विशेष

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने कोरोना वॉरियर्स के लिए शुरू हुई मुख्यमंत्री कोविड-19 योद्धा कल्याण योजना’ को संशोधित किया। नए नियम के अनुसार योजना के तहत अब स्वास्थ्य विभाग, चिकित्सा शिक्षा और आयुष विभाग के हर सफाई कर्मचारी, वार्ड ब्वॉय, नर्स, आशा कार्यकर्ता, पैरामेडिक्स, तकनीशियन, डॉक्टर, विशेषज्ञ और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को योजना का लाभ नहीं मिलेगा। योजना का लाभ अब उन्हीं लोगों को मिलेगा जो सीधे तौर पर कोविड संक्रमण को रोकने में जुटे हैं। इनमें कोविड के अधिकृत अस्पताल, कोविड केयर सेंटर, कोविड टेस्टिंग लैब, क्वारेंटाइन सेंटर में काम करने वाले शामिल हैं। कोविड योद्धा कल्याण योजना में संशोधन पर मप्र के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने आपत्ति जताई है और इसे तत्काल निरस्त करने की मांग की है।   कमलनाथ ने ट्वीट कर सरकार के फैसले पर एतराज जताते हुए कहा ‘इस कोरोना महामारी में हमारे डॉक्टर्स, नर्स, विशेषज्ञ, आशा- आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सफ़ाई कर्मी, पेरामेडिकल स्टाफ़, स्वास्थ्य कर्मी बड़ी संख्या में फ़ील्ड में जुटे होकर अपनी जान जोखिम में डाल कोरोना योद्धा की तरह रात-दिन काम कर रहे है। अवसर है उनको प्रोत्साहित करने का लेकिन मध्यप्रदेश में कोरोना वारियर्स के लिये बनी कोविड योद्धा कल्याण योजना में संशोधन की जानकारी सामने आयी है। अब इसमें पूर्व से शामिल सभी लोगों को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा सिर्फ़ चुनिंदा लोगों को ही इस योजना का लाभ मिलेगा।   एक अन्य ट्वीट कर उन्होंने कहा कि एक तरफ़ देश के अन्य राज्य कोरोना योद्धाओं को निरंतर प्रोत्साहित करने को लेकर काम कर रहे है , उनके लिये कई प्रावधान कर रहे है लेकिन दूसरी तरफ़ प्रदेश में शिवराज सरकार में कोरोना वारियर्स को हतोत्साहित करने का काम किया जा रहा है , वो भी ऐसे समय जब प्रदेश में कोरोना संक्रमण के आँकड़ो भयावह होते जा रहे हैं। कमलनाथ ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि मै सरकार से माँग करता हूँ कि इन संशोधनों को तत्काल निरस्त किया जाए और पूर्व की भॉति ही सारे कोरोना वारियर्स को इस योजना का लाभ मिलता रहे।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

इंदौर। प्रदेश में 15 महीने कांग्रेस की सरकार रही। कमलनाथजी मुख्यमंत्री रहे, लेकिन उन्होंने गरीब के दर्द और पीड़ा को समझा ही नहीं। वे उद्योगपति हैं, बड़े आदमी के बेटे हैं, सोने का चम्मच मुंह में लेकर पैदा हुए थे, गरीब का दर्द कैसे समझते। जाके पांव ना फटी बेमाई, वो का जाने पीर पराई। दर्द का एहसास है भाजपा को, उसके नेताओं को और हमारे मुख्यमंत्री को, क्योंकि वे गरीब और किसान के बेटे हैं। यह बात प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार को रवींद्र नाट्यगृह में आयोजित अनुग्रह सहायता राशि वितरण कार्यक्रम के दौरान कही।    गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि आप उनके काम देखें और हमारे काम को देखें। कन्या विवाह योजना, लाड़ली लक्ष्मी योजना लागू की तो भाजपा ने। एक रुपये किलो चावल, एक रुपये किलो गेहूं और एक रुपये किलो नमक देने का काम भाजपा ने किया। यह भाव कभी कांग्रेस के मन में नहीं आया। प्रधानमंत्री आवास देने का भाव हमारे प्रधानमंत्री मोदीजी के मन में आया। उन्होंने कहा कि भाजपा और शिवराज के मन में दर्द है, इसलिए उन्होंने गरीबों के लिए कई योजनाएं शुरू कीं। संबल योजना भी इसी का हिस्सा है। कांग्रेस की 15 महीने की सरकार ने जनता को सिर्फ धोखा दिया। जनता को धोखा देने के कारण ही मंत्री सिलावट ने कांग्रेस को छोड़ दिया और भाजपा से जुड़े। गृह मंत्री ने कहा कि काम तो भाजपा करती है,  बाकी पार्टियां तो सिर्फ बातें करती हैं। कार्यक्रम में गृह मंत्री के साथ जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट, बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला, पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता समेत निगम और प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

समाज

भोपाल। मानसून विदा होने से पहले एक बार फिर मप्र पर मेहरबान हो गया है। प्रदेश भर में झमाझम बारिश हो रही है। वहीं राजधानी भोपाल में मंगलवार को रातभर हुई बारिश के बाद बुधवार सुबह से भी हल्की फुहारें गिर रही हैं, जिससे लोगों को उमस और गर्मी से राहत मिली है। मौसम विभाग के अनुसार कम दबाव का क्षेत्र उत्तरी छत्तीसगढ़ और उसके आसपास बना है। जो मंगलवार रात को मप्र में पहुंच गया है। मानसून द्रोणिका (ट्रफ) भी सागर से होकर गुजर रही है। इन दो सिस्टम के असर से कई जिलों में बरसात हो रही है।   वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला ने जानकारी देते हुए बताया कि बुधवार को राजधानी सहित पूरे प्रदेश में अच्छी बरसात होने के आसार हैं। उन्होंने बताया कि मानसून द्रोणिका बीकानेर, भीलवाड़ा, सागर से कम दबाव के क्षेत्र से होकर बंगाल की खाड़ी तक बनी हुई है। छत्तीसगढ़ में मौजूद सिस्टम भी पूर्वी मप्र की तरफ बढ़ रहा है। इस वजह से बुधवार को जबलपुर, सागर, होशंगाबाद, इंदौर, उज्जैन, भोपाल संभाग में अच्छी बारिश होने के आसार हैं। इस दौरान कहीं-कहीं भारी वर्षा भी हो सकती है। रुक-रुककर बौछारें पडऩे का सिलसिला गुरुवार को भी जारी रह सकता है।   छिंदवाड़ा में गरज चमक के साथ बारिश होगीछिंदवाड़ा जिले में बारिश का दौर एक बार फिर शुरू हो गया है। मौसम विभाग ने आगामी चार दिनों तक लगातार बारिश होने का अनुमान जताया है। विभाग द्वारा जारी मौसम पूर्वानुमान के अनुसार अधिकतम तापमान 28-31 डिग्री सेंटीग्रेट एवं न्यूनतम तापमान 22-24 डिग्री सेंटीग्रेट के मध्य और अधिकतम सापेक्षित आद्र्रता 82 से 96 प्रतिशत एवं न्यूनतम सापेक्षित आद्र्रता 64 से 78 प्रतिशत होने की संभावना है। आने वाले दिनों में हवा दक्षिण एवं दक्षिण पश्चिम दिशा में बहने एवं हवा 12-15 किमी प्रति घंटे की गति से चलने की संभावना है। विभाग के अनुसार 23 से 27 सितंबर तक अधिकांश क्षेत्रों में घने से मध्यम बादल रहने एवं 23-24 पृथक स्थानों पर गरज और बिजली के साथ हल्की वर्षा की संभावना है।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

इंदौर। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में लगातार हालात बिगड़ते जा रहे हैं। यहां कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ-साथ इस महामारी से मरने वालों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। अब यहां कोरोना के एक दिन में सर्वाधिक 446 नये मामले सामने आए हैं, जबकि चार लोगों की मौत भी हुई है। इसके बाद इंदौर में संक्रमित मरीजों की संख्या 20 हजार के पार पहुंच गई है, जबकि यहां अब तक कोरोना से 509 लोगों की मौत हो चुकी है। इंदौर में लगातार तीसरे दिन कोरोना के 400 से अधिक नये संक्रमित मिले हैं। इससे एक दिन पहले यहां सर्वाधिक 419 नये मरीज मिले थे।   इंदौर की प्रभारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूर्णिमा गाडरिया ने मंगलवार को बताया कि एमजीएम मेडिकल कॉलेज द्वारा सोमवार देर रात 3642 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट जारी की गई। इनमें 446 व्यक्ति पॉजिटिव पाए गए हैं, जबकि शेष रिपोर्ट निगेटिव आई है। इन नये मामलों के साथ जिले में अब संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 20,383 हो गई है। वहीं, इंदौर में चार लोगों की मौत की भी पुष्टि हुई है। अब यहां कोरोना से मरने वालों संख्या 509 हो गई है। हालांकि, राहत की खबर यह है कि इंदौर में कोरोना के मरीज तेजी से स्वस्थ हो रहे हैं और अपने घर पहुंच रहे हैं। यहां अब तक 16 हजार मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच गए हैं। अब यहां सक्रिय मरीजों की संख्या 3800 के करीब है, जिनका विभिन्न अस्पतालों में उपचार जारी है।

Kolar News

Kolar News 22 September 2020

राजनीति

भोपाल। माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने केन्द्र सरकार द्वारा संसद में पारित कृषि संबंधी कानूनों को लेकर कहा है कि एमएसपी घोषित करना ही पर्याप्त नहीं है। किसानों को उनकी फसलों का एमएसपी मिलना भी चाहिए। पार्टी के राज्य सचिव जसविंदर सिंह ने बुधवार को मीडिया को जारी अपने बयान में कहा है कि केन्द्र की भाजपा सरकार जब कह रही है कि वह न तो मंडी व्यवस्था खत्म करना चाहती है और न ही एमएसपी खत्म करने का उसका कोई इरादा है तो फिर वह धक्के शाही से बिना मतविभाजन के इन किसान विरोधी बिलों को क्यों पास करवा रही है?   माकपा राज्य सचिव ने कहा कि सरकार की धोखाधड़ी का सबूत यही है कि वह इन कानूनों को तो संसद में तानाशाही तरीके से पारित करवा रही है, मगर मंडी व्यवस्था और एमएसपी के लिए सिर्फ जुबानी आश्चासन दे रही है। सरकार द्वारा हाल में रबी की फसलों के लिए एमएसपी की घोषणा के बारे में उन्होंने कहा कि सिर्फ एमएसपी घोषित कर देना पर्याप्त नहीं है, बल्कि यह सुनिश्चित करना भी जरूरी है कि किसानों को उनकी फसल की घोषित एमएसपी मिलना चाहिए। किसानों की लूट की एक वजह यह भी है कि एमएसपी घोषित होने के बाद भी किसानों की फसल उससे कम दाम पर मंडियों में खरीदी जा रही है। सरकार किसानों की नहीं, बल्कि कारपोरेट घरानों के मुनाफे सुनिश्चित करने की जल्दबाजी में है।    जसविंदर सिंह ने कहा कि जिस गेहूं का सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य 1975 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया है, वह किसानों को 1500 रुपये तक बेचना पड़ रहा है। इसी प्रकार पिछले साल जो धान 2400 रुपये प्रति क्विंटल बिक रहा था, इस बार किसानों को 1300 रुपये में बेचना पड़ रहा है। बाजरे का समर्थन मूल्य भले ही 2150 रुपये हो, मगर किसान 1100-1200 रुपये में अपना बाजरा बेचने को मजबूर हैं।   उन्होंने कहा कि हाल ही में रबी की फसलों के लिए घोषित एमएसपी किसी भी सूरत में पर्याप्त नहीं है। सरकार जब दावा कर रही है कि उसने स्वामीनाथन आयोग के आधार पर फसल पर 50 प्रतिशत अतिरिक्त जोडक़र मूल्य निर्धारित किया है तो वह झूठ बोल रही है। गेहूं की लागत 1467 रुपये प्रति क्विंटल आंकी गई है, इसके अनुसार समर्थन मूल्य 2200 रुपये होना चाहिये जबकि 1975 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया गया है। इसमें किसानों को 275 रुपये प्रति क्विंटल का नुकसान है। इसी प्रकार अन्य फसलों का हाल है।   माकपा ने कृषि संबंधी कानूनों के विरोध में देशभर में हो रहे किसान आंदोलन का समर्थन किया है, साथ ही मोदी सरकार से इन कानूनों को वापस लेने की मांग की है।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

भोपाल। मछुआ कल्याण और मत्स्य विकास मंत्री तुलसीराम सिलावट की अध्यक्षता में मंगलवार को मप्र मत्स्य महासंघ की 24 वी वार्षिक बैठक में सामूहिक अनुमोदन से आगामी वर्ष के लिए 12 हजार मैट्रिक टन मछली उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है। इस वर्ष संघ को 9 करोड से अधिक की शुद्ध आय प्राप्त हुई है। शासन 6 रुपए प्रति किलो के मान से 3 करोड़ 18 लाख की रॉयल्टी भी दी गई है।   मंत्री तुलसी राम सिलावट ने कहा कि आत्म निर्भर मध्यप्रदेश के लिए विभाग और मत्स्य महासंघ की भूमिका महत्वपूर्ण हैं मछुआ महासंघ के सदस्यों के  जीवन में सामाजिक आर्थिक बदलाव लाने के लिए संघ प्रभावी भूमिका निभा सकता है। सहकार के बिना उद्धार संभव नहीं है। इसके लिए सामूहिक रुप से प्रयास किये जाने चाहिये। सिलावट ने कहा कि मत्स्य उत्पादन बढ़ाने के लिये नई तकनीकों का प्रयोग करें, इसके लिए मछुआ संघ के सदस्यों को ज्यादा मछली उत्पादन करने वाले  प्रदेशो में प्रशिक्षण के लिए भेजा जाए। वैज्ञानिक तकनीकों का प्रयोग कर प्रदेश में मत्स्य उत्पादन बढ़ाया जाये।   मंत्री सिलावट ने कहा कि मछुआ संघ के सदस्यों के बच्चों की पढ़ाई पर विशेष ध्यान दें और उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिये स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाए जाये। उन्होंने कहा कि कृषि की तुलना में मछली उत्पादन व्यवसाय से अधिक लाभ कमाया जा सकता है। अधिक से अधिक लोग इस व्यवसाय से जुड़ेंगे तो उनका जीवन स्तर बेहतर होगा। महासंघ की सभा मे बताया गया कि 1 हजार हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में मध्यंम और बड़े तालाब में आधुनिक तकनीक का प्रयोग शुरू किया गया है।

Kolar News

Kolar News 22 September 2020

अपराध

दमोह। जिले के हटा थाना क्षेत्र अंतर्गत सनकुईया गांव में बीती रात पारिवारिक विवाद के चलते दामाद ने अपने ससुर और नाबालिग साली पर कुल्हाड़ी से हमला कर उनकी हत्या कर दी। वहीं, पत्नी पर भी जानलेवा हमला किया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका उपचार जारी है। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मामले को जांच में लिया है।    जानकारी के मुताबिक, सनकुइया गांव निवासी मुन्नीलाल अहिरवार ने अपनी बड़ी बेटी द्रोपदी का विवाह पन्ना जिले के सिमरिया थाना अंतर्गत पौड़ी गांव निवासी गुटिया अहिरवार (25) के साथ किया था। ससुराल में द्रोपदी के साथ अच्छा व्यवहार नहीं हो रहा था, जिसके चलते मुन्नीलाल अहिरवार उसे अपने घर लेकर आ गया और बेटी को ससुराल भेजने से इनकार कर दिया। मंगलवार शाम को दामाद गुटिया अहिरवार अपनी ससुराल आया और पत्नी को ले जाने के लिए जिद करने लगा, लेकिन ससुर इसके लिए तैयार नहीं हुए। इसी बात को लेकर देर रात उनके बीच विवाद हो गया और गुस्से में आकर दामाद गुटिया ने अपने ससुर, पत्नी और साली पर कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला कर दिया और मौके से फरार हो गया।   हटा थाना पुलिस के अनुसार, ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और तीनों को तत्काल हटा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने मुन्नीलाल और अनीता को मृत घोषित कर दिया, जबकि द्रोपदी को प्राथमिक उपचार के बाद जिला अस्पताल रैफर किया, जहां फिलहाल उसका उपचार जारी है। आरोपित दामाद गुटिया फरार है। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ हत्या की विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है।

Kolar News

Kolar News 23 September 2020

मुरैना। शहर के स्टेशन रोड थाना क्षेत्र अंतर्गत बड़ोखर बस स्टैंड के सामने मंगलवार को एक तेज रफ्तार ट्रैक्टर ने चार साल के बच्चे को कुचल दिया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद स्थानीय लोग घटनास्थल पर जमा हो गए और हंगामा कर दिया। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और लोगों को शांत कराकर शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल पहुंचाया। पुलिस ने ट्रैक्टर चालक के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू की।   पुलिस के अनुसार, राजस्थान के सैपऊं निवासी हरिपाल खटीक अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ अपने ससुराल बंडोखर आया था। मंगलवार को वह अपने परिवार के साथ वापस अपने गांव जाने के लिए बस स्टैण्ड पहुंचा था। इसी दौरान तेज रफ्तार ट्रैक्टर वहां से गुजरा और सडक़ पर खड़े हरिपाल खटीक के चार वर्षीय बच्चे आर्यन को टक्कर मार दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद चालक ट्रक लेकर मौके से फरार हो गया। हादसे के बाद घटनास्थल पर भारी भीड़ जमा हो गई और हंगामा करते चक्काजाम कर दिया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों का समझाकर जाम खुलवाया। पुलिस फिलहाल मामले की जांच में जुटी है। अज्ञात ट्रैक्टर चालक के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उसकी तलाश की जा रही है।

Kolar News

Kolar News 22 September 2020
Video

Page Views

  • Last day : 8796
  • Last 7 days : 47106
  • Last 30 days : 63782
Advertisement

x
This website is using cookies. More info. Accept
All Rights Reserved ©2020 Kolar News.