस बार माध्यमिक शिक्षा मंडल की कक्षा 12वीं की परीक्षा में करीब 7 लाख 37 हजार विद्यार्थी शामिल हुए थे। किसी भी विद्यार्थी को फेल नहीं किया गया है। इनमें से 52 फीसदी विद्यार्थी प्रथम श्रेणी, 40 फीसदी द्वितीय श्रेणी और सात फीसदी विद्यार्थी तृतीय श्रेणी में पास हुए हैं।विद्यार्थी और उनके अभिभावक एमपी बोर्ड के पोर्टल https://mpbse.mponline.gov.in, www.mpbse.nic.in, www.mpresults.nic.in के अलावा कुछ निजी मीडिया समूहों की बेवसाइट पर भी अपना परीक्षा परिणाम देख सकेंगे।स्कूल शिक्षा मंत्री परमार ने बताया कि जो स्टूडेंट्स इस रिजल्ट से संतुष्ट नहीं हैं, उनके लिए 01 सितम्बर से 25 सितम्बर 2021 के बीच री-एग्जाम का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन mpbse.nic.in या mponline.gov.in पर 01 अगस्त से 10 अगस्त 2021 तक कराए जाएंगे। स्टूडेंट्स चाहें तो सभी विषयों की परीक्षा दे सकते हैं या फिर जिस विषय में अंक कम हैं, सिर्फ उसकी परीक्षा दे सकते हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उच्च शिक्षा मंत्री के साथ बैठक कर यह निर्देश दिये हैं कि जितने भी स्टूडेंट्स 12वीं पास कर उच्च शिक्षा के लिए जा रहे हैं, उनका एडमिशन सुनिश्चित किया जा सके। इसके लिए अगर कॉलेजों में सीट्स बढ़ानी पड़े, तो सरकार वह भी करेगी। मंत्री परमार ने कहा कि अगले साल यानी 2022 की बोर्ड परीक्षा का पूरा कार्यक्रम 30 अगस्त 2021 तक जारी कर दिया जाएगा। कोशिश की जाएगी कि परीक्षा ऑफलाइन मोड पर आयोजित की जा सके। इसके अलावा इस पूरे साल सतत मूल्यांकन की प्रक्रिया चलती रहेगी, ताकि विषम परिस्थितियों में उन असेसमेंट्स के आधार पर रिजल्ट तैयार किया जा सके। स्कूल शिक्षा मंत्री परमार ने 12वीं के परीक्षा परिणाम में सफलता पाने वाले सभी विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि 12वीं कक्षा के परीक्षा परिणाम में सफलता पाने वाले सभी विद्यार्थियों को बधाई और सभी विद्यार्थियों के उज्ज्वल भविष्य एवं सफल जीवन के लिए के लिए हार्दिक शुभकामनाएं।  

Kolar News

Kolar News 29 July 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने प्रदेश के मंदसौर में जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के मामले में शिवराज सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि पहले उज्जैन में जहरीली शराब पीने से 14 लोगों की मौत हुई, जिसमें ज्यादातर मजदूर थे, फिर मुरैना के मानपुर और पहावाली गांव में 27 लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हुई। इसके बाद जहरीली शराब पीने से ही ग्वालियर में 2 लोगों की मौत हुई जबकि भिंड जिले में होली के समय जहरीली शराब पीने से 7 लोगों की मौत हुई। अब जहरीली शराब पीने से मंदसौर में 11 लोगों की मौत हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा था कि माफिया, शराब माफिया यहां से भाग जाए नहीं तो दस हाथ गहरे गड्ढे में गढ़ दूँगा। जीतू पटवारी ने पूछा कि वह दस हाथ गहरा गड्ढा कहा है आज तक पता ही नहीं चला, जब पता चला तो आदिवासियों की लाशें मिली उस गढ्ढे में, पटवारी ने कहा कि नकली सरकार में नकली जहरीली शराब से लोगों की मौत हुई। पटवारी ने कहा कि खरीद फरोख्त कर बनी शिवराज सरकार का "नक़ली" शब्द से गहरा संबंध हैं। यही कारण है कि नकली शराब, नकली खाद्यान, नकली रेमदिसिविर, नकली प्लाज्मा, नकली दवाइयां और मंत्रियों के नकली पीए भी सामने आने लगे है। जीतू पटवारी ने कहा कि कमलनाथ की 15 महीने की सरकार ने माफिया को प्रदेश से खदेड़ दिया था। लेकिन जबसे शिवराज सरकार आई है यह प्रदेश माफिया के लिए शरण स्थली बन गई है। जीतू पटवारी ने मांग करते हुए कहा कि उज्जैन में जहरीली शराब मामले में आईएएस अधिकारी राजेश राजौरा को जांच सौंपी थी उसका क्या हुआ जो एक बार फिर मंदसौर मामले में उनके नेतृत्व में जांच दल गठित कर दिया। क्या यह सरकार का पाखंड है या वह प्रदेश की जनता की आंखों में धूल झोंक रही है। जीतू पटवारी ने आबकारी विभाग जिस मंत्री के अंतर्गत आता है उसकी नैतिक जिम्मेदारी के आधार पर उनसे सरकार को इस्तीफा ले लेना चाहिए। पटवारी ने कहा कि जहरीली शराब क्यों बिक रही है क्योंकि बीजेपी के स्थानीय नेता माफिया से पैसा लेती है, इन स्थानीय नेताओं से भाजपा का संगठन पैसा लेता है और सरकार इन माफियाओं से पैसे की वसूली करती है, जिन्हें सरकार का संरक्षण प्राप्त है। उन्होंने कहा कि ये सभी मौतें शिवराज सरकार की लापरवाही का नतीजा है।  

Kolar News

Kolar News 28 July 2021

भोपाल। राजधानी भोपाल में बुधवार को ओबीसी महासंघ ने आरक्षण को लेकर प्रदर्शन किया। ओबीसी महासंघ के आंदोलन को आदिवासी संगठन और कांग्रेस का समर्थन मिला है। आंदोलन के दौरान पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प भी हुई और पुलस ने लाठीचार्ज का प्रयोग किया। पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने आंदोलन में शामिल लोगों पर किये गये बल प्रयोग और गिरफ़्तारी की कड़ी निंदा की है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा ‘हमारी सरकार ने ओबीसी वर्ग के हित के लिये उनके आरक्षण को 14 प्रतिशत से बढ़ाकर 27 प्रतिशत करने का निर्णय लिया था। शिवराज सरकार में इच्छाशक्ति के अभाव, कमजोर पैरवी व ठीक ढंग से पक्ष नही रखने के कारण यह आज तक लागू नही हो पाया है? कमलनाथ ने चेतावनी भरे स्वर में कहा कि ‘कांग्रेस ओबीसी महासभा के आंदोलन का पूर्ण समर्थन करती है। आज इस माँग को लेकर ओबीसी वर्ग के आंदोलन में शामिल लोगों पर किये गये बल प्रयोग, दमन व गिरफ़्तारी की कड़ी निंदा करता हूँ। शिवराज सरकार यदि इस वर्ग के साथ न्याय नही कर सकती है तो कम से कम दमन तो नही करे?

Kolar News

Kolar News 28 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में जहरीली शराब से हुई मौतों पर सरकार सख्त है। प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में शराब माफिया को किसी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। मंदसौर, इंदौर में मामला सामने आते ही प्रशासन ने आरोपियों के अवैध ठिकानों को नेस्तनाबूद कर दिया है। सरकार शराब के अवैध कारोबार पर अंकुश लगाने उत्तर प्रदेश की तर्ज पर कठोर कानून बना रही है। मीडिया से बातचीत करते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस का इतिहास उठाकर देख लीजिए , जुमलों की कतार मिलेगी। कांग्रेस ने 'इंदिरा लाओ गरीबी हटाओ' का नारा खूब लगाया। लेकिन देश से कांग्रेस के राज्य में एक बार भी गरीबी नहीं हटी, गरीब जरूर हटा दिए। कांग्रेस की इसी तरह आज भी जुमलेबाजी जारी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस झूठ पर आधारित पार्टी है। यही वजह है कि पंजाब,राजस्थान व छत्तीसगढ़ में उसकी सरकारों में अंतर्कलह मची है। दरअसल कांग्रेस हाईकमान अपना दखल बनाए रखने के लिए हर राज्य में पेंच फंसा देता है। उसे राजस्थान में सचिन पायलट और छत्तीसगढ़ में टीएस सिंहदेव से किया वादा निभाना चाहिए। कांग्रेस में हमेशा से परिवार का पेट भरने की चिंता गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस के अंदर की समस्या कांग्रेस के लोग भी अच्छे से जानते हैं ,लेकिन बताते नहीं हैं। छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल यदि अपने दामाद को ऑब्लाइज कर रहे हैं,तो यह कोई नई बात नहीं है। यह कांग्रेस की पुरानी और शीर्ष से चलने वाली परंपरा है। सच यह है कि कांग्रेस में हमेशा से परिवार का पेट भरने की चिंता की जाती है, गरीब का नहीं।  

Kolar News

Kolar News 28 July 2021

उज्जैन। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्रावण मास के प्रथम सोमवार को उज्जैन पहुंचकर महाकालेश्वर मन्दिर में सपरिवार भगवान महाकालेश्वर के दर्शन कर पूजन अर्चन किया। इस दौरान उन्होंने बाबा महाकाल का महारूद्राभिषेक भी किया। महारूद्राभिषेक महाकालेश्वर मन्दिर के पुरोहितों एवं पुजारियों द्वारा सम्पन्न कराया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी पत्नी साधना सिंह एवं दोनों पुत्र कार्तिकेय सिंह एवं कुणाल सिंह के साथ महाकालेश्वर मंदिर पहुंचे और यहां सभी ने मिलकर महारूद्राभिषेक पूजन किया। पूजन शासकीय पुजारी घनश्याम शर्मा के आचार्यत्व में सम्पन्न हुआ। महारूद्राभिषेक पूजन के दौरान प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, उज्जैन उत्तर के विधायक पारस जैन, महिदपुर के विधायक बहादुरसिंह चौहान, बहादुरसिंह बोरमुंडला, विवेक जोशी, विशाल राजौरिया, कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र कुमार शुक्ला, अन्य जनप्रतिनिधि, मीडिया के प्रतिनिधि तथा शासकीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।मुख्यमंत्री ने दिवंगत पुजारी महेश शर्मा की पुत्री को दिया 11 लाख रुपये का चेक   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने उज्जैन प्रवास के दौरान महाकालेश्वर मन्दिर में महारूद्राभिषेक पूजन में शामिल हुए। पूजन के पश्चात मुख्यमंत्री चौहान ने महाकालेश्वर मन्दिर के दिवंगत पुजारी महेश शर्मा (उस्ताद) की सुपुत्री सृष्टि शर्मा को 11 लाख रुपये की सहायता राशि का चेक प्रदान किया। उल्लेखनीय है कि उक्त राशि महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के द्वारा स्वीकृत की गई थी।  

Kolar News

Kolar News 26 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मंदसौर जिले में प्रदेश के आबकारी मंत्री के क्षेत्र खंखरई गाँव में ज़हरीली शराब में तीन लोगों की दुखद मौत की घटना को बेहद गंभीर बताते हुए कहा कि शिवराज सरकार इस इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जाँच की तत्काल घोषणा करे। कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में शिवराज सरकार के आने के बाद अवैध शराब का व्यापार पूरे प्रदेश में फल-फूल रहा है, शराब माफिय़ाओं के हौसले बुलंद है, प्रदेश के कई हिस्सों में ज़हरीली शराब से कई लोगों की मृत्यु पिछले कुछ समय में हो चुकी है, आबकारी मंत्री के क्षेत्र में ज़हरीली शराब की यह घटना कई सवाल खड़े कर रही है? उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि शिवराज सरकार इसे रोकने में गंभीर नही दिख रही है? ना माफिया 10 फि़ट नीचे गढ़ रहे है, ना टंग रहे है, ना लटक रहे है? ना हमारे मुख्यमंत्री जी का अलग मूड नजऱ आ रहा है? पूर्व सीएम कमलनाथ ने सरकार से इस घटना में मृत प्रत्येक पीडि़त परिवार को 10 -10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की माँग की है, साथ ही अस्पताल में भर्ती लोगों के सरकारी खर्च पर इलाज की समुचित व्यवस्था करने व पीडि़त परिवारों की हर संभव मदद की माँग की है। इस घटना को लेकर उन्होंने कांग्रेस का एक जाँच दल बनाने की भी घोषणा की है। जो मौक़े पर जाकर पूरे मामले की जाँच कर, पीडि़त परिवारों से मिल कर, इसकी पूरी रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सौंपेगा। जाँच दल में - नवकृष्ण पाटिल ( अध्यक्ष मंदसौर कांग्रेस कमेटी), राजकुमार अहीर (वरिष्ठ कांग्रेस नेता), उमराव सिंह गुर्जर को शामिल किया गया है।

Kolar News

Kolar News 26 July 2021

भोपाल। मंदसौर में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत के मामले में पिपलिया मंडी थाना प्रभारी शिव कुमार यादव और एसआई रामलाल दडिग को निलंबित कर दिया गया है। मामले में आबकारी विभाग के निरीक्षक नरेंद्र डामोर को भी निलंबित कर दिया गया है। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि एमपी में माफिया के खिलाफ निरंतर अभियान चल रहा है। मंदसौर में अवैध शराब मामले में एक टीआई, एसआई और आबकारी अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है। प्रदेश में किसी भी तरह के माफिया को पनपने नहीं दिया जाएगा। इसके अलावा प्रशासन ने अवैध शराब बेचने वाले पिंटू उर्फ योगेंद्र का मकान तोड़ दिया है। पिपलिया मंडी थाना क्षेत्र के खकरई गांव में किराने की दुकान से अवैध शराब खरीदकर पीने से तीन लोगों की मौत हुई थी। कांग्रेस पर कसा तंज इस दौरान मंत्री मिश्रा ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस की सिर्फ दो राज्यों में बहुमत की सरकार बची है। इस समय पूरे देश में कांग्रेस में मची अंतर्कलह की ही चर्चा है। रहा सवाल कमलनाथ जी का तो जब उन्हें अपनी सरकार गिरने का ही पता नहीं चला तो अरुण यादव के बारे में क्या पता चलेगा। पंजाब और छत्तीसगढ़ के हालात देख लीजिए, कांग्रेस में सब जगह कबीलों की तरह खींचातानी चल रही है।

Kolar News

Kolar News 26 July 2021

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कमलनाथ ने गुरुवार को एक बयान जारी कर सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि कोरोना की इस दूसरी लहर में हमने प्रदेश के भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन, सागर, खंडवा, शहडोल, मुरैना, छतरपुर सहित कई जिलों में बड़ी संख्या में लोगों को ऑक्सीजन के अभाव में खुली आँखो से दम तोड़ते देखा है। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन के सिलेंडर लिये दर-दर भटकते देखा है, ऑक्सीजन की कमी से अस्पतालों में हाहाकर मचते देखा है। कई जिलों में अस्पतालों ने ऑक्सीजन की कमी के बोर्ड लगाकर मरीजों को भर्ती करने से तक से मना कर दिया था। अस्पताल में भर्ती मरीजों से लिखवा लिया गया था कि ऑक्सीजन की कमी से होने वाली जनहानि के लिये वो ही जिम्मेदार होंगे। सरकार ख़ुद इन मौतों के बाद जागी और प्रदेश भर के अस्पतालों में ऑक्सीजन संयंत्र लगाने की घोषणाएँ की गयी, जो कि आज दो माह भी अधूरे है, और आज शिवराज सरकार बड़ी ही बेशर्मी से कह रही है कि ऑक्सीजन की कमी से प्रदेश में कोई मौत नही हुई, प्रदेश में ऑक्सीजन की कोई कमी ही नही थी, यह तो पीडि़त परिवारों के साथ मजाक है? कमलनाथ ने कहा कि उस समय तो कहते थे कि हम रात-दिन जागकर ऑक्सीजन की व्यवस्था में लगे रहे? आखिर सरकार सच्चाई से क्यों भाग रही है, क्यों नही स्वीकार रही है कि उसके कुप्रबंधन से, ऑक्सीजन की कमी से बड़ी संख्या में लोगों की जाने गयी? यह तो झूठ की इंतेहा है? पूर्व सीएम ने कहा कि जब मैंने कोरोना से हुई मौतों के वास्तविक आँकड़े जारी किये, सरकार के झूठ की पोल खोली तो मेरे खिलाफ एफ़आईआर तक दर्ज करवा दी, सरकार भले मुझ पर और एफ़आईआर दर्ज करवा दे, लेकिन आज मैं दावे के साथ कह रहा हूँ कि मध्यप्रदेश के कई जिलों में ऑक्सीजन के अभाव से सैकड़ों लोगों की जाने गयी है, कई मौतें तो रिकोर्ड तक में नहीं आ पायी। हर पीडि़त परिवार ने ऑक्सीजन के इस भीषण संकट को भुगता है, मैं और कांग्रेस उन परिवारों के साथ खड़ी थी, खड़ी है और खड़ी रहेगी। यह सच है कि जिन लोगों ने अपनो को खोया है वो इस झूठी, निष्ठुर सरकार को कभी माफ़ नही करेंगे?

Kolar News

Kolar News 22 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में देश के एक बड़े अखबार दैनिक भास्कर समूह के आधा दर्जन ठिकानों पर आयकर विभाग द्वारा छापामार कार्रवाई की गई है। जानकारी मिली है कि गुरुवार को तड़के दैनिक भास्कर के मालिकों के घरों और संस्थानों पर एक साथ आयकर विभाग की टीम ने दबिश दी। फिलहाल कार्रवाई जारी है। जानकारी मिली है कि आयकर विभाग की इन्वेस्टिगेशन विंग द्वारा दैनिक भास्कर समूह के भोपाल, जयपुर, नोएडा, अहमदाबाद और मुंबई आदि शहरों में स्थित ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की जा रही है। भोपाल में दैनिक भास्कर कार्यालय में मौजूद सभी कर्मचारियों के मोबाइल फोन जब्त कर लिए गए हैं। यहां तक कि किसी को बाहर भी निकलने नहीं दिया जा रहा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने आयकर विभाग की इस कार्रवाई को पत्रकारिता पर मोदी-शाह का प्रहार बताया है। उन्होंने ट्वीट किया है कि - "पत्रकारिता पर मोदी-शाह का प्रहार!! मोदी-शाह का एक मात्र हथियार आईटी, ईडी, सीबीआई। मुझे विश्वास है अग्रवाल बंधु डरेंगे नहीं।"  

Kolar News

Kolar News 22 July 2021

भोपाल। देश में ऑक्सीजन की कमी से मौत नहीं होने के दावे पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर हमला बोला है। मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस अब मौत पर सियासत न करें। राज्यों द्वारा भेजी गई सूचना के आधार पर केंद्र ने राज्यसभा में जवाब दिया। छतीसगढ़ सहित कांग्रेस शासित राज्यों ने भी मौत से इनकार किया है। बुधवार को मीडिया से बातचीत करते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मौत पर सियासत करना कांग्रेस का शगल है और वह यही कर रही है। केंद्र ने राज्यों से मिली सूचना के आधार पर ही जवाब दिया है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस सरकार ने केंद्र को भेजी रिपोर्ट में कहा है कि प्रदेश में कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई। केंद्र ने भी यही जानकारी दी। उपचुनावों में सभी भ्रम दूर हो जाएंगे मंत्री मिश्रा ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि देश में कांग्रेस रसातल की ओर जा रही है और मध्य प्रदेश की जनता जागरूक और समझदार है। जाहिर है डूबते जहाज में कौन बैठना चाहता है। कांग्रेस की अब प्रदेश में सरकार तो बनना नहीं है। कांग्रेस दमोह के सपने नहीं देखे, उपचुनावों में उसके सभी भ्रम दूर हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि जग जाहिर है कि दिग्विजय सिंह की वजह से ही प्रदेश में कमलनाथ सरकार गिरी है। अब वो उन्हें नेताप्रतिपक्ष के पद से भी हटवाने का षड्यंत्र रच रहे हैं। कमलनाथ जी आपको दिग्गी राजा की साजिशों से बचकर रहना चाहिए। वहीं डबरा में महिला के एसिड पीने के मामले में कांग्रेस के आरोप पर कहा कि भ्रम के कारण ये स्थिति निर्मित हुई। महिला ने पहले खुद एसिड पीने का बयान दिया था। केंद्रीय महिला आयोग की सदस्य से मिलने के बाद पीडि़त महिला ने अपना बयान बदला। इसके बाद धाराएं बढ़ाई गई। कांग्रेस नेता डॉ गोविंद सिंह से बंद कमरे में हुई चर्चा कांग्रेस नेता डॉ गोविंद सिंह और लखन घनघोरिया बुधवार को गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात करने उनके निवास पहुंचे। यहां दोनों नेताओं के बीच बंद कमरे में चर्चा हुई। दोनों दलों के कद्दावर नेताओं की मुलाकात के बाद राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर तेज हो गया है। इनकी मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं।  

Kolar News

Kolar News 21 July 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को अमर शहीद मंगल पांडेय की जयंती पर उन्हें नमन कर स्मरण किया। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने निवास पर शहीद मंगल पांडेय के चित्र पर माल्यार्पण किया। देश में आजादी की लड़ाई का पहली बार शंखनाद करने वाले अमर शहीद मंगल पांडेय की 194वीं जयंती है। उनका का जन्म 19 जुलाई 1827 को उत्तर प्रदेश के बलिया में हुआ था। वे ईस्ट इंडिया कंपनी की 34वीं बंगाल इंफेन्ट्री के सिपाही थे। उन्हें आजादी की लड़ाई के नायक के रूप में सम्मान दिया जाता है। अंग्रेजों को डर था कि मंगल पांडेय ने विद्रोह की जो चिंगारी जलाई है वह देशभर में कहीं ज्वाला न बन जाए। इसलिए तय तारीख से 10 दिन पहले ही 8 अप्रैल 1857 को मंगल पांडे को फांसी दे दी गई।भारत के स्वाधीनता संग्राम में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को लेकर भारत सरकार द्वारा उनके सम्मान में सन् 1984 में एक डाक टिकट जारी किया गया।

Kolar News

Kolar News 19 July 2021

अशोकनगर। व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिये चर्चित मध्य प्रदेश के ऊर्जा मंत्री जब अशोकनगर जिले के प्रभारी मंत्री बनकर पहली बार यहां आए तो शुरू से ही सरकारी तंत्र पर नकेल कसने की अपनी मंशा जाहिर कर गए। ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर एक दिन की यात्रा पर अशोकनगर आए थे। सबसे पहले उन्होंने यहां टेढ़े खंभे और टूटी लाइनें देखीं तो विभागीय अधिकारियों को फटकार लगाई। इसके बाद देर रात जिला चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान अव्यवस्थाएं देखकर उन्हें सुधरवाने के लिए गांधीगिरी करते नजर आए। दरअसल, प्रभारी मंत्री तोमर सोमवार को जिला अस्पताल की व्यवस्थाओं को देखने के लिए पहुंचे थे। जिला चिकित्सालय में मंत्री प्रद्युम्नसिंह तोमर ने कोविड वार्ड के आइसीयू में दवाओं को रखने वाले फ्रिज को खोला, तो वह बंद मिला। यह देखते ही मंत्री का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया। उन्होंने धमकी भरे अंदाज में सिविल सर्जन डॉ. हर्षवर्धन जैन से कहा कि इसके लिए मैं 21 बार जेल गया हूं। उन्होंने फिर दोबारा हाथ की अंगुलियों को चलाते हुए कहा कि 21 बार। मैं आपको द्वितीय बार प्रणाम कर रहा हूं। लापरवाही बर्दाश्त नहीं करूंगा। मैटरनिटी वार्ड के बाहर से ऊर्जा मंत्री निकल रहे थे, तभी वाटर कूलर पर नजर पड़ी, वह भी बंद मिला। इस बात पर मंत्री ने नाराजगी जताते हुए कहा कि सिविल सर्जन आपकी सीआर खराब हो जाएगी। तीन दिन के भीतर इस वाटर कूलर को सुधरवाओ। उनके साथ पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्रसिंह सिसोदिया, कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए. और पुलिस अधीक्षक राजीवकुमार मिश्रा भी रहे। निरीक्षण के दौरान बहानेबाजी कर रहे चिकित्सा अधिकारियों को मंत्री ने कहा कि व्यवस्थाओं को सुधारने के लिए वे लगातार काम करते रहे हैं और एक-एक चीज के बारे में अच्छे से जानते हैं। इसी कारण उनको 21 बार जेल भी जाना पड़ा है। मंत्री के लहजा बदल कर इस तरह बात करने के बाद सिविल सर्जन और अन्य जिम्मेदारों को शर्मिंदा होना पड़ा।  

Kolar News

Kolar News 19 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। कांग्रेस द्वारा लगातार महंगाई और किसानों के मुद्दे पर सवाल उठाए जाने पर गृह मंत्री ने कहा है कि जब कांग्रेस के नेता किसानों की बात करते हैं तो मुझे अजीब लगता है। कांग्रेसी नेता वल्लभ भवन से बाहर नहीं निकले। उन्होंने कहा कि महंगाई और किसानों पर बात करने का हक कांग्रेस को नहीं है। इस दौरान गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने नगरीय निकाय चुनाव टालने के कांग्रेस के आरोप पर कहा कि कोरोना की तीसरी लहर के नाम कांग्रेस का राजनीति करना अच्छी बात नहीं है। हम सभी पहली और दूसरी लहर की पीड़ा भोग चुके हैं। अभी भी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। राजनीति के लिए विषयों की कमी नहीं है। कांग्रेस को कोरोना के नाम पर राजनीति कर जनता में भ्रम की स्थिति नहीं फैलाना चाहिए। दिग्विजय सिंह पर कसा तंज दिग्विजय सिंह द्वारा भाजपा में मप्र के अगले मुख्यमंत्री की लिस्ट जारी करने के बयान पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह जी आजकल भाजपा की कुछ ज्यादा ही चिंता कर रहे हैं जबकि उन्हें कांग्रेस की चिंता करने की जरूरत है। कांग्रेस अपना राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं तय कर पा रही है। कार्यकारी अध्यक्ष से काम चलाना पड़ रहा है। इसकी फिक्र करने के बजाय दिग्विजय मप्र में भाजपा के मुख्यमंत्री को लेकर परेशान है। मैं जानता हूं कि वे किसके कहने पर सोशल मीडिया कैंपेन चला रहे हैं। कांग्रेस की दुर्दशा पर होता है अफसोस पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी होने के नाते कांग्रेस की दुर्दशा देखकर अफसोस होता है। जिस व्यक्ति ने राहुल गांधी को पप्पू बोला, कांग्रेस को मुन्नी से भी ज्यादा बदनाम कहा, उसे पंजाब में पार्टी का मुखिया बनाना पड़ा। कांग्रेस के भाइयों अब मिलकर ठोको ताली...!

Kolar News

Kolar News 19 July 2021

विदिशा/भोपाल। विदिशा जिले के गंजबासौदा थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम लाल पठार में हुए हादसे पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान निरंतर नजर बनाए हुए हैं। वे मंत्रालय स्थित राज्य स्तरीय सिचुएशन रूम से गंजबासौदा के रेस्क्यू ऑपरेशन का समन्वय कर रहे हैं। उनके साथ गृह मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा भी उपस्थित हैं। घटनास्थल से चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने शुक्रवार सुबह उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराया। सीएम शिवराज ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि गंजबासौदा हादसे में असमय अपनी जान गवाने वाले मृतकों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति एवं परिजनों को यह गहन दुःख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना है। राज्य शासन ने निर्णय लिया है कि मृतकों के परिवारजनों को 5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता, घायलों को 50 हज़ार रुपये एवं नि:शुल्क इलाज की सुविधा प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा है कि सिचुएशन रूम से हमने घटनास्थल का निरीक्षण किया। रात से ही, जैसे ही जानकारी मिली प्रशासन सक्रिय हुआ है। कलेक्टर, एसपी, एडीजी, कमिश्नर, मंत्री विश्वास सारंग बिना पलक झपके रातभर से स्वयं अपनी निगरानी में राहत एवं बचाव कार्य करा रहे हैं। घटनास्थल पर कमिश्नर, आईजी, कलेक्टर, एसपी एनडीआरएफ, एसडीआरएफ की टीम लोगों को मदद पहुंचा रही है। राज्य शासन के प्रतिनिधि के तौर पर विदिशा के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग रात भर घटनास्थल पर मौजूद रहे, उनकी देखरेख में बचाव दल फसे हुए लोगों को बचाने में जुटे हुए हैं। मैं लगातार घटना स्थल पर मौजूद प्रशासन से संपर्क में हूँ और बचाव कार्यों की निरंतर मॉनिटरिंग कर रहा हूँ। राज्यपाल ने हादसे पर दुख व्यक्त कियामध्यप्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल ने गंजबासौदा हादसे पर दुख व्यक्त करते हुए मृतकों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि विदिशा जिले के गंजबासौदा में हुई दुर्घटना के समाचार से वे अत्यंत दुःखी हैं। वे ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और उनके परिजनों को यह गहन दु:ख सहने की शक्ति देने और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करते हैं।गृह मंत्री ने मृतकों को दी श्रद्धांजलिप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गंजबासौदा के लाल पठार गांव में हुए कुआ हादसा में मृतकों की प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की है। उन्होंने ट्वीट कर रहा है कि ‘गंजबासौदा के लाल पठार गांव में कल रात हुए दर्दनाक हादसे में काल कवलित हुए लोगों को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि वे दिवंगत आत्माओं को शांति दें और परिजनों को यह गहन दुख सहने का आत्मबल प्रदान करें।’गंजबासौदा के लाल पठार गांव में गुरुवार रात एक बच्चा कुएं में गिर गया था। उसे बचाने के लिए 25-30 ग्रामीण कुएं की मुंडेर और उस पर लगी जाली पर चढ़ गए थे। अचानक हुए हादसे के चलते ग्रामीण, जाली और मिट्टी के साथ कुएं में जा गिरे थे। देर रात राहत एवं बचाव कार्य के दौरान भी 20 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया था। विदिशा जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग भी देर रात मौके पर पहुंच गए थे और रातभर वहीं रहे। सुबह बचाव कार्य के दौरान दो शव और निकाले गए। अब तक कुल चार शव निकाले जा चुके हैं। अनुमान है कि तीस से अधिक लोग कुएं में गिरे थे। ग्रामीणों ने घर-घर जाकर लापता लोगों का पता किया है। बताया गया है कि अभी गांव के 11 लोग लापता हैं। फिलहाल कुएं में राहत एवं बचाव कार्य जारी है।  

Kolar News

Kolar News 16 July 2021

भोपाल। विदिशा जिले के गंजबासौदा क्षेत्र में गत रात्रि लालपठार गांव में 30 फिट गहरे कुएं में एक बच्चे के गिरने, बच्चे को देखने कुए की मुड़ेर पर उमड़ी भीड़ से मुड़ेर गिर जाने और लगभग 20 लोगों के कुए में गिर जाने से हुई अत्यंत हृदय विदारक एवं दर्दनाक घटना पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने हादसे में मारे गये लोगों के प्रति दु:ख व्यक्त करते हुए अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त की तथा उन्हें अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। साथ ही उक्त घटना की जद में आये बचे हुए ग्रामीणों की जीवन रक्षा की कामना की है। ज्ञात हो कि हादसे में करीब 4 लोगों की मौत होने की खबर है तथा कई लोग अभी भी लापता है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाथ के निर्देश पर प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर ने उक्त घटना की जांच हेतु एक चार सदस्यीय समिति गठित की है। समिति में विदिशा जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमल सिलाकारी, विधायक शशांक भार्गव, पूर्व विधायक निशंक जैन और लोकसभा प्रत्याशी शैलेन्द्र पटेल को शामिल किया गया है। प्रदेश कांग्रेस ने समिति के सदस्यों को निर्देशित किया है कि वे अपने कार्यकर्ता साथियों सहित तत्काल घटना स्थल पर पहुंचकर राहत कार्यों में मदद करें और घटना से प्रभावित लोगों को हर संभव मदद पहुंचाने का प्रयास करें, उनके दु:ख में सहभागी बन उन्हें ढांढ़स बंधायें। घटना की जांच कर प्रदेश कांग्रेस को विस्तृत वस्तु स्थिति से अवगत करायें।

Kolar News

Kolar News 16 July 2021

विदिशा/भोपाल। विदिशा जिले के गंजबासौदा थाना अंतर्गत ग्राम लाल पठार में गुरुवार रात एक बच्चे को बचाने की कोशिश कर रहे 25-30 लोग कुएं में गिर गए। सूचना मिलने पर पुलिस और प्रशासन का अमला मौका पर पहुंचा और रेस्क्यू शुरू किया। सुबह तक कुएं से करीब 20 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया, जबकि चार लोगों के शव बरामद हुए हैं। फिलहाल रेस्क्यू जारी है। जानकारी के मुताबिक, लाल पठार गांव गुरुवार रात करीब 9.00 बजे 13 साल का बच्चा कुएं में गिर गया। उसे बचाने के लिए बड़ी संख्या में ग्रामीण वहां पहुंचे और कुएं पर बनी बाउंड्री वॉल पर खड़े हो गए। इसी दौरान बाउंड्री वॉल भरभराकर कुएं में जा गिरी। उसके साथ बाउंड्री वॉल पर खड़े 25-30 लोग भी कुएं में जा गिरे। कुएं की गहराई करीब 40 फीट बताई जा रही है और उसमें करीब 20-25 फीट तक पानी भरा हुआ था। घटना की जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन के तमाम अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और रेस्क्यू आपरेशन शुरू किया। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम भी मौके पर पहुंच गई है। बताया जा रहा है कि करीब 20 लोगों को कुएं से निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया है, जबकि चार लोगों के शव बरामद हुए हैं। अभी कुछ लोगों के कुएं में दबे होने की संभावना है। उच्चस्तरीय जांच व सहायता के निर्देश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया है कि विदिशा जिले के गंजबासौदा थानांतर्गत कुछ लोगों के कुएं में गिरने की प्रारंभिक सूचना मिली है। घटनास्थल पर एसडीएम उपस्थित हैं। प्रशासन की टीम तत्परता के साथ बचाव कार्य में जुटी हुई है। मुख्यमंत्री चौहान ने सीएस, डीजीपी और एसडीआरएफ डीजी से बात की है। वे लगातार स्थिति का जायजा ले रहे हैं और लाइव कॉन्टैक्ट में हैं। उन्होंने घटना की उच्चस्तरीय जांच और पीड़ितों को हरसंभव सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा है कि मैंने गंजबासौदा घटना की उच्चस्तरीय जांच और पीड़ितों को हरसंभव चिकित्सकीय सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। पूरी ताकत से प्रशासन राहत और बचाव कार्यों में लगा है। मैंने इसी स्थान को कंट्रोल रूम बना दिया है। लगातार मैं सीधे राहत एवं बचाव कार्य के संपर्क में हूं। उन्होंने कहा कि गंजबासौदा में कुएं में अनेक लोगों के गिरने की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। राहत व बचाव कार्य हेतु एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम, कमिश्नर, आईजी मौके पर पहुंच गए हैं। बेहतर से बेहतर प्रयास करके हम रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहे हैं। विश्वास सारंग भी तत्काल घटनास्थल पर पहुंच गए हैं।  

Kolar News

Kolar News 16 July 2021

ग्वालियर। कोविड का संकट अभी टला नहीं है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर की चुनौती हम सबके सामने है। इसलिए पुख्ता रणनीति के तहत और तेजी के साथ सभी इंतजाम किए जाएं। कोरोना संकट के दौरान सरकारी अस्पातलों के प्रति जनता का विश्वास बढ़ा है। हमारे प्रयास ऐसे हों कि यह विश्वास और मजबूत हो।यह बात जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने गुरुवार को जिले में कोविड-19 की तीसरी लहर से निपटने के लिये की जा रही तैयारियों की समीक्षा करते हुए कही। जनप्रतिनिधिगणों एवं अधिकारियों की इस संयुक्त बैठक में उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह व सांसद विवेक नारयण शेजवलकर भी मौजूद थे।प्रभारी मंत्री सिलावट ने कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिये ग्वालियर जिले की पूरी टीम के प्रति आभार व्यक्त किया और बधाई देते हुए कहा कि कोरोना के आगामी संकट से निपटने के लिये कोई भी कार्य कागज पर न रह जाए। उसके नतीजे सामने दिखना चाहिए। उन्होंने जिले में निर्माणाधीन सभी ऑक्सीजन प्लांट हर हाल में दो माह के भीतर पूर्ण करने पर विशेष बल देते हुए कहा कि सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ बड़े प्राइवेट अस्पतालों में भी प्राथमिकता के साथ ऑक्सीजन प्लांट लगवाए जाएं। सिलावट ने कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर शहर के साथ-साथ ग्रामीण अंचल के स्वास्थ्य केन्द्रों की व्यवस्थाएं भी बेहतर करने के निर्देश दिए। उन्होंने जिला कलेक्टर से कहा कि सरकारी अस्पतालों में मानव संसाधन की पूर्ति के लिए प्रस्ताव तैयार करें। वे सांसद, जिले के मंत्रिगण एवं अन्य वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर मानव संसाधन की पूर्ति के लिये स्वास्थ्य व चिकित्सा अधिकारियों के साथ भोपाल में बैठक करेंगे। साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी इस संबंध में आग्रह किया जाएगा।जिले में ऑक्सीजन की उपलब्धता और खपत का आंकलन, सरकारी व निजी अस्पतालों में आईसीयू सहित बैड की उपलब्धता, कोविड जांच व टीकाकरण समेत कोविड की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिये की जा रही तैयारियों की विस्तार से समीक्षा की गई।कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में जानकारी दी कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर को ध्यान में रखकर मानव संसाधन की कमी को दूर करने के लिये जिले में 2 हजार कर्मचारियों को स्वास्थ्य सेवाओं का विशेष प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिले के अस्पतालों में लगभग 6 हजार बैड की उपलब्धता का इंतजाम कर लिया गया है। जिसे जरूरत पड़ने पर आसानी से 8 हजार किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि सरकारी एवं निजी अस्पतालों के अलावा 53 नर्सिंग कॉलेज में भी ऑक्सीजन व स्टाफ सहित बैड की व्यवस्था कराई जा रही है।कलेक्टर ने जानकारी दी कि जिले के सरकारी अस्पतालों में 9 ऑक्सीजन प्लांट निर्माणाधीन हैं, इनमें से कुछ पूर्ण हो चुके हैं शेष दो माह के भीतर पूर्ण हो जायेंगे। जिले में 120 मीट्रिक टन ऑक्सीजन भण्डारण की क्षमता विकसित कर ली गई है। ऑक्सीजन प्लांट के अलावा 2200 सिलेण्डर वर्तमान में उपलब्ध हैं और एक हजार का इंतजाम किया जा रहा है। जिला पंचायत सीईओ किशोर कान्याल ने कोविड-19 की तीसरी लहर से निपटने के लिये बनाई गई जिले की रणनीति पर विस्तार से प्रजेण्टेशन दिया।वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों द्वारा दिए गए उपयोगी सुझाव   राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने ग्रामीण अंचल के हर विधानसभा क्षेत्र के कम से कम एक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में सी टी स्कैन मशीन की व्यवस्था करने का सुझाव रखा। साथ ही ग्रामीण अस्पतालों में रिक्त पदों की जल्द पूर्ति कराने की बात कही।सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने तात्कालिक रूप से अनुबंध के आधार पर मानव संसाधन का इंतजाम, डबरा के अस्पताल में 15 अगस्त तक आईसीयू और ऑक्सीजन प्लांट चालू कराने पर बल दिया। साथ ही कहा यहां के अस्पताल भवन का निर्माण भी जल्द पूर्ण कराया जाए।पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा ने सुझाव दिया कि मेडीकल कॉलेज में ऑटोनोमस बॉडी के जरिए और जिला चिकित्सालय व अन्य अस्पतालों में शासन स्तर से पदों की पूर्ति के लिये जल्द से जल्द प्रयास किए जाएं। मिश्रा ने कोविड वार्डों में भर्ती मरीजों के लिये वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए डॉक्टर्स की सलाह और अटेण्डर्स के ब्रीफिंग की व्यवस्था करने का सुझाव रखा।पूर्व मंत्री इमरती देवी ने डबरा अस्पताल के उन्नयन और आईसीयू व्यवस्था मजबूत करने की सलाह दी। जिला पंचायत प्रशासकीय समिति की अध्यक्ष मनीषा यादव ने मोहना में प्रसूति सुविधाएँ मुकम्मल करने का सुझाव रखा।पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल ने ग्वालियर जिले के लिए वैक्सीन डोज बढ़ाने का सुझाव रखा। पूर्व विधायक मदन कुशवाह ने जिला चिकित्सालय में सीटी स्कैन चालू कराने, जिला चिकित्सालय में 20 बैड का आईसीयू जल्द शुरू करने, बेहट अस्पताल भवन का निर्माण शुरू करने और हस्तिनापुर में एम्बूलेंस की व्यवस्था करने का सुझाव रखा। राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह एवं कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने जानकारी दी कि इनमें से अधिकांश काम हो चुके हैं।

Kolar News

Kolar News 15 July 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में नगरीय निकाय और पंचायतों के चुनावों की तैयारियां शुरू हो गई हैं। राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने गुरुवार को नगरीय निकायों एवं त्रि-स्तरीय पंचायतों के आगामी आम निर्वाचन की तैयारियों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिये कि नगरीय निकाय आम निर्वाचन की तैयारी समय-सीमा में पूरी करें। बता दें कि प्रदेश में कुल 407 में से 347 नगरीय निकायों के साथ-साथ पंचायतों के आम निर्वाचन होना है। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा है कि निर्वाचन से संबंधित जो कार्यवाही शेष है, उसकी सूची बनायें और प्रत्येक कार्य समय पर करें। तैयारी पूरी होते ही आम निर्वाचन की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के प्रभावी नियंत्रण और वैक्सीनेशन की स्थिति के मद्देनजर वर्तमान में आम निर्वाचन करवाया जाना संभव है। कोरोना के कारण पहले से ही आम निर्वाचन बहुत लेट हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि पहले नगरीय निकायों के निर्वाचन करवाये जायेंगे। राज्य निर्वाचन आयुक्त ने प्रत्येक सेक्शन के कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि नई अमिट स्याही क्रय करने के आदेश जल्द जारी करें। नगरीय निकायों में बनने वाले स्ट्राँग रूम में सीसीटीव्ही कैमरे लगवाने की व्यवस्था करें। कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन हर स्तर पर किया जाए। 347 नगरीय निकायों में होगा चुनाव बैठक में जानकारी दी कि प्रदेश में कुल 407 नगरीय निकाय हैं। इनमें से 347 में आम निर्वाचन कराये जाना है। दो चरण में मतदान होगा। प्रथम चरण में 155 और दूसरे चरण में 192 नगरीय निकायों में मतदान कराया जायेगा। महापौर/अध्यक्ष का निर्वाचन अप्रत्यक्ष प्रणाली से होगा। इन 347 नगरीय निकायों में सभी 16 नगर निगम शामिल हैं। कुल 19 हजार 955 मतदान केन्द्र बनाये गए हैं। कुल अभी 60 नगरीय निकायों का कार्यकाल बाकी है। मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 3 मार्च 2021 को हो चुका है। नगरीय निकायों में मतदान ई.व्ही.एम. से कराये जायेंगे। बताया गया कि पंचायतों के आम निर्वाचन 3 चरण में करवाये जाएंगे। त्रि-स्तरीय पंचायतों में पंच के 3 लाख 77 हजार 551, सरपंच के 23 हजार 912, जनपद पंचायत सदस्य के 6 हजार 833, जिला पंचायत सदस्य के 904, उप सरपंच के 23 हजार 912, जनपद पंचायत अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के 313 और जिला पंचायत अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के 52 पदों का निर्वाचन कराया जायेगा। बैठक में सचिव राज्य निर्वाचन आयोग दुर्ग विजय सिंह, उप सचिव अरुण परमार एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 15 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमल नाथ गुरुवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने उनके दिल्ली स्थित आवास 10 जनपथ पहुंचे। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी भी इस दौरान वहां मौजूद रहीं। दोपहर 12 बजे से ये मुलाकात चल रही है। इस मुलाकात के कई मायने भी निकल रहे हैं। माना जा रहा है कि कांग्रेस में कमल नाथ को कोई बड़ी जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। कमल नाथ गांधी परिवार के काफी करीबी हैं और पहले भी पार्टी में काफी बड़े पदों पर रहे हैं। हाल में वे मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष हैं और मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी। अहमद पटेल के निधन के बाद कमल नाथ पार्टी के कई महत्वपूर्ण फैसले लेने में शामिल रहे। पिछले कुछ दिनों से लगातार वे दिल्ली में ही थे। पहले भी ऐसी चर्चाएं थी कि कमलनाथ को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया जा सकता है। कांग्रेस पार्टी के भीतर अध्यक्ष पद को लेकर पिछले कई दिनों से चर्चा जारी है। कमलनाथ को यह जिम्मेदारी मिलती है तो यह कांग्रेस में सबसे बड़ा बदलाव होगा। हालांकि ये इस सिर्फ कयास लगाए जा रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 15 July 2021

भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट पर उठाये गए सवालों को लेकर प्रदेश के गृह मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा ने उन पर पलटवार किया है। डा. मिश्रा ने कहा कि तुष्टीकरण की राजनीति करना दिग्विजय सिंह और उनकी पार्टी का शगल है। डा. मिश्रा ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत में कहा है कि बहुसंख्यक हिंदुओं की धार्मिक आस्था और प्रतीकों पर चोट करना दिग्विजय और उनकी पार्टी का प्रिय शगल है। जिस पार्टी ने श्रीराम के अस्तित्व पर ही सवाल खड़ा किया हो, उससे और उसके नेताओं से क्या उम्मीद की जा सकती है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राष्ट्र और सर्व समाज को सर्वोपरि मानते हुए एक भारत और श्रेष्ठ भारत की सोच रखने वाला संगठन है। जबकि कांग्रेस सत्ता के लिए देश को तोड़ने और समाज को बांटने का काम करती है। उल्लेखनीय है कि दिग्विजय ने बुधवार को सागर में मीडिया से बातचीत करते हुए राम जन्मभूमि के चंदे को लेकर सवाल उठाये थे। उन्होंने कहा था कि भाजपा ने कोरोना आपदा में ही नहीं, आस्था में भी अवसर तलाशा है। ट्रस्ट की जमीन खरीदी में गड़बड़ी हुई है। उन्होंने मंदिर ट्रस्ट को भंग करने की मांग की थी। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए मैंने खुद 1.11 लाख रुपये का चंदा दिया है। मुझे इसका हिसाब देना चाहिए। कोरोना नियंत्रण में, प्रदेश में मात्र 249 एक्टिव केस गृह मंत्री डा. मिश्रा ने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण अब लगभग नियंत्रण की स्थिति में है। पिछले 24 घंटे में 29 मरीज स्वस्थ हुए हैं, जबकि नए केस सिर्फ 11 आए हैं। संक्रमण दर घटकर 0.03% और रिकवरी रेट बढ़कर 98.80% हो गई है। प्रदेश में रोजाना कोरोना के करीब 70 हजार टेस्ट हो रहे हैं। अभी एक्टिव केस 249 हैं।

Kolar News

Kolar News 15 July 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार सुबह नई दिल्ली स्थित मध्यप्रदेश भवन परिसर में नीम का पौधा लगाया। मुख्यमंत्री चौहान ने प्रतिदिन एक पौधा लगाने के अपने संकल्प के क्रम में दिल्ली प्रवास के दौरान पौधारोपण किया। इस अवसर पर मध्यप्रदेश भवन के वरिष्ठ अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। बता दें कि नीम का उपयोग चर्म रोग, दंत रोग, बालों की समस्या, पेट के कीडे़, मलेरिया, क्षय रोग, नक्सीर और पीलिया जैसी बीमारियों को दूर करने में होता है। कीटनाशक के रूप में इसका उपयोग अनाज और कपड़ों को सुरक्षित रखने के लिये भी होता है।उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री चौहान ने नर्मदा जयंती के अवसर पर 19 फरवरी, 2021 को अमरकंटक में आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रतिदिन एक पौधा लगाने का संकल्प लिया था।

Kolar News

Kolar News 12 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर तंज कसा है। गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में गत दिवस कांग्रेस के प्रदर्शन पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने दिग्विजय सिंह की चुटकी ली है और कहा है कि 75 की उम्र मंदिर की सीढिय़ां चढऩे की, वे बैरिकेड पर चढ़ रहे हैं। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की स्थिति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जिस उम्र में दिग्विजय सिंह जी को मंदिर की सीढिय़ां चढऩा चाहिए, वे बैरीकेड पर चढ़़ रहे हैं। गृहमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि मध्य प्रदेश कांग्रेस में युवाओं का टोटा हो गया है। एनएसयूआई और युवक कांग्रेस का क्या होगा? बुजुर्गों के नेता दिग्विजय सिंह जी और कमलनाथ जी एवं युवाओं के नेता जयवद्र्धन और नकुलनाथ, बाकी कांग्रेस अनाथ। उन्होंने कहा कि प्रदर्शन तो तब करेंगे जब जनता कांग्रेस के साथ रहेगी अभी तो सिर्फ दर्शन दे रहे हैं, दिखा रहे हैं कि कोरोना के विश्राम के बाद वे भी कुछ कर रहे हैं। कांग्रेस द्वारा सरकार पर कोरोना से हुई मौतों के आंकड़े छुपाने के आरोपों पर डा. मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कुछ आंकड़े बताए थे। तब उन्होंने कहा था कि वार्ड अध्यक्षों से जानकारी जुटाएंगे। अब कह रहे हैं कि स्थानीय निकाय चुनाव में टिकिट उसे देंगे जो कोविड से मरने वालों का आंकड़ा एकत्र करेगा। कोरोना आपदा में पीडि़तों की मदद करने के बजाय सिर्फ मौतों के बारे में भय और भ्रम फैलाकर कांग्रेस के नेताओं ने साबित कर दिया है कि उनमें सेवा की मानसिकता नहीं है। कमलनाथ जी और राहुल गांधी जी जनता के बीच जाने के बजाय इन दिनों लाशों पर राजनीति कर हैं। मंत्री मिश्रा ने कहा कि कांग्रेसियों ने जीवित लोगों की चिंता नहीं की, कब्रिस्तान में जाकर मुर्दों से बातचीत की राहुल गांधी से लेकर कमलनाथ तक एक भी नेता अस्पताल में पीडि़तों से मिलने नहीं गया मानसिकता ही नहीं है सेवाभाव की। वहीं राज्य सभा सांसद व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विवेक तन्खा द्वारा विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरीफ करने के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा कि अपने विवेक को संभाल के रखना चाहिए। अपने विवेक को समझाना भी चाहिए ज्ञात रहे कि विवेक तनखा जी ने सिंधिया जी की तारीफ की थी।  

Kolar News

Kolar News 12 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने सिंधिया को केन्द्रीय मंत्री बनने पर बधाई दी साथ ही मप्र से एयर कनेक्टिविटी को बढ़ाने पर विस्तृत चर्चा की। सीएम शिवराज ने सोशल मीडिया के माध्यम से केन्द्रीय मंत्री सिंधिया के साथ मुलाकात की जानकारी साझा करते हुए कहा ‘नई दिल्ली में माननीय श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी से भेंटकर केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री बनने पर बधाई दी। मुझे विश्वास है कि आपके कुशल मार्गदर्शन में उड्डयन क्षेत्र में अभूतपूर्व सुधार होगा और यह सेक्टर नई ऊंचाइयों को स्पर्श करेगा। उन्होंने कहा कि मैंने केंद्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी से इंदौर, भोपाल व जबलपुर एयरपोर्ट के विस्तारीकरण, ग्वालियर में नवीन एयरपोर्ट बनाने और भोपाल को इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाने के प्रस्ताव पर चर्चा की। इसके अलावा इंदौर में इंटरनेशनल फ्लाइट को बढ़ावा देने, उड़ान योजना के अंतर्गत रीवा, खजुराहो, दतिया, ग्वालियर, भोपाल और जबलपुर में फ्लाइट्स देकर एयर कनेक्टिविटी को बढ़ाने पर विस्तृत चर्चा की। ज्योतिरादित्य सिंधिया जी ने आवश्यक निर्णय लेने का आश्वासन दिया है, जिसके लिए उन्हें धन्यवाद देता हूँ।

Kolar News

Kolar News 12 July 2021

भोपाल। सूबे में भाजपा-कांग्रेस के बीच सियासी खींचतान जारी है। राजधानी भोपाल में गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में एक पार्क की 10 हजार वर्गफीट जमीन लघु उद्योग भारती नामक संस्था को आवंटित किए के मामले ने तूल पकड़ लिया है। रविवार को दिग्विजय सिंह की अगुआई में बड़ी संख्या में जिला कांग्रेस के कार्यकर्ता गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में प्रदर्शन करने पहुंचे और भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। पुलिस ने बैरिकैडिंग करके कांग्रेसियों को रोका। इससे एक दर्जन कांग्रेसियों को मामूली चोट आई। इस दौरान कांग्रेसियों को आगे बढऩे से रोकने पर दिग्विजय सिंह की मौके पर मौजूद पुलिस के आला अधिकारियों से बहस भी हुई। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने वाटर केनन का इस्तेमाल किया। इंडस्ट्रियल एरिया में 10 हजार वर्ग फ़ीट जमीन आरएसएस समर्थित एनजीओ को अलॉट करने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों पर पुलिस ने वॉटर कैनन का प्रयोग कर दिया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ता तो पीछे हट गए लेकिन दिग्विजय सिंह बेरिकेड पर डटे रहे और भीगते रहे। दिग्विजय सिंह के साथ पीसी शर्मा भी मौजूद रहे। दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में इंडस्ट्रीयल एरिया में पार्क के लिए जमीन आवंटित की गई थी। अब शिवराज सरकार इसे संघ से संबद्ध एनजीओ को दे रही है। हम यह नहीं होने देंगे। यदि उन्हें जमीन देना ही है तो अचारपुरा समेत शहर में किसी अन्य जगह पर दे दें। दिग्विजय सिंह की माने तो प्रदेश सरकार की कुछ नीतियों के खिलाफ उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। बता दे कि शनिवार को गोविंदपुरा इंडस्ट्रीज एसोसिएशन की आपत्ति पर पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा के सदस्य दिग्विजय सिंह ने पदाधिकारियों के साथ बैठक करके जमीन का आवंटन निरस्त कराने का भरोसा दिलाया था। इधर गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र को रविवार सुबह आठ बजे से इलाके में भारी पुलिस बल की तैनाती के साथ इसे छावनी में तब्दील कर दिया। गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में प्रवेश करने वाले मार्गों पर पुलिस मुस्तैद हो गई। डीआइजी इरशाद वली भी प्रदर्शन स्थल पर मौजूद रहे।  

Kolar News

Kolar News 11 July 2021

उज्जैन। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को उज्जैन प्रवास के दौरान यहां विधिवत पूजन कर अत्यधुनिक होजयरी वस्त्र निर्माण इकाई का भूमि पूजन किया। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि महाकाल महाराज की कृपा से आज उज्जैन में आर्थिक उत्थान का, रोजगार के अवसरों का नवसूर्योदय हुआ है। कोई साधारण बात नहीं है। आजादी के पूर्व हमारा उज्जैन मिलों के लिए विख्यात था। टेक्सटाइल्स और इंडस्ट्री के मामले में उज्जैन का अलग मुकाम था। उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे परिस्थितियां बदलती चली गईं। रोजगार के अवसर कम होते गये। लेकिन आज महाकाल बाबा की कृपा से ये उद्घोष करता हूं कि उज्जैन के औद्योगिक विकास का एक नवयुग का प्रारंभ हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम अधोसंरचना का विकास भी करेंगे। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाना है। उसके लिए सबसे बड़ी जरूरत है रोजगार के अवसरों की व्यवस्था। इस एक इंवेस्टमेंट से उज्जैन और आसपास के इलाके में 4 हजार लोगों को राेजगार मिलेगा। इस दौरान उच्च शिक्षा मंत्री डा. मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, पूर्व केंद्रीय मंत्री सत्यनारायण जटिया, विधायक पारस जैन आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम में उद्योग मंत्री राजवर्धन सिंह दत्तीगाँव एवं मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा भी मौजूद रहे। कार्यक्रम में विवेक जोशी, बहादुर सिंह चौहान, पूर्व सांसद चिंतामन मालवीय, कमिश्नर संदीप यादव, कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र शुक्ला उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 11 July 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के नवनियुक्त राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल ने गुरुवार को राजधानी भोपाल स्थित राजभवन में आयोजित गरिमामय समारोह में शपथ ग्रहण की। इसके साथ ही वे मध्य प्रदेश के 30वें राज्यपाल बन गए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्य प्रदेश के 30वें राज्यपाल के रूप में शपथ लेने पर मंगू भाई छगन भाई पटेल को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। राजभवन के सांदीपनी सभागार में आयोजित गरिमामय समारोह में मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश मोहम्मद रफीक ने नवनियुक्त राज्यपाल मंगूभाई पटेल को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इस अवसर पर प्रभारी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा समेत अन्य राजनेता, जनप्रतिनिधि और अधिकारी उपस्थित रहे।मुख्यमंत्री ने दी बधाई इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा, "मध्य प्रदेश के राज्यपाल पद की शपथ ग्रहण करने पर मैं मंगूभाई छगनभाई पटेल को शुभकामनाएँ देता हूँ और आपके सफल कार्यकाल की कामना करता हूँ। हम आपके मार्गदर्शन में समाज की अंतिम पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति तक समस्त योजनाओं का लाभ बेहतर तरीके से पहुँचाने हेतु कार्य करेंगे।" उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा कि मंगू भाई छगन भाई पटेल जी का सम्पूर्ण जीवन राष्ट्र और समाज के कमजोर वर्ग की उन्नति के लिए समर्पित रहा। वह गुजरात में 27 वर्षों तक विधायक रहे और 18 वर्षों तक गुजरात मंत्रिमंडल में मंत्री रहकर प्रदेश एवं समाज के कमजोर वर्ग की निरंतर सेवा की। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आगे कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़कर बचपन से ही राष्ट्र उत्थान एवं समाज सेवा करते हुए विभिन्न जिम्मेदारियों का आपने सफलतापूर्वक निर्वहन किया। अब आपको मध्य प्रदेश के राज्यपाल पद की जिम्मेदारी दी गई है जो हमारे लिये सौभाग्य की बात है। आपके मार्गदर्शन में हम मध्य प्रदेश में विकास और जनकल्याण के लिए सतत संकल्पित प्रयास करेंगे। मुझे विश्वास है कि आपकी गरिमामय उपस्थिति में मध्यप्रदेश नई ऊंचाइयों को स्पर्श करेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आपने नवसारी को भी गौरवान्वित किया है। नवसारी से राज्यपाल के पद तक पहुंचने वाले आप दूसरे व्यक्ति हैं। आर्थिक अभावों के कारण आपको अपनी शिक्षा बीच में ही छोड़कर "रत्न कलाकार" के रूप में कार्य करना पड़ा। आपके राजनैतिक जीवन की शुरूआत नवसारी नपा के सदस्य के रूप में हुई थी।आप प्रदेश में सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में कार्य करते हुए कई सामाजिक संगठनों से जुड़े रहे हैं।आपने बाल्यकाल से ही आर्थिक अभावों का सामना कर लगातार संघर्ष से अपनी मेहनत और योग्यता से यहाँ तक का रास्ता तय किया। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि वन और पर्यावरण मंत्री रहते हुए 'वन-बंधु' योजना तैयार कर एक बहुत ही प्रशंसनीय कार्य किया। सिकल सेल ऐनिमिया को दूर करने में गुजरात में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहा।आपने गुजरात विधानसभा के उपाध्यक्ष के रूप में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई व आदर्श संसदीय परम्पराओं के उदाहरण प्रस्तुत किये। आपने इस अवधि में मंत्री के रूप में जनजातीय कल्याण, कुटीर उद्योग तथा वन और पर्यावरण मंत्री के रूप में कार्य करते हुए गुजरात प्रदेश एवं जनजातीय समाज के विकास के लिए उल्लेखनीय कार्य किये और अपनी एक विशिष्ट पहचान बनाई। उन्होंने कहा कि लंबे अनुभव में आपने गुजरात में 27 वर्षों तक विधायक के रूप में जनसेवा की है, जिसमें 18 वर्षों तक गुजरात मंत्रिमंडल में मंत्री रहे। इस दौरान आपने नरेन्द्र मोदी, आनंदी बेन पटेल, केशू भाई पटेल के मुख्यमंत्रित्व काल में मंत्री के रूप में उल्लेखनीय कार्य किये। आपके लंबे राजनीतिक व सामाजिक जीवन के अनुभव का लाभ राज्य को अवश्य मिलेगा। मुझे विश्वास है आपके कुशल मार्गदर्शन में मध्य प्रदेश प्रगति के पथ पर अग्रसर होते हुए नई ऊंचाइयों को स्पर्श करेगा।

Kolar News

Kolar News 8 July 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि दुनिया के अनुभव बताते हैं कि मास्क लगाने से कोरोना का खतरा 95 प्रतिशत तक कम हो जाता है। हम लॉकडाउन के कष्ट को जल्दी भूल जाते हैं। लॉकडाउन ने कई लोगों के रोजगार और व्यापार को प्रभावित किया है। मास्क लगाने और दूरी बनाए रखने की सावधानी का पालन करने से संक्रमण को नियंत्रित किया जा सकता है। इससे हम रोजगार और व्यापार की आर्थिक गतिविधियों को जारी रख सकते हैं। अब कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन करने में उदाहरण प्रस्तुत करने का मौका है। निश्चित ही "अद्भुत-अद्वितीय मंदसौर" इस दिशा में पहल करेगा। मुख्यमंत्री चौहान ने यह बातें गुरुवार को मंदसौर में नवनिर्मित आरटी-पीसीआर लेब का भोपाल से वर्चुअल लोकार्पण करते हुए कही। वित्त तथा वाणिज्यिक कर मंत्री जगदीश देवड़ा और विधायक देवीलाल धाकड़ ने भी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री निवास से सहभागिता की। कार्यक्रम में मंदसौर से विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया उपस्थित थे।50 लाख की लागत की लेब मुख्यमंत्री ने कहा कि मंदसौर पहला जिला है जहाँ मेडिकल कॉलेज के अलावा आरटी-पीसीआर लैब स्थापित किये गये। विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया द्वारा विधायक निधि से दिये गये 35 लाख और समाज सेवी तथा उद्योगपति प्रदीप गनेड़ीवाल द्वारा 15 लाख के सहयोग से कुल 50 लाख रुपये की लागत से यह लेब स्थापित की गई है। यह लेब "जहाँ चाह वहाँ राह" की उक्ति को चरितार्थ करती है। लेब स्थापना के साथ 250 से अधिक बेड पर सेंट्रल ऑक्सीजन लाईन, 400 ऑक्सीजन कॉन्संट्रेटर, आईसीयू बेड की स्थापना कर जिला चिकित्सालय का कायाकल्प किया गया है, जो मंदसौर की सेवा और सहयोगी भावना को दर्शाता है। तीसरी लहर रोकना है उन्होंने कहा कि आरटी-पीसीआर लेब की स्थापना से टेस्ट की संख्या बढ़ाने में मदद मिलेगी। जिले के कोने-कोने में टेस्ट किये जायें। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग, पॉजिटिव लोगों का आईसोलेशन, इलाज और किल कोरोना अभियान निरंतर जारी रहे। लेब स्थापना तथा अस्पतालों में सुविधाओं का विस्तार कोरोना की तीसरी लहर का सामना करने के लिए किया जा रहा है। हमारा कोरोना अनुकूल व्यवहार एैसा हो कि तीसरी लहर प्रदेश को प्रभावित ही नहीं कर सके। मुख्यमंत्री ने समाजसेवियों को सराहा मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मंदसौर में एक जिला-एक उत्पाद के अंतर्गत लहसुन की प्रोसेसिंग, गुणवत्ता सुधार और राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में बेहतर मार्केटिंग के लिए हरसंभव गतिविधियाँ संचालित की जाएंगी। उन्होंने कोरोना काल में निर्मिला देवी कालोरिया के साथ जिले के अन्य समाजसेवियों की पहल और सहयोग की सराहना भी की। "गार्लिक मंदसौर" फिल्म का विमोचन मुख्यमंत्री ने आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के तहत ''एक जिल-एक उत्पाद'' के आधार पर मंदसौर में होने वाले लहसुन की ब्रांडिंग के लिए निर्मित "गार्लिक मंदसौर" फिल्म का विमोचन किया। उन्होंने जिले में पुरातत्व और पर्यटन स्थलों के प्रचार-प्रसार के लिए निर्मित मंदसौर गीत और मंदसौर दर्शन लघु फिल्मों का भी विमोचन किया। मुख्यमंत्री द्वारा मुख्यमंत्री कोविड"19 अनुकंपा नियुक्ति योजना में 25 व्यक्तियों तथा मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना में 33 बच्चों को लाभान्वित किया गया। जन-सहयोग और जन-भागीदारी से 125 बच्चों को प्रतिमाह 2 हजार रुपये की सहयोग राशि का प्रदाय भी आरंभ किया गया।

Kolar News

Kolar News 8 July 2021

भोपाल । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को भोपाल के भदभदा विश्राम घाट पर विकसित हो रहे श्री राम वन में रुद्राक्ष, बेलपत्र और विद्या (मोरपंखी) का पौधरोपण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान की धर्मपत्नी साधना सिंह ने भी पौधरोपण किया। बता दें कि भदभदा विश्राम घाट पर राम आस्था मिशन द्वारा श्रीराम वन विकसित किया जा रहा है। श्रीराम वन में मध्यप्रदेश में पाए जाने वाले 70 प्रजातियों के वृक्षों के पौधों को लगाया जाएगा। राम आस्था मिशन का यह मध्यप्रदेश में 45वां प्रोजेक्ट है। स्मार्ट उद्यान में रोपा गूलर का पौधा मुख्यमंत्री चौहान ने स्मार्ट उद्यान में भी गूलर का पौधा रोपा। मुख्यमंत्री चौहान अपने संकल्प के पालन में प्रतिदिन एक पौधा लगाते हैं। आयुर्वेद के अनुसार गूलर कई रोगों के निदान में सहायक है। गूलर को पूजनीय वृक्ष भी माना गया है।

Kolar News

Kolar News 5 July 2021

देवास। जिले के नेमावर क्षेत्र में एक ही परिवार के पांच सदस्यों की हत्या के मामले पर अब राजनीति गर्माने लगी है। सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ नेमावर पहुंचे। उनके साथ कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल भी है। नेमावर हत्याकांड़ के मामले में सोमवार को पूर्व सीएम कमलनाथ पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे। उन्होंने पीड़ित परिवार के घर पहुंचकर शोक संवेदना व्यक्त की। उनके साथ नकुल नाथ, अरुण यादव, कांतिलाल भूरिया, सज्जन सिंह वर्मा, जीतू पटवारी और विक्रांत भूरिया भी मौजूद रहे। वहीं, इस मामले में शनिवार को मुख्य आरोपित सुरेंद्र सहित तीन को देवास कोर्ट में पेश किया गया था, जहां से सुरेंद्र और एक अन्य को जेल भेज दिया गया। आरोपित राकेश और सुरेंद्र के भाई वीरेंद्र को सोमवार शाम चार बजे तक पुलिस रिमांड पर सौंपा गया था। दोनों आरोपितों को पुलिस आज कोर्ट में पेश करेगी। हत्याकांड के बाद वीरेंद्र ही रूपाली की स्कूटी को लेकर हरदा के पास अपने मामा के यहां छुपाने के लिए लेकर गया था।

Kolar News

Kolar News 5 July 2021

मंदसौर। राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया सोमवार को एक दिवस पर प्रवास पर मंदसौर पहुंचे। यहां उन्होंने प्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर पहुंचकर भगवान के दर्शन कर आशीर्वाद लिया और पूजा-अचर्ना कर देश-प्रदेश की सुख-समृद्धि की कामना की। वहीं, सिंधिया के विरोध की तैयारी कर रहे कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने पकड़ा और वाहन में भरकर दूसरी जगह छोड़ा।राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने मंदसौर प्रवास के दौरान सुबह 10 बजे पशुपतिनाथ महादेव मंदिर पहुंचे। यहां उन्होंने लगभग आधे घंटे तक भगवान पशुपतिनाथ की पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद प्राप्त किया। सिंधिया ने भगवान पशुपतिनाथ जी के मंदिर परिसर में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ पौधरोपण भी किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पर्यावरण की रक्षा करना हम सभी का प्रथम दायित्व है। सभी को पौधरोपण करना चाहिए।इधर, शहर के गांधी चौराहे पर कांग्रेसजनों द्वारा सिंधिया के शहर आगमन के विरोध में मुर्दाबाद के नारे लगाए जा रहे थे। पुलिस उन्हें रोकने का प्रयास किया, लेकिन कांग्रेसियों ने काले गुब्बारे छोड़े और सिंधिया को काले झंडे दिखाने का प्रयास किया। इस दौरान पुलिस से उनकी बहस हुई। पुलिस ने मौजूद सभी कांग्रेस नेताओं-कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर वाहन से पिपलियामंडी छोड़ दिया।ज्योतिरादित्य सिंधिया मंदसौर में भाजपा सांसद सुधीर गुप्ता के निवास पर पहुंचे और उनसे तथा उनके परिजनों से सौजन्य भेंट की। इसके बाद वे आरएसएस के जिला कार्यालय समर्पण पर जाएंगे। इसके अलावा, विधायक यशपालसिंह सिसोदिया से उनके निवास पर पहुंचकर मुलाकात करेंगे और फिर भाजपा मंडल महामंत्री रॉकी यादव, संघ पदाधिकारी गोपालकृष्ण पाटिल व भाजपा कार्यकर्ता विक्रम भटनागर के यहां पहुंचकर शोक प्रकट करेंगे।  

Kolar News

Kolar News 5 July 2021

इंदौर। जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट ने इंदौर में स्वीकृत ऑक्सीजन प्लांट के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का आभार जताया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चौहान के कुशल नेतृत्व एवं सफल प्रयासों से ही इंदौर ऑक्सीजन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने जा रहा है। इंदौर में 42 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो रहे हैं। यह बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने बताया कि अशासकीय अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट स्थापना के लिये 50 प्रतिशत अनुदान दिया जा रहा है। अशासकीय अस्पतालों को ऑक्सीजन प्लांट के लिये अनुदान देने की शुरूआत इंदौर से ही की गई है। उल्लेखनीय है कि सिलावट ने अशासकीय अस्पतालों को ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना पर 50 प्रतिशत अनुदान देने के लिये मुख्यमंत्री जी से आग्रह किया गया था, जिसे मुख्यमंत्री जी द्वारा स्वीकार कर प्रदेश में लागू किया गया। सिलावट ने मुख्यमंत्री जी से आग्रह किया है कि कोरोना वायरस के स्वरूप का पता करने के लिये जीनोम सिक्वेंसिंग मशीन इंदौर में भी स्थापित किया जाये। इससे मरीजों में यह पता चल सकेगा कि उन्हें कौन से स्वरूप का वायरस हुआ है, जिससे कि उनका तत्काल और समुचित उपचार हो सके। उन्होंने तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए बच्चों के लिये कम से कम तीन एम्बुलेंस स्वीकृत करने और इंदौर शहर को प्रतिदिन डेढ़ से दो लाख वैक्सीन के डोज उपलब्ध कराने का आग्रह किया।

Kolar News

Kolar News 3 July 2021

इंदौर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को इंदौर में कोरोना के प्रबंधों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने कोरोना नियंत्रण के लिये किये गये प्रबंधों तथा टीकाकरण की उपलब्धि के लिये टीम इंदौर को धन्यवाद दिया। उन्होंने कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए इसके नियंत्रण के लिये एहतियात के रूप में की जा रही तैयारियों पर संतोष जताया और कहा कि अगर इसी तरह की तैयारियाँ रही तो तीसरी लहर की चुनौतियों का सामना आसानी से कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि रोको-टोको अभियान निरन्तर चलाया जाये। आवश्यकता होने पर कोविड के प्रोटोकाल का पालन कराने के लिये सख्ती भी बरती जाये। अभी का वक्त विशेष सावधानी, सजगता एवं सतर्कता रखने का है। अगर हम कोविड अनुकूल व्यवहार के प्रति लोगों को जागरूक करेंगे, विशेष सावधानी, सतर्कता एवं सजगता रखी जाएगी, तो हो सकता है तीसरी लहर बड़ी चुनौती के रूप में सामने नहीं आये।मुख्यमंत्री चौहान ने कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति, रोकथाम के लिये हो रहे प्रयासों, कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिये की जा रही तैयारियों, अस्पताल प्रबन्धन, ऑक्सीजन प्रबन्धन, टीकाकरण आदि की बिन्दुवार समीक्षा की। इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी, विधायक रमेश मेंदोला, आकाश विजयवर्गीय, मालिनी गौड़ तथा महेंद्र हार्डिया, कविता पाटीदार, सुदर्शन गुप्ता, जीतू जिराती, गौरव रणदिवे, राजेश सोनकर, मधु वर्मा, राज्य आपदा प्रबंधन समिति के सदस्य डॉ निशांत खरे, संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा, आईजी हरिनारायणचारी मिश्र, कलेक्टर मनीष सिंह, नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल, डीआईजी मनीष कपूरिया सहित अन्य अधिकारी और जनप्रतिनिधि मौजूद थे।इंदौर ने प्रस्तुत किया बेहतर उदाहरण   बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत महीनों के दौरान कोरोना से नियंत्रण तथा टीकाकरण के लिये इंदौर की टीम ने अद्भुत कार्य किया है। एकजुट और सामंजस्य के साथ कोरोना की चुनौती का सामना किया गया। कोरोना को समय रहते नियंत्रित कर लिया गया। टीकाकरण के क्षेत्र में महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की, इसके लिये पूरी इंदौर टीम बधाई की पात्र है। इंदौर ने सामंजस्य और एकता के साथ जो कार्य किये हैं, वह बेहतर उदाहरण हैं। उन्होंने कहा कि इंदौर ने कोरोना नियंत्रण और टीकाकरण के साथ ही अनेक क्षेत्रों में देश में अनूठा उदाहरण प्रस्तुत किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल के दौरान शासकीय अस्पतालों में उपचार आदि की बेहतर व्यवस्थाएं रही। इसके फलस्वरूप लोगों का विश्वास शासकीय अस्पतालों के प्रति बढ़ा है। उन्होंने कहा कि कोविड प्रोटोकाल तथा कोविड अनुकूल व्यवहार के पालन के संबंध में निरन्तर जनजागरूकता अभियान चलाया जाये। लगातार रोको-टोको अभियान चलायें। लोगों को समझाईश दें कि वे सावधानी और सतर्कता रखकर कोरोना से सुरक्षा पा सकते हैं। जागरूकता के संबंध में सभी जनप्रतिनिधि अपील और संदेश का प्रसार सोशल मीडिया तथा अन्य माध्यमों से करें। उन्होंने कहा कि अभी विवाह समारोह आयोजित हो रहे हैं। इसको देखते हुए आयोजकों तथा समारोह से संबंधित अन्य लोगों को कोविड प्रोटोकाल के पालन के संबंध में जानकारी दें और उनसे पालन करवायें। विवाह समारोहों में विशेष सावधानियाँ बरती जाये। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सीमाओं पर विशेष सावधानी रखी जाये। यह प्रयास किया जाये कि कोई भी व्यक्ति संक्रमित होकर प्रदेश में नहीं आये। उन्होंने कहा कि तीसरी लहर को देखते हुए ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था रखी जाये।ब्लैक फंगस के मरीज हुए कम   बैठक में संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा ने बताया कि संभाग में 80 ऑक्सीजन प्लांट लगाये जा रहे हैं। उन्होंने ब्लैक फंगस से निपटने के प्रबंधों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ब्लैक फंगस के मरीज अब लगातार कम हो रहे हैं।कलेक्टर मनीष सिंह ने कोरोना से निपटने के लिए की गई व्यवस्थाओं, प्रबंधन और तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर एहतियात के रूप में किए जा रहे प्रबंधन, उपायों की जानकारी दी। उन्होंने इंदौर जिले में टीकाकरण महाअभियान के अंतर्गत टीकाकरण के प्रति जागरूकता लाने और उसे जन आंदोलन बनाने के लिए किए गए प्रयासों तथा प्राप्त उपलब्धियों की भी जानकारी दी।तीसरी लहर में बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं के लिये विशेष इंतजाम   कलेक्टर मनीष सिंह ने कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिये ऐहतियात के रूप में किये जा रहे प्रबंधों की जानकारी देते हुए बताया कि ऑक्सीजनयुक्त बेड की संख्या बढ़ाई गई है। कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर गर्भवती महिलाओं और बच्चों के उपचार के लिये विशेष व्यवस्था की गई है। पीसी सेठी अस्पताल को विशेष रूप से तैयार किया गया है। कोरोना के दूसरे चरण में जहाँ ऑक्सीजनयुक्त और आईसीयू बेड्स की संख्या 7 हजार 650 थी, उसे बढ़ाकर 10 हजार 250 किया गया है। इनमें महिलाओं और बच्चों के आईसीयू युक्त बेड्स की संख्या भी पर्याप्त रखी गई है।उन्होंने बताया कि जिले में पहली बार चार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को भी कोविड अस्पताल के रूप में परिवर्तित किया गया है। उन्होंने बताया कि निजी क्षेत्र के 111 अस्पतालों में कुल 8 हजार 434 बेड्स की व्यवस्था की गई हैं, वहीं शासकीय क्षेत्र के विभिन्न अस्पतालों में एक हजार 816 बेड्स की व्यवस्था की गई है। पूर्व में जहाँ शासकीय अस्पतालों में बेड की संख्या एक हजार 227 थी, वहीं अशासकीय अस्पतालों में बेड्स की संख्या 6 हजार 423 थी।बैठक में बताया गया कि गर्भवती महिलाओं और बच्चों के कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर उनके लिये चार विशेष मातृ शिशु एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है। कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों के इलाज के लिये डॉक्टर्स एवं नर्स को विशेष रूप से ट्रेनिंग देने की व्यवस्था की गई है। ट्रेनिंग का कार्य प्रारंभ हो गया है। प्रत्येक अस्पताल में एक-एक मास्टर ट्रेनर्स तैयार किये जा रहे हैं। वह अपने-अपने अस्पतालों में डॉक्टर और नर्सेस को ट्रेनिंग देंगे। आगामी 10 अगस्त तक सभी 42 ऑक्सीजन प्लांट होंगे चालू   बैठक में बताया गया कि इंदौर जिले में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य तेज गति से चल रहा है। कलेक्टर ने बताया कि जिले में जिले में 52 करोड़ रूपये की लागत से 42 ऑक्सीजन प्लांट लगाये जा रहे हैं। इनमें से 11 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो गये हैं। शेष 31 ऑक्सीजन प्लांट का कार्यादेश जारी कर दिया गया है। बताया गया कि सभी ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण आगामी 15 अगस्त तक पूरा हो जायेगा।इंदौर में 76.77 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण   इंदौर जिले में टीकाकरण महाअभियान का प्रभावी क्रियान्वयन किया जा रहा है। जिले में 28 लाख लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। इसमें से अभी तक 21 लाख 55 हजार लोगों का टीकाकरण हो चुका है। इस तरह 76.77 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण हो गया है। टीकाकरण की शहरी क्षेत्र में लगभग 80 प्रतिशत तथा ग्रामीण क्षेत्र में 70.41 प्रतिशत उपलब्धि रही है। जिले में महाअभियान के तहत गत 21 जून को सवा दो लाख लोगों का एक दिन में टीकाकरण कर रेकार्ड कायम किया गया। इंदौर जिला देश में अव्वल रहा। इंदौर जिले में टीकाकरण अभियान को सभी वर्गों के सहयोग से जन आंदोलन बनाया गया है। जिले में 16 स्थानों पर ड्राइव इन वैक्सीनेशन सेंटर बनाये गये। महिलाओं के लिये 7 स्थानों पर विशेष महिला टीकाकरण केन्द्र बनाया गया। दिव्यांगों के टीकाकरण के लिये भी विशेष व्यवस्था की गई।जनता ने स्वत: लगाये प्रतिबंध   कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि जिले में टीकाकरण के प्रति विशेष जागरूकता बढ़ी है। जिले में कई संगठन और संस्थाएं आगे आकर अपने-अपने क्षेत्रों में स्वप्रेरणा से प्रतिबंध लगा रहे हैं कि उनके यहाँ बगैर टीकाकरण के कोई प्रवेश नहीं करें। बताया गया कि 40 से अधिक रहवासी संघों ने अपने यहाँ बिना वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया है। चोईथराम मंडी, निरंजनपुर मंडी, लक्ष्मीबाई अनाज मंडी, छावनी अनाज मंडी में भी बिना वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया गया है। सियागंज, क्लाथ मार्केट, 56 दुकान एसोसिएशन और समस्त औद्योगिक संगठनों द्वारा बिना वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र के प्रवेश पर 10 जुलाई के पश्चात प्रतिबंध लागू करने का निर्णय लिया गया है। विभिन्न संगठनों द्वारा "नो वैक्सीन-नो सैलरी एवं नो वैक्सीन- नो एंट्री" नियम लागू किया जा रहा है।  

Kolar News

Kolar News 3 July 2021

भोपाल। देश-प्रदेश व समाज की उन्नति में भी सहकारिता का बहुत योगदान है। प्रदेश में सहकारी समितियां निरंतर उत्कृष्ट कार्य कर आमजन के जीवन में रचनात्मक व सकारात्मक परिवर्तन का कारण बन रही हैं। यह बातें शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अन्तरराष्ट्रीय सहकारिता दिवस पर योजित "सहकारिता के माध्यम से बेहतर पुनर्निर्माण" कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि "सर्वे भवन्तु सुखिनः। सर्वे सन्तु निरामयाः। सर्वे भद्राणि पश्यन्तु। मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्।" अर्थात् सभी सुखी हो, सब निरोग हों, सबका मंगल और सबका कल्याण हो यह भाव सहकारिता ही है। "आत्मवत सर्व भूतेषु" अर्थात् अपने जैसा सबको मानो। यही तो सहकारिता है। प्राणियों में सद्भावना हो और विश्व का कल्याण हो, यह मंत्र भी सहकारिता है।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के आत्मनिर्भर भारत के सपने को सहकार ही पूरा करेगा। मध्यप्रदेश में जो काम हुआ है वह अद्भुत है पर अभी और काम करने की जरूरत है। हमारे यहाँ कितने ही औषधियाँ और उत्पाद हैं जो और बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं अगर हम सब मिलकर प्रयास करें। आज अंतरराष्ट्रीय सहकारिता दिवस पर मैं आपसे अनुरोध करता हूँ हम सारी संभावाओं का दोहन करें और लोगों को रोजी रोटी उपलब्ध कराएं और सहकारी आंदोलन को फिर से खड़ा करें। आप इतिहास रचिए मैं आपके साथ हूँ।उन्होंने कहा कि हमारी सहकारी समितियाँ आजीविका प्रदान कर रहीं हैं। हमारी समितियों ने रिकार्ड गेहूं की खरीदी कर किसान साथियों को जो सहयोग दिया है इसके लिए मैं इन साथियों का अभिनंदन करता हूँ। सभी सहकारी संस्थाओं के प्रतिनिधि साथी गण और मित्रों सहकारिता भारत की जड़ों में हैं। वसुधैव कुटुंबकम की भावना से ही हम सहकारिता की भावना को साकार कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि गाँव में एक चूल्हे पर 80 लोगों का भोजन बनता है, यह सहकारिता नहीं तो और क्या है। अब हम थोड़े भौतिकवादी हो गए हैं, पर हमारे गांवों ने सहकारिता के उत्तम उदाहरण दिए हैं। जब बेटी की शादी होती थी तो पूरा गाँव एक साथ आता था बेहतर से बेहतर आयोजन के लिए। एक और एक मिलकर ग्यारह हो जाते हैं, तो लक्ष्यों की प्राप्ति सुगम हो जाती है; यही सहकारिता की सुंदरता है और शक्ति भी।मुख्यमंत्री ने कहा कि मानव संस्कृति जब से विकसित होना शुरू हुई। तो मनुष्य के स्वभाव में ही सहकारिता थी। परिवार का सुख मेरा सुख, परिवार का दुख मेरा दु:ख, गांव का सुख मेरा सुख, गांव का दु:ख मेरा दुख। ये सब सहकारिता ही है। ये मेरा है, ये तेरा है ये सोच, छोटे दिल वालों की होती है जो विशाल हृदय का होता है, वह कहते हैं सारी दुनिया ही एक परिवार है। यही तो सहकारिता है। हम का भाव सहकारिता है। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में विभिन्न हितग्राहियों से संवाद भी किया।  

Kolar News

Kolar News 3 July 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लोकतांत्रिक सरकार की सबसे अधिक जवाबदारी गरीबों के प्रति है। गरीब और वंचित वर्ग को ही सरकार के सहयोग और समर्थन की सबसे अधिक आवश्यकता है। राज्य सरकार इसके लिए प्रतिबद्ध है। मध्यप्रदेश को लोक कल्याणकारी राज्य के मॉडल के रूप में स्थापित करना है। अत: गरीब और वंचित वर्ग की तात्कालिक सहायता वाली योजनाओं के साथ उनके स्थाई सामाजिक और आर्थिक उन्नयन के लिए हरसंभव प्रयास पूरी गंभीरता से किए जाएँ। बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधा के साथ स्थाई आजीविका के‍ लिए बहुआयामी गतिविधियाँ संचालित की जाएं।   मुख्यमंत्री चौहान बुधवार को आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के रोडमेप के अंतर्गत गरीब कल्याण के लिए गठित मंत्री-समूह की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया, पशुपालन, सामाजिक न्याय तथा नि:शक्तजन कल्याण मंत्री प्रेमसिंह पटेल, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री रामखेलावन पटेल, नगरीय विकास एवं आवास राज्य मंत्री ओपीएस भदौरिया, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और समूह समन्वयक प्रमुख सचिव खाद्य फैज अहमद किदवई उपस्थित थे। नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग ने बैठक में वर्चुअली भाग लिया।   योजनाओं के फीडबैक के लिए हितग्राहियों से जीवंत संवाद आवश्यक मुख्यमंत्री ने कहा कि खाद्यान्न वितरण का दायित्व स्व-सहायता समूहों को सौंपने पर भी विचार किया जा सकता है। इसके साथ ही गरीबों को तत्काल लाभ देने वाली वनोपज आधारित गतिविधियों और बकरी पालन, मुर्गी पालन जैसी पशुपालन से संबंधित, हितग्राहीमूलक योजनाओं का व्यापक रूप से संचालन भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि मंत्री सहित सभी जन-प्रतिनिधि विभिन्न योजनाओं के हितग्राहियों से जीवंत संवाद रखें। इससे योजनाओं के संबंध में आवश्यक फीडबैक मिलेगा और उन्हें अधिक प्रभावी बनाया जा सकेगा।   गरीबों के खाद्यान्न से छेड़छाड़ न हो मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि खाद्यान्न वितरण संवदेनशील योजना है। यह सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी पात्र व्यक्ति इससे वंचित न रहे। उन्होंने कहा कि खाद्यान्न वितरण में किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने कहा कि उचित मूल्य दुकानों की मॉनीटरिंग क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों द्वारा कराई जाए। सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत अनियमितता करने वालों के विरूद्ध कालाबाजारी की धाराओं के अंतर्गत सख्त कार्रवाई की जाए। गरीबों के लिए दिए जा रहे खाद्यान्न से छेड़छाड़ पर कलेक्टर और एसडीएम नजर रखें। तहसील और विकासखण्ड स्तर पर भी सतर्कता बनाए रखी जाए।   खाद्यान्न वितरण की नवीन श्रेणी में ट्रांसजेंडर्स भी शामिल बैठक में जानकारी दी गई कि खाद्यान्न वितरण के अंतर्गत नवीन श्रेणी में घरेलू कामकाजी कर्मी, ट्रांसजेंडर्स, मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना में सम्मिलित परिवारों और अन्य वंचित वर्ग को जोड़ा गया है। प्रदेश में 24 हजार 500 दुकानों से बायोमेट्रिक सत्यापन के आधार पर राशन वितरण किया जा रहा है। 'वन नेशन वन राशन' के अंतर्गत लगभग 4 लाख परिवारों को पोर्टेबिलिटी के माध्यम से राशन वितरण किया गया है।   3 लाख 16 हजार पथ-विक्रेताओं को 316 करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त ऋण बैठक में जानकारी दी गई कि शहरी गरीबों के लिए दीनदयाल रसोई योजना के अंतर्गत 119 रात्रिकालीन आश्रय स्थलों का नवीनीकरण किया गया है। दीनदयाल अंत्योदय राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन का विस्तार 407 शहरों तक कर लिया गया है। प्रदेश में 3 लाख 16 हजार पथ-‍विक्रेताओं को 316 करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त ऋण प्रदान किया गया है। नगरीय विकास विभाग के अंतर्गत 5,416 स्व-सहायता समूहों का गठन कर 54 हजार 160 परिवारों को स्व-सहायता समूहों से जोड़ा गया है। प्रदेश में 27 हजार 452 युवाओं को कौशल विकास के अंतर्गत प्रशिक्षण उपलब्ध कराया गया है।   महिला स्व-सहायता समूह करेंगे सड़कों का संधारण बैठक में बताया गया कि जनजाति बाहुल्य 15 जिलों में सड़कों का संधारण महिला स्व-सहायता समूहों को सौंपने पर भी विचार किया जा रहा है। बैठक में कृषि एवं किसान-कल्याण, उद्यानिकी तथा खाद्य प्रसंस्करण, मछुआ कल्याण, कुटीर एवं ग्रामोद्योग, पशुपालन, श्रम, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, वन, महिला एवं बाल विकास, स्कूल शिक्षा तथा उच्च शिक्षा विभाग के अंतर्गत संचालित गरीब कल्याण से संबंधित योजनाओं पर विचार-विमर्श हुआ।

Kolar News

Kolar News 30 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने बुधवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री माफिया को गड्डे में गाढऩे की बात करते है यहां तो बेकसूर लोगों को मौत के घाट उतारकर बीजेपी कार्यकर्ता गढ्ढे में गाढ़ रहे है और उन अपराधियों को बीजेपी का विधायक समर्थन कर रहा है उन्हें बचाने का काम कर रहा है।    उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान के राज में 5 आदिवासियों को मौत के घाट उतार कर गड्ढे में गाढ़ दिया गया और प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा पर लाली लगाकर कांग्रेस को कोसने के अलावा कोई काम नहीं कर रहे है। प्रदेश की कानून व्यवस्था को उन्होंने गढ्ढे में गाढ़ दिया है।   जीतू पटवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री की अपने मंत्रिमंडल पर पकड़ नहीं है। कोई भी मंत्री कुछ भी बोल रहा है। उन्होंने ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस से आयातित मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर अयोग्य है जिसकी बानगी स्वयं मंत्री यशोधरा राजे ने आईना दिखाकर कर दी है। स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार बच्चों के अभिभवकों से कह रहे हैं कि जिसे मरना हो वह मर जाए, यह शिवराज जी के मंत्रियों की भाषा है। बच्चों के पालकों को मंत्री इंदर सिंह परमार गुंडा बता रहे हैं। मंत्री इंदर सिंह परमार का इस्तीफा सरकार को ले लेना चाहिए।    पूर्व मंत्री पटवारी ने मंत्री उषा ठाकुर पर निशाना साधते हुए कहा कि मंत्री उषा ठाकुर आदिवासियों से दोहरा व्यवहार करती है, मंत्री आदिवासी संगठन जयास को आतंकवादी संगठन बताती है। पटवारी ने कहा कि आदिवासियों पर अत्याचार और अन्याय को लेकर बीजेपी अपनी सोच बदले। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के हालात अब शिवराज सरकार के नियंत्रण से बाहर है। भाजपा के क्षेत्रीय छत्रप सरकार को चुनौती देते दिख रहे हैं।   कार्यकारी कांग्रेस अध्यक्ष पटवारी ने कहा कि कोरोना से लाखों लोगों की मौत हुई लेकिन सरकार उन्हें आर्थिक सहायता देने से इंकार कर रही है। जिन लोगों की मौत कोरोना से हुई अब कांग्रेस उन मृतकों के घर जाकर सर्वे कर सरकार को मौत के आंकड़े सौंपेगी। उन्होंने कहा कि हम कोरोना से मृत हुए लोंगो के परिवार वालो से शपथ पत्र लेंगे और सरकार को दिखेंगे की कितने लोगों ने कोरोना की वजह से अपनी जान गवाई है। उन्होंने कहा कि कोरोना से लगभग तीन लाख लोगों की मौत हुई है। वहीं पूर्वमंत्री व विधायक पीसी शर्मा ने कहा कि वैक्सिनेशन ज्यादा से ज्यादा हो इसके लिए कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने लोगों से अपील की थी। लेकिन सरकार ने पाकिस्तान को वैक्सिनेशन दे दी वही आतंकवादी कश्मीर में बम बरसा रहे है। उन्होंने वैक्सिनेशन महाअभियान पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक-एक आधार कार्ड पर 10-10 लोगों को वैक्सीन लग गई लगी और वैक्सीन लगवाए बिना ही लोगों के मोबाइल पर वैक्सीन लगवाने के मैसेज आ गया। पीसी शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश में 16 लाभ लोगों का वैक्सिनेशन हुआ यह आंकड़े संदेहास्पद है, वैक्सिनेशन के आंकड़े पूरी तरह फैल है। इस दौरान उन्होंने कोरोना के दौरान तीन महीने के बिजली का बिल हो माफ करने की सरकार से मांग की। उन्होंने कहा कि गरीब लोगों को राशन नहीं मिल रहा जिसका सरकार जल्द से जल्द इंतजाम करे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में फर्जी वैक्सिनेशन हुआ है जिसका कांग्रेस पर्दाफाश करके रहेगी।

Kolar News

Kolar News 30 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश सरकार से कोरोना से मरने वालों के  परिजनों को 5 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि कोरोना से मृत व्यक्ति के परिवार को मुआवजा देना सुनिश्चित किया जाए। मुआवजा तय करने के लिए नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉर्टी (एनडीएमए) को 6 हफ्ते का समय दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला एक बार फिर नरेंद्र मोदी सरकार की विफलता को दिखाता है।   कमलनाथ ने बुधवार को कहा कि होना तो यह चाहिए था कि सरकार कार्यपालिका के रूप में स्वयं अपनी जिम्मेदारी निभाती और न्यायपालिका को फैसला सुनाने की जरूरत ही नहीं पड़ती। लेकिन केंद्र सरकार बार-बार सुप्रीम कोर्ट में मुआवजा न देने के बहाने बनाती रही। केंद्र के वकीलों ने तो यहां तक कहा कि जब दूसरी बीमारियों में मुआवजा नहीं देते हैं तो कोरोना में मुआवजा क्यों दें? लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को उसका कर्तव्य याद दिलाया है। मेरी केंद्र सरकार से मांग है कि प्राकृतिक आपदा में मरने वाले व्यक्ति को पहले से ही 4 लाख रुपये मुआवजा देने का प्रावधान है, एनडीएमए जो भी फार्मूला बनाए, उसमें इस तथ्य को ध्यान में रखे। कोरोना से मृत्यु पर केंद्र की ओर से कम से कम 4 लाख रुपये मुआवजा दिया जाए   पूर्व सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार पहले ही कोरोना से मृत व्यक्ति को एक लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा कर चुकी है। इस तरह केंद्र और राज्य सरकार मिलकर मध्यप्रदेश में कोरोना से मृत हर व्यक्ति के परिजन को कम से कम 5 लाख रुपये मुआवजा देना सुनिश्चित करे। मैंने पूर्व में भी इस आशय की मांग कई बार उठाई है, लेकिन अब तक सरकार अपनी जिम्मेदारी स्वीकार करने में हीला-हवाली करती रही है। अब जब सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकार को फटकार लगाई है, तो बहानेबाजी छोडक़र कोविड पीडि़तों की मदद की जानी चाहिए।   कमलनाथ ने कहा कि दूसरा महत्वपूर्ण पहलू यह है कि मध्य प्रदेश में यह बराबर देखने में आ रहा है कि राज्य सरकार मृतकों के आंकड़े जानबूझकर घटा रही है। देश और अंतरराष्ट्रीय मीडिया में इस आशय के समाचार प्रकाशित हो चुके हैं, जिनसे पता चलता है कि मध्यप्रदेश में जितने लोग कोरोना से मरे हैं, उससे बहुत कम लोगों की मृत्यु कोरोना से होना सरकार ने स्वीकार किया है। अब जब सुप्रीम कोर्ट ने आदेश कर दिया है तो सरकार न सिर्फ मानवीय आधार पर मुआवजा तय करे, बल्कि मृतकों की संख्या छुपाने की राजनीति भी बंद करे। सरकार के लिए यह राजनीति का विषय हो सकता है, लेकिन जिस परिवार में किसी व्यक्ति की मृत्यु हो गई हो, वहां पूरे परिवार के सामने आर्थिक और सामाजिक संकट खड़ा हो जाता है। मध्यप्रदेश के ऐसे दुखियारे परिवारों से छल करने के बजाय सरकार को उनके दुख-दर्द को समझते हुए, ईमानदारी से मुआवजा देना चाहिए।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि मृत्यु के आंकड़ों में सरकार पहले ही काफी हेरफेर कर चुकी है, इसलिए कोविड मृत्यु साबित करने के लिए लोगों पर अनावश्यक प्रमाण प्रस्तुत करने का दबाव न बनाया जाए। इसके बजाय जो परिजन कोविड से मृत्यु का शपथपत्र प्रस्तुत करें, उसे ही प्रमाण मानकर कोविड मृत्यु का मुआवजा दिया जाए। यदि किसी शपथपत्र में गड़बड़ी पाई जाती है तो बाद में उसकी जांच की जा सकती है। राज्य में आय प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र और दूसरे प्रमाणपत्र जारी करने का मूल आधार शपथपत्र ही होता है। अगर कोई परिजन कोविड प्रोटोकॉट से अंतिम संस्कार करने और कोविड से मृत्यु का शपथपत्र देता है तो उसे पर्याप्त माना जाना चाहिए।

Kolar News

Kolar News 30 June 2021

भोपाल। कोविड-19 से मुक्ति की दिशा में मध्यप्रदेश तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है। प्रदेश ने प्रथम डोज़ के वैक्सीनेशन के 2 करोड़ से अधिक संख्या को पार कर लिया है। अब नई शक्ति के साथ हम दूसरी डोज़ के वैक्सीनेशन की गति बढ़ाकर कोरोना मुक्त मध्यप्रदेश के संकल्प को साकार करेंगे। यह बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान के पांचवें दिन राज्य में दो लाख से अधिक डोजेज लगने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कही।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में शुरू हुए विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान में मध्यप्रदेश ने अब तक 2 करोड़ वैक्सीन के डोज लगाकर नागरिकों को कोरोना से सुरक्षा का मजबूत सुरक्षा कवच प्रदान किया है। इस महत्वपूर्ण उपलब्धि पर सभी फ्रंटलाइन वर्करों और नागरिकों को बधाई।      दोपहर दो बजे तक 2 लाख 90 हजार से अधिक लोगों को लगे टीके मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्रेरणा और नेतृत्व में जन-भागीदारी से प्रदेश में चल रहे टीकाकरण महाअभियान के पांचवें दिन सोमवार, 28 जून को दोपहर दो बजे तक 2 लाख 90 हजार 38 लोगों को कोरोना वैक्सीन के डोजेज लग चुके हैं। इन्हें मिलाकर अब तक मध्यप्रदेश में दो करोड़ एक लाख 6 हजार 995 कोरोना वैक्सीन की डोजेज लगाए जा चुके है। यह मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण से बचाव और रोकथाम की दिशा में महत्वपूर्ण प्रयास है।   मुख्यमंत्री चौहान द्वारा नागरिकों, विभिन्न संगठनों, टीकाकरण प्रेरकों, गण्यमान्य व्यक्तियों, फ्रन्ट लाइन वर्कर्स, धर्मगुरुओं, चिकित्सकों, पैरामेडिकल स्टाफ और आपदा प्रबंधन समितियों के सदस्यों से लगातार संवाद के फलस्वरूप प्रदेश में टीकाकरण के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण बना है। समाज के महत्वपूर्ण व्यक्तियों, कार्यकर्ताओं, जन-प्रतिनिधियों में प्रेरित होकर और स्व-प्रेरणा में लोग टीकाकरण के लिये उत्साहित हुये हैं। उनमें वैक्सीन के प्रति भ्रम तथा भय दूर हुआ है। उन्हें कोरोना वैक्सीन लगवाने में सुरक्षा का अहसास हो गया है। शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों में टीकाकरण के लिये उत्साह है। वे टीकाकरण केन्द्र पहुँचकर टीका लगवा रहे हैं।

Kolar News

Kolar News 28 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कक्षा 12वीं के अंकों का निर्धारण कक्षा 10वीं के विभिन्न विषयों में प्राप्त अंकों को बेस्ट ऑफ फाइव के आधार पर किया जाए। यदि विद्यार्थी परिणाम सुधारना चाहते हैं तो वे परीक्षा देकर परिणाम सुधार सकते हैं। प्रदेश में एक जुलाई से स्कूल नहीं खुलेंगे। ऑनलाइन और टीवी के माध्यम से ही पढ़ाई की व्यवस्था जारी रहेगी। स्कूल खोलने के महत्वपूर्ण निर्णय के संबंध में केंद्र सहित अन्य राज्यों और विशेषज्ञों से चर्चा कर निर्णय लिया जाएगा।   मुख्यमंत्री सोमवार को प्रदेश में शासकीय और निजी शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थानों में कोविड -19 के दौरान भविष्य की रणनीति के संबंध में गठित मंत्री समूह की अनुशंसाओं पर मंत्रालय में चर्चा कर रहे थे। खेल एवं युवा कल्याण, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया वर्चुअली शामिल हुईं। बैठक में जनजातीय कार्य तथा अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री मीना सिंह, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव, स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) इंदर सिंह परमार और आयुष राज्य मंत्री रामकिशोर कावरे उपस्थित थे। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि अरुण शमी द्वारा प्रस्तुतिकरण दिया गया।   जनजातीय क्षेत्रों में शैक्षणिक गतिविधियों के लिए दूरदर्शन का सहयोग मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में ऑनलाइन और हाईब्रिड आधार पर अर्थात वाट्सएप और डिजिटल संसाधनों और टीवी आदि के माध्यम से भी शैक्षणिक गतिविधियाँ जारी रहें। क्लस्टर स्तर पर टीवी उपलब्ध कराने और शाला स्तर पर डिवाइज पूल बनाने जैसी गतिविधियाँ संचालित की जाएँ। जनजातीय क्षेत्रों में शैक्षणिक गतिविधियों के संचालन में दूरदर्शन से सहयोग लिया जाएगा।   शिक्षण संस्थाओं को बनाया जाएगा कोरोना सेफ मंत्री समूह द्वारा नवीन शैक्षणिक सत्र में संस्थाएँ खोले जाने के संबंध में सभी हितग्राहियों जैसे विद्यार्थी, पालक, संस्था प्रमुख, शिक्षकों और आम नागरिकों से सुझाव प्राप्त कर अनुशंसाएँ प्रस्तुत की गईं। प्राप्त अनुशंसाओं के अनुसार शिक्षकों का प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण कराया जाएगा। शैक्षणिक संस्थाओं में कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के उपायों पर विशेष प्रशिक्षण आयोजित किए जाएंगे। शिक्षण संस्थाओं को कोरोना सेफ बनाने के लिए आवश्यक व्यवस्थाएँ विकसित की जाएंगी।   तकनीकी शैक्षणिक संस्थाएँ मंत्री समूह के प्रस्तुतिकरण में बताया गया कि तकनीकी शैक्षणिक संस्थाओं में नवीन सत्र का शुभारंभ द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ वर्ष की इंजीनियरिंग कक्षाओं के लिए 2 अगस्त से होगा। प्रथम वर्ष इंजीनियरिंग की कक्षाएँ 15 सितम्बर से आरंभ होंगी। प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय वर्ष डिप्लोमा की कक्षाएँ 17 अगस्त से, आई.टी.आई की द्वितीय वर्ष की कक्षाएँ 12 जुलाई से और आई.टी.आई की प्रथम वर्ष की कक्षाएँ 16 अगस्त से आरंभ होंगी। प्रथम वर्ष इंजीनियरिंग में प्रवेश जेईईई मेन्स तथा मध्यप्रदेश हायर सेकेण्डरी बोर्ड की 12वीं परीक्षा परिणाम के आधार पर होगा। प्रथम वर्ष डिप्लोमा में प्रवेश के लिए हाई स्कूल परीक्षा परिणाम को आधार माना जाएगा। आई.टी.आई की प्रवेश प्रक्रिया 31 जुलाई तक पूर्ण कर ली जाएगी।   विद्यार्थियों को कोरोना पेडेंमिक प्रबंधन की ट्रेनिंग पैरामेडिकल डिग्री/डिप्लोमा पात्रता परीक्षाएँ जून-जुलाई माह में होंगी। पैरामेडिकल सर्टिफिकेट परीक्षाएँ जुलाई माह में ली जाएगी। बी.एस.सी. एवं एम.एस.सी. नर्सिंग की परीक्षाएँ मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय द्वारा जुलाई माह में आयोजित की जाएंगी। मेडिकल एवं दंत चिकित्सा शिक्षा के अंतर्गत स्नातक एवं स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए राज्य सरकार द्वारा नीट, यू.जी./पी.जी. की परीक्षा उपरांत सत्र आरंभ किया जाएगा। कक्षाएँ ऑफलाइन पद्धति से संचालित होंगी। कोरोना पेडेंमिक तीसरी लहर की तैयारी के तहत प्रारंभ के 15 दिवस में विद्यार्थियों को कोरोना पेडेंमिक प्रबंधन की ट्रेनिंग दी जाएगी।   उच्च शिक्षा मंत्री समूह द्वारा प्रस्तुत अनुशंसाओं में उच्च शिक्षा विभाग के अंतर्गत ओपन बुक परीक्षा एवं परीक्षा परिणाम के संबंध में बताया गया कि स्नातक तृतीय वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर के परीक्षा परिणाम जुलाई 2021 में, स्नातक प्रथम/द्वितीय वर्ष एवं स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षाएँ जुलाई 2021 में और स्नातक प्रथम/द्वितीय वर्ष एवं स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के परीक्षा परिणाम अगस्त 2021 में जारी किए जाएंगे।   स्नातक प्रथम वर्ष एवं स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर के लिए प्रवेश प्रक्रिया एक अगस्त से आरंभ होगी। स्नातक द्वितीय तथा तृतीय वर्ष एवं स्नातकोत्तर तृतीय सेमेस्टर की कक्षाओं के लिए प्रवेश प्रक्रिया एक से 30 अगस्त 2021 तक चलेगी। स्नातक प्रथम, द्वितीय, तृतीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर प्रथम एवं तृतीय सेमेस्टर के लिए नवीन सत्र एक सितम्बर से आरंभ होगा। जिला आपदा प्रबंधन समिति के परामर्श पर महाविद्यालयवार समय सारणी अनुसार विद्यार्थियों की 50 प्रतिशत भौतिक उपस्थिति के साथ कक्षाओं का संचालन किया जाएगा। प्रयोगशालाओं का संचालन विद्यार्थियों की 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ किया जाएगा। छात्रावासों और ग्रंथालय विद्यार्थियों की भौतिक रूप से उपस्थिति के साथ चरणबद्ध रूप से आरंभ किए जाएंगे।   क्लीनिकल विषय पर 6-6 छात्रों के समूह में लगेंगी कक्षाएँ मंत्री समूह द्वारा अनुशंसा की गई है कि आयुष से संबंधित संस्थाओं में शैक्षणिक सत्र 2021-22 के प्रवेश नीट परीक्षा 2021 के परीक्षा परिणाम उपरांत ऑनलाइन काउंसलिंग के माध्यम से सम्पन्न कराए जाएंगे। आयुष पाठ्यक्रम की कक्षाओं का संचालन ऑनलाइन मोड में जारी रहेगा। क्लीनिकल विषय के लिए कैम्पस में भौतिक रूप से छात्रों के 6-6 के समूह बनाकर उपस्थिति सुनिश्चित की जाएगी।   आयुष के अंतर्गत समस्त परीक्षाएँ ऑफलाइन मोड में संचालित की जाएंगी। बीएएमएस की परीक्षाएँ 7 जुलाई से 25 अगस्त तक, बीएचएमएस की परीक्षाएँ 30 जून से 24 जुलाई तक और बीयूएमएस की परीक्षाएँ 30 जून से 30 जुलाई तक आयोजित की जाएंगी।   मुख्यमंत्री ने कहा है कि समस्त शैक्षणिक गतिविधियों में 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के सभी विद्यार्थियों का शत-प्रतिशत टीकाकरण और शैक्षणिक परिसरों में कोविड अनुकूल व्यवहार के अनुसरण की अनिवार्यता सुनिश्चित की जाए। जिनका वैक्सीनेशन नहीं होगा, उन्हें परिसर में प्रवेश नहीं दिया जाए।

Kolar News

Kolar News 28 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कैंसर, ब्लैक फंगस जैसी गंभीर बीमारियों की दवाओं के निर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए नई फार्मा नीति बनाई जाएगी। गंभीर बीमारियों की सस्ती लेकिन अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार उच्च गुणवत्ता की दवाएं बनाना हमारी प्राथमिकता होगी। जबलपुर में कम समय में ब्लैक फंगस के उपचार के लिए आवश्यक एम्फोरेवा-बी का उत्पादन आरंभ होना प्रदेश के लिए आनंद, संतोष और गौरव की बात है।   मुख्यमंत्री चौहान ने यह बात सोमवार को रेवा क्योर लाईफ साइंसेस कंपनी जबलपुर द्वारा ब्लैक फंगस के उपचार के लिए आवश्यक दवा एम्फोरेवा-बी इंजेक्शन के निर्माण के वर्चुअल शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग भी इस अवसर पर उपस्थित थे। जबलपुर संभाग आयुक्त वी. चंद्रशेखर, राज्य कोविड क्राइसिस मेनेजमेंट कमेटी के सदस्य डॉ. जीतेन्द्र जामदार सहित रेवा क्योर सांइसेस के संस्थापक डॉ. राजीव सक्सेना और डॉ. नीति भारद्वाज जबलपुर से वर्चुअली जुड़े।   मुख्यमंत्री ने कहा कि कैंसर और लंग्स-किडनी-लीवर ट्रांसप्लांट जैसी गंभीर और आर्थिक रूप से कमर तोड़ देने वाली बीमारियों में गरीब और मध्यमवर्गीय परिवारों की सहायता के लिए राज्य सरकार नीति बनाने पर विचार कर रही है।   उन्होंने कहा कि ब्लैक फंगस से निपटने के लिए इस इंजेक्शन का उत्पादन प्रदेश को आत्म-निर्भर बनाने की ओर एक महत्वपूर्ण कदम है। रेवा क्योर साइंसेस कंपनी के नाम के साथ रेवा शब्द जोड़ना कंपनी के अपनी जड़ों के साथ जुड़े रहने का प्रतीक है। यह इकाई एंटी कैंसर इंजेक्शन का निर्माण करने वाली मध्यप्रदेश की एकमात्र फार्मा कंपनी है। आधुनिक नैनो टेक्नोलॉजी आधारित इंजेक्शन का उत्पादन और कंपनी का डब्ल्यू.एच.ओ. और यूरोपियन जी.एम.पी. से सर्टिफाइड होना प्रदेश के लिए गौरव की बात है। मुख्यमंत्री ने रेवा क्योर के संस्थापकों को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी।   उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आत्म-निर्भर भारत के निर्माण का मंत्र दिया गया है। इस दिशा में आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण के लिए विकसित रोडमेप में स्वास्थ्य के लिये अधो-संरचना को सुदृढ़ करना शामिल है। प्रदेश ने कोविड के महासंकट में पीड़ित मानवता के असीम कष्टों को देखा है, परन्तु अब स्थिति नियंत्रण में है। कल हुए 75 हजार टेस्ट में से मात्र 35 पॉजीटिव आए हैं। एक्टिव केस अब केवल 800 हैं। तीसरी लहर की आशंका सर्वत्र व्याप्त है। प्रदेश में संक्रमण को नियंत्रण में रखने के लिए टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट और किल-कोरोना अभियान लगातार जारी रहेगा।

Kolar News

Kolar News 28 June 2021

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार सुबह अपने रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' में एक देशी म्यूजियम बनाने के लिए मध्यप्रदेश के सतना जिले के रामलोटन कुशवाहा की तारीफ की है। वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोशल मीडिया के माध्यम से रामलोचन को बधाई दी है।   प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने  'मन की बात' कार्यक्रम में कहा कि "मध्य प्रदेश के सतना के एक साथी हैं श्रीमान रामलोटन कुशवाहा जी, उन्होंने बहुत ही सराहनीय काम किया है। रामलोटन जी ने अपने खेत में एक देशी म्यूजियम बनाया है। इस म्यूजिम में उन्होंने सैकड़ों औषधीय पौधों और बीजों का संग्रह किया है। इन्हें वे दूर-सुदूर क्षेत्रों से यहां लेकर आए हैं। इसके अलावा वे हर साल कई तरह की भारतीय सब्जियां भी उगाते हैं। रामलोटन जी की इस बगिया, इस देशी म्यूजियम को लोग देखने भी आते हैं और उससे बहुत कुछ सीखते भी हैं। वाकई, यह एक बहुत अच्छा प्रयोग है, जिसे देश के अलग-अलग क्षेत्रों में दोहराया जा सकता है।"   इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा है "सतना जिले के रामलोटन कुशवाहा जी ने अपने घर में औषधीय पौधों और बीजों का जो देशी म्यूजियम बनाया है वो अद्भुत है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज 'मन की बात' में इसकी सराहना की है। आपके इस प्रयोग को प्रधानमंत्री जी ने पूरे देश में पहुंचा दिया है।"   मुख्यमंत्री चौहान ने अगले ट्वीट में कहा है "रामलोटन जी, आपके इन प्रयासों से प्रेरणा लेकर अन्य लोग भी अपने लिये आय के साधन बनायेंगे। आपने स्थानीय स्तर पर जैव विविधता बढ़ाने का अद्भुत कार्य किया है। इसके माध्यम से सतना की पहचान भी बनेगी। आपको बधाई।"   64 वर्षीय रामलोटन कुशवाहा प्रदेश के सतना जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूर उचेहरा ब्लॉक के गांव अतरवेदिया के निवासी हैं। वे यहां एक एकड़ से कुछ कम खेत में औषधीय गुणों से भरी जड़ी बूटियों का संरक्षण और संवर्धन कर रहे हैं। साथ में हर साल कई तरह की सब्जियां उगाते हैं। रामलोटन की बगिया में मौजूदा समय में 250 से भी अधिक औषधीय पौधों का अनुपम संग्रह है। यह यहां संवर्धित हो रहे हैं। इसके अलावा 12 प्रकार की लौकियां, गाय के मुंह के आकार के बैगन आदि हैं।   रामलोटन कुशवाहा बताते हैं कि "उनकी बगिया में सिंदूर, अजवाइन, शक्कर पत्ती, जंगली पालक, जंगली धनिया, जंगली मिर्चा के अलावा गौमुख बैगन, सुई धागा, हाथी पंजा, अजूबी, बालम खीरा, पिपरमिंट, गरुड़, सोनचट्टा, सफेद और काली मूसली और पारस पीपल जैसी तमाम औषधीय गुण के पौधे रोपे गए हैं। "    उन्होंने बताया कि "लौकियों को उनके आकार के आधार पर नाम दिए गए हैं। जैसे अजगर लौकी, बीन वाली लौकी, तंबूरा लौकी आदि। इनमें से कुछ खाने के काम आती हैं, बाकी की लौकियों का औषधीय उपयोग किया जा रहा है। इससे पीलिया, बुखार ठीक किया जाता है।"   जड़ी बूटियों को खोजने के लिए राम लोटन कहीं भी जा सकते हैं। ब्राम्ही के लिए हिमालय तक गए थे। वे बताते हैं कि "लोग कहते रहे कि हिमालय के पौधे यहां कैसे हो सकेंगे? लेकिन मेरी बगिया में सब कुछ वैसा ही फल-फूल रहा है। इसके अलावा अमरकंटक सहित अन्य जंगलों में भी भटके हैं। उनकी नर्सरी में सबसे खास सफेद पलाश है जो बहुत कम ही देखने को मिलता है। सफेद पलाश को बचाने के लिए वो उसकी नई पौध भी तैयार करे हैं। इसे देखने और पौध लेने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं।

Kolar News

Kolar News 27 June 2021

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देशभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर वैक्सीनेशन का महाअभियान शुरू हुआ है। 300 से अधिक प्रतिष्ठित साइंटिस्ट एवं एकेडमिशीयंस द्वारा वैक्सीन ड्राइव की सराहना करते हुए अभियान को समर्थन दिया है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस महाअभियान को लेकर कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश में टीकाकरण की गति निरंतर बढ़ रही है।   मुख्यमंत्री चौहान ने रविवार को सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि "प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के कर्मठ नेतृत्व एवं सतत प्रोत्साहन से पूरे देश में टीकाकरण की गति निरंतर बढ़ रही है। 300 से अधिक प्रतिष्ठित साइंटिस्ट एवं एकेडमिशीयंस द्वारा वैक्सीन ड्राइव की सराहना करते हुए अभियान को आत्मीय समर्थन प्रदान किया गया है।"   उन्होंने कहा कि "वैक्सीनेशन महाअभियान को सफल बनाकर प्रदेश को कोरोना से सुरक्षा चक्र प्रदान करने हेतु प्रदेश के नागरिकों, स्वास्थ्य अधिकारियों कार्यकर्ताओं, समाजसेवियों एवं जनप्रतिनिधियों का आभार। प्रधानमंत्री मोदी जी के मार्गदर्शन में हम वैक्सीनेशन महाअभियान को पूरी ऊर्जा के साथ जारी रखेंगे और जल्द ही पूरे प्रदेश को सुरक्षा चक्र प्रदान करने में सफल होंगे।"    मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि "मुझे यह बताते हुए हर्ष है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के विज़न के साथ मध्यप्रदेश सशक्त कदम मिलाकर चल रहा है। वैक्सीनेशन महाअभियान के अंतर्गत अब तक 45 लाख से भी अधिक डोज़ लगाए जा चुके हैं। 'When the going gets tough, the tough gets going' निश्चय ही इन अभूतपूर्व परिस्थितियों में प्रधानमंत्री मोदी जी ने जिस जीवटता और ऊर्जा से देश का नेतृत्व किया है, वह भी अप्रतिम है अनुकरणीय है।"

Kolar News

Kolar News 27 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में टीकाकरण, अस्पताल प्रबंधन और आत्म-निर्भर मप्र के रोडमैप के लिये गठित तीन मंत्री-समूहों की संयुक्त बैठक शुक्रवार को मंत्रालय में हुई। बैठक में मंत्री-समूहों के सदस्यों ने वर्चुअल माध्यम से जुड़कर विभिन्न विषयों पर मंथन किया।   बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग, खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहू लाल सिंह, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल, पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर, उद्यानिकी (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह, स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल, आयुष (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री रामकिशोर कावरे, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्य मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव वर्चुअली जुड़े। बैठक में अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान, स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी और संचालक चिकित्सा शिक्षा डॉ. उल्का श्रीवास्तव उपस्थित थीं।   अस्पतालों के प्रबंधन और संसाधनों की उपलब्धता की प्रगति का आंकलन बैठक में मंत्रियों की विभिन्न अनुशंसाओं पर चर्चा की गई। बैठक में शासकीय एवं निजी क्षेत्र के अस्पतालों के सुनियोजित प्रबंधन एवं सभी आवश्यक सुविधाओं और संस्थानों की उपलब्धता की सुनिश्चितता की प्रगति का आंकलन किया गया। मंत्री सारंग ने कहा कि कोरोना की थर्ड वेव को रोकने और बचाव की प्लानिंग रिपोर्ट जरूर बनायें। स्टाफ को मोटिवेशन और ट्रेनिंग देने की आवश्यकता बताई गई। बच्चों के साथ अभिभावकों के रहने के लिये स्पेस निर्धारित करने को भी कहा गया। उन्होंने आंकलन के लिये डाटा कलेक्शन के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग की संख्या बढ़ाकर लगातार मरीजों का ध्यान रखा जाये। दवाओं का आंकलन एवं उपलब्धता सुनिश्चित करने को भी कहा गया।   मंत्री सारंग ने कहा कि मध्यप्रदेश में फॉर्मेसी कम्पनियों को प्रमोट करें। सभी चिकित्सा पद्धतियों को एक प्लेटफार्म पर लाने सिंक्रोनाइज करने के लिये अध्ययन कर प्रयास किये जायें। हर जिले में ऑक्सीजन वाले कम से कम 50 बेड उपलब्ध हों। बैठक में साफ-सफाई व्यवस्था, जिला अस्पताल की प्रबंधन की तैयारी आदि पर चर्चा की गई।   स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने पर मंथन राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने सुझाव दिया कि जिला मुख्यालय पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में 80 प्रतिशत सुविधाएँ देने से जिला अस्पताल पर लोड कम होगा। वेंटिलेटर बेड और सीटी स्केन मशीन के बारे में भी चर्चा की गई। बैठक में कहा गया कि समय के साथ स्वास्थ्य सेवाएँ बेहतर हो सके, इसके लिये राज्य शासन भरसक प्रयास कर रहा है।   टीकाकरण और स्वास्थ्य अमले की उपलब्धता प्राथमिक लक्ष्य बैठक में बताया गया कि कॉलेजों में भी कैम्प लगाकर टीकाकरण करवाया जायेगा। लगातार वैक्सीनेशन किया जा रहा है। कर्मचारियों के शत-प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य भी पूर्णता की ओर अग्रेषित है। आने वाले समय में स्वास्थ्य सेवाओं में निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने के प्रयास भी लगातार जारी हैं। चिन्हांकित 126 टेस्ट की सुविधाएँ हर जिले में उपलब्ध करवाई जा रही हैं। इससे टेस्ट के लिये सेम्पल बाहर भेजने की आवश्यकता नहीं होगी। आयुष्मान कार्ड की संख्या अब एक करोड़ से बढ़कर लगभग ढाई करोड़ हो गई है।   बैठक में डॉक्टर्स की भर्ती, नर्स, लैब टेक्नीशियन्स की उपलब्धता पर भी चर्चा की गई। बताया गया कि 1565 प्रसव केन्द्र क्रियाशील हैं। गर्भवती महिलाओं का चेकअप किया जा रहा है। सभी जिला अस्पतालों में लैब बन गई हैं। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और चिकित्सा शिक्षा विभाग को दोनों विभाग के मंत्रियों की सहमति से संविलियन के प्रस्ताव को अग्रेषित किया गया है। आदिवासी विकासखण्डों में काम करने वाले डॉक्टरों को इन्सेंटिव देने पर भी विचार किया जा रहा है।   लक्ष्य प्राप्त करने की रणनीति पर चर्चा बैठक में बताया गया कि टीकाकरण महा-अभियान के प्रथम दो दिवसों में देश में सर्वाधिक वैक्सीनेशन मध्यप्रदेश में हुआ। प्रदेश में इंदौर जिले में सर्वाधिक पात्र हितग्राहियों का वैक्सीनेशन किया गया। नगर पंचायत बुढ़ार में शत-प्रतिशत नागरिकों का पूर्ण टीकाकरण हुआ। जिला सागर के केन्द्रीय जेल के कैदियों का शत-प्रतिशत टीकाकरण हुआ। प्रदेश में उच्च जोखिम वाले समूह का प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण करवाया गया है। प्रदेश की 20 ग्राम पंचायतों में शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन हुआ है। युवा शक्ति कोरोना मुक्ति अभियान के अंतर्गत 42 जिलों में 1200 मास्टर प्रशिक्षक प्रशिक्षित किये गये हैं। अगली दो तिमाहियों के लिये पहली और दूसरी खुराक का वर्गवार वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर प्लान प्रदर्शित किया गया। बैठक में जुलाई से दिसम्बर तक लगातार विभिन्न लक्ष्य प्राप्त करने की रणनीति पर चर्चा की गई।

Kolar News

Kolar News 25 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि केन्द्र सरकार द्वारा मध्यप्रदेश को कोरोना नियंत्रण एवं उपचार में कोविड केयर सेंटर, ऑक्सीजन, इंजेक्शन, दवाओं आदि के लिये निरंतर सहायता दी गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रदेश को आवश्यक संख्या में वैक्सीन दिलवा रहे हैं और हम प्रदेश में अधिक से अधिक वैक्सीन डोज लगवा रहे हैं। मप्र ने एक दिन में सर्वाधिक वैक्सीन लगाने का रिकार्ड बनाया है। यह मोदी वैक्सीन है, यह केवल डोज़ नहीं बल्कि जिन्दगी है। प्रदेश में हर व्यक्ति को वैक्सीन लगाकर कोरोना से सुरक्षित किया जा रहा है।   मुख्यमंत्री चौहान ने यह बातें शुक्रवार को मंडला में मोइल (मैग्नीज ओर इंडिया लिमिटेड) द्वारा निर्मित 100 बिस्तरीय कोविड केयर सेंटर का वर्चुअल लोकार्पण करते हुए कही। इस अवसर पर केंद्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते उपस्थित थे। केन्द्रीय इस्पात, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी वर्चुअली शामिल हुए।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को कोविड केयर सेंटर और अन्य सुविधाएँ दिलाने में केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान और फग्गन सिंह कुलस्ते ने सराहनीय भूमिका निभाई है। 'मैं दोनों मंत्रियों का हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ'। उन्होंने न केवल मंडला में 100 बिस्तरीय कोविड केयर सेंटर दिया है, बल्कि बालाघाट में 100, सिवनी में 60, डिण्डौरी में 50, नरसिंहपुर में 40 और नैनपुर में 30 बिस्तरीय कोविड केयर सेंटर की सौगात दी है। बीना में रिफाइनरी के पास ही अस्पताल बनवाया गया, जिससे वहाँ ऑक्सीजन आसानी से सप्लाई की जा सके। प्रदेश में यदि कोरोना की तीसरी लहर आती है तो ये सभी कोविड केयर सेंटर्स कोरोना उपचार में मील का पत्थर साबित होंगे।   कोविड नियंत्रण में मध्यप्रदेश ने देश में आदर्श प्रस्तुत किया केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि कोविड नियंत्रण में मध्यप्रदेश ने देश में आदर्श प्रस्तुत किया है। यहाँ जन-भागीदारी से कोविड नियंत्रण सराहनीय है। अब मुख्यमंत्री चौहान ने मध्यप्रदेश में टीकाकरण को जन-आंदोलन बना दिया है। मध्यप्रदेश में तेज गति से टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन, ऑक्सीजन प्रबंधन, रेमडेसिविर आदि की उपलब्धता, कोरोना उपचार, होम आयसोलेशन की आदर्श व्यवस्था, माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाने की व्यवस्था की कारगर रणनीति के लिए राज्य शासन की सराहना की।   कोविड अस्पताल निर्माण के लिए सभी का अभिनंदन केन्द्रीय मंत्री फग्गनसिंह कुलस्ते ने जिले में कोविड केयर सेंटर के निर्माण के लिए मुख्यमंत्री चौहान, केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान सहित मोइल की टीम का अभिनंदन किया। उन्होंने बताया कि मोइल के सौजन्य से प्रदेश के कई स्थानों पर कोविड केयर सेंटर बनाए जा रहे हैं।   बीना, बुधनी और भोपाल में कोविड अस्पताल निर्माण में सहयोग प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान द्वारा बीना, बुधनी और भोपाल में कोविड अस्पतालों के निर्माण में सहयोग किया गया है। इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं। सांसद संपतिया उइके ने कहा कि कोविड केयर सेंटर के निर्माण से जिले की जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिलेगी।

Kolar News

Kolar News 25 June 2021

भोपाल। देश में साल 1975 में आज के ही दिन लागू हुए आपातकाल को लेकर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि आपातकाल लागू कर कांग्रेस ने गरीबों के मुंह का निवाला छीनने का पाप किया है, लेकिन समय बड़ा बलवान होता है। जनता की शक्ति छीनने वाले स्वयं अब शक्तिहीन होकर कहीं के न रहे।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा है कि -"1975 में आज के ही दिन भारतीय लोकतंत्र का गला घोंटकर #आपातकाल लागू हुआ था। आम नागरिकों के अधिकार छीन लिये गये। प्रेस के मुंह पर ताला जड़ दिया गया। विरोध में मुखर होने वाली आवाजों को काल कोठरी के अंधेरों में ठूंसकर चुप कराने का हरसंभव और क्रूरतम प्रयास किया गया।"    उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि -"गरीबी हटाओ का नारा देने वाली कांग्रेस ने आपातकाल लागू कर गरीबों के मुंह का निवाला छीनने का घनघोर पाप किया। सच्चाई के लिए उठने वाली हर आवाज पर जुल्म ढाये गये। 'समय होत बलवान'। समय ने करवट बदली और आपातकाल लगाकर जनता की शक्ति छीनने वाले स्वयं शक्तिहीन होकर कहीं के न रहे।"   मुख्यमंत्री चौहान ने अगले ट्वीट में कहा है कि -"भारत के लोकतंत्र के मूल्यों की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व झोंकने तथा आपातकाल की क्रूर यातनाओं को सहते हुए अपने प्राणों को उत्सर्ग कर देने वाले महान आत्माओं के चरणों में विनम्र श्रद्धांजलि! साथ ही संकल्प कि आपके सपनों के भारत के निर्माण के लिए हम सब प्राण प्रण से प्रयास करेंगे।"

Kolar News

Kolar News 25 June 2021

भोपाल। केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने गुरुवार को राष्ट्रीय बीज निगम, क्षेत्रीय कार्यालय, भोपाल के भवन एवं तीन हजार एम.टी. क्षमता के बीज गोदाम तथा नेफेड के भोपाल कार्यालय का वर्चुअल शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार कृषि के क्षेत्र में विगत 15 वर्षों से बेहतरीन कार्य कर रही है।   केन्द्रीय कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि म.प्र. कृषि प्रधान राज्य है, जहाँ के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं कृषि मंत्री कमल पटेल दोनों खेती-किसानी से जुड़े हुए हैं। दोनों ही किसानों को उनकी उपज के वाजिब दाम दिलाने तथा कृषि क्षेत्र को समृद्ध करने के लिये बहुत अच्छी तरह काम कर रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री ने भरोसा दिलाया कि राज्य सरकार को भारत सरकार की ओर से पहले भी पूरा सहयोग किया गया है और आगे भी पूरी मदद की जाती रहेगी। किसानों की भलाई के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार कृत-संकल्पित है और किसानों की मदद करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी।   नेफेड का क्षेत्रीय कार्यालय भोपाल होने से किसानों को मिलेगा लाभः मंत्री पटेल कार्यक्रम के विशेष अतिथि मध्यप्रदेश के किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने भारत सरकार द्वारा भोपाल में नेफेड का क्षेत्रीय कार्यालय खोले जाने पर आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इससे निश्चित ही किसानों को लाभ मिलेगा।  उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने सत्ता परिवर्तन से व्यवस्था परिवर्तन के संकल्प को पूरा करके दिखाया है। राज्य में समर्थन मूल्य पर किसानों की उपज के क्रय से किसान लाभान्वित हो रहे हैं।    उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर का प्रदेश को आवश्यकता अनुसार समय-समय पर खाद्य की निरंतर आपूर्ति करने, ग्रीष्मकालीन मूंग की समर्थन मूल्य पर खरीदी करने के लिये आभार व्यक्त किया।

Kolar News

Kolar News 24 June 2021

भोपाल। भाजपा कार्यसमिति की बैठक में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा कमलनाथ पर लगाए गए आरोपों के जवाब में पूर्व मंत्री और कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने पलटवार किया है।    उन्होंने गुरुवार को कहा है कि कांग्रेस पार्टी लोकतंत्र की मर्यादाओं और सिद्धांतों का पालन करने वाली पार्टी है। दूसरी पार्टियों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करना कांग्रेस की संस्कृति नहीं है। लेकिन आज भोपाल में भाजपा कार्यसमिति की बैठक थी। जाहिर है इस तरह की बैठक में कोई भी पार्टी अपने आंतरिक मुद्दों पर चर्चा करती है, अपनी कमियों को पहचानती है और जनता की बेहतर सेवा करने का संकल्प लेती है। लेकिन भारतीय जनता पार्टी के डीएनए में झूठ और षड्यंत्र समाया हुआ है। वह कोई ऐसा काम कर ही नहीं सकती, जिससे जनता का भला हो। पूरी तरह से नाकाम और भ्रष्टाचार में डूबी बीजेपी की सरकार असली मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए मध्य प्रदेश में जनादेश से चुनी और डेढ़ साल बाद धनादेश के खंजर से गिराई गई, कमलनाथ सरकार पर इल्जाम लगा रही है।   जीतू पटवारी ने कहा कि "जिस पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष रिश्वत लेते हुए कैमरे पर रंगे हाथों पकड़ा गया हो, उस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के मुंह से भ्रष्टाचार मिटाने के उपदेश शोभा नहीं देते। जिस पार्टी ने देश को चूना लगाकर भागे तीन भगोड़ों में से एक को अपने आशीर्वाद से राज्यसभा सांसद बनाया, दूसरे को उस पार्टी के शीर्ष नेता "हमारे मेहुल भाई" कहते हैं और तीसरे को चोर कहने पर पार्टी के समर्थक मुकदमा कर देते हों, उस पार्टी के नेता आखिर किस मुंह से काला धन वापस लाने और ईमानदारी की बातें करते हैं।"   पूर्व मंत्री ने कहा कि "नड्डा जी एक ऐसे नेता हैं, जिन्हें उनके राज्य और पार्टी तक में कोई नहीं पूछता। बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाने की तरह वह मध्यप्रदेश में अपना राग अलाप रहे हैं। वे कमलनाथ जी पर कीचड़ उछाल कर अपने राजनीतिक मालिकों के दरबार में अपने नंबर बढ़ाना चाहते हैं। लेकिन जनता को सब पता है। "नड्डा जी, भ्रष्टाचार की अगर आपको वाकई फिक्र है तो सबसे पहले पीएम केयर्स फंड का घोटाला जनता के सामने लाइए। उन पीडि़त परिवारों के सामने जाकर माफी मांगिये जिनके परिजन पीएम केयर्स फंड से खरीदे गए वेंटिलेटर खराब हो जाने से बेमौत मृत्यु को प्राप्त हुए।   जीतू पटवारी ने पूछा कि "आप कमलनाथ सरकार के कार्यकाल की कमियां निकालना चाहते हैं। अरे काम-काज देखना था तो 5 साल सरकार चलने देते। बीच में ही काले धन का खंजर लेकर सरकार गिराने का खेल ना करते। सैकड़ों करोड़ के काले धन से विधायक खरीद कर जनता की चुनी हुई सरकार गिराने वाले, आप भ्रष्ट ही नहीं है, लोकतंत्र के हत्यारे भी हैं। आपकी पार्टी का एक ही काम है, भ्रष्टाचारियों से दोस्ती करो, काला धन कमाओ और उस काले धन से चुनी हुई सरकारें गिराओ। एक-एक विधायक को खरीदने में काली कमाई के करोड़ों रुपए खर्च करने वाली पार्टी के अध्यक्ष, आपके मुंह से काले धन और भ्रष्टाचार की बातें शोभा नहीं देतीं।"   पटवारी ने मध्य प्रदेश की जनता का आह्वान करते हुए कहा कि, "अब समय आ गया है की जनता भारतीय जनता पार्टी की सच्चाई को अपनी आंखों से देख ले। जिस समय जनता कोरोना महामारी, आसमान छूती महंगाई और हर घर को परेशान करती बेरोजगारी से त्राहि-त्राहि कर रही है, उस समय इस पार्टी के नेताओं को जश्न मनाने से फुर्सत नहीं है। नड्डा जी जिस जनता को आप 200 रुपये लीटर खाने का तेल और 100 रुपये लीटर गाड़ी का तेल खरीदने को मजबूर कर रहे हैं, वह दिन दूर नहीं जब वह जनता आपका तेल भी निकाल देगी। आपको तो पता ही है कि मध्य प्रदेश की जनता पहले से ही प्रदेश के गद्दारों का स्वागत तेल पिलाये डंडे और बेशर्म के फूलों की माला से कर रही है।"

Kolar News

Kolar News 24 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति की बैठक को संबोधित करते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि बीजेपी ने मध्य प्रदेश में करीब 15 साल और तीन कार्यकाल का लंबा शासन देखा है। शिवराज सिंह के नेतृत्व में मध्यप्रदेश को विकास की दिशा में ले जाने में काफी प्रगति हुई। एक समय ऐसा आया जब मध्य प्रदेश में एक और तस्वीर सामने आई।   नड्डा ने कहा कि कांग्रेस का पतन इतना बड़ा है कि वे भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करते हुए भूल गए कि उन्होंने देश की आलोचना करनी शुरू कर दी है. कमलनाथ ने बीते दिनों कहा था कि भारत महान नहीं, बदनाम है। यही कांग्रेस की मानसिकता है। मध्य प्रदेश में रोजगार को लेकर किया गया कार्य भी काबिले तारीफ है। जेपी नड्डा ने कहा कि मध्य प्रदेश में किसानों के विकास के लिए पिछले एक साल में 90,000 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। देश में अगर किसी ने किसानों के लिए काम किया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया और शिवराज जी ने राज्य में सभी केंद्रीय योजनाओं को लागू किया। गेहूं खरीद के मामले में मध्यप्रदेश पहले स्थान पर है। प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के तहत सडक़ निर्माण की गुणवत्ता पहले नंबर पर है। आयुष्मान भारत योजना में गोल्डन कार्ड बनाने में मध्यप्रदेश पहले नंबर पर है। हम वो लोग हैं जो समाज के साथ चलते हैं, समाज का दर्द हर लेते हैं।   बैठक में सीएम शिवराज सिंह चौहान, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश प्रभारी मुरली धर राव, सुहास भगत और अन्य वरिष्ठ नेताओं ने इसमें भाग लिया। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, थावरचंद गहलोत, प्रहलाद पटेल, धर्मेंद्र प्रधान, फग्गन सिंह कुलस्ते, राज्यसभा सदस्य ज्योति यार्डिया सिंधिया और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजय वर्गीय दिल्ली से बैठक में शामिल हुए।

Kolar News

Kolar News 24 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि के अवसर पर राजधानी स्थित समिधा पार्क में पौधरोपण किया। उन्होंने वैदिक मंत्रोचारण के साथ 21 पौधे लगाए। पौधरोपण के दौरान 11 पंडितों ने मंत्रोचारण किया।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस अवसर पर कहा कि मानवता के सच्चे उपासक, भारतीय संस्कृति के नक्षत्र, भारतीय जनसंघ के संस्थापक, श्रद्धेय डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी जी के बलिदान दिवस पर उनके चरणों में श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि श्रद्धेय श्यामाप्रसाद जी ने जो संकल्प लिया था और जिस संकल्प को लेकर भारतीय जनसंघ की स्थापना हुई थी, आज वो संकल्प भाजपा की सरकार पूरा कर रही है। मां भारती के सच्चे सपूत के अमूल्य और प्रखर विचार सदैव हम सबको राष्ट्र की सेवा के लिए प्रेरित करते रहेंगे। आज भारत एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में पूरी दुनिया के सामने सीना तानकर खड़ा है। कई मामलों में दुनिया के मार्गदर्शक के रूप में माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में लगातार देश आगे बढ़ रहा है।   सीएम शिवराज ने कहा कि तुष्टीकरण की नीति कभी डॉ. मुखर्जी को रास नहीं आई। जनसंघ के बीज से आज बीजेपी विशाल वृक्ष बना है। वहीं बीजेपी कार्यकर्ताओं ने मप्र में हर बूथ पर वृक्षारोपण किया। कोरोना संक्रमण को लेकर सीएम ने कहा कि कोरोना काल में ऑक्सीजन के महत्व को समझा। सीएम ने आगे कहा कि पौधरोपण से बड़ी कोई श्रद्धांजलि नहीं। वैक्सीनेशन के महाअभियान को लेकर सीएम ने कहा कि प्रदेश में इतना वैक्सीनेशन हुआ की डोज खत्म हो गए। आज कोरोना समीक्षा में डेल्टा प्लस वैरिएंट पर चर्चा करूंगा। विदेशों में भी तेजी से डेल्टा प्लस वेरिएंट बढ़ रहा है।

Kolar News

Kolar News 23 June 2021

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्यप्रदेश में 21 जून को संपन्न " वैक्सीन महाअभियान "पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब यह बात सामने आ चुकी है कि कोरोना को रोकने के लिए सबसे कारगर उपाय वैक्सीनेशन ही है तो उसके बाद भी मध्यप्रदेश सामने आये आँकड़ों के अनुसार वैक्सीनेशन में लगातार पिछड़ा है?    पूर्व सीएम कमलनाथ ने बुधवार को एक बयान जारी कर कहा कि 21 जून को मप्र में वैक्सीनेशन महाअभियान के तहत प्रदेश ने 16 लाख 95 हजार लोगों के वैक्सिनेशन के साथ देश में रिकॉर्ड स्थापित किया गया। कांग्रेस ने भी इस वैक्सीन महाअभियान का समर्थन करते हुए प्रदेश की जनता से अपील की थी कि ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन लगवाएं, लेकिन जिस तरह के आंकड़े सामने आ रहे हैं कि इस महाअभियान के 7 दिन पूर्व पूरे प्रदेश में जिस प्रकार से वैक्सीनेशन को कम किया गया, लोग वैक्सीन की कमी से परेशान होते रहे, यह आंकड़े काफी कम हैं और वहीं इस महाअभियान के दूसरे दिन सिर्फ पाँच हज़ार के कऱीब लोगों को ही टीके लगे, जहां 21 जून को 8 हज़ार के करीब टीका केंद्र थे, जो अगले दिन घटकर सिर्फ तीन सौ के करीब रह गए, तो यह आंकड़े मध्यप्रदेश में संपन्न वैक्सीन महाअभियान पर ख़ुद सवाल खड़े कर रहे हैं?   पूर्व सीएम ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी आबादी से अधिक लोगों को वैक्सीन लगने के आँकड़े सामने आ रहे हैं, जो हमारे रिकोर्ड आँकड़े पर खुद सवाल खड़े कर रहे हैं? यदि हमें कोरोना की तीसरे लहर को रोकना है तो हमें प्रदेश में प्रतिदिन वैक्सीन महाअभियान चलाना होगा लेकिन इवेंट और अभियान में माहिर शिवराज सरकार ने सिर्फ़ एक दिन का वैक्सीन महाअभियान चलाकर और उसे भी इवेंट और अभियान बनाकर बता दिया कि इस महामारी में भी वह जनता को गुमराह करने में लगी हुई है? यदि सरकार को प्रदेश की जनता की चिंता है तो इस तरह के महाअभियान तो प्रदेश में रोज चलने चाहिए लेकिन सिर्फ रिकॉर्ड व इवेंट बनाने के लिए और हेडलाइन मेनेजमेंट के लिये, फर्जीवाडा कर इस महामारी में एक दिन का दिखावटी अभियान चलाना कहां तक उचित है?   कमलनाथ ने शिवराज सरकार से पूछा है कि वह स्पष्ट करें कि 21 जून के वैक्सीन महा अभियान के पूर्व के 7 दिन तक प्रदेश में कुल कितने लोगों को वैक्सीन लगी, इस अवधि में कितने टीका केंद्र प्रदेश में काम कर रहे थे और 21 जून के बाद अभी मध्यप्रदेश में वैक्सीन के कुल कितने डोज़ उपलब्ध हैं, कितने टीकाकरण केंद्र काम कर रहे हैं, इस महाअभियान के बाद कितने लोगों को वैक्सीन लगी है? कितने सत्र अभी काम कर रहे हैं?   कमलनाथ ने कहा कि आंकड़ों से यह स्पष्ट प्रतीत हो रहा है कि 8 दिन पूर्व के डोज बचाकर एक दिन के वैक्सीन महाअभियान के नाम पर सिर्फ़ रिकॉर्ड स्थापित करने के लिए लगाए गये और अगले दिन हम वापस उसी स्थिति पर पहुंच गए? 21 जून को हम देश में नं. 1 और बाद में वही फिसड्डी? क्या इसी तरह के फर्जीवाड़े कर हम कोरोना की तीसरी लहर से प्रदेश की जनता को बचा सकते हैं? उन्होंने आरोप लगाया कि शिवराज सरकार अपने 15 वर्ष के पूर्व के शासन में भी इसी तरह इवेंट, अभियान और आयोजन के नाम पर जनता को गुमराह करती रही है। बड़े शर्म की बात है कि इस कोरोना महामारी में भी वह इसी तरह के कृत्य करने में लगी हुई है, जो बेहद शर्मनाक है? उन्होंने कहा कि हम इस पर कोई राजनीति भी नहीं करना चाहते, लेकिन शिवराज सरकार इस तरह के फर्जीवाड़े कर रही है तो प्रदेश की जनता के हित में हम चुप नहीं बैठ सकते।

Kolar News

Kolar News 23 June 2021

दतिया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वैश्विह महामारी कोविड-19 को हराने के लिए और खुद को सुरक्षित करने के लिए कोरोना वैक्सीन लगवाना आवश्यक है। वैक्सीन लगवाने के बाद या तो कोरोना विलकुल नहीं हेागा और यदि हो गया तो इसका अधिक असर नहीं होगा एवं इसके लगने से जीवन को कोई खतरा नहीं होगा।       मुख्यमंत्री चौहान ने यह बातें सोमवार को दतिया जिले के ग्राम परासरी में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित टीकाकरण के महाअभियान के शुभारंभ अवसर पर संबोधित करते हुए कही। उन्होंने मंच पर पांच लोगों को प्रतीक स्वरूप कोरोना वैक्सीन का मंगल टीका लगवाकर महाअभियान का शुभारंभ किया। यह महाअभियान पूरे प्रदेश में एक साथ चलाया जा रहा है। प्रदेश में आज 10 लाख लोगों के वैक्सीनेशन का लक्ष्य रखा गया है। दतिया जिले में 8 हजार लोगों को टीके लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इस अवसर पर गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, सांसद संध्या राय, विधायक रक्षा संतराम सिरोनिया, भाजपा जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र बुधौलिया, संभागीय कमिश्नर आशीष सक्सैना, डीआईजी सचिन अतुलकर, कलेक्टर संजय कुमार, पुलिस अधीक्षक अमन सिंह राठौर एवं जनप्रतिधि, पत्रकार, अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।       मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वैक्सीन जीवन के लिए संजीवनी का कार्य करती है। इसके लगने से दर्द भी नहीं होता है। किसी-किसी को थोड़ा बहुत बुखार आता है। लेकिन जिंदगी पूरी तरह से सुरक्षित हो जाती है। इसलिए सभी लोग खुद भी वैक्सीन लगवाएं एवं अन्य लोगों केा भी लगवाने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि यह अभियान लगातार चलता रहेगा। कोविड-19 से खुद को भी सुरक्षित करना है एवं अपने बच्चों को भी सुरक्षित करें। उन्होंने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी गाइड लाइन का पालन करना है। इसके लिए मास्क का उपयोग करें, आवश्यक  दूरी बनाए रखें, भीड़-भाड़ में नहीं जाएं, आवश्यक होने पर ही घर से निकले तथा समय-समय पर साबुन से हाथ धोएं या सैनेटाइजर का उपयोग करते रहें।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि यह समय स्वागत का नहीं है। कोरेाना रूपी संकट से लडने का समय है। कोरोना ने पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है। इसलिए नियमों का पालन करते रहना अतिआवश्यक है। उन्होंने कहा कि हमारी प्राथमिकता कोरोना पर विजय प्राप्त करना है। कोरोना वायरस बहुरूपिया है। अतः यह अपना रूप बदलता रहता है। उन्होंने कहा कि हमने कोरोनाकाल में अपनो को खोया है। इसलिए हमारा सभी का यह प्रयास होना चाहिए कि ऐसा समय दुवारा नहीं आने पाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना को फेलने नहीं देना है। इसलिए सभी को टेस्ट कराते रहना है।       कार्यक्रम में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बेटी बचाओ अभियान, तीर्थ दर्शन योजना एवं मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की घोषणा दतिया में की थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व ने प्रदेश को संबल दिया है। दतिया में पॉजीटिविटी रेट अधिक होने के बाद भी कैजुअल्टी अधिक नहीं होने पाई। उन्होंने कहा कि दतिया के लिए जो भी मांग की गई है वह मुख्यमंत्री द्वारा पूरी की गई है।       समारोह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रेरकों का सम्मान किया गया। साथ ही उन्होंने वृक्षारोपण भी किया। जिसमें उन्होंने पीपल का पौधा रोपा। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री द्वारा प्रतिदिन वृक्षारोपण किया जाता है।जिसमें अलग-अलग प्रजातियों के पौधे रोपे जाते हैं। समारोह में  उन्होंने वैक्सीनेशन के प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।  

Kolar News

Kolar News 21 June 2021

भोपाल। सोमवार को मध्य प्रदेश में महा टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत आज राज्य में 10 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए राज्य में 7000 वैक्सीन सेंटर बनाए गए हैं और सीएम, मंत्री, सांसद और विधायक सभी लोग इस महाटीकाकरण अभियान को सफल बनाने के लिए सक्रिय हैं। मप्र के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी टीकाकरण अभियान में शामिल होने अनोखे तरीके से निकले।   रायसेन में वैक्सीनेशन महाअभियान में शामिल होने स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी हाईवे पर साइकिल लेकर निकल पड़े। वैक्सीनेशन महाअभियान का शुभारंभ रायसेन के उत्कृष्ट विद्यालय से होना था। इसमें स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी को शामिल होना था। वे सुबह भोपाल रोड से पहले सागर तिराहा पहुंचे। वहां से एक किलोमीटर तक साइकिल चलाते हुए उत्कृष्ट विद्यालय गए। उनके पीछे एसपी मोनिका शुक्ला और कलेक्टर उमाशंकर भार्गव भी साइकिल से चल रहे थे। मंत्री चौधरी की साइकिल के पीछे उनके वाहनों का कारवां चलने से हाईवे पर लंबा जाम लग गया। गाडिय़ों की आवाजाही रुक गई जिससे गाडिय़ां फंसी रहीं। वैक्सीनेशन कक्ष में पहुंचकर स्वास्थ्य मंत्री ने एक युवती पूछा कि वैक्सीन लगने से कोई दिक्कत तो नहीं हुई। युवती ने जवाब देते हुए कहा नहीं हुई। इस पर मंत्री ने कहा कि अपने परिजनों और दोस्तों को भी लाकर वैक्सीन जरूर लगवाना। इसके बाद मंत्री ने परिसर में पौधे लगाए। यहां से खेल स्टेडियम पहुंचे, वहां भी पौधे रोपे गए।  

Kolar News

Kolar News 21 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर भोपाल स्थित भाजपा के प्रदेश कार्यालय में पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के साथ योगाभ्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि योग से हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर होता है। योग हमारे शरीर को अनेक बीमारियों से लड़ने की क्षमता देता है। आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर भी योग करें और इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा भी बनाएँ।       मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से इसकी जानकारी साझा करते हुए कहा है कि शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम् अर्थात शरीर स्वस्थ और निरोग रहे, इसकी कला है योग। इस योग को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने देश के साथ दुनिया में प्रतिष्ठित किया है। आज दुनिया के 193 देश अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर योग कर रहे हैं। मैं प्रधानमंत्री जी का हृदय से अभिनंदन करता हूं।       उन्होंने कहा कि योग करते रहिये और वैक्सीन भी अवश्य लगवाइये, क्योंकि यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। सभी विशेषज्ञों का कहना है कि यदि आप वैक्सीन के दोनों डोज लगवा लें, तो कोविड-19 संक्रमण नहीं होगा और यदि हुआ भी तो शरीर उसका मुकाबला कर लेगा।       मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि हमारे ऋषियों-मुनियों ने योग का हम सबको जो अप्रतिम ज्ञान दिया है, हम उसे ना भूलें। दुनिया भी अब योग के रास्ते पर जा रही है। आपसे आग्रह है कि निरोग रहने के लिए के केवल अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर नहीं, नित्य योग कीजिये। आपको अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं!       उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रयासों से 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में नई पहचान मिली और योग का लाभ विश्व के अधिक लोगों को मिलना प्रारंभ हुआ। प्रधानमंत्री जी के इस विश्व के कल्याणकारी कदम के लिए हृदय से अभिनंदन!     उन्होंने कहा कि भारत की संस्कृति की अमूल्य विद्या 'योग' विश्व का कल्याण करती है। योग गुरु महर्षि पतंजलि, परमहंस योगानंद, बाबा रामदेव जैसे अनेक योग गुरुओं ने अपने प्रयासों से योग विद्या को जन-जन तक पहुंचाकर सदैव स्वस्थ रहने का आशीर्वाद दिया है। योग से शारीरिक एवं मानसिक शांति मिलती है और यह निरोग तथा स्वस्थ रहने का सबसे प्रभावी माध्यम है। अत: आपसे आग्रह है कि नित्य योग कीजिये और सदैव स्वस्थ रहिये।

Kolar News

Kolar News 21 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना वैक्सीनेशन के लिए लोगों को प्रेरित करने में कोरोना वॉलेंटियर्स की महत्वपूर्ण भूमिका है। कोरोना वॉलेंटियर 21 जून को होने वाले वैक्सीनेशन महाअभियान में जन-सामान्य की अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए ग्राम और वार्ड स्तर पर सघन प्रयास करें। वैक्सीनेशन के प्रति विद्यमान भ्रांतियों का समाधान करना आवश्यक है। लोगों को वैक्सीनेशन के लिए तार्किक रूप से सहमत और जागरूक करना आवश्यक है। जन-सामान्य को वैक्सीनेशन सेंटरों तक लाने में कोरोना वॉलेंटियर्स का योगदान संक्रमण को रोकने और जीवन बचाने में महत्वपूर्ण होगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह बातें शनिवार को कोरोना वैक्सीनेशन महाअभियान में जन अभियान परिषद की भूमिका संबंधी बैठक को निवास से वर्चुअली संबोधित करते हुए कही। परिषद के उपाध्यक्ष विभाष उपाध्याय ने भी बैठक को वर्चुअली संबोधित किया।वॉलेंटियर वैक्सीनेशन के लिए बुजुर्गों का सहयोग करेंमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में वैक्सीनेशन के लिए 7 हजार केन्द्र बनाए जा रहे हैं। प्रत्येक केन्द्र पर दो-दो वॉलेंटियर्स सेवा और सहयोग के लिए उपलब्ध रहें। यह वॉलेंटियर वैक्सीनेशन के लिए बुजुर्गों का सहयोग करें। साथ ही जन-सामान्य को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करने के लिए ग्राम और वार्ड स्तर पर सम्पर्क, सोशल मीडिया पर वातावरण निर्माण जैसी गतिविधियाँ आवश्यक हैं।वैक्सीनेशन सेंटर्स पर जन-सामान्य को प्रेरित किया जाएमुख्यमंत्री ने कहा कि तीसरी लहर से बचाव के लिए कोविड अनुकूल व्यवहार का पालन करने के लिए भी वैक्सीनेशन सेंटर्स पर जन-सामान्य को प्रेरित किया जाए। जानकारी दी गई कि वैक्सीनेशन महाअभियान के लिए एक लाख कोरोना वॉलेंटियर्स को विभिन्न दायित्व सौंपे गए हैं।

Kolar News

Kolar News 19 June 2021

भोपाल।  मध्य प्रदेश में 21 जून को मप्र वैक्सीनेशन महाअभियान प्रारम्भ होगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वैक्सीनेशन महाअभियान के संबंध में शनिवार को प्रदेश के गणमान्य नागरिकों से विचार साझा किया और उनसे प्रेरक बन इस जीवनदायी अभियान को सफल बनाने की अपील की। सीएम शिवराज ने कहा कि समाज के प्रमुख लोग समाज को दिशा दिखाने का कार्य करते हैं। धर्मगुरु, चिंतक, लेखक, साहित्यकार, सामाजिक कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधि यदि वैक्सीनेशन के प्रति जागरुकता फैलाएँ, तो समाज जागृत होगा। वैक्सीनेशन महाअभियान लोगों का जीवन बचाने का पवित्र अभियान है। टीकाकरण के इस कार्य को पूर्ण कर सबके जीवन को सुरक्षित बनाना है। आप सभी जुट जायेंगे, तो तीसरी लहर आने पर भी हम अच्छी तरह से उसका मुकाबला कर सकेंगे।   कोरोना के महा वैक्सीनेशन अभियान को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज प्रदेश की जनता को संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में संक्रमण पूरी तरह से नियंत्रण में है। मध्यप्रदेश में सिर्फ 110 केस आए हैं। इंदौर भोपाल में भी संक्रमण पूरी तरह से नियंत्रण में है। सीएम ने प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि अब हम बार-बार लॉकडाउन नहीं कर सकते हैं। कब तक व्यापार बंद रखेंगे। आगे कहा कि कोरोना की दूसरी लहर भयावह थी,जिसे कंट्रोल करने के लिए बार-बार लॉकडाउन लगाया। इस दौरान हमने टेस्ट को कम होने नहीं दिया। आगे भी पूर सख्ती के साथ कोरोना की जांच होगी। रोज 75 से 80 हजार टेस्ट होने चाहिए। कांटेक्ट ट्रेसिंग भी की जाएगी। कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करना है। माइक्रो कंटेनमेंट जोन से संक्रमण नहीं फैलेगा। किल कोरोना अभियान जारी रहेगा। आप वैक्सीनेशन सेंटर्स में लोगों को यह भी संकल्प दिलाएंगे कि मैंने वैक्सीन लगवाई है और मैं दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करूंगा। सेंटर में आनंद का वातावरण होगा। सीएम ने अपील करते हुए कहा कि दुकानदार और ग्राहक सभी मास्क लगाएं। समाज को सचेत रखना बहुत जरूरी है। सावधानी नहीं रहे तो संक्रमण की संख्या तेजी से बढ़ सकती। हम अस्पताल की व्यवस्थाएं बढ़ाएंगे। बेड,ऑक्सीजन,बच्चों के बेड बढ़ा रहे। ऑक्सीजन प्लांट लगा रहे।   जनता को संबोधित करते हुए सीएम शिवराज ने कोरोना के खतरे को लेकर कहा कि कामकाज चलाते हुए हम संक्रमण को नियंत्रित कर सकते। इसके लिए जरूरी है कि सभी वैक्सीनेशन में भाग ले। वहीं कोरोना को नियत्रण अकेले सरकार नहीं कर सकती इसमें आप सभी का सहयोग जरूरी है। सीएम ने आगे कहा कि कोरोना टेस्ट नहीं किए तो 1 से 10 में और 10 से 100 में संक्रमण फैल जाता है।कोविड के प्रोटोकॉल का पालन करना है। वैक्सीनेशन का काम बहुत महत्वपूर्ण है। वैक्सीन सुरक्षा चक्र प्रदान करता है। प्रधानमंत्री ने तय किया है पूरी वैक्सीन अब केंद्र सरकार लगवाएगी। वैक्सीन लोगों की जिंदगी बचाने का अभियान है। वैक्सीन लोगों को सुरक्षा देने का अभियान है। सीएम शिवराज ने कहा कि 21 जून को 10 लाख वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया है, जो आप सब के सहयोग से ही पूरा होगा।  

Kolar News

Kolar News 19 June 2021

भोपाल। हर साल की तरह इस बार भी ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मां धूमावती जयंती मनाई जा रही है। हिन्दू धर्म के अनुसार, इस अवसर पर दस महाविद्या का पूजन किया जाता है। शुक्रवार को धूमावती जयंती के मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने देश-दुनिया को कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना की है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है -"ॐ धूमावत्यै विद्महे संहारिण्यै धीमहि तन्नो धूमा प्रचोदयात!" माँ धूमावती जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं! मां के चरणों में यही प्रार्थना की कि देश-दुनिया को #COVID19 से मुक्ति का वरदान दें और अन्य विपत्तियों एवं रोगों का नाश कर सुख, समृद्धि तथा ऋद्धि-सिद्धि का आशीर्वाद दें।

Kolar News

Kolar News 18 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ पूरी तरह स्वस्थ्य होकर घर पहुंच गए हैं। उन्होंने शुक्रवार को खुद सोशल मीडिया पर पोस्ट कर लोगों को इसकी जानकारी दी।   कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि ‘ईश्वर के आशीर्वाद और आप सभी की दुआओं से अब मैं पूरी तरह से स्वस्थ हूँ। आज अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर आ गया हूँ। मेरी अस्वस्थता के दौरान मुझे देश भर से आप सभी के बड़ी संख्या में शुभकामना संदेश प्राप्त हुए, इस प्रेम-स्नेह के लिये आप सभी का ह्रदय से आभार व धन्यवाद। आपका प्रेम-स्नेह इसी प्रकार मुझे सदैव मिलता रहे, यही कामना।   गौरतलब है कि कमलनाथ को 9 जून को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वे सामान्य जांच के लिए अस्पताल गए थे। बीपी बढ़े होने और कोरोना के प्रारंभिक लक्षण दिखाई देने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया था। डॉक्टरों एक टीम उनके स्वास्थ्य की निगरानी कर रही थी। बीच में उनके स्वस्थ होने की जानकारी भी आई थी, लेकिन ऐहतियात के तौर पर डॉक्टरों ने उन्हें ऑब्जर्वेशन में रखा था।

Kolar News

Kolar News 18 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कल मंत्रि-परिषद के सदस्यों के साथ हुई चर्चा उपयोगी और सार्थक रही है। प्राथमिकता के सभी विषयों पर मंत्री समूहों का गठन कर दिया गया है। हमें तत्काल कार्य आरंभ करना है। सभी मंत्री समूह इस सप्ताह अपनी बैठक कर लें। यह जानकारी मंगलवार को जनसंपर्क अधिकारी संदीप कपूर ने दी।    उन्‍होंने बताया कि मुख्‍यमंत्री ने कहा है कि मंत्री समूह द्वारा बैठक कर आगामी कार्य-योजना और अनुशंसाओं का निर्धारण कर लिया जाए। बैठकों के निष्कर्षों पर आगामी सोमवार को प्रस्तुतीकरण रखा जाएगा। उन्‍होंने कहा कि सभी विषयों पर तत्काल कार्य आरंभ किया जाना है। चौहान ने कहा कि कोविड-19 से संबंधित विषयों पर गठित समूहों की भी बैठक हो जाए तथा आगामी कार्य-योजना का निर्धारण कर जल्द प्रस्तुतीकरण सुनिश्चित किया जाये।

Kolar News

Kolar News 15 June 2021

भोपाल। लगातार बढ़ती महंगाई और पेट्रोल- डीजल के साथ खाद्य पदार्थों की कीमतों में हो रही बढ़ोतरी पर मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि अबकी बार महंगाई से राहत वाली सरकार का नारा देने वाली मोदी सरकार में पेट्रोल-डीज़ल की आसमान छूती कीमतों, खाद्य पदार्थों की कीमतों में मूल्यवृद्धि से खुदरा महंगाई दर मई में उच्चतम स्तर 6.3 फीसदी पर पहुँच गयी है।   कमलनाथ ने केन्द्र और प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वही थोक महँगाई दर 12.94 प्रतिशत के रिकोर्ड स्तर पर पहुँच गयी है। ईंधन और बिजली की महँगाई बढक़र मई में 11.58 प्रतिशत हो गयी है, वही दाल की कीमतो में यह बढक़र 9.39 प्रतिशत हो गयी है? जनता का जीना दूभर हो गया है। क्या यही अच्छे दिन है, महँगाई कम का नारा भी जुमला साबित हुआ?

Kolar News

Kolar News 15 June 2021

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह द्वारा एक पाकिस्तानी पत्रकार के साथ क्लब हाउस चैट का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। दिग्विजय को इस मामले में भाजपा नेताओं के लगातार हमले झेलना पड़ रहे हैं। वहीं, सोमवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने भी इसी को लेकर दिग्विजय पर निशाना साधा है। उन्होंने दिग्विजयसिंह को गद्दार बताते हुए कहा कि वे खाते हिन्दुस्तान की हैं और गाते पाकिस्तान की हैं।   चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने सोमवार को दिग्विजयसिंह पर हमला बोला। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि दिग्विजयसिंह गद्दार हैं। वो खाते हिंदुस्तान की है गाते पाकिस्तान की है। मंत्री सारंग ने कहा कि कांग्रेस पूरी तरह से पाकिस्तान परस्ती का काम कर रही है। लेडी माउंटबेटन के साथ जो पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भारत के टुकड़े करने का काम किया था, वही डीएनए आज भी कांग्रेस के नेताओं में मौजूद है। उन्होंने कहा कि कश्मीर को भारत से अलग करने के लिए जवाहरलाल नेहरू ने धारा 370 लगाई थी और उनके समय से ही कांग्रेस के नेताओं ने इस देश में अराजकता फैलाने का काम किया था।   मंत्री सारंग ने कहा कि राहुल गांधी, सोनिया गांधी, दिग्विजय सिंह, कमलनाथ हो या अन्य कोई कांग्रेस का नेता हो यह लोग लगातार पाकिस्तान और चीन के एजेंडे पर काम कर रहे हैं। दिग्विजयसिंह भूल गए हैं कि इस देश की संसद में धारा 370 हटाई गई थी। भारत लोकतंत्र के आधार पर चलने वाला देश है। यह नेहरू परिवार के साम्राज्यवाद का देश नहीं है। सारंग ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने देश के साथ गद्दारी की है। कांग्रेस को आगे आकर इस पर स्पष्टीकरण देना चाहिए। सारंग ने कहा कि, दिग्विजय सिंह और कांग्रेस को चेतावनी देना चाहता हूं कि यदि इस तरह का वह काम करेंगे तो देश की जनता उन्हें माफ नहीं करेगी।

Kolar News

Kolar News 14 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश की सरकार पर निशाना साधा है। प्रदेश में लगातार हो रहे अवैध उत्खनन और माफियाओं के हमले पर चिंता जताते हुए सरकार पर तंज कसा है।   कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि शिवराज जी, प्रदेश में इस कोरोना काल में भी अवैध रेत उत्खनन के मामले रोज़ सामने आ रहे है? रेत माफिया बेख़ौफ़ होकर अवैध उत्खनन कर रहे हैं, सुरक्षाकर्मियों व अधिकारियों पर जानलेवा हमले हो रहे हैं, इन माफिय़ाओं के आगे आपकी सरकार असहाय नजर आ रही है ? कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा कि चम्बल क्षेत्र में तो इस तरह की घटनाएँ रोज़ सामने आ रही है? ना माफिया गढ़ रहे हैं, ना टंग रहे हैं, ना नप रहे हैं? प्रदेश में कोरोना काल में भी माफिय़ाओ का बोलबाला है।

Kolar News

Kolar News 14 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश की सरकार पर निशाना साधा है। प्रदेश में लगातार हो रहे अवैध उत्खनन और माफियाओं के हमले पर चिंता जताते हुए सरकार पर तंज कसा है।   कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि शिवराज जी, प्रदेश में इस कोरोना काल में भी अवैध रेत उत्खनन के मामले रोज़ सामने आ रहे है? रेत माफिया बेख़ौफ़ होकर अवैध उत्खनन कर रहे हैं, सुरक्षाकर्मियों व अधिकारियों पर जानलेवा हमले हो रहे हैं, इन माफिय़ाओं के आगे आपकी सरकार असहाय नजर आ रही है ? कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा कि चम्बल क्षेत्र में तो इस तरह की घटनाएँ रोज़ सामने आ रही है? ना माफिया गढ़ रहे हैं, ना टंग रहे हैं, ना नप रहे हैं? प्रदेश में कोरोना काल में भी माफिय़ाओ का बोलबाला है।

Kolar News

Kolar News 14 June 2021

भोपाल। वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा क्लब हाउस चैट के दौरान दिये गये कथित बयान का नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने न केवल समर्थन किया था, बल्कि "अनुच्छेद 370 का मुद्दा उठाने के लिए उनका आभार भी जताया था। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान फारूक अब्दुल्ला और दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें "'चोर-चोर मौसेरे भाई"' बताया है।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को अपने ट्वीट में फारूक अब्दुल्ला के एक अंग्रेजी अखबार में छपे बयान को पोस्ट किया है। साथ ही उन्होंने लिखा है कि "'चोर-चोर मौसेरे भाई"। छुप-छुपकर पाकिस्तान की नीतियों को समर्थन देने वाले और उसकी भाषा बोलने वाले अब अपने अस्तित्व को खतरे में देखकर सामने आने लगे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने आगे लिखा है कि -गुपकार गैंग के सदस्य चाहे जितना भी भारत को तोड़ने की साज़िश रच लें,वे भारत का बाल भी बाँका नहीं कर सकते।बता दें कि फारूक अब्दुल्ला ने दिग्विजय सिंह के कथित बयान पर कहा था कि "मैं दिग्विजय सिंह का बहुत आभारी हूं। उन्होंने लोगों की भावनाओं को अन्य पार्टियों के रूप में महसूस किया है, जिन्होंने इसके बारे में भी बात की है। मैं इसका तहे दिल से स्वागत करता हूं और उम्मीद करता हूं कि सरकार इस पर दोबारा गौर करेगी।"दिग्विजय के बयान पर उनके छोटे भाई लक्ष्मण ने कहा- कश्मीर में अनुच्छेद 370 वापस लागू करना संभव नहींवरिष्ठ कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के जम्मू-कश्मीर में दोबारा अनुच्छेद 370 लागू करने के बयान को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। इस बयान के बाद भाजपा के निशाने पर आए दिग्विजय सिंह के छोटे भाई लक्ष्मण सिंह ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि कश्मीर में दोबारा अनुच्छेद 370 लागू करना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 का समर्थन करने वाले फारूक अब्दुल्ला एनडीए की सरकार में मंत्री रह चुके हैं।

Kolar News

Kolar News 13 June 2021

भोपाल। जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 पर बयान देने के बाद राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह भाजपा के निशाने पर आ गए है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने तो गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर दिग्विजय सिंह की गतिविधियों की जांच कराये जाने की बात कही है। जिस पर दिग्विजय सिंह ने पलटवार किया है।   दिग्विजय सिंह ने रविवार सुबह एक ट्वीट कर भाजपा से सवाल किया है। उन्होंने एक अखबार की खबर का हवाला दिया है, जिसमें छह साल पहले संघ प्रमुख मोहन भावगत द्वारा पाकिस्तान को भारत का छोटा भाई बताते हुए उससे बेहतर रिश्ते रखने पर जोर दिया है। दिग्विजय सिंह ने खबर को आधार बनाकर कहा कि ‘क्या मोहन भागवत जी को भी पाकिस्तान भेजोगे और उनकी भी एनआईए की जांच कराओगे? हम दोनों की जांच एनआईए से करवा लों।   बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के जम्मू-कश्मीर में दोबारा अनुच्छेद 370 लागू करने का बयान दिया था। इसे लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। केंद्र एवं मध्यप्रदेश भाजपा ने बयान पर तिखी प्रतिक्रिया दी है। साथ ही कई सवाल भी उठाए हैं।

Kolar News

Kolar News 13 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को 52 जिलों की क्राइसिस कमेटी की बैठक ली। बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अभी भी कोरोना से सतर्क रहने की जरूरत है। दहाई संख्या वाले 3 जिले हैं और संक्रमण दर 0.3 प्रतिशत है। कोरोना की तीसरी लहर को रोकना है।   मुख्यमंत्री ने कहा कि संक्रमण लगातार घट रहा है, कील कोरोना अभियान चलता रहे। सर्दी- जुकाम होते ही तत्काल इलाज कराए। उन्होंने कहा कि इंग्लैड जैसे देश में अनलॉक के बाद संक्रमण फैला था हमें सतर्क रहना होगा।   सीएम शिवराज ने कहा कि सभी ने सेवा में अच्छा उदाहरण पेश किया कोरोना के रोकथाम में सभी को धन्यवाद देता हूं। मास्क लगाए दुकानों पर भीड़ भाड़ न हो गोले बनाकर रखे। मुख्यमंत्री ने अपील करते हुए कहा है कि मास्क और दूरी को व्यवहार में बनाये रखे। जितनी जवाबदारी मेरी है उतनी आपकी भी है। प्रधानमंत्री जी को धन्यवाद देता हूं कि टीका का काम अपने हाथ मे लिया। वर्तमान में ब्लैक फंग्स नई चुनौती है हमारे सामने है कोरोना रोकने और भविष्य की रणनीति पर जन प्रतिनिधियों के साथ चर्चा की गई।

Kolar News

Kolar News 13 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की मूल्य वृद्धि के खिलाफ शुक्रवार को कांग्रेस हल्ला बोल प्रदर्शन कर रही है। इसे लेकर छह महीने बाद कांग्रेस एक बार फिर सडक़ पर आ गई है। भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर समेत सभी जगह अपने क्षेत्रों में वरिष्ठ नेता इसमें शामिल हो रहे हैं। कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने निशाना साधा है।   मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि जो लोग शीशे के घर में रहते है वो दूसरों के घर मे पत्थर नही फेकते। कमलनाथ ने रेट घटाने के बजाय रेट बढाए थे उन्हें किसने अधिकार दिया था। कांग्रेस को पेट्रोल-डीजल के मुद्दे पर आंदोलन करने का अधिकार नहीं है। वचनपत्र में तेल के दाम कम करने का वादा करने वाली कांग्रेस ने सरकार में आते ही दाम बढ़ा दिए। कांग्रेस के इसी दोहरे चरित्र के कारण उसके किसी भी आंदोलन में जनता की भागीदारी नहीं होती, सिर्फ चुके हुए नेता नजर आते हैं।   नि:स्वार्थ भाव से देश सेवा में जुटे है पीएमशिवसेना सांसद संजय राउत की ओर से पीएम मोदी की तारीफ करने पर मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि सांच को आंच नही रहती, सत्य परेशान हो सकता है परास्त नही। देश जानता है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी सब कुछ त्याग कर निस्वार्थ भाव से राष्ट्र सेवा कर रहे हैं। उनकी सरकार सबका साथ,सबका विकास और सबका विश्वास के मूलमंत्र को साकार कर रही है। जो भी दलगत राजनीति से ऊपर उठकर प्रधानमंत्री जी को देखेगा उनका यही रूप नजर आएगा।   कोरोना संक्रमण से राहत की स्थिति में मप्र प्रदेश में कोरोना की स्थिति को लेकर मंत्री मिश्रा ने कहा कि कोरोना नियंत्रण की स्थिति में है और इसीलिए धीरे-धीरे अनलॉक की प्रक्रिया को भी और अधिक बढ़ाया जा रहा है। मात्र 393 नए पॉजिटिव केस आए हैं। जबकि एक हजार 240 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे हैं। रिकवरी रेट 98 प्रतिशत से अधिक है संक्रमण की दर आधा प्रतिशत से भी कम है। कोरोना की तीसरी लहर के दृष्टिगत टेस्टिंग की प्रक्रिया निरंतर जारी है, कल भी  79 हजार कल भी टेस्ट किए गए हैं।

Kolar News

Kolar News 11 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के कई जिलों में कोरोना वैक्सीन के डोज खत्म होने की खबरों के बीच पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के कई जिलों में वैक्सीन ही नहीं, लोग वापस लौट रहे? मुुख्यमंत्री को सामने आकर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश के कई जिलों से वैक्सीन ख़त्म होने की खबरें सामने आ रही हैं। वैक्सीन की कमी के कारण कई सत्र कम कर दिये, कई केंद्र बंद कर दिये गये? कोई पहले डोज, तो कोई दूसरे डोज के लिये परेशान हो रहा है, लोग केंद्रों पर भटक रहे हैं, वैक्सीन कब उपलब्ध होगी, किसी को कोई जानकारी नहीं?   उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज जी को सामने आकर वैक्सीन को लेकर प्रदेशवासियो को स्थिति स्पष्ट करना चाहिए? प्रदेश में कुल कितने डोज की आवश्यकता है, कुल कितने डोज अभी तक प्रदेश की जनता को लगे हैं, कितने डोज अभी उपलब्ध है, वैक्सीन कब आयेगी, कितनी आयेगी, कब लगेगी, इसको लेकर सरकार को सामने आकर सारी स्थिति स्पष्ट करना चाहिये?

Kolar News

Kolar News 11 June 2021

भोपाल। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार को परिवार के साथ पचमढ़ी हिल स्टेशन में हैं। उनकी पत्नी साधना सिंह का 10 जून को जन्मदिन है। उनका जन्मदिन मनाने के लिए सीएम शिवराज पत्नी साधना सिंह और बेटे कार्तिकेय भी साथ यहां पहुंचेे हैं। सीएम शिवराज  ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट ट्वीटर पर इस मौके की फोटो साझा की है। जिसमें उन्होंने पचमड़ी में अपने द्वारा लगाए गए आम के एक पेड़ में फल आने पर प्रसन्नता जाहिर की है।   सीएम शिवराज ने अपनी पोस्ट में लिखा है- 'मेहनत का फल शायद इसे कहते हैं। मेरे द्वारा 16 अगस्त 2016 को लगाए गए आम के पौधे में अब फल आ गए हैं। आप भी पौधा लगाएंगे, उसकी देखभाल करेंगे और जब यह पेड़ बड़ा होकर फल देगा, तो मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि उससे आपको बहुत खुशी होगी। इसके अलावा सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पचमढ़ी के बडक़छार के प्रसिद्ध वटवृक्ष के भी दर्शन किए। उन्होंने एक अन्य ट्वीट कर कहा आज बरा बरसात की पूजा के शुभ दिन पर मुझे पचमढ़ी के बडक़छार के प्रसिद्ध वटवृक्ष के दर्शन और उसकी छाया में समय व्यतीत करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।    मान्यता है कि इसकी विशाल जटाएं दीवार बनकर नागरिकों की सुरक्षा कर रही हैं। यह शुभ और मंगलकारी दीवार सदैव ऐसे ही खड़ी रहे, यही शुभकामना! साथ ही आप सबसे आग्रह की आज बरा बरसात के पवित्र दिन पर पौधे अवश्य रोपिये। किसी भी विशिष्ट अवसर पर पौधे लगाने से आपको असीम आनंद एवं सुख अनुभूति होगी। पौधरोपण से न केवल आपको सुख मिलेगा, अपितु भावी पीढिय़ों को भी जीने के लिए एक बेहतर संसार मिलेगा। पचमढ़ी में मुख्यमंत्री व उनके परिवार ने जनता और मीडिया से दूरी बनाई। यह मुख्यमंत्री का व्यक्तिगत दौरा है, लेकिन प्रशासनिक अमला दो दिन से पचमढ़ी में तैयारी में लगा रहा। कलेक्टर धनंजय सिंह, एसपी संतोष सिंह गौर, सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के अधिकारी व अन्य विभागों के अधिकारी भी पचमढ़ी में है। साधना सिंह और पुत्र कार्तिकेय बुधवार शाम पचमढ़ी पहुंचे। मुख्यमंत्री रात 12 बजे यहां पहुंचे। वे परिवार के साथ रविशंकर भवन में ठहरे हैं। अधिकारियों के मुताबिक शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री भोपाल के लिए रवाना होंगे।

Kolar News

Kolar News 10 June 2021

भोपाल।  प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ के निर्देशानुसार डीजल और पेट्रोल की बढ़ती हुई महंगाई के खिलाफ 11 जून को कांग्रेस पार्टी प्रांत व्यापी प्रदर्शन करेगी। डीजल और पेट्रोल की बढ़ती हुई कीमतें आम आदमी के जीने की सारी परिस्थितियों को जर्जर कर चुकी हैं । कांग्रेस पार्टी ने गुरुवार को एक बयान जारी कर बताया कि जनवरी में जो पेट्रोल 91 रुपये प्रति लीटर था आज 105 रुपये लीटर पर पहुंच गया है। यह बेतहाशा वृद्धि महंगाई में बदल गई है ,परिवहन लागत डेढ़ गुनी हो गई है। खाने के तेल की कीमतें दोगुनी हो गई हैं और बेरोजगारी से पीडि़त जनता खून के आंसू रो रही है। कांग्रेस ने अपने जिलाध्यक्षों और कार्यकर्ताओं को निर्देशित किया है कि प्रत्येक जिला स्तर पर महंगाई के खिलाफ आम जनता की आवाज को बुलंद करें और सरकार की नीतियों का विरोध दर्ज कराएं। इस संबंध में पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर ने सभी जिला इकाइयों को निर्देश दे दिए हैं।

Kolar News

Kolar News 10 June 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को पचमढ़ी में प्राचीन वटवृक्ष के दर्शन किये। मुख्‍यमंत्री ने कहा है कि आज बरा बरसात की पूजा के शुभ दिन पर मुझे पचमढ़ी के बड़कछार के प्रसिद्ध वटवृक्ष के दर्शन और उसकी छाया में समय व्यतीत करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। उन्होंने कहा कि मान्यता है कि वटवृक्ष की विशाल जटाएँ दीवार बनकर नागरिकों की सुरक्षा कर रही हैं। यह शुभ और मंगलकारी दीवार सदैव ऐसे ही खड़ी रहे, यही शुभकामना है।   मुख्यमंत्री ने सबसे आग्रह किया कि बरा बरसात के पवित्र दिन पर पौधे अवश्य रोपे। किसी भी विशिष्ट अवसर पर पौधे लगाने से आपको असीम आनंद एवं सुख की अनुभूति होगी। पौध-रोपण से न केवल सुख मिलेगा, अपितु भावी पीढ़ियों को भी जीने के लिए एक बेहतर संसार मिलेगा।   बरगद और आम का पौधा लगाया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पचमढ़ी के रविशंकर भवन परिसर में बरगद और आम पौधा लगाया। प्रतिदिन पौधा लगाने के संकल्प के अंतर्गत मुख्यमंत्री चौहान प्रतिदिन पौधा लगा रहे हैं। पचमढ़ी में पौधरोपण के समय उनकी धर्मपत्नी साधना सिंह भी मौजूद रही। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उनके द्वारा 5 वर्ष पूर्व लगाएं आम के पेड़ का अवलोकन भी किया। उन्होंने आम के पेड़ को फल देने वाली अवस्था में देख प्रसन्नता जाहिर की।

Kolar News

Kolar News 10 June 2021

भोपाल। जूनियर डॉक्टर्स में फूट पड़ने के बाद प्रदेश के जूडा पदाधिकारियों ने हड़ताल वापस लेने का ऐलान किया है। प्रदेश में सबसे पहले ग्वालियर और रीवा में जूनियर डॉक्टरों ने अपनी हड़ताल वापस ले ली थी। जूनियर डॉक्टर्स ग्वालियर में काम पर लौट आए। इसके बाद भोपाल में प्रदेश जूडा के पदाधिकारियों ने चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से मुलाकात के बाद हड़ताल खत्म करने की बात कही। इससे पहले रविवार रात को मंत्री सारंग से हुई चर्चा असफल रही थी।   ग्वालियर और रीवा में हड़ताल खत्म होने के बाद जूडा की फूट उजागर हो गई थी। इसके बाद सोमवार को जूडा के पदाधिकारी भोपाल में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से मिले। इसके बाद उन्होंने अपनी हड़ताल खत्म करने की घोषणा कर दी, जबकि पहले मांगों को पूरा करने के लिखित आदेश पर ही काम पर लौटने की बात कही थी। जूडा ने मंत्री से चर्चा के बाद कहा सरकार ने सभी मामलों के लिए कमेटी बना दी है। इसलिए हम काम पर लौट रहे हैं। जूडा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अरविंद मीणा ने कहा कि  हम हाईकोर्ट का सम्मान करते हैं। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग और जूडा पदाधकारियों की बैठक में एक कमेटी बनाई गई है। ग्रामीण इलाकों में अनुबंध को लेकर यह कमेटी 2 महीने में निर्णय लेगी। इसलिए हम हड़ताल वापस ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम सभी काम पर सभी लौट रहे हैं।   ग्वालियर जूडा के जिलाध्यक्ष डॉ. देवेन्द्र शर्मा का कहना है कि हमारी मांगों को मान लिया गया है, अब हाईकोर्ट के सम्मान और परेशान हो रहे मरीजों के लिए हम काम पर वापस लौट रहे हैं। जूडा के हड़ताल वापसी की घोषणा से एक दिन पहले रविवार को 46 सीनियर रेजीडेंट्स ने भी काम पर लौटना भी शुरू कर दिया था। जूडा के समर्थन पर उतरने में इन 46 सीनियर रेजीडेंट को मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने बर्खास्त कर दिया था। ऐसा माना जा रहा है कि रविवार शाम के बाद ही हड़ताल वापसी की योजना बन गई थी। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने जिन सीनियर रेजीडेंट को बर्खास्त किया था अब वह आदेश वापस लिया जा रहा है।   रविवार को बिगड़ गई थी बात रविवार शाम को जूनियर डॉक्टर और चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग की मुलाकात हुई थी, लेकिन  हड़ताल खत्म नहीं हुई थी। जूडा ने तीन और मांगें और जोड़ दी थीं। चर्चा के दौरान मंत्री सारंग ने कहा था कि हमने जूडा की मांगें पहले ही मान ली हैं। जूडा हाईकोर्ट के आदेश का सम्मान कर हड़ताल वापस ले और काम पर लौटे। मंत्री से मिलने के बाद मध्यप्रदेश जूडा अध्यक्ष डॉक्टर अरविंद मीणा ने कहा था कि हम मंत्री जी से मिलने खुद आए थे। हम हड़ताल खत्म करना चाहते हैं, लेकिन मंत्री जी ने हमारी मांगों को लेकर न तो कोई आदेश दिया न कोई मीडिया के सामने कोई आश्वासन दिया। हमारी हड़ताल आगे भी जारी रहेगी।

Kolar News

Kolar News 7 June 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन को लेकर सोशल मीडिया पर चल रही अटकलों पर गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने विराम लगा दिया है। उन्होंने सोमवार को मीडिया से चर्चा के दौरान इन खबरों को फेक न्यूज बताया और कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हमारे मुख्यमंत्री थे, हैं और रहेंगे।   कुछ दिनों से मध्य प्रदेश में भाजपा संगठन और आरएसएस पदाधिकारियों का एक-दूसरे से मुलाकातों का दौर चल रहा था। इसे लेकर सोशल मीडिया पर अलग-अलग कयास लगाए जा रहे थे। इसकी शुरुआत कुछ दिन पहले भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से अचानक मुलाकात करने के बाद शुरू हुई। इसके बाद विजयवर्गीय ने सांसद और केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल से भी दिल्ली में मुलाकात की। इन मुलाकातों के बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा ने भी गृहमंत्री से बंद कमरे में मुलाकात की। जिसके बाद बीडी शर्मा और संगठन के अन्य पदाधिकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी मुलाकात करने पहुंचे। नेताओं की मुलाकात का दौर भोपाल से लेकर दिल्ली तक चला।    कहना होगा कि इसके बाद सत्ता और संगठन में बड़े बदलाव के कयास लगाए जाने लगे। सोशल मीडिया पर खबरें चलने लगी कि शिवराज सिंह चौहान केन्द्र में जाएंगे। उनकी जगह राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा और प्रदेश अध्यक्ष और सांसद वी.डी. शर्मा में से कोई मुख्यमंत्री होगा।   सोशल मीडिया में चल रही इन अटकलों को भाजपा संगठन से जुड़े लोगों ने असत्य बताया था। अब गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के बयान ने सभी अटकलों पर विराम लगा दिया है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर चल रही खबरें फेक हैं। मिश्रा ने कहा कि वाट्सएप ऐसी यूनिवर्सिटी है, जिसका वाइस चांसलर बनने के लिए डिग्री की जरूरत नहीं है, जो खबरें वायरल हो रही हैं, वह फर्जी हैं। इधर, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने भी प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के नेतृत्व में ही चलेगा। उन्होंने खुद को सीएम की दौड़ से बाहर बताते हुए कहा कि मैं अभी कहीं और लगा हूं।

Kolar News

Kolar News 7 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि दूसरी लहर की भयावहता को देखने के बाद भी कोरोना की तीसरी लहर को लेकर प्रदेश सरकार की तैयारी अपर्याप्त है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा है कि प्रदेश की जनता सिर्फ भगवान भरोसे है।   कमलनाथ ने गुरुवार को अपने बयान में प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस शिवराज सरकार से रोज गुहार कर रही है कि कोरोना की दूसरी लहर में जो दर्दनाक हालात हमने प्रदेश के देखे है, लोगों को इलाज-बेड-अस्पताल-ऑक्सीजन-जीवन रक्षक दवाइयों-वेंटीलेटर के लिये भटकते व तड़पते देखा है, हजारों लोगों की जान इनके अभाव में गयी है, अब उससे सबक़ लेते हुए तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए प्रदेश में बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं को युद्ध स्तर पर दुरुस्त कर, इससे बचने के पर्याप्त इंतज़ाम किये जाये। लेकिन जो वास्तविकता व प्रदेश की स्थिति सामने आ रही है वो बेहद चिंताजनक है ?   कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश के 52 जिलो में से सिर्फ़ 20 जिला अस्पतालों में ही बच्चों का आईसीयू, पूरे प्रदेश में बच्चों के लिये आवश्यक सुविधाओं वाली सिर्फ़ एक एम्बुलेंस, बच्चों के लिये सिर्फ़ 2418 बेड? ये कैसी तैयारी? कागजी दावा तो शिवराज सरकार कोरोना की तीसरी लहर से निपटने का रोज कर रही है लेकिन यह है मैदानी स्थिति व वास्तविकता? प्रदेश की जनता सिर्फ़ भगवान भरोसे है?  

Kolar News

Kolar News 3 June 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में अब शिवराज सरकार ने कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका के मद्देनजर गुरुवार को एक अहम फैसला लिया है। इस लिए गए बड़े निर्णय के तहत अब 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता का टीकाकरण पहले होगा। इसी के साथ उन  विद्यार्थियों को भी टीकाकरण में प्राथमिकता प्राथमिकता जिन्‍हें पढ़ाई के लिए विदेश जाना है।    कोरोना की तीसरी लगह का असर बच्‍चों पर ना हो, इसलिए ये निर्णय  इसे लेकर आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमने कोरोना की दूसरी लहर पर नियंत्रण प्राप्त कर लिया है। तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है। तीसरी लहर का मुकाबला करने की तैयारी प्रारंभ कर दी गई है। आशंका जताई जा रही है कि इसका असर बच्चों पर ज्यादा होगा। इस आशंका को देखते हुए स्वास्थ्य सेवाओं का सुदृढ़ीकरण करने का फैसला लिया गया है। अलग-अलग स्तर पर बच्चों के विशेष वार्ड बनाने का फैसला लिया गया है।   उन्‍होंने बताया है कि जिन माता-पिता के बच्चों की उम्र 12 वर्ष से कम है, उन बच्चों के माता-पिता को टीकाकरण में प्राथमिकता दी जायेगी। उनका टीकाकरण बहुत आवश्यक है। क्योंकि किसी बच्चे को यदि संक्रमण हुआ तो बच्चे के साथ माता या पिता का रहना आवश्यक होगा। माता-पिता का टीकाकरण हो जायेगा तो वे बच्चों की देखभाल करते रहेंगे।   विदेश जाने वाले विद्यार्थियों को अब पहले लगेगा टीका  इसी के साथ चौहान यह भी बोले कि मेरे ध्यान में यह तथ्य भी आया है कि मध्यप्रदेश के कई बेटे- बेटियाँ शिक्षा प्राप्त करने के लिए विदेश जाना चाहते हैं। अत: हमारी ओर से यह फैसला भी लिया गया है कि जिन बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए विदेश जाना है, उनका प्राथमिकता के आधार पर टीकाकरण किया जायगा, जिससे वे सुरक्षित विदेश जा सकें और शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे। 

Kolar News

Kolar News 3 June 2021

भोपाल। मैहर में पूर्व सीएम कमलनाथ के सरकार गिरने को लेकर दिए बयान पर कांग्रेस में ही बवाल खड़ा हो गया है। पूर्व नेता प्रतिपक्ष और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अजय सिंह राहुल ने अपनी ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ को नसीहत दे डाली है। अल्प प्रवास पर सतना के ट्रांसपोर्ट नगर पहुंचे अजय सिंह राहुल ने कमल नाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि अपनी अक्षमता का ठीकरा विंध्य पर न फोड़ा जाए। इस तरह के बयान से विंध्य का अपमान होता है। पार्टी के पुराने कार्यकर्ता और जनप्रतिनिधि इससे निराश हो जाते हैं। 2020 में सरकार गिरने का कारण विंध्य नहीं, बल्कि कमलनाथ खुद थे।   कांग्रेस नेता अजय सिंह ने कहा कि कमलनाथ विंध्य का अपमान कर रहे। सरकार गिरने का कारण विंध्य नहीं बल्कि खुद की जिम्मेदारी थी। वे चाहते तो सरकार बची रहती। 2018 में विंध्य की हार की वजह कुछ और थी। इसे हर कोई जानता है। कमलनाथ जी का विंध्य पर आरोप लगाना विंध्य की जनता का अपमान करना है।   आगे अजय सिंह ने मीडिया से चर्चा के दौरान कमल नाथ को नसीहत देते हुए कहा कि उन्हें अपनी वाणी पर संयम रखना चाहिए। ऐसे शब्द नहीं बोलें जिससे भाजपा को राजनीति करने का मुद्दा मिल जाए। भारत विश्व में हो रहा बदनाम के सवाल पर अजय सिंह ने कहा, संयम रखने की जरूरत थी। बता दें कि 7 दिन पहले मैहर दौरे पर आए कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने सरकार गिरने का ठीकरा विंध्य पर फोड़ा था। इसके साथ ही उन्होंने कोरोना संकट पर बयान देते हुए भारत को बदनाम देश कह डाला था। जिसके बाद पूरे प्रदेश में उनके बयान की जमकर किरकिरी हुई थी और भाजपा नेताओं द्वारा इसका विरोध भी किया गया था। अजय सिंह राहुल गुरुवार को सतना प्रवास के बाद तुरंत भोपाल के लिए रवाना हो गए लेकिन इस दौरान उन्होंने कांग्रेस के भीतर एक बार फिर कलह की राजनीति को हवा दे दी है।

Kolar News

Kolar News 3 June 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने प्रदेश के सभी प्रायवेट अस्पतालों के लिए ईलाज की नई गाइडलाइन जारी की है। सरकार द्वारा जारी की गई नई गाइडलाइन पर पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि आग लगने के बाद सरकार कुंआ खोदने की बात कर रही है, शिवराज सरकार हमेशा से नींद से जागती है।   कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि शिवराज सरकार की सारी योजनाएं कागजी, दिखावटी होकर जनता को इसका कोई लाभ नहीं मिलता है? शिवराज सरकार की नींद भी हमेशा देर से ही खुलती है और आग लगने के बाद ये कुआँ खोदने की बात करते है? कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए प्रदेश में ऑक्सीजन के उत्पादन-आपूर्ति की कोई व्यवस्था नहीं की और जब हजारों लोगों की मौत हो गयी, तब नींद से जागे और ऑक्सीजन प्लांट लगाने की घोषणा करने लगे? प्रदेश में इलाज- बेड के अभाव में हजारों लोगों की मौत के बाद बेड बढ़ाने की बात करने लगे?   पूर्व सीएम  ने कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की कोई व्यवस्था नहीं की, जब इसकी कमी से हजारों लोगों की जाने गयी तो व्यवस्था की बात करने लगे? जब लोगों की जान बचाना थी, बच्चों को बेसहारा होने से रोकना था, तब सोये रहे और बाद में वास्तविक पीडि़तों को लाभ नहीं मिलने वाली कागजी योजनाओं की घोषणा कर दी? यही हालत वैक्सीन की भी है? कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि और अब जब पिछले 3 माह से जनता अस्पतालों की लूट-खसोट का शिकार होती रही, लूटती रही, मदद की गुहार लगाती रही, तब सोये रहे और अब जब कोरोना के आंकड़े कम हो रहे हैं, अस्पताल खाली हो रहे हैं तो सरकार को अस्पतालों के लिए इलाज की गाइडलाइन जारी करने की याद आयी, बेड-इलाज के नए रेट तय किये गए? इसी से समझा जा सकता है इस सरकार को जनता से कोई लेना-देना नहीं है?

Kolar News

Kolar News 31 May 2021

भोपाल। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने सोमवार को गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के निवास पहुंचकर उनसे मुलाकात की। दोनों राजनेताओं के बीच करीब एक घंटे तक बंद कमरे के अंदर चर्चा हुई। दोनों नेताओं की इस मुलाकात के बाद मप्र की राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर तेज हो गया है। इसकी वजह बंगाल चुनाव के बाद विजयवर्गीय को अस्थाई तौर पर कोई नई जिम्मेदारी नहीं मिलना और प्रदेश में सक्रिय होना है।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात के बाद कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि जहां कोई नेता एक-दूसरे से मिलते हैँ तो वहां राजनीतिक चर्चा होना स्वभाविक है, लेकिन इस मुलाकात में कोई नया समीकरण नहीं बन रहा है। मैं 6 महीने बाद भोपाल आया हूं, मित्रों से मिलने। वहीं मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कैलाशजी बंगाल चुनाव में प्रभारी थे। मैं सहायक था। वे मेरे अच्छे मित्र हैं। वे मेरे निवदेन पर चाय पर आए थे। यह सहज मुलाकात थी। इसे किसी राजनीतिक चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए। दूसरी तरफ पार्टी के नेताओं की माने तो अगले माह केंद्रीय मंत्रिमंडल का विस्तार होने की उम्मीद है। इसलिए विजयवर्गीय सक्रिय हैं।   कांग्रेस ने कसा तंजकैलाश विजयवर्गीय और गृहमंत्री नरोत्तम की मुलाकात को लेकर कांग्रेस ने तंज कसा है। पार्टी प्रदेश मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने सोशल मीडिया पर लिखा- मध्य प्रदेश में खेल चालू आहे.. एक घंटे की बंद कमरा बैठक में शिवराज सरकार के कामों की दिल खोलकर समीक्षा की गई?

Kolar News

Kolar News 31 May 2021

रतलाम। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने  भोपाल से वर्चुअली रतलाम मेडिकल कॉलेज में काश्यप फाउंडेशन द्वारा 1 करोड़ 2 लाख रुपये की लागत से स्थापित पीएसए ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन किया। ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता2 टन की है।   मुख्यमंत्री ने वर्चुअल संबोधन में कहा कि ऑक्सीजन प्लांट मेडिकल कॉलेज के लिए बहुत उपयोगी साबित होगा और अल्प समय में ही प्लांट तैयार हो गया है। इससे मेडिकल कॉलेज के लिए स्थाई व्यवस्था का निर्माण हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि रतलाम मेडिकल कॉलेज कोरोना काल में अत्यंत उपयोगी साबित हुआ है, यहां सैकड़ों मनुष्यों का जीवन बचाया गया है। मुख्यमंत्री ने बताया कि रतलाम मेडिकल कॉलेज को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीनें भी उपलब्ध कराई गई हैं, जिससे कॉलेज में अतिरिक्त ऑक्सीजन बेड क्षमता निर्मित हुई। उन्होंने अन्य स्थानों पर भी उपलब्ध कराई गई कंसंट्रेटर मशीनों की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सबकी मेहनत से रतलाम में अब कोरोना संक्रमण का प्रसार नियंत्रित कर लिया गया है, यह बड़े संतोष की बात है।    कोविड-प्रभारी मंत्री  जगदीश देवड़ा ने  कहा कि   मध्यप्रदेश के साथ ही रतलाम जिले में भी कोरोना संक्रमण पर कंट्रोल कर लिया गया है। सांसद गुमानसिंह डामोर ने कहा कि रतलाम शहर में मेडिकल कॉलेज की स्थापना में विधायक चैतन्य काश्यप का महत्वपूर्ण योगदान है। विधायक  चैतन्य काश्यप ने  कहा कि रतलाम मेडिकल कॉलेज रतलाम जिले के अलावा आसपास के अन्य जिलों तथा राजस्थान के मरीजों के लिए भी अत्यंत उपयोगी साबित हुआ है।  मुख्यमंत्री कोविड-बाल कल्याण योजना के लिए विधायक काश्यप ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए योजना को सराहनीय बताया। इस अवसर पर जनप्रतिनिधि, पार्टी कार्यकर्तागण एवं अधिकारीगण उपस्थित थे।

Kolar News

Kolar News 31 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बीच राजनीति भी चरम पर है। कांग्रेस लगातार प्रदेश सरकार पर कोरोना से हुई मौतों के आंकड़े छुपाने का आरोप लगाते हुए सवाल उठा रही है। वही कांग्रेस के आरोपों पर मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया है। उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में मैं और मेरी सरकार जनता एवं समाजसेवियों के साथ मिलकर कोविड19 संक्रमण को नियंत्रित करने के प्रयासों में लगे हुए हैं। हमारी कोशिश है कि इन परिस्थितियों को जल्दी से जल्दी सामान्य बना लें, लेकिन कांग्रेस झूठ बोलकर मध्यप्रदेश में आग लगाना चाहती है।   सीएम शिवराज ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस के झूठ का स्तर तो देखिये! प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ जी अपने बयान में कह रहे हैं कि अभी मैं रामचंद्र अग्रवाल जी से मिलकर आया हूं, उन्होंने मुझे बताया कि उनकी मृत्यु नकली रेमडेसिविर से हुई है। अब मृत्यु के बाद रामचंद्र जी बता रहे हैं कि उनकी मृत्यु कैसे हुई है। सीएम शिवराज ने तंज कसते हुए कहा कि आप अब कांग्रेस के स्तर का अंदाजा लगा लीजिये। येनकेन प्रकारेण प्रदेश में आग लगाओ, सरकार को बद्नाम करो, कांग्रेस इस काम में लगी हुई है। कांग्रेस से सावधान रहने की जरूरत है। ऐसी झूठी कांग्रेस से प्रदेश को बचाने की जरूरत है।

Kolar News

Kolar News 29 May 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केंद्र की मोदी सरकार के 7 वर्ष पूरे होने पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि 7 वर्षों के बाद आमजनता खुद को ठगा महसूस कर रही है और देश की वर्तमान हालत का दोषी मोदी सरकार को मान रही हैं और यह सच्चाई भी है।   कमलनाथ ने कहा कि जनता को इस सरकार को चुनने का पछतावा है, इसलिये देश में 7 वर्ष का कही जश्न-उत्सव नहीं? देशवासी इस सच्चाई को जान चुके है कि मोदी सरकार की प्राथमिकता में आमजन नहीं बल्कि चुनाव व जश्न है? मोदी सरकार को भी यह अच्छे से पता है कि अब जनता को और बरगलाया नही जा सकता है, इसलिए इस वर्ष जश्न व उत्सव नही? नहीं तो हमने कोरोना की पहली लहर में 6 वर्ष का जश्न-उत्सव देखा है? उन्होंने कहा कि पूरे देश ने देखा है कि कोरोना की इस दूसरी लहर में देश की जनता को भगवान भरोसे छोड़, पूरी सरकार पांच राज्यों के चुनाव में लगी रही, दूसरी लहर आने की सूचना होने के बाद भी सरकार ने कोई तैयारी नही की? उसका परिणाम देशवासियों ने भुगता है। कोरोना के मेनेजमेंट को छोडक़र मोदी सरकार अपने ईमेज मेनेजमेंट और ब्रांडिग में लगी रही ।   कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि देश में लाखों लोगों की जान इलाज-बेड-ऑक्सीजन-वेंटिलेटर-जीवन रक्षक दवाइयों व इंजेक्शन के अभाव के कारण गयी ? मोदी सरकार ने विश्व गुरु बनने के चक्कर में 84 देशों को 6 करोड़ 60 लाख वैक्सीन निर्यात कर दी और जिसका परिणाम है कि आज हमारे देशवासी ही वैक्सिंग के लिए दर-दर भटक रहे हैं और ऐसा लग रहा है कि देश में वैक्सिनेशन का कार्यक्रम पंचवर्षीय योजना के तहत पूरा होगा? शायद देशवासियों को समय पर वैक्सीन लग जाती तो आज देश में लाखो जाने बचाई जा सकती थी? पूर्व सीएम ने कि वर्ष 2014 में झूठे वादे, झूठे नारे, झूठे जुमले के साथ सत्ता में आई खुद को 56 इंच बताने वाली मोदी सरकार के इन 7 वर्षों के बाद आमजन स्वयं को ठगा हुआ, बरगलाया सा महसूस कर रहा है? देशवासियों पर नोट बंदी थोपी, देशवासी अपने ही पैसे के लिए परेशान होते रहे, व्यापार-व्यवसाय तबाह हो गये और जो कारण इस नोट बंदी के लिए बताए गए थे, चाहे काला धन, चाहे हवाला का व्यापार, चाहे डिजिटल पेमेंट, चाहे आतंकी घटनाएँ वह सब झूठे साबित हुए ?   कमलनाथ ने कहा कि कुल मिलाकर मोदी सरकार के 7 वर्ष असफलताओं से भरे पड़े हैं। इन 7 वर्षों में  मोदी सरकार के केवल इमेज मैनेजमेंट, ब्रांड मैनेजमेंट को देशवासियों ने देखा है? देश की जनता तो आज ख़ुद को ठगा हुआ महसूस कर रही है? मोदी सरकार के 7 वर्ष "देश को बदहाल" बनाने के लिये याद किये जाएँगे।

Kolar News

Kolar News 29 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से कमी आ  रही है। एक जून से प्रदेश सरकार अनलॉक की प्रक्रिया भी शुरू करने जा रही है। इस बीच प्रदेश के आगरमालवा जिले से राहत भरी खबर है। आगर मालवा जिला पूरी तरह से कोरोना मुक्त हो चुका है, यहां आज कोरोना के एक भी मामले सामने नहीं आए है।   आगर मालवा जिले के कोरोना मुक्त होने पर मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने खुशी जाहिर करते हुए प्रशासन और जिले की जनता को बधाई दी है। सीएम शिवराज  ने ट्वीट कर कहा ‘आज आगर मालवा जिले में कोविड19 का एक भी केस नहीं आया है। स्थानीय प्रशासन और जनता को बधाई देता हूँ जिनके सतत प्रयासों और सजगता के कारण अब धीरे-धीरे स्थितियाँ सामान्य हो रही हैं। हमें ऐसे ही सावधानी का पालन करते रहना है और जिले को कोरोना से मुक्त करना है।

Kolar News

Kolar News 28 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शुक्रवार को मैहर में भारत है महान नहीं बदनाम है बयान ने प्रदेश की सियासत में खलबली मचा दी है। भाजपा नेता आक्रामक हो गए है और कमलनाथ पर हमला बोल रहे है। मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी कमलनाथ के बयान की निंदनीय बताते हुए सोनिया गांधी से कार्यवाही की बात कही है। सीएम शिवराज ने कमलनाथ के बयान पर भडक़ते हुए उन्हें आड़े हाथों लिया है। सीएम शिवराज ने कहा कि सत्ता जाने के बाद लगता है कमलनाथ जी ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है। कांग्रेस के मध्यप्रदेश के अध्यक्ष कह रहे हैं कि भारत बदनाम है!क्या श्रीमती सोनिया गांधी कमलनाथ जी के इस बयान से सहमत हैं? क्या कांग्रेस को लज्जा और शर्म नहीं आती? 'जाको प्रभु दारुण दुख देही, बाकी मति पहले हर लेही''विनाशकाले, विपरीत बुद्धि'अरे कमलनाथ जी, मैडम सोनिया गांधी जी, भारत अत्यंत प्राचीन और महान राष्ट्र है! इसकी गौरव गाथाएँ सारे विश्व ने गायी हैं!इसी धरती पर जन्म लिया कमलनाथ जी ने और आज कह रहे हैं कि भारत बदनाम है!   सीएम शिवराज ने सोनिया गांधी से जवाब मांगते हुए कहा कि क्या अपने देश को बदनाम कहना देश के साथ गद्दारी नहीं है? क्या यही कांग्रेस की सोच है?क्या स्व. पंडित जवाहरलाल नेहरू और स्व. इंदिरा जी ऐसी कांग्रेस चाहते थे? क्या उन्होंने यही शिक्षा दी? मैडम सोनिया जी, मौन तोड़ें! या तो कमलनाथ जी गलत हैं, इसके लिए उन्हें पार्टी से बाहर करें, या फिर यह कह दें कि मैं उनके बयान से सहमत हूँ! ये वही हैं, जो कहते हैं प्रदेश में आग लगा दो! हम जनता के साथ मिलकर दिन और रात कोरोना संक्रमण रोकने में लगे हैं, लेकिन कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बेशर्मी से कह रहे हैं!   मुख्यमंत्री शिवराज ने कमलनाथ के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि कमलनाथ जी ने मानसिक संतुलन खो दिया है और यदि संतुलन नहीं खोया तो उनका दृष्टिकोण अत्यंत विकृत है! ऐसे विचार रखने वाले कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष भारत के नागरिक कहलाने के हकदार ही नहीं हैं! यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

Kolar News

Kolar News 28 May 2021

भोपाल। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में आ गई है। जन-प्रतिनिधियों, शासकीय सेवकों तथा आम नागरिकों के समन्वित प्रयासों से यह संभव हो पाया है। प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट निरंतर घटता जा रहा है। लगातार कम हो रहे कोरोना संक्रमण में थोड़ी सी लापरवाही भी पूरे प्रयासों को प्रभावित कर सकती है, इसलिए सावधानी और सतर्कता जरूरी है। राज्य सरकार प्रत्येक पीड़ित परिवार की हरसम्भव मदद करेगी। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कही। वे शुक्रवार सीहोर के जिला पंचायत सभाकक्ष में जिले में कोविड की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एक जून से चरणबद्ध तरीके से अनलॉक किया जाएगा। इसके लिए जिला, जनपद, ग्राम और वार्ड स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी के सदस्य तय करेंगे कि क्या-क्या खोला जाए और किस सीमा तक छूट प्रदान की जाए। उन्होंने कहा कि पूरे जिले में कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन किया जाए। शादी, समारोह आदि भीड़-भाड़ वाले आयोजनों को टालें। मुख्यमंत्री ने कोविड नियंत्रण के लिए प्रशासन द्वारा किए गए प्रयासों पर संतोष व्यक्त किया।    मुख्यमंत्री ने कहा कि जिले में जन-प्रतिनिधियों एवं प्रशासन के समन्वित प्रयासों ने कोरोना संक्रमण पर प्रभावी रोक लगाई है। उन्होंने सक्रिय भूमिका के लिए सभी जन-प्रतिनिधियों, अधिकारी-कर्मचारी, सामाजिक संगठनों और मैदानी अमले को बधाई दी। बैठक में सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, देवास सांसद महेन्द्र सिंह सोलंकी सहित अन्य विधायक तथा जन-प्रतिनिधियों ने अनलॉक के लिए सुझाव दिए।   ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग करें मुख्यमंत्री ने कहा कि ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग की जाए। क्षेत्रवार कार्य-योजना बनाकर मोबाइल टेस्टिंग भी की जाए। उन्होंने सीहोर जिले में 1700 से अधिक टेस्टिंग जारी रखने के लिये कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि एक-एक मरीज की जान बचाने के पूरे प्रयास किए जाएं। वेंटिलेटर और ऑक्सीजन बेड्स में भर्ती प्रत्येक मरीज की सघन मॉनिटरिंग करें।   कान्टेक्ट ट्रेसिंग एवं माइक्रो कंटेनमेंट जोन में सघन निगरानी मुख्यमंत्री शिवराज ने इस दौरान यह भी कहा कि कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के सम्पर्क में आने वाले व्यक्तियों का कान्टेक्ट ट्रेसिंग के जरिये चिन्हांकन कर कोरोना टेस्ट किया जाए। इससे संक्रमण को रोका जा सकता है। उन्होंने कहा कि अधिक संक्रमण वाले ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं। ऐसे क्षेत्रों में प्रशासन पूरी ताकत से सर्दी, खांसी एवं बुखार के मरीजों की पहचान कर तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध कराकर इलाज कराये। इस कार्य में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप सक्रिय भूमिका निभाएं। संक्रमित व्यक्तियों के लिए होम आइसोलेशन की व्यवस्था परफेक्ट हो। घरों में पर्याप्त स्थान नहीं होने की दशा में कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया जाए।    तीसरी लहर के लिए आवश्यक तैयारियां सुनिश्चित करें मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर का सामना करने के लिए सभी आवश्यक तैयारियां सुनिश्चित करें। कोरोना प्रोटोकाल का इतनी सख्ती से पालन किया जाए कि तीसरी लहर आए ही नहीं। ऑक्सीजन बेड्स और आईसीयू बेड्स बढ़ाए जाएं। ऑक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना पर राज्य सरकार अनुदान और बिजली शुल्क में रियायत देगी।   मुख्यमंत्री ने कहा कि ब्लैक फंगस के इलाज की भी समुचित व्यवस्थाएं सरकार द्वारा की जा रही हैं। ब्लैक फंगस के इलाज के लिए आवश्यक दवाइयों की व्यवस्था भी की जा रही है। मुख्यमंत्री ने ब्लैक फंगस की जांच के लिए व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए।   किल-कोरोना अभियान लगातार जारी रहे मुख्यमंत्री ने कहा कि किल-कोरोना अभियान लगातार जारी रखा जाए। सर्दी, खांसी, जुकाम से प्रभावित प्रत्येक व्यक्ति की पहचान कर उसे तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए। आवश्यकतानुसार इलाज की व्यवस्था की जाए। कोरोना के लक्षणों को पहचानने और इलाज आरंभ करने में विलम्ब नहीं हो। जो कोरोना मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं उनका बेहतर इलाज सुनिश्चित किया जाए। मरीज की जान बचाने की हरसंभव कोशिश की जाए। वैक्सीन का एक भी डोज व्यर्थ न जाए।    मुख्यमंत्री का कहना यह भी था कि वैज्ञानिकों के अनुसार कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण सबसे प्रभावी उपाय है। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा टीकाकरण के खिलाफ फैली भ्रांतियों को दूर किया जाये और लोगों में जागरूकता लायी जाए।

Kolar News

Kolar News 28 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कम होते मामलों को देखते हुए एक जून से अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है। इसको लेकर तैयारी शुरू हो गई है। प्रदेश में धीरे धीरे अनलॉक किया जाएगा और इस दौरान आर्थिक गतिविधियां शुरू होंगी। इधर गुरुवार को मंत्रालय में कोरोना कर्फ्यू अनलॉक को लेकर गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा की अध्यक्षता में वर्चुअल बैठक हुई।    बैठक में 1 जून से  धीरे-धीरे अनलॉक के लिए मंत्री समूह की चर्चा हुई। इस दौरान निर्णय लिया गया कि 50प्रतिशत सरकारी कार्यालय में कर्मचारियों की उपस्थिति रहेगी। राजनीतिक और धार्मिक कार्यक्रम में भीड़भाड़ पर पूरी तरह से पाबंदी रहेंगी। एक समय में पुजारी की अतिरिक्त दो अन्य श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे। अभी मॉल ,टॉकीज बंद होंगे। निर्माण कार्य और सर्विस प्रोवाइडर संबंधी गतिविधियां चालू रखने पर सहमति बनी। पहले की तरह हवाई यात्रा शुरू रहेंगी। पंजीयन और एग्रीकल्चर कार्यालय खुलेंगे। इसके अलावा शादी समारोह में दोनों पक्षों से 20-20 संख्या रहेगी। मृत्यु भोज में 20 की संख्या रहेंगी। दाह संस्कार में 20 लोग रहेंगे। राज्यों की बॉर्डर पर सख्ती रहेगी। आर्थिक गतिविधि चालू रहेंगी। इस पर अंतिम फैसला 31 मई को मुख्यमंत्री के साथ बैठक में लिया जाएगा।   इस बैठक में कैबिनेट मंत्री कमल पटेल, कैबिनेट मंत्री मीना सिंह मांडवे, कैबिनेट मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह, कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया, कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया, राज्य मंत्री हरदीप सिंह डंग और सुरेश धाकड़, एसीएस होम राजेश राजोरा और एडीजी अशोक अवस्थी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 27 May 2021

भोपाल। देशभर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में रोजाना बढ़ोत्तरी हो रही है। पेट्रोल की कीमतों सैकड़ा पार कर चुकी है, वहीं डीजल के भाव भी सौ के करीब पहुंच गया है। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बढ़ती कीमतों को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा है कि सरकार महंगाई से जनता की जान लेगी।   पूर्व सीएम कमलनाथ ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा ‘पाँच राज्यों के चुनाव संपन्न होते ही जनता पर पेट्रोल-डीज़ल की मार जारी। पेट्रोल- डीजल की की क़ीमतों में बढ़ोत्तरी जारी। 2 मई से अभी तक 14 बार पेट्रोल-डीज़ल के दाम बढ़े। 24 दिन में पेट्रोल 3.21 रुपये और डीज़ल 3.91 रुपये प्रति लीटर महँगा। पेट्रोल 100 पार और डीज़ल 100 छूने को बेताब।   कमलनाथ ने कहा कि एक तरफ़ कोरोना का संकट, वही दूसरी तरफ़ दाले, खाने का तेल, खाद्य पदार्थों की क़ीमतें भी चरम पर। अबकी बार महंगाई से राहत दिलाने का नारा देकर सत्ता में आने वालो ने महंगाई को आसमान पर पहुँचाया और अब नया नारा सामने- अबकी बार- महंगाई से जनता की जान लेगी सरकार।

Kolar News

Kolar News 27 May 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अध्यक्षता में मंगलवार को मंत्रि-परिषद की वर्चुअल बैठक हुई। मंत्रि-परिषद की बैठक में कोविड-19 महामारी के दौरान, राज्य शासन के नियोजन में कार्यरत नियमित, स्थाईकर्मी, कार्यभारित एवं आकस्मिकता से वेतन पाने वाले, दैनिक वेतनभोगी, तदर्थ, संविदा, कलेक्टर दर, आऊटसोर्स, मानदेय के रूप में कार्यरत शासकीय सेवक, सेवायुक्त जिनकी शासकीय सेवा में कार्यरत रहने के दौरान मृत्यु हो जाती है, उनके पात्र आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति प्रदान करने के लिये 'मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना' लागू करने का निर्णय लिया गया।   मंत्रि-परिषद ने 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के व्यक्तियों को कोविड-19 का टीका लगाने के लिय ग्लोबल टेंडर के माध्यम से एक करोड़ वैक्सीन डोज क्रय करने के लिए मध्यप्रदेश हेल्थ कार्पोरेशन को अधिकृत किया। वैक्सीन क्रय की निविदा प्रक्रिया का तकनीकी परीक्षण करने एवं वित्तीय प्रस्ताव स्वीकृत करने के लिए उच्च-स्तरीय समिति के गठन का निर्यण लिया गया। तकनीकी परीक्षण के बाद निविदाकारों के वित्तीय प्रस्तावों का परीक्षण कर वैक्सीन क्रय के लिये दर निर्धारण की कार्यवाही का प्रस्ताव मंत्रि-परिषद के समक्ष स्वीकृति के लिये प्रस्तुत किया जायेगा।   कोरोना महामारी के दौरान जारी निर्देशों/ राशि का अनुमोदन मंत्रि-परिषद ने कोरोना महामारी से निपटने के लिये तात्कालिक एवं आकस्मिक व्यय जिनका पूर्वानुमान नहीं लगाया जा सकता था एवं राज्य के बाहर के प्रवासी श्रमिकों के परिवहन आदि की आवश्यकताओं के लिये जारी निर्देशों/राशि का अनुमोदन दिया।   मंत्रि-परिषद ने कोविड-19 महामारी के रोकथाम में अप्रत्याशित व्ययों के लिये, जो एस.डी.आर.एफ. के मापदण्डों में अनुमत्य नहीं थे जैसे मजदूरों की यातायात व्यवस्था के लिए, राहत शिविरों के संचालन के लिये (एस.डी.आर.एफ. में अनुमत्य व्ययों को छोड़कर), 52 जिलों को व्यय अनुमति के लिये जारी निर्देशों का कार्योत्तर अनुमोदन किया।   मंत्रि-परिषद ने वर्ष 2020 में लॉकडाउन के दौरान अन्य राज्यों में फँसे श्रमिकों को मध्यप्रदेश में ट्रेनों के माध्यम से लाने के लिये की गई कार्यवाही का कार्योत्तर अनुमोदन दिया।   कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के दौरान मध्यप्रदेश राज्य के ऐसे मजदूर, जो अन्य राज्यों में फँसे हुए थे, की बुनियादी आवश्यकताओं की पूर्ति को ध्यान में रखते हुए उनके बैंक अकाउंट/ ई-वॉलेट के माध्यम से 1000 रूपये हस्तांतरित करने का प्रावधान करते हुए लागू की गई मुख्यमंत्री प्रवासी मजदूर सहायता योजना का मंत्रि-परिषद ने कार्योत्तर अनुमोदन किया।   मंत्रि-परिषद ने कोरोना रोकथाम के लिये लॉकडाउन के दौरान प्रशासनिक दायित्वों के निर्वहन के लिये नायब तहसीलदारों को एक अप्रैल से 31 मई 2020 तक दो माह के लिए किराये के वाहन के लिये जारी निर्देशों का कार्योत्तर अनुमोदन दिया।   मंत्रि-परिषद ने कोविड-19 के कारण लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी करने वाले डॉक्टर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, पुलिस अधिकारियों एवं अन्य अधिकारियों-कर्मचारियों के ठहरने के लिये क्वारंटीन सेंटर के रूप में संचालित करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन द्वारा होटलों का अधिग्रहण के लिये की गई कार्यवाही का अनुमोदन दिया।   महिलाओं के लिये सुरक्षित पर्यटन स्थल कार्यक्रम मंत्रि-परिषद ने वित्तीय वर्ष 2020-2021 से 2022-2023 की अवधि में 'महिलाओं हेतु सुरक्षित पर्यटन स्थल कार्यक्रम' को संचालन करने की स्वीकृति प्रदान की है। इस कार्यक्रम के संचालन के लिये वर्ष 2020-21 के लिये 10 करोड़ 40 लाख 78 हजार 100 रूपये, वर्ष 2021-22 के लिये 10 करोड़ 5 लाख 51 हजार 360 रूपये तथा वर्ष 2022-23 के लिये 7 करोड़ 52 लाख 37 हजार 246 रूपये कुल 27 करोड़ 98 लाख 66 हजार 706 रूपये की राशि व्यय करने की स्वीकृति भी दी।   विशेषज्ञ चिकित्सकों की भर्ती मंत्रि-परिषद ने मध्यप्रदेश लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग अंतर्गत विभागीय भर्ती नियमों में प्रथम श्रेणी विशेषज्ञों के स्वीकृत पदों पर 100 प्रतिशत पदोन्नति संबंधी प्रावधान में संशोधन करते हुए 25 प्रतिशत पद सीधी भर्ती से एवं शेष 75 प्रतिशत पूर्ववत पदोन्नति से भरे जाने की स्वीकृति प्रदान की। उक्त प्रावधान विभागीय भर्ती नियमों में समाहित करने के बाद प्रदेश के आमजन को विशेषज्ञ सेवाएं उपलब्ध कराए जाने के लिये सीधी भर्ती से विशेषज्ञों की भर्ती की कार्यवाही की जा सकेगी।   आमजन को विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवाएं प्रदान करने के लिये प्रदेश में द्वितीय श्रेणी पी.जी.चिकित्सकों को विभाग में सेवाओं के लिए आकर्षित करने के लिए चिकित्सा अधिकारी के पद पर कार्यग्रहण करने के बाद का क्रमोन्नति के रूप में विशेषज्ञ के पद पर आगामी ग्रेड-पे (5400 से 6600) स्नातकोत्तर डिग्रीधारी चिकिसकों को दो वर्ष की सेवा उपरांत एवं स्नातकोत्तर डिप्लोमाधारी चिकित्सकों को तीन वर्ष की नियमित सेवा के बाद दी जा सकेगी।   विभाग में पहले से कार्यरत चिकित्सकों के सीधी भरती प्रक्रिया में विशेषज्ञ के पद पर चयनित होने पर उनकी पूर्व सेवाएँ, पेंशन के लिये अर्हतादायी सेवा गणना में शामिल की जायेगी।   कैम्पा निधि मंत्रि-परिषद ने राज्य शासन द्वारा प्रतिकरात्मक वन रोपण निधि (कैम्पा निधि) अंतर्गत वर्ष 2021-22 की वार्षिक प्रचालन कार्य योजना (ए.पी.ओ.) के क्रियान्वयन के लिये राशि 776 करोड़ 97 लाख रूपये के कैम्पा निधि से उपयोग का अनुमोदन किया।   उपार्जन संबंधी मंत्रि-परिषद ने प्रदेश में रबी 2020-21 (रबी विपणन वर्ष 2021-22) में भारत सरकार की पी.एस.एस. अंतर्गत चना, मसूर एवं सरसों उपार्जन के लिये पंजीकृत कृषकों से राज्य उपार्जन एजेंसी 'मध्यप्रदेश राज्य सहकारी विपणन संघ' द्वारा करने का निर्णय लिया।   पर ड्रॉप मोर क्रॉप उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण विभाग के अंतर्गत क्रियान्वित प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (पीएमकेएसवाय) के घटक पर ड्रॉप मोर क्रॉप (माइक्रो इरीगेशन) को 1 अप्रैल 2021 के बाद भी वर्ष 2021-22 से 2023-24 तक निरन्तर रखे जाने की अनुमति मंत्रि-परिषद द्वारा प्रदान की गई।

Kolar News

Kolar News 25 May 2021

भोपाल।  कोविड-19 की रोकथाम और बचाव के लिए कोविड प्रबंधन रणनीति कामयाब होती जा रही है। इसमें जन-सहभागिता की महती भूमिका है। कोरोना संक्रमण लगातार कम होता जा रहा है। जो भी गाँव और ग्राम पंचायत कोरोना संक्रमण से पूर्णतया मुक्त हो जायें, उनकी विधिवत गर्व के साथ कोरोना मुक्त होने की घोषणा जन-प्रतिनिधि या क्राइसिस मैनेजमेंट समिति के सदस्य करें। अच्छा कार्य करने वाली आपदा प्रबंधन कमेटियों को 15 अगस्त को पुरस्कृत किया जाये। यह बात मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को कही। वे कोरोना नियंत्रण के लिए कोर ग्रुप की बैठक को संबोधित कर रहे थे।    चौहान ने कहा कि सांसद, विधायक, जन-प्रतिनिधि, कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए ग्रामीणों में जागरूकता के लिए अपील करें। उन्हें प्रेरित किया जाये कि ऐसा प्रयास हो कि गाँव में कोई भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं रहे। ग्रामीण पूरी सतर्कता के साथ सावधानी बरतें।   टेस्टिंग कम नहीं हो मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण की प्रभावी रोकथाम के लिए अधिक से अधिक टेस्टिंग की जाये। कोरोना प्रकरण में भारी कमी आयी है। इसे पूरी तरह समाप्त करने के लिए कान्ट्रेक्ट ट्रेसिंग करें ताकि सभी कोरोना संक्रमित मरीज चिह्नित किये जा सकें।   किल-कोरोना अभियान जारी रहे मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि किल-कोरोना अभियान चलता रहे। किल-कोरोना-4 शुरू किया जाये ताकि कोरोना के लक्षण वाले व्यक्तियों की पहचान होती रहे तथा उन्हें उचित उपचार दिया जा सके।   कोरोना संक्रमितों को कोविड केयर सेन्टर में आइसोलेट करें चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमित एक्टिव मरीजों की संख्या में काफी कमी आयी है। यह अच्छा संकेत है। इस स्थिति में कोविड केयर सेंटर के आइसोलेशन बेड रिक्त हैं। अत: अब संक्रमित मरीजों को होम आइसोलेट करने के स्थान पर उन्हें कोविड केयर सेंटर में आइसोलेट किया जाये तथा दवा-भोजन आदि की बेहतर सुविधा दी जायें। इससे होम आइसोलेशन के दौरान घर के अन्य सदस्यों को होने वाले संक्रमण पर प्रभावी अंकुश लगाया जा सकेगा।   कोरोना कर्फ्यू का सख्ती से पालन करें मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन किया जाये ताकि 31 मई तक जीरो प्रतिशत पॉजिटिविटी दर को हासिल किया जा सके। उन्होंने कहा कि नागरिक उचित व्यवहार उपयोग कर कोरोना संक्रमण से बच सकते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना अभी रहेगा और दुनिया की गतिविधियाँ भी चलती रहेंगी। सावधानी रखी जाये। माइक्रो कन्टेनमेन्ट जोन बनाये जाएं। वार्ड स्तर पर संक्रमण को रोका जाए। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि फिलहाल कोरोना कर्फ्यू को धीरे-धीरे हटाने की दिशा में रणनीति बनायी जा रही है।

Kolar News

Kolar News 25 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ शनिवार को उज्जैन प्रवास पर पहुंचे। यहां मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ ने केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि आज प्रदेशवासी सरकार के भरोसे नहीं, भगवान भरोसे है। किस तरह हमारा भारत आज भाजपा सरकार के कारण विश्व भर में बदनाम हो रहा है। पहले चीन का कोरोना कहा जाता था, आज पूरे विश्व में सारी मीडिया रिपोर्ट ने इसका नाम भारतीय वैरीयंट कोरोना लिख दिया है। कई देशों के प्रमुख इसे भारतीय वैरीअंट के नाम से पुकार रहे हैं। हमारे देश के कई छात्र व जो नौकरी कर रहे है वो वापस नहीं जा पा रहे है। कुछ भारतीय जो विदेशों में टैक्सी चलाते हैं, उनकी टैक्सी में लोग बैठने को तैयार नहीं है? यह जो भारत महान बनाने की बात करते थे, उनकी असलियत सामने आ रही है ?   कमलनाथ् ने कहा कि आज सरकार कोरोना से नहीं लड़ रही है, आलोचना से लड़ रही हैं। मीडिया के लोगों को भी दबाया जा रहा है, उन पर भी प्रकरण दर्ज किए जा रहे हैं। यह आज इमेज मैनेजमेंट में लगे हैं। मोदी जी खुद को विश्वगुरु बताते थे,कहते थे कोरोना की लड़ाई हम जीत गयें ? 6.60 लाख वैक्सीन का निर्यात कर दिया? आज देशवासी वैक्सीन के लिये भटक रहे है? पूर्व सीएम ने निशाना साधते हुए कहा कि हमारा छोटा-मध्यमवर्गीय व्यापारी, किसान युवा, बेरोजगार नौजवान परेशान है। अर्थव्यवस्था चौपट है। कई लोगों ने अपनो को खोया है और आगे आने वाला आर्थिक प्रभाव प्रदेश और देश को कहां ले जाएगा, हमें उसकी भी चिंता है ? मैंने कल ही प्रश्न पूछा था कि कोरोना के मौत के आंकड़े क्यों दबाए-छुपाए जा रहे हैं ? मैंने कल ही कहा था कि कितने शव मुक्तिधाम-कब्रिस्तान में आये है, इसका रिकॉर्ड दे दीजिए, जनता खुद फैसला कर लेगी? आज जनता के पास इलाज के पैसे नहीं, लोग बर्बाद हो गए, शव के अंतिम संस्कार तक के पैसे नहीं, अब वह क्या मृत्यु के प्रमाण पत्र के लिए दर-दर भटकेगी ?   कमलनाथ ने कहा कि मैंने प्रदेश के सभी 52 जिलों से जानकारी बुलायी है, जिसमें एक लाख 27 हज़ार शव मार्च और अप्रैल में मुक्तिधाम और कब्रिस्तान में पहुंचे है।मेरे हिसाब से उसमें से 80प्रतिशत की मृत्यु कोविड से हुई। शिवराज जी ने कहा कि जिनकी कोरोना से मृत्यु हुई, उन्हें एक लाख की अनुग्रह राशि देंगे। मैंने कहा एक लाख नहीं 5 लाख दीजिए और किस सर्टिफिकेट पर आप देंगे, किस आधार पर देंगे, यह भी बताइये? आप जो भी शपथ पत्र दे कि मेरे परिवार के सदस्य की मृत्यु कोरोना से हुई है, उसे 5 लाख दीजिये। यह सिर्फ घोषणा कर जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हैं, इस सच्चाई को प्रदेश की जनता को समझना है।   गृहमंत्री पर पलटवार करते हए कमलनाथ ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा मुझसे प्रमाण मांग रहे हैं, आपके पास तो रिकॉर्ड है, आप शमशान, मुक्तिधाम, कब्रिस्तान के रिकॉर्ड और रजिस्टर को सार्वजनिक करिए, मुझे गलत साबित करिये, मैं माफी मांग लूंगा। मैं प्रदेश की जनता के साथ खड़ा हूं मुझे किसी एफआईआर व मुकदमे से डर नहीं लगता है। ये प्रदेश में कोरोना के आँकड़े छुपाने और दबाने के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट ज्यादा कर रहे हैं।   केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने कहा कि मोदी सरकार पिछले 1 सप्ताह से अपनी गलती को छुपाने और दूसरों पर ढ़ोलने की तैयारी में लग गई है। अब यह स्वास्थ्य को राज्य सरकार का विषय और राज्य सरकारों को हम चेतावनी दे चुके थे, इसमें लग गये है। जबकि सच्चाई यह है कि यह 2020 में आपदा प्रबंधन कानून लाए थे, उन्होंने राज्यों से पूरे अधिकार ले लिए थे। ये रेमदेसीविर का एक्सपोर्ट कर रहे थे, ऑक्सीजन का निर्यात कर रहे थे। मोदी जी की असलियत पूरे देश की जनता समझ रही है, जनता समझ रही कि हर वर्ग के साथ धोखा हुआ है। 2014 से हम देख रहे हैं स्कील इंडिया, मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, नोटबंदी, जीएसटी इसकी असलीयत देश की जनता ने देख ली है, नारों से देश चलने वाला नहीं है, कलाकारी और गुमराह की राजनीति का अब अंतिम समय आ गया है।

Kolar News

Kolar News 22 May 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में  31 मई तक प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों, विकासखंडों और जिलों को कोरोना मुक्त करना है। कोरोना के विरुद्ध आरंभ हुए युद्ध में प्रत्येक स्तर पर जन-भागीदारी और क्राइसिस मैनेजमेंट समितियों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। मई माह में कोरोना के प्रकरणों को शून्य कर एक जून से धीरे-धीरे अनलॉक करने की प्रक्रिया का क्रियान्वयन भी जन-भागीदारी से किया जाएगा। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को कहीं। चौहान ने कोरोना नियंत्रण के संबंध में जिलों के कोविड प्रभारी मंत्री, प्रभारी अधिकारियों सहित सभी संभागीय आयुक्तों, पुलिस महानिरीक्षकों, कलेक्टर्स तथा पुलिस अधीक्षकों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित कर रहे थे।   मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में कोरोना संक्रमण नियंत्रण की स्थिति में है। पॉजिटिविटी रेट 4.82 प्रतिशत है। प्रदेश में 79 हजार 737 टेस्ट किए गए जिसमें सिर्फ तीन  हजार 844 पॉजीटिव आए हैं और नौ हजार 327 व्यक्ति स्वस्थ हुए हैं। प्रदेश का रिकवरी रेट 90.86 प्रतिशत हो गया है।    उन्‍होंने कहा कि एक समय था जब अस्पतालों के सभी बिस्तर भरे हुए थे। ऑक्सीजन की मारामारी थी और रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए हाहाकार मचा हुआ था। आज सबके परिश्रम व टीम भावना से कार्य करने के परिणाम स्वरूप वर्तमान में मध्यप्रदेश पहले की तुलना में बेहतर स्थिति में है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस उपलब्धि के लिए पूरी टीम को बधाई दी।   माइक्रो प्लानिंग कर मॉनीटरिंग सुनिश्चित करें चौहान ने कहा कि कोरोना बहुरूपिया है, अत: इसे नियंत्रित देखकर निश्चिंत नहीं बैठा जा सकता है। परन्तु संक्रमण रोकने के लिए प्रदेश में अनंतकाल तक बंद भी नहीं रखा जा सकता है। एक जून से धीरे-धीरे अनलॉक प्रक्रिया आरंभ की जाना है। इसके लिए प्रभावी रणनीति का शत-प्रतिशत क्रियान्वयन सुनिश्चित करना होगा। प्रदेश के कुछ जिलों में सिंगल डिजिट में केस आ रहे हैं जबकि कई जिलों में प्रकरणों की संख्या अभी भी अधिक है। इस स्थिति में हमें एरिया स्पेसिफिक रणनीति बनाना होगी।    उन्‍होंने कहा कि जिलों के अधिक संक्रमण वाले वार्डों तथा गाँव को हॉट स्पॉट के रूप में चिन्हित करना होगा। इन क्षेत्रों को माइक्रो कन्टेन्टमेंट एरिया बनाकर सघन मॉनिटरिंग सुनिश्चित की जाए। सघन टेस्टिंग के लिए अभियान जारी रहे। जिन घरों में कोरोना संक्रमण से प्रभावित व्यक्ति हैं उन्हें होम आइसोलेट किया जाए। यह भी सुनिश्चित करें की ऐसे व्यक्ति परिवार के अन्य सदस्यों से नहीं मिलें। इसका लगातार अनुसरण करना आवश्यक है। उन्‍होंने प्रभारी मंत्रियों तथा अधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्र में परिस्थिति अनुसार माइक्रो प्लानिंग कर मॉनिटरिंग के निर्देश दिए हैं।   टेस्टिंग जारी रहे चौहान ने कहा कि जहाँ कोरोना का एक भी पॉजीटिव केस हो वहाँ टेस्टिंग जारी रहे। टेस्टिंग के लिए सघन गतिविधियां संचालित की जाएं। कुछ जिलों में मोबाइल टेस्टिंग व्यवस्था की गई है। यह अच्छा प्रयोग है, जिसका अनुसरण आवश्कतानुसार अन्य जिले भी कर सकते हैं।   लगातार जारी रहेगा किल-कोरोना अभियान शिवराज का कहना था कि किल-कोरोना अभियान लगातार जारी रखा जाए। तीसरा अभियान 24 मई को पूर्ण होगा, इसके साथ ही चौथा किल-कोरोना अभियान आरंभ किया जाएगा। सर्दी, खाँसी, जुकाम से प्रभावित प्रत्येक व्यक्ति की पहचान कर उसे तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए। आवश्यकतानुसार इलाज की व्यवस्था की जाए। कोरोना के लक्षणों को पहचानने और इलाज आरंभ करने में विलम्ब नहीं हो। जो कोरोना मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं उनका बेहतर इलाज सुनिश्चित किया जाए। मरीज की जान बचाने की हरसंभव कोशिश की जाए।   तीसरी लहर के लिए तैयारियाँ आवश्यक चौहान ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर का सामना करने के लिए तैयारी जारी है। इसके दो ही तरीके हैं। प्रथम कोरोना से बचाव की सावधानियों जैसे मॉस्क पहनना, भीड़ नहीं लगाना, दो गज की दूरी आदि का इतनी कड़ाई से पालन किया जाए की तीसरी लहर आए ही नहीं। इस रणनीति का क्रियान्वयन क्राइसिस मैनेजमेंट समितियों, पंचायत एवं नगरीय क्षेत्र के जन-प्रतिनिधियों की सहभागिता और जन-जागरण अभियान से किया जाए।  उन्‍होंने कहा कि प्रदेश के जन-भागीदारी मॉडल की प्रशंसा प्रधानमंत्री मोदी द्वारा भी की गई है। प्रदेश में जन-भागीदारी की शक्ति को पहचानते हुए कोरोना के विरुद्ध इसका सार्थक उपयोग किया जाए। कोरोना की तीसरी लहर के लिए स्वास्थ्य अधो-संरचना ढाँचे को सशक्त करने के लिए राज्य सरकार लगातार कार्य कर रही है।

Kolar News

Kolar News 22 May 2021

उज्जैन। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथन शनिवार सुबह एक दिवसीय प्रवास पर उज्जैन पहुंचे। यहां वे कांग्रेसजनों से मिलकर उज्जैन और आसपास के जिलों में कोरोना की स्थिति पर चर्चा करेंगे।   उज्जैन पहुंचने पर कमलनाथ ने सबसे पहले बाबा महाकाल के शिखर दर्शन कर पूजा अर्चना की। पूर्व मुख्यमंत्री ने शिखर दर्शन पूजन कर विश्व से कोरोना वायरस को निजात दिलाने की प्रार्थना बाबा महाकाल से की।

Kolar News

Kolar News 22 May 2021

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना प्रबंधन में मध्य प्रदेश द्वारा अपनाये गये जन-भागीदारी मॉडल की सराहना की है। प्रधानमंत्री ने कहा है कि जिला, ब्लॉक और पंचायत स्तर पर क्राइसिस मनेंजमेंट कमेटियां बनाई गई हैं। इनमें पक्ष-विपक्ष के सभी राजनैतिक दलों के लोगों को जोड़ा गया है। यह जनता से जुड़ने का सबसे अच्छा तरीका है। जन-प्रतिनिधियों को जोड़कर हम उनकी ऊर्जा का उपयोग कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कर सकते हैं।    पीएम मोदी ने कहा है कि कोरोना संक्रमण अब गांवों में तेजी से फैल रहा है। वहां इसका सामना बिना जनशक्ति और जन-सहयोग के नहीं किया जा सकता। ग्राम, वार्ड, जिला स्तर पर जन-प्रतिनिधियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में राजनैतिक दल लोगों को जोड़ने की दिशा में अन्य राज्य भी मध्यप्रदेश के समान कार्य करें तो यह प्रभावी सिद्ध होगा।   प्रधानमंत्री मंगलवार को देशभर के राज्य और जिलों के अधिकारियों संग कोरोना महामारी के दौरान उनके अनुभवों के बारे में वीडियो कॉफ्रेंसिंग से संवाद कर रहे थे। इनमें वे जिले शामिल थे जहां कोरोना के प्रकरण और संक्रमण अधिक है। वर्चुअल संवाद में जिला अधिकारियों द्वारा अपनाई गई रणनीति, नवाचार और जिलों और राज्यों द्वारा अपनाई गई बेस्ट प्रेक्टिसेस की जानकारी भी दी गई।    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान निवास से इस कार्यक्रम में सम्मिलित थे। राष्ट्रीय स्तर के इस कार्यक्रम में इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने यहां अपनाई गई रणनीति, जन-सहभागिता के लिए किए गए प्रयासों, स्वास्थ्य सुविधाओं की तैयारियों और आपूर्ति श्रृंखला की दिशा में किए गए कार्यों की जानकारी दी।    प्रधानमंत्री मोदी के समक्ष हुए बेस्ट प्रेक्टिसेस के प्रस्तुतीकरण में मध्यप्रदेश का जन-भागीदारी मॉडल ही एक मात्र राज्य स्तरीय था, जबकि अन्य सभी बेस्ट प्रेक्टिसेस जिला स्तरीय थे।  केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि जिला, ब्लाक, पंचायत स्तर पर क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के गठन से जन-भागीदारी सुनिश्चित करने के परिणाम स्वरूप मध्यप्रदेश में जनता कर्फ्यू का क्रियान्वयन बहुत प्रभावी रहा। इसके साथ ही कोविड के प्रबंधन और टीकाकरण में भी जन-भागीदारी से सहायता मिली। मुख्यमंत्री शिवराज ने प्रधानमंत्री मोदी द्वारा आगामी समय में कोविड प्रबंधन के लिए दिये गये मार्गदर्शन के लिए आभार माना।   ट्रेसिंग और टेस्टिंग में भी मिला जनता का सहयोग कलेक्टर इंदौर मनीष सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार प्रदेश में कोरोना के खिलाफ युद्ध में प्रत्येक स्तर पर जनता का सहयोग लिया जा रहा है। जिला, ब्लाक, पंचायत स्तर पर क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियाँ विद्यमान हैं। इनमें सभी राजनैतिक दलों के सभी स्तर के जन-प्रतिनिधि सम्मिलित हैं। इनकी पहल और सहयोग से ही जनता कर्फ्यू का क्रियान्वय किया जा रहा है, जिससे संक्रमण की चेन तोड़ने में मदद मिली। जनता का सहयोग ट्रेसिंग और टेस्टिंग में भी मिला। कलेक्टर श्री मनीष सिंह ने ग्रामीणों द्वारा स्व-प्रेरणा से विभिन्न गतिविधियों में कोरोना बचाव के लिए अपनाई जाने वाली सावधानियों की जानकारी भी दी।   नगरीय क्षेत्र में माइक्रो कंटेनमेंट एरिया, बाजारों की व्यवस्था, औद्योगिक इकाइयों के सीमित संचालन और ग्रामीण स्तर पर जारी किल कोरोना अभियान, कोविड केयर सेंटर, स्टेप डाउन सेंटर तथा टीकाकरण की व्यवस्था के संबंध में बताया कि जन-सहभागिता के परिणामस्वरूप इन व्यवस्थाओं का प्रबंधन बेहतर हुआ और संभावित मरीजों की पहचान तथा उनके सही समय पर इलाज करने में मदद मिली।

Kolar News

Kolar News 18 May 2021

भोपाल। चक्रवाती तूफान ताऊ ते का असर मप्र में भी देखने को मिला है। प्रदेश के अधिकांश इलाकों में बेमौसम बारिश होने से खुले में रखा गेहूं बर्बाद हो गया है। जिससे किसानों की मुसीबत बढ़ गई है। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने बेमौसम बारिश से खराब हुई फसलों के लिए सरकार से किसानों को मुआवजा देने की मांग की है।   कमलनाथ ने कहा है कि चक्रवती तूफ़ान "ताऊ ते" के कारण प्रदेश के कई हिस्सों में भी बेमौसम बारिश हुई है। इस बारिश से गेहूँ खऱीदी केंद्रो पर गेहूँ बेचने के लिये लाइन में लगे किसानो के गेहूँ भीगने की खबरे कई स्थानों से आ रही है और यह भी शिकायतें आ रही है कि इस भीगे हुए गेहूँ को खरीदी केंद्रो पर नहीं लिया जा रहा है। उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि मै सरकार से माँग करता हूँ कि पहले से ही संकट के इस दौर में कई परेशानी झेल रहे किसानों को राहत प्रदान करने के लिये भीगे हुए इस गेहूँ को खरीदने के लिये सरकार तत्काल आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करे। साथ ही इस तूफ़ान की तमाम चेतावनियो के बावजूद कई खरीदी केंद्रो के बाहर खुले में पड़े गेहूं का समय पर परिवहन कर उसे सुरक्षित स्थान पर पहुँचाने का कार्य नहीं किया गया, जिससे खुले में पड़ा गेहूँ बारिश की चपेट में आ गया है, इससे गेहूँ के खराब व नुकसान होने की संभावना है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि यह घोर लापरवाही है, इसकी जिम्मेदारी तय कर, लापरवाही बरतने वाले जिम्मेदारों पर भी सरकार तत्काल कार्यवाही करे।

Kolar News

Kolar News 18 May 2021

भोपाल। वरिष्ठ भाजपा नेता और दमोह से पूर्व सांसद शिवराज लोधी का मंगलवार को निधन हो गया। वे लंबे समय से अस्वस्थ थे और राजधानी के चिरायु अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। जहां आज सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली। पूर्व सांसद के निधन की खबर से प्रदेश में शोक की लहर दौड़ गई। मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान समेत कई नेताओं ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि दी है।   दमोह से पूर्व सांसद और भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह लोधी का निधन हो गया। उनका भोपाल में इलाज चल रहा था। उनके निधन पर सीएम शिवराज ने ट्वीट कर शोक व्यक्त करते हुए श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने कहा ‘दमोह लोकसभा क्षेत्र के पूर्व सांसद श्री शिवराज सिंह लोधी के निधन की दु:खद सूचना मिली है। उनका जाना संगठन के लिए अपूरणीय क्षति है। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे दिवंगत आत्मा को शांति दें और उनके परिजनों को इस अपार दु:ख को सहने की शक्ति दें।   गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने अपने शोक संदेश में कहा दमोह लोकसभा क्षेत्र से पूर्व सांसद श्री शिवराज सिंह लोधी जी के निधन की दुखद सूचना मिली है। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति और शोकाकुल परिजनों को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

Kolar News

Kolar News 18 May 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ब्लैक फंगस के प्रकरणों की जल्द पहचान के लिए संपूर्ण प्रदेश में तत्काल व्यापक स्तर पर अभियान चलाने की आवश्यकता है। प्रत्येक वार्ड और ग्रामस्तर पर ब्लैक फंगस के प्रकरणों की तत्काल पहचान के लिए आवश्यक रणनीति विकसित कर एडवाइजरी जारी की जाए। इससे ऐसे प्रकरणों में तत्काल उपचार सुनिश्चित किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री शिवराज ने ब्लैक फंगस के उपचार के लिए पाँच मेडिकल कॉलेज भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, इंदौर और रीवा में विशेष वार्ड बनाने के निर्देश भी दिए हैं।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने विशेषज्ञों और ग्रुप ऑफ़ ऑफिसर के साथ कोविड नियंत्रण व स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ीकरण के लिए भविष्य की कार्य योजनाओं पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर आयोजित 'विचार मंथन' को निवास से संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के विरुद्ध अभियान जनता के सहयोग से संचालित किया गया। जिले से लेकर ग्राम स्तर तक आपदा प्रबंधन समूहों और अन्य माध्यमों से जनता के सहयोग से लड़ी गई कोविड के विरुद्ध लड़ाई में सफलता मिली है और प्रदेश में संक्रमण नियंत्रित हुआ है। इस दिशा में लम्बी लड़ाई बाकी है। राज्य सरकार हर स्तर पर अपनी रणनीति में सुधार के लिए सुझाव और चर्चा को आवश्यक मानती है। मध्यप्रदेश आदर्श रूप से कोविड नियंत्रण कर सके, इस उद्देश्य से ही विशेषज्ञों और अधिकारियों की यह बैठक बुलाई गई है।   सीएम ने विशेषज्ञों और ग्रुप ऑफ़ ऑफिसर से कोविड-19 के प्रबंधन में समाज की सहभागिता बढ़ाने, कोविड नियंत्रण के लिए आवश्यक आदतों और व्यवहार को स्थाई रूप से जीवन का हिस्सा बनाने, निजी और शासकीय अस्पतालों के बेहतर प्रबंधन, स्वास्थ्य सेवाओं के सुदृढ़ीकरण, नागरिकों को स्वस्थ जीवन चर्या अपनाने के लिए प्रेरित करने, परंपरागत चिकित्सा पद्धतियों के विस्तार और अन्य राज्यों तथा देशों की बेस्ट प्रैक्टिसेस तथा उनकी प्रदेश के लिए प्रासंगिकता के संबंध में सुझाव मांगे। इसके साथ ही पोस्ट कोविड केयर की प्रक्रिया, ब्लैक फंगस की स्थिति और बचाव, कोरोना की तीसरी वेव को ध्यान में रखते हुए आवश्यक तैयारियों और कोरोना के बाद हमारा व्यवहार कैसा हो, इस संबंध में भी सुझाव आमंत्रित किए गए। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने प्रदेश में कोविड-19 के प्रबंधन पर प्रस्तुतीकरण दिया।   'विचार मंथन' में नीति आयोग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. के. मदन गोपाल, दिल्ली स्थित थिंक टैंक रिसर्च एण्ड इनफार्मेंशन सिस्टम इन डव्हलेपमेंट कंट्रेरीज (आरआईएस) में डायरेक्टर जनरल तथा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स में सदस्य प्रो. सचिन चतुर्वेदी, विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉ. अभिषेक जैन, गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल की सदस्य डॉ. ज्योत्सना श्रीवास्तव, यूनिसेफ की वंदना भाटिया, डॉ. राहुल खरे, डॉ. निशांत खरे, एम्स भोपाल के डॉ. देवाशीष विश्वास, गांधी मेडिकल कॉलेज के डॉ. लोकेन्द्र दवे, डॉ. महेश माहेश्वरी, नेशनल अस्पताल के डॉ. पी.के. पाण्डे सम्मिलित हुए।    चर्चा में अपर मुख्य सचिव राजेश राजौरा, एस.एन. मिश्रा, मलय श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव मनोज गोविल, नीरज मण्डलोई, संजय दुबे, डॉ. पल्लवी जैन गोविल, प्रतीक हजेला, सचिव सुखवीर सिंह, आयुक्त जबलपुर बी. चंद्रशेखर, आयुक्त इन्दौर पवन शर्मा, कलेक्टर रीवा टी. इल्लैयाराजा, कलेक्टर बुरहानपुर प्रवीण सिंह अढायच ने अपने सुझाव रखे।

Kolar News

Kolar News 15 May 2021

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने राजस्थान के मुख्यमंत्री से चर्चा कर श्योपुर से लगे राजस्थान के नजदीकी शहरों में गंभीर स्थिति में इलाज के लिए जाने वाले मरीजों की रोक पर से प्रतिबंध हटवाया। क्षेत्र के लोगों ने कमलनाथ का और राजस्थान के मुख्यमंत्री का आभार माना।   दरअसल कोरोना की इस महामारी में प्रदेश के श्योपुर में स्वास्थ सुविधाओं व संसाधनों के अभाव में और वहाँ से ग्वालियर की ज्यादा दूरी को देखते हुए, स्थानीय नागरिक इलाज के लिए, सिटी स्केन व तमाम आवश्यक जाँच के लिये बड़ी संख्या में नजदीक लगे राजस्थान के कोटा व सवाई माधोपुर शहरों में नियमित रूप से जाते थे लेकिन पिछले दिनों इन शहरों में जाने वाले मरीजों को पार्वती व चंबल नदी सीमाओं पर रोका जाने लगा, उनके जाने पर प्रतिबंध लगा दिया गया। श्योपुर क्षेत्र के नागरिकों से इस संबंध में शिकायत प्राप्त होने पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने तत्काल राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इस सम्बंध में चर्चा की, वह उनसे इन प्रतिबंधों में शिथिलता प्रदान करने की मांग की।   कमलनाथ की मांग व आग्रह पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने त्वरित निर्णय लेते हुए इन प्रतिबंधों में शिथिलता प्रदान करने के स्थानीय प्रशासन के अधिकारियों को निर्देश दिये। जिससे एक बार फिर यहां के मरीजों को गंभीर स्थिति में इलाज के लिए नजदीक लगे राजस्थान के शहरों में जाने की  अनुमति मिल गयी। इसको लेकर श्योपुर के नागरिकों ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ व राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आभार मानते हुए उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त की है।

Kolar News

Kolar News 15 May 2021

भोपाल। कोरोना संकट के बुरे वक्‍त में मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार उन तमाम लोगों के लिए फिर एक बार आशा की किरण बन सामने आई है, जिनके परिजनों की या तो इस महामारी में मृत्यु हो गई या फिर उनके आय के साधन समाप्‍त हो गए हैं। सरकार कोरोना संक्रमण की वजह से बेसहारा हुए बच्चों एवं परिवारों को मुफ्त राशन, पेंशन और बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देने जा रही है। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्‍वयं गुरुवार को इसकी घोषणा की।    इस निर्णय के साथ ही कोरोना संक्रमण से अपनों को खो चुके परिवारों को इस तरह की मदद देने वाला मध्यप्रदेश देश में पहला राज्य बन गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ऐसे बच्चे जिनके परिवार से पिता का साया उठ गया, कोई कामाने वाला नहीं बचा, ऐसे परिवारों को पांच हजार रुपये प्रति माह पेंशन दी जाएगी। इतना ही नहीं इस प्रकार के सभी परिवारों में बच्चों की शिक्षा का निःशुल्क प्रबंध किया जाएगा जिससे कि वे आगे भी अपना अध्‍ययन जारी रख सकेंगे।    उन्‍होंने कहा कि जिन बच्चों के पिता एवं अभिभावक और बुजुर्गों के बुढ़ापे की लाठी उनके युवा बेटे तथा परिवार के कमाने वाले सदस्य अब इस दुनिया में नहीं हैं, ऐसे परिवारों को प्रदेश सरकार का सबंल मिलना ही चाहिए। ऐसे दुखी परिवारों को हम बेसहारा नहीं छोड़ सकते, उनका सहारा प्रदेश की सरकार है, ऐसे बच्चों को भी चिंता करने की जरूरत नहीं है, वो प्रदेश के बच्चे हैं। प्रदेश उनकी मदद करेगा, प्रदेश उनकी चिंता करेगा।   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अनाथ बच्चों, बुजुर्गों और परिवारों को जीवन यापन में कोई परेशानी नहीं होने नहीं दी जाएगी। प्रदेश सरकार पूरा ध्यान रखेगी। अनाथ बच्चों की शिक्षा का नि:शुल्क प्रबंध किया जाएगा, जिससे वे अपनी पढ़ाई बिना बाधा जारी रख सकें। अनाथ बच्चों, बुजुर्गों और परिवारों को पात्रता नहीं होने के बाद भी नि:शुल्क राशन दिया जाएगा। उनके भोजन की समस्या का समाधान होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि अनाथ बच्चों और बुजुर्गों के परिवार और अनाथ हुए परिवार का कोई सदस्य यदि काम-धंधा करना चाहता है तो उसको प्रदेश सरकार की गारंटी पर बिना ब्याज का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा ताकि वे फिर से अपना काम-धंधा जीवन व्यापन के लिए शुरू कर सकें। 

Kolar News

Kolar News 13 May 2021

भोपाल। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि वैश्विक आपदा के समय लोगों को भ्रमित करने और अफवाह फैलाने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि लोगों को भ्रमित करने और अफवाह फैलाने वाले वीडियो को जारी करने के एक प्रकरण में विदिशा विधायक शशांक भार्गव के विरुद्ध अपराध पंजीबद्ध किया गया है।    गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने कहा है कि भ्रम और अफवाह फैलाने वाला व्यक्ति कितना भी रसूखदार क्यों न हो, किसी प्रकार की रियायत नहीं बरती जाएगी। डॉ. मिश्रा ने बताया कि शशांक भार्गव, विधायक विदिशा द्वारा वॉट्सऐप ग्रुप (विदिशा टूडे कलम का हमला) में विदिशा मेडिकल कॉलेज में अव्यवस्थाओं के संबंध में वीडियो जारी किया गया था। जाँच-पड़ताल में पाया गया कि वह तस्वीर मेडिकल कॉलेज विदिशा की नहीं हैं। उन्होंने बताया कि सुरेन्द्र चौहान की शिकायत पर थाना सिविल लाईन, विदिशा में अपराध क्रमांक 350/2021 धारा 188, 505 भादंवि व 54 आपदा अधिनियम 2005 के अंतर्गत दिनांक 12 मई 2021 को कायम कर विवेचना में लिया गया।

Kolar News

Kolar News 13 May 2021

भोपाल। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने बुधवार को कोरोना महामारी में प्रमुखता से सामने आये पोस्ट कोविड कॉम्प्लीकेशन म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लेक फन्गस) बीमारी के संबंध में चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ मंथन किया। मंत्री सारंग द्वारा इस बीमारी से पीड़ित कोविड मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए प्रदेश स्तर पर स्ट्रेटर्जी एवं प्लान तैयार किया जा रहा है।   मंत्री सारंग द्वारा इसके लिये विशेष रूप से अमेरिका के संक्रमक बीमारी के विशेषज्ञ डॉ. मनोज जैन का चिकित्सकीय तकनीकी सहयोग भी प्राप्त किया जा रहा है। बुधवार को गांधी मेडिकल कॉलेज में ब्लेक फन्गस बीमारी म्यूकोरमाइकोसिस के संबंध चिकित्सकीय ज्ञान, रोकथाम किये जाने के बिन्दु, उपचार की गाइडलाइन, मरीजों का लक्षणों अनुसार प्रबंधन तथा लोगों में बीमारी के संबंध में जागरूकता एवं तथ्यात्मक ज्ञान के संबंध में भोपाल और जबलपुर मेडिकल कॉलेज के चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ विभिन्न चिकित्सा आयामों पर विस्तृत चर्चा की गई।   अमेरिका के डॉ. जैन द्वारा प्रेजेन्टेशन के माध्यम से इस बीमारी के सूक्ष्म पहलूओं और तथ्यों का प्रस्तुतीकरण किया गया। साथ ही उपस्थित नाक-कान-गला विशेषज्ञ, नेत्र रोग विशेषज्ञ, डायबिटॉलाजिस्ट, न्यूरो सर्जन एवं मेडिसिन विशेषज्ञों के साथ ऑनलाइन पेनल डिस्कशन किया गया।   प्रदेश स्तर पर कोविड ट्रीटमेन्ट प्रोटोकॉल मे स्टेरॉयड एवं एन्टीबायोटिक के रेशनल उपयोग तथा अनियंत्रित मधुमेह के मरीजों के उपचार के दौरान ब्लड शुगर लेवल की सघन मॉनिटरिंग तथा सेकेण्डरी/हॉस्पिटल एक्वायरड इन्फेक्शन को सीमित करने के संबंध में प्रोटोकॉल निर्धारित करने के लिये विभिन्न बिन्दुओं पर चर्चा की गई।   देश में गाँधी मेडिकल कॉलेज भोपाल एवं जबलपुर मेडिकल कॉलेज में 10-10 बेड के म्यूकोरमाइकोसिस यूनिट स्थापित किये जा रहे हैं। इन यूनिटों में म्यूकोर के मरीजों का उपचार एवं ऑपरेशन जैसी व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।   कोविड पॉजिटिव एवं नेगेटिव दोनों मरीजों में म्यूकोर इन्फेक्शन होने पर पृथक-पृथक ऑपरेशन थियेटर मरीजों के उपचार के लिये तैयार किये जायेंगे। इन यूनिटों का उद्देश्य है कि म्यूकोर के मरीजों को त्वरित इलाज एवं उपचार प्रदान किया जा सके।   म्यूकोर मरीजों की बढ़ती संख्या से आमजन में व्याप्त हो रही चिंता के लिये सरकार एवं चिकित्सक मिलकर उपयुक्त उपचार व्यवस्थाओं से उनका भरोसा मजबूत करने के लिये इस प्रयास के माध्यम से कार्यवाही कर रहे हैं।   इस गहन विचार-विमर्श में अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान, आयुक्त चिकित्सा शिक्षा निशांत वरवड़े, संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत सहित विभिन्न विधाओं के चिकित्सकीय विशेषज्ञ एक साथ जुड़े।

Kolar News

Kolar News 12 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने भाजपा की शिवराज सरकार से 10 सवाल किए है। उन्होंने कहा कि महामारी के इस दौर में जहाँ लोग जीवन रक्षक दवाओं, ऑक्सीजन और अस्पतालों में बिस्तर के लिए परेशान हो रहे है। ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में कोरोना महामारी की विपदा से निपटने के लिए न तो कभी सर्वदलीय बैठक बुलाई और न ही उनसे कोई सलाह ली बल्कि विपक्ष पर लगातार झूठे आरोप लगा कर अपनी निकामियों का ठीकरा विपक्ष पर फोडऩे का काम कर रहे है।   पूर्व मंत्री ने कहा कि शिवराज जी कहते है कि कांग्रेस के नेता भ्रम फैलाते है। जबकि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ लगातार महामारी से निपटने को लेकर मुख्यमंत्री को लगातार पत्र लिखकर चेता रहे है जबकि कमलनाथ जी ने कांग्रेस पदाधिकारीयों, कार्यकर्ताओं, नेताओं और विधायकों को दिशा निर्देश जारी किए है कि महामारी के दौर में जनता की सेवा में उनकी सहायता में जुट जाए।   कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा पर व्यंग करते हुए कहा कि गृहमंत्री जी प्रति दिन नहा धोकर, चेहरे पर पाउडर लगाकर, मूंछे काली करके, बाल काले करके, ओठों पर लाली लगाकर टीवी पर तथ्यहीन बातें करते हुए दिखते है अपनी भूमिका छोडक़र विपक्ष को कोसते हुए दिखते है। गृहमंत्री जी कहते है कि इस महामारी में काला बाजारी करने वाले लोगों को अजीवन कारावास की सज़ा होगी। लेकिन उन्हीं के पार्टी के कार्यकर्ता गिद्धों की तरह लोगों को नोंचने में लगे है उनके प्रति आपकी सरकार नर्म क्यों है। जीतू पटवारी ने कहा कि वह कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा से वह 10 सवाल करते है जिसका जबाब वे प्रदेश की जनता को दें।जीतू पटवारी ने सवाल करते हुए कहा कि जबलपुर में सीटी हॉस्पीटल के संचालक सबरजीत सिंह मोखा जिसने करीब 1 लाख नकली रेमडेसिविर इजेक्शन बेंचे उसके खिलाफ आपकी पार्टी और सरकार का रूख नर्म क्यों है। रतलाम में भाजपा से जुड़े राजेश महेश्वरी को ऑक्सीफ्लोमीटर की कालाबाजारी करते हुए पकड़ा गया उसे आपकी सरकार ने रात में ही क्यों छोड़ दिया। उज्जैन के कैबिनेट मंत्री डॉ. मोहन यादव का प्रतिनिधि अभय विश्वकर्मा जो 30-30 हजार में अस्पताल में बेड बेच रहा था, अस्पताल के डॉक्टर ने यह बयान दिया है। आपकी सरकार क्यों चुप है? आपने नरोत्तम जी कार्यवाही क्यों नहीं की और आप विपक्ष पर नकारात्मकता का आरोप लगाते हैं। दो लाख से ज्यादा मौतें मध्य प्रदेश में हो गई है, आपकी सरकार कहती है कि  आपने जिले वार क्राइसिस मैनेजमेंट की कमेटियां बनाई है, गाँव-गाँव, नगर-नगर सर्वे चल रहा है तो फिर केन नदी की सहायक रूद्र नदी में शव नदियों में क्यों बह रहे हैं?   जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनकी सरकार से 10 सवाल करते हुए पूछा कि शिवराज जी यह बताएं कि कालाबाजारी करने वाले भारतीय जनता पार्टी से जुड़े गिद्द जो महामारी में भी अपना लालच नहीं छोड़ते, जिन्होंने मौत पर पैसा कमाया इनके खिलाफ क्या कार्यवाही की जा रही है। सरकार इनके खिलाफ कार्यवाही करेगी? दूसरा सवाल करते हुए पटवारी ने कहा कि नदियों में शव तैर रहे है ऐसा कैसे हुआ इसका उत्तर सरकार दे। तीसरा सवाल पूछते हुए कहा कि एक लाख नकली रेमडेसिविर इजेक्शन जो लगभग 40 हजार मरीजों को लगाए गए जिनकी मौतें हो गई इसकी सरकार जाँच करवाए, कांग्रेस इस महाघोटाले की हाई कोर्ट के सिटिंग जज से जाँच करवाने की माँग करती है। चौथा सवाल करते हुए कहा कि प्रदेश में कोरोना के साथ ही फंगल इंफेक्शन लगातार बढ़ रहा है इसकी दवाईयों की भी कालाबाजारी शुरू हो गई है इसके लिए सरकार ने क्या कार्ययोजना बनाई है। पाँचवा प्रश्न करते हुए कहा कि गाँव में कोविड की महामारी में फैल गई है 50 प्रतिशत से अधिक लोगों की मौत गाँव से हुई है, गाँवों को राम भरोसे छोड़ दिया गया है इसको लेकर क्या कार्ययोजना बनाई है यह सरकार स्पष्ट करें।   उन्होंने छठा सवाल करते हुए कहा कि प्रदेश में दो लाख से जायदा मृत्यु हुई है पर्याप्त टेस्ट हो नहीं रहे और सरकार महामारी को नियंत्रण में बता रही है यह भ्रम सरकार न फैलाए। क्या लगभाग 10 लाख में से 50 हजार लोगों की जाँच करवाने की कोशिश शिवराज जी करेंगे, क्या इसको लेकर कोई कार्य योजना है। सातवां सवाल करते हुए कहा कि तीसरी लहर को लेकर सरकार कि क्या कार्ययोजना है या फिर मुख्यमंत्री जी सिर्फ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जनता को बस काम कर रहे है यह दिखाने की कोशिश करते रहेंगे। आठवां सवाल करते हुए कहा कि वैक्सीन को लेकर आज तक लगभग 90 लाख लोगों को वैक्सीन लगाये जाने का दावा सरकार कर रही है ।क्या सभी को वैक्सीन लगे इसको लेकर सरकार की कोई कार्ययोजना है? आपको 8 करोड़ 64 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जानी है। क्या वैक्सीन को लेकर अन्य राज्यों की तरह ग्लोबल टैंडर कर प्रदेश के सभी लोगों को वैक्सीन लगाने का कार्य राज्य सरकार करेगी। नवां प्रश्न करते हुए जीतू पटवारी ने कहा कि सरकारी लापरवाही से दो लाख मौतें हुई है। कुछ मौते ऑक्सीजन के अभाव से हुई, कुछ मौतें दवाईयों की कमी की वजह से हुई है, आंध्र सरकार ने ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों को लेकर 10 लाख रूपए देने की बात कही है। शिवराज सरकार किसानों की मौत पर 1 करोड़ रूपए दे सकती है तो क्या इसी तरह सरकार 10 लाख रूपए देंगे और जिस आयुष्मान योजना का प्रोपोगंडा शिवराज सरकार ने जारी किया, लेकिन मध्यम वर्गीय वह लोग जो लाखों रूपए खर्च करके अस्पताल से अपनी जान बचाकर आए है उनको आर्थिक सहायता देकर उनके बिल भरेगी क्या सरकार। वही दसवां प्रश्न करते हुए जीतू पटवारी ने कहा कि राज्य सरकार राशन के वितरण की योजना का बखान करती है क्या तीन महिने के राशन से जिसमें गेंहू नमक देने की बात कह रही है, चक्की खुली नहीं क्या सरकार पात्रता पर्ची वाले लोगों को हर महीने 7 हजार रूपए देने की पहल करेगी क्योंकि सिर्फ सूखा आटा फांकने से पेट नहीं भरता है।   जीतू पटवारी ने कहा कि इस महामारी के दौर में हमारे नेता कमलनाथ और पूरी कांग्रेस पार्टी सरकार को सहयोग करने में पीछे नहीं हटेगी हम सरकार के साथ है भले ही शिवराज सरकार उन पर नकारात्मकता फैलाने का आरोप लगाए लेकिन हमारे नेता, कार्यकर्ता, पदाधिकारी, विधायक सभी इस भयावह दौर में जनता की सेवा में लगे है और इस महामारी में सबका सहयोग कर रहे है।

Kolar News

Kolar News 12 May 2021

भोपाल। उत्तर प्रदेश और बिहार में गंगा नदी में कोरोना मरीजों के शव बहते मिलने के बाद अब मप्र में भी ऐसे ही कुछ शव मिले हैं। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मामले पर चिंता जताते हुए सरकार से तत्काल मामले को संज्ञान में लेते हुए जांच करवाने की मांग की है।   कमलनाथ ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर कहा ‘शिवराज जी, अभी तक उत्तरप्रदेश और बिहार में गंगा नदी में बहते शवों की तस्वीरें हम देख रहे थे और अब मध्यप्रदेश में भी पन्ना जिले की अजयगढ़ तहसील के गाँव नंदनपुर में रुँझ नदी में 6 बहते शवों की दर्दनाक तस्वीरे सामने आयी है? यह बेहद गंभीर मामला है। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की स्थिति भयावह हो चली है। इस पूरे मामले में सरकार तत्काल संज्ञान लेकर इसकी पूरी जाँच करवाये और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएँ व संसाधन बढ़ाने का काम युद्ध स्तर पर करे।   दरअसल पूरा मामला पन्ना जिले की अजयगढ़ तहसील के गांव नंदनपुर की है, जहां रुंझ नदी में मंगलवार को 6 शव उतराते मिले। इससे गांव में दहशत फैल गई। धरमपुर थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शवों को बाहर निकाला और अन्य शवों की तलाश देर शाम तक जारी रही। ये शव कोरोना मरीजों के हैं या नहीं, इसकी पुष्टि अभी नहीं हुई है। यह नदी उप्र में बांदा जिले की सीमा से सटी है। इसलिए आशंका है कि ये शव यूपी से बहकर आए हैं।

Kolar News

Kolar News 12 May 2021

भोपाल। दमोह उपचुनाव में मिली हार के बाद भाजपा में विरोध के स्वर तेज हो गए हैे। पूर्व मंत्री जयंत मलैया और बेटे को हार के जिम्मेदार ठहराते हुए संगठन के फैसले के बाद कई वरिष्ठ नेता खुलकर इसका विरोध कर चुके हैं। पूर्व मंत्री अजय विश्नोई के बाद अब पार्टी की वरिष्ठ नेत्री और पूर्व मंत्री कुसुम मेहदेले ने भी जयंत मलैया का समर्थन किया है।   कुसुम मेहदेले ने जयंत मलैया का बचाव करते हुए पार्टी पर निशाना साधा है और मलैया को शोकॉज नोटिस देने को दुर्भाग्यपूर्ण भी बताया है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा अब बीजेपी के पास वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की उपेक्षा व अवमानना करने और उनकी निष्ठा पर असत्य लांछन लगाना भी शुरू हो गया है। जयंत मलैया को कारण बताओ नोटिस और सिद्धार्थ की सदस्यता समाप्त करना दुर्भाग्यपूर्ण है। वरिष्ठ नेत्री ने आगे लिखा- मलैया और सिद्धार्थ पर आरोप-प्रत्यारोप कतई उचित नहीं है। उप चुनाव करवाना भी उचित नहीं था। उन्होंने विधायक अजय विश्नोई का समर्थन करते हुए लिखा- अजय विश्नोईजी आापने दमोह उप चुनाव को लेकर को लेकर सही टिप्पणी की है। बता दें कि दो दिन पहले अजय विश्नोई ने सोशल मीडिया पर सवाल किया था- चुनाव में हार की जवाबदारी क्या टिकट बांटने वाले और चुनाव प्रभारी लेंगे?   चुनाव में पार्टी के उम्मीदवार राहुल सिंह लोधी की हार के लिए जिम्मेदार मानते हुए पार्टी ने जयंत मलैया को नोटिस दिया गया है। बेटे सिद्धार्थ को पार्टी से निलंबित कर दिया है। इस पर मलैया का कहना है कि सिर्फ मेरा बूथ नहीं हारी भाजपा।   कांग्रेस ने कसा तंजवहीं दमोह उप चुनाव में हार के बाद भाजपा में मची अंतर्कलह और वरिष्ठ नेताओं के मुखर होने पर कांग्रेस ने तंज कसा है। पार्टी के प्रदेश मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने सोशल मीडिया पर लिखा - दमोह उप चुनाव परिणाम के बाद अब एक बार फिर भाजपा में बिकाऊ-टिकाऊ संघर्ष शुुरू? टिकाउओं ने खोला बिकाऊओं के खिलाफ मोर्चा। सत्ता के लिए नीति, सिद्धांतों, निष्ठा को दांव पर लगाया। बिकाऊओं के लिए टिकाऊओं पर हो रही कार्यवाही। पद भी बिकाऊओं को, टिकाऊ क्या सिर्फ दरी उठाने के लिए।

Kolar News

Kolar News 10 May 2021

भोपाल। मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में धीमी गति से चल रही कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए केन्द्र और राज्य सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने सरकार पर तीखा प्रहार करते हुए कहा है कि वैक्सीन लगाने की बजाय शिवराज सरकार को वैक्सीन उपलब्ध करवाने के लिए अभियान चलाना चाहिए।   कमलनाथ ने सोशल मीडिया के माध्यम से सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी सरकार हो या शिवराज सरकार दोनो कोरोना संक्रमण से बचने के लिये वैक्सीन लगाने की बात तो रोज़ कह रही है लेकिन वैक्सीन के ही पते नहीं, विश्व गुरु बनने के चक्कर में वैक्सीन कई देशों में भेज दी और खुद के देश में ही वैक्सीन के पते नहीं? शिवराज सरकार को अब "आओ वैक्सीन लगवाओ" अभियान की जगह अब "पहले वैक्सीन उपलब्ध करवाओ" अभियान शुरू करना चाहिये।   एक अन्य ट्वीट कर कमलनाथ ने शिवराज सरकार का घेराव करते हुए कहा कि दवा की जगह दावा? जांच की जगह जुमले? ऑक्सीजन की जगह प्रोटोकॉल? अस्पताल की जगह श्मशान ? शिवराज जी,  प्रदेश की जनता आपको कभी माफ नहीं करेगी।

Kolar News

Kolar News 10 May 2021

जबलपुर। मध्य प्रदेश में हाल ही संपन्न हुए दमोह विधानसभा उपचुनाव में भाजपा को मिली हार के बाद पार्टी में आंतरिक कलह देखने को मिल रहा है। दमोह उपचुनाव के परिणाम आने के बाद प्रशासनिक स्तर से लेकर पार्टी स्तर पर तक कार्रवाई हुई है। शासन ने दमोह कलेक्टर का तबादला कर दिया है। पार्टी स्तर पर कार्रवाई करते हुए पूर्व मंत्री और वरिष्ठ नेता जयंत मलैय को जवाब तलब किया गया है।   इस हार पर भाजपा नेताओं में आपसी कलह देखेन को मिल रही है। पार्टी संगठन द्वारा की गई कार्रवाई पर पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक अजय विश्नोई ने ट्वीट कर बड़ा सवाल किया है। अजय विश्नोई ने ट्वीट कर पार्टी संगठन से सवाल पूछा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि चुनावी हार की जिम्मेदारी टिकट बांटने वाले और चुनाव प्रभारी लेंगे?    बता दें कि उपचुनाव में हार मिलने के बाद भाजपा उम्मीदवार राहुल लोधी ने मलैया पर भितरघात का आरोप लगाया था। मलैया ने प्रह्लाद पटेल का भी वार्ड हारने के हवाला देकर टिकट चयन पर सवाल उठाए थे। उपचुनाव में मिली हार पर पार्टी संगठन ने निष्कासन की कार्रवाई की है। पूर्व मंत्री जयंत मलैया को नोटिस देकर बेटे सहित 5 मंडल अध्यक्षों को निष्कासित किया है जिसके बाद भाजपा में अंतर्कलह खुल कर सामने आने लगा है।

Kolar News

Kolar News 8 May 2021

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दमोह उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार की करारी हार के बाद दमोह के जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक के तबादले पर सवाल उठाते हुए इस निर्णय को अचंभित व हैरान करने वाला बताया है? उन्होंने कहा है कि शिवराज सरकार के इस कृत्य से एक सवाल उठता है कि क्या दमोह में भाजपा को चुनाव जिताने की जिम्मेदारी वहाँ के कलेक्टर और एसपी को सौंपी गई थी?   कमलनाथ ने शनिवार को एक बयान जारी कर कहा कि यदि दमोह जिले के कलेक्टर और एसपी ने अपने कत्र्तव्यों के निर्वहन और अपनी वर्दी का सम्मान करते हुये निष्पक्ष चुनाव कराये तो क्या सरकार उन्हें इस कर्तव्यपरायणता की सजा देगी? उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि साफ़ नजर आ रहा है भाजपा प्रशासन का दुरूपयोग कर चुनाव जीतना चाहती थी, और अपने इस नापाक मंसूबे में असफल होने के बाद अब प्रशासनिक अधिकारियों में आतंक पैदा करने के लिये कलेक्टर एवं एसपी को हटाया गया है।   पूर्व सीएम ने कहा कि दमोह चुनाव की पराजय का दूसरा शिकार भाजपा के वरिष्ठ नेता जयंत मलैया एवं उनके पुत्र सिद्धार्थ मलैया को बनाया जा रहा है। यदि वास्तव में धनबल के साथ-साथ पूरी भाजपा, पूरी सरकार, 22 मंत्री, कई विधायक और सांसद के दमोह में महीनों डेरा डालने के बाद भी यदि मलैया परिवार कांग्रेस को 17000 वोटों से जीत दिला सकते हैं, तब उनके वर्चस्व और राजनीतिक कौशल को देखते हुये उन्हें तत्काल मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बना देना चाहिये? जबकि ये हार वास्तव में भाजपा के हर उस नेता की है जो पूरे दो महीने दमोह में रहने के बाद भी अपने उम्मीदवार को जीत नहीं दिला सके, ये हार शिवराज की उस अनैतिक राजनीति की हार है जो खरीद-फऱोख्त से सत्ता हथियाने के लिये कुख्यात है, ये हार उन तमाम लोगों की हार है जो खुद को लोकतंत्र और संविधान से ऊपर समझते हैं।कमलनाथ ने कहा कि दमोह में भाजपा की हार शिवराज सरकार के एक साल के कार्यकाल पर जनता का मत है। ये हार बताती है कि भाजपा ने पिछले एक साल में मध्यप्रदेश को कैसी सरकार दी है। मध्यप्रदेश की सौदेबाजी की सरकार में आज हर व्यक्ति पीडि़त है, फिर भी सरकार अपनी झूठी वाहवाही और विज्ञापनबाजी में लगी हुई है। कमलनाथ ने कहा कि मुझे ये कहते हुये गर्व होता है कि दमोह में कांग्रेस को मिली प्रचंड जीत दमोह की जनता की जीत है, सच्चाई की जीत है, लोकतंत्र की जीत है, हमारे आदर्शवादी सिद्धांतों की जीत है।

Kolar News

Kolar News 8 May 2021

भोपाल। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ फोन पर चर्चा की। इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी को प्रदेश में कोरोना की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया और कोरोना के खिलाफ किए जा रहे उपायों की जानकारी दी। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पीएम मोदी को प्रदेश में लगातार घट रहे पॉजिटिविटी रेट से अवगत कराया है और बढ़ रहे रिकवरी रेट की जानकारी दी है। पीएम मोदी ने सरकार के प्रयास पर संतोष व्यक्त करते हुए मदद का आश्वासन दिया है।   सीएम शिवराज ने ट्वीट कर पीएम मोदी के साथ हुई बातचीत की जानकारी देते हुए कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से फोन पर चर्चा कर उन्हें मध्यप्रदेश में कोविड19 की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया और लगातार घट रहे पॉजिटिविटी रेट व तेजी से बढ़ रहे रिकवरी रेट की जानकारी दी। उनसे मैंने प्रदेश सरकार द्वारा किए गए अभिनव प्रयासों को भी साझा किया। सीएम शिवराज ने कहा कि मैंने प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी को किल कोरोना अभियान, जनता कर्फ्यू 2, कोरोना वॉलंटियर्स, आइसोलेशन सेंटर, प्रदेश में बने कोविड19 केयर सेंटर, अस्थायी कोविड अस्पतालों के निर्माण के लिए सरकार के प्रयास, जनजागरुकता अभियान और योग से निरोग अभियान की प्रगति के बारे में बताया।   आगे सीएम शिवराज ने बताया कि मैंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति, ऑक्सीजन की उपलब्धता व आपूर्ति और प्रदेश में बनाए जा रहे नए ऑक्सीजन प्लांट्स की विस्तार से चर्चा की। प्रधानमंत्री जी से प्रदेश में चल रहे वैक्सीनेशन अभियान की प्रगति पर भी चर्चा की। जिस पर पीएम मोदी ने मध्यप्रदेश सरकार के प्रयासों पर संतोष व्यक्त करते हुए केंद्र सरकार द्वारा हरसंभव मदद करने का आश्वासन मुझे दिया है। मैं उन्हें सादर धन्यवाद देता हूँ। उनके नेतृत्व में कोविड19 से मध्यप्रदेश को मुक्त करने का अभियान जारी है।

Kolar News

Kolar News 8 May 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में कोरोना का स्‍तर गिर रहा है, लेकिन 18% से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट में सरकार कोई भी भूल करना नहीं चाहती। जनता के जीवन को बचाए रखने के लिए लॉकडाउन ही एक उपाय दिखाई दे रहा है, ऐसे में मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को कहा कि हम वर्तमान परिस्‍थ‍ितियों में कोरोना वायरस के संकट को देखते हुए आगामी 15 मई तक कुछ खोल नहीं सकते हैं।    श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता से आह्वान करते हुए कहा है कि कोरोना मानवता पर बड़ा संकट है। कोरोना को नियंत्रित करने का एकमात्र उपाय संक्रमण की चेन तोड़ना है। यह कार्य सभी के सहयोग के बिना संभव नहीं है। हम लंबे समय तक बंद नहीं रख सकते, जन-जीवन सामान्य भी करना है। अतः आगामी 15 मई तक सब कुछ बंद कर दें। जनता कर्फ्यू का कड़ाई से पालन करें और संक्रमण की चेन तोड़ दें।    उन्‍होंने कहा, शादी विवाह आगे बढ़ा दें। जिस गाँव में एक भी कोरोना मरीज़ है, वहाँ मनरेगा के कार्य बंद कर दें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इस कार्य में सभी के सहयोग की अपील की है। उनका कहना है कि कोरोना को समाप्त करने के लिए गाँव-गाँव, शहर-शहर में किल कोरोना अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर सर्वे कर मरीजों की पहचान कर उनका तुरंत इलाज प्रारंभ किया जा रहा है, शहरी क्षेत्रों में कोविड सहायता केंद्र बनाए जाकर वहाँ जाँच, मेडिकल किट वितरण आदि की व्यवस्था की जा रही है।   श्री चौहान का कहना है कि शहरों में ही नहीं, ग्रामीण क्षेत्रों में लोग सर्दी, जुकाम, बुखार के लक्षणों को छिपाते हैं। किल कोरोना-2 अभियान की टीम घर-घर जाकर सर्वे करे और साथ में उस गांव की टीम को भी साथ ले जायें, ताकि लोग सहयोग करें।  कोरोना का प्रारंभिक लक्षण आने पर ही इलाज करा जाए  तो व्यक्ति आसानी से स्वस्थ हो सकता है। यह घातक तब होता है, जब संक्रमण फेफड़ों तक फैल जाता है। इसलिए जरा भी सर्दी, जुकाम, बुखार हो, तो तत्काल जांच और इलाज करायें।    उन्‍होंने कहा कि इस कोविड काल में प्रधानमंत्री जी ने गरीबों को 2 महीने का राशन नि:शुल्क दे दिया है। हमारी सरकार भी तीन महीने का राशन गरीबों को दे रही है, ताकि कोई गरीब भूखा न रहे। वहीं, उन्‍होंने कहा कुछ निजी अस्पतालों में इलाज का अधिक पैसा लेने की शिकायतें मिल रही हैं। ऐसे संकट के समय में जनता को लूटने वाले अस्पतालों को मैं नहीं छोड़ूंगा।    मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि सरकार गरीब, आम आदमी, मध्यमवर्गीय व्यक्तियों को भी कोरोना का नि:शुल्क इलाज तुरंत उपलब्ध कराएगी। इसके लिए सरकार कल से ही योजना प्रारंभ कर रही है। आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत पैकेज घोषित किया जा रहा है। निजी अस्पतालों के साथ सरकार अनुबंध करेगी। सीटी स्केन आदि जाँचें भी नि:शुल्क होंगी।

Kolar News

Kolar News 6 May 2021

इंदौर। इंदौर के कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने प्रदेश सरकार में मंत्री तुलसी सिलावट के बेटे और उनके पूरे परिवार पर रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने जैसा संगीन आरोप लगाया है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर मे इंदौर के सक्रिय कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने मीडिया को सनसनीखेज बयान देते हुए सरकार व प्रशासन पर सवाल उठाये हैं। कांग्रेस विधायक के आरोपों के बाद अब राजनीति तेज हो गई है। भाजपा नेताओं ने कांग्रेस विधायक के बयान की निंदा की है वहीं मंत्री सिलावट ने भी विधायक संजय शुक्ला के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।   मंत्री तुलसी सिलावट ने गुरुवार को कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला के आरोप को बेबुनियाद, निराधार और असत्य बताते हुए कहा कि मैं संजय शुक्ला को मानहानि का नोटिस दूंगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ओछी और घृणा की राजनीति कर रहे हैं। मंत्री सिलावट ने उनको महापौर बनने के सपने आ रहे हैं, लेकिन ये सपने कभी पूरे नहीं होंगे। उन्होंने साफ कहा कि मुझे उनके आरोप-प्रत्यारोप और प्रमाण की आवश्यकता नहीं है। मुझे मेरी जनता ने प्रमाण दे रखा है। इससे बड़े प्रमाण-पत्र की आवश्यकता नहीं है। मंत्री सिलावट ने कहा कि मैं सेवा करने के लिए आया हूं और मेरा संकल्प है कि मैं अपना काम पूरा करूं। मुझे इनके प्रमाण की जरूरत नहीं। मुझे मेरी माता बहनों और बुजुर्गों के प्रमाण-पत्र की आवश्यकता है।   बता दें कि कांग्रेस विधायक ने मध्यप्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री व इंदौर के प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट के पुत्र चिंटू सिलावट और उनके परिजनों पर गंभीर आरोप लगाये और कहा कि ये लोग महंगे व आवश्यक इंजेक्शन बेच रहे हैं और दूसरी तरफ मंत्री जी घर में चूडिय़ां पहन कर बैठे हुए हैं।

Kolar News

Kolar News 6 May 2021

भोपाल। अपनी बेबाक टिप्पणियों के लिए मशहूर सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर द्वारा बंगाल की स्थिति के बारे में किए गए एक ट्वीट को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। लोग इस पर सोशल मीडिया में टिप्पणियां कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस ने इसकी निंदा की है।   भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने पश्चिम बंगाल में हिंसा को लेकर ममता बनर्जी का नाम लिए बगैर एक ट्वीट किया है। बुधवार शाम को किए गए इस ट्वीट में उन्होंने बंगाल की स्थिति को मुमताज लोकतंत्र बताया है। उन्होंने यह भी लिखा है कि शठे शाठ्यम समाचरेत, टिट फार टैट करना ही होगा। राष्ट्रपति शासन और एनआरसी बस यही उपाय हैं। संतों और वीरों की भूमि पर अब तो 'राम' बनना ही होगा। उनके इस ट्वीट की विपक्षी दलों द्वारा आलोचना की जा रही है।   साध्वी प्रज्ञा के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए मध्यप्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी  के.के. मिश्रा ने गुरुवार को कहा कि मध्यप्रदेश में जब लोकतंत्र पर हमला कर सरकार गिराई गई तब वे कुछ कहतीं तो अच्छा होता। प्रज्ञा सिंह ठाकुर बंगाल को लेकर ट्वीट कर रही हैं, लेकिन प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कारण हो रही मौतों से अनजान हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के खिलाफ ट्वीट करने के बजाए वो भोपाल में कोरोना से हुई मौत को लेकर ट्वीट करतीं तो बेहतर होता।

Kolar News

Kolar News 6 May 2021

भोपाल। कोरोना संक्रमण के इस काल में आम नागरिक की परेशानी और स्वास्थ्य को लेकर चिंतायें अधिक हैं। चिकित्सालय में आने वाले रोगी अथवा उनके परिजन यही चाहेंगे कि उन्हें तत्काल उपचार की सुविधा मिल जाय। थोड़ी भी देर होने पर उनकी नाराजगी स्वभाविक है। हमें नाराजगी सहन करने की आदत डालना चाहिए क्योंकि यह संकट की घड़ी है।  लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी राज्यमंत्री एवं कोविड-19 के अशोकनगर जिला प्रभारी मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव ने चंदेरी सिविल अस्पताल के चिकित्सक एवं चिकित्सा कर्मियों को उक्ताशय की समझाइश देते हुए कहा कि सभी की नाराजगी सुनने और सहन करने के लिए मैं तो हूँ। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में प्रतिदिन आकर चिकित्सक और रोगियों से इसी लिए मिलता हूँ ताकि किसी भी प्रकार की कठिनाई को दूर किया जा सकें।   राज्यमंत्री यादव ने सिविल अस्पताल को कोरोना गाइडलाइन और भर्ती रोगियों की सुविधा व संख्या के अनुसार समय-समय पर सेनेटाइज किए जाने के निर्देश दिए। चंदेरी टी.आई. को राज्यमंत्री ने निर्देश दिए की शादी तथा अन्य आयोजनों में कोरोना गाइडलाइन से अधिक व्यक्ति एकत्रित नहीं हों यह सुनिश्चित किया जाय। चंदेरी सिविल अस्पताल में आऊटसोसिंग से कार्य कर रहे पाँच कर्मचारियों ने राज्यमंत्री को बताया कि उन्हें वेतन नहीं मिल रहा है।  राज्यमंत्री ने उपस्थित 3 कर्मचारियों को तत्काल 3-3 हजार रुपये देते हुए कहा कि कोरोना काल में निजी तौर पर वे प्रत्येक कर्मचारी को हर माह 5-5 हजार रुपये की आर्थिक मदद देते रहेंगे।  उल्लेखनीय है कि 30 अप्रैल को भी सिविल अस्पताल मुंगावली में कार्यरत 10 कर्मचारियों द्वारा वेतन नहीं मिलने की जानकारी दिए जाने पर राज्यमंत्री ने उन सभी को 5-5 हजार रूपये मासिक रूप से दिए जाने का आश्वासन दिया था। आज मुंगावली अस्पताल पहुँचकर राज्यमंत्री ने उन सभी 10 कर्मचारीयों को 5-5 हजार रुपये नकद प्रदान किये।

Kolar News

Kolar News 5 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ बुधवार को इंदौर पहुंचे। यहां उन्होंने कांग्रेस नेताओं के साथ इंदौर में कोरोना की वर्तमान स्थिति पर चर्चा की। इस अवसर पर मीडिया से बातचीत करते हुए कमलनाथ ने कहा कि मैंने आज छिंदवाड़ा के प्रसिद्ध हनुमान मंदिर में प्रदेश के नागरिकों के अच्छे स्वास्थ्य की, खुशहाली की प्रार्थना की और इस महामारी से मुक्ति दिलाने की प्रार्थना की क्योंकि आज जनता सरकार भरोसे नहीं, भगवान भरोसे है।   कमलनाथ ने कहा कि इंदौर, मध्य प्रदेश का और देश का बड़ा शहर है लेकिन यहां रोज कितने लोगों की मौत हो रही थी? यह आंकड़े छिपाने से और दबाने से कोरोना जाने वाला नहीं है, आज कितने टेस्टिंग हो रहे है? टेस्टिंग 10 से 15प्रतिशत ही हो रही है और जिन लोगों की टेस्टिंग नहीं हो रही वह कोरोना संक्रमण फैला रहे हैं। कोरोना  की रिपोर्ट भी चार-पांच दिन में मिल रही है, ऐसे में वह भी लोगों को संक्रमित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज अस्पतालों में बेड के लिए, एंबुलेंस के लिए, इलाज के लिए, ऑक्सीजन के लिए, इंजेक्शन के लिए, डॉक्टर के लिये लाइन लगी है। तीन माह महीने पहले से ही कोरोना की दूसरी लहर को लेकर मीडिया और अन्य लोगों द्वारा तमाम चेतावनियाँ दी जा रही थी लेकिन इसका कोई प्रबंध सरकार ने नहीं किया ? मार्च तक तो देश से ऑक्सीजन का निर्यात हो रहा था, रेमडेसिविर इंजेक्शन तक एक्सपोर्ट हो रहा था, यह हालत है ? आज इंदौर-भोपाल तक में इलाज के लिए बेड नहीं मिल रहा है।   कमलनाथ ने सरकार पर हमला करते हुए कहा कि आज यह वैक्सिनेशन की बात कर रहे हैं, मै पूछना चाहता हूँ कि कितने लोगों को अभी तक वैक्सीन लगी है, कितने लोगों को लगाई जा रही है? वैक्सीन है ही नहीं, बस वैक्सीन की घोषणा कर दी बंगाल चुनाव के आखिरी चरण में युवाओं को लुभाने के लिये? यह कलाकारी की राजनीति अब बहुत हो गई। कमलनाथ ने जनता से अपील करते हुए कहा कि आज किसान, नौजवान, छोटा व्यापारी, गरीब वर्ग, मजदूर वर्ग सब परेशान है। आप सब लोग सच्चाई को पहचाने, सच्चाई अपनाये व सच्चाई का साथ दें।   कमलनाथ ने सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि आज प्रदेश में कोरोना से हो रही मौतों के लिए भाजपा की वर्तमान सरकार जिम्मेदार है।केंद्र में और मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार तो दोषी कौन? क्या जनता दोषी है? प्रदेश की भाजपा सरकार आज लाशों के ढेर पर राजनीति कर रही है, उसे जनता की चिंता नहीं। पूर्व सीएम ने कहा कि मैं पूरे प्रदेश की जनता की सेवा कर रहा हूं, जहां से भी मदद माँगी जा रही है, मदद की पूरी कोशिश कर रहा हूं। इंजेक्शन की कंपनियों से मैंने बात की कि मध्य प्रदेश का कोटा बढ़ाइए, ऑक्सीजन बढ़ाइए, जहां-जहां से मुझे खबर आती है, वहाँ मदद पहुंचाने का काम करता हूं।   प्रशासन पर साधा निशाना-कमलनाथ ने प्रशासन पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रशासन भी आज भाजपा नेताओं को रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध करा रहा है और उनके लोग ही कालाबाजारी कर रहे हैं, इसको उन्होंने व्यापार बना लिया है।   ममता बनर्जी को दिया मप्र आने का न्यौता-बंगाल पर हो रही हिंसा पर उन्होंने कहा कि कहीं भी हिंसा हो, यह ठीक नहीं है मैंने ममता बनर्जी जी से बात की है। मैंने उन्हें मध्यप्रदेश आने का निमंत्रण दिया है उन्होंने स्वीकार किया है और वह जल्द ही मध्यप्रदेश आयेगी, मैं उन्हें इंदौर लाने का भी पूरा प्रयास करूंगा। उन्होंने कहा कि वे मेरी मेरी पुरानी साथी रही है, युवक कांग्रेस के समय से हमने साथ काम किया है। किस प्रकार ममता जी ने मोदी जी, उनके मंत्रियों, विधायकों, इनकम टैक्स, सीबीआई व ईडी से लडक़र उन्हें हराया है। बंगाल जैसा चुनाव तो पूरे देश में कहीं नहीं हुआ?   जनता ने सौदेबाजी की राजनीति को नकारा-वहीं दमोह चुनाव पर कमलनाथ ने कहा कि दमोह की जीत का श्रेय वहाँ की जनता को जाता है, दमोह की जनता ने सौदेबाजी की राजनीति को नकारा है, वहाँ के मतदाताओं ने सच्चाई का साथ दिया है। इंदौर में कांग्रेस जनों से मुलाकात के बाद कमलनाथ सीधे झाबुआ के लिए रवाना हो गए, जहां वे विधायक स्वर्गीय कलावती भूरिया के शोक कार्यक्रम में शामिल होंगे। उनके साथ सांसद नकुल नाथ, पूर्व मंत्री हनी बघेल व प्रवीण कक्कड़ भी साथ गये।

Kolar News

Kolar News 5 May 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों को फ्रंट लाइन वर्कर की श्रेणी में शामिल कर लिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना संक्रमण के दौरान रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकारों को भी कोरोना वॉरियर्स मानते हुए उन्हें भी फ्रंट लाइन वर्कर्स को दी जाने वाली सभी सुविधाओं का लाभ दिए जाने का फैसला लिया है।   मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को ट्विट करके यह जानकारी साझा की ''हमारे पत्रकार मित्र #COVID19 काल में अपनी जान जोखिम में डालकर अपने कर्तव्यों का निर्वाह कर रहे हैं। मध्यप्रदेश में सभी अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों को हमने 'फ्रंटलाइन वर्कर' घोषित करने का निर्णय लिया है। उनका पूरा ध्यान रखा जाएगा और उनकी पूरी चिंता की जाएगी।''    मुख्‍यमंत्री के इस निर्णय पर नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हरदीप सिंह डंग ने कहा कि पूरे कोरोना काल के दौरान पत्रकारों ने अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों तक कोरोना से बचने के उपाय, कोरोना से संबंधित समाचार पहुंचाने का साहसिक कार्य किया है, इसलिए वे कोरोना वारियर्स की श्रेणी में शामिल होने के वास्तविक पात्र हैं। इसी तरह से पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल ने कहा है कि कोरोना काल में पत्रकारों ने लगातार लोगों तक बचाव, जागरुकता आदि विभिन्न तरह की जानकारी जन-सामान्य तक पहुंचाई। अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए अनेक पत्रकार कोरोना संक्रमित हो गए और कुछ पत्रकारों की मृत्यु तक हो गई।फ्रंट लाइन वर्कर की श्रेणी में शामिल होने से उनको इस श्रेणी की सभी सुविधाएं मिलेंगी।

Kolar News

Kolar News 3 May 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चार राज्यों एवं एक केंद्रशासित प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव के परिणामों पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है। चौहान ने जीत दर्ज करने वाले दलों और उसके नेताओं को शुभकामनाएं देते हुए विश्वास व्यक्त किया कि वे जनता को कोरोना संकट से निजात दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, "असम, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में जो दल जीते हैं, मैं उनको और उनके नेताओं को बधाई देता हूँ। मुझे विश्वास है कि वो अपने प्रदेश की जनता की सेवा केंद्र के साथ मिलकर बेहतर तरीके से करेंगे और विशेषकर कोविड-19 के संकट से जनता को मुक्त कराने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।"   शिवराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के प्रति इन चुनावों में जनता का विश्वास, प्रेम और श्रद्धा बढ़ी है। पार्टी और मजबूत हुई है। हमने असम में शानदार वापसी की है और पहले से ज़्यादा सीटें लेकर सरकार बनाने जा रहे हैं। पुडुचेरी में पहली बार भाजपा-नीत राजग की सरकार बन रही है। पश्चिम बंगाल में भाजपा के 76 सीट जीतने पर चौहान ने इसे बड़ी सफलता बताते हुए कहा कि बंगाल में तीन सीट से 76 सीट होना अपने आप में चमत्कार है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के नेतृत्व में सभी कार्यकर्ताओं ने परिश्रम किया। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के मार्गदर्शन और राज्यों के प्रभारियों के परिश्रम से हमें शानदार सफलता हासिल हुई।

Kolar News

Kolar News 3 May 2021

इंदौर। मीडियाकर्मियों के बारे में सांसद शंकर लालवानी के दिये गए एक बयान को लेकर बवाल खड़ा हो गया है। मीडियाकर्मियों ने तो इसका विरोध किया ही है, कांग्रेस ने भी इसकी निंदा करते हुए कहा है कि सांसद मीडियाकर्मियों से माफी मांगें।   सांसद शंकर लालवानी ने कहा है कि इंदौर में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के लिए मीडियाकर्मी जिम्मेदार हैं। उन्होंने यह बात एमवाय अस्पताल के दौरे के दौरान कही, जब मीडियाकर्मी उनके पास आ रहे थे। उन्होंने कहा कि तुम्हारे कारण ही कोरोना फैल रहा है। सांसद की इस टिप्पणी के बाद मीडियाकर्मियों में जमकर रोष है। सांसद को मीडियाकर्मियों ने चेतावनी दी है कि अगर बयान वापस लेकर सार्वजनिक रूप से मीडिया से माफी नही मांगी गई तो तो जल्द रूपरेखा तैयार कर जवाबी कार्यवाई की जाएगी,  इसके लिए वो तैयार रहें।   विपक्षी दल कांग्रेस ने भी सांसद शंकर लालवानी के इस बयान का विरोध किया है। कांग्रेस नेता अरुण यादव ने सोशल मीडिया पर लिखा कि इंदौर सांसद शंकर लालवानी का शर्मनाक बयान कि मीडियाकर्मी कोरोना फैला रहे हैं, जबकि हमारे मीडिया के साथी निस्वार्थ सेवा भाव से कवरेज कर रहे हैं, कांग्रेस पार्टी मीडियाकर्मियों को कोरोना वॉरियर का दर्जा देने की बात करती है।  मोदी जी, शिवराज जी को मीडिया से माफी मांगना चाहिए।

Kolar News

Kolar News 3 May 2021

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के कल किसानों से हुए संवाद व निर्णयों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि सभी जानते है कि अभी कोरोना महामारी का भीषण संकट काल चल रहा है। इस संकट काल में हमारे किसान भाई पहले से ही दोहरी मार झेल रहे हैं और बड़े संकट से गुजर रहे हैं। यह समय है कि शिवराज सरकार को किसानों को तत्काल राहत प्रदान करना चाहिये और उनके लिए तत्काल राहत भरे निर्णय लेना चाहिये एवं राहत भरे कदम उठाये जाना चाहिये।   कमलनाथ ने कहा कि उन्होंने पूर्व में भी सरकार से माँग की थी कि किसानों के खातों में एकमुश्त राशि डालकर इस संकट काल में किसानों को सरकार की ओर से तत्काल राहत प्रदान की जाना चाहिये, लेकिन अभी तक शिवराज सरकार ने इस संबंध में कोई निर्णय नहीं लिया है?    उन्होंने कहा कि वही किसानों से संवाद में मुख्यमंत्री ने किसानों की कर्ज भुगतान की तारीख को 30 अप्रैल से बढ़ाकर 31 मई करने की घोषणा की है, जबकि सभी जानते हैं कि वर्तमान में कितना भीषण संकट काल चल रहा है। किसान इस संकट काल में कर्ज के दलदल में और धँसता जा रहा है। अभी तो आवश्यकता है कि किसानों का सम्पूर्ण कर्ज ही माफ किया जाए लेकिन शिवराज सरकार उसे माफ करने की बजाय, उसके भुगतान की तारीख को मात्र एक माह के लिए आगे बढ़ा रही है, जो कि किसानों के साथ बड़ा मजाक है ?   पूर्व सीएम ने सरकार से सवाल पूछते हुए कहा कि सरकार ही बताये कि जिस प्रकार से कोरोना का संक्रमण निरंतर बढ़ता जा रहा है, ग्रामीण इलाक़े लगातार इसकी चपेट में आते जा रहे है, ग्रामीण क्षेत्रों में भी मौत के आँकड़े बढ़ते जा रहे हैं, एक माह बाद भी किसान इस कर्ज का भुगतान कैसे कर पायेगा? उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हमें पता है कि शिवराज सरकार भले खुद को कितना भी किसान हितेषी बताये लेकिन वह किसानों का कर्ज कभी माफ नहीं करेगी। यदि इस संकट काल में भी शिवराज सरकार किसानो के कर्ज को माफ नहीं करती है, किसानो के हित में निर्णय नहीं लेती है तो कम से कम कर्ज भुगतान की तारीख को ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित करने का निर्णय लेकर उन्हें थोड़ी तो राहत प्रदान करे। साथ ही जिस प्रकार से गेहूं खरीदी की तारीख को भी मात्र चंद दिनों के लिए आगे बढ़ाया गया है, वह भी किसानों के हित में नहीं है?   कमलनाथ ने कहा कि यदि सरकार को किसानों की चिंता है तो इस गेहूं खरीदी की तारीख़ को भी उस समय तक के लिए बढ़ाया जाये,  जब तक किसानों का गेहूँ का एक-एक दाना खरीद नहीं लिया जाता क्योंकि वर्तमान कोरोना महामारी में खरीदी केंद्रों पर अव्यवस्थाओं का अंबार है। तुलाई के लिए हम्मालों- श्रमिकों की भारी कमी है, खरीदी की रफ्तार धीमी है, किसानों को खरीदी केंद्रों पर काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, कोरोना के इस संक्रमण काल में भी उन्हें लाइनों में लगना पड़ रहा है, कई-कई दिनों तक उन्हें खरीदी केंद्रों पर रुकना पड़ रहा है, उन्हें भुगतान भी समय पर नहीं मिल रहा है, इस संबंध में प्रदेशभर से किसानों की शिकायतें हमें निरंतर प्राप्त हो रही हैं और सरकार खऱीदी ज़्यादा हो इस पर भी ध्यान नहीं दे रही है? जब तक खऱीदी केंद्रो पर अव्यवस्थाएँ रहेगी, तब तक किसानों का एक-एक दाना कैसे खऱीदा जायेगा?    कमलनाथ ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि मैं शिवराज सरकार से मांग करता हूँ कि खरीदी के काम में तेजी लाने के साथ- साथ किसानों के हित में तत्काल यह सभी आवश्यक निर्णय लिये जायें।  

Kolar News

Kolar News 30 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर निरंतर घट रही है। कोरोना संक्रमण के मामले में प्रदेश देश में 14वें स्थान पर आ गया है। प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरणों की संख्या 90 हजार 796 हो गई है। नए प्रकरणों की तुलना में रिकवरी निरंतर बढ़ रही है।मुख्यमंत्री शिवराज आज शुक्रवार को निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोर ग्रुप की बैठक ले रहे थे। बैठक में विभिन्न जिलों से कोर ग्रुप के सदस्य मंत्रीगण एवं अधिकारीगण वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल हुए।एक दिन में 13 हजार 585 मरीज ठीक हुएप्रदेश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट निरंतर बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटे में 13 हजार 584 कोरोना के मरीज स्वस्थ हुए, वहीं 12400 नए मरीज आए हैं। प्रदेश का रिकवरी रेट 83 प्रतिशत हो गया है।पॉजिटिविटी रेट में भी गिरावटप्रदेश में कोरोना की पॉजिटिविटी रेट में भी गिरावट दर्ज की जा रही है। प्रदेश की औसत पॉजिटिविटी रेट 21.1 प्रतिशत हो गया है तथा 7 दिन की औसत पॉजिटिविटी रेट 22.4 प्रतिशत है। देश की सात दिनों की औसत पॉजिटिविटी रेट 21प्रतिशत है।इंदौर में सर्वाधिक नए प्रकरणजिलेवार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर जिले में सर्वाधिक 1811 नए कोरोना प्रकरण आए हैं। भोपाल में 1713, ग्वालियर में 980, जबलपुर में 771, रीवा में 345, उज्जैन में 322, रतलाम में 280, सागर में 257, शहडोल में 256 तथा धार में 249 नए कोरोना प्रकरण आए हैं।पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्तमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश को अब पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिल रही है। 29 अप्रैल को प्रदेश को 556.2 एमटी ऑक्सीजन प्राप्त हुई, जबकि प्रदेश में 467 एमटी ऑक्सीजन की खपत हुई।घर में जगह नहीं है तो कोविड केयर सेंटर में जाएंसीएम शिवराज ने कहा कि जिन मरीजों के घर पर होम आइसोलेशन की जगह नहीं है, वे कोविड केयर सेंटर में जाएं। प्रदेश के सभी जिलों में कोविड केयर सेंटर संचालित हैं, जिनमें कुल 3889 बेड्स तथा 650 ऑक्सीजन बेड्स हैं।प्रदेश में 57 हजार 741 बेड्सप्रदेश में कोरोना के उपचार के लिए शासकीय एवं निजी अस्पतालों में कुल 57741 बेड्स हैं, जिनमें से वर्तमान में 40 हजार बेड्स भरे हैं। कुल मरीजों में 71प्रतिशत होम आइसोलेशन में तथा 29प्रतिशत अस्पतालों में हैं।नई ऑक्सीजन यूनिट लगाने पर अनुदान व सहायतामुख्यमंत्री ने बताया कि निजी क्षेत्र में नई ऑक्सीजन यूनिट लगाने पर शासन की और से अनुदान व सहायता दी जाएगी। अत: निवेशक मध्यप्रदेश में ऑक्सीजन यूनिट स्थापित करें।

Kolar News

Kolar News 30 April 2021

भोपाल। देशभर में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए एक मई से 18 वर्ष के ऊपर के लोगों को भी कोविड वैक्सीन लगाने का निर्णय सरकार ने लिया है। जिसके तहत कल एक मई से वैक्सीनेशन का तीसरा चरण का अभियान शुरू होने जा रहा है। हालांकि कई राज्य एक मई से इसकी शुरुआत नहीं कर पाऐंगे, जिनमें अब मप्र भी शामिल हो गया है। मप्र में एक मई से वैक्सीनेशन का यह कार्यक्रम प्रारंभ नहीं किया जा सकेगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसकी वजह बताई है।   मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में 45 साल से ज्यादा उम्र वाले नागरिकों को वैक्सीन लगाने का अभियान जारी है और वैक्सीन की ये डोजें भारत सरकार द्वारा हमें नि:शुल्क उपलब्ध कराई जा रही हैं। यह अभियान लगातार जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि 1 मई से 18 साल से ऊपर के नौजवानों को वैक्सीन लगाने का अभियान प्रारंभ होना था, इसके लिए मध्यप्रदेश ने कोविशील्ड और कोवैक्सीन दोनों के लिए संबंधित कंपनियों को खरीदी के ऑर्डर दिये थे, लेकिन दोनों कंपनियों से बात करने पर यह पता चला है कि एक तारीख को वे हमें वैक्सीन नहीं दे पायेंगे। इसलिए 1 मई से वैक्सीनेशन का यह कार्यक्रम मध्यप्रदेश में प्रारंभ नहीं किया जा सकेगा।    मुख्‍यमंत्री शिवराज ने जनता से अपील करते हुए कहा है कि हम जानते हैं कि उत्पादन की भी एक सीमा है। जैसे-जैसे उत्पादन होगा और हमें वैक्सीन मिलेगी, वैसे-वैसे 18 साल से ऊपर के हमारे जो नौजवान हैं, उनको नि:शुल्क वैक्सीन लगाने का अभियान चलायेंगे। आप सबसे आग्रह है कि धैर्य रखिये, पैनिक मत होइये। उन्होंने आश्वासन देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश को वैक्सीन 3 मई तक मिलने की संभावना है। वैक्सीन मिलते ही प्रदेश के नौजवानों को नि:शुल्क वैक्सीन लगाने का कार्य प्रारंभ कर दिया जायेगा।

Kolar News

Kolar News 30 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संकट के बीच भी राजनीति जोरों से जारी है। विपक्ष लगातार शिवराज सरकार पर कोरोना की रोकथाम और उसके खिलाफ लड़ाई में प्रदेश की जनता को स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने में असफल होने का आरोप लगा रही है। इस बीच मप्र के दो पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह और कमलनाथ द्वारा दिए गए बयानों पर मप्र के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है।   दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कोरोना पर शिवराज सरकार को 10 सुझाव दिया है। इस सुझाव पर पलटवार करते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने जवाब दिया है। आरएसएस को लेकर दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर मंत्री मिश्रा ने कहा कि दिग्विजय सिंह को आरएसएस का फोविया हो गया है। उन्हें इस पर उंगली उठाने से पहले सेवा भारती के कैंप में जाकर अपनी आंखों से देखना चाहिए की आरएसएस प्तकोरोना पीडि़तों की मदद के लिए क्या कर रहा है। मानवता की सेवा के प्रति समर्पित संगठन की आलोचना करना बेहद निंदनीय है।   कमलनाथ के बयान पर कसा तंजवहीं कमलनाथ के सीएम होने पर ऑक्सीजन बैंक बनाने वाले बयान पर तंज कसते हुए मंत्री मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि कमलनाथ आक्सीजन का बैक क्या बनाते, चलती चलती बैंक बंद करवा कर चले गए। प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी के फेर में बैंकों को डिफॉल्टर कराने वाले कमलनाथ जी ऑक्सीजन, रेमडेसिविर इंजेक्शन का बैंक बनाने की सलाह दे रहे हैं। मेरा सवाल है कि छग,राजस्थान और महाराष्ट्र में कांग्रेस की सरकार है तो वहां ऑक्सीजन व जरूरी इंजेक्शन के बैंक क्यों नहीं बनाए गए? इसके अलावा जेएनयू के प्रोफेसर की वैक्सीन वाले बयान पर गृह मंत्री ने कहा कि इनका भाव वैक्शीन लगाना नही लोगो के बीच मे भ्रम पैदा करना है, टुकड़े-टुकडे गैग का काम है।

Kolar News

Kolar News 30 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज गुरुवार को निवास परिसर में नारियल का पौधा रोपा। नारियल को भारतीय सभ्यता में शुभ और मंगलकारी माना गया है। इसलिए पूजा-पाठ और मंगल कार्यों में इसका उपयोग किया जाता है। नारियल सौभाग्य और समृद्धि की निशानी भी होती है।   नारियल को संस्कृत में 'श्रीफल' कहा जाता है। श्री का अर्थ लक्ष्मी है। नारियल के पेड़ को संस्कृत में 'कल्पवृक्ष' भी कहा जाता है।  नारियल पानी में इलेक्ट्रोलाइट्स अच्छी मात्रा में होते हैं, जिससे थकान या कमजोरी लगने पर ताजा महसूस होता है. एक नारियल में लगभग 600 मिलिग्राम पोटेशियम होता है।

Kolar News

Kolar News 29 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज गुरुवार को निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के समस्त स्वास्थ्य कर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना जैसे विकट संकट में जान हथेली पर रखकर दिन रात प्रदेश की जनता की सेवा करने के लिए मैं आप सभी को प्रणाम करता हूँ। समाज पर आपका यह ऋण कोई नहीं भूलेगा। आप कोरोना के संक्रमण से स्वयं को बचाते हुए दूसरों को संक्रमण मुक्त करने का कार्य ऐसे ही करते रहें।   मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने कोरोना योद्धा योजना पुन: प्रारंभ कर दी है। कार्य करते-करते हमारे जो स्वास्थ्य कर्मी दिवंगत हो जाएंगे, उनके परिवार की देखरेख शासन की जिम्मेदारी होगी। उनके परिवारों को सरकार की ओर से 50 लाख रुपये की सम्मान निधि दी जाएगी। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी प्रदेश के सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टाफ, सफाईकर्मी, एएनएम, आशा कार्यकर्ता आदि उपस्थित थे।आदरांजलि अर्पित कीमुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ऐसे सभी स्वास्थ्य कर्मियों, जो कोरोना के दौरान सेवा करते-करते दिवंगत हो गए हैं, उन सभी को प्रदेश की 8 करोड़ जनता की ओर से आदरांजली अर्पित की। उन्होंने कहा कि उनकी सेवाएँ अमूल्य हैं।पिछले एक सप्ताह से स्थिति बेहतर हुईसीएम शिवराज ने कहा कि आप सभी के अथक परिश्रम के परिणाम स्वरूप पिछले एक सप्ताह में कोरोना संक्रमण के संबंध में प्रदेश की स्थिति बेहतर हुई है। प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट 25प्रतिशत से घटकर 21.5प्रतिशत हो गया है, वहीं रिकवरी रेट निरंतर बढ़ रही है। प्रदेश में 94 हज़ार से ज्यादा एक्टिव मरीज हो गए थे, अब एक्टिव मरीज 92 हज़ार रह गए हैं, इनमें से 70 हज़ार होम आइसोलेशन में हैं। डॉक्टर भगवान होते हैंमुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि डॉक्टर सचमुच में भगवान होते हैं। वे मरीजों की जान बचाते हैं। यही कारण है कि मध्यप्रदेश में लगभग 99 प्रतिशत कोरोना मरीज स्वस्थ हो रहे हैं। कोरोना मृत्यु दर 1प्रतिशत से थोड़ी ज्यादा है।सरकारी अस्पताल आमजनों का सहारा मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी अस्पताल आम जनों का सहारा बन रहे हैं तथा यहाँ अच्छे से अच्छा इलाज मरीजों को उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला अस्पतालों में ऑक्सीजन लाइन बिछाई जा रही है। प्रदेश में व्यापक पैमाने पर ऑक्सीजन के प्लांट लगाए जा रहे हैं।मरीजों का मनोबल बढ़ाते रहेंमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मी स्वयं का मनोबल टूटने न दें तथा मरीजों का मनोबल बढ़ाएं। मरीजों के स्वास्थ्य संबंधी जानकारी फोन, वीडियो कॉल आदि के माध्यम से उनके परिजनों को निरंतर देते रहें। चार स्तर पर सेवा कर रहे हैं स्वास्थ्य कर्मीमुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्वास्थ्य कर्मी चार स्तरों पर मरीजों की सेवा कर रहे हैं। अस्पतालों में भर्ती मरीजों की, होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की, कोविड केयर सेंटर्स में तथा घर-घर जाकर।  

Kolar News

Kolar News 29 April 2021

भोपाल। महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष मांडवी चौहान का बुधवार रात को निधन हो गया। प्रदेश कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।   कांग्रेस सूत्रों के अनुसार मांडवी चौहान कुछ समय पहले कोरोना पॉजिटिव पाई गई थीं, जिसके बाद से अस्पताल में भर्ती थीं और उनका उपचार चल रहा था। उपचार के दौरान ही बुधवार रात को उनका निधन हो गया। प्रदेश कांग्रेस के साथ ही मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह, राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा, भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने स्व. मांडवी चौहान को श्रद्धांजलि अर्पित की है।   विवेक तन्खा ने साधा शिवराज पर निशाना-राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने स्व. मांडवी चौहान को ट्विटर के जरिए श्रद्धांजलि दी है, साथ ही उनकी मौत को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पर निशाना साधा है। विवेक तन्खा ने लिखा है कि शिवराज जी आपसे कितना आग्रह किया था कि दमोह चुनाव टाल दीजिए, लेकिन आपने अपना दायित्व नहीं निभाया। अब नुकसान जनता का हो रहा है।

Kolar News

Kolar News 29 April 2021

भोपाल। होम आइसोलेशन में कोविड-19 संक्रमित व्यक्तियों को स्वस्थ्य रखने और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से इन दिनों मध्‍य प्रदेश में राज्य स्तरीय 'योग से निरोग' कार्यक्रम शुरू किया है। इसमें अब पांच हजार योग प्रशिक्षक जुड़कर होम आइसोलेशन और कोविड केयर सेंटर में रह रहे कोविड मरीजों का मानसिक, शारीरिक और आत्मिक स्वास्थ्य एवं मनोबल को निरंतर ऊँचा बनाये रखने के गुर सिखा रहे हैं।    इस संबंध में बुधवार मुख्‍यमंत्री शिवराज सिहं चौहान ने ट्वीट कर जानकारी साझा की है, जिसमें उन्‍होंने बताया है ''योग से निरोग अभियान में 5000 प्रशिक्षक होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड मरीजों को योग सिखा रहे हैं। होम आइसोलेशन के मरीजों पर ध्यान उचित ध्यान देते हुए उनसे उनसे दिन में दो बार बात की जाये''    उल्‍लेखनीय है कि कोविड संक्रमितों की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करना भी इस कार्यक्रम के मुख्‍य उद्देश्‍यों में से एक है। आयुष विभाग, स्कूल शिक्षा विभाग, इण्डियन योग एसोसिएशन तथा पतंजलि योग पीठ के संयुक्त तत्वावधान में चलाये जाने वाले इस कार्यक्रम में योग प्रशिक्षित वॉलेंटियर्स दिन में  दो बार होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को वीडियो कॉल या फोन कॉल से ऑनलाइन योग, आसन, ध्यान, प्राणायाम आदि का अभ्यास करा रहे हैं।    इस संबंध में प्रमुख सचिव, स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी ने बताया कि 'योग से निरोग' कार्यक्रम होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड संक्रमित मरीजों के लिए है। कार्यक्रम का उद्देश्य मरीजों के डिप्रेशन को कम करने और उनके मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखने के साथ उनका मनोबल और उत्साह बनाए रखना है। आयुष मंत्रालय भारत सरकार की कोविड-19 गाइडलाइन प्रोटोकॉल पर आधारित वीडियो ट्रेनिंग मॉड्यूल का प्रशिक्षण योग प्रशिक्षकों को दिया गया है। साथ ही कोविड-19 व्यक्तियों से संयम और सौम्यता से व्यवहार संबंधी प्रशिक्षण भी दिया गया।   उन्‍होंने बताया कि प्रत्येक योग प्रशिक्षित वॉलेंटियर्स को लगभग 10 मरीज आवंटित किये गए हैं । कार्यक्रम होम आइसोलेशन में रहने वाले और कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों में नई ऊर्जा, उत्साह, मनोबल और सकारात्मक भावों का संचार कर रहा है, जिससे उन्हें जल्द से जल्द ठीक होने में विशेष मदद मिल रही है।

Kolar News

Kolar News 28 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कोरोना संकट के समय सरकार पर लापरवाही पूर्वक रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए जनता द्वारा कभी माफ नहीं किए जाने की बात कही है।   कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से मौतें जारी, ग्वालियर में दूसरी बार ऑक्सीजन की कमी से कई मरीज़ों की जान गयी? जो काम पहले करना था वो अब करने की बात कर रहे हैं? जब सब दूर से दूसरी लहर की चेतावनियाँ आ रही थी, तब सोये रहे? अब ऑक्सीजन प्लांट लगाने की, उसकी आपूर्ति बढ़ाने की बात कर रहे हैं। यदि यह पहले कर लिया जाता तो आज हजारों लोगों की जान बचायी जा सकती थी? कमलनाथ ने तंज कसते हुए कहा कि सरकार की लापरवाही का खामियाजा प्रदेश भर में कई लोगों ने अपनो को खो कर भुगता है। जनता इन्हें कभी माफ  नहीं करेगी।

Kolar News

Kolar News 28 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष, मीडिया प्रभारी व पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने एक साल का मूल वेतन देने की बात कही है। इसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर अपने 12 माह का वेतन देने की जानकारी दी है।   उन्होंने अपने पत्र में लिखा कि देश व प्रदेश सहित इंदौर शहर में कोविड महामारी के चलते अनेकों लोग कोरोना संक्रमण से पीड़ित हैं। महामारी की इस दशा में कोरोना संक्रमित मरीजों को अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन के साथ जीवन रक्षक इंजेक्शन रेमडेसिविर भी प्राप्त नहीं हो पा रहा है। जीतू पटवारी ने अपने पत्र में मुख्यमंत्री से निवेदन किया कि उनके 12 माह के वेतन से इंदौर के कोरोना पीड़ित निर्धन परिवारों को जिन्हें रेमडेसिविर इंजेक्शन की जरूरत है, उपलब्ध करवाने का कष्ट करें।   पूर्व मंत्री ने बताया कि वह खुद कोरोना पॉजिटिव आए थे और घर पर ही आइसोलेशन में रहकर अपना इलाज किया। इस दौरान भी उन्होंने हर दिन इंदौर शहर में कोरोना संक्रमित मरीजों के जरूरत के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति, अस्पतालों में बेड और जीवन रक्षक रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए प्रशासन से विभिन्न सामाजिक माध्यमों से निवेदन किया ताकि लोगों की जान बच सकें। उन्होंने बताया कि मैंने हर दिन जिला प्रशासन को रेमडेसिविर इंजेक्शन की आवश्यकता वाले कोरोना पीड़ित मरीजों की लिस्ट भी प्रेषित की है। जीतू पटवारी ने कहा कि वह खुद कोविड की मार झेल रहे है और लोगों से भी अपील करते है कि वह अपने घरों पर ही रहे, मास्क लगाए और सामाजिक दूरी का पालन करें।   जीतू पटवारी ने विश्वास जताया कि हम मिलकर कोरोना से जंग लड़ रहे है और इसे अवश्य जीतेंगे। उन्होंने इस दौरान यह भी कहा कि प्रदेश और खासकर इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में कोरोना संक्रमण विकराल रूप लिए हुए है, जहाँ कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है वहीं, आए दिन समाचार पत्रों के माध्यम से कोरोना से मरने वाले लोगों का आंकड़ा भी पता चल रहा है, जबकि सरकारी आंकड़ा इससे कहीं अलग है। कोरोना संक्रमण से मरने वाले मरीजों के परिजनों का दु:ख और श्मशानों तथा कब्रिस्तानों से आ रहे भयावह दृश्य मन को झंकझोर कर रख दे रहे है। यही कारण है कि वह मानव सेवा के लिए अपने एक साल का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देकर जीवन रक्षक इंजेक्शन रेमडेसिविर के लिए मुख्यमंत्री से आग्रह कर रहे है ताकि उन परिवारों को यह इंजेक्शन मिल जाए जो इसे खरीद पाने में असमर्थ है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री इस ओर ध्यान देकर मेरे साथ पीड़ित मानवता की सेवा करने के लिए एक कदम ओर बढ़ाएंगे।  

Kolar News

Kolar News 28 April 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश की आर्थ‍िक राजधानी कहे जानेवाले इंदौर में मंगलवार को हनुमान जयंती के दिन रेलवे ने कोरोना मरीजों के संकटमोचक के रूप में अपने आप को प्रस्‍तुत किया है। उसने टीही स्टेशन पर 20 कोविड केयर कोच में 320 बेड्स की व्यवस्था की है। यह कोच रोगियों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर सहित अन्य सुविधाओं से लैस हैं। इस संबंध में मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर रेल मंत्री पीयूष गोयल के ट्वीट को शेयर किया है, जिसमें यह जानकारी दी गई। इसमें बताया गया है कि राज्य सरकार के आग्रह पर यह कोच उन्हें उपलब्ध कराए गए हैं।   रेल मंत्री गोयल ने अपने ट्वीट में लिखा, ''इंदौर के टीही स्टेशन पर भारतीय रेल द्वारा 320 बेड की व्यवस्था 20 कोविड केयर कोचेज में की गयी है। यह कोचेज रोगियों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर सहित अन्य सुविधाओं से लैस हैं। राज्य सरकार के आग्रह पर यह कोचेज उपलब्ध कराये गये हैं।''    वहीं, मुख्‍यमंत्री शिवराज ने बताया कि कोरोना के विरुद्ध युद्ध जारी है और संक्रमित मरीजों के इलाज के हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं। नई व्यवस्थाएं भी बनाई जा रही हैं। हम सभी जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगा रहे हैं ताकि इसकी कमी को पूरी तरह से दूर किया जा सके। उन्‍होंने धार में तीन साल से बंद पड़े ऑक्सीजन प्लांट को दिन-रात कार्य कर चार दिन में प्रारंभ करने के लिए टीम के सभी सदस्यों के प्रति हृदय से धन्यवाद दिया है। उन्होंने कहा कि यह आपकी कर्मठता और संकल्प का ही परिणाम है, जो 90 दिनों का काम चार दिन में संभव हुआ। आप सच्चे कर्मयोगी और सेवक हैं।   उल्लेखनीय है कि इंदौर शहर में कोरोना मरीजों को भर्ती करने के लिए अस्पतालों में बिस्तर की कमी को देखते हुए पिछले साल ही पश्चिम रेलवे ने कुछ ट्रेनों के कोच को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील कर दिया था। बावजूद इसके एक भी कोच का इस्तेमाल अब तक नहीं हो सका था, जबकि रोजाना के मरीज भर्ती होने के लिए भटक रहे हैं। रेलवे कई बार जिला प्रशासन और राज्य सरकार को इस बात से अवगत करा चुका था, लेकिन इन्हें उपयोग करने का आदेश अब तक उसके पास नहीं पहुंचा था, पर जब मीडिया लगातार इस बात को प्रमुखता से उठाता रहा, तब जाकर प्रशासन को इन सभी कोचों के सार्थक उपयोग की याद आई है। 

Kolar News

Kolar News 27 April 2021

भोपाल। गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने आज मंगलवार को पुलिस कंट्रोल रूम इंदौर में पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया कि अधिक से अधिक वैक्सीनेशन कराया जाना सुनिश्चित करें। इससे जवानों और उनके परिजनों को संक्रमण के खतरे से बचाने में मदद मिलेगी। उन्होंने संक्रमित होने वाले पुलिस के जवानों को अस्पतालों से समन्वय कर भर्ती कराने के भी निर्देश दिए।   डॉ. मिश्रा ने कहा कि हमें हर हाल में कोरोना से जंग को जीतना है। सभी को अपना मनोबल ऊंचा रखना है और फील्ड में कार्य कर रहे जवानों की निरंतर हौसला अफजाई करते रहना है। डॉ. मिश्रा ने स्पष्ट कहा कि यदि किसी को भी किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो उन्हें तत्काल अवगत कराया जाना सुनिश्चित करें ताकि उनका निराकरण किया जा सके।    बैठक में पुलिस अधिकारियों के द्वारा बताया गया कि इंदौर में अस्थाई जेल बनाई गई है। इंदौर में पुलिस के 111 एक्टिव केस है जिसमे 106 घर पर आइसोलेशन में है। शेष 5 कोरोना पॉजिटिव जवान अस्पताल में है। बैठक में जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, क्षेत्रीय सांसद शंकर लालवानी, विधायकगण और इंदौर पुलिस जोन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Kolar News

Kolar News 27 April 2021

भोपाल। मध्‍य प्रदेश में एक मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों का नि:शुल्क टीकाकरण योजनाबद्ध रूप से प्रारंभ किया जाएगा। इसमें प्रदेश के तीन करोड़ 22 लाख से अधिक नागरिकों को टीका लगेगा। भाजपा की शिवराज सरकार इस कार्य पर लगभग 2,710 करोड़ रुपये खर्च करेगी। कोविडशील्ड वैक्सीन के 45 लाख डोज का कार्यादेश जारी कर दिया गया है।   इस संबंध में प्रदेश सरकार के सूचना अधिकारी अनुराग उइके ने बताया कि  इसके साथ ही टोल फ्री नंबर 1075 को भी इस कार्य के लिये अपग्रेड किया गया है। अब तक प्रदेश के हेल्थ वर्कर्स, फ्रंट लाइन वर्कर्स, वरिष्ठ नागरिक एवं 45 वर्ष से अधिक के लगभग 79 लाख 18 हजार से अधिक लोगों का टीकाकरण हो चुका है।   प्रदेश के कोविड मरीजों में से 72 प्रतिशत होम आइसोलेशन में-  उन्‍होंने बताया कि राज्य सरकार का प्रयास है कि ये लोग होम आइसोलेशन में ही ठीक हो जायें, जिससे अस्पताल जाने की नौबत ही न आये। होम आइसोलेशन वाले 99 प्रतिशत मरीजों से दूरभाष पर कम से कम एक बार संपर्क किया जा रहा है। साथ ही ई-संजीवनी पोर्टल के माध्यम से इन्हें आवश्यकतानुसार कॉल पर चिकित्सकीय परामर्श भी प्राप्त हो रहा है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन में रहने वाले शत-प्रतिशत मरीजों को मेडिकल किट और हेल्थ ब्रोशर की होम डिलीवरी की जा रही है। मध्‍य प्रदेश में कोविड के 72 प्रतिशत संक्रमित हैं जो अभी होम आइसोलेशन में हैं।    प्रदेश में 174 कोविड केयर सेंटर्स प्रारंभ-  उइके का कहना था कि प्रदेश के 52 जिलों में 174 कोविड केयर सेंटर्स प्रारंभ किये जा चुके हैं, जिनमें मंद लक्षणों वाले रोगियों को रखा जा रहा है। इनमें वर्तमान में कुल 12 हजार 864 बेड्स हैं। इनमें से 634 ऑक्सीजन बेड्स स्थापित किए गए हैं। कोविड केयर सेंटर्स में शत-प्रतिशत मरीजों को मेडिकल किट प्रदाय की जा रही है। जिस कोविड केयर सेंटर में 50 प्रतिशत या उससे अधिक बिस्तर भर रहे हैं, वहाँ नए कोविड केयर सेंटर स्थापित करने के निर्देश दिये गये हैं।    उन्‍होंने बताया कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में अब तक कुल 20 हजार 411 संस्थागत क्वारेंटाइन सेंटर्स बनाये जा चुके हैं, जिनमें लगभग 2 लाख 50 हजार से अधिक बेड्स स्थापित किए गए हैं। उनका कहना था कि एक अप्रैल को प्रदेश में उपलब्ध बेड्स की कुल संख्या 20 हजार 159 थी, जो आज बढ़कर 53 हजार 163 हो गई है। इस प्रकार पिछले 25 दिनों में लगभग 32 हजार बेड्स बढ़ाए गए हैं। सागर जिले में बीना रिफाइनरी के निकट ऑक्सीजन सुविधा युक्त 1000 बिस्तर का अस्थाई अस्पताल बनाया जा रहा है। प्रदेश के अस्पतालों में बेड्स की उपलब्धता और इलाज के पैकेज की रीयल टाइम सही जानकारी आम जनता को उपलब्ध कराने के लिये एक नया एप और एक वेबसाइट लाँच की गई है। 

Kolar News

Kolar News 26 April 2021

भोपाल। योग संक्रमण की रोकथाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। होम आइसोलेशन में संक्रमितों के लिए योग से निरोग अभियान रामबाण उपचार साबित हो सकता है। जरूरत है कि इसका व्यापक स्तर पर प्रभावी प्रसार हो। प्रत्येक होम आइसोलेट रोगी से प्रशिक्षक दूरभाष पर संपर्क करें। योग की जानकारी देकर, रोगियों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करें और उनका मनोबल बढ़ायें। उक्‍त बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 'योग से निरोग' अभियान की समीक्षा करते हुए कही हैं।    मुख्यमंत्री चौहान ने 'योग से निरोग' अभियान संचालन के संबंध में प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि शमी अरुण और योग एसोसिएशन की अध्यक्ष पुष्पांजलि से चर्चा कर अभियान की अद्यतन जानकारी प्राप्त की। इन अधिकारियों की ओर से मुख्‍यमंत्री को बताया गया कि प्रदेश में करीब ढाई हजार योग प्रशिक्षकों ने वॉलेंटियर्स के रूप में पंजीयन कराकर प्रशिक्षण का कार्य प्रारंभ कर दिया है। वॉलेंटियर्स पंजीयन का कार्य अभी चल रहा है। प्रदेश में संक्रमित 60 हजार 835 व्यक्तियों में से 19 हजार 573 रोगियों के साथ 1957 योग प्रशिक्षकों ने प्रशिक्षण का कार्य प्रारंभ किया है।    यह भी बताया गया कि प्रशिक्षक द्वारा निरंतर तीन दिन तक प्रशिक्षण दिया जा रहा है। तीन दिन बाद प्रशिक्षक दूसरे रोगियों के साथ संपर्क कर प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। यह क्रमिक रूप से चलता रहेगा। प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारी, आयुष अधिकारी, तकनीकी अमला और योग प्रशिक्षकों को तीन दिवस का प्रशिक्षण प्रदान कर प्रशिक्षण से संबंधित विभिन्न विषयों की जानकारी दी गई है। शासकीय योग केन्द्र में कॉल सेंटर की स्थापना भी की गई है। जहाँ से योग प्रशिक्षकों को आवश्यक मार्गदर्शन दिया जा रहा है। जिला कमांड और कॉल सेंटर भी बनाया गया है, जहाँ से रोगियों से चर्चा कर उनका फीडबैक प्राप्त किया जा रहा हैं। स्कूल शिक्षा और आयुष विभाग द्वारा भी मॉनीटिरिंग किया जा रहा है।   इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान को पुष्पांजलि द्वारा यह भी जानकारी दी गई  कि 95 प्रतिशत से अधिक जिलों में 'योग से निरोग' अभियान के अंतर्गत प्रशिक्षण प्रारंभ हो गया है। मुख्‍यमंत्री शिवराज ने इसे सकारात्मक पहल बताया और कहा कि योग प्रशिक्षक पूरे उत्साह एवं सकारात्मक सोच के साथ कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें पूर्ण विश्वास है कि आगामी दो सप्ताह में 'योग से निरोग' अभियान के सफल परिणाम दिखने लगेंगे।  मुख्यमंत्री का कहना था कि संगठन के सदस्यों में वॉलेंटियर्स के रूप में कार्य करने का भरपूर उत्साह दिख रहा है और करीब पाँच हजार से ज्यादा संगठन के सदस्य अभियान के साथ शीघ्र ही जुड़ जाएंगे।

Kolar News

Kolar News 26 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोविड संक्रमण के प्रबंधन में ऑक्सीजन आपूर्ति सुनिश्चित करना राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है। आज 11 हजार से अधिक व्यक्ति कोरोना की जंग जीत कर स्वस्थ्य हुए हैं। प्रदेश में जनता कर्फ्यू का सकारात्मक असर दिखाई दे रहा है। पॉजिटिविटि रेट स्थिर हुआ है। जिला स्तर पर अब अधिक संक्रमण वाले क्षेत्रों को चिंहित करने की आवश्यकता है।    सीएम शिवराज ने कहा कि शहरों ग्रामों में जिन क्षेत्रों में संक्रमण अधिक है उनका अध्ययन कर माइक्रो स्तर पर संक्रमण नियंत्रण के लिए रणनीति विकसित करना होगी। इन क्षेत्रों को माइक्रो कंटेनमेंट एरिया बनाकर संक्रमण को फैलने से रोकने और इसे समाप्त करने के प्रयास किये जायें।   मुख्यमंत्री कोविड 19 की रोकथाम और व्यवस्थाओं के संबंध में निवास से कोरोना नियंत्रण कोर ग्रूप की वर्चुअल बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में कोविड नियंत्रण के कार्यों के परिवेक्षण और क्रियान्वयन के लिए मंत्रियों को सौंपे गये दायित्वों पर भी चर्चा हुई। बैठक में सभी संबंधित मंत्री, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्म्द सुलेमान तथा अन्य अधिकारी वर्चुअली सम्मिलित हुए।   इस दौरान चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने जानकारी दी कि भोपाल में एम्स में आईसीयू के सौ बिस्तर बढ़ाये जा रहे हैं। इसके अतिरिक्त विभिन्न संगठनों के सहयोग से 2 हजार बिस्तरों की व्यवस्था की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 24 April 2021

भोपाल। पूर्व मंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ब्रजेंद्र सिंह राठौर की तबियत अचानक ज्यादा बिगड़ गई है। वे कोरोना संक्रमित है और उन्हें इलाज के लिए झांसी के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनके परिवार से बातचीत कर हालचाल जाना। इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उनके लिए उचित स्वास्थ्य व्यवस्था कराने के संबंध में बात हुई। इसके बाद सीएम शिवराज ने बृजेश राठौर को झांसी से एयर एंबुलेंस के जरिए भोपाल लाने के निर्देश दिए हैं। दरअसल दमोह उपचुनाव प्रचार प्रसार के दौरान पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह समेत कई कांग्रेस नेता कोरोना संक्रमित हो गए थे। इस दौरान ही पृथ्वीपुर से कांग्रेस विधायक ब्रजेंद्र सिंह राठौर 15 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव हुए थे। कांग्रेस ने उन्हें दमोह उपचुनाव में प्रभारी बनाया था। इसके बाद से उन्हें ईलाज के लिए झांसी के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन तबीयत में सुधार नहीं हो पा रहा। मुख्यमंत्री कार्यालय के अनुसार राठौर को एयर एंबुलेंस से भोपाल लाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्हें झांसी से भोपाल एयर लिफ्ट करने की प्रक्रिया चल रही है।

Kolar News

Kolar News 24 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश की जोबट विधानसभा सीट से कांग्रेस विधायक कलावती भूरिया का निधन हो गया है। कलावती भूरिया कोरोना संक्रमित थीं और पिछले कई दिनों से उनका इंदौर के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। जहां शनिवार सुबह उनका निधन हो गया। इसकी सूचना मिलने पर कांग्रेस पार्टी और उनके क्षेत्र में शोक की लहर छा गई है।   कलावती भूरिया को 15 अप्रैल को कोरोना संक्रमित होने के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। पिछले दो दिनों से उनकी तबीयत ज्यादा खराब थी। शनिवार सुबह उन्होंने अस्पताल में आखिरी सांसें लीं।   बता दें कि कलावती भूरिया पहली बार जोबट विधानसभा से वर्ष 2018 में चुनाव जीतकर विधायक बनी थीं। इसके पहले झाबुआ जिला पंचायत की लगातार 4 बार अध्यक्ष रह चुकी थीं। वे पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया की भतीजी थीं।   कमलनाथ जताया शोककांग्रेस विधायक कलावती भूरिया के निधन पर पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट करके श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने अपने शोक संदेश में कहा ‘प्रदेश के जोबट क्षेत्र की विधायक कलावती भूरिया के दुखद निधन का समाचार बेहद व्यथित व स्तब्ध करने वाला है। वे एक सक्रिय, दबंग, जुझारू, मिलनसार विधायक थीं। अपने क्षेत्र की जनता के प्रति उनका विशेष लगाव था और उनके हितों के लिये सदैव संघर्षरत रहती थीं। उनका दुखद निधन पूरे कांग्रेस परिवार और मेरे लिये भी एक बड़ी क्षति है। परिवार के प्रति मेरी शोक संवेदनाएँ। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणो में स्थान व पीछे परिजनो को यह दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करे।   विधायक जीतू पटवारी ने ट्वीट कर लिखा, जांबाज जनसेवक और जोबट विधायक बहन कलावती भूरिया हमारे बीच नहीं रहीं। झाबुआ-आलीराजपुर जिले से कांग्रेस का यह प्रतिनिधि चेहरा, अपनी निष्ठा-प्रतिष्ठा के लिए हमेशा याद किया जाएगा। ईश्वर से प्रार्थना है, उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दें। नमन।

Kolar News

Kolar News 24 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना मरीजों के उपचार के लिये सभी आवश्यक प्रबंध प्राथमिकता के आधार पर कर रही है। उपचार की सभी व्यवस्थाओं को युद्ध स्तर पर पूरा किया जा रहा है। आवश्यक दवाओं के साथ रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन की सप्लाई भी निर्बाध रूप से की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न जिलों में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किये जा रहे हैं, जिनमें से कुछ प्रांरभ भी हो गये हैं। शीघ्र ही ऑक्सीजन के मामले में मध्यप्रदेश आत्म-निर्भर होगा। रेमडेसिविर इंजेक्शन सप्लाईप्रदेश में अब तक 7 विभिन्न कंपनियों से रेमडेसिवर इंजेक्शन के लगभग 01 लाख 50 हजार डोजेज प्राप्त हो गए हैं। गुरूवार को इंजेक्शन के 2 हजार 700 डोज निजी सप्लाई से प्राप्त हुए हैं, जिनका उचित और न्यायपूर्ण वितरण सुनिश्चित किया गया है। शनिवार दोपहर तक सरकारी सप्लाई में 15 हजार डोज प्राप्त होंगे।ऑक्सीजन की उपलब्धताकेंद्र सरकार से 22 अप्रैल से 643 मीट्रिक टन प्रतिदिन ऑक्सीजन आपूर्ति की स्वीकृति मिली है। गुरूवार को प्रदेश को 463 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई। ऑक्सीजन की आपूर्ति को सुचारू बनाने के लिये राज्य सरकार द्वारा 2000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदे गये हैं। प्रदेश के 34 जिलों में स्थानीय व्यवस्था से एक हजार से अधिक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स लगाए जा चुके हैं।कौंसिल ऑफ़ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च, भारत सरकार द्वारा अधिकृत संस्था के माध्यम से प्रदेश के 5 जिला चिकित्सालयों (भोपाल, रीवा, इंदौर, ग्वालियर और शहडोल) में नवीनतम (वीपीएसए) तकनीक आधारित ऑक्सीजन प्लांट्स 1 करोड़ 60 लाख रुपये की लागत से लगाये जा रहे है। इनमें 300 से 400 लीटर प्रति मिनट ऑक्सीजन बनेगी, जो कि लगभग 50 बेड्स के लिए पर्याप्त होगी। इस नवीनतम तकनीक से ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने वाला मध्यप्रदेश, देश का पहला राज्य है।प्रदेश के 8 जिलों में भारत सरकार के सहयोग से पीएसए तकनीक आधारित 8 आक्सीजन प्लांट्स स्वीकृत हुए हैं, जिनमें से 5 प्लांट्स ने कार्य करना प्रारंभ कर दिया है। राज्य सरकार स्वयं के बजट से 37 जिला अस्पतालों में पीएसए तकनीक से तैयार होने वाले नए ऑक्सीजन प्लांट्स लगा रही हैं। इनमें से प्रथम चरण में 13 जिलों में 16 मई तक प्लांट प्रारंभ हो जायेंगे। द्वितीय चरण में 9 जिलों में प्लांट 23 मई तक चालू हो जायेंगे। तृतीय चरण में शेष 15 जिलों में आक्सीजन प्लांट्स 20 जुलाई तक प्रारंभ करने का लक्ष्य है।प्रदेश के सरकारी अस्पतालों के बेड्स को ऑक्सीजन बेड्स में परिवर्तित करने के लिए पाइप लाइन डालने का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। प्रथम चरण में जिला अस्पतालों के 2 हजार 302 बिस्तरों में से अब तक 603 बिस्तरों के लिए पाइपलाइन डालने का कार्य पूर्ण हो चुका है। द्वितीय चरण में प्रदेश के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के 4588 बिस्तरों में से अब तक 100 बिस्तरों के लिए पाइप लाइन डालने का कार्य पूर्ण हो चुका है।

Kolar News

Kolar News 23 April 2021

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को कम करने के लिए सरकार लोगों में इम्युनिटी (रोग प्रतिरोधक क्षमता) बढ़ाने के लिए योग का सहारा ले रही है। प्रदेश में आज से सभी कोविड सेंटर और होम आइसोलेट मरीजों में योगा के माध्यम से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और मानसिक रूप से स्वस्थ्य रखने के लिए 'योग से निरोग' अभियान की शुरुआत हो रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इसकी शुरुआत करेंगे। सीएम शिवराज के इस अभियान पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने तंज कसा है।   कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि देश में, प्रदेश में मेडिकल इमरजेंसी के हालात है। ना लोगों को बेड मिल पा रहा है, ना ऑक्सीजन, ना समय पर इलाज और ना जीवन रक्षक दवाइयां व इंजेक्शन ? आज भी जबलपुर में ऑक्सीजन की कमी से कुछ लोगों की मौतों की दुखद खबर सामने आई है?    कमलनाथ ने सीएम शिवराज का घेराव करते हुए कहा कि बड़ा शर्मनाक है कि ऐसे समय जब हाईकोर्ट भी बार-बार निर्देश दे रहा है कि प्रदेश में ऑक्सीजन, इंजेक्शन और बेड की व्यवस्था सरकार तत्काल करे, सरकार ने जनता को गुमराह करने के लिए एक नया कार्यक्रम "योग से निरोग" चालू कर दिया है? कोरोना कर्फ्यू में भी इसका प्रचार-प्रसार, होर्डिंग व विज्ञापन का काम चालू हो चुका है। लाखों- करोड़ों रुपये इस कार्यक्रम के प्रचार-प्रसार व शुभारंभ के नाम पर उड़ा दिए जाएंगे, आपदा में भी अवसर? जबकि जरूरत आज प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सीजन, वेंटीलेटर व अन्य सुविधाओं जुटाने व उनकी व्यवस्था करने की है। गरीब - माध्यम वर्ग को राहत प्रदान करने की है?   कमलनाथ ने कोरोना से बिगड़ते हालातों पर चिंता जताते हुए कहा कि अभी समय अभियानों-कार्यक्रम का नहीं है। मेहरबानी करकर जनता को गुमराह करने वाले इन कार्यक्रमों-अभियानों व इसके प्रचार-प्रसार, शुभारंभ  के नाम पर लाखों लुटाने से बचिये? अभी असली जरूरत लोगों को अस्पतालों में बेड मिले, इलाज मिले, ऑक्सीजन मिले, इंजेक्शन मिले, उसकी पूर्ति की है, सब छोड़ आप प्रदेश की जनता के हित के लिये अभी उसी पर ध्यान दीजिए। पूर्व सीएम ने कहा कि प्रदेश में रोज ऑक्सीजन की कमी से मौतों की, ऑक्सीजन के संकट की, अस्पताल की दहलीज पर दम तोड़ते मरीजों की, मुक्तिधामो में वेटिंग की, इलाज के लिये लोगों के भटकने की, ऑक्सीजन की मारामारी की तस्वीरें सामने आ रही है, इस पर सबसे पहले ध्यान दीजिए। इस महामारी के खत्म होने के बाद फिर आपके अभियान-कार्यक्रमों की नौटंकी को आप चालू कर देना, अभी तो प्रदेश की जनता को इन अभियानों व इनके नाम पर फिज़़ूलखर्ची से बख्शिये।

Kolar News

Kolar News 23 April 2021

इंदौर। लोकसभा की पूर्व अध्‍यक्ष सुमित्रा महाजन (ताई) के स्वास्थ्य में अब लगातार सुधार हो रहा है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर से  दी गई जानकारी के अनुसार उन्‍हें बुखार आने पर बॉम्बे हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहां जांच के दौरान कोविड-19 वायरस की उनकी रोपोर्ट निगेटिव आई है।   इस संबंध में भाजपा नेता राजेश अग्रवाल ने शुक्रवार बताया कि वे पहले से बहुत स्‍वस्‍थ हैं उन्‍हें अभी और दो-तीन दिन चिकित्‍सकों की निगरानी में रखा जाएगा। उसके बाद जैसा चिकित्‍सक कहेंगे वैसा आगे निर्णय लिया जाएगा। घबराने की कोई बात नहीं है। उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है।    वहीं, देर रात महाजन के कार्यालय से स्पष्ट किया गया था कि उनका स्वास्थ्य ठीक है। इसपर सुमित्रा महाजन की तरफ से भी प्रतिक्रिया सामने आ चुकी है। अपने निधन की फर्जी खबरों पर पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा ताई ने न्यूज चैनलों को जमकर फटकार लगाई और कहा, आखिर न्यूज चैनल बिना सच्चाई पता किए ऐसी खबर कैसे चला सकते हैं? क्या उन्होंने इंदौर प्रशासन से खबर की सच्चाई पता करने की कोशिश की? महाजन ने कहा, ‘मेरी भतीजी ने शशि थरूर के ट्वीट का खंडन किया, लेकिन बिना पुष्टि के इस तरह की खबरें फैलाने की क्या जल्दबाजी थी’।   उल्‍लेखनीय है कि बीते दिवस गुरुवार शाम उन्‍हें लेकर एक गलत सूचना चली जाने से सभी ओर हलचल मच गई थी। कुछ नेताओं ने तो उस सूचना पर ट्वीट भी कर दिए था। जिनमें कांग्रेस नेता शशि थरूर का नाम सबसे आगे है। उन्‍होंने फेक न्यूज के जाल में फंसते हुए सुमित्रा ताई के निधन को लेकर ट्वीट कर दिया था।   उनके उस ट्वीट पर जब भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की नजर पड़ी, तो उन्होंने तुरंत इसका जवाब दिया। विजयवर्गीय ने लिखा, ‘सुमित्रा ताई एकदम स्वस्थ हैं, भगवान उन्हें लंबी उम्र दे।’ भाजपा नेता के इस जवाब के बाद थरूर ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया और माफी मांगी। उन्‍होंने पूरे मामले पर माफी मांगते हुए लिखा कि पता नहीं ये कौन लोग हैं, जो इस तरह की झूठी खबरें फैलाते हैं। मुझसे भूलवश ऐसा हुआ है। मेरी शुभकामनाएं सुमित्रा जी के साथ हैं। भगवान उन्हें लंबी उम्र दें और हमेशा स्वस्थ रखें। 

Kolar News

Kolar News 23 April 2021

भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने केंद्र सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट कर देश में बढ़ती गरीबी की हालत पर सवाल उठाते हुए मोदी सरकार को हर क्षेत्र में नाकाम बताया है। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया है सरकार के सारे निर्णय अमीरों के पक्ष में और गरीबों विरोध में होते है।   दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा कि बीते एक साल में देश में दोगुनी हो गई गरीबों की तादाद! देखें क्या कहते हैं रिसर्च के आंकड़े...मोदीशाह सरकार हर क्षेत्र में फेल रही है। बिना सोचे समझे "56 इंची सीने" के फ़ैसलों ने देश को बर्बादी के रास्ते पर ला कर खड़ा कर दिया। आप कहते तो हैं आपने गऱीबी में जीवन जिया है पर गरीब के प्रति आपके मन का दर्द केवल आपके भषणों में झलकता है लेकिन आपके सारे निर्णय अमीरों के पक्ष में और गरीब के विरोध में होते हैं।   अपने अगले ट्वीट में दिग्विजय सिंह ने कहा कि कॉंग्रेस शुरू से कह रही है गरीब के खाते में 6 हजार रुपये प्रति माह राशि डाल दें उस पर मोदीशाह जी निर्णय नहीं लेंगे। क्यों? क्योंकि कॉंग्रेस को श्रेय मिल जाएगा। मोदीशाह जी आपके राज में अमीर और अमीर हो रहा है, गरीब और गरीब हो रहा है। वे प्रवासी मजदूरों को कह तो रहे हैं कि आप जहॉं हैं वहीं रहें लेकिन उनकी रोज़ी रोटी का आप इंतज़ाम क्यों नहीं कर रहे। यह लोग रोज कमाते हैं तब उनका चूल्हा जलता है श्रीमान। आपका पीएम केयर्स फंड कब और किसके लिए काम आएगा? दिग्विजय सिंह के इस ट्वीट पर अभी तक भाजपा की प्रतिक्रिया सामने नहीं आई हैं। 

Kolar News

Kolar News 22 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रोजाना एक पौधा रोपने के अपने संकल्प के क्रम में गुरुवार को आंवले का पौधा अपने निवास परिसर में रोपा।   सीएम शिवराज ने पौधारोपण करने के बाद बताया कि आज निवास में आंवले का पौधा रोपा। आंवला को आयुर्वेद में अमृतफल या धात्रीफल कहा गया है। आयुर्वेद के अनुसार आंवला एक ऐसा फल है, जिसके अनगिनत लाभ हैं। आंवला का नियमित सेवन शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाता है। आंवला न सिर्फ त्वचा, और बालों के लिए फायदेमंद है, बल्कि कई तरह के रोगों के लिए औषधि के रूप में भी काम करता है। पाचन संबंधित रोगों और पीलिया के लिए आंवला का उपयोग किया जाता है। आंवला में प्रचुर मात्रा में विटामिन, मिनरल, और न्यूट्रिएन्ट्स होते हैं, जो आंवला को अनमोल गुणों वाला बनाते हैं।

Kolar News

Kolar News 22 April 2021

इंदौर। बेवजह बाहर निकलने वालों से घर में ही रहने का आग्रह करने के लिए प्रदेश के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट गुरुवार को रीगल चौराहे पर पहुंच गए। उन्होंने वहां से आने जाने वाले हर व्यक्ति के हाथ जोड़े और निवेदन किया कि वे बिना काम घर से नहीं निकलें। 30 अप्रैल तक जनता कर्फ्यू का पालन करें। मंत्री सिलावट ने कहा कि इस बार का वायरस बहुत घातक है। पहले यह 10 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहा था, लेकिन अब यह इसकी गति लाख गुना हो गई है।   लोगों से निवेदन के लिए रीगल चौराहे पर पहुंचे सिलावट ने कहा कि होम आइसोलेशन का बहुत बड़ा रोल है। हर छोटी-बड़ी बीमारी के लिए लोग अस्पताल पहुंच रहे हैं, जिससे अस्पतालों पर भार बढ़ रहा है। नकली दवाई मिलने पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार को यह बदनाम करने की कोशिश है। कोविड को लेकर राजनीति हो रही है कि सवाल पर कहा कि मुझसे बेहतर आप जानते हो। सभी दलों से यही कहना चाहता हूं कि इंदौर, प्रदेश देश सबकुछ आपका है। सभी सेवा में लग जाएं।

Kolar News

Kolar News 22 April 2021

भोपाल। मप्र में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों से बनी भयावह स्थिति को देखते हुए सरकार ने कई जिलों में जनता कफ्र्यू लगा दिया। राजधानी भोपाल में भी 30 अप्रैल तक जनता कफ्र्यू लागू है। सीएम शिवराज ने मंगलवार को जनता के नाम संदेश देते हुए जनता कफ्र्यू को सफल बनाने और कोविड पर विजय पाने के लिए सहयोग की अपील की है।   सीएम शिवराज ने अपने संदेश में कहा कि मेरे प्यारे प्रदेशवासियों, हमें घातक कोविड19 वायरस की इस दूसरी लहर को रोकने के लिए धैर्य और दृढ़ इच्छा शक्ति के साथ काम करने की जरूरत है। आपने जिस संयम एवं धैर्य के साथ अब तक सहयोग दिया है, उसे विजय श्री के वरण तक जारी रखना है। उन्होंने कहा कि कोविड19 वायरस की दूसरी लहर को रोकने के लिए हमें मप्र जनता कफ्यू को सफल बनाना है। सभी स्वास्थ्य दिशा-निर्देशों का पालन करना है। याद रखिये कि सावधानी में ही सुरक्षा है।   सीएम शिवराज ने जनता से मास्क लगाने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का आग्रह करते हुए कहा कि सभी पात्र भाई-बहन, टीकाकरण अवश्य करवायें। स्वयं जागरुक रहें और दूसरों को जागरुक करें। सम्पूर्ण शक्ति और सावधानी से हम सब मिलकर लड़ेंगे, तो जीत शीघ्र मिलेगी।

Kolar News

Kolar News 20 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण से निपटने को लेकर सरकार तमाम दावे कर रही है। ऑक्सीजन की भरपूर आपूर्ति का आश्वासन दिया जा रहा है। इसको लेकर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सरकार को घेरा है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि नींद में सोई यह सरकार आखिर कब और कैसे जागेगी।   राजधानी भोपाल के पीपुल्स अस्पताल में सोमवार को ऑक्सीजन सप्लाई बंद होने से 11 लोगों की मौत हो गई। कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि अब फिर प्रदेश की राजधानी भोपाल में ऑक्सीजन की कमी से कई मरीजों की मौत की दुखद खबर है। 13 दिन में 56 लोगों की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण हो गई है। जिम्मेदारों के ऑक्सीजन की आपूर्ति के सारे दावे झूठे साबित हो रहे हैं।   उन्होंने सीएम शिवराज पर निशाना साधते हुए कहा कि जनता को भगवान और खुद को पुजारी बताने वाले, उनके सामने चुनावों में घुटने के बल बैठने वालों ने आज जनता को लावारिस व भगवान भरोसे छोड़ दिया है। निष्ठुरता, लापरवाही, नाकामी व गैरजिम्मेदाराना रवैये की अब तो हद हो गयी है।  

Kolar News

Kolar News 20 April 2021

भोपाल। देशभर में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में भारतीय सेना भी हमकदम बनेगी। मध्यप्रदेश से हुई पहल के अंतर्गत आज सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने भेंट की। भेंट करने वालों में सुदर्शन चक्र कोर कमांडर अतुल्य सोलंकी और ब्रिगेडियर आशुतोष शुक्ला शामिल हैं।भोपाल, जबलपुर, सागर और ग्वालियर में होगी व्यवस्थासैन्य अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि कोरोना संक्रमित रोगियों को सेना के अस्पतालों और आइसोलेशन केंद्रों में स्थान दिया जाएगा। भोपाल में लगभग 150, जबलपुर में 100, सागर में 40 और ग्वालियर में 40 आइसोलेशन बेड की व्यवस्था के लिए प्रयास आज से प्रारंभ किए जा रहे हैं।रक्षा मंत्री से भी चर्चा हुईमुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने आज ही केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी सेना से सहयोग के प्राप्त करने के संबंध में चर्चा की। मुख्यमंत्री ने कहा आवश्यकता हुई तो सेना द्वारा संचालित इन आइसोलेशन केन्द्रों में मध्यप्रेदश शासन आइसोलेटेड रोगियों के लिए ऑक्सीजन व्यवस्था भी उपलब्ध करवाएगा। भोपाल स्थित आइसोलेशन केंद्र के लिए ऑक्सीजन लाइन भी स्थापित की जा सकती है। इससे गंभीर स्थिति होने पर आइसोलेटेड रोगी को आवश्यक उपचार मिल सकेगा।पैरामेडिकल स्टाफ भी देंगेसेना के अधिकारियों ने रोगियों की समुचित देखभाल के लिए पैरामेडिकल स्टाफ उपलब्ध कराने  के लिए भी आश्वस्त किया। कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए सेना की ओर से प्रदेश में बिस्तर उपलब्ध करवाने एवं पूर्ण सहयोग के लिए आश्वस्त किया गया। संक्रमण की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए आवश्यक प्रबंध हो जाने से आइसोलेशन रोगियों की देखरेख का कार्य हो सकेगा। सेना पर गर्व हैसीएम शिवराज ने कहा कि भारतीय सेना पर हम सभी को गर्व है। संकट के समय में सेना से किए गए अनुरोध का अच्छा रिस्पांस मिला है। यह सच है कि प्रदेश में संक्रमण बढ़ा है। सरकारी प्रयासों का साथ जन- जागरूकता भी बढ़ रही है। आगामी 30 अप्रैल तक मध्यप्रदेश में कोरोना कफ्र्यू लागू है। इसमें जनता भी सहयोग कर रही है।वरिष्ठ अधिकारी अधिकृतसेना द्वारा दिए जाने वाले इस सहयोग से संक्रमित रोगियों की बेहतर देखभाल की जा सकेगी। आवश्यक समन्वय के लिए मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी और सेना सुदर्शन चक्र भोपाल की ओर से ब्रिगेडियर आशुतोष शुक्ला अधिकृत किए गए हैं।यह भी युद्ध हैमुख्यमंत्री ने कहा कि यह भी एक तरह का युद्ध है। हम सभी मिलकर लड़ेंगे और विजय प्राप्त करेंगे। कोर कमांडर सुदर्शन चक्र अतुल्य सोलंकी ने कहा कि मध्यप्रदेश की जनता की समस्या हमारी समस्या है। हम इसके समाधान में सहभागी बनेंगे।      

Kolar News

Kolar News 19 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शहरों और कस्बों के साथ ही प्रदेश के ग्रामों में भी संक्रमण बढऩे से रोकना है। ग्रामों में जो सुरक्षित हैं, वे सुरक्षित रहें और बाहर न निकलें। जहाँ अधिक संक्रमित रोगी हैं वहाँ कन्टेनमेंट जोन बनाकर संक्रमण नियंत्रण सुनिश्चित करें। हर स्थिति में संक्रमण की चेन तोडऩा है। रहवासी संघ और स्वैच्छिक संगठन सहयोग करें ताकि जो व्यवस्थाएँ छोटी पड़ रही हैं, उन्हें पर्याप्त बनाया जा सके। मुख्यमंत्री शिवराज ने आज सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा कलेक्टर्स से संवाद किया। मुख्यमंत्री ने खंडवा, बुरहानपुर प्रशासन के संक्रमण नियंत्रण के प्रयासों को सराहनीय बताया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी पात्र निर्धन उपभोक्ताओं को उचित मूल्य की दुकानों से एक साथ तीन माह का राशन नि:शुल्क मिलेगा।साँस की डोर न टूटेसीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश में संक्रमित रोगियों के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास किए गए हैं। रेमडेसिविर इंजेक्शन भी लगातार आ रहे हैं। इनका न्यायपूर्ण वितरण सुनिश्चित किया जाए ताकि किसी रोगी की साँस की डोर न टूटे।हर व्यक्ति शंका होने पर टेस्ट अवश्य कराएँमुख्यमंत्री ने कहा कि आइसोलेशन से जुड़ी पूरी व्यवस्थाएँ जिलों में सुनिश्चित करें। जिन व्यक्तियों को सर्दी-खाँसी, बुखार है, वे तत्काल जाँच करवाएँ, जाँच की रिपोर्ट आने तक स्वयं को आइसोलेशन में रखें। सेंपल देने के बाद बहुत से लोग घूमते रहते हैं। इस पर भी नियंत्रण करना है। इससे परिवार को संक्रमित होने से बचाया जा सकेगा। यदि घर छोटा है तो कोविड केयर सेंटर जाकर व्यवस्था का लाभ लेना चाहिए।सीएम ने कलेक्टर्स से कहा कि जिन जिलों में ऑक्सीजन प्लांट स्वीकृत किए गए हैं, वे प्लांट स्थापना का कार्य प्रारंभ करें। कुछ जिलों में ऑक्सीजन सिलेंडर लेने की पहल सराहनीय है। कलेक्टर द्वारा स्थानीय प्रबंध भी सुनिश्चित हों।भारत और मध्यप्रदेश हमारी माँ हैमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि आगामी 30 अप्रैल तक घर से न निकलें, संक्रमण की चैन तोड़ें। भारत और मध्यप्रदेश हम सबकी माँ है, इसके दूध की लाज रखना है। समाज, इस संकट में साथ खड़ा हो। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर्स से कहा कि आइसोलेशन केन्द्रों के लिए निजी और सरकारी भवन का उपयोग करें। कलेक्टर अपने स्तर पर नवाचार भी करें। हम सम्मिलित प्रयासों से जंग जीत जायेंगे।कारावास जाएंगे कालाबाजारी करने वालेमुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि औषधियों की कालाबाजारी करने वाले को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएसए) में कारावास भेजें। इस समय सबसे बड़ी आवश्यकता लोगों का जीवन बचाना है। जीवनरक्षक इंजेक्शन को अधिक कीमत पर बेचने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।वित्तीय समस्या नहीं होगीमुख्यमंत्री ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा किए जाने वाले स्थानीय प्रबंध में वित्तीय समस्या नहीं आने दी जाएगी। राज्य शासन स्तर से धन राशि की कमी नहीं होगी। यह प्रत्येक जिले का टास्क होना चाहिए कि कम से कम रोगी अस्पताल पहुँचे। होम आइसोलेशन व्यवस्था का अधिकतम प्रयास हो। इन्दौर में की गई पहल प्रशंसनीय है। सांसद, विधायक भी पूरा सहयोग कर रहे हैं। सामाजिक संगठन सरकार के प्रयासों को मजबूत करें। निश्चित ही इस महामारी को हम सभी मिलकर हरा देंगे।

Kolar News

Kolar News 19 April 2021

भोपाल। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज रविवार को मुख्यमंत्री निवास में फाइकस पांडा का पौधा लगाया।   यह एक सजावटी पौधा है। घर की बगिया और उद्यानों में साज-सज्जा में इसका विशेष महत्व है। इसे इंटीरियर और आउटडोर डेकोरेशन में उपयोग में लाया जाता है। मुख्यमंत्री ने पौध-रोपण के साथ श्रमदान भी किया।

Kolar News

Kolar News 18 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना का संकट अत्यंत विकट है, यह एक युद्ध है, जिसमें सबको सारे मतभेद भुलाकर एकजुट होकर लडऩा पड़ेगा। सरकार अपने स्तर पर पूरे प्रयास कर रही है, परन्तु जब तक समाज का पूरा सहयोग नहीं मिलेगा, हम कोरोना को शीघ्र नियंत्रित नहीं कर पाएंगे।   मुख्यमंत्री ने रविवार को प्रदेश की जनता से कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में सहायोग की अपील करते हुए कहा कि बीमारी के थोड़े भी लक्षण दिखने पर तुंरत जाँच करवायें तथा होम आइसोलेशन अथवा कोविड केयर सेंटर में रहकर इलाज लें। यहाँ सरकार द्वारा दवाओं, डॉक्टर का परामर्श आदि की पूरी व्यवस्था की गई हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए संक्रमण की चेन को तोडऩा बहुत आवश्यक है। उन्होंने जनता से अपील की कि आगामी 30 अप्रैल तक कोई भी अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकले। गाँव, मोहल्लों, कॉलोनियों, बिल्डिंग्स आदि में लोग जनता कफ्र्यू लगाएँ। इस दौरान आवश्यक वस्तुएँ दो-चार व्यक्ति जाकर ले आएँ। बाहर जाते समय मास्क अनिवार्य रूप से लगाएँ। सामाजिक दूरी रखें तथा अन्य कोरोना संबंधी सावधानियों का पालन करें।   सीएम ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि सभी के सहयोग से हम इस लड़ाई को जल्दी जीतेंगे। कोरोना शीघ्र हारेगा। उन्होंने कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में सभी धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक तथा अन्य संगठनों एवं जन-सामान्य से पूरा सहयोग करने की अपील की।होम आइसोलेशन में सभी सुविधाएँमुख्यमंत्री ने कहा कि होम आइसोलेशन में सरकार द्वारा कोरोना के इलाज की सभी सुविधाएँ प्रदान की जा रही है। आवश्यकता होने पर अस्पताल ले जाने के लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था भी की जा रही है। जिन मरीजों के घर में जगह कम है, वे कोविड केयर सेंटर में रहें। वहाँ पर दवाई के अलावा भोजन, चाय-नाश्ता आदि की व्यवस्था भी की गई है। सभी जिलों में कोविड केयर सेंटर चालू हो गए हैं।बिस्तरों की संख्या निरंतर बढ़ाई जा रही हैमुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि सरकार अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या लगातार बढ़ा रही है। जहाँ एक अप्रैल को हमारे पास कुल 21 हजार 159 बिस्तर उपलब्ध थे, वहीं आज बिस्तरों की संख्या बढक़र 40 हजार 784 हो गई है। पिछले तीन दिनों में लगभग 3 हजार बेड्स बढ़े हैं।रेमडेसिविर इंजेक्शन आपूर्तिमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में 8 अप्रैल से अब तक सरकारी सप्लाई और निजी क्षेत्र की सप्लाई मिलाकर लगभग एक लाख रेमडेसिविर इंजेक्शन आ चुके हैं। आज हैटरो कंपनी से 12 हजार इंजेक्शन की सरकारी सप्लाई प्राप्त हो रही है। मॉयलॉन कंपनी से 20 अप्रैल को 20 हजार इंजेक्शन प्राप्त होंगे।निरंतर बढ़ रही है ऑक्सीजन की आपूर्तिसीए शिवराज ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति निरंतर बढ़ाई जा रही है। प्रदेश में 8 अप्रैल को 130 एमटी ऑक्सीजन की आपूर्ति थी। वहीं 14 अप्रैल को यह बढक़र 280 एमटी, 16 अप्रैल को 350 एमटी तथा 17 अप्रैल को 390 एमटी हो गई। आगामी 30 अप्रैल तक प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति 700 एमटी हो जाएगी। मुख्यमंत्री ने इसके लिए केन्द्र सरकार को धन्यवाद भी दिया। उन्होंने बताया कि इसके अलावा जिलों में छोटे-छोटे ऑक्सीजन प्लांट प्रारंभ किए जा रहे हैं, तथा बड़ी संख्या में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी भिजवाए जा रहे है।सरकारी भवनों में भी प्रारंभ किए जा सकेंगे निजी अस्पतालसीएम ने कहा कि कोरोना के इलाज में निजी अस्पतालों की भी महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि यदि इस समय कोई निजी अस्पताल चालू करना चाहता है, तो उसे शासकीय भवन व अन्य सुविधाएँ प्रदान की जाएंगी। इन्दौर में राधा स्वामी सत्संग व्यास द्वारा एक बड़ा कोविड केयर सेंटर प्रारंभ किया गया है।कोरोना वॉलेंटियर्स बनेंमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कोरोना वॉलेंटियर्स कोरोना के नियंत्रण में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। सेवा का इच्छुक कोई भी व्यक्ति 181 पर कॉल कर कोरोना वॉलेंटियर्स बन सकता है। प्रदेश में अभी तक 97 हजार 500 कोरोना वॉलेंटियर्स पंजीकृत हुए हैं।

Kolar News

Kolar News 18 April 2021

भोपाल। मप्र में कोरोना संक्रमण अपना कहर बरपा रहा है। लगातर बढ़ते कोरोना के मामलों के चलते चिकित्सा व्यवस्था भी चरमराई हुई है। सरकार ऑक्सीजन और दवाओं की भरपूत पूर्ति का दावा कर रही है, लेकिन रोजाना प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से मौतों के मामले सामने आ रहे हैं। मप्र के शहडोल जिले में भी ऑक्सीजन की कमी के चलते 12 कोरोना संक्रमितों की मौत हो गई। शहडोल मामले पर मप्र के पूर्व सीएम कमलनाथ ने दुख जताते हुए सरकार पर निशाना साधा है।   कमलनाथ ने शहडोल में हुई मौतों पर दुख जताते हुए कहा कि अब शहडोल में ऑक्सीजन की कमी से मौतों की बेहद दुखद खबर? भोपाल, इंदौर, उज्जैन, सागर, जबलपुर, खंडवा, खरगोन में ऑक्सीजन की कमी से मौतें होने के बाद भी सरकार नहीं जागी? आखिर कब तक प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से यूँ ही मौतें होती रहेगी? कमलनाथ ने सरकार पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा कि शिवराज जी आप कब तक ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर झूठे आँकड़े परोसकर, झूठ बोलते रहेंगे, जनता रूपी भगवान रोज दम तोड़ रही है? प्रदेश भर की यही स्थिति, अधिकांश जगह ऑक्सीजन का भीषण संकट? रेमडेसिविर इंजेक्शन की भी यही स्थिति, सिर्फ़ सरकार के बयानों में व आँकड़ो में ही ऑक्सीजन व रेमडेसिविर उपलब्ध, अस्पतालों से गायब?    कमलनाथ ने प्रदेश में बढ़ते कोरोना संकट के हालातों पर चिंता जताते हुए कहा कि सरकार कागजी बैठकों से निकलकर मैदानी स्थिति सम्भाले, स्थिति बेहद विकट, प्रदेश वासियों को इस संकट से निकाले, ऑक्सिजन की आपूर्ति के युद्ध स्तर पर प्रयास करे, स्थितियाँ भयावह होती जा रही हैं।

Kolar News

Kolar News 18 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना टेस्ट की संख्या बढ़ाई जाए और उसकी रिपोर्ट 24 घंटे में आना सुनिश्चित किया जाए। होम आयसोलेशन की व्यवस्था को पुख्ता बनाया जाए तथा होम आयसोलेशन में रह रहे हर मरीज को नि:शुल्क दवाई की किट उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के इलाज के लिए अस्पतालों में बिस्तरों, ऑक्सीजन, इंजेक्शन, दवाओं आदि की सुविधा निर्बाध रूप से मिलती रहे, यह सुनिश्चित किया जाए। साथ ही इन सुविधाओं की जानकारी कॉल सेंटर 1075 आदि के माध्यम से जनता को निरंतर मिलती रहे।   शिवराज शनिवार को अपने निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजौरा, स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी आदि उपस्थित थे।   मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजन की आपूर्ति निरंतर बढ़ती जा रही है तथा उपयोग के हिसाब से ऑक्सीजन मिल रही है। यह सुनिश्चित किया जाए कि प्राप्त ऑक्सीजन सभी जिलों को समय पर उपलब्ध हो जाए।   प्रदेश के विभिन्न जिलों में चार हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की व्यवस्था की जा रही है। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं। दो हजार कंसंट्रेटर पहले दिए जा चुके हैं तथा 150 कंसंट्रेटर और आ गए हैं। इसी प्रकार सभी जिलों में कुल 58 ऑक्सीजन संयंत्र चालू किए जाने के संबंध में कार्यवाही की जा रही है। इनमें से 21 लग गए हैं तथा 13 शीघ्र चालू होंगे।   प्रदेश में 63,889 एक्टिव मरीजप्रदेश में कोरोना के 63 हजार 889 एक्टिव मरीज हैं। कोरोना के 11 हजार 269 नए प्रकरण आए हैं। प्रदेश में कोरोना संक्रमण बढऩे की गति धीमी हुई है। एक्टिव प्रकरणों में से 68 प्रतिशत होम आयसोलेशन तथा 32 प्रतिशत अस्पतालों में हैं।   विमान से मंगाए इंजेक्शनमुख्यमंत्री ने कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की त्वरित आपूर्ति के लिए उन्हें विमान से मंगाने की व्यवस्था की जाए। हेट्रो कम्पनी को एक लाख रेमडेसिविर इंजेक्शन का आर्डर दिया गया है।   निर्धारित दर पर ही हो जाँचमुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि निजी लैब, अस्पतालों द्वारा निर्धारित दर पर ही कोरोना टेस्ट, सीटी स्केन तथा कोरोना का उपचार किया जाए। अस्पताल टेस्ट एवं इलाज की दरें बाहर प्रदर्शित करें। जो अस्पताल निर्धारित दरों से अधिक शुल्क लें, उनके खिलाफ कार्यवाही की जाए। मुख्यमंत्री ने शासकीय एवं निजी लैब में कोरोना टेस्ट क्षमता बढ़ाने के निर्देश दिए। साथ ही वहां इस प्रकार की व्यवस्था की जाए कि किसी भी व्यक्ति को कोरोना टेस्ट करवाने के लिए लाइन में न लगना पड़े। प्रदेश के सभी जिलों में 110 कोविड केयर सेंटर प्रारंभ कर दिए गए हैं। इनमें 6,153 बिस्तरों की उपलब्धता है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि जिन मरीजों को होम आयसोलेशन के लिए उनके घर में जगह नहीं है, उन्हें सीसीसी में रखा जाए। यहाँ दवाओं, चाय, नाश्ता, भोजन आदि सभी व्यवस्थाएँ अच्छी हों।   होम आयसोलेशन व्यवस्था को पुख्ता करेंमुख्यमंत्री  ने कहा कि होम आयसोलेशन व्यवस्था को इतना सुदृढ़ बनाया जाए कि मरीजों को अस्पताल जाने की जरूरत ही न पड़े। होम आयसोलेशन में दवाओं की किट, टेलीमेडिसिन के साथ ही निरंतर निगरानी हो। दिन में दो बार मरीज से बात की जाए। होम आयसोलेशन में रह रहे मरीजों को शहरी क्षेत्र में नगरीय निकाय एवं ग्रामीण क्षेत्र में पंचायतों के माध्यम से नि:शुल्क दवाओं की किट वितरित की जाएगी। वर्तमान में प्रदेश में 44 हजार 999 मरीज होम आयसोलेशन में हैं।

Kolar News

Kolar News 17 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने प्रतिदिन एक पौधा लगाने के संकल्प के अंतर्गत आज मुख्यमंत्री निवास परिसर में सिकंद्रा (सफेद पुष्प) का पौधा रोपा।   सीएम शिवराज ने वृक्षारोपण करने के बाद ट्वीट पर फोटो साझा करते हुए सिकंद्रा के पौधे का लाभ बताते हुए कहा यह पर्यावरण के लिए उपयोगी होने के साथ अपने औषधीय गुणों के कारण अधिक लोकप्रिय है। आपसे भी आग्रह है कि पौधरोपण अवश्य कीजिये, यह धरती की समृद्धि के साथ-साथ मानव जीवन को भी धन्य करेगी व भावी पीढिय़ों को बेहतर दुनिया मिलेगी।  

Kolar News

Kolar News 17 April 2021

दमोह। दमोह विधानसभा 55 के उप चुनाव के मतदान के एक दिन पूर्व स्थानीय श्याम नगर में पैसों से भरी एक गाड़ी मिलने से हड़कम्प मच गया है। इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात है। अधिकारी जांच कर रहे हैं।    बताया गया है कि कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन और उनके समर्थकों के साथ पुलिस की जमकर झड़प हुई।शहर कांग्रेस अध्यक्ष को कोतवाली पुलिस ने हिरासत में लिया है। कांग्रेस प्रत्याशी का आरोप है कि श्याम नगर स्थित क्लब हाउस में सरकारी गाड़ी में लाखों रुपये रखे हैं।    इतना ही नहीं क्लब हाउस के रूम नंबर 101 में भी लाखों रुपये होने का आरोप है। समाचार लिखे जाने तक न तो अभी तक गाड़ी खोली गई है और न ही किसी प्रकार की जानकारी सामने आई है। फिलहाल, पुलिस और संबंधित विभाग जांच कर रहा है।

Kolar News

Kolar News 16 April 2021

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर हमला किया है। मध्य प्रदेश में कोरोना की बेकाबू रफ्तार और संक्रमितों को पर्याप्त इलाज नहीं मिल पाने के लिए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शिवराज सरकार को दोषी ठहराया है। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से पूछा है- प्रदेश में कोई एक ऐसा अस्पताल बताएं, जहां ऑक्सीजन, इंजेक्शन और इलाज का पूरा प्रबंध हो?   कमलनाथ ने कहा कि भोपाल, इंदौर, सागर, उज्जैन, खरगोन के बाद अब खंडवा व जबलपुर में ऑक्सीजन की कमी से मौतें होने की दुखद खबर सामने आयी है। प्रदेशभर में अस्पतालों के बाहर मरीज खुद ऑक्सीजन की व्यवस्था कर, मुंह पर ऑक्सीजन लगाये अस्पतालों में बेड के लिये घंटो इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इलाज के अभाव में अपनी जान गंवा रहे हैं, ऐसी तस्वीरें रोज सामने आ रही हैं।    उन्होंने कहा कि रेमडेसिविर को लेकर अभी भी मरीज और उनके परिजन दर- दर भटक रहे हैं। शासन की सारी व्यवस्थाएं फेल हो चुकी हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है। मौतों का आंकड़ा दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, मुक्तिधामों-कब्रस्तानों से भयावह तस्वीरें सामने आ रही है ?   कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि बड़े शहरों की यह स्थिति है तो छोटे शहरों व ग्रामीण क्षेत्रों का तो भगवान ही मालिक है? फिर भी शिवराज रोज ऑक्सीजन की आपूर्ति, बेड की उपलब्धता, इंजेक्शन को लेकर जनता को झूठे आंकडे़े परोस रहे हैं। उन्होंने सवाल पूछा कि आखिर कब शिवराज सरकार अपनी नाकामी और इस भयावह सच्चाई को स्वीकार करेगी और जनता की इन परेशानियों को दूर कर उन्हें राहत देगी ?

Kolar News

Kolar News 16 April 2021

भोपाल। दमोह जिले के विधानसभा क्षेत्र दमोह-55 के लिए मतदान 17 अप्रैल को प्रात: 7 बजे से प्रारंभ होगा। मतदान शाम 7 बजे तक चलेगा। मतदान के दौरान भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कोविड-19 संबंधी गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित किया जायेगा। मतदान के पहले सुबह 5.30 बजे मॉकपोल प्रारंभ होगा।   मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार दमोह विधान सभा के उप निर्वाचन में कुल 2 लाख 39 हजार 808 मतदाता शामिल हैं। इनमें 1 लाख 24 हजार 345 पुरूष एवं 1 लाख 15 हजार 455 महिलाएँ और 8 थर्ड जेन्डर मतदाता शामिल हैं। कुल मतदाताओं में 80 वर्ष से अधिक उम्र के 2 हजार 647 मतदाता और 1 हजार 28 दिव्यांग मतदाता शामिल हैं। सर्विस मतदाताओं की संख्या 129 और पोस्टल बैलेट से मतदान करने वाले मतदाताओं की संख्या 437 है।   दमोह विधान सभा के उप निर्वाचन में कुल 22 प्रत्याशी मैदान में है। इनमें 2 महिला प्रत्याशी शामिल हैं। कुल 359 मतदान केन्द्रों पर वोट डाले जायेंगे। उप निर्वाचन में एक-एक सामान्य एवं व्यय प्रेक्षक, 68 माइक्रो प्रेक्षक तैनात किये गये हैं। मतदान के लिए 1 हजार 448 पोलिंग कर्मचारी और 432 रिजर्व पोलिंग कर्मचारियों सहित 1 हजार 880 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। मतदान पूरी सुरक्षा व्यवस्था के साथ संपन्न होगा। उप निर्वाचन के लिए 3 सीएपीएफ, 2 एसएएफ की कंपनियाँ, 859 डीपीएफ, 413 होम गार्ड और 359 एसपीओ तैनात किए गए हैं। साथ ही 219 स्थानों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई हैं। कुल 5 हजार 163 हथियार जमा कराये गए हैं। क्रिटिकल मतदान केन्द्रों के रूप में 123 मतदान केन्द्र चिन्हित किये गए हैं। कुल 42 लाख 95 हजार रूपये की अवैध सामग्री, शराब और ड्रग्स की जप्ती की गई है।   अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अरूण कुमार तोमर ने बताया कि मतदान कोविड-19 के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए कराया जाएगा। मतदान केन्द्र पर मतदाता के तापमान की जाँच की जायेगी। यदि तापमान अधिक होगा तो उसका तापमान 10 मिनिट के पश्चात फिर से लिया जाएगा। इसके बाद भी तापमान अधिक पाया गया तो मतदान के अखिरी में उस मतदाता से मतदान कराया जाएगा। हर मतदाता को मास्क पहनना आनिवार्य है। मतदान केन्द्र पर मतदाता को एक हाथ का दस्ताना दिया जाएगा, जिसको पहन कर वह ईवीएम का बटन दबा सकेगा। मतदान केन्द्र पर अगमन और निर्गम द्वार पर हाथ धोने के लिए साबुन और सैनेटाइजर की व्यवस्था रहेगी। मतदान प्रतिशत की जानकारी मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मध्यप्रदेश की वेबसाइट ceomadhyaprades.nic.in पर देखी जा सकेगी।  

Kolar News

Kolar News 16 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का रोजाना एक पौधा लगाने का क्रम सतत रुप से जारी है। इसी कड़ी में बुधवार को सीएम शिवराज ने स्मार्ट पार्क परिसर में अशोक का पौधा लगाया और जनता से भी वृक्षारोपण करने की अपील की।   सीएम शिवराज  ने ट्वीट कर वृक्षारोपण की जानकारी साझा करते हुए कहा ‘आज भोपाल के स्मार्ट पार्क परिसर में अशोक का पौधा रोपा। अशोक वृक्ष सिर्फ पर्यावरण को ही शुद्ध नहीं करते, बल्कि हमारे शरीर को भी स्वस्थ करने में सक्षम हैं। पर्यावरण को शुद्ध करने के इस अभियान में आप सब भी भागीदार बनें, एक पेड़ अवश्य लगाएँ।

Kolar News

Kolar News 14 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बुधवार को डॉ बाबासाहेब अंबेडकर की जयंती पर नमन किया। मुख्यमंत्री चौहान ने मुख्यमंत्री निवास सभाकक्ष में उनके चित्र पर माल्यार्पण कर नमन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने डॉ अंबेडकर के योगदान का स्मरण भी किया।   इसके बाद स्मार्ट पार्क उद्यान में वृक्षारोपण करने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि आज बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर जी की जयंती है। हमारा सौभाग्य है कि उन्होंने मध्यप्रदेश की धरती पर जन्म लिया। महू में 14 अप्रैल को हर साल उनके चरणों में हम श्रद्धासुमन अर्पित करने जाते थे, इस वर्ष कोविड19 के संक्रमण के कारण नहीं जा सके। बाबा साहेब के चरणों में प्रणाम करता हूं।   यह समय चुनौती काप्रदेश में बढ़ते कोरोना संकट के ममालों और विकट परिस्थितियों पर सीएम शिवराज ने कहा कि यह चुनौती का समय है। हम व्यवस्थाओं में दिन-रात जुटे हुए हैं। कल 272 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की उपलब्धता थी, आज बढ़ाकर 280 मीट्रिक टन कर पाये हैं। हम हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। जनता से यही आग्रह है कि मास्क लगायें, डिस्टेंसिंग का पालन करें और घर में रहकर प्रार्थना एवं इबादत करें।  सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना के चलते सामने आई चुनौतियों को लेकर कहा कि स्थिति विकट है, ऑक्सीजन चुनौती है, आज 280 मिट्रिक टन उपलब्धता है। हमारा आधा समय ऑक्सीजन के टैंकर को ट्रैक करने में लग जाता है। पुलिस बिठाई है केंद्र सरकार सहयोग कर रही है। मैंने रेल मंत्री से आग्रह किया है। ऑक्सीजन टैंकर को मालगाड़ी पर लादकर भेजने की व्यवस्था की जा सकती है।   सीएम शिवराज सिंह चौहान ने आगे कहा कि चार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर यूनिट लगा रहे हैं। 180 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मशीन हमें मिल गई है,जो वातावरन से आक्सीजन खींच लेती है। रेमडेसिवीर इंजेक्शन को लेकर सीएम शिवराज ने कहा कि सरकारी अस्पताल में रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कोई कमी नहीं होगी। लेकिन प्राइवेट अस्पताल भी हमारे अपने हैं। हम युद्ध स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। 31 हजार रेमडेसिवीर इंजेक्शन मिल गए हैं। हेलीकाप्टर की जरूरत हो तो उसका उपयोग करेंगे।  

Kolar News

Kolar News 14 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच राजनीतिक दलों के कार्यालय भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। राजधानी भोपाल में भाजपा प्रदेश कार्यालय के बाद अब कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय में भी कोरोना का प्रवेश हो गया है। कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राजीव सिंह की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं, जिसके बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय को सात दिनों के लिए बंद कर दिया गया है।   कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राजीव सिंह की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद  इन सात दिनों तक पीसीसी दफ्तर में किसी को प्रवेश नहीं मिलेगा। इसके अलावा जो भी नेता और कार्यालय में काम करने वाले कर्मचारी राजीव सिंह के संपर्क में आए हैं, वह सभी क्वारंटाइन हो गए हैं। इस दौरान जो लोग पिछले एक दो दिन में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय आए थे, उन्हें भी कोरोना टेस्ट कराने के निर्देश दिए गए हैं। कांग्रेस की तरफ से बताया गया कि पूरे  कार्यालय को जल्द ही सैनिटाइज किया जाएगा। दरअसल दमोह उपचुनाव के चलते कांग्रेस कार्यालय में इन दिनों ज्यादा हलचल थी। बैठकों के चलते प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से लेकर दिग्विजय सिंह तक सभी बड़े नेता कांग्रेस कार्यालय पहुंचे थे। बता दे कि इससे पहले भाजपा के प्रदेश कार्यालय में भी दो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव मिले थे। उसके बाद भाजपा कार्यालय को भी 10 दिनों के लिए बंद कर दिया गया था। 

Kolar News

Kolar News 14 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच राजनीतिक दलों के कार्यालय भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। राजधानी भोपाल में भाजपा प्रदेश कार्यालय के बाद अब कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय में भी कोरोना का प्रवेश हो गया है। कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राजीव सिंह की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं, जिसके बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय को सात दिनों के लिए बंद कर दिया गया है।   कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री राजीव सिंह की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद  इन सात दिनों तक पीसीसी दफ्तर में किसी को प्रवेश नहीं मिलेगा। इसके अलावा जो भी नेता और कार्यालय में काम करने वाले कर्मचारी राजीव सिंह के संपर्क में आए हैं, वह सभी क्वारंटाइन हो गए हैं। इस दौरान जो लोग पिछले एक दो दिन में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय आए थे, उन्हें भी कोरोना टेस्ट कराने के निर्देश दिए गए हैं। कांग्रेस की तरफ से बताया गया कि पूरे  कार्यालय को जल्द ही सैनिटाइज किया जाएगा। दरअसल दमोह उपचुनाव के चलते कांग्रेस कार्यालय में इन दिनों ज्यादा हलचल थी। बैठकों के चलते प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से लेकर दिग्विजय सिंह तक सभी बड़े नेता कांग्रेस कार्यालय पहुंचे थे। बता दे कि इससे पहले भाजपा के प्रदेश कार्यालय में भी दो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव मिले थे। उसके बाद भाजपा कार्यालय को भी 10 दिनों के लिए बंद कर दिया गया था। 

Kolar News

Kolar News 14 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच अस्पतालों में बिस्तरों की कमी और स्वास्थ्य सुविधाओं की आपूर्ति को लेकर निश्चिंंतता जताई है। सीएम शिवराज ने मंगलवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर समेत अनेक शहरों में बड़ी संख्या में कोविड19 के सक्रिय प्रकरण आ रहे हैं। इसे देखते हुए हम निरंतर प्रयास कर रहे हैं कि अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ती रहे।   उन्होंने बताया कि एम्स भोपाल में जितने बेड खाली हैं, वे कोरोना मरीजों के लिए उपयोग में लाए जाएंगे। इसके अलावा भोपाल में आरकेडीएफ और पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में बेड बढ़ाए गए हैं। इंदौर में इंडेक्स अस्पताल ले लिया गया है। 9 अप्रैल तक बिस्तरों की संख्या सरकारी अस्पतालों में 17,492 और निजी अस्पतालों में 13,250 थी। कोविड19 के इलाज हेतु कुल संख्या 30,742 थी।   सरकारी और निजी अस्पतालों में बढ़ाई बिस्तरों की संख्याहमने बिस्तरों की संख्या बढ़ाई और 13 अप्रैल तक सरकारी अस्पतालों में इसकी संख्या 19,410 बेड और निजी अस्पतालों में 17,036 है। वर्तमान में कुल 36,446 बिस्तर उपलब्ध हैं। 52 में से 43 जिलों में कोविड19 केयर सेंटर्स की स्थापना हुई है जहाँ सामान्य लक्षण के मरीजों को भर्ती किया जाएगा। कोविड19 केयर सेंटर्स में बिस्तरों की संख्या लगभग 7,215 है। आज हर जिले में चर्चा कर स्थिति की जानकारी ली है। ऑक्सीजन की उपलब्धता 8 अप्रैल को हमारे पास 130 मी. टन थी, 9 अप्रैल को वह बढक़र 180 मी. टन हुई और 12 अप्रैल को बढक़र 267 मी. टन हुई है। मैं लगातार दिल्ली से संपर्क में हूँ।   ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ेगीमैं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री श्री अमित शाह, श्री पियूष गोयल और श्री धमेन्द्र प्रधान के संपर्क में हूँ जिससे ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ती रहे। ऑक्सीजन का परिवहन कर रहे टैंकर्स को हमने एम्ब्युलेंस का दर्जा दिया है जिससे देरी न हो। टैंकर्स बढ़ाने का प्रयास जारी है।   प्रदेश को मिले 36 हज़ार रेमडेसिविर के इंजेक्शनहमें अब तक करीब 36 हज़ार रेमडेसिविर के इंजेक्शन प्राप्त हो गए हैं, 2,000 इंजेक्शन आज आने वाले हैं। 16 अप्रैल को 10,000 इंजेक्शन की और आपूर्ति होगी। जितने उपाय संभव हैं सभी किये जा रहे हैं। हम ऑक्सीजन का ऑडिट भी करेंगे।

Kolar News

Kolar News 13 April 2021

दमोह। कांग्रेस के नेता इस उपचुनाव में सौदेबाजी की बात करके जनता को भ्रमित कर रहे हैं। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की जोड़ी ने मध्यप्रदेश को लूट प्रदेश बना दिया था। प्रदेश में अगर सबसे बड़ा कोई सौदेबाज है,  तो वह कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की जोड़ी है। 15 महीने जब प्रदेश में कांग्रेस की सत्ता रही तो इन्होनें मध्यप्रदेश को तबाह कर उसे लूटने का काम किया था और आज वही जोड़ी दमोह की जनता के बीच झूठ बोलने का काम कर रही है। यह बात भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार को लक्ष्मण कुटी में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए कही। सभा को केन्द्रीय मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद प्रहलाद पटेल, प्रदेश शासन के मंत्री भूपेन्द्र सिंह, रामखेलावन पटेल, पार्टी प्रत्याशी राहुल सिंह लोधी एवं जिला अध्यक्ष प्रीतम सिंह लोधी ने भी संबोधित किया।   कांग्रेस सरकार ने सिर्फ वादे किए और भाजपा करती है विकास सिंधिया ने कहा कि 15 महीने प्रदेश में जब कमलनाथ सरकार रही, तब प्रदेश के विकास को लॉकडाउन लग गया था। वल्लभ भवन में आम जनता का प्रवेश निषेध था और कारोबारियों की लाईन लगी रहती थी। कमलनाथ जी ने किसानों के फसल बीमा की राशि लॉक कर दी थी। 7 हजार करोड़ की उस फसल बीमा की राशि का लॉक तोड़कर भाजपा सरकार ने उसे किसानों तक पहुँचाया। उन्होंने कहा कि चाहे सड़कों की बात हो या इंफ्रास्ट्रक्चर, पाईपलाइन की बात हो, भारतीय जनता पार्टी ने विकास की इबारत लिखी है। दमोह, टीकमगढ़ से झांसी तक 1200 करोड़ की 250 किमी की पाईपलाइन का काम और 255 किमी की सड़क का निर्माण केन्द्रीय सड़क निधि के द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और भाजपा में इतना फर्क है कि कांग्रेस सरकार में वादों की सूची लंबी थी और भाजपा सरकार में विकास कार्यों की सूची लंबी है।   डबल इंजन की सरकार के साथ विकास के लिए भाजपा को जितायेंसिंधिया ने कहा कि जिन योजनाओं को कमलनाथ जी ने ठंडे बस्ते में डाल दिया था, शिवराज जी ने सरकार बनते ही उन्हें पुनः शुरू किया। भाजपा सरकार में किसानों को फसलों का दाम, युवाओं को काम, गरीबों का उत्थान एवं बुजुर्गों को सम्मान मिला है। उन्होंने कहा कि अटल जी ने बुंदेलखंड के लिए केन-बेतवा परियोजना का जो सपना देखा था, वह साकार हुआ है। इस योजना से कुल 8 लाख हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। दमोह की 30 हजार हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। 518 करोड़ की सीतापुर परियोजना से यह क्षेत्र लहलहायेगा। इस क्षेत्र की जनता के स्वास्थ्य के लिए मेडिकल कॉलेज भी भाजपा ने दिया है। उन्होंने कहा कि केन्द्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राज्य में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मिलकर विकास का इतिहास लिख रहे हैं। दमोह उपचुनाव में भाजपा को जिताकर हम इस इतिहास के साक्षी बनें। डबल इंजन की सरकार के साथ हमें चलना है और विकास के लिए भाई राहुल सिंह को जिताना है। जनमत विचार के साथ खड़ा होता है, तब मिलती है विजय: पटेलकेन्द्रीय मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद प्रहलाद पटेल ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि बंगाल में हमारे 150 से अधिक कायकर्ता मारे गये हैं। उनके बूथ के पास गोलियां चली, लेकिन फिर भी हमारे कार्यकर्ताओं ने अपना बूथ नहीं छोड़ा। विचार के लिए अपनी जान जोखिम में डालने वाले उन कार्यकर्ताओं के कारण बंगाल में परिवर्तन होना तय है, वहां भाजपा की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि जहां कोई आस भी नहीं दिखती थी, वहां भी पार्टी कार्यकर्ता झंडा लेकर आगे चलता था। किसी की मां को इसलिए मार दिया जाता है कि वह भाजपा कार्यकर्ता है और पार्टी का काम करता है। लेकिन जब जनमत पलटता है और विचार के साथ लोग खड़े होते हैं,  तब विजय मिलती है, विश्वास मिलता है और विकास भी मिलता है।   समाज में जहर घोलने वालों को रोकना होगापटेल ने कहा कि इस उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी विकास और विचार के साथ मैदान में है। लेकिन कांग्रेस इस चुनाव में विकास और विचार की चर्चा नहीं करेगी। वह सिर्फ छल-कपट और प्रपंच करेगी। जातियों में जहर घोलने का काम होगा, लेकिन हमें इस चुनाव को विकास की कसौटी पर कसने की जरूरत है। भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने विकास किया है और उस विकास का लाभ उसे मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह चुनाव राहुल सिंह लोधी नहीं लड़ रहे हैं, बल्कि यह चुनाव तो भारतीय जनता पार्टी लड़ रही है। उन्होंने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया अगर फैसला नहीं करते तो आज मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार होती और जनता की वही हालत होती जो 15 महीने के शासन में हुई थी।इस अवसर पर मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, पूर्व मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया, किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष दर्शन चौधरी, पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष भगत सिंह कुशवाह, युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष वैभव पंवार, विधायक प्रदीप पटेल,  पी एल तंतुवाय, पूर्व विधायक लखन पटेल, सोनाबाई अहिरवार, शिवचरण दद्दा, सुखनंदन पटेल एवं घासीराम पटेल मंचासीन थे।  

Kolar News

Kolar News 13 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में लॉकडाउन नहीं कोरोना कर्फ्यू है। ऐसी व्यवस्था करें, जिससे लोगों का काम-धंधा व रोज़ी-रोटी चलती रहे। गांवों में पंचायतें एवं शहरों में रहवासी संघ, मोहल्ला समितियां स्वयं कन्टेनमेंट क्षेत्र बनाएं। अनावश्यक रूप से लोग घर से बाहर न निकलें। एक-दो व्यक्ति बाहर जाकर सभी के लिए आवश्यकता की वस्तुएं ले आएं। उन्‍होंने कहा कि स्व-प्रेरणा से इस प्रकार का संयम रखकर हम शीघ्र कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण कर सकते हैं। उक्‍त बातें मुख्‍यमंत्री ने मंगलवार को मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिलों की कोरोना स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कही।    मुख्‍यमंत्री चौहान ने कहा कि जन-जागरण से ही संक्रमण की चेन टूटेगी। मंत्रीगण अपने-अपने प्रभार के जिले में इस कार्य में जी-जान लगा दें। चौहान ने कहा कि सभी जिलों में कोरोना के इलाज के लिए पर्याप्त बिस्तर, ऑक्सीजन, रेमडेसिविर इंजेक्शन, दवाओं आदि की व्यवस्था है। कोरोना संबंधी व्यवस्थाओं में पैसे की कमी नहीं आने दी जाएगी। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, अपर मुख्य सचिव गृह राजेश राजोरा, आयुक्त स्वास्थ्य आकाश त्रिपाठी आदि उपस्थित थे। सभी जिलों से प्रभारी मंत्री वर्चुअली सम्मिलित हुए।   आस्पतालों में हो अच्छा प्रबंधन मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि सभी जिलों में आस्पतालों में अच्छे से अच्छा प्रबंधन हो। बड़े अस्पतालों में लिक्विड ऑक्सीजन संयंत्र तथा एयर सेपरेशन यूनिट की व्यवस्था और हर जिले में सीटी स्केन मशीन की व्यवस्था भी की जा रही है।    सेवानिवृत्ति की अवधि बढ़ाएं चौहान ने निर्देश दिए कि चिकित्सकों, पैरा मेडिकल स्टाफ की सेवानिवृत्ति अवधि बढ़ाएं, जो सेवानिवृत्त हो गए हैं यदि वे चाहें तो उन्हें संविदा पर रखा जाए। सभी अस्पतालों में स्टाफ की पर्याप्त व्यवस्था हो।   प्रधानमंत्री जी की 4 बातें याद रखें मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना नियंत्रण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चार बातें 'ईच वन वैक्सीनेट वन' (हर व्यक्ति कम से कम एक व्यक्ति को टीका लगवाने में मदद करे), 'ईच वन ट्रीट वन' (हर व्यक्ति कम से कम एक व्यक्ति का इलाज करवाने में मदद करे), 'ईच वन सेव वन' (हर व्यक्ति कम से कम एक व्यक्ति को मास्क लगवाए और उसे कोरोना से सुरक्षित करे) तथा कोरोना संक्रमण रोकने के लिए 'स्व-प्रेरणा से माइक्रो कन्टेनमेंट जोन' बनाएँ।   सामान्य सर्दी, जुकाम, बुखार के लिए भी दवाओं की किट दें मुख्यमंत्री चौहान ने निर्देश दिए कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में सामान्य सर्दी जुखाम बुखार आदि के लिए भी दवाओं की किट देने की व्यवस्था की जाए।   इंदौर एवं भोपाल में सर्वाधिक प्रकरण जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर में  1552 और भोपाल में 1456 नए प्रकरण आए हैं। ग्वालियर में 576, जबलपुर में 552, उज्जैन में 317, बड़वानी में 237, शाजापुर में 193, सागर में 188, बैतूल में 173, झाबुआ में 173, रीवा में 166, विदिशा में 156, कटनी में 155, राजगढ़ में 149, नरसिंहपुर में 141 और रतलाम में 130 नए प्रकरण आए हैं।   ज़रूरी हो तब ही रेमडेसिविर दिया जाए अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य सुलेमान ने कहा कि मरीजों को डॉक्टर की सलाह अनुसार ज़रूरी हो तब ही रेमडेसिविर इंजेक्शन दिया जाए। कम संक्रमण में डॉक्टर की सलाह अनुसार टेमी फ्लू या अन्य दवा दी जा सकती है।   1075 कॉल सेंटर को प्रभावी बनाएं हर जिले में 1075 कॉल सेंटर को प्रभावी बनाया जाए। सेंटर पर जिले में बिस्तरों आदि की व्यवस्था की अद्यतन जानकारी हो। यह कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का नंबर है, जिसके माध्यम से होम आइसोलेशन की मॉनिटरिंग की जाती है। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की भी अच्छी देखभाल सुनिश्चित किए जाने के निर्देश मुख्यमंत्री चौहान ने दिए।

Kolar News

Kolar News 13 April 2021

भोपाल। मध्य प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए सभी राजनीतिक दलों से विचार- विमर्श करने के लिए राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आज सर्वदलीय (वर्चुअल) बैठक बुलाई है। सीएम शिवराज ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि कोरोना के संक्रमण की स्थितियों पर बैठक में विचार होगा, सभी राजनीतिक दलों को वर्चुअली आमंत्रित किया गया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि यह कोरोना संक्रमण से निपटने की लड़ाई जनता के सहयोग के बिना नहीं लड़ी जा सकती, सरकार व्यवस्थाएं बना रही है, अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या लगातार बढ़ रही है। उन्होंने बताया कि भोपाल में हमीदिया में 250 बिस्तर बढ़ रहे हैं, आरकेडीएफ भी अपने अस्पताल में कोरोना के बिस्तर प्रारंभ करेंगे और बाकी अस्पतालों से भी अलग-अलग जगह चर्चा चल रही है, इंदौर में भी चर्चा चल रही है बेड लगातार बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है,ऑक्सीजन की जितनी आवश्यकता है उससे ज्यादा अभी आपूर्ति है। व्यवस्थाओं में कोई कमी नहीं छोड़ेंगे लेकिन जनता का स्वत: स्फूर्त सहयोग आवश्यक है। संक्रमण बढऩे से अगर रोकना है तो स्वयं को जागरूक रहना होगा।    मास्क, 2 गज की दूरी स्वच्छता और टीकाकरणमुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज से टीका उत्सव प्रारंभ हुआ है, पूरे प्रदेश में पूरी ताकत से हम टीका उत्सव कार्यक्रम मना रहे हैं, मतलब टीकाकरण कर रहे हैं। हमारी कोशिश होगी कि जल्द ही वैक्सीन लगाकर हम संक्रमण की संभावनाओं को कम करते जाएं और या हो भी तो सुरक्षित रहें हमारे लोग इसमें केंद्र सरकार का भरपूर सहयोग मिल रहा है।   लॉकडाउन समास्या का समाधान नहीइस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैं यह मानता हूं लॉकडाउन समस्या का समाधान नहीं है और मध्य प्रदेश में कहीं भी लॉकडाउन नहीं है, ना पूरे प्रदेश में लॉकडाउन लगाया जाएगा। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप में कुछ जगह जनता से चर्चा करके स्वत: स्फूर्त यह कहा कि संक्रमण की चैन ब्रेक करने के लिए हम घरों में रहेंगे और कुछ गतिविधियां नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर जिन नजरों ने तय किया है वह कोरोना कफ्र्यू है, वह लॉकडाउन नहीं है और कई गतिविधियों की उसमें छूट है। अन्य राज्य से आवागमन हो, मेडिकल की दुकानें हों, राशन की दुकानें हो, अस्पताल हो, नर्सिंग होम बैंक, एटीएम,दूध, सब्जी की दुकानें, उद्योगों में मजदूर, माल आदि का आवागमन, उद्योग चलते रहेंगे, परीक्षा केंद्रों में जाने वाले विद्यार्थी अन्य स्टाफ एंबुलेंस, फायर बिग्रेड, दूरसंचार,बिजली प्रदाय रसोई गैस सेवाएं, टीकाकरण पूरी ताकत से चलेगा। बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट से आने जाने वाले नागरिक, आईटी कंपनियां बीपीओ, मोबाइल कंपनियों की यूनिट्स, अखबार वितरण, होटल जिनमें रूम इन डाइनिंग व्यवस्थाएं हैं। वैसा लॉकडाउन नहीं है कि सब ठप्प, यह लॉकडाउन नहीं है यह कोरोना कफ्र्यू स्वत: स्फूर्त जनता ने क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से कहा और उन्होंने फैसला फैसला किया कि कुछ दिन भीड़ वाली गतिविधियां बंद रखेंगे।   आर्थिक गतिविधियां रहेंगी चालूूसीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश व्यापी लॉकडाउन नहीं लगेगा आर्थिक गतिविधियां चालू रहनी चाहिए ताकि लोगों की रोजी-रोटी प्रभावित ना हो। लेकिन उतना ही महत्वपूर्ण है की जनता स्वयं ना निकले और यह फैसला करती है कि हमको भीड़ पर नियंत्रण करना है, इस संक्रमण की चैन रोकने के लिए बहुत उपयोगी होगा। कुछ नगरों ने कोरोना कफ्र्यू का फैसला किया है, जनता के सहयोग से और व्यवस्थाएं बनाकर हम इस बीमारी से लड़ रहे हैं और विश्वास है जल्द ही इस पर काबू पाएंगे।

Kolar News

Kolar News 11 April 2021

दमोह। भारतीय जनता पार्टी नेताओं की नहीं, कार्यकर्ताओं की पार्टी है। इसमें कार्यकर्ता ही नेता बनता है। हमारे पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटलजी से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी तक सामान्य कार्यकर्ता ही थे। प्रदेश अध्यक्ष वी.डी. शर्मा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर और मैं स्वयं भी साधारण कार्यकर्ता रहे हैं। कार्यकर्ताओं की वजह से ही हमारी सरकारें बनीं। कश्मीर से अगर धारा 370 हट सकी है, तो यह कार्यकर्ताओं की बदौलत ही संभव हुआ। राम मंदिर का निर्माण अगर शुरू हो सका है, तो वह कार्यकर्ताओं की ही मेहनत है। हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी ने भी कहा था कि अगर में प्रधानमंत्री बना हूं, तो आप जैसे कार्यकर्ताओं के कारण। मध्यप्रदेश में अगर हम विकास कर सके हैं, संबल जैसी जनकल्याण की योजना शुरू कर सके हैं, किसानों के खाते में 89000 करोड़ रुपये डाल सके हैं, तो यह आप कार्यकर्ताओं के कारण ही संभव हो सका है।   यह बात मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शुक्रवार को दमोह में आयोजित बूथ सम्मेलन में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही। सम्मेलन को प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर, वरिष्ठ नेता जयंत मलैया ने भी संबोधित किया।भाजपा की तरह विकास नहीं कर सकती कांग्रेसमुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि कार्यकर्ता अपने-अपने बूथ पर लोगों को यह समझाएं कि क्या कांग्रेस भाजपा की तरह विकास कर सकती है? क्या वो मेडिकल कॉलेज, स्कूल-कॉलेज खुलवा सकती है? क्या सड़कें, सिंचाई के साधन, पीने के पानी की व्यवस्था कर सकती है? लोगों को बताएं कि विकास सिर्फ भाजपा कर सकती है, जनकल्याण के काम सिर्फ भाजपा कर सकती है। लोगों के लिए रोटी, पानी, पढ़ाई-लिखाई और दवाई का इंतजाम सिर्फ भाजपा कर सकती है। कार्यकर्ता सरकार की योजनाओं के हितग्राहियों की सूची लेकर बैठें, उनसे संपर्क करें। चौहान ने कहा कि मैं दावे से कहता हूं कि अगर हर कार्यकर्ता अपना-अपना काम करेगा, तो कांग्रेस एक बूथ भी नहीं जीत सकेगी।   कांग्रेस के आरोप सही होते, तो क्या हम जीत का रिकॉर्ड बना पातेचौहान ने कहा कि दिग्विजय-कमलनाथ की जोड़ी ने वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया था। उन्होंने मध्यप्रदेश को लूट लिया। जब सिंधिया जी ने इसका विरोध किया, तो उन्हें सड़कों पर उतरने की चुनौती दे डाली। सिंधिया जी सड़क पर नहीं उतरे, सरकार ही सड़क पर आ गई। फिर कांग्रेस ने तरह-तरह के आरोप लगाए। बिकाऊ और टिकाऊ का मुद्दा बनाया। आप ही बताईये अगर ये सही होता, तो क्या हम 28 विधानसभाओं पर हुए उपचुनाव में जीत का रिकॉर्ड बना सकते थे? चौहान ने कार्यकर्ताओं से कहा कि राहुल लोधी ने हमारी सरकार को मजबूती देने के लिए विधायकी छोड़ी, इसलिए पार्टी ने उन्हें टिकट दिया है। क्या उन्हें फिर से विधायक बनाना हमारी जिम्मेदारी नहीं है?कार्यकर्ताओं का वचन खाली नहीं जाने दूंगामुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि राहुल लोधी सिर्फ प्रतीक हैं, चुनाव भारतीय जनता पार्टी लड़ रही है। प्रधानमंत्री मोदी, मैं, प्रदेश अध्यक्ष वी.डी.शर्मा जी, नरेंद्रसिंह तोमर जी, जयंत मलैया जी, हम सब चुनाव लड़ रहे हैं। लेकिन यहां मुख्य कार्य बूथ के कार्यकर्ता का है। आज मैं यहां आप लोगों को यह वचन देने आया हूं कि बूथ का प्रमुख जनता को जो वचन देगा, मैं उसे खाली नहीं जाने दूंगा। इसलिए आप सब हर बूथ पर भाजपा को जिताने का संकल्प लें। चौहान ने कहा कि आप सब भाजपा को जिताने का संकल्प पूरा करें और दमोह के विकास का, जनकल्याण का संकल्प मैं पूरा करूंगा।

Kolar News

Kolar News 9 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को राजधानी भोपाल के स्मार्ट उद्यान में चम्पा का पौधा लगाया। मुख्यमंत्री चौहान ने इस वर्ष नर्मदा जयंती पर प्रतिदिन एक पौधा लगाने का संकल्प लिया था और वे प्रतिदिन एक पौधा लगा रहे है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि चम्पा का पौधा शुभ माना गया है। पौध-रोपण और पर्यावरण संरक्षण का यह अभियान निरंतर जारी रहेगा।   चम्पा के पौधे का महत्व चम्पा के फूल सुगन्धित होते हैं। यह एक जड़ी -बूटी भी है। आयुर्वेद के अनुसार, चम्पा के औषधीय गुण से सिर दर्द, कान दर्द, आँखों की बीमारियों में लाभ होता है। पथरी और बुखार में भी चम्पा उपयोगी है। भारत में पूर्वी हिमालय पर चम्पा के पौधे बहुतायत में पाए जाते हैं। चम्पा का उपयोग सजावटी पौधे के रूप में भी किया जाता है।

Kolar News

Kolar News 9 April 2021

दमोह। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्ववर्ती कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कमलनाथ जी ने धान का भुगतान नहीं किया। हमने तो धान भी खरीदी और तिवड़ा युक्त चना भी खरीदा। कमलनाथ जी ने इस क्षेत्र से कॉलेज की सौगात छीन ली। सिंचाई की योजनाएं भी नहीं चलने दी। जब कमलनाथ जी की सरकार थी, तब किसानों से उड़द खरीदी गई, लेकिन उन्हें उसका मूल्य नहीं दिया गया।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को दमोह उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवार राहुल सिंह लोधी के समर्थन में ग्राम बांसा ताराखेड़ा में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जब कमलनाथ जी की सरकार थी, तब किसानों से उड़द खरीदी गई, लेकिन उन्हें उसका मूल्य नहीं दिया गया। कांग्रेस सरकार द्वारा 11,873 किसानों को 27.16 करोड़ का भुगतान किया ही नहीं गया। हम किसानों को उनके हक के पैसे देंगे। आज मैं आप सभी को आश्वस्त करता हूँ कि इस क्षेत्र के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।    उन्होंने कहा कि गरीबों को उनका हक दिलाने वाली संबल योजना को भी कमलनाथ जी ने बंद कर दिया था। हमारी सरकार बनते ही यह योजना पुन: प्रारम्भ हुई। कमलनाथ जी ने बेटियों से उनके विवाह के लिए 51 हजार रुपये देने का वादा किया। बेटियों की शादी भी हो गई, भांजे-भांजी भी आ गए लेकिन पैसे नहीं आये। किसानों को राहत की राशि भी कमलनाथ जी ने नहीं दी। वो तो फसल बीमा योजना का प्रीमियम भी खा गए। किसान भाई चिंतित न हों। इस साल जिनका नुकसान हुआ है, उन्हें राहत की राशि के साथ फसल बीमा योजना की राशि भी देंगे। अपने खाते चैक करते रहना, किसी न किसी योजना के अंतर्गत पैसे डालता रहूंगा!    मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के नेता कहते हैं कि राहुल लोधी ने गड़बड़ कर दी। अगर बेईमानी की होती तो हमारे स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी जीत का नया रिकॉर्ड नहीं बना पाते। राहुल लोधी जी कमलनाथ जी के पास कोई भी काम लेकर जाते तो उन्हें कहा जाता कि चलो, चलो! लोधी जी ने उनको ही चलता कर दिया। जनता के विकास के कार्य जब बाधित हुए तो राहुल लोधी जी ने अपने पद से इस्तीफा देने का निर्णय लिया। वो हमारे साथ आये। उनकी एक ही मांग थी कि दमोह में मेडिकल कॉलेज बने। हमने तुरंत दमोह को यह सौगात दी। राहुल लोधी जी जनता के लिए जो-जो मांगेंगे, मैं उन्हें देता जाऊंगा।   मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस में कुछ नहीं रखा। उनके नेता राहुल गांधी का ही कोई ठिकाना नहीं है। कमलनाथ जी और दिग्विजय सिंह जी ने मध्यप्रदेश को लूट लिया। मंत्रालय को तो दलालों का अड्डा बना दिया था इन्होंने। हमने दमोह के लिए 205 करोड़ रुपये की 9 सडक़ और पुल की सौगात दी है। सभा में प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रह्लाद सिंह पटेल, कैबिनेट मंत्री गोपाल भार्गव, भूपेंद्र सिंह और डॉ. प्रभुराम चौधरी, पूर्व मंत्री रामपाल सिंह और जयंत मलैया सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने जनता को संबोधित किया। 

Kolar News

Kolar News 9 April 2021

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा कोरोना संक्रमण के संबंध में जन-जागृति के लिए आरंभ किए गए स्वास्थ्य आग्रह अभियान के दूसरे दिन बुधवार को किसान कल्याण तथा कृषि मंत्री कमल पटेल, खनिज साधन तथा श्रम मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह, सांसद उज्जैन अनिल फिरोजिया, पूर्व मंत्री रामपाल सिंह सहित विभिन्न समाजों के प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री चौहान से भेंट कर अभियान को अपना समर्थन दिया।   किसान कल्याण तथा कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि कोरोना महामारी से बचाने का सबसे प्रभावी उपाय है स्वयं को जागरूक रखना और सुरक्षित रखना। मुख्यमंत्री चौहान प्रदेश के जन-जन को जागरूक करने के अभियान में लगे हैं। मैं उनका आभार मानता हूँ। पूर्व मंत्री रामपाल सिंह तथा सांसद उज्जैन अनिल फिरोजिया ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर अग्रवाल समाज के प्रहलाद दास अग्रवाल, जैन समाज के प्रमोद जैन हिमांशु, माहेश्वरी समाज के रवि गंगरानी, मालवीय रजक समाज के नरेश मालवीय, कलार समाज के राजाराम शिवहरे ने मुख्यमंत्री चौहान से भेंट कर अभियान को अपना समर्थन प्रदान किया। भोपाल की शमीम अफजल ने कहा कि हम भाग्यशाली हैं कि हमें मुख्यमंत्री चौहान जैसा संवेदनशील मुख्यमंत्री मिला। वे लोगों की कठिनाईयों को कम करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं।   थर्ड जेण्डर का प्रतिनिधित्व करते हुए भोपाल की देवीरानी और सुरैया ने स्वास्थ्य आग्रह अभियान में थर्ड जेण्डर को सम्मिलित करने के लिए मुख्यमंत्री चौहान का आभार माना। उन्होंने कहा कि घर-घर सम्पर्क के दौरान कोरोना संक्रमण से बचाव के उपायों की जानकारी देने और उसका पालन कराने का अभियान चलाया जाएगा।

Kolar News

Kolar News 7 April 2021