विशेष

मंदसौर। कांग्रेस के पास चुनाव का कोई मुद्दा नहीं बचा है, तो मुझे गालियां देने ही उनका चुनावी मुद्दा बन गया है। कभी मुझे घुटना टेक, कभी कमीना, कभी भूखा-नंगा तो कभी कुछ और कहते हैं। मैं प्रदेश की प्रगति और उन्नति के लिए काम करने में व्यस्त हूं और कांग्रेसी मुझे कोसने में। यह बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुुरुवार को मंदसौर जिले के सुवासरा विधानसभा क्षेत्र में भाजपा उम्मीदवार हरदीप सिंह डंग के समर्थन में ग्राम चंदवासा में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए कही। इस अवसर पर भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद रहे। उन्होंने भी जनसभा को संबोधित किया।   मुख्यमत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि कमलनाथ जी ने अकडक़र कहा था कि कन्या विवाह योजना में मैं बेटियों को 51 हजार रुपये दूंगा। बेटियों की शादी हो गई, डोली उठ गई, ससुराल चली गईं, बेटे-बेटी भी उनकी गोद में आ गये, लेकिन कमलनाथ जी के 51 हजार रुपये में से अब तक धेला भी बेटियों को नहीं मिला। उन्होंने महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि मेरे भाइयों-बहनों, मेरा जीवन प्रदेश की प्रगति और उन्नति एवं जनता की सेवा के लिए समर्पित है। अगले तीन साल में विकास के माध्यम से क्षेत्र की तस्वीर भी बदलूंगा और मध्यप्रदेश की जनता की तकदीर भी बदलूंगा।   मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि मेरे भाइयों-बहनों, प्रदेश की प्रगति और विकास के काम केवल भारतीय जनता पार्टी ही कर सकती है। इसलिए कमल के फूल का बटन दबाकर भाजपा को अपना आशीर्वाद दीजिए। मैं भी आपको वचन देता हूं कि आपका विश्वास टूटने नहीं दूंगा।

Kolar News

Kolar News 29 October 2020

रायसेन। मध्यप्रदेश में विधानसभा उपचुनाव का समय जैसे जैसे नजदीक आ रहा है, वैसे राजनेताओं के अलग और अनोखे अंदाज देखने को मिल रहे हैं। चुनावी मैदान में उतरे नेता मतदाताओं को रिझाने के लिए भाषण बाजी से अलग हटकर क्रिकेट खेल रहे हैं, गोलगप्पे खा रहे हैं, दंडवत प्रणाम करने के अलावा खाना तक पका रहे हैं। ऐसे में ही अब सांची विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी डॉ प्रभुराम चौधरी का भी अनोखा अंदाज देखने को मिला है। यहां जनता के बीच वोट मांगने पहुंचे नेताजी ने दंगल में उतरकर खूब करतब दिखाए। नेताजी का करतब करते वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।   दरअसल, उपचुनाव में सांची सीट से भाजपा ने डॉ प्रभुराम चौधरी को अपना प्रत्याशी बनाया है। इस सीट पर भाजपा और प्रभुराम चौधरी दोनों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। हर हाल में भाजपा इस सीट पर जीत हासिल करना चाहती है। ऐसे में ही बुधवार को जब प्रभुराम चौधरी प्रचार के लिए रायसेन जिले के सांची विधनसभा पहुंचे तो यहां ग्रामीणों से मुलाकात के बाद वे ग्रामीणों के साथ अखाड़े जा पहुंचे और वहां उन्होंने अलग अलग करतब दिखाए। नेताजी का अनोखा अंदाज देखकर वहां मौजूद लोग चौंक गए और नेताजी के लिए खूब तालियां बजाई।    गौरतलब है कि इससे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया भी दिमनी विधानसभा सीट में चुनाव प्रचार के दौरान क्रिकेट मैच खेलते हुए नजर आए थे। वहीं, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिहं तोमर प्रचार के दौरान गोलगप्पे खाते हुए दिखाई दिए थे। भांडेर से भाजपा प्रत्याशी रक्षा सिरौनिया के पति संतराम सिरौनिया तो मंच पर ही जनता के सामने दंडवत हो गए। वहीं, सागर जिले की सुरखी विधानसभा सीट से कांग्रेस की पारूल साहू प्रचार के दौरान एक घर में खाना बनाती और बच्चों के साथ खेलती भी नजर आई थी। 

Kolar News

Kolar News 29 October 2020

समाज

उज्जैन। प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष शरद पूर्णिमा शुक्रवार, 30 अक्टूबर को मनाई जायेगी। शरद पूर्णिमा हिन्दू पंचांग के अनुसार हर वर्ष अश्विनी मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को मनायी जाती है। शरद पूर्णिमा का धार्मिक और सामाजिक के साथ-साथ आयुर्वेदिक महत्व भी है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार इस दिन चन्द्रमा सोलह कलाओं से पूर्ण होता है। इस कारण यह तिथि विशेष महत्व रखती है। यह जानकारी उज्जैन के शासकीय धन्वंतरि आयुर्वेद महाविद्यालय के डॉ. जितेन्द्र कुमार जैन और डॉ. प्रकाश जोशी ने हिन्दुस्थान समाचार से बातचीत में दी।   उन्होंने बताया कि आयुर्वेद के अनुसार ऋतु विभाजन के क्रम में विसर्गकाल का विभाजन वर्षा, शरद और हेमन्त ऋतु में होता है। विसर्गकाल में सूर्य दक्षिणायन में गति करता है तथा चन्द्रमा पूर्ण बल वाला होता है। समस्त भूमण्डल पर चन्द्रमा अपनी किरणों को फैलाकर विश्व का निरन्तर पोषण करता है, इसीलिये विसर्गकाल को सौम्य कहा जाता है।   आयुर्वेद के मत अनुसार वर्षा ऋतु में पित्त का संचय होता है तथा शरद ऋतु में पित्त का प्रकोप होता है। प्राचीनकाल से ही पूर्णिमा का लोगों के जीवन में काफी महत्व रहा है, क्योंकि दूसरी रात्रियों के मुकाबले इस दिन चन्द्रमा ज्यादा चांदनी बिखेरता है। आयुर्वेद के आचार्य चरक ने शरद ऋतुचर्या के क्रम में स्पष्ट किया है कि शरद ऋतु में उत्पन्न फूलों की माला, स्वच्छ वस्त्र और प्रदोष (रात्रि के प्रथम प्रहर) काल में चन्द्रमा की किरणों का सेवन हितकर होता है।   श्वांस रोग और शरद पूर्णिमा   आयुर्वेद के आचार्यों ने श्वांस रोग को पित्त स्थान से उत्पन्न व्याधि माना है। श्वांस रोग में शरद पूर्णिमा पर खीर खाने की परम्परा है। खीर दूध में चावल से बनाई जाती है। आचार्य चरक ने क्षीर को जीवनीय बताया है। दुग्धरस में मधुर शीतल गुण स्निग्ध गुरू मन्द प्रसन्न गुणों से युक्त होता है। चावल शीतल मधुर स्निग्ध त्रिदोषशामक होता है। दूध और चावल से बनी हुई खीर मधुर रस वाली होती है, जो पित्त का शमन करती है। शरद पूर्णिमा की चांदनी में रखी हुई खीर में चन्द्रमा की सौम्य किरणों के प्रभाव से शीतल गुण की वृद्धि होती है। आचार्य चरक ने लोकपुरूष साम्य सिद्धान्त के सन्दर्भ में वर्णन किया है कि लोकगत भाव सौमपुरूष गत भाव प्रसाद गुण की वृद्धि करता है। श्वांस रोगियों को विशेषत: आयुर्वेदिक औषधियों से सिद्ध खीर का सेवन करना चाहिये।

Kolar News

Kolar News 29 October 2020

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में कोरोना के नये मरीजों की संख्या में लगातार कमी देखने को मिल रही है। सितम्बर और अक्टूबर के शुरुआती दिनों में यह संख्या 400 के पार पहुंच रही थी, वह अब 150 से नीचे आ गई है। यहां बीते 24 घंटों के दौरान कोरोना के 126 नये मामले सामने आए हैं। इसके बाद यहां संक्रमित मरीजों की संख्या 33,845 हो गई है। राहत की खबर यह है कि इंदौर में लगातार तीसरे दिन कोरोना से एक भी मौत नहीं हुई। यहां कोरोना से अब तक 469 लोगों की मौत हुई है।    इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूर्णिमा गाडरिया ने गुरुवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा बुधवार देर रात 4854 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 126 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि शेष रिपोर्ट निगेटिव आई है। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 33,845 हो गई है, जबकि तीन दिन से मृतकों की संख्या 679 पर स्थिर बनी हुई है। हालांकि, इंदौर में कोरोना के मरीज तेजी से स्वस्थ हो रहे हैं और अपने घर पहुंच रहे हैं। यहां अब तक 29,988 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। अब यहां सक्रिय मरीजों की संख्या 3178 है, जिनका विभिन्न अस्पतालों और घरेलू एकांतवास में उपचार जारी है। इंदौर में कोरोना का रिकवरी रेट 88.4 है।   प्रभारी सीएमएचओ के मुताबिक, शहर में 24 मार्च को कोरोना से पहली मौत हुई थी, उसके बाद से इन सात महीनों में रोजाना 2 से लेकर 7 मौतें तक दर्ज हुईं, लेकिन कोरोना का असर कम हो रहा है और नये मरीजों की संख्या घटने का साथ मृतकों की संख्या शून्य पर आ गई है। यहां तीन दिन से एक भी मरीज की कोरोना से मौत नहीं हुई है। इंदौर का कोरोना से मृत्यु की दर 2.02 फीसदी है।   

Kolar News

Kolar News 29 October 2020

राजनीति

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो गई। भाजपा और कांग्रेस उपचुनाव में जीत हासिल करने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं। वहीं भाजपा के संकल्प पत्र के जवाब में कांग्रेस ने आरोप पत्र जारी किया है। कांग्रेस के आरोप पत्र को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के बयान पर कांग्रेस ने पलटवार किया है।    मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बताया कि कांग्रेस द्वारा बुधवार को भाजपा के खिलाफ जारी किए गए आरोप पत्र से घबराकर व उसी की बौखलाहट में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने गुरूवार को कांग्रेस पर तमाम झूठे आरोप लगाए हैं। यदि कांग्रेस सरकार में विगत 15 माह में एक भी घोटाला-भ्रष्टाचार हुआ है तो प्रदेश में तो पिछले 7 माह से भाजपा की सरकार है, वह अभी तक चुप क्यों थी? उसने अभी तक इन घोटालों की जांच क्यों नहीं करायी ?   नरेन्द्र सलूजा ने गुरुवार को जारी अपने एक बयान में भाजपा पर निशाना साधते हुए का कि उप चुनावों को देखते हुए सिर्फ़ जनता को गुमराह करने के लिए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष तमाम झूठे आरोपों को लगाने के साथ-साथ निम्न स्तरीय भाषा पर उतर आए हैं। प्रदेश के सम्मानित पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के परिवार को लेकर उनके द्वारा की गई टिप्पणी बेहद आपत्तिजनक और निंदनीय है। उनकी यह टिप्पणी संपूर्ण नारी जाति का अपमान भी है, उसके लिए भाजपा नेतृत्व को तत्काल माफी मांगना चाहिए। कांग्रेस इसकी चुनाव आयोग में शिकायत भी दर्ज कराएगी।   सलूजा ने कहा कि बड़ी आश्चर्यजनक बात है कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कह रहे हैं कि कमलनाथ जी अपने क्षेत्र में करोड़ों की लागत से मेडिकल कॉलेज बनवा रहे हैं, तो उन्हें यह जानकारी होना चाहिए कि कमलनाथ जी जो मेडिकल कॉलेज बनवा रहे हैं। वह जनता के बेहतर इलाज के लिये, उनके स्वास्थ्य के लिए बनवा रहे हैं। कमलनाथ जी खुद के लिए मेडिकल कॉलेज नहीं बनवा रहे और यदि कमलनाथ जी सरकारी खजाने से प्रदेश की जनता की भलाई के लिए काम कर रहे हैं तो उससे भाजपा के पेट में दर्द क्यों हो रहा है? भाजपा तो सरकारी खजाने के पैसे से घोटाले -भ्रष्टाचार करती है। उस पैसे को डकारती है, विकास में उनका विश्वास नहीं है, यही कारण है कि खुद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का संसदीय क्षेत्र, विधायक वाला क्षेत्र, आज तक पिछड़ा हुआ है, आज तक वहां विकास के काम नहीं हुए है।   उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस भाजपा को खुली चुनौती देती है यदि कांग्रेस सरकार में एक रुपये का भी घोटाला हुआ है तो वर्तमान में प्रदेश में भाजपा की सरकार है। वो तमाम घोटालों की जांच कराएं, प्रमाण जनता के सामने लाएं, उसकी वास्तविकता सामने लाएं लेकिन सिर्फ जुबानी खर्च से, झूठे आरोपों से जनता गुमराह होने वाली नहीं है। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश की जनता जानती है कि शिवराज सरकार के 15 वर्ष में सबसे ज्यादा घोटालें, भ्रष्टाचार और फर्जीवाड़े हुए है। उनकी सरकार के कई घोटालों की आज भी जांच भी चल रही है और कमलनाथ सरकार इन घोटालों को अंजाम तक पहुंचाने ही वाली थी। उसी से बौखलाकर व घबराकर तो भाजपा ने माफियाओं के साथ मिलकर कांग्रेस की सरकार को बीच में ही गिरा दिया। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के आज लगाए गए तमाम आरोप झूठे, निंदनीय व निम्न स्तरीय भाषा वाले है , इसको लेकर भाजपा को माफी मांगना चाहिए।

Kolar News

Kolar News 29 October 2020

भोपाल। गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता केशुभाई पटेल का 92 साल की उम्र में गुरुवार को निधन हो गया। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने सोशल मीडिया के माध्यम से शोक संवेदना व्यक्त करते हुए केशुभाई पटेल के निधन को गुजरात की राजनीति के एक युग का अंत बताया है।   मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के करते हुए कहा कि - ‘गुजरात की राजनीति के एक युग का अंत! दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री श्रद्धेय श्री केशुभाई पटेल का निधन भारतीय जनता पार्टी के लिए एक अपूरणीय क्षति है। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें और उनके परिजनों को यह वज्रपात सहने की शक्ति दें।’   भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने ट्वीट किया है कि - ‘गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ नेता श्री केशुभाई पटेल जी के निधन का दु:खद समाचार प्राप्त हुआ। गुजरात में भाजपा को मजबूत करने में उनका अहम् योगदान रहा।ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे एवं परिजनों को इस दु:ख को सहन करने की शक्ति दे।’   वहीं, प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा ‘गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री और दिग्गज नेता केशुभाई पटेल जी के निधन की दुखद सूचना से मन आहत है। वे एक कुशल संगठनकर्ता थे, जिन्होंने राज्य में भाजपा को मजबूत करने में अहम योगदान दिया। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और उनके परिजनों को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।’

Kolar News

Kolar News 29 October 2020

अपराध

इंदौर। पालतू डॉग को बांधने की जंजीर से गर्भवती पत्नी का गला घोंटने वाले पूर्व विधानसभा अध्यक्ष यज्ञदत्त शर्मा के पोते हर्ष शर्मा से पुलिस की पूछताछ में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। आरोपित ने पुलिस को बताया कि जिस खुखरी से उसने अंशू की हत्या की थी, उसे उसने ऑनलाइन मंगवाया था। उसने यह भी बताया कि अंशू के शादी के पूर्व सचिन मुकाती नामक पुलिसकर्मी से प्रेम संबंध थे। उसने यह बात छुपाकर मुझसे प्रेम विवाह किया था। वहीं, उक्त पुलिसकर्मी ने भी अंशू से संबंध होने की बात स्वीकार की है।    मंगलवार रात अपनी पत्नी को मौत के घाट उतारने वाले हर्षदत्त शर्मा से संयोगितागंज थाना पुलिस रातभर पूछताछ करती रही। हर्ष ने पूछताछ में बताया कि अंशू के एक रिश्तेदार ने ही मुझे व्हाट्सअप कॉल कर कहा था कि उसके अन्य युवकों से अफेयर हैं। जब मैंने उससे इस संबंध में पूछा तो उसने पुष्टि कर दी। मुझे बहुत बुरा लगा और शराब पीने लग गया। नशे में दोनों का विवाद हुआ और मैंने डॉग को बांधने वाली जंजीर से गला घोंट दिया। जब वह बेहोश हो गई, तो खुखरी से उसका कत्ल कर दिया। जांच अधिकारी के मुताबिक आरोपित ने खुखरी ऑनलाइन खरीदी थी। जिसे पुलिस ने पलंग के नीचे से बरामद कर लिया है।   पुलिसकर्मी सचिन बोला मैंने बेशुमार प्रेम किया,  मां का खर्च भी उठाया हर्षदत्त शर्मा ने जिस पुलिसकर्मी सचिन मुकाती से अंशू के संबंध होने की बात कही है, वह साइबर अपराध एक्सपर्ट एडीजी वरुण कपूर की टीम में शामिल है। उसने कहा मैं अंशू से बहुत प्रेम करता था और दोनों शादी करने वाले थे। मैंने उसकी मां संतोषी का खर्च भी उठाया।

Kolar News

Kolar News 29 October 2020

इंदौर। शहर के बाणगंगा थाना क्षेत्र के लवकुश चौराहा के पास सर्विस रोड के किनारे गुरुवार सुबह युवक-युवती के शव पेड़ पर लटके मिले। युवक ने गमछे से और युवती ने अपने दुपट्टे से फांसी लगाई थी। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने शवों को फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पुलिस को इस मामले में प्रेम प्रसंग के चलते आत्महत्या किए जाने की आशंका है।बाणगंगा पुलिस के अनुसार, गुरुवार सुबह निगम के सफाईकर्मियों ने सूचना दी थी कि लवकुश चौराहा के पास सर्विस रोड पर एक युवक-युवती फंदे से लटके हुए हैं। पुलिस टीम मौके पर पहुंची और शव को फंदे से नीचे उतारा। युवक के पास से एक पेन कार्ड मिला है, जिसमें उसका नाम दिलीप पवार लिखा हुआ है। वहीं, लड़की बागली जिला देवास की रहने वाली है। वह अपने परिजनों के साथ निपानिया में रहती थी। लसूडिया पुलिस ने बताया कि बुधवार दोपहर से दोनों घर से गायब थे। युवक दिलीप मूलत: खरगोन जिले का रहने वाले था।मृतक दिलीप के जीजा रतन ने बताया कि 21 वर्षीय दिलीप मूलत: जमुनिया जिला खरगोन का रहने वाला है। उसका परिवार निपानिया में रहकर चौकीदारी करता है, जबकि वह मिस्त्री का काम करता था। बुधवार सुबह काम पर गया था। दोपहर में ठेकेदार से बात हुई तो उसने कहा कि वह 2 बजे किसी दोस्त का रूम शिफ्ट करना है, कहकर चला गया है। हम उसे तलाश ही रहे थे कि लड़की के परिजन आ गए और बोले की हमारी बेटी लापता है। इसके बाद हम थाने के लिए रवाना हो गए। वहीं, लड़की के परिजन दिलीप के बड़े भाई को पकड़कर ले गए। इसके बाद हमने डायल 100 को कॉल किया। पुलिस ने आकर उसे छुड़वाया। रातभर खोजने के बाद सुबह उनकी मौत की सूचना मिली।

Kolar News

Kolar News 29 October 2020
Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782

x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 Kolar News.